देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,प्यार करने वाला सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्सी पिसातुरे: देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो, इससे उसे आराम मिला और 2 मिनट के बाद मैंने लंड को हिलाया लेकिन मेरा लंड बहुत ही मुश्किल से हिल पा रहा था क्योंकि उसकी चूत ने लंड को पूरा जकड़ रखा था, उसकी चूत के अंदर एक भट्टी जितना गर्म था.

हॉलीवुड मूवी सेक्सी फोटो

उसके थूक से मेरी चुत भीग गई थी और वह दाने को मुँह में लेकर चूस रहा था. सेक्सी मूवी फुल पिक्चरमैंने अपनी शर्ट निकाली और कमर पे बाँध ली क्योंकि उस कज़िन ने जिस पे मॉम को शक था, उसने शराब के नशे में अपनी कमर पर शर्ट की गाँठ बांधी हुई थी और मॉम ने उसे कई बार इसी तरह से देखा हुआ था.

दुबारा में तो आठ दस धक्कों के बाद ही मेरा लंड उनकी चूत के सटासट अन्दर बाहर होने लगा. सेक्सी स्कूल लड़कियों कीमैं हमेशा लेडीज की तलाश में ही रहता हूँ कि एक अच्छी सी आइटम फंस जाए और लाइफ टाइम मेरे लंड के नीचे बनी रहे.

फिर जब उसने दुबारा मेरा नाम पुकारा तो मैंने पूरा गेट खोलते हुए कहा- क्यों आई हो यहां?वो मेरे गले लग गई और बोली- मुझे माफ़ क़र दो आर्यन.देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो: यह बात सुन कर पूनम अब आराम से बैठ गई और मैंने उसके कंधे पे हाथ रख दिया.

वो रज़ाई में एक साइड लेटी थी, में उसके पीछे लेट गया और पीछे से हाथ जोड़ रहा था कि एक बार किस कर ले प्लीज़.जैसे ही मेरी और बॉबी भैया की नज़र मुझ पर पड़ी, तो वो खाना छोड़कर मुझे गले मिले और उन दोनों ने मेरा खूब स्वागत सत्कार किया.

कुत्ते वाली सेक्सी दिखाएं - देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो

भाभी कभी बातों बातों में मेरे गाल पकड़ लेती तो कभी कभी मजाक में मेरी पीठ पर हाथ मारतीं.क्योंकि अब तो मैं इस मादक जिस्म को दो बार चोद चुका था तो मन तो बहुत था लेकिन अब मैं राहुल नहीं था.

बस मुझे और मेरी मॉम को पता था, लेकिन मॉम को ये नहीं पता था कि वो मैं हूँ, उसको लगा कज़िन है. देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो अब तो हर झटके के साथ उसकी चुत से सफ़ेद पानी मेरे लंड से होते हुए चादर पे फैल रहा था.

मैंने पूछा- यार तूने तो इसे चिकनी चमेली बना रखा है?वो बोली- हां भाई, तेरे लिए ही इसे चिकनी किया है, मुझे पता था कि इस बार तू मुझे चोदे बिना मानने वाला नहीं और मेरी काह्मिकता भी बहुत सर उठा रही थी, मुझे भी चुत चुदाई की काफी तलब लग रही थी.

देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो?

उतने में मेम ने अपनी गांड खोली और फिर क्या था मैंने एक ही झटके में अपने पूरा लंड मेम की गांड में पेल दिया. वो बोलीं- बस सेवा ही करना, मेवा मत खा जाना…भाभी ये कहते हुए हँसने लगीं. मैं पन्द्रह मिनट उनके मम्मों से ही खेलता रहा, कभी उनको चूसता, कभी उनको ज़ोर से दबा देता.

मैं खुलेआम पार्किंग में अपनी से दुगनी उम्र के अंकल से गांड मरवा रही थी. उसके बाद रवि थोड़ा लेटकर अपना लंड को मेरी चुत में अन्दर बाहर करने लगा. अब आगे:फिर एक दिन वो वक्त भी आ ही गया, जब मुझे उस गुप्त कक्ष में जाने के लिए तैयार होने को कहा गया।मुझे वहाँ गये लगभग पांच महीने होने वाले थे, तब एक दिन मुझे मेरे कक्ष में आकर साधिका ने मेरे ब्रा पेंटी का नाप पूछा और एक मंहगी ब्रा पेंटी का सेट लाकर दे दिया, साथ ही एक आकर्षक गाऊन भी दिया.

