बीएफ भाभी देवर का

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी पुणे

तस्वीर का शीर्षक ,

नई वाली बीएफ दिखाओ: बीएफ भाभी देवर का, मेरे हाथ उनके सिर पर चला गया और मैं उन्हें अपने बूब्स पर दबा रही थी.

भोजपुरी बीएफ सेक्सी सुहागरात

तो उसने झट से टॉप निकाल दिया और चुची मेरे मुंह में दे दी, मैंने दोनों चुची बारी बारी चूसी, बहुत मजा आया, सुजाता की दोनों चुची दूध से भरी हुई थी, खाली कर दी मैंने!मेरी बीवी की सहेली बहुत गर्म हो चुकी थी लेकिन टाईम नहीं था, मैंने उसको बोला- तुम चाय बनाओ, मैं तब तक नहा लेता हूँ. फुल एचडी की सेक्सी बीएफअब आपने हिम्मत बंधाई है तो जल्दी ही किसी बहाने मम्मी के पास चली जाऊँगी फिर लौट के नहीं आना है इस घर में.

‘वो वो क्या स्नेहा… साफ़ साफ़ कहो न क्या बात है?’‘अंकल जी, वो मेरे मुहाँसे तो ठीक ही नहीं हो रहे!’ वो उदास स्वर में बोली. बीएफ बीएफ 2021जी भर के करूँगी लंड की चुसाई तो मैं बड़े प्यार से करती हूँ।संजय- अच्छा तो कल झूठ क्यों बोली थी कि तू चुदी हुई नहीं है?फ्लॉरा- अरे यार पहली मुलाकात में कैसे हाँ कहती.

’ इतना कह कर वो वहाँ से चला गया।तो दोस्तो, गांड चुदाई की कहानी कैसी लगी.बीएफ भाभी देवर का: हाय कितना अन्दर तक चला गया है।मैंने उसके दूध दबाते हुए कहा- मेरी रानी अब अन्दर चला गया है.

वो दोबारा मोना के पास आया और उसके मम्मों को दबाने लगा।राजू- मुझे आपके ये खरबूजे भी पसन्द हैं और ये गर्दन और पीछे आपकी भरी हुई गांड और.मैंने चाटना छोड़ दिया तो कल्पना ने नीचे से अपना कूल्हा उठा कर मेरे मुंह पर अपनी चूत टिकाई और मेरी गर्दन पर जोर देकर मेरे मुंह को चूत में दबा दिया.

हरियाणवी देसी सेक्सी बीएफ - बीएफ भाभी देवर का

मुझे लगा वो सिर्फ इसलिए देखती है कि मैं बिहार से आया हूँ, कैसे क्या बोलता हूँ क्या करता हूँ… वगैरह.वो फिर भी मुझे शांत करने के लिए झटको पे झटके मारता ही रहे!एक मिनट के भीतर मेरा बदन भी टूटने लगा और मैंने जीजू को जोर से अपनी बांहों में दबोच लिया.

भाभी ने भी मजे से मेरा लंड चूस-चूस कर उसका पानी निकाला।उस रात मैंने भाभी को एक बार और चोदा।अगली सुबह जब भाभी उठीं तो रोने में लगी हुई थीं- मुझसे ये पाप हो गया. बीएफ भाभी देवर का वो थोड़ा झिझक के बोली- नहीं!मैंने भी गुस्से में कहा- आपकी मर्जी है… दुबई में तो ये सब चलता है, आखिर आपकी प्रोब्लम सॉल्व ऐसे ही होगी.

पहले तो उसने इन्कार में सिर हिलाया लेकिन बाद में शर्माते हुए अपने दोनों हाथ अपनी चूत पर रखे और हौले से पट खोल दिए.

बीएफ भाभी देवर का?

आंटी- झूठे, तुमने कल जब फोन किया तो मैं यहीं पर थी, जब मेरा बेटा तुमसे बात कर रहा था. मैंने अब उनके चूचों को मुँह में लिया और अपने लंड को तेज़ी से अन्दर बाहर करने लगा. मैंने अभी का सारा काम निपटा लिया है और अब मैं जाकर दोनों को ले आती हूँ.

मगर हम उसके साथ सख्ती करेंगे तो शायद वो हमसे झूठ भी बोलने लगे।हेमा- हाँ यही तो. फिर मैंने उसे बाहों में उठा लिया और बेडरूम में लेजाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर मैं चढ़ गया और उसके होंठ अपने होठों की गिरफ्त में ले लिये. मैंने आंटी से वादा किया और आज मैंने आप सबको बता कर अपना वादा तोड़ दिया.

पर उसने सुनील को मेरे बारे में कुछ नहीं बताया।जब रात को 9 बजे खाना खा कर मॉम-डैड ने दूध पिया. पता नहीं उसे क्या हुआ, उसने मुझे धक्का मारा और मेरा लंड चूसने लगी, बोली- मुझे अपनी फुद्दी का स्वाद देखना है!मेरा सारा लंड चाट लिया उसने!मैंने कहा- कैसा लगा स्वाद?तो वो बोली- ह्म्‍म्म्म यम्मम्मय्ययई!अब वो मेरे ऊपर आ गई थी. अब उसकी चूत उसके कामरस से और मेरे वीर्य से भरकर दोनों का माल मिलकर मेरी जांघो पर बहने लगा.

पर हॉस्टल में इतनी आसानी से लंड या छेद नहीं मिलता था।हमारी क्लास में एक लड़का था रामू. अब आप लोग अंदाजा लगा सकते हो कि यह कितनी उत्तेजक क्लिप थी और इसे देखने के बाद स्नेहा की क्या हालत होगी, उसकी चूत से रस की नदिया बहना तो तय था.

