बीएफ वीडियो भाभी के

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी हिंदी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ मूवी हिंदी सेक्सी: बीएफ वीडियो भाभी के, मैंने कहा कि मुझसे छुपाने की कोई जरूरत नहीं है, आखिर हम स्कूल के समय के साथी हैं.

सेक्सी ब्लू पिक्चर बीपी इंग्लिश

हम दोनों फिर से एक-दूसरे से किस करने लगे, जिससे हमारे अन्दर की वासना जाग उठी. बीपी के सेक्सी वीडियो हिंदी मेंअब उन ठरकी अंकल ने मेरे होंठ चूसना चालू कर दिए ‘मूऊऊऊ … आआह … मुईई … उई … मूऊऊआ.

कुछ ही पलों में मेरा मुँह उसकी एक चूची पर लग गया था और दूसरी चूची पर मेरा हाथ घुंडी मसलने में लगा था. हिंदी सेक्सी गुजराती फिल्मदूसरे भाग की कहानी का मजा यहीं से शुरू होता है कि कैसे मैंने अनामिका की गांड भी उसके मना करने के बावजूद भी चोदी और अनामिका के यहां सोनिया भी कैसे मिल गयी और उसकी चूत व गांड कैसे मारी.

मैंने अपनी पैंट की जिप खोल दी और अपना 5 इंच का मोटा लंड आंटी के हाथ में पकड़ा दिया.बीएफ वीडियो भाभी के: होंठों से वो सिर्फ धन्यवाद कह रही थी लेकिन उसकी आँखों में तो जैसे भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा था.

बस … पर्दा उठने को था और हंसों के इस अछूते जोड़े पर मेरी पूरी मनमानी चलने को थी.हम दोनों एक दूसरे से सब तरह की बातें शेयर करते थे। मैं भाभी के साथ नॉनवेज बात भी कर लेता था।भाभी का फीगर 38-36-38 का था और उनके दो बच्चे भी थे.

नटखट सेक्सी वीडियो - बीएफ वीडियो भाभी के

उसने मुझे दिखा कर उंगली से निकाल-निकाल कर हर एक कतरा पीया मेरे रस का। फिर उठी और मेरी गोद में आ कर बैठ गयी.एक तो मुझ पर प्रिया की शादी के कामों की जिम्मेवारी, तिस पर प्रिया के मुझ से सदा के लिए दूर चले जाने का सदमा, ऊपर से इस वाहियात औरत के मुतवातार उलाहनों ने मेरा काफिया तंग कर रखा था.

वह ऐसी हालत में था कि जैसे उसके सारे शरीर की मर्दानगी और ताकत मेरी चूत में ही चली गई हो. बीएफ वीडियो भाभी के पांच मिनट की चुसाई में ही मैंने भी अपना माल उसके मुंह में निकाल दिया और कुछ देर तक लंड को उसके मुंह में ही फंसा कर रखा.

मैं हर रोज इस बात के इंतजार में रहती थी कि कब जीजा जी को मेरे साथ अकेले में रहने का टाइम मिलेगा.

बीएफ वीडियो भाभी के?

मैं चाची की दूध मसलते हुए कहा- चाची आप इतनी सुंदर हैं, चाचा आपको छोड़ कर कैसे चले गए. नैना ने अपनी चाबी से दरवाज़ा धीरे से खोला और मुझे इशारा करके खुद दबे पांव अन्दर चली गई. आह-आह … अम्म … आ … ह्हह … करती हुई दोनों ही तेजी से एक दूसरे की चूत में उंगली करने लगीं.

मैं जिस फ्लैट में रहता था उसमें मेरे बड़े भाई-साहब और छोटी बहन भी रहती थी. जब मैं अपने कमरे में अंदर जाने ही वाली थी तो जीजा ने मेरी दीदी को फिर से पकड़ लिया. वो मानसी की टांगों को अपने हाथ से ऊपर उठाकर उसकी चूत में लंड को पेल रहे थे.

मैंने कुछ पल तक उसकी इस चुसाई का आनंद लिया और अगले झटके में अपना लण्ड उसके गले तक पहुंचा दिया. जब तक उसने लोअर मेरी टांगों से बाहर निकाली तो मैंने ऊपर से बनियान को निकाल दिया था. गुप्ताइन ने मेरा हाथ कसकर पकड़ा और बोली- वादा रहा, अब बताओ काम क्या है?मैंने कहा- एक बार बेबी को मेरे पास भेज दो.

