चाइना वाला बीएफ

छवि स्रोत,पोर्न वीडियो पाइपर पेरी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ हिंदी में चलने वाला: चाइना वाला बीएफ, झड़ने के बाद भाभी वैसे ही मेरे सीने पर सर रखकर लेट गईं, उनकी साँसें धौंकनी की तरह चल रही थीं.

हरियाणा हिंदी बीएफ

फिर मैं मसाज करते करते पेट से होते हुए चूत तक आया और चूत के आस-पास तेल लगाकर मसाज करने लगा. सेक्सी बीएफ झवाझवीउसने गुस्से से चोकोलेट फेंक दिया और कहा- मैंने ये नहीं लाने को कहा था.

रंजीत ने 10-12 धक्कों के बाद अपना पानी मेरी वाइफ की चुत में ही निकाल दिया. बीएफ सेक्सी मेहरारू वालावो गिड़गिड़ाएगी कि मुझ पर रहम करो अगर बच्चा ठहर गया तो क्या होगा मेरा.

मैंने भाभी के होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया और फिर से एक ज़ोर का धक्का मारा.चाइना वाला बीएफ: सारांशबहुत से लोगों के मुझे मेल्स मिले और उनमें से ज़्यादातर मुझे चोदना ही चाहते हैं.

जैसे ही मैंने भाभी की चुत की क्लिट पर जीभ घुमाई, वो तड़फ उठीं और मेरा सर अपने दोनों हाथों से पकड़ कर अपनी चूत में दबाने लगीं.भाभी देवर की कहानियां पढ़ कर मेरा ध्यान धीरे धीरे अपनी भाभी की तरफ आकर्षित होने लगा और मैं भाभी को पटाने की कोशिश करने लगा.

उड़ीसा बीएफ वीडियो - चाइना वाला बीएफ

बिस्तर पर ही बैठ कर आँखें मूँद ही रहा था, तब धीरे से आधी नींद में पद्मिनी ने आँख को मुंदे हुए ही कहा- आप खाना खा लेना बापू.वो मुझसे बोल रहा था- मैं ये गिफ्ट हम दोनों लोग की दोस्ती के लिए लेकर आया हूँ.

और दो मेरा लण्ड अंकुश क़ो दिखाने लगी- देख भोसड़ी के… तेरे बाप का लण्ड तेरे लण्ड से लम्बा और मोटा है. चाइना वाला बीएफ रंजीत ने एक तेज धक्का मारा तो आधा ही लंड मेरी वाइफ की चुत में जा पाया.

वो लंबाई में मुझसे कम है और मैं हट्टा कट्टा हूँ तो वो मुझसे छोटी लगती है.

चाइना वाला बीएफ?

मैंने कहा- ठीक है, गाड़ी निकालो और तुम अभी मेरे साथ मार्केट में चलो. उसने मेरे हाथ पर हाथ रखा और बोला- देख यार… मैंने भी ज़िंदगी में बहुत धक्के खाए हैं। तेरे जैसा दोस्त मैं खोना नहीं चाहता। तुझे सेक्स नहीं करना तो ना सही लेकिन मुझसे रिश्ता क्यों तोड़ रहा है।मुझे उस पर तरस आ गया… मैंने कहा- ठीक है लेकिन मुझसे कभी फिज़ीकल होने की उम्मीद मत रखना. उसको अच्छी तरह से समझा दिया था कि इसकी 4 लड़कों से अच्छी तरह से चुदाई करवा दो.

मुझे इसकी आशा बिल्कुल भी नहीं थी कि सुकन्या जैसी लेडी को भी इतना डर्टी होना अच्छा लग रहा था. मैंने उन्हें ज्यादा ना तड़पाते हुए नीचे आ गया और चाची की चुदाई करने के लिए आसन में बैठ गया! मैंने हाथ से चाची की चूत के मुँह को खोला और अपने लंड का सिर उस पर लगा दिया! उनकी चूत काफी गीली थी. वो मेरे लिए पानी लाई और चाय लाने की बात करके चली गई और पांच मिनट बाद ही वो चाय और नाश्ते की ट्रे लेकर आई.

अपने लंड पर शानदार रूसी लड़की के हाथों का स्पर्श पाते ही आर्थर को मानो करंट सा लगा हो, वो उठ कर खड़ा हो गया और उसने बिजली की तेजी से अपनी पैन्ट उतार फेंकी. उधर वो इस कदर तड़फ रही थी कि मुझे समझ ही नहीं आ रहा था कि साली लंड चूसने में तो माहिर लग रही थी, लेकिन अभी तक सील पैक निकली. इधर मेरा लंड भी खड़ा हो गया था, पर मैंने अपने आप पर कंट्रोल किया हुआ था.

हिंदी सेक्स कहानियों के चाहवान मेरे प्यारे दोस्तो, आप सबने मेरी पिछली चुदाई कहानीआंटी का प्यार और आंटी की चुदाईपढ़ी और उसे बेहद पसंद भी किया. फ़िर मैंने भी हिम्मत करके यहाँ वहाँ नजरें घुमाने के बाद सबके मम्मों को देखा.