राजे ने मेरे चूचे देख के एक ज़ोर की किलकारी मारी- जूसी रानी, जूसी रानी, देख बहनचोद अपनी बहन के चूचे… हैं न दिल को लुभाने वाले! हरामज़ादी का साइज 42 डी से कम न होगा… जूसी रानी, तुम दोनों बहनों ने दुनिया के बेहतरीन चूचे ले लिए भगवान से… दोनों के दोनों बदजात रंडियाँ… छू के देखता हूँ.

मेरी बनियान को उतार दिया और अपने मम्मों को मेरी छाती से रगड़ने लगी.

मैंने उनके बालों को नोचना चालू कर दिया क्योंकि वो सुख मेरे लिए भी असीम असह्य सा था. मुझे अभी भी थोड़ा डर था कि कहीं कोई सी बहन जाग न जाये इसलिए मैं थोड़ा कतरा रहा था ऐसा करने में… पर चूत रस की प्यास तो मेरे लंड को बहुत जोर से लगी थी इसलिए वो अपने विकराल रूप में आ चुका था. दोस्तो, मैं आप सभी के सामने इस चुदाई स्टोरी के जरिये अपनी सेक्स लाइफ खुली कर रहा हूँ.

वो हाथ में तीन चार रोटी लेकर आई और एकदम से हमारी थाली में डालते हुए बोली- जीजा सा, इतनी जल्दी भी क्या है, पेट भर गया क्या? दोनों साथ में बैठे हो. उसमें बैठ गए। मैडम बिजली घर मुख्यालय के पास रूकीं वहां उनका छोटा भाई रहता था। उसने ही दरवाजा खोला हम दोनों उतर गए।भाई मेरा हमउम्र ही था, वो बिजली विभाग में ही था। उसने नाश्ता कराया। वहां से चल कर मैं इन्दर गंज चौराहे पर आ गया। वर्कशॉप बारह बजे से थी. उसको रोज नहीं तो हफ्ते में एक बार चुत चाहिए ही चाहिए। अब अगर उसको ना मिले तो वो चिड़चिड़ा हो जाता है और अपने ही नियम कायदे चलाने लगता है। तेरे पापा के साथ भी शायद यही हो रहा होगा.

वो फिर कभी बताऊंगा।मेरी हिंदी चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, ज़रूर बताएं।[emailprotected].

कुछ देर बाद हम मिशनरी स्टाइल में आ गये और मैं काफ़ी तेज झटके मारने लगा. लड़की ने लाल रंग का सूट सलवार पहना हुआ और सिर पर चुन्नी ओढ़ रखी थी जबकि लड़के ने सफेद रंग जींस के कपड़े वाली टाइट पैंट और ऊपर गहरे महरून रंग की शर्ट डाली हुई थी. इस सेक्सी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि पड़ोसी राजू ने मोना को उसके चचिया ससुर का लंड चूसते देख लिया था.

मैंने भी अपने लंड को उसकी चूत पर घिसना शुरू किया तो मानसी ने अपनी चूत को उठाकर मेरे लंड का स्वागत किया. मैं खूब सजी-धजी थी कि कोई मुझे देखेगा और मुझे चोदना चाहेगा पर जो मुझे घूर रहे थे वो मुझे पसंद नहीं आ रहे थे. !मोना- काका मेरी जिंदगी में ऐसा मज़ा कभी नहीं आया, आपका लंड सच में बहुत तगड़ा है। देखो इसने मेरी चुत का क्या हाल किया है।काका- अरे रानी अभी कहाँ.

साहिल भी उसकी चूत चुसाई कर उसका लंड रेशमा की चूत में पेलने के लिए तैयार था.

राजे के लंड पर बैठी जूसी के दोनों पांव फर्श पर यूँ टिके हुए थे जैसे बाइक पर बैठ के पांव ज़मीन पर टिका के बैलेंस बढ़िया हो जाता है. मैंने कहा- भाभी, आपके जैसी असंतुष्ट महिलाओं के लिये भगवान ने मुझे भेजा है!और वो ख़ुश होकर मुझसे लिपट गई, फिर वो बोली- चलो बेड पे!मैं उनके पीछे चल दिया, वहाँ पहुँचते ही मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिये.

बीएफ भाभी देवर का फिर वो बोली- चल अब तेरी बारी, ले मज़ा जितना भी लेना है!मैंने अपने लंड पे थूक लगाया, उसकी फुद्दी पे अपना लंड रखा और हल्का सा झटका मारा…‘सस्स्सिईई ईईईईईई ईईईई…’ इस बार आवाज़ मेरे मुंह से निकली. मुझे तो सारे लोग पसंद हैं।आसिफ़- वैसे तुझे देखकर लगता नहीं कि तेरी कोई गर्लफ्रेंड भी होगी.

बीएफ भाभी देवर का मॉम मैं 5 को आराम से नहीं तो थोड़ी मेहनत करके हरा सकती हूँ। वैसे अभी तक 5 का मुकाबला किया नहीं. माला उसके पीछे दरवाज़ा बंद करने के लिए गई तब तक मैं बालक को गोदी में उठाये हुए बैडरूम में चला गया.

बहुत समय है हमारे पास… आह्ह…’कभी एक चूसता तो कभी दूसरी चुची चूसता, कभी एक हाथ से निप्पल मसल देता तो अंजलि कराह उठती, उफ्फ्फ आअह्ह्ह करने लगती…चूस चूस कर लाल कर दी थी अंजलि की चुची… कई जगह निशान से पड़ गए थे.

wwwwxxxxyyyyzzzz डाउनलोड pagalworld

ये मेरी भाभी की चुदाई की कहानी है, कैसी लगी, मुझे बताना![emailprotected]. उसको किस कर दो।ऐसे ही बहुत से टास्क संजय ने बताए, जिनको सुनकर सुमन दोबारा मायूस हो गई क्योंकि इनमें से एक भी करने की हिम्मत उसमें नहीं थी।सुमन- सॉरी जी आप मुझे मार लो मगर मुझसे ये सब नहीं हो पाएगा, मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ।टीना- आह. स्कूल गर्ल सेक्स दो चूत एक साथ-1अभी तक आपने पढ़ा कि दो स्कूल गर्ल सेक्स में काफी खुली हुई थी, मेरी दोस्त बन चुकी थी, आपस में लेस्बीयन सेक्स करती थी, लंड गांड चूत आदि शब्दों का प्रयोग सबके सामने खुले आम करती थी.

