देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,नागालैंड की सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी इंडियन ब्लू फिल्म: देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ, मेरा ईमेल पता है[emailprotected]कहानी का अगला भाग:बस में मिली हसीना को पटाकर चोदा-2.

सेक्सी फिल्म चलने वाली

तो मैंने क्या किया?मेरी मामी की चुदाई कहानी के पहले भागमामी की सुहागरात की अधूरी प्यास-1में आपने पढ़ा कि मेरे मामा की शादी बड़े बड़े चूचों वाली हसीं जवान गर्म लड़की के साथ हुई तो मेरा मन अपनी नयी मामी की चुदाई करने का होने लगा. हॉट सेक्स रोमांटिकऔर फिर उनका वीर्य निकलने को हुआ तो उन्होंने पूछा कि कहां गिराना है.

बीच बीच में बारी बारी से में दोनों को अपनी टेबल पर लाता और पैग लगवाकर वापिस डांस फ्लोर पर ले जाता. धारा 8/21 क्या हैइतने में ही आंटी ने मेरी कमर को पकड़ लिया और अपनी तरफ दबा लिया ताकि मैं लंड को दोबारा से बाहर न निकाल पाऊं.

बेशक जाओ, मैं कुछ नहीं कहूंगा लेकिन इतना ध्यान रखना कि जब जीजू के पास जाना तो यह पैकेट अपने पास रखना.देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ: वो इस बार ज्यादा तड़प रही थी और उसकी गांड से भी खून निकलने लगा, लेकिन मैं रुका नहीं.

मैंने उसकी नजरों को पढ़ा और हिम्मत करके उसके चूचियों के निप्पल को चूसना शुरू कर दिए.उसको किस करते हुए मैं अब मैं धीरे-धीरे उसकी गांड के छेद पर हाथ भी फिरा रहा था.

भाषा में सेक्सी वीडियो - देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ

उसके साथ जब भी मैं थोड़ा आगे बढ़ने की सोचता था तो वो कोई न कोई बहाना बनाने लगती थी.मेरी धीरे से दर्द भरी आवाज़ निकलने लगी और मैं उससे कहती रही- मुझे छोड़ दो प्लीज़.

वो गांड के पास क्रीम लगवाने लगी उसे मेरे हाथों से मलहम लगवाना शायद अच्छा लग रहा था. देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ मैं कपड़े पहन कर बाजार जाकर दर्द की दवा लाया और उसको तुरन्त खिला कर कहा कि अब तुम सो जाओ … तुमको आराम मिल जाएगा.

मैडम बोली- देखो, कैसे कांप रही है तुम्हारे लंड के डर से मेरी छोटी सी चूत.

देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ?

अब तक मैंने आठ चुत का स्वाद लिया है और वे आठों मुझसे आज भी चुदवाती हैं, लेकिन मेरे लंड से चुदने के बाद कमोवेश उन सभी की हालत मरी हुई कुतिया सी हो जाती है. उसकी बातों से मालूम हुआ कि वो अब मुझसे अकेले कमरे में मिलना चाहती थी. मैंने कहा- तुमको विश्वास नहीं होता क्या? तुमने दिन ही इतना अच्छा बताया है कि अगले दिन हमें संडे मिल जाएगा … और सुनो, प्रोग्राम ये होगा कि हम लोग अगले शनिवार डिस्क जाएंगे.

मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया और चूत को सहलाने लगा। उनकी चूत अब तक काफी गीली हो चुकी थी और मैं उसका गीलापन अपनी उंगलियों पर महसूस कर रहा था।इधर मैम ने मेरा शॉर्ट्स उतार दिया था और मेरे लन्ड को जोर जोर से झटके दे रही थी।मेरा लन्ड पूरी तरह तैयार हो चुका था. दोनों तरफ से पॉजिटिव लगा तो अगला कार्यक्रम तय करने के लिये जल्दी ही फिर बैठेंगे, कहकर सब लोग विदा हो गये. मन करता है कि तेरे मुंह में ही लंड को रखूं और तू सारा दिन इसको चूसती रहे.