अरे भाई! सुनना जरा!!” लड़के की नाव के नजदीक पहुँचने पर ओमार ने सांवले लड़के को आवाज दी- हमें तुमसे कुछ बात करनी है…और आगे मुझे कुछ सुनाई नहीं दिया क्योंकि एक दूसरे के नजदीक पहुँचने पर वो मंद स्वर में बात करने लगे थे. वो मुझसे हाथ छुड़वा कर अपने रूम में चली गईं और मैं उसके पीछे चला गया. मैं मेरी जीभ उसके मुँह में डाल कर अपना लंड उसकी चुत में डालने लगा, जिसमें मैं सफल हो गया.

मंजरी अपने दोनों हाथों से पुलकित का सर अपनी दोनों जांघों से निकालना चाहती थी, वो चाहती थी कि पुलकित के होंठ उसकी चूत से हट जाएँ, मगर पुलकित उसको शांत होने से पहले छोड़ना नहीं चाहता था इसलिए उसने मंजरी को खूब तड़पाया. इधर भाभी की जोरदार चीख निकल गई- आssह मsssर गईईई रेssभाभी के चिल्लाने से मैं एकदम डर गया तो मैं एकदम रुक गया और मैंने अपना लंड भाभी की चूत से बाहर निकाल लिया.

एडमिशन के टाइम उसके पिता साथ थे शायद इसलिए उसने कपड़े सिंपल पहन रखे थे.

कहानी का पहला भाग:ननद को अपने पति से चुदवाया-1अब तक आपने इस चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मेरी ननद मुझे अपने पति सागर के बड़े लंड से चुदते हुए देख रही थी.

मैं उनकी जांघ को सहलाने लगा, तभी उन्होंने रज़ाई के अन्दर ही मेरा हाथ पकड़ लिया, किसी को बोला कुछ नहीं, बस हाथ पकड़े रहीं. मुझे अपने ऊपर गुस्सा आ रहा था कि इस गुड़िया सी लड़की को इतना दर्द दिया. मुझे जागते देख कर मेरी बेटी रेखा शरमाने लगी लेकिन पिंकी तो पूरी रंडी बन चुकी थी.

जिसे ब्रायन ने अपने शोल्डर से निकाल कर, दूसरी तरफ उछाल दिया और अपना गले में पड़ा क्रॉस भी उतार कर टेबल पर रख दिया. उस दिन भाभी जब मुझे बायोलॉजी पढ़ा रही थीं, तो एक चैप्टर था रिप्रोडक्शन. अब ये सब तो बस ऐसे ही कर दिया वैसे तुम शर्त हार गईं तो बहाने मत बनाओ ओके.

फिर भी उसकी चूचियां एकदम हिमालय जैसी खड़ी थीं… गोल-गोल और सख्त मम्मे किसी का भी लंड खड़ा कर देने को आतुर थे.

टेरेस पे जाते ही रिया ने मुँह सा बनाया और कहा- निक्की, यहाँ बैठेंगे तो दो मिनट में हमारी कुल्फी बन जाएगी चल अंदर ही ठीक है. आज पूनम कुछ ज़्यादा ही सेक्सी लग रही थी क्योंकि उसने आज रेड कलर की साड़ी पहनी हुई थी. तो मैं उनकी एक्टिवा लेकर मार्केट से एप्पल फ्लेवर विद स्प्राइट वाली वोड्का ले आया.

फिर उसने मुझ से पूछा- फैमिली में कौन कौन हैं?तब मैंने उसे बताया- मेरे मम्मी पापा और मैं ही हूँ बस!फिर मैंने उस से पूछा- यहाँ कौन कौन रहता है?तो उसने बताया कि उस का पति जो कि एक मल्टी नेशनल कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हैं. मैंने किचन में ही वर्षा की सब्जी में एक कैप्सूल कूट कर पावडर करके मिला दिया, फिर थोड़ा सोच कर एक और कैप्सूल और कूट कर मिला दिया. मैंने व्हिस्की की दो बोतलें गाड़ी में रख ली और हम अपने अनजान सफर पे निकल पड़ी.

आज सुरेश को सौभाग्य से घर की दोनों औरतों की पैंटी खोलने का मौका मिला था.

रात किसी तरह गुज़रने के बाद मैं सुबह 10 बजे अच्छे से तैयार होकर फिर उसकी फ्रेंड के घर गया और फिर हमने घूमने का प्लान किया. वो 24 साल का है, उसका नाम किशोर है और वो काफी हैंडसम दिखता है और अच्छा चोदता भी है, साले का लंड तन बदन की नसें खोल देता है.

देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो ? कल से बहुत एसएमएस कर रहे हो?उधर से जवाब आया कि मैं अवी हूँ और आपसे बात करना चाहता हूँ. फिर मैंने उनकी जांघ को अपने हाथ से सहलाते हुए कहा- आज अपनी सलहज को भी प्यार कर लो.

देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो भाभी ने मेरी तरफ देखा और कहा- बेटा, अपनी माँ की सहायता नहीं करोगे?मैंने कहा- मम्मी तो गयी. उसके बाद मैंने सोनी को कई बार चोदा एक बार उसके ऑफिस में भी!फ़िलहाल आपने इस हकीकत का मज़ा लिया और आपके विचारों का मुझे इंतजार रहेगा.

मैंने भी उनके सारे कपड़े उतार दिए और उनके ऊपर चढ़ कर उन्हें किस करने लगी.

కొత్త సెక్స్ వీడియో

मैंने जैसे ही उनके होंठों पर होंठ रखे, भाभी मुझे धक्का देकर गुस्सा करने लगीं. बस चली तो एक दम से मुझे आवाज़ सुनाई दी, मैंने देखा कि ये वही माल थी, जिस को मैंने देखा था. जैसे ही मैंने उसको कहा कि मैं छूटने वाला हूँ तो उसने मुझे उसके मुँह में आने को कहा और तेजी से चूसने लगी.

ये क्या कर दिया तुमने रवि, अब मैं आनन्द को क्या कहूंगी?”मैं- ज्यादा शानपट्टी मत करो, मैं भी उसी दिन ऐसे ही रो रहा था, पर तुम पर तो आनन्द का भूत ही सवार था. ये सब जरा जल्दी हो गया था, क्योंकि पहली बार में मैं जरा जल्दी में रहता हूँ. उसने देखा कि उसके लंड पर थोड़ा थोड़ा खून लगा हुआ है, जो काजल की चूत की सील के टूटने के कारण लग गया था.

मैं उसकी चिकनी चुत को देख रहा था और धीरे एक उंगली चुत पर लगा कर रगड़ने लगा.

उसने मेरे मुँह में लंड डाल दिया, मुझे चूसने में मजा आ रहा था।‌‌वो ‘आआह भाभी सस्स… आआह सिसस्स… कर रहा था. उसने धीरे से एक और झटका लगाया और इस बार उसका लंड काजल की चूत में पूरा घुस गया. वो बार बार मेरे लंड की तरफ देख रहे थे, जो तन के मेरी पैन्ट के ऊपर से स्पष्ट उभरा हुआ दिख रहा था.

मयूरी ये बात सुनकर अपने होंठ और जुबान को सुरेश के होंठों से अलग करते हुए बोली- एकदम सही कहा काजल. रास्ते में चलते चलते एक बार तो उसका एक चूचा मेरी कोहनी से लग गया, उसने कुछ भी नहीं कहा और वो मुस्कुरा दी. ह्हह… ओय… ये क्या कर है?” ममता जी ने अचानक से अपना मुँह मेरे मुँह से छुड़वा कर कहा और अपनी ब्रा को फिर से नीचे करने की कोशिश करने लगी.

)वो बहुत कुछ बोले जा रही थी, पर उसके उभार मुझे छूने की वजह से मैं गरम हो गया था. मैं अभी लंड चूस ही रही थी कि उसने पिचकारी छोड़ दी, जो पूरी कि पूरी मेरे मुँह में भर गई.

इसी वजह से जैसे जैसे पुलकित मंजरी की चूत चाटता जा रहा था, मंजरी की तड़प बढ़ती जा रही थी. फिर मैंने उसकी ब्रा निकाल दी और देखा कि उसके निप्पल फूल गए थे और निप्पल के साइड में उसके पूरे रोंगटे खड़े हुए थे. यह हॉट स्टोरी मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चुदाई की है, जो मेरी गर्लफ्रेंड ने अपनी खुली आँखों से देखी और उसने मुझे खुद बताया था और कहानी लिखने को बोला.

मेरी क्या, वहाँ मौजूद सभी की आँखें भाभी के चुचों पे और गांड पे टिकी थी.

मैंने कल्पना भी नहीं की थी ऐसी… अब मजा आ रहा था, मौसी मेरे बदन को सहला रही थी. मैंने पूछा- यार आकांक्षा, तुम ऐसा क्यूँ कर रही हो, ये वीर्य को अपने चेहरे पर क्यों रगड़ रही हो?तो बोली- इस से मेरी स्किन सॉफ्ट रहती है. मैं उनके बदन को अच्छी तरह निहार रहा था, मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

काकी पिंक गाउन में थीं, जिसमें उनके खरबूजे जैसे स्तन, पतली कामुक कमर और उनकी उठी हुई गांड आह. सिराज को दिखाने के लिए मैंने अपनी आँखे चौड़ी कर ली और कहा- सर, और कुछ रास्ता नहीं है? आप पांच हो और हम दो लड़कियाँ!सिराज ने कमीनी हंसी के साथ कहा- तुम कोई सती सावित्री तो नहीं लग रही.

