बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म

छवि स्रोत,ब्लू वीडियो देसी

तस्वीर का शीर्षक ,

. हिंदी सेक्सी: बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म, भाभी फिर से मुझसे पूछने लगी कि अब से पहले कितनी बनाई हैं?मैंने भाभी को सारी सच्चाई बता दी.

मां बेटे का हिंदी सेक्स

अब तक हमने किस का सिर्फ एक ही पार्ट किया, अब दूसरा कर के देखते हैं. செக்ஸ்படம் ப்ளூ படம்भाभी गर्म आवाजें कर रही थी- आहह … आहह …मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और लंड बहुत बड़ा हो गया था मानो अभी फटेगा.

मैनेजर सर के पास सारी लड़कियां इंटरव्यू के लिए जाती हैं क्योंकि वो ही जॉब देते हैं. सोदवानु बीपीवो भी मुझसे लिपट गई और उसने होंठों के ऊपर किस कर के अपनी स्टाइल में थेंक्स कहा मुझे!तभी मेरी छोटी दुल्हन ज़रीना जो वहीं सो रही थी, जाग गयी और आकर मुझ से लिपट गयी.

मैंने उसे देखते ही अपनी बाँहों में भर लिया और दोनों रोमांटिक पोज़ में थोड़ा डांस करने लगे.बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म: थोड़ी देर में भाभी मेरे ऊपर से उतरी और दोबारा हैंड टावल से अपनी चूत को साफ किया.

फिर थोड़ी देर बाद चाची अपनी गांड उठाते हुए झड़ गईं और उनका सारा माल बाहर आ गया.लंड अन्दर और अन्दर चलता चला गया, चूत के होंठों को खुला रखते हुए क्लिटोरिस को छूता हुआ लंड पूरा का पूरा अन्दर तक चला गया था.

सनी लियोन की बीपी वीडियो - बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म

फिर संजीव ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी गांड को उठाकर दूसरे हाथ से लोअर को नीचे सरका दिया.मैं बार-बार उसके घर के पिछले आंगन की तरफ देखता रहता था, लेकिन वहां भी दिखाई नहीं दी.

फिर उसने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ाई और 4-5 जोर के झटके देकर वह थमता चला गया. बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म सोनम की बात से मैं उसके लिए इंप्रेस हुई कि कोई गांव का ऐसा वैसा ठुर्रा नहीं है, शहर में पढ़ने वाला लड़का है.

एक लौंडे ने मेरी जीएफ रिया को खींच कर गाड़ी से निकाल कर उसे दरी पर बिठा दिया और बोला- चल कपड़े उतार … वरना फिर हम कपड़े फाड़ेंगे, तो तुझे यहां से नंगी ही घर जाना पड़ेगा … सोच ले.

बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म?

एक हाथ से नीचे मेरे लंड को सहलाती रही और मैं एक हाथ से उनकी पाव रोटी की तरह फूली चिकनी चूत को सहलाता रहा, उसके बीच में अपनी उंगली चलाता रहा, चूत बिल्कुल पानी छोड़ चुकी थी. अब आशीष ने अपनी दो उंगलियां एक साथ मेरी चुत में अचानक डालीं, तो फट से घुस गईं. उसके बाद रीना ने मुझे खड़ा होने के लिए कहा और वह खुद घुटनों पर आ गई.

मैं हड़बड़ा कर उठी तो देखा भाभी थी, भाभी से पूछा- तुम कब आयी?तभी अम्मी आ गयी और भाभी बोली- अभी आयी हूँ पांच मिनट पहले! तेरे भाई जान छोड़ कर काम पर गए हैं. उसने थकी हुई आवाज में हांफते हुए कहा- आज तक मैंने ऐसी चुदाई नहीं करवाई यार … मैं तो आपकी चुदाई की दीवानी हो गई. और हमारी बातें खत्म हुई, दोनों हल्के नशे में खड़े लन्ड लेकर अपने अपने जुगाड़ के पास पहुँचने को निकल पड़े।[emailprotected].

मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने मुझसे पूछा- आपका दूध निकलता है?मैंने उससे दोबारा सवाल किया- क्या आपको कोई परेशानी है?उसने उत्तर दिया कि आज का दिन मेरी जिंदगी का सबसे बेहतरीन दिन होगा. हमने मिलने का प्लान बनाया और मैं एक हफ्ते बाद उससे मिलने पहुंच गया. मामी जी- अह्ह्ह्ह … ऐसे ही मन लगा कर बीबी की सेवा करना … हाय … सीईईईई … उफ्फ्फ … मेरे राज्जाअ … राहुल … और तेज़ … अओउरर्रर तेज.

