सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी

छवि स्रोत,बीएफ चलती हुई

तस्वीर का शीर्षक ,

सेस्की पिक्चर: सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी, बातें खत्म करने के बाद नम्रता ने अपनी टांग को मेरे ऊपर चढ़ाया और अपनी जांघों के बीच हाथ डालकर मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत में फंसाकर फिर बाहर निकाल लेती.

हिदी सेकस विडीयो

जिससे मुझे दर्द हो रहा था और मैं आआअ आह आअ आआउम्मआ आआआ किये जा रही थी. बीएफ सेक्सी डांसमेरे ऐसा करने से काजल ने दोनों पैर मेरे सर पर दबा दिए और एक तेज़ सिसकारी निकाली ‘अह्ह्ह्ह … शह्ह्ह्ह … ओह्ह … हीईईई … मैं मर गई … ओह्ह्ह्ह.

उसने 5 मिनट मुझे चोदा फिर अपना मुंह मेरे गुलाबी गुलाब के फूल जैसे दिखने वाले भोसड़े पर रख दिया. गुजराती सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चरथूक से लंड को गीला करके मैंने फिर से लंड को एक ही बार में पूरा घुसा दिया.

फिर अचानक एक दिन उसका कॉल आया- तुम कहां हो, मैं अजमेर में ही हूँ … तुम आ सकते हो क्या?मैंने उससे पूछा- अजमेर में तुम कहां हो?उसने बताया तो मैं जल्दी से उसे मिला और उसको लेकर एक रेस्टोरेंट में ले गया.सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी: मैं कई बार सोचती कि किसी को इनकी हरकतों के बारे में बता दूं, पर अजीब से डर और गुदगुदी के कारण मैं किसी से कुछ नहीं बोली.

बारह बजे तक पढ़ने के बाद कुलजीत ने लाइट बंद कर दी और हम लोग लेट गये.कुछ देर में ही उसके लंड ने मेरी गांड में जगह बना ली थी, जिससे मुझे दर्द होना बंद हो गया था.

नंगी नंगी नंगी फिल्म - सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी

’ उसका लंड जैसे ही मेरी चूत के अन्दर गया, तो मेरे मुँह से चीख निकल गई.मैं कुछ बोलती या समझती, इतने में उन्होंने अपनी शर्ट उतारी और बनियान में ही मुझे आकर गले लगा लिया.

मैंने आधा लंड निकाल के एक बार में ही पूरा लंड झटके से उसकी गांड में डाल दिया. सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था और मैंने उसकी चूत में अपना लौड़ा डालने की तैयारी कर ली.

फिर अंकल मेरे मम्मों को देख कर बोले- मस्त लाल टमाटर लग रहे हैं और आज तो मैं गांड में भी लंड डालूंगा.

सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी?

कूलर को मैंने अपने कमरे में लगाने के लिए मानसी से पूछा तो वो बोली- ठीक है. वासना की तेज लहर मेरे पूरे बदन में दौड़ गयी और मन किया कि मैं अंकल जी के ऊपर चढ़ जाऊं और उनका लण्ड खुद अपनी चूत में घुसा कर जोर जोर से उछलूं. मन तो कर रहा था अभी उसे चोद दूं लेकिन मैंने भी ठान लिया था कि जब तक दीदी खुद नहीं बोलेगी मैं उसे नहीं चोदूंगा। फिर मैं ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूची को चूसने लगा.

तभी मैंने उनकी एक चूची के निप्पल को उंगलियों से पकड़ कर जोर से उमेठ दिया. बड़ी देर बाद जो झड़ा तो मैं तो उसके वीर्य की बरसात से सराबोर होने लगी. हसरत होगी भी क्यों नहीं, बेचारी पिछले 10-12 साल से लंड के लिए तरसी जो थीं.

मेरे साथ यह सब कुछ पहली बार हो रहा था इसलिए कुछ ही देर में मेरा पानी निकल गया और मैं निढाल हो कर आँखें बंद करके आराम से लेट गयी. मैं उसके अनारदाने को कस कर मसलता, उसकी चूत के अन्दर उंगली डालता और अन्दर की गर्माहट का आनन्द लेता. हम दोनों में धीरे-धीरे दोस्ती हो गई लेकिन कुछ दिन के बाद उसने वह जॉब छोड़ दी और वह दूसरे शहर में चली गयी.

