नाइटी वाला बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ का क्या मतलब है

तस्वीर का शीर्षक ,

गोल्ड चेन डिजाइन new: नाइटी वाला बीएफ, दोस्तो, मैं कसम खाकर कहता हूँ कि मैंने इससे पहले इतना मज़ा कभी नहीं लिया.

बीएफ 80 साल

फिर हम जल्दी से अलग हुए और हड़बड़ाहट में कपड़े पहन लिये।हमने गाड़ी को वहां से बाहर निकाला और फिर रोड पर आ गये. हिंदी बीएफ सेक्स मूवी वीडियोउसकी हिलती हुई चूचियां मेरे सीने को अपनी रगड़ का पूरा मजा दे रही थीं.

और धीरे धीरे मैं उसके पेट पर आया और उसकी गहरी नाभि पर किस करने लगा. हिंदी बीएफ मुंबईलेकिन मैंने जो देखा अपनी आँखों से … वही आपके सामने हूबहू पेश करने का यत्न कर रहा हूँ.

मैं वहां से उठकर सीधा अपने घर चला गया और अपने आप को कोसने लगा कि यह मेरे से आज क्या हो गया.नाइटी वाला बीएफ: उन्होंने पानी पी कर गिलास आया को दे दिया और वो चली गयी, वो रूमाल से अपना हाथ और मुँह पौंछने लगे.

जब वो सो रही होती, तो मैं बस उसके चेहरे को ही देखता रहता था और उसके हाथ को अपने हाथों में लेकर सहलाता रहता था.इस तरह से हमारे बीच में थोड़ी बहुत बातें हुई और अब मुझे उसकी बातों से लगा कि वो किसी गांव से आई है.

ब्लू पिक्चर सेक्सी फिल्म बीएफ - नाइटी वाला बीएफ

कुछ मिनट बाद जब कॉलेज आ गया तो मैंने कहा- जाओ और अपना काम करके आ जाओ, मैं कॉलेज के गार्डन में बैठा रहूँगा … वहां आ जाना.तेरे अंकल का तो खड़ा भी नहीं होता … और होता भी है, तो दो मिनट में खत्म हो जाता है.

कैसे एक बार गांव में दादाजी ने बकरी को गर्भ करने के लिए अपने घर के ही एक बकरे के साथ सहवास करवाया था जबकि वह बकरा वही था जो उस बकरी ने 2 साल पहले जना था. नाइटी वाला बीएफ कोई बाहर से आया है और उससे मिलकर आना है, तुम बैठो और चाय पीकर जाना।मैं मन ही मन प्रसन्न हुआ और सोचने लगा कि आज तो वास्तव में लॉटरी लग गयी है.

मैंने 3-4 बार ट्राय किया, पर नतीजा वही निकला, तो मैंने एक दिमाग लगाया और अपना लंड मॉम के मुँह के पास ले गया और उनको चाटने को बोला.

नाइटी वाला बीएफ?

उधर से शिल्पी ने कहा- हां, ठीक है, तू नहा ले, मैं अभी कुछ काम कर रही हूं. ये सेक्सी भाभी स्टोरी हिंदी में मेरी और मेरी पड़ोसन भाभी निशा की चुदाई पर आधारित है. जैसे ही उन्होंने मुझे इस मादक अंदाज में खड़े देखा, वो तो बस मुझे एकटक देखते रह गए.

मैंने लड़की की ओर इशारा करके कह दिया- ये मेरे साथ है और टिकट मेरे पास है. पहली चुदाई के बाद उस दिन मुझे भी थकान हो रही थी तो मैं घर वापस आकर सो गया. धीरे-धीरे मैंने अपना हाथ थोड़ा ऊपर ले जाकर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और मैंने अंदर हाथ डालकर उसकी चूत को महसूस किया।मैंने पहली बार किसी लड़की की चूत पर हाथ लगाया था तो मुझे बहुत अजीब फील हो रहा था और अंदर से मेरा लन्ड खड़ा हो रहा था।अब वह भी धीरे-धीरे गर्म होने लगी और मैं अपना हाथ पकड़ कर मेरे लन्ड पर ले जाने लगी.