उसकी एक बेटी काफ़ी सालों से हॉस्टल में माउंट आबू में थी, क्योंकि जॉब की वजह से वो ध्यान नहीं दे पाती. कुछ देर मम्मों को सहलाने के बाद मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था तो मैंने भाभी के कुर्ते को ऊपर कर दिया. चाचा ने बोला- आरती नाम है इसका, मेरी भतीजी है, इसको कोई दिक्कत नहीं चाहे जितने लोग इसके साथ सेक्स करें, बहुत ज्यादा प्यासी है ये बहुत चुदासी है.

चोदा चोदी सेक्सी फोटो

करीब 15 मिनट तक हमारी चुदाई चलती रही, इस बीच वो एक बार झड़ चुकी थी, पूरा कमरा फच-फच की आवाज़ से गूंज रहा था और अब मेरा भी काम तमाम होने वाला था.

मैं अपनी बहन से बोला- अब कैसे होगा? ये तो जा ही नहीं रहा?वो भी बहुत उतावली हो रही थी, तो मैं उससे बोला- अब जिस छेद में जाता है, तो जाने दो उसी में!और मैंने उसे घोड़ी बना कर उसकी चूत के छेद में ट्राई किया लेकिन मेरा लंड बार बार फिसल कर उसकी गांड पर ही लग रहा था. मैंने अपने हाथ दीदी की गान्ड पर रख दिए और तेज़ी से गान्ड को आगे पीछे करने लगा लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ तो मैंने दीदी को गान्ड पे हल्के से हाथ मारा और रुकने को बोला तो दीदी रुक गई और दीदी के रुकते ही मैंने खुद अपनी कमर को बेड से ऊपर उछालना शुरू किया और खुद तेज़ी से ऊपर नीचे होकर दीदी की चूत को चोदने लगा. मैंने उसकी ब्रा को भी खोल दिया तो अंदर से दो सफ़ेद कबूतर निकले… एकदम गोर और उठे हुए… उसके निप्पल भी उसके होंठों के रंग के थे यानि गुलाबी थे.

मैंने अंदर चड्डी नहीं पहनी थी तो पैंट उतार कर मेरी चूत यानी भाई अपनी बहन की चूत में अपनी जीभ लगा कर चूसने लगा. ” मैंने कहा और खुद को जोर से चिकोटी काट के सजा दी कि यह बात मुझे पहले क्यों नहीं सूझी कि बहूरानी मुझे ट्रेन से ही चलने के लिए क्यों जोर दे रही है. हिंदी सुहागरात की वीडियो सेक्सीहम आस पास जैसे चंडीगढ़, पटियाला, कुरुक्षेत्र, मोरनी, पिंजोर, वाटर पार्क आदि ग्घुमाने जाते रहते थे लेकिन सुबह को जाते थे और शाम को वापिस आ जाते थे.

पर मुझे दुख उसकी थप्पड़ वाली बात का था, जिसका मुझे हर हाल में बदला लेना था. अब वो फिर फटाफट से मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी और लंड चूस चूस कर ही साफ कर दिया.

इस बातचीत में जहाँ अमित लिखा है, वो उसका बॉयफ्रेंड है और जिधर मैं लिखा है, वो मैं हूँ. मैंने दरवाजा खटखटाया और आवाज दी तो रश्मि ने अन्दर से आवाज दी- भाई साहब, आ जाइए, दरवाजा खुला है. दस मिनट बाद तभी मैं धीरे से सुष्मिता मेम की नाभि पर पहुँचा और नाभि को चूमने लगा.

करीब आधा घन्टा बाद आई थोड़ी देर बिस्तर पर पड़ी रही, फिर करवटें बदलने में लग गई. रात के एक बज रहे थे, उनके कमरे में उन्होंने नीचे फर्श पर ही बिस्तर लगा दिए, हम सो गए।रात को एक दम लगा कि कोई मेरा पेंट खोल रहा है. बहुत देर तक किस करने के बाद मैंने कहा- मामी आप अपनी साड़ी उतार कर रख दो.

भाभी ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां ले रही थी, जो हमारे प्यार को और बढ़ा रही थी.

आज होली में मेरी चुदाई ऐसी कर दे कि मैं तेरे रंग में हमेशा की लिए रंग जाऊं. मैंने उसके चुचों को दोनों हाथों में पकड़ा और उसकी रसभरी चुचियों को दबाने लगा, चूसने लगा.

अब वो बोली- मेरे राजा भैया, आज तृप्त कर दे अपनी बहन रानी को!मैं अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा. तभी मैंने भी दीदी को कमर से पकड़ा और तेज़ी से खुद के जिस्म को बेड पर गिरा दिया और दीदी को भी अपने साथ पलट दिया और फिर जल्दी से पीठ के बल हो गया. मेरी पिछली एडल्ट स्टोरीभाभी ने मेरा लंड चूस कर दिया ब्लोजॉबभी ऎसी ही थी.