मैंने अपनी आंखों की झिरी से देखा कि उसका लंड उसके पैंट में तम्बू बनाने लगा था. और लगभग आधे घंटे बाद दीदी की हँसने की आवाज़ आयी। मुझको कुछ समझ नहीं आया।कंपाउंडर बोला- जाओ पानी की बोतल भर कर नल से ले आओ।मैं चला गया।कुछ देर बाद मैं वापस आया तो दीदी के कमरे से हल्की हल्की चीख सुनाई पड़ी. भाभी- यार तेरे भैया अपने काम में इतने ज्यदा बीजी रहते हैं कि मुझे चोदना ही भूल गए.

उसी समय उस हब्शी ने व्हिस्की की बोतल उठाई और अपने लंड पर गिराते हुए दीदी को शराब पिलाने लगा. न जाने क्यों मुझे लग रहा था कि हो न हो रात में चुदाई का मौका फिर से मिल जाएगा इसलिए शरीर में थोड़ी चुस्ती फुर्ती बनी रहनी चाहिए.

मैंने शीनू के चुम्बन लेने लगा और उसके सुडौल गोल चुचियों का रसास्वादन करने लगा.

अब बाकी रंडियां दूसरे ग्राहकों को फंसाने के लिए वही सब करने लगी जो मुझे देख कर कर रही थीं.

वो एरिया भले ही कितना भी गंदा था मगर मेरी हवस के आगे मेरे मन ने वो सब नजरअंदाज कर दिया. वो एक साइड टांगें डाल कर बैठी थी, जिसमें उसको अच्छा नहीं लग रहा था या यूँ कहें कि उसको आज किसी भी तरह मेरे अन्दर आग लगानी थी. आज सुहागसेज पर मेरी बीवी बाजू में लेटी हुई थी और उसकी छोटी बहन मेरे लंड से अपनी चुत की सीलतोड़ चुदाई करवा रही थी.

हम दोनों ने एक साथ उसके दोनों छेदों में लंड पेले … और उसे गोद में उठा कर खूब चोदा. मैंने कुछ नहीं कहा और एक कुंवारी गांड की सील टूटने की तैयारी को लेकर सोचने लगी. मैं भी अपने बिस्तर पर आ गया, जहां अर्पणा पहले से ही गहरी नींद में सो रही थी.

दरअसल बात यह है कि हनी तलाकशुदा नहीं है, उसकी शादी कभी हुई ही नहीं.

उस वक़्त मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मेरी मॉम ऐसी आवाजें क्यों निकाल रही हैं. किचन से चाय लेकर वो मटकती हुई मेरे पास आई और चाय का कप मेरी तरफ बढ़ा दिया. बिल्कुल स्लिम … कोई 20 साल की एकदम नाजुक सी लड़की, एक बार छू लो तो निशान पड़ जाएं.

इससे पहले भी मैं चाची के बदन को छू दिया करता था मगर उस वक्त वह सब मज़ाक में होता था. उसने मेरी बड़ी तारीफ़ की और बोली- मुझे तुमको चैक करना था कि तुम और लड़कों की तरह ही हो, या कुछ अलग हो. अगर मेरे होंठ उसके होंठों ना होते तो वह बहुत जोर से चीखती जिससे उसकी आवाज मकान मालिक तक भी जा सकती थी.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोले- अब हम इस आग के साथ सात फेरे लेंगे.

जब मेरा लंड फिर से टाइट हो गया तो मैंने उसके कान में अपनी इच्छा बताई. मैं तो मौज-मस्ती के लिए हमेशा तैयार रहती थी इसलिए उनके पूछते ही मैंने हां कर दी.

देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ मैं भी अपने रूम में जाकर मोसी के ख्यालों में बिस्तर पर लेट कर जैसे बिखर सा गया. मैं- और आपके सास ससुर?भाभी- वो मेरी सासु माँ के साथ उनके पीहर गए हैं.

देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ मैंने कहा- टेंशन ना लो, दो मिनट का दर्द है … उसके बाद जो आनन्द आज तुम्हें मिलेगा, वैसा मजा तुम अपने पूरे लाइफ में नहीं पाओगी. फिर दो मिनट के बाद मेरे लंड से नियंत्रण छूट गया और मैं उसकी चूत के अंदर ही झड़ने लगा.

मैंने अपने आप को संभाला और उनसे पूछा- खाना लग गया?तभी बरखा ने कहा- तुम बैठो, मैं अभी खाना लगाती हूं.

आदिवासी गाने डाउनलोड

मैं अन्दर घर में आया तो देखा कि हेमा चाची का लड़का अंश अपने रूम में बहन अनुजा की गांड को घूर रहा था. मैंने अब स्पीड बड़ा दी और ज़ोर से एक एक करके दोनों बूब्स को चूसे जा रहा था और ज़ोरदार भींच भी रहा था. फिर मैं उनके बूब्स पर टूट पड़ा और मैंने एक एक करके उनके बूब्स बहुत जोर से दबाया और चूसा.

खैर आपका लंड खड़ा हो या चुत रोने लगे, इससे पहले मैं अपने बारे में बता देता हूँ, मेरा नाम शाह है. जब उसने कॉफ़ी खुद बनाने की बात कही, तो मैंने यह कहते हुए उसे कॉफ़ी दी कि ये इसलिए है कि कहीं तुम थक न जाओ. अब मैंने अपनी पूरी टांगें अपने प्रेमी के लंड के स्वागत में खोल दी थी और मैंने उसकी कोली भर ली।वह भी ‘दिव्या दिव्या’ कर रहा था और मुझे बहुत प्यार कर रहा था.

आंटी की चूत को देख कर मैंने कहा- हां, मेरे लौड़े को भी बहुत मजा आने वाला है आज.

खैर … मेरी डॉक्टर महिला मित्र ने कुछ दवाइयां लिख दीं और काव्या को बोला कि सोच समझ लो, अगर आपको यह बच्चा नहीं चाहिए … तो आप ये दवाई खा लेना. मैंने चाची से पूछा- मम्मी कब तक आएंगी?चाची ने हंसकर कहा- मेरा बाबू सुबह से अभी तक भूखा है. अगर मॉम ने गुस्सा कर दिया और फोन करके पापा को बता दिया तो मेरा हाल बुरा हो जाएगा.

गर्मी के मौसम का नजारा कुछ ऐसा था कि सभी बाराती … चाहे वो लड़का हो या लड़की हो … नहाने जाने की तैयारी कर रहे थे. मेरे या उनके घर, कहीं भी हम दोनों मिलते और हार्ड फ़क यानि पलंगतोड़ चुदाई का मजा करते. मैंने कहा- हां तू तो साली खुली खुलाई मिली … जब तक खूनाखच्ची न हो तब तक चुदाई का मजा ही नहीं आता.

मैंने चोरी छुपी नजरों से उनको देखते हुए पानी की बोतलें अपनी गर्लफ्रेंड को दे दीं. लेकिन मैं बगल में देख रहा था कि बड़ी जुड़वां के हाथ थोड़े-थोड़े हिल रहे थे.

मैंने कॉल उठाया, तो वो बोले कि मैं किसी अर्जेंट काम से कोलकाता आ गया था. ’मुझे लगा कि ये मम्मी को क्या हुआ … क्योंकि वो मम्मी की आवाजें थीं. मेरी मॉम को भी दर्द हो रहा था लेकिन चुदाई भी बिना दर्द के थोड़े ही होती है.

मॉम ने बैठे बैठे ही मेरी हाफ पैंट और अंडरवियर उतार दी और मेरा लन्ड बाहर आ गया.

मैंने उसकी टांगों के बीच में आते हुए अपना लंड उसकी बुर पर रखा … तो वो गनगना गयी. फिर मैंने सोचा कि अपनी आपबीती आप सबके साथ भी साझा करूं ताकि आप भी इसका मज़ा ले सकें. अभी मैं अपनी सांसें संयंत कर ही रहा था कि मेरी सासू ने ताली बजाते हुए खिड़की से मुझे शाबाशी देना शुरू कर दी.