एक दिन मैंने उससे पूछा- आजकल रात को पापा तुमको नहीं चोदते?उसने कहा- क्या बताऊं नेहा.

तभी ज्योति की नजर अपनी चूत और उस चादर पर पड़ी, जिस पर खून का एक बड़ा सा घेरा बन चुका था, जिसे ज्योति बड़ी ही हैरत से देख रही थी.

वो अपने नाम बताने के साथ थोड़ा आगे बढ़ी और मेरे बालों में हाथ फेरते हुए बोलने लगी- अरेरे. मैं मेडिकल स्टोर से नींद की गोली ले आया और शाम को मौसमी के जूस में डाल कर सबको पिला दिया. उसे पूजा के बारे में पूछा तो मैंने बताया कि वो साथ वाले कमरे में सो रही है.

उसने किया तो मनोरमा ने देखा कि उसने चूत पूरी तरह से सफाचट की हुई थी. चूँकि अभी एक बार झड़ के हटे थे तो जल्दी जल्दी झड़ने की सम्भावना भी नहीं थी. मुझे बाद में बिंदु ने बताया कि उसको उसने अपने कमरे में बुला कर कहा कि तुम ज़रा टीवी देखो, मैं अभी आती हूँ.

मेरी उमर 19 साल की है और मैं बहुत जल्द 20 का हो जाऊंगा क्योंकि मेरा बर्थडे आने वाला है.

जब मैं घर आया तो मेरी चाल देख कर भाभी झट से समझ गईं कि मैं शराब पीकर आया हूँ. तभी मेरे दिमाग ने कुछ खुराफात करने की सोची कि रिंकू भाभी की चुदाई करने का ये मौका अच्छा है. मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर कोई मुझे कॉलगर्ल कहे, रंडी कहे, दलाल कहे या कोई तरह की गाली देकर संबोधित करे.

जीजा ने मेरे मुंह में अपनी उंगलियां डाल दी, मैं उन्हें चूसने लगी, तभी उन्होंने अपना लन्ड मेरे हाथ में पकड़ाया और बोला- अब तुम मेरे लन्ड को चूसो वन्द्या!मैं बोली- मुझे घिन आएगी!जीजा बोले- लड़कियां लन्ड को चूसने को पागल रहती हैं, वन्द्या चूसो!और मेरे मुंह में लन्ड डाल दिया. उसने मेरे ऊपर आकर लंड को हाथ में लिया और लंड की स्किन ऊपर नीचे करने लगी. चाची ने हंसते हुए लंड को मुँह में ले लिया और मेरे अण्डकोष सहलाते हुए लंड चूसने लगीं.

उसे इस झटके से करने के कारण मज़ा आ गया, उसकी हल्की सी आह भी निकल गई.

मेरी कामुक कहानी के पिछले भागप्रियंवदा: एक प्रेम कहानी-2में आपने पढ़ा:कुछ देर ऐसे ही मस्ती करते करते दोनों आपस में चुम्बन लेने लगे और एक दूसरे के अंगों के साथ अठखेलियां करने लगे लेकिन इस सारे खेल में मैडम ज्यादा उछल कूद कर रही थी, वह कभी मालिक के साथ फ्रेंच किस करती तो कभी मालिक का लिंग जो बड़ी मुश्किल से 4 इंच का होगा उसे सहलाती।इस प्रेम क्रीड़ा में हम तीनों मग्न थे. मगर एक डर भी लग रहा था क्योंकि उसके साथ यह उसका सगा पिता कर रहा था.

चाइना वाला बीएफ तभी मेरी नजर उसके छाती पर पड़ी, जहाँ पर उसके तने हुए निप्पल उसकी साड़ी से दिखाई पड़ रहे थे।मैंने उसके हाथ को हटाते हुए कहा- तुम सो जाओ, मैं यहीं सो जाऊँगा।वो बोली- नहीं भईया, बेड बहुत बड़ा है, उस किनारे आप लेट जाओ और मैं इस किनारे लेट जाऊंगी। सुबह से आप इस सिंगल सोफे पर लेटे हुए हो, आपकी पीठ दर्द कर रही होगी।ठीक है, लाईट बुझा दो!” कहकर मैं बेड के दूसरे किनारे पर दूसरी तरफ करवट बदल कर लेट गया. उसके कंधे तक काले बाल और उनमें से पानी की टपकती बूंदें, गुलाबी होंठ, उन पर चमकता हुआ पानी.

चाइना वाला बीएफ मैंने समय ना लगाते हुए उसकी ब्रा खोल कर उसके चूचों को आज़ाद कर दिया. लालजी रुक गया, पीयूष मेरे पेटीकोट की गांठ को खोलने लगा, साथ ही मेरी नाभि को भी चूमने लगा.

जैसे ही भाभी ने मेरे बदन पर हाथ फेरना शुरू किया, मैं तो जैसे पागल हो गया.

हॉस्टल गर्ल्स सेक्सी

ऊपर पतली वाली मोटी वाली के होंठों पर अपनी योनि को रखकर अपने पैरों को घुटनों के बल मोड़कर उसके मुंह पर मेरे कन्धों को पकड़कर बैठी थी. मैं अपना एक हाथ उसकी स्कर्ट में डालते हुए उसकी चूत पर पहुँच गया था. जब मैं कोचिंग पहुँचा, तब मैंने देखा कि वहाँ अभी तक कोई भी नहीं आया था.