उसने कहा- मैं क्या छोटा बच्चा हूँ अब?हम दोनों में झगड़ा शुरू हो गया. जब उसकी गांड का छेद बड़ा हो गया मैंने मेरा ज्यादा लंड उसकी गांड में डाल कर उसे मैंने दबोच लिया.

इससे मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया, जिससे मैंने उसके मुँह में अपना लौड़ा ठेल दिया और वो मेरे लौड़े को चूसने लगी.

मैंने तो कभी ध्यान ही नहीं दिया कि मेरी वैनिटी वैन के ड्राइवर पास इतना लंबा, मोटा और तगड़ा औजार है.

रिश्तों में चुदाई की मेरी कहानी के पहले भागमामी की जवानी को लूटा-1में अब तक आपने पढ़ा कि मैं मामी के साथ शादी में जाने वाला था और इसी वजह से मामी मेरे साथ बाजार शॉपिंग करने गई थीं. मैंने उसका सिर मेरे सीने पर दबा के रखा, फिर जैसे हम मर्द स्तनों को चूसते हैं, वैसे ही वो मेरे सीने को चूसने और काटने लगी, मेरे निप्पल्स को दांतों से काटने लगी. चूत-लंड के इस मिलन समारोह के दौरान दोनों ही अपनी-अपनी सुर में सिसकारी भरते हुए चीख पड़े.

नीचे उसकी बिकनी में उसकी गोरी टांगें देखकर मेरे मुंह से लार टपकने लगी. नमस्कार दोस्तो, कैसे हो आप? मेरा नाम देव कुमार है। मैं अन्तर्वासना की कहानियों का नियमित पाठक हूँ। मैं अन्तर्वासना से प्रेरित होकर अपनी आप बीती सुना रहा हूँ।मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। मैं एक युवा रोमांटिक लड़का हूं. मेरा ध्यान तब टूटा, जब मोनिका के हाथ में रखा फ़ोन उसके हाथ से छूट कर मेरे सिर पर गिर गया.

मुझे तो खुद को भी अपने स्तनों को हाथ लगाने में शर्म आती थी और इधर मेरा स्तन आराम से अंकल के हाथ में आ गया था.

अब हम सब बातें कर रहे थे, तभी दरवाजे की घंटी बजी, तो बुआ ने दरवाजा खोला. मैंने उससे कहा- कॉलेज जाना कैंसल कर दो … आज तुम्हारे ही घर पर क्लास चलेगी. नीचे से उसकी चूत मेरे लंड के ऊपर घिस रही थी कपड़ों के ऊपर से और उसकी गर्मायी और मेरा कड़कपन एक दूसरे को महसूस हो रहा था.

खाला मेरी दोनों दुल्हनों को लेडी डॉक्टर के पास ले गयी और लेडी डॉक्टर ने सारा और ज़रीना के लिए 3 दिन चुदाई बंद का हुक्म दे दिया. फिर रात को उसका मैसेज आया और थोड़ी देर बात करने के बाद बोली कि उसका घूमने का मन है. पापा घर आये और मम्मी से बात करने लगे, उन्होंने खाना खाया और सोने चले गए.

इंदु मेरे लंड को भी खड़ा करने की कोशिश कर रही थी और मैं भी इंदु को फिर से गर्म करने में लगा था.

तीन दिन बाद जब रिजल्ट आया, तो मेरे और उन दोनों बहनों के ही सबसे ज्यादा अंक थे. मैंने उनके सर के बालों को जोर से पकड़ लिया और अपने आप ही उनका सर और दबाने लगी.

बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म उसके बोबे मेरे सीने से दबे हुए थे और वो मेरे गले पर किस किये जा रही थी. नमस्ते दोस्तो, मैं बैडमैन, याद तो होऊंगा ही, बिलकिस बानो जो हमारे साथ थी उसकी आईडी ब्लॉक हो गयी है उसके लिए कहानी मैं भेज रहा हूँ.

बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म 10 मिनट की मालिश के बाद फिर से वो सिसकारियाँ लेने लगी, बदन मरोड़ने लगी. कल्पना- क्या?मैं- अगर आपको आज का दिन आपके जिंदगी का एक यादगार दिन बनाना है, तो सबसे पहले आपको अपने में से सारी झिझक निकलना पड़ेगी, तभी आप सेक्स को एन्जॉय कर पाएंगी और दूसरी बात आपको मुझे पूरा सहयोग देना पड़ेगा.

