बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में

छवि स्रोत,ಬಿಎಫ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಪ್ಲೀಸ್

तस्वीर का शीर्षक ,

बुड्ढे वाला सेक्सी: बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में, [emailprotected]कहानी का अगला भाग:ज़िम वाले लड़के के साथ दोबारा सेक्स का मजा लिया-2.

ஆன்ட்டி ஆன்ட்டி செக்ஸ் வீடியோ

राधिका- अब मुझे समझ में आया कि तुम तब क्यों सोनल को छोड़कर दिशा को चोदने लगे थे. सेक्सी मूवी एक्स एक्स एक्स हिंदी मेंवो बहुत तेज से चिल्लाई, मगर मैंने उसके मुँह पे अपने होंठ रख दिए थे.

मैं कह उठी- वाह जियो मेरे लाल … मैं भी कई कॉलब्वॉय्स से चुदी हूँ, पर तेरे जितना तगड़ा लंड नहीं मिला. क्सक्सक्स वॉलपेपरमैंने उससे बोला- वी कैन ड्राप इट … डू इट व्हेन यू वर रेडी (हम कभी बाद में कर सकते हैं जब तुम तैयार हो रहोगी.

दो मिनट तक मेरे होंठों को चूसने के बाद उसने अपनी टांगों को मेरी कमर पर लपेट दिया.बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में: नीचे की तरफ वाले लड़के ने मेरी चूचियों को मुंह से निकाल दिया और मेरी पैंटी को खींच कर मेरी टांगों से बाहर करते हुए साइड में फेंक दिया.

उसको दीवार के सहारे लगाकर मैंने उसके चूचों को जोर से मसलते हुए उसके होंठों को चूस डाला और वह भी मेरे होंठों को वैसी ही बेरहमी से चूसने-काटने लगी.अंदर ही अंदर इतनी गर्मी हो गई थी कि मुझे रजाई को अपने ऊपर से हटाना पड़ा नहीं तो अंदर ही दम घुट जाता.

xxx वीडियो लड़की - बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में

मैं बोला- क्या कहां डाल दूँ?वो नशीली आंखों से मेरी आंखों में झांकते हुए धीरे से वासना से बोली- अपना लंड मेरी बुर में डाल दो.शायद रितेश जीजू यह सोचकर हेतल के कमरे में आए होंगे कि यहां पर हेतल की चूत चुदाई करेंगे लेकिन पता नहीं उन दोनों के बीच में क्या बातें हुईं.

एक गिलास मोसम्बी का रस और कुछ काजू, बादाम, पिस्ते और अखरोट एक तश्तरी में रखे थे. बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में यह देख कर मैं उसको गोद में उठा कर घर ले आया और मैंने दादा जी से उसके लिये दवा देने के लिये कहा.

उसकी इस हरकत ने मेरा हाथ मेरे तने हुए लंड पर पहुंचा दिया और मैंने अपने लंड को सहला दिया.

बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में?

तभी मैंने हल्के से काजल की चूत का दाना मसल दिया, उसी के साथ उसके मुँह से और एक तेज़ सिसकारी निकल गई ‘ओह्ह्ह्ह माँआ … शह्ह्ह … अह्ह्ह्ह … ओह्ह्ह्ह … मत तड़फओ. कुछ देर बाद मैंने देखा कि सभी लोग सो रहे हैं। मैं भी नीचे उतर कर उसके पीछे पीछे टोयलेट में चला गया। उसे अपना नाम बता कर दरवाजा खुलवाया और अंदर गया. वो इतनी ज्यादा हॉट है कि उसके चेहरे भर को देखने के बाद ही किसी का भी मन उसे चोदने को बचैन हो जाएगा.

फिर भी मौसी के मुँह से उम्म उम्म की आवाजें निकल रही थीं और मौसी कसमसाने लगीं. वैसे इंटरनेट पर आजकल ऑनलाइन डिल्डो या वाइब्रेटर मंगवा कर भी आप योनि को सन्तुष्ट कर सकती हैं. उसकी चूत चुदाई करते हुए मैं तो पूरे जोश में आ गया और तेज-तेज धक्कों के साथ उसकी चूत को फाड़ने लगा.