फिर मैंने उसकी दोनों टांगों को कंधों पर रखा और उसकी चूत में लंड को आगे पीछे करने लगा. मैंने आगे कहा- चूत मरा कर आ रही हूं मगर डरो मत, ब्लू फिल्म नहीं बनवाई है मैंने!मां के तेवर एकदम बदल गये,मुझे प्यार से सहलाते हुए बोली- सुन न रानी बेटी, अभी तो उम्र है चूत मरवाने की, जितनी मर्जी चुदवानी है चुदवा ले मेरी लाडो. फिर मैंने अपना चेहरा अमित के रूमाल से साफ़ किया और अमित भी अपने कपड़े ठीक करने लगा.

मैंने मजे में अपनी टांगें ऊपर उठा ली और उसके बालों पर हाथ फिराने लगी. सुनीता ने कहा- तुम्हारा भांजा आया हुआ था इसलिए मैं तुमसे एक बार बार मिलने नहीं आई.

लेकिन बाद में मेरे दिमाग एक बात आई कि अगर जल्दी मेरी कोई औलाद ना हुई तो मेरे सास ससुर मुझे ताने मारने लगेंगे.

लेकिन वादा करो कि आप मेरी शादी रोहित से करायेंगे?”मैं कराऊंगा, यह मर्द की जबान है.

मेरे लंड को एक छेद चाहिए था जो मुझे चाची की चूत के रूप में दिखाई दे रहा था. क्योंकि जब शकील अम्मी के पास होता और हम बाहर होते, तो शकील और अम्मी फुसफुसा कर बातें करते थे. उसका लंड इतना बड़ा था कि मेरे गले में जाकर फिर अंदर धक्का मारता तो मेरी तो जान ही निकल जाती थी। कुछ देर ऐसे ही चलता रहा.

अब दीदी भी पूरी गर्म हो गई थीं, तो दीदी ने उठ कर उसका लंड पकड़ लिया. बीस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मेरा लंड अकड़ने लगा, तो मैंने स्पीड बढ़ा दी. फिर रात को हमने बहुत तक लगातार पानी में भीगते हुए साबुन लगाकर सेक्स किया.

वो आह्ह … आह्ह … करते हुए मेरा पूरा का पूरा लौड़ा अन्दर ले रही थी।अब वो थक गई थी तो मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी एक टांग उठा कर चोदने लगा.

मैंने थोड़ा सब्र किया।मैं यह जानता था कि माँ ने भी काफी समय से चुदाई नहीं की है और वो मेरे मनाने से मान जायेगी।माँ ने पीला ब्लाउज और पेटिकोट पहना हुआ था और वो दूसरी तरफ करवट करके सो रही थी।मैंने 1 बजने का इंतज़ार किया ताकि माँ सो जाये. वो अपनी सांसें संभाल कर बोली- बड़ी तेज तेज कर रहे थे, क्या खाया था ऐसा?मैंने भी धीरे से कान में बोला- अभी तो दूसरी बार करूंगा तब देखना।फिर मैं उसकी चूची को मसलता रहा और चूसता रहा. उसने भी मेरे लंड के रस की एक बूंद खराब नहीं होने दी और वो मेरे सारे रस को पी गई.

नीचे से उसने मेरे शॉर्ट्स को उतार दिया था और साथ ही मेरे अंडरवियर को भी खींच दिया था. इस बीच मैंने लगभग रोज ननदोई जी से चुदाई करवायी क्योंकि ननद रोज टहलने जाया करतीं थीं. जब हम किसी रिश्तेदार या जानकार के यहां जाते हैं तो इस तरह के ख्याल आना लाजमी है.

मैं भी शादी में गया लेकिन मुझे भाभी के साथ चुदाई भी करनी थी इसलिए मैं ज्यादा देर रुका नहीं और तबियत ठीक न होने का बहाना करके वापस घर आ गया.

मैंने उससे पूछा- तो दोस्तों को भी सिर्फ ऐसा ही चलता है या इससे ज्यादा भी कुछ चल सकता है?उसने हां में जवाब दिया और कहने लगी- जैसा आप चाहें, वैसा चल सकता है. मैंने सोचा कि मॉम मेरे साथ टाइम बिताना चाहती हैं इसलिए उन्होंने लम्बी छुट्टी ले ली है.

