सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू

छवि स्रोत,डॉक्टरनी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

आलिया भट्टsex: सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू, जब तुम मुझे अपनी बांहों में लोगे। तुम्हारी सलाह मान कर मैंने आज से गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन शुरू कर दिया है।हम लोग काफी देर इधर-उधर की बातें करते रहे.

ब्लू पिक्चर चूत लंड की

अभी वो जा रहें है व रास्ते में गुरूजी की पत्नी व बालिका को बस अड्डे पर छोड़ देंगे. बिहारी लड़की चुदाईवो अपनी लोवर को ऊपर खींच कर मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगा और प्लान के मुताबिक बोला- भैया, मेरा कोई दोष नहीं है.

आंटी ने अन्दर आने को बोलते हुए कहा- अरे हितेश आ ना … कैसे आना हुआ?मैंने सोफे पर बैठते हुए कहा- आंटी मुझे इन पेपर्स पर आपके साइन चाहिए. चूत में उंगली करनालड़की दूर से ही दिख गई थी, पर जिस एंगल पर मैं बैठा था, वहां से उसका चेहरा नहीं दिख रहा था.

मगर लाइट बंद होने के कारण मैं अपनी बहन के बूब्स को नहीं देख पा रहा था.सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू: यदि कहानी के बारे में आप कुछ कहना चाहते हैं या जानना चाहते हैं तो नीचे दी गई मेरी ईमेल आईडी पर अपने संदेश भेजें.

दीदी उसी घर के सामने पहुँची तो पंकज वहां पर पहले से उसका इंतजार कर रहा था.मेरी इस हिंदी चुदाई कहानी ‘दोस्त की माँ को चोदा’ के लिए अपने विचार मुझे मेरी मेल आईडी पर जरूर भेजें … मुझे इन्तजार रहेगा.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी हिंदी में - सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू

फिर आंटी से मुझसे पूछा- हितेश सोलर का काम कितने दिन में पूरा हो जाएगा?मैंने आंटी को बताया- आंटी दस दिन में काम पूरे होने की उम्मीद है.उसको अपनी चूचियों के रसपान के लिए तड़पता हुआ देख कर मैंने उस पर रहम किया और अपनी दोनों चूचियों को बाहर कर लिया.

पता चला उसने अपनी पुत्री की चड्डी दे दी है जो कि लगभग नाप की थी किन्तु वो मेरे कूल्हों को ढकने की जगह मध्य में धंसी हुई थी व अग्रभाग ने मेरे लिंग को समेट कर ऊपर की दिशा में मोड़ दिया था. सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू मैंने पूछा- अंकल का कितना बड़ा है?आंटी ने कहा कि तुम्हारे अंकल का लंड बहुत ही छोटा है.

वो मुझसे गले लग कर रोने लगी और कहने लगी- अनु तुम मेरी जान हो … मेरा साथ कभी मत छोड़ना.

सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू?

वो बोले- तुम हमारे लिये इतना सब करने के लिए तैयार हो?मैंने कहा- हां, मैं आप लोगों को ऐसे नहीं देख सकती. आंटी कुछ भी नहीं बोल रही थीं … वो बस आंह आह … करके बेड पर पड़े मज़े ले रही थीं. उसके बाद भाभी मेरे गले से लगीं और कहने लगीं- अब मैं हमेशा के लिए आपकी हूँ.

वो अपनी मैक्सी को ऊपर उठाकर अपनी चूत को सहलाने लगीं और अपनी चूत में उंगली करने लगीं. मैंने उन्हें अपनी तरफ खींच लिया और टेबल पर बैठा कर उनकी चुत को चूसना चालू कर दिया. भाभी ने लिखा था- थैंक्स फोर योर टी। (चाय के लिए धन्यवाद)मैंने लिखा- एनिथिंग फॉर यू.

