बीएफ 18 साल की लड़की

छवि स्रोत,जलती जवानी मांगे पानी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी मराठी अनुभव: बीएफ 18 साल की लड़की, मुझे भी शॉपिंग करने के लिए बाहर जाना था इसलिए मैं भी घर का काम निपटा कर तैयार हो गई.

अंग्रेजी सेक्सी वि

इस वक्त उसका एक हाथ दीदी की गांड को पकड़े हुए था, दूसरा टाँगों को जकड़े था. राजस्थानी सेक्सी पिक्चर वीडियो मेंराजशेखर ने अब निर्मला के होंठों को अपने होंठों से चूमना शुरू किया और मेरी योनि से अपना लिंग बाहर खींच लिया.

सुरेश को मेरी योनि में बहुत मजा आ रहा था और मैं अब समझ गयी थी कि जितनी जोश में अब वो है, जल्द झड़ जाएगा. अंग्रेजी लड़की सेक्समगर उसके बदन के रंग के मुकाबले में थोड़ी सी सांवली लग रही थी देखने में जैसी कि देसी चूत होती हैं.

एक दिन छुट्टी के बाद मैंने देखा भी कि …सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार, मेरा नाम रघु है। मैं बनारस का रहने वाला हूँ। दोस्तो, मेरी उम्र 19 के करीब हो रही है.बीएफ 18 साल की लड़की: मैं लगातार उसके होंठों पर जीभ घुमा-घुमा कर उसके लाल रसीले होंठों का रसपान कर रहा था.

दस मिनट तक उसने मेरी बहन से सेक्स किया, उसकी चूत को जम कर चोदा और फिर वो उसकी चूत में ही खाली हो गया.दिमाग पर वासना की सवारी ने उसके चेहरे की सुन्दरता को देखा ही नहीं था.

जय भीम फुल मूवी - बीएफ 18 साल की लड़की

उनके चुचे इतने बड़े और रसीले थे, कमर सेक्सी और गांड तो महा सेक्सी थी.ज्योति के मुँह से सिसकारियां छूट रही थीं- आआआआ … उम्हह … आआह …उसके कानों पर चुम्बन करने के साथ-साथ मैं अपने हाथ में ज्योति का हाथ लेकर मसल रहा था.

मैंने अब भी कुछ नहीं किया, तो चाची ने नीचे से गांड हिलाई और कहा- अब चोद बे … ऐसे ही डाले पड़ा रहेगा क्या?मैं धीरे धीरे से चूत में धक्के देने लगा. बीएफ 18 साल की लड़की जैसे ही मेरी बहन ने कहा कि वो बीच में नहीं सो सकती तो जैसे मेरी लॉटरी ही लग गई.

मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और ज़ोर ज़ोर से रोनिता को चोदने लगा.

बीएफ 18 साल की लड़की?

भाभी के दोनों बच्चे स्कूल से आने के बाद हमारे ही घर में रहने आ जाते थे. मैंने कहा- तुम्हारे जाने के बाद मैं इसे लंबा करने के लिए उपाय कर रहा था. वो आखिर बोल उठी- सागर जी, अब और मत तड़पाओ … करो न … अंदर डालो न!और उसके मुंह से अजीब अजीब सी आवाजें निकल रही थी।फिर मैं अपना लंड उसके चेहरे के सामने लाया और वो उसे एकटक देखने लगी.

मगर फिर मैंने बहुत मेहनत की और जिसके कारण स्कूल में मैनेजर व प्रिंसीपल साहिबा की नजर में मेरा ओहदा काफी बढ़ गया था. वो देखने में सुन्दर बहुत थी लेकिन मेरा ध्यान कभी उसकी चूत चोदने की तरफ नहीं गया था. मैं बोला- ऐसी कोई बात नहीं … तुमको पढ़ाते वक़्त मेरा भी रिवीजन हो गया है.

