बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी

छवि स्रोत,यादव सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश सेक्सी xxx: बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी, लगभग 15-२0 मिनट में मैंने देखा कि ज्यादातर सब लोग चले गए हैं पर वो नहीं निकली.

भाभी की चूत चुदाई सेक्सी वीडियो

उस अधिकारी को तो पुलिस ने छोड़ दिया क्योंकि उसने किसी खास आदमी से फोन करवा दिया. मुसलमानों की सेक्सी पिक्चर वीडियोफिर वो बोलती है कि डॉक्टर इलाज कब से शुरू होगा?तो मैं झूठ बोल देता हूँ कि आज से.

वो जोर जोर से मेरी कमर पर नाख़ून चुभो रही थी और गर्दन पर किस कर रही थी. सेक्सी भाभी वीडियोसकरीब बीस मिनट बाद मेरे शरीर में ऐंठन सी होने लगी और मैं एकदम से शिथिल सी हो गई.

मेरा वेट अराउंड 58 किलो है और मेरी कमर 27 के आस पास है… इसलिए वो ड्रेस जो कि मेरी स्किन से चिपक गई थी, उसकी वजह से मेरी कमर का ऊपर का हिस्सा भी बहुत मस्त लग रहा था.बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी: चूत मेरे ही घर में थीये बात ज्यादा पुरानी नहीं है, इस बात को अभी कुछ 15 या 20 दिन हुए होंगे.

यह सुन कर मैं थोड़ा घबरा गई, मैंने सर से पूछा- आपने मुझे क्यों बुलाया है?उन्होंने कहा- मैं तुम्हें पास तो कर दूँगा लेकिन मुझे भी कुछ चाहिए.मैंने गैरेज का शटर डाउन किया, मेन-गेट को अंदर से ताला लगाया और अंदर दाखिल हुआ, कपड़े बदले और किचन में जा कर कॉफ़ी बनायी।प्रिया… कॉफी पियोगी?” मैंने आवाज लगाई.

गांव की देहाती सेक्सी चुदाई - बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी

इस बार मैंने आंटी की टाइट गांड में आइसक्रीम डाल कर गांड को फाड़ दिया.दोस्तो, मैं बबलू, मेरी पिछली कहानीप्रीति चूत चुदाने को मचल रही थीसभी पाठकों को पसंद आई थी.

पारुल ने ब्रांडेड और काफी कॉस्टली ब्रा पहनी थी जिसमें वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी. बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी कुछ देर ऐसे ही चलने के बाद मेरी साली ने खुद ही कमीज के ऊपर के गले से अपने एक चुचे को बाहर निकाला और उस लड़के के मुँह में दे दिया.

मैं समझ गया कि भाभी ने बोला था कि भाई का लंड छोटा और पतला था, तो इसका मतलब ये था कि भाभी की ठीक से चुदाई नहीं हुई थी.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी?

वे मेरे पास आकर बैठ गए और मुझे समझाने लगे और कहने लगे कि तुम अच्छी पढ़ने वाली लड़की हो, अगर तुम फेल हो जाओगी तो तुम्हारा भविष्य भी खराब हो जाएगा. वो खड़ी होकर मेरे पास आई और बोली- क्या तुम मेरे चूचे नहीं देखते हो? क्या तुम मेरी चाल को देख कर कमेंट्स नहीं करते?अंकिता जी ऐसा नहीं है. मेरे लंड को सहला कर वो बोली-हय्यई… क्या लोड़ा है तेरा!मैं उसकी चुत चाटने लगा.

बाथरूम में जाकर पहले अपनी चूत को अन्दर बाहर से साबुन से अच्छी तरह धो लो. कुछ देर बाद उनका भी दर्द कुछ कम हो गया और वो भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगीं. इस बार मैं उसे देखता हुआ पकड़ा गया, तो मैंने एक छोटी सी मुस्कान दे दी.

मेरा दर्द और मजा दोनों बढ़ रहे थे, पर दर्द होने की वजह से आँसू भी निकल रहे थे. सच कहता हूं दोस्तो, आज तक मुझे सेक्स करने में इतना मजा कभी नहीं आया था जो मजा उस दिन आ रहा था।अब मैं पारुल की नाभि को किस करने लगा तो पारुल तड़फ उठी और अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगी. मैंने उनकी टांगों को उठा कर कंधे पर रख लीं और लंड को भाभी की चूत के छेद पर लगा कर जोर का धक्का दे दिया.

केवल 15-20 मिनट की चुदाई में वो फुल चिल्ड एसी में भी पसीने से भीग गई थी. फिर उन्होंने भी देर नहीं की और चिंटू ने मुझे उनकी गोदी में उठा कर अपने लंड को मेरी चूत में फंसाने लगा.

उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने ऊपर खींच लिया और अपने हाथ मेरे अंडरवियर में घुसा कर मेरे लंड को हिलाने लगी.

माँ ने बताया कि मौसा जी की तबियत खराब होने के कारण वे चार-पांच दिन के बाद आ पाएंगी.

मैंने उसकी ब्रा पेंटी उतारी और उसके सारे अंगों को कपड़ों छुटकारा दे दिया. यह मेरी जिंदगी की पहली लिप किस थी, या यूं कहिए कि जो आज कर रही थी सब कुछ आज पहली बार ही फिजिकली कर रही थी. जैसे जैसे सेजल भाभी की पैन्टी कट रही थी, उनकी गुलाबी चूत बाहर झाँकने लगी.

इतने में मुझे लगा कि जैसे परदा हिला हो!मैं बोली- कोई आया क्या?बालू ने मुड़ कर देखा, बोले- कोई नहीं… तू खुद डरती है और मुझे भी डरा रही है, इससे मूड बदल जाता है, कोई आता है तो आने दे अब, बस आजतेरी चूत को खा जाऊंगा. भाई साहब बोले कि नहीं पहले चाय पिला दें फिर आधा घंटे बाद खाना खा लूँगा. अन्तर्वासना सेक्स कहानी पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरी पिछली कहानीचूत चुदाई के खेल में लेस्बियन मसालाको आप लोगों ने बहुत पसंद किया, उसके लिए शुक्रिया.

मेरा दायाँ हाथ प्रिया की पीठ पर ऊपर-नीचे गर्दिश करता करता अब नितम्बों पर से होता हुआ, पैंटी-लाइन नापता-नापता योनि-द्वार तक जा रहा था.

मैं पिंकी को बाथरूम में लेके गया, उसका चेहरा और उसकी टी-शर्ट के ऊपर की सु सु को पानी से साफ़ किया. मैंने इस साईट पर बहुत से लोगों की कहानियां पढ़ीं और हमेशा सोचता रहा कि कब मुझे अपनी कहानी डालने का मौका मिलेगा. उनकी टाईट होती जींस और गहरे गले का टॉप, जो उनकी चूचियों को लगभग आधा दिखाने लगा था.

कामिनी और वो एक दूसरे की बांहों में बाँहें डाल के डांस कर रहे थे, उसने कामिनी को गांड के पीछे से पकड़ रखा था और कामिनी ने उसके सीने पर!उसने धीरे से कामिनी के छोटे से बेबी डॉल में नीचे से हाथ डाला और नाचने लगा. जैसा कि अस्पताल नया ही बना था, इसलिये काफ़ी सफाई थी और सामने डॉक्टर के नये क्वाटर बने हुए थे जो लम्बी बिल्डिंग के रूप में थे और इन घरों में अभी कोई रहता नहीं था… मतलब ज्यादा भीड़भाड़ नहीं थी वहाँ पर!दूर से बस एक लगभग 25 साल का मर्द दिखाई दे रहा था, जो अस्पताल की सीढ़ी के साईड में बनी ओटली पर बैठा फोन पर किसी से बात कर रहा था. मैं थोड़ा और तेज हो गया तो अब चाची झड़ने वाली हो गई थीं… उनकी थिरकन से मैं समझ गया कि चाची का काम बजने वाला है.

पैसे कल दे देना और हां मैं जब तुम्हारा इलाज करूँगा तो मैं तुम्हें दोस्त की तरह समझूँगा और मैं तो कहूँगा तुम्हें मेरी वाइफ की तरह फ्रीली रिलेशन बनाने में हेल्प करनी होगी, जैसे किसी पत्नी को अपने पति के साथ सेक्स करना होता है.

रानी अब मस्तानी होकर चुदाये जा रही थी और साथ में सीत्कार भी भरती जाती थी. कुछ देर बाद वो वापस आया और उसने कहा कि अन्दर फैमिली वाले हिस्से में कोई फैमिली खाना खा रही है.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी हम दोनों को एक ही फील्ड के होने के कारण एक दूसरे से बात करने का मौका मिल जाता था. मॉम भी झटके से लंड घुसने पर करीब एक मिनट तक शांत आँख बंद करके लेट गई थीं.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी लेकिन वे अपनी जिस्मानी खूबसूरती को लेकर बेहद संजीदा हैं, इसलिए जिम और योगा सेंटर बिना नागा रोज जाती हैं. मैंने धक्का देते हुए ही पास पड़ी एक छोटे स्टूल को खिसका कर उनके आगे रखा और उनका एक पैर उठा के उसपे रख दिया.

वह मेरी बात को सुनकर शरमा सी गई थी।और मैंने भी देर ना करते हुए उसके पास जाकर उसके गाल पर एक किस कर दी तो पहले तो उसको कुछ बुरा सा लगा और वह एकदम से पीछे हो गई थी.