मैं काजल को बहुत बेदर्दी से चोद रहा था और उसकी दोनों चूचियों को अपनी मुट्ठियों में भर कर मसल रहा था. कुछ ही देर में कूलर के सामने लेटने से मुझे नींद आने लगी और मैं सोने के लिए कहने लगा.

फिर काम निपटा कर वो चुपचाप मेरे साथ ही नीचे बिस्तर पर सो गयी।अपने दोस्तों के साथ मैं कभी कभी बियर तो पी लेता था मगर मैंने शराब कभी नहीं पी थी। वैसे उस बोतल में ज्यादा शराब भी नहीं थी बस दो या तीन पैग के करीब ही होगी.

”अरे नहीं राजे … ऐसे तो मैं न जाने दूंगी … मैं हूँ नस्पोर्ट्स इंचार्ज … मेरी इजाज़त है … आज मत करो बॉक्सिंग प्रैक्टिस ….

इसके बाद में उसने अपनी नाइटी हटा दी और वो सिर्फ ब्रा पैंटी में आ गई. जैसे ही मैं जाने को हुआ तो मैडम ने कहा- थैंक यू राजे … रुको थोड़ा … मैं तुम्हारे लिए कुछ नाश्ता लेकर आती हूँ. राधिका के दोनों हाथ मेरे हाथ पर आ गए और वो अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेते हुए बीच-बीच में अपनी आंखों को बंद कर ले रही थी.

उसे देख कर मैं थोड़ा सा संभल गया और पैर मिला लिए जिससे मेरे लंड वाला भाग बीच में इकट्ठा हो गया. भाभी की चूत बिल्कुल किसी सील पैक लड़की से भी ज्यादा सुंदर दिखाई दे रही थी. उसके बाद ताऊ जी ने बुआ के होंठों पर अपने होंठ रखे और तेजी के साथ कमर चलाते हुए बुआ की चूत मारने लगे.

जिन लोगों को ऐसी लड़कियों का अवचेतन मन पसंद करता है या जिन लोगों की ख्वाहिश करता है, उनको सबके बीच तो नीचा दिखाती है लेकिन उन लोगों के आगे एकांत में, बे-ध्यानी में ऐसी लड़कियों की सारी दबंगई और बदतमीज़ी का कवच एक ही क्षण में खील-खील हो जाता है.

मैं उसकी कोहनियों से होते हुए उसकी दोनों बांहों पे हाथ फेरते हुए नीचे आ रहा था. पर उन्हें और कस के अपने से लिपटा लिया और दूध चुसाई का आनन्द लेने लगी. इसी तरह यहाँ भी था, भाभी के और उसके पति के बीच सेक्स सम्बन्ध कुछ खास नहीं थे.

एक हम और एक शर्मा अंकल की फैमिली। शर्मा अंकल की बेटी की डेस्टिनेशन वेडिंग हो रही थी तो वो एक महीने के लिए शहर से बाहर गये हुए थे। ये बात मुझे पता थी। लेकिन शायद मेरी बहन को ये बात नहीं पता थी।पूरे फ्लोर पर मैं और मेरी नंगी बहन ही थे। मैंने सामान वहीं रखा. कहानी पर अपने विचार रखने के लिए कमेंट करें और मेल करके बतायें कि कहानी में आपको कितना मजा आ रहा है. दीदी इस जोर के प्रहार से बिलबिला उठीं और बोली- आज आपको क्या हो गया है?परंतु जीजा जी ने कुछ सुना ही नहीं और पूरी ताकत से झटके मारने लगे.

उसके बाद आहिस्ता से उसकी नाइट पैंट को खींचने लगा लेकिन उसकी गांड बहुत भारी थी.

मैं उसे ढूंढता हुआ घर के पीछे एक अलग सा गोदाम था जो सुनसान रहता था, उसमें गया. तो राजेन्द्र जी ने मेरा हाथ पकड़ते हुए कहा- मुझे वो दूध नहीं पीना, तुम अपना दूध पिलाओ मेरी रानी.