उन्होंने कराह कर बोला- आखिर फाड़ ही दी मेरे छोटी सी चुत को!मैंने उनके आंसू पौंछते हुए कहा- जो होना है, सो हो गया … अब तो और मज़ा आने वाला है.

नेपाल की चूत

उसने पूछा- तू संजीव को कैसे जानता है?मैंने उसे बताया कि इंटरनेट पर हमारी बात हुई थी और मैं ऐसे ही उससे मिलने के लिए आ गया. उसकी चूत को कपड़े के ऊपर से ही चूसने के बाद मैंने उठते हुए कहा – सॉरी यार कुछ मिनट ज्यादा हो गए. तभी मैंने एक हाथ से मीना के बालों को अपने हाथ में कसके पकड़ा और दूसरे हाथ से लंड उसकी चुत में थोड़ा सा फंसा दिया.

अपने लंड को मैंने सोनू की दोनों चूचियों के बीच में रखा, सोनू की दोनों चूचियां मेरी जांघों में लग गई और हाथ से उसकी चूचियों को इकट्ठा करके उस में लंड चलाना शुरु कर दिया. मैंने अपना सारा माल आंटी की चूत में डाल दिया और निढाल हो कर उनके ऊपर ही लेट गया. कैसी लगी आपको मेरी स्वीट हार्ट बीवी नीना की यह चुदाई?जरूर बताएं, मुझे बहुत अच्छा लगेगा.

फिर कुछ देर बाद हम उठे और बाथरूम में गए और एकदूसरे को पानी से साफ करने लगे.

मैंने उसी मदद की और फिर मैंने उसके चुचों पर, उसकी जांघ पर, गांड पर किस करता रहा. अभी जो कुछ हुआ था, उसकी वजह से मैं मामी से आंख नहीं मिला पा रहा था. उसने भी होंठों पर कटीली मुस्कान लाते हुए फिर कहा- हंस क्यों रहे हो … बताओ न क्या लोगे?मैंने भी कह दिया- जो चाहे पिला दो?वो आंखें झुका कर हंसते हुए ये कहते हुए अन्दर जाने लगी कि मैं चाय लाती हूँ.

इसी के साथ मुझे चाचाजी की धोती में कुछ हरकत सी होती दिखी, जिससे मेरे होंठों पर एक कातिलाना मुस्कान बिखर गई. थोड़ी देर उसके ऊपर पड़े रहने के बाद मैंने लंड उसकी चूत के बाहर निकाल लिया. बस फिर क्या था, उसने ताबड़तोड़ धक्के मारने शुरू कर दिया मुझे लिटा कर और मैं चुदती रही तब तक जब तक उसने अपने लंड को पूरी तरह से ढीला नहीं कर लिया.

एक महीने बाद मेरे जन्म दिन पर मैडम ने मेरे जयपुर के पते पर एक सैमसंग का एक फोन भेज दिया था. कोलेज के उन दिनों में पता चला कि ये सिर्फ दोस्ती वाला लगाव नहीं है, ये जिस्म की प्यास भी है.

जब कोड वेरीफाई हो गया, तो उसने मुझे एक पता नोट कराया और वो मुझसे शाम 8 बजे आने के लिए बोली. जो चूत बड़े-बड़े अरबपतियों को नहीं देखने को मिलती वह चूत अब मेरे सामने नंगी थी. इस बार वो छत पर जाने वाली सीढ़ियों की ओर भागीं और छत का दरवाजा खोल उस पर चली गईं.

मेरी नाइटी में केवल एक जगह ही स्तन के पास हुक था, उसने उसे खोल दिया.

और बाद में जब मैंने उसको चोदा तो उसकी चुदाई के समय तो उसकी आवाज और भी अच्छी हो जाती थी जब वो मुझे और तेज शॉट मारने को कहा करती थी. मैंने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि अनुष्का वर्मा की चूत को देख पाऊंगा. तो बोले- हां तू चला जा, इस लड़की को यहीं छोड़ दे … क्योंकि ये तो अब हमसे यहां से चुदवा के ही जाएगी.

