बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी

छवि स्रोत,बीएफ मोटी औरत

तस्वीर का शीर्षक ,

जानवर का बीएफ सेक्सी: बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी, इतना भी भोले मत बनो।मैंने कहा- हाँ सब कुछ किया।फिर मैंने भाभी से उनके किसी ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछा.

सील टूटने की बीएफ

वो कुछ बोली नहीं, मैंने उनके मुंह को पकड़ा और सीधा स्मूच किया, उनके पिंक लिप्स को चूसा 5 मिनट… फिर चूचों को दबाया, फिर नाईटी उतार कर चूचों को चूसा. असामीज बीएफ बीएफअजय ने उसकी टांगें फैला दी और जीभ अंदर तक कर दी और अपने हाथों से उसकी गोलाइयाँ मसलनी शुरू कर दी.

नीचे, मेरे हर धक्के का जवाब मानसी अपने धक्के से दे रही थीं और इसके कारण हम दोनों को ही तनाव महसूस होने में बहुत ज्यादा देर नहीं लगी. बीएफ भाभी जीमेरा नाम पंकज है और ये हिंदी चुदाई स्टोरी मेरे दोस्त की बीवी के साथ की सेक्स स्टोरी है.

लेकिन इसके बारे में किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए।मैं भैया की बात सुनने के बाद मान गया.बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी: मैं कपड़े पहन कर उनके पास गया और पूछा- कैसी हो?वो बोली- अच्छी हूँ, लो चाय पियो!चाय पीने के बाद मैं बोला- भाभी, मैं यहीं नहाँ लूं क्या?वो बोली- आ जाओ, साथ नहा लेते हैं.

अब काजल ने मुझे नंगा करना शुरू किया और पूरे बदन को गौर से निहारने लगी.मैं सोने का नाटक करने लगा और कुछ देर बाद भाभी की कमर पर हाथ रख लिया.

हिंदी में सेक्सी बीएफ हिंदी सेक्सी बीएफ - बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी

उसने झट से मेरा लंड अपने मुँह से बाहर किया और सुपारे को चुचियों के पास ले जाकर लंड की मुठ मारने लगी। मैंने ‘अया अया.अब मेरे लंड महाराज की प्यास बहुत ज्यादा बढ़ गई थी इसलिए मैंने उसे बाहर निकला और उनके हाथ में थमा दिया, उन्हें चूसने को कहा तो उन्होंने साफ़ मना कर दिया लेकिन हाथ में लेकर सहलाने लगी.

ये सब एक बार होता है, बार-बार नहीं।मैंने कहा- तुम्हें मेरी कसम एक लास्ट बार कर लो ना!मेरी बीवी पतिव्रता थी और मेरी कसम को कभी टाल नहीं सकती है, वो बुझे मन से बोली- ठीक है।मैंने कहा- तो सोचो कि वो बूढ़ा तुम्हारे पास आ रहा है. बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी मैंने फोन कट कर दिया।उसके बाद मॉम-डैड भी जॉब से वापस आ गए और भाई भी उठ चुका था। फिर सबने ब्रेकफ़ास्ट किया और मैं कॉलेज चली गई.

दीदी की चुदाई के बाद मैंने सुनील की बहन रजनी को कैसे चोदा ये सब मैं आपको अगली चुदाई की कहानी में बताऊँगा.

बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी?

उधर निर्मला और गायत्री भी वापस आ गई थीं। जब उन्होंने देखा कि मोना अब तक सो रही है तो गायत्री ने निर्मला से कहा कि बहू अब तक सोई है उसे उठाओ।निर्मला- ये शहर की लड़कियां हैं. भाभी भी नहीं सोई थी, वो अपने मोबइल में कुछ कर रही थी। उन्होंने पिंक कलर की नेट वाली नाइटी पहन रखी थी. और बताया कि दिन में 12 से 4 उनका इंस्टिट्यूट क्लोज रहता है, उस टाइम पर वो घर जाएँगी.

मैंने अपना लौड़ा जो मेरी पत्नी के होंठों से गीला हो चुका था, रजनी की चूत के मुंह पर रख दिया और हल्के हल्के आगे को करते हुए रजनी की चूत में डालना शुरू किया. भाई ने अपनी बहन की चूत और गांड की चुदाई कैसे की, बहन के मुख से ही सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. और फिर अपना लंड मेरी चूत के अंदर बाहर घुसेड़ने लगे और मैं अपने नंगे मम्मे और कमर को हिलते हुए शीशे में देख रही थी… मैं आह भरते हुए कराहने लगी- हाँ… और अंदर… रवि!रवि भी अपने लंड को हर धक्के के साथ मेरी चूत की गहराइयों में उतार रहे थे.

उसका लंड तो पहले से चूत के रस से गीला था, उसने धीमे से गांड के अंदर घुसाना चालू किया, मुझे असहनीय दर्द हो रहा था इस तगड़े लौड़े के गांड में जाने से, मैंने दोनों हाथ से पलंग की किनारे पकड़ रखे थे जिसे मैं जोर से दबा कर गांड मरवाने के दर्द को झेलने की कोशिश करने लगी. ’ करके कराहने लगती। कई बार मैंने उसकी गांड में लंड घुसेड़ने की कोशिश की. तब तक रीना रानी चुदास के मारे बेहोश होने वाली हो गई थी तो आखिर में उसकी भी चुदाई की.

तेज़… बहुत तेज़… धीरे… बहुत धीरे… उसके नितम्ब कभी गोल गोल घुमाते हुए तो कभी दायें बायें हिलाते हुए…चुदाई और गांड मरवाई धकाधक हुए जा रही थी. कर रहा था। फिर थक कर ढीली करके टांगें चौड़ी करके रह गया। उसके झटके गांड फाड़ू हो गए.

इससे पहले ऐसी चुत मैंने सिर्फ ब्लू-फिल्म में देखी थी।मैं कई लड़कियों को चोद चुका हूँ मगर भाभी की चुत जैसी अब तक नहीं मिली थी। एकदम पिंक कलर की बुर थी। मैं पागल सा हो रहा था। मैंने उनकी दोनों टांगों को फैलाया और अपना मुँह उनकी चुत पर ले गया। जैसे ही मैंने अपनी ज़ुबान उनकी चुत पर लगाई.