नाइटी वाला बीएफ मैंने फोन रखा और किचन में चला गया और शांता के पीछे खड़ा हो गया।शांता मेरी बीवी का नाईट सूट पहनकर सलाद बना रही थी।पास जाकर मैंने पूछा- क्या कर रही हो?वो बोली- सलाद काट रही हूं. मैंने कोई विरोध नहीं किया तो उसने मेरी जाँघों को सहलाना शुरू किया, मैंने कोई विरोध नहीं किया तो उसका हाथ बढ़ते बढ़ते मेरी चूत तक पहुंच गया.

नाइटी वाला बीएफ तीन महीने बाद खुशबू अपनी ससुराल चली गई और अपनी ससुराल से फोन करके कहा- मुबारक हो, आप बाप बनने वाले हो. मुझे होश ही नहीं रहा कि कब सर ने परमिशन दी और कब आकांक्षा मेरे ही पास आकर बैठ गयी.

अब हम लोग एक दूसरे को किस करने लगे और वह गर्म होती गई और तड़पने लगी.

जीबी रोड की बीएफ सेक्सी

गाड़ी हल्की हल्की हिल भी रही थी और उसकी जांघों मेरे चूतड़ों पर आकर लग रही थीं. उनकी गांड के नीचे तकिया लगा होने की वजह से मुझे भी ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ रही थी. मैंने कहा- चाची, अगर आप मेरी चाची ना होती तो मैं आपको ही अपनी गर्लफ्रेंड बना लेता.

मेरे पूरे लंड ने अन्दर जाकर चुत को अपने मुताबिक़ फैला लिया और उसको आराम सा मिलने लगा. मैंने रुकना उचित नहीं समझा और जोर जोर से अपना लंड उसकी चूत में अन्दर बाहर करने लगा. मुझे सड़क पर आते जाते लोगों को देखकर ऐसी फीलिंग आ रही थी कि हम पब्लिक प्लेस में सेक्स कर रहे हैं.

मैंने उनके सर के बाल भी खोल दिए, इससे वह और भी ज्यादा सेक्सी दिखने लगी थीं.

मामी की गांड में वो पैंटी पूरी फंसी हुई थी और उनकी भारी गांड में दरार के अंदर वो जैसे कहीं गायब हो गयी थी. उसने फिर से लंड मुँह में दिया और दीदी के बालों को ज़ोर से पकड़ कर लंड चुसवाने लगा. मैंने दोस्त के घर जाकर डोरबेल बजाई तो भाभी ने दरवाजा खोला और कहा- अंदर आ जाओ!मैंने कहा- आपको तो फीवर था? पर आप तो बिल्कुल सही हैं.

चाची ने मेरे लंड पर हाथ रख दिया और मैंने उसकी गांड पर हाथों को दबा दिया. मैंने आगे हाथ बढ़ा दिए और उसकी दोनों चूचियों को पकड़ कर उन्हें मींजते हुए उसकी चुत में ताबड़तोड़ लंड चलाने लगा. मैंने आंटी की गांड में थूक से चिकनाहट दी और उंगली से उसकी गांड को सहलाया.

फिर मॉम ने भी उनको छाती पर किस कर लिया और वो दोनों एक दूसरे को चूमने लगे. टीना- लव यू मीत … मुझे हरियाणवी चुदाई का ऐसा सुख देने के लिए शुक्रिया.

इसलिए अम्मी ने शकील से कहा कि अब तू सो जा … सोने से पहले दूध पी ले. और फिर उनकी चूत और गांड को खूब पेला।अब वो दोनों बाथरूम में अपने कपड़े लेकर चले गए नहाने!तो मैं पीछे के दरवाज़े से निकलकर आगे वाले दरवाज़े पर आ गयी. वो मेरे स्तनों को मसलने लगा और बीच बीच में मेरे निप्पल को चूस लेता.

इसी तरह वो हमेशा से हमारे लिए खड़ा रहा और हम सबके लिए उसका खड़ा रहा।आपको मेरी मॉम की चुदाई लाइव कैसी लगी? मुझे कमेंट्स और मेल में बताएं.

उसके लंड की फोटो देखकर मेरी प्यास बढ़ने लगी थी लेकिन उससे मिलने का टाइम नहीं लग रहा था. अब मैंने उसे बातों में बहला कर एक तेज शॉट मारा और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. मैंने कहा- मैं अपनी तारीफ खुद नहीं करता … तुम्हें सोनल ने बताया होगा ना.

