हिंदी बीएफ खुली

छवि स्रोत,सनी लियोन सेक्सी वीडियो एचडी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

भैंसों की चुदाई: हिंदी बीएफ खुली, शाम को जब मैं बाहर दिल बहलाने के लिए जाने लगा तो दीदी ने मुझे चाय पीने के लिए टोक दिया.

रोटी की सेक्सी वीडियो

मैं बिल्कुल उछली जा रही थी, पीछे से गांड में लंड घुसाए हुए वो तीस साल वाला जोर से धक्का मार रहा था. इंडिया सेक्सी वीडियो सॉन्गउसने जरा भी मना नहीं किया, तो मैंने चूचियां चूसने की और दबाने की स्पीड और बढ़ा दी.

अब हम फोन सेक्स करते हैं और वीडियो कॉल पर एक-दूसरे का मन बहला लेते हैं. सेक्सी वीडियो सील तोड़ालेकिन ठीक 6:10 पर सोनू अपनी किताब और नोटबुक के साथ मेरे कमरे में आई.

फिर एकता के पैरों को फैला कर उसके पीछे जा के अपना लंड उसकी चुत पर घिसने लगा.हिंदी बीएफ खुली: उसका मोटा लंड देख कर मेरी आह निकल गई और मैं उसके लंड को एकटक देखने लगी.

मैं जरा मुस्कुरा दी तो मेरे बिना पूछे ही दोनों अपना अपना नाम बताने लगे.वो मेरी गोद में बैठीं, दर्द से छटपटा रही थीं और मैं वासना के चरम शिखर पर था.

वीडियो सेक्सी फिल्म चोदा चोदी - हिंदी बीएफ खुली

कुछ देर बाद चुदास फिर से चढ़ गई, तो मैंने अपना लंड निकाल लिया, जिसे वो देखती रह गई.फिर मैं उठा और उसकी टांगों में फंसा अधखुला उसका पेटीकोट उतारने लगा.

अब मैं मोबाइल में अन्तर्वासना सर्च कर ही रहा था और सोच रहा था कि अब एक दो कहानी पढ़कर मुठ मारूंगा. हिंदी बीएफ खुली शायद इस बियर में कुछ स्पेशल था या जो दवाई नेहा(मेरे बेटे विरत के दोस्त नामित की माँ) ने मुझे जाते समय दी थी, शायद ये उसका ही असर था.

ऐसा कहकर उन्होंने अपने लंड को आहिस्ता आहिस्ता मेरी चूत में पेलना शुरू किया.

हिंदी बीएफ खुली?

कुछ देर यूं ही मस्ती करने के बाद हम सभी अपने अपने घरों को वापस आ गए. बॉस एक उंगली से मेरी बीवी की चूत का छेद देखने लगा चूत का दाना देख कर उसे रहा न गया और उसने अपनी जीभ चूत के दाने पर लगा दी. तभी मैंने मौके का फ़ायदा उठाते हुए पूछा कि फिर उसके बाद कभी तुम्हें ऐसी कोई ज़रूरत महसूस नहीं हुई?धारा- ज़रूरत तो होती है लेकिन दुबारा ऐसा कुछ हो जाए, उसके डर से शादी करने से डरती हूँ और मेरी इसी ज़िंदगी को अपना भाग्य मान के ज़ीने का फ़ैसला कर लिया है.

मैंने रिप्लाई किया- ठीक है, अगर तुम भाभी हो, तो जैसा मैं कहूँ वैसे मुझे सबूत दो. सेक्स स्टोरी पढ़ कर मुझे लगा कि मुझे भी अपना एक्सपीरियेन्स शेयर करना चाहिए. उसका लंड थोड़ा सा घुसा था, तो मैं बिल्कुल रंजना दीदी से लिपट गई और कान में बोली- दीदी बहुत मन कर रहा है कि कोई अन्दर कर दे.