एक दिन रीना अचानक से काली स्कर्ट और हल्के गुलाबी टॉप में आई, एकदम हॉट सी हीरोइन लग रही थी, मानो सेक्स से भरा बम!मैंने पूछा- आज स्कर्ट टॉप? क्या बात है?तो उसने मुझे बताया कि आज उसका जन्म दिन है. शाम का समय हो रहा था और लंबे सफर के बाद मुझे काफी थकान महसूस हो रही थी, मैंने बस अड्डे पर बने एक स्टॉल पर जाकर चाय बनवा ली. तूने ऐसा क्या किया कि तेरे चूचे इतने बड़े-बड़े हो गए।मैंने कहा- क्या करूँ, रोज अपने हाथों से इनको खूब दबाया है.

मैं माला से मिलने के लिए बहुत आतुर था इसलिए अम्मा को काम करते देख कर मुझे मन ही मन उस पर गुस्सा आ रहा था की वह माला को लेने के लिए क्यों नहीं जा रही थी.

रयान ने उसे फिर समझाया कि अगर किसी से दोस्ती करके मन बहलता है तो थोड़ी बहुत बेईमानी में कुछ हर्ज़ नहीं!कह कर वो हंस पड़ा. इसलिए पूछ रहा हूँ।तो वो हंस कर बोली- लाइन मार रहे हो?मैंने कहा- मेरा नाम अमर है आपसे बात करके अच्छा लगा।उसने अपना नाम यासमीन बताया।फिर मैंने पूछा- अगर आप को ऐतराज़ ना हो तो मैं आपको फोन कर लिया करूँ?तो उसने कहा- क्या करोगे बात करके?मैंने कहा- आपसे दोस्ती करना चाहता हूँ।उसने कहा- मैं शादीशुदा हूँ।मैंने कहा- कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता. मैंने अपने फ्रेंड से मिल कर उसकी पूरी हिस्ट्री सर्च कर ली कि ये कब क्या करती है.

जब उनके निप्पल मेरे दो उँगलियों के बीच दबते तो वो आआआह्हह कर के चीख उठती थी. ’ गांड मारने की आवाज आ रही थी।मैंने आंखें बन्द कर लीं और अपना सर टेबिल पर टिका दिया। उसके हर धक्के पर मेरे भी मुँह से आवाज निकलती। ‘आ. काश मालिश के बहाने कुछ और भी हो जाए और मेरे लंड कोभाभी की चुतको चोदने का मौका मिल जाए.

कल से ये मुझे रोज अपनी फुद्दी में चाहिए।इतना कहते ही उसने मेरी फ्रॉक को पेट तक ऊपर उठाया और मेर ऊपर चढ़ गया।अब उसने एक और बार अपना लंड मेरी फुद्दी के मुँह पर रख कर एक झटके में लंड अन्दर पेल दिया। झटके के समय कुछ दर्द हुआ, पर अबकी बार फुद्दी खुल जाने के कारण मेरा दर्द बहुत कम हो चुका था।अब मैं भी उससे बोलने लगी- तेजी से करो. मैंने देखा कि उसके दोनों स्तनों का अकार पहले से काफी अधिक बढ़ गया था जिस कारण वे बहुत ही अधिक सुन्दर एवम् आकर्षक लग रहे थे.

पहले उसे वो टाईट छेद को धीरे से सहलाया और फिर एक हल्के झटके से उंगली अंदर डाली. अब काजल ने मुझे नंगा करना शुरू किया और पूरे बदन को गौर से निहारने लगी. मैं ना चीखने की हालत में था ना कुछ और करने की… मैंने खुद को बचाने के लिए उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ झटके से ठूँस दी जिससे वो तड़पी और उसने मेरे टट्टे को आज़ाद किया.

उसके बाद हम दोनों आपस में बातें करने लगीं और उसके बाद लेस्बियन सेक्स करके सो गईं.

सलोनी के कहे मैंने सलोनी को नीचे उतारा, वो सोफे पर बैठ गई और अपनी चूत को सहलाने लगी और जोर-जोर से आह-ओह करने लगी- आओ रवीश, आओ मेरी चूत का रस निकल रहा है!मैंने देखा, सफेद रंग का गाढ़ा सा पदार्थ बूंद रूप में टपक रहा था. मैंने उसकी जिप की तरफ देखा तो उसका लंड भी अब जाग चुका था और वो उसको अपने हाथ से सहला रहा था. सुमन अब बेकाबू हो गई थी, वो लंड चूसने के साथ-साथ अपनी चुत भी रगड़ रही थी.

मैंने कहा- मगर वो तो मुझसे भी बहुत बड़ी है, मैं तो अभी 21 का हूँ, और ये तो 40 के आस पास होगी. ’मैं भाभी को दे दनादन चोद रहा था और भाभी भी नीचे से गांड उठा कर मेरे लंड से युद्ध कर रही थीं.

