खेतों की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,प्रियंका चोपड़ा की देसी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट सेक्सी वॉलपेपर: खेतों की बीएफ पिक्चर, अब जगत अंकल ने मेरी जांघों के ऊपर अपनी हथेली रख दी और धीरे से उसे चलाने लगे.

सोफिया अंसारी की सेक्सी मूवी

मैं – अमित, कोई देख लेगा …अमित- कोई नहीं देख रहा, वो देख रजनी और राहुल कितने मज़े कर रहे हैं।मैंने उनकी तरफ देखा तो रजनी और राहुल एक दूसरे को चूम रहे थे और रजनी के हाथों में राहुल का लण्ड था। इसी बीच अमित ने मेरी चूत पर पेंटी के ऊपर ही सहलाना शुरू कर दिया और मैं भी मदहोश हो गयी।फिर अमित ने मुझे सीधा किया और मेरे होंठों को चूसने लगा. चुदाई नंगी सेक्सीफिर से मैंने जोरदार चुम्मा लिया और लंबा फव्वारा सरिता की चूत के अन्दर छोड़ दिया.

जैसे ही मेरे लंड के सुपारे ने नेहा की मुनिया को छुआ … उसके पैर जोरों से कंपकंपा गए और उसने ‘इइईईई … श्श्श्श्श्श … अह्हहहह …’ की एक सुबकी सी ली. शाहरुख खान की सेक्सी पिक्चर वीडियोफिर रवि ने चलती गाड़ी में अपने पूरे कपड़े खोल दिए और राज अंकल से बोले कि यार कहीं कॉर्नर में हो सके तो गाड़ी लगा लेना या ऐसे चलाना कि कोई देखे ना.

खाला बोलीं- आह … मुझे बहुत अच्छा लग रहा है … सच में बड़ा बहुत आराम मिल रहा है.खेतों की बीएफ पिक्चर: वंदना मुझसे बोली- जानू, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा … तुम मेरी चुत को अपने लंड से चोदो … और मुझे अपनी औरत बना लो.

फिर मैंने भी उसकी किसिंग और उसके प्यारे-प्यारे, गोल-गोल, गोरे-गोरे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया.चलो‌ मेरे लिए ये तो अच्छा ही हो गया‌ था‌ कि नेहा और प्रिया को भी सुलेखा भाभी के बारे में मालूम हो‌ गया‌ था.

सेक्सी फिल्म फोटो में - खेतों की बीएफ पिक्चर

उसका छोटा सा लंड मेरी तोंद से रगड़ कर मेरे नाभि के छेद को छू रहा था, बड़ा मज़ा आ रहा था.जबकि दो साल से चुदाई न होने पर मैंने तो यही सोच लिया था कि अब मेरी चुदाई कभी नहीं होगी, पर इतने अच्छे लौड़े से चुद कर तो मुझे मानो जन्नत मिल गई थी.

जिस चरम को पाने के लिये उसने आँखें बन्द की हुई थी, मेरे हाथ लगाने भर से वो उसकी आँखें खुल गयी. खेतों की बीएफ पिक्चर पर जो लत पिंकी और शुभम ने लगाई चूत चटवाने की, वह इच्छा पूरी नहीं हुई और उसके बिना मुझे बेचैनी सी महसूस होती थी।पति से कहकर शादी के 4 महीनों के बाद ही मैंने पार्लर खोल लिया और पहले खुद मेहनत करती रही.

कुछ पल बाद ज़ीनत को जब थोड़ा आराम मिला, तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला.

खेतों की बीएफ पिक्चर?

मैं डर गया, मामा का मोटा लंड बिल्कुल खुला हुआ बाइक की टंकी से बैठकर आसमान को सलामी दे रहा था और हम लोग अभी भी रोड पर ही थे. उन्होंने फिर मुझे अपने ऊपर आने को कहा और मैं उनके ऊपर आकर उनकी टांगों को उठाकर चूत पर लंड रगड़ने लगा. उसने अन्दर जाकर ब्रा पेंटी के ऊपर अपना बुरका पहन लिया और बाहर आ गई.

सलोनी- उफ्फ … आह्ह!सिसकारियों की गूंज ट्रेन के शोर में दब सी गई पर मैं सुन सकता था. मेरा जोश बढ़ता ही जा रहा था। बहुत दिनों बाद मुझे इतना मस्त माल हाथ लगा था, इसलिए मैं उसका पूरा मज़ा ले रहा था. उस रात की चुदाई के बारे में सोचकर ही मेरा लण्ड चूत के लिए त़ड़पने लगता है।अगर इस कहानी में मुझसे कोई गलती हो गई हो तो मुझे करना।कहानी पर अपनी राय ज़रूर दें.

