देसी बीएफ भाभी

छवि स्रोत,मोनालिसा की नंगी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

xxx सूहागरात: देसी बीएफ भाभी, मैंने उससे कहा- इतनी रात को मेसेज कर रही हो?वो बोली- यार मुझे नींद नहीं आ रही थी.

दोस्त की बहन की चुदाई

इन आँसुओं की वजह से वो इतनी गीली हो चुकी थी कि लंड कैसे अंदर फिसल गया कुछ पता ही नहीं लगा. हैप्पी बर्थडे की कहानीदोस्तो, आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद जो आपने मेरी कहानी के पहले भागसीनियर मैडम की बड़े लंड से चुदाई-1को इतना प्यार दिया.

उसके बाद मैंने भी आपके मामा जी के निप्पलों को चूस कर देखा विपिन जी, सच में बड़ा मजा आया. छोटी छोटी लड़की के साथननकू अब चौकस रहने लगा था लेकिन फिर भी मीना और चिन्टू मौका पाकर घर से बाहर खेत खलिहान में मिलने लगे.

इस पर बड़ी कातिल अदा के साथ नीना भी पूरी घरेलू चुदक्कड़ औरत की तरह प्रशांत को तड़पाने के मूड में आ गई और पलटकर प्रशांत के खूंटे जैसे लौड़े को अपने दोनों हाथों से जकड़ लिया.देसी बीएफ भाभी: दोस्तो, मैं अब तक इतना कामुक लड़का हो चुका था कि अब तक मैं लगभग 20 लड़कियों भाभियों और आंटियों के साथ सेक्स कर चुका था.

दोस्तो, लंड चुसाने में जो मजा है, उसे मैं लफ्जों में बयान नहीं कर सकता.‘हाँ मेरी प्यारी साली, जब तेरी मम्मी आयी थी, तो तेरी दीदी को एक मुश्किल हुई थी और वो ये कि उसे मेरा लंड नहीं मिला.

ब्लू फिल्म चलने वाला - देसी बीएफ भाभी

वो मेरी चुचियां चूस रहा था, मैं उसका लौड़ा सहला रही थी, तब मैंने उसे बताया कि मेरी बहन कल आएगी.अगले दिन शाम को मैं पति के साथ बाजार गयी थी, मुझे खुद के लिए कुछ कपड़े लेने थे.

जैसे ही मैं उनके हाथ में टॉवेल और बाकी कपड़े देने लगा, मेरा ध्यान साइड के मिरर पर गया और मुझे मिरर में चाची के बड़े बड़े चूचे दिखने लगे. देसी बीएफ भाभी एक तो हम दोनों का रिश्ता ही ऐसा था और ऊपर से इस बात का भी डर लगा रहता था कि कहीं कोई देख न ले.

सभी लोग पसीने से तरबतर थे और सेक्स का अलग ही आनंद मिला था सबको। फिर सभी लोग अपने अपने कमरे में जा कर सो गए, बैडमैन मेरे कमरे में सोया और सुबह में उसके साथ एक राउंड और चुदाई का प्रोग्राम चला.

देसी बीएफ भाभी?

अब की बार मैंने उसे डॉगी स्टाइल के लिए बोला, तो वो तुरंत तैयार हो गयी. मैंने ऊषा को थोड़ा सा और वक्त दिया ताकि वह अच्छे तरीके से आलिंगनबद्ध हो सके. मैंने संजीव को मैसेंजर पर कॉन्टेक्ट करने की कोशिश की लेकिन उसने भी मुझे ब्लॉक मार दिया.

इस बात पर मैंने सोनम को गले से लगा लिया और उसे अपने दिल की बात बता दी. वो आई मेरा हाथ का खून साफ़ करने लगी तो मैंने अपना हाथ झटके से खींच लिया. दोस्तो, मैं सुहानी चौधरी आप सभी का एक बार फिर से स्वागत करती हूँ अपनी अगली कहानी में।सबसे पहले तो मैं आप सभी को दिल से धन्यवाद कहना चाहती हूँ कि आपने मेरी मेरी पिछली कहानीमेरी मासूमियत का अंत और जवानी का शुरुआतको पसंद किया.