मैंने कहा- तो फिर तुम ही बताओ न … कौन से रंग की ब्रा पैंटी पहन कर आएगी?वो खिलखिलाने लगी और बोली- अरे मेरे भोले बुद्धू सनम … मैं ब्रा पैंटी पहने बिना भी तो आ सकती हूँ. कभी कभी वो मुझसे अपनी मम्मी के मोबाइल से फोन सेक्स कर लेती थी, लेकिन मैं उससे पहले की तरह से नहीं मिल पा रहा था. मैंने कहा- जानू अभी तो आधी ही अन्दर गयी है … अभी तो मैं इसमें पूरा हाथ भर का अपना अन्दर डालूँगा.

मैंने लंड उसकी पावरोटी जैसे बुर पर रखकर अन्दर कर रहा था, तो उसको दर्द हो रहा था. मेरी इस हरकत से वो और भी उत्तेजित हो गया और अपने हाथों पर संभालता हुआ अपना पूरा भार उसने मेरे बदन पर डाल कर मुझे तेजी से चोदने लगा.

मैंने कहा- यार मराना है ही, फिर नखरे उठा पटक क्यों? लंड गांड में पिला है ही।वह बोला- नहीं, और लोग जब मारते हैं तो गांड हिलाता हूं नखरे करता हूं तो उन्हें मजा आता है। वे जल्दी झड़ जाते हैं.

पता नहीं क्यूं मुझे ऐसा लग रहा था कि मुझे उनसे मोहब्बत हो गयी थी।थोड़ी देर किताब खोल कर बैठा, फिर टीवी चालू कर ली और मूवी देखने लगा.

फिर उन्होंने बात को घुमाते हुए कहा- अच्छा, ये नम्बर किसका है?मैंने कहा- मेरा ही है. तो मैं बोला- ये तो कुछ नहीं … मैंने डरते डरते किया है, किसी दिन अकेले में मिलना, जब आपकी गांड मारूँगा ना … फिर देखना और कितना मजा देता हूँ. दूर से ज्यादा साफ तो नहीं दिखाई दे रहा था मगर इतना तो पता चल रहा था कि मामी का नंगा बदन कैसा है.

जैसे मेरा हाथ गांड पर गया, मैंने महसूस किया कि मेरी गांड का छेद काफी ज्यादा खुला हुआ है और मेरी गांड से इरफान का वीर्य आ रहा था. लेकिन मैं बस यही सोच रहा था कि यहां तो चोदने को बहन भी है, वहां पर लंड के लिए कौन मिलेगा. मैंने कहा- इनको साफ क्यों नहीं करता है रे हरामी?वो बोला- आज कर लूंगा रंडी.

खाना खाते हुए उसने बताया कि आज उसे डॉक्टर के पास जाना था, इसलिए छुट्टी ले रखी थी.

इसके बाद मैंने उन्हें चूमना स्टार्ट कर दिया, उनके माथे में, होंठों में, गालों में चूमते हुए मैं उनको प्यार करने लगा. मामी ने पलट कर मुझे देखा लेकिन फिर मुझे केवल तौलिया में देख कर दोबारा से नजर घुमा ली. मैंने पूछा- आंटी क्यों ना आप मेरे रूम पर चलो या मैं आपके रूम पर चले चलता हूँ.

पर यह कहानी मेरी बहन के साथ मतलब मेरी मौसी की लड़की के साथ सेक्स की कहानी है. वो इतने जोश में आ गया था कि दोनों हाथों से मेरे स्तनों को बेरहमी से ऐसे मसलने लगा कि बूंद बूंद करके मेरे चूचुकों से दूध टपकने लगा. वे समझ तो गए पर मुस्कुरा कर रह गए।बाहर यूरिनल में पेशाब करके लंड धोकर आए व सो गए.

मुझे पता था कि आज इसकी जम कर चुदाई करनी है, पर मैं सब्र रखे हुए था कि जब ये खुद चुदने के लिए मेरे साथ आई है, तो इसे पूरा गर्म करके ही आगे बढ़ना चाहिए.

मेरा लंड तन कर पूरे आकार में आ चुका था और उसकी मोटाई को नापते हुए मामी की सिसकारियां निकलने लगी थी. फिर उसने मेरे नम्बर पर कॉल की, कहा- मेरे साथ एन्जॉय करोगी?मैंने कहा- हाँ!फिर मैंने कहा- मगर मेरे पास सामान नहीं है क्रॉस ड्रेसर का!उसने कहा- चिंता मत करो … मैं सब ले आऊंगा.