एकदम से बूब्स उछल गए और मैंने बहन की ब्रा को उतार कर फेंक दिया। उसके बूब्स मुँह में ले कर चूसने लगा और दबाने लगा और कभी निप्पल को काट भी देता और वो जोर से उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी और कहने लगी- भाई धीरे करो ना, दर्द होता है।उसके बाद मैं धीरे से उसकी नाभि में जीभ को फिराने लगा और चूसने लगा तो वो तड़पने लगी और अपनी आँखें बंद करके मजे लेने लगी और जोर से सिसकारियां लेने लगी. मिसेज पाटिल बोलीं- मिसेज रॉय को क्यों तड़पा रहे हो … बेचारी तुम पे कितना दिल रखती हैं?मैंने कहा- हां वो तो पता है, लेकिन इन दोनो ने मना किया हुआ है कि वो मुझे एक बार के बाद आने नहीं देगी, इसलिए नहीं जाता हूँ. मैंने खुद को अपने रूम में बंद कर लिया और अपनी सलवार को उतार कर पहले थोड़ी देर चूत के दाने को मसला.

अगर उसकी जॉब लग गई तो यह क्यों रोक रही थी उसको? खैर, मुझे क्या लेना था इन सब बातों से. वो मेरे दर्द की परवाह किये बिना मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा.

हाय … मार दिया … मार दिया … इतना बड़ा लंड … इतना मोटा … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैंने पहली बार लिया है.

जब वह खाना खत्म करके जाने लगी तो जाते हुए भी मेरी तरफ ही देख रही थी.

कुछ औपचारिक बातें फैमिली की करने के बाद मेरी तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाते हुए उसने पूछा- रीना जी, क्या हम दोस्त बन सकते हैं?मैं थोड़ी देर चुप रही … समझ नहीं आ रहा था कि क्या कहूँ. और थक कर कुछ देर हम ऐसे ही आंखें बंद करके एक दूसरे की बांहों में पड़े रहे. वो बोला- वन्द्या तेरी चूत में आग लग गई है … यह तो आज बिल्कुल ऐसी लग रही है कि ये मेरे लंड को जला देगी.

थोड़ी दूर जाने पर ही वह जगह आ गई और मैं उस मैरिज प्लेस की पार्किंग में ही रुक गया. ब्लू कुरती और टाइट लैगैंग्स में, जिसमें उसकी चिकनी जांघें और सुडौल टांगें दिख रही थीं. हाय दोस्तो, हम निशा और विराट एक बार फिर से आप लोगों के लिए माँ की चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हैं.

अधिक दर्द के कारण सुजाता गाली देने लगी- मादरचोद मार दिया … भोसड़ी के गांड में मत कर … दर्द हो रहा है.

लंड उसके गले तक जा रहा था जिससे उसे सांस लेने में दिक्कत आ रही थी।उसके बाद फिर मैं जोर जोर से लंड को अंदर और बाहर करने लगा. वो अब मुझसे अलग हुई और बोली- पहले खाना खाओगे क्या?मैं बोला- पहले तो तुमको खाऊंगा मैं. एक मिनट तक ऐसे ही रहने के बाद मैंने लंड को बाहर निकाला और बेड पर किनारे पर खुद लेट गया.

अब आप लोग तो जानते ही हो कि चुत का नशा बहुत गंदा होता है और आज मुझे एक नई चूत मिलने वाली थी. वो मुझसे पूछने लगा- सर आप मदन से इतने घुल मिल कैसे गए?तो मैंने कहा- तू ज्यादा दिमाग मत लगाया कर … और मैंने कहा था न कि अन्तर्वासना पढ़. मेरी आंखों के सामने उसके हिलते हुए चूचे थे जो मेरी मस्ती को और ज्यादा बढ़ा रहे थे.

दो पल तक उसका इंतजार करने के बाद मैं उसको पीछे से पकड़ने के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाने ही वाला था कि निहारिका ने मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया.

मैं हल्के हल्के बुआ की मोटी चूत को सहलाने लगा, वो भी मेरा लंड पकड़ कर मसल रही थी, उन्हें भी खूब मज़ा आ रहा था. इसके अलावा यह भी बताऊंगा कि कैसे मैंने संजना की दोस्त शीना के साथ सेक्स की शुरूआत की और शीना के साथ ही थ्रीसम की शुरुआत कैसे हुई वो भी लिखूंगा। मेरी अगली कहानी के लिए आपको थोड़ा इंतजार करना होगा.

हिंदी बीएफ खुली मेरा मुँह अब आजाद हो गया, पर फिर भी मैं जानें क्यूं चिल्लाई नहीं, न ही कोई रिएक्ट किया. अंकित मेरे पास आया और जोर से मेरे बूब्स को दबा कर मुझे लिपटा कर बोला- यार, तू धोखा दे रही है.

