सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,एक्स एक्स सनी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो चुपके: सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी, मुझे मालूम था कि किसी औरत को उसके कान पे, गले पर, होंठों पे और उसकी जांघों से लेकर उसके भग्नासे को किस करने से उसको बहुत मजा आता है.

पंजाबी भाभी की सेक्सी वीडियो

उसके बाद मैं उसके ऊपर आया और अपने हाथ से लंड को चूत के द्वार पर टिका कर अंदर धकेल दिया और धकापेल चोदने लगा. xxxविडियोबातों ही बातों में मैंने उनसे उनकी शादी के बाद की लाइफ के बारे में पूछा.

अब नीलू अपनी बेटी याना को पकड़ के चूमने लगी और मुझसे बोली- मुझको देखो और मेरी बेटी की चुत में अपना लंड खड़ा करके डाल दो. बेबी ब्लू फिल्मकुछ देर लेटने के बाद मैंने अपनी बहन की गांड पे हाथ रख दिया, ये देखने के लिए कि वो जाग रही हैं या सो गईं.

तभी मेरे दिमाग ने कुछ खुराफात करने की सोची कि रिंकू भाभी की चुदाई करने का ये मौका अच्छा है.सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी: हाय दोस्तो, मेरा नाम राज है और मैं नीमच मध्यप्रदेश में रहता हूँ, मैं पिछले 3 महीने से ये सेक्सी चुत की कहानियां पढ़ रहा हूँ और मुझे भी ये कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है.

अब वह इलाहाबाद में रहती है, जब कभी वह नोयडा आती है, हम खूब मस्ती करते हैं.क्योंकि मेरी दादी बूढ़ी थीं उनकी देखभाल के दो लोगों का होना जरूरी था.

इंडियन एंटी सेक्सी वीडियो - सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी

सुकन्या जी ने अपना पता वगैरह सेंड करके बता दिया और साथ ही साथ गाड़ी या बाइक लाने के लिए भी मना कर दिया था.उसने मेरे गालों पर हाथ फेरते हुए मेरे होंठों पे हल्का सा चुम्बन जड़ दिया.

मैंने उसे संतुष्ट व चैलेंज करने के लिए गीत के बोल बदल डाले एक ‘गे’ थीम का गीत बना डाला. सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी एक दूसरे को बहुत देर तक किस करने के बाद हम दोनों लोग बिस्तर पर लेट गए.

मेरे सामने तरफ पीयूष बैठ गया और पीछे लाल जी दोनों मेरे बदन से चिपक गए.

सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी?

मैं दीदी की चुत में अपनी जीभ को बहुत अंदर तक घुसेड़ कर चूस रहा था, बीच बीच में मैं उनकी चुत के दाने को भी अपने होंठों से दबाते हुए खींच रहा था, जिससे दीदी की गरम आहें निकल रही थीं. प्रिया बोली- चलो, बेडरूम में चलें।मैंने पूछा- कहाँ है बेडरूम?प्रिया ने इशारे से बैडरूम बताया और बैडरूम की तरफ चलने को हुई। मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और अपनी गोद में उठा लिया. मैं जल्दी से किसी से दोस्ती नहीं करता और अगर करता हूँ तो दिल से निभाता हूँ.

मैं चुपचाप नींद से उठने का बहाना कर उनके रूम से निकल कर मेरे रूम में आ गया और उनके नाम की मुठ मार के सो गया. इसी तरह बेबसी में दिन गुजरते गए और खुद के हाथों से अपने मम्मों को मींज मींज कर अफलातून साइज़ के कर लिए थे. उन्होंने पैकेट खोला और सेक्स टॉय देखते ही हल्की सी हंसी उनके सारे चेहरे पे फैल गई.

मगर उसने जब पापा से बोला था कि बच्चा है जब लंड खड़ा होगा तो चुत को ही देखेगा ना… और उससे और उसके दोस्त से चुद कर बिंदु अपनी इसी बात का नतीजा खुद भी भुगत चुकी थी. मुझे ये स्थिति बहुत पसंद है जब झड़ी हुई योनि को पेलो तो!वो पहले तो चिल्लाएंगीं जिससे मेरा जोश बढ़ेगा. सुकन्या- देखो, मैंने ज्यादा ट्राई तो नहीं किया है लेकिन वीडियो देखती हूँ तो उसमें डॉगी स्टाइल पसंद है.

तो वो मेरे लंड को ऊपर से रब करने लगी और कहती- अभी भी शांत नहीं हुए हो बेटा?तो मैंने कहा- आपके जैसा फिगर लंड को शांत कहाँ होने देता है मम्मी जी?वो मुस्कुराने लगी, कहने लगी- अब तो कुछ नहीं हो सकता क्योंकि अभी काम वाली आ जाएगी और दस बजे आपको ऑफिस भी जाना है और शाम तक तो आपका साला भी आ जाएगा! रात यहाँ रुक भी जाओगे तो भी कुछ नहीं हो पाएगा. दोस्तों की संगत में मैं काफी पहले से ही मुठ मार रहा हूँ और पॉर्न देखना भी शुरू कर दिया था, जिसके प्रताप से मेरा लौड़ा काफी बड़ा हो गया है.