तब मैंने भाभी को घोड़ी बनने को बोला और पीछे से उसकी चूत में लंड पेल कर चूत पेलने लगा. सलवार हटाते ही उसकी गीली पेंटी दिखी तो मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी.

मैंने मामी को आज से पहले उस नियत से नहीं देखा था, लेकिन आज मेरी नियत बिगड़ गयी.

मैंने पूछा तो बोली- महेश का खड़ा नहीं होता, वो बस मुझे हर रात गर्म करने आता है.

नारी भले ही किसी और टॉपिक में रूचि रखे न रखे लेकिन जब बात शॉपिंग पर आ जाती है तो उसको दुनिया में इससे रूचिकर विषय शायद ही दूसरा कोई लगता हो। अपनी चतुराई पर मैं फूला नहीं समा रहा था. थोड़ी ही देर में दोनों ने एक दूसरे का अच्छे से चाटकर साफ कर दिया और उसके बाद एक दूसरे से चिपक गए. मैंने उसकी चूत में तेजी से जीभ को तीन-चार बार अंदर-बाहर किया तो वह अपने चूचों को मसलते हुए सिसकारने लगी.

मैंने फिर खिड़की से देखते हुए फोन किया, तो उसने फिर फोन काट दिया और फिर फोन स्वीच ऑफ कर दिया. हम दोनों सिनेमा हॉल में कॉर्नर वाली सीट पर एक साथ मूवी देख रहे थे, वो मुझे अपनी बाँहों में लेकर मुझे मूवी दिखा रहा था. भाई ने अपना आधा लंड बाहर निकला और फिर एक जोर के धक्के से पूरा मेरी चूत में अन्दर पेल दिया.

नम्रता बोली- यार, तुम्हारी गांड कितनी टाईट है, मेरी उंगली तुम्हारी गांड के अन्दर जा ही नहीं रही है.

सुमीना ने मुझे कस के पकड़ रखा था और मुझे किस कर रही थी, मेरे कान के पास आकर कामुक आवाज निकाल रही थी जो मुझे उकसा रही थी।अब मेरा पानी निकालने वाला था, मैंने कहा- मैं आने वाला हूँ. मैं अपनी कहानी शुरू करने से पहले अपने नए मित्रों को अपना परिचय दे देता हूं. हेतल मेरे लंड पर उछल रही थी और अंदर मानसी मेरे चार्मिंग रितेश जीजू के लंड का स्वाद लेते हुए उनके लंड की सवारी कर रही थी.

मेरे सामने बैठ कर मेरी फुद्दी को घूरने लगा। मुझे सच में बड़ी शर्म आ रही थी। मगर इस लुच्चपने का भी अपना ही मज़ा होता है। थोड़ी शर्म, मगर बहुत सारा रोमांच।उसने मेरी फुद्दी को अपने हाथ से छूकर देखा, उसके छूने से मुझे करंट सा लगा। उसने मेरी फुद्दी के दोनों होंठ खोल कर देखे- अरे वाह, क्या खूबसूरत गुलाबी फुद्दी है. फिर भी हार मानने की जगह मेरी तरफ से स्वीटी को पटाने की कोशिशें जारी रहीं. जब वापस से आंखों के सामने रोशनी आई तो मैंने होश में आकर देखा कि रवि जल्दी-जल्दी अपनी बड़ी सी टेबल पर लिटाकर चोदने में लगा हुआ है.

पांच सौ कम्यूटर्स! अगर मैं सब ख़र्चे निकाल कर पांच सौ रुपये प्रति कम्यूटर के हिसाब से भी अपना प्रॉफिट रखता तो फ़िगर ढाई लाख के पार जाती थी.

अब जीजा जी मेरे हाथ पर हाथ रखवाकर अपने लिंग को हिलवाने लगे और बूब्स को जोरों से पीने लगे. तभी अंकल बोले- देख … क्या ऐसा लंड है तेरे पति का? वो हम दोनों जैसा मज़ा दे सकता है तुझे?शायरा अंकल का लंड हिलाते हुए आंटी बोलीं- नहीं कभी नहीं … तभी तो आपके पास चुदने आती हूँ.

सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी प्रतिउत्तर में उसने एक बार फिर मेरे नाक को दबाया और बाथरूम में घुस गयी. हम दोनों फिर से एक-दूसरे से किस करने लगे, जिससे हमारे अन्दर की वासना जाग उठी.

सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी मैंने मुस्कराहट के साथ हैलो कहा और उन्होंने भी मुस्कराहट दे कर रिप्लाई दिया. मैं- अरे कोई बात नहीं मेरी जान, बीच-बीच में जब तुम्हें मौका मिले, तो अपना दूध मुझे पिला देना.

मैं समझ गया कि ये भाभी है क्योंकि मैंने लड़की की आवाज़ पहली बार सुनी थी और भाभी की भी छत पर सुनी थी.

साड़ी वाली की चुदाई हिंदी में

टॉप पूरी तरह टाइट था, उसके मस्त चुचे टॉप फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे. मेरी इस हरकत पर वह थोड़ी सहम सी गई और उसने मुझे अपने से अलग कर दिया. उसके बाद मेरे रवि बॉस ने अपने लंड पर भी क्रीम लगाई और क्रीम लगाते हुए उसका लौड़ा पूरा का पूरा तन गया.

केशव ने कहा- पहले इसकी गांड में तेल डाल दे … वरना लंड घुसेगा ही नहीं. कंडोम अंकल के पूरे लंड पर फिट नहीं हुआ था, पीछे से अभी भी कभी जगह थी. अब वो जोर जोर से लंड को चूसती और मैं चुत में उंगली अंदर बाहर करके उसे मज़ा देता.

तभी मैंने अपनी पैन्ट की चैन खोल दी और फिर उसने मेरे लिंग को चैन से बाहर निकाल लिया.

मैं दिल्ली में अपनी मौसी के घर रहता हूँ क्योंकि मेरे मम्मी पापा एक्सिडेंट में एक्सपायर हो गए. मैंने भी पीछे से उसे पकड़ लिया और उसके बूब्स दबाते हुए उसकी गर्दन में किस करने लगा. तभी पारो गुलाबो का हाथ पकड़ कर वहां ले आयी और बोली- आमिर, ये लो तुम्हारी गुलाबो … आराम से करना.

मैंने उसके गाउन में हाथ डाल कर उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. मैंने दिखावटी गुस्से में कहा- क्यों … बड़ी पागल है तू!तो वो शरारती अंदाज़ में बोली- अपनी चीज मैं किसी को नहीं देती. हम दोनों खुले आसमान के नीचे दरी पर एक दूसरे से गुत्थम गुत्था हो गए.

चुदाई की आग दोनों तरफ लगी पड़ी थी, पर वो कहते हैं ना कि शुरूआत कौन करे. शुरू में थोड़ा मजा लेने के लिए मैंने निक के करीब आयी थी, पर आज वो मेरे दिल पर राज कर रहा है.

मेरे ताऊ ने मेरी बुआ के चूचों को अपने दोनों हाथों में भर कर दबा दिया. मैं भी स्टाफ रूम से लंच करके बाहर पानी की टंकी के पास हाथ धोने के लिए जा रहा था. काफी लम्बा-चौड़ा बदन होने के कारण उसका लौड़ा 7 इंच लम्बा जबरदस्त साइज का था.

घबराओ नहीं बेटी … आज रात किसी ना किसी को ज़रूर ले आऊंगा, आज रात किसी न किसी से तुम दोनों को चुदवा दूंगा.

वैसे तो मेरी और उसकी दोस्ती काफी अच्छी थी लेकिन मैं मन ही मन में उसको चाहने लगा था. फिर मैंने अपनी पैन्ट खोली और लंड निकाल कर उनके पेट के पास लगा दिया. फिर मैंने अपने आपको संभाला और बोला- ठीक है तो फ्रेंडशिप तो कर सकती हो न?इस पर उसने हां बोल दिया.

दूसरे दिन अंकल तो चले गये लेकिन मैंने कुलजीत से उसके घर में ही पढ़ने को कह दिया. हम दोनों भाई-बहन एक बार तो हैरान हुए मगर फिर सोचा कि जब ये जीजा-साली अब मजे लेने में लगे हुए हैं तो इनके आनंद में विघ्न डालना ठीक नहीं है.