मेरा दिल तो किया कि ड्राइविंग को मारो गोली, बस अभी के अभी भाभी को पटक कर उनकी चुदाई शुरू कर दूं. कभी अपने मम्मे कुरते के ऊपर से दिखा देती।अब तो वो भी समझ गये थे कि मैं उनसे चुदने को बेताब हूँ।अगले ही दिन मेरी ननद बाथरूम में नहा रही थी और मेरे ननदोई सो रहे थे.

अब वो बोली- राज फ़ाड़ दे मेरी … आहह आहह आहह ऊईई ऊईई आहह … आज राखी तेरी है आहह आहह!मैं तेज तेज झटके मारने लगा।तभी उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. पूरा लंड पेल कर मैंने मां की चुत की खूब चुदाई की और कल के जैसे अपने लंड से माल चुत में ही निकाल कर सो गया. मेरे दिमाग में एक आईडिया आया कि अगर इन्हें चोदना है, तो यहीं चोदा जा सकता है.

बीएफ चाहिए हिंदी में बीएफ हिंदी में

मेरे दोनों हाथ उसके मुलायम मम्मों को मसल रहे थे और मैं बारी बारी से दोनों को चूस रहा था।अब मैंने उसे ऊपर लेकर किस करने को कहा तो वो भी मुझे किस करने लगी और किस करते करते मेरे लन्ड तक आ गयी और उससे खेलने लगी।मैंने उसे लन्ड को मुँह में लेने के लिए कहा तो मना करने लगी.

बाहरवीं के एग्ज़ाम के बाद जया कल्याण आ गयी थी और यहीं पर बिरला कॉलेज में एडमिशन ले लिया था. इधर मैं उसकी चूची पर अपने हाथ से रगड़ रहा था और उसे अपनी तरफ खींचकर चूम रहा था. फिर पीछे से मैंने अपना लण्ड सेट किया और चोदना शुरू कर दिया। फिर मेरा वीर्य गिरने वाला था तो मैंने कहा- माँ पियोगी क्या?तो उन्होंने कहा- क्यों नहीं बेटा!और मैंने अपना लण्ड उनकी चूत से निकालकर मुँह में दे दिया और झड़ गया.

मैं सोफे पर सोई अपनी बीवी की चूत में उंगली कर रहा था कि तभी वो जाग गयी. मुझे उसकी मक्खन सी गांड बड़ी मोहक लग रही थी तो मैंने कुछ थप्पड़ उसकी गांड पर मारकर उसकी गांड को लाल कर दिया. ब्लूटूथ वाली बीएफअपनी बहन की खूबसूरत जवानी को देखता रहता था लेकिन कभी चोदने का नहीं सोचा था.

मैं तो बस आँख बंद करके इस सुख का मज़ा ले रही थी और मादक सिसकारियां भर रही थी. मेरे सास ससुर ने भी मना नहीं किया और मैं अपनी ननद के यहां चली गई।ननदोई जी मुझे स्टेशन से लेने आये.

आपा का चेहरा कामुकता से तमतमा गया था, उनकी आँखों में वासना साफ़ झलक रही थी. एक बार चुदाई के बाद दुबारा हमें मौका नहीं मिल रहा था कि हम चूत गांड चोदन कर सकें. मैंने पल भर की देर किये बिना ही उसकी चूत पर जीभ रख दी और चाटने लगा.

आज सुबह ज़ोहरा सेवादार को बता चुकी थी कि पिछली रात को ऊपर वाला ज़ोहरा को सपने में आया और ज़ोहरा की गोद भरने की बात कही. हम दोनों एक दूसरे के ऊपर लेटे हुए थे, वो पूरी नग्न थी, सिर्फ एक पैंटी पहनी हुई थी. और अम्मी मुझसे बोली- अशफ़ाक तू अपनी आपा को लेकर ज़ल्दी आ कर खाना खा ले!आपा का नाम सुनकर मुझे फिर से बीती रात का वाकिया याद आ गया.

जिस समय मेरी बहन मेरे सामने मुँह घुमा कर कपड़े उतारते हुए सीन बनाती … मेरे लंड में आग लग जाती थी.