उसके बाद के दो दिन और दो रातें वो मुझे हर तरह से यूज़ करता रहा, मैंने भी उसका पूरा साथ दिया. पापा जो रात-रात भर जागते रहते हैं।लेकिन यह तय हो गया था कि मिल कर चुदाई करनी है, तो अब हम दोनों मौके की तलाश में रहने लगे। जब भी थोड़ा सा भी मौका मिलता तो तुरंत चूमना शुरू हो जाता। मैं उसके भरे हुए मम्मों को खूब मसलता। पूरे 32 इंच के चूचे थे उसके. कुछ देर बाद वो लड़की भी चली गई, मैं और चिंटू दोनों यही सोचते रहे कि उसे हमारे बारे में पता कैसे चला?जब रात में मैं घर पहुंचा तो मैंने तुरन्त मेरी ईमेल चेक की, उसमें उस लड़की का फिर से मैसेज था, मैंने उससे पूछा कि उसे हमारे बारे में कैसे पता चला तो उसने बताने से साफ मना कर दिया.

reena सेक्सी वीडियो

अच्छा लग रहा है।आंटी की गांड मारने के बाद बीस मिनट आराम करने के बाद अंकल अपना लंड हिलाते हुए आए और फिर से आंटी की चुदाई करने के लिए कहने लगे।मैंने आंटी को कहा- अब हम दोनों मिलकर एक साथ लंड पेल कर आपकी चुदाई करना चाहते हैं।वो बोलीं- वो कैसे?मैंने कहा- अंकल तुम नीचे लेट जाओ।अंकल नीचे लेट गए और मैंने आंटी को बोला- आप अपनी चुत में अंकल का लंड घुसवा लो।आंटी ने भी वही किया.

इसके बाद तेरी गांड भी मार दूंगा।भाभी रेडी हो गईं।इसके बाद मैंने भाभी की गांड भी मारी। अब भाभी बहुत खुश हो गई थीं।भाभी मेरे लंड को चूमते हुए बोलीं- मेरी इस टाइप की चुदाई कभी नहीं हुई थी रोमी. सुमन अब बेकाबू हो गई थी, वो लंड चूसने के साथ-साथ अपनी चुत भी रगड़ रही थी. उनकी गर्दन से होते हुए उनके मम्मों को चूमा और फिर धीरे-धीरे नीचे पेट पर आ गया। पेट से होते हुए उनकी जाँघों पर पहुँच गया।मैंने उनके चिकनी टांगों को पूरी तरह से किस किया। मेरे इस किस के कारण भाभी बहुत उत्तेजित हो गई थीं और बोल रही थीं- और मत तड़पाओ.

पूरे रूम में उसकी सिसकारी की आवाज़ गूँज रही थी और हम पूरा मजा लेकर चुदाई कर रहे थे. शॉर्ट्स भी निकाल दी और पूरा नंगा हो गया। मेरी चुची देखकर रमीज़ पागल हो गया. नौकर मलकिन का बीएफकुछ देर बाद आंटी ने कहा- अब नहीं रुका जा रहा!और वो मुझे नीचे लिटाकर मेरे लंड पर बैठ कर कूदने लगी, मैं उनकी चुची दबाता, कभी उनके निप्पल चूसता, आंटी भी मुझे स्मूच कर रही थी.

मैं भी आनन्द में मग्न होकर चुम्मियों के साथ साथ प्यार से अपना नाम पुकारे जाने का मज़ा लूटती रही. अब कोमल फिर से हमारे बीच सैंडविच बन के चुदने लगी और भद्दी गालियां देने लगी.

और इस वजह से 5 मिनट में ही मैं झड़ गया। अब भाभी पूरी पागल हो चुकी थीं।मैं उठा और भाभी के 34 साइज़ के मम्मों को चूसने लगा। मैं उनके निप्पलों को चूसे जा रहा था और वो मस्ती भरी आवाजों से मेरा लंड खड़ा करने में लगी थीं।भाभी- आआअहह मोहित. जल्दी जल्दी मैंने कपड़े पहने फिर अपने घर आने लगा तो वो बोली- जरा रुक ना… आज तूने मुझे इतना चोदा और मेरी चूची रगड़ा कि मेरी चूची मेरी ब्रा में नहीं आ रही हैं, ज़रा पीछे से हुक लगा दो!मैंने उसकी हुक लगाई और उसके होंटों पे एक पप्पी ली तो उसने कहा- अब मत ले पप्पी… नहीं तो तुझे यहाँ और रुकना पड़ेगा. उनके भरे हुए चूतड़ों के कारण उठी हुए गांड और मदमस्त भरी हुई चूचियाँ… गहरी नाभि, नंगा पेट देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था.

आप अपने बॉस कीबीवी की चुदाईपर विचार मुझे जरूर लिखे![emailprotected]. रात के 10:30 बजे थे कि मेरे फ़ोन की घण्टी बजी।मैंने फोन उठाया- हलो!‘मेमसाब सो गई क्या, दरवाजा खोलिये!’अब यह कौन है? यही सोच रहे हैं ना, शहर के फ्लैट में क्या गुल खिल रहा है।यह बात पड़ोसियों को भी नहीं पता चलती, लेकिन कोई होता है जिसे सब पता होता कि किसके यहाँ क्या हो रहा है, वो होता अपार्टमेंट का सेक्युरिटी गार्ड!मेरी चुत तो चुलबुला उठी, मैं सोचने लगी क्या करूँ. मैंने एक दिन ये बात गीता से कही वो बोली- तू चिंता मत कर, मैं करती हूँ कुछ!चंद दिनों बाद गीता मुझे एक फ्लैट में लेकर गई.

अब उसका चेहरा भी सामान्य हो गया था और उसकी आवाज़ में कम्पन भी नहीं था.

वो तो पागल सी हो गई और अपने हाथ से मेरी उंगली अपनी चूत में देने लगी. शायद मेरे सोने के बाद उनमें से किसी के टॉयलेट जाने के कारण उनकी जगह आपस में बदल गई थी.