मौसी कंप गईं, पर कुछ देर बाद उनका दर्द कम हुआ और मौसी भी गांड हिला कर मेरा साथ देने लगीं. एक दीवार पर एक बड़ी सी अलमारी थी जिसमें हर टीचर के लिए एक खाना था, जिसमें टीचर अपना लंच बॉक्स या और कुछ सामान रखते थे. मेरा पानी निकलने लगा तो सुमन उठने लगी मगर मैंने उसे नीचे बिठाये रखा.

मेघा मूवी

मैंने रजिस्टर में जाकर देखा तो उसमें तुम बाप-बेटी का नाम लिखा हुआ था.

वह मेरे मुँह को चोदता रहा और आखिर में झड़ गया, तो मैंने उसका सारा वीर्य गटक लिया. मेरे सीने से तो लिपटी ही हुई थी, होठों में होंठ फिर आ गये और मैंने अपने हाथ से उसके चूतड़ों को सहलाना शुरू किया, सहलाते सहलाते जब उसके चूतड़ को अपनी तरफ दबाता तो लण्ड का सुपारा उसकी चूत पर दबाव बनाता. झट से मैं रानी के चूत की तरफ मुंह करके लेट गया और टाँगें रानी के मुंह की तरफ फैला लीं.

दो-तीन बार ऐसा करने के बाद गांड-गुफा को समझ आ गया कि यह लौड़ा भी अपना ही शेर है और उसने प्रीतम लंड को अपने अंदर आसानी से आगे पीछे होने की इजाजत दे दी. मेरा यह चिकना नाजुक बदन तुम दोनों के सख्त जिस्म से रगड़ रगड़ कर छिल जाएगा. देहाती आंटी का सेक्सी वीडियोलेकिन उस दिन मुझे समझ में आ गया था कि इस खजाने को क्यों पसंद किया जाता है.

यहां आने में उसका समय अधिक बर्बाद हो जाता है।मैं समझ गया कि शायद काजल इम्तिहान के दिनों में चुदाई-चुसाई जैसे कामों से बचना चाह रही है इसलिए वो नहीं आ रही है. मैंने कहा कि मुझसे छुपाने की कोई जरूरत नहीं है, आखिर हम स्कूल के समय के साथी हैं.

मैं बार बार बाहर की तरफ ध्यान दे रही थी और वो मुझे दबाने में मस्त था. खैर … हम दोनों खाना खा के वापस रूम में आए, तो मैंने दोस्त को कॉल किया. भाबी की टाइट चुत भी आज मेरे लंड को ऐसे चबाए जा रही थी कि जैसे मेरे लंड को पूरा निगल ही जाएगी.

कई बार तो वो एक ही सवाल को दो बार ले आती थी जिससे मुझे उसकी चोरी के बारे में पता लगने लगा था कि यह जान-बूझकर ऐसा करती है. नहाकर अपने साथ लाई हुई टी शर्ट व लोअर पहनकर कमरे में आया तो वो सो चुकी थी. मेरी गीली-गीली चूत पर जीजा का लंड जा लगा और उन्होंने पल भर की देर किये बिना ही मेरी चूत में लंड को सेट करके एक ऐसा धक्का मारा कि मैंने जीजा की कमर को नोंच दिया.

हम लोग बाजार में कुछ देर तक एक साथ घूमे और उसके बाद उसने बोला- क्या तुम मेरे साथ होटल में चलोगी, वहां पर हम दोनों कुछ देर आराम से रुक कर ये सब आराम से कर सकते हैं.

मैंने डरते डरते धीरे से अपना हाथ मामी के मम्मों पे डाला और उनका एक दूध हल्के सा दबा दिया. बुआ ने हंसते हुए बोला- मुझसे झूठ मत बोल … इस उम्र में तो सब लड़कों की गर्लफ्रेंड होती हैं.

उसने बड़े गले की टी-शर्ट और नीचे पायजामे जैसा हल्का सा कुछ पहना हुआ था. बॉस!! आराम से मेरी फुद्दी चाटो!! आह आह्ह … उई … उई … सी सी!!!” मैं मजे में कहने लगी. मनमीता ने मुझे बांहों में जकड़ लिया और मैंने मेज के ऊपर ही उसकी चूत में धक्के लगाने शुरू कर दिये.

फिर आंटी बोली- सुमित, ज़रा काम में मेरा हाथ बंटा दो।मैं बोला- क्यों नहीं! अभी आता हूं आंटी. मैं तो लंड का मजा भी ले चुकी थी इसलिए मुझे दोनों ही कामों में आनंद आता था. मन में एक उत्सुकता भी बनी हुई थी कॉन्डोम में भरे अपने रस को देखूं तो सही कि आज मेरे मूसल लंड ने कितना वीर्य निकाला है.

सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी अपने इसी स्वभाव के चलते वो मेरे साथ और मेरे पति के साथ भी मजाक करने लगे. मैं कोई दवाई लेकर चुदाई की बात नहीं कह रहा हूँ, बल्कि ये मेरी कुदरती स्टेमिना है.

सेक्स पिक्चर गाना

मानसी की आदत थी कि वो शाम को मेरे फोन में कुछ न कुछ देख कर टाइम पास करती रहती थी. मैं फिर से उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को चूसते हुए उसके चूचों से होते हुए उसके पेट पर चूमने लगा. मैंने टाइम देखा, तो शाम के सात बज रहे थे, मैंने कहा- अब मुझे घर जाना चाहिए.

राधिका- इतनी सुबह तुम भाई-बहन ने चुदाई शुरू कर दी?सोनल- ये सब भाई का काम है, मुझको उठाकर चोदने लगे. ईवेंट खत्म होने के बाद मैं ओडियन्स में अपनी सहेलियों के साथ बैठी थी. बीएफ बेस्टतभी उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और मेरे सारे कपड़े उतार कर मुझे पूरा नंगा कर दिया और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

मेरी वासना की कहानी के पहले भागमेरे नीग्रो सैंया जी-1अब तक आपने पढ़ा कि मेरे क्लासमेट अफ्रीकी नीग्रो निकोलस ने मुझसे आई लव यू बोल दिया था, जिस वजह से हम दोनों दूसरे दिन कॉलेज में एक दूसरे से नजरें चुराते रहे.

मैंने टीवी बंद किया और उठा कर किचन की तरफ जाने लगा, तो किचन की ओर से आती हुई मामी अचानक मुझसे टकरा गईं. अब मेरे दिल में हवस की जगह प्यार उमड़ रहा था। मैंने उसकी आंखों पर किस किया और अपने लण्ड के टोपे को उसकी चूत पर लगाया और उसकी आंखों में आँखें डाल कर देखने लगा.

तभी वो इठलाते हुए बोली- घर पे झूठ बोल के आयी हूँ कि सहली आज सगाई है जयपुर में, शाम तक गांव पहुंच पड़ेगा, तो क्या प्लान किया?मैंने कहा- बस देखती जाओ मेरी जान!मैं उसे सीधे सिनेमा हॉल में ले गया, दो टिकट लिए पिछली कोने की सीटों के … फिर एक हॉलीवुड मूवी देखने लगे. जब मामी का ध्यान बंटा, तब मैंने जोर का झटका दिया, जिससे मामी की चीख निकल गई- आहहहह आहहह … मर गई …मेरा आधा लंड मामी की चुत में चला गया. उसी तरह मैंने एक बार फिर नम्रता को अपनी गोद में लेकर लंड उसकी चूत में डाला और चूत की मथाई शुरू कर दी.

आपको एक बात बता दूं कि मुझे गालियां देते हुए सेक्स करने में बहुत मज़ा आता है.

माँ बोली- क्या बात है, तुम नाराज हो मुझसे?मैंने कहा- हाँ, आपको मेरी फिक्र ही नहीं है. उसके चूचुक बिल्कुल कड़े होकर ऊपर को उठ गए थे … कह रहे थे हमें भी किस करो, चूसो. तभी उसने गुस्से में मेरा लंड पकड़ा और खुद ही चुत में सुपारा सैट करके ज़ोर से गांड ऊपर की तरफ करके झटका दे दिया.

நடிகை ஆபாச படம்मैं सोनल को छोड़कर बेड पर लेट गया और वो दोनों फ्रेश होने के लिए चली गईं. जोर लगाया तो लण्ड का सुपारा अन्दर हो गया लेकिन डॉली की आँखें छलक आईं.