मोटू पतलू की जोड़ी वीडियो

नेहा को मैंने सारी बात बता दी और उससे बोली कि आज रात को चलना है अपनी चुत की पूरी तरह से सफाई कर लेना और साथ में बगलों (अंडरआर्म्स) की भी सफाई कर लेना. मैं मिलने की जगह सोचने लगा और बात तुगलकाबाद किले पर मिलने की तय हुई. उसकी चुत में बीच की उंगली डाल कर उसे उठा दिया और उसे बैड पर लिटाया.

अब मैंने उसकी टांगों को ज़ोर से पकड़ कर फैलाया और ज़ोर ज़ोर से उसकी चुत को चाटने लगा. सबसे पहले हम रूम पर पहुंचे जो चिंटू के ही दोस्त का था और जहाँ मैं पहले भी बहुत बार आई हूँ और चुदी भी हूँ. करीब 15 मिनट चुम्मा चाटी के बाद हम अलग हो गए।मैंने उसे कहा- बाथरूम में आ जाओ, यहां बच्चे उठ जायेंगे.

थोड़ी देर इसी तरह अपनी चुत चोदने के बाद दीदी एकदम पागल सी हो गई थीं और अपनी गांड उठा उठा कर उंगलियां घुसा रही थीं.

अभी कुछ ही दिन पहले मैं इंडिया आई हूँ और सबसे पहले मैं अपने पेरेंट्स के पास आई, जहाँ वो रहते हैं. छोटी ने फिर कहा- क्या हुआ माँ? तुम ठीक तो हो ना?अब आंटी कुछ भी कहने की हालत में नहीं थी, इसलिए मैंने ही अपनी लड़खड़ाती जुबान में छोटी को डांटा- तुम्हारी मां मजे के अंतिम पड़ाव में है छोटी, उन्हें तंग मत करो, चुपचाप एक जगह पर बैठो।और कुछ ही धक्कों के बाद मेरे लंड को अलग ही गीलेपन फिसलन और मजे का अहसास हुआ, मैंने आंटी को दो मिनट सांस लेने का मौका दिया पर लंड को यूँ ही उनकी चूत में फंसाये रखा. मुझे पता नहीं क्या हो रहा है… बस जी कर रहा है कि तुम मुझे दबोच के मेरा मलीदा बना दो…फिर उसकी आवाज़ और ऊँची हो गयी- राजे… तोड़ दो… पीस डालो… मैं दुखी आ गई इस बेईमान बदन से… हाय… हाय….

हम दोनों जल्दी से तैयार होकर नीचे आए और कार से उसने मुझे उसी प्लेस पर ड्रॉप किया, जहां से लिया था. धीरे धीरे हमने एक दूसरे के बदन से कपड़े उतारने शुरू किए और कुछ ही पल में हमारे बदन पर एक भी कपड़ा नहीं बचा था. फिर तो जोश ही जोश में मैं उसके चूचे भी पी रहा था और उसे मसल भी रहा था.

मैंने उसे कस के पकड़ा और ज़ोर से धक्का लगाया, आधा लंड चूत के अंदर गया और उसकी आँख से पानी बाहर आ गया. मैं- वाह… उस दिन आपकी मेरे लिए क्या प्लानिंग है?माँ- कल तुम माँ के लिए एक सुंदर सी ब्रा पेंटी और एक नाईट गाउन खरीदोगे और उनको अपने हाथ से लिखी एक चिट्ठी के साथ गिफ्ट करोगे.

वो दो उंगलियों से मेरे कूल्हों को हटाकर अपनी तीसरी उंगली उसमें डालने की कोशिश करने लगा, पर मेरी गांड तो एकदम टाइट थी तो उंगली घुस ही नहीं रही थी तो उसने हाथ वापस निकाल लिया, मुझे लगा कि इससे आगे अब कुछ हो नहीं सकता. सब कोई अपने अपने पसंद के मेनू आर्डर कर रहे थे, पर भाई साहब का कोई आर्डर नहीं कर रहा था. मैं उन भाभियों का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मुझे अपनी अगली कहानी लिखने के लिए बार बार मेल किये; और मैं माफी चाहता हूं कि अपनी कहानी लिखने में लेट हो गया.

मैंने और फिर जोश में आकर उसके कानों के पतले भाग को धीरे धीरे चूमना शुरू किया और साथ ही में मैंने अपने हाथों को उसके गले और मम्मों पर धीरे धीरे चलाना शुरू कर दिया.

भाभी ने उनकी बहुत सेवा की लेकिन उनको जरा भी आराम नहीं हुआ और इस वजह से वो बहुत दुखी रहने लगी. इतना कहने के बाद मैंने नाश्ता साइड में रख दिया और बुक उठा कर पढ़ने लगा. तो उसने पेनकिलर दी, उसे मैंने खा लिया और घर जाने के लिए अपने कपड़े पहने.

