हिंदी बीएफ की पिक्चर

छवि स्रोत,हिंदी ब्लू फिल्म वीडियो सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ लखनऊ की: हिंदी बीएफ की पिक्चर, प्लीज मुझे इस सेक्स स्टोरी पर मेल करके जरूर बताना।[emailprotected].

बांग्ला में सेक्सी पिक्चर

पूजा ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे लंड को ऊपर से पकड़ लिया और धीरे धीरे ऊपर नींचे करने लगी. घोड़ा और कुत्ता की सेक्सीजब मैंने सरप्राइज के बारे में पूछा तो वो टाल गई, बस अपनी कसमें दे दे कर आने को कहती रही.

गुलशन- क्या कभी पहले भी तूने अपना पानी निकाला है? सही बताना या किसी के साथ ये सब किया हुआ है?अनिता- ये कैसी बातें कर रहे हो आप… मैं एकदम कुँवारी हूँ, मैंने कभी ऐसा कुछ किसी के साथ नहीं किया… हाँ बस कभी कभी नहाते वक़्त मन में कुछ उत्तेजना आ जाती तो चुत को ऊपर से रगड़ कर पानी निकाल लेती थी. hindi सेक्सी फिल्मजग्गी आकर मेरे मुंह के सामने घुटनों के बल बैठ गया और अपने लंड और आंडों को मेरे मुंह और होठों पर फिराने लगा.

बहुत सेक्सी लग रही थीं। मैंने झट से आंटी को हग कर लिया और अपने होंठों उनके होंठों पर रख कर किस करने लगा। मैं एक हाथ से चूचे और दूसरे हाथ से उनकी गांड दबाने लगा। आंटी मादक सिसकारी निकालने लगीं- ऊओह साहिल कम ऑन.हिंदी बीएफ की पिक्चर: ऐसी परिस्थिति से मैं परिचित था तो उसके दर्द की परवाह किये बगैर मैं उसे अपने नीचे दबोचे रहा और लंड को हिलाता डुलाता रहा.

मैंने कहा- फोन करके पूछ लो।मोहन ने बड़ौदा वाले कपल में रफीक को फ़ोन किया, पूछा- क्या कर रहे हो?तो वो बोले- बस अभी खाना खाया है और बैडरूम में टीवी देख रहे हैं.और यह बोल कर मैं वहां से आ गया।अब मैं भाभी से बात नहीं कर रहा था और दो दिन निकल चुके थे तो शाम के टाइम भाभी का मेरे पास फ़ोन आया और बोली- मेरे रूम में आओ।मैं काफी गुस्से में था तो मैं जाकर बोला- अब क्या काम है?भाभी बोली- क्या बात है तुम मुझसे बात क्यों नहीं करते?तो मैंने साफ़ साफ़ बोल दिया कि आपने मेरे साथ ठीक नहीं किया।भाभी बोली- तुझे क्या चाहिए?मैंने बोल दिया- मुझे तो आपकी सेवा चाहिए.

हॉट देसी भाभी सेक्सी - हिंदी बीएफ की पिक्चर

उधर स्वान से भी सब्र नहीं हुआ, वो भी हमारी तिकड़ी में शामिल होने को आ गया और खाली पड़े एक छेद को अपने गर्दभ लंड से भर दिया.कीकू आराम से लेटी रही, उसने अपनी आँखें बंद कर ली, पता नहीं वो सो गई, या मज़ा ले रही थी, या क्या था, पता नहीं, मगर वो बिलकुल शांत लेटी रही.

बोलीं- मैंने तुम्हारे भैया का कभी मुँह में नहीं लिया है।फिर मेरे मनाने पर भाभी मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने चाटने लगीं। फिर हम 69 की पोजीशन होकर एक-दूसरे का गुप्तांग चूसने-चाटने लगे।बस 5 मिनट के बाद भाभी बोलीं- अब मत तड़पाओ।मैंने अपने लंड को भाभी की चूत पर रखा और जोर से धक्का मारा,भाभी की चूत में लंडघुसने से उनके मुँह से चीख निकल गई, भाभी बोलीं- आह. हिंदी बीएफ की पिक्चर घर आकर शाम को जब मेरे पति आये तो उन्होंने आते ही पूछा- चुद आई?तो मैंने मुस्कुरा कर मना कर दिया- मैं तो गई नहीं!तो वो बोले- मैं मान नहीं सकता कि तुम ना गई हो, तुम्हारी चाल ही बता रही है कि आज जम कर चुदाई हुई है.

इस प्रक्रिया में एंड्रयू का लंड पूरा तो नहीं, लेकिन आधा-अधूरा गोरी रुसी लड़की की गांड के अन्दर-बाहर होने लगा.

हिंदी बीएफ की पिक्चर?

अब तक की हिंदी पोर्न स्टोरी में आपने पढ़ा था कि गोपाल मोना को मनाता हुआ पूछ रहा था कि जब वो चुदाई की बात करता है तो वो मना क्यों देती है. फिर मैंने अपना लंड आंटी के मुँह में दे दिया वो पागलों की तरह लंड चूसने लगीं. उम्म्ह… अहह… हय… याह… कितना सुखद कितना रोमांचकारी, कितना आनन्ददायक पल था वो.

हम ऐसे कैसे जाएँगे?काका ने उसको बता दिया कि आज कोई उठने वाला नहीं, फिर वो राधा को पकड़कर आराम से ले गया। इधर मोना और राजू अपने काम में लग गए थे।दोस्तो मज़ा आ रहा है ना. वो दरअसल आज मेरे पीरियड शुरू हुए ना तो बस सब बकवास लग रहा है।सबका ध्यान फ्लॉरा की तरफ़ था. मेरा मन कर रहा था कि इसकी टी-शर्ट फाड़ कर चूचों को बंधन से मुक्त कर दूँ और सारी रात दूध पीता रहूँ और इसकी गांड मारता रहूँ.