वो मुझसे बोली- ओह राज, कितने दिन से मैं इस खुशी के लिए तरस रही थी, जो मुझे आज तुमसे मिली है, क्या तुम आगे भी मुझसे मिल सकते हो?मैंने भी हाँ कर दी क्योंकि मुझे पहली बार किसी लड़की के साथ ये मौका मिला था तो उसे गँवाना नहीं चाहता था. वो चित लेट गईं, मैंने उनके होंठों पर स्तनों पर, लगभग सारे शरीर पर शहद लगा दिया और चाटने लगा. वो हंस कर बोली- यार मेरी ग़लती थी कि मैंने तुमसे उसका लंड शेयर नहीं किया.

मैंने अपने चूतड़ों से एक झटका मारा और मेरा लंड बिना किसी रोक टोक के मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया.

उनके दोनों पैर टूट चुके थे, वो जमीन पर पड़े थे और आंटी मदद के लिए गुहार लगा रही थीं. मैंने आव देखा न ताव, बस उसको अपनी तरफ खींच कर उसके होंठों को चूसने लगा. मैं सब समझती हूँ कि तुम ऐसा क्यों कर रहे थे?उसकी बात पर मैं हंसने लगा.

उसने मेरी तरफ देख कर आँख बंद कर लीं और मुस्कुराते हुए अपना पैर मेरे पैर से सहलाने लगी. अभिलाषा आनंद के सातवें आसमान पर झूल रही थी, वह आह… उई… याह… ओह… आदि शब्द बोले जा रही थी और अपना सिर इधर उधर मार रही थी. फिर बोले- आप ऐसे ही सोएंगे?मैंने कहा- हां।तो वे बोले- मैं भी कच्छे में सोऊं?मैंने कहा- कोई बात नहीं, जैसा आप चाहें।मैंने देखा कि कच्छे में से उनका लंड उचक रहा था.

और दो मेरा लण्ड अंकुश क़ो दिखाने लगी- देख भोसड़ी के… तेरे बाप का लण्ड तेरे लण्ड से लम्बा और मोटा है. मैंने स्कूल कॉलेज की लाइफ में केले, खीरा और ककड़ी से चुत की खाज मिटाने का का पूरा मजा लिया.

अब मधु उसे अपने दोनों हाथों से अपने ऊपर से हटा रही थी, कुछ पल बाद राज मधु के नंगे बदन से अलग हो गया और मधु की नंगी जांघों पर लंड से गिरा हुआ माल उसने मधु की सलवार से ही साफ़ कर दिया. पर आज घर पर कोई नहीं था तो सोचा देख लेता हूं, सॉरी प्लीज मुझे माफ कर दो. आपने क्या एड्रेस किया!वगैरह वगैरह… वे कमरा आते तक लगे ही रहे।कमरे में एक ही खटिया थी, मैंने कहा- नीचे बिछा लें?वे बोले- ठीक है।हमने नीचे फर्श पर बिस्तर लगाए, मेरे पास एक ही रजाई थी, मैंने कमरे पर आते ही अपने कपड़े उतार दिए, अंडरवियर बनियान में आ गया.

तभी रिसेप्शन से काल आया कि सर डिनर तैयार है, आप नीचे आएँगे या आपके रूम में ही भेज दें.

तो मैं अनजान बनते हुए ऐसे कहा- मैं कुछ समझा नहीं?तो उसने कहा- तुम्हारा हाथ कहाँ था आज?मैंने कहा- कहीं नहीं… क्यों क्या हुआ?तो उसने कहा- तुम्हारा हाथ आज मेरे सीने पे था. जब मैंने कोई जवाब नहीं दिया तो उसने मेरे करीब आकर मेरे मम्मों को बहुत जोर से खींचा और गुर्रा कर बोला- सुन रही है ना. उसने देखा कि बापू किचन में बैठा रेडियो सुन रहा था, जो धीरे से बज रहा था.

फिर चुत को खोला और अपनी उंगली की, मगर ध्यान उसका मेरी चूत के मटर पर था. वो मेरा विरोध तो नहीं रही थी, बस थोड़ा बहुत कसमसा ही रही थी मगर मेरे दबाव डालने पर धीरे धीरे सीधा भी होती जा रही थी… इसी तरह मेरे दबाव डालने से धीरे धीरे वो फिर से बिल्कुल सीधा कमर के बल हो गयी और मैं उसके ऊपर आ गया.

तभी भैया आ गये तो हमारी एक कजिन बोलीं- भैया, आज की रात भाभी को ज्यादा परेशान मत करना!इतना कहते ही सभी लड़कियाँ खिलखिलाने लगीं।अब भैया ने दरवाजा अन्दर से बंद कर लिया था. फिर कुछ देर बाद उनके मम्मे के गुलाबी निप्पल को अपने मुँह में लेके चूसने लगा और अंत में उनके निप्पल को हल्के से दांतों से काट लिया. इसके बाद उसने अपनी सलवार समीज को निकाल दिया और वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी.