मुझे उसकी बात सुनकर पहले तो आश्चर्य हुआ कि ये डैड के साथ सेक्स करती है … मगर मुझे इससे क्या था. ऐसा लग रहा था कि जैसे उसने काफी समय से अपनी सेक्स की भूख को दबा कर रखा हुआ था. मामी ने हामी भरी और मैंने उसी पल अपने लंड को उनकी गांड से बाहर निकाला और उनके मुँह में भर दिया.

मैं मंजू के सामने अपना तना हुआ लंड खोले खड़ा था और वो मेरे लंड को देख कर आंखें फाड़े और मुँह खोले ठगी सी खड़ी थी. ऊपर से तो पूरी पैंटी मेरे थूक में गीली हो गयी थी और नीचे उनकी चूत के रस में।उसके बाद मैंने पैंटी को भी निकाल दिया.

आंटी- बस अगले महीने सोच रहीं हूँ मगर मैं इस बीमार शरीर के साथ नहीं जाना चाहती। थोड़ा घुटनों के पास दबा दे बेटा.

दोस्तो, यह मेरी सच्ची xxx ग्रुप सेक्स पार्टी स्टोरी है … जिसे लिखने में मेरे शिबु ने भी मदद की है.

मैंने खाना लगा दिया और उनसे पूछा- आप बहाना बना कर क्यों रूकीं?तो उऩ्होंने कहा- रूको … खाना खाने के बाद बात करूंगी. मैं धार देखने के लिए फर्श पर बैठ गया और चूत के अन्दर से आती हुई यूरिन को देखने लगा. उसने अपने पिता से भी अपनी चूत चुदवा ली और फिर लवली, उसकी मां और उसके पापा एक साथ तीनों मिल कर चुदाई का मजा लेने लगे.

मेरे पापा ने भी उनका बड़ा बिजनेस देख कर नायरा दीदी की शादी उनके साथ कर दी थी. अगर मेरी बिटिया मेरे अलावा बाहरी रांड बन जाए, तो उसके सेक्सी बदन के लिए एक रात का कम से कम 5 लाख मिलें. देवर भाभी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे बहन की शादी के समय भाभी और मैंने एक दूसरे को नंगा देख लिया.

वो मेरी बांहों में लेट कर उसकी खुद की चुदाई की वीडियो को देख रही थी और मेरे लंड को सहला रही थी.

मगर राजेश नहीं माना और ज़बरदस्ती अपना लंड उसने मेरे मुँह में ठेल दिया. वापसी के सफर में थोड़ी दिक्कत तो हुई मगर चूत के मजे तो खूब मिल गये थे. वो अपनी लोवर को ऊपर खींच कर मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगा और प्लान के मुताबिक बोला- भैया, मेरा कोई दोष नहीं है.

क्या क्या हुआ बाप बेटे के बीच?आप सभी दोस्तों को मेरा दिल से नमस्कार। मेरा नाम राहुल शर्मा है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं. पांच मिनट बाद मैंने उससे कहा- आप अगर ऊपर वाली सीट ले लें तो कोई प्रॉब्लम होगी क्या?वो बोला- लेकिन आपको ऊपर वाली सीट में क्या प्रॉब्लम है?मैं बोली- ये साथ वाली सीट पर मेरे पति और मेरा बेटा है. अंधेरा होने के कारण कुछ साफ नहीं दिख रहा था मगर उनकी आवाज मुझे आ रही थी.

मैं बिफर उठी और बोली- जल्दी से अपना लंड निकालो … क्यों तड़फा रहे हो.

वो बोलीं- तू मेरी सहेली की चुदाई के बारे में सोच रहा है ना!मैं घबरा सा गया और बोला- नहीं नहीं. अमन को और ज्यादा जोश आ गया और वो मेरे पैरों से होता हुआ मेरी चादर में अंदर घुस गया.

सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू उसके कातिलाना नैन नक्श और मस्त उभारों से लग रहा था कि उसकी चूची की साइज 36 इंच की तो होगी ही. एक हाथ से मेरे लन्ड को पकड़ लिया और अपनी चूत के मुहाने पर रगड़ने लगी.

सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू मैंने उसके पैरों पर किस करता हुआ धीरे धीरे साड़ी को ऊपर किया और नीले रंग की पैंटी पर नजर पड़ी. तब से मेरी माँ बहुत अकेली रहने लगी।अब मैं आपको अपनी माँ के बारे में बताता हूँ.

ताई बोली- आजकल पता नहीं कैसी कैसी फिल्में बनने लगी हैं, कुछ भी दिखा देते हैं.

हिंदी बीएफ जबरदस्ती सेक्स

एक लम्बे चुम्बन और आलिंगन के बाद मैं वापिस अपने कमरे में आ गया। उस रात की चुदाई के बाद तो जैसे मुझे चुदाई का चस्का लग गया। जब भी हमें मौका मिलता, हम दोनों खूब चुदाई किया करते।उसके बाद तो जैसे उसके यौवन में चार चाँद लग गये. रेशमा- ऐसा तो बस आपको लगता है … मेरे पति मुझे पर जरा भी भी ध्यान नहीं देते हैं. कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने करिश्मा भाभी को सोफ़े पर सीधा लिटा दिया और खुद उसकी चुत पर लंड घिसने लगा.

कुछ देर लेटने के बाद पारुल ने एक बार फिर मेरे लंड को मुंह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी. मैंने उनसे बाथरूम का पूछा, तो गुड़िया बुआ खुद उठ कर मेरे साथ अन्दर आ गईं और मुझसे धीरे से बोलीं- जा अन्दर खाली कर आ. दस मिनट के लम्बे चुम्बन के बाद मैंने उसके मम्मों को दबाना और निप्पलों को पीना शुरू कर कर दिया.

कुछ पल के बाद उसने फिर से करवट ली और उसका लंड वैसा का वैसा तना हुआ था.

दीदी- तुम्हारे जीजा जी ने क्या कहा?मैंने दीदी के मम्मे देखते हुए कहा- उन्होंने बोला है कि मैं आपका अच्छे से ख्याल रखूं. जब मैंने सर उठा कर बिस्तर पर देखा, तो उस बेड की बेडशीट पर बहुत सारा खून पड़ा था. और इसी के साथ वह मेरे ऊपर ही लेट गया और मेरे बालों को सहलाने लगा।नीरव धीरे से मेरे कान में बोला- डार्लिंग, तेरी चूत पूरी तरह फाड़ दी है मैंने। अगर तू कहे तो तेरी चुदाई कर दूं या फिर अपना लंड घुसा कर रहने दूं?मुझे दर्द तो बहुत हो रहा था.

मैंने गुस्से में उनकी गांड पर जोर का चमाट मार दी… जिससे वो उछल गईं और मुझे छाती पर मुक्का मारने लगीं. अब आगे की हिन्दी रियल सेक्स स्टोरी:हमें चुदाई और बातें करते हुए 2 घंटे से ज्यादा हो गए थे. इस बार मनोहर ने मुझे उठाया और हम दोनों एक दूसरे की ओर मुंह करके बेड से नीचे जमीन पर खड़े हो गये.

उनका निवास हमारे गांव से लगभग 15 किलोमीटर दूर एक छोटे से नगर में था. अंदर जाते ही कोमल ने मुझे हग कर लिया और मैंने उसको अपनी बांहों में ले लिया.

तुझे तो मैं अपनी रानी बना लूंगा मेरी जान … आह … ले मेरे लंड को, पूरा ले ले. मेरी घुड़की सुनकर वो दोनों चुप गए और मेरे प्लान में साथ देने को तैयार हो गए. वो मेरे निप्पल्स को बारी बारी से मुंह में लेकर चूस रही थी जिससे मेरे अंदर एक मादकता भरती जा रही थी.

मैंने उनसे कहा- मैं आपको आपकी पसंद की आइसक्रीम लाकर दे दूंगा भाभी, तो मुझे मेरी पसंद का टेस्ट करा दोगी?भाभी ने हंस कर मना कर दिया.