तभी एक अंकल बोले- यार, आरती के नीचे मैं हो जाता हूं और इसकी मस्त गांड में मैं अपना लंड डाल देता हूं, आरती तुझे बहुत मजा आयेगा अगर एक साथ चूत और गांड चुदवाओगी. फिर मैं उसकी चूत को हाथ लगाने लगा तो उसने मेरा हाथ हटा दिया और बोली- प्लीज़ तुमने दूध को टच करने का वादा किया था. मैं अपनी सीट से खड़ा हो गया और उसका सर पकड़ के ज़ोर ज़ोर से उसके मुंह को चोदने लगा, मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाला जिससे वो सांस भी नहीं ले पा रही थी, उसकी आवाज़ बंद हो गयी थी गुपप्प्ग प्प्प हहहा आअक ककक काह हहहाआ सीईई ईईई…”अब मैंने देर ना करते हुए अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा जिससे उसकी आवाजें और बढ़ने लगी, वो सब कुछ भूल चुकी थी बस चुदने का मज़ा ले रही थी.

देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो तो मैं कैसे गुस्सा कर सकती थी, मैंने कहा- ठीक है, पर दरवाजा तो खटखटाया करो. या शायद इतने दिनों के बाद मिल रहा था तो शायद मुझे उसका फिगर ज़्यादा ही अच्छा लग रहा था.

બંગાલી સેક્સ

मैं- यार डर लगता है कि कुछ गलत ना हो जाए, अभी उसे इतना नहीं जानती हूँ तो जाकर कैसे मिल लूँ?दिव्या- यार तुम भी… इतनी स्मार्ट हो, आज के युग में हो और डरती हो. आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है, आप मुझे अपने विचार मेल से भेज सकते हैं. मुझे तो जैसे जन्नत मिल गई हो… क्योंकि ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था, इससे पहले मैंने कभी किसी को नहीं चोदा था… पर अन्तर्वासना पर लगभग सारी कहानियां पढी हैं तो मुझे पता था कि कैसे चोदना है.

वो तुम दोनों से भी चुदवाने की इच्छा रखती थी, पर ये बात वो कभी तुम्हें बता नहीं पाई और वक़्त से पहले ही गुजर गई. तो कैसे रही मस्ती?”बड़ा मजा आया सविता तुम्हारी नाइटी में देख कर तो वो पागल हो गया था. इंदौर की सेक्सी वीडियो हिंदी मेंआज मैंने गुस्से में उसका नाड़ा तोड़ दिया और कहा कि आज खेल करके ही जाऊंगा.

मौसी- हहह आहह रोहण… कितना तड़पाते हो! रोहण आज तो जी भर कर चुदाई करवाऊँगी! कर दो शांत मेरे मन को!हां रानी, तुम कितना अच्छा चुदाई कराती हो! मजा आ जाता है!”हह हाँ… और करो और हइ इइ इइइइ आह… बस बस रोहण, बस करो!”तभी मौसी खड़ी हो गई, रोहण अपने दोनों हाथों से मेरी मौसी के मम्मों को सहलाने लगा, दोनों आपस में चुम्बन करने लगे.

लेकिन पिछली बार की डाँट की वजह से मैंने इस बार भाभी पर कोई भी रहम नहीं किया और ताबड़तोड़ 2 जोरदार धक्के पूरी ताकत के साथ लगा दिये. उस दिन चाची को मैंने गौर से देखा, उनके हर एक अंग का नाप आँखों में भर लिया.

हमने आई डी प्रूफ दिया, जब सारी फॉरमिलिटी हो गईं, तो वो लड़का मुस्कुराया और उसने कहा- सर आपकी वाइफ बहुत सुन्दर हैं, एन्जॉय कीजिये. भाभी बोलीं- अब सर ही हिलाता रहेगा या अब मुझे गरम भी करेगा?मैंने भाभी से कहा- मुझे नहीं आता आप ही बताओ?भाभी ने अपना माथा पकड़ लिया और बोली कि मैं किस अनाड़ी के चक्कर में पड़ गई?मैं उनकी तरफ चूतियों सा मुँह बाए खड़ा था. वो बहुत खुश थी, उसने मुझे मुँह साफ़ करने के लिए अपना वही तौलिया दे दिया.

जब उन्हें होश आया तो वो अपने आपको संभाल कर शरमाते हुए खड़ी हो गईं और कहा- दरवाजे खिड़कियां बंद कर दो.

