भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,बाजू के डिजाइन दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी सेक्सी वाला: भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म, चल अब जा।फिर मैं किसी ना किसी बहाने से उसके घर जाने लगा। धीरे-धीरे हमारी बोलचाल बढ़ गई और हम आपस में मजाक भी करने लगे। जिसका वो बुरा नहीं मानती थी। मेरी बातचीत में अब ‘आप’ की जगह ‘तुम’ ने स्थान ले लिया था।एक दिन मैंने कहा- तुम चाय तो पिलाती नहीं.

ओल्ड सेक्स मूवी

देसी काली चूत के दर्शन पाते ही चोदने को मतवाला हो जाता है।पर जब बात गोरी मेम की चूत का भोग लगाने की हो. ओपन राजस्थानी सेक्सफिर कहीं और चलेंगे।उसने अपना फोन नम्बर दिया और एक जोरदार ‘फ्रेंच-किस’ दी और वहीं मेरे सामने खड़े होकर अपने कपड़े बदलने लगी।अब उसने अपना ब्लाउज भी खोल दिया था और मेरे सामने बस ब्रा और सलवार में खड़ी थी।मैंने एक बार फिर उसके मम्मों को जोर से दबाया और ब्रा के ऊपर से ही उसके चूचों को चूसने लगा।मैंने उससे कहा- आज तुम नहीं मानोगी.

उस पर काल करना।यह कहकर वे चले गए।इसके बाद जब मैं बिस्तर से उठा तो मैं बुरी तरह कांप रहा था और मैंने अपने पैरों पर खड़े होने की कोशिश की. साउथ सेक्स डॉट कॉमजब वो थोड़ा नार्मल हुई तो फिर से हम एक-दूसरे के होंठों को चूसने लगे।थोड़ी देर में वो फिर से गर्म हो गई और मेरी पैन्ट के ऊपर से ही वो मेरे लंड को दबाने लगी। चूंकि वो नहाए हुए गीले बदन थी.

अब मुझसे नहीं रहा जाता है।फिर मैं एक हफ्ते बाद होली के छुट्टी में घर चला गया। मैं पहुँचते ही सबसे पहले सोनम के घर गया वो मुझे देख कर बहुत खुश हुई।रात को हमने अगले दिन सेक्स करने का पूरी प्लानिंग की।मैंने उसे बताया- कल तुम कॉलेज जाने को निकलना और घर में अपनी किसी फ्रेंड के यहाँ रुकने का बहाना बना देना।वो जब कॉलेज से निकली.भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म: मुझे तृषा की जलती हुई चिता मेरे सामने होती। ऐसा लगता मानो वो अपना हाथ बढ़ा रही हो और मैं उसे बचा नहीं पा रहा हूँ।मेरे बगल वाली बर्थ पर तृष्णा सोई थी। वो मुझे इस तरह बार-बार करवट लेता देख मेरे पास आई और उसने मेरे हाथ को कस कर पकड़ लिया।मेरे कानों में तृष्णा धीरे से बोली- शांत हो जाओ और सोने की कोशिश करो। मैं तुम्हारे दर्द को समझती हूँ.

ऐसे गुस्से में मुझे क्यों अन्दर ले आई?रोमा- टीना हमने वादा किया था कि वो बात किसी को नहीं बताएँगे और तूने अपने भाई को बता दी.तुम्हारे और पड़ोस वाली पूजा के बारे में क्या चलता है।इस बात पर मैं कुछ नहीं बोल पाया।भाभी ने फिर से पूछा- बताओ न.

செக்ஸி பிக்சர் பிபி - भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म

पर उम्र के साथ ये प्यार में बदल गई और दसवीं के बाद मैंने उसे प्रपोज कर ही डाला।वो मान भी गई।हम दोनों एक-दूसरे को बड़ी शिद्दत से टूटकर चाहते थे। सच कहूँ.क्योंकि वो विवाहिता है।उसने अपनी असली फोटो फेसबुक की प्रोफाइल में नहीं लगा रखी थी।इसलिए पहले तो मुझे भी लगा कि वो कोई फेक आईडी है.

तो काफी टाइट हो गई थी। मेरा लण्ड अभी 2″ ही जा पाया था।मैंने जोर लगा कर एक और झटका मारा और पूरा लण्ड भाभी की चीख के साथ चूत में उतार दिया और अन्दर-बाहर करने लगा. भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और मम्मे चूसने लगा। उसकी चूची को जीभ से गोल-गोल चूसते ही वो मस्त हो गई।मैंने नंदिनी की स्कर्ट को ऊपर करके जाँघें सहलाने लगा।मैं बीच-बीच में उसकी चूची को दबा भी देता.

तो उस वक्त वो मुझसे थोड़ा हँसी-मज़ाक कर लेती थी।मैं भी इसे सामान्य तौर पर लेता था। इसी तरह से तीन महीने बीत गए.

भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म?

सुमन कुछ न बोली।मैं- क्या तुम मुझे माफ भी नहीं कर सकती?सुमन- मैंने तुम्हारे बारे में ऐसा कभी नहीं सोचा था।मैं- मैंने भी तुम्हारे बारे में ऐसा कभी नहीं सोचा था।सुमन- मैंने हमेशा तुम्हें अपना दोस्त माना. सामने के कमरे में बेटा सोया हुआ है।मैं यह सुन कर समझ गया कि मॉम मुझे पापा ही समझ रही हैं।मैं धीरे से उठा. कुछ देर बाद वो अकड़ गई और निढाल हो कर मेरे ऊपर ही लेट गई।मैंने उसको होंठों को चूसना और मम्मों को दबाना चालू रखा। अब मैंने अपना लण्ड उसके मुँह के सामने रखा और वो तुरंत ही मेरे लण्ड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी और मैं उसकी चूत के दाने को मसलता रहा।कुछ देर बाद उसने कहा- अब और नहीं सहा जाता.

सो उसने वही कहा जो रोमा चाहती थी।करीब 20 दिन तक यही सिलसिला चलता रहा।एक रात नीरज को उसके दोस्त ने कहा- गाड़ी और फ्लैट का किराया कहाँ है. फिर उसने उठ कर मेरे लंड का सुपारा मुँह में ले लिया।अब मैंने प्लेट से एक केला लिया और उसे छील कर उसकी चूत पर रगड़ने लगा। फिर उस केले को उसके मुँह पर रखा. मैं उसकी बुर को देखता ही रह गया और वो शरमाने लगी।अब मैं पूरा गरम हो चुका था और मैंने भी अपना अंडरवियर निकाल दिया।गर्मी का मौसम था.

फिर अचानक उठ कर लण्ड को मुँह में ले लिया और लगभग 10 मिनट तक वो लौड़ा चूसती रही।आख़िर मैंने कहा- भाभी अब निकलने वाला है. बियर खत्म होने तक मेरा तो लण्ड पैन्ट से बाहर आने को तैयार था।उतने में ही उसकी नज़र मेरी पैन्ट के उभार पर पड़ी तो वो बोली- आपका पप्पू कुछ ज्यादा ही बेचैन हो रहा है।मैं- आपको देखकर तो कोई भी बैचेन हो जाएगा. यह आपकी चूत पर ही मेहरबान हुआ है।भाभी मेरे लौड़े को देखने लगीं।अब मैंने कहा- भाभी ये नाईटी क्यों पहनी हुई है.