फिर मौसी ने खुद ही हल्की सी गांड उठाई और पैंटी को खींच कर अपनी जांघों में फंसा छोड़ दिया. मैंने कहा- अगर ऐसा है, तो जब आपकी सास और पति जाएं, तो मुझे उनके जाते हुए की फोटो लेकर भेज देना. वो बोला- ठीक है, कहां जा रही हो सिमरन मैडम?उसकी इस बात पर हम दोनों ठहाका मार कर हंस पड़े.

होटल वाले को पहले ही बता दिया गया था इसलिए उसने पहले से ही रूम को सजा कर रखा हुआ था. भाभी ने आंख मारते हुए कहा- आपका क्या मतलब है?मैंने कहा- अपने आगे का छेद खोलो … लंड चुत के अन्दर होना चाहिए.

अब तो लंड की भूख होने पर अलीज़ा सीनियर जूनियर भी नहीं देखती है, उसे जो भा जाता है, उसी से चुदवा लेती है. साधना ने नीचे से अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया और मेरे धक्कों की ताल से ताल मिलाने लगी. मेरी उफनती जवानी में परेशान कर रही चूत ने ठान लिया कि चूत का उद्घाटन होगा तो मौसा के लंड से ही.

नरसिंह बीएफ

आप मेरे दोस्त की सच्ची सेक्सी कहानी हिन्दी में को उसी की भाषा में सुनिए.

कुछ समय पश्चात गुरूजी मुझे अपने दुपहिया वाहन में बैठाकर किसी दुकान पर ले कर गए व कुछ सामान खरीदकर झोले में डालकर मुझे दिया. अब वो फिर से मेरे पास आ गया।मैं बोली- क्या हुआ? ये आज यहां नहीं बैठेगा?लड़का- नहीं, आज इसकी ड्यूटी दूसरे रूम में है।अब मैं समझ गयी कि आज रात के लिए इसने उसको समझा दिया है।कुछ देर के बाद वो बोला- अगर आप यहीं पर बैठी हो तो मैं अपने कपड़े बदल कर आ जाऊं? बस पांच मिनट लगेंगे मुझे. फिर मेरी नज़र उसके पैन्ट पर पड़ी, जिसमें लंड की जगह पर एक तंबू बना हुआ था.

मैंने सोचा कि इससे पहले कि आंटी एक बार और झड़ जाएं, उससे पहले एक राउंड चुदाई का कर लेता हूं. मैंने उनके घर जाकर देखा, तो निगार आंटी एक झीनी सी मैक्सी में मेरा वेट कर रही थीं. एक्सएक्सएक्सवीडियोसजब मैं अंदर काउंटर के दूसरी ओर घुसने लगी तो उसके मुंह से मेरी गांड एकदम से टच होकर निकली.

मामा ने अपना जांघिया उतारा और हथेली में तेल लेकर अपने लण्ड पर मलने लगे. जब-जब मेरा लण्ड अंदर बाहर हो रहा था मुझे बहुत जबरदस्त सुख का अनुभव हो रहा था.

इससे पहले तो मुझे अपनी दीदी को चोदने के लिए बहुत जोर लगाना पड़ता था. भाई ने मुझसे कहा- अंकित थोड़ा ध्यान रखना … हमारा जाना भी जरूरी है … क्योंकि रिश्तेदारी का मामला है. मेरा चिकना लंड तैयार था उसकी गांड मारने के लिए … मैंने उसे घोड़ी बनाया, उसकी गांड पर लंड रखा.

तब तक हम दोनों सहज हो जाते हैं व एक मित्र की भांति एक दूसरे से घुलने मिलने का प्रयास करते हैं. मामी हंस कर बोलीं- अरे ये तो पुराने कपड़े हैं … रंग से खराब न हो जाएं इसलिए मैं ये पहन लिए हैं. तो आंटी बोलीं- बबलू कुछ दिन के लिए ऑफिस के काम से टूर पर गया हुआ है.

दोस्तो, आपको यह मां-बेटे की चुदाई वाली ‘इन्सेस्ट कहानी चुदाई की’ कैसी लगी, मुझे इसके बारे में अपने विचार जरूर बताना.

