एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में

छवि स्रोत,मद्रासी मूवी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बिहारी सेक्सी बीएफ: एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में, तब मैं बाथरूम में जाकर उनके सारे कपड़े उठा लाया।फोन के बाद जब दीदी नहाने गईं तो उस वक्त उन्होंने ये नहीं देखा कि उनके कपड़े नहीं हैं।मैं बाथरूम के दरवाजे की झिरी से उन्हें नहाते हुए देख रहा था। दीदी ने अपने सारे कपड़े उतार दिए.

सेक्स व्हिडिओ गुजराती

और उसने एक ही झटके में मेरी जींस और पेंटी दोनों साथ में ही निकाल दिए। अब मैं पूरी नंगी हो गई थी, मेरी चुत भी पूरी नंगी थी, फिर वो भी नंगा हो गया और मुझे पूरे शरीर में किस करने लगा। उसने मेरी चुत के बगल में भी किस किया और उंगली से चुत को टच करने लगा।उसकी मंशा मुझे चोदने की थी, मुझे लगा कि अब वो लंड डालेगा. राजस्थानी सेक्सी वीडियो गीतपर मैं अपने कार्य में लीन था।हालांकि मेरा लिंग भी महाकाय हो चुका था, पर लेप लगाते वक्त वीर्यपात हो जाने से अभी दुबारा फव्वारे पर नियंत्रण था। मैंने योनि की दूध से मालिश करते वक्त अपनी एक उंगली योनि में डाल कर मालिश कर दी, दो चार बार ही उंगली को आगे पीछे किया होगा कि मुझे अन्दर से गर्म लावे का एहसास होने लगा। उसकी योनि रो पड़ी.

तो वो भी चुदास के नशे में बहने लगीं।मैंने कहा- चलो किसी होटल में रूम लेते हैं।इस पर आंटी ने मना कर दिया।मैंने उनके वक्ष को रगड़ना शुरू किया तो उन पर चुदाई का खुमार चढ़ने लगा। उनका बैग मेरी टांगों पर रखा हुआ था। उसकी आड़ में आंटी ने मेरे दहाड़ते शेर पर अपना हाथ रख दिया और उसे बड़े प्यार से सहलाने लगीं।मैंने उनको फिर एक बार होटल के रूम में चलने को कहा. गेम बनाने वाली साइटहिंदी सेक्स स्टोरी की साइट अन्तर्वासना मैं रेग्युलर पढ़ता हूँ, यह मुझे बहुत पसंद है।एक रात को मैं काम से लेट नाइट आ रहा था, उस वक्त कुछ 11 बजे थे।मैं स्टेशन से बाहर निकला तो देखा कोई नहीं दिखाई दे रहा था.

लंड के घुसने के साथ ही मैडम की चीख निकल गई और मैं उन्हें चोदता रहा। मैंने मैडम को सीधा करके.एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में: मेरी इस सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि पड़ोस की मेरी दोस्त लड़की की बुर चुदाई मैंने कैसे की…दोस्तो, कैसे हैं आप सब.

चूतड़ से लेकर चुत तक और चूची से लेकर जांघों तक खूब मालिश करके उनको मस्त किया है।खैर.लेकिन सेक्सी और बिल्कुल बोल्ड थी।कुछ देर के बाद मेरे कमरे में दीदी और उसकी सहेली आई, मेरे सामने आकर बैठ गई। दीदी ने मुझसे कहा- राज.

साडी वली सेक्सी विडिओ - एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में

बोलतीं भी तो क्या बोलतीं।बाद में मैंने गाड़ी का स्टेयरिंग दीदी के हाथ में दिया और कहा- लो.तू अपना प्लान बना ले।इसके बाद मुझे किसी तरह जानकारी हुई कि भाई चला गया है, तो मैं मामा के घर यह सोच कर चल दिया कि आज ना मामा हैं, ना मामा का लड़का है, आज मसलूँगा मामी की मस्त गांड को। पर हाय रे मेरी फूटी किस्मत.

राहुल के कमरे में पहुँच कर मैं सीधे वाशरूम चली गई, इधर उसने वाइन और कुछ खाने को मंगवा लिया। मैं जब बाहर आई तो राहुल वाइन और खाने के सामान को टेबल पर लगा रहा था।ऋचा- ये क्या है?राहुल- कुछ नहीं, आज की शाम को और हसीन बनाने का इंतज़ाम!फिर उसने कमरे की सारी लाइट बंद कर दी और कुछ कैंडल्स जला दी, 2 कैंडल वाइन की टेबल पर और 1-1 कैंडल बेड के दोनों सिरहाने पर, और 1 ड्रेसिंग टेबल पर. एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में !तो जेठ ने जेठानी को जाने का इशारा किया, तो जेठानी ‘ठीक है कुतिया जाती हूँ.

मैंने उसका एक दूध अपने मुँह में लिया और दूसरे को हाथ से दबाने लगा। वो धीरे-धीरे कामुक सिसकारियां ले रही थी ‘हाँ दबाओ.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में?

आआअह!उसने मेरे सर को हाथों से पकड़ लिया।मैं धीरे धीरे दोनों हाथों से उसकी चूचियाँ दबा रहा था, बीच बीच में उसकी निप्पल मसल देता तो वो मचल कर चीख पड़ती थी… उसके मुँह से अब बस मेरा नाम ही निकल रहा था. तुम चाहो तो पीछे डाल लो।यह सुनकर उसने मुझे पेट के बल लिटा दिया। अब उसने मेरे बैग से कोल्ड क्रीम निकाल कर मेरी गांड के छेद में लगाई. कि मेरी चूत लिए बिना सो जाओगे।वो दोनों हँसते हुए बिस्तर पर आ गए, मैं भी कमरे में आ गया।डॉक्टर साहब नेहा की नंगी पिंडलियां सहला रहे थे, धीरे-धीरे उनका हाथ उसकी नंगी जांघों को सहलाने लगे।डॉक्टर साहब बोले- बहुत चिकनी हो गईं.

’ करने लगीं।मैंने जोर का धक्का मारा तो मामी ने आँखें खोलीं और मस्ती से चिल्लाईं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहाहह. मैं भी उसके पीछे आ गया। मैंने उससे बात करना शुरू किया, उसकी आँखों में साफ़ दिख रहा था कि वो भी मुझसे चुदवाने के लिए उतावली है।मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?वो बोली- हाँ. हम और ज्यादा तेज तेज उसकी गांड और चुत चोदने लगे, वो हम दोनों मर्दों के बीच सैंडविच बन कर चुद रही थी।मैं उसकी गांड लगातार चोदे जा रहा था- ले साली कुतिया उई आह ले मादरचोद.

तुम अभी उनके कमरे में जाकर सो जाओ।मगर मैंने मना कर दिया और तैयार होकर चाचा-चाची के साथ खेतों में चला गया। रेखा भाभी के लड़के सोनू को भी हम साथ में ले आए। सुमन की परीक्षाएं चल रही थीं इसलिए वो कॉलेज चली गई।रेखा भाभी को खाना बनाना और घर व भैंस के काम करने होते हैं. और सब ऐसे ही पड़े रहे।कुछ देर बाद उठे तो पता चला कि सबकी नींद लग गई थी और शाम हो चुकी थी।हमने झटपट अपने टिफिन का खाना खा लिया जो हमने सुबह स्कूल के लिए रखा था।उसके बाद एक राऊंड और चला, दूसरे राऊंड में मैंने खुलकर मजा किया। फिर उन्होंने मुझे घर छोड़ दिया।मैंने मम्मी से सर दुखने का बहाना किया और अपने कमरे में जाकर सो गई।कहानी जारी रहेगी. उसके हाथों ने एक और भी काम किया और बिना अपने होंठ मेरे सीने से हटाये मेरी टी-शर्ट जो कि सिमट कर गर्दन पे फंसी हुई थी उसे निकल देने का प्रयास किया.