उसे अपने लंड से चोदने की लालसा ने मुझे एक बार झड़ने के बाद भी उतनी ही थी।जब उसने मुझे बाथरूम आने का इशारा किया तो मैं गदगद हो गया. वो सिसकारियां लेने लगीं।अब मेरे अन्दर का शैतान भी जाग गया था और मैं भूल गया कि वो कौन हैं और क्या हैं, मैंने आंटी की पैंटी को अपने हाथों से पकड़ा और फाड़ दिया, फिर उनकी चुत को ज़ोर-ज़ोर की चूसने लगा। कुछ देर बाद झड़ गईं. उसके शरीर की तपन मुझमें गजब की मस्ती भरने लगी और मैंने उसकी गर्दन के पिछले भाग पर अपने होंठ जमा दिए और वहाँ चूमने लगा.

लेकिन भाभी एक सीधी लड़की थीं। कभी-कभी जब वो मेरे बगल से जाती थीं तो मैं उनको टच भी कर लेता। परंतु वो बहुत शरीफ थीं. मैंने उसको ये ना दिखते हुए फिर से अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिए पर इस बार मैं थोड़ा घूम गया जिससे हम तकरीबन 69 अवस्था में आ गए. तभी एक पीछे से मेरी चूत को चाटने लगा और दूसरा मेरे बूब्स को पीने लगा.

बीएफ भाभी देवर का पति ने मेरी चुत चार दोस्तों से चुदवा दी-1आपने अब तक की मेरी पोर्न स्टोरी इन हिंदी में पढ़ा था कि मेरे पति अपने चार जवान दोस्तों को लेकर घर आ गए। सभी के साथ दारू पीने का प्रोग्राम शुरू होने लगा था।अब आगे. मैडम बोली- अच्छा रुक, मैं अभी तुझे बताती हूँ!और वो अब मेरा लंड पकड़ कर ज़ोर से ज़ोर मसलने लगी, मैं ऑश उफ्फ्फ बाप रे मैडम करने लगा.

অনলি সেক্স

बेंच कहना गलत होगा, असल में उसने दो संदूकों को लम्बाई में जोड़ के एक लम्बा सा बेंच बना लिया है और उसके ऊपर गद्दे व सुन्दर सी चादर बिछा के उसको मस्त लव सीट बना लिया है. अब हम दोनों लड़कियाँ सिसकारी ले रही थीं- आअह्ह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उम्म अम्म्म स्सी आह्ह्ह आहह… चोदो और चोदो. मैं बोला- आप शादीशुदा हो?वो बोली- हाँ… पर अब हम साथ नहीं रहते, शादी के कुछ दिन के बाद ही हमारा तलाक़ हो गया था!मैंने इस बारे में ज़्यादा ना पूछते हुए सीधा बोला- आप लगटी नहीं हो शादीशुदा… मैंने भी आपको सिंगल ही समझा था.

फिर एक दो दिन वो नहीं आई तो मुझे लगने लगा कि शायद अब वो नहीं आएगी, लेकिन फिर भी मैं उसी टाइम पर बस स्टैंड चला जाता था. बाईस साल से राजे से चुद रही हूँ मगर अब भी उस पर मेरा कोई हक़ नहीं, जब मैं उसके घर जाती हूँ तो पहले मेरी सगी बहन जूसी की चुदाई होती है, फिर मैं जूसी के सो जाने का इंतज़ार करती हूँ. बीएफ सेक्सी वीडियो बांग्लादेशफिर उनके राईट वाले चूचे को खूब चूसा और चाटा और लेफ्ट वाले की अपने हाथ से अच्छी मालिश की.

राजे मादरचोद सुबह सुबह रात भर का इकठ्ठा अमृत न पिए, यह तो बहुत गड़बड़ मामला है.

वैसे मैं शादी ब्याह की पार्टियों में जाने से मैं बचता हूँ क्योंकि आजकल गिद्ध भोज का प्रचलन है. मोना- लड़की होगी तो भी अच्छा है उसमें मेरी खूबसूरती और आपके जैसी ताक़त होगी.

उसकी जिंदगी पहले जैसी हो जाएगी, तब जाकर वो मानी। साला मुझे हैवान कहता है।राजू को अपनी ग़लती का अहसास हो गया क्योंकि एक साल पहले उसकी बहन बहुत दुखी थी, उसका जीजा उसे बहुत मारता था मगर उसके पेट में बच्चा है, ये बात सुनकर उसका जीजा एकदम बदल गया। ये सब काका की करनी थी. थोड़ी देर इसी पोजीशन में चुदाई करने के पश्चात् हमने पोज़ बदला और नताशा मेरी तरफ कमर करके मेरे लंड को अपनी गांड में लिये मेरी जांघों पर बैठ गई और राजू बिस्तर पर सीधा खड़ा होकर बाएँ हाथ से अपना तूफानी लंड पकड़े नताशा के अधखुले मुंह को चोदने लगा. कोई एक घंटा बाद काका जब वापस आए तो मोना करवट लिए नंगी ही सोई पड़ी थी।काका- हाय मोना रानी कितनी प्यारी है रे.

’ कहते मुझसे चिपके रहते थे।टीना- वाउ यार तू तो किसी फिल्म की कहानी जैसे बता रहा है.

मेरी लॉटरी खुल गई थी।मैं उनके मम्मों को पकड़ कर उनके निप्पल चूसने लगा। दोनों मम्मों को चूसने के बाद मैं धीरे-धीरे नीचे आया और उनकी सलवार का नाड़ा खोल कर उनकी सलवार निकाल दी। वो काले रंग की पेंटी में थीं। मैंने देर ना करते हुए उनकी पेंटी भी उतार दी।दोस्तो. वो फ़ौरन घुटनों के बल बैठ कर लंड को चूसने लगी।फ्लॉरा के लंड चूसने का अंदाज अलग ही था जो संजय को दूसरी दुनिया में ले गया।संजय- आह. बस फिर क्या था मॉंटी ने आँखें खोल लीं और जो नजारा उसने देखा तो उसको यकीन ही नहीं हुआ.