वो मुझसे अब ऐसे व्यवहार करने लगी, जैसे मैं उसकी शिक्षिका हूँ और वो मेरी शिष्या है. उस दिन चिन्टू के जाने के पश्चात मीना काफी देर तक चिन्टू के बारे में ही सोचती रही कि आखिर चिन्टू क्या चाह रहा है. मैंने उसके बारे में पता लगाया, तो मुझे पता चला कि जिसे मैं सीधी साधी समझता था, वो बहुत तेज हो गयी है.

मैं उनको हल्के हाथ से धीरे धीरे घुमा रहा था और बड़े प्यार से सहला रहा था. इसके बाद उसने लंड मुँह से निकाला और किसी कामुक रंडी की तरह मेरी तरफ अपनी नशीली आँखों से देख कर अपनी चूत पर खुद का हाथ फेरा.

जब मेरी आंखों से आंसू आने लगे तो जीजा जी कहने लगे कि अब पूरा घुस गया है और अब दर्द नहीं होगा.

मैंने और कुछ जानने की कोशिश नहीं की मगर एक बात अब भी समझ नहीं आ रही थी जो मैंने उससे पूछ ली.

उसके घर वालों ने रमेश से पैसे लिए थे, जो उसको वापिस ना लौटा पाए तो बदले में उसकी शादी रमेश से कर दी. सच यह था कि उसके पहले वह शादी की रात वाली और आशीष के साथ रंगे हाथों पकड़े जाने वाली बात हो चुकी थी. फिर भी मैंने डरते डरते मैडम से लंच के लिए पूछा तो वो बोली- चलो ठीक है, चलते हैं.

मैं कुछ नहीं बोला और भाभी को दोबारा कुर्सी पर उसी पोजीशन में बैठा लिया और भाभी की एक चूची को अपने मुंह में चूसने लगा. पूनम के बूब्स को चूसते-चूसते मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसकी चूत को अपने मुंह में भर कर चूसने लगा. फिर मैंने उसको सीधा लेटा दिया और उसके चूचों पर एक बार फिर से टूट पड़ा.

इस प्रकार हमारी जान पहचान शुरू हुई और उसी शाम सब्जी लेने बाहर निकली तो लौटते समय उससे दोबारा बातचीत हुई.

उसके बाद उसने खुद ही उठकर अपनी नाइटी को पीछे से खोल दिया और निकालकर एक तरफ रख दिया. मेरे स्कूल की पड़ोस की कुछ लड़कियां मेरे पास बैठी थीं, तो वो लोग मुझसे बोलीं- बंध्या, यह तेरे को जानता है क्या? कौन है, तुझे बहुत पेप्सी पिला रहा है. एक दिन मैं शाम को ऑफिस से घर जा रहा था, तब मुझे भाभी बस स्टॉप पर दिख गईं.

मैंने नीचे होकर उनकी चूत पर मुँह रखा और उनको किस करते हुए चूत को चाटने लगा. अजय जा चुका था, मैं बेड पर बैठ गया और मीना की तरफ देखते हुए उसके सर को सहलाने लगा. बैडमैन बहुत बेदर्दी से मेरी भाभी की चुदाई कर रहा था, मुझे भी देखकर चुदाई का मन कर रहा था.

मैंने सोचा कि यदि मैं अपनी लुल्ली दिख देता हूँ, तो फिर मैं रवि मामा से अपना लंड दिखाने की जिद कर पाऊँगा.

मैंने अगले दिन का ऑफ ले लिया और आगे के लिए एक महीने अपनी नाईट ड्यूटी लगा ली. मैंने कुछ देर तक उसकी जीभ को अपनी जीभ से लड़ाया और फिर मुँह में मुँह लगा कर देर तक चुसाई का मजा लिए.

देसी बीएफ भाभी मैं उन्हें देखने लगी मगर अंदर से डर लग रहा था कि कहीं कोई आ ना जाए. जैसे उसने गांड को फैला दिया, वैसे ही मैंने उसकी गांड के छेद में ढेर सारा थूक छोड़ दिया और मेरे लंड के सुपारे से थूक को उसके गांड के अन्दर करने लगा.

देसी बीएफ भाभी उसने मेरे हाथों से कंडोम का पैकेट ले लिया और उसे देख कर मेरी तरफ देखा. जैसे ही मैंने अपने होंठ उसकी गर्दन पे लगाए, उसने एक आह भरी और मुझे और जोर से पकड़ लिया.