इंडोनेशिया की सेक्सी फिल्म

मैंने डॉक्टर को समझाना चाहा।आप निश्चिन्त रहिये…” उन्होंने मेरी ओर देखते हुए कहा- मुझे कुछ नहीं होगा, मेरे लिए यह कोई नयी बात नहीं है, आप दरवाज़ा खोलिये.

और वो इतना टाइट पकड़ के चूस रहीं थीं कि मैं कुछ ही पल में उनके मुंह में ही ढेर हो गया. बस थोड़ी देर सब्र कर। अभी पहले से ज्यादा मज़ा आने लगेगा।”मेरा सारा नशा काफूर हो चुका था, लेकिन अपनी बिचली उंगली अंदर घुसाये-घुसाये उसने उलटे हाथ के अंगूठे से वही रगड़न देनी शुरू की जहाँ पहले उंगली से सहला रही थी।धीरे-धीरे नशा फिर चढ़ने लगा।उसके कहने पे मैंने अपने दूध और घुंडियों को अपने ही हाथों से मसलना शुरू कर दिया. न ही राशिद से इश्क था।बहरहाल, मन ही मन मैं भी आखिर इस नये और एक और तजुर्बे के लिये तैयार हो ही गयी और सुबह उठी तो कल रात वाला कोई बोझ बाकी नहीं था।अब इस बात का इंतजार था कि वह मौका कब आयेगा। इस बीच चूँकि एक ही घर में रहते थे तो समर से मेरा और अहाना का सामना कई बार हुआ लेकिन उसने किसी भी तरह रियेक्ट ही नहीं किया।हफ्ता गुजर गया.

उसके बाद मैंने उसको कुतिया बनाया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारना शुरू किए. यह कहकर मॉम ने अपना एक दूध का थन पकड़ कर और एक हाथ से नवीन का सर पकड़ कर अपना चूचा उसके मुँह में ठूंस दिया और जैसे ही नवीन ने मॉम का निप्पल चूसना शुरू किया, मॉम आह. ब्लू बीएफ भोजपुरीदोस्तो, मैं आपका दोस्त जय पटेल अपनी नई थ्रीसम सेक्स कहानी पेश कर रहा हूं। इससे पहले मेरी एक हिंदी सेक्स कहानी अन्तर्वासना पर प्रकाशित हो चुकी है तो आप मेरे बारे में तो जानते ही होंगे.

मैंने तुरंत उनके मुँह पर हाथ रखा और उसके ऊपर चिल्लाया- साली मेरे को मरावाएगी तू…तो बोलीं- कमीने धीरे नहीं डाल सकता क्या लंड चुत में… मैं कोई रंडी नहीं हूँ. आख़िर मैंने उसको ना बोला क्योंकि मुझे नहीं पता था कि वो मेरे साथ कैसा सलूक करेगा.

दोस्तो! मेरा नाम राज शर्मा है। आज मैं आपके साथ मेरा एक और अनुभव शेयर कर रहा हूँ. पद्मिनी की जांघों के पास बैठ कर बापू ने हल्के से अपना हाथ उसकी कोमल, मुलायम नाज़ुक जांघों पर फेरा. मेरा लंड मोटा होने की वजह से चाची को थोड़ा दर्द हुआ… और वो सिगरेट पीने के कारण खांसने लगीं.

मैंने लंड को बाहर निकाल कर डॉली के चुत के रस में सराबोर कर लिया और दोनों को उठा कर उनका मुँह लंड के सामने कर दिया. उसने माँ को अपनी गोदी में उठा कर अपना लंड उसकी चूत में डालकर माँ को बोला कि अब धक्के मारो इस पर. घर के बाहर भी आवाज जा रही थी और घर वाले समझ रहे थे कि लड़की को लड़का चोद रहा होगा और लड़की की चूत में मुश्किल से लंड जा रहा होगा, इसलिए चिल्ला रही है.

कुछ देर बाद वो चुत की सफाई करके वापिस आई तो उसके मुँह से कुछ नहीं निकल रहा था.

मैंने उसकी चूत पर लंड लगाया और एक झटके में उसकी चूत में अपना 7 इंच का खड़ा लंड डाल दिया. थोड़ी देर बाद फिर मेरा लंड खड़ा हुआ तो मैंने उनकी पैंटी खींच कर फाड़ दी.

उसी वक्त मैंने सोच लिया कि आज मौका अच्छा है, घर पे कोई नहीं है, आपा को चोदने का इससे अच्छा मौका नहीं मिलेगा. उन्होंने मुझे कौतूहल भरी दृष्टि से देखते हुए कहा- कैसी लग रही हूँ?मैंने उसे ऊपर से नीचे तक देखते हुए कहा- जैसे उस दिन नूरे मल्लिका लग रही थीं, वैसी ही आज भी लग रही हो. महिला का नाम शबनम है और उसके शौहर दुबई के किसी अच्छी कंपनी में जॉब करते हैं, सो उसका यहां आना साल दो साल में एकाध ही बार हो पाता है.

