साउथ इंडियन बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर दिखा

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेल्फी: साउथ इंडियन बीएफ हिंदी, मैं आपका ‘ये’ नहीं सहला सकती।काका पर अब सेक्स चढ़ चुका था, वो मोना के मम्मों को दोनों हाथों से मसलने लगे थे और बीच-बीच में उसकी चुत को भी दबा देते।मोना- आह.

हिंदी सेक्सी ओपन व्हिडिओ

मैं चाहता था कि सुमित जल्दी से फारिग हो ताकि मैं कीकू को चोदने का मज़ा ले सकूँ. इंडियन सेक्सी नंगा वीडियोमेरा डर दूर करने के लिए मेरी सहेली ने दो लंड अपने हाथ में पकड़े और मेरी चूत से रगड़ने लगी और एक लंड मेरे हाथ में पकड़ा दिया.

अब हम थोड़ा रेस्ट करेंगे ना?संजय- हाँ तो कर लो किसने रोका है।पूजा- मामू आप कल की तरह वहाँ कुर्सी पर रेस्ट करो ना. रानी मुखर्जी सेक्सी पिक्चर वीडियोइसलिए मैंने मौसी के सर पे हाथ मारा, उसने मेरी तरफ देखा मैंने पहले उसके चूचे पर अपना पाँव लगाया और फिर उसके मुँह में अपनी उंगली डाल कर उसे इशारा दिया कि मैं उसके चूचे चूसना चाहता हूँ.

बस एक बार और चाट दो, मेरी आपको मेरी कसम!’इस तरह अपनी कसम देकर उसने मुझे रुके रहने पर मजबूर कर दिया.साउथ इंडियन बीएफ हिंदी: नहीं तो नहीं!मॉंटी- उस रात अपने मेरे साथ क्या किया था, जो सुबह अपने आप मेरी आँख खुली.

हा… मर गया…मेरी मां…कलेजा फटने लगा लेकिन सुनने वाला कोई नहीं था, आधे घंटे तक यूं ही पड़ा हुआ रोता रहा, फिर जैसे तैसे करके फटी शर्ट पहनी और बड़ी मुश्किल से पैंट पहन पाया.मैं जल्दी ही झड़ने के कगार पर पहुँच गया और जोर-2 से साँसें लेने लगा.

साला सेक्सी पिक्चर - साउथ इंडियन बीएफ हिंदी

उसके गाल बिल्कुल लाल हो चुके थे और उसके गुलाबी लरजते होंठ देखकर मेरा बुरा हाल हो गया… वो उन पर जीभ फिरा रही थी और उसकी लाल जीभ अपने गीलेपन से उसके लबों को गीला कर रही थी.जब मॉंटी का दम घुटने लगा तो उसने जोर से सुमन के हाथ को हटाया और अलग हुआ.

संजय- मेरी जान तुम्हें कितना भी चोद लूँ मगर तुम थकती नहीं हो, ऐसा क्या है तुम्हारे अन्दर. साउथ इंडियन बीएफ हिंदी अचानक उनके हाथ मेरे सर पर आ गए और वो भी मुझे किस करने लगी, मैंने देखा कि वो पूरी तरह जग चुकी थी.

‘और किसी को इस बारे में बताओगे भी नहीं कभी, ये भी वादा करो?’ वो बोली.

साउथ इंडियन बीएफ हिंदी?

मैं आता हूँ ओके।पूजा ख़ुशी से भागती हुई ऊपर चली गई। आज उसने वाइट टॉप और ब्लैक स्कर्ट पहना हुआ था। वो भाग कर गई तो उसकी उछलती हुई गांड देख के संजय की ‘आह. फ़िर मैंने चूत को थोड़ा ऊपर किया, फ़िर जोर लगा कर एक झटके में लंड जड़ तक पहुंचा लिया. मैं वैसी औरत नहीं हूँ। ये सब मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है।मैंने बोला- ठीक है अच्छा ये सोचो कि वो बूढ़ा हमें ये सब करते हुए देख रहा है।संजना ने मेरे ऑखों में देखा और बोली- क्या आप भी ना.

जिससे उसकी चुत मेरा पूरा लंड लेने लगी।मैंने दीदी की चुत की चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसके मम्मे दबाए जा रहा था। साथ में उसके होठों की पंखुड़ियों को भी चूस रहा था।दीदी भी अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी। उसे बहुत मज़ा आ रहा था, वो कह रही थी- आ. वो तो सिर्फ लिप किस करना और चुत में लंड डालकर 2-4 मिनट में ख़ाली हो जाता था. बस तक तक सब्र कर!फिर उसने मुझे छोड़ दिया तो मैंने अपने कपड़े ठीक किए और फिर से पढ़ने बैठ गया क्योंकि माँ पिताजी का मंदिर से वापिस आने का समय हो गया था.

इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी. लेकिन मैंने उन से साफ मना करके कहा- नहीं, मैं पहले से ही नहा चुकी हूँ और अब मेरी ब्रा पैन्टी घर से लाना भी ठीक नहीं होगा. मॉम ने चुप कराया और बोली- तू भी गांडू ही है और मैं रंडी… हम दोनों के राज एक दूसरे को मालूम हैं, इसलिए राज को राज रहने दे बेटा!मैं मान गया और मुस्कराता हुआ बाहर आया।सब बोले- कैसा माल था? मजा आया चोद के?मैं- मस्त धांसू माल था यार… क्या चूत थी!मजा आ गया साली को चोद के!यह कह कर हम सब हँस पड़े और घर को आ गए।शाम को 8 बजे राकेश का काल आया- कैसी थी रांड?मैं- कहा तो था कि मस्त थी.

नताशा ने बड़े मनोयोग से अपने सगे पति के लंड को चाट-चाट कर साफ़ करना शुरू कर दिया. उसने सफेद रंग का कुर्ता और पंजाबी स्टाईल का सलवार पहनी थी, शायद आज ब्रा भी पहनी हुई थी.

मुझे मजबूरन उसको पीना पड़ा क्योंकि और कोई चारा था ही नहीं मेरे पास!उसके दोस्त नशे में धुत हो चुके थे, उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींचा और अपनी गोद में लेटाकर मेरी गांड पर हाथ फेरने लगे, दूसरे ने मेरी पैंट निकाल दी और अंडरवियर को फाड़ दिया.

इतने में बबिता भाभी भी आ गई और चारपाई पर बैठने ही लगी थी कि मैंने थोड़ी सी हिम्मत कर के अपना पैर वहाँ रख दिया जहाँ वो बैठने वाली थी और हुआ भी वही कि वो पैर के ऊपर ही बैठ गई.

मैंने कहा- धन्यवाद अंकल जी…कह कर मैं आने जाने वालों से रेलवे लाइन पूछता हुआ उसके बताए रास्ते पर चलने लगा. तो ठीक नहीं तो छोड़ो रहने दो।वो सेक्स को लेकर आतुर थी, कुछ देर सोचने के बाद कामुकता के अधीन हो कर बोली- ठीक है, अब प्लीज मुझे चोदिए ना, मेरी चुत में आग लगी है।मैंने अपना लगभग 6. उसकी सांसें और मेरी सांसें बहुत तेज़ थी और फिर थोड़ी देर मैंने पूछा- कैसा लगा भाभी?उसने मुझे अपने होंठों से चिपका लिया और चूमने लगी.

वो भी चुदवाना चाहती है, पर कहाँ करूँ?तब मैंने कहा- कल बताता हूँ।दूसरे दिन मैंने अपने एक दोस्त को सब बात बताकर उसके घर का प्रोग्राम बना लिया। वो मुझे चाभी देकर शाम तक के लिए कहीं चला गया।मैं सीमा को वहीं ले गया. पड़ोस वाली जवान भाभी को नंगी देख कर मेरा मन भाभी की चुत की चुदाई का हो गया. ऊऊओ ऊफोफ्फ्फ्फ़… उईई माँ… और दबाओ ना!उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और ब्लाउज के नीचे के दो बटन खोल दी और मैं उसको जम कर दबाने लगा.

उसकी चुत चलनी की तरह पानी झाड़ने लगी।राधा- आह ससस्स काका का लंड कितना बड़ा है.

पढ़ाई से थक जाते तो घूमते-फिरते मस्ती करते, असल में कैरियर के टेंशन का सबसे बड़ा टेंशन एक्जाम ही रहता था। चूमा-चाटी लपटना आदि सब नॉर्मल था. मैं जल्दी ही झड़ने के करीब पहुँच गया, तभी ऋतु बोली- अपना वीर्य अपने हाथ में इकट्ठा करो. ’ मैंने चूस-चूस कर उसके लौड़े को लाल लाल कर दिया।फिर उसने कहा- अरे भाभी आराम से चूसो.

मैं कोल्ड ड्रिंक पीने लगी और राहुल सी डी लेकर प्लेयर में लगाने लगा. सीधे सीधे रेंगिंग दो, नहीं तो पूरा साल परेशान रहो।फ्लॉरा- हे कूल गाइस. ऐसे फिगर वाली लड़की मैंने जिंदगी में पहली बार देखी थी और मैं बुत बना उसको देखता रहा.

जैसे ही उनका खेल ख़त्म हुआ, उन्हें देखकर हमारी उत्तेजना और बढ़ गई, मैंने भी रुचिका को जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया, रुचिका के चूतड़ों के नीचे हाथ डाल कर उसकी गांड को पकड़ कर उसे जोर से ऊपर करता और फिर उसी तरीके से उसे नीचे करता, ऐसा करने से मेरा लंड पूरी तरह रुचिका की चूत के अंदर बाहर हो रहा था.

चाची अपना हाथ मेरे लंड पर ले आई और मेरे लंड की ओर देखते हुए बोली- दो घंटे में लौट आएगी. मैंने रश्मि के दोनों चूतड़ों को पकड़ कर अपनी तरफ दबा लिया जिससे लंड एक झटके से चूत के अंदर समा गया.

साउथ इंडियन बीएफ हिंदी उधर शायद फूफा जी के लंड पर भी मेरे होंठों का नशा चढ़ने लगा… फूफा जी का लंड धीरे धीरे अकड़ना शुरू हो गया था और 7 इंच से 8 इंच और फिर 9 इंच का हो गया. मेरी तो टांगें जवाब दे गईं और ये चुत की खुजली भी वैसी की वैसी है। उंगली से कितना दर्द हुआ तो इतना बड़ा लंड कैसे जाता होगा.

साउथ इंडियन बीएफ हिंदी तभी उनकी कुंडली में वो दोष आया होगा। एक बात बताओ तुम्हारी उससे लड़ाई क्यों हुई थी?सुधीर- अब क्या बताऊं उसका जुनून इतना बढ़ गया था कि एक दिनमेरी छोटी बहनके बारे में वो गंदी बात कहने लगा। बस मैंने भी उसको जमा दिया एक और जब से हम अलग हो गए। उस दिन के बाद मैंने उसे देखा ही नहीं है।मोना- छी: गोपाल इतना गंदा है. थोड़ी देर रुकने के बाद मैं अपना लंड थोड़ा आगे-पीछे करने लगा और अब उनका दर्द भी कम हो ग्या था.

पर अमन ने 15 मिनट से ज्यादा नहीं चुदवाया। फिर दोनों ने मेरा लंड चूस-चूस कर ठंडा कर दिया और अमन ने मेरा पूरा माल मुँह में ले कर बाहर थूक दिया।अब तक रात के 12:15 बज चुके थे.

चाइनीस लड़की की सेक्सी वीडियो

आपको ऐसी बात कहते शर्म नहीं आती?मैंने कहा- जब पूछने वाले को शर्म ही नहीं. मुझे अब अच्छी खासी जलन हो उठी उन दोनों पर और पीटर पे गुस्सा… हरामी ने मुझे कभी इस पोज में नहीं चूसा था! खैर देख लूंगी तुम्हें फिर कभी!इधर पीटर की जीभ रिया की छूट में तांडव कर रही थी तो रिया का मुँह पीटर के लंड को जैसे निगलना चाहता था. लंड मेरी चूत की दीवारों से चिपका हुआ था इसलिए अंदर बाहर करने में भी मुझे दर्द हो रहा था.

अगले दिन सुबह ही हमारे घर की घंटी बजी तो मैं उठ कर गेट खोलने चली गई क्योंकि उस वक़्त हम दोनों ही सो रही थी. दो मस्त गोल और सॉलिड चूचे, जिन्हें मैं अपने पाँव से दबाता रहा, मगर मेरी इच्छा हो रही थी कि मैं मौसी के चूचे अपने हाथ से दबाऊँ और मुँह में लेकर चूसूँ. अब आप जाओ मैं अभी फ्रेश होकर आती हूँ।जॉय वापस बाहर चला गया और फ्लॉरा वॉशरूम चली गई और 15 मिनट में रेडी होकर नाश्ते के लिए आ गई।अब यहाँ कुछ नहीं बचा तो सीधे कॉलेज चलते हैं वहाँ शायद कुछ मिल जाए।साहिल और वीरू बैठे बात कर रहे थे तभी वहाँ संजय भी आ गया।साहिल- अरे यार, कहाँ तू आजकल गायब रहता है.

और जब उसने देखा कि मैं उसके लंड को ध्यान से देख रहा हूँ तो उसका लंड अपने आकार में आने लगा और देखते ही देखते 8 इंच तक लंबा हो गया.

लेकिन उसने तुरंत अपना हाथ हटा दिया। मैंने दोबारा से उसका हाथ लंड पर रख दिया. रह तू अकेली यहाँ मोहाली में!मानसी- नहीं रे जस्सी, मेरा वो मतलब नहीं था. ‘क्या परेशान कर रहा है मेरी भाबी माँ को?’ सक्सेना जी थोड़ा सीरियस होते हुए पूछने लगा.

पूजा ने सोचा कि शायद मैं नहीं आऊँगा और कुछ बोलने के लिए अपना मुंह खोला ही था कि उसे दरवाजे पर हल्की सी खटखट सुनाई दी. मेरे उभार उसके सीने में गड़े हुए थे, उसके हाथ मेरे पीठ को सहला रहे थे। वो नीचे था, मैं ऊपर थी और हम ऐसे ही लेटे रहे, और फिर उसका सीना सहलाते हुए मैंने अपनी चुप्पी तोड़ी. अब रोहित मुझे एक लड़के की तरह नहीं बल्कि एक मर्द के रूप में नज़र आ रहा था क्योंकि जब से रोहन ने मुझे उन दोनों के कारनामे बताये हैं तब से मेरा नजरिया रोहित के प्रति पूर्ण रूप से बदल चुका है।तभी रोहित ने मुझसे कहा- मौसीजी… मेरी तबियत ठीक नहीं है, मैं आप लोगों के साथ घूमने नहीं चल पाऊँगा।सब लोग तैयार हो चुके थे.

लंड हाथ में सटते ही चाची ने आँखें खोल दी और बोली- क्या कर रहा है… इसे क्यों बाहर किया?मैं सकपका गया, मैं लंड को पैन्ट के अंदर डाल लिया. काफी देर तक झटके मारने के बाद पूजा का शरीर अकड़ने लगा और वो झड़ गई और बेड पर औंधे मुंह गिर पड़ी, पर मेरा अभी बाकी था तो मैं उसके ऊपर ही लेट गया.

बस वो इसी सोच में बाथरूम चली गई।जब मोना फ्रेश हो गई तो दोनों बैठे आराम से चाय की चुस्की ले रहे थे।गोपाल- जान तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं है तो आज खाना बाहर से मंगवा लेंगे।मोना- अरे नहीं ऐसा भी नहीं है. मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था, मैंने अपने होंठ उसके सूखे होंठों पर रखे और चुम्मा लिया, फिर होंठों को चाटने लगा. फिर मैं हिलूँगा तो मज़ा आएगा।दोस्तो, पहले भी संजय ऐसे ही पूजा को आराम कुर्सी पर बैठा झूला झुला देता था मगर आज तो उसका इरादा कुछ और ही था।पूजा- मामू ये क्या.

वो मैं चाहता नहीं क्योंकि तेरा कोई भरोसा नहीं कि कब, किस बात के लिए तू क्या कह दे.

तभी मैंने उसकी योनि पर हल्के से चिकोटी भर दी जिससे वो उचक गई और उसकी जांघें जो कस के सिकुड़ी हुई थीं अब हल्के से खुलीं. पूजा- क्या हुआ मामू आप मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो?संजय- क्या मस्त है रे तू पूजा. मगर मैं समझ गई थी कि फूफा जी अब मेरे ऊपर आना चाहते हैं इसलिए मैं खुद ही फूफा जी के साथ चिपके चिपके एक साइड को हो गई और फूफा जी को भी खींच कर अपने ऊपर लाने की कोशिश करने लगी.

अब वह मेरे लंड को मुख में लेकर चूसने लगी, उसके मुख में लेते ही मैं जोर से चीखा- ओहईई ईई जान क्या कर रही हो… अहह हह…वो मुख में लंड लेकर चूसने लगी, मैं आनन्द में विभोर होता जा रहा था. सब ठीक है तुम सुनाओ और टीना आज भी नहीं आई क्या?सुमन- नहीं वो कल आएगी.

मैंने चूची को छोड़ कर अपनी पैन्ट उतार दी और लंड अपना लंड बाहर निकाल लिया, फिर उसकी साड़ी को खोल कर साया भी खोल दिया और लंड को गांड के दरार में सेट कर चूची को दबाने लगा. मैंने शालू को जगा कर कहा- मैं ड्यूटी पर जा रहा हूँ, तुम ध्यान से रहना. तब तक संजय ने भी कपड़े निकाल लिए थे और वो खड़ा ही रहा ताकि पूजा आराम से उसके लंड को चूस सके.

తెలుగు sex video

अपनी ये कैप्री निकाल दे और कोई पतला कपड़ा लपेट ले।मॉंटी- कपड़ा क्यों दीदी.

तुझे किसने कहा तू नौकर है? अरे तू तो बस मेरी मदद करने आई है और मुझे मेम साब नहीं, दीदी बोल. कुछ करके बताना पड़ेगा कि तू तैयार है।मैंने कहा- क्या करूँ?तो बोला- चल मेरे लंड को ज़रा हिला और मुझे बता कि तूने आज तक कितने लंड खाए हैं।मैंने उसके लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाना शुरू किया और कहा- आज तक एक भी नहीं लिया।ये सुन कर वो तो जैसे पागल हो गया। वो बोला- मतलब तेरी चूत अभी तक कुंवारी है. एक बार तो नीतू घबरा गई क्योंकि लंड बहुत गर्म और सख़्त था मगर पैसे और आईसक्रीम के लालच में वो लंड को दबाने लग गई.

रफीक बोला- यार क्यों झूठ बोलते हो? दूसरा कौन है लंड वाला?मोहन बोला- मैंने आपको बताया तो था राजेश भाई के बारे में… वो आये हैं आज और आज हम तीनों ही सुबह से घर में नँगे हैं और चुदाई का मजा ले रहे हैं. पूजा कुछ नहीं बोली और सीधे अपने पर्स में से एक हजार रूपए निकाल कर ऋतु को दे दिए और बोली- बिल्कुल था… ये लो!और आगे बोली- काश! ये सब मुझे बिल्कुल मेरे सामने देखने को मिल जाए तो मजा ही आ जाए. ஆன்ட்டி ப்ளூ ஃபிலிம்हम लोगों ने सैटरडे इवनिंग का प्रोग्राम बनाया क्योंकि हम दोनों के ही घर वाले बाहर गए हुए थे और सैटरडे को डिस्को में भीड़ भी अच्छी रहती है.

सुमन- अरे मॉंटी ये दोबारा कैसे खड़ा हो गया, अभी तो इसका रस निकला था?मॉंटी- पता नहीं दीदी. फिर जब वो झड़ने वाली थीं, तो मैंने एक आखिरी ज़ोर का झटका लगा दिया और वो झड़ गईं.

अंत में बची लड़की की निगाहें जब मुझसे मिली तो वो हौले से मुस्कुरा दी और पीछे सर करके लेट गई. अब मेरा लंड मुझे भी लम्बा लग रहा था, लंड के टोपे की स्किन अपने आप पीछे रहने लगी थी. घर से काम पर जाना और काम से घर आना। इसके अलावा मैंने कभी किसी का जिक्र ही नहीं सुना।काका- है मोना.

अब वह झड़ रहा था। फिर वो ढीला पड़ गया और अलग होकर लेट गया। अब तक पांच बज गए थे. उसके मुंह से एक सिसकारी निकल गई, उसकी चूत काफी गर्म थी… बिल्कुल कसी हुई और छोटे-छोटे बाल भी थे. ये सब सुमन के लिए ही है, बस मैं उसको सरप्राइज दे रहा हूँ।अनीता- वाउ… आपकी आदत गई नहीं सरप्राइज देने की.

वो वैसे ही मुझे पकड़ कर उठ गया और मुझे हवा में उठा लिया दोनों हाथों से… मेरे पैर उसकी कमर पर लिपटे हुए थे और हाथ गर्दन पे लिपटे थे.

ये देखो मेरा होमवर्क भी पूरा हो गया।संजय- बहुत अच्छी बात है अब क्या करोगी?पूजा- कुछ नहीं आप थोड़ा रेस्ट कर लो बाद में मुझे पढ़ा देना।संजय- नहीं पहले तुझे पढ़ाऊंगा. 30 पर तुमको लेने आऊंगा, बिमलेश तुम्हारे लिए आज साउथ इंडियन खाना बनायेगी, कह रही थी।फिर वो जॉब पे चला गया.

फ्लॉरा- भाई कितना मज़ा आ रहा है ना ऐसे नहाने में… चलो ना कोई गेम खेलते हैं. पर जल्दी ही अपना लंड निकाल कर उसकी चूत को ढूँढने लग गया कि अगर इसके मुँह में ही लगा रहा तो इसी में मेरा माल निकल जाएगा और फिर दुबारा मौक़ा कब लगेगा. बदले में जो चाहे कीमत आप मुझसे वसूल कर सकते हैं।यह कह कर उसने अपना मैक्सी उतार दी और बातें कहना शुरू की।‘मैं जानती हूं आपको मेरे बड़े-बड़े मम्मे बेहद पसंद हैं। आप हमेशा इन्हें घूरते आए हैं। मैं भी चाहती थी कि तुम इन्हें देखो। प्रताप की तरह मेरी चूचियों को मसलो.

पहले इनको लण्ड चूसने का ही शौक था पर एक दिन शर्त पर गांड मरवा ली तब से ये गांड चुदाई का मजा भी लेते हैं. मैं अपना मोबाइल रख जाऊंगा जिसमें तुम लोगों की चुदाई रिकॉर्ड करनी है तुमको, जिससे मैं वापस आकर देख सकूँ कि कैसे चोदा तुमने और बिमलेश को कितना मजा आया चुदवाने में!मैंने कहा- ठीक है!फिर हिम्मत बोला- यदि बाद में बिमलेश मान गई तो रात को तेरे कमरे में भेज दूँगा, तुम दरवाजा बंद मत करना, मैं पर्दे के पीछे से तुम लोगों की चुदाई देखूँगा।मैंने कहा- जैसी आपकी मर्जी!कहानी जारी रहेगी. अब हम बहुत करीब थे। मेरे होंठों से उसके होंठ एक उंगली के दूरी पर थे। मैंने उनके फेस की तरफ अपना फेस आगे बढ़ाया, उनका बर्फ वाला हाथ मेरे छाती पर मुझे पीछे धकेलने लगा, लेकिन मैंने झट से उनको मेरी तरफ खींचा और किस करना शुरू कर दिया। उन्होंने कुछ सेकेंड रिप्लाइ दिया और मुझे जोर से पीछे धकेल कर उठ गईं।‘ये ग़लत है.

साउथ इंडियन बीएफ हिंदी उधर शायद फूफा जी के लंड पर भी मेरे होंठों का नशा चढ़ने लगा… फूफा जी का लंड धीरे धीरे अकड़ना शुरू हो गया था और 7 इंच से 8 इंच और फिर 9 इंच का हो गया. मेरा हंसी के मारे बुरा हाल था, हरामज़ादी सुलेखा चाहती थी कि किसी भी सूरत में रीना घर पर न रुके, वर्ना उसकी वर्षों की चुदास कैसे बुझती.

सेक्स सीरीज

अरमान थोड़ा आगे को हुआ और उसने नेहा को पहले जैसी पोजिशन में किया तो नेहा ने अब अरमान का केक लगा लंड अपने मुंह में ले लिया. मैं भाभी के होंठ को चूसने लगा और दस मिनट बाद भाभी गर्म हो गईं, उनके मुँह से ‘उह उह आह. अगले दस मिनटों तक इस क्रिया के करते रहने से हम दोनों इतने उत्तेजित हो गए की माला के अंगूर जितने मोटे चूचुक बहुत सख्त हो गए और मेरे लिंग की नस फूलने लगी.

मैं उसको भोगने को तड़प रहा था जैसे पानी बिन मछली और वो इस आग में अपनी हरकतों से घी डाले जा रही थी. पता नहीं ये कैसे अन्दर चला गया वैसे इसे अन्दर डालने से क्या होता है. గుర్రం సెక్స్’थोड़ी देर मस्ती करने के बाद जैसे तय हुआ था, मैंने नशे में होने का नाटक किया और मेघा को मनोज ने अपने घर चलने के लिए बोला.

बोल क्या कहती है?राजू की बात सुनकर राधा तो ख़ुशी के मारे बावली हो गई।राधा- हाँ सच में लेना है.

तू बात को समझती क्यों नहीं?गुलशन- अरे क्या बातें हो रही हैं माँ-बेटी में. रोहित का सपना आज सच हो रहा था।हम दोनों बिल्कुल नंगे तो थे ही और अब आपस में काफी खुल चुके थे, मैंने रोहित के खड़े लंड को अपने हाथों से टटोलते हुए कहा- तुम अपने सामान को ठीक से साफ नहीं करते क्या… देखो तो ये कितना काला हो रहा है…लाओ मैं इसे साफ कर देती हूँ।मैंने अपने हाथों में साबुन लगाया और अपने दोनों हाथों से रोहित के लंड को अपने हाथों में भर लिया और उसे रगड़ने लगी.

5 मिनट के बाद आंटी झड़ गयी और पूरा पानी मेरे मुख पर छोड़ दिया, मैं सारा पानी चाट गया. फिर आकाश एक एक कर मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिये और ब्लाउज निकाल कर अलग फेंक दिया और मेरी चुचियों को ब्रा को बिना खोले नीचे सरका कर बाहर निकाल लिया फिर मुझे दीवार के साथ लगा कर मेरी चुचियों को अपने मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा. राजे ने मुझे सुमित की बाँहों से अपनी बाँहों में ले लिया और हँसते हुए बोला- बेफिक्र रहो मेजर साहिब… आपकी पत्नी को ऐसा चोदूंगा कि इसकी तो आत्मा भी तृप्त हो जायगी और आपको देखने में बेहद मज़ा आएगा.

मेरा इस कहानी का पूजा से क्या सम्बन्ध है?संजय- अबे साली तेरी समझ में नहीं आया क्या पूजा मेरी दीदी की बेटी है और आर्यन उसका छोटा भाई है?टीना- ओ माय गॉड… मगर कन्फ्यूजन फिर भी वैसा का वैसा है.

मेरी रीयल xxx कहानी में अगर कोई कमी रह गई तो प्लीज मुझे बताईयेगा क्यूंकि मैं कोई प्रोफेशनल राईटर नहीं हूँ. गुजराती कोमल भाभी से मस्ती के बाद मैं सोमवार को पहले अहमदाबाद आया जहाँ हिम्मत मुझे कार से लेने आया। हिम्मत ने मुझे एक होटल में रोका, बोला- अभी आप यहाँ रेस्ट करो रात को 9. वो बोली कि वो किसी से मकान शेयर करने को भी तैयार है बशर्ते कोई उस जैसी लड़की हो.

பூமிகா செஸ் வீடியோवो देखने में मस्त थी। उसका फिगर भी 32-30-34 का था। वो बहुत मस्त लगती थी. उन्हें रयान भला लगा… पर वो बोले- पूरी कोठी की जिम्मेदारी तुम्हारी है.

यू सेक्सी

मैं उन दोनों को अपने घर के अंदर ले आई, आसिफ अंकल ने घर मैं आते ही मेन गेट को लॉक कर दिया. मैं भी मुस्कुराते हुए बोली- चलो… क्या यहीं पर मनाओगे?आकाश मुझे एक बड़े से घर में ले गया. फिर ऋतु ने डिल्डो उठाया और अपनी बुर में डालकर तेजी से अन्दर बाहर करने लगी.

तू हर बार उल्टी बात करता है।सुमन- अरे आप अब झगड़ो मत, और चलो टाइम हो गया है।यहाँ भी ऐसा कुछ नहीं हुआ जो बताऊं तो जाने दो। गोपाल घर आ गया होगा उसी के पास देख आते हैं शायद कोई काम की बात मिले।मोना तो पूरी रात की चुदाई से थकी हुई थी तो मस्त सो रही थी। जब गोपाल आया तो उसे जगाया और पूछा कि क्या हुआ।मोना- कुछ नहीं. मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उनके ब्लाउज से साड़ी हटाई और ब्लाउज के बटन खोलने लगा. मोना मन में सोच रही थी- वाह गोपाल तुम्हारी हिम्मत की दाद देनी होगी.

साथ में ही भैसों का भूसा पड़ा हुआ था और वो जगह इस तरह से बनी थी कि मेन गेट से सीधा कुछ दिखाई नहीं देता था. डॉक्टरआंटी ने करीब 10 मिनट मेरे लंड को चूसाऔर मैंने भी उनके मुँह को चूत की तरह चोदते हुए उनका मुंह अपने वीर्य की पिचकारियों से भर दिया. अब बोल मत बस मज़ा ले।संजय का लंड भी कुँवारी चुत की गर्मी महसूस कर रहा था। अब वो धीरे-धीरे कुर्सी हिलाने लगा और लंड को चुत पर घिसने लगा था।पूजा- सस्स आह.

उसी को पहन के आना।मैंने देखा कि एक रेड कलर की नाईटी रखी थी। उसको पहन कर मैंने वहाँ लगे एक आईने में देखा। मैं बहुत ही मादक लग रही थी।तभी मोटी की आवाज आई- चल री!मैं चुपचाप बाहर आ गई। मोटी ने मुझे एक रूम की तरफ जाने का इशारा किया।रूम में थानेदार टॉवल वाला गाऊन पहने बैठा था और शराब पी रहा था। ये शायद उसकी अय्याशी करने की जगह थी। उस रूम में एक पलंग 2 सोफ़ा और बीच में एक टेबल रखी थी. उसकी इन्हीं सब हरकतों के चलते मुझमें धीरे-धीरे हिम्मत बढ़ने लगी थी.

आज तो मस्त लग रही हो और बताओ तुम्हारे अन्दर कुछ फ़र्क पड़ा या वैसी ही हो?सुमन- आपके ग्रुप के लायक बनने की कोशिश कर रही हूँ।संजय- गुड और हाँ जो भी करो दिल से करो.

क्या जो घर का काम आप करती हो वह सब तुम्हारी मंझली बहू कर लेगी?मेरी बात सुन कर अम्मा बोली- आप चिंता नहीं करें, तुम्हें कोई कष्ट नहीं होगा. सनी लियोन की सेक्सी पोर्न वीडियोमैं वहाँ जाना भी चाहती थी क्योंकि वहाँ पर उनका लड़का राहुल भी था, जो मेरा हीरो है. ट्रिपल एक्स सेक्सी व्हिडीओ देसीऔर अबकी बार जो उसकी जांघें सिकुड़ी तो मेरी हथेली सीधे योनि के ऊपर थी।‘ओय. सुमन ने उसको टाइट्ली हग किया फिर उसने मॉंटी के लंड को देखा, जो एकदम अकड़ा हुआ था.

जिससे वो बच्चा पैदा कर नहीं पाएँगे और इसका कोई इलाज भी नहीं है।यह सुनकर दीदी रोने लगी.

आज कमरे में ही रुकेंगे।वे मुझे देखते रहे।एक बोला- सुकांत, तेरा रूममेट तो बहुत हैंडसम स्मार्ट है।सुकांत ने परिचय कराया- ये मेरे सीनियर सक्सेना जी हैं।दूसरा बोला- अपने समाज के होते तो यहीं पक्की कर देते।सुकांत आंखों में शरारत भर मुस्करा कर बोला- यही तो सर से कहता हूँ. वो बोला- लंड को बाहर निकाल ले!मैंने चलती बाइक पर उसके लंड को अंडरवियर के कट से बड़ी मुश्किल से निकालते हुए उसकी चेन के बाहर लाकर आजा़द कर दिया. अब घर चलें या कुछ और भी लेना है?सुमन की आवाज़ सुनकर दोनों ही झेंप गए।अनीता- उह तो ये है आपकी बेटी सुमन.

इधर रुस्लान ने अपने मोटे लंड को चूत से बाहर निकाल लिया, तो चंगेज़ ने भी अपने लंड को आराम देने की खातिर गांड से बाहर कर, दुबारा अन्दर पेल दिया. तू शुरू से आखिर तक सब बातें विस्तार से बोलती जाना और मैं कंप्यूटर पर टाइप करती जाउंगी. मैं गुस्सा दिखाते हुए मान गई।लेकिन विकास कपड़े पहने के बजाय ऐसे ही घूमता रहा और मेरी चूत पनियाती रही.

सेक्सी गीत एचडी

गलत होता है।मैं वहाँ से भाग आया।फिर 2-3 दिन मैं उनके घर खेलने नहीं गया तो उन्होंने मुझे बुला कर प्यार करते हुए कहा- अपनी चाची से गुस्सा हो गया मेरा बेटा. मेरा मतलब है मज़ा रस बाहर आता है। अब तू सवाल ही करती रहेगी या मज़ा भी लेगी!पूजा- मामू आपकी फुन्नी और मेरी फुन्नी मिलती है तब मज़ा भी बहुत आता है इसी लिए मज़ा रस निकालता है।संजय- हाँ अब सुन तुझे और ज़्यादा मज़ा लेना है क्या?पूजा- हाँ मामू मुझे बहुत. रवि… रवि… आ जा यार…लेकिन वो कहाँ आने वाला था! वो तो जा चुका था… मैं घंटा भर वहीं बैठकर उसकी याद में आंसू बहाता रहा… समझ नहीं आ रहा था कि ये मेरे साथ हो क्या रहा है… मैं क्यूं उसके लिए इतना रोए जा रहा हूँ… ऐसा क्या दे गया वो मुझे जो उसके बिना रहना अब नामुमकिन सा लगता है.

पूरा कमरा हमारी कामोत्तेजना से और कामुक आवाज़ों से आनन्दमय हो रहा था.

30 ही बजे थे, आधा घंटा और वेट करना था इसलिए सब लोग यहाँ वहाँ देखकर टाइम पास कर रहे थे, कोई अपने फोन में मूवी देख रहा था, कोई आईसक्रीम खा रहा था और कोई पानी पीने या पेशाब करने बाहर जा रहा था.

आपको बुरा तो नहीं लगा ना?मोना ने झुक कर अपने दूध हिलाते हुए कहा- अरे मैंने अभी तो कहा. अनिता- एयेए एयेए प्लीज़ निकाल लो आह… बहुत दर्द हो रहा है एयेए आह… मैं मर जाऊंगी प्लीज़. चाची की चुदाई सेक्सी फिल्मरोहित इस बात को समझ गया फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया औरअपने लंड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा.

मैं चूची के ऊपरी भाग को सहलाने और दबाने लगा… कभी कभी मेरा हाथ फिसल कर चूची से भी लग जा रहा था. फिर एक मेसेज आया- प्लीज़ कॉल मत कीजिए, सभी घर पर है मैं तमन्ना हूँ!बस फिर ऐसे ही हमारी मेसेज पर बात होने लगी, बातों बातों में मैंने उसे लिख दिया- मैं आपको बहुत पसंद करता हूँ!उसने भी रिप्लाई में लिखा- पसंद तो मैं भी आपको करती हूँ पर अगर किसी को पता लग गया तो मेरी बहुत बदनामी होगी. अब दीदी अपने दोनों हाथों से मेरे दूध मसल रही थी और अपने मुंह से चूम रही थी, मेरे दूध को पीने की कोशिश कर रही थी.

जॉन ने फ्लॉरा के पेट से पानी साफ किया, उसको कपड़े पहनाए और सुकून की नींद सो गया. जिससे वो बच्चा पैदा कर नहीं पाएँगे और इसका कोई इलाज भी नहीं है।यह सुनकर दीदी रोने लगी.

उसने मरीज को देख कर उसे दवा लिख दी, मरीज को भर्ती कर उसे ग्लूकोस चढ़ाने की लिए बोली.

मेरी एक मौसी थी जिसकी दोनों टाँगों में पोलियो हो गया था और वो हमारे साथ ही रहती थी, क्योंकि पोलियो की वजह से उसकी शादी नहीं हो पाई थी. उसने मुझे अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बताया जो बेंगलूरु में एक कंपनी में जॉब पर था और उसको कम टाइम देता था. नौकरानी- तो क्या हुआ… मैं हूँ तो एक औरत ही ना… और औरत को भी तो तन की भूख लगती है, मुझे अपनी भूख मिटानी है बस!मैं- अरे… तो आपके पति?नौकरानी- वो साला गांडू निकला, उसे मर्द पसंद आते हैं, वो बस हिजड़ों के बीच में घूमता है!मैं- तो आपको चोदता कौन है?नौकरानी- तुम जैसे नए लड़के जिनको चूत चाहिए होती है.

বাংলা ব্লু ফ্লিম वो वहाँ से मुझे अपने घर ले गई, वहाँ उनके घर की एक नौकरानी भी थी, थोड़ी अधिक उम्र थी उस नौकरानी की… करीब 50 होगी. पहले मैंने अपनी एक उंगली उसकी गोरी चूत में डाली तो वह आँखें बंद करके उसे मजे से अंदर ले गई.

कॉलेज जाकर मेरा मन सारा दिन कहीं नहीं लगा, मुझे तो बस शाम का इन्तजार था. फिर हम जब रात को सोने जाते थे, तब भी हम एक-दूसरे के जिस्म को चूमते थे. राकेश- तो अभी तक घर पहुंची या नहीं?मैं- क्या मतलब?और राकेश ने काल काट दिया।मैं समझ गया कि राकेश ही जान बूझ कर ही मुझे वहाँ मेरी मॉम के पास ले गया था।आपको कैसी लगी मेरी माँ की चुदाई की यह स्टोरी?मुझे बतायें![emailprotected]पर अपनी किसी भी प्रकार की राय दें!.

महारानी का सेक्सी वीडियो

पर मुझे मत भूलना।मैंने भाभी के माथे पर चूमते हुए कहा- तुम्हें तो मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा जान।फिर मैं वहाँ से निकल कर घर जा के सो गया।अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे पिंकी को पटा कर मैंने उसकी सील तोड़ी।मेरी देसी भाभी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे बताएं![emailprotected]. मैंने अहमदाबाद से निकलते समय रफीक को फोन कर दिया कि मैं आ रहा हूँ, आप मुझे रेलवे स्टेशन लेने आ जाना. लगभग सात बजे रोज़ की तरह अम्मा ने मुझे चाय दी और कहा- साहिब, इस माह की तीस तारीख को मैं छोटी बहू के पास जाऊंगी इसलिए अगर मुझे मेरी इस माह की पगार कल मिल जाती तो मैंने जो खरीदारी करनी है वह कर सकूँगी.

वो बोला- यार अपना भी यही हल है, मगर एक तरीका है, जिससे हमें किसी लड़की को चोदने का मौका मिल सकता है, अगर अपनी किस्मत ने साथ दिया तो!मैंने पूछा- कैसे?वो बोला- फ्राइडे या सेटर डे को ट्राई करके देखते हैं. मैंने ऐसे ही इसको डाल दिया मगर इसकी वजह से आपको एक्सट्रा मज़ा मिल जाएगा बस और कुछ नहीं।शाम तक मोना इसी सोच में रही कि अब वो क्या करे। फिर उसे याद आया कि साधु बाबा ने उसकी पुरानी जिंदगी के बारे में कुछ बताया था, शायद वहीं से कुछ मिल जाए। मगर उसकी लाइफ के बारे में किसको पूछूँ.

उसके बाद अगले पाँच दिन यानि रविवार से बृहस्पतिवार तक बिल्कुल सामान्य निकल गए और कोई भी उल्लेखजनक प्रसंग नहीं हुआ.

फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरे हाथ में लंड पकड़ा दिया।मेरे हाथ के ऊपर अपना हाथ रखा और दो-तीन बार हिलाया। ये इशारा था कि मैं लंड हिलाऊं। मैंने दो-तीन बार लंड को हिलाया, फिर मैं करवट बदल कर लेट गया व उसकी तरफ पीठ कर ली।अब उसने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मेरा लंड फिर पकड़ लिया और हिलाने लगा।वो मेरे कान में धीरे से बोला- बहुत मस्त है. हा हा हा क्यों जब आप और मॉम रात को इतनी आवाजें कर रहे थे, तो मुझे भी प्राब्लम हुई थी हा हा हा हा. तभी लाइट आ गई और दोनों झटके से अलग हुए… दोनों को लगा कि ये कैसा पाप हो गया.

अब उसने बिना कुछ सोचे मेरी बहन की चुत में लंड को पेलने के लिए एक जोर का झटका दे मारा. वो अपनी भैंसों को निकाल कर जोहड़(तालाब) के बाहर आ गया, चप्पलें पहनीं और हाथ में डंडा लेकर भैंसों को हाँकते हुए मुझसे बोला- चल घर… अब यहीं बैठा रहेगा?मैं उदास सा चेहरा लेकर उसके पीछे-पीछे चल दिया. मैं अपने घुटनों के बल उसके सामने बैठ गया और उसकी जांघों को पकड़ कर अपनी जीभ उसकी बुर में डाल दी.

फिर हम लोग कुछ देर तक लेटे रहे, दीदी मुझे चूमते हुए प्यार करती रहीं.

साउथ इंडियन बीएफ हिंदी: कुछ देर के बाद जैसे ही मैंने अपनी गर्दन झुका कर उनके उरोज़ की चूचुक को मुंह में लेकर चूसने लगा वैसे ही वह सिसकारियाँ लेने लगी. मैंने सोचा यहाँ पर किसी से पूछ लेता हूँ, मैं पूछने के लिए एक लड़के के पास गया, वो तालाब के किनारे बैठा हुआ अपनी भैंसों को हाँक रहा था जो पानी में दूसरी भैंसों के साथ लड़ाई कर रही थीं.

कुछ ही देर में रिया ने पानी छोड़ दिया और वो बेड पे निढाल सी लेटी रही. साथ ही आप सभी मुझे instagram पर fehmi_loves_u का प्रयोग करके जुड़ सकते हैं. बाद में मज़ा भी बहुत आता है, इस बात को ये क्या जाने?मोना- अब बातें ही करोगे काका या गांड भी मारोगे.

संजय- अच्छा ये बात है और सुना कोई लड़का तुझे तंग तो नहीं करता ना?पूजा- नहीं ऐसे तो कोई नहीं करता मगर बस मैं कभी-कभी कोई मुझे पीछे से टच करता है.

हिम्मत ने अपने हाथ को टॉवल में घुसाया और योगिराज को हाथ में लेकर बोला- यार राजेश, हर बार तेरे योगिराज की साइज थोड़ी बढ़ जाता है, मोटा होता जा रहा है. उसने खुद ही अपनी दोनों टाँगें खोली और मेरे लुल्ले को पकड़ कर अपनी दोनों टाँगों के बीच में रखा. मैंने भी देर ना करते हुए उसकी टी-शर्ट को उसके गले तक ऊपर कर दिया और मेरे सामने उसके दोनों कबूतर उछल कर निकल आए।अह.