मैंने अपने दोनों हाथ कमर के पीछे करके उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसे उतार कर उनके सुडौल मम्मों को चूसने चूमने चाटने लगा. तो मैंने उसके होंठों पे अपने होंठ रख के उसे शांत किया और फिर से धीरे धीरे चुदाई करने लगा.

वो घर आकर बोला कि इसके मम्मी पापा विदेश में हैं और इधर यह अकेला रह गया था इसलिए इसे मैं साथ ले आया. मैंने माँ की सीधा बैठाया और उनको अपने लंड के नीचे लेते हुए उन्हें चित कर दिया. मैं उसके एक चूचे को मुँह में और दूसरे को हाथों से भींचता हुआ दबा रहा था.

सेक्सी नंगे फोटो कपड़े में

मैंने उसका चूचा जोर से मसलते हुए कहा- क्या तुम मुझे अभी दूध पिला सकती हो?नीला ने नशीले अंदाज में कहा- इतनी भी जल्दी क्या है?मैंने उसकी साँसों को अपनी गरम साँसों से लड़ाते हुए कहा- हां, मुझे अभी भूख भी तो लगी है.

कॉलेज के पहले दिन मैं क्लास में बैठा हुआ बाकी स्टूडेंटस को आते देख रहा था. दोस्तो, मैंने दीदी को दो बार चोदा और दोनों एक दूसरे को पकड़ कर सो गए. तभी वो बोली- नाउ फक मी और अब मुझसे रुका नहीं जाता, प्लीज़ जल्दी से लंड पेल दे.

”रोशनी को अब शर्म आने लगी, पर मैंने जाकर उसकी जीन्स का बटन खोला और उसकी ब्लू कलर की पेंटी को नीचे करके वी शेप दिखाया. दोस्तो, यह थी मेरी‌ देसी टीनएज गर्ल की चुदाई कहानी, आप लोगों को पसन्द आई या नहीं, मेल करके बताना न भूलें. सेक्सी डांस वीडियो सेक्सी डांस वीडियोअब तो मानो मेरे दिल के अरमान की पतंग की डोर कट सी गयी थी और मेरा काम खत्म हुए डेढ़ घंटा हो चुका था.

मैंने उसकी कमर को पकड़ कर ज़ोर से शॉट लगाया मेरा 70 % लंड उसकी गांड में अन्दर घुस गया. उसने मुझे इशारे में बोला कि ऐसे तो घर जाने में दिक्कत होगी, तो मैंने उसे छोड़ दिया.

मैंने भाभी से कहा- डार्लिंग अपनी ब्रा खोल दो और मेरे मुँह में अपना निप्पल दो. उनके बड़े गले के ब्लाउज में से उनकी चूचियों की दूधिया घाटी मेरे लंड को आतंकवादी बनाने पर तुली थी. पता नहीं तभी अशोक को क्या सूझा, वो बोला- देख अब कैसे मजा लिया जाता है.

हम दोनों को एक ही फील्ड के होने के कारण एक दूसरे से बात करने का मौका मिल जाता था. अब मुझे भी शक हुआ क्योंकि मुझे मालूम था कि पंकज एक सेक्स एडिक्ट था. कुछ ही देर में चुदास बढ़ी तो मैंने उसका लोअर और पेंटी निकाल दी और उसको बेड पे बिठा कर उसकी चुत चाटने लगा.

पर दोस्तो, जब भी भाभी का साथ होता है, खूब मस्त चुदाई और चुसाई कर लेता हूँ.

इस सेक्स स्टोरी हिंदी का पिछला भाग :मुझे किस किस ने चोदा-1अभी तक आपने पढ़ा कि भाभी के पापा के दोस्त ने मुझे कार में नंगी कर लिया था और मेरी चूत की चुदाई शुरू करने ही वाले थे. इसी बीच मैंने मोबाइल पर ही पूछ लिया- क्या मोबाइल मोबाइल ही खेलते रहना होगा.

मेरे लंड में तनाव आ गया था सो मैंने भाभी की टांगों को खोल कर लंड के सुपारे को उनकी चूत के मुहाने पर रख दिया और लंड को चूत पर रगड़ने लगा. मैंने करवट ली और सैम के ऊपर पैर रख दिया, जो उसके लंड पर पड़ा और पैर रखने से वो बड़ा होने लगा. मैंने लंड और उसकी गांड का छेद बिल्कुल सही पोज़ीशन में आ जाएं, उसके लिए निशा की कमर के नीचे दो तकिए लगा दिए.