भांजा आगे-पीछे हिल रहा था और उसके चूतड़ कंबल के अन्दर ऊपर-नीचे हिल रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे वो आगे-पीछे ऊपर-नीचे बड़ी तेज़ी से हिल रहा था। शायद तेज़ी से बिस्तर से कुछ रगड़ रहा था।शादी से पहले की सेक्स शिक्षा और सुहागरात के अनुभवों की बदौलत मुझे साफ़-साफ़ ये बात समझ में आई कि वो हस्तमैथुन का प्रयोग कर रहा है।लेकिन बिना हाथ लगाए. तो चाची ने उसको पकड़ लिया और हल्के से रगड़ने लगीं और अपनी टाँगों को मेरे ऊपर रख कर अपनी बुर में डालने लगीं।यार ऐसे में लंड कैसे जाए.

अब मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसको नंगी कर दिया।मैंने उसके जैसा सेक्सी जिस्म कभी नहीं देखा था। मैं उसके नंगे बदन को देख कर मचल उठा और मैंने उसको अपनी बाँहों में लेकर किस करना शुरू कर दिया। मैं उसके पूरे शरीर पर बेतहाशा चूम रहा था।उसने बोला– थोड़ा हार्ड.

मैं करीब 5 मिनट तक उसे मज़े दे कर चोदता रहा और वो लण्ड के मज़े लेती रही।अचानक उसने मुझे ज़ोर से पकड़ लिया और मेरे शरीर को जकड़ने लगी.

हम दोनों एक ही ‘डेरी-मिल्क’ आधी-आधी खाएँगे तो प्यार और मजबूत होगा।रोमा- आप ‘डेरी-मिल्क’ की बात कर रहे हो. पर ऐसे तड़पोगे तो तृषा भी बेचैन ही रहेगी।वो मेरे बाल सहलाने लगी, मैं धीरे-धीरे सो गया।सुबह निशा की आवाज़ से मेरी नींद खुली- सोते ही रहोगे क्या? सुबह के दस बजने जा रहे हैं।मैं अंगड़ाई लेता हुआ उठा और फ्रेश होने चला गया। मैं फ्रेश होकर जब वापिस आया तो देखा. मुझे एक शैतानी ख्याल आया और साथ ही मेरी आँखें कमरे के उस अँधेरे में भी चमक उठीं।ुमैंने एक नज़र जाहिरा के चेहरे पर डाली.

मैं कहीं भाग नहीं रही हूँ।मुझे अपनी चुदास के चलते उनके ये शब्द सुनाई नहीं पड़े और मैं ज़ोर-ज़ोर से उनकी चूचियां चूसता और दबाता रहा।वो लगातार ‘आआहह. जब तृषा ने अपना फैसला मुझे बताया था कि वो अब किसी और के साथ शादी करेगी। मैं तो वहीं ज़मीन पर गिर पड़ा था जैसे. तो वो सुबह मेरे घर आ गईं। वे मुझे ब्रेकफास्ट देने आई थीं और मैं नंगा ही अपने कमरे में सो रहा था।आंटी ब्रेकफास्ट लेकर मेरे कमरे में आ गईं और उस वक्त मेरा लंड खड़ा था वैसे मैं लड़कियों ने ऊपर मेरे लंड का साइज़ तो पढ़ ही लिया होगा.

कर रही थी।फिर मैंने उसको सीधा किया और उसको देखा तो उसकी आँखें बहुत ही नशीली दिख रही थीं।वो बोली- तुमने पता नहीं.

क्योंकि आज उसका भाई उसकी नंगी चूचियों को और चूत को भी मसल चुका था।रात का खाने खाते हुए भी फैजान अपनी बहन की चूचियों को भी देखना चाह रहा था। वो उनको अपने भाई की नजरों से छुपा रही थी. मैं बेशरम होकर दोनों के पैरों के पास नीचे कार्पेट पर बैठ गया। दोनों के बीच में बैठने के कारण एक के पैर मैंने मेरे दोनों हाथों में उठाए और उन्हें चूसना शुरू कर दिया. थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ गया।फिर आधे घंटे बाद हमने दोबारा चुदाई शुरू की।अब उसकी गाँड मारने की बारी थी। वो मना करने लगी.

मैं तुझे दिखाता हूँ।पुनीत बैठ गया और अपने मोबाइल में एक वीडियो चालू करके मुनिया को फ़ोन दे दिया।उस वीडियो में एक लड़की एकदम नंगी खड़ी एक आदमी की मालिश कर रही थी जो एकदम नंगा था। पहले तो मुनिया को अजीब सा लगा. मेरा पूरा रस मैंने शीतल के मुँह में निकाल दिया और उसने उतनी ही अच्छे तरह से पूरा माल गटक लिया।अब मेरा लंड सिकुड़ गया था. जो कि मेरी पुरानी ग्राहक है।उसने अपना नाम शाजिया बताया था।मेरा मन तो यही कर रहा था कि उस गुलाब के फूल को तुरंत ही सूंघ लिया जाए.

मेरा शिकार करने वाली हैं।मैं थका होने की वजह से एक ही कंबल में दीदी से सट कर सो गया।नींद आने के एक घंटे बाद मेरी आँख खुली तो बिजली जा चुकी थी। पूरे कमरे में घुप्प अंधेरा था।दीदी को लगा कि मैं सो गया हूँ.

अपना लण्ड मेरी चूत में डाल दो और मुझे चोद डालो।मैंने भी देरी करना ठीक नहीं समझा और अपना लण्ड उनकी गीली चूत पर टिका दिया। जैसे ही धक्का दिया उनकी ‘आह. उसकी लाइफ में इन दोनों का मज़ा लिखा हुआ था। उधर रोमा की चूत की आग दिन पर दिन बढ़ती जा रही थी। वो किसी ना किसी बहाने नीरज के पास चली जाती और अपनी चूत को ठंडा करवा के आती थी।हाँ… आपको एक बात बताना भूल गई रोमा ने खुलकर टीना को अपने और नीरज के प्यार के बारे में बता दिया था मगर सिर्फ़ प्यार के.

भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म जैसे ही मैंने जाहिरा का नाम लिया तो फैजान की आँखें बंद हो गईं और उसके धक्कों की रफ़्तार में तेजी आ गई।वो मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा।मैं समझ गई कि इस वक़्त वो अपनी बहन का चेहरा ही अपनी आँखों के सामने देख रहा है। मैंने भी उसे डिस्टर्ब करना मुनासिब नहीं समझा और भी जोर से उसे अपने साथ लिपटा लिया।अभी भी उसकी आँखें बंद थीं और वो धनाधन अपना लंड मेरी चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था. और फिर जाहिरा टीवी लाउंज के एक कोने में पड़े हुए इस्तती स्टैंड की तरफ बढ़ गई।मैं रसोई में आ गई ताकि फैजान भी खुल कर अपनी बहन के जिस्म का दीदार कर सके।जहाँ जाहिरा खड़ी होकर शर्ट प्रेस कर रही थी.

भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म मैं क्या करूँ?मैं भाभी को चुप कराने लग गया और बोला- भाभी यही तो जिन्दगी की कड़वाहट है।इसी तरह कुछ देर तक बात होती रहीं. अभी तक सो रहे हो?मैंने बोला- गर्मी की वजह से नींद नहीं आई।तो दोस्तो, यह थी मेरे चचेरी साली के साथ मस्ती भरी चुदाई जो अनायास हो हो गई थी।अगर आप मुझसे कुछ कहना चाहते हैं तो मुझे मेरी ईमेल पर जरूर लिखिएगा।[emailprotected].

फिर उसने मुझे कुछ पैसे दे दिए।मैं अब सोसाइटी से बाहर आ चुका था। आज तक मैंने शायद ही कभी घर पर कोई काम किया था। सो थोड़ा अजीब सा लग रहा था.

औरत वाली सेक्सी पिक्चर

वैसे तो मुझे पहले लड़कियों से बात करने में बड़ा डर लगता था।इस बार मैंने उससे डरते-डरते पूछ ही लिया- क्या मैं आपकी कोई मदद कर सकता हूँ?पहले तो उसने मुझे घूर कर देखा. अब इसकी चुदाई के दिन नजदीक आने वाले हैं और यह जल्दी ही मेरे लण्ड के नीचे होगी।एक बार मेरा दोस्त एक हफ्ते के लिए गाँव गया था. मैंने अपनी आँखें बंद की और चुपचाप खड़ा हो गया। भाभी ने मेरी आँखों पर कपड़ा बाँध दिया और मुझे उन्हें छूने से मना कर दिया।फिर मुझे मेरा पजामा नीचे होता हुआ महसूस हुआ.

अचानक वो खड़ी हुई और उसने एक अलमारी में से सीडी निकाली और सीडी प्लेयर में डाल दी। वो एक ब्लू-फिल्म की सीडी थी।अब हम वैसा ही करने लगे. फिर उसने अपनी नजरें झुका ली।थोड़ी देर बाद छुट्टी हो गई।अगले दिन उसने मुझसे कोई बात नहीं की।एक सप्ताह बीत गया।फिर मैं उसके पास गया और उससे बातचीत शुरू करने की कोशिश की- क्या मैंने कोई जानबूझ कर ऐसा सपना देखा था?सुमन बिना कुछ बोले आगे बढ़ने लगी। मैंने उसका हाथ पकड़ लिया।सुमन- देखो. वहाँ टेलर ने उसकी नाप लेनी शुरू की। मैं वहीं खड़ा था और उसे गाइड कर रहा था।उसने ब्लाउज का नाप लेना शुरू किया तो उसने अंजलि से दुपट्टा उतारने को कहा और अंजलि ने दुपट्टा उतार दिया।फिर उस टेलर ने नाप लेना शुरू किया.

तो मैंने भी मौका देख कर अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए और जोर-जोर से उन्हें चूसते हुए किस करने लगा।अब अपने एक हाथ से मैंने उनकी मोटी-मोटी चूचियाँ दबानी शुरू कर दीं। भाभी भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं और मेरे होंठों को ऐसे चूस रही थीं.

वो फिसल गया।मैं उठा और मैंने पास रखे तेल के डिब्बे से बहुत सारा तेल मेरे लंड पर लगाया और उसकी चूत के छेद में भी तेल डाला।अबकी बार मैंने उसके पैरों को और चौड़ा किया और लंड को छेद पर रख कर थोड़ी ताक़त से धकेला. वो मचल सी गई फिर मैं उसको साइड में ले गया।वहाँ आस-पास और लड़के-लड़कियाँ चूमा चाटी करने में लगे हुए थे।मैंने भी उसको पकड़ कर चूमना शुरू कर दिया।पहले तो वो नखरे करने लगी. लेकिन मुझे लगा कि शायद मेरे पास कोई है।मैंने पूछा- कौन?तो पूजा ने झट से मेरा मुँह दाब दिया और बोली- भाई.

जिससे उसकी चूचिया नंगी हो गईं, पजामी व पैन्टी को पैरों से अलग कर दिया, अपने भी कपड़े उतारे व थोड़ी देर उसकी चूत सहलाई और जब वह बहुत गरम हो गई तो खुद ही बोल पड़ी- आह्ह. पर ये नहीं मालूम था कि मैं अपने ख्यालों में किसी और की बीवी को देखता हूँ।तृषा मेरे गले से लगते हुए बोली- आज भी ताने दोगे. मगर फ़ौरन ही उसको अहसास हो गया कि मीरा वहीं है और वो रुक गई।ममता की हालत का अहसास मीरा को हो गया तो वो हँसने लगी।मीरा- हा हा हा अरे ममता डर मत.

उसकी चूत को इस तरह की चुदाई उम्मीद नहीं थी और उसकी चूत एकदम लाल हो गई।मैंने उसकी कमर और चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ा और चूत मे लंड डाले हुए ही मैंने सीधा लेट गया और उसे अपने ऊपर खींच लिया. आँचल का ये स्कूल जाने का समय रहता है और तुम्हारे दोस्त ऑफिस में रहते हैं।जॉन्टी अंकल- हाँ शोभा डार्लिंग.

क्योंकि उसके लड़की हुई है।मैंने उनसे पूछा- कमरे के लिए अंकल को हाँ तुमने ही किया था न?तो वो मुस्कुरा उठी और आँख दबा कर बोली- हाँ अब सहन नहीं होता था और तुम मुझे पसंद भी आ गए थे।उसके मुँह से यह सुनकर मेरा फिर से लंड खड़ा हो गया। मैंने उसकी टांग उँची करके अपना लौड़ा चूत में डालने लगा. ’मैं उसकी चूत को अन्दर तक चाटने लगा। दस मिनट में 2 बार उसकी चूत का अमृत निकला।मैं उसकी टाँगों को चौड़ा करके अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। फिर शुरू हुई असली चुदाई लीला. जैसे कि चाबुक चल रहे हों।मैं अपनी पूरी रफ़्तार से उसकी चूत में अपना लण्ड अन्दर-बाहर करने लगा।अब उसे भी अब मज़ा आने लगा था.

ये किसी को नहीं पता चलेगा और दूसरी बात कि ये हो सकता है कि आज तक तुम्हारे बदन को किसी ने बिना कपड़ों के नहीं देखा या छुआ है.

तो यह कहना कतई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि हर लड़की मेरी पर्सनालिटी और हाज़िरजवाबी की तारीफ़ करती है।मेरा नाम तो प्रेम है. जो जल्दी ही खत्म हो गई। भैया का प्रमोशन हो गया और वो बंगलोर शिफ्ट हो गए। तब से किसी भाभी या आंटी का इंतजार है. इस खेल में मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं अपने लौड़े को उससे खूब चुसवा भी रहा था।थोड़ी देर बाद मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है.

पर लौड़ा अन्दर नहीं जा रहा था।फिर मैंने एक ज़ोर का झटका मारा तो सुपाड़ा घुस गया और सोनम चिल्लाने लगी- निकालो. इसलिए उन्हें मेरा लौड़ा खाने में कुछ तकलीफ़ हो रही थी। मुझे भी उनकी चूत काफ़ी टाईट लग रही थी।मैं मस्त हो कर उनकी चूत चोदने लगा। वह मुझे भरपूर मजा दे रही रही थी। कुछ देर बाद भाभी मेरे ऊपर आ गईं और मैं नीचे से चूत चोदने के साथ-साथ उनके गोरे और बड़े-बड़े चूतड़ों को सहलाने लगा।कुछ ही धक्कों में भाभी की चूत पानी छोड़ गई। अब मैं भी और देर तक टिका नहीं रह सकता था।मैं उठा और भाभी को लिटा कर.