अब मैं बोला- भाभी, आप ये क्या कह रही हो?भाभी बोली- ज्यादा बन मत … तूने रेनू का नम्बर मांगा है ना … भैया ने बताया था कि उसको नम्बर दे दियो, वो हर काम करता है … और रेनू ने भी बताया था कि दीदी तेरी शादी में मेरी सुहागरात ही गई … तेरे पति के किरायेदार के लौंडे ने क्या चोदा था. मैं उन्हें चोदने में लगा हुआ था और साथ ही उनकी गोरी गांड पर थप्पड़ लगाने लगा.

उसके मुंह में जब मेरा लंड जा रहा था तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था. चाचा जी का हाथ धीरे धीरे मेरे शर्ट के अंदर जाते हुए मेरी ब्रा से टच हुआ, उन्होंने मेरी ब्रा को ऊपर उठाते हुए मेरे मम्मों पर अपना हाथ पहुंचा दिया और चाचा अपनी भतीजी के नंगे चूचों को सहलाने लगे. मैं राजस्थान के झुंझुनू जिले के एक गांव का रहने वाला हूँ और अभी अजमेर में रहता हूँ.

ஆன்ட்டிகள் செக்ஸ் வீடியோக்கள்

थोड़ी देर बाद उसका जिस्म कांपने लगा और एक झटके के साथ वो मेरे मुँह में झड़ने लगी.

उसने बहुत सारा थूक मेरी गांड में थूक दिया और अपने लंड में भी लगाया. अब आगे:तभी आशीष मेरी समीज के ऊपर से ही मेरे दोनों दूधों को पकड़ कर जोर से दबा दिया और फिर मुझसे बोला- तू बहुत मस्त लग रही है. उसने मेरी जीन्स को खींचकर निकाल दिया, साथ ही मैंने अपने अंडरवीयर को उतार दिया.

उसने बाद में बताया कि उसका पति चुदाई में इतना लंबा नहीं टिक पाता है उसे कभी बीवी के झड़ने की परवाह नहीं रहती. जहाँ पर मेरी मुलाकात शिखा से हुई जो मेरी फील्ड में जॉब ढूंढ रही थी. ब्लू पिक्चर ट्रिपल एक्समेरी उससे एक बार की चुदाई की बात हुई थी, लेकिन उसने मुझे जाने ही नहीं दिया.

आज लिखने में वह सब लिख पा रही हूं पर उस रात सच में मुझे कुछ नहीं पता था कि इसे क्या कहते हैं और यह क्या हो रहा है. वो मेरे लंड से अपना मुँह चुदवा रही थी और मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था.

मेरे साइज को जानकर आप भी अंदाजा लगा सकते हैं कि मेरे चूचे कितने बड़े होंगे. फिर यहां हमारी बातें सुनने वाला भी कोई नहीं है तो मैं तुझे शादी के बाद क्या क्या करना होता है, वो सब भी सिखा देता हूँ. इतना कह कर वो जैसे ही किचन में गयी, तो मैं भी उसके पीछे चला गया और उसे पीछे से पकड़ लिया.

लेकिन मैं इतना नज़दीक बैठा था कि मैं उत्तेजित होने लगा और साथ में वो भी!बीच में एक दो बार उसके मम्मे मेरी कोहनी से भी टच हुए. मैं जैसे ही नीचे जांघों के पास पहुंचा, मामी जी ने दीवार के सहारे खड़े खड़े ही अपने पैर खोल दिए. जब मेरा माल उसकी चूत में गिरने को हो गया तो मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और बाहर निकालते ही रीना ने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया.

जैसे ही उन्होंने अपनी साड़ी का पल्लू नीचे किया, मुझे सीधे अन्नू (मामी की बहन) की याद आ गई.

और हाथ से उन्होंने मेरे तम्बू को टच कर लिया और अंदर चली गयी।मैं भी दरवाजा बंद कर के भाभीजी के पीछे-पीछे अंदर आ गया।पीछे से जाकर भाभी से चिपक गया और कहा- भाभी प्लीज आज तो मेरी मन्नत पूरी कर दो … मुझे अपने दूध पिला दो।भाभी- आपका लंड मेरे चूतड़ों में घुसा जा रहा है. थोड़ी देर के बाद सारा का हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर आ गया और वो मुझसे लिपट भी गई.

फिर दस मिनट गांड चाटने के बाद मैंने उससे कहा- अब तुम घोड़ी बन जाओ, यह मूली चूत में ले लो. एक दिन मैंने उससे पूछा- कभी किस किया है?वो बोला- नहीं … नहीं किया अभी तक. मेरी बॉटल देख के पायल बोली- क्या जीजू आज भी? लेकिन चलो अच्छी बात है, आपके वो कमीने, गुंडे दोस्त तो नहीं है आज.

