सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ

छवि स्रोत,ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

बूढ़ी औरत का सेक्सी बीएफ: सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ, वो उठ कर चल दी तो उसके जाने के बाद मैंने सोचा ऐसे किसी अनजान घर में हूँ तो कपड़े पहन लूँ, इसलिए लाइट ऑन करने के लिए स्विच खोजने लगा.

सुहागरात मनाने वाली

!तो मैं रुक गया और आहिस्ता-आहिस्ता चुदाई करने लगा और उसकी पेशानी को बोसा देते हुए कहा- अब तो दर्द नहीं हो रहा!वो चीखते हुआ बोली- हाय मैं मर जाऊँ. മലയാളം ലൈംഗിക വീഡിയോകള്! ये आख़िरी राज है अन्ना और जूही का ये भी अगले पार्ट में आपको बता दूँगी और कोशिश करूँगी कि स्टोरी का एक अच्छा सा हैप्पी एंड हो ओके… अब आप मेरी आईडी[emailprotected]पर मेल करो और बताओ कि आज मज़ा आया ना आपको…!.

फ़िर मैंने पूछा- वरना क्या?चाची- मैंने तुम्हारे पापा से बात की है कि मेरी छोटी बहन काजल को अपने घर की बहु बनाएँ. एक्स एक्स एक्स काचुलबुली पारो मुड़ी और बल खाती नागिन सी अपने फुटबाल से चूतड़ों को ठुमक ठुमक मटकाती बहादुर के कमरे की तरफ चल दी.

सलोनी- हाँ हाँ रहने दो… आपको तो हर ड्रेस देखकर यही कहते हो… आपको पता है न मेरी जॉब लग गई है…मैंने तुरंत आगे बढ़कर सलोनी को सीने से लगा एक चुम्मा उसके होंठों पर किया.सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ: निखिल- तो बुआ कल की रात आपको कैसी लगी?रजनी इस पर शरमा गई और कोई जवाब नहीं दिया।निखिल- अब बस करो यार, अब इतना शर्माने की क्या जरूरत है प्लीज बताओ ना?रजनी- तू भी ना.

मैं एकदम से चहक उठा और घूम कर उन्हें अपनी बाहों में उठा लिया। मेरे चेहरे पर एक विजयी मुस्कान आ गई थी। मैं उन्हें उठा कर वैसे ही उसी जगह पे गोल गोल घुमने लगा।पागल… मैं तुझे कभी उदास नहीं देख सकती…” इतना कह कर उन्होंने झुक कर मेरे होंठों को चूम लिया।मैं पागलों की तरह उन्हें नीचे उतार कर चूमने लगा, उन्होंने भी मुझे अपनी बाहों में भर कर चूमना शुरू किया।उम्म… ओह्ह.पहली बार में ही चुदवाने में इतनी कुशल हो गई थी।मेरे अंडकोष के बार-बार ठोकने से उसकी चूत का निचला हिस्सा लाल हो चला था।जब-जब मेरा लंड पूरा अन्दर घुसता था और मेरी जांघ उसकी जांघों से टकराती थी.

பிஎஃப் வீடியோ பிஎப் வீடியோ - सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ

दीदी बोली- भाई भर दो मेरी चूत में अपने लण्ड का सारा रस और मुझे अपने बच्चे की माँ बना लो और तुम मामा और पापा दोनों बन जाओ… आहह भाई मैं गईईई…!यह बोलकर दीदी नीचे लेट गई और मैंने अपनी गति बढ़ा दी.अगर आप मुझे रोहन बेटा बोल रही हैं तो मैं आपको मम्मी बोल सकता हूँ?मैम- मुझे मम्मी बोलना चाहता है?मैं- आप भी तो रोहन बेटा बोल रही हो।मैम- ठीक है तो मेरे घर में तू मुझे मम्मी बोल ले और मैं तुझे रोहन बेटा बोला करूँगी और इसे अपना ही घर समझ.

समझ गई? आज तो रात भर ‘ख्याल’ रखूँगा!शायद जब मैंने मम्मी से कुछ नहीं कहा तो उसकी हिम्मत बढ़ गई थी और वह निश्चिंत हो गया था कि मैं किसी को कुछ भी बताने वाली नहीं।‘रामू चाचा तुम बहुत बदमाश हो. सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ भईया अच्छी तरह से चौदिये, फाड़ दीजिये मेरी निगोड़ी गाण्ड को ऊफऽऽ ईसऽऽऽ ईसऽऽऽ बहुत सताती है साली, मां की लौड़ी, आह मेरे गाण्डू भईया लूट लो मेरी जवानी, और जोर से, येस ओर जोर से वाहऽऽऽ फाड डालोऽऽऽ चौदू, चौद अपनी बहन की चूत कोऽऽऽ, कैरी आन डौन्ट स्टाप यू फकर बास्टर्ड!रीटा जैसी मासूम स्कूल गर्ल के मुँह से शानदार गालियाँ सुन कर राजू का ठरक चरम सीमा तक पहुँच गया.

मेरी ओर से सकारात्मक प्रत्युत्तर पाकर उसकी हिम्मत बढ़ी और चूत की आग के आगे मुझे अपनी मर्यादा इज्जत का ख्याल न आया, पति थाने में, बेटी बीमार, सब भूल कर मैं एक गैर मर्द से चुदने को तत्पर हो उठी.

सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ?

अभी तो चुदाई में बहुत कुछ होना बाकी है।मैंने पिंकी को नीचे फर्श पर खड़ा किया और एक पैर बिस्तर पर और दूसरा फर्श पर रखा। मैं पिंकी के नीचे बैठ गया और गांड को चौड़ा कर मुँह घुसा दिया और गांड को चाटने लगा।पिंकी मुझसे बोल रही थी- राहुल, आप मुझे पागल कर दोगे अह्ह अह्ह्ह छ्ह्ह्ह म्म्मऊऊउ ऊऊओआ हाँ चाटो मूऊउ. फिर सोनिया ने मेरे नंगे चूतड़ पर एक जोरदार थप्पड़ मारा और कहा- मैं बाकी लड़कियों के साथ दूसरे कमरे में जा रही हूँ, पर तू यहीं पर कुतिया बनी रहेगी. मैं- आप लैपटोप को अलमारी में क्यों रखती हो?पूजा- मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है कि कोई मेरी चीज़ों को हाथ लगाये, खास कर के मेरे लैपटोप को, मैं इसे कभी भी किसी के साथ साँझा नहीं करती इसीलिए मैं इसे अलमारी में रखती हूँ.

ज़िंदगी में पहली बार मैं किसी और का वीर्य अपनी जान के चूत में जाते देखने वाला था…मगर थैंक गॉड… उसने आखरी समय में अपना लण्ड सलोनी की चूत से बाहर निकाल लिया… भक की तेज आवाज आई…और उसने शायद हमको देख लिया था… वो उठकर हमारी ओर को आया…मैंने उसके लण्ड को देखा. योनि में जो जैल डाला था, उसके वजह से बहुत आनन्द आ रहा था और लिंग बड़े प्यार से मेरी योनि को रगड़ दे रहा था. भाभी ने कहा- आदिल 18 साल का हो गया है पर इसने लड़की का मजा नहीं लिया अभी तक! तो आज हम तीनों के नाम की पर्चियाँ डलते हैं, जिसकी परची आदिल उठाएगा, उसी पर आदिल अपना कुंवारापन न्यौछावर करेगा.

