राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ पिक्चर सेक्सी एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स वीडियो 2018: राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ, फिर से गाउन नीचे कर देती … ये सोच कर कि न जाने कब दोनों में से किसी की नजर मुझ पर पड़ जाए.

मस्त मस्त बीएफ

इस खेल की मजेदार बात यह थी कि उसकी अनचुदी टाईट चूत, जो मेरी उंगली को भी घुसने की जगह नहीं दे रही थी. अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियोफिर बहन ने अन्दर आकर दरवाजे की कुण्डी लगायी और वो भी हमारे साथ शामिल हो गयी.

क्योंकि गर्मी के दिनों में फसल न होने के कारण खेतों में कोई नहीं होता और यहां पर कोई मोटरसाइकिल या कार अब नहीं आने वाली थी. हिंदी मूवी बीएफ ब्लू फिल्मशाम को मैं बाइक लेकर उनके घर गया और उनसे पूछा कि आपको मेरे साथ चलना था?उन्होंने मुझे स्माइल दी और पार्लर जाने की कह कर मेरे पीछे बाइक पर बैठ गईं.

तीसरी बार पानी निकल जाने के कारण हम दोनों बहुत थक गए थे और हम दोनों की फिर से नींद लग गयी.राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ: उस दिन मैंने कंप्यूटर पर कोई सेक्सी फोटो नहीं देखी। ड्यूटी ख़त्म करके मैं अपने कमरे पर आ गया और उसके बारे सोच सोचकर मुट्ठ मारकर सो गया।अगली शाम जब ऑफिस जा रहा था तो सोच रहा था कैसे उसको पटाऊँ। जैसे ही मैं पहुंचा तो सबसे पहले यूनिफार्म लेकर चेंजिंग रूम की तरफ जा रहा था कि अचानक सामने से वो नर्स रोजी आती हुयी दिखाई दी.

जब उसको मज़ा आने लगा, तो मैंने उसको चूमना चालू कर दिया और बड़े प्यार से बाकी का आधा लंड अन्दर घुसाता चला गया.दादाजी की भी उस पर कुछ प्रतिक्रिया नहीं थी, ना वो हिल रहे थे, ना उनकी आंखें खुली हुई थीं.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो चुदाई - राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ

मेरा देवर मेरी चूत को चोदते चोदते कभी कभी लंड बाहर खींच कर मेरी चूत पर एक लम्बा किस कर रहा था और मेरी चूत के दाने को मसल रहा था, जिससे मैं और भी ज्यादा कामुक हो रही थी.फिर मैंने सपना को पटाने के लिए और आगे बात बढ़ाई, मैंने कहा- तो यार इसमें गलत क्या है, सेक्स करना तो सबकी शारीरिक इच्छा होती है.

उस रोज मैंने भाभी को घर के हर कोने में ले जाकर चोदा, पूरी रात चोदता रहा. राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ उसके बाद मैंने सोचा कि क्यों न नई-नई चूतों को चोदने का मजा लिया जाए.

फिर जगत अंकल ने पीछे तरफ से मेरी स्कर्ट को ऊपर उठा दिया, तो मेरी गांड तक मैं बिल्कुल नंगी सी हो गई.

राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ?

उसकी पेंटी के ऊपर चूत की जगह अपना मुँह रखकर मैंने अपने दांत गड़ा दिए. नेहा आंटी झट से वहीं नीचे जमीन में बैठ कर मेरा लंड चूसने लगीं और मैं उनके बूब्स मसलने लगा. चूंकि कार में गजल सांग बज रहा था और साउंड सिस्टम की आवाज कुछ तेज थी.

रात को खाना खाते वक्त भी भाभी मुझे कुछ ज्यादा ही प्यार परोस रही थीं. मैं अपनी गर्म चूत में कभी खीरा तो कभी मोमबत्ती डाल कर उसकी प्यास बुझाती थी. तब वंदना ने मुझसे पूछा कि रात में तुम्हें क्या हो गया था?तब मैंने नाटक करते हुए पूछा- कब?तब उसने कहा- जब मैंने तुम्हारा हाथ अपने पेट और गले के थोड़ा नीचे रखा था, तो तुम अपना हाथ कहां ले गए थे और क्या कर रहे थे?पहले तो मैंने उसको यह पूछा- क्यों तुम्हें मजा नहीं आ रहा था.