पूरा शरीर जैसे साँचे में ढाला गया हो। आँखें बिल्कुल स्याह काली, उम्र लगभग 18-19 की, जिसकी तरफ देख ले तो आदमी वहीं थम जाए।मैं उसे देखते रह गया. जिससे रेखा भाभी के कूल्हे हल्के-हल्के जुम्बिश से खाने लगे।रेखा भाभी की योनि पहले से ही काफी गीली थी और अब तो योनि से पानी रिस कर मेरे मुँह पर व उनकी जाँघ पर फैलने लगा।मैं रेखा भाभी की योनि को चूमता.

दो दिन पहले ही बाल साफ किए थे।मैंने अपना मुँह भाभी की चुत पर लगा दिया व जोर-जोर से चुत चूसने लगा। भाभी सीत्कारने लगीं- आहह.

तो मौसी की चूत की गंध कैसी होगी!यही सोच-सोच कर मैं चड्डी के अन्दर हाथ डालकर अपने लंड को सहला रहा था। थोड़ी देर बाद मौसी अन्दर आईं और मेरे बाजू में आकर लेट गईं।उन्होंने मुझसे पूछा- रोहित सो गया क्या?मैंने कहा- हाँ बहुत नींद आ रही है।पर मुझे तो असल में नींद ही नहीं आ रही थी.

वो किसी गरम कुतिया की तरह और आगे की तरफ झुक कर अपनी गांड भैया के लंड में घुसाने लगीं।अब भैया का खड़ा लंड ठीक मम्मी की गांड की दरार में से होकर उनकी चूत वाले हिस्से में घुसा जा रहा था और वहाँ से मम्मी की नाइटी अन्दर को घुसी हुई दिख रही थी।इधर मम्मी मदहोश हुई जा रही थीं कि तभी भैया ने डब्बा उतार कर मम्मी के आगे रख दिया. शायद ब्वॉयफ्रेण्ड भी था।रिया ने कोई जवाब नहीं दिया।मैंने उसे पढ़ाया और वो चली गई।अगले दिन जब वो आई तो मैंने पहले से सोच रखा था कि आज तो रिया से सच पूछ कर ही रहूँगा।वो आई. मगर उनकी योनि के बाल मेरे मुँह में आ रहे थे। इसलिए मैं अपने दोनों हाथों को भी रेखा भाभी की जाँघों के बीच में ले आया, मैंने अपनी उंगलियों से उनकी योनि की दोनों फांकों को फैलाकर जीभ लगा दी।मैं भाभी की योनि की लाईन में धीरे-धीरे जीभ घुमाने लगा.

वे सभी अपने कपड़े उतारने लगे और मैं अंकुश के साथ शराब पीने लगा। रवि ने वक़्त खराब ना करते हुए मॉम के मुँह में अपना लम्बा लंड दे डाला और नीचे से शाहिद मॉम की चुत को चाटने लगा।फिर मैं और अंकुश पैग बना कर पीने लगे। कुछ मिनट अपना लंड चुसवाने के बाद रवि ने मॉम की चुत पर अपना घोड़े जैसा लंड रखा और अन्दर डालने की कोशिश करने लगा।मॉम ने दर्द से कराहते हुए कहा- जान धीरे करना. वो अपनी पुरानी छुपम छुपाई खेलेंगे।’मैंने हंस कर उसको अपनी बांहों में जकड़ लिया और उसके मुलायम चूतड़ों को दबाने लगा। वो अपने बूब्स मेरे सीने में दबा रही थी और मुझे चूम चूम कर प्यार कर रही थी।‘अच्छा चल आ जाऊँगी. उनको भी खूब मजा आ रहा था।मॉम बोलीं- तू तो बड़ा ही तेज है।यह कहते हुए मॉम ने मेरे पजामा का नाड़ा खोल दिया। मैंने भी झट से पजामा और अंडरवियर दोनों एक साथ ही उतार दिए। मैंने भी उनके पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया.

अब क्या करूँ?मैंने कहा- तौलिया लपेट कर बाहर आ जाओ।तो दीदी बाहर निकल आईं।दीदी का पूरा शरीर तौलिए से साफ नजर आ रहा था। मैं कामुक निगाहों से दीदी को ही देख रहा था। तौलिया भी भीग कर पारदर्शी सा हो गया था।दीदी बोलीं- मेरे कपड़े कहाँ हैं?मैं दीदी के चूचे देख रहा था, चूचे अभी भी अपने पूरे रंग में थे।फिर दीदी रूम में गईं.

पिंडली से जांघों को पेट को चूमते हुए ऊपर आया तो ब्रा पर मेरे होंठ रुक गए।मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी ब्रा को पास रखी कैंची से काट कर कप अलग कर दिए।अब उसके गुलाबी भरे-भरे जवान कसे हुए उरोज मेरे सामने थे। मैं खुद को रोक नहीं पाया और ये भूल कर कि वो मेरी भतीजी है, उसके उरोजों को चूसने लगा।एक बोबे को में चूस रहा था. उसकी छाती लाल हो गई थी। वो अभी भी पागलों की तरह चिल्ला रही थी- आह्ह. पर मैंने मामी को पेंटी नहीं दी। मामी नंगी ही कमरे में मेरे पीछे दौड़ते हुए लेने की नाकाम कोशिश करती रहीं और फिर बिना पेंटी के सलवार पहनते हुए बोलीं- रख ले.

तो वहाँ दो तीन दिन रहता ही था।इस बात को अभी 6 महीने ही हुए थे कि चाचा की गाँव में टीचर की जॉब लगने की खबर आई. मेरा कद 5 फट 3 इंच है, रंग दूध की तरह सफ़ेद है।मेरा साइज़ 30-26-32 का है. नाभि तथा पीठ से लेकर कमर तक को सहलाने लगा।अब भाभी को भी मजा आने लगा था। भाभी ने मेरे लंड को छोड़ कर दोनों हाथों से मुझे पकड़ लिया और आँख बंद करके अपने नीचे वाले होंठ को दांतों के नीचे दबाते हुए कमरे में चलने का इशारा करने लगीं।मैंने भाभी को गोद में उठाया और सामने के बेडरूम में लेकर चला गया। पर वहाँ भाभी की लड़की सो रही थी।भाभी बोलीं- नहीं यहाँ नहीं.

अन्दर जा रहा है!बस अब सर ने मोटा लम्बा लंड उसकी गांड में बेरहमी से पेल दिया। टोपा अन्दर जाते ही सर ऊपर चढ़ गए, अपने दोनों हाथ पीछे से कैलाश के बगल से निकाल कर आगे कस लिए। फिर लंड के जोरदार धक्के से उसे पूरा का पूरा गांड के अन्दर कर दिया और कैलाश से चिपक कर रह गए।एक-दो पल बाद सर ने उसके गालों के चुम्मे लेने शुरू कर दिए.

