घोड़ा और लुगाई की बीएफ

छवि स्रोत,छोटी बच्ची सेक्सी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

गोल्ड नथनी डिजाइन: घोड़ा और लुगाई की बीएफ, वो मेरे मुँह को अपनी चुत पर पाते ही एकदम से कसमसा उठी और मेरे सर को अपनी चुत पर दबाने लगी.

भोजपुरी सेक्स वीडियो देसी

मैं उसके बाजू लेट गया और उसका एक पैर मेरे ऊपर ले लिया, जिससे मेरा लंड उसके चूत को टच कर रहा था. सोनागाछी रेट लिस्टमैं नाटक करने लगी कि कोई आ जायेगा।वो कहने लगा कि मुझे पता है तू चुदना चाह रही है। ज्यादा नाटक मत कर!फिर उसने मेरे टॉप को ऊपर कर दिया और मेरे बूब्स को चूसने लगा।मैं भी उसको चूची चुसवाने लगी।मुझे बहुत मजा आ रहा था.

मैंने उनको रोकना चाहा … लेकिन उन्होंने मुझे बेड की तरफ पीछे को धक्का दे दिया और मेरी गर्दन पर किस करने लगे. चेहरे को गोरा करने के लिए क्या करेंवो अपने हाथ को तेजी से चला रहे थे और पजामा तेज तेज हिल रहा था।जब मेरा ध्यान मीनू की छाती पर गया तो मैंने पाया कि मामा का हाथ मीनू की छाती पर था। वो उसकी चूची को हाथ से सहला रहे थे.

तो मैंने धीरे धीरे अपना हाथ चलाना शुरू कर दिया।तभी उसने करवट बदल ली अब उसकी नाईटी पैरों से ऊपर चढ़ गई।मैंने उसे कहा- थोड़ी खिसको, मैं किनारे पर हूं.घोड़ा और लुगाई की बीएफ: चुदाई के बाद या चुदाई से पहले चूत से बहते हुए मूत को पीना भी मुझे बहुत मस्त लगता है.

मैं उसको गोदी में उठा कर दूसरे कमरे में ले गया और वहां उसके ऊपर चढ़कर फिर से किस करने लगा.सुबह 7 बजे मैं और मंजू बाथरूम से फ्रेश होकर निकले और सोफा पर बैठ गए.

गुलाब फूल वॉलपेपर फोटो - घोड़ा और लुगाई की बीएफ

रोमी से जब रहा नहीं तो उसने सरिता भाबी की चूत को छू लिया और सरिता भाबी की आंख खुल गयी.वर्षा भाभी मेरे और मेरे लंड की तरफ देख कर हंसते हुए बोलीं- क्या अमन … आज आपने हमारे साथ तो होली खेली ही नहीं … हमें तो आपने सूखा सूखा ही छोड़ दिया.

मैंने उसे फिर औंधा लिटाया और उसकी चड्डी सरका कर उसकी गांड के छेद में बोरोलीन के ट्यूब का मुँह लगा कर दाब दिया. घोड़ा और लुगाई की बीएफ मैं पिज़्ज़ा का टुकड़ा अपने होंठों में दबा कर उसके होंठों में पकड़ाता, जिससे हम पिज़्ज़ा के साथ एक दूसरे के होंठों का भी रसपान कर रहे थे.

मैं सोच रही थी कि मुझे अब उस आदमी से मिलने जाना ही चाहिए क्यों जाना चाहिए ये मुझे समझ नहीं आ रहा था.

घोड़ा और लुगाई की बीएफ?

मैं अपने दोनों हाथों से लंड पकड़ कर अपने मुँह से उनके लंड को चूस रही थी. वो बोली कि वो वहां नहीं आ सकती, क्योंकि घर का वो हिस्सा उसके पति के भाई के हिस्से का था. वो बोली- आह बड़ा मज़ा आ रहा है राजा … ठंडी आइसक्रीम और तुम्हारी गर्म जीभ मुझे बड़ा सुकून दे रही है.

मैंने कहा- तो बोलने में मां चुद रही थी?मेरी गाली सुनकर वो भो बोली- साले चुदुर चुदुर मत कर काम कर … फ़ालतू में समय खराब मत कर. मैंने आंख दबाई तो वो बड़ी अदा से शर्मा गई और उसने धीरे से अपने अंगूठे को मेरे सुपारे पर रख दिया. वो बोली- नहीं यार … लेकिन हम दोनों शादीशुदा हैं, हमारा ये सब करना ठीक नहीं है.