हम दोनों ने हामी भर दी। तभी मेरी दूसरी मामी आयी और बोली कि तुम दोनों में से कोई एक हमारे कमरे में चले आओ, जगह तो खाली है ही और आराम से सो भी सकोगे। इसी बात पर मेरे भैया ने मुझे कमरे में सोने के लिए भेज दिया।मैंने भी हामी भरी और मन ही मन खुश हो गया।मैं तो यही चाहता था कि मामी के साथ किसी न किसी तरह टाइम बिताने का मौका मिले और मैं उनके बदन को देखकर मुठ मारूं. मैं अपनी बहन के ऊपर चढ़ गया और अपना कटा हुआ लौड़ा उसके मुँह में दे दिया.

तो उन्होंने मुझे अपनी बांहों में लपेट लिया और मेरे होंठों से अपने होंठ जोड़ कर मेरे होंठ चूसने लगे. कुछ ही पलों में मैंने उसको हल्का सा ऊपर उठाया, ताकि उसकी ब्रा भी खोल सकूं. तभी निशा आयी और मेरा हाथ पकड़ कर साथ में चलने लगी। अब मुझे बहुत से लोग जान चुके थे और मेरा सारा प्रोजेक्ट वर्क निशा का ही कॉपी होता था।अब हम पूरा दिन साथ ही रहते हैं और हर वीकेंड कहीं घूमने चले जाते हैं और खूब एंजोय करते हैं।दोस्तो, यह मेरी पूरी वास्तविक कहानी है.

इतना कहते ही मेरे दोस्त की बीबी ने मेरी पैंट और अंडरवियर उतार दिया और मेरा लंड चूसने लगी. फिर मैंने उसकी दोनों टांगों को थोड़ा सा फैलाया और उन्हें भी अलग अलग चेयर से बांध दिया. मैंने कहा- लेकिन मैं यहाँ पटना में 3 दिन के लिए हूँ और मेरा घर वेस्ट बंगाल में है और वहाँ मैं अकेले रहता हूँ, सोच लो.

नाइटी वाला बीएफ इसके बाद मैंने उनके कपड़े उतारने शुरू किए और हम तीनों कुछ ही देर में नंगे हो गए. करीब 10 मिनट बाद जब मैं झड़ने को हुआ तो मॉम ने कहा- उसी में छोड़ दे अपना माल.

हिंदी देसी सेक्सी बीएफ वीडियो

एक शाम उसने बातें करते करते मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मुझे कुंवारी लड़कियों में कोई दिलचस्पी नहीं है. तो बहुत खुशी से उसने कहा- तब तो आप से मुलाकात होगी।उस दिन मैं करीब 12:00 बजे घर से निकला और वहां के लिए रवाना हुआ. क्या बताऊँ कि कितना मज़ा आया था।हमारा वो किस लगभग 2 मिनट तक चला और वो उन दो मिनट में मेरे हाथ उसके पूरे बदन पर घूमने लगे.

ऐसे कपडों में वो किसी मॉडल से कम नहीं लगती थी। भाभी की चूचियां भी एकदम गोल-मटोल और भरी हुई थीं।अब मैं अपना काम करने लगा और बच्ची को देखता रहा. धीरे धीरे इस तरह की काम वासना से भरपूर बातें करने के बाद अब दोनों ही धीरे धीरे एक दूसरे के साथ खुलना चाहते थे क्योंकि मुझे आभास हो रहा था कि भाभी कभी अपने पति की तारीफ नहीं करती थी. स्कूल के बीएफ सेक्सीहो सकता था कि किसी अन्य से अपने जिस्मानी सम्बन्ध बना लेतीं, जो कि शायद हम सभी के लिए बेहद गलत होता.

उसके कुछ देर बाद मैं दोबारा से बाथरूम में गया और अबकी बार मैंने दरवाजा खुला ही रखा.

चाची की इसी बात सुनकर मैं भी थोड़ा निराश हो गया कि चाची दुखी हो गई हैं. मैंने दोनों की गांड मार कर अपना पानी उन दोनों के मुँह में निकाल दिया.

मैंने उससे पूछा- अपना पानी कहाँ निकालूं?तो उसने कहा- अपनी भाभी की चूत में डालो!फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाला और 8-10 झटकों के बाद मैं झड़ गया. मैंने देर ना लगाते हुए धीरे से लंड का टोपा आंटी की चुत में डाल दिया और धक्के मारने शुरू कर दिए. अब उसके टांगें एक तरह से मेरी कमर से लता सी लिपटी हुई थीं और लंड का स्पर्श चुत से हो रहा था.

