होली का बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,इंग्लिश सेक्सी ब्लू वीडियो फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी देहाती सेक्स बीएफ: होली का बीएफ सेक्सी, मैं और भाभी पास में ही खड़े थे तो मेरा शरीर उनके बदन को टच कर रहा था.

राजा महाराजा का सेक्स

शाम को उसके हसबैंड को कॉल आई तो उन्हें किसी काम की वजह से अपने किसी दोस्त के साथ दिल्ली जो 250 किलोमीटर दूर है, जाना है. नंगा लड़कामैं बिना कोई उत्तर दिए चुपचाप तरुण के तने लिंग को सहलाते हुए सोचती रही कि उसके द्वारा कही गयी बात से अपनी सहमति कैसे व्यक्त करूँ.

थोड़ा झुक कर लंड मोनिका की गीली हो चुकी चूत पर रख कर चुदाई चालू कर देता. भोजपुरी गाना के साथ सेक्सीउन्होंने मुझे अन्दर बुला कर बैठाया और बोलीं कि मैं बीयर लेकर आती हूँ.

लड़कियों के नखरे, क्या करें? चूत पाने के लिए तो करना ही पड़ता है।फिर रात को करीब 12.होली का बीएफ सेक्सी: एक ही दिन में तूने अपने जीजू को पटा लिया, आईसक्रीम मंगवा ही ली तूने.

मैं नहा ही रही थी कि शहज़ाद भी अंदर आ गया फिर उसने सैफिना को भी बुला लिया.मैंने लोअर टांगों से निकाल दिया और लंड को उसकी चुदासी चूत में डाल दिया.

प्रियंका चोपड़ा फुल सेक्सी वीडियो - होली का बीएफ सेक्सी

जब सलवार नीचे गिर गई, विकी ने पीछे से ज़िप खोलते हुए कमीज़ उतार दी.चाची- झूठ मत बोल, ऐसा क्या है मुझ में जो तू घूरता रहता है?मैं उन की बातें सुन कर अपना आपा खो रहा था.

अब तक चुदाई की सेक्सी कहानी में आपने पढ़ा कि फ्लॉरा को बचपन में एक बड़ी ही अजीब सी बीमारी हो गई थी त्वचा की… डॉक्टर ने उसे कपड़े पहनने से मना किया था. होली का बीएफ सेक्सी तो मैंने कहा- सुमन जी फिर तो आप मेरे साथ ही जाया करो क्योंकि मैं भी उत्तम नगर में ही रहता हूँ.

मैं अबचाची की गांडभी मरना चाहता हूँ पटा नहीं मौक़ा मिलेगा या नहीं? और अगर मौक़ा मिला तो चाची अपनी गांड मरवायेगीं या नहीं? या मुझे सिर्फ चाची की चूत चोद कर गुजारा करना पडेगा.

होली का बीएफ सेक्सी?

थोड़ा और नीचे हो कर पप्पू की गांड के दोनों गोलों को अलग करके उसके छेद पे अपनी जीभ रख कर रूपा पागल बिल्ली की तरह चाटने लगी. सच में बहुत टेस्टी हैं भाभी!भाभी मेरी बात सुन कर मुस्कुरा उठी और फिर पकौड़े खाने लगीं. कोमल मुझे लेस्बियन का मजा दे रही थी और पीछे से मणि ने कोमल की चूत चूस चूस कर लाल कर दी और फिर उसने पीछे से ही उसकी चूत में लंड पेल दिया और चूत चोद चोद कर चौड़ी कर दी.

कहानी का पहला भाग:नव विवाहिता की कामुकता को अपने लंड से शांत किया-1कहानी का दूसरा भाग:नव विवाहिता की कामुकता को अपने लंड से शांत किया-2अब तक आपने मेरी पढ़ा कि मैं अपने ऑफिस की नई शादी हुई लड़की को उसकी मर्जी से उसके घर में एक बार चोद चुका था. किसी कपड़े से मत पोंछना, डॉक्टर ने टिशू पेपर्स बताए हैं उन्हीं का यूज करना है. उसके मुँह से ऐसा सुन के मैं डर गया और मैंने बोला- प्लीज़ आप अपनी सीट पर बैठ जाओ.

उसने मुझे देखा और थोड़ा बगल में हो कर मूतने लगा लेकिन मैं उसके कातिल लंड को ही देखे जा रहा था और उसके नज़दीक पहुँच गया. उसकी बात सुन कर मेरी आँखों से अश्रु निकल आये और मैंने कहा- मुझे खुद नहीं मालूम कि मैंने कहाँ जाना है. मॉम बोलीं- आँखें और हंसने का अंदाज़ तो मेरी समझ में आया, पर साफ़-सफाई की बात समझ में नहीं आ रही है.