मेरी माँ 38 साल की है, बहुत सेक्सी और गठीला बदन, बड़ी बड़ी चूचियाँ और गोल गोल गांड.

रानी भी बेकाबू हो गई थी- बस राजे बाबू… बस… अब नहीं सहन होता… राजे बाबू, तुम्हारे हाथ जोड़ती हूँ… अब और न तरसाओ… बस आ जाओ फ़ौरन… हाय अम्मा मैं मर जाऊँ… हाँ. ‘जरूर आना बहू रानी, मैं हमेशा इंतज़ार करूंगा तुम्हारा!’ मैंने भी गंभीरता से कहा. रोहन के दोनों हाथ मेरी कमर से होते हुए मेरी पीठ पर लिपटे हुए थे, मैंने रोहन से कहा- मेरा राजा बेटा अपनी मम्मी से इतना प्यार करता है?रोहन ने हां में सर हिला दिया।तभी रोहन ने पीछे से ही मेरी ब्रा के हुक को खोल दिया और मेरी ब्रा को खींचता हुआ मुझसे दूर हो गया.

नमस्ते दोस्तो, आप सबने मेरी पिछली कहानीमेरे पति ने मुझे उनके दोस्त से चुदते देख लिया-1को बहुत पसंद किया. हम दोनों साथ में नहाते थे, जब भी अकेले होते तो बिना कपड़ों के ही घूमते थे. मैंने सीधा खड़ा होकर हाथों में तेल लगाया। सीने पेट पीठ में लगाया चेहरे पर क्रीम मली, मैं भाई साहब की ओर पीठ किए था, मैंने कहा- बस हो गया.

मेरी उम्र 24 वर्ष है, मैं कॉल सेन्टर में जॉब करता हूँ। यह कहानी 2 साल पहले की है, तब मैं एम.

यार तू जितने समय से सोई थी उतने समय तक रोहन ने पेपर अपने हाथ से पकड़ कर तुझे छांव में रखा था, दो घण्टों में उसके हाथ भी अकड़ गये होंगे पर उसने पेपर नहीं हटाया और मुझे भी कुछ बताने से मना किया था।मैं उसकी अच्छाई देखकर स्तब्ध रह गई। फिर मेरे अहंकार ने मेरे दिमाग पर कब्जा कर लिया और मैंने हंसते हुए ‘डरपोक कहीं का’ कहा।तो प्रेरणा ने कहा. अजय टॉवल उतर कर स्विमिंग कोस्ट्यूम पहनना चाह रहा था पर रूबी बोली- बिना कपड़ों के ही जाओ दोनों…इस पर विवेक बोला- तुम दोनों भी उतार दो तो हम भी ऐसे ही आ जायेंगे. उसने उसके दोनों पैर फैला कर लौडे को चूत पर सेट किया और चूत के मुख पर लौडा रगड़ने लगा और हाथ से लंड को जोर जोर से उसकी चूत पर थपकियाँ देने लगा.

ठीक है? पर ये बात मोहन और कोमल को पता नहीं है, उनको मत बताना, यहाँ आओगे तो तुम्हारी अच्छी खातिर करेंगे. सब कुछ भूल गए।मैंने उसके टॉप को उसके बदन से अलग कर दिया। उसके दूध ब्रा से आधे बाहर झाँक रहे थे। मैंने देर ना करते हुए उसकी दोनों चुचियों अपने हाथों में भर लिया और उसको माथे से चूमते हुए नीचे आने लगा।अब तक मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी थी। उसकी ब्रा खुलते ही मैं तो समझो पागल हो गया. उसने दरवाजा खोल दिया मगर मेरी हिम्मत उसके घर में जाने की नहीं हुई और मैं वापस अपने घर आ गया.

मेडिकल शॉप से एक सेक्स वर्धक दवा ले के खा ली क्योंकि पिछली रात ही स्नेहा को दो बार चोदा था और आज रात उसकी कड़क जवान भाभी जो कि जनम जनम से लंड की प्यासी थी, उसकी भी पलंगतोड़ चुदाई करके उसकी तपती चूत को शीतल करना था.

क्या चोदू है।सोनिया भी अपने गोल गोल चूतड़ हिला कर मेरा साथ दे रही थी और अपनी फुद्दी का दाना मेरे अंदर बाहर होते लन्ड से रगड़ रही थी। उसकी गर्म फुद्दी से रस बह रहा था।‘अह्ह्ह… अह्ह्ह… हाँ… राजा… हाँ मेरी फुद्दी फिर से गर्म हो रही है… राजा… लगता है एक बार और झड़ जायगी. अगर तुझे मेरी पत्नी अमिता पसंद थी, तू उसको चोदना चाहता था तो मुझे बोला होता.

बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी मॉंटी- सस्स आह… दीदी आह… ऐसे ही हाँ बहुत मज़ा आ रहा है उफ़ सस्स कितना मज़ा आ रहा है दीदी. कुछ देर की जोरदार चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था। तो मैंने लंड उसकी बुर से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और मेरा माल निकल गया।हम दोनों अब थक चुके थे और वो तो उठ भी नहीं पा रही थी। हमने किसी तरह जल्दी-जल्दी कपड़े पहने और फिर मार्केट चले गए, जहाँ से मैंने उसे दर्द निवारक गोली लेकर खिला दी और घर आ गए।अब हम दोनों भाई बहन चुदाई करते हैं।दोस्तो, कैसे लगी मेरी भाई बहन की चुदाई स्टोरी.

बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी उसके मुख से मादक आवाजें आने लगी ‘आह ऊह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओएह ओ याह…’ और उसकी चूत से पानी बहने लगा. मुझे कुछ पाठकों ने मेरे और अनुभवों को लिखने की गुज़ारिश की तो इस कहानी में मेरा रीना से मिलने के पूर्व अनुभव को बता रहा हूँ कि कैसे मैंने एक भाभी की चुदाई की थी उसके घर जाकर!मेरा नाम विक्रम है, जयपुर में रहता हूँ.

मैंने कहा- मुझे तो ताऊ ने फोन करके बुलाया था, आप कहो तो मैं चला जाता हूँ.