उसका एक हाथ मेरी जांघों को सहला रहा था, तो दूसरा मेरे निपल्स को मसल रहा था, मैं आंखें बंद करके दबी आवाज में सिसकारियां भर रही थी.

नवनवीन सेक्सी व्हिडिओ

10 मिनट बाद मेरे रूम का दरवाजा किसी ने खटखटाया, मैंने दरवाजा खोला सामने पापा खड़े थे और वो थोड़े गुस्से में लग रहे थे, मैंने पूछा- क्या हुआ पापा?उन्होंने कहा- तुम रात को मेरे मोबाइल से क्या कर रही थी?मैं चुप थी. मेरी मामी बिल्कुल नयी जनरेशन की हैं, वो गजब के हुस्न की मालकिन थीं. मामी को बाथरूम जाना था सू-सू करने के लिए तो मामा भी साथ में चल दिए.

मैंने पूछा- बाहर कहां पर खाएगा?उसने कहा- मैं दोस्तों के साथ खाना खा लूंगा. जैसे ही लंड घुसा … वो बहुत जोर से चिल्लाने लगी- आह … फट गई … आहह आआअह … प्लीज़ इसे बाहर निकालो … मैं मर जाऊंगी … उफ़फ्फ़ आहह आआहह …उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे थे लेकिन मैं नहीं रुका. उस टाईम के बाद आज भी वो मुझसे महीने में एक बार तो चुदवा ही लेती है.

मैंने कोलेज के बाद आगे पढ़ाई करने और अपना करिअर बनाने के लिए अपना छोटा शहर छोड़ कर पास के बड़े शहर में जाने का तय किया और मेरे माता-पिता ने भी बिना हिचकिचाहट सहमति दे दी.

उसके बाद दो महीने तक सेक्सी भाभी के साथ मेरा चुदाई का खेल चलता रहा. मेरी उत्तेजना के साथ ही साथ मेरे शिश्न में भी उत्थान आ रहा था, जो मामी की जांघों में धंसा जा रहा था. फिर वो मेरे मुँह में अपनी चुत को रख कर बोली- छेद चूसो राज … मेरा पति ऐसे नहीं चूसता … जैसे तुम करते हो.

लेकिन यह सब कुछ जीवन की यादें बनकर रह जाता है और हमारे दिल की इन यादों को कहानियों के रूप में साझा करने का मौका देता है. पैंटी उतार कर अपने हाथों में लेकर उल्टी तरफ से मेरी पैंटी को दिखाया कि देख तेरी चुत का रस कितना गिरा है. कुछ देर तक मैं सोनू के नंगे शरीर के ऊपर लेट गया उसके दोनों गालों को अपने हाथों में लेकर उसके होंठों पर प्यार किया.

आज चाची ने मुझे व्हाट्सएप पर मैसेज भेजा- कहां है मेरे राजा … मैं बाथरूम में हूँ. मैंने बाइक और तेज की, लेकिन थोड़ा सा आगे चलते ही उन्होंने गाड़ी तेज करके मेरी बाइक के आगे लगा दी, जिस वजह से मुझे बाइक रोकनी पड़ गई.

बल्कि उससे भी पहले से ही वो तकिये के साथ मैथुन करने में लगा हुआ था. जब मैंने इंस्टिट्यूट में एडमिशन लिया तो कंप्यूटर का बैच कुछ आगे निकल गया था. वो इतनी अधिक पनीली हो चुकी थी कि वो बड़े ही वाइल्ड तरीके से हर तीन चार मिनट में अपनी चुत से पानी छोड़ रही थी.

तब मैं उसको अपने मोबाइल पर उस कैमरे से ली गई रेकोर्डिंग दिखाने लगी.

इतना कहकर भाभी फिर से हंसने लगी।मैं- तो क्या हुआ? पिला दो ना भाभी जी।भाभी- क्यों देवर जी? कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैं- है तो सही, मगर वह आप जैसी नहीं है. वह तड़पने लगी; उसने मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबा लिया और अपनी चूत को मेरे होंठों की ओर धकेलने लगी. मैंने भी बिना कुछ सवाल किए तौलिया निकाल कर मामी को दे दिया और चादर लपेट ली.