तो मेरे सामने झुक कर मुझसे बात करती थी जिससे उसके मम्मों की झलक मुझे बहुत उत्तेजित करती थी।एक दिन मैंने उससे उसकी खूबसूरती के लिए कहा- तुम बहुत खूबसूरत हो।तो वो मुस्कुरा दी।उस दिन उसके हावभाव से मुझे उसकी चुदास सी दिख रही थी।मैंने उसे मेरे घर तक छोड़ने को रिक्वेस्ट की। वह मान गई। जब मेरे कमरे में पहुँची तो मैंने उसे बैठने के लिए कहा।मैंने उसे बताया कि मैंने Squirting के बारे में पढ़ा है. कोई भी ड्रेस पहनो उछल उछल के उसमें से बाहर झाँकने को हमेशा तैयार!नौवीं क्लास में थी कि स्पोर्ट्स छुट गए! खेलती भी कैसे… अपने मम्मों को संभालती या शटल को?पी टी टीचर का तो हमेशा टनाटन रहता था… जब शटल गिरता तो सब के सब आँखें फाड़ फाड़ के मेरा उसे झुक के उठाने का इंतजार करते!कम रांड तो मैं भी नहीं थी, ऊपर के दो बटन तो हमेशा खुले रखती थी.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में मैं चुत को चाटने लगा।उसकी चिकनी चुत पर पहली बार किसी ने किस किया था. मेरा बड़ा लंड देख कर वो बोली- कमीने, मैं तो कल ही समझ गई थी कि तेरा लंड मेरी चूत की सैर करना चाहता है.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में उम्म्ह… अहह… हय… याह… पर मैं अबकी बार रुका ही नहीं और मैंने एक और धक्के के साथ अपना पूरा का पूरा लंड दीदी की चूत में पेल दिया।उनकी आँखों से आंसू निकल पड़े और वो चिल्लाने लगी थीं। मैंने उनके चिल्लाने की कोई परवाह नहीं की और मैं रुका ही नहीं. फिर यूं ही लगभग रोज ही उससे काफ़ी-काफ़ी देर देर तक चैट होती रहती थी। अब हम काफ़ी खुल गए थे और खूब बातें करते.

राजा तेरे लंड ने मेरी बुर का छेद फाड़ दिया।मैंने फिर से धक्का दिया और पूरा लंड भाभी की बुर में डाल दिया।भाभी कराहते हुए बोली- ऊई.

सेक्सी वीडियो मूवी हद

थोड़ा लंड अन्दर घुस गया, पर सील तो टूटना बाकी थी, वो दर्द से तड़फ रही थी।मैंने थोड़ा और जोर से लंड पेला, तो वो चिल्ला उठी- बाहर निकालो. वो हल्की छुवन कामवासना को बढ़ा रही थी, हिना की पकड़ मेरे हाथ पर अब कसने लगी थी, उसके जिस्म की आग अब भड़क रही थी।तभी शायद समीर झड़ने वाला था और वो हिला. इधर ऐना बाजी उनके मम्मों को सहला रही थीं।मैंने चाची को बैठा कर उनकी नाइटी को उतार दिया, चाची अब पेंटी और ब्रा में थीं, मैंने चाची की ब्रा और पेंटी को भी उतार दिया।अहह.

और अपना घाघरा निकाले बिना उसे ऊपर करके मेरे मुँह की तरफ मेरे ऊपर लेट गई। अब हम 69 की पोजिशन में थे।‘वाह रे मेरी रांड. मैंने कहा- ठीक है, जाकर फोन करना!3-4 दिन बाद फोन आया- दलबीर जी, मुझे यहाँ लंबे टाइम तक रहना पड़ेगा क्योंकि बेटे के एग्ज़ाम होने वाले हैं और उसकी तबीयत भी ठीक नहीं है, मैंने यहाँ एक फ्लैट रेंट पर ले लिया है. चढ़ बैठ!यह कह कर उसने मेरा लंड पकड़ लिया और चूसने लगा।फिर कैलाश ने मुझे उसके ऊपर बिठा दिया। मेरा लंड तो फड़फड़ा रहा था.

इसलिए हाथ अन्दर नहीं घुसा पाया।अगले दिन मैंने उसकी ये वाली टी-शर्ट छुपा दी और उसके नाईट वियर की शर्ट का चेस्ट बटन तोड़ दिया.

साथ ही योनि की फांकों को चूमते हुए होंठों से ही धीरे-धीरे योनि के अनारदाने को भी तलाश कर रहा था।मगर थोड़ा सा नीचे बढ़ते ही मुझे कुछ गीलापन सा महसूस हुआ। इसका मतलब था कि रेखा भाभी को भी मजा आ रहा है. फिर बाद में चूसने लगी।उसके गर्म मुँह में मेरा लंड आग का गोला बन गया। मैं जन्नत की सैर कर रहा था ‘आह उहह. उनकी पेशाब मुझे बहुत गरम लगी।अपनी उंगली को उनकी पेशाब की धार से गीला करने के बाद मैंने अपनी नाक में ले जाकर सूँघा। उनकी पेशाब की खुशबू बहुत ही लाजवाब थी। मैंने जल्दी से अपने मुँह में डाल कर अपनी उंगली को चूस लिया। पायल आंटी की पेशाब का स्वाद बहुत ही मस्त था।पायल आंटी मेरी इस हरकत को देख के हँस दीं- हाए रे.

’ ये कहते हुए मैं झड़ गया।उधर वैभव भावना की टाईट गांड में लंड डालने की वजह से झड़ने लगा, वैभव झड़ने से पहले सिसियाने लगा- आह्ह. और तब तक बढ़ती रही, जब तक तूफान शांत न हो गया, हम दोनों एक साथ ही स्खलित हुए थे।दोनों ऐसे ही लेटे रहे और आँखें मुंद गईं। जब शाम चार बजे नींद खुली. मैं बहुत तड़प रही हूँ। मेरी चूत में अपना पूरा लंड पेल दो।तो मैंने भी अपने हाथ से लंड को सहलाया और उसकी चूचियों क चूस कर खुद को दुबारा से रेडी किया। फिर मैंने अपने पोजीशन में आकार अपने हाथ से अपने लंड को पकड़कर उसकी मुलायम चूत पर रख दिया और धीरे से सुपारा चूत की फांकों में फंसा दिया। चूत के अन्दर लंड पेलते ही उसके मुँह से थोड़ी जोर से ‘आहहह.

सच में खुल कर चुदाई करने का मजा ही अलग होता है। तुम तो राजी हो ना?मैंने भावना की ठोड़ी पकड़ कर उसका चेहरा देखा तो भावना ने पलकें झुका लीं।मैंने वैभव से कहा- क्यों यार. पर वो नहीं मानी और कपड़े पहनने लगी। उसने सोचा कि ऐसा करने से मैं मान जाऊँगा, पर उसे कहाँ पता था कि मैं कितना बड़ा हरामी हूँ।मैं उसकी चूत चाट चाट कर उसकी चुत की आग भड़काने लगा, मुझे पता था कि अब वो रह नहीं पाएगी.

तो क्रिकेट की गेम शुरू हो चुकी थी इसलिए मुझे किसी टीम में नहीं लिया गया तो मैं एक तरफ जाकर बैठ कर क्रिकेट देखने लगा।तभी प्रमोद वहाँ आया और उसने मुझसे कहा- अगर तुम चाहो. जिससे वो और सिहर उठती।कुछ ही मिनट के बाद वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी- आआआहह ऊऊऊऊ यस्स अजय फक मी हार्डर. तो वो मचलने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसे हर जगह चूमा। अब उसकी शर्म खत्म हो गई थी, वो भी मुझे हर जगह चूम रही थी।मैंने उसकी ब्रा उतार दी, उसके चूचे कम से कम 36 साइज़ के होंगे, ब्रा खुलते ही दोनों चूचे एकदम से उछल कर बाहर आ गए।मैंने उसके चूचुकों को चूसना और हल्का-हल्का काटना स्टार्ट किया.