हिंदी बीएफ खुली उसने ट्रान्सपेरेंट (आर-पार दिखाई देने वाली पारभासी) नाइटी पहनी हुई थी. पटेल का दोस्त बोला- तुमने सही प्लान बनाया … तेरा प्लान सक्सेस हो गया.

मैंने पंकज के पास जाकर कहा- अब तुझे इस तरह अपने लंड की मुट्ठ मारने की जरूरत नहीं है.

காலேஜ் ஸ்டூடண்ட் செக்ஸ் வீடியோ

मैंने पूछा- अब नहीं है मतलब? तो पहले था क्या!उसने कहा- हाँ, कॉलेज में तो था. मैं- क्या मुझे ग्रीन फील्ड के बाहर छोड़ दोगे?वो बोले- हां क्यों नहीं. उनमें से कुछ के लिए अपने फिगर की वजह से, तो कुछ के लिए पढ़ाई की वजह से.

तभी डेविड सर ने बोला- सबसे पहले मैं काम करूँगा … आधा तो कर ही चुका हूं और अभी मैं इसकी मदमस्त जवानी को देख कर बहुत गर्म हूँ. सुजाता बोलने लगी- तुमको किसने बोला है?रमेश बोलने लगा- मेरे को सब मालूम है अजय का और तुम्हारा क्या लफड़ा रहता है. मुझे कुछ तसल्ली हुई कि आख़िर मेरा भी कोई ‘कद्रदान’ कमरे में मौजूद है.

मैं बिल्कुल हांफने लगी थी, इतना कुछ मेरे साथ आज पहली बार हो रहा था, जिसके बारे में मैं कुछ भी जानती भी नहीं थी.

कैसे हो दोस्तो? मेरा नाम पंकज कुमार है और मैं झारखण्ड का रहने वाला हूँ. उन्होंने मेरी चूत और गांड पोंछ पोंछ कर सब साफ कर दिए और मेरे कपड़े भी दिए. बस फिर क्या था, मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और धीरे धीरे चूसने लगा.

वो कराहते हुए बोली- अरे दबा लेना, पहले यह बताओ तुमको कैसी लगी मैं?मैं बोला- एकदम गांड फाड़ माल हो यार … तेरी चुचियां देख कर तो कल ही पागल हो गया था मैं … आज चुचियां सामने हैं, तो समझ नहीं आ रहा है, क्या करूँ, चूस लूँ या दबाऊं इनको. तुझे जाने दूंगा, पर ऐसे नहीं थोड़ा तो देख लूं, अपनी भांजी बंध्या की चढ़ती जवानी का जलवा. मुझे अंग्रेजी अच्छी नहीं आती है, इसलिए प्लीज़ हिंदी या मराठी में ही लिखें, तो आपकी बात मुझ तक पहुंचने आसानी होगी.

उसने एक पतली सी झीनी सी नाइटी पहन रखी थी जिसके अंदर उसकी लैस वाली ब्रा और पेंटी साफ-साफ दिखाई दे रही थी. साथ ही मैं एकता के चूतड़ों पर चमाट लगाने लगा और उसकी पीठ पर चूमने लगा.

जब मैंने उसके बाद की चैट को पढ़ा तो उसमें मिशिका और रिशु की सुबह की बातें थीं जिसमें मिशिका नहा कर बाहर आई थी. मैंने तुरंत ही उसे बड़े प्यार से बेड पर लिटाया और उससे बोला- आई लव यू जान. फिर मैंने उसकी गांड पे दांत से काटना शुरू कर दिए, जिससे वह मरने की हद तक पहुंच गयी.

मन कर रहा था कि एक बार फिर से पकड़ कर उसकी चूत में लंड को घुसा दूं मगर मैं ऐसा करके उसको नाराज नहीं करना चाहता था.

इसके बाद उसने मेरे होंठों के बीच सिगरेट फंसा दी मैंने एक लम्बा कश खींचा तो मुझे खांसी आ गई. उसके बाद जब सीमा का दर्द कम हो गया तो मैंने अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी. मैं अपने बायें हाथ से सोनू के मम्मे दबाता रहा और दायें से उसकी चूत में उंगली करता रहा.