अब मैंने उसे नीचे लेटा दिया और उसकी साड़ी को ऊपर करके अपना लंड निकाल कर उसकी बुर पर लगा दिया. और इसको जल्दी से ठंडा कर, फिर मुझे भी तेरी गांड भी मारनी है।मोना ने नाइटी उतार दी. मैं खुद को रोक नहीं पा रहा था और बकते जा रहा था ‘आह आह चूस ले… ईई ईई ले और ले… पी… ओह आह ओह ओह आह… क्या चूस रही हो… जान मजा आ रहा है… इईई उईई उई ओह चूस ओह शु हू हू सु सु सूस ऊउऊ.

पता ही नहीं चला। बस मेरी आँखों में से आंसू निकल आए। आवाज़ ज़्यादा नहीं निकली, क्योंकि मुँह में लंड घुसा था।उसने बिना रुके मेरी बुर में 3 झटके मारे. और मैं भी झड़ गया उसकी चूत में!फिर हम लोग अलग हट गये और कुर्सी पर बैठ कर सुस्ताने लगे.

मेरी चूत में बिल्कुल जगह नहीं थी फिर भी वो मेरी चूत में अपना लंड घुसाने में तुला हुआ था.

कोई दो मिनट तक कॉमन छेद को चोदने के बाद मैं अपनी बिल्ली की गांड में ट्रान्सफर हो गया और मजे के साथ अपना टोपा आसानी से अन्दर घुसा दिया.

अब ऐसा नहीं करूँगी प्लीज़ छोड़ दो।दोस्तों संजय का लंड एकदम लोहे जैसा सख़्त हो गया था. ऋतु- पागलपन करने में भी कभी-कभी बड़ा मजा आता है… चलो अब अपना होमवर्क कर लेती हैं, फिर रात को तो कुछ और नहीं कर पायेंगी. सुलेखा मस्ती में कराह उठी और फंसी फंसी सी आवाज़ में बोली- राजे बाबू मुझे अपने राजा का हथियार निहारना है… मैं बाबू के औज़ार से खेलना चाहती… देखूं तो सही कि मेरा सत्यानाश करने वाला सण्ड मुसण्ड कैसा है.

रूसी लड़की मदभरी मुस्कराहट के साथ अपनी गुलाबी जीभ बाहर निकाल-निकाल कर दोनों के लंडों को चाटने चूसने में लग गई. बहुत दर्द हो रहा है… रिया… आह… ह्शश… मम्म्ममि… आह… पीटर बचा ले मुझे!’ बोल बोल कर चीखने लगी मगर रिया पर कोई असर नहीं था. नमस्ते दोस्तो,मैं राहुल हूँ, मैं धनबाद झारखण्ड का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 23 साल है। मैं पिछले कई सालों से इस साइट पर देसी चुदाई स्टोरीज पढ़ता आ रहा हूँ।जब मैं 20 साल का था तो मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त था, उसका नाम अनुराग था.

एक बार की बात है जब मैं और रोहित उसके घर पर स्टडी कर रहे थे तब वो पौंछा लगाने आई, वो झुक कर पौंछा लगाने लगी, उनके पूरे बूब्स नंगे दिख रहे थे, मेरा तो लंड पूरा खड़ा हो गया.

अब यार मैं भी जवान था और वो आंटी पंजाबन थीं, जो कि मुझे बाद में पता चला. मैं फूट-फूट कर रोने लगा ‘उई मां… मर गया… रवि… यार तू कहाँ है… आ…हा… रवि… ले जा मुझे… यहाँ से… आ. सुधीर- आपको कैसे पता ये लड़की का चक्कर है?मोना ने तो अंधेरे में तीर मारा था मगर वो निशाने पे जाकर लग गया था.

मैं उन तीनों के लंड चूसना चाह रहा था लेकिन अगले ही पल संदीप राजू के पास पहुंच गया और राजू को कहा- एक बार अपना लंड निकाल… और इसको घोड़ी बना दे. मैंने फोन का स्पीकर चालू करके कहा- ले लिया फोन स्पीकर पे, सुमित जी हैं मेरे साथ ही, राज जी आप अपनी शर्तें कहिये. आप बताओ प्लीज़ कोई ऐसी बात या काम जो ग़लत हो और गोपाल ने किया हो?मोना की बात सुनकर सुधीर टेंशन में आ गया और इधर-उधर देखने लगा.

आदी को बहुत मजा आने लगा, वो कहने लगा- यस प्रमिला भाभी, आज मेरी लंड की भूख को मिटा दो।मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं देवर जी, आज आपके लंड की भूख मैं मिटा दूंगी और तुम मेरी चूत की प्यास बुझा देना!आदी ने कहा- हा क्यों नहीं भाभी, आज आप जो बोलोगी, वो मैं करूँगा।मेरे देवर आदी ने मेरा सर पकड़ा और अपने लंड को मेरे मुँह में अंदर बाहर करने लगा.

लगभग सात बजे रोज़ की तरह अम्मा ने मुझे चाय दी और कहा- साहिब, इस माह की तीस तारीख को मैं छोटी बहू के पास जाऊंगी इसलिए अगर मुझे मेरी इस माह की पगार कल मिल जाती तो मैंने जो खरीदारी करनी है वह कर सकूँगी. काफी देर तक झटके मारने के बाद पूजा का शरीर अकड़ने लगा और वो झड़ गई और बेड पर औंधे मुंह गिर पड़ी, पर मेरा अभी बाकी था तो मैं उसके ऊपर ही लेट गया.

