चीनी की बीएफ

छवि स्रोत,साडीवाली मराठी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़कों के बीएफ वीडियो: चीनी की बीएफ, फिर वो नीचे सरकी और मेरा लंड पकड़ कर बोली- अब ये मेरी गरम चूत में जाएगा…वो धीरे धीरे मेरे लंड पर बैठने लगी.

பாத்ரூம் செக்ஸ்

हम दोनों की सिर्फ हाय हैलो और बाई तक ही बात होती थी।एक महीने पहले दिसम्बर की बात है। एक दिन वो आई, मेरी बहन को पापा के काम से पापा के ऑफिस जा कर पैसे लाने थे। मेरे मॉम डैड दोनों बिज़नेस करते है तो ज्यादातर घर पर मैं और मेरी बहन. सेक्सी व्हिडिओ मराठी देसीअब मैंने अपनी पत्नी को उठा कर उसकी नाइटी निकाल दी और फिर उसके पीछे बैठ के मैंने उसके हाथ ऊँचे कर दिए और उसकी ब्रा का हुक खोल के उसे निकाल फेंका.

संजय- बहाना नहीं बनाता हूँ… आजकल माँ दोपहर में सो नहीं रही ना, अब उनके आने का ख़तरा रहता है और वैसे भी इतने भी दिन नहीं हुए, जितने तू बता रही है. मिर्जा सेक्सी पिक्चरएक साथ 2 लंड का मज़ा लो और मैं तो कहता हूँ हम सबके साथ प्यार का मज़ा लो, तुम सारी जिंदगी ये रात भूल नहीं पाओगी.

जब मैंने शीशे में अपनी नंगी कामुक बेटी को देखा तो वह झेंप गई और अपनी चूत और दूध को छुपाने लगी.चीनी की बीएफ: उसकी गांड का सुराख पूरी तरह से खुला हुआ था और उसके नीचे मेरा मोटा सख़्त लंड मेरी बेटी की चूत में जड़ तक फँसा हुआ था.

पिंकी- चुदाई को तेजी से किया जाए? अपनी टाँगें थोड़ा-थोड़ा पापा की कमर से लपेट लो.मैंने फिर से उन्हें अपने से अलग किया तो उन्होंने कहा- क्या हुआ मेरी साली जी? चुदवाने का मन नहीं है क्या?मैंने कहा- जीजू, चुदवाने का तो मन बहुत है पर मुझे डर लग रहा है इस तरह छत पर खुले में और नीचे घर में भी सब हैं, कोई आ गया तो?जीजू ने कहा- इतनी रात को कौन आयेगा, मेरी डार्लिंग आ जाओ न मेरी बाहों में!मैंने कहा- रुको जीजू, मैं पहले नीचे घर में देख कर आती हूँ कि सब सो गए या नहीं.

బ్లూ ఫిలిం ఇండియన్ - चीनी की बीएफ

मेरे हस्बैंड का तो इतना छोटा है कि मेरे चूतड़ों से आगे ही नहीं जाता.वीरू- यार तू अपना बदला बाद में लेते रहना, पहले हमको मज़ा करवा देना बस.

” मैंने बहूरानी को मक्खन लगाया और उसके निप्पल चुटकी में भर के उसका निचला होंठ चूसने लगा. चीनी की बीएफ हम दोनों ने 15-20 मिनट तक बातें की और मैंने कहा- अब मैं चलता हूँ आंटी.

अचानक मेरे वीर्य का एक फव्वारा निकला जो स्कूटर के हेडलाइट को पार करते हुए सड़क पर जा गिरा.

चीनी की बीएफ?

” मैंने कह दिया।उसके बाद जो हुआ उसने मेरे मन में उसके आंटी के सम्मान की छवि को खत्म कर दिया। वो मादरचोद रंडी साली कुछ और चाहती थी। उसने अपनी चूत मेरे मुँह पर लगा दी. तब मैं सकुचाते हुए पूछ ही बैठा तो मामा जी से पता चला कि अर्चना बाजार गई है, अभी आ जाएगी. उधर बाहर साधु ने गोपाल को समझाया कि आगे क्या करना है और उनके जाने के बाद मोना का कैसे ख्याल रखना है.

एक तरफ मेरा दिल करता है कि हमारी बात न हो क्योंकि हमारा बात करने का कोई मतलब ही नहीं है तो दूसरी तरफ दिल करता है सब भाड़ में जाओ बस मुझे तो मोनिका ही चाहिए. देखते हैं कि तुम पहचान पाओगी या नहीं?दिव्या- लेकिन ये सब तो कपड़े पहन कर भी हो सकता था. रीतिका हंसने लगी, कहती- मेरी भोली ननद रानी जी, जब कल तुम फोन पर आज का प्रोग्राम बना रही थी तो मैंने सब सुन लिया था.