मुझे आज व्हिस्की पीने का मन कर रहा था, मैंने सकुचाते हुए मनीषा से पूछा, तो उसने हंस कर कह दिया- हां ले लो, मुझे कोई दिक्कत नहीं है. फच्च-फच्च करते हुए मेरे लंड ने उसकी चूत में तीन-चार धमाकेदार धक्के मारे और मेरा वीर्य भी उसकी चूत में गिरने लगा. मैंने एक गहरी सांस लेकर चूतड़ ज़रा पीछे किये और हुमक के एक धक्का लगाया.

उन्होंने पता नहीं कब मेरी ब्रा ऊपर कर दी और मेरे कच्चे नंगे बूब्स कब दबा दिए, मैं समझ ही नहीं पाई. वो बोला- अरे डार्लिंग … अभी तो मेरा लंड सिर्फ़ आधा ही अन्दर गया है.

मैंने भी एक दिन उसको रिप्लाई दिया और हम दोनों लोगों की बातें होने लगीं.

लगभग नंगे होकर मैंने मामी को वहीं बेड पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर बेतहाशा चूमने लगा.

इतनी जल्दी दिल्ली में फ्लैट का इंतजाम नहीं हो सकता था, इसलिए मैंने अपने रुतबे का इस्तेमाल करते हुए दिल्ली से थोड़ा बाहर एक रूम के फ्लैट का इन्तजाम करवा दिया और उसको भरोसा दिया कि बहुत जल्दी ही मैं अच्छा सा फ्लैट दिल्ली में दिलवा दूंगा. कभी मैं नम्रता के ऊपर चढ़कर बुर चोदता, तो कभी नम्रता मेरे ऊपर चढ़ाई करते हुए मेरे लंड के साथ खेलती. मुझे पूरा यकीन था कि प्रिया मेरा टांका मनमीता के साथ फिट करवा देगी.

पूरे घर में आहहह … ओह … आहहह … आहहह … फच-फच की आवाजें गूँज रही थीं।मुझे जब लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने उससे पूछा- क्या करना है?क्योंकि पहली बार हम बिना कॉन्डोम के चुदाई कर रहे थे।वो बिना कुछ बोले अचानक से मुड़ी, मुझे धकेल कर कुर्सी पर बिठा दिया, मेरा लंड मुंह में ले लिया और एक दो बार चूसने के बाद ही मैं उसके मुंह में और फिर उसके चेहरे पर झड़ गया. ज्यादा शोर मत करना, कहीं कोई आ न जाए!मैंने भी उसकी चीख सुन उसके बूब्स छोड़ दिए और उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर ले गया. उसकी चूत पर नीचे के बाल कुछ ज्यादा बड़े थे जबकि मैंने अपनी चूत के बाल बिल्कुल साफ किये हुए थे.

मैंने फिर उसी जगह (पैर के अंगूठे और उंगली के बीच) अपनी जीभ टिका दी और जैसे और लोग जीभ से योनि-भेदन करते हैं ठीक वैसे ही अपनी जीभ वसुन्धरा के पैर के अंगूठे और उंगली के बीच की जगह में आगे घुसाने लगा.

फिर धीरे धीरे करके मैंने अपनी पूरी जबान को चूत के छेद में डाल दी और अपनी एक उंगली के ऊपर थूक लगा के मैंने उसकी गांड के छेद में पिरो डाली. भाबी मेरे लंड से निकले हुए माल को खुद की गांड पर ही मलने का इशारा देते हुए उल्टी लेट गईं. उसने कहा- मैं आज दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान हूँ, जो मुझे तुम जैसी अप्सरा को चोदने का सौभाग्य मिला.

भाभी के मुंह से अंदर ही उम्म्ह… अहह… हय… याह… की दबी हुई सी आवाज आ रही थी. मैंने उसकी कमर से उसकी पैंटी को खींच कर नीचे करना शुरू किया और उसकी भूरे रंग के हल्के बालों वाली चूत मेरे आंखों के सामने बेपर्दा होने लगी. इससे आपके पार्टनर को ये अहसास होता है कि आप उससे बहुत प्यार करते हो.

फिर मेरे भाई ने कहा- आशना बस अब तुम मेरा लंड फिर से चूसो और खड़ा कर दो.

इस पर सारा बोली- इनसे क्या शर्म … ये सभी मेरी बहने हैं!और वो खुद तफसील से हमारी सुहागरात की पूरी दास्ताँ सुनाने लगी. मैंने जब देखा कि वो खड़ी हो कर फिल्म देख रही है, तो मैंने उससे बोला कि इधर आकर बैठ जाओ.

बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में वैसे भी भाई-बहन के बीच सेक्स हो सकता है इसमें कोई बुरी बात नहीं है. लंड जब पूरा का पूरा भाभी की चूत में उतर गया तो मैंने उनकी चूत में लंड के धक्के देने शुरू किये.

बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में मैं- उस बेचारे की कोई गलती नहीं है, तुम्हारी गांड और चूत से जो गर्म हवा निकल रही है, वो ये बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है. दोस्तो, आपको मेरी ये सच्ची घटना पसंद आई या नहीं, मुझे ईमेल पर मैसेज कीजिये, मेरी ईमेल आईडी नीचे लिखी है.

दो मिनट तक मेरे होंठों को चूसने के बाद उसने अपनी टांगों को मेरी कमर पर लपेट दिया.

बीएफ एचडी वीडियो सेक्सी एचडी

अब मैं केवल चड्डी में थी क्योंकि उस ड्रेस के साथ ब्रा नहीं पहनी थी. फिर एक दिन शाम को जब मैं लेटा हुआ था तो मेरे फोन पर एक अन्जान नम्बर से कॉल आया. मैं राधिका के पास जाकर बैठ गया और सोनल तरफ देखकर हल्की स्माइल दे दी.

अब मैं आंटी की ड्रेस पर ध्यान दिया तो उसकी नाईटी तो एकदम ट्रांसपैरेंट थी. महेश की बीवी कोई और नहीं बल्कि अनामिका थी, जो मेरे साथ स्कूल में पढ़ती थी. मगर मैंने जोर लगाते हुए उसकी चूत के ऊपरी फूले हुए भाग को ही धीरे-धीरे सहलाना शुरू कर दिया.

इसी बीच उसने मेरी जीन्स में हाथ डाल दिया और लंड को पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया.

शायद यही वजह है कि मेरे साथ कभी बुरा नहीं होता।मैंने उनको बहुत अच्छे से समझाया और फिर सब नॉर्मल हों गया।ऐसे ही तीन महीने बीत गए और हमारे बीच में मुलाक़ातों का भी दौर चालू हो गया. फिर अंकल मेरे मम्मों को देख कर बोले- मस्त लाल टमाटर लग रहे हैं और आज तो मैं गांड में भी लंड डालूंगा. थूक की वजह से मौसी की चूत गीली हो चुकी थी, जिस वजह से लंड को फांकों में रगड़ना आसान हो गया.

एक तेज आवाज ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करती हुई वो मेरे मुँह पर ही छूट गई. वह अपनी छोटी बहन और दो साल की बेटी के साथ वहाँ पर एक फ्लैट में रहती थी. सेलिना ने मेरी लोअर में तने हुए मेरे लंड को देखा और उसके देखते ही मेरे लंड ने एक झटका दे दिया.

और अलग अपनी मम्मी के घर के आसपास रहने लगी।ऐसे दस पन्द्रह दिन बीत गए। मेरा जबलपुर जाना हुआ तो उनसे मिलने के लिए पूछा तो वे तैयार हो गई लेकिन मुझे किसी काम के कारण मैं उससे नहीं मिल पाया और वापस आ गया. उस पर से मोनी का अब करवट बदलकर अपना मुँह मेरी तरफ कर लेने से मैं और भी बेचैन सा हो गया।मैंने अब एक बार फिर से अपना मुँह दूसरी तरफ करके सोने की कोशिश तो की लेकिन मुझे चैन नहीं मिल रहा था। अजीब सी कश्मकश में उलझ गया था मैं.

मेरी बहन ने भी कमर उठा कर मेरे लंड को अपनी चिकनी चूत में खाना शुरू कर दिया. राधिका ने कहा- सबसे पहले दिशा थी, फिर मैं आई थी और आखिर में सोनल थी. यह देख कर मेरा लंड भी फड़फड़ाने लगा और मेरी पैन्ट फाड़कर बाहर आने के लिए मचलने लगा.

मैंने तुरंत ही नम्रता से कहा- अब मजा आएगा, तुम्हें मेरा लंड चूसने में और मुझे तुम्हारी चूत चाटने में … आओ 69 वाली पोजिशन में आकर इस गीले लंड और चूत का मजा लें.

कहकर वो तेजी के साथ मेरी चूत में जीभ चलाने लगा और मैं मचलते हुए अपने चूचों को दबाने लगी. इधर मैंने अपनी पढ़ाई जारी रखी और इंजीनियरिंग करने के बाद बहुत बड़ा सरकारी ऑफिसर बन गया. और इतना गद्देदार कि क्या बताऊँ … आज तक इतने अच्छे पलंग पर मैं कभी नहीं सोई.

