बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी

छवि स्रोत,बिहार के बीएफ दिखाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

मावशी सेक्सी: बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी, उसने मुझसे कहा- पहले बच्चों को सोने दो, फिर मुझे चोद लेना।फिर हमने खाना खाया और फिर दोनों बच्चों को नीचे वाली सीट में सुला दिया और हम ऊपर वाली सीट पर सो गए.

बीएफ गांड मारने वाली वीडियो

जब तक रोहन के लंड से पानी नहीं निकला, तब तक उसने अपने चेहरे से रजक लाल का सारा पानी उंगली से लेकर चाट लिया. बीएफ एडल्ट फिल्म बीएफकुछ देर तक भाभी को अपना लंड चुसाने के बाद मैंने अपना लंड उनके मुँह से निकाल लिया.

लेकिन जब अलीमा 12वीं क्लास में आई … तो उस दिन से बलविंदर बेकाबू हो गया था. ओके गूगल बीएफ दिखाओपांच मिनट में ही राबिया की चूत का ज्वालामुखी फट गया और लावा निकल गया.

[emailprotected]मां की चुदाई की कहानी का अगला भाग:पापा ने भाभी और दीदी को चोदा.बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी: यह रोज का नियम था कि खाना बना कर, ससुर जी को खिलाने के बाद मैं नहाती थी फिर खाना खाती थी क्योंकि खाना बनाने के दौरान मैं पसीने से तरबतर हो जाती थी.

मैंने पूछा- क्या प्रॉब्लम है चाची बताइए जल्दी!तब चाची ने बोला कि वह बाजू वाली सोसाइटी में प्रियंका है ना, उसने आज हमें देख लिया था.उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने वहीं पर नहाते हुए एक बार फिर से मेरी चूत चोद दी.

जंगल लव बीएफ - बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी

फिर मैंने उसको जवाब दिया- यह है तो बहुत मुश्किल … पर कर भी क्या सकता हूं.अब मैं धीरे धीरे उनके पैरों को किस करने लगा और अपना हाथ ऊपर से ही चूत पर सहलाने लगा.

कुछ देर के बाद मुझे किसी ने पीछे से आवाज दी तो मेरे दोस्त की मौसी ही थी. बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी इस 5 मिनट की जबरदस्त चुदाई में वो 2 बार झड़ चुकी थी मगर मेरा माल निकलना अभी बाकी थी.

कुछ देर इसी तरह रहने के बाद उन्होंने अपना सिर पीछे किया, तो हम दोनों के होंठ एकदम आमने सामने आ गए.

बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी?

रात को जब वापस आए तो राखी दीदी मॉम के सामने मुझसे बोलीं- आज तुम कंडोम ले आना. अब अमित ने मेरी बीवी की पैंटी को साइड में करके उसकी चूत को रगड़ दिया. इस कहानी के बारे में खास बात ये है कि ये कहानी मेरे पहले प्यार की कहानी है.

लगातार धक्कों के बाद वो वीर्य छोड़ कर अलग हुआ और मेरे स्तनों के नीचे लेट गया और निप्पल चूसने लगा. हैलो फ्रेंड्स, मैं राज आपको अपनी बीवी की सहेली माधवी भाभी के साथ हुई मस्त सेक्स कहानी सुना रहा था. मैंने एक रात को चाची को मैसेज किया, तो थोड़ी देर में चाची का रिप्लाई आया.

वो बोला- काश … इसकी मां जिंदा होती अंकित यार!मैंने पूछा- आप उनको बहुत याद करते हो क्या?वो बोला- हां, उसकी बहुत याद आती है. उसकी बात मानते हुए मैंने कहा- बात तो तुम्हारी सही है लेकिन पापा पहले बहू की चुदाई पर ध्यान देंगे. मैंने उसको अपनी गांड के दर्शन करवा दिये थे और उसने वो पूरा नजारा लिया.

अब तक चुदाई की कहानियां पढ़ कर चूत के बारे में काफी सोचने लगा था, मगर यहां मुझे चुत तो क्या उसकी झांट का बाल भी देखना नसीब नहीं हुआ था. बलविंदर ने उसकी ओर बड़ी नशीली नजरों से देखा और उसकी गुलाबी चूत पर एक जीभ से सहला दिया.

मेरी मां के चूचे बहुत मांसल थे, इसलिए वो आदमी पूरी मस्ती के साथ मां के दूध दबा रहा था.