उसका लौड़ा मेरी गांड में अंदर तक जा फंसा और अगले ही पल उसके लंड में हल्के झटके लगते हुए मुझे महसूस हुआ कि मेरी जलती हुई गांड में कुछ गर्म गर्म गिर रहा है. करीब बीस मिनट की गांड चुदाई के बाद अब मैं अपनी चरम सीमा पर आ गया था.

गुड़िया बुआ लंड चूसने में बहुत एक्सपर्ट मालूम पड़ रही थीं और बहुत अच्छी तरीके से लंड चूस रही थीं. लेकिन मेरा मन नहीं भरा था क्योंकि उसकी फिगर में उसकी गांड का शेप गजब था. मैंने हिम्मत करके कहा- तो फिर आप पेटीकोट भी उतार दो, नहीं तो तेल लगने से खराब हो जायेगा.

मैं झेंप गया और बिना कुछ बोले आँगन में बनी नाली में मूत्र त्याग करने लगा. मैंने हल्की सी आंखें खोल कर उनके चेहरे को देखा, तो उनके माथे पर पसीने की बूंदें थीं. मेरी बेचैनी देख कर वो हंसने लगीं और बोलीं- तुम्हारी मामी ही कहती हैं कि तुम उन्हें अपनी गर्लफ्रेंड कहते हो और मामा को भी पता है.

सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू मैंने बोला- क्यों उनके पति भी तो मस्त हैं … वे आपकी सहेली की चुदाई नहीं करते क्या?मैं मामी की चूचियों को मसलते हुए उन्हें धकापेल चोदे जा रहा था. वो बोले- तुम हमारे लिये इतना सब करने के लिए तैयार हो?मैंने कहा- हां, मैं आप लोगों को ऐसे नहीं देख सकती.

कमसिन लड़की का सेक्सी बीएफ

उनको दर्द हो रहा था मगर वो मेरे प्यार के वशीभूत होकर सारा दर्द बर्दाश्त कर ले रही थी. मैं इतनी गर्म हो गयी थी कि मैं कुछ ही पलों झड़ गयी और मेरी चूत से पानी छूट गया. फिर मुड़ कर बोली- अनुज, तुझे मेरी कसम है कि तू ये बात किसी से नहीं कहेगा.

मैंने आंटी से लंड चूसने का कहा, तो नीचे बैठ कर आंटी लंड चूसने लगीं. हाय दोस्तो, मैं अपनी ‘इन्सेस्ट कहानी चुदाई की’ का दूसरा भाग आपको बता रहा हूं. हिंदी सेक्स बफउसने मेरे दोनों बूब्स पर अपने हाथ कस दिये और उनको पूरी ताकत लगा कर मसलने लगा.

पर उन्हें अच्छा भी लग रहा था, तो मस्त मादक सीत्कार भी करे जा रही थीं ‘अह हह … सीईई … मर गयीईई … रुक जा मत कर.

हम दो लोग लास्ट में थे सबसे।मैं समझ गया कि ये तीनों की तीनों एक ही बस की सवारी हैं. आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में अपनी राय जरूर बतायें.

जैसे ही आंटी की गाड़ी आगे बढ़ी ललिता अपने घर के अन्दर चली गई और मैं अपने. जैसे ही मैं अपना अंडरवियर उतारने लगा, उसने मुझे रोक दिया और अपने हाथों से उसने उसे खुद उतारा. उसकी आवाज इतनी उत्तेजक थी कि मेरी स्पीड को तेज होते हुए बिल्कुल भी देर न लगी और मैंने तेजी के साथ जिया मेम की चूत में जोर जोर से धक्के लगाना शुरू कर दिया.

दोस्तो, ये मेरी दूसरी अन्तर्वासना स्टोरी है सहेली की चुदाई की … कैसी लगी आपको? मुझे मेल करके बताएं.

उस दिन आंटी जैसे ही अपने रूम में आईं, तो मैंने उनको छिप कर देखा, पर मैं बाहर नहीं गया. वो मस्ती से चुदते हुए कह रही थी- आह आज न जाने कितने दिनों बाद मुझे चैन मिला है … आह मज़ा आ रहा है. अब तक मैं समझ चुकी थी कि मेरे लिए मौसी को चोदने का रास्ता बिल्कुल साफ़ है … बस एक पहल की देरी है.