वो बर्फ देख कर चिढ़ने लगीं और बोलीं- अब क्या चाहिए तुम्हें…?मैं बोला- अरे मैं तो बस तुम्हारी गांड और चूत को आराम दिलाने के लिए लाया था, तुम्हें जलन हो रही होगी ना…!वो बोलीं- हाँ, दर्द तो हो रहा है, पर तुम रहने दो… मैं खुद ही लगा लूँगी. फिर रिया ने अपना लंड मेरे मुँह में पेल दिया और धक्के मारने लगी, मेरे मुँह को अपने लंड से चोदने लगी. उनकी मौन स्वीकारोक्ति से मैं आगे बढ़ता गया और कभी मैं उनकी आँखों को चूमने लगा और फिर उनके चेहरे को.

देसी सेक्सी हॉट फोटोअब हम दोनों भाई बहन हर रोज सेक्स करते हैं और रातों रात जागते हुए चुदाई करते रहते हैं. तभी मैंने भी जोर से पिचकारी मारी, फच्चच… से अपनी चूत का सारा पानी सास के मुँह में पेल दिया और मेरी सास ने चूत को चाट कर साफ किया.

સની લીયોની વીડીયો

जब तू अपना लंड मेरी चूत में डालेगा तो तू मुझ पर जरा सा भी रहम मत करना, चाहे मैं दर्द से कितनी भी चीखूँ चिल्लाऊं मतलब तू अपना लंड मेरी चूत में डालते समय तू रुकेगा नहीं और जब तक तेरा पूरा लंड मेरी चूत में घुस नहीं जाए, तब ही रुकना ओके. मैंने उसकी पैंटी उठाकर पहनाई और उसने अपने कपड़े डाल लिए और मैंने भी. पूनम ने मुझ से पूछा कि यहाँ घूमने लायक क्या है?तो मैं बोला- पूनम, यहाँ मैं तुमको कुछ दिखाने लाया हूँ.

बड़े गले का सूट पहनती है वो जिससे उसके मम्मे बाहर निकलने के लिए बेताब रहते हैं! मेरा तो दिल करता है बस अभी पकड़ के चूस जाऊँ!मैं उसके घर जाता रहता हूँ जिस कारण मुझे उसके हुस्न के दीदार होते रहते हैं. ये महेश तुझे क्या बोल रहा था और इतनी जल्दी में दिव्या के साथ कहां गया है?सुदेश- वो यार महेश बोला कि दिव्या को अपना घर दिखाने जा रहा हूँ, तुम सब मत आना. लेकिन मैंने उसके दोनों हाथ पीछे करके पकड़ लिए और धीरे धीरे उसकी गांड मारने लगा.

मैं बोली- अब समझी तुम्हें गांव शादी में जाने नहीं मिला इसलिये मुझसे नाराज हो. मैं और थोड़ा गुस्से से बोली- क्या मतलब है तुम्हारा?अमित- कुछ नहीं बस ड्रेस अच्छी है. वो बोली- प्यार से भाई!मैं पूरा कट्टर मर्द की तरह उस पर टूट पड़ा और उसकी पैन्टी को फाड़ के फेंक दिया.

मैंने अन्नू भाभी से पूछा- तुम थक तो नहीं गईं जान?अन्नू भाभी बोलीं- आज इतना मजा आ रहा है. वो चूचियों को चुसवाने की वजह से मस्ती में आ रही थी और दर्द को भूल रही थी.

कहानी का पहला भाग :योगा से योनि तक-1कहानी का दूसरा भाग :योगा से योनि तक-2मेरी कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने गोवा में अपनी बीवी को योगा टीचर से चूत की चुदाई कराते देखा.

मैंने जोर से धक्का मारा तो अमित दूर होकर खड़ा हो गया और मुझे फटी निगाहों से ऐसे देखने लगा कि कोहिनूर हीरा देख लिया हो. 1 मिनट की सेक्सीउसे कुछ पता नहीं लगा कि अभी अभी कमरे में क्या गुल खिलाया है मैंने!मैंने हाथ धोये ए रसोई में गया तो सुल्ताना बरतना मंज रही थी. कोई लड़की सेक्सी फिल्ममैं जब भी चूत में अन्दर तक जीभ को ले जाता, तो वह एकदम से सिहर जातीं, कभी अपने चूत के लबों को मेरे मुँह पर कभी जोर से दबा देतीं तो कभी हल्का छोड़ देतीं. अंजलि दीदी चुदाई के मामले में पूरी अनुभवी थी, चूत में लंड घुसते ही वो मुझे और भी सेक्सी तरीके से चूमने लगी.

उसके दिमाग में पता नहीं क्या सूझा कि वो हल्के से मुस्कुराई और बोली- तुम लोग घबराओ नहीं.