मम्मी अब भी थोड़ा विरोध कर रही थीं लेकिन जब शमशेर ने जैसे लंड को चूत पर टिकाया, तो लंड अन्दर नहीं जा रहा था. जीजू ने एक उंगली को मेरी चूत में डाल दिया और उंगली को चुत में आगे पीछे करते हुए वो मेरी चूत को चूसने लगे. चाचाजी धीरे से बोले- जान मैं देखकर आता हूँ कि सब सो गए हैं कि नहीं, तुम इरफान के सोते ही रूम नं 208 में आ जाना.

माँ की चुत को बहुत देर तक चोदा पर मेरा लंड अब भी सतत चुदाई में लगा हुआ था. वंदिता आज भी मेरी जिंदगी में मेरी प्रेमिका है और इस जनवरी में हमारी रिलेशनशिप को 2 साल पूरे हो जाएँगे.

उसकी चूचियाँ मुँह में लेकर बारी बारी से उसकी दोनों चूचियां चूसने लगा.

रहमत बोला- मैडम, आपको फिटिंग कैसी चाहिए टाइट या लूज़?तो मम्मी बोली- टाइट… ऐसा लगे जैसे बॉडी पे पेंट किया हुआ हो।तो रहमत बोला- फिर आपको अपना ब्लाउज़ उतारना होगा.

मैंने आँखों को खोला तो वह कोई और नहीं बल्कि सलमा का क्लासमेट शिशिर था. हम दोनों एक-दूसरे से मिलना चाहते थे, लेकिन ऐसा कोई अवसर नहीं मिल पा रहा था कि हम मिल सकें. एक दिन मैं और जीजू एक-दूसरे से मजाक कर रहे थे और उस दिन जीजू ने मुझसे बोला- पिंकी तुम बहुत सेक्सी हो.

और वैसे भी जिसका इतना मस्त लौड़ा हो, उसे शर्माना शोभा नहीं देता। इतना कह कर अंजना ने उसका कच्छा नीचे कर दिया और एक झटके से राहुल का 9 इंची हथियार पट से बाहर आ गया।हे राम ऐसा लल्ल…. अनुराधा- ऐसा क्यों बोल रहे हो भैया?मैं- मेरी जो मर्ज़ी मैं कहूँ या करूँ. लंड अन्दर जाते ही मैंने अपने पैरों से शिशिर की गर्दन कस ली और उसके पूरे लंड को खाने के लिए कमर को उछालने लगी.

बीवी सुगंधा के बिगड़ने पर कहा कि दोपहर में तुम किचन क्लासेस में चली जाती हो, मैं फैक्ट्री चला जाता हूँ.

अंजलि ने पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. अब रंजु की बारी थी, जिसने बिना भला बुरा समझे, दीपक का लंड पकड़ कर खींच लिया और मोबाइल में चलती फिल्म की तरह चूसने लगी. वीरू- यार तू अपना बदला बाद में लेते रहना, पहले हमको मज़ा करवा देना बस.

ये दो किरदार गेस्ट अपीयरेन्स हैं, तो बस एक दिन के लिए इन्हें आपके सामने लाई हूँ. पूरी नंगी शीलू कुछ ऐसी लग रही थी कि उसके बदन की तारीफ़ करे बगैर मैं कैसे रहता. मैं आज आप लोगों के सामने अपने एक दोस्त की कहानी लेकर प्रस्तुत हुआ हूँ, जिसने मेरी सेक्सी कहानी पढ़ने के बाद अपनी कहानी मुझसे शेयर की और उसे आप सभी की ओर से मेरी फेवरिट साइट अन्तर्वासना पर प्रकाशित करवाने का अनुरोध किया.

मैंने अपना सामान पैक करके कार में रखा और तभी मेरी नजर अनुराधा पे पड़ी.

उसकी चूचियां तो ऐसी उठी हुई दिखती थीं कि मन करता था पकड़ कर अभी ही दबा दूँ. मैंने लिखा- नहीं … ये एक ही बात नहीं है … मैं तो जब भी चाहूँ, अपना कौमार्य किसी बाजारू महिला के साथ खत्म कर सकता हूँ.

चीनी की बीएफ ह्हहँ… उऊँऊँ ह्हहँ… उऊऊ… गुऊंन्न… गुण… उऊऊँ ह्हह… उऊँऊँ ह्हहँ…”फिर तभी ममता दीदी ने मुझे जोर से भींच लिया और शांत पड़ गई… उनकी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दिया जो ममता ‌की जांघों के साथ साथ मेरे लंड व मेरी जांघों पर भी फ़ैल गया।ममता जी अब थोड़ी सी निढाल हो गई थी इसलिए उनकी पकड़ कुछ ढीली हो गयी मगर मैं अब भी अपनी उसी गति से उन्हें धक्के लगा रहा था. मम्मी ससुर जी के मोटे लंड की चोट बर्दाश्त नहीं कर पाईं और चिल्लाने लगीं- ओह.