बीएफ वीडियो भाभी के तभी मामी ने मुझसे फिर से कहा- चलो छत पे चलते हैं, इधर मेरा मन नहीं लग रहा है. मैं उसको देख कर हैरान हो गया था क्योंकि वो मेरे सामने ऐसे नाटक कर रही थी जैसे उसको सेक्स करना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता है.

बीएफ वीडियो भाभी के प्लान के हिसाब से राहुल जानबूझकर मां को ऐसे रास्ते से लेकर गया जहां पर ट्रैफिक जाम मिलना ही मिलना था. लेकिन मैंने आशीष को बता दिया कि मैं उन्हीं के फोन से उससे बात कर रही थी.

एक बदलाव भी मैंने अपनी बीवी में देखा कि वो अब बहुत अच्छे से मेरा लंड चूसती थी.

பிஎஃப் படம்

”प्रिया और मेरे सम्बन्धों के बारे में मेरी कहानीहसीन गुनाह की लज़्ज़त-1पढ़ें!ख़ैर! प्रिया के पापा, यानि मेरे साढू भाई के स्वर्गीय ताऊ जी के एक बेटे बहुत सालों से शिमला में सेटल्ड थे. हम स्त्रियों को पुरुष की वैसी मंशा भांपने में सिद्धि होती है और मैं इन पुरुषों की आँखों से समझती थी कि मुझे कौन किस नज़र से देखता है. मैंने उससे पूछा- कल मजा आया था कि नहीं?इस पर उसने चहकते हुए बताया कि कल तुम्हारे साथ तुम्हारे काम से मैं बहुत खुश थी.

मेरा मानना है कि हर लड़की, जो जवान हो गई है या हो रही है, वह अपनी बॉडी के बारे में ज्यादा जानने की कोशिश करती होगी. अपनी प्रतिक्रयाओं द्वारा आपके जीवन में हमारी इस कहानी की महत्व को प्रदर्शित कीजिए. भोला सिंह यह बात सुनकर खुश हो गया और बोला- तुमने तो दिल खुश कर दिया भाई, बंध्या के साथ ही तुम भी यहां पर आ सकते हो.

एक दिन अनुषी का फोन आया कि कल मेरे पति व ससुर सास तीनों देवर के लिए कल सुबह यूपी में लड़की देखने जाएंगे, लगभग दो दिन में आएंगे.

इंस्टालेशन की और मिनिस्ट्री से पेमेंट लेने की सारी सिरदर्दी बड़े मियाँ की थी, मुझे कम्यूटर्स असैम्बल करवा के शिमला, सिर्फ वसुन्धरा के पापा तक पहुंचाने थे और मुझे मेरी सारी पेमेंट वसुन्धरा के पापा से मिलनी थी. शायद रितेश जीजू यह सोचकर हेतल के कमरे में आए होंगे कि यहां पर हेतल की चूत चुदाई करेंगे लेकिन पता नहीं उन दोनों के बीच में क्या बातें हुईं. इधर मैंने बीयर के सील को तोड़ दिया और फिर हम दोनों ने जाम लड़ाने के बाद अपनी-अपनी बीयर खाली करने लगे.

मैंने दरवाजा हल्का सा ढाल दिया ताकि किसी को बाहर से कुछ दिखाई न दे. फिर पास ही पड़ी मेज पर उसको लेटा लिया और उसकी एक टांग से सलवार को निकाल कर अपने हाथ में उसकी टांग को उठाकर फैला दिया. जीजा को मेरी चूत में लंड पेलते हुए चार-पांच मिनट ही हुए थे कि पता नहीं मेरी चूत में एकदम से क्या भूचाल सा आ गया.

चूत में लंड को धकेलने के बाद जीजा ने मेरी चूत को चोदना शुरू कर दिया. मेरे ख्याल से मेरी ऐसी बेलगाम कामुकता मेरे अवचेतन मन की अतृप्त और दबायी गयी ख़्वाहिश … प्रिया की ख़्वाहिश का ही नतीजा था.

वो तो खुद यही चाहते थे कि इसके बारे में किसी पता ना चले तो झट से मान गए. मैं अपने घुटनों पर बैठ कर आंटी की चुत पर पैंटी के ऊपर से ही मुँह रख कर सूंघने लगा. मैंने आशीष से पूछा- तुम कब आओगे मुझसे मिलने के लिए?वो बोला- मैं जल्दी ही प्लान करूंगा.