मुझे उसकी तड़प और मज़ा देने लगी और मैं अपने फौलादी लंड को उसकी चूत में डालने लगा. मैंने हिम्मत करके उसका नम्बर भी ले लिया और साथ ही अपना नम्बर भी उसको दे दिया. अब कुछ पल बाद वो फिर से गर्म हो गईं और उनकी कमर ने हिल कर मेरे लंड को इशारा दिया.

बस मैं शुरू हो गया और जोर जोर से एक चुची को चूसता तो दूसरी को मसलता. मामी मुझसे पूछती- तुम्हें मज़ा नहीं आता क्या?मैं कहती- इसमें भी क्या मज़ा है मामी?फिर हम किराने की दुकान पर चले गए और वहां पर सामान की लिस्ट दुकानवाले को दे दी.

मैंने प्रिया का हाथ पकड़ कर उसे अब बिस्तर पर खींच लिया और वो भी लहराती हुई मेरे सीने से चिपक गयी.

तब तक वह मेरे पीछे आकर खड़ी हो गई, उस वक्त मैं बेडशीट बदल रही थी- मैं आ गयी … ये तुम्हें पसंद नहीं आया क्या?सोनल बोली.

मैंने अपने लंड को उस पर थोड़ा सहलाया वो तड़पने लगी और कहने लगी- डाल भी दो न जान! नहीं तो मेरी चूत रो देगी!डालने तो दे जान … तेरी चूत क्या … तू रोएगी. तब मेरी बुआ मान गईं और वे वंदना को हमारे घर 10 दिनों के लिए छोड़ने के लिए राजी हो गईं. लेकिन उनका लुक एक गांव के जवान देसी चोदू ग्वाले जैसा लग रहा था, जो नग्न अवस्था में पशुओं को खाना पानी दे रहा था.

हम दोनो के मुँह से सिसकारी निकलती मगर वो झूले के घूमने की आवाज की वजह से कोई नहीं सुन पाता था. इस पर एक ने कहा- तब तू उसको छोड़ दे, वो तुम्हें पूरी तरह से बजा बजा कर किसी और के साथ जाएगा पक्का. शादी में व्यस्त होने के कारण मेरी वंदना से बात नहीं हुई, लेकिन दीदी को विदा करने के बाद हम सबने खूब एन्जॉय किया.

मैंने कभी नहीं सोचा कि मुझे सच में इन मोटे मोटे ऐसे लंड से कभी मेरी भी मस्त चुदाई होगी.

जल्दी ही हम लोग 69 की पॉजीशन में आ गए और मैं उसकी चूत के दाने को चाटने लगा. ठाकुर अंकल ने मेरी चूत में हाथ लगाया और अपनी एक उंगली मेरी चूत में पेल दी. यह कहकर मैंने उसे मेरा लंड चूसने को कहा, पहले वो थोड़ा झिझक रही थी, पर मेरे जोर देने पर उसने मेरा लंड मुँह में ले लिया और लंड चूसने लगी.

यह कहते हुए वह तुरंत नंगा हो गया और उसने मेरी नाइटी भी उतार कर फेंक दी. कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मीनाक्षी खुद बोली- अब मुझे घोड़ी बनाकर चोदो. वो मेरे ऊपर ही लेट गया और बोला- आंटी, तुम बहुत गजब की माल हो इस उम्र में भी … जानेमन मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ.

मेरा लंड जो सुस्त पड़ा था, एकदम से उसमें आग सी लग गयी और धीरे धीरे वो अपनी औकात दिखाने लगा.

मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाह से देखा, तो उसने बेझिझक कहा कि इसको दूध पिलाना होगा. पर मैंने उसे कह दिया कि आज पति शाम तक आ जायेंगे इसलिए किसी और दिन इस पर विचार करेंगे.

राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ फिर मैंने उसे उल्टा लेटाया, अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रख कर जोर का धक्का दे दिया. वो मुझे बहुत अच्छे से चोद रहा था, ऐसा लग रहा था कि वो सेक्स करने में बहुत अनुभवी चोदू है.

राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ मैंने भी अब उनकी दोनों चूचियों को अपने हाथों में थामकर उन्हें जोर से मसल दिया, जिससे सुलेखा भाभी के मुँह से फिर से एक तीव्र आवाज निकल गई ‘इईईई … श्श्शशश … आआ ह्ह्ह्ह्ह …’उनकी मीठी सीत्कार सी फूट पड़ी. वो भी एक चाची और भतीजे के बीच सब हो रहा था, जो शायद जल्दी से कहीं नहीं होता होगा.