मैं बोला- अच्छा जी …वो बोली- वैसे जो मैं सोच रही हूं, वही करने रहे हो … तो साथ देने अन्दर चल सकती हूं. अब जब भी मेरे पति नहीं होते, मैं और मयूर सेक्स का मजा लेते और साथ में टाइम स्पेंड भी करते.

उसने चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड पर हाथ फेरना शुरू किया और चूमने लगी. वो मेरे को निहार रहा था क्योंकि मेरी सलवार का नाड़ा ढीला था और नाड़ा बाहर भी लटक रहा था. फिर ऊपर करके उठाया तो सबसे पहले उन्होंने कहा- वन्द्या, तेरी तो गांड बहुत जबरदस्त है.

देहाती sex

इधर मेरा सीना जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगा तो आशीष बोला- तुम्हें क्या हुआ बंध्या?मैं बोली- मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा, पहली बार ऐसा हो रहा है, कुछ अजीब सा लग रहा है आशीष.

फिर वे लोग बोले- चल जा … कोई बात नहीं निहाल जवान है, यह सब तो चलता ही रहता है. उसके बाद मैंने अपने दोनों हाथ उसकी दोनों चुचियों पे रखे और जोर जोर से दबाने लगा. अगर आप लोगों को पसंद आती है … तो ही मैं दूसरा पार्ट लिखूंगा, जिसमें धारा की गांड चुदाई हुई और कैसे मैंने श्वेता को अपने लंड के ज़ाल में फंसाया.

अब मेरी जिंदगी बहुत रंगीन और हसीन दौर से गुजर रही थी, मैं और देवी काफी खुश थे, हमारे बारे में ज्यादा जानने के लिए कृपया आप मेरी पुरानी रचनाओं को जरूर पढ़ें ताकि आपको मेरी इस कहानी के पात्र ठीक से समझ आ सकें और आप इसके ज्यादा मजे भी उठा सकें. भाभी ने मेरे लोअर में खड़े लंड को सहलाना शुरु कर दिया और मेरी टी-शर्ट निकालने लगी. काला लंड का सेक्सी वीडियोकैब में उसकी चूची दबाने में इतना मजा नहीं आ रहा था जितना अब मुझे आने लगा.

वह एक गंदा लव लेटर था। मैंने देखा कुछ अश्लील बातें उसमें लिखी हुई थी। नीचे मेरा नाम भी लिखा था. तभी रवि ने पीछे से उसका गाउन उठा दिया और उसकी कमर तक उसे नंगी कर दिया.

सभी लोग जाने लगे। अब सभी लोग छत से जा चुके थे और मैं, निहारिका और उसके दो भाई-बहन छत पर थे। हम लोग वैसे ही कुछ देर तक बात करने लगे. मैंने कहा- नहीं यार मैं तुम्हारे साथ ऐसा नहीं कर सकता, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं, पर मैंने फिजिकल रिलेशन के बारे में अभी तक कुछ नहीं सोचा है. और उसकी सहेली मेरे ही शहर में है तो मैं अब उसकी चुदाई करता हूँ और वो भी ये बात जानती है।दोस्तो, आपको मेरी यह सच्ची सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे आप मेरे ईमेल पर बताइये.

मैं भी गाने से जोश में आ गयी थी और डेविड ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसेड़ दिया. उतने में वो हंसते हुए बोली- मुझे पता है, क्या सर्च कर रहे हो मोबाइल में?मैंने चौंकते हुए कहा- कैसे?वो बोली- शायद तुम्हें भी फील हुआ है, जो मुझे पार्टी बम देते टाइम हुआ था. मैं बोली- हां … वन्द्या नाम है मेरा … मैं अभी मौसी के यहां उनकी बेटी की शादी में आई हूं … कनका गांव है, वैसे सतना जिले की हूं.

आखिरकार लंड जब अपना पानी छोड़ने वाला था, तब मैंने लंड उसकी गांड में घुसाया और सारा पानी उसकी गांड में छोड़ा.

जी … मुझे नहीं पता कुछ भी …” मैंने शर्मिंदा सी होकर जवाब दिया।अच्छा … तुझे अब कुछ भी नहीं पता … यू. उसकी मादक सीत्कारों से मुझे और भी उतेज़ना मिल रही थी, कभी एक चूची चूसता तो कभी दूसरी.