हिंदी बीएफ की पिक्चर ’ की आवाज़ निकालते हुए मज़े ले रही थी। मैं उसके गले से होते हुए कानों के इर्द-गिर्द किस करना शुरू किया और हाथों से उसे और जोरों से दबोच लिया। अब उसकी चूचियां मेरे सीने से रगड़ खा रही थीं। प्रिया भी गर्म हो चुकी थी, वो भी खुद से मेरे सीने में अपने मम्मे दबाने लगी।इस बीच प्रिया ने अपने दोनों पैरों से मेरे कमर को जकड़ लिया। उससे हुआ यूँ कि मेरा लंड जो तन कर जीन्स से बाहर आने को तैयार था. मैं- तुमने बोला था कि तुम मुझे 2000 रूपए दोगी और नंगी भी होओगी दोनों?ऋतु- क्या तब तुम हस्तमैथुन करना शुरू करोगे?मैं संकुचाते हुए- ह्म्म्म हाँ!ऋतु- ठीक है…और पूजा की तरफ देखकर उसे कुछ इशारा किया, पूजा ने झट से अपने पर्स में से 2000 रूपए निकाल कर मुझे दिए पर मुझे कुछ न करते देखकर वो समझ गई कि आगे क्या करना है.

हिंदी बीएफ की पिक्चर मगर ये नई चुत का क्या चक्कर है काका?काका ने मोना को सारी बातें विस्तार से बताईं. मैं भी यही चाहती थी क्योंकि मैंने कहीं पढ़ा था कि मर्दों में सुबह नींद खुलने के बाद सबसे ज़्यादा चुदाई की इच्छा होती है और बहुत ही प्यार और कामुकता भरी चुदाई करते हैं.

लेकिन मैं रुका ही नहीं।फ़िर मैं उनके पेट को चूमते हुए चुत को किस करने लगा, उनका दाना मुँह में लेकर रगड़ने लगा।मामी मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं, मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया।अब मामी ने मुझे कुछ बोलने का मौका ही नहीं दिया.

अन्ना की सेक्सी फिल्म

ये सब कैसे हुआ खुल कर बता ना?मोना ने सारी कहानी मीना को सुना दी, जिसे सुनकर उसकी चुत गीली हो गई. हैलो दोस्तो… एक गांड की गे सेक्स स्टोरी भेज रहा हूँ।इस शहर में मैं चार वर्ष और रहा मैंने बी. अचानक से वो दोनों हिलते हिलते रुक गये और उस लड़के ने अपनी सुसु मेरी दोस्त की सुसु वाली जगह से बाहर निकाली और फिर वो कपड़े पहन कर चले गया.

आज वो खुद इस डबल पेनेट्रेशन औरग्रुप सेक्सको एंजाय कर रही थी।विक्की ने फ्लॉरा को लंड पर बिठा लिया और एक ही बार में पूरा घुसा दिया। उधर पीछे से साहिल ने भी उसकी गांड पे लंड टिकाया और एक ही बार में पूरा लंड पेल दिया।फ्लॉरा- आह. वो लम्बी-2 सिसकारियाँ ले रही थी और बड़बड़ा रही थी ‘आआ… आआह… रोहन…म्म्म्म म्म्म…’मैंने उसके दाने को अपने दांत में लेकर काटना शुरू कर दिया तो ऋतु पागल ही हो गई. मैं उसके घर मैं गया बाइक लेकर… उसके घर में कोई नहीं था, उसका बेटा स्कूल गया था.

फिर मुझे ऐसा लगा जैसे मुझे कोई करंट लगा हो, मैं बिल्कुल हल्का हो कर हवा में उड़ गया हूँ, और इस दौरान मौसी ने इतनी ज़ोर से मेरे लुल्ले की चमड़ी पीछे को खींची कि वो टूट गई, और मेरे लुल्ले से खून बह निकला.

उसके बाद जितना मर्ज़ी मज़े ले लेना।गोपाल कुछ बोलता या करता, तभी उसके फ़ोन की रिंग कमरे में गूंजने लग गई. बाकी कोई नहीं दिखाई दे रहा और पार्टी जैसा माहौल भी नहीं है एवेरीथिंग इस फाइन ना. पूजा को अभी भी बहुत दर्द हो रहा था, उसकी आँखों से आंसू बहे जा रहे थे.

उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ बोले जा रही थीं।अब तक हम दोनों पसीना-पसीना हो चुके थे। आंटी बार-बार मेरे लंड को चुत से बाहर तक निकालतीं. मैं धीरे धीरे उसे लाइन पर ला रहा था, मैं चाहता था कि वो एक बार अपनी चूत मुझसे चटवाने को तैयार हो जाए, फिर उसके बाद उसकी चूत में लंड पेलने का कोई न कोई रास्ता निकल ही आयेगा. मेरे लंड में तनाव और बढ़ गया, मेरे मुँह से उईई सीईईईइ निकला और जोर सा झटका लगा.

हाँ मानती हूँ मैं संजय को पसंद करती हूँ मगर उसकी वजह क्या है ये तो सब को पता ही है। अब ये उसको चोद कर छोड़ दे या प्यार करे. और मैं उसका हाथ पकड़ कर स्कूल के पीछे एक कोने में खींचते हुए ले गई और वो मुझे ‘अरे अरे.

इसलिए अभी सूरत जा रहा हूँ, सुबह जल्दी उनसे मिलना है।गुलशन जी जल्दी में थे मगर हेमा ने उनको खाना खिलाया और सुमन ने उनका बैग पैक किया और वो निकल गए।ठीक 9 बजे टीना उनके घर आई, सुमन की माँ से मिली, फिर वो सुमन के कमरे में चली गई।सुमन- मैं आपका ही वेट कर रही थी दीदी, और बताओ आज आप क्या टास्क दोगी?टीना- बताऊंगी मेरी जान. कुछ देर के बाद जैसे ही मैंने अपनी गर्दन झुका कर उनके उरोज़ की चूचुक को मुंह में लेकर चूसने लगा वैसे ही वह सिसकारियाँ लेने लगी. नताशा अण्डों समेत उसके भयानक मोटे लंड को अपने दोनों हाथों से सहलाने लगी और स्वान झाड़ता गया.

मुझे क्या चाहिए था, मैंने उससे उन दिनों के दौरान उसका हाल-चाल पूछना शुरू किया और हम दोनों और करीब आते चले गए.