तब उसने मुझे अपनी ऑडी में बिठाया, नंबर एक्सचेंज किए और मुझे घर के बाहर तक ड्राप करके अपने घर दिल्ली चली गयी. मैंने पूछा- आपके सास ससुर?तो भाभी ने कहा- वे जयपुर रहते हैं, मेरे देवरों के पास. मैं सोचते हुए अपने कमरे आया और सोचने लगा कि वो रात को मेरे को क्या करने को बोलेंगी.

चाइना वाला बीएफ दूसरे दिन का नजारा, प्यार भरा दिन और रात में दमदार चूत की चुदाई हुई. उस पर एक तौलिया बिछा कर पहले मैं पीठ के बल लेटा और डॉली को अपने मुँह के पास खींचा.

ब्लू फिल्म सेक्सी चाहिए सेक्सी

जैसे ही उसके बड़े-बड़े बोबे और एकदम क्लीन शेव चुत मेरे सामने आई, मैं तो जैसे पागल सा हो गया. मैं- उसको किसको?भाभी- अपने लंड को…फिर मैं भाभी को चोदने के लिए उनकी चुत के ऊपर आ गया और अपने लंड को उनकी चुत पर सैट करके चुत में लंड डालने लगा. मेरे पापा ने कहा- आपको कोई भी काम हो, तो आप बेझिझक हमारे घर पर आइएगा और मैं ना होऊं तो मेरे बेटे को बुला लीजिएगा.

दोनों हाथ उसके चेहरे पर रख कर, अपना चेहरा पास लाकर उसके होंठों से होंठों का चुम्बन करने लगा. उस रात भाभी ने भैया कुछ काम से बाहर गए हुए थे तो भाभी ने कहा- आज रात तुम अपनी मम्मी से कहकर यहीं रुक जाना और पूरी रात मेरी चुदाई करना. भोजपुरी बीएफ वीडियो भोजपुरी बीएफ5 मिनट के बाद उसने एक और झटके से पूरा लंड मेरी कुंवारी चूत में डाल दिया.

चूत के नाम पर लंड अकड़ गया तो मुझे मुठ मार कर लंड की अकड़न समाप्त करनी पड़ी.

निशा बोली- क्या वो लड़का मेरी गांड भी चाटेगा?मैंने उसको बोला- हां वो सब करेगा, जो तुम कहोगी और उसकी फीस भी कुछ ज्यादा नहीं है. वो बोला- वन्द्या, तुम बहुत बड़ी सेक्सी आइटम हो, आज तक इतनी सेक्सी नाभि और ब्लाउज में इतने मस्त चूचे मैंने आज तक नहीं देखे, तुम्हारी कमर बहुत सेक्सी है.

अब वो पद्मिनी को बैठाकर, अपना लंड उसके मुँह के सामने लाया, पद्मिनी ने भी उसे चूमना और चाटना शुरू किया. बोलो क्या करवाना चाहते हो?थोड़ी देर सोचने के बाद मैंने धीरे से खुद को कहा कि आज इसको सौ किस करने के लिए बोल देता हूँये मेरी बुदबुदाहट दीदी ने सुन भी ली. भाभी ने रहस्यमयी मुस्कान के साथ कहा- और ये भी तो तुम्हें पता है कि इंतजार का फल मीठा होता है.

मैंने उसे चुप कराने के लिए पास बुलाया और दोनों हाथों से उसके गाल पकड़ कर कहा- चुप हो जाओ, रोती क्यों हो, ये तो रोज़ की बात है!मेरे इतना कहते से ही वो मेरे सीने से लग गयी और जोर जोर से रोने लगी।मैंने मुन्नी का चेहरा ऊपर किया था मासूम चेहरा और आँखों के आंसू देख मुझे भी रोना आने लगा और मैंने उसे कहा- चुप हो जाओ, वरना मैं भी रो दूंगा.

शाम को ऑफिस से आते वक्त उनके घर गया तो पता चला… गाँव में कोई बीमार है तो बच्चे और उसके पति 10-12 दिन के लिए गाँव गए हैं. तो वो मेरे लंड को ऊपर से रब करने लगी और कहती- अभी भी शांत नहीं हुए हो बेटा?तो मैंने कहा- आपके जैसा फिगर लंड को शांत कहाँ होने देता है मम्मी जी?वो मुस्कुराने लगी, कहने लगी- अब तो कुछ नहीं हो सकता क्योंकि अभी काम वाली आ जाएगी और दस बजे आपको ऑफिस भी जाना है और शाम तक तो आपका साला भी आ जाएगा! रात यहाँ रुक भी जाओगे तो भी कुछ नहीं हो पाएगा. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:बस में मिली लड़की ने दिलाया ज़न्नत का मजा-2.

बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ मूवीवो बोली- भैया, मुझे और मम्मी हम दोनों को बच्चा टिका दो!शीतल ने भी हामी भरी और मैं बिना लौड़ा निकाले ही सो गया शिवानी के ऊपर!इस तरह से हम सबको बदन में शांति मिली और सब लोग बेसुध होकर सो गए!यह कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी मम्मी रंडी निकली-5. इतना सुनकर मैंने अभिलाषा से कहा- आप अपने फोन को थोड़ी देर के लिए स्विच ऑफ कर दो.