सेक्सी डीजे सेक्सी बीएफएक मिनट के अंदर ही विवेक और रूबी के होंठ मिले हुए थे और अजय और साराह के…साराह तो अपने हाथ से अजय का लंड अपनी चूत में करने की कोशिश भी कर रही थी. मैंने अब तक 8 लोगों को अपने चूचों को दबाने का मौका दिया है। मैंने एक बार मेरे ब्वॉयफ्रेंड के साथ चुदने की कोशिश भी की थी, पर जब खून निकला.

मराठी सेक्सी विडिओ बीफ

उसका बदन पहली बार नये नये तजुर्बों से गुजर रहा था नई नई अनुभूतियाँ उसके तन मन में बिजलियाँ चमका रहीं थी. बाइक अंधेरी सड़क पर दौड़ती जा रही थी और संदीप के लंड में तूफान उछाले मार रहा था. उन्होंने बहुत लंबा समूच किया और समूच करते करके मेरे बूब्स पर छुआ और फिर दबाने लगे.

लेकिन मैं उसकी बात अनसुनी करके अपने हिसाब से चोदने लगा उसे… मेरे आड़े तिरछे सीधे गहरे शॉट्स उसे पागल किये दे रहे थे और वो तेज आवाज में जोर जोर से चोदने के लिए मुझे उकसा रही थी. जब मैं दफ्तर में नई थी, मेरे साथ तहसीलदार दीपक और चंदन थे। हम तीनों एक ही दफ्तर में काम करते थे।ये दोनों अफसर अच्छे थे. अपनी चूत में शराब की बूंदें गिराते हुए सलोनी ने मुझसे पूछा- रवीश डार्लिंग, इस मूवी में कितनी लड़कियों को चोदना पसंद करोगे?मैंने भी थोड़ा लाग लपेट वाली बात कहते हुए बोला- मैडम, अब आप की चूत मिल गई है तो और चूत…इतना कहकर मैं रूक गया.

तो उसने बोला- मैं तुझसे 10वीं से ही प्यार करती हूँ पर तुमने कभी उन सबसे ध्यान ही नहीं हटाया जो मेरा प्यार समझते!मैंने उसे गले लगाकर सॉरी बोला तो वो भी मुझसे चिपक गई. काम वासना के आवेश मे भरी हुई रानी अब हुमक हुमक के धक्के लगा रही थी. आप लोगों के बहुत सारे मेल मिले थे जिनमेंमेरी हिंदी सेक्स स्टोरीजको काफ़ी पसंद किया गया है जिसके लिए मैं आप सबका दिल के साथ शुक्रिया अदा करता हूँ.

तुझे देख कर उहह उहह कई बार लंड खड़ा होता था उहह उहह मगर साली मौका नहीं मिला आह. पर मेरी गांड में तो पूरा लम्बा मोटा महालंड घुसा था। मैं दो मिनट ही रुक पाया कि गांड कुलबुलाने लगी।मैं गांड में हल्की-हल्की हरकत करने लगा। मैं करने क्या लगा.

और तभी मेरे मुठ की धार सीधा दरवाजे के ऊपर पड़ी और मैं वहाँ से अपने कमरे में निकल लिया।अब मैं रात भर सोचता रहा कि भाभी की चुदाई कैसे की जाए.

पिछले छह माह से वह हर रात मेरे साथ सहवास करती है और जब कभी भी मेरी इच्छा होती है तो दूसरी बार सम्भोग भी करती है. भोजपुरी बीएफ सेक्सी हॉटमैं झड़ने के करीब पहुँच गई और चिल्लाने लगी- और कस कर चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को… बना दो मुझे बाजारू रंडी! मैं अब तुमसे हमेशा चुदवाऊंगी! मुझे ऐसे ही हमेशा चोदना!उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी. हिंदी बीएफ की मूवीदोस्तो, आपको याद होगा कि मैंने आपसे पिछली स्टोरी में आप लोगों से एक सलाह माँगी थी जिसके जवाब में मेरे पास बहुत सारी मेल आई, उन मेल में बहुत सारे सुझाव भी आए. बेटी चोद है ही बहुत ज़्यादा चुदक्कड़!कहानी पढ़ने के उपरांत कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य लिखें.

’सचमुच पत्नी को अपने बेस्ट फ्रेंड के साथ शेयर करके आज सेक्स करने में बहुत मजा आ रहा था।अमिता की गांड और चूत में दोनों तरफ से दो लंड फिट हो चुके थे और अमिता हम दोनों मर्दों के बीच हो गई थी, सैंडविच बन गई थी, वो दर्द से कलप रही थी।अब अमिता को भी बहुत मजा आ रहा था और शायद थोड़ा दर्द भी हो रहा था.

क्या मस्त खुशबू आ रही थी उनके जिस्म से…मौसी की सिसकरी निकलने लगी- अह्ह्ह बेटा… और जोर से… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह्ह मेरा राजा… चाट इसे!वो मदहोश होकर बोले जा रही थी. काफी देर तक मम्मी ऐसा ही करती रही, उसके बाद मम्मी नीचे झुकी और यश के लंड को अपने मुख में ले लिया. ! वो एक न्यू गर्ल आई है कॉलेज में, ये उससे नहीं मिली उसी ने छोटी सी पार्टी रखी थी.

उसका लंड मेरी चुत से टकरा रहा था। मेरी चुत अब तक बहुत गीली हो चुकी थी। उसी वक्त आकाश ने नीचे मुँह करके मेरी चुत को किस किया ‘इसस्स्स्सा. मैं दुशाली को गोद में उठा कर उसके रूम में ले गया और उसकी साड़ी और पेटीकोट को उतार दिया। नीचे वो काली पेंटी पहने हुई थी. मैं पहले तुमसे ही शुरू करूँगी।फ्लॉरा किसी रंडी की तरह एक-एक करके सबके लंड चूसने लगी। वो सब तो पहले ही बहुत गर्म थे और फ्लॉरा की चुसाई से अब उनका कंट्रोल जाता रहा।वैसे तो विक्की वीरू और साहिल के लंड 7″ के थे मगर साहिल के लंड की मोटाई सबसे ज़्यादा थी और वो फ्लॉरा के मुँह में ठीक से जा नहीं पा रहा था।फ्लॉरा- उफ़ आह.