उसके बाद रुचिका कालेज चली गई और फिर लगभग एक घन्टे बाद मैं पहुँचा तो रुचिका मुझे देखकर मुस्कराई. फिर दूसरी तरफ से पता नहीं क्या हुआ… दीदी दोबारा बोलीं- हाँ बोल… यहीं हूँ सुन रही हूँ… आ गई न लाइन पे… चल अब बता ये अचानक प्रमोशन कैसे…थोड़ी देर दूसरी तरफ से सुनने के बाद दीदी अचानक चौंक उठीं- क्या बात कर रही है… ओ माय गॉड… सच में? आई कांट बिलीव दिस यार… तूने उस बुढ्ढे से चुदवा लिया?यह कह कर दीदी का मुँह खुला का खुला ही रह गया. आज अपनी आपबीती सुना रहा हूँ, जो बिल्कुल सच्ची है, जो मेरे साथ हुआ था.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी एक सिगरेट फिर से सुलगा कर कश खींचते हुए फिर से मुझे बिस्तर में गिरा कर मेरे लंड को सक करने लगी. कुछ दस मिनट में चुत ने रस छोड़ दिया और वो सारा रस आइसक्रीम के साथ चाट गया.

xxx हिंदी कहानी

[emailprotected]इसके बाद क्या हुआ? अगली कहानी:वाइफ की चुत चुदाई दो मोटे लंड से. मैं अपनी ड्रेस सही करने ही जा रही थी कि अचानक मुझे कुछ गीला गीला सा अपनी गांड में लगा. सब कभी पीछे छोड़ कर हम दो भाई बहन अपनी मनोकामना पूरी करने में लगे हुए थे.

ऐसा लग रहा था मेरी चूत में उनकी उंगलियाँ कमाल दिखा रही हैं और मेरे मुँह को वो जीभ से चोद रहे थे- आह… जान आआह…मेरा पानी निकल गया और मैं उनकी गोद में पूरी तरह से निढाल होकर गिर गई. तभी मुझे भी लगा कि मैं भी झड़ने वाला हूँ तो मैंने भाभी की गांड को ज़ोर से भींच लिया और चाटने लगा और भाभी के मुख में ही झड़ गया और भाभी ने सब गटक लिया।अब हम शांत हो गए और फिर से बिस्तर पर आकर लेट गए।भाभी का सिर मेरे सीने पर था और मैं उनके सिर को सहला रहा था और वो मेरे लंड को हाथ में लेकर ऊपर नीचे कर रही थी. मोटी गांड वाली सेक्सी लड़कीमैंने देर ना करते हुए उसे सहलाना चालू रखा और उसकी पेंटी के अन्दर हाथ डाल दिया.

जैसा कि मैंने पहले बताया था कि मेरे चूचे उभरे हुए हैं तो चिंटू कई बार मेरे मम्मों को टच करके भाग जाता था और मैं भी सबके सामने होने के कारण थोड़ा सा विरोध करता कि ये सब ठीक नहीं है.

एक दिन शाम के वक़्त मैं गार्डन में ही बैठकर जीएफ से बात कर रहा था, तभी उनका बेटा साइकल से गिर गया. वो उठा और मेरी बुर में अपने लंड का आगे का टोपा जो एकदम लाल वाला भाग था.

मैंने उनकी पेंटी निकाल कर अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी, तो वो तो एकदम पागल सी हो गईं. उसने अपने लंड से 20-25 धक्के लगाए होंगे कि अपना लंड मेरे मुँह से खींच लिया. अम्मी के इस तरह से करने में मेरी हालत तो जल बिन मछली जैसे हो गयी, ऐसा लगने लगा कि आज तक इतना मज़ा तो अब्बू ने भी नहीं दिया… और अभी तो अम्मी सिर्फ किस कर रही हैं तो ये हाल है कि मेरी चड्डी चूतके पानी से पूरी भीग गयी थी, बिना चूतको छुए इतनी बेचैन चूत पहले कभी नहीं हुई थी.

मुझे अब याद आ रहा था कि मां ने भी इधर आते वक्त एक दवा खा ली थी, शायद वो ही एक कारण था कि मां अब तक उन सभी के लंड का मजा ले पा रही थीं.

तभी मुझे सामने सरकारी अस्पताल दिखाई दिया और दिमाग ने तुरंत समस्या का हल ढूँढ लिया और अचानक ही किसी जवान मर्द के मोटे ताजे लन्ड की तलाश में मेरे कदम अस्पताल की तरफ़ बढ़ने लगे. वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा पूरा साथ दे रही थीं और अपनी कमर उठा उठाकर मेरे लंड को अपने अन्दर तक ले रही थीं. अब उस लड़के ने ऊपर से ही मेरी साली के चूचे चूसने शुरू किए, जिसका मेरी साली थोड़ा विरोध कर रही थी, पर वो वैसा ही विरोध था जैसा लड़कियां अक्सर करती हैं, पर वो भी उसका मजा ले रही थी.