आंटी की हॉट सेक्सी वीडियो

मैंने एक हाथ उसके सलवार में डाल दिया और उसकी चूत में उंगली करने लगा. उन्हें थोड़ी असुविधा हो रही थी परंतु वह मजा लेती रही और अंत में 15-20 झटकों के बाद मैंने उनकी चूत में अपने लण्ड से वीर्य की पिचकारियाँ मारनी चालू कर दी. मैंने भी देर ना करते हुए उसे सीधे लेटा दिया और उसकी दोनों टांगों को चौड़ा कर दिया.

जैसे ही अलका पलट के वापिस ड्राइंग रूम में आयी, मैंने झपट के उसको अपनी बाँहों में जकड़ लिया और उसके गुलाब की पंखुड़ियों सरीखे होंठ चूमने की कोशिश की. मैंने धीरे से आंटी के कान में कहा- आंटी आप पूरी नंगी हो गई हो, मुझे भी नंगा कर दो ना. काजल का इन्तजार था मुझे उसको चोदना पड़ता इसलिए मैंने माधुरी को दुबारा नहीं चोदा.

मेरी सेक्स स्टोरी के पहले भागफ़ेसबुक पे पटा कर चंडीगढ़ में चोदा-1में आपने पढ़ा कि फेसबुक पर मेरी दोस्ती एक लड़की से हुई, बात आगे बढ़ी और मिलने तक पहुंची, मिलने के बाद सेक्स तक पहुंची और आखिर हम दोनों पहुँच गए होटल के कमरे में!अब आगे:और फिर आरुषि ने मुझे अपने ऊपर खींचते हुए दोबारा से मेरे होंठ जकड़ लिए अपने होंठों में और आँखों ही आँखों में मेरे ऊपर आने की इच्छा जताई. फिर मैंने भाभी से सीधा पूछा- आपका क्या हाल है भाभी?भाभी ने कहा- बस तुम्हारे भईया आएं तो मेरी प्यास बुझे. तो सोचो उन दोनों का प्रणय मिलन कैसे होता होगा। अगर साथ दो तो थोड़ा झूठ बोलकर दोनों को बाहर भेज दो।पहले तो हमारे दोस्त ठहरे जात के मास्टर; तो चुदायी शब्द सुनते ही बमक(गुस्सा) गये, बोले- तुमको औरो कुछ सूझता नहीं है क्या रे इत्ते बड़े हो गये हो; अभी भी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हो।मैंने कहा- देख तिवारी… होगा तुम मास्टर अपने स्कूल का, और पंच पूरे कस्बे का; पर जो मुझे समझ में आया वो कहा.

धीरे-धीरे उनकी स्पीड बढ़ती ही जा रही थी और वो लगातार धक्के लगा रहे थे. नया हॅास्टल, नया कॉलेज, नए दोस्त… वे सब दिन भर कॉलेज से आते, नॉन वेज जोक मारते, लड़कियों के किस्से सुनाते.

चाची ने बड़ी चाची की चुत को मुँह से चोद कर एक गहरी कराह भरी और बोलीं- अरे ये ताला बहुत दिन से बन्द पड़ा है जरा प्यार से कर मादरचोद.

मेरे नीचे वाले फ्लोर मतलब ग्राउंड फ्लोर पे भी परिवार ही रहते थे लेकिन फर्स्ट फ्लोर पे जाने का रास्ता एक ही था, जो नीचे वाले वॉशरूम के बगल से होकर जाता था. हिंदी एचडी मूवी बीएफमेरी वाइफ गर्भवती होने के कारण नहीं जा सकी लेकिन उसने मुझे कहा- मम्मी घर पर अकेली होंगी तो आप जाओ!तो मैं वहाँ चला गया. सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफमैंने उसके लबों पर अपने लब रख कर काफी देर तक उसे चूमा, हालांकि मेरा मन तो था कि आज ही इसको चोद कर लंड को मजा दे दूँ. फ़िर बड़ी चाची ने हंस कर छोटी चाची के दोनों चूचे अपने मुँह में भर लिए और चूसने लगीं.

जाने से पहले उसने एक बार फिर से मेरी बांहों में आकर चुम्मी ली और चली गई.

रेखा रानी थोड़ी हिली डुली तो, लेकिन ‘क्यों तंग कर रहे हो?’ मुनमुना कर फिर सो गई. एक दिन जब मैं भाभी को चोद रहा था, तभी उनकी बहन यानि मेरी फ्रेंड आ गई. मेरे पिछले भागों को लेकर मुझे बहुत से मेल मिले और बहुतों ने कई तरह के कॉमेंट्स किए.

मैंने उसके मुंह पर हाथ रख कर बंद कर दिया ताकि कोई सुन ना ले, वैसे तो सुनसान पहाड़ था फिर भी अगर कोई सुन लेता तो बवाल हो जाता. मैं- उसको किसको?भाभी- अपने लंड को…फिर मैं भाभी को चोदने के लिए उनकी चुत के ऊपर आ गया और अपने लंड को उनकी चुत पर सैट करके चुत में लंड डालने लगा. मैंने हैरान हो गया कि ये अपनी गांड मरवाना चाह रही है? मैंने उसकी आँखों में प्रश्नवाचक दृष्टि से झाँका तो उसके चेहरे पर हल्की सी मुस्कान आई और उसने ‘हाँ’ में सर हिलाया.