सेक्सी वीडियो भोजपुरी बढ़िया

तब मेरे पति बोले- हमें घर जाना है, हमारे पास कोई रास्ता नहीं है, ये हमें ऐसे जाने नहीं देंगे. मैंने दो साल पहले अपनी कहानी प्रकाशित की थी उसके बाद मैं अपनी प्रोफेशनल लाइफ में बिजी होने के कारण मैं अपने जीवन की और घटनायें यहाँ पर प्रकाशित नहीं कर पाया।मैं पिछले दो साल से साउथ दिल्ली में रह रहा हूँ. हम सारे भाई-बहन एक कंबल के अन्दर घुसे हुए थे। मैं चंदन के बगल में थी.

बेंच कहना गलत होगा, असल में उसने दो संदूकों को लम्बाई में जोड़ के एक लम्बा सा बेंच बना लिया है और उसके ऊपर गद्दे व सुन्दर सी चादर बिछा के उसको मस्त लव सीट बना लिया है.

तो मैं देखते ही रह गया। भाभी इस वक्त कयामत लग रही थीं। उन्होंने टी-शर्ट और लोअर पहन रखा था।मुझे देखते ही बोलीं- अरे आ गए.

उधर रयान और ऋषिका चिपटे पड़े थे, निष्ठा का फोन देख कर रयान चौंका, फोन तो उठाना ही था, उसने ऋषिका को आहिस्ता से अलग किया और फुसफुसा कर कहा- निष्ठा का फोन है…ऋषिका रयान से चिपटी हुई थी… वो भी झटके से अलग हुई और रयान की छाती पर उसके बालों से खेलने लगी. उसने अपने लंड की फ़ोटो भी भेजी है, देखोगी?मैंने मना कर दिया लेकिन वो ज़बरदस्ती मुझे दिखाने लगे. हिंदी पिक्चर फिल्म बीएफ हिंदीतभी रानी की सास की आवाज बाहर से आई, वो दरवाजा खोलने के लिए चिल्ला रही थी.

जैसे ही उसकी माँ स्खलित हुई उसने खीरा छोड़ दिया और तेज़ तेज़ अपनी चूत को उंगली से रगड़ने लगी. आते टाइम उस ने मुझे गिफ्ट दिया एक घड़ी और बोली- अगले महीने एक बार और आ जाना यार! ऐसी चुदाई के बाद किसी से नहीं चुदवाना चाहती. भाभी के मुँह से ये मैंने ये सुना तो मुझे उनकी गांड मारने का मन हो गया.

जूसी ने चाट लिया और होंठ पर जीभ फिराई, बोली- रेखा हरामज़ादी, कैसा रस है तेरी चूत का. पर कंडोम फट गया। अमन की गांड बहुत छोटी सी थी और मैं मोटा था। काफी प्रयास के बाद भी मैं अमन की छोटी सी गांड मैं नहीं घुस सका। मालिक ने अभी तक चुत ही चोदी थी और कभी बीवी के साथ जबरदस्ती भी नहीं की थी, इसलिए उन्होंने अमन के कहने पर उसकी गांड में मुझे नहीं डाला और आखिरकार मालिक ने मुझे हाथ में पकड़ा और 15 मिनट तक खूब तेजी से हिलाया.

तब मैंने संजय से कहा- सब तो नंगे हैं, आपने क्यूँ नहीं कपड़े उतारे?तो उन्होंने कहा- मैं बाद में उतारूंगा, तुम लोग शुरू हो जाओ!तभी पांच आदमी मेरे पास आ गए और मुझे अपना अपना लंड पकड़ाने लगे.

कभी दाएं को चूसता।ऐसे बारी-बारी से दोनों चूचों को खूब चूसा। फिर हम दोनों वहां से खड़े हुऐ और उसने अपनी ड्रेस को ठीक किया और हम बाहर आ गए।फिर उसको मैंने जामनगर आने वाली बस में बिठा दिया और मैं अपने रूम पर आ गया। बाद में उसका कॉल आया और हम बातें करने लगे।ऐसे ही देखते-देखते मेरे इम्तिहान आ गए और उसने कहा- अगर अच्छे नंबर से पास होओगे तो जो मांगोगे वो मिलेगा।फिर क्या था. उसके कुछ देर बाद हमने एक बार जबरदस्त चुदाई की और 7 बजे हम होटल से निकले और टैक्सी कर उसको उसके घर छोड़ कर उसका नंबर लेकर अपने काम के लिए चला गया. भरी और उसकी चुत बहने लगी, जिसे संजय ने चाट कर साफ कर दिया।पूजा- आह.

भाई और बहन की बीएफ सेक्सी वीडियो की नंगी तस्वीर भेजो… जैसी मांग करते हैं। कोई माँ बहन के बारे में अनाप-शनाप बोलते हैं। यार अगर कुछ लेखक रिश्तों को तार-तार करते भी हैं तो क्या सबको एक ही तराजू में तौलना सही होगा? हमारा भी घर परिवार है. करीब 6 बजे मैं उठा, टॉयलेट जाकर आया तो देखा मामी नहा कर दूसरे रूम में शीशे के सामने अपने बाल संवार रही थी.

मेरी आँख खुली… यह देख कर सोच रहा था कि कहीं मैं सपना तो नहीं देख रहा!फिर आंटी को चुंटी काटी, उन्होंने उई की, तब यकीन हुआ. तब से मुझे कुछ कुछ होता है मैं तो साहिल जब मुझे चोदता था तब तेरे पति को याद् कर मन ही मन न जाने कितनी बार उनसे चुदवा चुकी हूँ. और ऐसा ही कुछ जीजू के साथ भी हुआ, वो आह आह करके मीठी आहें भरने लगा.