बीएफ 18 साल की लड़की मैं थोड़ा नर्वस था कि कहीं दिन में जो हुआ था उस तरह फिर से कहीं मेरा पानी जल्दी ना निकल जाये।आंटी ने थोड़ी देर मेरे लंड को चूसा और फिर से मेरे ऊपर आ गयी और अपने हाथ से अपना एक बूब पकड़ कर मेरे मुंह में दे दिया. कुछ पल बाद मैंने उसको बेड पर सीधा लेटा दिया और अपनी टी-शर्ट उतार कर उसके ऊपर चढ़ गया.

बीएफ 18 साल की लड़की मेरा लंड पूरे परवान पर था, क्योंकि इसका ज़रीना की प्यासी जवानी चखने का सपना जो पूरा होने वाला था. मुझे इस पोज में और मजा आने लगा और मैं उसके होंठों को चूसते हुए पूरा जोर लगा कर मामी की चुदाई करके उनकी चूत को फाड़ने लगा.

पायल की चूत से जैसे ही लंड बाहर आया मेरे लंड से पिचकारी छूटने लगी जो सीधी उसके चूचों तक जाकर लगी.

बीएफ वीडियो दो हजार अट्ठारह

मुझे उसको लेकर ये अंदाज़ होने लगा था कि जैसी ये दिखती है, वैसी है नहीं. जैसे ही भाभी ने मूतने के लिए अपनी साड़ी उठायी, तो उनकी गोरी गोरी गांड को देखकर मुँह से आह निकल गई. अब वे जोरदार तरीके से दे दनादन दे दनादन चिपट गए।वे फिर बोले- लग तो नहीं रही?मैंने उनका जबाब गांड चला कर उसे बार बार ढीली टाइट ढीली टाइट करके दिया.

नितिन भी मेरी बेबसी देख कर खुद को लाचार समझते और मुझसे माफी मांगने लगता. भाभी कई महीनों से चुदी नहीं थी, उन्हें मेरे मोटे लंड से दर्द भी हो रहा था … मगर वो चीख को दबाए हुए लंड झेल रही थीं. हम 3 सहेलियों के पिता ठेकेदारी में एक ही जगह काम करते थे और सुरेश के पिता सरकारी नौकरी में थे.

उसके मुँह से ये सब सुनकर मैंने पूजा से कहा- कभी कभी गलत इंसान मिल जाता है … हमेशा ऐसा नहीं होता.

मेरे पिताजी फ़ौज में हैं तो मैं अपने घर में अपनी मम्मी और बहन के साथ रहता था. क्योंकि इतने लोग आपके सामने संभोग कर रहे हों और आप को कुछ हुआ न हो, ऐसा तो केवल नपुंसकों के साथ हो सकता है. फिर उसने अचानक से लंड बाहर निकाला और बोला- क्या हुआ जान?मैंने कहा- आराम से करो!वो हंसने लगा, बोला- सॉरी जान!और फिर उसने अपना मोटा लण्ड मेरे होंठों पर रख दिया और फिर से मेरे मुँह की चुदाई शुरू कर दी.

उसकी मादक सिसकारियां निकल रही थीं और उसने चादर को कस कर पकड़ लिया था. भाभी कई महीनों से चुदी नहीं थी, उन्हें मेरे मोटे लंड से दर्द भी हो रहा था … मगर वो चीख को दबाए हुए लंड झेल रही थीं. मेरे कराहते ही उसने झुक कर मेरे होंठों को चूम लिया और अपने एक हाथ से वो मेरे बड़े मांसल स्तन को पकड़ दबाने लगा.

मैंने मामी की ब्रा के हुक खोल दिये और उसके चूचों को हाथ में भर लिया. मैं फिर उनको किस करने लगा और फिर प्रमिला आंटी उठी और कुर्ती भी निकाल दी। अब प्रमिला आंटी के बूब्ज़ मेरे सामने थे।उनके बूब्ज़ ज्यादा बड़े नहीं थे पर पता नहीं क्यूं मैं उनके बूब्ज़ का दीवाना था.