मैं- भाभी, तुम भी न … बच्ची को बेकार में डांट देती हो।सुशीला- अब वो बच्ची नहीं रही … और तुम दोनों जो कर रहे हो … वो ठीक नहीं है.

आंटी की सेक्स

पर चाहिए तो सही दे पाओगे?वह- आप बोलो तो?मैं- मुझे आपका माल चाहिये?वह- क्या?मैं- मैंने यह दूध तो पी लिया है, मगर मुझे अब आपका दूध चाहिए. मैंने धीरे से उसे बेड पे लिटाया, उसने झट से अपनी करवट बदल ली और दूसरी तरफ घूम कर लेट गयी. इस वक्त मैंने उसके लंड को अपने मुँह से निकाल दिया था और बस अपनी चूत चटवाने का मजा ले रही थी.

क्यों कुछ काम था क्या?मैं- नहीं बस ऐसे ही मैंने देखा कि आप अकेले घर के बाहर ख़ड़ी हो, इसलिए मैंने आपसे पूछा. उधर से आवाज़ आई- हैलो, राज जी बोल रहे हो?मैंने बोला- हां जी बोल रहा हूँ. आज मैं जो अपनी बात आपसे शेयर करने जा रहा हूँ, वो घटना फरवरी महीने की ही है.

जैसे ही उन्हें पता चला कि मैं भी शादी में जाने के लिए आया हूँ, तो वो बहुत खुश हुईं.

भले ही पहले जेठ जी ने मेरे साथ थोड़ी जबरदस्ती की हो, पर उनकी चुदाई मुझे इतनी पसंद आ गयी कि पति के आने तक मैं उनके नीचे ही लेटी रही. अब नेहा आंटी ने जब देखा कि मॉम इतने गंदे तरीके से चुद रही हैं, तो उन्होंने तुरंत मेरा लंड हाथ में ले लिया और हिलाने लग गईं. दर्द के मारे मेरे आंखों से आंसू निकल आए, पर अंकल उठने नहीं दे रहे थे.

सुमन बहुत गर्म हो गई थी और चिल्ला रही थी- भाभी, प्लीज मेरी चूत का पानी निकाल दो! और अपने कूल्हे उछाल-उछाल कर मेरे मुँह में मार रही थी, मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत में पेले जा रही थी. जैसे अभिषेक ने मेरे सन्नी का गला चोक किया था, वैसे ही मैं उसे अभिषेक समझ कर उसका मुँह चोद रहा था. आख़िर मुझको सरकारी नौकरी मिल गई और वो भी स्टाफ सर्विस कमिशन की परीक्षा पास करके मिली थी.

वह क्या बोलेंगे तू इंजॉयमेंट कर बस … यह जो अपनी लाइन में उधर विंडोज तरफ बैठे हैं, सबसे बड़ी मूछें रखी हैं. मैंने सोनू से कहा- जिस दिन तुम पहली बार मेरे पास आई थी और मैंने जो तुम्हारी चूत देखी थी, उसमें और इसमें दिन-रात का अंतर है.

मैंने सिर्फ नैना से दोस्ती इसलिए की थी कि वो खुश रहे और उसकी गृहस्थी ठीक से चलती रहे. वो मेरी टांगों की तरफ आ गया और मेरी टांगें फैला कर मेरी चूत को चाटने लगा. कुछ दिन के बाद एक दिन शनिवार को सुबह मेरी कुछ आवाज के कारण नींद खुली.

यह देखकर उन्होंने अनुप्रिया के बूब्स पकड़ लिये और चूसने लगी और उसी अवस्था में बेड पर आकर गिर गयी दोनों!मैं उठी और मैंने दरवाजे को बन्द किया.

आज सच में इतना अधिक पानी निकला था कि हम दोनों के जिस्म का नीचे का हिस्सा लंड चूत के रस से भीग गया था. मैं उससे बोला- यह फर्स्ट टाइम था और इस टाइम खून आता ही है, इसमें डरने की कोई बात नहीं है. चाची मेरा लंड लेने के बाद पागल हुई जा रही थी, मेरे होठों को चूस रही थी, मेरी कमर को नोच रही थी.