बहुत प्यारी है रे तू… तेरी जैसी कच्ची गांड मारने में बहुत मज़ा आता है. लेकिन यहाँ कोई देख न ले?” मैंने खुली हुई कार की सीट पर सैट होते हुए अपनी गांड ऊपर करते हुए कहा. वो अपने बाथरूम में घुसीं तो मैं उनके पीछे बाथरूम में घुस गया और दरवाजा बंद कर लिया.

लेकिन वो वाली बार थी तो उसे वो हटा भी नहीं सकता था, इसलिए उसमें उसने कुछ नहीं किया. मैं भी तंग हो गया कि साली मिलती ही नहीं है, मैंने उसे इग्नोर करना शुरू कर दिया. तो उसने मुझे रूकने का इशारा किया, फिर खुद ही पैन्ट व अंडरवियर खोल कर धान के पुआल पर लेट गया.

मराठी बीपी एक्स एक्स

है ना सही?मैं सोचने लगी कि क्या होता है इन दोनों के बीच में? तब तक मैं सेक्स के बारे में ज्यादा नहीं जानती थी. मम्मी भी नीचे से अपने चूतड़ उछाल उछाल कर चुत चोदन करवा रही थी- आआह चोदो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आ और जोर से…पट पट की अवाज से कमरा गूँज रहा था।ससुर जी ने मम्मी की चूत से लंड निकाल कर नीचे लेट गये, मेरी मम्मी को अपने लंड के ऊपर बिठा कर उनकी चुदाई करने लगे। मम्मी भी ससुर जी के लंड की घुड़सवारी कने लगी, उछल उछल कर चुत चुदाई करवाने लगी. उनकी टांगें मेरी कमर पर चिपक गई और सुरेश अंकल का हथोड़े जैसा लंड मेरी चूत में सट गया.

फिर अगले दिन मैं जल्दी से पीछे गया और उनके आने के बाद मैंने फ़ोन पर बात की और उनसे अपने ब्लाउज़ खोल कर अपने मम्मे दिखाने को कहा तो उन्होंने मना कर दिया.

अब मैं आपको वो बात बताता हूँ जिस हादसे ने मेरी लाइफ पूरी ही बदल दी.

और हम रेडी हो गए।मैंने आज ऑरेंज रंग की साड़ी और डीप नैक ब्लाउज पहना था. तभी अचानक से मैंने देखा कि वो भी अपनी गांड को पीछे की ओर धकेलने लगी थी. सेक्सी सेक्सी सेक्सी ब्लू ब्लू ब्लूमैं मन में सोचने लगी कि अमित ने कितना करने का कहा था और कितना किया है.

मैंने पूछा- चाचा आपने भी कभी मराई?चाचा- हां आर्मी में मराई थी, जब दूर जंगल में जहां न आदमी, न औरत. उसने एक दो लड़कियों के नाम लिए, तब मैं समझा कि जो मैंने उसके भाईयों को झूठी स्टोरीज़ सुनाई थीं ताकि वो मुझ पर शक ना करे और हमारी दोस्ती बनी रहे. एक दिन जब मैं अपने दोस्त के ऑफिस की बिल्डिंग में घुसा तो वो बाहर जाती हुई नज़र आई, उसकी आँखें भरी हुई थीं और वो लगातार आँसू पोंछती हुई जा रही थी.

मैं उसके बोबे जोर जोर से दबाने लग गया और एक हाथ से उसका दूसरा हाथ पकड़ लिया. मैं रोज रात को उसे किस करने जाता, तो कोई न कोई बहाना करके मना कर देती.

थोड़ी देर बाद भाभी के घर में संजय जाता हुआ दिखा, मुझे समझ आ गया कि भाभी ने मुझे घर क्यों भेज दिया.

मेरी मम्मी राधिका ने हिचकिचाते हुए उस नीग्रो के बॉक्सर को पूरी तरह से निकाल दिया. फिर गर्मियों की छुट्टियां आई, मैं फिर मामा के घर गया, खुशबू की छुट्टियाँ एक दिन बाद से शुरू होने वाली थी, मैं उसके कॉलेज से आने से पहले ही उसके घर पहुँच चुका था. मुझसे उनकी खूबसूरती देखकर रहा नहीं गया और मैं उनके पास पहुँच गया, मैंने उनसे पूछा कि उनका सीट नंबर क्या है?वो बहुत ही मीठी आवाज में बोले- बेटा मेरा टिकट 68 वेटिंग में है.

सविता भाभी कॉमिक्स इन हिंदी जब मामी ने मेरा लंड अपने हाथ में लिया तो उन्होंने कहा- तेरा लंड तो बहुत बड़ा है. करीब 3-4 मिनट के फिंगर सेक्स के बाद मेरी चुत से ढेर सारा वीर्य निकला और मेरी जाँघों पर बहने लगा.