उसके बाद सब लड़कों और लड़कियों ने अपने अपने कपड़े निकाल कर ऐसे फैंक दिए, जैसे वो सब फालतू हों.

दोस्तो, अब मैं तो सातवें आसमान पर था और ज़ोर ज़ोर से पागलों की तरह मेरा लंड चूस रही थीं.

मैंने उसको घोड़ी बन जाने के लिए कहा, वो बाथरूम की विंडो पकड़ कर घोड़ी बन गयी. अगर वह बतायेगी तो शायद गुजरे वक्त से निकल कर वह एक-एक लम्हा वापस जिंदा हो उठे जिसने उसे कभी माझी में वह भरपूर लज्जत बख्शी थी, जिसके लिये उम्र के इस मकाम पर आज उसे तरसना पड़ रहा है।और यह उसके लिये कम संतुष्टि की बात नहीं होगी. मेरा नाम प्रीति है और मेरी उम्र 20 साल की है। मैं पंजाब से हूँ। मेरा एक भाई है और दो कजिन है काजल और रोहित। काजल 22 साल की है और रोहित 19 साल का। मेरी कहानी मेरी चूत की चुदाई यात्रा है।जब मैं 18 साल थी तो मेरी बहन काजल को हमारे किरायेदार ने चोद दिया.

अब जब मुझे एक ब्वॉयफ्रेंड की जरूरत थी, जो कि मुझे जवान होने का मज़ा दे, मेरी चुत और चूचियों को प्यार करे और मेरा कुँवारापन तोड़कर मुझको औरत होने का मज़ा दे. कई बार मैंने उसकी सीढ़ियों में भी चुत को चाट कर खड़े खड़े भी चुदाई की. चावल, चावल तो हैं ना घर में!” मैं बोली।हाँ… पर बासमती नहीं है… बिरयानी बनाने की सोच रहा था, ये मेमसाब भी आई हैं ना!” सीमा की तरफ देखते हुए राजेश बोला।अच्छा.

रात को सबने साथ में खाना खाया और खाना खाते वक्त सुना कि पापा दोनों चाचा से कहीं जाने की बात कर रहे थे.

घोड़ी बन कर चुदाने में मुझे थोड़ा दर्द हो रहा था मगर मैं दर्द की परवाह किए बिना फूफा जी पूरा लंड अपनी चूत में घुसवाना चाहती थी. जैसे गौसिया के साथ गुज़रे पल या शीला की जिंदगी के कडुवे सच।बहरहाल, इन पौने दो साल में कुछ अफ़साने बने तो सही जो बताने लायक हैं. मैंने बस उसकी चुत को हाथ से रगड़ा और किस किया चूचिया चूसीं, फिर छोड़ दिया.

उस वक़्त कहाँ थी आपकी यादाश्त?मैंने फिर से बनते हुए कहा- आप शुक्र करो कि मैंने ससुर जी और सासू जी को नहीं बताया यह सब… वरना वो रात को ही बुआ जी को बुला लेते और आपकी इस हरकत के बारे में बताते. अब तो आलम ये था किदीदी अपनी गांडउठा कर मेरे मुँह पर चुत लगा रही थीं. मैंने भी उसकी चुदाई के समय अपनी गांड के बराबर से धक्के लगाए, बार बार गांड ढीली कसी की, चूतड़ उचकाए, कमर चलाई, पूरा मजा दिया, थका नहीं, उसके लंड को गांड से ऐसा चूसा जैसे कोई मुंह से चूस रहा हो!वह ‘अरे सर सर! कहने लगा, मस्त हो गया, फिर अलग हुआ और बैठ गया।हम सब ने कपड़े पहने हाथ मुंह धोए फ्रेश हुए।कहानी का अगला भाग:नई जगह, नये दोस्त-4.

तो नूरी खाला ने कहा- आमिर, मेरे दूल्हे, धीरे करो, बहुत दर्द होता है.

बिल्कुल कर सकती हूँ… लेकिन वहां स्टूडियो में सब कुछ रियल नहीं होता, एक-एक शॉट के दस दस रीटेक होते हैं, फैसिलिटी ही अलग होती हैं… और मैं तो आज बिल्कुल ही तैयार नहीं थी एनल सेक्स के लिए… और वो भी ऐसे मोटे ढपाल लंड के साथ!”प्रत्युत्तर में आर्थर सिर्फ हंसने लगा और उसने अपने कंधे उचका दिए. इसलिए जीभ खूब गीली थी और उसकी टुकुर टुकुर से मेरे तमाम बदन में एक तेज़ झनझनाहट ऊपर नीचे, नीचे ऊपर दौड़ने लगी.

सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी जूसी रानी ने नक़ली गुस्से से कहा- और बुड्ढे लोग देखते तो?मैंने हँसते हुए कहा- बहनचोद अगर बुड्ढे लोग देखते तो साले अफ़सोस करते कि क्यों ज़िन्दगी में अच्छे से प्यार नहीं किया… कसमें खाते कि अगले जनम में बेहिसाब प्यार करेंगे. मैं फिर भाभी को चूमते हुए उनके दूध तक पहुँच गया और उनके दूध चूसने लगा.

सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी इसलिए बेहतर रहेगा कि यदि आपने कहीं इस वीडियो की कॉपी रखी हो तो उसे भी डिलीट कर दो. मैंने कहा कि मैंने क्या किया?वो बोली- बाइक पर जो बार बार ब्रेक मारते हो.

दोस्तो, एक और आप सच्ची चुदाई की गर्म कहानी आप सबके सामने लेकर आया हूँ.

जयपुर अनाथ आश्रम के मोबाइल नंबर

वे दोनों नंगे हो गये तो अहाना ने जबरन मेरा कुर्ता उतार दिया और उसके कहने पे राशिद ने मेरी सलवार उतार दी।दिखावे के तौर पर मैंने थोड़ी नाराजगी जरूर दिखाई, लेकिन उन पर कोई फर्क न पड़ा।अब तुम देखो और सूंघो. क्या रसीले होंठ थे! मैं कई देर तक उनके होंठ और गाल चूसता रहा, उनकी चूचियों का मर्दन करता रहा, उनकी कमर और गाण्ड पर हाथ फिराता रहा. मैंने ज्यादा देर न करते हुए अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डाला और फटाफट चुदाई शुरू कर दी.

इससे मैं समझ सकता था कि उसके दिमाग में यही था कि अभी जो जन्नत उपलब्ध है, खुल के जी लो. एक दिन मैंने उसको एक कस के थप्पड़ दे मारा… क्योंकि उस दिन उसने कुछ ज़्यादा ही बोल दिया था. लालजी मेरे पीछे तरफ आके मेरे पैर की एड़ी से मुझे चूमने लगा और चाटने लगा.

मैंने लंड उसकी चुत में सैट करते हुए धक्का लगाया तो वो एकदम से उछल पड़ी.

मेरी इस नजर को वो भी भरपूर एन्जॉय कर रही थी और बिना मुझे टोके वो मेरी तरफ अपने हुस्न का दीदार कराती रही. इसके बाद रंजीत अपना लंड मेरी वाइफ की चुत में डालने लगा और मेरा फ्रेंड वाइफ के पीछे आकर अपना लंड मेरी वाइफ की चुत में डालने लगा. मैंने थंक्स के जवाब में अपने होंठ उसके होठों पर रख दिए और दोनों एक दूसरे को किस करने लगे.

दोनों लैम्पों के शेड भी नीले थे, इसलिए रौशनी हल्का सा नीलापन लिए थी, वातावरण को बहुत कामुक बना रही थी. फिर दर्द बढ़ा और रत्नेश भैया ने अबकी बार काजल के होंटों को ही अपने होंटों में भर लिया।अब क्या बाकी था… इतने सेक्सी जवान मर्द से यदि इतना प्यार मिले तब तो चूत ही क्या चाहे पूरा जिस्म फट जाए तो भी मंज़ूर होगा किसी लड़की को। काजल ने एक और झटका दिया और लगभग 50% लन्ड काजल की चूत में चला गया।अब दोनों ही मानो मूर्ति बन गए, कोई हलचल नहीं थी. मैंने उसके लंड हो हल्के से अपने दांतों से दबाया वो आआह बोला- सासू जी, काटो मत, निकल जायेगा।जब मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ का अपनी जुबान का सिरा उसके मोटे लंड के सुपारे पर रखा और उसको चाटने लगी.

वो शर्मा गई।मैं उन्हें बैडरूम में ले गया, बेड पर लिटा दिया और मैं उनके ऊपर आ गया, पूरे चेहरे पर किस करने लगा। फिर गर्दन पर किस करना शुरू किया तो वो चुदास से मदहोश होने लगी, सिसकारियाँ लेने लगी. उसने मेरे ऊपर आके मेरे लंड को अपनी चूत में लिया और धीरे धीरे हिलने लगी मगर उसको ऐसे जम नहीं रहा था.

थोड़ा इधर उधर की बातें की, उसने पूछा- सफर कैसा रहा?मैंने कहा- ठीक रहा।बातें करते करते कब उसका घर आ गया पता ही नहीं चला। उसने कार अंदर की, हम घर के अंदर गये. ये कह कर वो एकदम से मुझसे लिपट गया और बोला- तुम बहुत अच्छी हो आई लव यू वन्द्या. मैं- आपने कभी फ़ोन सेक्स किया है?सुकन्या- नहीं, लेकिन थोड़ा बहुत सुना है.

तत्पश्चात चालान जमा कराया और फिर सारे कागज़ एसडीएम के पास मार्क कराने ले गये तो फार्म लेके कल आने को बोल गिया गया।इसके बाद मैंने रज़िया को जहाँ से पिक किया था, वहीँ छोड़ दिया और घर चला आया।पहले मेरा इरादा काम को टालने का था लेकिन अगर इस बहाने एक औरत के करीब रहने को मिल रहा था तो यह किया जा सकता था, यह सोच कर मैंने आज आधे दिन छुट्टी तक करनी गवारा कर ली थी। अब तो कल भी छुट्टी होनी थी.