सेक्सी ब्लू इंग्लिश में

आह … क्या माल लग रही थी, वो साड़ी में थी … लेकिन तब भी एक नंबर का कांटा माल लग रही थी. उन्होंने अपने पैरों से मेरी जांघों को दबा लिया और दोनों हाथ को मेरी पीठ पे ले जाकर मुझे अपने सीने से चिपका लिया. दीदी नीचे वाले बाथरूम में नहाने चली गई और मैं छत पर चला गया। हम दोनों ने नहा कर खाना खाया। दीदी ने अभी पैजामा और टीशर्ट पहनी हुई थी। दीदी हॉल में सोफे पर बैठ गई। मैं भी दीदी के पास जाकर बैठ गया।तभी दीदी ने कोंडम और निरोध की गोलियां देख लीं जो मैं लाया था और बोली- भाई, बात सिर्फ देखने की हुई थी.

चूंकि उसकी चूत बिल्कुल नई-नवेली कुंवारी कली की तरह थी इसलिए उसकी दोनों फांकें आपस में लगभग चिपकी हुई थीं. फिर पीछे से दो लड़के आये और मेरी गांड पर हाथ फेरते हुए बोले- रानी, क्यों परेशान हो रही हो? देखो, हमारे लंड भी प्यासे हैं और तुम भी यहाँ अकेली हो. कभी कभी तो एक तेज़ कंपकंपी उसके शरीर में पैदा हो जाती जब वो सिसक सिसक कर मेरे कन्धों को ज़ोर से नोचती- राजे … हरामज़ादे राजे,” रानी ने फूली हुई साँस के साथ फुसफुसाते हुए कहा- हाथों को बूब्स पे कस के जमा ले … अब दिखा अपनी पूरी ताक़त … ठोक बॉक्सर के मुक्कों की तरह धक्के … बहनचोद हर धक्के से सिर तक धमक जानी चाहिए … चोद चोद कुत्ते चोद … भँभोड़ डाल इन मम्मों को … जल्दी कमीने.

चाची को मेरी चूत चुसाई और लंड से चुदाई इतनी अधिक भा गई थी कि हम दोनों एक दिन में कम से कम पांच बाद चुदाई किये बिना रह ही नहीं पाते थे. मैं तुरंत कैंची लेकर आया और चाची के चूत के लम्बे बालों को काटने लगा. लंड मोटा होने के कारण मेरे को बहुत तेज़ दर्द हुआ और मैं चिल्लाने लगा ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ लेकिन साले ने उसी दिन मेरी गांड की सील खोल दी.

वसुन्धरा के हाथ अब अटैची-केस के हैंडल से हट चुके थे और अब वो सहजता से सीट की पुश्त से पीठ लगाए, गोदी में रखे अटैची-केस पर अपने दोनों हाथ टिकाये बाएं हाथ की तर्जनी उंगली पर दायें हाथ से दुपट्टा लपेट-खोल रही थी. वो मेरे दूध देखते हुए बोले- क्या क्या कर सकती हो?मैंने भी अपनी चूचियां उठाते हुए कहा- जो आप बोलोगे, सब कुछ कर दूंगी.

उसको समझाते हुए मैंने कहा- तुम भी तो सिंगल हो और मेरी भी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

मैंने उसको इशारा किया तो वो समझ गया और मुझे सबसे कोने वाले केबिन में जाने का इशारा कर दिया. विलेज बीएफओके ओके सोनम जी … इट हैपेन्स … यू कैरी ऑन प्लीज!” सुकांत जी मुझसे शिष्टता से बोले. हिंदी ब्लू बीएफउसने मुस्कुरा के सर हां में हिला कर मुझे जवाब दिया और लंड के सुपारे पर अपनी जीभ फिरा दी. उनके धक्के इस बार काफी दमदार लग रहे थे और बुआ कीचूत में दर्दहोने लगा था.

उसने पूछा- फिर कब मिलोगे?मैंने कहा- फिर कभी किस्मत में तुम्हारी संगत होना होगी, तो हम दोनों जरूर मिलेंगे.

आंटी पहले तो मना कर रही थी लेकिन बाद में फिर मान गई क्योंकि आंटी भी सारा दिन घर पर बोर हो जाती थी इसलिए उन्होंने सोचा कि उनका मन भी बहल जायेगा. मैं बड़े प्यार से उनको निवाला खिलाता रहा और वो मेरे होंठों से निवाला ले कर खाती रहीं. उन्होंने मेरा काम तुरंत कर दिया और बोले- तुम्हें कोई भी काम हुआ करे, तो तुम सीधे मेरे पास आ जाया करो.