मित्रो, एक बात तो है … जब कोई स्त्री आपके मन में घर कर जाती है तो आपको बस उसका ही ख्याल रहता है.

फिर मैं अपना गाउन पहन कर बाथरूम में जाने लगी तो ननदोई जी ने मुझे रोका और कहा- थोड़ी देर चूतड़ों के नीचे तकिया लगा कर लेटी रहो जिससे मेरा वीर्य बाहर न निकले. भाभी की कुमक आवाजें मेरे जोश बढ़ा रही थीं तो मैंने उनकी पैंटी भी निकाल दी. फिर भाभी ने मुझे बताया कि उनके पति को कुछ दिन के लिए बाहर जाने का प्लान बन गया है … आप आ जाओ.

मुसलमानी सेक्सी बीएफ हिंदीलेकिन मुझे डर है कि अगर उसे मुझसे चुदना पसंद नहीं आया, तो बवाल हो जाएगा. मैं उसे एक बार दुबारा देखना चाहता था, इसलिए कार से उतर कर अर्चना भाभी से इधर उधर की बातें करने लगा.

हिंदी बीएफ बुर वाली

कुछ देर दबाने के बाद उसने खुद ही मेरे अंडरवियर के अंदर हाथ डाल दिया. अभी लंड के सुपारे ने चुत की फांकें चीरी ही थीं कि उल्फ़त की तेज आह निकल गई. इसके बाद मैंने अपना सारा सामान पैक किया और शाम को मैं अपने घर से निकल गई.

ऐसे ही कुछ दिनों बाद मॉम चेकअप के लिए अस्पताल गयी थीं तो मैं अपने दोस्त से मिलने उसके घर चला गया. मैं सोच रहा था कि अगर ये पट जाये तो इसकी चूत का उद्घाटन मैं ही कर दूं. मेरा मन प्रिया को चोदने के लिए तड़फ रहा था, लेकिन ऐसा नहीं होता कि जो मेरा चाहे वो ही हो.

मैंने एक हाथ उनकी नाभि में घुसाया और दूसरे हाथ से उनके चेहरे को अपनी तरफ करके लिपलॉक किस करने लगा. कुसुम ने भी मेरी इच्छा समझ ली थी और उसने खुद अपना वन पीस निकाल दिया. इतनी देर में मैंने महसूस किया कि मेरे बेटे के क्लास टीचर ने अपनी बांह मेरे बदन से सटाना चालू कर दी थी.

तभी बड़ी बुआ अपने पैरों को टैंक में ही जमीन पर टिका दिया और खड़ी होकर मुझसे आगे से लिपट गईं. उनका गोरा पेट और नाभि भी खुली थी।मामी ने सागर को अंदर बुलाया और पूछा- क्या हुआ? क्या चाहिए? और मानसी कहाँ है?सागर बोला- मानसी किसी काम से गयी है, एक घंटे बाद आएगी.

वो अपनी चूत मेरे मुँह पर रख कर बैठ गयी, जिससे मेरी जीभ उसकी चुत में अन्दर तक घुस गई.

उसके मुँह से सेक्सी आवाज़ ‘इस्सस आह’ निकला और बच्चा गोद से छूट कर गिर गया. सेक्सी बीएफ देहाती गांव वालीमैं- घर पर क्या बताओगी भाभी कि कपड़े गंदे कैसे हुए!निशा भाभी- बोल दूंगी कि गिर गई थी. ब्लू फिल्म एचडी बीएफकुछ पलों बाद उसकी चुत ने अपना पानी छोड़ दिया और वो निढाल होकर लेट गई. इधर मैंने दिन में ही मौक़ा निकाल कर अपनी बीवी की घमासान चुदाई करके उसे पूरा मजा देकर चोद दिया और अपना सारा माल अपनी बीवी की बच्चेदानी में भर कर रात की नींद को पूरा करने लगा.

जब मेरी नजर उस पर पड़ी तो मुझे उसकी चूचियां साफ साफ दिखाई दे रही थीं.