अब फिरंगी और इंडियन मतलब जॉन और रॉय मेरे मम्मों को दबाने लगे और मुझे किस करने लगे. मैंने अभी तक कभी उसके बारे में गलत नहीं सोचा था, लेकिन उसको आज इस तरह से देखकर मैं एकदम दंग रह गया. उसको अभी भी बहुत दर्द हो रहा था, पर कुछ देर तक ऐसा करते हुए उसका दर्द मज़े में बदलने लगा.

पहले तो मैंने घर की सफाई की और उसके बाद सागर को फोन करके बोला कि मेरे घर वाले बाहर गए हैं 2 दिन के लिए शादी में! आज रात को तुम आ जाना घर खाने पर!उसने हाँ कर दी. उनमें एक दोस्त राहुल भी था, जो साला शुरू से ही बहुत बड़ा लौंडियाबाज था.

भाभी को जहां रहने का मन करता था, उनका पति वहीं उनको रूम दिलवा देता था.

वो बोली- तो फिर मैं किसके साथ जाऊं?फिर वो कुछ देर सोचने के बाद वो बोली- तुम तो संडे को खाली होगे.

फिर जेठजी ने अलग होकर मेरी साड़ी, ब्लाउज सब उतार कर मुझे पूरी नंगी कर दिया. बीवी इठला कर बोली- तो कपड़े खोल दीजिए न!मैं उस टाइम बनियान और पज़ामा में था. मैंने नीचे से गांड उठा कर उसकी चुत में आहिस्ता आहिस्ता पूरा लंड पेल दिया.

मैं नीचे बैठ गया और भाभी की गदराई हुई गोरी और मोटी जांघों को देखकर एकदम से गर्मा गया. सुरीली मोटे लंड के कारण बार बार दर्द की वजह से तड़फ रही थी और बार-बार ऊपर उठे जा रही थी. मैंने उनसे कहा- कोई बात नहीं, आपके केबिन का मेन स्विच ऑफ है इसीलिए लाइट नहीं जल रही है.

बातें करते करते मैंने एक दिन खुशी को प्रपोज़ कर दिया लेकिन उसने उस समय मना कर दिया.

निशा भाभी- अब देखते ही रहना है … या कुछ करना भी है?उनके इतना बोलते ही मैं फिर से टूट पड़ा और किस करने लगा. क्या तुम नहीं करते हो?उसकी इस बात से मैं एकदम से हड़बड़ा गया और बोला- मैं नहीं करता ये सब!इस पर रिट्ज बोली- अच्छा तो मेरे कॉलेज जाने के बाद तुम और मम्मी क्या डांस करते हो. इसी तरह बात चलती रही और मैंने समीक्षा से नजदीकियां बढ़ानी शुरू कर दीं.

जो भी मुझे एक बार मेरी इस हिलती हुई गांड को देख लेता है, तो बस देखते ही रह जाता है. मैंने समीक्षा से बात करके कहा कि वो तो नहीं आ रहा है, तुम ही उससे बात करो. जब मुझे मालूम चला कि वो ब्रा उसकी बहन की थी तो मुझे काफी अजीब सा लगने लगा था.

अपने कमरे में आकर कुसुम को अपनी गलती का अहसास हुआ कि वो अपने सगे बेटे के साथ कितना आगे बढ़ चुकी थी.

दो ही मिनट में जेठजी का लंड पूरी तरह सख्त होकर खड़ा हो गया था और उनका सुपारा पूरी तरह नंगा होकर मेरे चेहरे के सामने अपनी मर्दानगी का परिचय दे रहा था. पूजा ने मेरी चड्डी में हाथ डाल दिया और मेरे लंड को बाहर निकाल लिया.

घोड़ा और लुगाई की बीएफ उसकी आंखें बंद हो गई थीं और मन में सिर्फ मॉम की चूचियों की रगड़न का ही अहसास हो रहा था. थोड़ी देर के बाद बसंत ने कार को एक कच्चे रास्ते पर उतार दी और कोई दो किलोमीटर अन्दर जाकर उसने गाड़ी रोक दी.