चीनी की बीएफ नमस्कार दोस्तो, कैसे हैं आप सब? काफी दिन के बाद मैं अपनी नई चुदाई की कहानी लेकर आई हूँ, मजा लें!आप सबने मेरी पिछली कहानीपड़ोस वाला जीजा साली सेक्स के लिए बेचैनपढ़ी होगी. तो मैं उस के और पास को हो कर बैठ गया और उस की जांघ पर हाथ रख दिया।तो उसने मेरा हाथ एकदम से हटा दिया.

जब रात को मौसी अपने रूम में लेटी थीं और मैं भी लुंगी पहनकर सोने जा रहा था, तभी मैंने कस के आवाज़ मारी- बचाओ बचाओ.

बीएफ मूवी डाउनलोड वीडियो

लड़के ने उसके पैरों को फैला दिया, जिससे चूत के बीच की दरार दूर से दृष्टिगोचर हो रही थी. मैं तो जैसे पागल हो रही थी इस मस्त सेक्सी अदाओं की वजह से और मेरे मुख से जोर जोर की सिसकारियाँ निकल रही थी. रूपा ने जानबूझ के अपना पल्लू ऐसे रखा, जिससे पप्पू को बगल से उसके मम्मों का तगड़ा नज़ारा दिखे और उसके मम्मों के बीच की गली साफ़ दिखाई दे.

मैंने उसे अपनी हथेली में लेकर सहलाते हुए मुँह में ले लिया, जिसकी एक्साइटमेन्ट से चाचाजी ने अपनी जीभ मेरी चुत में डाल दी. और 6 इंच का लटकता लंड… बताओ अब क्या कमी थी उसमें… दिल तो कर रहा था कि उसका एक फोटो खीच लूँ. मैंने उसे 69 की पोजीशन में लिया और थोड़ी देर बाद सीधा करके, उस की टांगों को कंधे पर रख कर चोदने लगा.

फिर दोपहर को मैं माँ से बोली- माँ मैं सहेली के साथ बाजार जा रही हूँ, देर हो जाएगी, इंतजार मत करना… मैं देर शाम तक आऊँगी.

मैं अभी तक झाड़ा नहीं था, मैंने उनके मुँह में अपना लंड डाल दिया और आंटी पूरे मज़े से लंड चूसने लगी. मुझे लगा कुछ और गंदा बोलते हैं जैसे तेरी माँ को हम बोलते थे, पर यह छेड़ छाड़ का बोलना तो बड़ा आम बोलना है बेटी. ”मैं दीदी के ऊपर लदते हुए उन्हें जोर जोर से कुतिया की तरह चोदने लगा.

उसने मेरे सर को टांगों में जकड़ लिया और जीवन में पहली बार चरम आनन्द को पाकर चीख चीख कर झड़ने लगी. अगर आपको पसंद आई हो तो मुझे मेल के द्वारा बताना कि आपको ये सेक्स स्टोरी कैसी लगी. इस तरह की चुसाई में उसकी जितनी भी लार निकलती, मैं उसे अमृत समझ कर पीता चला गया.

मैंने फिर से चूत को अपने हाथों से खोला और चूत के भीतर का जायजा लिया. मोना- एक बात कहूँ ऐसे तो तुम जल्दी झड़ जाते हो, फिर नीतू का मजा नहीं ले पाओगे.

सुमन- आह… सस्स पापा आपका लंड है या डंडा… आउच लगता है एयेए…पापा- क्यों मेरी बेटी को मजा नहीं आ रहा क्या… बंद कर दूँ मारना… सीधे पेल दूँ?सुमन- नहीं पापा… मजा आ रहा है, करते रहो… ओफ्फ… पापा चुत के ऊपर रगड़ो ना… ज़ोर ज़ोर से… उसमें ज़्यादा मजा आ रहा था. इधर मेरा और दीपक का खड़ा लंड रंजु के चूतड़ों में लग रहा था, जिसे वह भी महसूस कर रही थी, पर वासनामय होने के कारण मजे से मोबाइल पर लगी रही. फिर जब वो थकने लगी तो मैंने उसे अपने ऊपर लिटा लिया और उसे किस करते हुए नीचे से गांड उठा उठा कर उसे चोदने लगा.

फ्लॉरा- नहीं, ऐसा कुछ नहीं है तुम्हारे बारे में कोई जिक्र नहीं हुआ.

यूं ही घूमते घामते, खरीदारी करते करते सवा नौ बज गए; अब भूख भी जोर से लगने लगी थी अतः बहूरानी की पसन्द के रेस्तरां में हमने बढ़िया डिनर लिया. कभी और बाद में देखेंगे।मैंने कहा- नहीं अभी करना है…बेचारी प्यार करती थी मुझसे. मैंने फिर से प्रयास किया तो उसने मेरा हाथ वहीं पकड़ लिया और छोड़ा ही नहीं.