मैंने तुम्हारे गले में एक अमेरिकन डायमंड का हार, जो थोड़ा महंगा था, मैंने तुम्हारे दोनों बूब्स को दबाते हुए डाला था. वो मेरे सिर को अपनी छाती पर दबाने लगी और मैंने भी रूपा के निप्पल को चूसते हुए एक और जोरदार धक्का मार कर अपना पूरा का पूरा लंड रूपा की चूत की गहराई में उतार दिया.

मैंने अपने पति को लंड चुत में घुसाने के लिए कहा तो उन्होंने अपना लंड थूक से गीला कर के मेरी गांड को दोनों हाथों से फैलाकर अपना मोटा लंड मेरी चुत में घुसाने के लिए चुत के दरार पर रख दिया. इस चूची काटने के दर्द के दौरान उसे यह नहीं पता चला कि उसकी चुत में मैंने पूरी उंगली डाल दी. उसने मेरे ऊपर आकर मेरे हाथ इतनी सख्ती से पकड़े कि मैं छुड़ा भी नहीं पाई.

ట్రిపుల్ ఎక్స్ సినిమాలు

मेरी चूत को मेरी सहेली का पति चाट रहा था और मैं उसके मुँह में झड़ गई.

उसके होंठ चूसने के बाद मैं उसकी गर्दन चाटने लगा … अब वो पूरी तरह से तैयार थी. आह क्या फीलिंग थी दोस्तो … आपको बता नहीं सकता, उनकी गर्म जीभ लंड पे फिसल रही थी और मुझे पागल कर रही थी. वैसे तो चूत में धक्के मारते टाइम बूब्स ही मसलते हैं … किंतु मैं थोड़े अलग अंदाज में उनकी गांड मसल रहा था.

जैसे ही मेरे लंड का सुपारा उनकी चूत में गया … तो वो ज़ोर से चिल्लाने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत मोटा है … नहीं मुझे छोड़ दो … नहीं मैं मर जाऊँगी … आह … अपना लंड बाहर निकाल लो. अब जब मैंने उनको चोदने का सोचा तो मन बोला कि क्यों न सरोज चाची की गांड में ही लंड डाला जाए. अंग्रेजी बीएफ चोदा चोदीवो जब मुझे अपने किस्से सुनाती तो बदन में सिरहन सी होने लगती। उसके पास सब कुछ था फ़ोन, अच्छे कपड़े, आशिक़ … वह सब कुछ जो एक जवान लड़की के पास होता है। उसके ज़रिये कई लड़कों ने मुझे परपोज़ किया पर मैं अपने परिवार से डरती थी, अपनी जवानी पर कंट्रोल करती थी। बीतते हुए समय के साथ मैं और भी मस्त हो चुकी थी। तराशे हुए जिस्म, उभरी हुई गांड की मालकिन हो चुकी थी।एक दिन पिंकी के घर हम अकेले थे.

हम दोनों की लम्बी लम्बी सांसें, एक साथ कराहते सिसकते हुए कमर से कमर टकराने लगीं. फिर उन्होंने मुझसे कहा- पागल, परेशान न हो, तेरा हथियार तो तगड़ा है पर तेरा पहली वार था तो इसलिए जल्दी निकल गया.

मैंने पुनीत का लंड छोड़ कर सामने चूत चोद रहे मैक को कसके अपनी बांहों में जकड़ लिया और नोंचने लगी. आपको मेरी सेक्सी कहानी कैसी लगी? मुझे जरूर बताइये।मेरा ईमेल आई डी है[emailprotected]. वो मेरे कूल्हों को फैलाकर अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा और बोला- वन्द्या तू सच में बहुत बड़ी कुतिया है.

मैम ने अपना मेरे लंड पे रख दिया और वे पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसलने लगीं. इसी कड़ी में मैंने उसको उसके नाम से फेसबुक पर सर्च किया, तो बड़ी मेहनत के बाद वो मिल गई. बलवंत के साथ बिताई रात जितनी खतरनाक थी ( पढ़िये मेरी कहानीवह खतरनाक शाम) उतनी ही हसीन इसके साथ बिताई वह रात थी, रात के बीतते हर प्रहर ने मुझे भी तृप्त किया और उसे भी.

वो जब रात को अनिल से चाय के लिए पूछने आती तो खूब छोटे कपड़े पहन के आती थी.