घोड़ा और लुगाई की बीएफ वो टांगें हवा में उठा कर मुझे अपनी चूत के अन्दर दबाने लगी- आह साले फाड़ दे … मेरी चुत भभक रही है. जब तक आरिफा और जाकिरा की शादी नहीं हो गयी तब तक वो मुझसे चुदवाती रहीं.

अब आकृति आंटी अपनी गांड में मेरा लंड लगाए हुए मेरे सीने पर अपना सिर रख कर लेट गयी थीं.

সানি লিওন এক্স এক্স ডট কম ভিডিও

उसकी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर मानो बसंती बयार का सा अहसास दे रही थी. कुछ समय बाद अनिकेत करवट बदलने लगा, तो मुझे अन्वेषी भाभी के पीछे लेटना पड़ा और रुकना पड़ा. मैं समझ गई कि जेठजी मुझे घुटनों के बल बैठा कर लंड चूसने को कह रहे हैं.

विजय ने अपने लंड को सरिता भाभी की चूत की फांकों में फंसाया और जोरदार धक्का दे दिया. उसने भी कह दिया कि कोई दिक्कत नहीं है।उसके ये कहते ही सारा उस पर टूट पड़ी और चूम चूम कर उसे निहाल कर दिया. उसी समय ये सब कुसुम ने सुन लिया था क्योंकि वो रोहन के झड़ने के कुछ पल पहले ही यहां पर उसे तौलिया देने आई थी.

फिर मैंने उसके सामने अपने मन की बात रख दी और उससे कहा- मुझे तुम्हारा सेक्स देखकर काफी अच्छा लगा.

जब मुझसे और रहा नहीं गया, तो मैंने जेठजी के थूक की लार को निगल लिया. उसने अपने भैया से पूछा कि कौन सी लूँ?तो पीयूष बोला- ये सब बकवास देख रही हो, तुम थोंग वाली पैंटी ले लो. सुनीता की चुदाई कहानी थीचुत और गांड की ओपनिंग एक साथतो उस लड़के का नाम अमित था.

उसने अपने दोनों हाथों में मेरी दोनों चुचियों को ले लिया और मसलने लगा. मैंने रिया के होंठों के बीच उंगली घुसाई, तो उसने नींद में ही मेरी उंगली मुँह में डाल कर चूसनी शुरू कर दी. फिर उस कोन को उल्टी तरफ से, जो अब सीधी तरफ हो गया था, उस तरफ से आंटी पहले कोन काट काट कर आइसक्रीम खाने लगीं.

सिर्फ कमल ही चोदेगा उसे!कमल ने अपना माल सारा की चूत में निकाल दिया. मेरे हाथ से दारू ज्यादा से ज्यादा ग्राहक के पास जाए और मुझे ज्यादा कमिशन मिले, इसलिए मैं भी हंस कर ग्राहक का साथ देती.

मैं अच्छी तरह से देख सकता था कि उसकी पीठ भी कम्पन कर रही थी और पीछे से पीठ का हिस्सा, जो खुला हुआ था, उसकी थिरकन को मैं आराम से महसूस कर सकता था. मैंने भी इधर उधर देखा और सन्नाटा देख कर उसे अपनी बांहों में खींच कर चूम लिया. मैंने दीदी की चूत के छेद को लंड से टटोला और फिर उसकी चूत में जोर का धक्का दे दिया.

कुछ देर बाद वो बोला- ठीक है, आप मुझे आप अच्छी लगी थीं … लेकिन शायद मैं आपको अच्छा नहीं लगा.

हम दोनों का ये युद्ध अति उत्साहित होने के कारण दस मिनट में ही समाप्त हो गया. अब अगर आप उसमें से मेरे बताने पर किसी को कुछ बोलोगी, तो आप किस किसको डांटोगी और कोई फ़ोटो छुपा कर मोबाइल दिखा दे तब … और वो सब ये बोल रहे हैं कि अगर सपना चोदने को नहीं मिली तो इसकी सारी फ़ोटो वायरल कर देंगे. एकता- क्या मारने की बात कर रहे हो?मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा- गोटी.