हाय दोस्तो, मैं निकिता फिर से एक बार आप सबको मेरी धांसू मेरी इंडियन लेस्बियन सेक्स स्टोरी सुनाने आयी हूँ. मैं उसकी चुत के पास अपना मुँह लेकर गया तो वो उसमें भी मना कर दिया कि नहीं ये सब मुझे अच्छा नहीं लगता.

मेरी सासू माँ और ससुर जी दोनों सरकारी मुलाज़िम है ससुर जी भी और सासू माँ सरकारी टीचर.

उन 3 दिनों में मैंने उन्हें करीब 20 बार घर के हर कोने में हर आसन में चोदा.

जब तक मुझे अपनी योनि में तरुण के लिंग को समायोजित करने में कुछ समय लगा तब तक वह रुका रहा और जब मेरे चेहरे पर सामान्य भाव आये तब उसने धक्का लगा दिया. अब उसे एहसास हो रहा था कि उसकी चूत में लंड नहीं घुसा तो वो बहद बेकाबू हो जायेगी. मैंने उसकी चूत को उंगली से सहलाया तो उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और लगभग 15-20 मिनट की पलंग तोड़ चुदाई करके आखिर कार अपने लंड से वीर्य की पिचकारियाँ मार मार कर उसकी चूत को भर दिया. रीना ने डोर को भिड़ा दिया और लाइट बंद करके कविता से चिपट कर लेट गयी. काम पूरा करने के बाद चिंटू भी आ गए, उसके बाद उन दोनों ने बीच पर चलने का मन बनाया, मैंने भी हाँ कह दिया और मैंने तुरन्त ही रोस्टन को मेल किया और जिस बीच पर हम जाने वाले थे, उसका नाम भी बता दिया.

मैं गर्म हो गई थी और समर्पण भी कर चुकी थी, मेरे को अब कुछ और चाहिए था; जी हाँ कुछ और…फिल्म खत्म हुई तो मैं उनसे नज़र नहीं मिला पा रही थी.

बाद में जब मैं उसकी बुर को चाटने लगा तो उसे इतना मजा आने लगा की वह बुरी तरह से सिसकारियां लेने लगी। फिर कुछ देर में ही वह झड़ गई. मैं उससे हाय बोल कर घर चला गया और रात भर मुझे सोच-सोच कर नींद नहीं आई कि मैं कल आंटी के साथ क्या क्या करूँगा. इतना बोलकर सब लड़के हंसने लगे और मेरे अंगों को मसल रहे थे, मैं समझ गई थी कि आज ही लोग बिना चोदे मुझे जाने नहीं देंगे.

इस बारे जब मैंने उनसे पूछा- ये कौन है?तो उन्होंने बताया कि ये मेरी बेटी हैं. मेरे घर के सामने ही एक नई फैमिली रहने आई थी, उनकी फैमिली में एक लड़का, दो लड़की और उनके मम्मी पापा थे. तुझे इस खेल के बारे में क्या-क्या पता है?नीतू- नहीं दीदी मुझे कुछ नहीं पता.

जब दूसरी बार शहज़ाद का पानी गिरने को हुआ तो उसने मुझे सीधा करके नीचे किया औरलंड मेरी चूत में डाल दिया.

अब थोड़ा अँधेरा होने लगा था और एक के बाद एक मेरी आंखों के सामने कोई मस्त लौन्डा आ जाता और मेरे जिस्म में उथल-पुथल मच जाती… मेरा जी करता कि बस इन जवानी के मस्त मर्दों को अपनी बांहों में भर लूँ और जिस्म की मदमस्त खुशबू में डूब जाऊँ… साले इतने सारे एक से बढ़ कर एक जवान जिस्म आखिर कहाँ से आये हैं… और आज मैं जब अपने दोस्तों के साथ हूँ तभी ये लौन्डे मुझे मिलने थे. मैंने अपने राइट हैड से उसकी एक टांग को ऊपर किया और साइड से उसकी गांड पे जोर का थप्पड़ मारा- साली.

होली का बीएफ सेक्सी इतना जच रहा था वो पहनावा हम दोनों को। ट्रांसपेरेंट होने की वजह से सारे अंग उभर कर दिख रहे थे. वो सोच रही थी कि किसी का मोटा और लम्बा मेरी चुत में घुस जाए तो चुत को चैन मिल जाए.