आशीष बोला- यार तू जबरदस्त है मुझे क्या हर लड़के और मर्द को तेरे जैसी सेक्सी गर्ल फ्रेंड और वाइफ चाहिए. मैं झड़ गया और इस बार मेरा पूरा पानी मैडम की बच्चेदानी में जाकर गिरा.

अंकल की दोपहर की कामुक हरकतों से मेरे मन में भावनाओं का सुनामी पैदा हो गया था, अंकल अब कल क्या करेंगे, इसका मुझे बहुत कौतूहल पैदा होने लगा था. मैंने इसी बात का फायदा उठाकर अपने एक हाथ से भाभी के टॉप के सारे बटन खोल दिए. लगभग 6-7 मिनट तक चूत को चूसने चाटने के बाद मैंने अपना सर निकाला और उसके होंठ चूमने लगा.

सेक्सी फिल्म वीडियो youtube

समय बीता… अब मैं बड़ी कक्षा में आ गया था और मेरी कक्षा का बंजारा लड़का राजेश भी मुझे काफी पसंद था, जिसके बारे में मैं अपनी कहानीपहला प्यार पहला लंडमें बता चुका हूँ.

उसने आते ही मुझसे माफी मांगी और कहा- मेरा मोबाइल बन्द हो गया था इसलिए बता नहीं पायी. चूंकि हम दोनों का एक बार हो चुका था इसलिए वो बहुत देर तक मेरे लंड पे कूदती रही और मैं उसके जिस्म से खेलता रहा. तभी एक ने उसे पकड़ कर दरी पर गिरा दिया और ज़बरदस्ती उसकी पैन्ट खोलने लगा.

भाभी मेरे लौड़े को ऐसे चाट रही थी कि वह अभी इसको काट कर खा ही जाएगी।मैंने भी उत्तेजित होकर उनके गले तक पूरा लौड़ा डालकर उनकी सांस को रोक दिया। फिर लंड को बाहर निकाला तो उसके साथ भाभी की लार भी बाहर आई. वह बोला- देख, एक तो रात को बाकी लोग भी साथ में थे और दूसरा मैं यह देख रहा था कि तू कुछ करता है या नहीं. लड़की और कुत्ता की सेक्सीउसने कोई धक्का भी नहीं मारा और ना ही अपने लंड को अंदर बाहर करने की कोई कोशिश की.

लेकिन मैं उसे बहुत उत्तेजित करना चाहता था इसलिए मैं अब उसके पेट होते हुए उसके बड़े बड़े दोनों कबूतरों को मसाज देने लगा. तांत्रिक ने कहा- तुझे अपने बेटे से शादी करनी होगी और इसको जीवन भर इसको पति के हर सुख देने होंगे.

इंटरव्यू के टाइम पर बोला था कि सैलरी 3 महीने बाद बढ़ेगी, लेकिन एक साल हो गया, अभी तक नहीं बढ़ी. मैं बोली- हां आशीष, जो तुम्हारा मन करे, जिससे तुम्हें खुशी मिले, सब करो. वैसे भी वो कहावत है न- जहाँ दिल मिले वहाँ चूत तैयार, नहीं तो फिर सैंडिल से वार! मैं तो तेरे वाले से मिलने के लिए आई हूँ.

मेरा चेहरा ठीक अपने चेहरे के सामने पाकर उन्होंने तुरंत ही फिर से आंखों को बंद कर लिया. मुझे लगा मेरा लंड उसकी झिल्ली से जा टकराया था क्योंकि इस बार मैंने कोई अवरोध महसूस किया था. उस समय मुझे रवि मामा और सभी लोग छोटा ही समझते थे, इसीलिये मेरी बातों को गम्भीरता से नहीं लेते थे.

फिर उन्होंने जल्दी से मेरी टांगों को चौड़ी कर दिया और फिर अपने छोटे से लंड को मेरी चूत के मुंह पर रखकर मेरे ऊपर लेट गए.

कुछ देर यूँ ही झटके खाने के बाद उसका लिंग अपने आप ही मेरे होंठों से बाहर निकल आया. तो आशीष मेरे ऊपर चढ़ गया और बोला- बंध्या यार बुरा मत मानना, मैं बहुत गंदा बोलूंगा … तुम भी बोलना.