पूरी 8 हुक खोल कर मैंने उसका ब्लाउज़ खोला तो अंदर सुर्ख लाल ब्रा में कैद उसके दो गोल और दूध से सफ़ेद मम्में मेरा मन ललचा गए. मैंने अपनी दुकान पहुंच कर उसके बारे में काफी सोचा और उसे फोन न मिलाने का निर्णय ले लिया.

मगर कानपुर का नाम सुनते ही मुझे अपनी ईमेल वाली गर्लफ्रेंड की याद आ गई और मैंने हां कर दी. पूरा कमरा मेरी कामुक आवाजों से गूंज रहा था ‘आआआह आआआह ऊऊह मम्मीई ऊऊऊऊई मर गई आह. ये वही पल था, जिसमें कुसुम अन्दर आकर अपने बेटे के बारे में सोच कर अपनीचुत में उंगलीकर रही थी.

हिंदी पिक्चर सेक्सी चोदा चोदी

ये रियल फैमिली सेक्स कहानी उस वक्त की है जब मैं अपने कॉलेज के पहले साल में था.

मम्मी और पूजा मेरी आंखों के सामने नंगी होकर मुझे अपने स्तन दबा कर दिखा रही थीं. मायरा और मेरी आंखें मिलते ही हम दोनों एक दूसरे में डूब गए और दोनों अपने अपने हाथ एक दूसरे के बालों में डालकर सहलाने लगे. आज सारा रस निकाल दे इसका … आह बहुत तंग करती है… बहुत आग लगी है इस चुत में … आह इसकी सारी गर्मी निकाल दे.

कुछ देर बाद वो बोली- आह मेरी चुत को ऐसे ही चूसते रहो … आह बड़ा अच्छा लग रहा है … इसका पानी निकाल दो. वो पूरा हफ्ता मैंने आकृति आंटी को रिट्ज को चोदने का सपना दिखाया और बड़े जोश से आंटी को चोदता रहा. सेक्स फ्री मूवीचूंकि ज्योति भाभी का न केवल तलाक़ हो चुका था बल्कि उसको अलग अलग मर्दों से चुदने का अनुभव भी था.

मुझे समझ आ गया कि अब आंटी झड़ने वाली हैं, तो मैं बिना रुके और आधी आधी सांस लेते हुए उनकी चुत के और अन्दर अपनी जीभ घुसेड़ने लगा. पर मैं सोच में पड़ गया था कि अब ये घर में रहेगी कहां … घर में तो जगह ही नहीं थी.

वो बिंदास आगे बढ़ा और उसने सरिता भाबी का हाथ पकड़ना चाहा, पर सरिता भाबी ने उसको अन्दर खींच लिया. उन्होंने मुझे अपनी बेटी का मोबाइल नंबर दिया और कहा कि कुछ पूछना हो तो अपनी दीदी से पूछ लेना. फिर उसने वो डंडा अपनी चूत में डाल लिया और उसको धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी.

उसने मेरे लंड की आगे की खाल को खोलकर सुपारा निकाल लिया और उस पर अपनी जीभ चलाने लगी. सारा ने एक हॉट एल्बम लगा कर लाईट बहुत धीमी कर दी और स्टेप्स लेने शुरू किये. पर मैं सोच में पड़ गया था कि अब ये घर में रहेगी कहां … घर में तो जगह ही नहीं थी.

लेकिन मेरा शौहर किसी को कुछ नहीं बोल पाया कि बच्चा किसका है और कैसे हुआ.

मैं कुतिया बन गई तो उसने मेरी चुत में पीछे से लौड़ा पेला और मेरी चूचियों को पकड़ कर धकापेल चुदाई शुरू कर दी. मैं बोली- रंगीन मिजाज मतलब? … और उसके मिजाज से आपको क्या लेना देना?नासिर जी- अरे वो बहुत रंगीन मिजाज मतलब शौक वाला है.

शॉर्ट के अन्दर अंडरवियर नहीं पहनी क्योंकि मैं चाहता था कि आज मैं उसे अपना खड़ा लंड दिखा सकूं. मैं उसके फिगर की बात करूं तो मेरे हिसाब से उसकी 32 बी साइज की चूचियां और 28 इंच की कमर होगी. मैंने उस दिन उसको अपने बारे में सब बताया- मेरा पति नहीं है और बेटी किधर है … उसे सब कुछ बता दिया.