बीपी क्लिपसोचती हूं कि कोई ऐसा मिले जो मेरी शारीरिक और भावनात्मक दोनों ही जरूरतों को पूरा कर सके. उसने मेरे ससुराल और ससुराल वालों के बारे में औपचारिक सवाल किए और मैंने उसे सब बता दिया.

बीएफ फिल्में सेक्स वीडियो

जैसे जैसे मेरा लंड उसकी चूत को अंदर तक ठोकने लगा उसकी कामुक सिसकारियां एकदम से प्रबल हो गयीं- आह्हह … आईई या … आह्ह … चोद मेरे राजा … पूरा दम लगा कर चोद. फिर वरमाला का प्रोग्राम हुआ, तो सभी लोग उसमें मजा लेने में लगे हुए थे. दोस्तो, मेरी यह पहली कहानी है और ये मेरी हॉट गर्लफ्रेंड की असली चुदाई की एक सच्ची घटना है, जो मैं आपको बताने जा रहा हूं.

आआआअह … क्या नज़ारा था यार … उसकी जांघों के बीच छुपी हुई छोटी सी शरमाती हुई फूल जैसी गुलाबी चूत लिकलिक कर रही थी. मैं स्कूल में बायलॉजी की स्टूडेंट थी तो किसी भी चीज के बारे में पूरा रिसर्च कर डालती थी. मगर सुमित बार बार मेरी जांघों को खोल कर मेरी चूत के आसपास किस कर रहा था.

अब मैंने उसके ब्लाउज को उतार दिया, वो मेरे पसंदीदा लाल रंग की ब्रा में थी मैंने उसकी ब्रा के ऊपर ही उसके 36 साइज की मम्मों को अपने दोनों हाथों से पकड़ा और दबाने लगा. हम तीनों बाथरूम में गये तो मैंने देखा कि मेरा माल साधना की चूत से बह कर नीचे गिर रहा था. ट्रेन छोड़ने से पहले भाभी ने मुझसे मेरा नम्बर मांगा और जल्द ही चुदाई का मजा देने का वायदा किया.

सर ने उनको छोड़ दिया और बोले- अब बताओ डार्लिंग क्या ख्याल है?जिया बोली- किस बारे में?आकाश- तुम्हारी ऐस फक करने के बारे में?सर ने मेम की गांड को दबा दिया. मैं बार बार अपने मोटे शक्तिशाली चूतड़ों से पूरी ताकत का इस्तेमाल कर रहा था.

फिर मैं रोज उसके घर जाने लगा और जब भी मैं चाची के सामने या आसपास होता … तो उनको घूरता रहता था.

मैं जब से शिफ्ट पर आया था, सिस्टम में उसके बारे में सर्च कर रहा था. ব্লু সেক্সি বিএফमुझे भी ये चूत फाड़ चुदाई करवा कर बहुत मजा आया और फिर हम दोनों साथ में झड़ गये. एक्स एक्स एक्स नंगीआंटी जी को भी अब मज़ा आने लगा था और वो चिल्ला कर कह रही थी- चोद फरहान … मुझे तेरे अंकल की लुल्ली से कुछ असर नहीं होता. वो मेरी चूत में उंगली करने लगा और मैंने अपनी टांगें और चौड़ी करके फैला दीं.

उसने कई बार तो थाणे में बंद अपराधियों के लंड से भी अपनी चुत की खुजली मिटाई है.

झड़ने के बाद मैंने सलोनी को पकड़ कर कुछ इस तरह पलटा कि मैं नीचे और सलोनी मेरे ऊपर आ गयी. भाभी ने मेरी पैन्ट की जिप खोलकर चड्डी से लंड निकाल लिया और उसे सहलाने लगीं. यद्यपि मुझे कोई खास मजा नहीं आया था, फिर भी चुदवा लेने की बड़ी खुशी थी.