उसके बाद मैंने सुषी की चूत में अपना लंड डाल दिया और सुषी ने हल्की सी आह्ह निकाल दी अपने मुंह से. वो मेरी गोद में बैठीं, दर्द से छटपटा रही थीं और मैं वासना के चरम शिखर पर था. मैंने उसकी साड़ी ऊपर को खिसका दी और वाणी ने और आगे खिसक कर लंड को अपनी चुत में घुसा लिया.

उसे जगाने के बहाने और उसको चाय और ब्रेकफास्ट देने जाती थी, तो उसके सामने पूरा झुक के अपने मम्मों का दीदार कराती थी. संध्या बोली- मेरी चूत चाट रहे हो, मुझे चोदने वाले हो, तो फिर क्या ये संध्या जी, संध्या जी लगा रखा है. मैंने उससे कुछ देर इधर-उधर की बातें की और फिर हिम्मत करके उससे पूछा-एक बात बता नीरू, क्या तूने कभी किसी लड़के को न्यूड (नंगा) देखा है?”मेरे ऐसे सवाल से वह थोड़ी सी सपकपा गई और चुप सी हो गयी.

हिंदी बीएफ खुली रास्ते में पहले तीन लोग कार में, दो मॉल में और फिर स्टोर से बंगले पहुंचने में एक. मेरा लंड जैसे ही आजाद हुआ तो सुषी ने उसे अपने हाथों में ले लिया और उसको ऊपर नीचे करते हुए मेरे होंठों को चूसने लगी.

सेक्सी नंगी सेक्सी नंगी

मैंने जल्दी से उन्हें मोबाइल में देवर भाभी की चुदाई वाली कहानी लगा कर मोबाइल दे दिया. क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे. काफी देर लंड चूसने के बाद वो अपनी टांगें फैला कर बोलीं- आ जा जमाई राजा.

मैंने भाभी के टॉप में हाथ डाला और उनकी गुदाज कमर पर हाथ से मालिश करने लगा. वो मेरी चूची को अपने लंड से चोद रहा था, तो उसके लंड का पानी मेरी चूची में लग रहा था. एचडी सेक्सी जानवरों कीइस बीच हम रोजाना तो नहीं लेकिन कभी कभी थोड़ी मस्ती आपस में कर लेती थी।एक दिन हमने रात को फिर मस्ती करने का प्लॉन बनाया। बहुत दिन से पति से दूर होने के कारण मैंने भी उसको हां बोल दिया लेकिन उस रात उसने कुछ नहीं किया बस घूम फिर कर आने के बाद चुपचाप ही सो गई.

अब मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ाई और ज़ोर ज़ोर से उन्हें चोदने लगा.

फिर उन्होंने कहा- आज तुमको हमारे घर आना है शाम को सात बजे और खाना ख़ाकर मत आना. एक दिन उसने सुबह सुबह अपनी चादर हटाई हुई थी और उसका लंड खड़ा हुआ था.

दरअसल मुझे बहुत सारे लड़के पसंद करते हैं लेकिन मैं अपने नजदीक के लड़कों से सेक्स करना पसंद करती हूँ क्योंकि इनका लंड हमेशा मुझे मिलता रहता है. एक दिन तो मैंने अपनी चूत को शांत करने के लिए एक रिक्शे वाले से चूत को चुदवा लिया. उसके बर्ताव से मुझे थोड़ा अजीब लगा, फिर सोचा शायद पहली बार मिल रहे हैं, तो हितेश शरमा रहा होगा.

मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि इस महिला से बात करूँ या नहीं? अगर उस वक़्त उस महिला के बारे में कुछ भी पता होता, तो शायद बात करने की हिम्मत दिखा पाता.

यह मेरे पापा ने भी देखा तो वो बोले आज हम सब भी ग्रुप सेक्स एन्जॉय करेंगे. मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा और उसे फिर से तड़पाने लगा. मैं लोवर में था और भाभी मैक्सी में अन्दर ब्लैक कलर की ब्रा पेंटी पहने हुई थीं.