अगर फूफा जी को ज़ोर से धकेलने की कोशिश करती भी तो मेरी चूत में गड़ा हुया उनका लंड उनको हिलने नहीं देता. अगले दिन सुबह ऋषिका बिलकुल फ्रेश थी… सन्डे था पर रयान को आज भी बैंक जाना था. अर्ध-नग्न माला जब मेरे पास से बाहर निकलने लगी तब मैंने थोड़ा से आगे सरक कर अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसके जिस्म के साथ रगड़ने दिया.

कीकू ने खुद ही उसका हुक खोल दिया और उसके दोनों गुलाबी बोबे आज़ाद हो गए. चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है.

मानसी अब मेरे से मिलने को बहुत बेचैन हो गई और बोली- तो कहीं और मिल लेंगे पर तू मेरे से मिलने आ पहले, किसी पार्क में मिल लेंगे या कहीं मॉल में. मेरी कामुकता जाग उठी, मुझे मजा आने लगा और मैं उनका ब्लाउज खोलने लगा. बस सुधीर ने ये मंज़र देखा और उसके अन्दर के इंसान ने उसको आवाज़ दी कि खामखां बेचारी को रुला दिया, जो बात है बता दे इसको.

मां बेटी की सेक्सी ब्लू फिल्म

वहां छिपा दो और दूसरी चादर ले आओ। तब तक मैं राधा रानी की चुत को गर्म पानी से आराम देकर आता हूँ।राधा- काका, नीचे तो माँ जी होंगी.

और मामाजी उन दोनों आमों को निचोड़-निचोड़ कर रस पी रहे थे।मॉम के मुँह से निकलती कामुक सिसकारियां मुझे सुनाई दे रही थीं। मॉम को भी बड़ा मज़ा आ रहा था, मॉम अपना हाथ मामाजी के चड्डी में डाले हुए थीं। कुछ देर बाद शायद मॉम से रहा नहीं गया तो मॉम ने खुद मामाजी जी की चड्डी निकाल दी और मामाजी का लंड को हिलाकर मुँह में घुसेड़ लिया।अब मेरी मॉम मामा जी का लंड जोर-जोर से चूसने लगीं. मौसी अब भी मेरी बगल में नंगी लेटी थी, मुझसे बोली- ऐसा कर इसे हवा लगवा, फिर जल्दी ठीक हो जाएगा. इधर मैं अपने फंसे हुए सुपारे को चूत के और अन्दर डालने की कोशिश कर रहा था, पर मुझे ऐसा लगा कि मेरे लंड के खाल को कोई चाकू लेकर छील रहा है। तीव्र जलन और दर्द का अहसास हो रहा था, मैंने लंड को बाहर निकाल लिया।लंड बाहर आते ही मुझे सकून सा लगा.

उसके माथे पे पसीने की बूंदें आ गईं और उसको कुछ समझ ही नहीं आया अब वो करे तो क्या करे, कैसे मॉंटी को पता लग गया. कहानी का यह अगला भाग अभी सिर्फ मेरी स्मृति में हैं इसे लिखना शेष है. देवर भाभी की सेक्सी वीडियो एचडी हिंदीहम दोनों की बातों का सिलसिला करीब एक साल चला और फिर वो मौका आया जिसका हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था.

फिराते-फिराते उसका लंड खड़ा हो गया और वो अपना लंड मुझसे चुसवाने लगा. चुत अगर क्लीन हो तो आई लव टू लिक इट।मैंने एकदम भाभी की चुत के होंठ खोल दिए और अपनी जीभ को अन्दर-बाहर करने लगा। भाभी गर्म होने लगीं और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत पर दबाने लगीं। भाभी जोर-जोर से कह रही थीं- खा जाओ मेरी फुद्दी.

पूजा ने कटाक्ष भरे स्वर में कहा- वाह बहुत बढ़िया… वो हमें नंगी देखना चाहता है, तभी हस्तमैथुन करेगा. तभी धड़धड़ाती हुई रीना कमरे में दाखिल हुई और शिकायत भरे लहज़े में बोली- मम्मी… तुम भी न! क्या किये जा रही हो… मैंने संगीता को बोल दिया फूफाजी के लिए चाय और पापा के लिए कॉफ़ी बनाने के लिए!संगीता खाना बनाने वाली नौकरानी है. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मेरे लंड की मुठ मारते-मारते भाभी की चूत गीली हो गई थी। मैं एक हाथ से उनकी चूचियों को मसल रहा था और दूसरे हाथ को चूत में डाल कर उंगली कर रहा था, उनके मुख से हल्की-हल्की आवाजें आ रही थीं।अब उनसे रहा नहीं गया.

शादी वाले दिन सुबह ज़ब सब तैयार हो रहे थे, मैं और मेरी दीदी भी तैयार होने बाथरूम गई. हाँ लगा…जोर से… आह… आह… हाय रे…ऊओईईए… सीईई… सीई… मर गई…’दोनों तरफ़ से जोर जोर से सिसकरिया निकल रही थी… की… मुझे लगा कि मैं झड़ने वाली हूँ. मैंने भी पूछा- क्या मैं आपकी पार्टनर के साथ डांस कर सकता हूँ?तो उसने कहा- वो अगर हाँ कहे तो कर सकते हो.

‘गुड़िया मैं चूत पर लंड रगडूंगा अब… चूत की गर्मी से जल्दी ही मेरा भी हो जाएगा!’‘नहीं अब वहाँ नहीं.

मेरे प्यारे साथियो, आप मेरी इस देसी चुत की कहानी पर कमेंट्स कर सकते हैं. रात के करीब 11 बज गए थे, इस वक़्त तक हमें एक भी ऐसी लड़की नहीं देखी जो नशे में धुत्त अकेली बाहर निकली हो.