सुहागरात की सेक्सी वीडियो भोजपुरीऔर फिर हम दोनों ने एक दूसरे को साफ किया।फिर मैंने डिम्पल को बोला- पहले तुम चली जाओ कमरे में!डिम्पल के जाने के बाद में भी उसके पीछे पीछे कमरे में जाकर कर डिम्पल के साथ लेट गया और मैंने पूछा- मजा आया?उसने कहा- हां… पर दर्द हो रहा है!मैंने कहा- लाओ मालिश कर दूँ।फिर मैं डिम्पल की चुत की मालिश करने लगा. तो बोली- कितनी भाभियों को पानी पिलाया है अपना?मैंने कहा- एक मिली थी जब दिल्ली में रहता था, नीलू नाम था उनका, उनके भी दो बच्चे थे, बंगाली थी लेकिन भाभी, सही कह रहा हूँ उनकी जैसी खिलाड़ी मुझे आज तक नहीं मिली.

दादा पोती सेक्सी वीडियो

विक्रम ने पीछे से उसकी चुत में अपना लंड डाल कर उस पर चढ़ गया और उसके मम्मों को बुरी तरह से दबाने और मसलने लगा. वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोला- मतलब?मैंने कहा- मतलब कि किसिंग विसिंग. विनय मेरे पेट और कमर को चाट रहा था और धीरे धीरे नीचे मेरी चूत तक जाने लगा.

सभी टपकती हुई चूतों और खड़े हुए लंड को मेरा सलाम!दोस्तो, आज मैं आपको अपने जीवन की सच्ची घटना के बारे में बताऊंगा। सच कहूँ तो अन्तर्वासना पर कहानी लिखने के बाद मेरे भाग्य खुल गए, आज तक अन्तर्वासना की बदौलत मैंने 9 चूतों का रसपान किया है जिनमें से 3 की नथ भी मैंने ही उतारी थी. भाभी की सांसें एकदम बुलेट ट्रेन की तरह हो गई थीं, वो हिलने लगीं और चिल्लाने लगीं. पर मैं मानने वाला नहीं था क्योंकि दोस्तों जब किसी की चूत मारता हूँ तो गांड को भी नहीं छोड़ता, वरना मुझे चुदाई अधूरी लगती है.

वो भी शर्माते हुए हां में सर हिला देती है और मैं उसे बांहों में भरके क्लिनिक के पिछले कमरे में ले जाता हूँ और उसे चूमता चाटना शुरू कर देता हूँ. तत्काल मेरा दायाँ हाथ प्रिया के बाएं कंधे पर से गर्दिश करते-करते नीचे की ओर अग्रसर हुआ, कोहनी और कलाई से होते हुये अंदर पेट की ओर मुड़ गया. हम दोनों एक दूसरे की बांहों में लिपट कर अपनी गरम साँसों को एक दूसरे से साझा करने लगे.

मैं पिंकी को बाथरूम में लेके गया, उसका चेहरा और उसकी टी-शर्ट के ऊपर की सु सु को पानी से साफ़ किया. यह कहकर उसने मेरे घी को, जिसे वीर्य कहते हैं, अपनी छाती पर मलना शुरू कर दिया था.

जल्दी ही मेरे एग्जाम खत्म हुए और एक दिन उसका फ़ोन आ ही गया कि वो अगले दिन मुझे बाहर ले जा सकता है.

मैं छुप गया, वो समझी कि मैं बाथरूम में ही हूँ और फिल्म म्यूट करके देखने लगी. ब्लू मूवी सेक्सी वीडियो मेंलंड चुसाई के साथ में उसकी मादक आवाज़ें माहौल को और अधिक कामुक बना रही थीं. सेक्सी रंडी की चुदाई वीडियोअब रेशमा मेरे मुंह में झड़ चुकी थी, उसका रस का वो कसैलापन उसके लिये कोई शब्द नहीं है, बस कल्पना कीजिए कि फुहार के मौसम की पहली बारिश में जिस तरह से मिट्टी की सौन्धी खुशबू आती है, बस वही थी मेरे लिये।जब रेशमा हटी तो फिर मैं कॉटन से अब अपने दोस्त की बीवी अलका की चूत पर लगाई बाल साफ़ करने की क्रीम को साफ करने लगा, क्रीम के साथ-साथ उसके बाल भी बड़ी आसानी से निकल आ रहे थे. यह बोलते हुए उसने मेरे लंड को दबा दिया और नीचे बैठ कर मुँह में लेकर चूसने लगी.

हमने काफी ऑर्डर की और आराम से बैठ कर काफी पी।तो दोस्तो, यह थी मेरी सेक्सी कहानी दो प्यासी औरत की चुत चुदाई की… आप लोगों को मेरी कहानी पसन्द आई, मजा आया या नहीं… मुझे मेल करके जरूर बताना![emailprotected]मैं आपके मेल की प्रतीक्षा करूँगा और अगली कहानी में बताऊंगा कि जयपुर जाकर मैंने फिर अंजलि और पारुल की कैसे चूत और गांड चुदाई की.