हल्का हल्का नशा अब चढ़ने लगा था, मैं शीतल की जान्घें सहला रहा था, अंजलि और शिवानी देख रहे थे और उनकी आँखों से चढ़ता हुआ जोश मुझे साफ़ दिख रहा था!मैं शिवानी की जान्घें ताड़ रहा था और शीतल के कान में कहा- शीतल इन दोनों को भी चुदवा मुझसे!इस पर शीतल ने कहा- भैया क्या अंजलि और शिवानी दीदी की जान्घों से बहती हुई बियर पीना चाहोगे?मैंने हामी भर दी. मैं एक बड़ी कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हूँ, इस वजह से काम बहुत रहता है. मजे की बात ये थी कि भाभी को तो दोनों माँ बेटी का पता था परंतु उन दोनों को आपस की बात का पता नहीं था और न ही हमने बताया.

मेरा आधा लंड अभी चुत से बाहर था, हम दोनों ही जल्दी में दरवाज़ा बंद करना भूल गए थे. मम-मैं नहीं!” मैंने चेहरा पीछे खींचा।उसने वहीं पड़ा अपना दुपट्टा उठाया, और उससे रगड़ कर राशिद के अपने थूक से गीले लिंग को साफ कर दिया।ले अब चूस.

प्यासी भाभी की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी? मेल करियेगा, इंतज़ार रहेगा! धन्यवाद![emailprotected]. फिर थोड़ी देर बाद चाची ने खर्राटे भरने शुरू कर दिए और अपने आपको इस तरह से फैला दिया ताकि मैं उनकी भारी पूरी जवानी का नजारा भरपूर कर सकूँ. फिर वैशाली ही बोली- छिप क्यों रहे हो? मैंने सब देख लिया है।और उसने चादर उठा कर फेंक दी और हम सब पूरी तरह नंगे थे। अब मेरा लंड वैशाली के हाथ में था और वो मेरे लंड से खेल रही थी और बोली- यार अभिषेक, तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है.

भोजपुरी गाने डीजे में

बाहर से ही जब दरवाजा बंद करने लगा तो हॉल में शबनम भाभी खड़ी मुझे ही देख रही थीं.

मगर मुझसे कुछ भी ना पूछा गया, क्योंकि मैं उन सबकी नज़रों में एक वस्तु जैसी थी, जो उन पर भार बनी हुई थी. उसने किया तो मनोरमा ने देखा कि उसने चूत पूरी तरह से सफाचट की हुई थी. उसने जैसे ही दोनों तरफ से खींचा वो झट से नीचे गिर गई और मेरी चुत पूरी नंगी उसके सामने थी.

बापू ने लड़खड़ाते जुबान से धीरे से कहा- खा चुका हूं, अब तो तुझको खाना है. मैं उसकी चुचियां ऊपर से ही दबाए जा रहा था और वो मेरा लंड पेंट के ऊपर से ही सहला रही थी. બ્લુ સેક્સીइसलिए मैं घर के पीछे वाले दरवाजे की तरफ गयी और वहाँ का दरवाजा खोल दिया और हम दोनों लोग पीछे वाले दरवाजे की तरफ गए और एक दूसरे को किस करने लगे.

वो मेरा विरोध तो नहीं रही थी, बस थोड़ा बहुत कसमसा ही रही थी मगर मेरे दबाव डालने पर धीरे धीरे सीधा भी होती जा रही थी… इसी तरह मेरे दबाव डालने से धीरे धीरे वो फिर से बिल्कुल सीधा कमर के बल हो गयी और मैं उसके ऊपर आ गया. काजल दीदी मेरा सारा बीज गटक गईं और मेरे लंड को उन्होंने तब तक नहीं निकाला, जब तक मेरा लंड फिर से खड़ा नहीं हो गया.

गीता ने कहा- मुझे सिर्फ़ डर लगता है कि कहीं किसी को पता ना लग जाए, वैसे यह काम बढ़िया है, मज़े के मज़े और पैसे के पैसे भी. उधर लालजी का लौड़ा ज़िप से बाहर निकला था, वह बहुत ही बड़ा और बड़ा मोटा भी था. थोड़ी देर इधर उधर की बातें हुईं, फिर आखिरी में वो बोलीं- रोहण तुमसे एक बात करनी थी.

पद्मिनी आइने में से ही बापू को देख कर थैंक्स कहने के लिए मुस्कुरा रही थी. उस दिन छत पर जब वो कुतिया बना कर मुझे पेल रहा था, तो उसने अपना सारा माल मेरे अन्दर ही डाल दिया था. फिर भाभी ने मुझसे पूछा- स्टूडेंट हो?मैंने कहा- हां, मेडिकल की तैयारी कर रहा हूँ.

दिमाग की नसें खिंचने लगीं और सारे शरीर में एक अजीब आनंददायक लहर दौड़ने लगी।और जब मेरी बर्दाश्त से बाहर हो गया तो मुझे भी अहाना की तरह आखिर बोलना ही पड़ा- करो अब.