मैंने ढेर सारी क्रीम उसकी गांड पर लगाई और अपने लंड को हाथ से पकड़ कर उसकी गांड के छेद पर रखा और झटका दे मारा, लेकिन लंड फिसल गया. मैंने कहा- मैं ही मोना हूँ!और एक आवाज़ सुमित को लगाई कि राज आ गया है. और बस इस मौके की तलाश में था कि इसे अब किसी भी हालत में इसकी चूत के पानी से ही अपने लंड को हरा करूँगा.

अब हम दोनों मिल कर पीटर का लंड खाने लगी, कभी मैं चूसती तो रिया उसके टट्टे चूसती, तो कभी मैं उसके टट्टे चबाती और रिया उसका मूसल हिलाती. नाश्ता करने के बाद मैं अम्मा को उस माह का वेतन दे कर ऑफिस चला गया और शाम को घर लौटने पर देखा की अम्मा और माला ने अपना सभी सामान लाकर स्टोर में रख दिया था. फट्ट… शॉट लगाने लगा थोड़ी देर में मैं झड़ गया और सारा वीर्य मैंने उनकी चूत में डाल दिया और वो आहें भरने लगी और वीर्य उनकी टाईट चूत के बाहर टपक रहा था.

हिंदी बीएफ की पिक्चर मैं उसे बोल रही थी- थोड़ा धीरे धीरे करो!पर वो तो मेरी जम कर चुदाई कर रहा था, उसका लंड मेरी चुत में बिल्कुल टाइट फिट था, अब मुझे भी मज़ा आ रहा था, मैं भी अपनी गांड आगे पीछे कर के चुदाई का मज़ा ले रही थी!आकाश अब झड़ने वाला था तो उसने मुझे सीधा किया और मेरी चुचियों पे अपना सारा माल निकाल दिया. गौरव का लंड विकास से भले ही छोटा हो पर रोहन से काफी बड़ा था, मैं तड़प उठी… दर्द के मारे छटपटाना चाहती थी पर तीन कसरती बदन वालों की जकड़ में छटपटा पाना भी मुश्किल था और मुंह में बड़ा सा लंड था तो चीख भी ना पाई, बस आंसू बहे जो गालों पर ढलक गये, और उस कमीने ने तो चुदाई दो मिनट रोकी भी नहीं, बस पेलता ही चला गया.

एक्स एक्स एंड सेक्सी

साथ ही उन्होंने बताया कि उनका छोटा भाई अजय और उनकी पत्नी आरती, अपनी बेटी नेहा को भी साथ ला रहे हैं. पहले तो मैं देखना चाहता था कि मनोज और मेघा क्या मस्ती करते हैं, तो मैं नार्मल डांस करता रहा. मैंने लंड का टोपा उनकी चुत में पेल दिया और उनको झट से किस किया जिससे उनकी चीख दब गई। लेकिन अभी मेरा सिर्फ़ टोपा उनकी चुत में गया था। मैंने उनको अपनी तरफ और जोर से खींचा और मैं घुटनों के बल बैठ गया। अब मैंने ज़ोर लगा कर पूरा लंड उनकी चिकनी और टाइट चुत में डाल दिया।आंटी चीख पड़ीं- आआअहह.

मुझे बड़ी अजीब सा अहसास हुआ।भैया समझ गए, उन्होंने कहा- प्रमिला किसी भी लड़की की सबसे नाजुक जगह उसकी नाभि और गर्दन की जगह होती है. वीर्य छूटते ही उसने अपना लंड मेरे होठों पर रगड़ना शुरु कर दिया और जब तक उसने बदन ने झटके मारना बंद नहीं किया वो अपने लौड़े को मेरे होठों पर रगड़ता रहा. सेक्सी व्हिडिओ मराठी बीपी पिक्चरएंड्रयू का भाले की तरह तना हुआ लंड जड़ तक मेरी बीवी की गांड में घुस गया और वो अपने दोनों हाथ अपने पीछे एंड्रयू के कन्धों पर टिकाए आगे-पीछे होने लगी.

दोनों लड़कियाँ मस्ती से भरी हुई हैं और लंड, लौड़ा, चूत चुदाई जैसे शब्द और साथ में हर तरह की माँ की, बहन की अश्लील गालियों का प्रयोग कर रही है.

?? ये भी मेरे ही उम्र के हैं, फिर इन्हें सैक्स की इतनी जानकारी कहाँ से मिली. वह शाम को मेरे आने से पहले ही धुले हुए सूखे कपड़ों को प्रेस करने के लिए धोबी को दे आती थी और मेरे घर आते ही मुझे चाय बना कर देती तथा रात के लिए मेरा खाना बना कर अपने घर चली जाती.

फिर हम पांचों ने खुद को साफ़ किया और वापस आकर एक दूसरे को किस किया, फिर वो तीनों चले गए और हम दोनों बहनें नंगी ही बिस्तर पर सो गई. मैं बॉस के लंड पर पैन्ट के ऊपर से ही हाथ रख कर लंड की लम्बाई का नाप लेती जाती थी जो बढ़ता ही जा रहा था. मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। मेरा लंड और भी फूल कर कुप्पा हो गया।कुछ देर बाद मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया। मेरे चूत पर मुँह रखते ही वो एकदम मचलने लगी और उसके मुँह से ‘अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह माँ मरी अह्ह्ह उह्ह्ह.

आखिरकार मैंने अपने लंड से उसकी चूत में अपने वीर्य की पिचकारियाँ मारनी शुरू की और न जाने कितनी पिचकारियों के बाद मेरा लंड शांत हुआ और डॉक्टर ने चैन की साँस ली.

इसलिए उसको सुला देना ठीक समझा।टीना अब मॉंटी के बिस्तर पर बैठ गई और उसके सर पे हाथ घुमाने लगी। ये मॉंटी की बचपन की आदत है. फिर मैंने वही चिकनाहट अपने सुपारे पर चुपड़ ली और लंड को उसकी चूत की दरार में लम्बवत रख के रगड़े लगाने लगा. उस दिन मेरी चूत का भोसड़ा तो बन गया लेकिन मुझे मज़ा बहुत आया और उस दिन से मुझे लंड लेने की आदत लग गई.