मैंने उससे बोला- तुम तो सब चीज़ पैक करके आई हो … मुझको तो तुम्हारा दूध पीना था. वाह रे … अन्तर्वासना के खेल न्यारे!फिर उन्होंने अपना अंडरवियर निकाल फेंका और उनका लंड मेरी आँखों के सामने झूलने लगा. मैंने अंडरवियर पहना हुआ था और उसके उभरे हुए चूचों के बीच में तने हुए उसके निप्पल देख कर मेरा लंड मेरे अंडवियर में फिर से खड़ा होना शुरू हो गया.

माँ को चोदा कहानी

मैंने उसके गालों पे किस करते हुए और उसे छेड़ते हुए पूछा- कॉलगर्ल मतलब क्या?उसने मेरी तरफ गुस्से से देखा, मैं उसे देख के मुस्कुरा रहा था. गुप्ताइन ने मेरा हाथ कसकर पकड़ा और बोली- वादा रहा, अब बताओ काम क्या है?मैंने कहा- एक बार बेबी को मेरे पास भेज दो. उसने मेरी पैंट की जिप खोल ली और मेरे लंड को अंडरवियर की इलास्टिक से बाहर निकालते हुए चेन से बाहर करके उसको अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी.

मैंने अपनी पेंटी हटाकर चूत को देखा, तो लगा कि सारा मज़ा इसी खरबूजे की फांक में भरा रहता है.

मैं यहाँ पर अपना असली नाम नहीं बता रही हूं क्योंकि मेरे साथ जो घटना हुई उसके बाद यहाँ पर असली नाम बताना मुझे ठीक नहीं लगा.

मेरी बुआ मेरे ताऊ के लंड की दीवानी सी लगी मुझे और ताऊ का मूसल लंड भी बुआ की चूत चोदने के लिए हमेशा तैयार मालूम होता था. मेरे पास आकर वो पूछने लगा- लड़की, तू मुझे सच बता कि तू कहां से आयी है और ये जो आदमी तेरे साथ है वो कौन है? क्या ये तुझे पैसे देकर लाया है? क्योंकि तेरा बाप तो नहीं लग रहा ये. बीएफ सेक्सी देहाती औरतमेरा पूरा लंड जब उसकी चूत में उतर गया तो वह मुझे फिर से चूमने और चूसने लगी.

मैं बोली- तो मुझसे ज्यादा गर्म मिली कोई?जीजा बोले- नहीं, तुझसे ज्यादा गर्म नहीं मिली मेरी रंडी. उस पूरे दिन में मुझे बुआ से अकेले में बात करने का कोई मौका नहीं मिला. उसके मम्मे मसलते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में मैं उसकी गर्दन पे हर जगह किस करता … तो वो वासना से तिलमिला उठती.

फिर भी दिल में जोश था लेकिन लंड कहीं मेरे अंडरवियर में छिपने की जगह ढूंढ रहा था. वैसे जीजा और दीदी का सेक्स देखने के बाद मेरी चूत भी प्यासी हो गई थी.

राजेश ने होंठों पे एक और चुम्बन लिया और इस बार चूचियाँ भी दबाईं।डॉक्टर- राजेश, तुम इसके मज़े लो मैं जा रही हूँ.

मुझ पर ही भूत सवार था किसी मिल्ट्री-ऑफिसर को दामाद बनाने का और मेरी इस बेकार की जिद ने सब गुड़-गोबर कर दिया. रफ़-टफ़ अपीयरेंस, झगड़ालू तबियत, तमाम दबंगई, बदतमीज़ी और ब्रिटिश एक्सेंट में धारा-प्रवाह अंग्रेज़ी बोलना, ये सब वो सख़्त कवच थे जिनके पीछे एक नाज़ुक, छुई-मुई और सहमी सी वसुन्धरा विराजती थी और इस अलामत का कारण यक़ीनन वसुन्धरा का शादीशुदा ना होना था. अलका- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैं- नहीं … अब तक तो कोई भी नहीं है.

लड़के का लंड नहाकर अपने साथ लाई हुई टी शर्ट व लोअर पहनकर कमरे में आया तो वो सो चुकी थी. जब मैं सुकांत जी से चुदी तो मेरी चूत चाट चाट कर उन्होंने मुझे हर तरह से तृप्त कर डाला.