हम वापस गोपाल के पास जाते हैं, आज वहां भी बहुत कुछ मसालेदार होने वाला है. थोड़ी देर बाद ही बहूरानी का भुज बंधन शिथिल पड़ गया साथ ही उसकी चूत सिकुड़ गई जिससे मेरा लंड फिसल के बाहर निकल आया.

गांव में हम लोगों के छोटे छोटे तीन मकान जो इकट्ठे बने हैं, वहां पर मेरी बुआ का परिवार रहता है. उसने मुझे एक कमरे में लगे बिस्तर पर सोने को कहा और खुद उसी कमरे में बिस्तर के पास ही एक कुर्सी पर बैठ गई. मुझे तो जैसे जन्नत ही मिल गई थी क्योंकि नेहा दी का फिगर क्या बताऊँ… वो एकदम गोरी थी, उनका मांसल शरीर एकदम लचीला था, जब वो ठुमक कर चलती थीं, तो उनकी चुचियां और गांड ऐसे हिलते हैं कि कलेजा मुँह में आ जाता है.

चोदी चोदा बीएफ सेक्सी

तभी आगे वाले अंकल रोहित को आगे सीट में लिटा कर उठ आ गये और ड्राईवर को बोले- जो गाड़ी में हो रहा है, उसे भूल जाना और गाड़ी में ध्यान दो, एक्सीडेंट मत कर देना.

बोल कि जब मैं तेरा यह सीने का दाना मतलब निप्पल किस करता हूँ तो अच्छा लगता है ना तुझे? तेरी माँ के साथ खेल कर उसे भी मैंने यह खेल ठीक से खेलना सिखाया है. इस चुदाई की कहानी में अब तक आपने पढ़ा था कि मामी की चुत चुदाई के बाद मैंने मामी की बेटी अर्चना को उसके कमरे में फिर से चोदा था. गच्च से मेरा पूरा लंड उसकी बुर की सील को तोड़ता हुआ पूरा अन्दर हो गया.

मैंने नीलिमा से पूछा कि ये तो स्लीपर कोच है, अब एक ही बर्थ से कैसे सफ़र करेंगे, गाड़ी में एक लेडी हैं, आप उनसे आप बात करो ना कि वो आपके साथ एडजस्ट कर लें. अंजना बकती जा रही थी- अब भगनासा चूस… अहह… हाँ… हाँ ऐसे ही… आह… बड़ा मस्त चूस्ता है कुत्ते… ऐसे चूस… आह… आह… तू मेरा घोड़े के लन्ड वाला कुत्ता है… उम्म… और मैं तेरी कुतिया… ज…जाने वाली हूँ. सेक्सी मराठी पॉर्नएक लड़की मेरे निप्पलों को काटने लगी और तीसरी वाली मेरे लंड को पागलों की तरह चूसने लगी.

पिछली बार सबने मेरी हालत बिगाड़ दी थी, इसीलिए आज हम दोनों मिलकर मस्ती करेंगे. फिर मुझे लगा कि मुझे पहले अपनी उंगली ही गांड के अंदर डालने की कोशिश करनी चाहिए, मैं अपनी उंगली में वेसलिन लगा कर गांड के अंदर घुसने की कोशिश करने लगी और वीडियो देखने लगी.

लेकिन एकदम से उसने बहुत तेज झटका मारा और पूरा लंड मेरी गांड में चला गया. फिर उसे ले कर हम बाजार गए और कुछ खाने पीने का सामान ले कर पार्क में आ गए और एक एकांत जगह सी बैठ गए. मैंने शीशे के सामने ही अपने दोनों हाथ उसकी चिकनी, पतली दुबली और छरहरी कमर में डाल दिए और झुककर उसके बाएं गाल पर किस कर लिया.

उनके पतले से भीगे हुए पेटीकोट में से पेंटी की रेखाएं भी दिख रही थीं. मामी ने अपनी जीभ निकाल कर बाहर कर दी, मैं उसे चूसने में मस्त हो रही थी. फिर मैं अपने कमरे में गई और फिर मैं सोचने लगी कि वो लड़की कौन थी जिसे आज मैंने पहली बार देखा था।कुछ देर बाद गेट खुलने की आवाज आई और वो लड़की बाहर निकल गई और स्कूटी चालू करने की आवाज सुनाई दी और वो चली गई.

फिर मैं धीरे धीरे अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगा और अब भाभी पूरा चुदाई का मजा ले रही थी.

अब हमारी ये भाई बहन सेक्स की बातें सुन कर बाहर खड़ी मीना की हालत और खराब हो गई थी. झड़ते झड़ते भी वो उस्मान का लंड चूसे जा रही थी और अमित उसे चोदे जा रहा था.