जब सन 2012 में मैं स्कूल था, जवानी की दहलीज मुझे झझकोरने लगी थी, ये तब की घटना है.

इसके बाद भैया ने अपने एक हाथ से लंड को मेरी गांड के छेद पे सैट कर दिया. मुझे लंड का चूत पर रगड़ना इतना अच्छा लग रहा था कि उस जलन को बर्दाश्त भी करना अच्छा लग रहा था. मैंने उसके मुंह से चुन्नी निकाली और पूछा- कैसा लग रहा है?वो बोली- बस अब मुझे चोद दो, मुझे तड़पा कर तुम्हें क्या मिलेगा.

सुबह उठने के बाद मैंने हाथ मुंह धोया और किचन में गया तो माँ नाश्ता बना रही थी. एक औरत ने मौसी का हाथ मेरे लंड पे रखा और मेरे हाथ मौसी के चुचे पर रखवा दिए.

साथ ही मैं उतने ही नज़ारे में खुद को रोक ना सका और बाथरूम की ओर चल दिया. मैं कई बार राकेश की कजिन को चोद चुका हूँ।मैंने उसे स्माइल दी और उसके कपड़े उतार दिए. मैं भी उसे नाराज़ नहीं करना चाहता था, इसलिए मैं रात भर उसकी चुत चुदाई करता रहा.

देसी सेक्सी रोमांस

भाभी के कमरे में पहुंचते ही भाभी ने कहा- देवर जी, तुमने अपना औजार इतने दिनों तक कहां छुपा रखा था.

इस पर उन्होंने मेरा सिर नीचे कर के अपना पूरा का पूरा लंड मेरे मुँह में दे दिया. मेरे पूछने पर बोली- कुछ नहीं आज पता चला मेरी ननद कितनी नसीब वाली है कि उसे आपके जैसा पति मिला है. साड़ी खोलते ही उसके बड़े-बड़े चूचे जो उसके ब्लाउज में भरे हुए थे वो मुझे दिखाई देने लगे.

फिर मैं पीछे आया और उसकी गांड पे हाथ फेरते हुए मैंने उसके चूतड़ पर एक जोर की चपत लगा दी. मेरा पूरा लंड जब उसकी चूत में उतर गया तो वह मुझे फिर से चूमने और चूसने लगी. गुज्जर की सेक्सीअन्दर बाहर करते करते अब वो समय आ गया कि अब पैसेन्जर ट्रेन को राजधानी बनाने की इच्छा होने लगी.

मेरे और विक्की के सामने ही निहारिका ने अपनी ब्रा उतारी और खुली टी-शर्ट डाल ली. जीजा जी ने कुछ देर तो मुझे देखा और बैठ कर मुझे अचानक से ही अपनी बांहों में भर लिया.

मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं अपनी सुंदर हॉट बहन को चोद पाऊंगा. कुछ देर बाद नम्रता ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा- जानेमन, वास्तव में मैं जो अपनी चूत या अपने जिस्म के लिये चाहती थी, वो आज जाकर पूरी हुई. ’ बोल के चला गयाविशाल के शब्द:क्या हुआ जान?”मैंने उसे मुस्कुराते हुए पूछा.

तो अब भाबी अपनी टांगें फैलाए हुए अपना खुला भोसड़ा मेरे लंड पर रखते हुए पूरा वजन मेरे लौड़े पर रख दिया. उसी के साथ मैं उसकी चूचियों पर गिर गया और हम दोनों अपनी अपनी साँसों को क़ाबू में करने में लग गए. भाबी के इस तरह लंड सहलाने से मैं उत्तेज़ित हो कर भाबी के कपड़े उतारने लगा.

उसने मुझे फ्रेश होने के लिए कह दिया और बोली कि तब तक मैं खाना लगा देती हूँ.

मैंने उसे अपने ऊपर से हटाने की बहुत कोशिश की, पर उसने बिल्कुल एक रांड की तरह मुझे दबोच रखा था. जब सब लोग संभले तो मेरी जांघ पर मेरा ध्यान गया जिस पर काजल का हाथ मेरी पैंट को कस कर खींचे हुए था.