उन्होंने कहा- प्लीज ये कॉन्डोम निकाल देता हूँ बिल्कुल मजा नहीं आ रहा है।मैंने मना किया, पर कुछ देर के सम्भोग में लगने लगा कि वो पूरे मन से नहीं कर रहे हैं।फिर उन्होंने मुझसे कहा- कॉन्डोम निकाल देता हूँ जब स्खलन होने लगूंगा तो लिंग बाहर निकाल लूँगा।मैंने उनसे पूछा- क्या खुद पर इतना नियंत्रण कर सकते हो?तो उन्होंने मुझसे कहा- भरोसा करो. तभी पापाजी का हाथ मेरे सिर पर पड़ा और वह उसे नीचे दबाने लगा और देखते ही देखते लण्ड महाराज मेरे मुँह से होते हुए मेरे गले तक पहुँच गया. अब चुदाई का मज़ा आएगा।’ मैं हौले-हौले धक्के लगाता रहा।कुछ ही देर बाद रूबी की चूत गीली होकर पानी छोड़ने लगी।मेरा लण्ड भी अब कुछ आराम से अन्दर बाहर होने लगा, हर धक्के के साथ ‘फक-फक’ की आवाज़ आनी शुरू हो गई।मुझे भी अब ज़्यादा मज़ा मिलने लगा था। रूबी भी मस्त हो कर मेरा सहयोग देने लगी थी।अब वो बोल रही थी- अब अच्छा लग रहा है जानू.

वो चाय को छोड़ मेरी तरफ घूमी और मेरे होंठों को चबाने लगी। मैं तो चाहता ही यही था कि वो मेरा पूरा साथ दे बिना शरमाए।हम एक दूसरे को ऐसे चूम रहे थे जैसे बरसों के प्यासे हों. मैंने उसे समझाया कि मुझे जो कुछ भी ब्लू फ्लिम्स देखने तथा दोस्तों से पता चला था उसके अनुसार करने से उसे कोई भी दिक्कत नहीं होने दूंगा.

तुम दोनों भी कपड़े निकाल दो, तब इसको शर्म नहीं आएगी, सही है ना जूही…!जूही ने मुस्कुराते हुए ‘हाँ’ कही।फिर क्या था वो दोनों भी नंगे होकर बेड पर आ गए। आरोही सीधे रेहान के पास जाकर लेट गई और राहुल जूही के पास लेट गया।रेहान- अरे आरोही क्या बात है.

पूरा कमरा सिसकारियों से गूंज रहा था।फिर एक हाथ से उसकी पैंटी उतारी और दोनों टांगों के बीच में जाकर देखा तो क्या फूली हुई चिकनी चूत थी जो मेरी कल्पनाओं से भी परे थी।मेरा मन तो किया कि मैं उसे चाटूँ.

वो सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में रह गई।मैंने उसे बिस्तर पर बिठाया और अपने कपड़े निकालने लगा और कपड़े निकालते वक्त भी सुमन आगे होकर मेरे होंठों को चूम लेती।फ़िर मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए, वो मेरे लौड़े को देखकर बोली- ह्म्म्म. थोड़ी देर में लोग जाने लगे और अब वहाँ पर कुल तीन औरतें थी, भाभी, मैं और मेरी सहेली जिसका मेरे भाईजान से भी याराना है और दो ही मर्द थे भाईजान और आदिल. यह सब मैं आप सब को इसलिए बता रहा हूँ ताकि आप लोग अपनी कल्पना को अच्छी तरह उभार कर कहानी का पूरी तरह मजा ले सको.

बोल?कल छुट्टी करने पर मेरा क्या हाल हुआ था, वो सोच कर मैं फिर काँप गई और चुपचाप सोफे पर बैठ गई।मैं नज़रें झुका कर बैठी थी और धीरे-धीरे मैंने ससुर जी के साथ नाश्ता कर लिया।उन्होंने अपना दूध का कप भी मेरे आगे कर दिया और कहा- चलो पियो इसे!वो मुझे ऐसे नाश्ता करा रहे थे, जैसे कोई बच्चे को कराता है।ससुर जी बोले- बहू. ’ की आवाजें आने लगीं।कुछ देर बाद उन्हें भी मजा आने लगा और वो भी अपनी गांड को उछाल-उछाल कर मेरा साथ देने लगी।वो मस्ती में कह रही थी- और जोर से राजा. मैंने अपने जीवन के कुछ मधुर अंश तो अपनी रचना ‘इक्कीसवीं वर्षगाँठ’ में पहले ही आप सबको बता चुका हूँ! अब मैं आपको मेरी उस इक्कीसवीं वर्षगाँठ के बाद हुए एक प्रकरण के बारे में बताना चाहूँगा.

कमरे में एक ओर पढ़ाई की मेज और दो कुर्सी रखी हुई थीं, एक कोने में किताबों का रैक रखा हुआ था, एक कपड़ों की अलमारी और बैड के साथ में एक सोफ़ा चेयर रखा हुआ था.

महक फॉलोड हिम और दरवाजा बंद करते हुए मुझे विंक करके कहा- यू एंजाय!”तो अब उस बाहर वाले कमरे में सिर्फ़ हम दोनों थे, राज मेरे पास आया, उसने बड़े प्यार से कहा- जॉय की बात का बुरा मत मानना, वो अच्छा लड़का है पर कभी-कभार ज़्यादा ड्रंक हो जाता है।हम दोनों हंस पड़े और टेन्शन कम करने के लिए राज ने मुझे एक ड्रिंक बना कर दिया। मैंने ड्रिंक लिया और हम दोनों सोफे पर बैठ कर बातें करने लगे. धीरे-धीरे वह संदेशों के बदले मुझसे फ़ोन पर शुभ-प्रभात और शुभ-रात्रि कहने लगी और इस तरह हम दोनों की बातचीत का सिलसिला भी शुरू हो गया!पहले तो हम दोनों की सामान्य बातें ही होती थी लेकिन बाद में यह सामान्य बातें सेक्स की तरफ बढ़ने लगी. उसको बिना चोदे छोड़ा हो…और अब दोनों मेरे सामने ऐसे एक्टिंग कर रहे हैं… अगर कुछ हुआ होगा तो जरूर कुछ न कुछ तो बात करेंगे ही…जहाँ इतना अपनी नींद की कुर्बानी दी है, वहाँ कुछ और भी कर सकता हूँ।हालाँकि नींद मेरे ऊपर हावी होती जा रही थी…पता नहीं क्या हुआ? और होगा????कहानी जारी रहेगी.

फिर भी मैंने खुद से कहा कि सोनिया मुझे जो भी कहेगी मैं उसे करूँगी क्योंकि मैं हार तो चुकी हूँ और अब यह नहीं चाहती कि सब मुझे डरपोक या वादा फ़रामोश कह कर बुलाएँ. टीटूहैलो दोस्तो, आज मैं आपको एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ, जो मेरे साथ कुछ महीने पहले हुई है।मेरा नाम…! अजी छोड़िए नाम में क्या रखा हैं. अक्षय शर्माहैलो दोस्तो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम !मेरा नाम अक्षय है, मैं गुजरात से हूँ और सूरत का रहने वाला हूँ। मैं 23 साल का एक जवान लड़का हूँ, मेरे लण्ड की नाप 6.

तुम्हें दर्द हो रहा है?मैंने बस सिर हिला कर ‘ना’ में जवाब देते हुए कहा- अब देर न कीजिए… जल्द मुझे प्यार कीजिए.

? हाँ वो मेमसाहब… वो तो वहाँ उसको 2-3 जने मिलकर… हा… हो… हो… हो…और मुँह दबाकर हंसने लगा…मैं उसकी ओर ध्यान ना देकर सीधे उस ओर बढ़ गया जिधर उसने इशारा किया था. लो इसे ! आह !”पर विनायक ने मेरी बात को जैसे सुना ही नहीं और अभी मैं पहले झटके के दर्द से उबर भी न पाई थी कि दूसरा झटका लगा। इस बार लंड हम दोनों के बदन से निकली चिकनाई के सहारे जड़ तक मेरी चूत में समा गया.

सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ सी …यह कहते हुए उसने अपनी चूत का पानी निकाल दिया, प्रिया की चूत के पानी ने उसका लण्ड पूरी तरह भिगो दिया था और उसने भी अपना लौड़ा बाहर निकालकर प्रिया के मुंह में दे दिया और जोरदार सिसकारी भरता हुआ बोला- आ. !क्योंकि मैं जिम जाता था।उन्होंने मेरे सारे कपड़े उतार दिए, हम दोनों बिल्कुल नंगे थे और मेरा लंड एकदम तना हुआ था।मेरी भाभी बोली- इतना लम्बा और मोटा… और तुम्हारे भाई का बहुत छोटा और पतला है!हम दोनों बिस्तर पर लेट गए। वो मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी, तक़रीबन 15 मिनट तक चूसती रही।मैंने कहा- बस.

सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ मैं तो मर जाऊँगी…‘आपको दर्द है तो मैं बाहर निकाल लेता हूँ!’ मैंने उन्हें तड़पाने के लिए कहा।भाभी- अरे. अच्छा हुआ मैंने मुँह से करने के लिए ही ‘हाँ’ की है।मैंने भी उसकी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिलाई और मन ही मन सोचा कि ‘बेटा रुक जा आज इसी लौड़े से तेरी चूत और गाण्ड दोनों मारूँगा और ऐसे मारूँगा कि तुझे इसका नशा सा हो जाएगा, फिर तू ही मेरे आगे हाथ जोड़ेगी कि चोद लो.

रात नौ बजे तक बुर से गर्मी मिलती रहती थी, जब कभी कहता- भाभी बुर दे दो!तो बोलती- नहीं…एक दिन बोली- मेरे लिए रेजर ला दो!मैंने पूछा- क्यूँ…?बोली- सफाई करनी है.

ಬಿಎಫ್ ಸೆಕ್ಸಿ ಬಿಎಫ್ ಸೆಕ್ಸಿ

!मुझे समझ नहीं आया आखिर हेमा ऐसा क्यों बोली।तभी फिर से आवाज आई- प्लीज बस एक बार और!हेमा ने कहा- इतनी जल्दी नहीं होगा तुमसे… काफी रात हो गई है. वह बहुत गोरी है और उसकी लम्बाई करीब 5 फुठ 6 इंच थी और उसके होंठ मानो गुलाब के फूल हों!बहुत प्यारी लड़की थी कसम से! जो कोई देखता होगा, जरूर एक बार उसके लण्ड से पानी टपक पड़ता होगा. मैंने कहा- रूको भाभी, ज़रा आप अपनी टाँगें मोड़ लो, मैं बैठ कर आपकी योनि चाटता हूँ। उन्होंने जैसे ही अपनी टाँगें मोड़ीं, मैंने भी फुर्ती में अपना लिंग उनकी योनि में डाल दिया।पर शायद वो अन्दर नहीं गया था और वो चिल्लाने लगीं- यह क्या कर रहे हो?मैंने कहा- प्लीज़ एक बार डालने दो.

अब इन्तजार लण्ड के सम्पूर्ण रूप से सलोनी की चूत में समाने का था…10-12 बार यही सब चलता रहा, वो सलोनी को नीचे करता और सलोनी ऊपर उठ जाती… और एक बार भक्क की आवाज आई. फिर मैं लण्ड को धीरे-धीरे अन्दर दबाते गया। पूरा लण्ड अन्दर जाने पर ही मैं रुका।फिर जब पीछे खींच रहा था, तो वो बोली- रहने दो. बहुत सुकून मिल रहा है !तभी उसने अपना लिंग मेरी योनि में घुसा दिया, तो मेरा पेशाब रुक गया।उसने कहा- रुको मत.

मैंने नंगी होकर सबको खाना परोसा और खुद भी खाया, मैं नंगी थी इसलिए मुझसे कहा गया कि मैं दोनों लड़कों के बीच में खड़े होकर खाना खाऊँगी.

मैं कौन सा तेरे सामने कपड़े उतारने जा रही हूँ।तो मैंने कहा- चल ठीक है।उसे थोड़ा दूर करके उसकी पीठ के सारे पॉइंट्स पर धीरे-धीरे काम करना शुरू किया।उसे आराम मिलना तो तय था क्यूँकि इस काम में मेरा अनुभव अच्छा है. !!रणबीर- झूट मत बोल, मुझे चुतिया समझ रहा है? मैंने देखा कि उसकी फ्राक पीछे से पूरी खुली थी, उसकी चड्डी यहाँ क्या कर रही थी. बैठो ना बेटा… वो सॉरी… ये सारे मेरे दोस्त ऐसे ही हैं।पता नहीं वो क्यों झेंप सा रहे थे, शायद अंदर हुई बात के कारण?मैंने उनका डर दूर करने के लिए ही बोला- अरे क्या अंकल आप भी… ये सब तो चलता ही है और मुझे बहुत मजा आया… यकीन मानिए, हम लोग तो इससे भी ज्यादा मजाक करते हैं। बस प्लीज अपने दोस्तों को यह मत बताना कि मैं सलोनी का हस्बैंड हूँ, बाकी सब मजाक तो चलता है.

यह बात उस समय की है, जब मैं बहुत छोटा था, मेरे घर में मैं अपने माता-पिता के साथ रहता था। मेरी माँ का नाम मधु और पापा का नाम रमेश था। उस वक्त मधु की उम्र 34 साल थी, मेरे मोहल्ले के एक भैया जिसका नाम नारायण था वो अकसर हमारे घर आता था।एक दिन मैंने उसे मधु से बात करते हुए सुना- कभी घर से निकलो तो जन्नत की सैर कराऊँ!’मधु ने बोला- समय मिलने दो!एक दिन मधु ने मुझसे बोला- चलो चिंटू. !अंत मैं मैंने अब मूठ ना मारने का निर्णय किया और अपने घड़ी में समय देखा। अब डेढ़ घंटे बीत चुके थे, शायद उसे आना ना था, कामदेव को कुछ और ही मंज़ूर था। उसके ना आने से मन थोड़ा उदास था, मगर खुशी भी थी, इसलिए कि ऐसे रोमान्टिक तरीके से मूठ मैंने पहली बार मारा था। मैं सीधे उसके घर गया और उसको छोड़कर सबसे बातें की।मेरी नाराज़गी उसे पता चल गई, घर से आते वक़्त उसने पूछा- नाराज़ हो?मैं- हाँ. बाद में भाभी ने भेद खोल दिया था कि उन्होंने तीनों पर्चियाँ मेरे नाम की डाली थी!बुआ की चुदाई की इंडियन सेक्स स्टोरीज कैसी लगी?[emailprotected].

मैं भाभी से अलग हुआ- क्या कर रही हो यार? खा जाओगी क्या मेरे होंठों को!तो भाभी मेरी तरफ देखकर हंसने लगीं. पर उसने एक बहुत बड़ी गलती की थी कि पिछली फ़ाइलों को ना देख पाने का विकल्प नहीं चुना जिसके कारण उसका राज़ खुल गया और मुझे रेलगाड़ी ढूँढने में सफ़लता हासिल हुई.