उससे कहा गया कि आज से 3 महीने के लिए शरीफजादियों वाले कपड़े पहनना भूल जा. चूंकि मां की तबियत खराब थी इसलिए हफ्ते भर मैं ही साहब के घर पर काम करने के लिए गई और इस तरह से साहब ने रोज मेरी चूत चोदी. मैंने जल्दी से उसमें से कुछ फोटो और मैसेज अपने फोन में फॉरवर्ड कर दिए.

मैंने मैडम को यह बात न बताने का फैसला कर लिया क्योंकि मैडम भी आज कुछ ज्यादा ही मूड में लग रही थी.

मैं मस्ती में कुलान्चें भारती हिरनी की भांति तेजी से कमर चलाने लगी. उसका टेस्ट कुछ अजीब सा नमकीन सा था लेकिन हवस की आग में सब अच्छा लग रहा था. मैंने उसके कड़क टनटनाते हुए लिंग को योनि की छेद में टिकाया और बैठ गयी.

मैंने हंसते हुए कहा- जब एकदम से लंड गया न … तभी तो जीवन भर मुझे रखोगी कि हां किसी मर्द का लंड घुसा था. विद्या ने अपनी आंखों पर काजल लगाया हुआ था, वो तो यूं समझो कि मुझ पर कहर ही ढा रहा था.

मैंने मम्मी से कहा कि ठीक है … लेकिन पूजा कहाँ है?फिर मुझे पता चला कि उसकी विद्यालय की पढ़ाई पूरी हो चुकी है. मैंने उसके लिंग को पकड़ 8-10 बार हिलाया, तो उसका लिंग वापस पूरे तनाव में आकर कड़क हो गया. वो मुझ पर चिल्लाते हुए बोली- क्या कर रहे हो? तुम्हें हो क्या गया है? अब ठीक से गाड़ी चलाना भी भूल गये क्या?मैंने अपनी लार को अपने अंदर गटका और दोबारा से गाड़ी स्टार्ट की.

बीएफ हिंदी मूवी हिंदी

आंटी सिसकारियाँ ले रही थी।अब मैं दिन की तरह ये सब करने में टाइम वेस्ट नहीं करना चाहता था क्यूंकि दिन में थोड़ी देर में ही मेरा पानी निकल गया था।आंटी ने कहा- तुम लेट जाओ, एक और सरप्राइज है तुम्हारे लिए!मैं लेट गया.

कभी कभी बीच में उसके निप्पलों को भी काट रहा था, जिससे उसकी सिसकारियां निकल रही थीं. भाभी बाजार से शॉपिंग क़रने से खुद थक चुकी थीं और इस चुदाई से और थक गई थीं. तुम्हें बस मुझे किसी बड़े शहर में ले जाना है और मेरे अरमान पूरे करने है.

आपको मेरी देवर भाभी सेक्स स्टोरी पर जो भी कमेंट्स करना है, आपको खुली छूट है. जब मैंने उनकी दुल्हन यानि कि अपनी मामी को देखा तो मेरी हालत खराब हो गई. भोजपुरी सेक्सी वीडियो एचडी फुलएक और बात भी थी कि मेरी मॉम पापा के न रहने पर नहाने से पहले मुझसे मसाज करवाती थीं.

मैंने अपने दोस्त से एक दिन शराब के नशे में सारी बातें पूछी, तो उसने बताया सोमेश भैया ने दीदी से और लड़कों के साथ मिलकर ग्रुप सेक्स करने को कहा था. अब दीदी का ट्रांसफर बंगलोर हो जाने के कारण केवल मैं ही अकेला रहता हूँ.

अब वो गांड हिलाते हुए कह रही थी- आह … मुझे इतना चोदो कि मेरी चुत की सारी खुजली मिट जाए. मैं खड़ा हुआ और उसकी टांगों को फैलाकर अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रख दिया. मुझे नहीं पता कि मेरे दोस्त ने अंदर भी मेरी बहन से सेक्स किया या नहीं.