मेरी सहेली हमेशा जॉब करने के बाद जब भी ओवर टाइम की बात अपने घर में कहती थी, तो समझो वो अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ घूमने निकल गई है. अब मैंने अपना एक हाथ भाभी की पेंटी पर रख दिया और उनकी फुद्दी को पेंटी के ऊपर से ही मसलने लगा.

हालांकि मैं दो भाभियों की चूत कई बार मार चुका था मगर कुंवारी चूत को चोदने का मजा ही कुछ अलग होता है. बस एक मिनट में मुझे जोर जोर से रगड़ने के बाद अनवर के लंड का गरमा गरम लावा छूटने लगा और मेरी चूत में पूरा रस भर गया. मैं पंजाब के जालंधर का रहने वाला हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 7 इंच है और मेरा औजार 6 इंच लंबा और बहुत मोटा है।अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है उम्मीद करता हूँ कि आप सब को पसंद आएगी। ये बात तब की है.

बिल्कुल छोटी सी, कमसिन और चिकनी चुत थी उसकी और चूत की दीवारें रस से भरी हुई थीं. रंडी की औलाद, साली … तेरा काला मर्द, साला हिजड़ा चोदता नहीं है ना तुझे, अब ले मेरा लंड, साली कुत्ती, कमीनी. अपना एक हाथ सलवार में डालकर सीधे उसकी चूत पे रख दिया और सहलाने लगा.

राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ मामी ने पूछा- चूत में बाल हैं क्या?मैंने कहा- नहीं मामी, आज सुबह ही साफ किए हैं. मैं उसकी टांगों के बीच में से निकल कर साइड में आया, तो उसने मेरे जॉकी में से मेरा लंड पकड़ लिया और उसको मसलने लगी.

नंगी सेक्सी पिक्चर ब्लू

मैं तो बड़ा ही कमीना था, दीपक से पहले मैं दोनों को चोदना चाहता था तो मैं उन मां बेटी से बोला- रिपोर्ट तो कल आएगी, चलो शहर घूमते हैं. उधर महेश मेरे मुँह में अपना पूरा लंड डालकर मेरे मुँह को चूत समझकर चोद रहा था. उसकी चूत गीली थी, फिर मैंने एकदम से अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी, वो चिहुंक उठी … पर मैंने उंगली नहीं निकाली और न ही उसके चूचुकों से होंठ हटाए.

मैं बहुत देर तक उसके पीछे चूतड़ों में लण्ड लगाए खड़ा रहा और उसके पेट पर हाथ फिराता रहा. मुझे कोई नजर तो नहीं आया, मगर बाहर सूरज की रोशनी के कारण उसके कपड़ों के लाल रंग की लालिमा फैली हुई दिखाई थी. बीएफ सेक्सी ब्लू फिल्म वीडियो हिंदीयेबातसलोनीसमझगईतोउसनेअपनेहाथसेमेरासरपकड़केझुकायाऔरमेरेहोंठोंकोअपनेहोंठोंसे जोड़ दिया.

मेरी सहेली का पति मेरी चूची चूसने के बाद मेरे नाभि को चाटने लगा था.

क्योंकि उसने लाल साड़ी पहन रखी थी तो मैंने कहा- आज हमारी सुहागरात है और आज से मेरी हर चीज पर तुम्हारा हक है. फिर धीरे धीरे उसकी पकड़ ढीली हो गयी और वो निढाल सी होकर बिस्तर पर ढेर हो गयी.

मैंने कहा- साली रंडी, चूस… बहन की लौड़ी… तुझे ऐसा ही लंड चाहिए था न. बहुत सारे लोग अन्दर आ गए और जहां जिसे जगह मिल गई, वे वहीं बैठने लगे. आंटी हँस पड़ीं और छूटते ही बोलीं- तो आ जाओ … लगा लो पानी … खेत भी बहुत प्यासा है.

इसकी वजह से सोनल की हिम्मत बढ़ गई और उसने धीरे धीरे दादाजी की धोती ऊपर उठानी चालू कर दी.

सुशीला के मना करने के बाबजूद मैंने उसे जबरदस्ती थमा दी।मैं- चलो, यहाँ ऊँचा वाला झूला है, एक राउंड लगाते हैं।मानसी खुश होकर बोली- चलो चाचू!सुशीला- नहीं नहीं!मैं- क्या भाभी, बच्ची को हर बात में टोकती हो … आप न जाना चाहें तो ना सही, पर बच्ची को तो मत रोको।सुशीला और कुछ नहीं बोल पाई।मानसी और मैं टिकट करके झूले में एक साथ बैठ गए। सुशीला नीचे देखती रह गयी. फिर करीब 15 मिनट बाद ट्रेन रेलवे स्टेशन पर पहुंच गई और मैं स्टेशन पर उतर गया. मैंने उसे उसी मेज़ पर उसे उल्टा लिटा दिया और उसके पूरे बदन को नीचे से ऊपर तक चाटने लगा.