होली का बीएफ सेक्सी ‘उफ्फ… बालों से भरी चौड़ी छाती… बाजू की मजबूत मसल्स, चौड़े और सुडौल कंधे, थोड़ा पेट निकला था, उस पर से गहरी नाभि, सीने से नीचे शॉर्ट्स के अंदर जाती एक बालों से भरी सीधी रेखा, क्लीन शेव घनी मूछें…उफ्फ्फ कितने सेक्सी लग रहे थे आशीष! दिल मेरा भी डोल गया. तो बोला- हाँ क्या करूँ?तो मैंने बिल्कुल बेशर्मी से उसके लंड की तरफ देखा और बोली- मगर इतनी जल्दी कैसे?तो बोलता है कि क्या करूँ मैं.

मैंने दौड़ कर बाहर आकर संगीता को संभाला, उसे उठाया तो मैंने देखा कि उसके सारे कपड़े मिट्टी और कीचड़ में खराब हो गए थे.

बफ वीडियो में सेक्सी

मैं बिस्तर पर ही लेटी रही, उन्होंने उनके माल निकलने के बाद वो दोनों मेरे दोनों कन्धों पर सर रखकर लेट गए, दोनों तेज हाँफ रहे थे, मैं भी आँखें बन्द करके उन दोनों के बालों को सहला रही थी और वो दोनों मेरे बूब्स और निप्पल पर उंगली घुमा रहे थे. मैंने उसके दोनों पैर अपनी कमर के ऊपर लिए, जिससे उसकी चुत ऊपर की तरफ हो गई. उसके बाद मैं अपना लंड उनकी चुत पे रगड़ने लगा, जिससे वो तड़प उठीं, मौसी बोलीं- करण प्लीज़ अब ज़ल्दी से इसे मेरी चुत में डाल दो, वरना मैं मर जाऊंगी.

बस में इतना सब फ्री सेक्स करने में न मुझे डर लग रहा था न उसे… क्योंकि सब सो गए थे. तभी मणि मेरे होंठ चूसने लगा और अपना लंड हाथ से मेरी चूत के छेद पर पर अच्छे से लगा कर जोर से एक झटका दिया. एक बार तो वो हड़बड़ा गई मगर फिर उसने सारा रस गटक लिया और जब रस ख़त्म हो गया तो लंड को अच्छे से चूस कर साफ कर दिया.

थोड़ी देर उसकी चूत चूमने के बाद मैंने उसे इशारा किया तो दीपिका ने अपनी टी-शर्ट को उतार दिया.

फिर उन्होंने मेरे सामने ही अपनी साड़ी उतार दी और फिर दूसरी तरफ घूम कर मेरी तरफ पीठ करके अपना ब्लाउज भी उतार दिया और मैक्सी पहन ली. पप्पू का मुँह मम्मे पे दबा कर वो बोली- ले मेरे मम्मे चूस कर मेरे दर्द को ज़रा तसल्ली दे. सुमन ने आज पिंक टॉप और येलो स्कर्ट पहनी थी, जिसमें उसका निखार अलग ही नज़र आ रहा था.

तो हम सभी ने तय किया कि हर स्टूडेंट 1-1 गाँव जाएगा और एक दिन में सारे गाँव पूरे हो जाएंगे. क्या तुम मुझे ये दिखा सकते हो?मैंने कहा कि ऐसी मूवी तो मैंने भी नहीं देखी. उस रात मैंने चार बार उसकी चुत की बेरहमी से चुदाई की और सारी रात उसके साथ ही काटी.

सुमन जब घर गई तो उसका खिला-खिला चेहरा देख कर पापा जी ने उसे रोक लिया- आ गई मेरी राजकुमारी. फिर 2-3 महीनों में उसने हमारे घर से अच्छे रिलेशन बना लिए थे और हमारे घर कभी भी आ जाया करता था.

मस्त लगती है मुझे तो!” बहूरानी ने अपनी कमर पीछे ला के लंड लीलते हुए कहा. वो तो बहुत जल्दी ही ढीला पड़ गया और ढेर सारा माल मेरे गले में ही छोड़ दिया. टीना की बात सुनकर फ्लॉरा ने कुछ सोचा, फिर बोली- यार तू मेरी बात सुन.

उस दिन शनिवार था और मैं अपने कमरे में बैठ कर किताब पढ़ रहा था कि अचानक कुछ गिरने की आवाज़ आई.