विभोर पहले से ज्यादा मुझे घूरता था और साथ में मेरी चूची को भी देखता था. जबकि मैं उसे पूरा ऊपर से नीचे तक … बल्कि उसकी कोमल छोटी सी चुत को भी देख रहा था. इस बात को अनदेखा करती हुई मैं अन्दर रसोईघर में चली गयी और बोली- मैं चाय बना कर लाती हूं.

सानु के चूचों पर मेरी छाती सटी थी और मैं उसकी गर्दन और गालों पर किस करने लगा.

चूत चुदाई करने से पहले मैंने अपना लंड फिर से एक बार बारी बारी से उन दोनों से चुसवाया. उसने कहा- कोई बात नहीं … आप कर दीजिए … कपड़े की कोई चिंता नहीं!मैंने मसाज क्रीम लेकर उसके टीशर्ट में हाथ डाला और धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ फिराने लगा.

हम दोनों ही दर्द से कराह उठे लेकिन जब मेरा लंड मोनिषा आंटी की चूत की गहराई में पहुंचा तो मुझे और मोनिषा आंटी को आनन्द आने लगा. मैंने करीबन पच्चीस मिनट तक उस भाभी की चूत को खूब चोदा और फिर दो-तीन जोर के धक्कों के बाद मेरे पूरे बदन में अकड़न होने लगी. फिर हमने जी भर कर प्यार किया और अगले दिन सुबह मैं सिंगापुर चला गया.

वो मेरी बात मान कर मेरे ऊपर आकर लण्ड पे बैठ गयी। लेकिन उसे लंड पर बैठ कर उछल कूद करके चुदना नहीं आता था। उसका पति सिर्फ लेटा के चोदता था औऱ सो जाता था।मैंने उसे लण्ड पे बैठा कर नीचे से धक्के लगाने शुरू किया, उसे इसमें मजा आया. उस रात में मैंने मैडम को चार बार चोदा और वैसे ही हम दोनों किस करते हुए कब सो गए, पता ही नहीं चला. फिर प्रीति और कल्पना ने कहा- अभी हमें संकोच है तो आज की शुरुआत तुम से ही की जाए!जॉयश भी उन सब की मनोस्थिति समझ रही थी और सही भी था क्योंकि वह खुद तो ऐसे ही माहौल में थी और उसके पास मंगल जैसा गुलाम भी था.

बीएफ 18 साल की लड़की मैंने कहा- आंह जान … और अन्दर ले लो … और लो …जब मेरा लंड उसके मुँह में पूरा खड़ा हो गया, तो उसने कहा- यार ये तो काफी बड़ा हो गया है. उसने कहा- तुम ऊपर जाओ, तब तक मैं अपने 3 साल के बच्चे और सास ससुर को डिनर करवा के और सुला कर आती हूँ.

बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी फिल्म

मम्मी और बुआ को आज कम से कम छह घंटे तक बाजार के कुछ काम निपटाने थे. बहन की चूत को चोदते हुए इतना मजा आ रहा था कि मैं उस अहसास को शब्दों में नहीं बता सकता. सुरेश- अच्छा ठीक है, कभी ऐसा मौका मिलेगा, तो मजे करेंगे, खाएंगे पियेंगे घूमेंगे फिरेंगे और जम के चुदाई करेंगे.

मैंने सॉफ्टवेयर वाली सीडी ली और सारे के सारे सॉफ्टवेयर कम्प्यूटर में इनस्टॉल कर दिए. आज जो मैं आप लोगों के साथ शेयर करने वाला हूँ, वो सिर्फ एक कहानी नहीं है. सेकसी विडियो हिदीअब हुआ यूं कि मेरा छोटा साला जो है, उसकी बीवी फ़रजाना, पर मेरी शुरू से ही नज़र थी.

मेरा लंड का टोपा रोनिता की चुत में घुस गया और रोनिता की चीख निकल गयी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…रोनिता की आँखों से आंसू आने लगे और वो रोने लगी.