इसके अलावा कार आगे वाले गांव जा रही थी और खेत उधर रास्ते में ही है. मैंने उसके दूध ज़ोर-ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया तो उसने कहा- आराम से करो, आज ही निचोड़ दोगे क्या?तो मैंने कहा- हाँ!फिर मैंने उसकी पैंटी के अन्दर हाथ डाल दिया और उसकी चूत में उंगली घिसने लगा. तो खाना खाते खाते तन्वी ने मेरे से कहा- यार, वो लड़का देख कितना क्यूट है, कब से तुझे देखे जा रहा है।मैंने ध्यान नहीं दिया था पर उसके कहने पे ध्यान से देखा तो सच में लड़का बहुत स्वीट और हैंडसम था। करीब 5-10 सेकंड तक हम दोनों एक दूसरे को लगातार देखती रही.

हाँ! ले मेरे लंड को अपनी चूत में!मैंने करीब 15 मिनट तक अपनी बड़ी बेगम सारा की चूत चुदाई की और इस बीच में वो दो बार मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गई. फिर मैंने अपना हाथ नीचे ले जाते हुए उसकी गांड को दबाया और हाथ अन्दर डाल दिया. अब खाना भी हो चुका था, तो मेरा मन फिर से दोबारा चुत चोदने का कर रहा था और वैसे भी ये मेरी पहली चुत थी तो मन कर रहा था कि चोदता ही जाऊं … चोदता जाऊं.

देसी बीएफ भाभी मैंने सोनू से पूछा- सोनू सच बताओ, आज तुम्हें अच्छा लगा या बुरा लगा?सोनू कहने लगी- बाकी तो सब अच्छा लगा, लेकिन दर्द बहुत हुआ. अंतत: शाम में उन्होंने मामी को बोल ही दिया- कब तक सुधा नाराज रहेगी मामी? जब वो मिलेगी तब न सारी बात बता पाऊंगा कि हुआ क्या था! मामी बोली- इंतजार करिये, रात में उसको खींच कर तुम्हारे पास ही ले आऊंगी.

काजल अगरवाल सेक्सी विडिओ

हम दोनों की वासना फिर जागने लगी, हमने किस करना, टीशर्ट हटा के चूचे चूसना … ये सब शुरू किया ही था कि उसके पति का फ़ोन आ गया और वो अपने फ्लैट भाग गयी. मगर मन भी कर रहा था कि आज नहीं किया तो कल करना पड़ेगा, तो क्यों न आज से शुरूआत कर ली जाये? मैंने सोचा कि जो होगा वो देखा जाएगा. मैंने भाभी के पांवों को थोड़ा चौड़ा किया और पीछे से लंड को उनकी चूत में डाला और उनकी कमर के ऊपर लेट कर लंड अंदर-बाहर करने लगा और उनकी गर्दन और उनके कानों को चूमता रहा.

मैंने कहा- ठीक है, मगर तुम कल मिलोगी न?रीना ने कहा- मैं तुम्हें फोन पर बता दूँगी. उसके बाद मैंने उसके चेहरे को ऊपर किया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा. आलिया भट्ट नंगीमैं उसके पास गया तो वो मुझसे चिपक गयी और बोलने लगी- ये तुमने क्या कर दिया.

मेरी इस हरकत से अजय को जोश आना शुरू हुआ और फिर अजय जी ने मेरी टांगों को अपने कन्धे पर चढ़ा लिया जिससे मेरी चूत पूरी खुलकर ऊपर उठ गई.

मैंने जल्दी ही उसके टॉप को ऊपर उठा दिया और उसने कोई ऐतराज भी नहीं किया. आख़िर वो घड़ी भी आ गई और धीरज ने अपना लंड मेरी बुर पर रखा और मेरे मुँह पर अपना मुँह रख कर और मेरे मम्मों को जोर से दबा कर एक कस कर लंड का बुर पर धक्का मारा जिससे लंड का टोपा मेरी कुंवारी बुर में घुस गया और मैं दर्द से बिलबिलाने लग गई.

मैंने बाथरूम में भी शॉवर के नीचे दीदी, जो अब मेरी बीवी है उसको घोड़ी बना कर चोदा. उसने मेरी जांघों को पकड़ा और फिर एक उंगली से पैंटी एक तरफ खींच कर मेरी योनि को खोल दिया. वह 5 मिनट तक हर रोज़ लगभग 8 बजे ऐसे ही पूजा करती थी, जिसे मैं हर रोज़ चोरी से देखने लगा था और हर रोज वहीं खड़ा होकर हाथ से अपना पानी निकाल लेता था.