पिंकी- किसका लंड लेती थी वो?मैं- मेरे घर एक नौकर था उससे चुदवाती थी. फिर भी तेरी बड़ी ही इच्छा है, तो चल मार ले गांड लेकिन आराम से मारियो. मेरे अंदर मादक से अंगड़ाई जन्म लेने लगी, सोच रही थी कि इतना विशालकाय लंड मेरी छोटी सीकुंवारी बुरमें कैसे जायेगा.

मेरे वजन और दबाने के अहसास से वो उठ ना पाईं और दुबारा बिस्तर पर गिर गईं. मेरा वीर्य उसकी चूत से बह कर निकलने लगा और जब वह उठी तो ढेर सारे वीर्य से उसकी बेड की चादर भीग गई थी.

रूपा को पप्पू का पेशाब अपनी माँग और पूरे बदन पे सोने के पानी जैसा लगा. वो मांग भरे हुए थी जिससे ऐसा लगता था कि उसकी अभी नई-नई शादी हुई थी. मैं तो आज सुबह ही इस घर में आया था तो यहां के भूगोल का मुझे कुछ भी अंदाजा नहीं था कि किधर सोफा रखा है; एक तरफ फिश एक्वेरियम भी था जहां रंग बिरंगी मछलियां तैर रहीं थीं लेकिन उसमें भी अंधेरा था.

भोजपुरी बीएफ ब्लू सेक्सी

मैं धीरे से उसके पास गया… और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया, उसके दोनों चुचे उछल कर बाहर आ गए.

जब पापा कभी काम से टूर पे जाते हैं तो मम्मी उस नौकर के साथ अपने बेडरूम में रात भर रहती हैं. मॉंटी तो चुदाई से एकदम अनजान था उसको समझ ही नहीं आ रहा था कि इसमें लंड घुसेड़ने से क्या मजा मिलेगा. लंड चूसना तो मुझे पहले से भी पसंद था तो मैं लंड चूसने के मजे में खो सी गई.

तभी नेहा को मैंने कहा- अब बोल साली, डरती तो तुम लौड़े की झांट से नहीं… है न, तो सुनो… हम भी चूत की झांट से डरने वाले मर्द नहीं हैं. यह सुन कर मामा जी ने मेरे निप्पल को ज़ोर से मसल दिया, मैं चीख उठी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और बोली- इतनी ज़ोर से क्यों मसलते हैं, दर्द होता है. चोदी चोदा हिंदीमैंने थोड़ा सा पानी पिया और भाभी को मैंने बिस्तर पर खींच लिया और फिर से चूमा-चाटी शुरू कर दी.

मैं पूरी ज़िंदगी उसे याद रखूंगा क्योंकि मेरी देखी और फील की हुई पहली चुत अनुराधा की थी. वैसे नीता तूने भी अभी तक मुझे खुल कर बताया नहीं कि वो लड़के क्या छेड़ते हैं और तेरा यह जिस्म कहाँ टच करते हैं?नीता भी अब गर्म हो गई थी और उसने पप्पू की टी-शर्ट को उतार दिया.

वे दोनों भी मेरी सेक्स की ज़रुरत का ध्यान रखते और मुझे मिल कर तृप्त कर देते. फिर दीदी ने मुझसे पूछा- तुझे मैं क्यों इतनी अच्छी लगती हूँ?मैंने कहा- पता नहीं दीदी. खाना खा कर नलकूप पर बर्तन साफ़ करे तथा झोंपड़ी की साफ़-सफाई करने के बाद बेटे को ले कर हवेली वापिस आ गयी.

फिर विनय से बोली- विनय, इसको चूत चटवाना बहुत अच्छा लगता है… ध्यान रखना. जैसे-जैसे जॉय के हाथ फ्लॉरा के मम्मों पर घूम रहे थे, उसकी उत्तेजना बढ़ती जा रही थी. मैंने जाकर देखा तो वो सही था, मतलब वो मुझे रोज नंगी नहाते हुए देखता था.

अब तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने पीछे से ही उसके कड़क मजबूत डोले को पकड़ लिया.

आगे आप शनाया की देसी कहानी उसी के शब्दों में पढ़ें!मेरा नाम शनाया है, मैं मुंबई शहर में रहती हूँ, मेरी उम्र इस वक़्त 27 साल है और ये वाकया मेरे साथ अभी कोई 6 महीने पहले घटित हुआ, मैं इस अन्तर्वासना साइट की सभी कहानी रोज़ पढ़ती हूँ और काफी सालों से पढ़ती हूँ. मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा ताकि मैं आगे और भी अपनी स्टोरीज आपको भेज सकूं.

