हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,व्हिडिओ सेक्सी क्लीप

तस्वीर का शीर्षक ,

దేశి బిఎఫ్ సెక్స్: हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ, वो गलियाँ दे रही थी- साला, बहनचोद, चूतिया… फाड़ इसको, खोल दे इसको!यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर उसने मुझे कस के अपनी कमर पकड़ने को कहा.

बिना कपड़ों की फोटो

और एक शादीशुदा स्त्री थी जो घूंघट में थी। वो पता नहीं बेटी थी या उनकी बहू थी। क्योंकि हम अन्जान थे उस गांव में तो हमने उनसे उनके परिवार के बारे में ज्यादा सवाल भी नहीं किए।खैर. प्रीति सेक्सदेसी भाभी की चूत की चुदाई का मजा लिया-1आपने अब तक की इस रंगीन और मस्त चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि पड़ोस की रेहाना भाभी जिनका निकनेम सोनू भाभी था, वे मुझसे पट चुकी थीं और मैंने उनके मम्मों को भी सहला लिया था।अब आगे.

मैंने भी स्माइल देते हुए कहा- घर पर बोर ही होता हूँ, यहाँ मेरा अच्छा टाइम पास हो जाता है. सेक्सी पिक्चर नंगी पिक्चर सेक्सी पिक्चरमैंने नीचे नजरें करके बैठ गया, हिम्मत नहीं हुई कि उनकी तरफ देखूं!तब वो बोली- क्या अभी तो कह रहा था मुझसे क्या शर्माना… और खुद ही नीचे नजरें करके बैठा है… देख ले मुझे… उन किताबों की लड़कियों से अच्छी नहीं हूँ क्या?मैंने आंटी की तरफ देखा.

लड़की दोनों हाथों से अपने मम्मे छुपाने की चेष्टा करती है लेकिन वो उसे रोक नहीं पाती और वो आदमी उसकी चूचियाँ चूसने लगता है.हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ: मैंने सारा किस्सा उसके मुँह से सुना, उसको बताया कि मैं तुम्हारे इस तजुर्बे पे एक कहानी लिख कर नेट पे डालूँगा.

तब तक पीछे से मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दी, वो कसमसाने लगी।मैंने कहा- बहुत रंगरलियाँ मनाई तुमने! अब रोज ऐसे ही चुदाई होगी!मुदस्सर के चेहरे की रौनक वापस आ गई थी।मैंने अपनी बीवी से कहा- अमिता कुतिया की तरह झुक जा!तो वो झुक गई तो मैंने मुदस्सर से उसको चोदने के लिए कहा तो मुदस्सर ने अपना लंड झट से उसकी चूत में डाल दिया।‘आएईई… मुदस्सर बहुत दर्द हो रहा है धीरे धीरे.अगले दिन फीस भरने का आख़िरी दिन था, मैंने 1 लाख 30 हज़ार फीस भर दी और बाक़ी पैसे अपने अकाउंट में डलवा दिए.

लोग सेक्स क्यों करते हैं - हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ

रजनी उस रात हमारे घर पे ही रुकी थी, मैं जैसे ही ऑफिस से वापिस आया तो मेरी पत्नी ने उनके बीच हुई सारी बातचीत जो मैंने बताई है, ये बता दी.मैंने कहा- मगर वो तो मुझसे भी बहुत बड़ी है, मैं तो अभी 21 का हूँ, और ये तो 40 के आस पास होगी.

तो मैंने बगल में लेटे लड़के का भी चुम्बन ले लिया। सुकांत फ्रेश होने जा रहा था, चलते-चलते बोला- इसे मैं आपके कमरे पर लाऊँगा।मैं भी उठा. हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ शनिवार को वो मिलने आ गई, मैं उसे अपने घर ले आया और वहां मैंने उसे मेघा की एक बहुत सेक्सी ड्रेस दे दी, निकर और कमीज…उसने बोला- मुझे शर्म आ रही है!मैंने कहा- मुझसे कैसी शर्म? मैंने तो तुमको नंगी करके चोदा है, अब कैसी शर्म!तो उसने कहा- बाकी लोग देखेंगे!मैंने कहा- मेघा भी तो पहनती है!तो वो मान गई वो मेरे सामने ही नंगी होकर कपड़े चेंज करने लगी.

अब क्या था अजय की आँख तो क्या झांट तक खुल गई… उसने रूबी को नीचे पटका और चढ़ गया उसके ऊपर और होने लगी पेलम पेल… दोनों फ्रेश थे… हनीमून का खुमार था… काम निबटा कर दोनों उठे, फ्रेश होकर गाउन पहन कर दोनों पूल साइड पड़ी चेयर्स पर बैठ गए.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ?

उसकी चूत पे बाल भी थे, मुझे अपनुई बहन की चूत बहुत अच्छी लगी तो मैं चाटने लगा. थोड़ा थूक अपनी चुत पे मला और फिर से केला अन्दर करने लगीं।करीब 5 मिनट तक ये सिलसिला चलता रहा और फिर वो झड़ गईं और उन्होंने वो केला चुत से निकाल कर खा लिया।मैं जल्दी से वापस लौट आया और फिर से कुछ ना जानने का नाटक करते हुए उनके घर में आ गया।वो कुछ देर में आईं और मैंने देखा कि वो थोड़ी हाँफ़ रही थीं। मैंने बाज़ार का काम पूछा. काका चुत चाटने में माहिर खिलाड़ी थे। एक मिनट भी नहीं लगा और राधा का बाँध टूट गया, उसकी चुत का सारा रस काका चाट गए। अंत में थोड़ा सा रस जीभ पर लेकर वो मोना को देखने लगे। मोना भी तुरंत समझ गई और फ़ौरन वो काका के पास आई और उनकी जीभ को चूस कर सारा रस गटक गई।काका- क्यों मोना रानी.