वह बोली- यह रहा तुम्हारा गिफ्ट!मैंने कहा- अब रिटर्न गिफ्ट भी तो देना पड़ेगा!और इतना कहकर मैंने उसे गोद में उठा लिया उसे उठाकर अंदर कमरे में पलंग पर ले गया. मेरे गले लगाने और उनकी पीठ को सहलाने पर भाभी ने मुझे कुछ नहीं कहा तो मैं अपना हाथ उनकी पूरी पीठ पर फेरने लगा. पर तुझे इतना मजा आएगा कि अभी चार पांच मिनट बाद कि तेरे सामने हम लोग फेल हो जाएंगे.

उसने कहा- मुझे अच्छी तरह पता है कि आप मुझे ललचाई नज़रों से देखते हो. फिर कुछ देर बाद उन्होंने मेरी पैंट को खोला तो मेरी चड्डी में मेरे लौड़े ने आतंक मचा रखा था.

मैं हाथ में जगत अंकल का लौड़ा पकड़ के रगड़ने लगी कि तभी रवि ने एक झटके में जोर से मेरी चूत में पूरा लंड घुसा दिया.

हम दोनों का पानी बहने लगा था … मेरा लंड दो- तीन पिचकरी छोड़ कर शांत हो गया और हम दोनों हांफने लगे थे.

सलोनी का बदन बुरी तरह से जल रहा था इसलिए उस लार को भाप बनकर उड़ने में पल भी नहीं लगा. अब उसने मॉम को एक ही झटके में उनकी टी-शर्ट खींचते हुए पूरी नंगी कर दिया. वो इतने मजे से मेरे लंड को चूस रही थीं और सामने मॉम की ऐसी चुदाई देखकर तो मेरा लंड एकदम से गरम हो गया.

जब तक मैं रिक्शे वाले को पैसे दे रहा था, तब तक उसने एक कमरा अपने नाम पर बुक कर लिया. तभी उसने अपना हाथ पीछे से मेरी चूत पर रखकर कहा- तुम कल की दादाजी की हरकत की वजह से नाराज हो क्या?मैं एक पल के लिए तो चौंक गई कि सोनल ये सब कह रही है मतलब उसकी रजामंदी से ही दादाजी वो सब कर रहे थे. इतना कहने की देरी थी कि उसने तुरंत मेरा पल्लू खींच कर नीचे कर दिया और मेरे तने हुए स्तनों को ऐसे देखने लगा जैसे कोई वहशी कुत्ता हो.

पति के देहांत के बाद काफी रकम उसके नाम पर हो गई थी, राजौरी गार्डन इलाके में उसकी खुद की बिल्डिंग है और खुद भी वहीं रहती है.

उसने अपने लंड को रूपा की साड़ी पकड़ते हुए पजामे के ऊपर से भींच लिया और धीरे-धीरे सहलाना शुरू कर दिया. ब्लाउज के नाम पर ब्रा टाइप के कपड़े से भाभी की आधी से अधिक पीठ दिख थी. जिस गांड को मैं हमेशा कपड़ों के ऊपर से देख देख कर तरसता था, आज वह गांड मुझे चुदाई के लिए मिल ही गई.

दो साल पहले उसके पति का हार्ट अटॅक से देहांत हो गया था, जो बैंक में मैनेजर थे. मैंने कहा- हां पता तो है, मगर जो तुम्हारे पास वो तो मुझे भी नहीं पता. मेरे पति को तो जैसे सेक्स को लेकर मुझसे कोई मतलब नहीं था और वो अपने ऑफिस के काम में लगे रहते थे.

सलवार के नाड़े को खोलने के लिए कुछ देर तो वो ऐसे मेरे ऊपर लेटे लेटे ही कोशिश करती रही, मगर जब कामयाब नहीं हो सकी तो वो झुंझला उठी और झटके से मुझे छोड़कर अलग हो गयी.

मैंने पूछा- मतलब?वो बोली- इस बारे में किसी से कहना मत!फिर दो दिन बाद में अपने घर आ गया. वह कोई न कोई बहाना बनाकर बाहर निकलती थी और मेरे कमरे की ओर देख कर वापस चली जाती थी.