हिंदी सेक्सी ब्लू वीडियो एचडीअब उस दिन की शाम ढलने लगी, पर मेरे अन्दर की जो आग थी, वह अब तक बुझी नहीं थी. मेरा लंड अभी भी खड़ा था जो भाभी की चूत से टकरा रहा था, मैंने भाभी की पीठ पर हाथ फिराना शुरू किया उनके चूतड़ों को सहलाया, उनके पटों को सहलाया.

xnxx एचडी वीडियो

सरदारजी का लिंग अभी तक मेरी योनि में था और मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे कोई साँप दम तोड़ता है, वैसे ही अकड़न ढीली कर रहा. पांच मिनट बाद भैया ने अपना लंड निकाला और मेरे मुँह में दे दिया और मैंने लंड चूसना चालू किया. मैंने अब आंटी की गांड के छेद को टटोलना शुरू कर दिया और अपनी एक उंगली आंटी की गांड में डाल दी.

चूंकि मैं पहली बार लिख रहा हूँ तो यदि लिखने में कुछ गलती हो जाए, तो प्लीज़ मुझे माफ़ कर देना. मैंने उत्तेजना में वहां बीती मेरी बहन की सहेली रंजना दीदी के सीने पर हाथ रख कर उनके दूध दबा दिए. मैंने सोचा कि एक तो मैं पहली बार किसी मर्द के सामने आधी नंगी होने वाली हूँ … कैसा लगेगा.

मैं जिस मोहल्ले में रहता हूँ, वहाँ ज्यादा घर नहीं हैं, सब कुल गिने हुए 25 घर हैं. अब चूँकि कमरा एक ही था और शादी के बाद बेवजह शर्म दिखाने का कोई फायदा भी नहीं था. उसने मेरी तरफ देखा और उसे एकदम से न जाने क्या हुआ कि उसने बड़ी हिम्मत करके मेरी चूत को देखना शुरू कर दिया.

मेरी बीवी को अब तक यह नहीं पता चला कि उसकी चूत दूसरे मर्दों के तीन लंड से चुद चुकी है. शिखा बोली- तुम कहीं बाहर घूमने नहीं जाते क्या? तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैंने कहा- नहीं, अभी तक तो नहीं है.

इस वक्त मेरा मन हो ही रहा था और मैं बिना लंड के रह ही नहीं पा रही थी.

फिर बारी उसकी थी, वो कुतिया के जैसे बन गई और मेरा अंडरवियर नीचे करके एकदम झट से लंड को मुँह में भर के चूसने लगी. मसाज करने वाली सेक्सी वीडियोअब मैंने उसको बोला- चूसो इसको!उसे लंड मुँह में लेना कुछ अज़ीब सा लगा और वो मना करने लगी, लेकिन मैंने मेरी कसम देकर उसको मुँह में दे दिया. होली में सेक्सी चुदाईमैं रंडियों की बात नहीं कर रहा, हां अगर डेली लाइफ में कोई इतने साइज का लंड लेगी तो उसकी प्यास आसानी से बुझाई जा सकती है. मैंने भाभी के स्कर्ट के इलास्टिक में हाथ डाला और स्कर्ट को नीचे निकाल दिया, भाभी ने अपनी पैंटी पहले ही उतार दी थी.

मैं और कहाँ जाती बेटा, यहाँ से घर कितनी दूर है, तुम तो जानते ही हो.

मैंने आंटी की चूत को सहलाना जारी रखा और एक हाथ से आंटी के बोबों को भी दबाना जारी रखा. मैंने एक हाथ से उनकी साड़ी और पेटीकोट निकाल फेंका और चड्डी के ऊपर से चूत को स्पर्श किया. कुछ तो मौसम और बारिश का असर था और कुछ पहले दिन का बढ़िया एक्सपीरियंस था जिसके कारण सोनू मेरा साथ देने लगी.

थोड़ी देर बाद भाभी ने अपने चूतड़ों को थोड़ा हिलाया और लण्ड को चूत में अच्छे से सेट करके बोली- अब करो. फिर वो मुझसे बोला- जा … टिश्यू पेपर ला कर मेरी रंडी का चेहरा साफ़ कर दे और ऋतु की गांड से और मेरे लंड से क्रीम साफ़ कर दे. इंदु के चूचे ब्लाउज के बाहर आ गए उसके मम्मे मुझे फूल गोभी के आकार के लग रहे थे.