उसको ये नहीं मालूम था कि मैं अभी जाग रही हूँ … लेकिन उसकी इस हरकत ने मेरे पूरे शरीर में एक सिहरन सी मचा दी.

बलदेव अभी अपनी सास को और तड़पाना चाहता था, तो उसने सास के एक चूचे के दाने को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया. मुझे गर्दन पर चूमते अभी दो मिनट भी नहीं हुए होंगे कि उसकी चूत की पकड़ लन्ड पर टाइट होने लगी. फिर उसने मुझे घोड़ी बना लिया और पीछे से मेरी चूत को चोदने लगा और बहुत तेज तेज धक्के मारने लगा.

हेमा चाची ने एक गीले कपड़े से अपनी गांड और चूत पर फैले चिपचिपे पानी को साफ दिया और फिर उसी कपड़े से मेरे लंड पर लगे चिपचिपे पानी को पौंछ दिया. मैंने अभी एक साल पहले उसकी शादी एक बहुत अच्छे घर में गोरखपुर में कर दी थी. तो उसका रिप्लाई आया- सॉरी मत बोलो, मुझे सही में अकेले में नींद नहीं आती है, पति के साथ सोने कि आदत हो गई है ना.

आज तुम मेरी प्यास बुझा दो हम्म अह ह आआआह!मामी ऐसे गर्म आवाजें भरते हुए चोदने के लिए बोल रही थीं.

मैंने दारू की बोतल बैग से निकाली और उससे पानी, गिलास नमकीन आदि लाने का कह दिया. वो मेरी चूत पर तेजी के साथ हाथ से सहला रहा था और मैं उसके लंड पर अपने हाथ को ऊपर नीचे कर रही थी. वो बड़े ध्यान से मेरी बुर देख रही थी।मैंने अपने बाल बिल्कुल साफ कर रखे थे.

कल हम दोनों के बीच में कुछ अलग ही बातचीत हुई थी, जिससे कि मैं दीदी के बारे में काम भाव से देखने लगा था. ब्लाउज बिल्कुल टाइट था जिससे उनकी दोनों चूचियों के आपस में सट जाने के कारण एक लाइन बन रही थी. मैंने भाभी की दोनों टांगों को अपने हाथों से पकड़ कर रखा था और एक बिजली की मशीन की तरह फुल स्पीड में चुत चोदे जा रहा था.

ये सुनकर राबिया मेरी तरफ आ गई। उसे मैंने अपनी तरफ खींचा और उसको चूमने लगा.

दांत साफ करते हुए मैं सोच रहा था कि कैसी अजीब विडम्बना है ये कि मैंने मंजुला को किस भी कर लिया उसके होंठ चूस लिए, उसकी चूत चाट ली, उसने मेरा लंड चूस लिया और चुदाई भी कर ली पर दूसरे का टूथब्रश इस्तेमाल करने में ये झिझक क्यों होती है?चाय पीकर मैं अपने होटल चला गया और वहां से जल्दी नहा धोकर तैयार होकर अपना सामान समेटा और चेक आउट करके वापिस मंजुला के पास आ गया. ऐसे नज़ारे आम होते हैं जो हमारी मानवीय संवेदनाओं को जगा कर उनका गलत फायदा उठाने की फिराक में रहते हैं.

बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी मसल डालो इन्हें आह … आह … बहुत परेशान करते हैं ये मुझे … उम्म … आह … और ज़ोर से दबाओ. हॉट मामी की चूत की कहानी में पढ़ें कि मेरी मामी हमेशा चुदासी सी दिखने वाली माल लगती हैं.

बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी मैंने तुरन्त एक नई सिम ले ली और उस नम्बर से व्हाट्सएप शुरू कर लिया. मैंने 2 मिनट में ही अंजलि की ब्रा उतार दी। उसके बड़े बड़े गोरे चूचे नंगे कर दिये.

उसके गर्म मुंह में लंड जब जा रहा था तो मैं जैसे स्वर्ग सा सुख अनुभव कर रहा था.

ब्लू पिक्चर ओपन शॉट

अंदर जाते ही मैंने सीधे उसका साया उठाया और उसकी पैंटी उतरवाकर अपना 8 इंच का लण्ड उसकी चूत में घुसा दिया और ज़ोर से धक्के देने लगा. मेरे बेड पर लेटते ही वो मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर किस करने लगा. पर मैं साफ कर रहती हूं।तो तनु बोली- कैसे?मैं बोली- चल कल कर दूंगी तेरे भी! अभी तू पानी तो निकाल कर देख कि ये कैसा होता है.