इसके बाद रंजीत अपना लंड मेरी वाइफ की चुत में डालने लगा और मेरा फ्रेंड वाइफ के पीछे आकर अपना लंड मेरी वाइफ की चुत में डालने लगा. मैं खड़ी ही थी कि अचानक उसने मुझे किस किया और मुझे घुमा दिया और खुद नीचे बैठ गया और मेरी गांड के दोनों पल्लों पर किस करने लगा फिर दांत से काटा.

जिस तरह से उसने मुझे चोदा था, उससे यह नहीं लग रहा था कि यह इस काम की कोई नई खिलाड़ी है. अब मैंने आंटी को चोदना शुरू किया, लंड की चूत में अंदर बाहर करना शुरू किया, मेरा पहली बार था, मैं अभी आंटी को धीरे-धीरे चोद रहा था, पूरे कमरे में फच फच की आवाज गूंज रही थी. मेरा तो जैसे ख़ुशी का ठिकाना ही नहीं रहा कि एक परी मेरे कंधे पर सिर रखे हुए है.

दोस्त ने अपनी गर्लफ्रेंड की चुत पर हाथ लगाया, उसकी चुत का पानी उसके हाथ में लग गया. तो मैंने कहा- बुआ आप किस तरह के लड़के से शादी करोगी?तो वे हंसने लगीं और बोलीं- मुझे तेरे जैसे लड़के से शादी करनी है, जो मेरे साथ एकदम ऐसे ही फ्रेंड्ली बिहेव करे. लालजी की यह बात सुनकर मैं खुश हो गई और सोचा ये तो पहले से ही लगता है कि पट गया है.

सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी सच बताऊँ दोस्तो, मेरी फट रही थी क्यूँकि वो बहुत ही खूबसूरत लड़की है, मुझे बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि वो हाँ कहेगी. फिर उसने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया, मेरा शरीर कसने लग गया और मैं चरम सीमा पर पहुंच गयी.

न्यू गोल्डन सटका मटका चार्ट

थोड़ी देर बाद उस हरामी का लंड फिर से खड़ा हो गया और वो फिर से चूत में लंड पेल कर धक्के मारने लगा. फिर मैंने अपना लंड उनके हाथ में दिया और उनको कहा- इसे चूसो!लेकिन उन्होंने मना कर दिया. रात को कैसे अपने लंड को उसने उसकी गांड के बीचों बीच रगड़ कर अपना पानी छोड़ा था.

और ये कहके मुझसे छूटते हुए उन्होंने दरवाजा खोला और अपने फ्लैट में चली गईं. मैंने भी अपने लंड को हिलाकर वापिस निक्कर में डाला और उनकी तरफ चला गया, उनको गले लगा लिया और उनका एक हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. मारवाड़ी क्सक्सक्सएक तो बुआ इतनी हॉट और सेक्सी थीं कि उनकी कुंवारी जवानी को सोच कर ही सारा दर्द काफूर हो गया.

दरवाजा खोला तो देखा भाभी के पति के फ्रेंड की वाइफ थीं, जिनको भाभी, भाभी जी कहकर बुलाती थीं.

उनके इतना कहते ही मैंने भाभी को बाँहों में भर लिया और स्मूच करने लगा. छोटी चाची की दस मिनट की मेहनत के बाद मैंने कहा- चाची में झड़ने वाला हूँ… कहां निकालूँ?चाची ने कहा- रुक.

यहीं नौकरी करता हूँ एक मोबाइल कंपनी में। शादी कब हुई आपकी?छः साल हो गये. प्रिय पाठको, अब मैं आपको अपनी जिन्दगी की वो सच्चाई वो कहानी बताने जा रहा हूँ जो शायद कोई किसी को नहीं बताएगा लेकिन अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ कर मुझे लगा कि यहाँ पर मुझे अपनी सत्य कहानी भेजनी चाहिए. फिर कुछ देर बाद भूख लगी तो लॉज के सामीप ही एक ढाबा था, वहां जाकर भीगे कपड़ों में हम तीनों ने खाना खाया.

खाना खाने के बाद वो सोने चली गयी हॉल में!फिर मैंने सोनू से कहा- बेटा, तुम अंदर के कमरे में चिकन लेकर जाओ, मैं अभी आती हूँ!सोनू अंदर चला गया, घर का सारा काम कर के मैं भी अंदर कमरे में आयी.

मैंने आंटी की कमर में हाथ डाल कर उन्हें कसकर पकड़ लिया, मैंने कहा- आंटी, बस आज मुझे कर लेने दो, मैं फिर कभी नहीं कहूंगा, प्लीज मेरी आंटी प्लीज़. और यकीन मानो… एक बार भैया के साथ बिस्तर पे चुद गई तो कभी इन्हें छोड़ने का नाम नहीं लोगी!और बोली- देखो, हम सब भाई बहन है और इस रंडी प्रभा के बच्चे हैं. पर तू अपने बापू का लंड चूस तो सकती ही है, मुझे इसमें बड़ा मज़ा आएगा और मेरा लंड शांत भी हो जाएगा.