फिर दो लड़कियाँ मेरे पैर के पास आईं और मेरे पैर को काफ़ी फैला कर अपने हाथ से जोर से पकड़ लिया. वो जानबूझ कर ऐसे बैठी कि उसके मम्मों की झलक गुलशन जी को दिखती रहे और वो उनको सिड्यूस कर सके. आज मुझे समझ आ रहा था कि ये प्यार नहीं, मेरे साथ प्यार में धोखा हुआ था.

शिवानी अपनी गर्दन को मजे में इधर उधर मार रही थी और अनाप शनाप बोले जा रही थी- चोदो… हां ऐसे ही… फ़क मी हार्ड… ओह माई गॉड… फ़क मी… फाड़ दो सब कुछ… फ़क मी. आज रात को मैंने सोने से पहले मौसी से कहा- मौसी प्लीज़ आज आप मेरे रूम में सो जाओ, कल आपके जाने के बाद बहुत बुरा सपना आया था. गुलशन जी ने खाना गर्म किया और दोनों ने मिलकर खूब मज़े से खाना खाया.

चीनी की बीएफ बरात उसके घर तक जाने तक मैं उधर रुका, उसके बाद मुझसे वहाँ रुका नहीं गया और मैं अपने घर आ गया. अब मैं अपने लंड का सुपारा मौसी की गांड पर टिका कर घिसने लगा और धीरे से धक्का दे मारा.

फौजी वाला बीएफ

पूजा ने कराहते हुए कहा- उफ्फ… ठीक है आह… मामू अब आपको जो करना है आह… जल्दी करो… आह… मेरी गांड में बहुत जलन हो रही है आह… सस्स आह…संजय ने आधे लंड को बाहर निकाला, जो गांड में था, फिर पूरी ताक़त से वापिस अन्दर डाला. उसे पता था कि एक बार औरत के अन्दर की अन्तर्वासना जाग जाए, तो वो अपनी आग शांत करने के लिए बाजार में नंगी होकर भी भी चुदवा सकती है. मैंने अपनी उंगली उसके लंड के सुपाड़े पर फिरानी शुरू कर दी तो जय आहें भरते हुए बोला- ओह भाभी, बहुत मजा आ रहा है.

रंजु ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरी कमर पर नाख़ून गड़ा दिए, चूमतेचूमते मैंने 2-4 झटके और प्यार से लगा दिए. तेरे साथ आऊँगा रूपा लेकिन मेरे वक्त की क्या कीमत देगी तू?पप्पू ने रूपा का हाथ कुछ ऐसे पकड़ा कि वो हाथ उसके लंड तो छू गया. हेमा मालिनी नंगी फोटोइतना कह कर उसने अपनी लुंगी उठानी चाही तो मैंने तुरंत ही उसकी लुंगी उठा ली और कहा- तुम ऐसे ही बहुत अच्छे लग रहे हो.

मैं जैसे ही बेड पर उनके पास बैठी तो उन्होंने पूछा- कैसा लगा जय का लंड?मैंने कहा- क्या मतलब है तुम्हारा?वो बोले- शादी के पहले मैं ही जय को जगाया करता था.

”अरे बता तो सही, कैसे चिपका ली अपनी चूत तूने?”पापा जी, आपको क्या लेना देना इससे… आपने मुझे जीत लिया अब जैसे चाहो चोदो मुझे… ऍम हॉर्नी नाउ… फाड़ दो इसको!”नहीं, पहले बता तू, तभी चोदूँगा तेरे को!” मैंने भी जिद की और अपना लंड उसकी चूत से निकाल लिया. ये वही लोग थे जिनसे माया हाल ही में मिली थी और जिनके लंडों से चुदने की बात कई बार माया ने सोच रखी थी.

तुम अपनी मर्जी से कभी भी हमारे साथ शामिल हो सकती हो बशर्ते किसी को भनक तक नहीं लगे. तेज बारिश मैं जब तक हम बिस्तर समेत के रूम में पहुंचे, तब तक हम दोनों भीग गए और मैं कपड़े बदलने नीचे अपने रूम की तरफ जाने लगा. इधर कोमल भाभी की भी साड़ी खुल कर नीचे पड़ी थी, उनके ब्लाऊज के सारे बटन टूट चुके थे और पीछे वाला आदमी खड़े खड़े उनकी ब्रा ऊपर कर उनकी चूचियों को बेरहमी से मसल रहा था.

तो नीलेश जीजू से चुदने के बाद जब मैं घर आई तो बार बार आज की चुदाई के नजारे मेरी आँखों के सामने आ रहे थे, जीजू द्वारा की गई चुदाई को मैं भूल नहीं पा रही थी उस चुदाई के बाद एक दो बार ओर जीजू ने मेरी चुदाई की पर अब बार बार जीजू ऑफिस से छुट्टी नहीं ले सकते थे इस लिए अब मेरी चूत की पूरी चुदाई नहीं हो पा रही थी.