ये देखकर उस समय उन्होंने कुछ नहीं कहा, लेकिन छुट्टी के बाद उन्होंने मुझे स्टाफ रूम में बुलाया और समझाने और पूछने लगीं कि आखिर क्या बात है. दो मिनट के बाद ही उसके मुंह से मादक सिसकारियां उम्म्ह … अहह … हय … ओह … निकलनी शुरू हो गईं.

एक महीना बाद उसने मुझे प्रपोज किया और मैंने भी हां कर दी, क्योंकि मैं हेमंत के लंड को चूत में लेना चाहती थी. मैंने झट से कहा- हां, इसमें इतना शरमाने की क्या बात है! मैं तुम्हारा दोस्त हूं. जब भी मैं नीचे झुकती तो वे मेरे चुचों को ही घूरते। मैं भी उन्हें अपनी जवानी के पूरे दर्शन करवा रही थी।फिर एक दिन मम्मी को उनके रिश्तेदार की शादी में जाना था.

फिर उन्होंने बात को घुमाते हुए कहा- अच्छा, ये नम्बर किसका है?मैंने कहा- मेरा ही है.

मम्मी की चूचियां ऐसे लग रही थीं, जैसे किसी ने मम्मी के सीने पर दो खरबूजे चिपका दिए हों. करीब दस मिनट बाद मैंने उसको धीरे से उसके कान में बोला कि तुम ढक्कन उतार दो रानी … अब खेल शुरू करते हैं. मेरे हाथों की पकड़ मैडम के चूचों पर बढ़ने लगी तो उसके होंठ खुलने लगी और बोली- आह्ह … कर ले जो करना है मेरे राजा.

राजमुंदरीपहले तो उसकी टी-शर्ट मेरी तरह सीधी होती थी, मगर अब वो छाती से उठने लगी थी. तुमको चड्डी देखना है?मैंने झुझलाते हुए कहा- चड्डी के अन्दर जो छुपा रखा है न … उसको देखना है.

देसी सेक्सी बीएफ हिंदी

मैडम को इस बात का अहसास हुआ कि मैं भी उनको देख रहा हूं तो उसने अपनी नजर मेरे लंड से हटा ली. निर्मला के कहते ही राजशेखर ने हल्के हल्के धक्के देना शुरू कर दिया और 4-5 धक्कों में ही उसका लिंग मेरी योनि की गहराई में जाने और आने लगा. दस मिनट तक उसकी चूत को चोदा और फिर जब मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने एकदम से लंड को बाहर खींच लिया.

अब मैंने अपनी छवि को कलंकित होने से बचाने के लिए एक भावनात्मक चाल चली. मुझे भाभी के मुँह की गर्मी से अपने लंड की मालिश करवाना बड़ा अच्छा लग रहा था. फिर मैंने कपड़े पहने और बाथरूम में गया, वहाँ हाथ मुंह धोकर वापिस आ गया.

सुरेश थक कर हांफ रहा था और मैं दर्द से तड़फ रही थी, मगर चिंता केवल चरम सुख की थी. मैं रोज सेक्स का मजा करना चाहती हूँ, लेकिन मेरे पति रोज मेरे साथ सेक्स नहीं करते हैं. सोचा कि बहू को कुछ पता नहीं चलेगा क्योंकि उसके सामने भी दो जवान लड़के खड़े हुए थे.

लंड चूसने के बाद उसने मेरे लबों और पूरे बदन को बहुत किस किया मानो ज़िंदगी मे सिर्फ एक ही बार चुदाई करनी हो, दोबारा ऐसा मौक़ा नहीं मिलने वाला हो!और फिर मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी. उसके बाद चुदाई का दूसरा राउंड भी हुआ जिसमें मैंने उसकी चूत को बीस मिनट तक चोदा.

और अब मैं इसे अपने उत्तेजक अंदाज में सिर्फ अन्तर्वासना के लिए लिख रहा हूँ.