निष्ठा हंस कर बोली- खाना बना दीजिये…कुशल बोला- मेरा बनाया हुआ आप खा नहीं पाएंगी, चलिए डिनर बाहर करते हैं. आओ आज तुम और मैं मिलकर दोनों की आग बुझा लेते हैं।इतना सुनते ही मैंने उसके चुचों पर हाथ रख दिया. ‘अंकल जी सब सोचा है मैंने और रानी भाभी ने… शाम को उसके पति और ससुर छह बजे दूकान चले जायेंगे.

आपका लंड मोटा है।फिर मैंने भाभी के होंठों पर किस किया और धीरे-धीरे धक्के लगा कर पूरा लंड चूत में डाल दिया। एक-दो पल रुकने के बाद मैं धक्के मारने लगा।सोनू भाभी के मुँह से तेज ‘आ आह. मैं तो अपनी रानी की गांड मारने में लगा ही हुआ था जबकि राजू ने फिर से पतली बेल्ट उठा कर नताशा की गर्दन और अपना लंड उसके सिरों के गिर्द लपेट कर झटकेदार मुखमैथुन शुरू कर दिया. जिसके बारे में बताने जा रहा हूँ।उसका ऑफिस वहीं पास में पाटनकर बाजार में ही था। उन्होंने ऑफिस खोला.

शायद मैडम को हल्का सा दर्द हुआ, मगर फिर भी उसने आनन्द भारी सिसकारी ली- इस्स… आह और डालो!मैंने और थोड़ा सा ज़ोर लगाया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया. उसने अपने दूसरे हाथ से मेरी पैंटी को मेरी जांघों तक नीचे कर दिया।मैं किसी लाश की तरह पड़ी हुई थी.

खूब मसलने लगे।मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, मेरे पूरे बदन में आग बढ़ चुकी थी। मेरे पति मेरे मुँह के ऊपर दोनों तरफ टाँग करके अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने झट से इनका लंड मुँह में भरा और जोर-जोर से चूसने लगी, लंड खूब चूसा.

वो मेरा साथ देने लगी।फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार फेंका और ब्रा भी उतार दी। फिर उसको बिस्तर पर लिटा के उसके चूचे चूसने लगा।सच में क्या रसीले चूचे थे.

तभी मैंने उसके कपड़े पड़े हुए देखे, उसमें एक मिक्की माउस वाली पेन्टी और पिंक कलर की ब्रा थी. उन्हीं मेल में एक मेल एक जयपुर की भाभी का था, उस भाभी को कैसे चोदा, यह कहानी उसी के बारे में है. तो वे मेरे चूतड़ पर हाथ मार कर बोले- वाह क्या मस्त कूल्हे हैं।फिर साहब कुछ देर तक मेरे चूतड़ सहलाते रहे।मैंने सोचा ‘साहब ने रात भर चुदाई की है, अब क्या मेरी गांड भी मारना चाहते हैं।’साहब लगभग अड़तीस-चालीस के रहे होंगे.

मैं अंदर ही अंदर बहुत खुश हुआ, मैं बोला- ठीक है, मैं मेरे रूम से नाइट ड्रेस पहन कर आता हूँ. मेरी टांगों के बीच बैठकर मेरी चूत में अपना लंड सैट किया, और कहने लगा- कविता, तुम्हें शायद दर्द हो सकता है, तुम तैयार हो ना. पर अब लंड अन्दर था सो मैंने तेज धक्का दे दिया।मेरा पूरा लंड अन्दर हो गया।वह चिल्लाया- बस बस.

रगड़ दे साली गांड को ढीली करके फेंक दे, लंड के लिए बहुत मचलती है।वह बोला- यह भी नहीं कर सकता, अगर तू खुद तैयार न होता तो तेरी गांड में लंड पेलना मुश्किल है। जब तू गांड सिकोड़ता है तो लगता है लंड कट जाएगा। बहुत ताकत है.

बात एक साल पुरानी है, मैं तब 18 साल का था और मेरी बहन सोनिया 20 साल की थी।मेरे पिता जी नहीं हैं, जब मैं छोटा था तभी उनकी मृत्यु हो गई थी। मेरी माँ का नाम रजनी है और वो 47 साल की हैं।मेरी माँ हर रोज की तरह काम पर गई हुई थीं. मेरा नाम सबा है, मैं उत्तर प्रदेश की रहने वाली हूं, मेरी उम्र 24 साल है, मेरी शादी हो चुकी है. मेरी ही चुत मारने के चक्कर में है।सुमन- अरे मैंने तो ऐसे ही कह दिया.

मैं करीब 10 बजे तक आऊँगा।रात में 10:30 तक मैं घर पहुँचा, मैं सीधे दूसरे माले पर चला गया। मैंने एक घंटे तक टीवी देखा फिर मैं बिस्तर पर लेट गया।रात 12 बजे से मेरे भटिंडा के दोस्तो के बर्थडे गुड विश मैसेज आने लगे।फिर देखा तो भाभी का भी मैसेज आया, मैसेज में लिखा था, ‘जल्दी से नीचे आ जाओ. वो मैं भी चाहता हूँ, पर तुम्हारे पति के बारे में सोच कर मैं ये सब करना सही नहीं समझता हूँ।भाभी ने कहा- मैं भी उस बारे में सोच कर रुक जाती हूँ. 2 मिनट बाद दर्द कुछ कम हुआ, सचिन बहुत ही धीरे से अपना लंड वापिस निकालने लगे, मैं लंड की तरफ देख रही थी और जैसा सोचा था वही दिखाई पड़ा… लंड खून से लाल हो चुका था.

मैं उनकी भी शिकायत प्रिन्सिपल से कर देती थी, इसलिए मेरी कोई सहेली नहीं बनती थी। बस एक ही लड़की थी जो शुरू से 12 वीं तक मेरी बेस्ट फ्रेंड रही और अब वो भी मुझसे दूर हो गई। उसका एड्मिशन हमारे कॉलेज में 12 वीं में नो काम आने से नहीं हो पाया।टीना- अच्छा कौन थी वो.