दुकान से बाहर निकलते समय मैंने ध्यान दिया कि सुखबीर मुझे कुछ अलग नजरों से छुप छुप कर देख रहा था. मैं बोलती जा रही थी- यह क्या कर रही हो आरती?मगर वो सुनकर भी अनसुना करती जा रही थी और मम्मों के चूचुकों को अपने दांतों में भी दबा दबा कर काट रही थी और मेरी चीखें निकल रही थी. इन आँसुओं की वजह से वो इतनी गीली हो चुकी थी कि लंड कैसे अंदर फिसल गया कुछ पता ही नहीं लगा.

बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म वह शायद पानी लाने के लिए किचन की ओर गई हुई थी। उसको देख कर मेरा दिमाग कहीं खो सा गया था. मैं अपने आपको बहुत ही खुशनसीब मान रहा था जो बृजेश जैसे सांड ने मेरी चुदाई की.

पंजाबी क्सक्सक्स वीडियो

दो मिनट तक जीजा जी ऐसे ही पड़े रहे और फिर बोले- बस अब जो दर्द होना था वो हो गया, अब मजे ही मजे होंगे. भाभी ने भी अपना राज खुलता देखा, तो वे भी कुछ दिनों बाद इस शहर छोड़ कर चली गईं. वह मुझे पागलों की तरह किस करने लगी और मैं भी उसका पूरा पूरा साथ देने लगा था.

पहले तो वो हटने लगी, पर जैसे ही मैंने उसके हाथ पर पैसे रखे, वो मेरा साथ देने लगी. फिर जब मेरा हाथ माँ की झांटों वाली चूत के पास गया, तो माँ ने अपने दोनों पैरों को फैला लिया. पोर्न पोर्न वीडियोआशीष बोला- यार तू जबरदस्त है मुझे क्या हर लड़के और मर्द को तेरे जैसी सेक्सी गर्ल फ्रेंड और वाइफ चाहिए.

मैंने मैडम की चुत पर जीभ लगायी, तो मुझे अजीब जैल जैसा कुछ महसूस हुआ.

जैसे ही उन्होंने अपनी साड़ी का पल्लू नीचे किया, मुझे सीधे अन्नू (मामी की बहन) की याद आ गई. मैं कोमल को रात भर अपने पास रख कर उसके बदन के साथ खूब मस्ती करना चाह रहा था.

अब तक मेरे पति ने बहुत तरक्की कर ली थी, उन्होंने धनबाद में ही अपना व्यापार शुरू कर लिया था. मैं- ह्म्म्म मेरे पास इसका इलाज है, चलो मामी जी बाथरूम में हल्का सा शावर लेते हैं, वहां आपका दर्द में भगा दूँगा. मगर उसके बाद अपने पति पर नज़र रखना आपका काम है क्योंकि उनको देख कर ही मेरी चूत पानी छोड़ने लगती है.

मैं चुपचाप लेटा हुआ यही सब सोच रहा था और घंटे भर के बाद जब सर्दी कुछ ज्यादा ही लगने लगी तो मैंने चादर को मुंह पर भी ढक लिया और मुझे नींद आ गई.

कभी वो मेरे नीचे तो कभी मैं उसके नीचे, पूरी रात चोदाई का यह खेल चलता रहा।घोष बाबू- ओ प्रधान जी, कहाँ खो गए सर? रात की बात खत्म हो गई. वास्तव में नीना के जादुई हाथों से उसके लौड़े का इतनी देर तक किए गए क्लासिक मसाज के चलते प्रशांत खुद पर काबू नहीं रख पा रहा था. मैं वहीं खड़ा रहा तो वो शर्म की वजह से पेशाब भी नहीं कर पा रही थी।मैंने उससे कहा- अब मुझसे क्या शर्मा रही हो.

बीपी सेक्स ब्लूइससे पहले कि मैं कुछ सोच पाता और उसकी हरकत पर कुछ रिएक्ट कर पाता वह मेरे होंठों को चूसने लगी थी और कुछ पल तक होंठों को चूस कर वह फिर से मुझ से अलग हो गई. लड़की का दिया हुआ पहला चुम्बन और फिर उसके हाथ से लंड पर पहला स्पर्श! मेरा दिल सरपट दौड़ने लगा.