इसमें तुम्हें पैसे भी मिलेंगे और मजा भी आएगा।मैं कुछ समझा नहीं, मैंने उसे इसके बारे में पूछा तो वो बोली- धीरे-धीरे सब समझ जाओगे.

तो वो मदहोश होने लगी और अचानक मुझसे दूर भाग गई। मैं उसे अपनी बांहों में उठाकर बेड पर ले गया।अचानक वो रोने लगी. उसकी मॉम के बारे में है।अब मैं आपको उसकी मम्मी के बारे में बताता हूँ। उसकी मम्मी का नाम रेखा था. आज से पहले मुझे इतना मजा कभी नहीं मिला!वो यह कहते हुए झड़ गई।अब वो ढीली पड़ चुकी थी और कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया। कुछ देर तक हम ऐसे ही पड़े रहे.

न उसने, मैं सब कुछ भूल कर अपनी ज़िन्दगी में मस्त हो गया।दो से तीन दिन बाद शाम को उसका कॉल आया, मैंने कॉल काट दी।फिर कॉल आया तो मज़बूरन उठाना पड़ा, मैंने कहा- हेल्लो।उसने कहा- मुझे तुमसे कुछ कहना है।मैंने भाव खाते हुए कहा- जो बोलना है जल्दी बोलो?उसने कहा- आई लव यू टू। मैं तुमसे मिलना चाहती हूँ अभी!उसने मुझे कॉलेज के लॉन में बुलाया. मानो हफ्ते भर पहले ही बनाई हों।मैं अब पूर्ण रूप से वासना के आवेश में था.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… उसे नंगी देखकर मेरे चेहरे पर पसीना आ गया। फिर एकदम से मैंने थोड़ा सा खांसा।वो एकदम से मुड़ी और मुझे देखकर चौंक गई और अपने शरीर को अपने हाथों से ढकने की कोशिश करने लगी।मैंने कहा- सॉरी यार. कब नींद के आगोश में चले गए, कुछ पता ही नहीं चला।दो घन्टे बाद भाभी की बेबी जागी. तुम यहाँ से कहीं और चले जाओ, इस एरिया से निकल जाओ क्योंकि मेरे पति ने तुमसे पूरा बदला लेने का सोच रखा है। वह सिर्फ दिखते शांत हैं, पर मेरे ससुराल वाले बड़े पहचान वाले हैं तुम्हारे साथ कुछ भी अहित हो सकता है।भाभी ने मुझसे इतना कहा और चली गई।वह आई और चली भी गई.

मजेदार सेक्सी वीडियो दिखाएं

कि तुम क्या करवाना चाहते हो? वैसे भी इतना मोटा लंड चूसे बिना रहा भी नहीं जाएगा, पर पता नहीं मुझे तो लगता है मेरे मुंह में तो सिर्फ आगे का थोड़ा सा ही हिस्सा जा पाएगा।इतना कहते ही उसने मेरा लंड मुंह में ले लिया।उसको दिक्कत हो रही थी, पर मैं भी अभी पूरे जोश में था। मैंने उसके बाल पकड़ कर एक झटके में ही लंड का आगे का सुपारा उसके मुँह में ठूंस दिया।‘ले रंडी चूस अपने जेठ का लंड.

तब उसने मुझे नीचे लिटाया और खुद ऊपर आकर मुझे चोदने लगा और मेरी चुची चूसने लगा. पर मैं उसकी जांघों को चूमने लगा और इसके बाद उसकी पैंटी भी उतार दी।अब मेरे सामने उसकी बुर खुली पड़ी थी। पहले तो मैंने उसकी बुर पर छोटा सा किस किया और उंगली डाल कर हिलाने लगा। बुर में उंगली जाते ही उसके मुँह से आवाजें निकलना शुरू हो गई- आह्ह. सर ने अपना लंड मेरी बुर की दरार पे रगड़ना चालू कर दिया।मेरी बुर पहले से ही पानी पानी थी, मैं उत्तेज़ना से कांपने लगी- ओह्ह्ह्ह सरर… बहुत अच्छा लग रहा है, उफ्फ सर, आप कितने प्यार से करते हो.

उम्म्ह… अहह… हय… याह…मेरा लंड पत्थर जैसा सख्त हो रहा था।उसने अपने दांतों से होंठों को चबाते हुए अपनी आँखों पर दुपट्टे से पल्लू कर लिया। यानि सिग्नल ग्रीन हो गया था. उनकी अंडरवियर के अन्दर उछल-कूद करने लगा।माशूक नमकीन लौंडे की गांड में घुसने को अंडरवियर से बाहर निकलने को मचलने लगा। सर जी का लंड बुरी तरह फड़फड़ाने लगा।हम नमस्कार करके चलने लगे, तो सर बोले- रुको. मारवाड़ का सेक्सी वीडियोउसकी 36-30-36 की कामुक फिगर की क्या कहूँ, देखते ही लंड अकड़ जाता है। उसका रंग भी एकदम दूध सा गोरा.

वर्षा मेरे गांव की देसी सी लड़की है जो पास ही के मोहल्ले में रहती है। वो मेरे गांव की सबसे सुंदर लड़की है, उसे सब लड़के अपनी बनाना चाहते थे, पर वो किसी को ज्यादा भाव नहीं देती थी।मैं पढ़ाई के कारण हमेशा ही गाँव से बाहर रहा था, कभी-कभी ही गांव आ पाता था।जिस वक्त की यह घटना है. आंटी के पति 3 दिन के लिए बाहर गए थे, आंटी घर पर अकेली थीं। मैं खाना खाकर बाहर घूमने के लिए निकला ही था मेरे पास आंटी का फोन आया- मेरी कमर में मोच आई है और सोहल के पापा भी घर पर नहीं हैं.

हम दोनों इतने थक चुके थे कि कब आँख लगी, कुछ पता ही नहीं चला। सुबह अलार्म की वजह से 5 बजे मेरी नींद खराब हो गई. मैं नीचे ही बैठा था।भाभी भी मेरे पास ही आकर बैठ गईं और बोलीं- आजकल दिखते नहीं हो?मैंने कहा- भाभी मैं तो दिखता हूँ, आप ही दिखाई नहीं देतीं!वो बात बदलते हुए बोलीं- आज भैया नेपाल गए हुए हैं।उस समय मैंने नाईट सूट पहन रखी थी जैसा कि मैं आपको बता चुका हूँ कि मेरे लंड का साईज काफी बड़ा है. मैं रेखा भाभी के धक्के-मुक्के सहकर भी उनके होंठों के रस को पीता रहा और साथ ही दूसरे हाथ से उनके ब्लाउज व ब्रा को ऊपर खिसका कर उनके दोनों उरोजों को निर्वस्त्र भी कर लिया।अब रेखा भाभी के नंगे नर्म, मुलायम और भरे हुए उरोज मेरे हाथ में थे.

इसलिए मैं बाथरूम का बहाना करके बेड से उठ गया और थोड़ा दरवाजा खुला रख कर कमरे से बाहर से ही आंटी को देखने लगा।मेरे कमरे में ना होने के कारण, आंटी अपने हाथ को चुत पर रख कर जोर-जोर से मसलने लगीं। मैं समझ गया कि इस वक्त आंटी को किसी का भी लंड मिलेगा, तो वो खुशी से चुदवा लेंगी, पर मैंने सोचा का लाईट के उजाले में आंटी को चुदवाने में शरमाने न लगें. जिससे भाभी कराह पड़तीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर अब वो मुझे हटाने की कोशिश नहीं कर रही थीं. तब जाकर वो मानी।मैंने फिर दोहराया- चुदाई करना कैसे सिखाया?भावना थोड़ा शरमा कर बोली- संदीप तुम भी ना सब कुछ मत पूछा करो.