और अब तो मैं रोज़ ही उनके आने से पहले ही स्कूल के पास पहुँच कर उनका इन्तजार करने लगा था।कई बार मैंने उनसे बात करनी चाही. इसलिए मैंने भी सोचा कि यही ठीक रहेगा।उस आंटी से मैंने एक बार फोन पर बात की और कुछ दिनों बाद मैं मुंबई आ गया। मैं पहली बार मुंबई आया था. मेरे एक दोस्त ने बताया कि याहू चैट पर काफी लड़कियों से बात हो सकती है… तो मैंने सोचा कि क्यों ना अपनी किस्मत आजमायी जाए।मैंने याहू चैट पर लड़कियों से बात करनी शुरू कर दी। काफी समय बीत जाने पर भी किसी से बात न हो पाने पर मैं निराश हो गया था.

सुहागरात मारवाड़ी सेक्सी वीडियो

तब अपने किसी फ्रेंड से घर में कॉल लगा कर उसके यहाँ रुकने का बहाना बना दिया।मैं भी घर में अपने एक दोस्त के बर्थडे पार्टी में जाने का बहाना बना कर रात में वहीं रुकने का बता कर निकल गया।फिर हम लोग वहाँ से करीब 50 क़ि.

मैं ठीक समय 10 बजे उसके घर आ गया। उसने उस समय हरे रंग का गाउन पहना हुआ था और साफ़ दिख रहा था कि अन्दर कुछ नहीं पहन हुआ है, मेरी आँखें यह साफ़ देख सकती थीं।मैं अन्दर आया तो वो बोली- कुछ खा लो. उसने कहा- आप मुझसे कितना प्यार करते हो?मैंने कहा- जितना तुम मुझसे करती हो उससे हजार गुणा अधिक।वो हँसने लगी और कहने लगी- आपसे बातों में कोई नहीं जीत सकता। अच्छा सुनो. वो मेरी पत्नी से अक्सर कहती थीं- मुझे अपने बदन में बहुत दर्द महसूस होता है।एक दिन मैंने मजाक में कह दिया- भाभी आप अपने शरीर की मालिश कराओ.

तो मैं किसी भी औरत को संतुष्ट करने का दम रखता हूँ।मैं आज आपके सामने अपनी पहली चुदाई की कहानी पेश करने जा रहा हूँ। आशा करता हूँ आप सबको मेरी कहानी पसंद आएगी। यदि कहानी में कोई गलती हो तो मुझे माफ़ करें और अपनी अपनी झाटें साफ़ करें।बात उस समय की है. मैं तुम्हारे साथ सेक्स कर रहा हूँ।इतना सुनते ही उसका मुँह पीला पड़ गया और हाथ में पकड़ा हुआ बिस्किट भी हाथ से छूट गया। वो मेरी तरफ देखती ही रह गई।मैं उसकी तरफ देख रहा था. फुल एचडी सेक्सी वीडियो डॉट कॉमतो वो गर्म हो रहा था, उसने मौका मिलते ही मुझे अपने पास खींच लिया और मेरे गालों को चूमने लगा।मैंने अपना हाथ उसके पजामे के ऊपर से उसके लण्ड पर रखा और बोली- क्या बात है.

तो दीदी हँसने लगीं और उन्होंने कहा- मैं आज तुझे सब सिखाती हूँ।फिर दीदी ने पूछा- किसी लड़की को कभी नंगी देखा है?ितो मैंने कहा- नहीं. फिर मैंने एक बार लौड़ा बाहर निकाल कर उसकी चूत साफ़ की और फिर चुदाई शुरू कर दी।थोड़ी देर बाद उसको भी मजा आने लगा और वो भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी। लगभग 10 मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मैं झड़ गया और इसी बीच वो भी दो बार झड़ चुकी थी।फिर हम लेट गए और एक-दूसरे को चूमने लगे। मैं उसके चूचे चूस रहा था.

जिनका पति मर चुका है और उसका एक बेटा और एक बेटी है।उसका बेटा अनिल, मेरा दोस्त है और वो बिल्कुल लड़कियों जैसा दिखता है। अनिल की उम्र यही कोई 23 साल की है और उसकी बहन अनीला 20 साल की है।दोनों भाई-बहन बहुत शानदार दिखते हैं। मिसेज कुकरेजा भी काफ़ी प्रभावशाली औरत हैं।बेशक अनिल की उम्र 23 साल की हो चुकी है. चुदाई के वक्त orgasm होता है?आपा- ना… ना… औरत को हर बार नहीं भी होता पर मर्द को होता है, उस वक्त लण्ड से वीर्य की पिचाकरियाँ छूटती है। लड़की को ना भी हो, एक बार हो, या एक से ज्यादा भी हो! चोदने वाला मर्द सही तकनीक जानता हो तो लड़की को एक बार की चुदाई में दो या तीन orgasm दे सकता है।मैं- इस मामले में जीजू कैसे हैं?आपा- बहुत अच्छे!मैं- आप लोग रोज रोज. मैंने तेल से भीगी हुई गाण्ड में ऊँगली चलाई जब तक वो आसानी से अन्दर-बाहर नहीं होने लगी।जब वो एक ऊँगली आराम से अन्दर-बाहर होने लगी तो मैंने अपनी दो उंगली अन्दर कर दीं.

तो जाहिरा के होंठों से सिसकारियाँ निकलने लगीं।मैंने एक हाथ उसकी जाँघों पर फेरते हुए नीचे उसके बरमूडा में ले जाकर उसकी चूत पर रख दिया। जाहिरा ने फ़ौरन ही मेरा हाथ अपनी जाँघों की दरम्यान दबा लिया।मैंने जाहिरा की चूत के होंठों को आहिस्ता आहिस्ता सहलाना शुरू कर दिया. 5 इंच है और ये 3 इंच मोटा है। चूत में जाते ही उसे फाड़ देने लायक है।मैंने रात को जबसे ब्लू-फिल्म देखी थी तब से ही आंटी को चोदने का प्लान बना रखा था।आहट पाकर मैं उठा तो देखा कि आंटी मुझे अजीब तरह से देख रही हैं और उनके होंठों पर एक कटीली मुस्कराहट दिख रही थी।वो तो मेरा लंड देख कर हैरान हो गई थीं। उन्होंने मुझे नंगा देख कर हँस दिया और वे मेरे पास आ गईं, वे मुझसे कहने लगीं- तुम तो अब जवान हो गए हो. मैं भी आपको बहुत चाहती हूँ।फिर मैंने थोड़ी बात करके कॉल काट दिया।दूसरे दिन मैं जब दुकान पर गया तो वो मुझे देख कर मुस्कुराने लगी।उधर उस वक्त बहुत लोग थे और उसका पति भी था.

’ मैंने लौड़े पर हाथ फेरते हुए बताया- अभी तक तो कोई नहीं है।फिर उन्होंने मुझे लौड़े पर हाथ फेरते हुए देखा तो मुस्कुराते हुए पूछा- कभी सेक्स किया है?तो मैं चौंक गया.