जंगली सेक्सी बीएफ वीडियोमम्मी अपनी कमर उछाल रही थी कि जोर से पापा के मुँह में झड़ गई और इधर अनुप्रिया ने मुझे इशारा किया कि वो झड़ने वाली है. कुछ देर बाद जीजाजी ने मुझे वाशबेसिन पर झुकाया और पीछे से मेरी चूत पर अपना लंड रख कर रगड़ने लगे.

हिंदी बीपी भेजो

मेरा जाना ज़रूरी था, तो मैंने एक रेलवे एजेंट से बात कि तो उसने मुझे फर्स्ट क्लास में टिकट ऑफर किया तो मैंने हाँ कह दी. जबकि मेरे पति को तो बस अपना माल गिराना रहता है और जैसे ही उनका माल गिरता है, वो सो जाते हैं. स्खलित के बाद सुलेखा भाभी‌ की चुत के अन्दर की दीवारें प्रेमरस से भीगकर अब और भी चिकनी और मुलायम हो गयी थीं जिससे मेरा लंड अब और भी कुशलता से उनकी चुत की मालिश कर रहा था.

वे बोलीं- जाओ हम तुमसे अब कभी नहीं चुदवाऊंगी … कोई ऐसे भी अपनी खाला को चोदता है. अनुप्रिया बोली- मम्मी का है, पापा मम्मी की चुदाई शुरू हो रही होगी, मम्मी हमें बुला रही हैं. अब मनभरण अंकल बहुत जोर जोर से पीछे मेरी गांड को चोदने लगे और मुझे गाली भी देने लगे.

पर उसकी और मैंने ध्यान ना देते हुए जोर जोर से अपनी कमर चलाकर अपना लंड रूपा की चुत में उतारने निकालने लगा. उस पर मेरे होंठों के निशान साफ़ दिख रहे थे, मगर उसका चूचुक अब कड़ा होकर तन गया था. प्रिया काफी समझदार निकली, वो मेरे होंठों को छोड़कर मुझसे थोड़ा अलग हो गयी और उसने खुद ही अपनी टी-शर्ट को पूरा बाहर निकाल दिया.

या फिर पता नहीं कब मेरा मूड बन जाए और मैं अपने पति के सामने अपना छेद खोल कर औंधी हो जाऊं. इतना कह कर चाची एक हाथ को पीछे करके मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर लगा दिया.

मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम भी शराब पीते हो क्या?वो- नहीं नहीं … सर वो मैं सोच रहा था कि आप पीकर घर वापस कैसे जाएंगे, सो मैं रुक गया.

बिना कपड़ों के क्या माल लग रही थी वो … एकदम रसगुल्ले की तरह गोलू मोलू. बीएफ फिल्म भेजिए बीएफतभी वो रुक गया और मेरे दोनों घुटनों को उसने दबा कर मेरे कंधों से लगा दिया और अपना लंड मेरी गांड की जड़ तक मेरे अन्दर ठोक दिया. बीएफ सेक्सी चोदी चोदा वाला वीडियोधीरे धीरे नेहा की सिसकारियां भी अब बढ़ती जा रही थीं- उऊऊ … अह्ह … हुँहुँहंउ … उऊऊ … ह्हहुँहुँहंउ …’ मादक आवाजें निकालते हुए उसने अब खुद ही अपनी कमर को आगे पीछे करके अपनी मुनिया को मेरे मुँह पर घिसना शुरू कर दिया था, साथ ही मेरे लंड को भी वो अब जोरों से चूसने और चाटने लगी थी. फिर हम दोनों ने शाम को डिनर किया और सोने का टाइम हो गया तो भाभी बोलीं- आशिक आप मेरे कमरे में ही सो जाना.

वो पानी लेकर आई और जैसे ही वो पानी देने के लिए झुकी, मुझे उसके चूचों की लकीर दिख गयी.