40 सेक्सी हिंदी मेंतो बहुत थकी हुई थी। घर में घुसते ही मैं नहाने चली गई, कुछ देर बाद जब मैं बाथरूम से बाहर आई तो देखा कि अशोक मेरे बिस्तर पर बैठा था, उसने अपना लंड हाथ में पकड़ा हुआ था।मैं उसे देख कर बहुत जोर से चिल्लाई- तू अन्दर कैसे आ गया?वो बोला- तेरा बाप मुझे एक्स्ट्रा चाभी दे कर गया था. आज तो साली टीना को तैयार कर ले, मेरा भी बड़ा मन मचल रहा है।साहिल- अबे टीना तो तैयार है कोई ढंग की जगह भी होनी चाहिए ना.

कुत्ते के सेक्सी फिल्म

तो देवर आधा पति क्यों नहीं हो सकता।बात तब की है जब मेरी शादी को 3 साल हो गए थे। मेरे पति को बिज़नेस के काम से एक महीने के लिए विदेश जाना पड़ा था। वैसे तो हमारी सेक्स लाइफ बहुत अच्छी चल रही थी. मम्मी ने मेरा गठीला शरीर देखा और बोली- ऐसे क्यों घूम रहे हो?तो मैंने कहा- मम्मी, अपने रूम में कसरत कर रहा था. मेरी हवस मेरे काबू से बाहर हो गई थी… मैं भी चाह रहा था कि कोई लंड मेरे मुंह में भी चला जाए और मैं उसको ऐसे ही प्यार से चूसूं…कुछ देर बाद लड़के ने उसके सिर से पकड़ ढीली कर दी… मैं समझ गया कि उसका वीर्य निकल चुका है जिसे उस लड़की ने पी लिया.

पहले ही मुझे रंडी बोल चुके हो आज साबित भी कर दो।गोपाल- अरे सॉरी यार. वो जींस में बैठने में थोड़ी प्राब्लम हो रही है।मोना- आपको गोपाल का पजामा दे दूँ. फिर मैं कमरे से एक गोल मसनद वाला तकिया ले आया और उसमें लंड रगड़ कर उसकी गांड की फीलिंग्स लेने लगा.

मज़े और वासना के चलते पूजा कुछ बोल भी नहीं पा रही थी और संजय तो पक्का खिलाड़ी था। उसने ऐसी ज़बरदस्त चुत की चुसाई की कि बेचारी पूजा 3 मिनट भी नहीं टिक पाई।पूजा- आह. तब कहीं जाकर संजय ने उसकी गांड में पानी की धार मारी और इधर वीरू के लंड ने उसके मुँह को रस से भर दिया था।उधर टीना ये सब अपने फ़ोन में रिकॉर्ड कर रही थी। हालांकि उसकी चुत भी जलने लगी थी. उधर मैडम सिसिया रही थीं- उम्म… ऊं… ऊं… आई… ई ई सी… सी उफ़… उफ़ हाई… मजा आ रहा है!मैडम को अब चुदाई का भुत सवार हो गया था उसको चुदाई में खूब मजा आ रहा था, वो लगातार बड़बड़ाए जा रही थीं- ‘ऊइई… उफ्फ… हईही… जोर से अशोक… और जोर से… बहुत मजा आ रहा है.

इतना कह कर हम दोनों हंसने लगे और फिर से मैंने उसे अपने से चिपका लिया और उसके बूब्स पकड़ लिए और बोल उठा- भाभी, आपके मोम्मे तो सभी आंटियों में फेमस हैं और इतने दिन से इसे सिर्फ़ देखकर ही काम चला रहा था. उसके बाद मैंने अपनी झांटों को कैंची से कुतर कर नाखून जितना कर लिया.

वो भी निष्ठा की ही उम्र की रही होगी और बहुत स्मार्ट थी… काम की अच्छी जानकारी थी उसे!सही मायने में ब्रांच की पूरी जिम्मेदारी रयान और ऋषिका पर ही थी.

आंटी थोड़ी मुस्कुराई और बोली- क्या देख रहे हो?मैं- कुछ तो नहीं!और मैं जूस पीने लगा. मराठी सेक्सी क्लिपा व्हिडिओफिर मैंने चूत के अंदर एक उंगली डाली और चूसने के साथ साथ उंगली से उसे चोदने लगा. सेक्सी वीडियो नींद वाली’फिर उसने मेरे बारे में पूछा तो मैंने बताया- बी टेक में पढ़ रहा हूँ, घर जा रहा हूँ आज!रीना- आज कल इंजिनियरिंग में पढ़ने वाले लड़के बहुत बदमाश होते हैं. com/bhai-bahan/ghar-me-behan-ke-sath-rangin-raten/मेरी बहन एकदम नंगी थी, उसकी दोनों टांगें फैली हुई थी जिसकी वजह से मेरी बहन की चूत अलग ही चमक रही थी.

पूरी चादर खून से लाल थी और अनिता की मासूम चुत अब खूनी चुत बन गई थी.

मेरठ से एक औरत, जिसकी उम्र 28 के आस पास होगी, चढ़ी, वहाँ से दो तीन कपल और चढ़े, वो सब एक साथ सीट लेकर बैठ गए क्योंकि काफी सीटें खाली थी. चल साली रांड तू मेरा हाथ से हिला के मुझे मज़ा दे दे।दोस्तो, 15 मिनट तक ये खेल चलता रहा फ्लॉरा तो असीम आनन्द की दुनिया में खो गई। वो कुछ बोल भी नहीं पा रही थी। अजय उसके मुँह को चोदने में लगा हुआ था और इधर मम्मों और चुत की चुसाई से वो बेहाल हो गई थी। उसका झरना बहना शुरू हो गया था, जिसे साहिल ने चाटना शुरू कर दिया।साहिल- वाह साली. ‘मेरे पास आ के बैठो न स्नेहा!’ मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने नजदीक सटा लिया और उसके गले में बांह डाल कर हौले से उसका बायाँ गाल चूम लिया.