तो तुम भी मेरे साथ चलना!मैंने ‘हाँ’ बोला और उसे किस करके गाड़ी से उतर गई। इसके बाद मैं अपने ऑफिस में आ गई।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी सेक्स स्टोरी.

मैं तेरे लिए शरबत बना कर लाती हूँ।अब आंटी उठ कर अन्दर चली गईं। कुछ देर बाद आंटी शरबत बना कर लेके आईं. वे दोनों मुझसे उम्र में बड़े हैं। मौसी के पति यानि मेरे मौसा जी की उम्र 52 साल है.

इसके लिए अपने सुझाव इस एड्रेस पर मेल कर सकते हैं। ये मेरी पहली कहानी है. मतलब फैला दो।उसने वैसे ही किया। जब उसने अपनी टांगों को खोला तो मेरा लंड उसकी चुत की फांकों के बीच में आ गया।मेरा लंड मोटा और लम्बा है. पहले तो वंदु ने अपनी उंगलियों से ही मेरे लंड को टटोला और फिर अपनी एक हथेली में मेरे पूरे लंड को जकड़ लिया… और सिर्फ जकड़ा ही नहीं बल्कि अपनी हथेली कि पकड़ इतनी मजबूत कर ली मानो कोई कसाई किसी मुर्गे को हलाल करने से पहले उसकी गर्दन दबोच लेता है.

तो ये तेरे गालों पर जो माल चिपका था और खिड़की से मुझे सिसकियां सुनाई दीं. और हिना भी!अधखुली आँखों से मैं देख रहा था कि समीर एक बार फिर हिना के पीछे गया और उसकी चूत और गांड से मेरा वीर्य चाट चाट कर साफ़ कर रहा था। वो साफ करने के बाद उसने मेरा लंड भी चूस कर साफ किया।इसके बाद मैं सो गया. फिर 3 दिन बाद हम दोनों के मोबाइल नंबर एक्सचेंज हुए। अब हम दोनों कॉलेज समय से पहले पहुँच जाते और क्लास रूम में रोमांस करते।दोस्तो, मैं आपको कैसे बताऊँ.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में जिसकी बहन सनी लियोनी से कम नहीं थी। मैं हर रोज़ भूमिका का शरीर निहारता था। जब वो सोती थी. उससे पहले ही आधा लंड उसकी चुत में पेवस्त हो गया। लंड की धमक इतनी तेज थी कि उसके मुँह से हल्की सी चीख निकली- उई.

छक्के सेक्सी वीडियो

उसका बहकने का यह पहला कदम था क्योंकि शायद उसे मेरी निडरता और बोलने का तरीका भा गया था।अब प्रेम की गाड़ी पटरी पर चल पड़ी थी। उसके पति के जाने के बाद रोज फोन पर बातें और गार्डन में टहलने के बहाने मिलना और बालकनी से इशारे वगैरह होने लगी, पर उन बूढ़े दादाजी को कैसे भूल सकते हैं। हम दोनों इशारे करते. जाओ वो जब तक है उसी के पास बने रहो और कमरे में मत आना। खुजली होती रहती है बस साले चूतिये को. जो कि बहुत कामुक स्थिति थी।कमरे में एक अजीब सी मादक खुशबू फैल गई थी। मैं उसे चाटे जा रहा था और वो पानी छोड़ती जा रही थी। वो पागलों की तरह तड़प रही थी। मैंने उसे मुँह में अपना लिंग देना चाहा, पर वो नकार गई, मैंने कोई जबरदस्ती नहीं की।अब उसने अपने पाँव फैला लिए। मैंने अपने होंठ वहाँ रखे और बस चाटना शुरू कर दिया.

आपको आपका प्यार ज़रूर मिलेगा और जल्द ही आपके घर आपके बच्चे को खिलाते हुए आपके हाथों का लज़ीज़ खाना भी खाऊँगा।मेरी इस बात से उनको थोड़ी हँसी आ गई और वो बोलीं- क्या बात है. मेरा लंड पेंट को फाड़ कर बाहर निकलने को मचल रहा था। मेरा लंड औसत से काफी लम्बा और मोटा है, सो मैं अपने लंड को पैंट के ऊपर से ही मसलने लगा। भाभी ने भी ये नोट कर लिया था।जब भाभी बाथरूम गईं. फुल एचडी में सेक्सी हिंदी मेंऔर आँख मार कर हंसती हुई नीचे चली गईं।मैं कपड़े पहन कर नीचे आया और प्रीति को ढूँढने लगा, वो नहाकार निकल रही थी, मैंने महसूस किया कि वो थोड़ा पैर फैला कर चल रही है।आपको मेरी ये चुदाई की कहानी कैसी लगी.

साहिल ने पूछा- जिम चलोगी?मैंने कहा- यहीं कसरत कर लो मेरे ऊपर!तो वो मुझे फिर बैडरूम में ले गया और नंगी कर के फिर से चोद दिया.

और अपने हाथ को मेरे सर पर फिराने लगी।मैंने उसके दाने को दाँत से थोड़ा काटा तो वो धक्का देकर मेरे सर को अलग करने लगी, पर मैंने जोर से उसके दाने को मसल दिया!वो तड़प उठी और बोली- मेरे राजा. इसलिए बेचैनी है।फिर वो 69 में होकर मेरे लंड से खेलने लगी।मैंने उससे कहा- इससे अब तुम अपने मुँह में ले लो।वो बोली- नहीं.

देख मेरा बहुत दिनों से सपना है कि मैं तुझे नंगी देखूँ। आज मौका मिला है घर में भी कोई नहीं है। चल ना. मन लगाने!वो भी रोमांटिक व उत्तेजित होने लगीं।मैं भी रोमांटिक बातें करने लगा।मैं समझ गया कि भाभी गर्म हो रही हैं, मैंने भाभी को बोल दिया- आप बहुत सुन्दर लगती हैं।वो बोलीं- कैसे?‘भाभी आपकी सुन्दरता की पहचान आपके फिगर से होती है।’इतने में भाभी बोलीं- फिगर तो आपकी भी काफी अच्छी है।मैं समझ गया कि भाभी सेक्स की भूखी हैं व वह मेरे लंड की प्यासी हो चुकी हैं।मैंने बोल दिया- भाभी. और वो अपना मुँह थोड़ा नीचे झुकाकर मेरे लंड के पास ले गई और एक लंबी सांस लेकर उल्टे कदम बाथरूम की तरफ चली गई।अब तो कोई गुंजाइश ही नहीं थी कि रोशनी मुझमें इंटरेस्टेड है।तभी मुझे बाथरूम से नल से पानी बहने की आवाज आई.

मामी दो-दो आदमियों से चुदने में लगी थीं। वे एक साथ दो-दो लंड आगे-पीछे के दोनों छेदों में घुसवा कर चुदवा रही थीं।‘अहा.

तो वहां के सारे लड़के उस पर फ़िदा थे। मैं ज्यादातर कॉलेज में ही रहता था, तो अपनी इस नई पड़ोसन को नहीं देखा था।पर जब एक संडे को सारे दोस्त एक साथ बैठे, तब ही मुझे पता चला कि मेरे पड़ोस में एक पटाखा आइटम रहने आया है। अब मैंने उस पर नजर रखना शुरू की और उससे बात करने की कोशिश की पर मेरी उससे कोई बात नहीं हो पाती थी।मेरे पड़ोस में होने के नाते मैंने देखा था कि जब भी वो फ्री होती थी. 30 बजे थे। मैं काफी गर्म हो गया था और मैंने सोच लिया कि आज कुछ भी हो जाए, बाजी की बुर चुदाई ज़रूर करनी है।रात के 2. तो उसे उसकी गांड में इसका एहसास हो रहा था।वो बोली- मुझे जल्दी से घर ले जाकर ये दिखा दो.