कुछ ही क्षणों बाद माला भी मेरे पीछे बैडरूम में आ कर मेरे पैरों को पकड़ लिया तथा मेरे लोअर के ऊपर से ही मेरे लिंग को चूमने लगी. मैंने उसके होंठों पर किस किया तो उसने मुझसे कहा- मुझे वो वाली वीडियो देखनी है।मैंने कहा- कौन सी? किसिंग वाली.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ मेरे पापा को यहाँ रहना ज्यादा पसंद नहीं है, वो अपने फार्म हाउस, जो शिमला के पास है, में रहना पसंद करते है और इसलिए बीच-बीच में वहाँ जाते रहते हैं।हमारी कोठी के पीछे के हिस्से में नौकरों के रहने का छोटा घर है जिसमें मेरे ऑफिस का चौकीदार बाबू सिंह और उसकी पत्नी रानी रहते हैं। रानी हमारे घर में साफ-सफाई और खाना बनाने का काम करती है. गांड में तो लंड पेलते ही पूरे शरीर को ही दबा देते।फिर थोड़ी देर रुके उन्होंने कुछ तलाशा, वे मेरी चुदाई अलमारी के सामने ही फर्श पर कर रहे थे। उन्होंने अलमारी के निचले खन्ड में रखा कम्बल रोल निकाला.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ अब मेरा लंड भी इतना खड़ा हो गया था कि जैसे भूखे को खाना दिख रहा हो। इतने में आंटी की चुत दिखाई दी और वो देखकर मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया। मेरे लंड का सारा माल उधर ही गिर गया। उतने में आंटी ने नल बंद किया और मैं जल्दी से वहाँ से निकल कर हॉल में आकर बैठ गया।थोड़ी देर बाद आंटी हॉल में आईं और कहने लगीं- क्या हुआ, इतना पसीना क्यों आ रहा है?मैंने कहा- वो किचन में था ना. ’उसके दर्द को देखकर मैंने लंड को बाहर निकालना चाहा तो उसने टांगों से मेरी कमर पकड़ ली और धक्का देने लगी। मैंने भी बदले में झटके मारने शुरू किए।‘आह उफ़ आह फाड़ दो जानू आज बना लो अपना मुझे.

पर आपसे एक आग्रह है कि आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं एक सेक्स स्टोरी की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

বৌদির সেক্সি ভিডিও

आज संजय का इरादा कुछ और था। वो चुत चाट कर पूजा का पानी नहीं निकालने वाला था। जब पूजा की चुत रिसने लगी. ’ से भर गया।अब मैंने उनकी टांगें उठाईं, अपनी गांड के बल बैठा और उनकी गांड के छेद पर लंड टिका दिया। चुत में उंगली डालते ही मैंने गांड में भी लंड घुसा दिया। वो लंड घुसते ही चिल्ला उठीं. उसके शरीर की तपन मुझमें गजब की मस्ती भरने लगी और मैंने उसकी गर्दन के पिछले भाग पर अपने होंठ जमा दिए और वहाँ चूमने लगा.

इतने में दरवाजा खुलने की आवाज़ आई तो मैंने देखा बिमलेश ने गुलाबी रंग की नाइटी पहनी हुई थी और बाल खुले हुए थे। मुझे तो इस समय बिमलेश बिल्कुल कामदेवी लग रही थी।मैंने टीवी चला रखा था. और मुझे बेहद तेज-तेज झटके मार रहा था।कुछ देर बाद हम दोनों बिस्तर से नीचे आकर खड़े हो गए और उसने मेरा हाथ ऊपर करके एक रॉड पर बॉध कर मेरी एक टांग उठा कर अपने कंधे पर रख ली। अब मेरी फुद्दी बिल्कुल सीधी खुली हुई थी। उसने एक ही झटके में अपना लंड मेरी फुद्दी में पेल दिया।इस पोजिशन में मुझे चुदवाना बहुत अच्छा लगा क्योंकि इसमें उसका पूरा लंड मेरी फुद्दी में काफी अन्दर तक जा रहा था. इन दो रातों में रयान और निष्ठा ने अपना चुदाई का कोटा पूरा कर ही लिया.

‘हाँ… रोहिणी तुम्हारी बहुत तारीफ कर रही थी और फिर मीटिंग रूम में तुम्हें देखने के बाद और जो तुमने मेरे साथ किया, बस मुझे तुम्हें पास से देखने की इच्छा हुई तो मैंने तुम्हें बुला लिया.

मुँह हाथ सब अच्छे से साफ किया। इधर टीना उसको देखकर बस हँसे जा रही थी।सुमन- छी दीदी, ये क्या हो गया. अन्तर्वासना हिन्दी सेक्स स्टोरीज के प्रिय पाठकों, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर सुंदर भाषा में सभ्य कमेंट्स करें. यह हिंदी सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!सुनीता ने एक बार अपनी जवानी का प्याला मेरे मुंह में पिला दिया था तो अब वो अपनी चूत में लंड लेना चाहती थी.

‘आआऐईईई… फट गईइई मेरी… आआईईईई प्लीज़ मैं तेरी माँ हूँ… आआऐईई’ माँ चिल्ला रही थी. वो दोबारा मोना के पास आया और उसके मम्मों को दबाने लगा।राजू- मुझे आपके ये खरबूजे भी पसन्द हैं और ये गर्दन और पीछे आपकी भरी हुई गांड और. ‘समीर… आआआ ससस मेरी चुत का हलवा बना दिया तुमने!’हमारा पानी साथ निकल गया, हम 69 में आकर एक दूसरे का पानी चाट गए, बहुत मजा आया.

एक दिन उसका रात को 1-30 बजे मैसेज आया, मैं अपनी गर्लफ्रेंड से चैट कर रहा था. कोई लड़की जब इस तरह अपने दोनों हाथों से अपनी चूत खोल के सामने लेटती है तो वो सीन गजब का सेक्सी लगता है.