वो चाहे कितना भी चीखे या चिल्लाए, तुम अपना पूरा का पूरा लंड अन्दर घुसा देना. उसने मुझे पकड़ के घास में लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ गया। अपने सीने से मेरी पीठ को दबा के अपने दोनों हाथ से मेरी गांड को फैला के लंड छेद में लगाया और अंदर डालने लगा. जब तक मैंने हाथ-मुंह धोया तो अचानक अंदर से उसकी माँ की चीखने की आवाज आने लगी.

उसकी चूचियों को पीते हुए मैं उसके होंठों को भी चूसना चाहता था मगर अगले ही पल मेरा ध्यान उसकी चूत की तरफ चला गया और मैंने एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत पर रख दिया. मेरे चूसने के कारण कुछ ही देर में मेरी बहन की चूचियां बिल्कुल सख्त हो गईं. मैंने उसके हिलते-डोलते चूचों को अपने हाथ में बारी-बारी से भर कर दबाना शुरू कर दिया और कुछ ही मिनट के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

बीएफ वीडियो भाभी के फिर ताऊ जी का माल निकलने की तैयारी पर आ गया था शायद इसलिए उन्होंने बुआ को नीचे लेटने के लिए कहा. मौसी का इशारा मिलते ही मैंने भी धीरे धीरे अपनी कमर को आगे पीछे करना शुरू कर दिया.

मोटर का पंखा

हम दोनों लोग बाइक से घूम रहे थे और जब रिदम अपनी बाइक के ब्रेक लगाता तो मेरी चूची उसकी पीठ से छू जा रही थी. उसने कहा- रात को मुझे मालूम ही नहीं था कि तुम भी मेरी तरह लेस्बियन सेक्स में मेरा साथ दोगी. अम्मी बोलीं- क्यों … पहले तो तूने कभी नहीं बुलाया उनको?मैंने कहा- अम्मी वो स्टडी में मेरी बहुत हेल्प करते हैं … और भी काम में हमेशा मेरी मदद करते रहते हैं.

फिर मैं उसे बेडरूम में ले गयी और उसका शर्ट खोल और वेस्ट खोल कर देखा. उसी का नतीजा था कि प्रीति बहन के नंगे बदने से मेरी नजरें हट ही नहीं रही थीं. सेक्सी पिक्चर मारवाड़ी वीडियो मेंफिर कुछ पल के बाद ही जीजा बिना बताए फच-फच की आवाज के साथ मेरी चूत में अपने लंड का लावा भरने लगे.

उसके हाथों को दीवार पर ऊपर दबाते हुए मैंने एक धक्का उसकी चूत में मारा और आधा लंड मनमीता की गीली चूत में गच्च से फंस गया.

मैं समझ गया कि मनीषा की चूत प्यासी है और इसको तगड़ी चुदाई की जरूरत है. मैंने गाड़ी होटल की तरफ मोड़ दी, कमरे में पहुंच कर मैंने पूछा- कमरा कैसा है?आँखें मटका कर बोली- बहुत सुन्दर.

इस तरह अपना काम ख़त्म करके मैं सुकांत जी को अपनी गाड़ी में घर ले गयी और फिर चाय नाश्ते डिनर के बाद हमारे बीच वो सब हुआ जिसके लिए वो आये थे. बालों से लदी हुई सायमा की चूत देखकर मेरा लंड अंडरवियर को फाड़कर बाहर आने के लिए मेरी जांघों को पीटने लगा. फिर 15 मिनट बाद जब मैं उसके ऊपर से उठा, तो मैंने वापस उसको लेटाया और उसकी चुत फिर से चाटने लगा, चूसने लगा.

कुछ देर तक ताऊ जी ने बुआ जी की मस्त चुदाई की और फिर ताऊ जी की सांस थोड़ी भारी हो गई तो वो बेड पर लेट गये.

मैंने इवेंट के लिए साड़ी और हाफ स्लीव का ब्लाउस पहना था और मेकअप भी अच्छा किया था. क्या करता … मन मार के मुझे जाना पड़ा और फिर अगले कुछ दिन मैं पूजा से कुछ ना कुछ काम लगे रहने की वजह से नहीं मिल पाया. दिन तो पूरा अच्छा था, लेकिन मैं रात में उससे एसएमएस से बात कर रहा था.