एक दिन सुबह कहीं जाने के लिए कार निकाल रहा था तो देखा कि गुप्ताइन की लड़की डॉली छाता लेकर खड़ी थी और गुप्ता जी स्कूटर निकाल रहे थे. अब हम दोनों को जब भी मौका मिलता है, तो हम दोनों किसी न किसी होटल में जाकर सेक्स कर लेते हैं. मैंने पूछा- ये क्या है?मेमसाब, इसमें गर्म तेल है, इससे आपको आराम मिलेगा.

रानी जेठानी

लंड चूसने के बाद नम्रता बोली- यार तुमने मुझे जिंदगी का सब सुख दे दिया. मैंने बोला- बोलो मेरी जान क्या रिक्वेस्ट है?तो बोली- मेरी भी चुत चाटो न … मेरी चूत आज तक किसी ने नहीं चाटी … मेरे हज़्बेंड ने भी नहीं … मैं चाहती हूँ कि तुम मेरी चुत को चाट कर खा जाओ … इसके रस को पी जाओ. अगर वो ये कहती कि वो हमारे परिवार के साथ शॉपिंग नहीं करना चाहती तो उसे भी शायद ये डर सता रहा होगा कि अगर उसने ऐसा कहा तो मैं कहीं ये न समझ लूं कि वो हमारे परिवार के साथ सहज नहीं है।अपनी बातों में मैंने काजल को अच्छी तरह उलझा लिया था। जिसका मुझे अंदर ही अंदर गर्व हो रहा था।कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

थोड़ी देर के बाद मैं सामान्य हुआ, तो उसने लंड बाहर निकाला और सीधा लेट गया. अपने लंड से इसको चोद कर शांत कर दो राज … प्लीज!मैंने उसकी चूत पर अपने लंड को सेट किया और धक्का देकर एक ही झटके में पूरा लंड उसकी टाइट सी चूत में फंसा दिया.

अब मैंने उसको चेयर पर बैठा दिया और अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया.

दिल तो कह रहा था कि ये गलत होगा लेकिन मन कह रहा था कि तन की प्यास बुझाने के लिए कुछ गलत नहीं होता. भाबी के इस तरह लंड सहलाने से मैं उत्तेज़ित हो कर भाबी के कपड़े उतारने लगा. रितेश सब जान चुका था कि मैं चुपके से छिप कर जीजा-साली की चुदाई देख रहा हूं.

कुछ समय बाद मेरे मम्में इतने विकसित हो गए कि मुझे ब्रा पहननी पड़ी और मैं आस पड़ोस के मर्दों की आँख का तारा बन गयी. थोड़ी देर उसी पोज़ में चुदाई करने के बाद मैंने उससे ऊपर आने को बोला. इससे पहले मां कुछ कहती मैंने राहुल से कहा- राहुल, तू मां को घर छोड़ कर आ जा, हम तब तक यहीं रुकते हैं.

फिर मैं उसकी चुत में उंगली डाल के तेल से उसकी चुत की मालिश करने लगा.

सेक्सी बीएफ मूवी एचडी हिंदी: मैं वाशरूम में जाके हल्का होके बाहर निकला तो देखा कि आंटी ने नाइटी पहनी हुई थी. नीचे देखा तो भाभी की झांट रहित सफाचट छोटी सी चूत अपना जलवा बिखेर रही थी.

मैं सुमन को पूरी तरह से गर्म कर देना चाहती थी और मैं इसमें तेजी के साथ कामयाब भी होती जा रही थी. फिर उन्होंने बुआ को उनके ऊपर आने को कहा तो बुआ मेरे ताऊ जी के खड़े लंड को हाथ में लेकर उनके लंड पर बैठते हुए लंड को चूत के मुंह पर सेट करने लगी. मैंने बाथ लिया और काले रंग की टाइट जीन और नीले और आसमानी रंग की चैक की शर्ट डाल ली और नीचे जूते पहन लिए.

वो बोल रही थी- आरव प्लीज़ धीरे प्लीज़ धीरे मैं मर गयीई … आरव प्लीज़ मुझे छोड़ दो … लंड निकालो बाहर.

मैंने पूछा- ये क्या है?मेमसाब, इसमें गर्म तेल है, इससे आपको आराम मिलेगा. मैंने उसकी चूत में जीभ डाल दी और अपनी जीभ से उसकी चूत की चुदाई करने लगा. खैर जी! मैं नियत दिन, नियत समय पर शिमला जा पहुंचा, टेंडर हमारे हक़ में ही खुला.