हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ हिंदी में यूट्यूब पर कविता

तस्वीर का शीर्षक ,

पलंग तोड़ चुदाई वीडियो: हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ, करीब 10 मिनट तक दोनों एक दूसरे से दंगल लड़ते रहे और फिर एकदम से ही वह ढीली और सुस्त हो गई.

हॉट इंडियन देसी बीएफ

मैंने उनका लंड पकड़ कर कहा- खबरदार जो किसी और की चूत की तरफ लंड उठाकर देखने की कोशिश भी की तो! मुझे पता था कि अगली बार सप्ताहों तक लंड महाराज और चूत का मिलन न हो पायेगा इसलिए मैं उनके लंड को अपने दोनों चूतड़ों के बीच में फंसा कर सो गयी. बीएफ सादाअब बंध्या तेरी सील मतलब अपनी होने वाली बीवी की, जो आगे होने वाली मेरी लाइफ पार्टनर है.

बहुत से मित्रों ने इसे मनघढ़ंत और काल्पनिक बताया तो उन्हें मैं कहना चाहता हूँ कि उन्हें जो समझना है समझें, यह उनकी समस्या है जिसका समाधान मेरे पास नहीं है।पिछली कहानी में मैंने बंगालन मकान मालकिन के साथ मेरी चुदाई को आप सब के समक्ष रखा था और आप सभी से यह वादा किया था कि अगली कहानी में उसकी सहेली के साथ हुई चुदाई कार्यक्रम की बात को विस्तार से लिखूंगा. बिहार की सेक्सी वीडियो बीएफऊपर वाले की दुआ से अच्छा खासा लंबा-चौड़ा दिखता हूँ और मेरा लंड भी 6.

करीब 15-20 मिनट बाद मौसी भी उसी कमरे में आईं और मम्मी को झकझोरते हुए कहने लगी- जीजी, अपने लिए जगह बना लिए और मेरे बारे में सोची ही नहीं.हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ: यह कहते हुए जीजू ने मुझे गोद में उठा लिया और बाथरूम की स्लैब पर बैठा दिया और खुद स्टूल पर बैठ गए, जीजू ने मेरे दोनों पैरों को फैला दिया और अपना मुंह मेरी चूत पर रख दिया.

मुझको भी बस उस जाटनी को नंगी करके जबरदस्त चोदना था … ना कि उससे प्यार करना था.सोनिया ने कहा- हां … पहले तो मुझे लगा था कि तू मेरा भाई है, तेरे साथ सेक्स कैसे करूंगी.

बीएफ सेक्सी मूवी हिंदी देहाती - हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ

अचानक से रानी ने ज़ोर की किलकारी मारी- ईईईई ईईईई ईईई … अईईई ईईईईई ….वो पहले जैसे ही मेरे पास खड़ी रही, लेकिन इस बार वो अपनी टांगें फैलाकर ऐसी खड़ी थी कि मेरा हाथ सीधा चुत पर रगड़ जाए.

अंकल ने अपनी गांड पीछे की तरफ दबाई, तो मेरा आधा लंड उनकी गांड में घुस गया. हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ मैं फिर से उसकी चूचियां दबाने लगा और फिर उसके ऊपर चढ़ कर उसकी साड़ी ऊपर करके उसकी पैन्टी में हाथ डाल कर थोड़ी देर उसे देखने लगा.

तभी अचानक से पति महोदय ने मेरी चुत चोदते चोदते अपना पूरा लंड मेरी चुत से सुपारे तक बाहर निकाला और फिर घचाक से मेरी चुत में अपना मूसल लंड अन्दर तक घुसेड़ दिया.

हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ?

दूसरी तरफ अगर मैंने बिना कंडोम के किया तो हो सकता था कि वह पेट से हो जाए और फिर एक मुसीबत और आ खड़ी हो. इस बार वो मुझे अपनी बांहों में भरके हल्की हल्की आवाजें निकाल रही थीं और बीच बीच में बोल रही थीं कि पेट में नाभि के पास दर्द कर रहा है थोड़ा आराम से पेलो. वहां पर हम दोनों ने अच्छी तरह से किस वगैरह किए और अब मैं उसके कपड़े उतारने लगा.