क्शकशकश com

उसके बाद तो जब भी हम दोनों को अकेले में मौका मिलता हम दोनों सेक्स का खूब मजा लेते थे. पेपर शुरू हुए करीब आधा घंटा हो गया था और मैं फ्रंट पेज पर अपनी डीटेल लिखने के अलावा कुछ नहीं कर पाई थी. दो मिनट बाद रिशु ने मिशिका की चूत पर लंड को रखा और एक धक्का दे दिया.

मेरी इस आपबीती को आप सभी पढ़ रहे हैं, मैं आपको आगे बढ़ने से पहले मेरी काया के बारे में बताना चाहूँगी.

उन्होंने बताया कि मेरा एक लड़का है, जो अभी बारहवीं में है, हॉस्टल में ही रहता है.

पहले उसने मेरे लंड के सुपारे को किस किया, फिर मुँह में लंड भर लिया. उनके घर में आंटी अंकल मतलब भाभी के पापा मम्मी भाभी का भाई था, जो अपने हॉस्टल जा रहा था. महिलाओं की योनि कैसी होती हैइसमें मैं क्या कर सकता हूँ भला? बोर्ड ऑब्ज़र्वर ने तुम्हारी शीट छीनी है.

मेरी गीली चूत में वो अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे हचक कर चोद रहा था. लगभग 15 मिनट की धकापेल के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गए और एक दूसरे से चिपके हुए ही बिस्तर पर गिर गए. साथ ही बॉस मेरी बीवी की चूत लगातार चोद रहा था और हर शॉट के साथ मेरी बीवी की दोनों मदमस्त चूचियां हिल रही थीं.

इधर चारु हमेशा मुझे हितेश के नाम से चिढ़ाती और उसकी देखा देखी बाकी लड़कियां भी मुझे हितेश का नाम लेकर चिढ़ाने लगीं. इतने में स्टेशन आया, तो मैं बदनामी के डर से उस डिब्बे से उतर गया और उस लड़के से आंख बचा कर दूसरे डिब्बे में चढ़ गया.

ठंड की वजह से पूरी सड़क मोहल्ले सुनसान होते थे, सो बड़ी परेशानी में थी.

पीछे आंगन या टॉयलेट की ओर कोई आने वाला था नहीं, शायद यही सोचकर प्रशांत ने घर की ओर अपनी बाइक मोड़ दी. वो मुझसे पूछने लगा- सर आप मदन से इतने घुल मिल कैसे गए?तो मैंने कहा- तू ज्यादा दिमाग मत लगाया कर … और मैंने कहा था न कि अन्तर्वासना पढ़. साथ ही नीना ऊपर-नीचे सांस छोड़ने लगी जिससे चूचियां भी ज्वार-भाटा की तरह हरकत करने लगीं.

सेक्सी 2 सेक्सी 2 सेक्सी 2 सेक्सी 2 वो मुझे कुदरत की तरफ से मिली एक बख्शीश है, इसे देख कर सिर्फ लड़कियां ही मुझसे जलती हैं, बाकी सब इसे चाहते हैं. मैंने कहा- मगर बताओ तो सही क्या है ये?उसने कहा- तुमको मुझ पर भरोसा नहीं है क्या?उसकी ये बात सुनकर मैंने उसके बाद उससे कोई सवाल नहीं किया और चुपचाप उसके हाथ से गोली लेकर खा ली.

आदाब दोस्तो, मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागआपा के हलाला से पहले खाला को चोदा-2पर आप सबकी ढेर सारी ईमेल मिलीं … आप सबके इस प्यार के लिए बहुत शुक्रिया. उनका मैसेज आया- क्या हुआ?एक बार तो मैं कुछ नहीं बोला लेकिन फिर मैं बोला- भाभी आपकी याद आ रही है. मैंने देखा कि मिशिका रिशु के विशालकाय लंड को अपने मुंह में लेकर बड़े ही मजे से चूस रही थी.

सेक्सी बीपी वीडियो दिखाइए

आगे बढ़ने से पहले मैं यह जानने की कोशिश कर रहा था कि यह खुलकर सेक्स क्यों नहीं करना चाहती है. आपने क्या सब कुछ देख लिया था?भाभी कहने लगीं- अच्छा एक बात बताओ, जब मैं तुम्हारे घर आती हूँ, तो तुम मेरी तरफ देख कर क्या सोचते हो?मैंने कहा- आप क्या सोचती हैं कि मैं आपको देख कर क्या सोचता होऊंगा?भाभी ने सीधे सीधे कहा- जब भी मैं तुम्हारी मम्मी से बात करने जाती हूँ, तो तुम मेरे बूब्स क्यों देखते हो?मैं उनकी इस बात पर सकपका गया और कहा- नहीं तो भाभी. इस दौरान मैंने उन्हें बता दिया कि अभी तक तो मैं फ्री हूँ, लेकिन आपने कुछ भी फिक्स नहीं किया और मुझे किसी और ने बुक कर लिया, तो मेरा आना मुश्किल हो जाएगा.