तो मैं चुपके से उठा और भाभी के कमरे में घुस गया। उन्होंने दरवाजा बंद नहीं किया था।मैं जैसे ही अन्दर घुसा तो मैं देखता ही रह गया। भाभी ने सफेद रंग की नाईटी पहनी थी. तो उसने मेरी गांड से लंड निकाल कर मेरे चूतड़ों पर गिनकर 10 थप्पड़ लगाए और फिर मेरे गांड में लंड को दे मारा। अब वो और भी जोरों से अन्दर-बाहर करने लगा।तभी जो लंड मेरे मुँह में था.

लेकिन मैंने बड़ी मुश्किल से उसे मना ही लिया कि वो आज अपने भाई के सामने भी यह लेग्गी पहनेगी।जैसे ही डोर पर फैजान की बेल बजी. वो और मैं अच्छे फ्रेंड्स हैं मैं उससे कुछ नहीं छुपाती।मैं- आपके हस्बैंड कब तक वापस आएंगे?जाह्न्वी- वो तो 2 दिनों के लिए पूना(मुंबई) गए हुए हैं।मैं कुछ और बोलता. पता नहीं कहाँ से उनके सूट के अन्दर चींटी घुस गई। उन्होंने उसे निकालने के लिए अपना हाथ सूट के अन्दर डाला। वो पीछे को चला गया।मालकिन- राज कोई कीड़ा मेरे सूट के अन्दर चला गया है और मेरी पीठ पर रेंग रहा है.

उसने पलक झपकते ही रिचा की शर्ट उतार फेंकी।अब लाल ब्रा के नीचे स्कूल यूनिफार्म की स्कर्ट झूल रही थी।लड़के का एक हाथ स्कर्ट में घुस गया था और दूसरे हाथ से उसने ब्रा उतार फेंकी।रिचा ने भी उसकी शर्ट उतारी. तो मैं भी उसके पास जा कर बैठ गया और हम दोनों बातें करने लगे।उस समय तो बस इधर-उधर की बातें हुईं और कुछ देर बाद बातें खत्म भी हो गई थीं. कर लो पर प्यासा मत छोड़ो।मैं बोला- भाभी मुझे तुम्हारी चूत चाहिए, मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ।वो बोली- अब कहाँ मना कर रही हूँ, देखो.

भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म जिससे उसके टॉप में से उसके तने हुए निप्पल साफ़ दिख रहे थे। टॉप का गला इतना गहरा था कि यदि वो थोड़ा सा भी झुके तो उसके मम्मों के पूरे दर्शन कर लो।कमर के नीचे चुस्त लैगिंग. करीब 15 मिनट हमने उस पोजीशन में सेक्स किया होगा।अब मन तेज़ी से ‘हाइ-स्पीड’ में सेक्स करने का हो रहा था.

सेक्सी 19

तो उन्होंने मुझे नंगा कर दिया और फिर मेरा तन्नाया हुआ लंड पूरे 6 इन्च लम्बा 3 इन्च मोटा हवा में लहराने लगा. समझी।मुझे पता था मेरे ना होने पर ये उसे जरूर खोलेगी। उसमें जवान व स्कूल की लड़कियों की बहुत सारी ब्लू-फिल्में थीं। मैंने उसे फिल्में कैसे चलाते हैं और फोल्डर को कैसे खोला जाता है. लेकिन एक रात सारा भांड फूट गया।दरअसल दिल्ली की मेरी ट्रेन देर रात को थी। मैं स्टेशन पहुँच कर इंतज़ार करता रहा.

मैंने चिप्स और कोल्डड्रिंक निकाले और मैंने मूवी लगाई।वो बोलीं- कौन सी है?मैंने बोला- दि गर्ल नेक्स्ट डोर. उसने आज नीचे चड्डी नहीं पहने हुई थी। जिससे उसकी चूत भी फूली हुई एकदम गुजिया जैसी साफ़ झलक रही थी।मैं तो देखते ही खुद पर से कंट्रोल खो बैठा था. काजल गुप्तापांच मिनट तक गाण्ड मारने के बाद वापस लौड़ा चूत में घुसा दिया। अबकी बार उसने मीरा की कमर पकड़ कर उसको घोड़ी बना दिया और चोदने लगा।मीरा- आह उफ़.

फिर तभी मैंने हल्का सा सर को ऊपर उठाया और उनकी गरदन को चूसते हुए फुसफुसाती आवाज़ के साथ कहा- अभी आप आगे का मोर्चा लोगी.

और मेरे लंड को आपकी गाण्ड पर पूरा अधिकार है।वो समझ गईं कि मैं उनकी गाण्ड मारकर ही रहूँगा।फिर वो मान गईं। मैंने सोचा कि बिना तेल के ही मौसी की गाण्ड मारता हूँ। तब मौसी चीखेगी तो और मज़ा आएगा। लेकिन फिर सोचा पहली बार है तो देखता हूँ कि क्या होता है।मैंने मौसी को कुतिया की तरह सोफे पर उल्टा कर दिया और उनके हाथ बाँध दिए।तो वो बोलीं- हाथ क्यों बाँध रहे हो?मैंने कहा- बस ज्यादा मज़े के लिए. ’ निकालने लगी और अपने हाथों से मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबाने लगी।फिर तो मैं उसकी चूत को अच्छे से चाटने लगा.

जाहिरा ड्रेस चेंज करने की कहना चाहती थी लेकिन कह ना पाई और खामोशी से मेरे साथ हमारे बेडरूम में आ गई।हम दोनों कमरे में आए तो फैजान सो रहा था. हमें चुदाई में काफ़ी मजा आने लगा था।इस तरह मैंने उसको 2 दिन तक नॉन स्टॉप चोदा और उसकी चूत और गांड सुजा डाली। उसे भी मुझसे चुदवाने का शौक हो गया और इस तरह मैं उसे जब भी मौका मिलता. तो एक आंटी अपने बच्चे को स्कूल छोड़ने आती हैं और तकरीबन रोज़ ही मेरा और उनका आमना-सामना हो जाता था और हम दोनों एक दूसरे के चेहरे को देखते थे।वो अक्सर मुझे देख कर मुस्कान भी देती थीं। वो स्कूटी से आती थीं और जब वो गाड़ी खड़ी करके अपने बच्चे को स्कूल में अन्दर ले जाती थीं.

वो तो चलो रोमा के घर चलते हैं।रोमा अपने कमरे में लेटी हुई आज के उन सेक्सी पलों को याद कर रही थी, उसका चेहरा साफ बता रहा था कि वो बेहद खुश है.

मुझे लगा जैसे मुझे 440 वोल्ट का करंट लगा हो और बहुत मज़ा आया।उसके बाद वो पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी. ऐसे ही एक सेक्स के दौरान उन्होंने ही मेरे साथ शेयर किया था कि वो भी तेरी रानियों में एक हैं… उन्होंने ही बताया कि तू बहुत मस्त मजा देता है… तभी तो मुझे धुन चढ़ी कि पहली चुदाई तो तुझ से ही करवाऊँगी।मैं बोला- माँ की लोड़ियों, तुम दोनों बड़ी मादरचोद हो… और बहुत चालाक भी. कैसे आना हुआ?मैं- आंटी आपसे कुछ बात करनी थी।यह सुनकर आंटी ने मुझे अन्दर बुलाया और बैठने को कहा। मैं अन्दर जाकर सोफे पर बैठ गया। आंटी भी दरवाज़ा बंद करके मेरे सामने आकर बैठ गईं।आंटी- बोलो बेटा क्या बात है?मैं- कुछ नहीं आंटी.