तो मैंने पूछा- दो दिन में लड़की में क्या क्या देखेगें?तो वो बोली- पागल … उनकी मामा की लड़की के अदली बदली में शादी होगी, तो उनके मामा भी जा रहे हैं. उसने मेरी टांगों को ऊपर उठा लिया था और मेरी गांड के छेद को छेड़ रहा था.

उसने मुझे फिर से अपने ऊपर खींच लिया और मेरी छाती के नीचे उसके चूचे दब गये. आप ये सब क्यों करती हैं?”क्या करूँ … मेरी मज़बूरी ही है।”फिर मैं बोली- तुमने बताया नहीं कि क्या तुम्हारा मन नहीं करता?तो वो डरते हुए बोला- करता तो है मेमसाब, पर क्या करूँ, जब गांव जाता हूँ, तभी कुछ होता है. फिर 5-7 मिनट के ताबड़तोड़ धक्कों में ही मौसी का शरीर कांपने लगा, मौसी ने अचानक अपने एक हाथ से मेरी गर्दन को पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर चूसने लगीं.

बीएफ और सेक्सी मूवी

मेरे हाथ को कुछ नर्म नर्म लगा तो कुछ फूल हटाए तो वहां फूलों में छुपी हुई दिलिया का चेहरा नज़र आया.

उसकी उभरी हुई चूत पाव रोटी की तरह फूली हुई बिल्कुल चिकनी, साफ … जैसे चूत न हो संगमरमर हो. उनके झड़ने के बाद हम वापस नंगे ही सो गए।सुबह उठ कर वो फिर शुरू हो गए. मेरे दोनों बड़े भाई आवारा किस्म के नाकारा इंसान थे जिनके बारे में कुछ बताना बेकार है, बड़ी बहिन का विवाह मध्यप्रदेश के एक बड़े शहर में हो चुका था.

मैंने झट से अपने लंड को बाहर निकाला और हल्का तेल और लगा कर दुबारा से पेल दिया. मैं भी गांड उठा कर मादक सिसकारियां लेने लगी और वो मेरी चूत को चाटने लगा. सनी लियोन सेक्सी सेक्सी वीडियोकभी कभी तो दीदी लंड को बाहर निकाल देती थी और तेजी से हाँफने लगती थी.

भोला सिंह यह बात सुनकर खुश हो गया और बोला- तुमने तो दिल खुश कर दिया भाई, बंध्या के साथ ही तुम भी यहां पर आ सकते हो. फिर दिशा बेड से खड़ी होने कोशिश करने लगी, लेकिन घमासान चुदाई के वजह से वो एक पल के लिए लड़खड़ा गई.

घबरा के मैं झट से निगाह नीचे कर लेता और फिर उनके हाथों को देखने लगता. उसके बाद भी मैंने चुदाई जारी रखी क्योंकि अभी मेरा पानी नहीं निकला था. वो चाहे कितना भी चीखे या चिल्लाए, तुम अपना पूरा का पूरा लंड अन्दर घुसा देना.

उनके चूचों के निप्पल को मैंने बहुत काटा, जिससे उनको दर्द होने लगा, पर उनको मजा भी बहुत आ रहा था. उसके बाद मैंने उसके गाउन की डोरी खोल दी और गाउन उतार कर उसको एक तरफ डाल दिया. मैंने तुरंत उसकी गांड पर थूक लगाया और पूरा लण्ड अंदर करने की कोशिश करने लगा।जैसे ही गांड में लंड ने रास्ता बनाना शुरू किया तो हर के सेंटीमीटर की गहराती हुई गहराई के साथ गीतू की दर्द भरी चीखें उसके भीतर को फाड़ कर बाहर आने की कोशिश करती मगर मेरी प्यारी गीतू उन चीखों का अंदर ही गला घोंट दे रही थी.

मैं अब ये समझ चुका था कि भाभी पूरी तरह गरमा गयी है और अपनी गर्म चुत में मेरा लंड डलवाने को मचल रही है.

अब तक की कहानी में आपने पढ़ा कि मैं अपनी बहन को मूवी हॉल में लेकर गया था. रवि बॉस के जबरदस्त लौड़े ने मेरी सालों पुरानी तमन्ना पूरी कर दी थी.