उस लड़के ने मुझे टेबल के ऊपर लिटाया और बिना कुछ कहे अपना मुँह मेरी टांगों के बीच घुसा दिया। सुरूर ऐसा था कि मेरे मुँह से एक घुटी हुई चीख निकल गई. तब उसने रीना से पलटने को कहा और उसका टॉवल अपने आप ही उसकी छाती और चूत पर ढक दिया. ये अलग किस्म की लॉलीपॉप है इसको चूसते रहो, फिर लास्ट में इसका फ्लेवर चेंज हो जाता है और ढेर सारा रस एक साथ निकलता है जो नमकीन होता है.

अब मेरा लंड तुम्हारी चुत और गांड का पति हो गया है और तुम पूरी तरह से औरत बन गई हो. मैंने भी 20-25 जबरदस्त शाट लगाकर उसकी चूत को अपनी वीर्य की पिचकारियों से भर दिया. मैं बोला- गुड़िया रानी, अब मैं एक बार अब तुम्हारी गांड भी मारना चाहता हूं।गुड़िया डर गई, वह बोली- मौसाजी, मेरी गांड का छेद बहुत छोटा है उसमें आपका इतना मोटा लंड नहीं जाएगा.

होली का बीएफ सेक्सी मैंने उससे फोन पर कहा- मैं तुमको लेकर ही जाऊंगा, नहीं तो यहीं खड़ा रहूँगा. दूध पी कर मुझे फिर जोश आ गया और मैंने वैशाली को फिर से बेड पर लिटा लिया और उसकी टांगों के बीच में बैठ कर टांगों को घुटनों तक मोड़ कर, लंड अंदर पेल दिया.

बिहारी बिएफ

बस इसी लिए उसने फ्लॉरा को ये बात कही और फ्लॉरा भी ये बात जानती थी तो उसने भी ‘हाँ’ कह दी. मैंने घर का दरवाजा बंद किया और उसे अपनी गोदी में उठाकर अपने कमरे में ले आया. कसम से अगर वो पूरी जवान होती तो मैं उसकी इतनी चुदाई करता कि उसकी चुत लाल हो जाती.

मेरी गर्लफ्रेंड पूरी नंगी थी, उसकी माँ ने बेल्ट ले कर मेरी नंगी गर्लफ्रेंड को खूब मारा. वो मुझे एक हफ्ते से ज्यादा अपने पास नहीं रखेगा क्योंकि उसे हमेशा नई नई लड़की चाहिए. उत्तराखंड की सेक्सीकुछ देर और मुझे ऐसे ही चोदने के बाद रोस्टन ने कहा कि वो भी पानी छोड़ने वाला है, यह सुन कर चिंटू और परीक्षित ने भी उनके लंड को बाहर निकाल लिया.

वहाँ जो नज़ारा देखा, उसे देख कर तो मानो मेरे दिल की ख्वाहिश पूरी हो गयी.

उसके सोने के बाद आज मैंने वही किया जो उसने मेरे साथ पिछली रात में किया था. आज तू उसके साथ थोड़ा मजा मार लेना, उससे पीठ की मालिश भी करवा लेना, आराम मिलेगा तुम्हें और उसको भी अच्छा लगेगा.

बात तब की है जब मैं बारहवीं की परीक्षा के बाद मेडिकल की कोचिंग के लिए अपने दोस्तों के साथ उत्तम नगर में फ्लैट लेकर रहता था. रीना ने आँखें खोल कर उसके बाल पकड़कर काकू को नीचे झुका लिया और उसे चूम लिया, दोनों के होंठ मिल गए थे. उसने पूछा- आपने शादी क्यों नहीं की?मैंने कहा- कोई आप जैसी मिल जाती तो कर लेता.

मैं तो दिल ही दिल में खुश हो रही थी कि अब मेरा काम कुछ दिनों में पक्का हो जाएगा और फायनली मुझे भी लंड मिल जाएगा.

मैंने अपने राइट हैड से उसकी एक टांग को ऊपर किया और साइड से उसकी गांड पे जोर का थप्पड़ मारा- साली. साले गाँव के जवान छोरे शर्ट की खुली बटनों से झाँकती मर्दाना हल्के बालों वाली छाती औरजिस्म की मदमस्त खुशबूसे मुझे मदहोश कर रहे थे. शहर से मैं खेत खलिहानों के कामों से एक महीना रुकने के लिए गाँव आया था.