पूरा दिन गुजर जाने के बाद जब रात को सोने का समय हुआ उसने अपने लिये नीचे फर्श पर अलग से बिस्तर नहीं लगाया और मेरे साथ ही बेड पर आकर लेट गयी. मैंने बाथरूम का दरवाजा बंद कर दिया था और उन्हें अपनी बांहों में भर लिया. कुछ देर में जब वो कुछ नार्मल हुई, तो मैंने अपना लंड लगभग सुपारे तक बाहर निकाला, बस एक इंच लंड चूत के अन्दर रहने दिया.

अब आगे की कहानी:मैंने पूछा- तुम कहाँ देखती हो ब्लू फिल्म?वह बोली- मैं तो अपने लैपटॉप पर देख लेती हूँ इंटरनेट चला कर. फिर दिलिया घूमने लगी उसने दोनों पैर बैठे बैठे दायीं ओर कर लिए और खुद को थोड़ा नीचे किया. मैंने उसके चूतड़ों को अपने हाथों से सहारा दिया और उन्हें ऊपर नीचे करते हुए धीरे-धीरे सोनू को अपनी गोद में पूरा लंड फिट करके बैठा लिया.

’मैं भी कुछ ऐसे ही बड़बड़ा रहा था- हाय मेरी अंजलि रानी तेरी चूत … आह्ह … कितनी गर्म है … बहुत मजा आ रहा है तेरी चूत चोदने में…. मैं देखने लगा तो मम्मी मुझसे बोलीं- बेटा तेरे सर मुझे योग सिखा रहे हैं.

मैं उनके रूम से निकल कर हॉल में आ गया और सोफे पर बैठ कर उनका इंतजार करने लगा.

तो एक मेरे पास आकर मुझसे लिपट कर मुझे वहीं गिरा कर मेरे ऊपर चढ़ गया.

उसने मेरा लन्ड पकड़ के अपनी चूत पे रखा और कहा- एक बार में ही पूरा का पूरा डाल दो!मैंने उसके पैरों को कंधे पे रख के एक ही बार में अपना पूरा लन्ड उसकी गीली चूत में घुसेड़ दिया. उस दिन से मुझे भाभी को चोदने का भूत सवार हो गया था और मैंने इरादा बना लिया था कि मैं अपनी भाभी को जरूर चोदूंगा. मैंने उसे किसी तरह से समझाया और मुँह पर हाथ रख कर धीरे धीरे लंड चुत में अन्दर-बाहर करने लगा.

देखते ही देखते मेरा लंड बॉक्सर में ही खड़ा हो गया और साफ साफ दिखने लगा. ऊषा के साथ हुई घटना को केंद्र बनाकर मैंने अपने पति को मामी के सामने नंगा करवा दिया और मामी ने भी इसमें मेरा पूरा साथ दिया. मैं अपने दूसरे हाथ सरिता की मांसल गांड को सहलाने लगा और उसकी गांड के छेद में भी उंगलियां फिराने लगा.

मगर बहुत कोशिश करने के बाद भी दस मिनट में लगने लगा कि अब ज्यादा देर टिक नहीँ पाऊंगा.

हालांकि मेरी चूत कुँवारी तो नहीं थी पर उसका लंड काफी लंबा और मोटा था, तकरीबन 7 इंच का और 2. तभी भाभी ने धीरे से कहा- रोहन अपना बॉक्सर उतार दो, ये गंदा हो जाएगा. जब मैंने सोनू की ब्रा में से उसके मम्मे को आजाद किया तो देखा कि वहां पर मेरे काटने के नीले निशान पड़े हुए थे.

होश में थी मगर फिर भी बेहोशी की हालत में रहकर चुदाई के बाद के अहसास का मजा ले रही थी. एक दिन हमारे स्कूल में नवरात्रि के दिनों में गरबा का प्रोग्राम रखा गया. एक दिन मैंने उसे अकेले में मिलने बुलाया क्योंकि कुछ दिन बाद मुझे काम से बाहर दूसरे शहर जाना था.

जीजू ने मेरा दर्द कम करने के लिए मेरे बूब्स चूसने शुरू कर दिए जिससे मेरा दर्द कम होने लगा.

अबकी बार मैं अपनी गांड को ऊपर उठाकर उसका पूरा लण्ड अंदर लेने के लिए तैयार बैठी थी. मैंने उसके बूब्स पर हल्के हल्के होंठ फिराने शुरू किए और उसके निप्पल को दांतों में लेकर काटने लगा.

हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ मैंने गौर से देखा तो पता चला कि यह वो ही लुटिया थी जिससे हम दिन के समय पानी पीते थे. उस दिन की चुसाई ने सोनू के निप्पलों का आकार भी थोड़ा बड़ा कर दिया था.

हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ फिर मैं तो कुलीन को पसंद करती थी, इसलिए मैं उससे ही ज्यादा बात करती थी. मेरी पिछली कहानीपति के बिना घर में एक रातमें आपने पढ़ा कि मेरा पति रोहन अपने दोस्त के घर चला गया.

’‘जी मैं समझी नहीं?’आंटी ने साड़ी खींच के मम्मी को नंगी कर दिया- चीज़ अच्छी है.

घोडा घोडी चा सेक्स

फिर दो तीन दिन ऐसे ही भाभी किसी न किसी बहाने से मेरी तरफ देख कर मुस्करा देतीं. शारदा चाची घोड़ी बनी हुई थी और उनका भाई कपिल उन्हें पीछे से चोद रहा था!मैं ये मौका गंवाना नहीं चाहता था. मैंने सरिता का एक पैर उठाकर बेड पर रखा तो सरिता ने अपने दोनों हाथ मेरे गले में डाल दिए.

फिर उसने अपना लंड धीरे धीरे करके पूरा का पूरा अंदर डाल दिया और धक्के लगाने लगा. अमर को चुत चोदते हुए दस मिनट हो गए थे, उसने पिंकी को सीधा होने के लिए कहा. मुझे उनका जिस्म एकदम से अकड़ता हुआ सा महसूस हुआ, तभी वो अपनी गांड को उठाते हुए झड़ गई.

मैं सरप्राइज देने के मकसद से उसे हैप्पी बर्थडे कहते हुई उसके रूम में घुस गयी.

भाभी का सर मेरे कंधे पर था और मैं धीरे धीरे उनके पूरे पेट औेर कमर पर हाथों से रंग लगा रहा था. ‘आह्ह … ओह्ह … जान … यस … आह्ह … मजा आ रहा है … चोदो … और तेज अंश … फाड़ दो…. यह सब डॉक्टर जूली की निगरानी में हो रहा था इसलिए वह भी नर्स की हरकतें देख कर मुस्कुरा रही थी.

फिर शुरू हुई भाभी की देसी चुदाई!अब भाभी भी मेरा बराबर साथ दे रही थीं. प्रिय दोस्तो, मैं यश अग्रवाल हूँ, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है. थोड़ी देर तक जब मैंने कोई हरकत नहीं की, तो उन्होंने अपनी आंखें खोलीं.

लंड को सेट करने के बाद उसने जोर से धक्का मारा तो उसके लंड का सुपाड़ा अंदर चला गया. मगर मैंने तो अपने पर काबू रखना ही सही समझा, पर इस भोसड़ी वाले लंड को को कौन समझाए … उसने तो फिर से खड़ा होना चालू कर दिया था.

वो बहुत गोरी है, उसके बूब्स ज्यादा बड़े नहीं हैं, बस 30 या 32 के होंगे लेकिन उसकी गांड बहुत बड़ी थी. मैंने लंड को अंडरवियर की इलास्टिक में दबाया ताकि किसी को मेरा खड़ा हुआ लंड दिखाई न दे और सीधा बाथरूम में चला गया. अब मैंने अपना लंड धीरे से मायरा की चुत पर टिकाया और एक झटके में पेल दिया.

एक दिन रिम्पी ने मुझे अपने घर बुलाया, तो मैं उससे मिलने के लिए उसके घर गयी.

शायद वो अपनी चूत की आग को मिरर में देख कर थपथपा कर ठंडी करना चाह रही थी. फिर क्या था कुछ ही पलों में मेरा लंड सात इंच का कड़क सरिया बन गया था. मैंने फिर पूछा- अमीषी व्हाट हैपेंड?उसने मेरे पास आकर लंड को अपने हाथ में लिया और बोलने लगी- बाबू, ये अन्दर कैसे जाएगा?मैंने उसे दीवार से उल्टा लगा कर उसकी गांड की दरार में अपना लंड रखा और कहा कि डार्लिंग वो तुम मुझ पर छोड़ दो.

कुछ देर में ही हम दोनों का एक साथ हो गया औऱ मैंने सारा माल उसकी चूत में भर दिया. कुछ देर बाद सोनू का शरीर अकड़ने लगा और उसने मुझे अपने दोनों हाथों से कमर से खींच लिया.