अब मैंने उसको उलटा करके लिटाया तो उसकी पैंटी के फटे छेद में से उसके चूतड़ों की दरार दिख रही थी. तभी राज़ ने दूसरा धक्का भी मार दिया और अपना पूरा लंड मेरी गांड में घुसेड़ दिया. ”तो तुम्हें ही देखूंगी ना!”हां … पर तुम मुझे ही क्यों देखती हो?”क्योंकि तुम मुझे पसंद हो.

घोड़ा और लुगाई की बीएफ उस दिन घर आकर मैंने धीरे से अपनी मम्मी की ब्रा चुराई और बाथरूम में जाकर उसे सूंघने लगा. एकाएक बात करते हुए उसने मेरा हाथ पकड़ लिया, जिससे मुझे भी अन्दर अन्दर गुदगुदी होने लगी, लेकिन मैंने सत्यम को यह चीज पता नहीं चलने दी.

தெலுங்கு படம் செக்ஸ்

धीरे धीरे उसका हाथ मेरे टॉप में घुस गया और एकदम मेरी चुचियों के पास छूने लगा. ऐसा लग रहा था जैसे कि वो बहुत बड़ी जंग जीतकर एकदम से थक कर सो गयी हो. मुझे सब पता है कि भैया मीनू को चोदते हैं।इतना कहना था कि मौसी ने मेरा लंड पकड़ लिया और मेरी लोअर के ऊपर से सहलाने लगी।मेरा लंड पहले से ही अकड़ा हुआ था.

उसकी आंखें बंद हो गई थीं और मन में सिर्फ मॉम की चूचियों की रगड़न का ही अहसास हो रहा था. उनकी आंखों में साफ-साफ कामवासना दिख रही थी जो कि भांग पीने से बढ़ गई थी. ન્યુ વિડિયોमुझे उम्मीद है कि ये आपके शरीर में इतना करंट पैदा कर देगी कि आप अपने लंड को हिला कर और चूत को रगड़ रगड़ कर इस करंट के झटके खा जाएंगे.

ननिहाल में मेरे नाना (70), नानी (65) और उनकी छोटी बहू अपनी बेटी के साथ रहती थी.

मैंने उसकी पूरी बात को ध्यान से सुना, तो समझ गया कि एक छेद लंड के लिए उपलब्ध हो सकता है. लिली ने सफेद कलर की ब्रा पहन रखी थी जिसमें वो बहुत कामुक लग रही थी.

मैंने गैर किया तो उसका लन्ड अब टाइट हो रहा था।उसकी चुभन का मैं भी मजा लेने लगी। अब मैं उससे और सट के बैठ गई।सागर ने अब अपना एक हाथ मेरी जांघ पर रख दिया. इस बीच में अपनी चूत की फांकों से जेठजी के लंड को जकड़ती और छोड़ती रही. यही सोच सोच कर मैं बाथरूम में जाकर अपनी बहन रिया की पैंटी उठा कर लंड पर लपेट लेता था और मुठ मारकर उसकी पैंटी पर ही अपना वीर्य झाड़ देता था.

मैंने उसकी छाती सहलाते हुए पूछा- अब बोल न … मेरे लिए क्या काम है?इकबाल बोला- मेरे पहचान का एक डायरेक्टर है, जो ब्लू-फिल्म बनाता है.

मेरा भाई सामने बैठ कर कंप्यूटर पर पबजी खेल रहा था और उसका दोस्त दरवाज़े के बगल में बैठा था. मेरी पिछली कहानी थी:फैक्ट्री वर्कर और उसकी बहन भांजी की गुलाबी चूतमुझे सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी मिली थी. वो बोली- मैं बन जाऊं फिर?मैंने मामी की ओर हैरानी से देखा तो वो जोर जोर से हंसने लगी.

सेक्सी खुल्लमशाम को 7 बजे सब लड़कियां एक एक करके चली गईं और मैं लगभग 9 बजे बिल्डिंग का गेट लॉक करके अनीषा मैडम की फ्लोर पर आ गया. मैं अब भी उसके स्तनों को चांटे मार रहा था और चुच्चियों को मसल रहा था.