इतनी देर में हम दोनों स्खलित हो जाते पर हम दोनों का यह दूसरा राऊंड था इसलिए स्खलन नहीं हो रहा था. वो ज़्यादा तड़पती नहीं थी, न ही ज़्यादा शोर मचाती थी, बस थोड़ा सा खुद नीचे से अपनी कमर उचकाती और एक हुंकार सी भर के अकड़ जाती थी. वरना दुकान वाले बाबा आवाज देने लगेंगे।मैंने थोड़ी तेज चुदाई शुरू की।वह बोला- सर आपका बहुत बड़ा है मस्त है।मैंने कहा- लग तो नहीं रही?वह बोला- आप धीरे कर रहे हो थोड़ी थोड़ी लग रही है.

चूचुक के मुंह में आते ही मैंने उसका दूध पीने लगा और वह अपने हाथ को मेरे सिर के बालों में फेरने लगी तथा थोड़ी थोड़ी देर के बाद मेरा माथा भी चूम लेती.

काफी देर तक अपना मूसल लंड चुसाने के बाद राजू संग हम नताशा के चूतड़ों के पीछे पहुँच गए और कुतिया बन कर घुटनों के बल लेटी नताशा की पीछे को उभरी चूत में मैंने अपना लंड ठेल दिया. भाभी का पति घर से 2 दिनों के लिए बाहर गया था।मैं अपने फ्लैट के बाहर आया तो भाभी ने मुझे देखा और मुझसे कहा- आज आपका खाना मैं बना देती हूँ।मैंने कहा- नहीं भाभी प्लीज़ आप परेशान न हो. मगर आप कोई हरकत ना करना, और उसका क्या हुआ वो किसी को कुछ बता ना दे?काका- मैंने उसका बंदोबस्त कर दिया.

मैं कहाँ शुरू हुई? यही मुझे चुभ रहा था, जिससे मेरी आँख खुल गई, फिर मैंने सोचा इसको भी गुड मॉर्निंग बोल दूँ।संजय- हा हा हा… ये सुबह ऐसे ही अकड़ता है। इसको जाने दे और तू नीचे चली जा. मेरी पहली कहानीट्रेन में मिली भाभी को घर पर चोदाऔर दूसरीट्रेन में मिली भाभी की बेटी को चोदादोनों कहानियों को आपने बहुत प्यार दिया और बहुत सारे मेल आये.

वैसे तो हम दोनों को फोरप्ले और सेक्स करते अब तक बहुर देर हो चुकी थी, मानसी का शरीर अब अकड़ने लगा था और उसके धक्के भी तेज़ हो गए थे. आंटी- मुझसे मिल के तुम्हें क्या मिलेगा, मिलना है तो किसी लड़की से मिलो!मैं- नहीं, मुझे लड़की नहीं, आप अच्छी लगती हो!आंटी- मुझमें क्या अच्छा लगता है?मैंने आंटी की क्लीवेज की तरफ इशारा करते हुए कहा- ये अच्छा लगता है. मेरे बूब्स देख कर शायद उन्हें भी अब कुछ कुछ होने लगा था, वो अब सेक्सी बात भी करने लगे थे, मैं भी पूरे मजे ले रही थी, मैं तो चाहती ही थी उन्हें अपने जवानी दिखाना!बातों ही बातों में जीजू ने मुझ से कहा- रोमा, क्या तुम्हें शादी नहीं करनी? सुहागरात नहीं मनानी?मैंने उन्हें हँसते हुए कहा- मुझे शादी ही नहीं करनी जीजू!तभी उन्होंने कहा- तो क्या सिर्फ़ सुहागरात मनाओगी?तो मैं हँसने लगी.

বাঙালি বৌদি চুদাই

मैंने उसका सर पकड़ रखा था और उसके मुँह का रसपान करने के साथ साथ उसकी चूत को दबा के रगड़ रहा था। फिर जब उसके आँसू निकल आए तो मैं होश में आया और उसे छोड़ दिया।फिर उसका ब्लाउज निकाल दिया, वो बुरी तरह से हाँफ रही थी। फिर उसने थोड़ी देर रुकने को कहा, मैं उसके ऊपर से उतर गया और उसके खुले मम्मों को पकड़ कर सहलाने लगा।वो मेरी तरफ देख कर बोली- मुझे ऐसी चुदाई की आदत नहीं है.

ये सोच कर वो अन्दर जाकर सो गई।दोस्तो, टीना को शाम को संजय ने एक बुक दे दी थी, उसके हिसाब से टीना को आगे का खेल खेलना था, जिसकी शुरूआत उसने कर दी।वो सीधी रात को सुमन के घर चली गई।सॉरी आपको में बताना भूल गई अब इत्तफाक कहो या कहानी की जरूरत, टीना की मॉम को घर शिफ्ट करना पड़ा और उनका नया घर सुमन के घर से बस कुछ ही दूरी पे था।टीना- नमस्ते आंटी जी. तभी एक पीछे से मेरी चूत को चाटने लगा और दूसरा मेरे बूब्स को पीने लगा. जिसके कारण उनका ऊपर का हिस्सा पूरी तरह से नंगा हो गया था।उन्होंने अपने हाथों से अपने मम्मों को छुपाने की कोशिश की.

दर्द हो रहा है।उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया था।मैंने उसकी चुत को दो उंगली से चोदना स्टार्ट किया। तान्या अपने एक हाथ को मेरे शॉर्ट्स में डाल कर मेरे लंड को पकड़ कर आगे-पीछे करने लगी। इस तरह फिंगरिंग करवाते हुए वो झड़ गई।फिर वो मुझे नीचे करके मेरे ऊपर चढ़ गई. जैसे ही मैंने बूब्स को हाथ में लेकर दबाया तो शायद मामी की आंख खुल गई और उन्होंने मेरे हाथ को झटका देकर अलग कर दिया. नंगा आदमीबहुत मनाने के बाद बुआ मानीं। मैंने उनको बाँहों में ले लिया और उनको लिटाकर उनके सर पर किस किया और होंठ नीचे तक लाते-लाते उनके चेहरे के हर भाग पर किस किया। उनके होंठ पर किस करने लगा.