खेतों की बीएफ पिक्चर मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरी बहन ने कोई चुदाई की क्षमता बढ़ाने वाली दवा खाई हुई थी तभी तो वो पांच आदमियों के बड़े बड़े लंड से चुदा पा रही थी. उसका लंड काफी बड़ा था जोकि मुझे उसकी लुंगी के उभार से ही साफ़ दिख रहा था.

खेतों की बीएफ पिक्चर मगर मेरे सब्र की अब इन्तेहा हो गयी थी, इसलिए मैंने नेहा के होंठों को छोड़ दिया और अपने हाथों के बल होकर अपनी पूरी ताकत और तेजी से धक्के लगाने लगा. बेरहम सांड कहीं के, मैं इंसान हूं, कोई घोड़ी या गधी नहीं, जो तुम्हारे गधे जैसे हथियार को अपने भीतर डाल सकूं.

मैंने कहा- भाभी थकान हो जाती है, प्राइवेट नौकरी पैसे तो देती है, लेकिन तेल निकाल लेती है और उस कारण थकान को मिटाने के लिए रोज 2 पैग लगाकर खाना खा कर सो जाता हूँ.

जिंदगी बीएफ

उसके जाने के बाद मैं टॉयलेट में जाकर मुठ मारता था, तब जाकर मुझे तसल्ली होती थी. कुछ देर बाद हम दोनों के अंदर की चुदास फिर से जाग गई और मैंने अजय के मोटे लौड़े को हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया. सुनील ने महेश से पूछा- महेश तू गौर से अच्छे से इस वन्द्या की गांड देख … क्या मस्त गांड है.

सुलेखा‌ भाभी के‌ जाने‌ के बाद मैंने भी अब अपने‌ कपड़े‌ पहन‌ लिए और फिर से बिस्तर पर ढेर हो गया. चाची ने बगल की दराज से एक क्रीम का ट्यूब निकाला और मुझे देकर बोलीं- ले ये क्रीम लगा ले. उसकी एक पल के लिए तो आवाज ही बंद हो गई और आंखों की पुतलियां फ़ैल गईं.

वो उत्तेजित होकर बोली- अहह … मस्त मजा आ रहा हैवो चुदासी सी आवाज निकाल रही थी.

मेरी बहन मेरे पास के कमरे में सोती, वो भी अपना फोन पर बातें चैटिंग करती रहती थी. अब मामा ने अपने दोनों हाथ बोरियों पर टिका दिए और अपने शरीर का पूरा वजन अपने हाथों पर ही देते हुए अपने कूल्हों को बोरी से ऊपर उठा लिया. फिर मैंने हिम्मत करते हुए कहा कि प्लीज़ बुरा मत मानिए और मुझे ग़लत मत समझिए, क्या मैं आपकी कुछ मदद कर सकता हूँ?वो सवालिया निगाहों से मेरी तरफ देखते हुए बोली- वो कैसे?मैंने कहा- आपकी हालत मुझसे नहीं देखी जा रही है, क्या मैं अपने हाथों से आपके स्तन से बॉटल में दूध निकाल दूँ.

मेरे पापा जमीनों के बड़े दलाल थे और उस समय कमाई भी अच्छी थी, तो पैसा पापा से खूब मिल जाता था. मगर काफी देर तक‌ कोशिश करने के बाद भी वो अपने नाड़े को ही खोल नहीं पाई. इस मकान में नीचे कई कमरे थे, जिनमें से एक में सिर्फ मैं ही रहता था.

मैं काफी साल से अन्तर्वासना पर पोर्न कहानियां पढ़ रहा हूँ तो मैंने भी सोचा कि क्यों ना में भी मेरे पुराने हसीन पलों को आपके साथ शेयर करूँ!आज मैं आप सभी को अपनी जिंदगी की एक सच्ची भाई बहन सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ. मतलब जैसे ही मैंने भाभी को ऊपर से नंगी किया, उसी समय उसने भी मुझे ऊपर से नंगा कर दिया.

मैं अपने सहेली के भाई से नार्मल बात करती थी, लेकिन मुझे ये पता था कि वो मुझे पसंद करता है. मैंने इतना सुना तो मुझे समझ आ गया कि रास्ता साफ़ है, ये खुद मुझसे लगना चाहती हैं. तभी रवि मेरी तरफ खिसक के आ गए और सीधे मेरे चेहरे को पकड़ कर अपनी तरफ करते हुए बोले- तुम बहुत खूबसूरत हो.