बीएफ सेक्सी बढ़िया

उसको बताया कि चुदाई में खीर का मज़ा लेंगे इसलिए खूब सारी खीर होनी चाहिए. !’मैंने भी लंड चुत पर रखकर धक्का मार दिया।फ़च करता हुए मेरा लंड उसकी सील तोड़ता अन्दर चला गया।‘आह मर गई. तो सुन!टीना बोलती रही और सुमन आँखें फाड़े उसकी बातें सुनती रही। टीना ने अपनी बात पूरी करके जब सुमन को देखा तो उसको आँख मार कर शुरू होने को कहा।सुमन- नहीं नहीं.

इतने में मेरे पति आ गये और मुझे थोड़ा दूर ले जा कर पूछने लगे- कुछ बात बनी?मैंने मना कर दिया कि कोई बात नहीं बनी. गर्म है या नहीं!मेरे से अब रहा नहीं गया और मैंने मुँह खोल दिया। अब मैं आराम से उसका लंड अपने मुँह में लेने लगा। रमीज़ ने अब अपनी पूरी पैन्ट उतार दी और मेरे सामने खड़ा हो गया।उसका लंड और तगड़ा हो गया. उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो आसामान में उड़ने लगा। अभी कोई 2 मिनट भी नहीं हुए होंगे कि उसके लंड की नसें फूलने लगीं।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!राजू- आह.

बस्सस… अब बहुत हो तो गया… बस्सस…’पिंकी की जांघों की पकड़ भी अब कुछ हल्की होती जा रही थी और धीरे धीरे मेरी‌ उंगलियाँ पिंकी की जाँघों के बीच जगह बना‌कर नीचे की ‌तरफ बढ़ती जा‌ रही थी, तब तक‌ पिंकी की योनि‌ भी काम रस से लबालब हो गई‌। मैंने फिर से पिंकी के होंठों को मुँह में भर लिया और हल्के हल्के उन्हें चूसना शुरू कर दिया.

तो तुझे बुरा तो नहीं लगेगा ना?वो- बुरा क्यों लगेगा, हग तो हग होता है।मैंने चुटकी ली- और मेरे चेस्ट में कुछ चुभाएगी तो नहीं. तभी जैसे उसने मेरा दर्द समझा और मेरी जींस का बटन खोल कर मेरी जींस और चड्डी उतार दी और फिर मेरे होठों को अपने होंठों में लेकर चूमने लगी. उसने छाती पर सी ग्रीन रंग की हल्के शेड वाली शर्ट पहनी हुई थी जिसका ऊपर वाला बटन खुला हुआ था.

मैंने पूछा- आप और मौसाजी किस पोजीशन में सेक्स करती हो?वो एक बार तो शरमाई, फिर धीरे से बोली- उससे क्या फर्क पड़ता है?मैंने कहा- आप शरमाती रहिये, मैं नहीं बताऊंगा ऎसे कुछ भी!तब उन्होंने कहा कि वो तो हमेशा डॉगी स्टाइल में करते हैं. मैं चाहता था इसके नखरों का जवाब देना पर अब तक मैं मानसी के बेइंतेहा मोहब्बत करने लगा था और मुझे उसके दर्द से दर्द हो रहा था. और अब पांच साल बाद उसे देखा तो मैं बस देखती रह गई, लंबा चौड़ा… वो तो एकदम बदल गया था!हमारी बात हुई तो उसने बताया- मैं दिल्ली अपने किसी काम से आया हूँ.

थोड़ी देर बाद वो साथ देने लगी तो मुझको ज्यादा मजा आने लगा, मैं उनको गोदी में उठा कर, वहीं फोल्डिंग पड़ा था, उस पर लिटा दिया और दरवाज़ा बंद करके आकर ब्लाऊज खोल कर ब्रा ऊपर सरका कर उनके निप्पल को चूसने लगा था, बीच बीछ में उनके होंठों का रस पीने लगा. उसने भी मेरी फाइल को एक्सेप्ट किया और वो पोर्न क्लिप उसके फोन में चली गई.

तब बताऊंगा।मैं मान गई क्योंकि मैं उसे बहुत चाहती थी और उसका दिल दुखाना नहीं चाहती थी।अगले दिन मैं उसके घर गई। पहली बार मम्मी-पापा से झूठ बोल कर किसी लड़के से मिलने उसके घर गई थी। मुझे बहुत बुरा भी लग रहा था और अच्छा भी।खैर मैं उसके घर पहुँच गई। आकाश ने दरवाजा खोला. तभी साहिल बोले- आओ तुम मेरे ऊपर उल्टा लेटकर अपनी चूत मेरी तरफ कर लो और मेरे लंड को अपने मुंह में लो।‘मैं नहीं समझी?’तो उन्होंने मुझे अलग किया और मुझे सीधा लेटाकर मेरे ऊपर लेट गये, इस समय उनका मुंह मेरी चूत की तरफ था और उनका लंड मेरे मुंह के पास फड़फड़ा रहा था। वो मेरी चूत को चूमने ही वाले थे कि मैं बोली- साहिल मुझे पेशाब लगी है, मैं पेशाब कर आऊं तो फिर ये वाला खेल खेलेंगे।‘ओ. उसकी तो जैसे जान निकल गई हो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई थी लेकिन मैं उसे अभी और तड़पाना चाहता था.

निकिता बोली- कमरे पर कर लेना!मैंने कहा- नहीं, यहीं करना है, तुमको भी अच्छा लगेगा, मुझे अभी किस चाहिए!उसने धीरे से मुझे होंठों पर किस कर दिया.

मैं बहुत प्यासी हूँ, मेरी प्यास बुझा दो।मैंने उसकी टाँगों को फैलाया, घुटनों को फोल्ड किया और अपना लंड उसकी चुत पर रख कर रगड़ने लगा। वो तो मानो पागल हो गई और जोर-जोर से आवाज करने लगी- आआआह. उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो आसामान में उड़ने लगा। अभी कोई 2 मिनट भी नहीं हुए होंगे कि उसके लंड की नसें फूलने लगीं।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!राजू- आह. पर कुछ शर्म और लोगों की भी थी तो उन लोगों ने अपने कपड़े ठीक किये और आधे घंटे मस्ती करने के बाद बिना कपड़े बदले ही अपने अपने विला की ओर चल दिए.