जीजू के ऐसा करते ही मैं आउट ऑफ कंट्रोल होने लगी, मैं अपना आपा खोने लगी. मैं कई बार उसकी बाथरूम की चूत और चूचियों के साथ खेलने की हरकत से भी अंदाज लगा लिया था कि दीदी को भी लंड की जरूरत है. उनकी गर्म-गर्म सांसें पूरी की पूरी जांघों से होते हुए पैरों पर पड़ रही थीं.

वीडियो में सेक्सी हिंदी

मैं उन लोगों की बातें तो नहीं सुन पाती थी क्योंकि मैं कुछ दूर पर खड़ी रहती थी और वो अपने ब्वॉयफ्रेंड से बात करती रहती थी.

उससे पहले मैं अपने उन पाठकों को दिल से शुक्रिया कहना चाहूंगा, जिन्होंने मेरी पिछली कहानियांतन्हा औरत को परम आनन्द दियाऔरशादीशुदा भाभी की कुंवारी चूतको पढ़ा और अपने विचार एवं सुझाव मुझसे साझा किए. फिर उसने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और थोड़ा नीचे झुक कर अपने सीने को मेरे दूध तक लाया और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पे ले जा कर मुझे अपनी ओर खींचा. उसी समय बस ने एक ज़ोर का झटका खाया और मैंने चाची के मम्मों को ज़ोर से दबा दिया.

अगर यहां मौका ना मिले, तो किसी बहाने से सतना चली जाना और कुछ दिक्कत हो तो मम्मी से बोल देना कि नीलू और मैं फार्म भरने जा रही हैं. मगर उसकी बात सुन कर मैं पहले तो हैरान सा हुआ और फिर साथ ही खुश भी हो गया. बीएफ इंग्लिश सेक्सी इंग्लिशमुझे मालूम था अगर मेरी बीवी रात में बिना चुदाई किए सो गई है, तो सुबह हमारी चुदाई जरूर होगी.

मुझे चूमती हुई उसने एक एक कागज़ दिया और बोली- मेरे जाने के बाद इसे पढ़ लेना. थोड़ा समय बीतने के बाद निशा जोर जोर अपनी पूरी बॉडी को हिलाने लगी और एक जोर की सिसकारी लेते हुए वो भी शांत हो गई.

वो भी चिल्ला चिल्ला के मुझे गाली देते हुए कहने लगी- तो बना ने मेरे चुत का भोसड़ा … मादरचोद बना अपनी कुतिया … बना अपनी रखैल … चोद दे मुझ जन्मों की प्यासी कुतिया रण्डी को।फिर से मैंने उसको एक ही बार में लन्ड डाल के चोदना शुरू कर दिया. मैंने पोजीशन बनाई और उसकी दोनों टांगों को फैला कर अपने लंड को बुर में सैट कर दिया. बस जयपुर में उसी होटल के आगे आकर खड़ी हो गई जिस होटल में इन सभी यात्रियों को रुकना था.

मैंने बिना कुछ सोचे उसकी चूचियां दबाना शुरू किया और उसके होंठों को चूमना शुरू किया! नींद खुलते ही राशि मुझ पर चढ़ कर बैठ गयी और अपने बालों को समेटकर, चूत मेरे मुंह पर लगा कर खुद लंड चूसने लगी 69 पोजीशन बना कर. मेरा मन तो कर रहा था कि उसको अभी नंगी करके चोद दूँ, मगर मैंने किसी तरह से खुद पर कंट्रोल किया. भाभी बोली- क्यों, मुझसे बात नहीं कर सकते क्या?भाभी की बात सुनकर मेरे अंदर का कामदेव जागने लगा था.

अरे मेरी पेंटी?” फिर मुझे याद आया- अरे पेंटी तो मैंने अभिषेक की गाड़ी में उतारी थी।मैंने झट से अभिषेक को फोन किया- हैलो अभिषेक, मेरी पेंटी तुम्हारी कार में रह गई है, याद से उठा कर छुपा लेना।वो बोला- चिंता मत करो, मैंने पहले ही उठा ली थी, मगर अब तुम्हें वापिस नहीं करूंगा.

पहले हम दोनों में कोई खास दोस्ती नहीं थी, सिर्फ नार्मल बातें ही होती रहती थीं. मेरी दीदी बस मानो अपने आप को उसे सौंप चुकी थी लेकिन अपनी रूचि नहीं दिखा रही थी.

एक दिन किसी काम के चलते मैंने उससे उसका मोबाइल नंबर मागा, उसने तुरंत अपना नंबर मुझे दे दिया. तब मैंने इस मौके का फायदा उठाने का सोचा और अपने खड़े लौड़े को लहराते हुए चारपाई से उठकर उसके सामने खड़ा हो गया. एक दिन रिम्पी ने मुझे अपने घर बुलाया, तो मैं उससे मिलने के लिए उसके घर गयी.