दीदी- आहह ! बहुत बदमाश हो गये आप भाई साहब… थोड़ा तो इंतज़ार करो ! चेंज तो करने दो…मकान मालिक- आज तो ये कपड़े फट कर ही अलग होंगे जानेमन…दीदी- अरे पागल हो गये हो क्या तुम. अगर तुम उतार सको तो उतार लो।रणजीत ने अपनी हाथ आगे कर के बटनों को खोल दिया और उसके शरीर से सूट को अलग कर दिया।रानी ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी और काले रंग की पैन्टी थी क्योंकि रणजीत ने एक झटके में ही पज़ामा भी उतार दिया था।अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में ही रह गई थी।रानी- मुझे नहाना है. फ़िर मैंने उसे उसके कन्धों से पकड़ कर उठाया और उसके होंठों पे होंठ रखकर चूमने लगा, उसने भी खुलकर मेरा साथ दिया वो कभी अपनी जीभ मेरे अन्दर डालती और कभी मेरी जीभ को अपने मुँह के अन्दर तक ले जाती.

मुझे तुम मेघा बुला सकते हो।तो मैंने उनके होंठों पर चुम्बन करते हुए कहा- मेघा आज मुझ पर छा जाओ।मेघा हँस पड़ी.

रीटा की कमर सहलाते सहलाते राजू ने झटके से रीटा की कच्छी को केले के तनों सी रानों से नीचे सरका कर घुटनों तक खींच दी और फड़फड़ाती रीटा को जबरदस्ती स्कर्ट के नीचे से जन्मजात नन्गी कर दिया. मैं उसके होंठों का रसपान करने लगा। ऐसा लग रहा था कि दुनिया में उसके होंठों से मीठी कोई चीज़ हो ही नहीं सकती है…तभी माँ की आवाज़ सुन कर मैं होश में आया और वो अपने आप को मुझसे छुड़ा कर भाग गई. !मैंने उसे फिर से प्यार से चूमा और कहा- मैं तुम्हें हमेशा ऐसे ही प्यार करूँगा।बीस-पच्चीस धक्के लगाने के बाद मैं चरम सीमा पर पहुँच गया। मैंने ज़ोर-ज़ोर से पूरी ताकत से चोदना शुरू किया।वो ‘आ.

!मैंने कहा- तुम्हारी इच्छा जरूर पूरी की जाएगी बालिके…!वो थोड़ा हँसी और कहा- मैं तो बस ऐसे ही कह रही थी, सच कहूँ तो आज तुमने मुझे बहुत खुश कर दिया है।मैंने कहा- सच में स्नेह, तुम जैसे लड़की मैंने अपने जिंदगी में आज तक नहीं देखी। सच में आई रियली लव यू. अच्छा यह बताओ कि तुम दोनों में से किसकी चूत पर बाल अधिक हैं?मोनिका ने कहा- जीजू, खुद ही हमारी पेंटी खोल के देख लो ना!कहानी जारी रहेगी.

!’ उसने बताया।अभी 11 बज रहे हैं, मैं ज़्यादा थक भी गया हूँ, क्यों ना 2-3 घंटे सो लूँ। रात भर जागना जो है. यह लड़की जो अभी यहाँ से निकली है, कौन है और कहाँ रहती है?तो मानी बोला- इसका नाम स्वीटी है और इसी मोहल्ले में रहती है।मानी भी इसी मोहल्ले का रहने वाला था।मैं- यार क्या मस्त लड़की है… ऊपर से नीचे तक कयामत है. इसमें तेरी और तेरे उस कमीने बंगाली की सारी करतूत क़ैद है !’उसने मेरा छोटा सा कैमरा मुझे ही दिखाया और बताया कि उसने सारी फोटो खींच ली है।‘रामू चाचा, तू एक शरीफ आदमी को जेल भेजेगा?’‘हाँ.

नई दुल्हन के साथ सेक्स

उमा चाची- तो लो… छू कर देखो इन्हें…उमा चाची- कैसा लग रहा है सन्जू… मज़ा आ रहा है ना? तुम्हारी चाची की चूचियाँ अच्छी हैं ना?सन्जू- हाँ चाची… हांह.

ये तो बड़ा प्यारा लग रहा है और मुझे डरा भी रहा है।उसने झुक कर रणजीत के लंड को अपने हाथों में ले लिया और पहले थोड़ा सूँघा उसकी गन्ध उसे बहुत प्यारी लग रही थी। उसके बादएक हल्की सी चुम्मी ले ली और छोड़ दिया।रानी- अब खुश. फिर थोड़ी देर बाद में थोड़ा नीचे सरक कर उसकी चूत तक अपना मुँह ले गया और उसकी चूत चाटने लगा। मैंने किसी लड़की की चूत पहली बार चाटी थी मुझे बहुत मजा आया…मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था लोहे की तरह. नहीं बता रही हैं !”नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है, एक्चुअली मुझे नींद नहीं आ रही थी, मैं बोर हो रही थी, सोचा कि तुमसे बात कर लूँ !”ओह.

क्या लाल छेद था ! मैंने झट से उसपर अपनी जीभ रख दी, वो कसमसाने लगी।मैं उसके छेद पर अपनी जीभ फिरा रहा था, वो आ…ह. बाएं हाथ से मेरी चूची को मसलते हुए पूछा- अब कैसा लग रहा है? अगर तुम कहती हो तो मैं निकाल लेता हूँ नहीं तो जब कहोगी तभी आगे सजा दूंगा. नंगी सेल्फीमैं उसकी बुर को छोड़ फिर उसकी चूची को अपने सीने से दबाया और पूछा- अपनी चूत चुदवाओगी?मोनिका ने कहा- हाँ.

ये कमरे में रख देगी!मोहित थोड़ा घबरा गया, पर उसने ब्रा-पैन्टी को उठा कर सोनू को दे दिया।सोनू उसे रूम में रखने गई, तभी मैंने देखा मोहित सोनू की गाण्ड को घूरे जा रहा था।मैंने उससे पूछा- और सुना यार. गोली इसीलिए देता हूँ कि अगर बच्चा हो गया तो ज़्यादा मुसीबत हो जाएगी। आस-पड़ोस को क्या जबाव दूँगा। उसके बाद तू बच्चे में लग जाएगी.

वे कहती हैं कि दर्द होता है, पर मैं उनकी गाण्ड को खूब दबाता हूँ और चाट भी लेता हूँ।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी कहानी आपको, अगर कोई गलती हो गई हो तो माफ़ कर देना।कहानी का अगला भाग:जन्मदिन के तोहफे में भाभी की गाण्ड मारी. ’मैंने उससे कहा- मेरा निकलने वाला है।तो उसने कहा- मैं भी आने वाली हूँ।हम दोनों एक साथ अपना लावा निकालने की तैयारी में आ गए और मैंने उससे पूछा- मैं कहाँ निकालूँ?तो उसने कहा- अन्दर ही निकाल दो और कल मेरे लिए दवा भी लेते आना आआ और जोर स्सीईईए म्मम्मा. पूरा तना हुआ… काला ओर लण्ड का अगला भाग लाल सुर्ख हो रहा था।वो जल्दी से हमारे पास आया, और उसने ऋज़ू के चेहरे के पास अपना लण्ड कर दिया.

30 हो गये। अरूण 10 बजे तक वापस जाना चाहते थे। मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि उसको कैसे रोकूं। मैंने अरूण को बोला कि आप 10. साली।’मैं भी उनकी बातों से गर्म होकर उनके धक्कों का साथ देते हुए अपनी गाण्ड को ऊपर उठाए जा रही थी।फिर ‘रत्ना. जो एक औरत के पास रहता है।तो स्नेहा ने मुझे हँस कर ‘धत्त गंदे’ कहा।मैंने स्नेहा से कहा- आपका पति बड़ा ही भाग्यशाली है, जो उसको आप जैसी खूबसूरत पत्नी मिली।स्नेहा कहने लगी- भाग्यशाली मेरा पति जरूर है.