इसके बाद उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरी चूत में अपना जीभ डाल मेरी चूत को चाटने लगा. फिर बहुत इंतजार करने के बाद वो रात आ ही गई जिसके लिए मैं पागल हुआ जा रहा था. हम दोनों की लम्बी लम्बी सांसें, एक साथ कराहते सिसकते हुए कमर से कमर टकराने लगीं.

फ़िर वही हुआ, चुचियों को पकड़ते ही वो गरमा गई और बोली- जल्दी जल्दी चोदो … मेरा भी हो गया … बस बाहर मत निकालना … मुझे अन्दर ही महसूस करना है. मैंने कहा- ठीक है, यदि तुम्हें मुझसे कुछ हेल्प लेनी हो तो मुझे बता देना. ‘अहहहह आह … उम्म …’इसके बाद मैं अपनी उंगली अन्दर बाहर कर रहा था कि नेहा आंटी झड़ गईं.

लंड चूत सेक्सी वीडियो

कहां जा रही हो अभी?” मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे फिर से बिस्तर पर खींचते हुए कहा. वो कुछ देर इसी तरह मेरे से चिपकी रही, तो मेरे अरमान फिर से जागने लगे. मैंने फिर से जोर लगाया और चुत को फाड़ते हुए पूरा लौड़ा चुत में घुसेड़ दिया.

उसकी इस बात से मैं चौंक गया, मैंने ध्यान दिया तो मुझे उसके हाथ में नींद की गोलियां दिखाई दीं.

नामित ने यह सब बताते हुए ही मुझे कसकर अपनी बांहों में पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगा.

उसकी लपलपाती जीभ को जैसे ही मैंने अपनी चूत पर महसूस किया, मैं एकदम से सिहर उठी. मेरी मुलाकात श्वेता से सिनेमा हॉल में हुई, वो एक शादीशुदा औरत के साथ एकदम मस्त सुंदर और खूबसूरत माल है. वीडियो बीएफ सेक्सी चुदाईमुझे तुझसे कुछ मतलब नहीं है, मैं मर रही हूं, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

मैंने उसको समझाया कि मैंने इसमें अलग से कुछ पार्ट्स नहीं डाले हैं, बस सर्विस ही की है. वह- चंदा! तुम्हें नफरत नहीं हुई मेरे काले कलूटे लंड से?मैंने न चाहते हुए भी उसके लंड को आजाद किया और उसकी आँखों की तरफ देखते हुए कहा- तुम नहीं जानते प्यारे! तुम्हें ईश्वर ने क्या दे दिया है? यह नफरत करने की नहीं, प्यार करने की चीज है. उसकी चाल और हमारे तरफ आकर हंसने का स्टाईल … हाय मेरा लंड तो पेंट में तंबू बनाके खड़ा हो गया था.

आपको बता दूं कि कहानी कि हर एक भाग में महज शब्द ही मेरे हैं, जबकि घटना का लेखाजोखा बताने वाली तो मेरी चुदक्कड़ वाइफ नीना खुद ही है. फिर मैंने उसके ब्लाउज का हुक खोला और दोनों चूचियों को दबा दबा कर चूसने लगा.

ऐसा कहते हुए उन्होंने अपने पास मुझे खींच लिया और लपेट कर अपनी बांहों में जकड़ कर बोले- तुम्हारे बदन की खुशबू बहुत मस्त है.

मैंने देख कर बोला- ब्यूटीफुल!मैंने धीरे से बारी बारी उसके निप्पलों पे किस किया. मैंने उसको रोका पर उसने पकड़ कर मेरे स्तन दबा दिए।उसने अपने कपड़े उतारे और मुझे पकड़ कर बिस्तर पर ले गई. लेकिन मैं उससे अपने दिल की बात न कह सका क्योंकि मुझे अजीब सा डर लगता था.

एक्स बीएफ एचडी वीडियो मैं बिस्तर पे चढ़ा, लंड को हाथ में पकड़ा, प्यार से सहलाया और मुँह में ले लिया. खाना खाने के बाद भाभी बोली- तुम यहीं ड्राइंग रूम में 10 मिनट बैठो, मैं आती हूँ, तुमने अन्दर नहीं आना है.

मैं उनके दोनों निप्पलों को बारी बारी से अपने मुँह में गपागप चूसे जा रहा था. मैंने मेरा 7 इंच का मोटा लंड उनकी चुत पर टिका दिया और उनको इशारा करते हुए अन्दर डालने के लिए धक्का दे दिया पर लंड फिसल गया. वह कहते-कहते रोने लगी और बोली- मैं ही जानती हूं कि ये दिन मैं कैसे निकाल रही हूँ।सरिता, तुम रोना बंद करो.