प्रिया काफी समझदार निकली, वो मेरे होंठों को छोड़कर मुझसे थोड़ा अलग हो गयी और उसने खुद ही अपनी टी-शर्ट को पूरा बाहर निकाल दिया.

यह कहते हुए उसने चाय के कप मेज़ पर रख दिए और झुक कर अपनी गांड हिलाने लगी. एकता बड़बड़ा रही थी- आज आयेगा मजा … क्या जोरदार लंड है साले का … बिग कॉक बेबी … हार्ड कॉक याआआ आआआअ … गूऊऊउ गूऊऊउ …वो अपनी मादक आवाजों के साथ लंड पर जोर जोर से अपना मुँह आगे पीछे कर रही थी. उसका लंड घुसते ही मुझे ऐसा लगा, मानो किसी ने गर्म सरिया डाल दिया हो.

मैं भी झड़ने वाला था … तो मैंने नेहा आंटी की गर्दन पकड़ कर बोला- चल अब मेरा लंड चूस. लेकिन वो मुझसे तेज़ थी, जब वो हाथ ऊपर कर रहे थे, तो उसने नीचे से मेरी टी-शर्ट पकड़ ली.

दोस्तो, मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबीमारी ने दिलायी प्यासी भाभी की चूत-1में आपने पढ़ा था कि मैं काम के सिलसिले में हैदराबाद गया था, वहां एक रात अचानक मेरी तबीयत खराब हो गयी. प्रिया ने मेरे बालों को अपने उंगलियों में पूरा जकड़ लिया था और कस कस कर मेरी जीभ को चूसने लगी. मैं लेट गयी और अपनी टांगें खोल कर घुटनों को मोड़ते हुए उससे बोली- आ जाओ.

हिंदी की सेक्सी वीडियो बीएफ

वो भी सड़क पर बड़ी बिंदास चलती थी जैसे सड़कछाप मंजनुओं को चारा डाल रही हो.

मगर काफी देर तक‌ कोशिश करने के बाद भी वो अपने नाड़े को ही खोल नहीं पाई. मामी और मैं साथ में गए और बच्चों को रेशमा मामी के मॉम और डैड के पास छोड़ कर हमने खाना भी वहीं खाया. मैंने उसकी चूत को किस करते हुए उसके होंठों को किस किया और उसने मेरा लंड मुँह में लेकर चूसा.

और उसने बोला- यह अब कुछ भी चिल्लाती रहे, बोलती रहे … कोई फर्क नहीं पड़ता. पर मेरा मूड बहुत अलग है इसलिए बहुत सफाई देती भी तो कैसे देती कि मैं रंडी नहीं हूं, ना धंधे वाली हूं, आज तक मैं यह सब पैसे के लिए नहीं किया था, ना कभी ऐसे बुकिंग जैसे कह कर कोई ने मुझे चुदाई के लिए कहा था. सेक्सी फिल्म हिंदी गाने के साथजब उसे पता चला कि मेरा लंड तनकर खड़ा हो चुका है तो वह नीचे मेरे सामने ही बैठ गई.

दूसरी बोली- अरे वाह … तुम्हारे तो मज़े हैं फिर सारी रात अन्दर डलवा कर पड़ी रहती हो. इतना बोल कर आंटी बोलीं- ओके अन्दर आ जाओ, सिलिंडर अन्दर स्टोर रूम में रखा है.

अगर कोई आपसे काम के लिए कहता है या मजबूरी में आपको करना पड़ता है, तो बात अलग होती है. उसकी टी-शर्ट का गला तो काफी खुला था ही, उसने ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी ऊपर से उसने आगे झुक कर ऐसी अदा के साथ कहा कि मुझे उसकी चूचियों की गहराई अन्दर तक दिखाई दे गयी. पायल मजे में आकर बोली- अरे नीरू, तू तो अपने जीजू के लंबे लंड का मजा ले चुकी है.

अपने मोटे लंड से मैं किसी भी लेडी को पूरी तरह से संतुष्ट कर सकता हूँ. मैंने तुरंत नीरू के पीछे से जाकर उसके डॉगी स्टाइल का फायदा उठाते हुए नीरू की चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया. अब आगे …नेहा वैसे तो बिल्कुल शांत थी, मगर उसकी सांसें अब तेजी से चलने लगी थीं और मुँह से हल्की हल्की कराहें निकल रही थीं.

जल्दी ही हम लोग 69 की पॉजीशन में आ गए और मैं उसकी चूत के दाने को चाटने लगा.