आलिया सेक्सी मूवी

मैंने इतने प्यार से मम्मे को मुँह में ले रखा था कि उसके चूचे पूरे लाल हो गए थे और निप्पलों को दांतों से काट रहा था. वो सिर्फ़ पैंटी और ब्रा में रह गई थीं। भाभी ने भी मेरे कपड़े उतार दिए और मेरे खड़े लंड को देखा तो भाभी देखते ही रह गईं।वो नशे की टुन्नी में बोलीं- हाय इतना बड़ा है आपका. जेट स्की में समुद्र में स्कूटर चलाना होता है, एक सवारी पीछे बैठ जाती है और स्कूटर पानी पर तैरता हुआ तेज स्पीड से दौड़ता है.

अगर तू किसी को बताएगा नहीं तो मैं आज रात तुझे सब कुछ करने दूँगी।मैं खुश हो गया और उनसे लिपट गया।उनको रोल प्ले वाला सेक्स पसंद था तो उन्होंने मुझसे कहा- देख यूं समझ कि मैं एक टीचर हूँ और तुम मेरे यहाँ पढ़ने आए हुए स्टूडेंट हो. ’ इतना कहते हुए उन्होंने अपनी नाईटी उतार फेंकी और मुझे भी कपड़े उतारने के लिये बोली.

तभी जीजू ने मेरा हाथ कस कर पकड़ लिया और कहा- मेरे साथ मनाओगी?मैंने कहा- क्या जीजू? आप भी.

‘दीवारों के कलर शेड से ज्यादा शेड सेक्स में होते हैं!’ यह बात मुझे मोहन पेंटर से पता चली. भाभी ने मेरी छाती पर हाथ फेरा, ‘आई लव यू’ कहा और मेरे लंड को सहलाने लगी।मैं भाभी जी की गांड में उंगली डालने लगा. मुझे डर लगने लगा।मैंने उसके लण्ड को अपने हाथों में लेकर कुछ देर तक ऊपर-नीचे किया.

उसे सहलाने लगा। उनका लंड जोश में खड़ा हो गया, उन्होंने मुझे अपने से चिपका लिया।साहब का हल्का सा पेट बढ़ा हुआ था. ओके नाउ?’‘हाँ अब ठीक है!’ वो बोली और उसने खुद सलवार के नाड़े का एक सिरा ऊपर तक खींच दिया. उसने जल्दी से अपने कपड़े समेटे और वहाँ से भाग गया और मोना अन्तर्वासना की आग में जलती हुई वहीं खड़ी रोने लगी।काफ़ी देर बाद मोना ने कपड़े पहने और वो नीचे चली गई। जैसे ही वो कमरे में गई उसके होश उड़ गए क्योंकि काका वहीं उसके बिस्तर पे बैठे उसको गुस्से से देख रहे थे।मोना- इस्स काका.

नितम्बों में कसी हुई जीन्स उसकी जाँघों का भूगोल बहुत खूबसूरती से दिखला रही थी.

बीएफ भाभी देवर का: बड़े टाइम से इच्छा थी कि तुमसे खुल कर बातें करूँ।इतना कहकर दुशाली ने मेरे कंधे में और फिर कंधे से मेरी गोद में अपना सिर रख कर बोली- मैं ऐसे लेट जाऊं. ये मैं नहीं कह रही, ये सब संजय ने इस बुक में लिखा है। अब लास्ट बार बोलो करना है या मैं वापस जाऊं… फिर तुम ही कल संजय को जवाब दे देना।सुमन- नहीं.

30 साल का नन्द किशोर, उर्फ नंदू अपनी पत्नी निकिता उर्फ़ निक्की के साथ बलमिंदर सिंह, उर्फ़ बल्लू की बड़ी सी कोठी के ऊपर के हिस्से में दो बैडरूम के घर में रहता था। नंदू बल्लू के मामा का बेटा था तो बल्लू उसको भाई और निक्की को निक्की भाभी करके बुलाता था।निक्की और नंदू बहुत खुश थे क्योंकि बल्लू ने नंदू को अपने बैंक्वेट हाल यानि मैरीज पैलेस में मैनेजर की जॉब दे दी थी. वो मुस्कुराई।मैंने उसके गाल पर किस किया और उसने मेरे गाल पर किस किया।बस मुझे इशारा मिल चुका था. मैं बोला- तो इसका क्या?वो बोली- है ना मेरे पास इलाज!और यह कह कर वो घुटनों पर बैठ गई और बड़े आराम से मेरा लंड चूसने लगी.

तभी उन्होंने मुझे गोदी उठाया और बेड पर ला कर पटक दिया और मेरी चूत में अपना लंड पेलते हुए बोले- मेरी जान, सुबह सुबह सुहाग दिन मनाना भी अच्छा लग रहा है, अब तुम्हारी चूत का भोसड़ा बनाने जा रहा हूँ!इतना कहकर जोर-जोर से धक्का मारे जा रहे थे, मुझे समझ में नहीं आ रहा था, लेकिन उनकी बातें मेरे कानों में पड़ रही थी.

आंटी हंसने लगी और पूछने लगी और पूछने लगी- और क्या क्या अच्छा लगता है?मैं- एक चीज़ मुझे आपकी बहुत अच्छी लगती है, जो मैंने अब तक नहीं देखी. सुजाता जोर से चीखी- साहब मैं आ गई… आ…आ… सा … हा… ब…उसकी पूरी शक्टी निकल गई. मैंने स्माइल देते हुए कहा- लेकिन आप सर से काफी छोटी लगती हो उम्र में?तो उन्होंने बताया कि वो 22 साल की है और सर 29 के हैं.