सेक्सी वीडियो राजस्थान सेक्सीजाहिरा ने अन्दर से लॉक खोला तो मैं ट्रायलरूम में दाखिल हुई और अन्दर का मंज़र देखा तो मेरे तो होश ही उड़ गए।उस सेक्सी नाईट ड्रेस में जाहिरा तो क़यामत ही लग रही थी, उसका खूबसूरत चिकना चिकना सीना बिल्कुल खुला हुआ था, उसकी चूचियों का ऊपरी हिस्सा उस ड्रेस में से बाहर ही नंगा हो रहा था, कन्धों से तो बिल्कुल ही नंगी लग रही थी. इसलिए वह दिन भर घर में ही रहती थी।मेरी नाइट डयूटी होने पर मैंने उससे कहा- तुम रात को मेरे ही कमरे में सो जाया करो और रात भर कम्प्यूटर सीखा करो.

सेक्सी ब्लू फिल्म दे दो

दस मिनट लौड़ा चुसवाने के बाद मैं झड़ गया, तब तक मैं उसे दो बार झड़ा चुका था।कुछ देर बाद मैं उसकी टाँगों के बीच में आ गया. वो सिहर उठी और मेरा सर चूत में दबाने की कोशिश करती हुई वो अब एकदम दुबारा गर्म हो चुकी थी।मैं अब उसकी चूचियों को चूमने लगा. तो मेरा और नंदिनी का पैर आपस में टच हो रहा था, उसने स्कर्ट और टी-शर्ट पहन रखी थी।मैंने धीरे-धीरे उसके पैर को अपने पैर से सहलाना शुरू किया।वो यह देख कर मुस्कुराई.

मैं उनकी चूत देख के पागल हो गया और उसे चाटने लगा, उनकी चूत में अपनी उंगली करने लगा।आंटी मेरा मुँह अपनी चूत के अन्दर दबाने लगीं और वे सिसकारियाँ ले रही थीं।थोड़ी देर बाद आंटी अकड़ने लगीं ओर उन्होंने मुझे जोर से पकड़ लिया. जो कि मेरे घुटनों तक का था और ऊपर से मैंने एक टी-शर्ट पहन ली।कभी-कभी मैं घर में यह ड्रेस भी पहन लेती थी। अब मेरी गोरी-गोरी टाँगें घुटनों तक बिल्कुल नंगी हो रही थीं।फैजान ने चाय के लिए कहा तो जाहिरा चाय बनाने चली गई और मैं फैजान के बिल्कुल साथ लग कर बैठ गई और टीवी देखने लगी।फैजान भी जब से आया था. जो कि हॉस्टल में रह कर पढ़ाई कर रहा था, उसे हममें से किसी ने देखा नहीं था।उनकी बीवी की उमर शायद 28-30 की होगी.

मेरी साँसें अब मेरे काबू से बाहर हो रही थीं। वो मुझे दबोच कर चुदाई का असली मज़ा ले रही थी।तभी वो झट से मुझसे चिपक गई और बोली- मैं गई. शायद वो झड़ने के करीब आ चुकी थी।उसने मेरे सर के बाल बड़े टाईट पकड़े हुए थे। थोड़ी देर के बाद उसकी ये पकड़ और मज़बूत हो गई और मैं समझ गया कि इसका पानी छूटने वाला है तो मैंने भी चूसने की रफ़्तार थोड़ी तेज़ कर दी।फिर वो हाँफते हुए ‘आह्ह. तो तुम मेरे कमरे में बच्चों के सोने के बाद ड्रिंक कर सकते हो।मैंने उन्हें ‘धन्यवाद’ दिया और झेंपते हुए बताया- बस भाभी जी.

30 बजे मेरे पास उसका मैसेज आया- गार्डन में पूल के पास आ जाओ।मैं जल्दी से उठा और गार्डन में गया। वहाँ अंजलि स्लीवलैस टॉप में मेरा इंतजार कर रही थी।मैंने उसे थोड़ा सताने की सोची. तो जाहिरा के जिस्म में बेचैनी सी बढ़ती ही जा रही थी।ज़ाहिर है कि एक कुँवारी लड़की जिसके लिए यह सब कुछ पहली बार हो रहा हो.

जो मैंने सिर्फ सपने में ही सोचा था।आशा करता हूँ कि मेरे जीवन की यह सच्ची घटना आप लोगों को बहुत पसंद आएगी और मज़ा देगी।यह बात तब की है जब मैं पढ़ने के लिए शहर आया.

’ के साथ चीखी और मुझसे लटक कर ढीली पड़ती चली गई।मैंने अपने लौड़े पर उसके गरम पानी को महसूस किया और साथ ही मेरे धक्कों के साथ रस के कारण ‘छपछप’ की आवाजें आने लगीं. साउथ सेक्स वीडियो हिंदीयह कहानी मेरी दूर के रिश्ते की मामी की और मेरी है। उस वक़्त मेरी उम्र 19 साल थी। मामी की शादी बहुत कम उम्र में उनसे करीब 8 साल बड़े. सेक्सी फुल एचडी हिंदी मूवीइसमें से बहुत सारी कहानियों ने मेरा लण्ड खड़ा कर दिया।मुझे इतनी सारी कहानियां पढ़ कर ऐसा लगा कि मुझे भी अपनी कहानियां भेजना चाहिए. तृषा मुझसे लिपट गई, थोड़ी देर रुक के वो मुस्कुरा के मुझसे अलग हो गई। पता नहीं आज उसकी आँखें मुझसे बहुत सी बातें कहना चाह रही थीं.

ऐसे तैयार हो जाऊँगी कि कोई भी मुझे नहीं पहचान पाएगा।मैं- उसके लिए तो जो पहना है उसे उतारना भी होगा न !मैं फिर से उसके कपड़े उतारने लग गया।तृषा- नहीं… प्लीज छोड़ दो मुझे।फिर कुछ देर बाद हम दोनों एक साथ शॉपिंग पर गए। वो पूरा दिन हमने खूब मज़ा किया। रात को थक कर आ कर सो गए।दूसरे दिन सुबह सुबह निशा का कॉलनिशा- जनाब बिस्तर उदघाटन की राह देख रहा है.

वो भी मेवा मिलना बंद हो जाता।पर मैंने रिस्क लेने की ठानी।अगली कहानी में मैं आपको बताऊँगा कि कैसे चतुराई से मैंने उन पर ये जाहिर भी नहीं होने दिया कि मैंने कोई वादा तोड़ा और दोनों के साथ इकठ्ठा सेक्स भी किया।वो दिन तो एकदम लाजवाब था। अगली कहानी. उसकी मदमस्त उठी हुई गाण्ड देख कर राधे का लौड़ा तन गया।राधे चुपचाप बिस्तर के पास गया अपना अंडरवियर निकाला और लौड़े को सहलाते हुए मुस्कुराने लगा. मैं अपना हर लम्हा तुम्हारी बांहों में जीना चाहती हूँ।मैंने उसे रोकते हुए कहा- अधूरी बातों से दिलासा देने की ज़रूरत नहीं है। कहो कि शादी तक मैं तुम्हारी बांहों में रहना चाहती हूँ और शादी के बाद.