डेड सेक्सी वीडियोबयालीस वसंत पार कर चुकी खूबसूरत, विवाहिता, दो बेटों की माँ, सभ्रांत और बैंक अधिकारी महिला के साथ सेक्स करने का का वो अनुभव भी कमाल का रहा; पर वो सब बातें मेरी कहानी का विषय नहीं हैं. बाप- हां तुम्हारी तो बिना तेल के चुद जाएगी, पर इसकी चूत में तो तेल लगाकर ही चुदवाना होगा.

लेडीस कंडोम

वो अब तक किसी से चुदी नहीं थी इसलिए पहली बार चूत की सील टूटने का खून था. जब ब्लू फिल्म की कामुक सिसकारियां सुनीं तो मेरा लंड और ज्यादा टाइट होकर फड़कने लगा और मेरी पैंट में ही अलग से तना हुआ दिखाई देने लगा. अब मैंने अपने प्लान पर काम करना शुरू किया और उससे कहा- मैं आइसक्रीम लेकर आता हूं.

बाद में जब वो मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा, तो मेरी चूत में उसका लंड आसानी से अन्दर बाहर होने लगा. अब तो हम दोनों आस-पड़ोस के लड़कों के बारे में भी बातें करने लगी थीं. फिर एक दिन अचानक उसका फोन आया कि वह मेरे ही शहर में एक दिन के लिए किसी काम से आ रही है.

उसने पूछा- फिर कब मिलोगे?मैंने कहा- फिर कभी किस्मत में तुम्हारी संगत होना होगी, तो हम दोनों जरूर मिलेंगे. लड़का चाहे +2 पास/फेल हो लेकिन अगर बिज़नेस में दो तीन लाख़ रुपया महीना कमाता हो तो उसको सी ए, एम बी ए, कॉलेज की प्रोफ़ेसर, यहां तक कि आई ए एस, पी सी एस लड़की भी आम मिल जाती है. मुझे लगा रायता फ़ैल गया है लेकिन कुछ देर बाद स्वीटी ने मैसेज किया ‘कितना वक्त लगा दिया पागल … आई लव यू बोलने में.

उन्हें रात के बारे में सब कुछ समझ आ चुका था लेकिन वो पापा के सामने कुछ बोल भी नहीं सकती थीं. पर थोड़ी देर के बाद महसूस हुआ कि उसकी चुत फड़फड़ाने लगी थी, जिसकी वजह से में रुक नहीं सका और उसने भी मुझे रोकने की कोशिश नहीं की.

उसने अपने लंड को हाथ में लेकर सहलाया और फिर सुमिना की चूत पर रगड़ने लगा.

मैंने जानबूझ कर विक्की को बुलाया और काम में मदद मांगी और उससे बात करने लगी. नौकरानी का सेक्सी चुदाईदो बार लंड अन्दर तक चूस कर आंटी ने मेरे लौड़े पर सीधे बोतल से दारू डालकर लंड को नहलाया और मुँह में लंड दबा कर चूसने लगीं. आलिया भट्ट की चुदाई सेक्सीतो फिर अपने दिल में कैसे मैं उसके बारे में गलत विचार ला सकता हूँ?ये सब सोच-सोच कर मेरी अन्तरात्मा मुझे अब धिक्कारने सी लगी थी इसलिये कुछ देर टीवी देखने के बाद मैंने टीवी को बन्द कर दिया और चुपचाप सोने‌ की‌ कोशिश करने लगा. फिर रात को भी कुणाल और सुमिना के बारे में ही सोचता रहा। मगर किया भी क्या जा सकता था, इसलिए ज्यादा सोचने का कुछ फायदा ही नहीं था।ऐसे ही सोचते-सोचते मुझे नींद आ गई.

दोस्तों बस चुत एक बार मिलते ही मेरा सारा डर दूर हो गया और ऊपर वाला भी मेहरबान हो गया था, जहां चुत लेने की कोशिश की, वहां कभी निराश नहीं हुआ.

मैंने कहा- दीदी मैं आपकी टी-शर्ट उतार दूं?तो दीदी ने हां में सिर हिलाया. जब वो सात दिन के बाद शाम को हमारे घर आयी तो मैंने उस दिन उसके फीगर को ध्यान से देखा जो 34-30-36 के लगभग था. दोस्तो, आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी? अगर कहानी आपको पसंद आई हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताना.