आशी को शर्म सी महसूस हो रही थी तो मैंने कहा- आशी, तू उधर सोफे पर बैठ कर हम दोनों की चुदाई देख. मैं अपने आपको बहुत खुदकिस्मत मान रहा था, जो वो मुझे चोदने के लिए मिली.

करीब 10 मिनट बाद भाभी को आराम हुआ, तो उन्होंने अपनी गांड उठाकर चुदाई चालू करने का इशारा कर दिया. उसका कुर्ता ऊपर उठाकर कबूतरों को आजाद कर दिया और उसकी बुर सहलाने लगा. मैं नींद में था … मैंने बाथरूम का दरवाजा खोलने की कोशिश की, तो बंद था.

रोमांटिक मारवाड़ी शायरी

उधर हमारे बीच दोस्ती हो थी और हमने बस में एक दूसरे के जिस्म के साथ खेल लिया था.

अब कोमल मेरा सिर अपनी चुत में लगाने लगी, मैं समझ गया था कि ये मुझे चुत चूसने का बोल रही है. अब वो सिर्फ लाल ब्रा और नीली पेंटी में थी … बिल्कुल कातिल लग रही थी।उसकी बदन की खुशबू मुझे पागल कर रही थी. मैंने कारण पूछा, तो वह बोली- एक तो दीदी की टेंशन होती है … दूसरा बहुत दर्द हो रहा है.

वो रसोई में जाने लगीं, मैंने अपनी आंखों से उनकी चुदाई फिर से शुरू कर दी. अब अगर कोई बीच में मुझे उसकी चूत चोदने से रोकता तो मैं उसकी भी चुदाई कर डालता. वर्ल्ड मोस्ट ब्यूटीफुल गर्लकरीब एक घंटे बाद मेरी नींद खुली, तो निशा मेरे लंड से खेल रही थी और चूस रही थी.

आह क्या मस्त गोरा बदन … उनके चूचे देख कर तो मेरा लंड भी खड़ा हो गया. अब वो दोबारा से मुझे चूमने लगी और बोली- किसी तरह का नशा करते हो क्या?मैंने कहा- नहीं, मैं तो सुपारी भी नहीं खाता.

उसने अपनी नौकरानी आरिफ़ा को अकेले में बैठ कर पोर्न सेक्स वीडियो देखते हुए पकड़ लिया. भाभी हंस कर बोलीं- फिर इसके बाद क्या अपनी भाभी को बिना चुत के कर दोगे?मैंने भी हंस कर भाभी को चूम लिया. मैंने समझ लिया कि वो भी वही बात कहना चाहती है, जो मैं कहने वाला था.

मेरे मुंह में चाची का निप्पल था जिसको चूसते हुए मुझे काफी आनंद आ रहा था और मेरे अंदर वासना की अग्नि भड़कती जा रही थी. करीब 10 मिनट की चुसाई के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चूत चुसवाने लगी. जब तेरा खुद का भाई ही बहक गया था तो सोच बाकियों का क्या हाल होता होगा.

एक दिन क्लब में मिली एक भाभी मुझे अपने घर ले गयी वहां मैंने सेक्सी भाभी से सेक्स किया.

हम दोनों ने फटाफट खाना खाकर सामान समेटा और हम सब रवि के बेडरूम में चले गए. मॉम बोली- हां हो गई बेटा, तू अभी हॉल में टीवी बंद कर दे और पढ़ाई कर! फिर मैं भी रात का खाना बना देती हूं.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लग रही है कृपया मुझे मेल करके जरूर बताएं. मामी पूछने लगी- क्या तरीका है? पूरा बताओ ना?मैं- मामी जी, मैं कैसे बोलूं … कहते हुए आप से डर लगता है. मैं आंटी की चूत को अपने हाथ के द्वारा सहलाते हुए उसकी चूचियों को मुंह में लेकर पीता रहा और वो मेरे लंड को हाथ से सहलाती रही.