जब मैं घर पहुंचा तो स्नेहा खुश होकर चहकती हुई बोली- अरे वाह … भैया आखिर आप आ ही गए. दस मिनट बाद मैंने उसे वहीं नीचे फर्श पर घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी गांड देखी, जो बड़ी मस्त लग रही थी. मिनी ने ये सुनते ही खुशी से मेरे दोनों आंखों और गालों पर किस किया और मुझे टाइटली जकड़ कर लेट गई.

हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ वसुंधरा की केले के पेड़ के तने सी चिकनी दोनों टाँगें और घुटनों के ऊपर दो मरमरी दूधिया जांघें, दोनों जाँधों के ऊपरी जोड़ पर छोटी सी, गुलाबी जाली वाली साटन की डिज़ाईनर पेंटी जिस के जाली के बाद वाले गुलाबी साटन के कपड़े में ठीक बीच में से उठे हुए धरातल का एक त्रिभुज का आकार और उसके बीचों-बीच से शुरू होकर एक नीचे की ओर घुमाव लेती एक रेखा … सबकुछ साफ़-साफ़ नुमाया हो रहा था. उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे, मैंने उसकी चुत को बड़े मजे से चूसा और फिर उसको अलग कर दिया.

सेक्स पिक्चर एचडी

थोड़ी देर बाद आंटी जी चाय बना कर ले आई और बोलीं- निशा, मैं पड़ोस में जा रही हूँ थोड़ी देर बाद आ जाउंगी, कुछ चाहिए तो फ़ोन कर देना. मैंने सरिता से पूछा- विलास सो गया क्या? अगर वो जाग गया तो बहुत मुसीबत हो जाएगी. हमारा अगले दिन दोपहर की आधी छुट्टी में रूम पर मिलना तय हुआ और सिर्फ किस ही करना है … और कुछ नहीं, ये तय हुआ था.

मिनी ने नज़रें झुका कर बहुत ही मासूमियत से कहा- वैसे तो मुझे दो साल हो गए सेक्स किए हुए. गरम भाभी बस सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे चलती बस में एक देसी भाभी और एक गोरे टूरिस्ट की आपस में सेटिंग हुई. नेपाली के सेक्सी बीएफमुझे अपने आप से ऐसा लगने लगा था कि मुझे आशीष अपने बांहों में लेकर मेरे जिस्म से चिपका रहे और वैसे ही मेरे होंठों को चूमता रहे.

मैंने इसी हालत में सन्जू की चूत के दोनों बगल की चमड़ी (अंदरूनी होंठ) को दोनों हाथ लगाकर तितली की भान्ति खोल दिया.

गुलाबो भी दर्द के मारे चिल्लाने लगी- आहहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आई उउउइइई ओह्ह बहुत दर्द हो रहा है. यह घटना आज से लगभग आठ वर्ष पूर्व की है जब मैं पहली बार घर से जॉब करने राजस्थान के अलवर शहर में गया था.

उसने अपने ऊपर से हटाने की जितनी कोशिश की, मैं उतने ही तेज झटके मारने लगा. पति के लंड के गरम लावे का मजा लेते हुए मैंने भी कुछ पल यूं ही रुक कर उनके लंड की सारी गर्मी खींच ली. ये लो सोनम … मेरी जान … मेरी रानी … ये ले मेरा लण्ड!”आह अंकल राजा … हां … ऐसे ही … फाड़ डालो इसे आज बहुत सताया है इसने मुझे … बस कुचल कर रख दो इस हरामन को!”तो ये ले गुड़िया रानी …” अंकल जी बोले और मेरे दोनों पैर उन्होंने अपने कन्धों पर रख लिए और दनादन चोदने लगे मुझे.

वे दोनों गर्म हो गए और एक दूसरे को लिप किश करते हुए चुदाई में लग गए.

मैंने तीसरी बार फिर से प्रयास किया, परन्तु उसकी चूत इतनी टाईट थी कि मेरा लौड़ा अन्दर नहीं जा रहा था. मैंने अपना लिंग थोड़ा सा वापिस बाहर खींचा तो वसुन्धरा के चेहरे पर राहत के भाव आये. मैं हमेशा से ही सलोनी मौसी को चोदना चाहता था और कई बार सपने में चोदा भी, पर हकीकत में कभी उनसे ऐसा कुछ कहने की हिम्मत ही नहीं हुई.