इंडियन सेकसपहले मैं अन्तर्वासना के सभी पाठकों का शुक्रिया करती हूँ, जिन्होंने मुझे ढेर सारे रिप्लाई भेजे. फिर मैंने उससे उसका घर का पता पूछा तो उसने बताया कि वो पीजी में रहती है और कॉलेज में कॉमर्स से ग्रेजुएशन कर रही है.

देसी भाभी की चुदाई सेक्सी वीडियो

मैं ये सब धीरे से आँख खोल कर देख रही थी कि तभी उसने मेरी तरफ देखा मेरी जाँघ खुली हुई थी. क्या मजेदार बड़े बड़े आम जैसे मम्मे थे, उन पर एकदम छोटे छोटे गुलाबी निप्पल. मनोज बोला- यार रवि, तुम्हारी सोनिया तो है ही बहुत मस्त यार, इसे तो देखते ही लौड़ा खड़ा हो जाए.

पर हम दोनों अभी भी अपने फैसले पे अडिग हैं, देखना यह है कि मेरे घर वाले कब मानते हैं. तो मुझे समझ आया कि मैंने अनामिका को नहीं पटाया बल्कि अनामिका ने अपनी कामुकता की संतुष्टि के लिए मुझे साधन बनाया है. फिर मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी बुर की फाँकों में लगा कर फंसाया और जोर से दबाया.

सोनिया बोली- यार जरा मनोज से तो पूछो… कहाँ रह गया वो, अभी तक नहीं आया. ऐसा करने से पप्पू को अपना लंड रूपा की चूत से अन्दर बाहर होते दिखने लगा. मेरी इस हरकत से वो भी गर्म होने लगी और उसके मुँह से अजीब-अजीब सी आवाजें निकलने लगीं, जिससे मुझे और जोश आ गया.

मेरे पेट और बुर में इतनी तेज़ गुदगुदी हुई कि रहा ही नहीं गया और मैंने हाथ नीचे करके अपने पेट को छुपा लिया. जैसे ही पप्पू का लंड चूत से निकला तो ‘पाप’ की आवाज़ हुई और लंड निकालने के बाद चूत में वीर्य बाहर बहने लगा.

कमल ने एकदम से मेरी चूचियों को अपने हाथों से पकड़ा और सहलाते हुए और सॉरी बोलने लगा.

मैंने ठीक वैसा ही किया क्योंकि सेक्स में हम दोनों को मजा आना चाहिए।रेहाना मेरे ऊपर बैठ गई, उसने मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत के मुँह पर टिकाया और फिर बैठ गई। मेरा लंड उसकी चूत में पूरा अंदर चला गया और फिर जबरदस्त चुदाई हुई पूरे कमरे में फच फच आहहह आईईई इउह्ह की आवाजें आने लगी. लौंडिया लंदन से लाएंगे सॉन्गसंजय के कहने की देर थी कि सुमन झट से उठ कर अलग हो गई और टीना उसकी जगह घोड़ी बन गई और संजय के लंड को पकड़ कर चुत पर सैट कर दिया. 12 साल की बीपीदोस्तो, मैं सैम अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और पार्ट टाइम कॉल बॉय का काम करता हूँ. मेरे उसके रूम में रुकने की वजह से वो अपने पापा को डांट रही थी कि किसी को भी मेरे रूम में शिफ्ट कर दिया है.

मेरी प्रेम कहानी पर अगर आप अपने विचार मुझे बताना चाहते हैं तो मेरा ईमेल आईडी है.

मैंने उनको हग डे पर विश किया और उनका एक टाइट हग माँगा तो उन्होंने कहा- फ़ोन पर कैसे दूँ, जब तू यहाँ आएगा तो तुझे पक्का हग दूंगी. टीना भी कम नहीं थी, उसने सुमन की आँखों में एक नशा देखा, जिससे उसको लगा कि कुछ तो गड़बड़ है. उनकी चुत से बहती वीर्य की धारा और गांड देख कर मेरा मन उनकी गांड मारने को हुआ.

मैं ये सब धीरे से आँख खोल कर देख रही थी कि तभी उसने मेरी तरफ देखा मेरी जाँघ खुली हुई थी. दीदी मेरे सिर पे हाथ फिराने लगीं और बोलीं- भैया हम दोनों सगे भाई बहन हैं. जय ने मेरे ऊपर जरा सा रहम नहीं किया और बहुत जोरदार एक धक्का और लगा दिया.