मेरे चूमने से पहले तो नेहा कसमसाई मगर फिर गुस्से में वो मेरे होंठों को जोरों से चूसने और काटने लगी. कभी घोड़ी स्टाइल में तो कभी डोगी स्टाइल में! और दीवार से सटा कर भी!हमने एक डेढ़ घंटे तक चुदाई का खेल खेला और फिर वापस कमरे में जाके सो गये.

मैं सीट पकड़े खड़ी थी तभी वहीं टॉवल जगत अंकल ने उनको दे दी, मेरी स्कर्ट नीचे हो गई थी तो टॉवल की ओट बना कर उन अंकल ने अपनी तरफ टॉवल करके अपना जिप खोल कर लंड को बाहर निकाल लिया. आप मेरी चूत को चोद दो ना!और वह उठी और अपने बैग से प्लास्टिक का लण्ड ले आई और बोली- भाभी, ये डालो मेरी कमीनी चूत में!सुमन को मैंने बेड पर लिटा लिया और सुमन ने अपनी टाँगें फैला ली. इसी मजे के कारण मैंने अब नेहा की चूची को छोड़ दिया और अपनी गर्दन उठा कर उसके चेहरे की तरफ देखने लगा … वो भी मेरी तरफ ही देख रही थी.

कुछ देर बाद मैम ने मुझसे कहा कि तुम मुझे अपना नंबर दे दो ताकि मुझे कभी कंप्यूटर में कोई प्राब्लम होगी तो तुम्हें कॉल कर लूँगी. रुबीना मेरे सामने अपनी दो उंगलियों में अपने गुलाबी निप्पल को दबा दबा कर अपनी बेटी को दूध पिला रही थी. अभी टाइम पर पानी नहीं मिला खेत को, तो फसल खराब हो जाएगी, तो क्यों न मैं पानी लगा दूँ.

खेतों की बीएफ पिक्चर सुखबीर ने उस दिन दुकान नहीं खोली और उसने करीब 11 बजे मुझे स्टेशन के पास मिलने को कहा. मैं भी अब अपने हाथों को उसके भरे हुए नितम्बों पर ले आया और एक हाथ उसके नितम्बों को मसलते हुए दूसरे हाथ से उसके गुदाद्वार को सहलाने लगा.

सेक्सी बीएफ मोटी लुगाई की

वैसे तो मुझे उसकी इस हरकत के बारे में मालूम ही नहीं चलता, लेकिन मैंने एक बार अपनी सहेली को उसके बॉयफ्रेंड्स से फ़ोन पर बात करते हुए देख लिया था. वो फिर बोली- जाओ पहले राहुल को छोड़ आओ, फिर सुरभि के जाने के बाद ब्रेकफास्ट पे बात करेंगे. वह मेरे होंठों को चूसे जा रहा था जिससे मैं खो सी गयी थी और अमित की तरफ खुद ही झुकती चली गयी। अब अमित ने मुझे अपनी तरफ खींच कर गोद में ले लिया मुझे.

मैंने एकता से प्रमिला के बारे में पूछा, तो एकता ने बताया कि वो दोनों अच्छी फ्रेंड हैं और सभी बातें शेयर करती हैं. मैंने पॉंड्स क्रीम निकाली और सन्नी की गांड के गुलाबी छेद पर धीरे धीरे मलने लगा. चाची सेक्सी कहानीउसके चूचे तो कमाल के तने हुए थे बिल्कुल रसीले आमों की सर उठाए … मानो कह रहे हों कि आओ जल्दी से मुँह में भर के चूस लो.

मैं मेरे पति को भी नहीं बोल सकती थी, कहीं उनको ऐसा ना लगे कि मैं उन दोनों के बीच में गलतफहमी पैदा करने की कोशिश कर रही हूँ.

वो बोली- आपके वहां से यहां तक आने के लिए कितने पैसे लगेंगे?मैं बोला- बहुत ज्यादा तो नहीं, बस हजार पांच सौ रुपये लगेंगे. उस वक्त तक मेरी कई सहेलियों के बॉयफ्रेंड थे और वो बहुत मज़े लेती थीं.

हम फ्लैट के अन्दर आ गए तो उसने मुझे पानी दिया और मुझे अपनी स्टोरी के बारे में थोड़ा बताया कि उसने शादी के बाद पति की काम शक्ति से मायूस होने पर अपने देवर को पटा लिया था, पर उसका लंड भी छोटा निकला, जिससे उसको संतुष्टि नहीं मिली. मैं- मैं क्या करूँ चाची … आपकी गांड ही ऐसी है कि ऐसे ही चोदने में मजा आ रहा है. फिर वो हँस दी और उसने बोला- चलो अब कल 5 बजे मिलते हैं, रेलवे स्टेशन पर.