मैंने भी सोचा कि अमर गलत तो नहीं कह रहा है क्योंकि यह एक मीठा दर्द ही तो है जो उसे एहसास दिलाता है कि कोई उसे कितना प्यार करता है और मैं उसके सर पर हाथ फेरते हुए मुस्कुराने लगी.

प्रेषिका : सानिया सुलतानसम्पादक : इमरानमेरा नाम सानिया सुलतान है, मैं दिखने में बेहद खूबसूरत और सैक्सी हूँ, मेरा रंग गोरा, बदन भरा हुआ, बाल सुनहरे घने लंबे और आँखें भूरी हैं। मैं अपने रंग-रूप का बेहद ख्याल रखती हूँ और हमेशा सज-संवर कर टिपटॉप रहना पसंद है मुझे। मैंने होम-साइंस में एम. वो मेरे ऊपर चढ़ गई और लंड को अपनी चूत के छेद पर लगा के उस पर आराम से बैठने लगी, लंड धीरे धीरे उसकी चूत के अन्दर जा रहा था और शायद इससे उसको थोड़ी तकलीफ़ भी हो रही थी.

आपी ने कहा- क्या देख रहा है?फिर उन्होंने तौलिये से अपनी छाती को ढका और बोली- मैं फ़िसल गई हूँ और तू मुझे घूर रहा है? चल मुझे उठा!मैंने आपी को बोला- पहले अपने बदन को तो ढक लो!तब उन्होंने कहा- मुझे उठा तो पहले!मैंने आपी को बोला- अपने सीने पर हाथ रख लो ताकि तौलिया दुबारा न गिरे!मैंने उनकी कमर में हाथ डाल कर उन्हें उठाया तब मेरा लण्ड उनकी गांड में सैट गया. मम्मी के पूछने पर आंटी ने बताया कि वो उनकी बेटी है…पूजा!हमारी कहानी की कट्टो!पूजा 18 साल की कमसिन जवान लड़की थी, वो ‘बी सी ए’ प्रथम वर्ष में थी. कहानी का पिछला भाग:एक दूसरे में समाये-1हम दोनों के कमरे के लिए कॉमन बाथरूम था जिसका दरवाजा दोनों कमरों से ही था।अगले दिन सुबह वो चाय लेकर मेरे पास आई, मैं उस वक़्त सो रहा था.

मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और नंगा होकर उसके सामने लंड हिलाने लगा और उससे बोला- तुम्हें इसे चूसना पड़ेगा !वो बोली- मुझे आता तो नहीं लेकिन मैं कोशिश करुँगी. हम दोनों झटके खा-खा कर झड़ने लगे। थोड़ी देर बाद ये तूफ़ान शान्त हुआ और हम निढाल से होकर लेट गए।रानी- उफ़फ्फ़ कितनी गर्मी लग रही है. फिर दीदी बाथरूम में गई और फ्रेश होकर रसोई से दूध लेकर आई और आकर हमारे बीच लेटते हुए बोली- आज सारी रात मैं तुम लोगों को सोने नहीं दूँगी.

सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ मेरा नाम श्लोक है, मैं अहमदाबाद में रहता हूँ। मैं एक कॉल बॉय हूँ, मुझे सेक्स बहुत पसंद है, मैं बहुत गंदा सेक्स करता हूँ…लड़की को देख कर ही मुझे क्या नशा हो जाता है, मेरा हर तरह की लड़कियों से पाला पड़ा है।किसी को 8 इंच का लण्ड चाहिए तो किसी को 10 इंच का. अच्छा लग रहा है !दूध को मसलते हुए मैं लंड को हलके-हलके अन्दर-बाहर कर रहा था।अब गीता को भी मजा आ रहा था, उसने कहा- प्रेम.

सुनीता भाभी सेक्स वीडियो

!मैं उसके होंठों को चूसता रहा और साथ साथ उसके मम्मों को दबाता रहा। कुछ समय के बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो उसने नीचे से चूतड़ों को उचकाना शुरू किया और कहने लगी- सर. अक्षय शर्माहैलो दोस्तो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम !मेरा नाम अक्षय है, मैं गुजरात से हूँ और सूरत का रहने वाला हूँ। मैं 23 साल का एक जवान लड़का हूँ, मेरे लण्ड की नाप 6. उसके शरीर की सुगंध मुझे बेकरार किये जा रही थी और उसकी मादक आवाजों से मेरे रोम रोम में उत्तेजना भर रही थी…जैसे ही मैंने उसके एक स्तन को अपने मुँह में लिया, उसके मुँह से एक सिसकारी सी निकल गई.

Tumko na Bhool Paunga-3मैंने उसकी चूत पर अपना लौड़ा रखा और जोर से झटका मारा तो मेरा थोड़ा सा लौड़ा उसकी चूत में घुस गया।इतने में ही सीमा की आँखों में से आँसू निकलने लगे और वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी- अहह… अह्ह्ह्ह… जल्दी बाहर निकालो…मैं- कुछ नहीं होगा जान. वरना पागल हो जाऊँगी।मैं उनकी बात सुन कर फ़ौरन खड़ा हो गया और अपने लण्ड का सुपारा उनकी गाण्ड पर रगड़ने लगा।मैंने उनका चेहरा अपनी तरफ खींच कर उन्हें चुम्बन करना शुरू कर दिया, मैं पूरी तरह गर्म था।मैंने अपना लण्ड कुतिया जैसी अवस्था में हुई मामी की गाण्ड में पेल दिया।मामी भी मेरा साथ देने लगीं, उनकी दर्द भरी ‘आह्ह. नंगीवीडियोतभी उन्हें अपने नंगे होने का अहसास हुआ और फुर्ती से अपनी लुंगी उठा के पहन ली एवं मेरा गाउन मुझे पकड़ा दिया और बोले- यह क्या कर रही थी? जाओ कपड़े पहनो.

फ़िर आँखें बन्द करके लौड़ा मुँह में लेकर चूसने लगी।मैं उसकी पीठ पर हाथ फ़िरा रहा था।उसके चूसते-चूसते जब मैं झड़ने लगा.

हो सकता है साला अपना लण्ड सलोनी की पीठ से लगाकर मजा ले रहा हो…मैं दिमाग न लगाकर जल्दी से गाड़ी के पास पंहुचा. मैंने उसका ध्यान बंटाने के लिए उसके चूचे भी दबाने लगा तो वह आह… आह… ऊह… ऊह… जैसी सेक्सी आवाजें निकालने लगी.

मौका पाकर रीटा राजू से गलत-गलत सवाल पूछती, तो राजू के पसीने छूट जाते, जैसे– लड़के खड़े होकर पिशाब क्यूँ करते हैं?– क्या लड़कियाँ लड़कों का दैहिक शोषण नहीं कर सकती?– लड़के अपने दुधू क्यों नहीं छुपाते?– सुहागरात में लड़का लड़की क्या करते हैं?– ब्लयू फ़िल्म क्या होती है?– सैक्सी का क्या मतलब है?– क्या मैं सैक्सी हूँ?रीटा के उलटे-सीधे सवालों पर राजू बगलें झांकने लगता और रीटा को डाँट कर चुप करवा देता. !मैंने उन्हें मूव लगाने को कहा, वो लेट गईं तो मैंने मालिश करते-करते उनका पजामा फिर उतार दिया। लेकिन उनके मना करने पर हट गया। उन्होंने भी रात को आने का कहा और चली गईं।इस बार की चुदाई की कहानी अगली कहानी में लिखूँगा। आप सब के ईमेल का इन्तजार है।[emailprotected]. मैं भाभी को देखे जा रहा था।भाभी ने मेरी चोरी पकड़ ली और बोलीं- देवर जी क्या देख रहे हो आप?मैं डरता हुआ बोला- भाभी.