मौसी भी शिथिल होकर उन औरतों से बोलीं- अब बस करो … हम दोनों को छोड़ दो. साथ ही काम के वशीभूत होकर अपना सब कुछ उन्हें दिखाया भी है और उनसे मिल उन्हें सच में भोग भी लिया है. मैं बेकरार हो रहा था लेकिन आंटी की बेकरारी का इन्तजार कर रहा था जो जल्दी ही खत्म हो गया.

ग्राइंडिंग

कुछ देर तक मैंने दीदी को लंड चुसवाया और फिर हम दोबारा से बेड पर आकर 69 की पोजीशन में आ गये. उसने मेरे बालों को पकड़ कर खींचना शुरू कर दिया और मेरे होंठों को कस कर चुमते हुए मेरी जीभ को निकाल कर चूसने लगा. उसने चूल्हा बंद किया और पलट कर मेरी बांहों में समा गई उसने खुद को मेरे हवाले कर दिया.

मैंने अंडरवियर पहना हुआ था और उसके उभरे हुए चूचों के बीच में तने हुए उसके निप्पल देख कर मेरा लंड मेरे अंडवियर में फिर से खड़ा होना शुरू हो गया.

मैं कुछ देर के लिए रुक गया, लेकिन वो दर्द के मारे अभी भी बहुत जोर जोर से चिल्ला रही थी.

तभी उसने मुझे बेड पर उल्टा लेटा दिया और मेरी गांड पर हाथ फेरने लगा. मेरी चुत को अपने लंड का दुश्मन समझ लो और मेरी चुत पर अपने लंड से खूब जोर जोर से वार करो. एक लड़की दो लड़का की सेक्सी वीडियोदोस्तो, उसका एक एक बूब आधा आधा किलो का होगा और एकदम गोरे गोरे निप्पल्स भी हल्के भूरे रंग के थे.

काजल मेरा पूरा वीर्य पी गई और गीली जीभ से लंड को चाट चाट के पूरा साफ़ कर दिया. माँ बोलीं- क्या हुआ, आज नहीं चोदेंगे क्या?लेकिन मैंने फिर सोचा वैसे भी इनको कहां कुछ दिख रहा है … और मैंने मौके का फायदा उठाने का सोच लिया. उनकी बातों से पता चला कि वो भी मेरी ही तरह अकेली थीं … सब होते हुए भी कुछ नहीं।मुझे बातों बातों में समझ में आने लगा कि वे बहुत परेशान रहती हैं.

मुझे लेटे हुए तीन-चार मिनट ही हुए थे कि जीजा जी चुपके से मेरे कमरे में आ गए. कुछ देर में उन्होंने मेरी लाइफ के बारे में सवाल किये, मैं उनके सब सवालों के जवाब दे रही थी.

मैं मेले में निहारिका को ढूंढ रहा था, पर निहारिका अपनी भाभी के साथ रात आठ बजे आई.

मैं मिडल क्लास घर का लड़का था और मुझे ये सब सिर्फ अपनी बीवी के साथ ही करना था. अजय ने मेरी चुचियों पे बैठ कर मेरे मुँह में अपना लौड़ा दे दिया और नीचे से वरुण मेरी चूत चूसने लगा. मैंने पूछा कि तुमको कैसे पता कि इससे अच्छा नहीं लगता? क्या तुमने कभी ऐसा किया है?आतिशा हड़बड़ा कर बोली- नहीं.

52 की सेक्सी फिर नीचे मेरे बूब्स को देखा और बोला- तेरे दूध तो बहुत छोटे हैं लेकिन तेरे फिगर में बहुत मस्त लग रहे हैं. पहले कन्धों की मांसपेशियां, फिर ब्रा के स्ट्रैप के बाद हंसली की हड्डी और ऊपरी पसलियां की नर्म त्वचा और फिर ब्लाउज़ के ऊपर दो पर्वत-श्रृंगों पर मेरे दोनों हाथ जम गए.