सेक्सी वीडियो भाई बहन काअगले दिन सुबह सुबह भाभी के पति का कॉल आया और उन्होंने बताया कि वो आज और नहीं आएंगे. तब हम तक वहां छह लोग हो चुके थे, तेरी मम्मी सभी छह लोगों से एक साथ जमके चुदवाई और पांच हजार रुपए लिए और आ गई.

सेक्सी फिल्म वीडियो हिंदी फिल्म

कोई और साधन नहीं है?भाभी ने कहा- किस लिए?मैंने- प्यास बुझाने के लिए?तो भाभी ने गहरी सांस लेते हुए कहा- कौन मेरा सहारा बनेगा?मैंने कहा- भाभी मैंने आपको एक बात बोली थी. मेरी सील इस बैंगन जैसी मुनिया से टूटी थी लेकिन फिर भी मैंने बर्दाश्त किया था न… हम लड़कियों को यह बर्दाश करना ही होता है।”ऐसा लग रहा है जैसे चाकू घुसा दिया हो।”भक. फ़िर मैंने चॉकलेट चाटने का सिलसिला शुरू किया, होंठों के करीब गया तो उसने मेरे होंठ जकड़ लिए.

पर मैं पीछे हट गया… उसने फिर कोशिश की, मैं फिर पीछे हो गया… पर फिर मैंने नीचे होकर उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिया. लेकिन कोई बात नहीं, मैंने भाभी के मोबाइल से आपका नंबर निकाल लिया है. पापा जीऽऽस्स्स्स स्स्स्स बस अब घुसेड़ भी दो ना, चोदो जल्दी ई …ऽऽ से मुझे!”हां … ये लो बहू अपने ससुर का लंड अपनी चूत में … संभालो इसे!” मैंने कहा और अपने दांत भींच कर, पूरी ताकत से लंड को उनकी बुर में धकेल दिया.

मैंने उनकी ठोड़ी पे अपना हाथ रखके उनके चेहरे को उठाते हुए कहा- क्यों सुबक रही थीं?उन्होंने मेरी तरफ देखते हुए कहा- पता है एक औरत की ख्वाहिश क्या होती है?और खुद ही जवाब देते हुए बोलीं- उसकी सबसे बड़ी इच्छा होती है कि इस दुनिया में एक इंसान ऐसा हो, जो उसकी भावनाओं को समझे, उसकी कद्र करे और सबसे बड़ी बात उसे बिना किसी स्वार्थ के बेहिसाब प्यार करे. हम दोनों के अलावा बाकी लोग कहने लगे हम नीचे लेटेंगे क्योंकि ऊपर छत पर मच्छर बहुत काटते हैं और हो सकता लाइट भी आ जाए. मेरी पिछली कहानीशीला का शीलऔरवो सात दिन कैसे बीतेथीं।असल में जिओ ने मेरी नौकरी की वाट लगा दी थी, फिर काफी संघर्ष भरा वक़्त गुज़रा इस बीच, जिससे मैं इस मंच से अपना कोई अनुभव साझा न कर सका।अब फिर से किसी ठिकाने लग गया हूँ तो सुकून है और इस बीच जो अनुभव ख़ास रहे, उन्हें आपके साथ ज़रूर साझा करूँगा। ऐसा तो नहीं है कि इस बीच कहीं सहवास के मौके न मिले हों.

सुहैल तो अपने हाथ से अपनी मुनिया रगड़ रहा था, तुम कैसे रगड़ती हो?”यही तो परेशानी है कि लड़की कैसे रगड़े। ऐसे में उसे लड़के की जरूरत पड़ती है जिसकी मुनिया में भी खुजली हो रही हो।”फिर?” मैंने अविश्वास से दोनों को देखा।फिर क्या. मैं रीना के ऊपर 69 पोजीशन में चढ़ा और उसकी चूत पे अपनी जीभ फिराने लगा.

और सेक्स? मैंने सीरियस वातावरण को हल्का करने के उद्देश्य से शरारती अंदाज में उनसे पूछा.

आखिर मेरी तमन्ना पूरी होने वाली थी, बरसों की प्यास बहुत जल्दी बुझने वाली थी. सक्सी इमेजेजजब उसमें एक सेक्सी सीन आया तो आपा बोलीं- मुझे नींद आ रही है, मैं सोने जा रही हूँ. चुदाई सेक्स व्हिडिओदोनों ही आह्ह्ह्ह… ऊउईई… यू सक गुड… सक माय पुसी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… कम ऑन फास्ट…”उनकी मादक आवाजें निकलने लगीं. जब मेरी पत्नी की मृत्यु हुई तो उस समय मेरा बेटा 22 वर्ष का था। अब घर संभालने के लिए घर में कोई नारी नहीं थी और नारी बिना घर तो जैसे शमशान होता है.

मैंने पूछा- आपके हस्बैंड नहीं करते हैं?तो वह मुँह बिचका कर बोली- तुमने उन्हें देखा तो है, कितने नाटे कद के काले मोटे कद्दू से लगते हैं, वे तो बस अपना बिज़नेस संभालते हैं और रात होते ही खर्राटे लेने शुरू कर देते हैं.