मैं जल्दी से अपने पति को देखने उठी कि वो भी जग रहे है या नहीं…वो जग रहे थे. इन सब आवाज़ों और दनादन होती चुदाई ने पूरा माहौल बहुत कामुक बना दिया था.

उस दिन के बाद कुछ किया या नहीं?सुमन- नहीं दीदी मौका ही नहीं मिला। अब अकेले करने का मन नहीं करता।टीना- ओये होये. बस नॉर्मल सा घर था। गायत्री के कहने पर सुमन सामने के कमरे में चली गई।टीना- अरे आओ मेरी प्यारी गुड़िया. करीब 20 मिनट तक हमारी चुदाई चलती रही, फिर हम एक साथ झड़ गये और मैं मैडम के ऊपर ही कुछ देर ऐसे ही पड़ा रहा, मेरा लंड अभी भी मैडम की चूत में ही था और धीरे धीरे सुकड़ कर छोटा हो रहा था.

’मैं भाभी को दे दनादन चोद रहा था और भाभी भी नीचे से गांड उठा कर मेरे लंड से युद्ध कर रही थीं. ये तो उसका लंड ही जैक हैमर है तो वो बेचारा क्या करे!!! कोई बात नहीं राजू. क्या बात है तू इत्ती सी तो है और कॉलेज भी आ गई, वैसे तेरी एज क्या है?टीना- अबे चुप साले.

‘आह उम्म्ह… अहह… याह… अह हहा हहह!’यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं झुक कर उसके चुची को चूसने लगा.

उसने अभी तक वही साड़ी पहनी हुई थी।वो मस्ती में अआ ईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउऊ जैसी कामुक आवाजें निकाल रही थी।अब मैंने उसकी साड़ी को उसके बदन से अलग क़र दिया. दोस्तो, यहाँ अब हमारे मतलब का कुछ नहीं, तो चलो वापस मोना के पास वहाँ शायद कुछ मिल जाए।गोपाल जब वापस आया तो मोना ने अपना मूड बदल लिया था और उसको सॉरी भी कहा। बस फिर क्या था दोनों ने जल्दी से पैकिंग की और गाँव के लिए निकल गए।दोस्तो, मैं आपको बता दूँ गोपाल के घर में उसके माँ-बाप के अलावा एक चाचा और चाची हैं, जिनकी कोई औलाद नहीं है और गोपाल भी इकलौता ही है.

वो निष्ठा के अकेलेपन का कोई फायदा नहीं उठाना चाहता था, उसने एक घूँट में कॉफ़ी ख़त्म की और तेज चलकर बाहर निकल गया. बारिश के मौसम ने हम दोनों के बदनों में कामुकता भर दी और हमारे बदन आपस में खेलने लगे. मुझे भी बड़ी हैरानी हो रही थी, मैं तो समझता था कि मेरा लंड साधारण सा है, मगर गीता ने बताया- मैंने एक नहीं बहुत से लंड लिए हैं, मगर इतना लंबा, मोटा और बड़ा लंड आज तक नहीं देखा.

पूल में आते ही अजय ने रूबी को चिपटा लिया और विवेक ने साराह को… पूल छोटा सा था, पर सेक्स और रोमांच के लिए बहुत था. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मैं आपको अपनी प्रथम चुदाई की कहानी बता रहा हूँ। यह मेरी गर्लफ्रेंड की गुलाबी चुत की पहली बात चुदाई की हिंदी कहानी है।सभी अपने मन को शांत कर लें क्योंकि अब सब का लंड उत्तेजित होने वाला है।यह बात है आज से 2 साल पहले की, जब मैं 12वीं में पढ़ता था। मैं बहुत ही जोशीला हूँ. करीब आधे घंटे बाद मैंने एक जोरदार झटका दिया और पूरी चुत को अपने वीर्य से लबालब भर दिया.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ आंटी ने भी टाँगों से मेरी निक्कर निकाल कर अपनी टांग से मेरे लंड को सहलाने लगी. कुशल ने पीछे से उसे बताया कि अभी ऋषिका का फोन आया था, कह रही थी कि निष्ठा का ख्याल रखना…निष्ठा कॉफ़ी लेकर ड्राइंग रूम में आ गई, दोनों सोफे पर बैठ कर कॉफ़ी पीने लगे.

ब्लू वीडियो में सेक्सी

चारों ओर अँधेरा था… पर बराबर वाली विला में भी शायद पूल में एक जोड़ा था जिसकी हल्की हल्की आवाज उन्हें आ रही थी और वो भी शायद रतिक्रिया में मशगूल था. उस दिन उसने जींस पेंट और टी- शर्ट पहनी हुई थी। क्या मस्त लग रही थी. वो भी अपने पति को फुल मज़ा देगी।अपनी बहू की बात सुनकर काका मुस्कुराने लगे और मोना को अपनी बांहों में भर लिया।मोना की अन्तर्वासना अब दोबारा जाग गई थी, वो लंड को अब मुँह में लेकर चूसने लगी थी। उधर काका भी अब गर्म हो गए थे- आह.

कैसी चुदक्कड़ रांड है मेरी माँ… यहाँ मुझे एक भी लंड नहीं मिल रहा था और ये रंडी ना जाने कितने लंडों से चुदवा रही थी… मेरे ही हक़ पर डाका डाल दिया मेरी रंडी माँ ने!यश के झटके और स्पीड तेज हो गये, मम्मी चिल्लाने लगी- यश फाड़ दे आज मेरी चूत को… आह मेरे राजा… और चोद… निचोड़ दे मुझे. [emailprotected]आगे की कहानी :दार्जीलिंग में मस्त चुदाई भरा हनीमून. सील पैक लड़की की चुदाईक्योंकि हो सकता है मुझसे कोई भूल हो जाए।मैंने झिझकते हुए कहा- लेकिन मैडम.