सेक्सी वीडियो देहाती फिल्में

मैंने नोटिस किया कि मेरा लंड उनकी चुत पर पेटीकोट के ऊपर से ही टच हो रहा था. वो मेरी चूची को ऐसे चूस रहा था, जैसे वो मेरी चूची को एकदम निचोड़ ही देगा. तो हो गया फैसला…” मैंने पटाक्षेप किया और नर्म स्वर से बोला- तो अब जरा अपने पति का भी कुछ ख्याल कर लो…अपना आधा भरा जाम टेबल पर रख मेरी मॉडल जैसी पत्नी इठलाती हुई चाल से कदम रखती हुई मेरी कुर्सी के पीछे आ गई, मेरी गर्दन पर झुक कर उसका चुम्बन लिया.

जब मुझे मॉम नहीं दिखाई दीं, तो मैंने ध्यान दिया कि बाथरूम से पानी गिरने की आवाज आ रही थी.

फिर मैंने भाभी की कमर में हाथ डाल कर अपनी तरफ खींचा तो भाभी एकदम से सिहर सी गईं और ‘इस्स्स्स.

लोग कहते हैं कि पुलिस वाले बहुत गंदे होते हैं, मगर सभी को एक ही तराजू में तौलना ठीक नहीं है. मैं उन्हें अन्दर लेकर गया और अपनी गोदी में बिठाकर उनको अपने हाथों से खाना खिलाया. वीडियो चुदाई बीएफये ऐसा समय हुआ करता था जिस समय मर्द घर पर नहीं होते थे, सब अपने अपने काम पर चले जाते थे.

उसी तरह उंगलियां कमर पर फिराते हुए मैंने हाथ उसके पाजामे में डाल कर उसके नितम्ब हौले से दबाये. मोटे, गोरे, गोल मम्मे- चौड़ी मांसल कमर, सुन्दर मांसल पेट, अच्छी सुन्दर और मोटी सेक्सी गोरी टांगों और जांघों के बीच बिन बालों वाली पाव रोटी सी गोरी चूत, जिसमें एक छोटा सा चीरे का निशान था, जिसके अंदर चूत का वह हिस्सा था जिसमें मेरा बड़ा और मोटा लण्ड जाने वाला था. लौंडे की गांड वैसे ही अभी चिकनी थी, गाल भी चिकने थे, लौंडा हाथ पकड़ने लगा पर गांड में से उंगली न निकाल पाया.

इसलिए उस लौंडे ने गीता की एक ना सुनी और बोला- अगर तेरी चुत बच्चा निकालने का मन बना ही चुकी है तो मेरा लंड क्या करेगा. वो मेरे मम्मों पर टूट पड़ा और मेरी एक चूची को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

तभी उसका फोन बजने लगा, फोन रिसेप्शन से था, उसने कहा- मैं अभी कहीं बिजी हूँ, मुझे डिस्टर्ब मत करो, मैं थोड़ी देर बाद आपको फोन करती हूँ.

साथ ही उसने मेरा लंड भी अपने मुँह से निकाल दिया और मेरे ऊपर ही लेटी रही. अब तक उसकी लंड चुसाई से मैं बुरी तरह से गनगना गया था और अब मेरे लंड का झड़ना तय हो चुका था. उसने मौका देखा तो वो मुझे अपना जींस पेंट की चैन खोल के अपनी नुन्नू दिखाने लगा और ऐसा करने लगा कि जैसे उसको पता ही नहीं हो कि वो अंडरवियर नहीं पहने हुए है और उसकी जींस की चैन खुल गई है.

सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ ब्लू फिल्म मैं तो बस तुमसे मिलने आई थी लेकिन तुम्हारा खड़ा लंड देख कर मन बदल गया. वापस आकर देखता हूँ कि उन्होंने अपने हाथों में मेरा सेक्स टॉय पकड़ रखा है.

भाभी की चौड़ी और गुदाज कमर और गाण्ड उनके पारदर्शी गाउन में से साफ़ दिखाई दे रही थी. यह तो पक्का थाकिरेखा जैसी कामुक पटाखे को झेलना शशि कांत के बस का रोग तो था नहीं. और फिर जब मेरी बहनों ने मेरे सामने अपनी ब्रा पेंटी भी उतार दी, वे दोनों मेरे सामने पूरी नंगी हो गई तो मेरी हालत हद से ज्यादा खराब होने लगी थी, मेरा लंड फट पड़ने को तैयार हो चला था.

करने वाली वीडियो सेक्सी

हर झटके पे उनकी हिचकी सी निकलती, लेकिन फिर भी वो मुझे देखे जातीं और मैं उन्हें. दूसरे वो शराब के नशे में भी थी, इसलिए उसने अपनी चुत की फांकों को खोल खोल कर अपना पेट आगे पीछे करने में लग गई. अब मैं समझ गया कि चाची भी कामवासना से गरम हो चुकी हैं और मैंने मौका ना गँवाते हुए उनके होंठों को चूम लिया और फिर ऊपर वाले लिप को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा, पहले तो चाची ना नुकर करती रहीं, लेकिन पांच मिनट बाद वो भी मेरा पूरा पूरा साथ देने लगीं.