वो भी पूरी तरह मेरा साथ दे रही थी और उसी जोश जोश में मैंने उसका पजामा भी नीचे खिसका दिया. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ?फिर मैं शबाना से लिपट गया और उसको किस करने लगा. तब वो मुझसे बोला- मैं तो मजाक कर रहा था कि तुम मुझसे प्यार करती हो या नहीं!और वो बोल रहा था- तुम मेरी हो… मैं तुमको किसी की नहीं होने दूंगा और मैं ही तुमको चोदूँगा.

घर और बच्चे मैं ही संभालती हूँ, तुम उनकी बात करके बोर मत करो, एन्जॉय करो और कराओ. मैं बोला कि सब चोदेंगे, तो तेरी मम्मी बोली हाँ ठीक है, पर मुझे पैसे अभी चाहिए. कुछ समय पश्चात् रेखा रानी ने लंड को बाहर निकला, खाल पीछे करके एक बार फिर से टोपा पूरा नंगा कर दिया.

मारवाड़ी कॉलेज का सेक्स वीडियो

इतना सुनते ही उसने मुझे धक्का देते हुए लिटा दिया और अपने खड़े हुए लंड को एक ही झटके में मेरी चुत में घुसेड़ दिया. मैंने अपने मुंह बोले पुलिस ऑफिसर भाई से इस बारे में सलाह मांगी तो उसने मुझे दूसरे दिन सुबह बात करने का कह दिया. अब उसकी सीत्कारें बढ़ने लगी वो जोर जोर से उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी, उसे खूब मजा आ रहा था.

स्पीड धीरे-धीरे बढ़ने लगी।लेकिन थोड़ी देर में ही नितिन आ धमका और मुझे अपना लिंग निकालना पड़ा।अब मैं किसी अंग्रेज़ की तरह वापस उसे नहीं चुसा सकता था, पता चलता कि वक़्त से पहले ही खलास हो जाता.

फिर मैं उसके पैरों से हल्के हाथ से मसाज करते हुए, कूल्हों से होते हुए गर्दन और पीठ तक पहुंचा.

तू बहुत ही बड़ा चोदू है कुत्ते!जीजा हंसते हुए बोला- साली रंडी सब जान जाती है. भूख तो मुझे भी लगी थी, मैंने उसे पिक किया तो उसने कहा कि कहां चलोगे?मैंने कहा कि मेरे घर चलो. ಬ್ಲೂ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೊदस दिन के बाद फिर से मैंने देखा बाइक बाहर खड़ी है, तो मैंने ठान लिया कि आज तो पता करके ही रहूँगा कि क्या चल रहा है.

भैया तभी हटे जब वो झड़ गये, फिर भैया ने भाभी की पैंटी से अपने लंड और भाभी की चूत को साफ़ किया और भाभी को अपनी बांहों में भर कर चूमने लगे. मैं उसे नंगे ही गोद में उठाकर बाथरूम ले गया और वहाँ पर पानी से उसकी चूत में उंगली डाल डाल कर उसकी चूत साफ की और फिर आधा घंटे रेस्ट किया ताकि काजल दीदी और कविता को चोद सकूँ. घर की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए मैंने काम करने का फैसला लिया.

इसी बीच मैंने अपनी टांगें कुछ खोल कर पूरीझांट रहित चिकनी चुतदिखा दी. इतने में लालजी ने भी अपने पैन्ट का बेल्ट और बटन खोल कर पैन्ट को नीचे उतार दिया और टीशर्ट भी उतार दी.

पहले तो वो ये सब नहीं जानती थी, लेकिन मैंने उसको सब कुछ बता दिया था.

फिर जब सोने का टाइम आया, तब दीदी लेटने के हिसाब से 2 बिस्तर ठीक करने लगीं. जैसे ही मैंने ज्योति की चूत के दाने पर अपनी जीभ लगाई, तो ज्योति ऐसे उछली, जैसे उसे 1000 वाट का करंट लगा हो. मैंने लंड बाहर निकाल कर पहले उसकी चुत की मलाई को चाटा, फिर चुदाई चालू की.

ભાભી સેક્સી मैंने भी कुछ कंडोम के पैकेट लिए और अपनी बाइक उठाकर कविता द्वारा बताये गए पते पर पहुँच गया. मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और इसका नतीजा ये हुआ कि डॉली ने भी मेरे मुँह पर अपना गाढ़ा पानी निकाल दिया, जिसे मैं बड़े मजे से चाट गया.

उनकी गोरी टांगें एकदम खुली हुई थीं और वो आदमी भाभी के ऊपर चढ़ कर उनकी चूत में अपना लंड डाले हुए धकापेल चुदाई कर रहा था. मैंने कहा- जैसे तुम्हारी मर्जी!वो मेरे ऊपर आई, हाथ से मेरा लंड पकड़ा और एक ही झटके से पूरा लंड अपनी गांड में ले लिया और जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी. मैं उसकी चूची की घुंडी को मसलने लगा और नीचे चूत में अपनी जीभ से उसकी चुत के दोनों होंठों के बीच में किस करने लगा.