डबल एक्स वीडियो डॉट कॉम

मैं पहले दिन की तरह आज भी उनसे काफी देर तक बातचीत करके दुकान बढ़वा कर ही घर अपने आया. प्रिय पाठको, आप सबको मेरी पिछली सेक्स कहानीगर्लफ्रेंड की सहेली और अम्मी की चूत चुदाईअच्छी लगी और आपके इतने सारे मेल आए, इसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद और आभार. जैसे ही मुझे मेरी भतीजी की चुदाई का मौका मिलेगा मैं आप लोगों को जरूर बताऊंगा.

लेकिन जब वो अपने लिए रेड कलर की ब्रा और जालीदार पैंटी ले रही थीं, तब मैंने उस समय इस बात को नोटिस किया कि उनके मम्मों का साइज़ 34 इंच ही था. आरिफा तो कुछ नहीं दिखाती थी लेकिन जाकिरा मुझे सेक्सी इशारे किया करती थी. फिर मैं बिना देर किए सामने वाली भाभी के पैर को रगड़ने लगा, तो वो स्माइल करने लगी.

पर सुनील के मेरे साथ हैलो करने के लिए हाथ बढ़ाया, तो मेरा ध्यान टूटा. मम्मी उन दोनों को देखकर बहुत खुश हुईं और मैं सिर्फ मामी को देखकर खुश था. करीब 20 मिनट तक मॉम की चुत में लंड के शॉट मारते हुए मैंने कहा- मेरा होने वाला है … कहां निकालूं!वो बोलीं- मादरचोद, अन्दर ही डाल दे.

साले इस कोरोना के चक्कर में बहुत दिनों से कोई नई चूत ही चोदने को नहीं मिली. जब तक दीदी मसाज करवाती रही तब तक मेरे लंड में तनाव बना रहा और मेरा लंड पानी छोड़ता रहा.

देसी सुहागरात Xxx कहानी के पहले भागमेरी नयी बीवी के साथ पहली रातमें आपने पढ़ा कि मैं अपनी दूसरी शादी के बाद अपनी नयी बीवी के साथ अपनी सुहागरात की शुरुआत कर रहा था.

मैंने उसकी कमर पर हाथ रखा, तो वो मेरी तरफ घूम गयी और मेरे ऊपर हाथ डाल कर मेरी तरफ खिसक गई. सबसे अच्छा कैमरा कौन सा हैएकता इतनी अधिक मादक लगती थी कि जाने भगवान ने किस फुर्सत की घड़ी में बड़े ही आराम से गढ़ा हो. सेक्स वीडियो हिंदी इंग्लिशमुझे सारे रास्ते रिट्ज की बड़ी बड़ी चुचियां और उसके कड़क निप्पल मेरी पीठ पर रगड़ कर मजा देते रहे. भाभी के होंठों पर, गाल पर, आंखों पर, पूरे चहेरे पर, बालों पर, कान पर, गले पर, उनके रसीले मम्मों पर, उनके हाथों पर, उंगली पर किस करके उनको चाटने लगा.

चाची ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मैं फिर से चाची की चूत में धक्के लगाने लगा.

सेक्सी वाली नाइट ड्रेस ली ताकि अपने बदन को दिखाकर मैं ससुर जी के लौड़े की प्यास को और ज्यादा बढा़ सकूं. थप थप की आवाज के साथ चुदाई चल रही थी।बस के धक्के के साथ हम लोगों का भी धक्का चल रहा था।वह अपनी मस्ती में आ गई थी और बोली- चोद साले मुझे चोद! इतना कि आज मैं तेरी गुलाम बन जाऊं।फिर मेरा भी जोश बढ़ा और बहुत तेज से चुदाई करने लगा।मैं भूल गया था कि मैं बस में हूं और कोई हमारी आवाज सुन सकता है. बदनामी के डर से मेरे शौहर ने अलग घर ले लिया और मैं उसके साथ इस नए घर में रहने आ गई.