फिर मैंने लंड का हल्का सा दबाव चूत पर बनाया और स्पीड से लंड का सुपारा चूत के चीरे में चलाने लगा. पर मैंने नशे मैं होने का नाटक किया और अपनी कार में जाकर सो गया, तो मेघा मनोज के साथ उसकी कार में चली गई. मैंने पीछे से जाकर पूछा- भैया, रवि जाखड़ का घर किस तरफ है?आवाज़ सुनकर उसका मुंह मेरी तरफ घूमा तो मेरी आंखों में खुशी और गम के आंसू एक साथ पलकों तक भर आए लेकिन नीचे नहीं गिरे… मैं उसकी आंखों में देख रहा था… वही मुस्कुराता चेहरा, माथे पर बिखरे हुए बाल, लाल-लाल रसीले होंठ और उन पर फैली वही कातिलाना मुस्कान… जिसको पहली बार देखते ही मैं लट्टू हो गया था.

सेक्सी वीडियो एचडी देहाती वाला

मैंने रात को मानसी को फ़ोन लगाया और हम दोनों बहुत देर तक एक दूसरे की साँसों की आवाज़ सुनते रहे पर हमारे पास ख़ामोशी के अलावा बात करने को कुछ नहीं था. जैसे ही केक काटा गया, मैंने केक की एक बाईट उठाई और सुलेखा की ब्रा के अंदर डाल दी. मैंने तो अंधेरे में ही सारे कपड़े निकाल दिए, सिर्फ़ उसकी ब्रा और पेटिकोट ही बचा था, और फिर तो बस जैसे कोई साँप चंदन के पेड़ से लिपट जाता है, बिल्कुल वैसे ही लिपट गया और हम दोनों की चूमाचाटी शुरू हो गई, मैंने अपना लंड चूसने के लिए बोला तो उसने बिना कुछ बोले सीधा मेरा लंड टटोला, मुँह में भर लिया और चूसने लग गई.

जैसे ही उनका खेल ख़त्म हुआ, उन्हें देखकर हमारी उत्तेजना और बढ़ गई, मैंने भी रुचिका को जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया, रुचिका के चूतड़ों के नीचे हाथ डाल कर उसकी गांड को पकड़ कर उसे जोर से ऊपर करता और फिर उसी तरीके से उसे नीचे करता, ऐसा करने से मेरा लंड पूरी तरह रुचिका की चूत के अंदर बाहर हो रहा था.

हमारे सामने मनोज और सुलेखा भी चुसाई में मस्त थे, मनोज ने सुलेखा को हमारी तरफ लिटा कर उसके चूतड़ों को ऊपर उठाया हुआ था, सुलेखा का सर हमारी तरफ था, मनोज उसकी चूत को अपनी जीभ से चूस रहा था, कभी उसकी चूत के दाने को सहलाता और कभी उसकी चूत को चूस चूस कर उसे अपनी जीभ से सहलाता.

वो चलकर पीछे से मेरी गांड पर आकर बैठ गया और अंडरवियर समेत ही अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा. अनिता- कुछ लोगे या आपका सीधे मुझे ही खाने का मूड है?गुलशन- नहीं मेरी रानी, खाना-पीना सब हो गया, अब तो बस मैं तुम्हें प्यार ही करूँगा. स्कूल की सेक्सी वीडियो एचडीअगले भाग में मैं सर की गांड भी बजाऊंगा उनके सामने और उनकी मैडम की सर के सामने!तब तक के लिए अपना हाथ जगन्नाथ.

पर अभी तक कुछ नहीं हुआ। इसके लिए ससुराल वाले उसी को ज़िम्मेदार मानते हैं और अब उसके साथ अच्छा सुलूक नहीं होता। उसे कहीं ले कर नहीं जाते और उसे बांझ कहते हैं।मुझे उनकी सोच बहुत घटिया लगी और बहुत गुस्सा आया। फिर मैंने उसको चेकअप के लिए बोला. देसी लड़की की कामुकता की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि मॉंटी और सुमन एक-दूसरे के ऊपर एकदम नंगे होकर लंड चुत को रगड़ कर मजा ले रहे थे. मैं स्पीड में चोदता रहा, मेरा भी बुरा हाल हो रहा था, मैं भी झड़ने वाला था, मैंने मैडम को कहा- आह आह्ह्ह मैं भी झड़ने वाला हूँ.

मेरा सारा चेहरा उसके वीर्य से सन गया और वो जल्दी से अपना लंड पैंट के अंदर वापस फंसाकर झाड़ियों के पीछे से निकल गया. हम सभी एक दूसरे को गले लग कर मिल ही रहे थे कि डोर बैल दुबारा बजी तो रुचिका बोली- सुलेखा और अरमान होंगे!उसका कहना सही था, वो आ पहुंचे थे, हम उनको भी गले लग कर मिले और हमेशा की तरह सुलेखा को मैंने सभी के सामने लिप लॉक किस की, तो सुलेखा ने भी मेरी किस का पूरा सहयोग दिया.

मैं आंटी के गले पर किस करते हुये नीचे आया और कुर्ते के ऊपर से ही उसकी बाईं चूची चूसने लगा और दूसरी वाली हाथ से दबा रहा था.

हम दोनों कुछ देर बिना बात किये वहीँ बैठे रहे और फिर मैंने चुप्पी तोड़ते हुए मानसी से माफ़ी मांगी. कुछ देर की धक्कम पेल के बाद रयान ने पूछा- कहाँ निकालूँ?तो ऋषिका बोली- अंदर ही आ जाओ… मैं सेफ हूँ!इसके बाद दोनों अगल बगल एक दूसरे को देखते हुए लेट गए और सो गए. कॉलेज जाकर मेरा मन सारा दिन कहीं नहीं लगा, मुझे तो बस शाम का इन्तजार था.