कुशल की बारे में रयान ने निष्ठा और अपने पेरेंट्स को बोल दिया कि वो अच्छा आदमी है. एक दिन सेंटर पर स्नेहा (नाम बदला हुआ है) की एक लड़की जो सिर्फ 21 साल की थी न्यूली मैरिड थी, वहाँ पर हमारे बैच में आई.

मैं भाभी के बदलते तेवर को, हैरानी से महसूस करता रहा पर कहा कुछ भी नहीं।ऑडियो सेक्स स्टोरी- नेहा की बस में मस्तीसेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!तभी भाभी जी की हंसी रुकने लगी और सिसकियों में बदल गई… भाभी अचानक जोर से रोने लगी. बस पार्टी करती रहती हो शाम से मॉम की तबीयत खराब है।टीना- अरे पागल तो मुझे कॉल नहीं कर सकता था तू. लो पहले मैं ही अपना खोल लेता हूँ।ये करके वो पूरा नंगा हो गया। मैं उसके लंड की चुभन को महसूस कर पा रही थी।मैंने कहा- रूको.

सौतेली मां बेटी का बीएफ

मैंने दो साल पहले अपनी कहानी प्रकाशित की थी उसके बाद मैं अपनी प्रोफेशनल लाइफ में बिजी होने के कारण मैं अपने जीवन की और घटनायें यहाँ पर प्रकाशित नहीं कर पाया।मैं पिछले दो साल से साउथ दिल्ली में रह रहा हूँ.

दोस्तो, मैं सोनाली एक बार फिर से आप सबके लिए बीवी की चुदाई एक नई कहानी लेकर उपस्थित हूँ, उम्मीद है आपको यह कहानी मेरी पिछली कहानियों की तरह काफी पसंद आएगी।आप सब लोगों नेमेरी पिछली कहानियों को तो पढ़ा ही होगाकि किस तरह मैंने एक घरेलू औरत से एक इंसेस्ट क्वीन बनने का सफर तय किया. बहुत ध्यान रखता है, पर क्या इतनी नजदीकी ठीक है?उसकी बात सुन कर रयान हंस पड़ा… बोला- कोई बात नहीं, वो रोमियो है तुम उसकी जूलिएट बन जाओ… कुछ भी करो, बस रोओ मत खुश रहो…निष्ठा बोली- कल को बाद ज्यादा बढ़ गई तो?तो रयान बोला- मुझे मालूम है कि तुम भागोगी नहीं उसके साथ… और भाग भी गईं तो लौट आओगी क्योंकि तुम जानती हो हम दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते. अजय टॉवल उतर कर स्विमिंग कोस्ट्यूम पहनना चाह रहा था पर रूबी बोली- बिना कपड़ों के ही जाओ दोनों…इस पर विवेक बोला- तुम दोनों भी उतार दो तो हम भी ऐसे ही आ जायेंगे.

फिर…‘अंकल जी, इसका मतलब मेरे मुहाँसे भी शादी के बाद ही जायेंगे? पर मेरी उमर तो अभी बहुत छोटी है मेरी शादी तो कई सालों बाद होगी!’ वो चिंतित स्वर में बोली. ’मैं भी पूरी जीभ चुत में अन्दर तक डाल कर उसे जीभ से चोद रहा था।आह आह उफ़. बीएफ पिक्चर सेक्सी वीडियो बीएफ पिक्चरदोस्तो, मेरा नाम शालीन (बदला हुआ) है, मेरी उम्र 26 साल है सामान्य बॉडी है और लंड का साइज़ 6.

दीपा- ठीक है, मैं तुम्हें मदद करूंगी! वैसे आज जब हम बात कर रहे थे तब नीलिमा ने कहा था अगर उसे उसके पति के अलावा किसी और से चुदाने का मौका मिला तो वो तुम्हें चुनेगी. ’ की आवाज गूँज रही थीं।संजू जैसे जन्नत में गोता खा रही थी। वो इस पोज में संजू लगभग 10 मिनट चुदी।अब वो थोड़ा थक गई थी तो वो बोली- बाबा अब मैं नीचे आऊंगी, आप मेरे ऊपर आकर चुदाई करो।इसके बाद संजना नीचे आ गई और गुप्ता जी उसके ऊपर लेट गए और जबरदस्त चुदाई करने लगे।चुदाई इतनी जबरदस्त थी कि मेरा पलंग भयंकर आवाज करने लगा। गुप्ता जी को निकला हुआ पेट संजना के पेट से टकरा रहा था.

मैंने भाभी की चुची को अपनी हथेली में भरा और उनकी निप्पल को अपने अंगुलियों से मसलने लगा. उसकी जिंदगी पहले जैसी हो जाएगी, तब जाकर वो मानी। साला मुझे हैवान कहता है।राजू को अपनी ग़लती का अहसास हो गया क्योंकि एक साल पहले उसकी बहन बहुत दुखी थी, उसका जीजा उसे बहुत मारता था मगर उसके पेट में बच्चा है, ये बात सुनकर उसका जीजा एकदम बदल गया। ये सब काका की करनी थी. पर मुझे तो अपनी चुत चुदाई करवानी थी, मैं बोली- जब मैं सोई हुई थी तो तू क्या कर रहा था?बस मेरा इतना ही कहना था कि भाई रोने लगा- ग़लती हो गई बहन… माफ़ कर दे प्लीज!मैंने उसे गले लगा लिया और बोली- क्यों रो रहा है, तू मेरा प्यारा भाई है, तेरा हर ग़लती माफ़, बस रोना नहीं!वो चुप हो गया.

कमला अपने मुँह से दबी आवाज में बड़ी ही मादक आवाज निकाल रही थी।मैंने एक हाथ से उसके बोबे का मसलना चालू रखा और दूसरे हाथ को धीरे से नीचे खिसकाते हुए उसके पेट और नाभि पर हल्का-हल्का फिराने लगा। कमला पैरों की दोनों एड़ियों को आपस में रगड़ते हुए पैर पटक रही थी. अब चल जल्दी कर तुझे कॉलेज नहीं जाना क्या?सुमन- सॉरी पापा आपको बताना भूल गई। मेरी फ्रेंड टीना यहीं पास में रहती है. मैं अपने घर 2-3 महीने में एक बार ही जा पाता हूँ तो मार्च के महीने में मुझे कुछ जरूरी काम से घर आना पड़ा, रात की ट्रेन थी प्रयागराज एक्सप्रेस… स्लीपर में सोते हुए आया तो मैं लगभग साढ़े चार बजे सुबह अपने घर पहुंचा, सबसे मिला, चाय पी, अब सोने का समय तो था नहीं, मेरा घर नहर के पास में ही है तो मैं घर से बाहर निकल गया टहलने… नहर पर जाकर सिगरेट जलाई अब छः बज चुके थे तो बाकी लोग भी टहल रहे थे.