ताकि हमें एक साथ घुसते हुए कोई न देख सके।मैंने अपार्टमेन्ट पहुँचते ही तुरन्त गाड़ी लगाई और अमित के घर की ओर गया।मेरे लंड की किस्मत से अमित घर पर ही था।मैंने उसे जल्दी-जल्दी में बताया- तेरी भाभी आ रही है, तू शांत रहना.

! उस दिन से ही ये जानना चाहती हूँ कि बड़े लण्ड से कैसा लगता होगा।मैंने आंटी से पूछा- अंकल का कितना बड़ा है?तो उन्होंने कहा- सब कुल मिला कर 3. अब मैं उसको अपने पूरे जोश से चोदने लगा, वो भी अपनी गांड को पीछे की तरफ़ हिला हिला के मेरे हर एक धक्के का जवाब दे रही थी और अपनी गांड की गहराइयों में मेरे लंड का स्वागत कर रही थी. नारायण मेरा आने वाला है जल्दी डालो…!य्ह सुनते ही नारायण ने अपना करीब 11 इंच का लवड़ा का सुपारा जो करीब 3 इंच की गोलाई का एक टमाटर के बराबर रहा होगा, मधु की बुर में लगा दिया और ज़ोर से धक्का मार कर अन्दर कर दिया।मधु के सिसकारी निकल गई- ओइईई माआआ मर गई.

सनी लियोन सेक्सी बीएफ फिल्ममैंने उससे पूछा तो उसने कहा- जिंदगी के इन खूबसूरत पलों को अपनी डायरी में छुपाने की कोशिश कर रही हूँ ताकि जब तुम चले जाओ तो मैं इन्हें पढ़-पढ़ कर अपना सारा वक्त इन बीते दिनों में ही बिता सकूँ क्योंकि अब तुम्हारे बिना एक पल भी जीना मुश्किल है अर्पित… मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. तो अम्बिका बोली- हिम्मत हमारी भी नहीं है।मैंने कहा- तो फिर मेरे लंड को चूस कर उसका पानी छुड़ा दो ! फिर थोड़ी देर सो जाते हैं.

सेक्सी पिक्चर हिंदी वीडियो बीपी

।मैंने उसकी चूत में अपना सारा का सारा माल उढ़ेल दिया।माल छोड़ने के बाद 5 मिनट तक मैं उसके ऊपर ही लेटा।फिर उसने कहा- चलो. जब मैंने अपनी शर्ट उतार दी तो वो मुझे बेतहाशा चूमने लगी और कहने लगी- राज, मुझे प्यार करो! बहुत ज्यादा प्यार करो!फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी तो वो सिर्फ ब्लाऊज़ और पेटीकोट में रह गई. रिया एक उच्च-माध्यमिक स्कूल मैं 10+2 के अंतिम वर्ष में पढ़ती थी और प्रथम तिमाही परीक्षा में विज्ञान के विषये में उसके अंक कम आने के कारण वह बहुत ही चिंतित रहती थी.

उन्होंने मुझे अचानक से रोकते हुए कहा- यह सही नहीं है रिचर्ड !मैंने कहा- सॉरी मैडम !उन्होंने कहा- यह तुमने बिल्कुल ठीक नहीं किया है. आप तो द्रौपदी से कहीं ज़्यादा खूबसूरत हैं और मैंने अपनी प्यारी भाभी को आज तक जी भर के नंगी नहीं देखा।’‘झूट बोलना तो कोई तुझसे सीखे, कल तूने क्या किया था मेरे साथ? बाप रे. हेमंत खाना लेकर आ गया, हम दोनों हेमन्त के घर गए, दोनों बच्चे वहीं थे, सबने खाना खाया और बच्चों को सुला दिया.

मैंने कहा- वो तो ठीक है पर घर वाले मुझे रात को नहीं आने देंगे!उसने कहा- मैं कुछ नहीं जानती, तुम्हें आना है तो बस आना है, क्योंकि आज रात तुम्हारे लिये कुछ खास है. तुम सो जाओ।मुझे मामी अब थोड़ी सेक्सी टाइप लग रही थीं, मैंने मामी को उस नज़र से पहले कभी नहीं देखा था।मैंने कहा- मामी, आप इतनी रात को नीचे क्या जाओगी. रीना तेरा ये जिस्म तो किसी का भी घायल कर दे मगर मेरी जवानी बस मेरे राजकुमार को ही दूँगी… हाय-हाय कब आएगा मेरा राजकुमार… कब मेरे चूचों को दबाएगा… कब मेरी बुर को चाटेगा… उफ्फ.

भाभी जोर-जोर से हंसने लगी- समीर, दिन में तो मैंने अपनी लिप्सटिक से तुम्हारा मुँह लाल किया था लेकिन पूजा ने तो अपने काम रस से तुम्हारा मुँह एक दम से सफेद बना दिया है, शाबाश पूजा…मैं बाथरुम में गया और अपना मुँह अच्छी तरह साबुन से धोया, कुल्ला किया और वापस कमरे में गया. उ… आहः फिर मैंने एक हल्का धक्का दिया, मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया। मैं उसके मम्मे पीता रहा, कभी उनको दबाता रहा।उसके मुँह से बस आ.

मैंने पिंक ब्रा-पैंटी का एक सेट देखा जो असल में काफ़ी छोटा था, मुझे यकीन था की यह मेरे बॉडी को ज़रा भी ढक नहीं पाएगा.

राहुल ने जल्दी से आरोही को नंगा कर दिया और खुद भी नंगा हो गया। इतनी देर में वो तीनों भी नंगे हो गए थे।जूही- वाउ क्या बात है… कितने लौड़े मेरी नज़रों के सामने हैं…. बीएफ सेक्सी नागपुरमज़ा आएगा…मेरी बात सुनकर पापा हँसने लगे और मेरे ऊपर आ गए, मेरे होंठ चूसने लगे।मैं भी उनका साथ देने लगी. हनीप्रीत सेक्सी वीडियोकरीब आधे घंटे बाद हमने फिर सेक्स किया…उसके बाद मैं रोज़ ही अपनी रश्मि मैडम को चोदने लगा…मुझे नहीं पता कहानी लिखी कैसे जाती है, आपके सुझाव और सलाह आमंत्रित है, यह मेरी पहली कहानी है और आगे से इससे और बेहतर लिखने की कोशिश करूँगा. अंदर चेक करने के लिए तो हैलमेट पहना पड़ेगा… हा हा हा… हो हो हो…दोनों पागलों की तरह हँसते हुए सलोनी को रगड़ रहे थे.

मजा था री! तू भी चुदवा कर देख ना!अन्नू ने कहा- लेकिन दीदी तूने ही तो एक दिन कहा था कि चूत पर पहला हक पति का होता है?मोनिका- धत पगली! साली के चूत पर पहला हक तो जीजा का ही होता है न.

’ की आवाजें आने लगी।उसने मेरे गले में हाथ डाल दिए और मुझसे अपने संतरों को दबवाने लगी थी।बाद में मैं उसके पेट की ओर बढ़ा और उसके पेट पर अपनी जीभ फेरने लगा। वो मदहोश हो गई थी।मैंने उसकी पैन्टी खिसका दी। उसके गुलाबी चूत को अपनी जीभ से स्पर्श किया, उसके मुँह से एक लम्बी ‘आह’ निकल गई।मैंने उसकी चूत को जी भर कर चूसा, वो 5 मिनट से ज्यादा रुक न सकी और झड़ गई।क्या नमकीन स्वाद था उसके जूस का. मादरचोद पेलता क्यों नहीं?मेरी बात सुनकर भैया ने जोश में एक जोरदार धक्का दिया और उसका आधा लंड मेरी चूत चला गया।मैं दर्द के मारे छटपटाते हुए भैया से लंड को बाहर निकालने के लिए बोलने लगी तो भैया ने जोरदार चांटा मेरे गाल पर रसीद कर दिया और बोला- साली कुतिया, घंटे भर से चिल्ला रही थी डाल… डाल. मैंने कहा- मोनू बहुत अच्छा खेल रहा है, इसलिए मैं हार रहा हूँ, उसे क्या पता था कि मैं उसी की वजह से हार रहा हूँ.