हम बाहर निकलने लगे तो वो बोला- फोन दिखा कौन सा है तेरे पास?मैंने उसको फोन दिखाया तो उसने फोन मेरे हाथ से अपने हाथ में ले लिया और बोला- अब ये मेरा है… चल जा तू…मैंने कहा- यार, इसमें मेरे सारे कॉन्टेक्ट्स हैं, मैं तुझे दूसरा फोन लेकर दे दूंगा लेकिन ये फोन छोड़ दे…वो नहीं माना और मेरी आंखों से आंसू बहने लगे. ले अब पूरा चूस)मैंने मन ही मन कहा- आज तो बुरा फंस गया बजाज… ये नहीं छोड़ेगा आज…धक्के मारते हुए वो मेरे मुंह को चोदने लगा… लंड बार-बार मेरे गले में फंस रहा था जिससे मेरी सांस रुकने लगी और उल्टी होने लगी. एक दिन क्लास खत्म होने के बाद मैं जब जाने को निकला, तो काफी बारिश होने लगी.

नेपाली+सेक्सीसच में क्या मस्त मजा आ रहा था, मुझे इतना मजा आ रहा था कि मैं रेखा की चूत में जोर-जोर से लंड पेलने लगा और साथ में पिंकी के होठों को चूसने और काटने लगा. ले आह…गुलशन जी ताबड़तोड़ चुदाई करने लगे और हर झटके पे सुमन की चीख निकल जाती.

सेक्सी बीएफ हिंदी वीडियो ओपन

लेकिन कमबख्त दिल है न, एक बार जो चीज़ मिल जाती है फिर उसके लिए इसमें घमंड पैदा हो जाता है, सोचता है कि इस पर उसी का हक है. इस के बाद एक दिन इंटरनेट पर अन्तर्वासना डॉट काम साइट को लगभग 10 साल पहले देखा, उस वक्त इस साईट का रंगरूप ही कुछ और था, कहानियाँ भी इतनी ज्यादा नहीं थी, यही कोई तीन सौ कहानियाँ होंगी. सुमन बिस्तर से उठ कर नीचे आई और बाथरूम के दरवाजे को करीब से जाकर देखने लगी.

कई बार बुआ ने वेवजह झुक कर जीजा जी को अपने हुस्न का दीदार करा चुकी थी और साथ में मुझे भी, क्योंकि आज मेरी नज़र बुआ के इर्द गिर्द ही घूम रही थी. मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से तुम सारी जिन्दगीजवानी का मजाना ले पाओ. फिर ससुर जी ने मम्मी की चुत पर अपनी जीभ रख दी और वे जीभ को मम्मी की चुत में अन्दर-बाहर कर रहे थे.

वो ऐसे ही सीत्कार करने लगी कि मेरे मुँह में नियाग्रा फॉल आ जाएगा।मैं- मैं छूटने वाला हूँ. पर वो उसे ज्यादा नजदीक नहीं आने देती थी। उन दोनों के बीच थोड़ी बहुत चूमा चाटी ही होती थी बस! या बस एक दो बार उसने उस के चूचों को छुआ था. आंटी को बहुत दर्द हो रहा था और वो गालियाँ भी दे रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… भहन चोद.

मैंने निप्पल चूसते हुआ एक तकिया लिया और अर्पिता की कमर के नीचे रखा. मैंने उसे अपनी बातों से रिलेक्स किया और सीधे मुद्दे की बात पे आ गया, उसे बोला- तुम्हें अच्छी लगती है वो?वो बोला- हाँ, मेम साब अच्छी हैं, बहुत ही अच्छी!मैंने पूछा- क्या क्या अच्छा लगा उसमें?यह सुन कर वो झेंप गया और बोला- स्वभाव की अच्छी हैं.

गोल-गोल चूचे और उस पर छोटे से ब्राउन कलर के छोटी-छोटी किशमिश जैसे निप्पल टंके हुए थे.

पूजा- एयाया एयाया मर गई आह… मामू उफ्फ अब्ब… बहुत दर्द हो रहा है आह…संजय- यार पूजा, बस एक झटका और झेल ले… तेरी गांड बहुत टाइट है वैसे तो लंड अन्दर जाएगा भी नहीं… बस थोड़ा सा और बर्दाश्त कर ले तू, फिर दर्द नहीं होगा. बिहार का सेक्सी वीडियो एक्स एक्स एक्सफिर क्या था… मैंने बोला- अब लंड डाल कर आगे पीछे कर…‘तुझे कैसा लग रहा है?’‘अब दर्द नहीं, जलन हो रही है…‘जो टूटना था सो टूट गया. நயன்தாரா செக்ஸ் மூவிउसने पूजा के होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिए और एक लंबा किस शुरू हो गया. पुनीत की लम्बाई कुछ 6 फीट है और मस्त मस्क्यूर बॉडी है उसकी… भाई पसीने में भीगा हुआ था, उस ने वी शेप वाली फ्रैंची पहनी थी जिस में भाई के लन्ड उभर कर साफ दिखाई दे रहा था.