तो मैं रुक गया और अपना लण्ड बाहर निकाल लिया।ऐसी कसी हुई चूत शायद ही नसीब वालों को मिलती है। हल्की सी दोनों तरफ से फूली हुई. उनकी जांघें मेरे थूक से सन चुकी थीं और चूत से रस बहे जा रहा था।मम्मी से जब सहन नहीं हुआ तो उन्होंने अपनी टाँगों से मेरे सर का पकड़ लिया और बोलीं- आआ… आहह. तो सीधा मैंने अपना लण्ड लगा दिया और फिर उसकी चूत में धक्के मारने लगा।करीब 20-25 धक्कों के बाद मेरा माल निकलने वाला हुआ.

भोजपुरी सेक्सी विडिओ हँड

कर लो पर प्यासा मत छोड़ो।मैं बोला- भाभी मुझे तुम्हारी चूत चाहिए, मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ।वो बोली- अब कहाँ मना कर रही हूँ, देखो. मैंने भी देरी न करते हुए नीलम से पूछा- कैसे चुदवाओगी?अब वो गाण्ड मेरी तरफ करके बिस्तर पर कुतिया की तरह हो गई। मैं समझ गया, मैंने पीछे से अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया और धक्के लगाने लगा।वो ‘उईईए. लेकिन अभी उसकी दोस्त अपने घर गई हुई थी। वो रविवार को आने वाली थी।फिर कुछ देर दीदी के साथ बात करता रहा.

क्योंकि चूत पहले से ही इतनी रसीली थी और आंटी एक चुदक्कड़ रंडी थी।मेरा लंड उसकी चूत की गर्मी और दोनों चूत की दीवारों से गिरते पानी को महसूस कर रहा था।अब मैं अपनी पूरे जोश से उसकी चुदाई कर रहा था.

निशा थी। उसे वहाँ असिस्टेंट डायरेक्टर बना दिया गया था।कहानी पर आप सभी के विचार आमंत्रित हैं।कहानी जारी है।[emailprotected].

फिर क्यूँ मेरे पीछे पड़ी हैं?तृषा की आँखों में अब आंसू आ गए थे।‘तुम्हारा नाराज़ होना जायज़ है। तुमने मुझसे इतना प्यार किया और मैंने हमेशा तुम्हारे साथ बुरा बर्ताव किया. उसकी चूचियाँ मेरे सीने में दब गई थीं। वो बहुत कस कर लिपटी हुई थी। मैंने पीछे से उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए।अब वो बिस्तर पर बैठ गई. वीडियो विदेशी सेक्सीक्या पता कौन है?राधे कमरे में चला गया और मीरा ने दरवाजा खोला तो सामने ममता का पति सरजू खड़ा था।दोस्तों मैं आपको बताना भूल गई.

मुझे भी चोदोगे?यह सुनकर मैं हैरान हो गया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो बहुत ही सुन्दर हैं. जबकि लड़के ने लड़की की चुदाई कई तरीके से कर दी और जब झड़ने को हुआ तो उसने लड़की की बुर से अपना लौड़ा निकाला और लड़की के मुँह को चोदने लगा. और वो मेरे दोस्त से चुदना चाहती है।तो मेरा दोस्त मुझसे मदद के लिए मेरे पास आया ताकि मैं उसके लिए जगह का कोई इन्तजाम कर सकूँ।मैंने उसे जगह दिलाने का भरोसा दिया.

हटो एयेए।नीरा ने रोमा की जाँघें पकड़ लीं और ज़ोर-ज़ोर से चूत चाटने लगा। रोमा उत्तेजना के चरम पर थी… किसी भी पल उसकी चूत का जवालामुखी फटने वाला था। वो कमर को हिला-हिला कर मज़ा लेने लगी और आख़िर वो पल आ गया, रोमा की चूत ने अपना पहला कामरस छोड़ना शुरू कर दिया. मैं बार-बार ब्रेक मार रहा था।कुछ ही देर बाद हम वहाँ पर पहुँच गए और हम घूमने लगे। तो मैंने देखा कि वहाँ पर काफ़ी कपल्स घूम रहे थे और वो हमें बार-बार देख रहे थे क्योंकि वो लग ही रही थी इतनी हॉट एंड सेक्सी.

अपना लण्ड मेरी चूत में डाल दो और मुझे चोद डालो।मैंने भी देरी करना ठीक नहीं समझा और अपना लण्ड उनकी गीली चूत पर टिका दिया। जैसे ही धक्का दिया उनकी ‘आह.

तुम कौन हो और कहाँ से आई हो? इस तरह से राज दरबार में आने में तुम्हें ज़रा भी लज्जा नहीं आई?तब वह पूरी सभा की ओर बिल्कुल निडरता से मुड़ी और बोली- अरे हरामजादे. उनकी चूचियाँ गाउन में से साफ दिखाई दे रही थीं।चाची की तनी हुई चूचियों को देख कर मेरा लंड मेरे लोअर में एकदम से खड़ा हो गया।मुझे लगा कि उसने मेरे खड़े लंड को देख लिया है।वो मेरे और पास आने के बाद बोली- क्या देख रहे हो?मैं दूर गया और बोला- कुछ नहीं. जो आपका इलाज कर सकूँ।तभी उसने कहा- आप इसे अपनी पत्नी बना लीजिए और इसे वो खुशी दे दीजिए।इतना कह कर वो रोने लग गया।मैंने फिर नाटक करते हुए कहा- आप ये क्या कह रहे हो?तो उसने कहा- आप समाज के सामने ये शादी मत करना। आप सिर्फ उसके साथ शारीरिक संबंध बना कर उसे औरत बना दीजिए और हमें बदनामी से बचा लीजिए।मैंने उसे चुप करवाया और मोनिका से कहा- आप दूसरे कमरे में चली जाओ.

जानवर सेक्सी वीडियो जानवर सेक्सी वीडियो जिसने मेरे हाथ में एक साथ दो-तीन झटके लिए।मैं मुस्करा दी और आहिस्ता से अपने होंठ जाहिरा की गर्दन से थोड़ा नीचे पीठ के ऊपरी हिस्से को चूम लिया।जाहिरा कसमसाई- भाभी. कमरे में प्रवेश करते ही मैं उस पर टूट पड़ा। उसको चुम्बन करने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।एक लंबी सी ‘फ्रेंच-किस’ करते हुए हम बिस्तर पर ढेर हो गए।मैं उसके मम्मों को दबाने लगा और वो मेरे लौड़े को पैन्ट के ऊपर से सहलाने लगी। फिर मैंने उसकी कमीज़ उतार दी और सलवार भी निकाल कर फेंक दी। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थी.