हम सब जिस बरामदे में सो रहे थे वहां की लाइट भी बंद हो गई थी।फिर मैं सो गया. मेरा लंड मेरी पैंट की चेन के बाहर था और मैं तेजी से उस जवान लड़की की नंगी चूचियों को देख कर अपने लंड को हिलाने में लग गया. मेरा लम्बा मोटा लंड जो कुछ देर पहले शेर की तरह दहाड़ रहा था, अब मुर्दा सा होकर, सिकुड़ कर आपा की चूत से बाहर आ गया.

एक दिन वैशाली ने मुझे फोन करके अपने घर का पता बता कर कुछ कपड़े मंगवाये कि इस बहाने मैं उनका घर देख लूं. अंजलि मजाक में आंखें बड़ी कर रही थी लेकिन उसे भी मजा आ रहा था।मौसी किचन में थी. फिर एक दिन क्लास में कुसुम को छेड़ते हुए मेरा हाथ उसके मम्मों में जोर से लगा गया.

बीएफ पिक्चर वीडियो वीडियो

माँ खिड़की बन्द करने गईं, तो मैंने अपना अंडरवियर नीचे करके लोअर ऊपर कर लिया. वो मॉम के ऊपर लेटकर उनकी चूचियों को जोर जोर से दबाते हुए पी रहे थे. उसके बाद सुनीता उठी और अपनी पेंटी निकाल दी और शकील के मुंह पर बैठ गई.

भाभी ने वो डिब्बा उठा लिया था और वो मुझसे नीचे उतारने के लिए बोल रही थीं.

जैसे ही मैंने उसकी संगमरमर जैसी मुलायम जांघों को चूमना शुरू किया, उसने मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत पर दबाना शुरू कर दिया.

अब मैं मौसी की पीठ से लेकर नीचे कमर की मालिश करते हुए उसकी गांड की दरार तक अपनी उंगलियां चलाने लगा. जैसे भी मैंने गुडबाइ बोला और नीचे तक आया, तभी भाभी का मैसेज आया- मैं एक बात कहूँ?मैंने बोला- हां जी बोलिए ना. जंगल के बीएफ सेक्सीमैंने सुमन भाभी को खड़ा किया और उनको औंधा झुकाते हुए उनकी मक्खन सी गांड में तेल लगा कर धीरे से उंगली घुसा दी.

ज़ोहरा आगे आगे थी और मैं आपा के पीछे पीछे!एक जगह पर ज्यादा भीड़ की वज़ह से हम दोनों बुरी तरह फंस गए. मैंने देखा है कि वह अक्सर पुराने जमाने की पट्टीदार चड्डी में ही रहा करते थे. फ़िर मैंने माही की गांड भी मारी,गांड मारने की कहानीमैं अगली बार लिखूँगा.

रानी की चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर तभी पिंकी ने रानी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया. उसके बाद मैंने उसको घोड़ी बना दिया और थोड़ा सा तेल अपने लंड पर लगाया.

मैं उसे एक बार दुबारा देखना चाहता था, इसलिए कार से उतर कर अर्चना भाभी से इधर उधर की बातें करने लगा.

कुछ देर के बाद वो पलटी तो उसकी कमर के नीचे जो रजाई दबी थी वो निकल गयी. मैं भी फ़ुल जोश में था- हां मेरी बहन, आज तेरी चुत … गांड सब फाड़ दूँगा. घर आकर मैंने उसे फिर से चोदा और इस तरह वो पूरे दो साल तक मेरे पास रही.

पाकिस्तान बीएफ वीडियो मैंने उन्हें बोला- बुआ ठीक है, पर मैं आप दोनों की गांड मारना चाहता हूँ. मैं उसके होंठों से गर्दन तक चूसते चूसते उसके मम्मों तक आ गया।उसके मम्में बहुत ही उभरे हुए थे, लगभग 40″ के होंगे; एकदम गोलमटोल चूचे थे।मैं उन्हें ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने और चूसने लगा।अब मैंने ब्लाउज का पहला बटन खोला फिर दूसरा बटन खोला। शांता की धड़कनें तेज हो गयीं.

अगर आप सभी को यह भाबी सेक्स Xxx कहानी पसंद आई हो तो कृपया मुझे मेल से बताएं. हम लोगों ने साथ में खाना खाया और फिर वो मुझे घर जाने के लिए कहने लगी. मां ने ब्रा खोलते हुए कहा- तू चड्डी खींच कर निकाल दे और आज बिना किसी डर के मुझे चोद दे.