सेक्सी चुदाई हिंदी मे अब तक की इस देसी चूत की कहानी में आपने पढ़ा था कि सुमन मॉंटी से अपनी चूत चटवाने के लिए नंगी हो रही थी. तभी राजे ने एक अंगूठे से मेरी भगनासा को रगड़ना शुरू किया तो मैं सिहर उठी.

जो उसने नहीं कराया था।मैंने कहा- मैं एक अच्छे डॉक्टर को जानता हूँ, तुम जीजाजी से बात कर लो तो तुम दोनों चेकअप फ्री में हो जाएगा।फिर मैं अपने घर वापस आ गया।दो दिन बाद मुझे जीजाजी का फोन आया और मुझसे डॉक्टर के बारे में पूछने लगे। मैंने उन्हें डॉक्टर अग्रवाल के बारे में बताया, जो कि शहर के बड़े डॉक्टरों में से थे। उनके यहाँ 2 दिन तक अपायंटमेंट नहीं मिलता था। जीजाजी के घर वाले बड़े कंजूस किस्म के हैं. इसलिए पता नहीं हम लड़कियों की क्या हालत होती है।विक्की- ये क्या बात हुई यार. वो समझ गई और अपने होंठ मेरे मुंह में देते हुए अपनी चूत मेरे लंड पर टिका दी और फिर जोरदार धक्कों के साथ मैंने अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया.

लक सेक्सी

फिर मैंने एक मिनट में धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरु कर दिया और हौले-हौले लंड को अन्दर डालता रहा. आअह्ह्ह्ह्ह आह्ह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ममम्मूऊह म्मम्मऊऊ आअह्ह्ह. अब तो हर झटके के साथ मेरे मुँह से आहह आहह की आवाज़ निकल रही थी और मुझे ऐसा लग रहा था कि अब फूफा जी मेरी चूत फाड़ कर ही दम लेंगे.

जमीला ने भी मुझे मस्ताना उसकी चुचियों के बीच घुसाने को बोली तो अब मैंने मस्ताना को जमीला की चुचियों में घुसा दिया. मैं थक तो चुकी थी मगर फूफा जी की बाहों में पड़ी अब भी उनसे चुद रही थी.

नेक्स्ट टाइम करेंगे।तो वो बोलने लगे- फिर इस खड़े लंड को नेक्स्ट टाइम तक कैसे रोकेंगे?तो मैंने कहा- तुमको और मज़ा चाहिए?उन्होंने कहा- हाँ।तो मैंने कहा- जैसा मैं बोलती हूँ वैसा करना, कुछ एक्सट्रा करने की ज़रूरत नहीं है।उन्होंने कहा- ओके बेबी.

पूजा- तुझ में इतनी हिम्मत ही नहीं है कि अपने सगे भाई से इस तरह की बात पूछ सके और अगर पूछती भी है तो वो तैयार नहीं होगा. संजय ने बात को अच्छे से संभाल लिया मगर कहते है ना चूतियों की कमी नहीं इस दुनिया में. दूसरी बात, एंट्री के लिए या तो आप इस क्लब के मेम्बर हों, मैम्बरशिप फीस है 25000 या फिर सिंगल एंट्री 2200 रुपये, जिसमे एंट्री और 2 गिलास बीयर के मिलेंगे.

राधा की चुत का स्वाद तू भी ले ले भोसड़ी के।राजू- हाँ काका, अब तनाव आने लगा है मगर मोना को चोदूंगा. तो मैंने उससे बोला- भाभी, अब मैं झड़ने वाला हूँ।वो बोली- अन्दर मेरी चूत में ही झड़ना. अनु आंटी के बारे में क्या बताऊँ… 40 की उम्र है पर आज भी 30 की लगती है, उसका फिगर साईज 34-28-36 उसके मम्मे मानो सांचे में ढाल कर बनाये गये हों, एकदम गोल गोल और बड़े कि एक हाथ में तो समाये ही ना.

प्रयास करूंगा कि जल्दी ही समय निकाल कर इसे भी लिख कर यहाँ अन्तर्वासना पर उपलब्ध करा सकूं!यह कहानी यही समाप्त होती है.

हिंदी बीएफ की पिक्चर: सेक्स की बातें वो कभी छेड़ती भी तो मैं ‘हाँ हूँ…’ करके बात ख़त्म कर देता था. मैंने रफीक की कमर कस के पकड़ी और धीरे से मस्ताना अंदर धकेला तो टोपा घुस गया.

तभी अंशिका और रुचिका कमरे के अंदर दाखिल हुईं, अंशिका ने एक बड़ा सा केक उठाया हुआ था, शायद रुचिका और मनोज ने पहले ही ये लाकर फ्रिज में रखा हो, रुचिका के हाथ में एक ट्रे थी, रुचिका ने ट्रे टेबल पर रखी और अंशिका ने केक टेबल पर रख दिया. और मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा हो रहा था। कुछ ही पलों में मेरा लंड मेरी चड्डी से बाहर आ गया।मैंने ऐसा दिखाया कि जैसे मुझे कुछ पता ही नहीं चला हो। मैंने देखा मेरी मामी की नजरें मेरे लंड को देख रही थीं।मामी ने मुझे मजाक में पूछा- ये क्या है. इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी.

एकदम मस्त और करारा माल।मैंने मेरे चहरे से रूमाल नीचे किया और उसे रिप्लाई दिया- हाय मैं सुहास.

मैं तो खुद चुदक्कड़ बन गया था, मैं भाम्प गया कि शायद मैडम चुदना चाहती थी. वहाँ मेरे और प्रेरणा के अलावा सभी सीनियर ही थीं।तब वो मेरे पास आकर प्यार से मेरे गालों को थामते हुए बोली- पहले तू सैक्स तो करने लग जा. फिर दूसरे दिन उसने मुझसे पूछा- बताओगे नहीं?तो मैंने कहा- एकांत में.