वो रुआंसे मन से बोली कि उसका पति उसे बिल्कुल टाइम नहीं देता, इतना पैसा किस काम का, न मुझे प्यार देता है ना मेरे पास रहता है.

धीरे-धीरे मैं अपने हाथ चादर के अंदर ले गया और उनकी चूचियों को पकड़ लिया. एक रोज़ सुबह ही मैंने पिछले आँगन में नीचे झाँक कर देखा तो मैं दंग रह गया. मैं- तू कुछ नहीं समझ पा रही है, अब देख करके बताता हूँ सुहागरात में तेरा पति क्या क्या करेगा औऱ तुझे क्या करना है.

लंदन शहर दिखाओकुछ देर वहीं पर ये सोचकर बैठा रहा कि सुधा चली जाएगी तो उसके बाद ही बाहर आऊंगा. धीरे-धीरे मैं नीचे की तरफ बढ़ रहा था और अनुष्का मेरे चूमने से अपनी गांड को और ऊपर उठाती जा रही थी.

घोड़ा वाला सेक्सी घोड़ा

साथ ही उनका एक हाथ दीदी की पैंटी के अन्दर चल रहा था। मैं कुछ नहीं जानती थी कि ये सब क्या हो रहा है. मैंने कहा- आपकी शादी भी हो चुकी है?वो बोला- हां, मेरी तो तीन साल की एक बेटी भी है. आपको मेरी जवानी के पहले कामुक मिलन की कहानी कैसी लग रही है, प्लीज़ मुझे मेल जरूर करें.

तांत्रिक गुस्से में बोला- यदि तूने ऐसा नहीं किया, तो तेरे बेटे की मृत्यु निश्चित है. घर आते हुए रास्ते में बारिश होने लगी और हम भीग गए तो मैंने मामी को कॉल करके कोमल को मेरे ही घर रुकने के लिए कह दिया. मैंने उसके चेहरे पर आते हुए बालों को पीछे करते हुए अपना हाथ उसकी सुराही जैसी कमर पर रख दिया.

’फिर मैंने थोड़ा सोचा और हिम्मत करके अपनी 2 तस्वीरें उसे भेज दीं, एक सलवार कमीज में दूसरी स्कर्ट टॉप में और फिर फोन किया. हम दोनों एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे, जैसे दो प्रेमी बहुत दिनों बाद मिले हों. सेब के जैसी, दिल कर रहा है खा जाऊँ इन्हें!” वह मेरे उरोज के निप्पल को छेड़ते हुए बोले.

मैं उसके गोल सुडौल मम्मे चूसने दबाने लगा, तो वो खुद ब खुद मेरे लंड पर ऊपर नीचे होने लगी. मैं जिस जगह पर काम करता था वहाँ पर मेरी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए बहुत ही कम पैसा मिलता था इसलिए मैंने अपने दोस्त से दोबारा संपर्क किया और उसको अपनी परेशानी के बारे में बताया.

सेक्स करते टाइम वो मुझे टॉर्चर भी करता है, साले का जहाँ दिल करता, वहाँ मुझे खा जाता है.

अब मैं ज्यादा शक्ति के साथ उसकी चूत में जीभ को अंदर और बाहर करने लगा था. नंगा थिएटरइसलिए डर के कारण बात को संभालने के लिए प्रिन्सिपल मैडम के ऑफिस में पहुंच गई और वहां पर मेरी तलाशी की बात मैडम ने कह दी. सेक्सी वीडियो कैटरीनाहम कुछ देर बाद अलग हुए और बाथरूम से निकल कर अपने बेडरूम में चले गए. मैं लंड को दीदी की सहेली की चूत में अन्दर बाहर अन्दर बाहर करने लगा.

मैंने उसको कपड़े … टी-शर्ट और पैन्ट पहनाई क्योंकि ब्रा पैन्टी तो उन्होंने फाड़ दी थी.

सीमा की माँ ने कह दिया कि कल तुम विशु के साथ घूमने के लिए चली जाना. फिर उस लड़के ने रिया की पैन्ट को एक साइड में फेंक दी और बोला- अब ये ढक्कन खोल दे अपने हाथों से चुपचाप … नहीं तो खींच कर फाड़ दूंगा. अब मुझे साफ समझ आ चुका था कि रवि मामा यहां वहां मुँह मारते फिरते हैं और मौका मिलते ही मस्त चुदाई कर देते हैं.