पर कोई रंडी कैसे सील पैक हो सकती है? अगर सील पैक होती तो इसकी नथ उतारने की डील हुई होती. आखिरकार लंड जब अपना पानी छोड़ने वाला था, तब मैंने लंड उसकी गांड में घुसाया और सारा पानी उसकी गांड में छोड़ा.

वो मेरे इस कदम से एकदम से शॉक्ड हो गई और कहने लगी- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- यार मेरे होते हुए तुझे सीढ़ियां चढ़ने की क्या ज़रूरत है, मैं हूँ ना तुम्हारे लिए.

फिर 4 बजे भाभी ने चाय बनाई और बाहर बालकनी में मामा जी को चाय देकर मेरे पास आकर बैठ गईं. तभी अचानक अपने आप ही मेरे हाथ ने उस पटेल के दोस्त के लंड को जोर से पकड़ लिया और अपने आप ही उसे ऊपर नीचे करके रगड़ने लगी. मैं हाँफ रहा था और कोमल ने मेरे सारे वीर्य को अपने अंदर गटक लिया था.

मेरी शादी कम उम्र में ही हो गई थी, पर मेरा कमजोर पति मुझे सुख नहीं दे पाता था. चूंकि मम्मी पापा के मुझे केवल चूतड़ ही दिखाई दे रहे थे इसलिए वह मुझे नहीं देख सकते थे. वह साड़ी ऊपर करती रही और मैं घुटनों पर फिर जांघों के अन्दर, फिर चूत पर, नाभि पर किस करता हुआ साड़ी के ऊपर से ही चूचियों को किस करने लगा.

मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रख कर पूछा- ज़रीना, तुम वाकयी और चुदवाना चाहती हो?वो उत्तेजना में चिल्लायी- हाँ … अब देर मत करो और अपना लंड मेरी चूत में डाल दो, फाड़ दो मेरी चूत को!मैं अपने लंड को धीरे-धीरे उसकी चूत में डालने लगा.

हिंदी बीएफ खुली: भाभी ने पहले तो लंड चूसने से मना किया लेकिन बाद में मान गईं और फिर पूरे रूम में गप गप्प उनके थूक और मेरे लौड़े की आवाज़ गूंज रही थी. मेरे मुँह से गालियां निकलने लगीं- ले साली रांड … बहुत दिनों से इसी दिन का इंतज़ार था मुझे.

यह सब तो तभी पता लग पाएगा जब उसको फिर से चोदने का मौका मिलेगा और मैं आज तक उसी मौके की तलाश में हूँ. मैं अब माँ नहीं बन सकती थी इसलिए मैंने भी उसका वीर्य अपनी चूत के अंदर ही गिरवा लिया. ‘सॉरी डार्लिंग, तुम चुदाई में नयी नयी हो, तो मैं समझा तुम मजाक कर रही हो, क्या ज्यादा दर्द हो रहा है?’ यह कहकर मैं अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

यहाँ किसने आना है अब, सारे कपड़े अन्दर सुखा देता हूँ और लुंगी पहन लेता हूँ, जब तक लाइट है, तब तक तो ठंड लगेगी नहीं.

रमीज मुझसे बोला- वन्द्या, मैं लौड़ा घुसा दूं तेरी गांड में?मैं बोली- हां रमीज डाल दो. रात को मैंने अपने पति से कहा- आज तुम्हें एक नई चूत दिलवाती हूँ ताकि तुम्हारी शादी के बाद वाली पहली रात पूरी यादगार बने. अब उसकी चूत का मंथन अपने लंड से करने के लिए मेरे सब्र का बांध भी मेरे सेक्स के आवेग को ज्यादा देर संभालने में नाकाम दिखाई देने लगा था इसलिए मैंने एक धक्का और मारा जिसके साथ ही पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.