एक तरफ गांड पसीज रही थी तो दूसरी चुड़ैल को देखने का मन भी कर रहा था. फिर उसने जवाब दिया- आपकी चॉइस एकदम परफेक्ट है, आपकी लाई हुई ब्रा पैन्टी, इनको पहनने के बाद मैं कल से न जाने कितनी बार आईने में खुद को देखकर अपने आपको एक मॉडल जैसा महसूस कर रही हूँ. उसका बदन अकड़ने लगा और वो झड़ने लगी।मैंने एक हाथ उसकी चूत पर लगा दिया। उसके रस को अपने हाथों पर ले लिया।झड़ने के बाद वो रस्सी से लटक कर हाँफने लगी लेकिन मैंने उसे आराम करने का मौका नहीं दिया। मैं उसके आर्मपिट्स चाटने में लगा था। कुछ देर बाद मैंने उसके मुंह से पैंटी निकाली और अपने हाथ जो उसके चूत-रस में डूबे हुए थे, होंठों के पास ले गया, वो चाटने लगी.

मैं उसके पैरों पर अच्छे से मालिश करते हुए उसकी जांघों को चूमने लगा. कुछ ही पलों बाद उसकी गुलाबी चूत ने कामरस छोड़ दिया था, जिस वजह से रूम में फच्छ फ़च्छ. बीच-बीच में वह मेरी गोलियों को किस कर लेती थी और कभी पूरी की पूरी मुंह में भर लेती थी.

बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में वो अपने हाथों को मेरे सर पर घुमाने लगी और अपनी बुर को मेरे मुँह के तरफ़ धकेलने लगी. उसने दरवाजा खोला तो मेरी नजर सीधी उसके चूचों की दरार पर जाकर ही अटक गई.

हिंदी बीएफ सेक्सी खुला

जब भाभी ने मुझसे पूछा- तुम क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- बस मैं मूवी देख रहा था. और तभी सारा की आवाज़ आयी- अरे इसकी चुदाई तो करो!और मैंने देखा कि दरवाज़ा जो मैंने खुला छोड़ दिया था उस पर सारा और गुलाबो खड़ी हमें देख रही थी. नम्रता- तुमने मुझे बहुत बड़ा सुख दिया है, मुझे जिस सेक्स की चाहत थी, वो तुमने पूरी कर दी.

मुझे लगा शायद वनिता भी अपने ससुर जी का लंड लेना चाहती होगी, इसलिए वो उनका लंड देखना चाहती है. एक रिश्तेदार के यहां शादी में मुझे मौका मिल गया और उस रात मौसी की वासना भी जाग उठी. सेक्स वीडियो सेक्सी हिंदीभाबी भी पूरी मजबूती से लंड को पकड़ कर हिलाने का काम शुरू कर दिया था.

एक काम करते हैं, एक साथ दोनों एक आगे से पीछे से चुदाई का मजा लेते हैं.

मैंने भाभी को बताया, तो वो अपने बेड के गद्दे के नीचे से एक कंडोम निकाल कर मेरे लंड पर लगाने लगी. उनके कहने पर मैंने भी ऊपर से टोपे को मुँह में लिया और जीभ घुमाने लगी.

बाजार जा कर आना होता या और कोई सामान लाना होता, तो वह सब मुझे ही बोलती थीं. फिर भाभी बोली कि क्या तुम्हारे लिए एक गर्लफ्रेंड की व्यवस्था करूं?मैंने कहा- आप हैं ना, काम चला लूंगा. लंड चुसाई की मस्ती से जोश में आ कर मैं उसके सिर को अपने लंड पे दबाने लगा.

मूछ वाले आदमी ने दूसरे से कहा- तुम जरा बाहर जाओ और इसके बाप को नीचे घुमा कर ले आओ.

माँ बोली- क्या बात है, तुम नाराज हो मुझसे?मैंने कहा- हाँ, आपको मेरी फिक्र ही नहीं है. मैंने इस सेक्स कहानी में न ही कोई मिर्च मसाला डाला है … जो कुछ भी किया था, वो सब वैसा का वैसा ही लिख दिया है. थोड़ी देर तक मेरा लंड सहलाने के बाद भाभी बोलीं- तुमने अभी तक सुहागरात का मज़ा भी नहीं लिया है और मैं समझती हूँ कि तुम भी एकदम भूखे होगे.