हिंदी की बीएफ फिल्म

तो गर्म हो जाती हैं, तुम आराम से गर्म होती हो और बेरहमी चुदवा कर ठंडी होती हो. दोस्तो, आपने मेरी इस चुदाई कीदेसी स्टोरीमें अब तक पढ़ा कि मैंने अपनी चचेरी बहन अनुराधा की टांगों में अपना लंड फंसा कर साथ बैठ कर खाना खाया, उसकी साँसें बहुत तेज चलने लगी थीं. मैंने पैंटी को नीचे खिसका दिया, उसने अपने चूतड़ थोड़े ऊपर उठाकर पैंटी को नीचे कर दिया.

मैं आंटी के दूध से खेलने लगा, आंटी की नींद खुली तो उस समय मैं आंटी के दूध पी रहा था.

वो चुत के होंठों को अपने मुँह में भरकर ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगे और सुमन का रस बह गया, जिसे गुलशन जी ने चाट कर साफ कर दिया.

ये बोल कर कि मैं तुम्हें अपने घर वालों से मिलवाने ले जा रहा हूँ… इस बात से वो खुश हो गई. मैं कभी जीभ को बुर के छेद में डालता और कभी गांड के छेद को चाटता जा रहा था. आई लव यू थ्रीमैं उत्तेजित तो थी ही, मैंने टांगें उठा कर शहज़ाद की कमर पर लपेट ली.

फ्लॉरा- पापा ऐसे नंगी ही लेटना होगा क्या?जॉय- हाँ बेटा तुम्हें ऐसे ही लेटना पड़ेगा. मैं बार बार मामा जी के लंड को आगे से पीछे की ओर कर रही थी, हर बार लंड फिसले जा रहा था. मेरी खुद की बेटी के साथ सेक्स?फिर उसका सेक्सी बदन का ध्यान आया तो लंड खड़ा होने लगा.

उसने कुछ नहीं कहा, उसको भी अच्छा लग रहा था, उसके निप्पल बहुत ही कड़े हो गए थे. अस्त व्यस्त सांसों के बीच पसीने से तरबतर एक दूसरे को बाँहों में जकड़े हुए न जाने कितने देर हम दोनों उसी अवस्था में रहे.

सुमन- पापा, ये क्या है बहुत अजीब सी चीज है, गोल भी है, नर्म भी है कुछ नमकीन सा स्वाद है, समझ नहीं आ रहा.

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि कॉलेज से शुरू हुई ये रैगिंग ने कैसे सुमन को रंडी बनने पे मजबूर कर दिया, जो अपने ही बाप के साथ वासना का ये गंदा खेल खेलने में लगी हुई है. वरुण का मोटा लंड लपलपाते हुए किस तरह सविता भाभी और शोभा की चुदास को और अधिक भड़काते हुए वासना के दरिया में गोते लगवा रहा था. किस को मारने का इरादा है?वो- अपने पति को और किस को?डांस पार्टी शुरू होने वाली थी.

इंगलैंड बनाम ऑस्ट्रेलिया मैं- फ़िर कहाँ जाएंगे?पिंकी- किसी पार्क में ले जाकर उसे गरम करो और रात को ठोक देना. खिलखिला कर हंसती हुई हम वापिस रिसोर्ट की तरफ निकली। रास्ते में कई जगह खुलेआम चुदाई का माहौल था.

मैंने भी सू सू करके चूत साफ कर ली और बाथरूम से बाहर आ गयी, कपड़े पहन कर मामा जी से लिपट कर सो गयी. रूपा की इस बात पे पप्पू ने भी जोश में आकर उसकी कमर में हाथ डाल कर एक ज़ोरदार धक्का दिया, जिससे उसका मोटा लंड रूपा की चूत फ़ैलाते हुए करीब-करीब आधा घुस गया. मैंने अपना नाम बताया क्योंकि मैं उससे पहली बार मोबाइल से बात कर रहा था.

गन्ने की खेत की बीएफ

इस वक्त पूरे कमरे में सिर्फ़ हमारी चुदाई की आवाजें ही गूँज रही थीं. ये देख कर संगीता बहुत तेज़ रोने लगी और बोली- शेखर, ये क्या कर दिया तुमने?मैंने बोला- संगीता पता नहीं ये सब कब और कैसे हो गया, मुझे भी कुछ होश नहीं. कुछ कहानियाँ हालाँकि मुझे झूठी लगती हैं लेकिन कुछ तो मेरे दिल को छू जाती हैं। तो आपका ज्यादा वक़्त बर्बाद न करते हुए मैं अपनी कहानी पर आता हूँ, अगर कोई गलती हो जाये तो माफ़ कर दीजियेगा, यह मेरी जिंदगी की सच्ची घटना है.