उसने मेरे सर को टांगों में जकड़ लिया और जीवन में पहली बार चरम आनन्द को पाकर चीख चीख कर झड़ने लगी.

फ्रेश होकर नाश्ता किया और फिर आने का वादा कर अपने घर के लिए रवाना हो गया. उसने शादी के बाद मुझसे बात करने का वादा किया था, उससे जैसे ही बात होगी. लंड का अहसास होते ही रीना ने मेरा लंड छोड़ कर दोनों हाथ से अपना मुँह ढक लिया.

मैंने कहा- तू कौन सी सुधरी हुई है?उसने कहा- क्या मतलब?मैंने कहा- तू भी तो छुपकर मेरे लैपटॉप में मूवी देखती है. मुझे पता नहीं लगा कि कब उसने लंड मुँह में डाल लिया और बच्चों की तरह चूसने लगी. थोड़ी देर बाद वो मेरे पास आया और बोला- आइये!तो मैं उसके साथ साथ चल दी और अगले मिनट में हम घर के सामने थे.

हिंदी हिंदी में बीएफ फिल्म

फिर मैंने एक और धक्का मारा और पूरा का पूरा लंड उसकी गांड के अन्दर पहुँच गया और मैं उसकी गांड चोदने लगा. वैसे वो लोग अंत तक कहते रहे कि अरे एक दो दिन के लिए आए हैं रात भर गप्पें मारेगें, नींद लगेगी तो वहीं सो लेंगे. अब मैं पूरे दिन भर उसका इंतज़ार करता रहा, लेकिन शाम को वो देर से दस बजे आई.

उसे देखते ही एक बार तो मैं काम्प सा गया, मुझे मोबाइल वाला गेम बच्चों का गेम लगने लगा.

जीजू के जाने के बाद शाम को सागर घर आया और मीना के बच्चों से बहुत खेला.

रहमत का लंड देख हम माँ बेटे दोनों दंग रह गए; इतना मोटा और बड़ा लंड सिर्फ अफ्रीकियों का सुना था. मैं अपने एक हाथ को धीरे से उनके मम्मों के पास लाया और भाभी के मम्मों को हल्के-हल्के से दबाने लगा. सेक्सी वीडियो आदिवासी हिंदी मेंमेरे पति ने मेरे मम्मे बहुत मसले हैं, शादी से पहले ही मसलता था, जब हम मिलते थे, अब मेरे मम्मों के साइज़ से तो अंदाज़ लगा कि मुझे वो कितना मसलता था.

भाभी ने कहा- यार देखते ही रहोगे कि अन्दर भी आओगे, कोई देख लेगा जल्दी अन्दर आओ. मैंने भाभी से कहा- सुमन भाभी आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, रोज़ रात को आप मेरे सपने में आती हो, मुझे आपसे बात करना अच्छा लगता है और आपके साथ रहना अच्छा लगता है. सुमन- क्या हुआ पापा क्या इरादा है आपका? कहीं फिर से आपके अजगर ने फन तो नहीं उठा लिया ना.

पर एक दिन दोपहर लंच के बाद मामी को मेरा लंड चूसते हुए अचानक मामी की बेटी अर्चना ने हम लोगों को रंगे हाथ पकड़ लिया था. आगे इस मामी की चुदाई की रियल सेक्स स्टोरी में क्या हुआ वो आगे भाग में लिखूंगा.

हरामी मज़े पूरे ले रहा था बस नाटक ऐसे कर रहा था, जैसे मैं कुछ समझ नहीं रही थी.

तो मैं उस के और पास को हो कर बैठ गया और उस की जांघ पर हाथ रख दिया।तो उसने मेरा हाथ एकदम से हटा दिया. थोड़ी ही देर में अंजलि तेज तेज सीत्कार निकालते हुए झड़ गई और मेरे ऊपर गिर पड़ी. पापा के फोन पर अलका का फोन आया पापा ने मुझे दिया और कहा- तेरी सहेली अलका का फोन है.

கோவா செக்ஸ் उस्मान अब भी अपना लंड हाथ में लिए हिला रहा था, जोकि अब पूरी तरह तन चुका था. उस रात हमने सुबह 4 बजे तक 3 बार चुदाई की और हर बार एक दूसरे का रस पिया.

अच्छा बता किस्कूल में चूत में उंगली करना सीखाया नहीं?रेणु बोली- नहीं मामी. तभी जो चौथी लड़की जो मेरे लिये गेट खोलने गई थी, उसने भी अपनी मैक्सी उतार दी और वो भी नंगी हो गई. लड़की सांवली थी, पर उसकी बुर क्षेत्र क्या मस्त था, पूरा छेद का मैदान करीने से साफ सुथरा किया हुआ था.