अगर तुम उतार सको तो उतार लो।रणजीत ने अपनी हाथ आगे कर के बटनों को खोल दिया और उसके शरीर से सूट को अलग कर दिया।रानी ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी और काले रंग की पैन्टी थी क्योंकि रणजीत ने एक झटके में ही पज़ामा भी उतार दिया था।अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में ही रह गई थी।रानी- मुझे नहाना है. !मैं थोड़ी देर रुक गया। इसी बीच मैं उसके स्तन को सहलाता रहा। थोड़ी देर के बाद दर्द काफ़ी कम हो गया तो वो धीरे-धीरे लंड को अन्दर-बाहर करने को कहने लगी।मैंने धीरे-धीरे धक्के मारना चालू किए। उसे अब थोड़ा-थोड़ा मज़ा आने लगा।वो ‘ओइ. !अब भाभी को मैं रोज चोदने लगा और जब तक भाई आए हमने खूब मजे लिए।दोस्तो, कैसी लगी मेरे कहानी, अभी और किस्से भी हैं… बिल्कुल हकीकत… पर तभी लिखूंगा, जब आपका सहयोग मिलेगा।ईमेल जरूर करना ![emailprotected].

भाभी की चुदाई बफ

बीच में ही बोल देती हो।वो आगे बोलना चाह रही थी कि केबिन में दो पुरुष डॉक्टर्स आ गए और रश्मि के मुँह पर ताला लग गया।‘मुझे शरम आ रही है बोलने में… मैं जा रही हूँ।’नेहा- अरे इसमें शर्म की क्या बात है. और ज़ोर से और ज़ोर से उफ्फ आ उईई मई गई उई !रीना झड़ गई, पर बाबा अभी कहाँ झड़ने वाला था। वो तो बुर का भोसड़ा बनाने पे तुला हुआ था। चार-पाँच मिनट में रीना दो बार झड़ गई, पर बाबा तो लौड़े को पेलने में लगा हुआ था।रीना- आ आ. दोनों ने एक साथ मिलकर उसे चाटना चूसना शुरू किया, मेरा लंड थोड़ी देर में वापस खड़ा हो गया और चुदाई के लिए तैयार हो गया। मैंने कहा- अम्बिका तुम नीचे लेटो और रोशनी को अपने ऊपर लिटा लो.

आ जा मेरी चूत फाड़ दे…!वैसे भी वो गर्म हो चुकी थी। मैं सीधा उसके ऊपर चढ़ गया और उसकी चूत के मुँह पर लंड लगा दिया। धीरे-धीरे लंड को हिलाते हुए अन्दर डालने की कोशिश की, पर ऐसा लगता था, वो सील पैक है। लंड जा ही नहीं रहा था।उसने कहा- रूको.

!मैंने कहा- अगर तुम्हें मज़ा नहीं लेना है, तो बाथरूम में अपनी चूत में उंगली क्यूँ कर रही थी?उसने कहा- तुमने मुझे नहाते हुए भी देखा.

शाहरूख खानहाय दोस्तों, आप सभी अन्तर्वासना पढ़ने वालों को मेरा सलाम। मेरा नाम शाहरूख है मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ। यह मेरी पहली कहानी है, पहले मैं अपने बारे में बता देता हूँ। मैं बी. पहले तो उसने शर्मा कर नजरें नीचे कर लीं और फिर बनावटी गुस्सा दिखाते हुए आँखें तरेर कर बोली- शर्म नहीं आती. বাঙ্গালী ওপেন সেক্স ভিডিওउसने मेरी आँखों में देखा और मुस्कुरा कर चली गई।वो जाकर अपनी जगह पर बैठ गई।फिर मैंने उसे ध्यान से देखा.

आज से पहले मैंने ऐसा कभी महसूस नहीं किया था और ना ही कभी ऐसा कुछ किया ही था…मैंने उसे धन्यवाद दिया जीवन के ये यादगार लम्हे देने के लिए!फिर उसने जो बोला, सुन कर मेरे होश ही उड़ गए. फिर उन्होंने मेरी डोडियों को अपनी ऊँगलियों में दबा कर मसला, जिससे मैं गर्म होने लगी और मैं एक हाथ से अपनी चूत में खुजली एवं उंगली करने लगी. नमस्कार, मेरा नाम मकसूद है, उम्र 22 साल है। मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ।मैं आज मेरे जीवन की सत्य घटना बताने जा रहा हूँ।एक बार की बात है, तब मैं अपने गाँव में रहता था, हमारे घर के सामने एक शादीशुदा लड़की रहती थी.

इस दौरान चाची तीन बार झड़ गई थी तो उसकी हालत तो मुझसे भी खराब थी, उसकी आँखें नशीली हो गई थी, उसकी आँखों में एक अजीब सा नशा था, अब वो मुझे किस कर रही थी और मेरी छाती को भी चूम रही थी. मैंने कंडोम लाकर दे दिए, अगले दिन उसने बताया कि उसने अपनी बड़ी देसी भाभी को चोद दिया, जिसके पहले से एक बच्चा था.

रो मत, मैं बस यह कहना चाहता हूँ कि मैं तुझे बहुत प्यार करता हूँ और तुझे कोई पेरशानी नहीं होगी यहाँ पर… तू यहाँ खुश रह और अगर तूने मेरी बात नहीं मानी तो तुझे जो मैंने कहा है, मैं वो सब कर दूँगा और अताउल्ला से मैं खुद बात करूँगा और वो तुझे तलाक दे देगा, ना तू कहीं की रहेगी और ना तेरी दोनों कुंवारी बहनें.

कि मैं किसी के मम्मों को ऐसे चूस रहा हूँ।भाभी ने कहा- क्यों कॉलेज में किसी के नहीं चूसे क्या?मैंने कहा- नहीं!भाभी ने कहा- कोई बात नहीं मैं सिखा दूँगी आज सब. सम्पादक – इमरानअपने ख्यालों में खोया हुआ मैं ऑफिस जा रहा था…एक बहुत ही गर्म दिन की शुरुआत हुई थी और लण्ड इतनी चुदाई के बाद भी अकड़ा पड़ा था। इस साले को तो जितना माल मिल रहा था, उतना यह तंदरुस्त होता जा रहा था और जरा सी आहट मिलते ही खड़ा हुए जा रहा था।मैं यही सोच रहा था कि ऑफिस जाते ही सबसे पहले तो नीलू को ही पेलूँगा, भी यह कुछ देर शांत रहेगा।और फिर मुझे रोजी की मस्त चूत भी याद आ रही थी. उसके थोड़ी देर बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने पूरा जोर लगाते हुए उसके मुँह को अपने मुँह से बंद किया और एक तगड़ा झटका मारा और मेरा लंड मेरी वैदेही की चूत की जिल्ली फाड़ कर पूरा उसमें समा गया.

अँटी सेक्स विडिओ क्योंकि उनको पता था कि मैं डांस बहुत अच्छा करता हूँ और खास तौर पर राजस्थानी।मैं राजस्थानी गाने पर डांस करने लगा. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा सादर प्रणाम! मेरा नाम सोनू कुमार है, मैं 22 साल का सांवला रंग, मैं दिखने में मध्यम शरीर का हूँ। उस समय मैं दक्षिण भारत में पढ़ता था और अपने घर बिहार छुट्टियों में आया हुआ था.