मैं देखकर आता हूँ कि कोई जागा हुआ तो नहीं हैं घर में?सरिता दीदी को वहीं रोक कर मैं आगे बढ़ गया और देखने चला गया. वो मेरी गोलियों को अपनी उंगलियों से मसलते हुए पूरे लंड को गले तक लेते हुए चूस रही थी. वो सिसकारने लगे- हमम्म … अच्छा लग रहा है राहुल, बहुत ठंडक पहुंच रही है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो भेजिए

भाभी को सोये हुए थोड़ी देर ही हुई होगी कि मुझे मस्त सी फीलिंग होने लगी. इसी उधेड़बुन में पता ही नहीं चला कि कब हम लोग अंदर प्रविष्ट कर गए और कब मेरे आगे एक गिलास जल का रखा गया. मामी ने जल्दी में अपने कपड़े सही किए … मगर उनका पेटीकोट अभी भी कुछ ऊपर को ही था.

5 मिनट बाद ही उसका दर्द मजे में बदल गया तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी.

पांच मिनट तक उनकी चूचियों का रसपान करने के बाद मैंने भी अपने कपड़े निकाल दिये.

Xxx गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि ऑफिस से आते हुए रात के अंधेरे में एक बड़ी गाड़ी में से मुझे कुछ आवाजें आईं. जिससे उसे मेरे अगले स्टेप का पता लग गया और उसने झट से बाजू नीचे कर ली।मैंने दोबारा उसी पल किस करते हुए सख्ती से बाजू ऊपर कर दी जिससे वो थोड़ी नॉर्मल हो गयी और फिर उसने प्रतिरोध नहीं किया।मैंने अपना हाथ उसके टॉप के अंदर डाला और सहलाने लगा. ஆன்ட்டி தமிழ் செக்ஸ் வீடியோमैंने उसके अंडरगार्मेंट्स छुपा दिये जो कि वह नहाने के बाद बाहर सुखाने के लिए डाल देती थी.

मैंने उसके एक होंठों पर एक किस कर दिया, तो उसने भी गर्दन उठा कर मुझे किस कर दिया. मुझे भी आज मन हुआ, तो सोचा क्यों ना मैं अपनी xxx ग्रुप सेक्स पार्टी स्टोरी से अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पढ़ने वाले और वालियों के लंड खड़े करूं और चूत गीली करूं. मैंने पाया कि मनोहर एक अच्छा दोस्त ही नहीं बल्कि एक अच्छा इन्सान भी है.

आंटी की चुत चुसाई का सीन देखकर पास में खड़ी आंटी की सहेली ने तो अपना होश ही दिया और वो मेरे बदन को पीछे से चाटने लगीं. मेरा प्लान ये है कि हम जिया के साथ एक टास्क खेलेंगे जिसमें जीत हमारी होगी जिसके बदले आज हम जिया की गांड मारेंगे.

मैंने उसकी ब्रा के ऊपर से उसके दूधों को छुआ और हल्का सा दबा कर देखा.

साथ ही अपना हाथ बढ़ा कर उनकी गर्दन पकड़कर उनके मुँह को चोदना शुरू कर दिया. मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने छोटी उंगली दिखाई, तो मैं समझ गया कि उसको टॉयलेट जाना है. लगभग बीस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैं उनकी चूत में ही झड़ गया और उनके ऊपर ही निढाल होकर गिर पड़ा.

भाभी की चुदाई भोजपुरी में आने के बाद मैंने उसे फिर से रूम में चोदा और थोड़ा आराम करने के बाद फिर बीच पर गए. फिर थोड़ी देर तक हम दोनों ने साथ में उनके पति को ढूंढा, पर वो नहीं मिल सके.