हम दोनों के पास एक दूसरे के नंबर नहीं थे, इसलिए मैंने उसको बड़ी ख़ुशी से अपना नंबर दे दिया ताकि उससे बातचीत हो सके.

मैंने अपने दोस्त को आवाज दी, जब कोई जवाब नहीं आया, तो मैं उसे ढूंढते उसके घर घुस गया. मैंने कहा- भाई यह क्या कर रहा है तू? यह क्या तरीका है तुम्हारा? यह मैं बर्दाश्त नहीं करूंगा. हम दोनों कभी कभी मिल तो लेते हैं, लेकिन चाची के संग दुबारा सेक्स सिर्फ़ एक बार ही करने का मौका मिला था.

भाई की वीडियो सेक्सीपुनीत ने मेरे चेहरे पर पानी का छींटा डाला, तब मेरा होश लौटा और फिर मुझे दर्द का एहसास होने लगा. साथ ही अपनी चुत मेरे मुँह पे वो दबा रही थी, कभी मैं धीरे से उसके दाने को मैं काट लेती तो वो पागल हो जाती.

का चोपड़ा की बीएफ

सुहागरात के दिन वो मेरे लंड डालते ही बेहोश हो गई तो मैंने उसके साथ सेक्स नहीं किया. मैंने कहा- अच्छा चलो कोई बात नहीं … आप पढ़ाई करो और मैं मन में सोचने लगा कि प्रेशर तेरा तो क्या … तू मेरी बहन का प्रेशर निकाल कर आया है. मैंने अन्दर जाकर उसके गाल पर किस की, तो उसने आंख खोली और मुस्कुरा दी.

वैसे भी भाभी का अभी उसके ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया है, तब तक तो ये मुस्टंडा ही काम में आएगा. तब मैंने उसका पैर और ज्यादा उठाया, लेकिन तब भी नहीं जा रहा था, तो मैंने पूजा के दूसरे पैर को भी उठा कर अपने लंड पर टांग लिया. खैर मैं उसकी चूत में उंगली डालकर अन्दर बाहर करने लगा और साथ में उसके होंठों का रसपान भी करता रहा.

उसके छोटे छोटे संतरे जैसे बूब्स और उसकी जांघों के बीच छोटे बालों से घिरी छोटी सी चूत देखकर मेरा लंड उफान मारने लगा. उनकी‌ दोनों जांघें जोरों से मुझ पर कस गईं और ‘आह्ह् … ईश्श आह्ह् … ईश्श … आआह्ह् … ईश्श … आआआह्ह …’ की आवाजें निकालते हुए वो अपनी चुत से गाढ़े गाढ़े सफेद रस को मेरे लंड पर उगलने लगीं, जोकि मेरे लंड के‌ सहारे बहते मेरे‌ कूल्हों तक‌ पहुंचने लगा. जब मैंने उसके दूध को हाथ लगाया, तो ज़ीनत ने किसी तरह की हरकत या ऐतराज नहीं किया.

चाची के तने हुए गोरे मम्मे काली ब्रा में क्या मस्त आम जैसे लग रहे थे. तभी उसने मेरे कान पे अपने दाँतों से काटा और कहा- कहाँ खो रहे हो?मैं- कहीं नहीं!मनीषा- बताओ ना … क्या सोच रहे थे?मैं- कुछ भी नहीं सोच रहा था.

अन्तर्वासना पर मैं पहली बार मेरे साथ हुई घटना को शेयर कर रहा हूँ, जो पहले कभी सपना था अब हकीकत में बदल चुका है.

उसके कोमल और मुलायम स्तन दबाने के बाद टाइट होने लगे थे। फिर उसके कुर्ते को निकल दिया और ब्रा के ऊपर से बूब्स को चाटने लगा. सेक्सी वीडियो फुल एचडी में अंग्रेजीमैंने अपने आपको कंट्रोल किया और दूसरे हाथ से बॉटल को निप्पल के पास लाकर धीरे धीरे उसकी चुची दबाने लगा. हॉट ऑंटी सेक्सी व्हिडीओमेरी जांघों पर जोरों से चपत लगाते हुए बाकी का बचा हुआ वीर्य भी अब नेहा ने मेरी जांघों पर ही थूक कर उगल दिया और फिर मुझ पर से उतरकर मेरी बगल में लेट गयी. हीरोइन भी उसके सामने कुछ नहीं है और इधर तेरी हीरोइन को यह ड्राइवर लोग चोद रहे हैं.