सेक्स मूवी बीएफ वीडियोअबकी बार वो मुझे सीधे बेडरूम में ले गए और पहले मुझे कोल्ड ड्रिंक पीने को दी फिर मुझे बांहों में भर लिया और चूमा चाटी करने लगे. मैं- ये तो इंग्लिश में हुआ, हिंदी में भी कुछ कहते ही होंगे या कुछ तो नाम होगा.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो ओपन

अंकल ने मेरी दोनों चॉकलेटी रंग के निप्पल्स को अपने उंगलियों में पकड़ कर हल्के से दबाया. उसकी चूत हल्के गुलाबी रंग की थी और अन्दर एक खूबसूरत सा छेद दिख रहा था. पिंकी कामुकता की अतिरेकता में अपनी आंखें बंद किए हुए अपनी गर्दन को अपनी सांसों के साथ ऊपर नीचे करने लगी.

चूंकि हम दोनों एक पब्लिक प्लेस पर थे, इसलिए इससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकते थे. रिया उल्टी लेटी होने के कारण मुझको बोली कि सुनो … तुम टी-शर्ट ऊपर कर दो ना. उसने लंबी लंबी सांस छोड़नी शुरू कर दी और बीच बीच में सिसकारियाँ भी लेने लगा.

मेरे मुंह से इतना सुनते ही जीजू ने मुझे अपनी तरफ पलट लिया और मुझे ऊपर से नीचे तक देखने लगे उनकी नजर बार बार जाकर मेरी चूत पर ही रुक जाती थी. फिर कुछ देर बाद वो झड़ने लगी। अब मैं भी झड़ने लगा, मैंने अपना लंड बाहर खींच कर अपना माल उसकी चूत के ऊपर छोड़ दिया।फिर मैं वापस उसके साथ लेट गया।उस रात हमने कुल तीन बार चुदाई की।यह थी मेरी मौसी की बेटी की चुदाई की सच्ची कहानी। आपको कैसी लगी, मुझे मेल करके बतायें, मुझे आपके प्यार का इंतज़ार रहेगा।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]. मैंने धक्का मारके अंकल से छूटने की कोशिश भी की, लेकिन मर्द की बांहों से छुटकारा पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है.

क्यों बेकार में कवाब में हड्डी बन रही हो?इस पर सारा ने कहा- क्यों? क्या मैं एक दिन में ही बेकार हो गयी हूँ. प्रिया- आपकी ही है … खा लीजिए इसे!ये कह कर प्रिया ने मुझे अपनी टांगों से लपेट लिया.

दोनों एक दूसरे से करीब 5 मिनट चिपके हुए अपनी अपनी साँसों में काबू पाते और सुस्ता कर दोनों के बदन ढीले पड़ने लगे थे.

कोई 15-20 मिनट चुम्मा चाटी और स्मूचिंग करने के बाद मैंने उनको लंड मुँह में लेने को बोला क्योंकि मैं उनको किसी भी सुख से वंचित नहीं रखना चाहता था. देसी सेक्सी वीडियो हिंदी बीएफइससे भाभी के बदन में आग सी लग गई, उन्होंने मेरा पूरा मुँह अपनी चूचियों में दबा लिया. बीएफ सेक्सी रंडी कीलंड का सुपारा गांड में घुस गया तो मेरी प्यारी बीवी ने दोनों हाथ मेरे सीने पर रखकर अपनी गांड नीचे दबाकर मेरा पूरा लंड अपने गांड में घुसवा लिया. तभी मेरी सहेली रिम्पी ने मुझे फ़ोन किया कि मैं उसको कुछ देर के बाद होटल में लेने आ जाऊं.

फिर धीरे से अपने मुँह को उसके बूब्स पर रखकर चूसने लगा और उसकी निप्पल को दांतों से काट देता था.

अब मेरा पैर पहले से काफी ठीक हो गया था, पर अभी भी हल्का दर्द होता था. उसने कहा- देखो साहिल, कल हमारे बीच में जो भी कुछ हुआ तुम उसको दिमाग से उतार दो. इससे मम्मा के मुँह से कामुक सिसकारियां निकल रही थीं, जिनसे मैं और भी ज्यादा उत्तेजित होकर तेज़ सपीड से झटके दे रहा था.