वीडियो सेक्स राजस्थानआह उफ्फ उफ्फ्फ उफ्फ य या या या आह्ह्ह!मेरा जिस्म तड़प रहा था और वो शैतान मुझे तड़पा तड़पा कर मजा ले रहा था, मेरे हाथ उसकी बालों को सहला रहे थे, मेरी मादक सिसकारियां ‘आआआ आआऐईईई ईईईई… आआह्ह ऊऊ… ऊऊह्ह्ह ऊओफ…!उसके हाथ मेरी ब्रा के ऊपर से ही चूची को सहला रहे थे, मेरे निप्पल उत्तेज़ना में खड़े हो गए. और इसकी दौरान वो अपने एक हाथ से मेरे चूचे की गोलाई मापने लगा था। अभी मुझे दूध का मजा आ ही रहा था कि उसने अपने दूसरे हाथ से मेरी चूत में उंगली करना शुरू कर दी।मैं गनगना उठी और अपने हाथों से सहारा लेकर बैठ गई। तभी उसने मेरे दूध छोड़े और नीचे झुक कर मेरी चूत का रस पान करने लगा।मैं चूत पर उसकी जीभ का अहसास पाते ही चुदासी सी होकर ‘आहें.

सेक्सी मूवी यूट्यूब

और उससे चुदवा कर मुझे बहुत मज़ा आया था।’ नयना ने सरला की बदमाश निगाहों की तरफ देख कर जवाब दिया।नयना को मालूम था कि सरला को चुदाई के बारे में विस्तार से सारी बातें सुनने में बहुत मज़ा आता हैम मेरी गर्लफ्रेंड सरला को चिढ़ा रही थी।सरला ने मुस्कारते हुए अपने हाथ से उसकी कसी हुई कमीज़ के ऊपर से चूची छूते हुए पूछा- हाय राम सच्ची. बस मुझे धकापेल चोदे जा रहे थे। संजू कह रहा था- कई दिनों से तुझे चोदने का दिल में तमन्ना थी. फाईनल ईयर का छात्र हूँ। अगर किसी भी विषय में कोई तकलीफ आए तो बेझिझक पूछ लेना।उसने हँस कर कहा- ओके।इतने में हमारा कॉलेज आ गया.

अब मत तड़पाओ।फिर भी मैंने उसको थोड़ा तड़पाया क्योंकि लौंडिया जितनी ज्यादा तड़पेगी. और मुझे मालिश करने में भी प्रॉब्लम हो रही है… आप इसे उतार दो!माँ ने मेरी तरफ देखा और सेक्सी सी मुस्कान के साथ कहा- तू ही उतार दे!मैंने झट से माँ के पेटीकोट का नाड़ा खींच कर उसे उतार दिया।अब माँ केवल पेंटी और ब्लाउज में थी।मैं माँ की जांघों की मालिश करने लगा… कभी कभी मैं माँ की गांड और चुत को उंगली से छू देता. पर उसमें दूध नहीं निकल रहा था।पायल आंटी- अनमोल दूध निकला मेरी चूची से?मैंने निप्पल से मुँह हटाते हुए कहा- नहीं पायल जी.

मैं उनके जिस्म के नीचे दबी थी, सर ने उसी अवस्था में एक हाथ से अपना लंड पकड़ कर बुर पर रगड़ा और फिर…एकदम से मेरी चीख निकल गई- ऊईईई… मर गईईई… रेएए ! आह्ह्ह… मरररर… गई!मेरी बुर में कुछ घुस गया था. शादीशुदा हूँ। मैं एक प्राइवेट जॉब कर रहा हूँ और अच्छी लाइफ चल रही है।हिंदी सेक्स स्टोरी की सबसे बेहतरीन साईट अन्तर्वासना पर मैं पिछले 4 साल से चुदाई की कहानियां पढ़ रहा हूँ। मैंने इधर की लगभग सभी कहानियां पढ़ी हैं। मुझे अन्तर्वासना की सभी कहानियां अच्छी लगती हैं इसलिए अब मेरा भी दिल कर रहा था कि मैं भी अपनी सेक्स स्टोरी लिखूँ।वैसे तो मैंने 18 साल की उम्र में ही पहला सेक्स कर लिया था. वैसे भी गाड़ी काफी अच्छी चलाते हो। मेरे घर में एक नीचे वाला कमरा भी खाली है।मैं बहुत खुश हुआ।अब तक हम उनके घर पर पहुँच गए। बाहर तैनात कुछ गार्ड्स ने उनको उनके कमरे में पहुँचाया, मैं भी साथ ही था। कुछ देर बाद सभी गार्ड भी चले गए।रवीना बिस्तर पर लेट गई और उसने मुझसे कहा- चोट ज्यादा नहीं है.

तो देखी जीजू भी टॉयलेट जा रहे थे।उन्हें देख कर सुबह-सुबह मेरी नियत खराब हो गई, मैं दौड़ कर टॉयलेट के पास आ गई।चूंकि हम सबका टॉयलेट कॉमन है।मैं बोली- रूको. वहां पर उसने मेरी स्कर्ट निकाल दी, उसने देखा की मैंने पर्पल कलर की पेंटी भी पहन रखी है।मेरी पर्पल पेंटी देखते ही वो बहुत खुश हुआ और उसने मेरी पेंटी के ऊपर से ही मेरी चूत को चूमना शुरू किया.

उसकी चुत के रस की गर्मी से अब मैं भी झड़ने वाला था। मैं उसे तेज़ी से चोदने लगा और अपने लंड का सारा माल उसकी चुत में भर दिया।कुछ देर यूं ही पड़े रहने के बाद जब उठ कर देखा तो चादर पर खून लगा हुआ था। ये देख कर वो डर गई कि ये क्या हुआ.

वो अन्दर इतनी पागल हुई पड़ी थीं कि बस पूछो ही मत। कुछ ही देर में वो जानबूझ कर एकदम नंगी ही बाहर आ गईं और मेरे सामने अपनी चुत में उंगली डाल कर मुझसे बोलीं- जा. इंडियन विलेज गर्ल सेक्स हद वीडियोबस भाभी की ही जीभ को चूसता रहा।जब मैंने अपनी जीभ भाभी के मुँह में नहीं दी. 2012 का सेक्सी वीडियोऔर एक बार तो उन्होंने मुझे सरका कर अपनी साड़ी उठा कर पेटीकोट में हाथ डालकर अपनी बुर में भी उंगली की।मैंने पूछा- क्या हुआ. और उठी हुई गांड पूरे 36″ की थी।उसको पहली नजर में ही देख कर मैं एकदम पागल हो गया, मैंने सोचा अगर ये पट गई.

क्योंकि आप जानते है कि आखिर खरबूजे का मजा निम्बू कैसे दे सकते हैं!फिर भी मैं उसकी चूचियों को दबा रहा था। कुछ ही पलों बाद मैं उसके गले पर किस करने लगा था।अब उसे ऐसा लग रहा था.