भाभी ने कहा- तुम्हारे भतीजे को भेजूँ पहनाने के लिए या पहन रही हो?मैं बिल्कुल नंगी थी और आदिल ने मुझे देखा भी था, मैंने कहा- मैं तैयार होती हूँ. हालांकि मैं शर्म से मरी जा रही थी पर फिर भी मेरी चूत गीली होने को बेताब होने लगी थी, मैंने सोनिया से कहा- मुझे बाथरूम जाना है!सोनिया बोली- क्यों नहीं! हम सब तुझे पेशाब करते हुए देखेंगे. अब मैं बिल्कुल अकेला हो गया हूँ।दोस्तो आप लोलों को मेरी कहानी कैसी लगी। मुझे ज़रूर मेल करें, मेरी ईमेल आईडी है।[emailprotected].

एक्स एक्स एक्स वीडियो देसी हिंदी

5 इन्च के शेर के साथ उसके सामने था।वो मेरा लण्ड पकड़ कर ऊपर-नीचे कर रही थी और मज़े ले रही थी।मैंने उससे कहा- डर तो नहीं लग रहा है?तो बोली- जब प्यार किया तो डरना क्या. भूली नहीं जाता? कई गाड़ी थी, केवू, केटला वगे आवशो?’ (वो सब ठीक है पर आप कब आओगे? आने से पहले मुझे बता देना. जिसने तुम्हें इतना गर्म कर दिया?’उसने भी अन्दर झाँका, अन्दर का नज़ारा देख उसके रंग भी उड़ने लगे।‘ओह माई गॉड.

बहुतेरी बार रगड़म रगड़ाई और ठरक के मजे से रीटा की भी आँखें मुंद सी जाती थी और सिसकारियाँ भी निकल जाती थी. मैं आपका… ?मामी ने मेरे होंठों को अपने मुँह में लिया था… और थोड़ी देर के बाद बोली- मैं 38 की हूँ… तू 18 का… ये यूके है.

शुरू शुरू में रीटा को मोनिका की गुन्डी हरकत पर बहुत गुस्सा आया, पर बाद में जब शातिर मोनिका ने रीटा की टांगों को चौड़ा कर जबरदस्ती रीटा की चूत को आम की गुठली की तरह चूसा तो रीटा मोमबत्ती सी पिघलती चली गई.

मेरे साथ वही करना। मेरा दिल तो अब भी सेक्स करने को कर रहा है।रमेश बोला- बस कुछ दिन की बात है, मैं तुम्हारी चूत की आग को ठंडी कर दूँगा।रानी ने लम्बी आह भरी- अब तो एक-एक पल काटना मुश्किल हो रहा है।रमेश ने कहा- रानी, तुमने कभी लंड चूत में तो नहीं लिया?तो रानी ने कहा- नहीं. नहीं तो तेरी बीवी को चोद दूँगा!’वो पति को बालों से पकड़ लंड चुसवा रहा था।‘जानू, उसके बारे में बाद में सोचना… अपनी इस रंडी की तरफ ध्यान दे. रीटा ने राजू के अकड़े लण्ड को जोर से दबा कर छोड़ दिया राजू के लण्ड की सख्ती भांप कर रीटा की सांसें भी तेज़ हो बेतरतीब हो गई.

दोपहर का खाना ख़ाने के बाद जब मुन्ना सो गया तो मैं दीदी के कमरे में पहुँच गया, देखा दीदी गहरी नींद में सो रही है. मैंने उसको देखा मेरा हथियार तो फिर खड़ा हो गया।मैंने बोला- आप बहुत सुन्दर लग रही हो!पहली बार मैंने उसे ऐसी बात कही थी, मेरी गाण्ड फट रही थी, वो मुस्कुरा दी, मेरी हिम्मत बढ़ी।मैं बोला- आप बाल खुले रखा करो, अच्छे लगते हैं!वो और खुश हुई, पर जैसा मैं सोच रहा था कि मैं लाइन मार रहा हूँ और वो ले रही है, ऐसा कुछ नहीं था।लड़कियों को कोई नहीं जान सकता. मैंने चूत पर हाथ फिराया, तो मेरे हाथ में चिकना रस आया, मैंने भाभी से पूछा- आप चुदासी हो रही हो?वो बोलीं- बहुत, आज तो प्यारे देवर जी, मेरी जी भर के चुदाई कर दो.

दीदी फिर बड़े कामुक अंदाज में इठला कर बोली- आप मुझे प्यार नहीं करते, बस जब ठरक होती है तो चोदने आ जाते हो…वो बोला- नहीं मेरी जान, तुम मेरी जान हो, ऐसा मत सोचो.

सेक्सी इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश बीएफ: फिर मैंने उसे जवान घोड़ी बनाकर चोदा और बोला- तू तो मस्त रंडी है रे ! पता नहीं तेरा पति तुझे क्यों नहीं चोदता…वो बोली- एक आप ही मेरा दर्द समझते हैं. क्योंकि मैं अभी भी कभी कभार बास्केटबाल खेल लेती हूँ, और रोज सवेरे दोड़ती हूँ, इसलिए मैंने भी कहा- मैं तुम्हें दौड़ में हरा सकती हूँ.

! बहुत काम है। और ड्राइंग रूम में चले गए।मैंने भी अपने कपड़े उठाए, अपनी साड़ी जो ड्राइंग रूम में पड़ी थी, उसे उठाया और अपने रूम में आकर कपड़े पहन लिए। गुसलखाने जाकर फ्रेश हुई और फिर अपने घर के काम में लग गई।सिलसिला चलता रहा !आपके विचारों का स्वागत है।आप मुझसे फेसबुक पर भी जुड़ सकते हैं।https://www. खूब मज़ा लिया।इतने में उसने दो बार पानी छोड़ दिया था और अब मैं भी झड़ने वाला था।उसने पानी अन्दर छोड़ने के लिए मना किया. अगले दिन से रोजाना सुबह सुबह छह बजे मेरे फ़ोन पर उसके शुभ-प्रभात के और रात को दस बजे शुभ-रात्रि के सन्देश आने लगे, मैं भी उसे उन संदेशों क उत्तर शुभ-प्रभात तथा शुभ-रात्ति लिख कर भेज देता.

इससे आपकी कुछ सेवा करने दीजिये पहले !’ मैंने चाची के मम्मे जोर जोर से दबाते हुए कहा।‘अच्छा कड़क है रे इमरान तेरा, लगता है जैसे वो रोटी बनाने का छोटा बेलन है… हाँ ऐसे ही दबा… मसल जोर से… और जरा ऐसे खींच ना इनको… बहुत सनसना रही हैं ये !’ चाची ने कहा और मेरी उंगलियाँ अपने निप्पलों पर लगाकर दबा कर खींचने लगीं।मैं चाची के निप्पल मसलता हुआ बोला- चाची.

!जैसे कोई लकड़ी के डंडे पे रबर चढ़ा दी हो। मैं 1-2 मिनट उससे खेलती रही तो संयम बोला- इसे मुँह में लेकर चूस. ’‘अरे मेरी बुलबुल ! तुम्हें मरने कौन साला देगा। एक बार गांड मरवा लो जन्नत का मज़ा आ जाएगा तुम्हें भी। सच कहता हूँ तुम्हारी कसी हुई कुंवारी गांड के लिए तो मैं मरने के बाद ही कब्र से उठ कर आ जाऊँगा. ’ मैंने मुस्कुराते हुए कहा।वो वाकयी में बेलन लेकर झूठ-मूठ मारने के लिए मेरे पीछे आई, मैं दूसरे कमरे में भागा।उसने एक बार बेलन मारा भी।‘आआहहह.