बाद में दोस्तों से जानकारी हुई कि गांव में भी सेक्स का खेल चलता है और वो शौच के बहाने खुले में जाकर लड़कियां अपने जानम से मिलती हैं और उनके बीच खेतों में सेक्स हो जाता है. उनकी ‘ओह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह्ह उहुहुहू …’ की आवाज मुझे और जोश दिला रही थी. उनकी चुदने की इच्छा तो हो रही थी मगर वह अपने मुंह से नहीं कह पा रही थी.

ఒడిశా సెక్స్

चूत में पानी भर जाने से मेरे पति का लंड मेरी नाजुक कोमल गुलाबी चुत में आसानी से अन्दर बाहर होने लगा था. मेरा पंजा उनकी चुचे और बगल के बीच में था और पैर का घुटना ठीक उनकी चूत के ऊपर था. मम्मा ने मेरे लिए दो जोड़ी कपड़े, एक जोड़ी जूते और एसेसरीज भी दिलाई.

फिर मैं वहां से उसको एक हग और किस करके दोस्त की छत से होते हुए अपने घर चला आया.

उसने अपना हाथ सलवार से खींचना चाहा लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने खड़े लौड़े पर रख दिया.

अन्दर आकर मैंने खिड़की भी बन्द कर दी और फिर से अपनी महबूबा को बांहों में लेकर उसको चूमने लगा. पर मुझे आधे घंटे का समय तो दो। मैं तुझे वापस फोन करती हूँ।बस आधे घंटे में ही मौसी का फोन घनघना उठा।उसने कहा- हां ले भोसड़ी वाली रूपाली, मैं तेरे लिए एक नहीं दो लण्ड भेज रही हूँ। उनका कोड है ‘घंटा’. सेक्सी दिखाओ बीएफ सेक्सीबाहर बादल टूट कर बरस रहे थे और बाहर की ठिठुरती सर्दी में, कमरे के अंदर आदम और हव्वा के सम्पूर्ण जीवन के सब से जादुई पल आन पहुंचे थे.

मैं दावे के साथ कह सकती हूँ कि वो कैसे चोदता होगा, उसका अंदाजा उसके बाप की चुदाई से लगा सकती हूं. अब वो बस ब्लाउज और पेटीकोट में मेरे सामने थी और मैं अकेली जींस में था. मेरी पैंट पर हाथ ले जाकर उसने मेरे लंड को टटोला और उस पर हाथ रख कर रगड़ते हुए मुझे चूमती रही.

सारा ने मेरा और ज़रीना का हाथ पकड़ कर हमें सोफे पर बिठा दिया और बोली- शैल वी स्टार्ट?सारा ने सिर्फ आसमानी नीले रंग की साड़ी पहन रखी थी, न ब्रा न पैंटी सिर्फ साड़ी को छातियों पर साड़ी को बांधा हुआ था. वह कहानी फिर कभी आपको बताऊंगा जिसमें वेलम्मा मेरी दुल्हन जैसी बनकर मेरे ही फ्लैट पर मेरे साथ पूरी रात रही और हम दोनों ने अपनी सुहागरात मनाई.

मेरी यह सच्ची दास्तान आपको कैसी लगी, मुझे इस पर अपनी राय और अपने कमेंट मेरी मेल आईडी पर जरूर दें.

थोड़ा दर्द तो हुआ मगर बढ़ते हुए धक्कों के साथ जल्दी ही मजा भी आने लगा. बहुत देर तक हम एक दूसरे के होंठों को चूसते, एक दूसरे की जीभ को चाटते रहे. मैंने नफीस चाचा से पूछा- तो कब आऊं?नफीस चाचा- बोले तीन दिन बाद, आजकल काम बहुत है.

सेक्सी बीएफ नेपाली सेक्सी बीएफ अब में सिर्फ एक निक्कर में रह गया था जिसमें से मेरा लंड नब्बे डिग्री पर अपनी उत्तेजना से उन तीनों चुदासियों की चूतों में चीटियां रेंगा रहा था. उसने मुझे कसके पकड़ा … तो उसके नाखून मेरी पीठ को काटने लगे, उसके नाखून पीठ में गड़ने लगे.

अरे! कमाल करती हैं आप! मुझे कैंची चलानी है और आप हैं कि मुझे आखें बंद करने को कह रही हैं, आखें बंद करके मैं नाड़ा कैसे काटूंगा? कहीं कैंची आपको लग गयी तो?”” तो … तो मैं क्या करूँ? ऐसे तो मुझे शर्म लगती है. उन दिनों मैं घर पर बहुत बोर हो रहा था, बस हर टाइम चूत चोदने का दिल करता रहता था. मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको मस्त लगी? प्लीज़ मुझे मेल करना और कमेंट करना न भूलना.