सेक्सी बीएफ माधुरी दीक्षित

वही रंग रूप, वही तने हुए मम्में, केले के तने जैसी चिकनी जांघे और उनके बीच काली झांटों में छुपी उसकी गुलाबी चूत. दुल्हन के कपड़ों में सजी सुनीता दीदी सामने दीवार से चिपकी खड़ी थी, राजन जीजा जी उनको दीवार से सटा कर उनके होंठों को चूस रहे थे और हाथों से दीदी के ब्लाऊज के बटन खोल रहे थे. उनके मुँह से बहते हुए वीर्य को साफ़ कर दिया और मैं अपनी चड्डी पहन कर उनके बगल में ही लेट कर सो गया.

वह बोली- राज! एक मिनट रुको, मैं तुम्हारा हथियार देखना चाहती हूँ, पिछले एक घंटे से मैं तुम्हारी फूली हुई पैंट देख रही हूँ, प्लीज, एक बार पहले दिखाओ. अब तक आपने पढ़ा कि रूपा ने सचिन से अपनी नजदीकियां कुछ ज्यादा ही बढ़ा ली थीं। उधर सोनाली और पंकज ने भी उसको पूरी छूट दे दी थी। सचिन रूपा को अपने सारे राज़ बता चुका था और उसके साथ थोड़ी मस्ती भी हो गई थी। लेकिन अब वो सोने के लिए रूपा के कमरे में जा रहा था.

सामने से आती हुई गाड़ी की रोशनी में चाचाजी अपनी हवसी नजरों से मुझे घूर रहे थे.

अनिता- ऐसा कुछ नहीं है संजय… वो अच्छे इंसान हैं और मैं वैसी की वैसी ही हूँ, तुम्हारा देखने का नज़रिया बदल गया है. एक रात जब मेरी आँख खुली तो भाभी रात को मेरी तरफ आकर भैया के ऊपर दूसरी टांग डाल कर सो रही थी। उनका एक पट नीचे मेरी तरफ था और गाण्ड आधी उघड़ी हुई थी। उस रात भाभी ने एक बहुत ही छोटा सा नाईट गाउन पहना था। उस गाउन के आगे के बटन खुले थे जिससे उनके मम्मे भी आधे बाहर निकले हुए थे. उम्र 28 साल, लंड की लम्बाई साढ़े छह इंच और मोटाई तीन इंच है, जो मेरे ख्याल से एकदम परफेक्ट लंड साइज़ है.

बस ये सब इसी लिए ऐसे अधनंगे बने हैंदीपक- हां यार दिव्या, तुम तो ऐसे बिहेव कर रही हो. इतना पानी मैंने आज तक किसी लड़की का झड़ता नहीं देखा जितना प्रीति का निकला. चैन से बैठने भी नहीं देती और हाँ तुम निकल जाना, मैं एक घंटे में आ जाऊंगा.

जब उस अजनबी का पूरा लंड शिशिर की गांड में चला गया तो वह गांड मारने लगा और मैं उसके हर धक्के के साथ नीचे से अपनी गांड उचका उचका कर शिशिर के लंड को निगल रही थी.

चीनी की बीएफ: फिर जीजू ने कहा- देखो न रोमा, मौसम कितना सुहाना हो रहा है, बारिश के भी हल्के हल्के छींटे आ रहे हैं क्या इस मौसम में तुम्हारा चुदाई करने का मन नहीं कर रहा?मैंने कहा- जीजू, कर तो बहुत रहा है पर करेंगे कहाँ?तो जीजू ने कहा- यहीं छत पर मैं तेरी चूत चोदूंगा… रोमा आ जाओ न मेरी बाँहों में!कह कर जीजू ने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मुझे चूमने लगे. मैंने भी एक नारी का सम्मान रखते हुए उसके साथ उसकी इच्छा के विरुद्ध कुछ नहीं किया.

बस सबके मेल इसी तरह से आते रहे थे कि मुठ मार लो … कोई चुत मिलने वाली नहीं है और अगर ज्यादा चुदास चढ़ी हो, तो तो किसी रंडी के साथ चुदाई कर लो. मगर आश्चर्य था कि उसने मेरा पूरा मूत मुँह में ले लिया और जब तक मैंने जबरदस्ती नहीं किया. तब गुलशन जी ने उसको घोड़ी बनाया और उसकी गांड को कस के पकड़ कर शॉट मारने लगे.

पर इस बार दूध बहुत ही कम निकला, पर चूचियां चूसने का भी तो अपना ही मजा है.

[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग :लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-2. तभी मैंने अपना बड़ा सा लंड भाभी के मुँह में डाल दिया और लंड को भाभी के कंठ तक पहुँचा दिया. भाभी उस समय तक काफ़ी गर्म हो गई थी और बार बार बोल रही थी- संदीप अब मेरी चुत को चोद कर भोसड़ा बना दो.