इस बार मेरा लन्ड एक बार में पूरा का पूरा उसकी कुलबुलाती चूत में समा गया।अब मैं कुछ पलों तक रुकने के बाद प्रिया को जोर-जोर से चोदने लगा।उसके मुँह से ‘आहह. कन्डोम तो बीमारी से बचने के लिए कह रही थी।मैंने बीस मिनट तक जम कर आसन बदल-बदल कर उसकी चूत की चुदाई की फिर मैं उसके अन्दर ही झड़ गया।वो भी झड़ गई. तब तक के लिए आप सभी को राहुल की ओर से गीला अभिनन्दन।आप सभी के सुझावों का मेरे मेल बॉक्स पर स्वागत है और इसी आईडी के माध्यम से आप मुझसे फेसबुक पर भी जुड़ सकते हैं।[emailprotected].

राजस्थान की सेक्सी वीडियो चुदाई वाली

हम दोनों ने अपनी-अपनी बियर का गिलास चियर्स बोल कर उठाया और जल्द ही खत्म किया और बातें करने लगे।अब मैं पूछने लगा कि आपके पति किस टाइप का बिज़नेस करते हैं वगैरह वगैरह. पर एक दिन मेरा विचार बदल गया।हमारे छत पर भी एक टायलेट है। एक बार वह कुछ दिनों के लिए यहाँ आई थी। नीचे के टायलेट में शायद कोई गया हुआ था. और ऐसे ही उसकी चूत का पहला पानी निकाल दूँ।मेरे हाथ उसकी नंगी जाँघों पर उसके बरमूडा के अन्दर तक उसकी चूत के इर्द-गिर्द रेंग रहे थे.

क्या कहती हो नाज़नीन? चलोगी ना?आपा- वहाँ दूसरे दोस्त भी आएंगे और ग्रुप चुदाई करेंगे, मजा आएगा… नाज़नीन है ना?मैं- मैंने कभी ऐसा किया नहीं है।मैंने मना कर दिया और जब तक मैं अमदाबाद में रही, आप और जीजू के साथ उनके बेडरूम में ही सोती थी!. और वो मेरा लण्ड आराम से मस्त होकर अपने मुँह मे लॉलीपॉप की तरह ले रही थी।हम दोनों ने इस पोजीशन में काफ़ी समय तक एक-दूसरे को चूसा। फिर उसको मैंने सीधा लेटा दिया। मैंने उसके दोनों पैर चौड़े कर दिए और उसकी चूत चाटने लगा।क्या रसीली चूत थी यार.

वो भी मुझे देख कर काफ़ी खुश हो जाया करती थी।एक दिन मुझे क्लास जाने में देर हो गई तो सुरभि मैम का फोन आया- कहाँ हो तुम.

मेरा फ़ार्म हाउस का गार्डन थोड़ा बड़ा था जिससे हम लोग उधर भी खूब आराम से गाड़ी चला सकते थे।दीदी बगल की सीट पर बैठ गईं और मैं ड्राइवर की सीट पर. कैसे आना हुआ?मैं- आंटी आपसे कुछ बात करनी थी।यह सुनकर आंटी ने मुझे अन्दर बुलाया और बैठने को कहा। मैं अन्दर जाकर सोफे पर बैठ गया। आंटी भी दरवाज़ा बंद करके मेरे सामने आकर बैठ गईं।आंटी- बोलो बेटा क्या बात है?मैं- कुछ नहीं आंटी. उसके दोनों हाथ बड़ी बेरहमी से मेरी चूचियों का मर्दन कर रहे थे।मैंने भी झुक कर उसकी छाती पर अपने दांतों के निशान छोड़ दिए, मैं तृप्त हो चली थी।अचानक अमन ने मुझे पलटा और मेरे ऊपर आ गया। उसने 8-10 ज़ोरदार धक्कों के साथ उसने अपना सारा वीर्य मेरी चूत में ही छोड़ दिया।अब वो मेरे ऊपर लेट गया।मेरी भी वासना अब शांत हो गई थी.

जो 2 साल में एक बार आते हैं 2 महीने रुक कर वापस चले जाते हैं।माँ सुमीता यादव बहुत सीधी-शादी घरेलू औरत है. उसकी चूचियाँ मेरे सीने में दब गई थीं। वो बहुत कस कर लिपटी हुई थी। मैंने पीछे से उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए।अब वो बिस्तर पर बैठ गई. तो मैंने मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया और कहा- चलो बाकी काम घर में करते हैं।जब हम घर आए तो मैं पूर नंगा हो गया और उनको भी नंगा किया। फिर मैं उनके मम्मे दबाने लगा.

और कुछ ही पलों में मुझे लगने लगा कि मैं उसके मुँह में ही झड़ने वाला हूँ।वो उसे 5 मिनट तक मेरा लण्ड चूसती रही.

भाई बहन का सेक्सी बीएफ फिल्म: इस ड्रेस में बड़ी ही शर्म सी महसूस हो रही है।मैं- अरे पगली बिल्कुल ईज़ी होकर रहना और किसी किस्म की भी कोई बेवक़ूफों वाली हरकत ना करना और ना ही ऐसी शक़ल बनाना. विवेक ने जल्दी से पोज़ चेंज किया और अब वो ऊपर आ गया और स्पीड से कोमल को चोदने लगा। करीब 5 मिनट बाद उसकी नसें फूलने लगीं और उसने झटके से लौड़ा बाहर निकाल लिया। उसका सारा माल कोमल के पेट पर गिर गया।वो हाँफता हुआ कोमल के पास लेट गया।सुनील- अरे वाह.

किन्तु मैं अपना तना हुआ हथियार लेकर दरवाजे पर आया और बाहर से निकल कर दरवाजा बन्द कर अपने घर चला आया।तभी भाभी की कॉल आई और उन्होंने कहा- आपकी मालिश बड़ी अच्छी थी।दोस्तो. दूजा उतना ही पीछे उठा हुआ था। उसके नागिन से लहराते काले रेशमी बाल जो जरा घुंघराले से भी थे।वक़्त ने करवट ली और मैं इंजीनियरिंग पढ़ाई पूरी करने बाहर चला गया। अब शुरू होती है. क्योंकि दोस्तों अगर चूत गर्म होगी तो मुझे रास्ते में चोदना पड़ेगा और आज इस साली दीदी को मैं आज किसी भी हालत में चोद कर चूत का रस पीना चाहता था।मैंने आज शर्ट नहीं पहनी थी.

उसने मुझे जगाया और पूछा- घर के सब कहाँ गए हैं?तो मैंने बता दिया- सब बाहर गए हुए हैं।फिर वो मेरे पास बिस्तर पर बैठ गई और हम दोनों बातें करने लगे।वो बातों ही बातों में मुझसे पूछने लगी- तेरी कोई गर्लफ्रेंड है क्या.

वो भी अपनी कमर उछाल रही थी।मैं अभी उसे और तड़पाना चाहता था।मैंने चूत को देखा नहीं और जीभ से उसके पैरों से लेकर जाँघों के जोड़ तक उसे पूरा गीला कर दिया।इस बार मैं चूत में नहीं. एक सूट और एक जींस पर पहनने के लिए कुर्ती।उसने यह भी बताया कि उसे मेरी दुकान के बारे में उसकी एक सहेली. तो उसने कोई रिस्पोंस नहीं दिया।इससे मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मैंने धीरे-धीरे उसकी चूचियों की तरफ अपनी हाथ को ले गया और उसके टॉप के ऊपर से ही उसके दूधों को सहलाने लगा।फिर भी वो कुछ ना बोली.