तब उसने कहा- हाँ, आज मेरा तन और मन शांत हो गया है।मैंने उसे कहा- माँ और इच्छा है तो बता?उसने तुरंत मना कर दिया और कहा- नहीं रोहित, अब दोबारा नहीं. मैं जोर जोर से आंटी की गांड में लंड को देकर उनकी गांड को फाड़ने लगा. जब तक माल के बोबे बड़े बड़े न हों, फूली हुई चुत न हो और बड़ी सी गांड न हो, तब तक ऐसे माल की तरफ नजर डालने से मेरा लंड टस से मस नहीं होता है.

bhai वाला बीएफ

मुझे लगा था कि यहां कोई नहीं आएगा, इसलिए मैंने घर के दरवाजे में बाहर से कुंडी नहीं लगायी थी. उसने मुझे भी सहायता के लिए पुकारा व निर्देश दिया कि जिस वस्त्र में से शरीर की गंध आ रही हो उसे अलग रख दे. मैंने कहा- तो आप डाक्टर के पास गईं कभी?उन्होंनें कहा- नहीं, तुम्हारे भाई नहीं मानते हैं.

दीदी सिसियाते बोलीं- यह सिर्फ राज के लिए है … मेरी गांड पर तुम नजर भी मत डालना … ओहहह उह आह यह ओह यस. मैंने अपने मुँह से उसको गाल से गर्दन चूमना शुरू किया तो उसका एक हाथ मेरे सर था।मैंने अपने एक हाथ से उसके चूत के अंदर वाले हाथ को पकड़ कर अपने लंड पर रखवा दिया और उसकी चूत में मैं उंगली करने लगा.

मैं भी ग्राउंड में घूम कर ड्रिंक्स पी रहा था और सुंदर सुंदर लड़कियां देख रहा था.

वो बोला- अगर आपको जल्दी से अच्छे रिजल्ट्स चाहिएं तो आपको कम से कम कपड़ों में योगा करना चाहिए. वो एकदम भूखी शेरनी हो चुकी थी और अपनी सुधबुध खो कर सिर्फ लंड लेने के लिए मचल रही थी. [emailprotected]नोनवेज़ सेक्स स्टोरी का अगला भाग:मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-5.

गे क्रॉसड्रेसर सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे दूकान वाले लड़के ने मेरी क्रॉसड्रेस वाले शौक को जानकर मुझे गे सेक्स के लिए आमन्त्रण दिया. उसे मेरा साथ पसंद आया और उसके साथ ही हमारी दोस्ती शुरु हो गई।उस दिन के बाद से रोज हमारी रात भर बात होती और दिन में रोज़ घूमने जाते थे. फिर बुआ ने मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए पूछा- तुमने अभी तक शादी क्यों नहीं की?मैंने भी खुल कर बात करना शुरू कर दी- मुझे अभी तक आप जैसी लड़की ही नहीं मिली.

एक दिन मैं कोचिंग से लौटा तो देखा आज उनकी बेटी की नयी पैंटी तार पर फैली थी.

सेक्स बीएफ हिंदी ब्लू: उत्तेजना में आकर मैंने मौसी की चूत पर ऊपर से नीचे उंगली चलाना शुरू कर दिया. मामी हंस कर बोलीं- अरे ये तो पुराने कपड़े हैं … रंग से खराब न हो जाएं इसलिए मैं ये पहन लिए हैं.

लेकिन दीदी ने जवाब दिया- ठीक है फिर, आज रात को मैं वहीं पर मिलूंगी. चौथी बार लंड किसी छेद में जा रहा था इसलिए अब लंड में दर्द होने लगा था. मामी ने हामी भरी और मैंने उसी पल अपने लंड को उनकी गांड से बाहर निकाला और उनके मुँह में भर दिया.

उस समय उसने स्कर्ट और टाईट टॉप पहना हुआ था, जिसमें से उसके चुचियां उभरी हुई दिख रही थीं.

जब मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया तो मौसा उसे बड़े ही मजे से चूस चूस कर पी गये. दीदी के मुंह से निकला- आह्ह … आराम से … धीरे से दबाओ यार … इतनी जोर से नहीं। दर्द हो रहा है. आधे घंटे बाद गाड़ी किसी स्टेशन पर रुकी, तो हम दोनों एक एक चाय पीकर फ्रेश हो गए.