क्या चुत थी… एक भी बाल नहीं!मैं बड़े आराम से चुत पर अपना लंड रगड़ने लगा.

अंजलि- किशोर, मैं बच्ची नहीं हूँ, मुझे पता है कि मेरा क्या हाल होने वाला है, बस तुम रुकना नहीं… चाहे कुछ हो जाए!मेरी सबसे बड़ी समस्या थी कि मेरे पास कंडोम नहीं था. उन्होंने बहुत लंबा समूच किया और समूच करते करके मेरे बूब्स पर छुआ और फिर दबाने लगे.

वो बोला- कोई बात नहीं… मैं कौन सा अपना लंड तुझे मुंह में लेने को कह रहा हूँ. इस दौरान मेरी बीवी न जाने कितनी बार झड़ी, उस रात और मुझसे लिपट लिपट के मुझे चूम चूम के उसने अपना आभार जताया. मेरे होंठ चूसते चूसते सुल्लू रानी मेरे कानों में फुसफसाई- राजे बाबू देखो मैं जन्नत की सैर कराऊँगी तुमको!इतना कह कर रानी ने मेरे मुंह में जीभ घुसा के बहुत देर तक प्यार दिया.

अब तुम मेरे सिर के पीछे खड़े होकर मेरे मुंह में अपने बॉक्सर की भड़ास निकाल लो.

मैंने उनके पेटीकोट को जाँघों तक उठाया तो भाभी बोलीं- अरे तेरे कपड़ों को तेल लग जाएगा. वरना अब तक तो मैंने सेक्स को एंजाय ही नहीं किया।मैंने महसूस किया कि वो सेक्स की प्यासी थी और खूब खुश थी। वो बार-बार कह रही थी- अमर मुझे चोदो खूब चोदो. पहले तो मैंने सोचा कि मेरे पति होंगे… पर वो वरुण था उसके हाथ काम्प रहे थे और उसका खड़ा लंड मेरी गांड पे सटा हुआ था.

लड़कियों का बीपी वीडियोजब मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने निशा को इशारा किया और उसने जोर-जोर से चूसना शुरू कर दिया. हिसाब बराबर हो जाएगा।संजय बेड पर टेक लगा कर बैठ गया और उसने लंड सहलाते हुए पूजा से कहा- जैसे तू आइसक्रीम को चाटती और चूसती है ना.

देसी हिंदी एक्स एक्स एक्स वीडियो

यार फिटकरी से ऐसा होता है? ये तुझे किसने बताया?मीना- तू आम खा ना यार. उसने मुझे गलत तरीके से छुआ और सभी लड़कों के साथ मिलकर मेरा मजाक उड़ाया, ऐसे में तमाचा ही खायेगा ना. इधर मोना ने फिटकरी का फ़ॉर्मूला यूज किया था तो दूसरे दिन गोपाल जब ऑफिस से आया तो चुदाई के वक़्त उसको चुत टाइट लगी.

रामू काका बोले- अरे घंटे की माशूक है, साली लंड की यार है, इसके खसम से कुछ बनता नहीं है, तो मेरे पास आ जाती है. गांड में तो लंड पेलते ही पूरे शरीर को ही दबा देते।फिर थोड़ी देर रुके उन्होंने कुछ तलाशा, वे मेरी चुदाई अलमारी के सामने ही फर्श पर कर रहे थे। उन्होंने अलमारी के निचले खन्ड में रखा कम्बल रोल निकाला. हम एक दूसरे को छोड़ ही नहीं रहे थे, तभी उसने अपना हाथ मेरी टी शर्ट के अंदर किया और अपने मुलायम हाथों से मेरी कमर को सहलाते हुए मेरी टीशर्ट उतार फेंकी.

तू कब से ले रहा है इसकी?’मैंने कहा- भाई मैंने तो आज ही ली है।‘तो डर क्यों रहा है. उसके बाद उसने मुझसे अपनी गांड भी मरवाई और अपने सहेलियों की चूत भी दिलवाई!कैसी लगी आपको यह सेक्स स्टोरी? जरूर बताइयेगा मुझे![emailprotected]. अकेला होने की वजह से वो कभी छुट्टी वाले दिन नाश्ते के लिए बुला लेती थी.

कुछ देर ऐसे ही ग्राहकों को सम्भालने के बाद चिंटू और मैं दोनों बात करने लगे. मैंने फिर अपने लंड को अन्दर धकेल दिया, वो प्यारी सी सिसकारियाँ लेने लगी- आआअह्ह्ह हम्म्म उम्मम्म सिस सिसी…मैं अपने हाथों से उसकी चुची दबा रहा था और लंड से चोद रहा था.

उनके लंड का रस मेरी गांड से निकल कर दोनों जांघों में बह रहा था। वे लेटे रहे.

उस रात के बाद हम दोनों में जो आग लगी थी, वो अभी तक शांत नहीं हुई थी. सास के साथ सेक्सतो इसकी बॉडी भी अच्छी बनी हुई है।तीसरा विक्की जोशी उम्र 24 ये ठीक-ठाक सा ही है. कंचन आंटी सेक्सकपड़े ठीक किए और भाईसाहब से चलने की फिर इजाजत मांगी।वे मुस्कराए- वाह, आप दोनों ने कमाल कर दिया।मैंने कहा- भाई साहब ये मेरा नहीं सुकांत का कमाल है।वे बोले- हाँ. वो झड़ चुकी थी।मैं भी चरमचीमा पर पहुँचने वाला था इसलिए लंड को जोरों से अन्दर-बाहर कर रहा था। करीब दो मिनट के बाद मैं जोर से हाँफने के साथ चीख के साथ लंड को चुत से बाहर निकाल लिया और तभी मेरे लंड से पिचकारी फूट पड़ी। लंड का सारा माल मैंने कमला की पीठ पर बिखेर दिया। हम दोनों पसीने से तरबतर हो चुके थे.

अगले दिन फीस भरने का आख़िरी दिन था, मैंने 1 लाख 30 हज़ार फीस भर दी और बाक़ी पैसे अपने अकाउंट में डलवा दिए.