इधर मेरा दिमाग घूम रहा था कि जाने क्या होगा, नया शहर और किसी को जानता भी नहीं!कुछ दिनों तक भाभी से बात नहीं की, चुपचाप ऑफिस जाता और घर आने के बाद दरवाजा बंद कर लेता.

जिससे अमिता की गांड और चूत से रस टपकना शुरू हो गया।अमिता मज़े से जोर-जोर से सिसकारने लगी- उई आह आह. आपका लंड तो बड़ा उछल रहा है।’‘रसीली भाभी जरा अपने होंठों से इसे चूमो तो सही.

उसके बाद जूसी और मैंने वाइन के घूंट भरे और राजे को अपने अपने मुंह से पिलाया. मेरी जानेमन की बच्चेदानी में कुछ हैवी शॉट्स मारने के बाद उसने अपना आग उगलने को तैयार लंड चूत से बाहर निकाल लिया और मेरी बीवी का सिर पकड़ कर उसके मुंह में ठूंस दिया. मैंने अपना गिलास नीचे रखा और अपने दोनों हाथों से गीता के दोनों बोबे पकड़ लिए और उन्हें दबा दबा कर देखने लगा.

यानि सेक्स के पहले एक-दूसरे को उत्तेजित करना, इसके बाद ये आदमी इसकीचुत में लंडडालेगा, उसको चुदाई यानि सेक्स कहते हैं। तो पूरा वीडियो देख सब समझ में आ जाएगा।सुमन- समझ गई दीदी. ’‘वैरी गुड… और ये तेरे मकान मालिक की फैमिली कैसी है? तुझसे ठीक से तो बिहेव करते हैं न?’‘हाँ अंकल जी, सब ठीक है, मुझे कोई परेशानी नहीं है, न किसी से कोई प्रॉब्लम नहीं है. रूड़की आने पर बस रुकी है, कुछ सवारियाँ बस में चढ़ी, उनमें एक महिला 30-32 साल की भी बैठती है तो उसे आगे सीट ना मिलने के कारण वो मेरे सामने वाली दूसरी विंडो सीट पर बैठ गई.

बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी आगे भी उसी क्रम में स्वान अपना लंड निकाल कर दुबारा चुसवाने के लिए पलंग पर लेट गया. क्योंकि वो कोई मामूली नहीं बल्कि सरकारी ऑफिसर है।इसी तरह उल्टे सीधे ख्यालों में पता नहीं कब नींद आ गई।अगले ही दिन मैंने मैडम को कॉल किया और बताया कि एक तांत्रिक बाबा से मैंने बात की है, वो जादू-टोने को ठीक करने में महारत रखते हैं और उनका तरीका भी अलग है।मैडम ये सुनकर बहुत खुश हुई और कहा- जल्दी से उनका पता दो.

हिंदी पिक्चर ब्लू दिखाएं

आप मुझे हमेशा याद रहोगे! कोशिश करूंगी ललितपुर आने की!’ रानी मुझसे बोली. [emailprotected]बलम छोटा लंड मोटा-2सीमा सिंह की सभी कहानियाँ यहाँ पर हैं. अब उसका चेहरा भी सामान्य हो गया था और उसकी आवाज़ में कम्पन भी नहीं था.

तुम ऐसे चादर क्यों ओढ़े हुए हो?सुमन के तो पसीने निकल गए, अब वो क्या जवाब दे। तभी टीना ने बात को संभाला और आंटी को बहाना बना के टाल दिया। उसके बाद दोनों ऊपर चली गईं और वहाँ जाकर टीना ने सुमन की चादर खींच कर अपने पास रख ली और उसे छत पर मॉडल की तरह चलने को कहा।सुमन- दीदी पास की छत पर कोई आ गया तो उसने मुझे देख लिया तो?टीना- अरे ऐसा लाजवाब हुस्न छुपाने के लिए नहीं मेरी जान. अंजलि- किशोर, मैं बच्ची नहीं हूँ, मुझे पता है कि मेरा क्या हाल होने वाला है, बस तुम रुकना नहीं… चाहे कुछ हो जाए!मेरी सबसे बड़ी समस्या थी कि मेरे पास कंडोम नहीं था. बीएफ जादूकॅाल बेल बजाते ही उन्होंने दरवाजा खोला तो मैं उस सामान्य सी महिला को देखता ही रह गया.

अगले दिन उसे कहीं जाना था तो उसने मुझसे सुबह जल्दी आने को बोला सैर पर… तो मैं चार बजे के आस पास पहुंच गया… वहाँ पे सन्नाटा था.

मैं बहुत जल्द आपको जानकारी दूँगा।तो उसने झट से मेरा मोबाइल नंबर माँग लिया और मेरे नम्बर पर एक मिस कॉल देकर कहा- इसे सेव कर लो और जैसे ही कोई खबर मिले, मुझे कॉल कर देना।उसके बाद मैंने अपनी फाइल पर मैडम से सिग्नेचर लिए और वहाँ से चल पड़ा।अब मेरे ध्यान में मैडम का चेहरा घूम रहा था। उसके चेहरे पर अजीब तरह का आकर्षण था, उसकी उम्र 30 की होगी. मैं उससे लंड को मुँह में लेने के लिए बोलने ही वाला था कि उससे पहले मेरी सिस्टर ने लंड को मुँह में ले लिया.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन ने टीना के सोये हुएभाई का लंड चूसाऔर उसके लंड का रस सुमन के मुँह में चला गया।अब आगे. रात भर साहब की चुदाई का मंजर याद करता रहा।अब साहब लंड पर तेल लगा रहे होंगे. वे साल में दीवाली पर ही आते हैं और 15-20 दिन रहते हैं।मेरी माँ मेरे चाचा, फूफा और एक गाँव का भगत है.

दिल में हमेशा घबराहट सी होती है। ऑफिस में काम करने का मन नहीं करता है, मगर सरकारी नौकरी है.

मैं बोला- तो इसका क्या?वो बोली- है ना मेरे पास इलाज!और यह कह कर वो घुटनों पर बैठ गई और बड़े आराम से मेरा लंड चूसने लगी. परन्तु वो मज़े से सिसकारियाँ निकाल रही थी- उई आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उई आह. आज तेरी बुर का पूरा भूत उतार दूँगा!काफी देर की चुदाई के बाद मैं उसकी बुर में ही झड़ गया.

नंगी बीएफ गाना वालीइन अंग्रेजी दवाइयों से कुछ नहीं होगा, उल्टे इनके साइड इफेक्ट्स बहुत ज्यादा होते हैं. दोस्तो ये दो दिन आपको स्पीड से बता देती हूँ क्योंकि कुछ फ्रेंड का कहना है कहानी बहुत स्लो चल रही है.

मराठी सेकक्स

ऐसा रोल प्ले करके मेरे साथ मजे लो।मैं उन्हें बेडरूम में ले गया और उन्हें खड़ा रहने को कहा।मैं नीचे बैठ गया और उनसे बोला- मेम, मैं एक बिगड़ा हुआ लड़का हूँ और अपना होमवर्क करके नहीं आया हूँ. थोड़ी देर में हम रूम पर पहुँच गए, कमरे पर पहुँचते ही वो मुझ पर टूट पड़ी तो मैंने उसे रोका- आराम से करो, आज अच्छे से चोदूंगा तुमको!पहले हमने कुछ खाया पिया और फिर मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया खड़े खड़े ही!निकी पहले से ही बहुत गर्म थी, मैं उसको किस करने के साथ धीरे धीरे उसकी चुची भी सहला रहा था और नाभि को सहला रहा था. जो अभी भी गीली और चिकनी हो रही थी।मैंने आंटी की एक टाँग पकड़कर उठा दी और वो गांड के बल ज़मीन पर गिर गईं और उनकी गांड में दर्द होने लगा।मैंने कहा- आंटी लाओ आपकी गांड की मालिश कर दूँ, फिर साथ में नहाएँगे।मैं इतनी जल्दी शांत कहाँ होने वाला था.

देख कर ही मज़ा आ गया। अब तेरी ऐसी मालिश करूँगा कि तू मेरी दीवानी हो जाएगी।फ्लॉरा- अच्छा ये बात है तो चलो अपने लंड को भी आज़ाद कर दो. 5 पे भारी कहना आसान है।टीना- कहना तो आसान है मगर इतना मुश्किल भी नहीं है. आप और रानी भाभी उसी के बेडरूम में चुदाई करना पूरे दो घंटे! मैं बाहर आँगन में बैठ कर चौकीदारी करती रहूँगी, मान लो कोई आ भी गया तो एकदम से भीतर आ नहीं पायेगा, हमें संभलने का मौका मिलेगा.

मामी फट से कुछ बोलती हुई बाहर गई कि जिससे सोनाली को लगे कि हम वैसे ही कुछ काम कर रहे हो अन्दर… उन्हें नहीं पता था कि सोनाली ने कुछ देखा है. उस महिला ने मुझसे मिलने की और सेक्स की इच्छा व्यक्त की, यह बात सुन कर मेरी कामुकता जाग उठी पर मैंने उन्हें मना कर दिया. वो केक बहुत बड़ा था।मैंने पूछा- भाभी इतना बड़ा केक क्यों?तो उन्होंने कहा- सब कुछ अपने आप ही पता चल जाएगा।जैसे ही मैं केक काटने जा रहा था.

मैडम अब मेरे ऊपर काफी ध्यान दे रही थी, मुझे रोज नई लड़की चुदने को मिलती और उसके बदले में शाम के समय या फिर खाली समय में मैडम की चूत और गांड की सेवा करनी पड़ती. दोनों बहुत खूबसूरत भी हैं, खूब बड़े बड़े, मर्दों को पागल कर देने वाले चूचों की मालकिन हैं, शक्ल भी काफी मिलती है, एक बड़ा फर्क है और वो है हमारी चूत से निकलने वाले रस… दोनों चूतें बेहिसाब रस निकालती हैं, परन्तु मेरा रस बहुत गाढ़ा है.

पड़ोसन सेक्सी भाभी को व्ट्स ऐप से पटा कर मौज मस्ती की सेक्सी कहानी आपके सामने पेश कर रहा हूँ…हेलो दोस्तो, बूब्स वाली गर्ल, भाभी और लेडीज, मेरा नाम समर है, मैं देवास का रहने वाला हूँ.

तो उन्होंने बताया कि 34-28-34 का साइज़ है।मैंने पूछा- आपके चूचे तो इतने बड़े नहीं दिखते?तो सोनू भाभी ने कहा- मैं टाइट ब्रा पहनती हूँ न।इस तरह हमारी बातें कामुक होती चली गईं। मैंने उनसे सेक्स करने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि शौहर से बिना मन के सेक्स साथ करती हूँ. बीएफ गाना डीजेमुझे कन्धों से पकड़ के जंगली की तरह घसीटा और अपनी जांघों पर बिठा लिया- ले रंडी अब मेरी तरफ पीठ कर ले और लौड़े पर बैठ कर इसको चूत में ले ले!मैंने वैसा ही किया और लंड के ऊपर रस से भरी हुई चूत का छेद टिका के नीचे सरकती चली गई जब तक कि लौड़ा जड़ तक चूत में धंस नहीं गया. बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी में सेक्सीउधर रीना रानी सुल्लू रानी की पीठ की तरफ आ बैठी थी और उसके चूचे दबा रही थी. उसे क्या हुआ है और वह अब कैसी है?उत्तर में अम्मा ने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है और अब वह बिल्कुल ठीक है.

तुम बहुत ख़ूबसूरत और सेक्सी हो, मैं तो कब से तेरीचूचियों का रसपीना चाहता था और तेरी बुर में लंड डालना चाहता था.