मैंने और दीदी ने भी कपड़े पहन लिये और घर वालों के आने से पहले हमने सारे घर को साफ कर दिया. मॉम ने मेरे पापा से चुदवाते हुए जवाब दिया कि यार आपके बॉस का लंड बहुत लंबा था … और मुझे गांड मरवाने के बाद गांड में बहुत दर्द भी होता है, इसलिए मैंने उससे गांड मरवाने से मना कर दिया था. मैंने उसकी चूत को उंगलियों से चोदना जारी रखा और फिर एकदम से उसकी चूत में फिर से जीभ डाल दी.

देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ ये सेक्स कहानी अब से एक साल पहले उस वक्त की है, जब मैं यूनिवर्सिटी में पढ़ता था. मेरी दीदी की चुत का भोसड़ा और गांड का गड्डा बना कर वो तीनों लोग थोड़ी देर बाद हंसते हुए बाहर चले गए.

एचडी सेक्सी हिंदी फिल्म

वो लड़कियां तुम जैसों को फंसाती हैं … और काम निकल जाएगा, तो फिर लात मार कर भगा भी देती हैं. मैंने भी उसके ब्लाउज को खोल कर ब्रा के ऊपर से उसके चुचों को मसलना शुरू कर दिया. अगर आप इस कहानी के बारे में कुछ भी बोलना चाहते हैं, तो प्लीज अपनी राय मुझे जरूर मेल करें.

मैम ने मेरे लंड को साफ करने के बाद कहा- ये तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड से भी जरा ज्यादा बड़ा है. अब या तो तुम सच बता दो या फिर मैं तुम्हारे पापा को तुम्हारी हरकतों के बारे में बता दूंगी. मराठी सेक्सी व्हिडिओ डाऊनलोडफिर मेरा दोबारा पानी निकलने को हो गया और एकदम से मैंने उनकी चूत में पानी छोड़ दिया.

ये सुनकर वो शर्मा गई और बोली- हां मन करता तो है, मगर किसी के साथ करने में डर लगता है कि अगर मैं माँ बन गयी तो?मैंने बोला- इसीलिए तो मुझसे चुद ले … घर की बात घर में रहेगी.

तभी अचानक मेरा लंड खड़ा हो गया और पैंट में सीधा खड़ा होने की कोशिश करने लगा. इसके आगे शीनू ने क्या किया और उसकी बहन के साथ कैसे चुदाई का मजा आया.

वो मेरे बालों में हाथ फेरती हुई कहने लगी- देख विशू, इस तरह अपने मां और पापा का सेक्स देखना अच्छी बात नहीं है. तो दोस्तो, कैसे लगी मेरी पहली रियल सेक्स कहानी कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं. मगर अचानक ही किचन में मेरे हस्बेंड आ गये और उन्होंने प्लम्बर को मेरी चूत में लंड डालते हुए देख लिया.

अब तक मॉम थक गई थी और मैं भी! मैं बोला- मॉम, मैं अपने रूम में सोने जा रहा हूं.

उसने मुझे बताया कि वह अपनी भाभी यानि अपने बड़े भाई की पत्नी को बहुत प्यार करता है और वह भी उससे बहुत प्यार करती है. वो अपना एक हाथ एकता की जांघों पर फेरता हुआ उसकी पेंटी पर लाया और पेंटी खींच कर निकाल दी. घर आकर मैंने माँ को आवाज लगाई उन्होंने शायद मेरी आवाज नहीं सुनी।फिर मैं माँ के रूम की तरफ गया तो माँ और बुआ की बातें चल रही थी; वो भी चुदाई की।मैं दरवाजे के पास रहकर सुनने लगा.