हिंदी पिक्चर चुदाई वाली

मैंने 3 जून के लिए मम्मी से पहले ही बता दिया था कि मुझे और मेरी सहेली को सतना जाना है. जब वह झुक कर मुझे जूस का गिलास देने लगी तो उसके टॉप के अंदर लटक रहे उसके चूचे मुझे साफ-साफ दिखाई दे गए. आपको तो पता ही है, जब किसी की कोई नयी नयी गर्लफ्रेंड बनती है, तो जोश अलग ही रहता है.

किस लेते लेते ही मैंने अपना हाथ आगे किया और उसकी सलवार का नाड़ा दे खोला. भाभी दर्द से कलप उठी और अपने नाखूनों से मेरी कमर पर निशान बनाने लग पड़ी. इस तरह से सब कुछ नॉर्मल चल रहा था, तभी बारात दरवाजे पर आई और द्वारचार शुरू हुआ.

उसके बाद हम अच्छे दोस्त बन गए, फिर मैंने उससे उसका फ़ोन नंबर मांगा और उसने बिना कुछ सोचे दे दिया. कुछ देर तक मुझे लंड चुसाई का मजा देकर उसने मेरे लंड को अपने मुंह से बाहर निकाल लिया और अपनी टांगों को फैला कर वहीं बिस्तर पर लेट गई. उसने एक दिन मुझ से कहा- ये सब बेकार की मॅगज़ीन हैं, अगर कुछ मस्त देखना है तो मैं तुम्हें दिखा सकता हूँ कंप्यूटर पर.

मैंने भाभी को बोला कि दो दिन साथ रहेंगे, तो मैं एक नियम बना देता हूँ, हम दोनों में से कोई भी कपड़ा नहीं पहनेगा. इसके साथ ही मामी मेरे कान में फुसफुसा कर बोलीं- अहहहह … हम्म्म्म ऐसे ही मेरी जानू उहूहूहू धीरे धीरे … सब्र करो ऐसे दो तीन बार गांड चुदाई होने के बाद मेरी गांड की आपके लंड से दोस्ती हो जाएगी … फिर आराम से अन्दर बाहर होने लगेगा.

नमस्कार दोस्तो, कैसे हो आप? मेरा नाम देव कुमार है। मैं अन्तर्वासना की कहानियों का नियमित पाठक हूँ। मैं अन्तर्वासना से प्रेरित होकर अपनी आप बीती सुना रहा हूँ।मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। मैं एक युवा रोमांटिक लड़का हूं.

लेकिन मैं तो ऊपर से लगा हुआ हुआ था पूरी जोश से उसे पेलने में! मेरा लंड जब जोर जोर से भाभी की चुत के अंदर बाहर होता तो इंदु की चूचियाँ हिलती तो मुझे और अधिक आनंद आता. ब्लू सेक्स वीडियोमैं उसके माँ-पापा से मिला और सीमा को अपनी दीदी के घर ले जाने के लिए कहा. xxx v मराठीअब तक भाभी तड़फ उठी थीं- धीरू, अब लंड मेरी चुत में लंड कर दो … आआहह उईईईई … शीई …भैया ने भी भाभी को वहीं जमीन पर पटका और अपना लंड दो तीन बार चुत पर रगड़ कर एक ही झटके में अन्दर कर दिया. और नीचे मेरा बॉक्सर मेरे पैरों पर पड़ा हो और मेरा लंड धीरे से उसकी चूत में सरक गया हो और वहीं बैठे बैठे वो मेरे ऊपर कमर हिला रही हो.

तीस मिनट की चुदाई के बाद अनुष्का मैडम की गांड को मैंने चोद-चोद कर उसकी ठुकाई कर डाली.

फिर मैंने अपना हाथ मामी के ब्लाउज के अन्दर डाल दिया और फिर ब्रा के अन्दर करके उरोजों को सहलाने लगा. मेरे स्कूल की पड़ोस की कुछ लड़कियां मेरे पास बैठी थीं, तो वो लोग मुझसे बोलीं- बंध्या, यह तेरे को जानता है क्या? कौन है, तुझे बहुत पेप्सी पिला रहा है. फोन पे हमारी बातें होने लगी और कुछ दिन बाद हम दोनों एक दूसरे को जोक, सेक्सी मैसेज भेजने लगे.