पर तू क्या करेगी?शिफा बोली- अरे मैं तो किसी का भी लंड लेने को तैयार हूँ. sixy वीडियोउसके होंठों पर होंठ रख दिये और दोनों ही एक दूसरे से लिपटते हुए एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे. मराठी सेक्स दिखाओनमस्ते दोस्तो … मैं आपका दोस्त अपनी नई सेक्स कहानी लेकर हाज़िर हूँ … क्योंकि इस अन्तर्वासना कहानी ने मेरी टीचर में मुझे ये सिखा दिया था कि सेक्स कितनी मजेदार चीज़ है. अगली कहानियों में मैं बताऊंगा कि मैंने किस-किस अंदाज में उसकी चूत को चोदा और उसके अलावा और किन-किन चूतों के मजे लिये.

मैंने भी अनजान बनने का नाटक किया और पूछा- प्रमोद नहीं है?वो बोली- नहीं … वो क्लास करने गया है.

आनन्द ने कहा- देखा नेहा, सोमेश ने तुमको धोखा दिया … तुम्हें अब उसे छोड़ देना चाहिए. पठान ने दीदी की चिल्लपौं पर ध्यान ही नहीं दिया और वो दीदी को धकापेल चोदने में लग गया. मैं भी उनके जिस्म की गर्मी में आंखें सेंकने के लिए हाजिर हो जाता था.

कुछ देर चूचे मसलने के बाद मैं उसके एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगा. मैं सब समझती हूं कि तुम मेरे पिछवाड़े को जान बूझ कर छूने की कोशिश कर रहे हो. मैडम ने डांटते हुए कहा कि अब स्कूल खत्म होने के बाद मेरे ऑफिस में ही आगे की बात होगी.

बीएफ का वॉलपेपर

जिसका दर्शन मिहिर को उर्वशी की आंखों में देखने पर हो रहा था और उर्वशी को मिहिर की आंखों में देखने पर. फिर धीरे धीरे हमारी सेक्स की बातें होने लगी।हम दोनों कॉलोनी ग्राउंड में शाम के अंधेरे में मिलने लगे. यह सब देख कर एक बार तो मुझे गुस्सा आया लेकिन मैं फिर उत्सुकतावश वहीं पर छिप कर देखता रहा कि आगे क्या होने वाला है.

मैंने कहा- क्या करूं मामी, कोई ऐसी मिली ही नहीं जो मेरे मन की बात समझ सके.

मैंने उसे वापस धक्का देकर लेटा दिया वो छोटी थी, तो मैंने उसे दबोचे रखा और उसकी चूत में लंड घुसा दिया.

”अचानक हुई इस आवाज से मैं डर गई और सामने देखा- सुनील तुम!मैं गाउन ठीक करते हुए खड़ी हो गयी. इसी दौरान एक दिन मेरे घर पर प्रीति आयी हुई थी और उसी वक्त कविता ने वीडियो कॉल किया. सेक्सी वीडियो बताएं छक्कों कासाथ ही मैं अपने दोनों हाथों से मैडम के मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा.

मेरी बात सुन कर उसने मेरी योनि चाटनी छोड़ दी और मेरी जांघों के बीच आ गया. मेरे हाथ से अपनी चुत साफ़ करवाते समय रोनिता फिर से गर्म होने लगी … तो मैंने रोनिता को बाथरूम में शावर के नीचे ही चोदना चालू कर दिया. बस सोमेश भैया दीदी से उम्र में थोड़े बड़े थे … पर वो पैसे से भी रईस थे.

बीस मिनट तक गांड बजाने के बाद मैंने उसकी गांड में ही अपना माल छोड़ दिया. नीचे वाले हिस्से में कोई नहीं रहता था, सो वहां लड़की लाने पर ज्यादा प्रॉब्लम नहीं थी.

मुझे उसके दूध दबाने में जो मज़ा आ रहा था, मैं वो शब्दों में बयान नहीं कर सकता.

अपने बेटे प्रकाश की छाती को नंगी कर दिया मैंने और फिर उसके जिस्म को चूमने लगी. यह कहानी मेरी पिछली कहानी से पहले की है और मेरे विद्यालय से शुरू होती है, जब मैं पढ़ता था. वासना की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने भाभी की वासना शांत की? भाई की शादी हुई तो भाभी से मेरी दोस्ती हो गयी.