इंडियन सेक्सी सीनमुझे माँ की गांड में लंड करते हुए काफी देर हो गयी थी और वो लगातार शोर मचा रही थीं कि छोड़ दो … पर मैंने छोड़ा नहीं. पापा बड़े कमीने हैं जो खुद तो विदेश में दूसरी औरतों के साथ चुदाई करते हैं, अपनी प्यास बुझाते हैं लेकिन मॉम कहीं अपनी प्यास बुझाने इधर उधर नहीं भटक जाए, इसलिए वो वहीं से बैठे बैठे मॉम की प्यास बुझा रहे हैं.

कॉम सेक्सी व्हिडीओ

मैंने तुरंत पूछ लिया- तो क्या सौरभ (मेरे कज़न) के टीचर वाली बात सच है?चाची ने हैरानी से मेरी तरफ देखा. थोड़ी देर बाद बरखा की चूत से पानी निकल गया और मैं बरखा की चूत को जोर जोर से चोदने लगा. मम्मी बेड पर अपनी दोनों टांगें हवा में उठा कर लेटी हुई थीं और अंकल उन्हें धकापेल चोद रहे थे.

बात करते करते हम लोग काफी रोमांटिक मूड में आ गए थे और काफी उत्तेजित हो गए थे. मैंने सीमा की बातों का रस लेते हुए उससे पूछा- फिर क्या हुआ?सीमा- भाभी जोर जोर से बोल रही थी कि चोदो राजा … जोर जोर से चोदो … फाड़ दो मेरी चूत, भोसड़ा बना दो, मेरी चूत का … इस तरह से भाभी आह्ह्ह उईईईई आह्ह्ह कर रही थी. मैं सेक्स की हवस मिटाने के चक्कर में ये भी ध्यान नहीं रख पाया कि उसने मेरे लंड से कब कंडोम हटा दिया है.

उसकी चिकनी टांगों को फैला कर उसकी फूली हुई सफाचट चूत को चूसना शुरू कर दिया. कोई भी लड़का अपने साथ सेक्स करने वाली लड़की की यही दशा करना चाहता है. शाम को छह बजे मैं मार्किट घूमने निकला, तो एक्स्ट्रा टाइम विद एक्स्ट्रा डॉट वाले कंडोम का एक पैकेट और ले लिया, हालांकि मेरे पास रात वाला पैक भी अभी था.

उसमें लिखा था- तो मेरी प्यारी सरदारनी ने क्या सोचा है?मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था, मैंने जवाब लिख दिया- अभी कुछ नहीं सोचा है. उन्होंने बाजी के हाथ से कपड़े लिये और तौलिया लपेटे हुए अपनी लोअर को डालने लगे.

उसके बॉस समयानुसार मेरे ससुराल वालों ने अपने भरोसे की डॉक्टर से उसकी डिलीवरी करवायी.

वो फिर से मुझसे बोली- मेरी डेट अभी दो-तीन दिन में आने वाली है … अगर डेट नहीं आई, तो देख लेंगे कि क्या करना है. सपना चौधरी मर गई है क्याउसके अन्दर आते ही मैंने उसका टॉप ऊपर कर दिया और मैंने उसके निप्पल को सीधा मुँह में भरके चूसने लगा. कश्मीरी पंडितफिर मॉम मेरी छाती के मेरे दो छोटे छोटे स्तनों को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी थी और दबा भी रही थी, खींच भी रही थी. मैं इस बात की पुनः आशा करता हूँ कि कभी न कभी निशा से मेरी मुलाकात फिर से हो जाएगी.

मैंने उसको हाय कहते हुए कार का गेट खोला और उसके बाजू की सीट पर बैठ गया.

ज्यादा कसाव में तो नहीं थे मगर देखने में ऐसे लग रहे थे जैसे पके हुए मोटे आम हों लेकिन सफेद दूधिया रंग लिए एकदम रसीले. कार में बैठाने के बाद मैं मुड़ा ही था कि वो बोली- सुनो यार, मुझे तो गाड़ी चलानी नहीं आती. मुझे थोड़ा अजीब लग रहा था, लेकिन गद्दे जैसी चुचियों की वजह से अन्दर गुदगुदी हो रही थी और मेरा लंड खड़ा हो चुका था.