मेरा नाम अजय है और मैं कोटकपुरा, पंजाब का रहने वाला हूँ और एक कम्पनी में जॉब करता हूँ, मेरी अच्छी तन्खवाह है. क्या हाहाकारी गांड थी।यह देख कर ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया था और वो पैन्ट के बाहर आने के लिए बेताब था।मेरा लंड इतने से ही बेकाबू हो गया था। घर में घुसते ही मैंने भाभी को पकड़ कर दीवार से सटा दिया और अपने होंठ उनके होंठों से सटा दिए।भाभी भी मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगीं। मेरा एक हाथ उनके मम्मों पर आ गया और मैं मम्मों को दबाने लगा।भाभी के मम्मे बहुत टाइट थे. संजय ने पूरा रस गटक लिया और सीधा बैठ गया, उसका लंड अब आग उगलने लगा था।संजय- तू तो झड़ गई मेरी जान.

देख पहाड़ी गोरियां भी क्या मस्त फिगर वाली हैं।उसने मुझसे कहा- अमित मुझे एक तलब हो रही है. मैं प्यार से और आराम से तुम्हारी चुत की सील तोड़ दूँगा।पर मुझे मालूम था कि धीरे डालूँगा तो लंड चुत में घुसेगा नहीं. फिर मुँह में ले कर चूसने लगीं।मुझे बड़ा आनन्द आ रहा था, मैं भी बोल रहा था- रानी आज इस लौड़े को पूरा चूस लो और ज़ोर से चूस साली.

इंडियन ब्लू फिल्म हद

मेरे हॉस्टल आने के बाद मैंने ऋषि को सॉरी का मेसेज किया और सोने की कोशिश करने लगी पर टेंशन में और ऋषि की बात सुन कर नींद नहीं आ रही थी. अगले दिन भी दिन में और रात में सुल्लू रानी को मुंह, चूत और गांड में अच्छे से चोदा. साराह ने ऐसा दिखाया कि उसने कुछ देखा नहीं है और जोर से विवेक को आवाज दी.

रात को मुझे मेरी पत्नी ने साथ वाले बिस्तर पे सोने के लिए कह दिया और वे दोनों बैड पे सो गई और बैडरूम की लाइट बंद कर दी.

चौथा अजय शर्मा उम्र 23 साल दुबला-पतला सा है।पाँचवां साहिल ख़ान, इसकी उम्र 22 साल है। ये भी जिम वाला ही है और सबसे हैण्डसम भी है।इनके साथ टीना शर्मा, उम्र 22 साल छोटे-छोटे बाल, एकदम वाइट.

उसने काले रंग की वायर्ड ब्रा पहनी हुई थी जो उसके मम्मों की शेप को और अच्छा और उभार रही थी. खैर हम लोग खाना खा कर उठे।अब मैं सोने के लिए आपने रूम में आ गया था, 5 मिनट बाद ही मेरे रूम में शानवी आ गई… आए भी क्यों ना… उसकी फटी जो पड़ी थी।अब आते ही फिर से वही सब करने लगी- मुझे माफ कर दो, आगे से ये सब नहीं होगा और थेंकयू कि तुमने इसके बारे में पापा को कुछ नहीं बताया।मैंने गुस्से में आकर उसको वहीं पकड़ लिया और दीवार के सहारे लगा लिया. कामवासना सेक्सी वीडियोफिर मैं उसकी चूत पर पहुंचा एकदम सफ चिकनी चूत थी, कोई बाल नहीं था, लग रहा था कि उसने आज ही शेव किया है.

वैसे-वैसे बाकी के लोग हटते गए। अंत में मैं और वो ही रह गए। हम दोनों में काफी देर तक जुगलबंदी चली. जीना हेज़ की ट्रिपल एक्स पॉर्न मूवी डाल दीं और ‘द ट्रेन’ मूवी की गीता बसरा और इमरान हाशमी के स्मूचिंग वाले सीन्स डाल कर उसको फोन दे दिया. उसके बाद जैसे ही मैं उसके पास लेटा वह तुरंत ऊँची हो कर मेरे लिंग को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और अपने शरीर को घुमा कर अपनी योनि को मेरे मुंह पर रख दिया.

आप मुझे माफ़ कर देना और एक सपने की तरह मुझे भूल जाना!उसकी चिठ्ठी पढ़ कर मैं भावुक हो उठा. मेरे जिस्म में सनसनाहट सी दौड़ने लगी, मेरी जांघे आपस में सिमट चुकी थी, इतना वो बता पाई थी कि उसका हाथ जो अभी तक मेरे लंड के सुपारे पर चल रहा था, अब मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में लेकर अपनी चूत पर चलाने लगी.

मैंने फिर से एक थप्पड़ और मारा और बोला- गालियाँ क्या तेरी माँ बकेगी।तब शानवी खुश हो गई और फिर से गालियाँ बकने लगी- चोद मादर चोद… फाड़ दे अपनी बहन की चूत… बहुत दिनों से इसमें कोई मोटा लोड़ा नहीं गया। चोद बहन के लंड… चोद…कसम से गालियों वाली चुदाई में जो मजा है वो कहीं नहीं है, मैंने भी लंड चूत पर रख कर एक जोरदार झटका मारा और पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

भाभी के नाज़ुक गोरे-गोरे भरे पेट पर हल्के से हाथ फिराते हुए उनके मम्मों को दबाने लगा. वो बोली- मुझे मेरे बच्चेदानी तक तुम्हारा वीर्य का फव्वारा महसूस हुआ… ऐसा पहली बार मेरे जिन्दगी में हुआ है…मैं उसके ऊपर ही पड़ा रहा. मैं थोड़ी देर के लिए रुका, जब उसका दर्द कम हुआ तो एक और धक्का मारा तो पूरा लंड अंदर चला गया.