दोस्तों के नाम पर केवल एक लड़का और मेरे घर में मेरे माता पिता के अलावा चाचा चाची की दो बच्चों की फैमिली भी थी. तो उस लड़की को मैं ना बुलाऊं ना?यह सुन कर उसका मुँह देखने लायक बन गया, वो बोला- जब तक शादी नहीं हो जाती, तब तक तो मुझे जो चाहूं करने दो ना. मैंने रूम को अन्दर से लॉक किया, फिर सबके सामने जाकर अपनी पेंट की ज़िप खोलकर लंड को आजाद कर दिया.

अम्मी के इस तरह से करने में मेरी हालत तो जल बिन मछली जैसे हो गयी, ऐसा लगने लगा कि आज तक इतना मज़ा तो अब्बू ने भी नहीं दिया… और अभी तो अम्मी सिर्फ किस कर रही हैं तो ये हाल है कि मेरी चड्डी चूतके पानी से पूरी भीग गयी थी, बिना चूतको छुए इतनी बेचैन चूत पहले कभी नहीं हुई थी. ऐसा कहते हुए उसने अपनी ब्रा मेरी चड्डी में घुसा दी, जो लंड को ढक रही थी. मैं लौड़ा पूरा चूत के बाहर निकलता और फिर धीरे से जड़ तक बुर के अंदर घुसेड़ देता.

लड़की का हॉट फोटो

मेरी चुत इस पोजीशन में और भी ज़्यादा खिल रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था. आपकी भेजी हुई मेल्स मुझे बताएंगी कि आपको मेरी लिखी हुई रियल सेक्स स्टोरी कैसी लगी. हाय भाभी…!”ओ हीरो मेरा, नाम कोमल है… मैं मॉडर्न हूँ… पुराने दकियानूसी ख्यालों की नहीं हूँ.

फिर 15 मिनट तक उनकी चूत को चोदते हुए उनकी चूत को अपने वीर्य से भर कर उनके ऊपर ही लेट गया.

विवेक ने कामिनी को गोद में उठा लिया और बोला- मेरी जान, तुम इतनी सुन्दर हो न कि बस बांहों में आती हो तो बसमजा आ जाता है.

उफ्फ… मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था तो मैंने सोचा क्यों न एक बार चाची को भी चोद भी लिया जाए. मैंने कहा- मैं ही मिला हूँ आपको बकरा बनाने को? मैं भी दिल्ली में 10 साल रहा हूँ, सब जानता हूँ… प्लीज मुझे इस तरह से उल्लू मत बनाइये. थ्री एक्स सेक्सी मराठीवो यहाँ पुणे में जॉब के कारण अपनी किसी सहेली के साथ एक कमरा लेकर रहती थी.

मैं शर्मा कर नीचे देखने लगी और बोली- नहीं मैं इतनी भी खूबसूरत नहीं हूँ. मैं आप सभी की पसंदीदा वेबसाईट के लिए बहुत सारी सच्ची चुदाई की कहानी भेजना चाहता हूँ. तभी जीजा बोले- साली कुतिया रंडी, चिल्ला मत मोहल्ले को इकट्ठा करेगी क्या? पूरा मोहल्ला आ जाएगा फिर मुझे कोई कुछ नहीं बोलेगा समझी, सब तेरी चूत को ही चोदेंगे ये समझ ले तू! वन्द्या चुप रह 2 मिनट, बस घुसने ही वाला है, थोड़ा दर्द होता है, उसके बाद तो जन्नत का मज़ा है.

वो उससे गले लग कर मिला और दोनों ने जी भर के किसिंग की, बिना सोचे कि मैं भी वहाँ पर हूँ. फिर मैंने आंटी के गले पर किस करना चालू किया और जोर जोर से उनके मम्मे दबाने लगा.

मैंने कहा- यार पंकज, मुझे आए हुए तीन दिन हो गए, पर कहीं घूमने नहीं गया घर पर अब बहुत बोरियत हो रही है.

मेरा नाम राहुल कुमार है, उम्र 23 साल है, वैसे तो मैं थोड़ा पतला दुबला हूँ पर लंबाई अभिषेक बच्चन जैसी है. शायद मधु ने आज ही झाँटें साफ की थीं।मैं उंगली से चूत के दाने को रगड़ने लगा। मधु को मानो करन्ट लग गया हो. एक गली में मुझे एक बोर्ड दिखाई दिया, उस पर लिखा था कि रूम भाड़े से देना है और नीचे कॉन्टैक्ट नंबर दिया हुआ था.

मधु शर्मा सेक्स मैंने उनसे कहा- चाची अब जरा डॉगी स्टाइल में आ जाओ… मुझे पीछे से आपकी गांड मारनी है. काफी देर तक मेरे दोनों निप्पलों को चूसने के बाद विनय ने निप्पल चूसते हुए ही मेरी जींस के बटन को खोल दिया और निकलने लगा.