मैंने आनन्द का लंड पकड़ के थोड़ा बाहर निकाला और उसकी सिर्फ टोपी ही अन्दर रहने दी.

वो फिर बोली- जाओ पहले राहुल को छोड़ आओ, फिर सुरभि के जाने के बाद ब्रेकफास्ट पे बात करेंगे. कुछ ही देर में मैं पूरे जोश में आ गया, मुझसे अब बर्दाश्त कर पाना मुश्किल था … तो अपनी ठरक मिटाने पड़ोसन के कमरे में चला गया. पहले तो वो एक बार मना कर करने लगी, वो बोली- यह तो बहुत बड़ा है मेरे मुँह में नहीं आएगा.

नेहा की चूची को चूसते हुए मैं एक हाथ से उसकी मुनिया को भी मसल रहा था जिससे धीरे धीरे अपने आप ही अब उसकी जांघें पूरा फैल गईं और उसकी मुनिया पर मेरे हाथ का अधिकार हो गया. उसने फिर सवाल किया- देखनी है?मैंने हां में सिर हिलाया तो उसने अपनी साड़ी ऊपर की, पैंटी हटाई और मुझे अपनी चूत दिखा दी. मैंने बारह बजे आने का इशारा किया, तो वो मुस्कुरा उठी और दरवाजा बंद कर लिया.

बीएफ देहाती औरत

उनके मोटे लंड देख कर मेरी चुत की आग भड़क उठी और मैंने सोचा कि इन्हीं लोगों से चुदाई करवा लेती हूँ. मेरा 7 इंच का लौड़ा उसे देखते ही खड़ा हो गया और मैं फटाक से उसके बाजू में जाकर लेट गया. मेरी इस मस्तराम सेक्स स्टोरी के पहले भागगांव वाली साली की सहेली को चोदा-1अब मैंने उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

सब मेरे पास को आ गए और मैं उन सबका एक-एक करके धीरे धीरे लौड़ा चूसने लगी.

लड़की को अधूरे में कोई चोदना छोड़ दे तो वह सोच नहीं सकता कि लड़की की क्या हालत होती है.

थोड़ी देर चूत चटाई करते हुए हम 69 की पोजीशन में आ गये और लंड उसके गले तक डालकर उसकी चूत चाटते हुए मैं उसका मुंह चोदने लगा. ”मैंने भी नशे के झोंक में कौशल्या को पीछे से कमर के बल उठा लिया और कहा- अब तो हाथ पहुँच जाएगा ना. ई फिल्म सेक्सीजैसे ही अब गाड़ी चली तो राज अंकल ने बोला- सोनू, ये बहुत बड़े ठेकेदार और जमीदार हैं.

फिर उसने धीरे से मेरा लौड़ा अपनी चूत में डाला और खुद उछल उछल कर झटके मारने लगी. तब सुनील बोला- आह अब यह आ गई अपनी लाइन पर … बहुत मस्त चुदक्कड़ है यार! इसकी चूत बहुत टाइट है. मैंने उसे पलंग के किनारे पर कंधों और घुटनों पर कर दिया और मैं नीचे खड़ा हो कर उसकी चुदाई करने लगा.

सुनीता चाची का फिगर बढ़िया था, वे थोड़ी साँवली थीं, पर सेक्स की गुड़िया सी लगती थीं. आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं, फीडबैक जरूर दीजिए.

मेरी यह कहानी मेरी पिछली कहानीवो मुझे भावनाओं में बहा ले गईको आगे बढ़ाती है.

अगले दिन भाभी ने बताया कि कल सोनू आई थी, मैंने उसके सामने तुम्हारी बहुत तारीफ कर दी है और वह तुमसे बहुत इम्प्रेस हुई है. दोस्तो अगर आपको भी सेक्स का मजा लेना है तो पहले औरत की शर्म को खत्म कर दो. मैं एक दो बार अपनी दूसरी सहेली के भाई से चुद चुकी हूँ, लेकिन ये कहानी कुछ अलग है.

एकता कपूर का सेक्सी वीडियो मैंने पूछा, तो उन्होंने बताया कि दो साल से सेक्स नहीं किया है इसलिए दर्द हो रहा है. इससे वंदना जग गई थी और वंदना ने मेरा हाथ देख लिया था, पर वह कुछ बोली नहीं.