उसके बाद वह मेरे पास बैठ कर अपनी निजी जिंदगी की बातें मुझे बताने लगी. आशीष बाइक लेकर आया था, तो मुझसे बोला कि बंध्या मैं और तुम चलते हैं. पर सेक्स करने की इच्छा तो हर किसी में होती है, सो मैं अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ कर मुठ मार लेता था.

मराठी सेक्सी पिक्चर चोदा चोदी

मेरे मन की हालत को देख कर जीजा जी को पता चल गया कि मैं सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पा रही हूँ. मुझे मम्मी जी की बात ठीक लगी और उनकी ये सलाह भी ठीक लगी कि 2-3 महीने ट्राय कर लेती हूं. जीजा जी बोले- झटके से डालने में दर्द कम होता है, नहीं तो पता नहीं कितनी देर तक होता.

मेरा लंड सारा आपा की हायमन से टकरा रहा था और जब लंड ने उसे भेदकर आगे बढ़ना चाहा तो सारा चिल्लाने लगी कि दर्द के मारे मैं मर जाऊँगी.

सामान के साथ बैठते हुए उन्हें थोड़ी दिक्कत हो रही थी अतः उन्होंने सभी थैलों को अपनी गोद में रखा और बैठते हुए मेरा कन्धा पकड़ लिया.

इसलिए मैं पानी पीने जब अन्दर गया, तो सरोज भाभी और उनके साथ दो भाभियां और थीं, जो आपस में बातें कर रही थीं. एक तरफ एग्जाम में की हुई उनकी मदद याद आती, तो दूसरी तरफ उनकी यह अटपटी मांग. छोटा भीम कृष्णाअब सारा चीखने चिल्लाने लगी- हाआअ … राआआजा … आईसीईई और जोर से और जोर से चोदो.

हम कुछ देर बाद अलग हुए और बाथरूम से निकल कर अपने बेडरूम में चले गए. उनमें से एक ने मेरी बाइक को साइड में झाड़ियों में ले जाकर खड़ी कर दी और हम दोनों गाड़ी में ज़बरदस्ती बैठा लिया. भैया भाभी का ब्लाउज और ब्रा खोल चुके थे और उनके मम्मों को मसल मसल कर रंग मल रहे थे.

उसने अपनी चूत पर कोई महक लगाई हुई थी जिससे उसकी चूत को चूसने में मुझे मीठा सा स्वाद मिल रहा था. मैंने पूछा- आशीष, यह किसका घर है?तो उसने बोला- यह घर मेरी बुआ का है, मैंने तुम्हें बताया था, वही है.

और मैं आपसे माफी भी चाहती हूँ कि मैं सभी को कोमेंट्स या मेल पे रिप्लाई नहीं कर पाती क्योंकि बहुत सारे ई-मेल्स आते है और मेरे पास टाइम की थोड़ी कमी है कॉलेज की वजह से। अब तक आपने मेरी पिछली कहानियो के सारे पार्ट्स पढ़ ही लिए होंगे।चलिये कहानी पे आगे बढ़ते हैं। सेक्स शायद दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज़ों में से एक है और हमारे शरीर की जरूरत भी.

मैंने कहा- यही तो जिंदगी का असली मजा है, अब तुम नहीं लेती तो बात दूसरी है. आज तुम्हें पेपर के बाद एक घंटा दे दूँगा और किसी अच्छे बच्चे का पेपर भी तुम्हारे सामने रख दूँगा. वो भी दर्द से चिल्ला उठी- आह्ह्ह्ह … आराम से डार्लिंग … थोड़ा आहिस्ता!हाय मेरी प्यारी बीवी … अब कहाँ आहिस्ता … इतने दिन बाद तेरी ठुकाई कर रहा हूँ, थोड़ा बर्दाश्त कर ले मेरी रानी!” और पीछे से जोर से पकड़ कर उसकी चोदाई जारी रखी.

अश्लील फिल्में दिखाएं मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी आपके साथ अपनी पहली चुदाई का अनुभव शेयर करूँ. नमस्कार दोस्तो, कैसे हो आप? मेरा नाम देव कुमार है। मैं अन्तर्वासना की कहानियों का नियमित पाठक हूँ। मैं अन्तर्वासना से प्रेरित होकर अपनी आप बीती सुना रहा हूँ।मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। मैं एक युवा रोमांटिक लड़का हूं.