सेक्सी वीडियो सेक्सी पिक सेक्सी मैं बोला- कजरी आज तेरी चुत को चोद तो रहा हूँ, पर तेरी चुत की अच्छे से प्यार कर पाया … ना ही तुम्हारी चूचियां मसल पाया. इंटरवल के बाद पूजा मेरे कंधे पर सर रखकर बैठ गई, जबकि मेरे मन में चल रहा था कि अब आगे क्या करना चाहिए.

उनको वासना का नशा चढ़ने लगा, कुछ ही देर में उन्होंने खुद अपना दुपट्टा निकाल दिया और अपना हाथ मेरे हाथ पर रख कर अपने मम्मों को दबवाने लगीं. उसके धक्के इतने तेज और गहराई तक लगने लगे थे कि धक्कों की शुरूआत से ही मेरे मुँह से सारेगामापा … शुरू हो गया. मैं एकसेक्सी जवान लड़कीहूं और मेरे जिस्म को देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो सकता है.

इंसान और कुत्ता का बीएफ

फिर चाय पीने के बाद उसने मुझे बेडरूम का रास्ता दिखा दिया और मैं उसके बेडरूम में जाकर बैठ गया. मेरे लंड का रस पी कर उनका चेहरा और भी ज्यादा खिल गया था या कहूँ तो और भी ज्यादा खूबसूरत हो गया था. तो ज़रीना बोली कि जो भी करना हो, कर लो … पर मेरी नीचे की खुजली ठीक कर दो.

कुछ देर बाद मेरा माल निकल गया और हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर लेट गए. इतना सुन कर मुझे रहा नहीं गया और मैंने भी भाभी की चूचियों को दबाते हुए उसके होंठों को चूसा.

मैं भी सामने से गया और मोनिषा आंटी के मुँह में लंड को चूसने के लिए दे दिया.

कुछ देर चूचे मसलने के बाद मैं उसके एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगा. दोनों की नज़रें आपस में टकरायी तो दोनों की गर्दन शर्म से झुक कर रह गई. उन्होंने मेरी टांगों से अपने जिस्म को टिका दिया था इस तरह से वे मुझसे टिक सी गई थीं.

मैंने उसको सीधा लेटने के लिए कहा, वह थोड़े से वासना से भरे चेहरे के साथ सीधा लेट गई. कुंवारी चूत चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैंने कोचिंग ज्वाइन की तो रूम किराए पर लिया. मेरे अन्दर जाते ही भाभी चौंक गईं और उन्होंने मोबाइल को नीचे रख दिया.

गीली कच्ची सड़क पर चलते हुए मेरे चूचे भाई की गीली पीठ से चिपक रहे थे.

बीएफ 18 साल की लड़की: सुलु भाभी ने अपना हाथ वापस खींच लिया और बोली- अब रात काफी हो गई है. सरस्वती- अरे तो क्या बुराई है … मजे करने का मौका था, थोड़ा स्वाद बदल लिया और क्या.

मैं अपनी चालू मॉम की चुदाई करना चाहता था तो तुरन्त मॉम के पास गया और कहा कि आप जल्दी से मेरे रूम आ जाओ. कजरी बोली- ठीक है … शाम को 4 बजे इसी सरसों में आपके लंड का काम तमाम कर दूंगी. कुछ देर आराम के बाद वो फिर से मेरे लंड से खेलने लगी थी, जिससे लंड वापस से खड़ा होने लगा.

इसका सीधा सा अर्थ ये था कि आज हम दोनों को पूरे दिन घर में अकेला रहना था.

उनकी चुत से जो गर्मी निकल रही थी, उसे मैं अपने लंड पर महसूस कर रहा था।प्रमिला आंटी की चुत की गर्मी की वजह से मेरा लंड और भी सख्त हो गया था. वो हमेशा मुझे फ़ोन कर बातें करती रहती थी या वीडियो कॉल कर मुझे देखना पसंद करती थी. उसने मेरी टांगों को फैला कर अपना लंड मेरी चूत के ऊपर रख दिया और मेरे ऊपर लेट कर अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया.