भोजपुरी बीएफ बिहार का

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ चुदाई फुल एचडी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी एचडी चाहिए: भोजपुरी बीएफ बिहार का, यास्मीन से नजरें मिली तो शरारत भरी मुस्कान थी उसके होंठों पर!मैंने सोच लिया कि अब इसकी चूत मारनी है, इसलिए मैंने सोचा कि एक कोशिश करके देखूंगा।रात में मैंने मेसेज किया कि तुम्हारे बाथरूम में एक क्रीम देखा, कैसी क्रीम थी वो?कुछ देर तक जवाब नहीं आया तो मैंने गुड नाईट बोल दिया.

बीएफ एचडी बीएफ बीएफ बीएफ

पहली बार मैंने किसी लड़के के मुंह का स्पर्श अपनी चूचियों पर करवाया था. इंग्लिश बीएफ फिल्म ब्लूअब मेरे हाथ उसके बूब्स पर पहुंच गये और मैं उसकी चूचियों को दबाने लगा.

मैंने नीचे पेटीकोट नहीं पहना था। साड़ी निकलते ही उसे मेरी चूत काली पैंटी में फंसी दिखी. मियां खलीफा बीएफ पिक्चरमगर मुझे जब इस तरह अपनी नंगी चुत पर झुके देखा, तो वो शर्मा गयी और चुपचाप वापस आंखें बन्द‌ करके लेट गयी.

न्यूड इंडियन वाइफ सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी को मेरा दोस्त पसंद आ गयामें अब तक अपने जाना था कि मेरी बीवी के बाजू में मेरा दोस्त बैठ गया था और वो दोनों एक दूसरे के होंठों से होंठ लगा कर चूमाचाटी करने लगे थे.भोजपुरी बीएफ बिहार का: अपने शरीर का भार उसके बदन पर डाल कर चुदाई के मजे ले भी रहा था और उसको पूरा मजा देने की कोशिश कर रहा था.

जैसे ही लंड अपनी जगह पूरे तरह से बनाई और मॉम भी धक्के के मज़े लेने लगीं, अंकल ने स्पीड तेज कर दी.मैंने अपना आसन बदला और उनकी चूत पर अपना लंड लगा कर सुपारा घिसने लगा.

सेक्सी इंग्लिश बीएफ सेक्सी इंग्लिश - भोजपुरी बीएफ बिहार का

इसके अगले ही पल उस लुगाई ने मेरे सामने मुँह करते हुए, मेरे हाथ को हटा दिया और बोलने लगी- ये क्या कर रहे हो!उस टाइम मेरी गांड फट गई और ऊपर से ड्राइवर ने भी एक बार मेरी तरफ देखा.हालांकि कई बार मर्दानगी दिखाने के चक्कर में उसने मेरा विरोध किया था, तो मैं उसकी मर्दानगी कमजोर कर देती.

शायरा के मम्मों पर मैंने पहले कुछ ज्यादा ही प्यार किया था … और उसके लाल लाल निशान अभी भी उसके दोनों मम्मों पर साफ नजर आ रहे थे. भोजपुरी बीएफ बिहार का यह सुन कर आशा ने मेरा लन्ड झट से अपने मुंह में ले लिया और जोर जोर से चुप्पे मारने लगी.

मेरे हाथ से कन्ट्रोल जाते ही शायरा ने भी अपना कन्ट्रोल खो दिया और उसकी पिंकी ने रह रह कर मेरे मुँह पर कामरस की बौछार सी करनी शुरू कर दी.

भोजपुरी बीएफ बिहार का?

इससे आरिषा भाभी चिल्लाने लगीं- आयऊ … उऊहह आअहह … आराम से हह आअहह रामू … मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ. वो उसको जोर से काट रहा था और इसी उत्तेजना में मैं उस दूसरे वाले लड़के के लंड पर तेजी से मुंह चला रही थी. जब लगभग पूरा लंड अन्दर जा चुका, तो वो बोली- अब इसको आधा बाहर निकाल कर फिर से अन्दर कर … और ऐसा बार बार कर … जल्दी जल्दी से.

जो शीना की दिल की बात थी, उसकी ख्वाहिश थी मेरे लण्ड से चुदवाने की … वह तो अब बहुत ही अच्छे से पूरी हो रही थी और मेरे तो हर तरह से मजे ही मजे थे. संजू ने विक्रम की आंखों में हैरानी से देखा और बोली- क्या मैं सह पाऊंगी?विक्रम ने कहा- हां भाभी, आप बहुत सेक्सी हो. भाभी ना मुझे रोक पा रही थीं और न ही भाभी चाह रही थीं कि मैं उनकी चुत के अन्दर स्लो स्लो लंड पेलूं.

वह भी कहने लगी- यार आ जाओ ना! मैं भी तुमसे मिल लूंगी।जब उसने बहुत ज़िद की तो मैंने दीदी से बताया और कहा कि रोहित की मामा की लड़की मिलने के लिए बुला रही है. मैंने उसकी जींस उसकी पैंटी के साथ निकाल दी और वो मेरे लंड को बिना बाहर की हवा लगे सीधे अपने मुखपाश में ले गयी, जिससे मेरे जिस्म में एक करेंट सा दौड़ गया. मगर जब कंडक्टर ने मुझे टिकट और बाकी के पैसे वापस दिए … तो उनको अपने पर्स में रखने के लिए मैंने ऊपर जो बस का जो पाईप पकड़ा हुआ था, उसे छोड़ दिया और दोनों हाथों से पैसे व टिकट को अपने पर्स में रखने लगा.

उससे बात करने के बाद मैंने सोचा कि ऐसा तो है नहीं कि मैंने पहले इतनी उम्र के बुड्ढों के साथ सेक्स नहीं किया था. जब उसको पता लगा कि मैं अकेला आया हूँ, तो उसने मुझे अपने दोस्तों के साथ एक रेस्तरां में खाने पर बुलाया.

उसने उठ कर मुझे फिर से जैल पकड़ाई और फिर से घोड़ी बन कर अपनी गांड का मुँह मेरी ओर कर दिया.

कैसे? मैं अपनी चूचियां बड़ी करवाने डॉक्टर के पास गयी तो उसने मेरे जिस्म से खेल कर मेरी वासना जगाई और मेरी बुर खोल दी.

मैं बहुत तेजी से ऊपर हुआ, भाभी ने टांग एकदम मेरी पीठ के ऊपर डाली और मैंने एक ही बार में आधा लंड भाभी की चूत में घुसा दिया. उस वक्त मेरी शादी हुए तीन साल हो गये थे और मैं एक बेटे का बाप भी बन चुका था. आप अपना फ़्रस्ट्रेशन कम करें और जैसा गंदा सेक्स पसंद हो, उसके साथ मस्ती से करें.

लंड पर फुदी का टाइट ग्रिप उत्तेजना को बढ़ाता है।मैं जोर जोर से शॉट मार रहा था, लंड मशीन की तरह अंदर बाहर हो रहा था।अब मैंने पोज़ बदल दिया. फिर जब मैंने उनके चूतड़ सहलाए, मसले, उनका चुम्बन लिया और थोड़ी रिक्वेस्ट की कि गांड थोड़ी ढीली रखें. इसके बाद वहां मैंने अपने बारे मैं कुछ जानकारी साझा की और किसी के सन्देश आने का इन्तजार करने लगा.

मैं- वैसे अहमदाबाद में आप कहां रहती हो?सुगंधा भाभी स्माइल करके बोलीं- क्यों शादी की बात करने आने वाले हो?मैं- उसकी बात क्या करना … आप चाहो तो हम दोनों अभी ही शादी कर लेते हैं.

कुछ दिन तो चूत में डिल्डो, खीरा, मूली, बैंगन और पता नहीं क्या क्या डालकर चूत की आग शांत करने के नाकाम कोशिश करती रही. दीदी की ससुराल में दो तीन लड़के किराये पर कमरा लेकर रहते थे।उन्ही में से एक लड़का था रोहित. फुल स्पीड में उसका लंड धकाधक धक्के के साथ किसी पिस्टन के जैसे संगीता के भोसड़े में अन्दर बाहर हो रहा था और उसकी गोटियां संगीता के गोल मटोल चूतड़ों से टकरा कर पट पट की ध्वनि पैदा कर रही थीं.

इसके लिए मैं शायरा के रसीले होंठों का रस पी रहा था ताकि अपने लंड को एक्सट्रा एनर्जी दे सकूँ. कहानी पर अपनी राय देने के लिए कमेंट करें और मेल आईडी पर मैसेज करें. हम‌ दोनों का स्खलन एक साथ ही शुरू हुआ था … इसलिए एक दूसरे के अंगों को अपने अपने प्यार का रस पिलाते हुए अब हम‌ काफी देर तक ऐसे ही एक दूसरे की बांहों में समाये पड़े रहे.

काफी देर तक ट्राई करने के बाद मैंने सोचा कि शायद इसने भी मुझे चूतिया बना दिया.

मेरी मॉम ने मुँह खोल कर उस लड़के का लंड मुँह में ले लिया और उसका सारा माल निगल लिया. मेरा मन होने लगा कि अभी इसी समय यास्मीन को आगे झुकाकर गांड पकड़ कर अपना लंड चूत में डाल दूँ।मैंने काफी चूतें मारी हैं लेकिन आज तक इस बिरादरी की किसी लड़की की फुदी नहीं मारी।उसका फिगर 36 – 30 – 36 थी, जो मुझे बाद में पता लगा।इस तरह हर शनिवार और रविवार को मैं जाने लगा.

भोजपुरी बीएफ बिहार का विक्रम ने मेरी बीवी के मम्मों के क्लीवेज में अपना मुँह घुसा दिया और दोनों चुचियों के बीच में किस करने लगा. पर जब उनको मौका मिले, चाहे वो मेरे घर में हो या बाहर कहीं भी, तब वो भी मेरे जिस्म के अंगों को सहला देते थे।हमें कोई अच्छा मौका नहीं मिल रहा था।ऐसे ही हम लगभग 2 महीने तक एक दूसरे का मज़ा लेते रहे। मेरे घर पे हर बार कोई न कोई रहता ही थी। उनके घर पे भी उनकी फॅमिली थी.

भोजपुरी बीएफ बिहार का पूरी तरफ से स्खलित हो जाने के बाद वो निढाल हो गई और सोफे पर लेट गई. वो भी गांड को पीछे करके साथ देने लगी।वो बोली- राज तुम मस्त चोदते हो.

मेरी मामी ने मेरा नंगा खड़ा लंड देख लिया था और अपनी ब्रा और पैंटी भी देख ली थी, लेकिन मामी ने कुछ कहा नहीं.

ப்ளூ ஃபிலிம் எக்ஸ் வீடியோ

मैंने पूछा- क्यों री? तूने पैंटी क्यों नहीं पहनी है?वो बोली- बस, आज मेरा मन ऐसे ही रहने को कर रहा था. बाद में घर वापस लौटते समय रवि ने पिंकी से कहा कि उसके पास पिंकी और अनिल की कॉल डिटेल आती है. अंजू की चूत पे अंशिका की जीभ लगवा दी, अंशिका की चूत पे मेरी जीभ लगा दी और मेरे लौड़े को खुद चूसने लगी और अपनी चूत उसने अंजू के मुंह में दे दी.

मामी ने मेरे लंड को घी में डुबोकर निकाल लिया और अपने मुँह में मेरा लंड डाल कर चूसने लगीं. मैंने भी जल्दी से अपने वॉलेट से 500 रुपये निकल कर उस रांड को दे दिए, अब पूरा मामला सैट हो चुका था. मगर योग के साथ में भोग भी मिल गया!मेरे प्रिय पाठक-पाठिकाओ, आप सभी को मेरा नमस्कार.

चूंकि गोपाल की शादी मेरी शादी से पहले हुई थी इसलिये मैं उसकी पत्नी मीरा को भाभी कहता हूँ.

अपने लन्ड को मैंने 2-3 बार चूत पर रगड़ा और धीरे-धीरे डालने लगा।डालते ही मुझे समझ आ गया कि यह उसका पहली बार है क्योंकि इतना अनुभव तो था कि मैं पहचान सकूं।उसे भयानक दर्द हो रहा था मगर मैंने भी उसे प्यार से किस करना चालू रखा।अंगूठे से उसके क्लिटोरिस को सहलाते सहलाते मैंने उसकी चूत में गप से आधा लन्ड डाल दिया. उसने सुनील से पूछा- तू मेरे साथ चलेगा या घर पर ही रहेगा?सुनील बोला- नहीं तू जा … और अच्छा है जितनी देर में आये. शायरा को कुछ लेना तो था नहीं, इसलिए वो वैसे तो दुकान के बाहर वहीं स्कूटी के पास ही खड़ी हो गयी थी.

वो बोली- अभी मेरे बूब्स और दबाओ न प्लीज़ … और बताओ मुझे कब चोदोगे?मैंने उसके टॉप को ऊपर किया और ब्रा हटाकर एक मम्मे के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबा लिया. शायरा का दर्द कम‌ करने के लिए मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया. रात को मैंने बीवी को नींद की दवा खिलाने का जिम्मा सास को दे दिया और उन्होंने दूध में मिला कर मेरी बीवी को नींद की दवा पिला दी.

वो अब मेरे होंठों को चूसते और काटते हुए अपने नाख़ून मेरी पीठ में चुभो रही थी, तो मैं शायरा के बालों को पकड़कर उसके होंठों को चूस रहा था. फ़िर जब चूत ढीली हो गई तो मुझे लगा कि अब इसका छेद मेरे लंड को झेल लेगा.

हम दोनों होटल में चलें या मेरे दोस्त के कमरे पर!मतलब वो अकेले में मिलना चाह रहा था. तब मैंने उनसे पूछा- पानी कहां निकालूं?उन्होंने कहा- अन्दर ही डाल दो. गर्मी की वजह से उनकी त्वचा हल्का सा नमकीन लग रही थी लेकिन उस वक़्त मेरे दिमाग में और कुछ भी नहीं था.

उन्होंने कहा कि वो मेरे लिए एक योगा टीचर की क्लास का इंतजाम कर देंगे.

” महेश ने अपनी नाक को ठीक अपनी बेटी की चूत के क़रीब करते हुए कहा।आहहह पिता जी, आप यह क्या कर रहे हैं …” ज्योति भी अपने पिता के मुंह से निकलती हुई गर्म साँसों को अपनी चूत पर महसूस करके आराम सा पाने लगी।कुछ नहीं बेटी, मैं तुम्हारी चूत को अपनी जीभ से चाट कर साफ़ कर देता हूँ ताकि अगर कोई ज़ख़्म वगैरह हो तो वह ज्यादा न बढ़े. थोड़ी देर में मैं उठकर वॉशरूम गया और फ्रेश होकर आकर अपने कपड़े पहनने लगा. मुझको भी सच में काफी थकान हो रही थी, तो मैं मान गया और हम सब सो गए.

मैंने जगह देख कर पेशाब करने के बहाने से बाइक को रोका और उसी समय उसको शैतान के दर्शन करा दिए. मैं उसके लंड को बड़ी हसरत से देखने लगी थी, शायद वो भी मेरी चुदास को समझ गया था.

हाँ मम्मी बहुत खुश लग रही थीं। वहां बिस्तर पे फूल बिछे हुए हैं। बढ़िया शराब और उपिन्दर का हथियार। सुबह तक मम्मी मस्त हो जाएंगी और कल हमारा काम हो जाएगा. जैसे ही दूकान खुली, मैंने बियर की पांच कैन खरीदीं और अगले पांच मिनट में ही रेखा के घर के पते पर पहुंच गया. तो वो हंस पड़ीं और बोलीं- मेरे राजा बेटा को आज जरा भी सब्र नहीं हो रहा है, हां वो भी क्या करे … पहली बार जो कर रहा है.

एक्स एक्स फुल मूवी

सुबह 11 बजे उनकी ट्रेन थी तो हम सभी स्टेशन गए।उनको ट्रेन में बैठा कर हम सामान लाने बाजार की तरफ चल दिये और सबसे पहले दारू के ठेके पर जाकर हमने 12 बियर के कैन लिए.

फिर उन्होंने बताया कि सभी अध्यापक पेपर मूल्यांकन कर रहे हैं तथा मूल्यांकन कक्ष में बैठे हैं. तभी अचानक अनामिका जोश में आ गई और उसने पूरा लंड गप्प से अन्दर कर लिया. आप लोगों को मेरी निजी जीवन की ये सेक्स कहानी इतनी पसंद आएगी, मैंने सोचा ही नहीं था.

मैंने उसके दोनों कंधों पर काट लिया और वहां लव बाईट्स के निशान पड़ गए. इसका मतलब ये था कि जब वो स्खलित हुई थी … तो उसकी चुत के रस से पूरी पैंटी भीग गई थी. वीडियो में बीएफ देसीराहुल जिस तरह से शिल्पा को चोद रहा था, उससे ऐसा लग रहा था कि शिल्पा मानो उसके लिए कोई रखैल है और शिल्पा कमीनी भी बड़े मजे से बिना कोई डर के चुदवा रही थी.

कुछ देर बाद मैंने उसे पीठ के बल लिटाया और उसकी टांगें ऊपर करके उसकी कच्छी उतारने लगा. खैर, मैं झटके पे झटके दे रहा था तो ज़ारा झड़ने लगी और नीचे होने लगी.

मैं रोने लगी और सर से मिन्नतें करने लगी- उई माँ मर गई … आह सर इसे बाहर निकालो … मुझे बहुत दर्द दे रहा है. कोई चोरी तो की नहीं है, पर जब उसके पति को ये मालूम होगा कि उस रात कौन था या उसे यह मालूम होगा कि उसके पति के साथ कौन थी तो इससे फर्क तो कुछ भी नहीं पड़ेगा पर जरूरत भी क्या है? और फिर कोई भी किसी के साथ हो, ये तो तय है कि कोई भी अपने पार्टनर के साथ नहीं था. मैंने मुक्के चलाये, उसको नौंचा, लेकिन उनके ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ रहा था.

फिर मेरे लंड से माल की लंबी पिचकारी निकली और नीरू की जीभ, होंठ, आंखें और माथे पर बहने लगा. [emailprotected]कॉलेज लवर सेक्स कहानी का अगला भाग:इस चुत की प्यास बुझती नहीं- 5. उसको इस हमले की आशंका न थी और वो जोर से चिल्ला उठी- आह्ह … मर गयी ….

इस बार उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से लंड को चूत में डालकर चोदने लगा.

प्रीति रोने लगी- उह्ह … मर गयी … मेरी चूत फाड़ डाली और लंड फंसा डाला … जालिम ने मुझे बर्बाद कर दिया … अब तो मैं मर ही जाऊंगी … अब मैं क्या करूंगी. वहीं पर एक पुतले को एक बेहद फैंसी टाईप की ब्रा-पैंटी का सैट पहना कर रखा हुआ था, जो कि बिल्कुल ही पारदर्शी और जालीदार था.

चूत में चिकनाई भी पूरी थी और मेरे लंड ने कामरस निकाल निकाल कर उसके पूरा चिकना कर रखा था. धीरे धीरे अंडरवियर अंकल की मोटी जांघों से होकर नीचे उतर गया और उन का आठ इंच का लंड फुंफकार मारता हुआ आजाद हो गया. मैंने जैसे ही भाई के लंड को हाथ में पकड़ा तो भाई एकदम से जैसे तड़प गये.

वो फोन लाइन पर ही थी और मेरा लंड उससे बात करते करते खड़ा हो गया था. मैंने उससे खास बात नहीं की क्योंकि मेरे मन में अभी भी उसकी बातों के घाव थे. मैं एक बिजनेसमैन हूं और मेरी शादी हो चुकी है। मैं अपनी फैमिली के साथ रहता हूं।अब मैं आपको अपने जीवन की सच्ची देसी कजिन सेक्स स्टोरी बताता हूं.

भोजपुरी बीएफ बिहार का सुमन ने मेरी तरफ़ घूमकर अनुनयपूर्वक मुझसे कहा- ए जी … आइए ना इधर … अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है मुझसे. वो कुछ देर लन्ड के साथ खेलती रही। उसको चूमती और बोलती- मेरा राजा बेटा!मैं उसकी तरफ देखता और हंस देता।फिर हम दोनों उठकर एक दूसरे को साफ करने लगे और फिर हमने अपने कपड़े पहन लिये.

होली के रसिया

”इतना कहकर भैया रुक गए। अब तो उनका सिकंदर जोर-जोर से उछलकूद मचाने लगा था।फिर क्या हुआ?” भाभी ने पूछा।अरे … होने को क्या था वहीं इच साली का गेम बजा डाला। बाप … क्या मस्त पूपड़ी थी अपुन को भोत मज़ा आया। उसने खुश होकर अपुन को पहनने को नए कपड़े दिए, एक हज़ार रुपया बी दिया और नाश्ता बी करवाया. रीमा और उसका ब्वॉयफ्रेंड दोनों पूरी मस्ती से चुत चुदाई का खेल खेल रहे थे. असल में दीपा कहे कुछ भी … पर उसने सुनील के लिए तैयारी पूरी कर ली थी.

मैं मध्यप्रदेश के एक छोटे से शहर का निवासी हूँ और एक बहुत ही साधारण मध्यम वर्गीय परिवार से हूँ. घुटनों के बल खड़े होकर मैंने अपने लण्ड का सुपारा रेखा के इण्डिया गेट पर रखा और लण्ड को अन्दर सरकाते सरकाते मैं रेखा पर लेट गया और उसकी चूचियां चाटने लगा. बीएफ हिंदी चूतफिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और चोदते वक़्त उसके चूतड़ों को झापड़ मार मार कर इतने लाल कर दिए कि अब उसको वहां हाथ लगाने में भी दर्द हो रहा था.

उनके लंबे बाल मोटी गदीली गांड और उनके सुडौल व बड़े बड़े चुचे एक अलग किस्म की मादकता बिखेरते हैं.

उधर मेरी चुत में लगी आग किस तरह से बुझी, इसको मैं इस कालगर्ल सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगी. तभी चाची ने अपने सूट की कमीज़ निकाली, उनकी बड़ी बड़ी चुचियां ब्रा में क़ैद दिखने लगी थीं.

मामी बोलीं- जैसे तुम्हारी मर्जी राजा … वैसे चाट लो मगर चोद दो मुझे. अपने जीवन में पहली बार मैंने किसी दूसरे मर्द का लंड अपने हाथ में पकड़ा था और वो भी अपनी बीवी की चूत में डालने के लिए. जाते समय उसने मुझे कोई चीज भेंट की और कहा- ये मेरी निशानी के तौर पर रख लो.

मगर जब उसके कोमल होंठ मेरे होंठों के रस को खींचने लगे तो मैंने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया.

उसने अपनी टांगों को मेरी कमर से लपेट दिया और मुझे जोरदार चुम्मा दिया. घर पहुँचकर पता नहीं कब ऐसा मौका मिलता है।”रात का खाना खाने के बाद हम दोनों टीवी देख रहे थे. जब वो दोनों हाथ उठा कर कुत्ते की तरह मुझे देखता, तो मैं उसे सहला देती और उसके लंड को भी.

बीएफ सेक्सी वीडियो देहात कीआते ही उन्होंने हॉस्पिटल जाकर कोरोना का टेस्ट करवाया … 2 दिन तक अलग रूम में रहे. शायरा ने गुस्से से मेरी तरफ देखते हुए कहा, मगर मैं अब बगल झांकने लगा.

बिहार सेक्स सेक्स

मैंने उसे खूब ढांढस बंधाया, उसकी पीठ पर हाथ फेरते हुए उसे चुप कराने लगा. सेक्स कहानी का हर शब्द उनके द्वारा ही लिखा गया है, मैं बस ये कहानी भेज रही हूँ. किसी अनजान व्यक्ति से मैं अपना नंबर शेयर करना मेरे लिए थोड़ा कठिन था.

भाभी इस हमले को सह नहीं पाई और वो एकदम से चीखने ही वाली थी कि मैंने अपने होंठों से उसकी आवाज को एकदम दबा दिया. वो आरिषा भाभी के पास आया और बोला- भाभी क्या हुआ … आज भैया इतने गुस्से में क्यों गए?आरिषा- कुछ नहीं रामू, तुम अपना काम करो. मैंने उसकी ब्रा को उतार दिया और उसके मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा.

मैं अचानक सोच में पड़ गई कि घर पर 2 दिन रहना बहुत खतरनाक हो सकता है. उसकी खुशी को जानने के लिए मैंने उसे फिर से बिस्तर पर गिरा लिया और उसके ऊपर आकर किस करने लगा. वो भी मेरी पीठ की ओर पीठ करके लेट गयी!मेरे तो तोते उड़ गये … बाजी ही उल्टी पड़ गयी!अब क्या करूं?कुछ सोचा और उसकी तरफ करवट ली!मैं- जान! मान जाओ!ज़ारा- नहीं!मैं- प्लीज!अब वो मेरी तरफ पलटी और मेरे होंठों को चूम लिया!ज़ारा- वादा करो आईंदा ऐसा कुछ नहीं करोगे!मैं- वादा!उसने मेरे होंठों पर होंठ टिका दिये.

भाभी को इस रूप में देखते ही मेरी हालत खराब हो गई और मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरे ख्याल से आप सब दोस्त ये सोच रहें होंगे कि मुझे फ्री की चूत नीतू की मिली होगी.

जब उसने मेरे चेहरे के भाव देखे तो उसने आगे बढ़कर मेरा हाथ पकड़ लिया और अपने हाथ में लेकर बोला- भाभी, मैं आपसे प्यार करने लगा हूं.

शायद उसने कभी सेक्स नहीं किया था, क्योंकि उसका चुत की फांकें चिपकी हुई थीं. बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ बीएफ बीएफमैंने उससे पूछा- तेरा दोस्त कब तक आने वाला है?उसने कहा- सुबह बात हुई थी, तब उसने 8 बजे के लिए कहा था. हिंदी में बीएफ बीपीउन शॉर्ट्स में उसकी गोरी गोरी टाँगें दिख रही थीं और उसने चूतड़ भी बड़े मस्त तरीके से दिखाए हुए थे।पहले तो हमने नार्मल बातें कीं, फिर बाद में बात करते करते पता चला कि वो मेरे घर से बस 1 किलोमीटर की दूरी पर रहती है।यह बात जानकर मैं और खुश हो गया और ज्यादा रूचि लेकर उससे बात करने लगा. कमरे मैं जाते ही पहले बाथरूम जाकर अपनी झांटें साफ़ की और रगड़ कर मुठ मारी.

मैं लंबी-लंबी सांसें लेने लगा तो वो बोली- ज्यादा दर्द हुआ क्या?मैं- और नहीं तो क्या!ज़ारा- चलो मालिश कर देती हूं!ये कहकर वो नीचे हुई और मेरा अंडरवियर उतार कर लंड को चाटने लगी!कुछ ही देर में लंड खड़ा हो गया तो मजे लेकर चूसने लगी जैसे कुल्फी चूस रही हो!अब मुझे भी कुछ चाहिये था तो मैंने उसे 69 की पोजीशन में कर लिया और उसकी चूत चाटने लगा व क्लिट को रगड़ने लगा.

वहीं दूसरी ओर मेरा शादी के बंधन में बंधा होना और पतिव्रता होने का धर्म. अब शीना मेरे साइड में आकर लेट गई थी और संजना ने मेरे ऊपर बैठ कर मेरा लंड अपनी चूत में लेकर धक्के देने शुरू कर दिए. मैंने न्यासा को अपने दोनों मम्मों के बीच में लंड रख कर दबाने को कहा.

मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया और उसने शर्ट के अन्दर से मेरे नंगे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. चलती बस में सभी लोग सो रहे थे और हम दोनों इधर अपनी आवाज दबा कर चुदाई में मशगूल थे. पापा- डॉक्टर ने क्या बोला?आंटी- डॉक्टर साहब ने तो देख लिया है दवा भी दे दी है और बोला है कि तबीयत में अभी सुधार हो जाएगा.

लड़की सेक्सी चुदाई

इस घर में तो तीन मस्त-मस्त चूत हैं और तू झांटू आदमी लंड की मुठ मार रहा है. उसका लंड अब तक अपने पूरे शवाब पर था, जिसको उसने मेरे सामने बाहर निकाल कर पूरी तरह से आज़ाद कर दिया था. हालांकि मेरी कोई गलती नहीं थी मगर अभी हाल ही में शायरा ने मुझे भी थप्पड़ मारा था, इसलिए सबकी बातों का विषय मैं ही बना हुआ था.

कुछ देर बाद मैंने उसे पीठ के बल लेटाया और उसके पैर उसके सिर की और करके उसकी गांड में लंड घुसा कर धक्के मारने लगा.

थोड़ी देर बाद मैं फिर से लेट गया और आशा को अपने मुंह पे बिठा कर अपनी जीभ से उसकी चूत चोदने लगा.

उसको मैं बेडरूम में ले गयी और बेड के पास ले जाकर उसको बेड पर धक्का दे दिया. जितने दिन महुआ के लिये गये तो हम लोगों ने रोज ही कम से कम एक घंटा जंगल में मंगल किया।जंगल में चुदवाने के बाद फिर रात को वो मेरी बीवी की तरह चुदवाती थी. बीएफ फिल्म हिंदी में दिखाएंऔर जब सब ख़त्म हो चुका तो दोनों लड़कियाँ मेरे आजु बाजू में लेट गयी और पता नहीं कब हमें ऐसी ही नंगे पड़े नींद लग गई.

अब मुझे सारी बात समझ में आ गयी कि रात को मेरे कपड़ों पर वो दाग कैसे आते थे. अपनी बायीं हथेली में थोड़ी सी शहद लेकर मैंने दायें हाथ के अंगूठे से रेखा की गांड के चुन्नटों पर शहद लगा दी और धीरे धीरे मसाज करने लगा. अपने रूम पर आने के बाद उसका फोन आया और वो बोली कि तुम्हारे साथ बहुत मजा आया.

मैंने डाइरेक्टली कहा- मुझे क्या मिलेगा?उसने भी बेहिचक बोल दिया- जो आप चाहो … लेकिन किसी को कुछ बोलना मत. मैंने एक बार फिर से उसको बांहों में भरा और उसके नर्म रसीले होंठों को चूसने लगा.

बताइए मैं कब शिफ्ट हो सकता हूँ?अशोक- मेरी तरफ से आप अभी से शिफ्ट हो जाओ और यह चाबी आपको रूपा दे देगी.

इसी बीच मैं अपनी चूत में उंगली डाल कर अपनी गहराई नापने लगी।फिर मैंने अपनी चूत साफ़ की और नहा कर बाहर निकली।अपने शरीर को पौंछ कर मैं अपनी नई काली पैंटी पहनने लगी।वह पैंटी मेरी जांघों तक आने पर तंग होने लगी. अब मुझे विश्वास हो गया था कि वो भी जाग रही है और इन सब क्रियाओं का मजा ले रही है. ”हम्म” मैं सोच रहा था मधुर तो गीत और डांस का आज कोई मौका नहीं छोड़ने वाली।आपते लिए चाय बनाऊँ?”ना … थोड़ी देर रूककर पीते हैं.

डब्लूडब्लू बीएफ लेकिन जब उसने अपने पति को मेरी बीवी के जिस्म के साथ मस्ती करते हुए लिपटते देखा तो उसने भी धीरे-धीरे अपने जिस्म को मेरी बांहों में समा जाने दिया. मेरी उम्र 22 साल है, मेरा रंग इतना अधिक गोरा है मानो दूध में एक चुटकी सिंदूर मिला दिया गया हो.

इस बार मुझे जल्द ही मजा आने लगा और मैं उनका पूरा साथ देकर चुदवाने लगी. मैंने मना भी किया लेकिन उसके मामा की लड़की चाय बनाने के लिए रसोई में चली गयी. जब उसको पता लगा कि मैं अकेला आया हूँ, तो उसने मुझे अपने दोस्तों के साथ एक रेस्तरां में खाने पर बुलाया.