तो वो बोली- मरवाओगे के … तने पता है घर में कोई न कोई रहता है बाकि कभी टाइम मिला, तो पक्का बुला लूँगी. मन कर रहा था कि इनकी चुदाई को देख कर यहीं पर मुट्ठ मार लूं लेकिन किसी के आने का डर था इसलिए मैं बस चुदाई के नजारे के मजे ले रहा था. उसने मुस्कराते हुए जवाब दिया- हां, अपने मम्मी-पापा और भाई के साथ रहती हूं.

सुहागरात क्ष वीडियो

खैर डॉली को सहलाते सहलाते, बातों में बहलाते बहलाते मैं अपना लण्ड धीरे धीरे अन्दर धकेलता जा रहा था. सोनल के चिल्लाने से राधिका उसके पास आ गई और वो दिशा को साइड में करके सोनल को किस करने लगी. समय जल्दी से निकल रहा था और कब मुझे इंस्टिट्यूट में पढ़ाते हुए दो महीने बीत गये, कुछ पता ही नहीं चला.

मेरी आँखें मुंद गयीं और मैंने अपने जिस्म को ढीला छोड़कर अंकल जी के हवाले कर दिया. लेकिन माँ ने मेरा चेहरा धीरे से ऊपर उठाया और बोली- बेटा, यह सब गलत है.

फिर काम निपटा कर वो चुपचाप मेरे साथ ही नीचे बिस्तर पर सो गयी।अपने दोस्तों के साथ मैं कभी कभी बियर तो पी लेता था मगर मैंने शराब कभी नहीं पी थी। वैसे उस बोतल में ज्यादा शराब भी नहीं थी बस दो या तीन पैग के करीब ही होगी.

तुम्हारे कारण ही तो मैं इतना सोच पायी कि कैसे अपने पति को रिझाना है. मैंने दोबारा से उसकी चूत पर लंड को सेट किया और अबकी बार धीरे से लंड को चूत में अंदर कर दिया. हालांकि मैं अपने आपको गे नहीं मानता हूँ क्योंकि मुझे लड़कियां चोदना भी बहुत पसंद हैं.

असल मैं उस टाइम तक मैंने किसी को छुआ भी नहीं था, इसलिये हिम्मत नहीं हो रही थी. मैंने अफ्रीकन बड़े लंड से गोरी मेमों की चुदाई की ब्लू-फिल्म्स देखी थीं, जिसमें ये काले हब्शी, गोरी चूत वाली का भुर्ता बना देते हैं. मैंने अपनी चुटकी में उसके निप्पलों को पकड़ कर मसला और वो चिहुंक गई- आह्ह … आराम से करो … दर्द हो रहा है.

मैं धीरे धीरे अपने लंड को चुत के अन्दर बाहर करते हुए अनुषी की आंखों में देखने लगा.

बीएफ वीडियो भाभी के: भी चल रहा था, फिर भी उसकी गर्दन पर पसीने की कुछ बूंदें थीं। ये बूंदें उसके गोरे बदन पर मोती की तरह चमक रही थी। मैंने इन मोतियों को चूमा और उसकी बाँहों के नीचे आ गया. इतना कहकर उसने अपने होंठ मेरे होंठ पे और एक हाथ मेरे लंड पर रख दिया और मुझे किस करने लगी.

जब राज को लगा कि मैं शायद सो चुकी हूं तो उसने टीवी पर कुछ गर्म फिल्में खोजना शुरू कर दिया. मैंने बोला- मैडम अभी तो प्रोग्राम शुरू हुआ है … सुबह हमारी चुदाई के नंबर देना. वो मचल उठी, उसकी चूत पानी छोड़ रही थी। मेरे ऐसा करने मात्र से ही वो स्खलित हो गयी। उसका रस स्टिक पे लगा हुआ था.

मैंने सोचा यदि अभी मना करूंगा, तो ये जो पहले का चूमा चाटी वाला खेल भी नहीं खेल पाऊंगा, तो मैं भैया की बात मान गया.

मैं भी स्टाफ रूम से लंच करके बाहर पानी की टंकी के पास हाथ धोने के लिए जा रहा था. मां के जाने के बाद मैं, वरूण और ज्योति आंटी फार्म हाउस के अंदर चले गये. शायद वो मेहनत का काम करता था इसलिए!मेरे मुलायम दूध को बहुत मस्त तरह से मसल रहा था और चूम रहा था.