चाचा जी ने आकर सासू माँ से थोड़ी बातें की, मैं कमरे में बैठी उन दोनों की बातें सुन रही थी और मेरी आँखों से आंसू बहे जा रहे थे. करीब 2 महीने बाद अमित मुझसे मिलने आया और मुझे गले लगाया और बताया कि आज तुमको एक पार्टी ज्वाइन करनी है तो तैयार हो जाओ. हम सगे भाई बहन हैं और तुम ऐसा सोच रही हो?मीना- कल जब मैंने तुम्हारे लंड का पानी चखा, तब से मैं पागल ही हो गई हूँ.

देहाती सेक्सी गांव वाली

कहानी का पहला भाग:ननद को अपने पति से चुदवाया-1अब तक आपने इस चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मेरी ननद मुझे अपने पति सागर के बड़े लंड से चुदते हुए देख रही थी. उसकी चूचियां कड़क हो गई थीं, मैं आपको बता नहीं सकता दोस्तो कि मुझे इस खेल में कितना मजा आ रहा था. मैंने अपनी मामी की कामवासना को काफी बढ़ा दिया था, वो मुझसे कहने लगीं- अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

उसका लंड खड़ा हो गया, उसके बाद उसने मेरी गर्दन पकड़ कर नीचे कर दिया और लंड को चूसने के लिए कहा. उसके सैंडल्स और हाइट की वजह से वो मुझसे ऊँची थी तो उसने झुक कर मेरे होंठों को चूमा और अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी.

वो बोले- रंजना तुम नहीं जानती, मैं तुम्हे कब से चोदने के सपने देख रहा हूँ.

फिर जब मम्मी दूसरे कमरे में गयी तो बहन को गले मिला, मैं कभी गले नहीं मिलता था पर उस दिन मिला और अपनी बाहों में उठा लिया. मैं तुम्हारे पापा की उम्र का हूँ?”बेबी दिखती हूँ लेकिन मैं तो बेब हूँ… मस्त बेब… अंकल, आपसे पहले ले चुकी हूँ कई दोस्तों का. मैंने अपना लंड चूत के छेद पर रखा और उसके ऊपर उसको शोल्डर से पकड़ कर लेट गया क्योंकि मुझे पता था कि ये सील पैक है तो लंड के दर्द से छुड़ाने की कोशिश करेगी.

आज तुम्हें सब कुछ मिलेगा और इतना मिलेगा कि तुम्हें किसी बात का कोई पछतावा नहीं रहेगा. कई बार उनके कमरे से चुदाई की आवाजें, सीत्कारें, बेड की चरमराहट भी सुनी है. मैंने मस्ती करते हुए कहा- उसको मैंने बाहर भेज दिया क्योंकि तुम्हारे साथ थोड़ा अकेला टाइम चाहिए था.

पूरे 6 साल हो गए, तुम छोटी थीं तब से तुम्हें पागलों की तरह प्यार किया है.

देहाती बीएफ देहाती बीएफ वीडियो: तब मुझे पता लगा कि मैं जिस ट्रेन से जा रहा था, वो भी उसी ट्रेन से जा रही थी क्योंकि ट्रेन लखनऊ होकर जाती थी. मैं बोली- वर्षा तेरी तबियत कैसी है?वो बोली- दीदी आज तो मेरा मन पढ़ाई में ही लगा रहा.

उसने अपना मस्त लंड अपने अंडरवियर से निकाला और मेरी गांड के ऊपर टिका दिया. कहानी का पहला भाग :लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-1मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे हम दोनों सहेलियों ने ट्रेन के केबिन में दो लड़कों से चुत चुदाई करवा कर अपनी कामुकता को शांत किया. यह सेक्सी कहानी तब की है जब एक कंपनी में बात करने गया था, वहाँ की एच आर से मिल कर कुछ बातें करनी थी.

तो लण्ड थोड़ा सा अन्दर गया और आंटी के मुँह से हल्की सी चीख निकली- उह… हाह…मैंने दूसरा धक्का लगाया और पूरा लण्ड अन्दर डाल दिया तो आंटी ज़ोर से चीख उठीं और कहने लगीं- ओह.

जैसे अंधे को बटेर लग गई हो… मैंने उसके हाथों को दबाया और बोला- बस पगली, इतनी सी बात!ये बोलते ही मैंने उसके होठों पर होंठ लगा दिए और वो भी मेरा साथ देने लगी और स्मूच करने लगी. मॉम उस नंबर पर फोन कर रही थीं, उसको मैंने स्विच ऑफ किया हुआ था और प्रेग्नेन्सी टेस्टर लेकर सीधे मॉम के रूम में आ गया. उन दिनों मैंने अपने लंड की बड़ी ज़ोर शोर से मालिश करके तगड़ा बना लिया.