ट्रेन के प्लेटफार्म से बाहर निकलते ही छोटी बोली- दीदी, ये बुद्धूराम को कौन सी गर्लफ्रेंड मिलेगी! कुछ ज्यादा नहीं हो गया न. एक झटका मैंने उसकी चूत की तरफ दिया तो उसके मुंह से हल्की सी चीख निकल गयी. चूंकि वे दोनों अक्सर मस्ती किया करते थे, तो अब अनिल उसके चूचों और गांड को छूने लगा था.

मराठी सेक्सी फिल्म वीडियो

आह्ह … आरिफ़ा, थोड़ा और मुंह में भर ले मेरी चूचियों को थोड़ा जोर से. पार्टी के बाद उसने दोबारा से मेरा नाम पूछा, तो मैंने भी उसका नाम और क्लास पूछ ली. फिर रूपा भाभी ने आवाज दी- कहां खो गए?इस पर मैं झेंप गया और बोला- कहीं नहीं.

पिछली बार की तरह मैंने रूम बुक किया, तो वो बोली- कुछ खाने के लिए भी आर्डर कर दो.

यह सोच कर कि शायद बच्चों को आगे पढ़ाई या नौकरी के लिए कभी जरूरत पड़े, नहीं तो एक अच्छा निवेश तो था ही.

भाभी मेरा लंड ऐसे चूस रही थी जैसे कोई लॉलीपॉप!मुझसे रहा नहीं गया और 10 मिनट तक अपने आप को संभालने के बाद मैं उनके मुंह में ही झड़ गया. उनकी चूचियों को दबाने लगा और धीरे-धीरे लंड को गांड के छेद में घुसाने लगा. भोजपुरी मूवी विवाहसहलाते सहलाते मैंने उस की चूत को चूम लिया … और धीरे से उसकी चूत को जीभ से चाटने लगा.

मैंने जैसे ही उसकी नंगी अनछुई कमसिन चूत पर अपनी जीभ से नीचे से ऊपर की तरफ चाटा, तो मानो शीनू के अन्दर एक बिजली सी कौंध गई. मेरे घर के बगल में एक भाभी अपने सास ससुर और अपने दो बच्चों के साथ रहती थीं. सेक्स करने में कोई बुराई नहीं होती है बेटा … ये तो नेचुरल सी बात है … और आज नहीं तो कल तुमको भी सेक्स का मजा मिलेगा ही.

अब आगे:कुछ देर बाद सैंडी, बड़ी जुड़वां बहन को लेकर बाहर आता दिखा तो मैं समझ गया कि आज सैंडी ने इसकी ढंग से चुदाई कर दी है. मैं- हाय … अब बोलो … कल क्यों बात नहीं की थी?सोफी- मैं अपने हस्बैंड के सामने कैसे बात कर सकती हूं … वो अभी ऑफिस गए इसलिए बोला था कि कल बात करेंगे.

जब सब ग्रुप फोटो के लिए आए थे, तो उसने मेरा लंड पैंट के ऊपर से पकड़ लिया था.

मगर मेरा बेरहम लौड़ा उसकी गांड के छेद को खोलता हुआ उसके अंदर अपना रास्ता बनाता ही चला जा रहा था. फिर धीरे धीरे उन्होंने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और कुछ ही पलों में पूरा लंड मुँह में भर कर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. वो उनको पीछे करने लगी लेकिन अब्बू बाजी की चूचियों को मसल कर रख दिया.

फुल सेक्सी मूवी वीडियो मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड मुझसे प्रभावित थी और मेरे साथ काफी खुली बात करती थी. मैं दो मिनट तक रुका और फिर उसने नीचे से अपनी गांड हिला कर चुदाई का इशारा दिया.