सक्से वेदो

मैंने उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया तो वह और ज्यादा आनंदित होने लगी. वो भी कुछ देर के बाद झड़ गया और उसके बाद हम दोनों ने थोड़ी देर आराम किया. घर की जिम्मेदारी होने के कारण वो ज्यादा घर से बाहर नहीं जा सकती थी.

जब मेरी आंखें खुलीं, तब तक तो सोनल ने दादाजी के लंड को पूरा का पूरा अपने मुँह में ले लिया था. मैं भाभी जी से डरता हुआ बोला- भाभी जी आपसे एक बात पूछूँ?भाभी जी बोलीं- पूछो.

फिर एक दिन मेरे पापा बोले- बेटा, हमने तुम्हारी शादी फिक्स कर दी है.

हाथ रखते ही मुझे पता चल गया कि मेरी चाची पहले ही चुदासी हो चुकी है और उसकी गवाह उनकी गीली पैंटी थी. मैंने बहुत बार कोशिश की कि मैं उससे अपने दिल की बात कह दूँ, लेकिन मैं डरता था कि कहीं भैया ने जान लिया या भाबी ने ही बात को दिया, तो मेरी तो लंका लगना तय था. सलोनी अभी भी वैसे ही आंखें बंद करके लेटी थी, मैं उसके बगल में लेट गया और वो भी मेरी बाँहों में सिमट आई.

पर उसमें इतनी हिम्मत नहीं हो रही थी कि वो खुद कुछ करे बल्कि उसने मुझे डरे हुए शब्दों में ब्लाउज खोलने को कहा. मैंने कहा- ठीक है, पर एक बार आप उससे बात कर लेना और मैं भी बात कर लेता हूँ कि वो भी मेला घूमने आ जाए. इस पर एक ने कहा- तब तू उसको छोड़ दे, वो तुम्हें पूरी तरह से बजा बजा कर किसी और के साथ जाएगा पक्का.

मुझे ये सब साफ दिखाई दे रहा था क्योंकि वे दोनों हॉल में सोफे पे ही चुदाई में लगे हुए थे.

राजस्थानी भाषा में सेक्सी बीएफ: मेरा सब्र का बाँध तो कब का टूट जाता, मगर मैं तो बस इसलिए ही रुका हुआ था कि एक बार फिर सुलेखा भाभी को उनके अंजाम तक पहुंचा दूँ. उन्होंने स्कर्ट की इलास्टिक पकड़कर पूरी नीचे उतार दी और बोले- यह समीज और अपना ऊपर की टी-शर्ट भी उतार दे.

नमस्कार दोस्तो,सबसे पहले मैं अन्तर्वासना के सभी लेखकों को धन्यवाद देना चाहूँगा; आप सबकी कहानी पढ़ कर ही मुझे अपने पहले सेक्स अनुभव को आपके साथ साझा करने का मौका मिला. मैंने अब पहले तो नेहा के होंठों पर एक प्यार भरा चुम्बन किया और फिर उसके गाल, गर्दन, उसकी चूचियां और फिर उसके पेट पर से चूमते हुए धीरे धीरे मैं उसकी जांघों के बीच आकर अपने घुटनों के बल बैठ गया. अपनी एक उंगली तुम्हारी गांड के छेद में डालकर मैंने तुम्हारी गांड को मथना शुरू किया.

बाद में हमें नींद आने लगी, तो हम दोनों भी एक दूसरे की बांहों में सो गईं.

कहानी लिखने का ये मेरा पहली बार का अवसर है … अगर कुछ गलती हो जाए, तो मुझे क्षमा कीजिएगा. मेरा लंड उसकी छोटी सी चूत में बिल्कुल फंस कर जा रहा था और पायल अपने सिर को थोड़ा ऊपर उठा कर अपनी चूत में मेरे लंड को अंदर बाहर जाते हुए देख कर बोली- नीरू कसम से … मैं बहुत घबरा रही थी कि इतना बड़ा लंड मेरी छोटी सी चूत में कैसे आएगा. मैं बोली- नहीं, यहां मुझे सिर्फ आप ही करो, उनसे मैं बाद में मिल लूंगी.