एक दिन भाभी ने ये बात सुन ली तो वो मुझसे ही पूछने लगी- किस बात का जिक्र हो रहा है?मैंने कहा- पता नहीं क्या बताने की कहता है, मुझे खुद कुछ नहीं मालूम?मेरे जाने के बाद उसने अपने लड़के से धमका कर पूछा- क्या बात है, क्या बताने की बात करता है?उसने भाभी को बता दिया कि मोनी ने चाचू को चॉकलेट दी थी. मामा मेरे ऊपर आ गए और जोर से मेरी चूचियाँ मसलते हुए बोले- छोड़ ही तो नहीं सकता मेरी रानी। आज रात मैं तुझे चोद कर ही रहूँगा।मामा मेरे बदन के साथ जोर से खिलवाड़ करने लगे, वो मेरी सलवार के ऊपर से ही मेरी बुर सहलाने लगे। लेकिन मैं दिखावे के लिए थोड़ा बहुत विरोध करती रही मामा का!मामा मुझे समझा रहे थे- रानी, मान जा ना! अगर तेरी मामी होती तो ये दिन ही ना आते. क्योंकि मुझे नहीं पता था कि मर्दों का कितनी देर में होता है लेकिन इतना जरूर पता था कि इतनी जल्दी तो नहीं होता है.

इंडियन ब्लू फिल्म हिंदी

कितना सुकून मिल रहा था मुझे!उसे भी खूब मजा आ रहा था क्यूंकि वो भी हर धक्के के साथ गांड को पीछे धकेल कर साथ दे रही थी मेरा. मैंने जल्दी से पैकेट फाड़ा और अपने लौड़े पर कंडोम लगाके कवर चढ़ा दिया. उसके मुंह में जाते ही लंड ने पिचकारी मारी और सारा वीर्य उसके मुंह में जाने लगा.

थोड़े दिन बाद ननकू जब गाँव आया तो उसे अपनी बीवी मीना का मिजाज़ बर्ताव बदला बदला सा लगा.

ये सारी चीजें प्रीति में थीं, केवल उन्हें निखारे जाने की आवश्यकता थी.

फिर उसने आसपास के मकानों की छत की ओर देखा, कहीं पर कोई नहीं था तो वो पास वाली दीवार से अटककर खड़ा हो गया और अपनी बांहें फैला कर मुझे आने का इशारा किया. इधर गाँव वालों को भी को मीना के घर चिन्टू का रोज रोज का आना-जाना अखरने लगा. देसी विलेज कपल सेक्स फोटोगुड … वैरी गुड राजे … देख मैंने तेरा वीर्य पी लिया है इसलिए अब तू मुझे मैडम जी न बोला कर … अब से तू मुझे बाली रानी कहा करेगा … अब से मैं तेरी रानी और तू मेरा गुलाम राजा … आयी समझ मादरचोद.

मेरे सगे मामाजी के चाचा के बेटे थे, जिनका नाम रवि था और वह मेरे मामा से उम्र में छोटे थे. ये सब सुन कर मैंने उससे कहा कि शायद इसी वजह से उसके पति आज खुश दिख रहे थे और तुम्हें आगे भी इसी प्रकार से प्रयत्न करते रहना होगा. वो मेरे ऊपर चढ़ सा गया और मेरे चूतड़ों के ऊपर अपनी दोनों टांगें फैला कर झुक गया.

ये सब जानने के लिए नए पाठक मेरी पहले प्रकाशित कहानी ‘वो बरसात की हसीन शाम. मैंने उससे कहा- देख सरिता अब किस वाला खेल बहुत खेल लिया, आज हम दूसरा खेल खेलेंगे.

मैंने अपने लंड को पकड़ कर अपने घुटनों को थोड़ा सा मोड़ लिया और मामी जी के चूतड़ों को फैलाकर अपने लंड के सुपारे को उनकी गांड के छेद पर टिका दिया.

उसकी नजरों से लगता, जैसे कह रही हो कि आज रुको मत … बस ऐसे ही प्यार करते रहो. मैं रितिका को बोला- डार्लिंग, क्या बात है … चादर लाल कर दी तुमने!तो वो शर्मा गयी. विमला- अरे भाभी, आपने अभी तक कपड़े नहीं बदले?मैंने कहा- नहीं, मुझे इन कपड़ों में शर्म आएगी.

इंडियन बीपी वीडियो उस रात उन्होंने मुझे फोन किया और बताया कि अभी भी बहुत दर्द हो रहा है. मेरी माँ चारपाई पर बिल्कुल नंगी लेटी हुई थी और मेरे पिताजी माँ की चूत में उंगली कर रहे थे.