मेरी रोज़ चुदाई से मेरी चूत काफी खुल गयी थी, अब राजेश का मोटा लंड बहुत आसानी से अंदर चला जाता था. पापा बड़े कमीने हैं जो खुद तो विदेश में दूसरी औरतों के साथ चुदाई करते हैं, अपनी प्यास बुझाते हैं लेकिन मॉम कहीं अपनी प्यास बुझाने इधर उधर नहीं भटक जाए, इसलिए वो वहीं से बैठे बैठे मॉम की प्यास बुझा रहे हैं. फिर वो मेरी मॉम की तरफ देखते हुए बोलीं- अपनी इस रंडी मां के साथ क्या करोगे?मैंने कहा- अब मैं इस रंडी की चौड़ी गांड को मारूँगा.

इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्स

मैंने कहा- लेकिन क्या तुम किसी परायी स्त्री को अपने पति के साथ बर्दाश्त कर पाओगी?वो बोली- मैं तुम्हें उसके साथ ब्याह रचाने के लिए नहीं कह रही हूं. इसलिए नहीं की … और जब तूने जवान होते ही मुठ मारना शुरू कर दिया, तो मुझे तेरे से चुदने का मन हो गया था. आंटी की तेज चीख निकल गई, लेकिन मुझे मालूम था कि ये दर्द कुछ ही देर का है.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, आप मेरी ईमेल आईडी पर मेल करके जरूर बताना. मैं इस बात की पुनः आशा करता हूँ कि कभी न कभी निशा से मेरी मुलाकात फिर से हो जाएगी.

मैंने उससे पूछा- डालूं? तुम तैयार हो?उसने गर्दन हिला कर हाँ का इशारा किया.

बीस मिनट बाद मैंने भाभी को पलट दिया और उनकी चुत को बजाना चालू कर दिया. तभी मैंने देखा उसके लंड से एक के बाद तीन चार धार निकली और आगे सीढ़ी पर जा गिरी. लेकिन भाई ने बोला- डरो मत मम्मी … आज हम लोगों के साथ मेरी बहन भी चुदेगी.

तूने किसके मुंह से क्या सुना है, इसके बारे में तो मुझे पता नहीं लेकिन जो तू सोच रहा है वैसा कुछ नहीं हो पाया मेरे और सौरभ के टीचर के बीच में. मैंने पीछे से आकर उसके चूतड़ों पर एक ज़ोर का चांटा मारा और एक झटके में लंड अन्दर कर दिया. स्काई ब्लू रंग की जींस और पर्पल कलर की शर्ट में वो बिल्कुल मॉडल लग रही थी.

मम्मी की चुत में अंकल का लंड बड़ी तेजी से अन्दर बाहर हो रहा था और मम्मी लंड से चुदने के मजे ले रही थीं.

देहाती सुहागरात सेक्सी बीएफ: मुझे समझ आ गया था कि ये वैसे तो पढ़ने में तेज है, इसने आज तक कभी मुझसे ऐसी बात नहीं कही है. हम दोनों भावनाओं में बह गए थे और उसके नतीजे में अब मैं उसके बच्चे का बाप था.

वो हंसी और लंड हिला कर बोली- सर आँखों पर नहीं मेरी जान … लंड चुत पर कहो. इसके बाद दोनों परिवारों ने विचार विमर्श किया और अंततः हनी का विवाह सुरजीत के साथ हो गया. मैंने पीछे से आकर उसके चूतड़ों पर एक ज़ोर का चांटा मारा और एक झटके में लंड अन्दर कर दिया.

पर मैंने अपने आपको रोक लिया क्योंकि इतना मजा मुझे पहले कभी नहीं आया था.

अन्तर्वासना और फ्री सेक्स कहानी पढ़ने वाले सभी दोस्तों, भाभियों, आंटियों और मस्त लड़कियों को मेरा पहला नमस्कार। मैं काफी समय से अन्तर्वासना की सेक्स कहानियां काफी समय से पढ़ रहा हूं. फिर मैंने उन्हें अपने बिस्तर पर लेटा दिया और एक हाथ उसकी पैंटी के अंदर डाला और जोर से उनकी चूत मसलने लगा. इसी दरम्यान मैंने अंजना को एक नीट पैग दे दिया और उसने एक झटके में ही पी भी लिया.