सेक्सी मूवी फुल एचडी सेक्सी

इस तरह हमलोग काफी देर तक और भी स्कूल की बातें, अमृता के बारे में बातें करते रहे फिर मैं घर लौट आई. मेरे हाथ पकड़े, ये सब इतना जल्दी हुआ कि मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था. पर उन्होंने ये सब करने से मना कर दिया क्योंकि उनको इसकी आदत नहीं थी.

अबकी बार चूंकि चूत के अंदर मेरा वीर्य भी लगा हुआ था तो फच-फच की आवाज आने लगी. इसलिए मैं इस हाल में भी अपने जोश और दम को कम नहीं होने दे रही थी और लगातार उसी ताकत और गति से धक्के मार रही थी.

मैंने रवि से कहा कि मैं सुषी को अपने घर ले जाता हूँ नहीं तो ये दोनों फिर से लड़ाई शुरू कर देंगी.

प्रिया- आंह … मम्मी मर गई मैं!ये कहकर वो मुझसे लिपट गई और उसका रस निकल गया. फिर मैं उसकी नाभि में गीली जीभ डालकर अन्दर बाहर करने लगा तो सरिता अपने दोनों हाथों से मेरा सर सहलाने लगी. अब हम तीनों खाना भी साथ में खाते थे और कभी-कभी मैं उनके रूम पर ही सो जाता था.

फिर उसने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और थोड़ा नीचे झुक कर अपने सीने को मेरे दूध तक लाया और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पे ले जा कर मुझे अपनी ओर खींचा. पर मेरा अभी नहीं हुआ था तो मैंने झटके लगाना चालू रखा, थोड़ी देर में उसे फिर से मजा आने लगा और फिर से मेरा साथ देने लगी. मैं आशीष को बोली- आशीष तुमने यह क्या किया … और यह कैसे हुआ … तू जादूगर है क्या … मुझे बहुत दर्द हो रहा था, पर अब जरा भी दर्द नहीं बचा.

जब दोनों के झूले पूरे कस गए तो हम दोनों बिस्तर से ऊपर हो हवा में लटक गए.

हिंदी सेक्सी हॉट बीएफ: साथ ही राधिका ने उन दोनों को भी एक एक गोली दे दी, जिससे आगे जाकर चुदाई के मजे में कोई दिक्कत न हो. फिर मैंने एक जोरदार धक्का लगाया, तो अब मेरा लंड अंकल की गांड में घुस गया था.

पर मुझे आधे घंटे का समय तो दो। मैं तुझे वापस फोन करती हूँ।बस आधे घंटे में ही मौसी का फोन घनघना उठा।उसने कहा- हां ले भोसड़ी वाली रूपाली, मैं तेरे लिए एक नहीं दो लण्ड भेज रही हूँ। उनका कोड है ‘घंटा’. मैं उन दोनों के लंड को मजा दे रही थी तभी पीछे से मेरे पति रोहन भी आ गये. मैंने भाभी को औंधा कर दिया और पीछे से भाभी की चुत में धक्का मारा, तो आधा लंड चुत में घुस गया.

अब आगे गरम भाभी बस सेक्स कहानी:मैंने अपना चेहरा उसके कंधे से हटाकर बिल्कुल उसके गाल के पास अपना गाल कर टच कर दिया.

उसमें इतनी प्यास दिखी कि न जाने किस बात ने मुझे मजबूर कर दिया कि उसके लाल होते काले गालों में चुंबन ले लिया और धीरे से बोला- तुम में बहुत कशिश है, एक आकर्षण है जो मुझे तुम्हारे पास आने को मजबूर कर रहा है।सलोनी सिहर सी गई, उसकी आँखें बंद सी हो गईं, उसके हाथ ने भी मुझे जोर से पकड़ लिया, उसकी खामोशी मुझे सता सी गई, मैंने भी उसको छोड़ दिया और बोला मुझे माफ़ कर दो. हमारी बर्थ कन्फर्म नहीं थी, परन्तु हम दोनों स्टेशन आ गए और मैंने टीटी को 200 रूपये देकर स्लीपर कोच में एक बर्थ कन्फर्म करवा ली. मैंने जोर लगा कर उसके मुंह में लंड को अंदर फंसा दिया और धक्के देने शुरू कर दिये.