मैंने एक हाथ उसके मुँह पर रखा ताकि अन्वेषी भाभी आवाज ज्यादा न निकाल पाएं. अब वो गांड आगे पीछे करके लंड लेने लगी। मैं उसके बूब्स दबाने लगा और वो खुद लंड पर गांड चलाने लगी।मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हारे पति नहीं चोदता?वो बोली- चोदता है लेकिन मेरी आदत हो गई नये नये लंड लेने की!अब मैं उसे और तेज़ तेज़ झटकों से चोदने लगा मैं समझ गया कि इसको जमकर चोदना पड़ेगा।मैंने उसे लंड मैं बैठ कर चुदवाने को कहा. मैं नीचे बैठ गया और भाभी की गदराई हुई गोरी और मोटी जांघों को देखकर एकदम से गर्मा गया.

सेक्सी बीएफ लड़कियों की

अब वो गांड चलाने लगी, बोली- राज चोदो मुझे … फ़ाड़ दे मेरी … आहह ऊईई ऊईई आहह!मैं भी जोश में था और अब तेज़ तेज़ झटकों से उसकी सिसकारी बढ़ने लगी।अब थप थप थप की आवाज तेज हो गई।उसने बताया कि उसके पति को भी गांड में चोदना पसंद है. मैं धीरे से अपने होंठों को उसके तपते होंठों के पास लाया और उसके कांपते और लरजते होंठों से हल्का सा छुआ. जैसे ही उसने अपने होंठों को मेरे लंड पर चूमा, तो मुझे लंड पर ऐसे लगा, जैसे उसके होंठ नहीं … कोई गुलाब के फूल से मेरे लंड को सहला रहा हो.

उसने कहा- ठीक है, प्यार मत करो लेकिन प्यार से सेक्स तो कर सकते हो!मैंने कहा- करके तो देखो, फिर बताना कि प्यार से हुआ या बिना प्यार से हुआ.

मैं समझ गई कि जेठजी मुझे घुटनों के बल बैठा कर लंड चूसने को कह रहे हैं.

मेरे लंड में झटके लगने लगे और मन करने लगा कि बस अब मामी मेरे लंड को पकड़ कर इसकी मुठ मार दें. चुत की फांकों में लंड सैट हुआ कि मैं एकदम से लंड चुत में घुसा दिया. राजधानी नाइट की चार्ट दिखाओमैंने अब उसकी गांड में उंगली डाली, तो साली की गांड एकदम भभक रही थी और बहुत ज़्यादा टाइट थी.

फिर इंटरवल के बाद मेरा ब्वॉयफ्रेंड आ गया और कुछ देर बाद अन्धेरा होते ही उसने मेरे साथ फिर से वही सब किया. भाभी बोलीं- क्यों नहीं बनाई जीफ!मैंने कहा कि मुझे लड़कियों से बात करने में बहुत शर्म आती है. पता नहीं क्यों मुझे जेठजी के बच्चे की मां बनने की बहुत इच्छा हो रही थी.

चाचा और स्नेहा के घर पर होने के कारण मैं चाची संग कुछ नहीं कर पा रहा था. शांत होने के बाद मैंने दीदी से पूछा- आपका पानी भी निकला था क्या?वो बोली- मैं दो बार झड़ चुकी हूं.

लकी ने उससे पूछा- अगर कमल को पता चल गया तो क्या होगा?सारा मुस्कराकर बोली- वो तो यही चाहता था, मगर उसकी गांड फट गयी.

इतने में ही ससुर ने अपने पजामा नीचे करके लंड बाहर निकाला और मेरे मुंह में दे दिया. शुरू से ही में विद्यार्थी जीवन से बहुत ही कामुक प्रवृत्ति का आदमी रहा हूँ और समय के साथ साथ मेरे अन्दर कामुकता और बढ़ती गयी. बड़े मामा (45) के थे और छोटे मामा (41) के थे मगर छोटे मामा की मौत कुछ समय पहले बाइक एक्सीडेंट में हो गयी थी.

हम साथ साथ हैं फुल मूवी हिंदी भाभी की विरोध ना करने वाली प्रतिक्रिया देखकर मेरा साहस बढ़ गया और वासना जाग गई. आहिस्ता से धक्के लगाते हुए मैंने दीदी की चूत में धीरे धीरे पूरे लंड को ही अंदर धकेल दिया और अब दीदी की चूत मेरे पूरे लंड को आराम से अंदर ले रही थी.