पेशाब की दुर्गंध बहुत अच्छी लगने लगी थी।मामी दिन में दो-तीन बार मेरा वीर्य निकाल कर पी जातीं और सारे शरीर में मल लेतीं।कई-कई दिन तक तो हम दोनों बिना नहाए बने रहते। कभी मामी खाने में मेरा वीर्य मिक्स कर देतीं. और जो मिली वो भी पहले से मैरिड निकली।अब झेंपने की उनकी बारी थी, वो थोड़ा सा शर्मा गईं और हम दोनों ही चुप हो गए।मुझे लगा मेरा ओवर कॉन्फिडेन्स मरवाएगा। फिर मैंने सोचा कि थोड़ा रिस्क लेना पड़ेगा, वरना कुछ नहीं होगा। तो मैंने अपना हाथ शॉल के अन्दर थोड़ा चलाने लगा। मेरी उंगलियां पहले उनके हाथ पर टच होने लगीं. तो मैं उसको किस करता था और उसके मम्मों को चूसता था।जब वो मुझे किस करने लगती थी तो मैं उसकी गांड और चुत में भी हाथ जरूर फेरता था पर शुरुआत में जगह ना होने की वजह से हम सेक्स नहीं कर पाए थे।उसके साथ के दिनों की बात है.

मैंने नंगा होकर मामी को फोन लगाया। उनसे बातों के दौरान मैंने कहा- आज मौसम मस्त है. मेरा मन उस रात को चाची की जाँघ को छूने के लिए बहुत मचलने लगा, मैं अपने आपको रोक ही ना सका और बिस्तर के इस कोने से उठ कर दूसरे कोने पर, जहाँ चाची सो रही थीं. बता दे न अब। अंकुर यार रात मैंने और सारिका ने बहुत मस्ती की।अंकुर बोला- अरे बताओ भी न.

सेक्सी फिल्में पाकिस्तानी

!मैंने भी अपने भी सारे कपड़े उतार कर फेंक डाले और पूरा नंगा होकर उसके सामने खड़ा हो गया।मैंने लंड हिलाते हुए कहा- ले लंड चूस ले. बाद में कभी बता दूँगा।अब मैं उन्हें इस वक्त कैसे बताता कि उस काम वाली की उठी हुई गांड मेरे लंड को परेशान किए हुए थी।जब मैं अपने घर वापिस आ गया तो आंटी का व्हाट्सएप पर मैसेज आया कि अब बताओ क्या बात है?मैंने सोचा कि यार ये तो पीछे ही पड़ गईं. उसको मजा आ रहा था। धीरे-धीरे उसकी मादक सिसकारियाँ बढ़ने लगीं।मैंने अब धीरे से उसके मम्मों को दबाना चालू किया, तो मैंने महसूस किया कि उसने ब्रा नहीं पहनी थी। मैं उसका कुर्ता ऊपर करके उसके मम्मों को देखने लगा। वो शर्मा गई, पर मुस्कुरा कर मेरे हाथ को पकड़े हुए थी।मैंने उसे रोका और बोला- ये काफ़ी बड़े हैं.

वो कुत्ती खुल कर लंड बुर बोल रही थी।फिर उसने नीचे से मेरा लंड पकड़ कर अपनी बुर पर निशाना लगाया, मैंने धीरे से धक्का लगाया, मेरा लंड बड़ी ही कसी हुई बुर में फंसता सा घुस गया। मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी में अटकी हुई चीज में फंस गया है।उधर उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे, वो दर्द से कराह रही थी।मैंने पूछा- क्या हुआ?वो कराहते हुए बोली- बेवकूफ.

जिस पर काले रंग की ब्रा और गुलाबी जालीदार ब्लाउज में वे मस्त माल दिख रही थीं।उनको देख कर मेरा बुरा हाल था कि दीदी की चुत कब चोदने को मिले।लंड सहलाते और दीदी की चुत के बारे में सोचते हुए मैं भी सो गया।रात करीब 12 बजे नींद खुली.

मुझसे रहा नहीं जा रहा है।मैंने झट से अपने लंड का सुपारा उसकी चुत पर लगाया और ज़ोर से धक्का लगा दिया. ’ एक सांस में ही रेणुका ने सब कुछ कह दिया और मैं अवाक् सा बस उसे देखता ही रहा. मारवाड़ी सेक्सी वीडियो ओपन मेंवो कैसे?मैंने कहा- भाभी मैं आपसे मिलना चाहता हूँ, मिल कर ही बताऊँगा।उन्होंने कहा- तो मना किसने किया है.

वो अपने दुपट्टे से मुँह को ढक कर साथ में खड़ी रहती थी। हम आपस में धीरे-धीरे काफी खुल गए थे और सेक्स जैसे विषय पर भी बात कर लेते थे।एक बार मैं अपने रूम के दरवाजे पर कुर्सी बैठा था और दोनों फ्लोर के बीच में पड़े जाल से मैं ऊपर भी देखता जा रहा था कि तभी वो झाड़ू लगाती हुई आई और जाल के पास झुक कर खड़ी हो गई. मुझे नहीं चुदना!लेकिन मैं नहीं माना और मैंने फिर से एक जोर से धक्का लगा दिया।आंटी तड़फ कर छटपटा उठीं, पर मेरी मजबूत पकड़ से छूट नहीं पाईं।इस बार मेरा पूरा लंड आंटी की चुत में जा चुका था और आंटी की चुत लगभग फट चुकी थी। आंटी की चुत से खून निकल आया था और आंटी भी बेहोश हो गई थीं।मैं थोड़ा डर गया था. क्या कर रहे हो?तो उसने पूजा को लिटा दिया और बोला- तुमको चोद रहा हूँ पूजा रानी।यह कह कर उसने लाइट जला दी और अपना 7 इंच का कड़क लंड मेरी वाइफ की चुत में पेल दिया।लंड घुसा तो पूजा ने उम्म्ह… अहह… हय… याह… करते हुए टांगें खोल दीं।पहली बार आधा लंड घुसा.

तो मेरी पकड़ उस पर और जोर से होने लगती थी।इस कारण से मेरे दोनों हाथ उस पैन्ट की फटी पॉकेट की वजह से उसकी बुर की तरफ दबाव बढ़ाने लगते और रितु के मुँह से ‘आह. मैं पड़ोसन भाभी की चुदाई जोरों से कर रहा था। वो झड़ गई, उसके कुछ मिनट बाद मेरा पानी भी निकल गया।उसने बताया कि उसका तो दो बार निकल चुका था।चुत चुदाई के बाद हम दोनों थक चुके थे, वो मुझसे लिपट गई।इसके बाद तो मैं रोज भाभी की चुदाई करने लगा था, पर अब वो गुजरात चली गई। मैं अब भी उसे चोदने कभी-कभी उसके शहर जाता हूँ।मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेन्ट जरूर कीजिएगा।[emailprotected].

फिर कुछ देर की धकापेल चुदाई के बाद वह मेरे ऊपर आ गई और बड़े चाव से अपने कूल्हे हिलाने लगी। मैं भी उसकी गांड पर चपाट मारे जा रहा था और होंठों को चूसे जा रहा था।फिर उसने कूल्हों के उछालने की स्पीड बढ़ा दी और मेरे बालों को खींचने लगी.

मैं रोज अमृतसर से लुधियाना जाकर जॉब करता हूँ।जब मैं शाम को जॉब से घर के लिए निकलने ही वाला था. क्योंकि सारा काम उन्हें खुद ही करना पड़ता था।उस दिन में जब पढ़ाने के लिए उनके घर गया तो गुस्से में अपने बेटे को किसी बात के लिए डांट रही थीं।जब मुझे बात समझ में आई तो मैंने कहा- उस काम वाली का गुस्सा इस पर क्यों उतार रही हो आप? ये सभी ऐसी ही होती हैं, जब देखो तब छुट्टी मार लेती हैं।रेखा आंटी तो बार-बार कह रही थीं- आ जाए बस एक बार. डॉक्टर ने बोला- इनको आराम की ज़रूरत है।मैं साधना के पास आया और उसको घर चलने के लिए बोला।मैंने महसूस किया कि वो कुछ शर्मा रही थी। बड़ी मुश्किल से उसने नज़रें नीचे करके कहा- राज आप जब मुझे लाए थे तो रात थी.