मराठी बीएफ चुदाई

पहली बार मोटे लंड से चुद कर मजा ले ले … पता नहीं तेरे नसीब में किसका लंड लिखा होगा. फिर वो बोला कि पास ही एक गत्ता फैक्ट्री के पास उसका एक दोस्त रहता है. एक दिन की बात है, जब मैं और मेरी मां छत पर बिछौना बिछा कर लेटे हुए थे और बातें कर रहे थे.

वो भी बुरा नहीं मानती थी और अगर मैं उनकी मर्दों के प्रति राय पूछता था और उनके पति के साथ उनके संबंधों के बारे में पूछता था तो भी वो हल्का फुल्का मुझे बता देती थी. मैंने अपनी छाती के निप्पल सहलाते हुए कहा- ऐसा क्या ख़ास देख लिया है भाभी जी?भाभी ने एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- मेरी जवानी आपका भोग लगाने को मचलने लगी है.

मेरी सच्ची हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे बड़े भाई ने छोटी बहन को चोदा.

झड़ने के बाद मैंने उनसे पूछा तो मैम बोलीं- मैं भी दो बार झड़ चुकी थी. मेरा बेटा अभी तक सो रहा था, तो मैंने उसको उठाना सही नहीं समझा और मैं उसके स्कूल के लिए निकल गई. पापा बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगे और मम्मी जोर जोर से चीखने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उह उह!फिर दस मिनट बाद प्रशांत ने मम्मी की चूत में अपना पानी झाड़ दिया.

तभी भाबी के सामने ही मम्मी ने मुझे बुलाया और कहा कि रात को भाभी के घर पर सोने चले जाना, वो अकेली हैं घर पर. इस देसी कहानी के अगले भाग में पढ़ें कि मैंने सोनी की कुंवारी बुर को कैसे चोदा. मैंने आरुषि का मोबाइल चैक किया तो मुझे समझ में आ गया कि वो अपने पति से झगड़ा करके यहां आयी है और शायद इसी लिए वो मुझे कुछ बता नहीं रही थी.

करीब तीस मिनट तक वो मेरी चुदाई करते रहे इस बीच मेरा दो बार पानी निकल चुका था लेकिन उनका निकलने का नाम नहीं ले रहा था मैं सोच रही थी कि काश मेरे पति भी ऐसी चुदाई करने लगे तो मैं रोज ऐसे ही चुदूँ.

नाइटी वाला बीएफ: उनकी चूत से बहुत ही मनमोहक खुशबू आ रही थी।धीरे से मैंने मामी की कमर को ऊपर किया और उनकी पैंटी नीचे सरका दी. अब तो मैं बस चाची की चूचियों पर टूट पड़ा और कभी उनकी एक चूची को तो कभी दूसरी को चूसने लगा, मैं बीच में हल्का हल्का काट भी लेता था जिससे चाची की एक सिसकारी निकल जाती थी.

कुछ देर बाद भाभी ने अगले रविवार को जिस होटल में मैं और चाची रुके थे, उसी होटल में रूम बुक कर दिया. सच में वह एकदम अप्सरा जैसी थी; निहायत ही खूबसूरत; और पूरी नंगी होकर के तो वो बहुत ही गजब लग रही थी. जब मैंने ये सुनिश्चित कर लिया कि वो एक लड़की ही है तो फिर मैं उसके साथ चैटिंग करने लगा।धीरे धीरे पता चला कि वो मेरे मौहल्ले की भाभी है जो दिल्ली में रहती है।वो कोरोना की वजह से गांव आई हुई थी.

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो नीचे दी गयी मेल आईडी पर मुझे मेल करके जरूर बतायें.

फिर उसने मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसा और एक बार फिर मेरे लंड का पानी मेरे मुंह में गिरवा लिया. तभी अचानक से अमित के मुंह से गाली निकली- मज़े ले रही है रांड मोटे लंड का?मैं साथ में बोली- हां, बहुत मज़ा आ रहा है मादरचोद मैनेजर … चोद इस रांड को अपने मोटे लंड से!यह सुन कर अमित जैसे पागल हो गया. मां ने उनके पानी के लोटे में नींद की दो गोलियां डालीं और कुछ नमकीन उनको देकर वहीं बैठ गईं.