जितना हो सकता था उन लोगों ने पूल में किया पर प्रॉपर चुदाई नहीं हो पाई. जब पीछे से पकड़ता तो वो थोड़ा गुस्सा हो जाती।ऐसा ही एक महीने तक चला।एक दिन माँ मामा के घर गई थीं। घर पर अकेले हम दोनों ही खाना खा कर पास-पास में ही लेटे हुए थे। उसी वक्त मैंने फिर माँ की चुदाई के बारे में बोलना शुरू कर दिया, नीलू कुछ नहीं बोली।कुछ समय बाद वो बोली- पापा शायद बाहर रहते हैं. कुछ समय बाद मुझे मौसम में परिवर्तन महसूस हुआ, शायद बदली आ गई थी, और अब चेहरे पर सूरज की गर्मी का अहसास कम हो रहा था। अब तक सभी के गर्म कपड़े निकल चुके थे, मैंने भी स्वेटर निकाल कर रख दिया था।मैं अचेत होने जैसी मुद्रा में.

लेकिन जंगली हो चुके राजू के लिए ये कोई दुःख की बात साबित नहीं हुई, उसने मेरे लंड के ऊपर से अपना भीषण लंड उसी गांड में पेल दिया!अब राजू ऊपर खड़ा होकर गांड पर पूरा अधिकार जमाए हुए था, मेरा लंड कमजोर पड़ कर सांझी गांड से फिसल पड़ रहा था जिसे मैं दोबारा मशक्कत कर किसी तरह गांड में फिट कर पा रहा था. वो मैं बाद में बताऊँगा।फिर हम दोनों शाम का इंतजार करने लगे। दीदी ने सुनील को फोन करके सब प्लान बता दिया. तो मैंने गिलास खाली कर दिया।चंदन ने मुझे इसी तरह से पेप्सी का और एक गिलास भर दिया। जैसे मुझको पता न था कि इसमें शराब है.

लड़की की बॉसी

इस तरह उन दोनों को बहुत मजा आ रहा था।हम दोनों अमिता की ताबड़तोड़ गैंग-बैंग चुदाई कर रहे थे।अपनी पत्नी को अपने बेस्ट फ्रेंड से चुदवाकर मैं बहुत खुश था. एक दिन अमिता मेरे को बुलाने आई और बोली- मैं बोर हो रही हूँ!तो हम लोग आपस में बातें करने लगे. मैं ये एहसान कभी नहीं भूलूंगी।मैंने उनको चूमते हुए कहा- रानी बुआ क्या एहसान, मैं तो अपना हूँ न आपका आय लव यू बुआ।उन्होंने भी कहा- लव यू टू सोना बेटा।उसके बाद मैंने बहुत बार बुआ को चोदा।मेरी बुआ की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी.

ये कॉलेज है यहाँ स्कूल के बच्चे नहीं आ सकते, चल वापस जा!विक्की की बात सुनकर सब हंसने लगे।सुमन- ज्ज्ज.

ऋषिका ने हंस कर कहा- वैसे तो तुम्हारी भी वही स्थिति रही होगी, मेरे पति का तो इन दो दिनों में मन ही नहीं भरता…हालाँकि ऋषिका ये कहते हुए रुआंसी हो गई थी.

पंद्रह मिनट बाद आंटी मुझे बाथरूम में लेकर गई, मुझे अच्छे से नहलाया और फिर बोली- अब मुझे तू नहला!मैंने उनके बूब्स और गांड साबुन घिस घिस कर धोये तो वो बोली- बहुत जल्दी और ज्यादा ही सीख रहा है. बस एक दो दिन की तकलीफ़ है, फिर तो ज़्यादातर मेहमान चले ही जाएंगे।मोना- वो चाचा जी. देखने वाले बीएफयह बात विस्तार से जानने के लिए मैंने उसे और कुरेदा- स्नेहा, मैं समझा नहीं.

फिर मैंने उसे अपना लौड़ा मुंह में लेने के लिए कहा, उसने मना कर दिया. अब मैं उसकी जीभ को चूसता हुआ उसे अपने लौड़े पे चोद रहा था उसकी गांड को अपने हाथ से पकड़ कर ऊपर नीचे कर रहा था जिस से मेरा लंड उसकी चूत की गहराई तक चला जाता था. अब जब मुझसे बिल्कुल रहा नहीं गया तो मैंने एक उंगली को अपनी चूत के अंदर घुसा दी.

वो मेरे करीब आकर बैठ गये और फिर मेरा हाथ पकड़ कर कहा- आज रात तुम मेरी पत्नी हो, मुझे अपने पति की तरह प्यार करना है तुम्हें आज!मैंने नज़रें नीचे झुका ली…उन्होंने मुझे गले से लगाया और बेड पर लिटा दिया और वो भी मेरे पास ही लेट गये और मेरे हाथ को पकड़ लिया. सिर्फ़ 7 इंच का ही है।इतना कह कर मैंने फाइनल शॉट मारा पूरा लंड भाभी की चुत में जड़ तक पेल दिया।भाभी की चुत की हालत पंचर हो गई.

‘समीर… आआआ ससस मेरी चुत का हलवा बना दिया तुमने!’हमारा पानी साथ निकल गया, हम 69 में आकर एक दूसरे का पानी चाट गए, बहुत मजा आया.

दोस्तो, यहाँ अब हमारे मतलब का कुछ नहीं, तो चलो वापस मोना के पास वहाँ शायद कुछ मिल जाए।गोपाल जब वापस आया तो मोना ने अपना मूड बदल लिया था और उसको सॉरी भी कहा। बस फिर क्या था दोनों ने जल्दी से पैकिंग की और गाँव के लिए निकल गए।दोस्तो, मैं आपको बता दूँ गोपाल के घर में उसके माँ-बाप के अलावा एक चाचा और चाची हैं, जिनकी कोई औलाद नहीं है और गोपाल भी इकलौता ही है. बाहर आ जाओ और किवाड़ लगा आओ।उन्होंने मेरा अनुरोध माना और किवाड़ लगा दिए. उसके चुप होते ही थोड़ा जोर लगा कर मैंने उसकी चूत का दरवाजा एकदम से फाड़ दिया.

हिंदी पिक्चर बीएफ वीडियो में तुझे देख कर उहह उहह कई बार लंड खड़ा होता था उहह उहह मगर साली मौका नहीं मिला आह. और इसकी चिकनी गांड का भोसड़ा बना दूँगा।आसिफ़- अरे भाई, तुझे जितना पेलना है पेल, इसकी तो आज खैर नहीं.