बीपी सेक्सी पिक्चरइतना कहकर उसने अपने होंठ मेरे होंठ पे और एक हाथ मेरे लंड पर रख दिया और मुझे किस करने लगी. अब मैंने धक्के देने शुरू किये जोर जोर से …और वो चिल्लाने लगी- चोद मेरे विक्रम चोद चोद चोद चोद … मैं तो निहाल हो गयी आपको पाकर!अब मेरे धक्को की स्पीड बढ़ती जा रही थी.

बीएफ गांव देहात की

वैसे तो उसको देख कर ही मेरे मुंह में पानी आ गया था लेकिन मुंह के साथ-साथ लंड में भी पानी आने लगा था. मैंने नीचे झांक कर देखा तो मेरे लंड की साइड से हल्का सा खून निकल कर नीचे गिर गया था. वैसे तो सारी कहानियां अपने-आप में सम्पूर्ण हैं, फिर भी पुरानी कहानियों पहले पढ़ लेने से आप को नयी कहानी का ज्यादा आनंद आयेगा, यूं नहीं भी पढ़ेंगे तो भी चलेगा.

फिर मैं पीछे आया और उसकी गांड पे हाथ फेरते हुए मैंने उसके चूतड़ पर एक जोर की चपत लगा दी. मैं आज आपको अपनी बुआ की कहानी बताऊंगा जो मेरे ताऊ जी के साथ हुई एक सच्ची घटना है. बार बार कोशिश के बाद भी वी मेरा लण्ड चूत के लबों से नहीं छुआ पाई तो उसने अपने हाथ से मेरा लण्ड पकड़ा और अपनी चूत के मुंह पर रगड़ने लगी.

अक्सर मैं पूरी नंगी हो जाती और पापा के उतारे हुए पसीने की गंध वाले कपड़े पहन कर रात में सोना मुझे बहुत भाता था. अपना मोबाइल फोन मेरे हाथ में धीरे से देते हुए बोले- ज़रा बैटरी देखना. एक क्षण का अटपटा मौन रहा, फिर प्रश्न आया- कैसे हैं आप?अच्छा हूँ। आपसे बात करके और अच्छा हो गया हूँ।”वह शायद लजा गई। मुझे लगा मुझे अपना उत्साह कम करना चाहिए।आप कैसी हैं?” मैंने पूछा.

दोस्तो, मैं ये तब की बात बताने जा रही हूँ, जब मैं बारहवीं कक्षा की तैयारी कर रही थी. मैं खुश हो गयी और मैंने सुबह ही उसे कॉल कर घर बुला लिया।अरे उसका नाम बताना भूल गई … उसका नाम राकेश है।वो 10 मिनट में ही आ गया.

मैं राधिका के पूरे शरीर पर चूम रहा था, इस दौरान मैंने उसकी गर्दन पर लवबाइट भी किये.

लेकिन ब्लाउज में सही से मजा नहीं आ रहा था, इसलिए मैंने उसका ब्लाउज खोलने की कोशिश की. लड़की की चूत को चोदाकोई 5 मिनट के बाद वो नार्मल हुई और गांड उठा उठा के मज़े से लंड लेने लगी. सेक्सी वीडियो चोदने वाला सेक्सीमैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और मेरे बैग से मैंने तेल और जैल निकाल कर बगल की टेबल पर रख दिया. मेरे जैसा ही हाल मेरी अन्य क्लासमेट्स का भी होता था और हम अक्सर सेक्स के विषय पर हंस हंस कर बातें करतीं थीं जैसे किसका पीरियड कब होता है, किसकी ब्रा का नंबर क्या है, कौन कौन अपनी बुर उंगली से सहलाती है, बुर में कहां रगड़ने सहलाने से ज्यादा मज़ा आता है, कौन कौन चुदवा चुकी है इत्यादि.

फ्राक की बैक पर लगी चेन खोलकर मैंने उसकी फ्राक उतार दी, फिर ब्रा और पैंटी.

निहारिका ने पूछा कि क्या वो मेरे साथ सो सकती है?मुझे कोई दिक्कत नहीं थी तो मैंने हां कर दी. अब हमने अपनी सेक्स स्थिति बदलने की सोची।वीणा ने अपनी गीली चूत में से सना हुआ मेरा लंड बाहर निकाला और कमरे की स्टडी टेबल पर अपने स्तनों को टिका दिया। वीणा अपने पांव पर खड़ी होकर अपने पूरे शरीर को टेबल पर लेटा चुकी थी. उसके निरंतर संकोच और शर्म के बावजूद भी मैंने उसकी चूत में अपना लंड घुसा दिया.