और तभी मेरे लौड़े ने वीर्य छोड़ दिया।मैं उसके ऊपर लेट गया और दोनों चिपक कर लेट गए. वो बोली- तो फिर मैं किसके साथ जाऊं?फिर वो कुछ देर सोचने के बाद वो बोली- तुम तो संडे को खाली होगे. मैं उनकी कसमसाहट को समझ गया और भाभी को किस करते हुए उनके गले को भी किस करने लगा.

एक्स एक्स व्हिडीओ बीएफ

मेरे मुँह के खुलते ही उसने मेरे मुँह में अपनी जीभ डाल दी और मेरे मुँह का स्वाद लेने लगा. कुछ देर बाद वो मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से ही सहलाने लगीं और हम दोनों बातें करने लगे. साले कॉलेज के लौंडे थे भैन के लौड़े … फुच्छ फुच्छ करके निकल गए … मेरी चुत की झांट भी टेड़ी नहीं कर पाए.

बिल्लो की बातों को सुनकर मुझे काफी गर्व सा महसूस हुआ और मैंने जोश में अपने धक्कों की रफ्तार और भी बढ़ा दिया. आज की सेक्स स्टोरी मुझे एक पाठिका से प्राप्त हुई है, वो अपनी गाँव सेक्स कहानी मेरे माध्यम से अन्तर्वासना पर प्रकाशित करवाना चाहती है.

मैंने कुछ धक्के तो इतनी जोर के मारे थे कि मायरा को लगा होगा कि मेरा पानी निकल रहा होगा.

भाभी ने कहा- अभी नहीं, अभी रुको … अभी तुम्हें एक बार और मेरी चुदाई करनी है. तभी उसने मेरे होंठ छोड़े और बोली- यही प्यास है न … कैसा लगा!इस बार मैंने उसे चौंका दिया और उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिया. फिर मैंने थूक लेकर सोनू की गांड के छेद पर लगाया और अपने लंड के सुपारे पर भी थूक लगा कर छेद में लंड सैट कर दिया.

एक दिन शाम को मेरी बीवी ने मुझे कहा- अपने सामने जो यह रानी आई है न!मैं- कौन रानी?मेरी बीवी- अरे श्याम की बीवी और कौन. दूसरे दिन संडे को मैं अपने साइकिल लेकर उसके घर के बाहर पहुंचा और उसे कॉल कर दिया- कॉपी ले जाओ, मैं बाहर खड़ा हूं. मैंने बोला- क्या मुझे आप इसके कुछ फ़ोटो और भेज सकती हैं? अगर अच्छा लगा … तो मैं कल आकर ले जाऊंगा.

आशा करता हूं आपको पसंद आएगी।चलिए अब समय ना बर्बाद करते हुए सीधे इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी पर आते हैं।बात कुछ वक्त पहले की है जब कोरोना के कारण शुरू शुरू में लॉकडाउन हुआ था.

घोड़ा और लुगाई की बीएफ: जेठजी अपना दूसरा हाथ भी मेरी गांड के नीचे ले गए और मेरे चूतड़ों को ऊपर की तरफ उठा दिया. जाकिरा मेरे लंड को चूसने में लग गयी और नीचे से आरिफा मेरे गोटों को चूसने लगी.

इसी बीच मैंने सोचा कि इसकी चूत का स्वाद भी चूसकर ले लूं, फिर पता नहीं क्यों उसकी चूत पर झांटें देखकर चूसने की इच्छा नहीं हुई. मुझे औसत साइज की उन औरतों को चोदना बहुत पसंद हैं, जो सेक्स को दिल से समझती हों. जब उन्होंने मुझे कॉल करके पूछा कि क्या हुआ चैट ऑफ़ क्यों कर दी?मैंने कहा- मुझे आपके साथ सेक्स करना है नहीं … तो आज से सब कुछ खत्म करना ही ठीक रहेगा.

मुझे मालूम था कि भाभी मुझसे चुदने के लिए तैयार थीं, बस जरा नखरे चोद रही थीं.

वो बोला- हां मेरे पास है, वो तुम्हारी कोई खास हो, तो मेरे घर आकर ले लो. अब मुझे इंतज़ार था रिट्ज का, वो भी एक बहुत सेक्सी सी कॉस्ट्यूम में बाहर आई. मैंने अपनी चुदाई की स्पीड को बढ़ा दिया और भाभी के मम्मों को मसलते हुए जोर जोर से उनकी चूत चोदने लगा.