हम दोनों साथ में नहाते थे, जब भी अकेले होते तो बिना कपड़ों के ही घूमते थे. उसके बाद मुझे इतने अच्छे से तैयार किया कि शादी वाले दिन पार्लर वाली ने भी नहीं तैयार किया था, हाँ बस उन्होने मुझे पैन्टी ब्रा नहीं पहनने दिया।कहानी जारी रहेगी. थोड़ी देर बाद निशा की चुत गीली हो गई, मतलब अब वो तैयार हैं चुदवाने के लिए!यह चुत चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने चुत पर अपना लंड टिकाया और एक धक्के मैं आधा लंड अंदर… वो चीखने वाली थी पर मैंने अपने हाथ से उसका मुख बंद कर दिया और दूसरे धक्के में पूरा लंड अंदर…मुंह बंद होने की वजह से चीखी तो नहीं पर सारा दर्द आँखों से आंसू बनकर बाहर आ गया.

बीएफ वीडियो फोटो

हमारी मेल पर बात होने लगी, एक दिन में ही उसने मुझे अपना नंबर दे दिया. मेरे घर के सामने एक सेक्सी और भरे हुए बदन वाली मस्त देसी भाभी रहती हैं. 30 बजे तक आये।कोमल ने तब तक डिनर बना लिया था। हमने डिनर किया और कोमल अपने बेटे को सुलाने चली गई।मैंने मोहन को बताया- यार अभी 2 राउंड करेंगे चुदाई के और उसकी ब्रॉडकास्ट करेंगे, जिससे थोड़ी आपकी कमाई हो जायेगी। मेरा एक कपल दोस्त हमारी चुदाई देखना चाहते हैं.

पर प्रश्न वाचक दृष्टि से देख रहे थे।मैंने कहा- खटिया आवाज करेगी तो सवेरे सब पूछेगे कि मादरचोद रात को किसका लंड ले रहा था।उनसे कहा- पैन्ट, अंडरवियर उतार दें, शर्ट व स्वेटर पहने रहो।मैंने भी फुल जर्सी पहन रखी थी. वो भी एक 18 साल की वर्जिन गर्ल के मुँह से सुनकर मेरा 7 इंच का लंड बग़ावत करने लगा। मैंने बरमूडा में से लंड निकाला और उससे बातें करते-करते मुठ मारने लगा।इसके बाद हम एक बजे सो गए।इसके बाद हम रोज सेक्स चैट करने लगे। फिर हमने एक प्लान बनाया और वो मेरी मम्मी से आकर बोली- आंटी, अमन भाई को मेरे साथ सिटी जाने के लिए बोल दो ना.

तो उन्होंने भी बताया- हाँ शादी से पहले था।तो मैंने भी पूछा- तो कुछ और भी हुआ था?वो बोलीं- हाँ कई बार।मैंने पूछा- क्या आप सेक्स मूवी देखती हैं?वो बोलीं- हाँ देखती हूँ.

मुझे वो बोली- मुठ मार मार के कितना मोटा किया हुआ है तूने इस लंड को!मैं हंसा और कहा- देखता हूँ आज तू इसे और कितना मोटा करती है?ग़ज़ब का मज़ा आ रहा था. सो वो ठीक से सुन देख भी नहीं सकती हैं।मैं और मेरी बहन पढ़ाई के लिए शहर में रहते हैं। दादी हमारे साथ रहती हैं. मैंने जब खड़े होकर खुद को शीशे में देखा तो खुद को एक बार यकीन नहीं हुआ कि मैं इतनी ज्यादा खूबसूरत लग रही थी.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… ‘ की हल्की-हल्की आवाजें आने लगीं।ये सब देख कर मैं बहुत गरम हो गई थी। मेरा हाथ मेरी चुत पर कब चला गया. मैंने उसकी दूध से भरी चूचियां दबा-दबा कर जी भर के काटी और खूब चूसीं. मुझे सच में नहीं पता।टीना- क्यों तू अंडरगार्मेंट्स नहीं पहनती क्या.

मैंने देखा कि माँ अपने हाथों से आलोक के लंड को ऊपर नीचे कर रही थी, माँ ने अपनी साड़ी खोल दी और अपने ब्लाऊज निकाल कर चूची नंगी कर ली.

बीएफ फुल एचडी वीडियो हिंदी: मैं ऊपर होती थी तब मेरे पति ने कभी भी नीचे से धक्के नहीं दिए थे, यह नई बात मुझे मोहन पेंटर से पता चली, मुझे इस आसन में अजीब सा मजा मिल रहा था, मेरा ऊपर नीचे होना और उसका नीचे से जोरदार धक्कों की वजह से मैं जोरदार तरीके से झड़ गई. मैंने फिर से उसकी चूत की होंठ को हल्का सा अपनी उंगली से खोला और अपना लंड उस पर सेट किया और एक ज़ोर सा झटका मारा, मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया, वो चीखने वाली थी लेकिन मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए, उसकी चीख दबा दी और फिर से एक ज़ोर का झटका मारा, मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया.

एक दिन अमिता मेरे को बुलाने आई और बोली- मैं बोर हो रही हूँ!तो हम लोग आपस में बातें करने लगे. लेकिन दीदी के चूचे इतने बड़े थे कि यह नामुमकिन था।वो उधर मादक सिसकारियां भर रही थीं- एमेम आहह आह ओमम्म. और रात के दस-ग्यारह बजे तक पहुँचे।वहां से ऑटो से साहब के बंगले पहुँचे.

आप इतना कह रहे हो तो मान लेती हूँ मगर मेरी भी एक शर्त है। आप आज मेरी गांड नहीं मारोगे.

आज तक नहीं भूला हूँ।बुआ भी पूरी तरह से हॉट हो गई थीं। अब बुआ मेरी टी-शर्ट और बनियान साथ में ऊपर करते हुए मेरे बदन को चूमने लगीं।आह. वो स्पीड से धक्के मारने लगे और मोना को अपने ऊपर लेटा कर उसके निप्पल को चूसने लगे।कुछ मिनट ये चुदाई चली, काका के तगड़े लंड के दमदार झटके मोना की चुत सह नहीं पाई और उसकी चुत का बाँध टूट गया. मैंने ना तो किसी से कहा है और न ही मैं बुरा मानता हूँ।’दीदी ने बताना शुरू किया- सुनील मुझे काफ़ी दिनों से चाहता है.