मैंने कहा- क्या जानती हो तुम?वह बोली- जब मेरी साड़ी दाल में गिर गई थी तो तुम क्या देख रहे थे. मैंने कहा- क्या जानती हो तुम?वह बोली- जब मेरी साड़ी दाल में गिर गई थी तो तुम क्या देख रहे थे. मैं मन ही मन कह रहा था कि बोल तो ऐसे रही है जैसे यह यहाँ पर पूजा-पाठ करने आई है.

एक्स एक्स एक्स हिंदी सेक्सी पिक्चर

मामी जी- अह्ह्ह्ह … ऐसे ही मन लगा कर बीबी की सेवा करना … हाय … सीईईईई … उफ्फ्फ … मेरे राज्जाअ … राहुल … और तेज़ … अओउरर्रर तेज. 2 मिनट बाद तो मैंने खुद ही गांड को हिलाकर एडजस्ट करते हुए उसके लंड को पूरा अंदर ले लिया. यह हरकत चाची ने चुपके से देख ली, पर मेरा ध्यान तो सिर्फ़ बड़े बड़े मम्मों पर टिका हुआ था.

अगर आप कहें तो सुनाऊँ वह कहानी?”विपिन जी के मन में तो कहानी सुनने के लिए हाँ थी मगर होंठों से कुछ बोल नहीं पा रहे थे. मैं मन ही मन में सोच रहा था कि यहां तो मैं भाभी को चोदने की जुगाड़ लगा रहा था और भैया ही इन्हें नहीं छोड़ रहे हैं.

उसने निक्कर के नीचे नीले रंग की पैंटी पहनी हुई थी जो पहले से पानी छोड़ रही चूत पर रगड़ खाकर गीली होने लगी थी.

मैं बोली- अंकल, आप का काम हो गया हो तो मैं जाऊं?अंकल मुझे रोकते हुए बोले- अरे नीतू रुको, तुम्हें यह सब अच्छा नहीं लग रहा क्या?अब उनको कैसे बताती कि मेरे पूरे बदन की हर तार झनकार कर रही थी. वो कपल दिल्ली में रहते थे, शुरूआत में तो हमने एक दूसरे के बारे में पूछा, एक दूसरे की पसंद नापसंद पूछी. अब रिया केवल पैन्टी में थी, तो जो शूट कर रहा था, वो बोला- रूको … अच्छे से शूट करने दो कि पैन्टी में कैसी लग रही है.

पहले तो मिसेज पाटिल थोड़ा डरीं, लेकिन मैंने उन्हें इशारा किया और डॉली को बोला- यार, बेचारी की मदद कर रहा हूँ. और यह कहकर मैंने फिर से आँख मार दी।भाभी- अच्छा जी! बड़ी मस्ती आ रही है आज?यह कहकर भाभी अपने चूचे ऊपर करती हुई मुस्कराते हुए किचन में चली गई।मैं पीछे से रूपा भाभी के मटकते हुए चूतड़ देख रहा था. उम्म्ह… अहह… हय… याह… लौड़ा बेकाबू होकर और भी ज़ोर से कूद फांद करने लगा.

उसके बाद मैंने उनको सोफे पर पीछे की तरफ आराम से लेटा दिया और भाभी की नाइटी को ऊपर कर दिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी फीचर फिल्म: भाभी ने कमरे में आकर प्यार से आवाज लगाई- अमित … उठ जा!उन्होंने मेरे बालों में हाथ फेरा. और मैंने झटके से भाभी की ब्रा को खींच दिया जिससे वो फटकर मेरे हाथ में आ गयी। उनके क्या मखमली बोबे थे.

अब कैसी तबियत है आपकी?मैं- अब ठीक है कल इलाज के लिए चंडीगढ़ ही आ रहा हूँ. वो मेरे ऊपर चढ़ सा गया और मेरे चूतड़ों के ऊपर अपनी दोनों टांगें फैला कर झुक गया. हैलो फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सभी लंडधारी … सभी अपना लंड हाथ में लेने को तैयार हो जाओ.

वो अपनी कमर भी हिला रही थी, साथ ही अपने बच्चे को दूध भी पिला रही थी.

सेक्स तो बहुत दूर की बात थी, सेक्स के प्रति मेरी बहुत सी जिज्ञासा थी. इतने में भैया की आवाज आई- भावना, देख तो अमित उठा या नहीं? नहीं उठा हो तो उसे उठा दे. थोड़ी देर बाद जब मेरा लंड सिकुड़ने लगा, तो मैंने उसपे से कंडोम निकाल कर साइड में रख दिया और हर्षिता के बगल में आकर लेट गया.