16 साल लड़की का वीडियो मैंने कहा- मगर वो तो मुझसे भी बहुत बड़ी है, मैं तो अभी 21 का हूँ, और ये तो 40 के आस पास होगी. मैंने एक हाथ से अपने लंड को धारण किया हुआ था और दूसरे हाथ से उसके चूचों की मालिश कर रहा था.

भाई का लंड चूत में लेकर मेरी बहन रोने लगी, वो बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… दर्द हो रहा है भाई!मैं थोड़ी देर रुक गया फिर उसको थोड़ा आराम होने लगा तो मैंने बोला- अब करने दे… थोड़ी देर दर्द होगा, बाद में सब नॉर्मल हो जाएगा. मैं भी उसकी साड़ी ऊपर कर के उसकी पेंटी की साइड में से उंगली उसकी चूत पर लगा कर सहलाने लगा. अगर जा भी सकती तो भी मैं तुम्हें नहीं जाने देता!’मैं फिर से मुस्कुराई.

செக்ஸ்படம் காலேஜ்

भाभी- आओ बेडरूम में चलते हैं। मैं केक लकर जा रही हूँ तुम लाइट्स ऑफ कर देना।मैं- ओके भाभी. एक बार मेरे पति का ट्रान्सफर लंदन में दो महीने के लिए हो गया तो राहुल और मैं भी उनके साथ लन्दन घूमने के लिए चल पड़े!लन्दन एक बहुत ही खूबसूरत शहर है, वहाँ पर हमें कम्पनी की तरफ से एक फ्लैट मिला था. अब पौंछ भी लो भाभी अपनी चूत और टाँगें! तुम्हारी सासू माँ आती ही होंगी अब!’ स्नेहा बोली.

मैं जाँघों को अन्दर की तरफ से चूमता हुआ ऊपर बढ़ रहा था इसलिये थोड़ा सा ऊपर बढ़ते ही मेरे होंठ चिपचिपे व नमकीन से होने लगे. और तीसरे लड़के का मोटा 10 इंच का लंड वो लड़की अपने मुँह में लेकर चूस रही थी। वहीं आखिरी लड़के का बड़ा सा लंड दूसरे हाथ से हिला कर बारी-बारी से चूसते हुए खूब एंजाय कर रही थी।मुझे फिल्म देख कर थोड़ी सी शरम आने लगी, मैंने कहा- अरे बाप रे.

विकास भी इस बात से अन्जान है।लेकिन यह घटना अपने मन में छुपा न सका, इसलिए आप सब दोस्तों के साथ शेयर कर दी। उम्मीद करता हूँ आप सबको मेरी कहानी पसन्द आएगी।[emailprotected].

वे साल में दीवाली पर ही आते हैं और 15-20 दिन रहते हैं।मेरी माँ मेरे चाचा, फूफा और एक गाँव का भगत है. फिर अंश मुझे किस करने लगा, थोड़ी देर के बाद मेरा दर्द कम हुआ तो उसने पूरा दम लगाकर एक और धक्का मारा उसका लन्ड मेरी बुर को फाड़ते हुए अन्दर तक घुस गया. आराम से मेरी जान कहीं तुम्हारी नाज़ुक कमर में मोच ना आ जाए।मोना पर तो वासना का भूत सवार हो गया था.

हालांकि इस तरह की उम्मीद कम ही थी क्योंकि मैंने स्नेहा से प्रॉमिस करवा लिया था कि वो इन बातों का जिक्र किसी से नहीं करेगी लेकिन दिमाग में संशय तो चल ही रहा था. मैं क्लास में हमेशा अव्वल आती थी। मुझे मेरे मोहल्ले के लड़के हमेशा घूरते रहते थे. उसने एक लंबी और जोर की आह भरी और अपना एक पैर मेरी कमर पर लपेट लिया.

जैसे इसे लड़कों को रिझाने के लिए खास ऐसा रूप दिया गया हो। संजय तो पागल हो गया.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ: वैसे चिंटू और मैं, हम दोनों उसे बहुत सालों से जानते हैं, थोड़ी ही देर बाद चिंटू भी आ गया और चिंटू से भी वही बात की, मेरे मन में भी उस लड़की का ऑफर सुनकर मेरे मन में हवस कामुकता जाग उठी, पर अचानक किसी अनजान लड़की से सेक्स करना मुझे सुरक्षित नहीं लग रहा था. उसकी उभरी चिकनी चुची और उसके चूचुकों के गोले छोटे से काले घेरे, सपाट पेट, और पतली कमर जिसको अभी तक किसी ने भी नहीं चखा था, मैं जम कर चख रहा था और बार बार मैं अंजलि को चूमने लगा.

मैंने रीना रानी को कॉफ़ी बनाने भेज दिया और सुल्लू रानी से कहा कि डिनर में खीर बनाये. मेरे पतिदेव बहुत सेक्सी भी हैं और पावरफुल भी इसलिए उन्होंने मुझे सेक्स का अपार सुख दिया. तो उन्होंने कहा- एक शर्त पर?मैंने पूछा- क्या पायल जी?तो उन्होंने कहा- आप मुझे ये पायल जी… पायल जी….

अब हल्के हल्के धक्के से उनका दर्द कुछ कम हो रहा था और वो मज़े की और अग्रसर हो रही थी और मेरा साथ दे रही थी.

वो गोपाल से गुस्सा थी और जिस सहेली मीना की सलाह से वो गाँव में खुल कर चुद सकी थी, अभी उसको ही उसने बुलाया था. दौड़ता फिर तैयार होकर काम पर जाता। इस दिनचर्या के कारण मेरा शरीर और आकर्षक हो गया।मेरे ग्वालियर वाले साहब का आदेश हुआ कि मुझे अपने साथ हमारे स्टाफ की ही एक महिला कर्मचारी को भी साथ लाना है।हम दोनों ड्यूटी के बाद चार बजे बस में बैठ जाएं. मोना रानी के शब्द आरम्भ:पाठकों की सेवा में मोना का नमस्कार! यह कहानी रेखा की है इसलिए वही इसकी हेरोइन है.