सेक्स वीडियो देसी हिंदी

चलो निकलो यहां से!बिना कुछ बोले मैंने उसको बाहर का रास्ता दिखा दिया. उसके कोमल से बदन का स्पर्श मेरे अंदर वासना की चिंगारी पैदा कर रहा था. कहीं काफ़ील फुल टल्ली हो गया, तो वो चुदाई में हमारे साथ शामिल नहीं हो पाएगा.

मैंने ड्राइवर के कहने पर केबिन को लॉक कर दिया और अब हमें किसी का डर नहीं था. इस समय मैं ऐसी परिस्थिति में था जब ना तो मैं भाभी को बेरहमी से चोद सकता था और ना वो जोरों से कामुक आवाज निकाल सकती थीं.

मुझे सुगंधा भाभी को सेक्स के लिए किस तरह से मनाना है, वो मुझे अच्छी तरह से पता था.

फिर मुझे भी इस उम्र में न जाने क्यों गांड मरवाने के सुख की लालसा भी होने लगी थी. मैं अपना हाथ धुलाई कर ही रहा था कि तब तक वो‌ लड़कियां भी टंकी के पास ही आ गईं और मेरी रगड़ाई शुरू हो गई. आज तक इतनी बढ़िया चूत चटाई और इतनी मस्त चुदाई नहीं हुई।और फिर हम एक दूसरे को बहुत देर तक चूमते रहे।उस रात सीमा की दो बार चुदाई की। वो जब तक मुंबई में थी हमने ख़ूब चुदाई की।आपको यह भाभी की चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी?अपने विचार अवश्य लिखें,[emailprotected]आप मुझे telegram app पर भी सम्पर्क कर सकते हैं बस उसमें @mayank0301 सर्च करें.

”मम्मी शरमा गयी।फिर मम्मी ने लाल जोड़ा पहना, लिपस्टिक, बिंदी, नई चूड़ियां, पूरी सज के तैयार हो गयीं।उपिन्दर आया, बड़े प्यार से मम्मी का हाथ पकड़ा और गाड़ी में बिठा लिया।अरे कामिनी, अंजू तुम लोग नहीं चलोगे?”मम्मी हमारा वहां क्या काम?”वे दोनों चले गए।हम दोनों बैठ गए, बोतल खुल गयी, पेग शुरू हो गए।अंजू ने कहा- अब तक तो सब ठीक हो रहा है. क्योंकि इसमें किरदारों की मां-बहन की चूत भोसड़े खुल कर सामने आएंगे और उनकी गंदी चुदाई भी देखने को मिलेगी. मैं बस अपनी आंख बंद करके ‘उफ़्फ़ उफ़्फ़ उई मां आह आह …’ की सिसकारियां लेने लगी.

फिर मैं अपने एक हाथ के अंगूठे पर थूक लगा कर उसकी गांड के छेद को सहलाने लगा.

भोजपुरी बीएफ बिहार का: पहले जब मैं उसको चूमने की कोशिश कर रहा था तो वह थोड़ी असहज महसूस कर रही थी. तो दोस्तो, ये मेरी पहली सेक्स कहानी थी जो मैंने और मेरी गर्लफ्रेंड ने मिल कर लिखी.

फिर मैंने हिम्मत करके पूछ ही लिया कि आप रात में क्या कर रही थीं?मेरी इस बात पर वो चौंक गईं और बोलीं- कब?मैंने बोला- रात में जब मैं बाथरूम जाने लिए उठा था तो खिड़की से आपको देखा था. मैं दर्द और मजे से दोहरी हो गई और दूसरे ही पल उसने मेरे एक कड़क निप्पल पर अपना मुँह लगा दिया. मैं वासना से मजबूर हो गयी अब तो मुझे लिंग चूसना ही पड़ा।काफी देर तक वह लिंग चुसाता रहा.

मेरी आंखों की कसमसाहट को बढ़ाने के बाद उसने एक अंगड़ाई लेते हुए नाड़े को छोड़ दिया और उसकी कमनीय काया का वो जलजला मुझे झुलसा बैठा.

वो इतनी तेज चोद रहा था कि मेरे मुंह से मेरी लार भी बाहर आकर गिरने लगी थी और दूसरे वाला मेरे मुंह में लंड को पेले जा रहा था. उनकी गांड जलाने के लिए मैंने अपनी गांड को और ज्यादा मटकाकर चलने लगी. डॉक्टर साहब पूछने लगे- क्या अब भी शौक रखते हैं?मैं चुप रहा, फिर मुस्करा दिया.