पैंटी उतार कर अपने हाथों में लेकर उल्टी तरफ से मेरी पैंटी को दिखाया कि देख तेरी चुत का रस कितना गिरा है. पर मैंने अपने आपको संभाला, पर मन ही मन मैं ये सोच रहा था कि क्या ये वही लड़की है, जिससे मैं कल बात कर रहा था. वो घोड़ी बन गईं और मैं उनके पीछे आ कर उनकी चूत में लंड के धक्के लगाने लगा.

देहाती सेक्सी जंगल वीडियो

मेरी जांघों के बीच में लंड था बस, वरना मैं पूरी तरह से लड़की बन चुका था. उससे चला नहीं जा रहा था, तो मैं उसे अपनी गोद में उठाकर बाथरूम ले गया. भाई बोला- जोर से … हाँ और करो … और जोर से!फिर कुछ देर बाद भाई का लंड पूरी तरह से अकड़ गया और उसने एक धार छोड़ दी.

एक मिनट के बाद भाभी जब नॉर्मल हुई तो मैंने दूसरा धक्का दिया और पूरा का पूरा लंड भाभी की चूत में उतार दिया. मैं खड़ा हो गया और उनको पीछे से पकड़ कर उनकी पीठ पर एक चुम्बन जड़ दिया.

मैंने एक हाथ से उसकी चूचियों को उसके कपड़ों के ऊपर से ही दबाना शुरू कर दिया.

मैंने भी बेशर्म बनते हुए अपनी पेंट में हाथ डाल कर अपने लंड को एक दो बार मसला. शॉपिंग करने के बाद हम वापस जाने लगे, लेकिन इस बार हमारे बीच में सामान था, तो मामी का स्पर्श नहीं मिल पाया. इतने में वो अचानक नीचे गयी और मेरा लंड मुँह में दो मिनट के लिए डाला.

मैंने कहा- कोई बात नहीं सर, मैं मैनेज कर लूँगा, आप सिर्फ मेरे को एक बार बता देना, बाकी मैं खुद कर लूँगा. मेरी हाइट पांच फीट ग्यारह इंच है और मेरे लंड का साइज़ 6″ और 4″ मोटा है. मैं उसके साथ कभी कभार नशे की हालत में सेक्स चैट करता हूँ तो वो भी मेरा साथ दे देती है.

कुछ देर तक हम दोनों बातें करते रहे और मैं सीमा को घर छोड़ कर अपने भाई के पास चला गया.

देसी बीएफ भाभी: फिर संडे को उनका मैसेज आया कि उन्हें कहीं जाना है, क्या मैं ले जाऊंगा?मैंने हां कर दी. मैंने पॉलीबैग को उसके हाथ में पकड़ा दिया जिसे लेकर वह किचन की तरफ चली गई.

तो सोनम ने भी मुझे गले लगा लिया और बोली- तब तो अब मैं तुझे भाभी बोलूंगी. अब मुझे स्टीव के मूसल को अपनी योनि में लेना था, मैंने उसे ऊपर खींचा, उसे चूमते हुए उससे कहा- अब बस रहा नहीं जा रहा … डालो अपना लंड मेरे अन्दर और चीर दो मेरी चूत को. इंदु ने कहा- जीजाजी, मैं भी आप के लंड के बाल साफ कर दूँ? मजा आयेगा!पर मेरा मूड नहीं था, मैंने मना किया तो वो बोली- करवा लीजिये, सारी रात मजे लेने को है.

ये झंडे गाड़े हैं तुमने?कटरीना सी सारा शर्म से पानी पानी हो गयी और वापिस भाग गयी.

मैंने शिखा से कहा- तो क्या आज हम दोनों घर पर अकेले हैं?शिखा ने कहा- जी हाँ … और वह मेरी तरफ देख कर मुस्कराने लगी. वह चल कर पास आई और पूछने लगी- इतने गौर से क्या देख रहे हो?मैं ऐसे ही उसको देखता जा रहा था. जब वह सारी में सीढ़ी से उतरती है तो उसकी मटकती कमर और गांड तो देखते ही बनती है.