कुछ देर मैं भी उनको ऐसे ही देखता रहा, फिर बुझे मन से दरवाजा बंद कर दिया और अपने फ्लैट में आ गया. कुछ देर यूं ही पांव चूमने के बाद मैंने उसकी पिंडलियां चूम डालीं और घाघरे को थोड़ा सा घुटनों के ऊपर कर, उनके दोनों चूचुक चिकोटी में भर कर उनकी चिकनी जांघें चाटने लगा.

मैंने उससे कहा कि मैं अभी तो दिल्ली जा रहा हूँ, आपको लौटकर अपनी सर्विस दे पाऊँगा या फिर आप किसी और की सर्विस ले लीजिए.

शादी के बाद हर लड़की कुछ सपने संजोए होती है कि उसके साथ उसका पति किस तरह से उससे अपने प्यार का इज़हार करेगा. फिर मैं वैसे ही उसके ऊपर झुकते हुए एक हाथ से उसका मम्मा और दूजे हाथ से फुद्दी सहलाने लगा और अब जितना लंड अन्दर गया था उसे वैसे ही थोड़ा-थोड़ा अन्दर बाहर करने लगा. अति उत्तेजना की स्थिति में दीदी ने मेरे होंठों को काट लिया और कुछ ही देर में उसका पानी निकल गया.

सामान्य रंग, बड़ी बड़ी आँखें, नुकीली नाक, सीधे और लंबे बालों से उनकी आकर्षकता बहुत ज्यादा थी. वो अपने हाथों के नाखून मेरे पीठ पे गड़ाने लगीं, जिसके कारण मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन उस समय उस दर्द का भी अपना मजा था. खुद पद्मिनी ने महसूस किया कि यह सब करने पर उसकी चूत में ज़्यादा पानी उतर रहा है.

मैंने अपना पानी उसकी चुत में छोड़ दिया और उसके ऊपर ऐसे ही कुछ देर लेटा रहा.

चाइना वाला बीएफ: फिर मैं थोड़ी देर रुका रहा, वो नॉर्मल हो गईंअब मैंने जोर का झटका लगाया, वो बिस्तर पर गिर गईं और उनकी आँखों से आंसू निकलने बंद नहीं हो रहे थे. जूसी रानी ने आँखें तरेर के कहा- हरामी, तुझ से बातों में आज तक कोई जीता है जो मैं अपना दिमाग ख़राब करूँ… मैं जा रही हूँ उर्मिल दीदी से बातें करने… तू चुपचाप अच्छा बच्चे कीतरह यहाँ बैठ… मैं थोड़ी देर मेंआती हूँ फिर खाना साथ खाएंगे… और हाँ फिर कोई बदमाशी नहीं करियो…समझ गया न?मैंने कहा- जी हाँ मैडम जूसी रानी जी, अच्छा बच्चा बन के बैठा रहूंगा आपके आने तक.

मैंने पीछे से उनके चूतड़ों की दरार में अपना 8 इंची लौड़ा टिकाया और उनके मम्मे भींचने लगा. जैसे गौसिया के साथ गुज़रे पल या शीला की जिंदगी के कडुवे सच।बहरहाल, इन पौने दो साल में कुछ अफ़साने बने तो सही जो बताने लायक हैं. हमारे दोनों मेहमान भी हमारे नजदीक आ गए, आर्थर अपनी जीभ से मेरी जन्म-जन्मान्तर की साथी की चूचियों को चाटने लगा, एरिक उसके क़दमों में बैठ कर उसकी सुगन्धित, गुलाबी, क्लीन शेव्ड चूत को चाटना शुरू हो गया.

कुछ वक़्त इंतजार करने के बाद मैं फिर से अपने पैरो को बढ़ाने लगा और धीरे धीरे मेरा पैर उनकी जांघ के बीच में आ गया.

इस चुदाई के बाद हम दोनों भाई बहन ने बहुतों बार मौके खोज खोज कर चुदाई की।मेरी प्रिय पाठको, उम्मीद करती हूँ कि आप लोगों को यह कहानी पसन्द आयी होगी।आगे की कहानी अगले भाग में बताऊंगी, तब तक के लिए अपनी इस चुदक्कड़ मधु को आज्ञा दें।मेरी मस्त पोर्न कहानी आपको कैसी लगी, कमेंट्स में जरूर बताएं।. खाना खाने के बाद वो सोने चली गयी हॉल में!फिर मैंने सोनू से कहा- बेटा, तुम अंदर के कमरे में चिकन लेकर जाओ, मैं अभी आती हूँ!सोनू अंदर चला गया, घर का सारा काम कर के मैं भी अंदर कमरे में आयी. फिर कुछ देर बाद मुझे लगा कि मेरा रस निकल जाएगा तो मैंने उसके मुँह से अपना लंड निकाल कर उसको बिस्तर पे सीधा लेटा दिया.