साउथ हीरोइन सेक्सी वीडियो और मत तड़फाओ।मैंने धीरे से अपने लंड को अन्दर धक्का दिया। भाभी की चूत पहले से ही गीली थी. हम दोनों के बीच एक अलग तरह की खेल शुरू होने लगा था, एक दूसरे को देख कर हम समझने लगे थे.

वो उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी मैं अपने हाथ उसके चूतड़ों पर ले गया और उन्हें मसलने लगा. जो कि अब तक तो टेंट बन चुका था।मेरा लंड बाहर आने को बेकरार हो रहा था।फिर मैंने उसकी भी ब्रा और शॉर्ट को उसके खूबसूरत बदन से अलग कर दिया। अह. अह्ह्ह बहुत मज़ेदार लग रहा है।वो धीरे-धीरे भाभी को चोदने लगा।सरला सिसिया रही थीं- हाय मर गई जालिम उफ़.

सेक्सी वीडियो चोदा चोदी की वीडियो

’ कहकर चुदने लगी। जब तक मेरा पूरा वीर्य निकल नहीं गया मैं भी उसे चोदता रहा।कुछ देर बाद दोनों के शरीर से दम निकल गया और निढाल होकर बिस्तर पर गिर पड़े।थोड़ी देर बाद गीता उठ कर खड़ी होने को हुई तो बोली- मैं चल नहीं पा रही हूँ माँ क्या कहेगी।मैंने हँसते हुए कहा- तुम चिंता क्यों करती हो. मुझे मार दिया साली तू भी कुतिया है रंडी कमीनी।फिर विकास और मैं हँसने लगे। हम दोनों ने उसके मम्मों को खूब दबाया। फिर जब वो सामान्य हुई तो विकास ने उसको छोड़ा। करीब दस मिनट तक 3 अलग-अलग आसनों में उसकी चुदाई की।अंत में जब विकास का माल निकलने को हुआ तो उसने शिवानी से कहा- बता कहाँ निकालूँ. लंड सट से सरकता हुआ चूत में घुसता हुआ अन्दर चला गया।एक-दो पल में ही लंड ने चूत में अपनी जगह बना ली थी और भाभी अब मजा लेती हुई लंड को खाने लगी थी।हर्षा भाभी ने अपनी गांड उठाते हुए कहा- आह्ह.

मैं ये नहीं कर सकती!पर मेरे जोर देने पर वो मन ही मन मान गई और वो बोलीं- अच्छा सिर्फ एक बार!मैं अपना होंठ उनके होंठ से चिपका कर उन्हें किस करने लगा. उसने मेरा मुंह पकड़ कर अपनी चूत पर टिकाया और दबाने लगी, मैं उसकी चूत चाटने लगा.

माहौल बिल्कुल शांत था। यह देख कर मुझे थोड़ी राहत मिली कि रोमा ने किसी को कुछ नहीं बताया था।मैं सीधा अपने कमरे में गया और बिस्तर पर पसर गया। मेरी आँखों के सामने कभी रोमा की नंगी गांड आती.

कमल अपनी नवविवाहिता पत्नी को अपनी और सरला भाभी की चूत चुदाई की पुरानी घटनाएँ बता रहा है।अब आगे. मेरा नाम रोहित है, मैं 21 साल का हूँ और अभी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ। मैं अपने घर में सबसे छोटा हूँ।यह मेरे साथ घटी हुई एक सच्ची सेक्स स्टोरी है।वैसे तो मुझे शुरू से ही सेक्स की बड़ी चुल्ल थी। मैं जब भी कोई ब्लू-फ़िल्म देखता. !लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी, मैंने उसको लिटाते हुए किस किया और अपने लंड को उसकी चुत पर रख पर पेल दिया।लंड की मोटाई से चुत चिर सी गई और उसकी चीख निकलने को हुई।मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा रखा था इसलिए उसकी चीख तो नहीं निकली.

तुम आँखें बंद कर लो।मेघा ने अपनी आँखों को बंद कर लिया। संजय अब मेघा की टी-शर्ट निकालने लगा। कुछ ही पलों में संजय ने खुद के कपड़े भी निकाल दिए और सिर्फ अंडरवियर में रह गया।मेघा की टी-शर्ट निकालने के बाद उसने मेघा को सीधा लिटा दिया और उसके रसीले मम्मों को चूसना शुरू कर दिया। कभी वो मम्मों को चूसता. लगता नहीं कि दो बच्चों की माँ हो। सच में कुंवारी लड़की भी क्या चिपक कर चूत देती होगी जो तुम देती हो।वो भड़क गई और बोली- जाओ कुंवारी की चूत ले लो. कौन रवि और आप कौन बोल रही हैं?वो बोली- आप अमित भैया नहीं बोल रहे हैं?मैंने कहा- नहीं जी।उसने एकदम से फ़ोन कट कर दिया.

कुछ ही देर में उसकी दर्द में डूबी मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘आआहह.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ इंग्लिश में: मैंने सिर्फ सर हिला कर ‘ना’ बोली।वहीं बाजू की खिड़की के पास झाड़ू पड़ी थी. जब मैं 19 साल का था।मैं पंजाब का रहने वाला हूँ, उम्र 26 साल और हाइट 6 फिट 1 इंच है।मैं चंडीगढ़ के एक कॉलेज में लास्ट इयर में था और वहीं एक कमरा किराए पर लेकर रहता था। अपनी क्लास में लड़कों पर मेरा दबदबा था और इसी लिए लड़कियाँ भी मुझसे डरती थीं। मैं कोई गुंडा नहीं था.

हम दोनों को जब भी टाइम और मौका मिलता है तब चुदाई कर लेते हैं।दोस्तो, आपको मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी कैसी लगी. जैसे ही मैं खड़ा हुआ कि मेरी लुंगी खुल गई और मैं पूरा नंगा हो गया।रोशनी की नजर तो मेरे लंड से जैसे हट ही नहीं रही थी।मैंने पूछा- क्या देख रही हो. उसके गालों पे किस किया तो वो शरमाने लगी, कहने लगी- ये क्यों कर रहे हो?मैंने उससे कहा- प्यार ही तो कर रहा हूँ।फिर हमने सागर विला में लंच किया और मैंने वहीं रूम बुक करा दिया। मैंने उसे बताया तो पहले वो मना करने लगी, मगर फिर वो मान गई।दोस्तो, मैं उसे रूम में लेकर गया.

जब सूरज भैया 3 हफ्ते के लिए आउट ऑफ कंट्री गए थे और मेरे मॉम और डैड भी एक हफ्ते के लिए क़िसी शादी में बाहर गए थे। उस दिन शाम का समय था और ठंड हो रही थी।भाभी मेरे घर टाइम पास करने के लिए आई थीं।भाभी- यार आज ठंड कितनी हो रही है ना राहुल!मैं- जी भाभी.

कॉलेज में फ्रेंड्स बातें करती हैं पर मुझे पसंद नहीं हैं और मैं तुमसे भी ऐसी बातें नहीं करती. तो फिर मैंने उसकी नाईट शर्ट के टूटे बटन वाले हिस्से से हाथ घुसाया और उसकी ब्रा के अन्दर से उसके दूध पर हाथ रख दिया।आहा. कमल अपनी नवविवाहिता पत्नी को अपनी और सरला भाभी की चूत चुदाई की पुरानी घटनाएँ बता रहा है।अब आगे.