मौसी भी शिथिल होकर उन औरतों से बोलीं- अब बस करो … हम दोनों को छोड़ दो. मानसी ने जीजू के निप्पलों को चूसना जारी रखा और फिर जीजू ने उठते हुए अपनी शर्ट को पूरी तरह से निकाल दिया. बीच में मैंने एक बार उसकी टांगों को हवा में उठाकर चोदा और मजा आया तो आपस में सटाकर उसको चोदने लगा.

हिंदी सेक्सी बीएफ 12 साल की लड़की

मैंने उसके पेटीकोट को पेट तक पलट कर उसकी पेंटी में अपने हाथ को घुसा दिया. सिर्फ रानी को बाथरूम में चुदना पसंद नहीं था उसका कहना था कि बाथरूम में चलते हुए शावर में एक दूसरे की जीभ और बदन के संपर्क का लुत्फ़ गायब हो जाता है. मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डालकर हौले हौले अन्दर बाहर करते हुए कहा- आज की रात सोने के लिए नहीं है.

न जाने कब किसने यह नाम उनको दिया था और तब से ही यह नाम उनके साथ चिपक गया था.

अब आगे मैं आपको अपनी अम्मी की चुदाई भरी इस सेक्स स्टोरी का अगला हिस्सा पेश करूंगा.

ऐसा चोदू मर्द मुझे मिल गया था जिसकी चुदाई पाकर कोई बांझ भी बच्चा जन दे. सरपट दौड़ती रफ्तार से जब मैं मंजिल के करीब पहुंचा तो लण्ड फूलकर मूसल हो चुका था. देसी एक्स एक्स एक्स हिंदीपता नहीं मेरी चूत में एक अजीब सी सनसनी सी होने लगी थी उनको इस हालत में देख कर.

गुप्ताइन के जाने के बाद मैंने तुरन्त सेटिंग कर दी और अपने बेडरूम में लगे टीवी में पेन ड्राइव लगा दी. दो घंटे पहले जब घर की बाकी की औरतें ब्यूटीपॉर्लर जा रही थी तो मैडम अपने लैपटॉप पर बिज़ी थी. दूसरी तरफ मोनी हल्का-हल्का कसमसाते हुए बस टसक रही थी।जिस लड़की या औरत के बारे में आपने कभी गलत नहीं सोचा हो और उसी लड़की या औरत के साथ जब आप ऐसा कुछ करते हो तो जो उत्तेजना उसके साथ चढ़ती है वैसी उत्तेजना किसी और के साथ नहीं चढती.

दोस्तो, मुझे मेरी पिछली कहानीकैब से बेडरूम तकमें आप सभी का इतना ज्यादा प्यार देने के लिए धन्यवाद. मैंने अपना लंड उसकी गांड में सैट किया दोनों हाथों से उसकी पीठ पकड़ कर झटके पर झटके लगाने लगा.

कहकर उसने मेरे होंठों को चूम लिया।मैं फिर मम्मी-पापा को छोड़ने स्टेशन गया। ट्रेन लेट थी और आते-आते शाम हो गयी.

और दिलिया की चीख निकल गयी- आईई आहाह आआआआ आईईईई स्स्सस!मगर गजब की हिम्मत थी उसमें … अपने हाठों में मेरा चेहरा लेकर चूमते हुए बोली- गज़ब किला फ़तेह किया तुमने आमिर … आई लव यू! बहुत दर्द हुआ लेकिन मुझे गर्व है कि मेरी चूत को तुमने एक ही धक्के में ही फाड़ दिया. मेरी उंगली लेने में स्वीटी को दिक्कत हुई … उसकी चीख निकल गई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मतलब स्वीटी पहली बार चुदने जा रही थी, वो बिल्कुल सीलपैक माल थी. मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर के एक मध्यम वर्गीय परिवार में रहने वाला लड़का हूँ.

मराठी आंटी का सेक्सी वीडियो आप बेफिक्र होकर हस्तमैथुन कीजिये परंतु नियमित तौर पर नहीं।अब आपकी तीसरी समस्या के बारे में कहना चाहूंगा कि यदि आपने सेक्स का अत्यधिक मात्रा में आनंद लिया है और आपकी योनि पूर्ण रूप से खुल गई है तो आप हस्तमैथुन करना छोड़ दें. दीदी- पागल है क्या … चल पीछे हट!मैंने कहा- नहीं, दीदी आज तो मैं आपसे बदला लेकर ही रहूंगा.