मैं देख रहा था कि मेरी साली को अभी ठीक से किस करने का अनुभव नहीं था, पर वो लड़का बड़े ही जोश से मेरी साली के होंठ चूस रहा था. सोनी ने कहा- नवीन इधर मम्मी और भाई दोनों हैं, हम आज सब कुछ नहीं कर सकते. मैंने मन बना लिया था कि निशा भाभी आखिर मुझे प्यार करती है और मुझे भी उसको खुश रखने की जिम्मेदारी निभानी चाहिए.

वेट चार्ट

इसी बीच वो झड़ गई, उसने निढाल से स्वर में बोला- राजेश यार मेरा तो काम हो गया. माफ़ी चाहता हूँ दोस्तो, मैं अपनी भावनाओं के आगे उस लड़की के बारे में बताना ही भूल गया. थोड़ी देर में तुम्हारी चूत दोनों हैम्स की अभ्यस्त हो जाएगी और आराम से उन्हें अडॉप्ट कर लेगी!तुम ठीक कह रहे हो जानू… लेकिन मैं उठक-बैठक करने की हालत में नहीं हूँ! मैं कोई पहलवान तो हूँ नहीं… मैं तो तुम्हारी नाजुक बदन पत्नी हूँ!!ठीक है… रुको!” मैं बोला और मैंने नताशा के पीछे से उसके कन्धों को पकड़ लिया.

मैंने झट से कपड़े पहने और घर से बाहर ये कहते हुए निकल गया- फ़ोन पे बात करूँगा. अंदर जाते ही मैंने उसे दबोच लिया और उसके पूरे शरीर पर किस करने लग गया.

मैंने अलमारी से कंडोम निकाला और चाची से कहा- एक बार लंड चूस कर इसको उस पर लगा दो.

वो थोड़ी देर खामोश रहीं, फिर बोलीं- क्या बोल रहे हो… तुम्हारा दिमाग ठिकाने पे तो है?मैं- सुबह से बिल्कुल भी ठिकाने पर नहीं है. इस तरह से जब पूरी रात बिता दी तो बोला- अब आखरी बार ज़रा दोनों मिल कर मुझे एक और मज़े दो. अब पारुल और मैं बिस्तर पर आ गए, मैंने अपनी शर्ट और पैंट निकाल दी, बस अपनी फ्रेंची ही पहनी थी, अब मैंने पारुल की शर्ट भी निकाल दी.

एक दिन मैंने उनसे बात करने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मुझे कोई भाव नहीं दिया. मेरा लंड पूरा गीला हो गया था और सर्र सर्र अन्दर जा रहा था, मेरी सांसें धौंकनी की तरह चल रही थीं. पहला रस गिरने के ठीक 9 महीने के बाद उनको लड़का भी हुआ, जो निश्चित ही मेरा था.

और तभी भाभी मेरे लंड को कस कर पकड़ कर चाटने लगी, मैं समझ गया कि भाभी झड़ने वाली हैं और मैंने उनकी चुत को चाटने का काम जारी रखा और भाभी मेरे मुख में ही झड़ गयी.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी: उसने आते ही आफिस का गेट अन्दर से बन्द कर दिया और लिप किस के बाद मेरा लंड चूसने लगी. मैंने फोन से खाना ऑर्डर किया और अपनी मल्लिका को गोद में उठा कर बाथरूम में ले गया.

उसमें वो सिड्यूसिंग वाला सीन आ रहा था तो अचानक मैं चाची की ओर देखने लगा. मैंने उसे काफी देर तक चूमा और खूब मसला फिर उसको लेटा कर उसकी कुर्ती को ऊपर की तो देखा कि उसने ब्रा पहनी ही नहीं थी, उसके मम्में टीनएज गर्ल जैसे ही थे कटोरी जैसे, पहले तो उसके मम्मे अपने दोनों हाथों में लाकर खूब सहलाए और मसले, क्या मस्त मम्मे थे उसके. हम दोनों पूरी मस्ती में आ गए थे और एक दूसरे के गालों पर लगी क्रीम को चाटते हुए एक दूसरे को प्यार करने लगे.

वहाँ मुझे दो लड़कियां अन्दर ले कर गईं और उन्होंने कहा कि ऊपर का हिस्सा वो साफ़ कर देंगी और लेग्स की लिए कोई और लड़का करेगा.

इसके बाद मैंने उसके निप्पल को काटना चालू किया, वो इस प्यार भरे दर्द को बड़े मज़े ले कर सह रही थी. मैंने उनकी साड़ी निकाल दी, वो मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में रह गई थीं. पर उससे पहले उसने मुझसे पूछा- फ्रिज में खाने को क्या रखा है?फ्रिज में आइसक्रीम थी, मैं जाकर ले आई.