अब उसकी गांड मेरे पैर पर, हाथ मेरे हाथ में और नजर मेरे चेहरे पर थी. मेरा लंड पहली बार जिन्दगी में किसी लड़की ने पकड़ा था और उनके सहलाने से मैं झड़ने की हालत में आ गया.

अब वो नीता का एक निप्पल चूमते हुए प्यार से बोला- अरे मेरी नीता रानी, अब तकलीफ वाला काम तो हो गया, ज़रा सब्र कर, दर्द अपने आप कम होगा और फिर तू भी मस्ती से मेरा लंड लेने लगेगी.

अगले दिन तरुण ने आते ही मुझसे कहा- मैं अब रात को खेत छोड़ कर खाना खाने घर नहीं आ सकता इसलिए तुम रसोई का और अपना कुछ ज़रूरी सामान ले कर झोंपड़ी में रहने के लिए आ जाओ. मैं अपने पीसी के पास वापस आकर बैठा ही था कि वो भी आ गई और एंट्री को बताने लगी. उसने मुझे कहा- तुम मुझे फोन मत करना कभी, या तो हम बस में बात कर सकते हैं या फिर मैं तुम्हे फोन कर लिया करूंगी जरूरत होने पर.

तो बेटा, आज तेरी चूत को कच्चे केलों का स्वाद चखाता हूँ मैं!” मैंने कहा और केलों के गुच्छों में से दो बड़े वाले जुड़े हुये केले तोड़ लिए और अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाल के एक सबसे बड़ा वाला केले पर तेल चुपड़ के बहूरानी की चूत में कोशिश करके पूरा घुसा दिया, दूसरा केला नीचे लटक के झूलने लगा; इसी स्थिति में मैं लंड को फिर से अदिति की गांड में घुसाने लगा. जब पूरे कपड़े उतार दिए तो मेरी आँखों के सामने भाभी का नंगा बदन था, नंगी भाभी को देख कर मेरा लंड एकदम से टाइट हो गया. यह सुन कर मैं जल्दी ही उसने चिपक कर सो गया ताकि जल्दी से कल आ जाए और मुझे जवाब मिल जाए.

”मैंने आँख मारते हुए कहा- तो ममता डार्लिंग, मैं अब जाऊं?डार्लिंग सुनते ही ममता भाभी मुझसे लिपट गई, अब मैंने उनको बांहों में ले लिया और किस करने लगा.

होली का बीएफ सेक्सी: मैंने मुस्कुराते हुए कहा- अब तो मैं पूरी तरह से औरत बन गई हूँ या अभी कुछ और भी बाक़ी है?वो बोला- नहीं भाभी, अब तो मैंने तुम्हें पूरी तरह से औरत बना दिया है. मैं भी अब सारी शर्म घर के बाहर ही छोड़ आती और घर में बिल्कुल बेशर्म ही रहती.

वह एकदम चौक गई और मुझे देख कर बोली- प्लीज़ कोई बदतमीजी मत करना!उसकी विनती सुनकर मैंने उसे छोड़ दिया और उसके पास बैठ गया। मैंने उससे पूछा- तू मुझे परेशान क्यों करती है?तो उसने कहा- मुझे मजा आता है।मैंने थोड़ा गंभीर होकर उससे कहा- तेरा यह मजाक लोगों की नजर में मुझे बदनाम भी कर सकता है. भाभी बोलने लगीं- क्या हुआ?मैंने कुछ नहीं बोला तो बोलीं- शर्मा रहे हो क्या?मैंने कहा- हाँ, मैंने आज तक किसी लड़की को हाथ तक नहीं लगाया है. मैंने उसको बोला भी कि यार ये सब खुले में मत कर… लेकिन वो मान ही नहीं रहा था.

वो इतनी खिली हुई लौंडिया है कि उसे देखकर बुड्डों का भी लंड खड़ा हो जाए.

नहा कर दोनों थक गयी थी तो डिनर पास के रेस्तराँ से आर्डर पर मंगवा लिया और खा पीकर नंगी ही चिपट कर सो गयीं. मैं शीशे में देखता रहा और उसका मैं मोबाइल से वीडियो बनाने लगा। वह लड़का काफी देर तक मेरी साली की बेटी गुड़िया की चूचियों से खेलता रहा फिर वे अलग हो गए। मैं कम से कम 10 मिनट का वीडियो बना चुका था. वो मेरी चुत को पीने लगा, मैंने भी बदले में उसके लंड को मुँह में ले कर रस पान किया.