वसुन्धरा के हाथ अब अटैची-केस के हैंडल से हट चुके थे और अब वो सहजता से सीट की पुश्त से पीठ लगाए, गोदी में रखे अटैची-केस पर अपने दोनों हाथ टिकाये बाएं हाथ की तर्जनी उंगली पर दायें हाथ से दुपट्टा लपेट-खोल रही थी. इतने में महेश फिर आ टपका!मैंने कहा- आ भोसड़ी के! और अपनी बहन की चूत मे उंगली कर!अब महेश गीतू की चूत में उंगली कर रहा था और मैं उसकी गांड मार रहा था. अब हम दोनों को रोज फेसबुक पर और व्हाट्सैप पर घन्टों बात करते रहने की एक आदत सी पड़ गई थी.

बुर लंड बीएफ

मैंने झट से रिप्लाई किया- आपसे एक बात पूछना चाहता हूँ, आप नाराज तो नहीं होंगी ना?उसने कहा- पूछो ना … मैं भला क्यों नाराज होऊंगी. मैंने पूछा कि क्यों आपके घर में और कोई नहीं है?उन्होंने बताया कि घर पे सिर्फ उनकी सास ही हैं और उनके ससुर की काफी साल पहले डेथ हो चुकी है. मेरी पिछली सेक्स कहानीमामी ने अंकल को सेक्स के लिए बुलायाआप सबको बहुत पसंद भी आई थी, जिसको लेकर मुझे बहुत से ईमेल भी मिले थे.

कुछ मिनट लंड चुसाई करने के बाद उसने अपनी ब्रा पैंटी भी उतार दी और मेरे सीने के दोनों तरफ अपनी दोनों टांगें डाल कर अपना एक निप्पल मेरे मुँह में डाल दिया. सेलिना आकर मेरे पेट पर बैठ गई और उसकी गांड मेरे लंड से टच होने लगी.

सुमन ने तेजी के साथ अपनी उंगलियों से मेरी चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

वो दरवाजे छेद पर आंख लगाकर झुकी हुई थी और मैं उसकी गांड के छेद पर अपने लंड को लगाकर रगड़ने लगा. जैसे ही मैंने बहन की चुत की दरार से अपना लंड रगड़ा, उसने अपनी चुत को फ़ैला दिया. उसकी चूत और भी ज्यादा चिकनी हो गई और मैंने ताबड़तोड़ उसकी चूत की चुदाई शुरू कर दी.

उसने मेरी लोअर को नीचे करवा दिया और मेरे तने हुए लौड़े को हाथ में लेकर सहलाने लगी. मुझे अपने पास बुलाकर बोले- आजा जानम, आज तुम्हें सुहागदिन का मजा देता हूँ. उसके जाते ही घर पर खुद को अकेला पाकर अपने सारे कपड़े उतारकर अपनी चुचियों को दबाने लगी और अपनी चूत में उंगलियां डालने लगी.

अगर आप इस कहानी के बारे में कुछ भी बात करना चाहते हैं तो मेल करके जरूर बताएं.

बीएफ सेक्सी चाहिए हिंदी में: कार रोज़ मैडम को स्कूल छोड़ने आती थी और छुट्टी के टाइम वापिस घर ले जाने आया करती थी. वो हमेशा साड़ी और ब्लाउज पहनती हैं … उनके चूचे इतने बड़े हैं कि उनकी क्लीवेज हमेशा उनके ब्लाउज में से दिखती रहती है.

ताऊ जी मेरी बुआ के चूचों को चूसते हुए कमर चला कर उनकी चूत मार रहे थे. मेरे चूमने से उसका सीना सिहरने लगा और दिलिया उत्तेजना में सर इधर उधर करने लगी. मेरे शौहर ने टिकट देखे और फिर पैसे देने लगे, पर विकी ने लेने से मना किया.

उसने कहा- अभी तुम बारहवीं में हो और तुम्हें सब कुछ आता है?उसके मुँह से ये सुनकर मैं थोड़ी शर्मा गई, मैंने कहा- अरे मैं वो नहीं कह रही.

वो बोली- अगर दोबारा वही नजारा सामने हो तो क्या करोगे?मैंने कहा- अबकी बार तो काट कर खा ही जाऊंगा. मैं पूरी मस्ती में उसकी चुत को चाट रहा था और वो कामुक सिसकारियाँ भर रही थी. कुछ देर लिपटे रहने के बाद हमने कपड़े पहने और जाने के लिए तैयार हो गए.