सेक्सी आंटी मूवी

मैंने फूफा जी की कमर को अपनी दोनों टाँगों से पकड़ लिया और अपनी बांहें भी उनके गले में कस के डाल दी ताकि वो अपना लंड हिला ना सकें. काफी लंबी रेलमपेल के बाद अंततः उन्होंने हार मानी और ढेर सारे पानी के साथ पेशाब भी छोड़ दी लेकिन मैं लगा रहा. ये कहते हुए मैंने ज्योति आंटी को को वहीं सोफे पर धक्का देकर उनकी चुची को ब्रा के ऊपर से ही जोर जोर दबाने लगा.

मेरे चूतड़ बहुत गोल और बाहर को निकले हुए हैं जिनको देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाये. वह गलती से लग गयी थी।” उसकी आवाज़ से ऐसा लगा जैसे हिचक रही हो, घबरा रही हो।जबकि इस गलती को मैं उससे बेहतर महसूस कर सकता था। उससे बेहतर समझ सकता था। मैंने पूरी शालीनता के साथ जवाब दिया- जी मैं समझ सकता हूँ।क्या?” वो कुछ चौंक सी गयी।बस यही.

यह कह के रानी ने गप्प से लण्ड को फिर से होंठों में दबा लिया और लगी पहले की तरह टुकटुकारने.

अब मैंने आंटी को चोदना शुरू किया, लंड की चूत में अंदर बाहर करना शुरू किया, मेरा पहली बार था, मैं अभी आंटी को धीरे-धीरे चोद रहा था, पूरे कमरे में फच फच की आवाज गूंज रही थी. दीदी उस समय केवल ब्रा पेंटी में थी और उसके बड़े बड़े मम्मे दूध की फैक्ट्री की तरह नजर आ रहे थे. मेरी सेक्सी एडल्ट स्टोरी के पहले भागमेरा नौकर राजू और मेरी बहन-1में अपने पढ़ा किमेरे घर के बुजुर्ग नौकर छुट्टी पर गए तो अपने भतीजे को काम करने के लिए छोड़ गए.

कुछ देर बाद उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया, मैंने उनकी चूत को चाट चाट कर साफ़ कर दी. और ये सब मेरे लिए पहली बार है!मैं- प्लीज कामिनी, एक बार चूस कर तो देखो, तुम्हें जरूर अच्छा लगेगा!कामिनी- नहीं…लेकिन नहीं नहीं करते करते हुए मैंने उसके मुंह में अपना लंड डाल ही दिया लेकिन उसने झट से बाहर निकाल दिया और बोली- छी… कितना गंदा टेस्ट है. उसने अपने दोनों हाथों से पद्मिनी की दोनों जांघों को दबाया और अपने लंड को चूत के छेद में घुसाने की कोशिश की.

उसके बाद दीदी ने अपने सूट को ऊपर की तरफ उठा दिया और इशारे से मुझे कमर पे तेल लगाने के लिए बोलने लगी.

सुहागरात वीडियो बीएफ सेक्सी: ये और ज्यादा तकलीफ पैदा करने वाली बात हुई कि जिस मज़े से आप अनजान नहीं थीं और शायद आदी थीं, वो आपको यूँ किश्तों में मिल पा रहा है।”हम्म. तभी मेरे दिमाग़ में एक आईडिया आया, मैंने कुछ सोचा कि क्यों ना मैं घर पर ही रुक जाऊं.

मेरी बहन के मुख से आनन्द भरी एक चीख सी निकल गयी ‘ उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मुझे भी अपनी बहना की गीली चूत मेरे लंड के इर्द गिर्द लिपटी हुयी महसूस हो रही थी. मैंने उनकी आँखें अपने हाथों से बंद कर दीं क्योंकि अब मेरे लिए ही आँखें खोले रखना मुमकिन नहीं था. जब लंड ने हरकत करनी शुरू कर दी तो मैंने भी सब जगह घास डालना शुरू कर दी.

मेरा दोस्त अपनी गर्लफ्रेंड के मम्मे दबा रहा था, साथ ही साथ उसके होंठों को भी जोर से चूस रहा था.

अब तो वो बड़ी मस्ती से गांड उठा कर लंड लेती है और उसके मम्मे भी भर गए हैं. पूरे पंद्रह मिनट बाद मैंने भी होटल का बिल अदा किया और वापिस वहीं चला गया जहाँ से आए थे. मेरा नाम तुषार है, मैं महाराष्ट्र के जलगांव का रहने वाला हूँ, बात आज से 15 साल पुरानी है, मेरी उम्र तब 22 साल की थी, हम किराये के मकान में रहा करते थे, घर में मैं, बड़ा भाई, मम्मी पापा थे, मम्मी पापा भाई जॉब करते थे तो 10 बजे घर खाली हो जाया करता था।हम नीचे के फ्लोर पर रहते थे और ऊपर डॉक्टर मकान मालिक अपनी बीवी, एक बेटा और एक बेटी के साथ रहता था.