फिर मैंने उससे साफ साफ शब्दों में कह दिया कि ठीक है, मैं तैयार हूं पर कहीं शहर से बाहर व्यवस्था करनी होगी. वो मेरे सर पर हाथ फेरते हुए मुझे उठा रही थी, तो मैंने उसको अपने ऊपर खींच लिया. इस तरह के अवसर जब बार बार पड़ने लगे तो मैं और मेरी सहेली के पति में अच्छी दोस्ती हो गयी.

बीएफ सेक्सी चुदाई का वीडियो

मेरी तन्द्रा भंग हुई, वह नीचे झुका और अपनी अंडरवियर ऊपर खिसकाने लगा. मेरी इस हरकत से वो बहुत गर्म हो गयी और मुझे कहने लगी- साले मादरचोद … अगर प्यासी छोड़ दिया तो घर जाते ही तेरी गांड टूटेगी. मैंने मेरी बीवी को एक दिन बहुत धमकाते हुए कहा- तुम उस करण पाल से रोज क्या बातें करती हो … और मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता.

मैंने कहा- भाभी! आपकी कसम है, मैंने कुछ नहीं किया है।वह बोली- हेमा मुझसे ज्यादा सुन्दर है क्या?मैंने थोड़ा मक्खन लगाते हुए कहा- कहाँ हेमा और कहाँ आप, आप तो अप्सरा जैसी हैं।भाभी खुश हो गईं. लंड को जीभ से ऊपर से नीचे तक धुलाई करने के बाद नीना ने अपने गले में उतार लिया.

वो नई मैडम जैसे ही में ऑफिस के अन्दर आई, पूरा रूम एक सुंदर सी खुशबू से भर गया.

मेरी जीभ जब उनकी जीभ से मिली, तो उनका शरीर सिहरने लगा और वे रिसने लगीं क्योंकि मेरे हाथों को उनकी चुत गीली गीली लगने लगी थी. मैं भी ऊपर अँधेरा का फायदा उठा कर उसकी चूची एक हाथ से मसल देता … वो सिसकारी लेती थी ‘असस्स्स्श ह्ह्ह्ह …’ मगर झूले की आवाज में वो दब कर रह जाती थी. फिर मैंने वंदना के हाथ को पकड़कर अपने लंड पर रख दिया और दूसरे हाथ से मैं वंदना की चुत दबा रहा था.

मैं इस वक्त अपनी सहेली के पति की बाहों में थी और वो मेरे होंठों को चूस रहा था. लेकिन जिस वक्त उसने मुझसे अपने दिल की बात कही थी, उस वक्त मैंने उससे कुछ नहीं कहा था. मैं घर से निकल कर थोड़ी दूर पैदल चली, फिर ऑटो पकड़ स्टेशन की ओर चल पड़ी.

कोई दो मिनट में कंचन मैम से रहा नहीं गया और उन्होंने उठ कर मेरी पेंट और चड्डी उतार दी.

खेतों की बीएफ पिक्चर: जब तक उसको मेरी चूत में पूरी तरह से फँसा ना दिया, वो नकली लंड को मेरी चूत में पेलती रही. जबकि सुखबीर ने मुझे ऐसे सुझाव देने शुरू कर दिए थे, जैसे मैं कोई अबला नारी हूँ.

उसने मुझे देख कर हाथ हिलाया कि क्या हुआ, मैंने गर्दन हिलायी- कुछ नहीं. मैंने उसकी तरफ खिसकते हुए अपने होंठ आगे बढ़ा दिए तो उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिये और किस करने लगी. बहुत ही अजीब सी खुशबू थी उनके लंड की, अजीब सी गंध मार रहा था … पर मुझे कुछ होश तो था नहीं, जो मैं कुछ कहती.

अनु मेरी बीवी है … चुपचाप छोड़ दो इसे … नहीं तो अंजाम बहुत बुरा होगा.

मैंने उसके डांस करते चूतड़ पर एक चपत लगा कर, उसकी गांड पर उंगली दबा दी. बाहर यह सब देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी, मैं गाउन पर से ही मेरी चुत को सहला रही थी. क्या बात हो गई?तभी मामी ने आंख मारी और मुस्करा कर बोली- मेरे यहाँ पर मेरी एक प्यारी भान्जी है, हम तीनों ही मज़े करेंगे.