हम तुम्हारे मम्मी पापा से झूठ बोलकर तुम्हें एक साल के लिए अपने गांव ले जाएंगे. कुछ दिन तक उनसे इधर उधर की बातें होने के बाद उन्होंने मुझसे कुछ ऐसा कहा कि मैं खुद परेशान हो गया. लेकिन जिस तरह से माया और वो (अजय) एक्साइटेड थे … वो देख कर मैं भी थोड़ा एक्साइटेड हो गया था.

पांच मिनट बाद वो वापिस आए और बोले कि उनको किसी जरूरी काम की वजह से अभी जाना होगा.

बाकि दोनों हवलदारों ने भी बिना किसी बदलाव के मेरी गांड का मजा लिया. फिर मुझे नीचे लेटा कर वह मेरे ऊपर आ गई और मुझे बेतहाशा चूमने लगी।चूमते चूमते उसने मेरी शर्ट के बटन खोले और मेरे पूरे बदन को चूमने लगी. अंकल ने चोदा मेरी अनछुई कुंवारी बुर को! मैं चुदास की मारी बाथरूम में अपनी चूत में ब्रश का हैंडल घुसा रही थी कि पड़ोस के अंकल ने देख लिया.

सच में तो वोटर आई डी कार्ड था और उनके फोटो के साथ उनका नाम विश्वजीत सिंह लिखा था. मेरी मम्मी को एक बार को दूसरे मर्द का लंड चुत में लेने में लाज आने लगी और वो बोलीं- रुक जाओ … ये ठीक नहीं हैं. वहां उसकी सहेली ने क्या किया?प्यारे दोस्तो, आप सब कैसे हैं?मैं अक्षय, इंदौर शहर (एम.

मेरे बारे में सोचा कि मेरा क्या हाल हो रहा होगा?अब मेरी भी गांड फटने लगी कि कहीं ये दोनों बहनें अब लड़ाई न शुरू कर दें और कोई अगर आकर सुन ले तो सारा ही काम बिगड़ जाये।मगर गनीमत रही कि गरिमा ने समझदारी से काम लिया. दस मिनट में रजक लाल ने जोर जोर से आवाज़ निकाली- आह रस आ रहा है … आ रहा है.

मैंने राबिया की कमर पकड़ कर एक और धक्का मारा तो वो फिर शोर मचाने लगी. उन दोनों में ये तय हो गया था कि फोन से बात करके एक दूसरे को पहचान लेंगे. भाभी ने भी मुझे कसकर अपनी बांहों में भर लिया था और धीरे धीरे आहें भर रही थीं.

फिर जब मैंने उसे माया से इंट्रोड्यूस कराया तो उसने माया से हैंडशेक करके हैलो बोला.

मैंने उसकी सारी बातों का अंत उसके हाथ से सिगरेट लेकर एक कश मारा और धुंआ छोड़ दिया. वो सिसकारती रही- आह्ह … हा … हां … ओह्ह … जोर से … चोदो … घुसा दो … ओह्ह … चोदते रहो. उसके चूचों के बीच में मैंने अपने लंड को रखा और फिर आगे पीछे करने लगा.

मॉम ने दीदी को एक थप्पड़ मारा और उसको रंडी, छिनाल, बदचलन, कुतिया जैसी गाली देने लगी. पर जल्दी ही मैं संभल गया और वैसे कुत्सित विचारों को मन से झटक दिया और उस पर से निगाहें हटा लीं और पास में लगे टीवी स्क्रीन पर देखने लगा.

मैं सेक्स कहानियों में पढ़ा करता था कि कोई अनजान लड़की बस में या ट्रेन में बगल में बैठी थी फिर ये हुआ फिर वो हुआ इत्यादि और बात लंड चूसने और चुदाई तक जा पहुंची. फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसके 32 इंच के मम्मों को जैसे ही मैंने हाथ लगाया … मेरे हाथ की पूरी उंगलियां उन मक्खन से मम्मों पर यूं छप गईं मानो किसी ने मोम पर अपनी सख्त छाप छोड़ दी हो. अब अमित अपने सीने पर दारू धीरे धीरे गिरा रहा था, जो उसके लंड से मूत की तरह टपक रहा था.

ब्लू सेक्सी खुला

फिर उन सज्जन ने किसी को फोन करके पता किया फिर मुझे बताया- हां रूम तो खाली है.

दो मिनट बाद उसने अपनी टांगों खुद ही खोलकर मेरी गांड पर लपेट लीं और मेरे होंठों को जोर जोर से पीने लगी. मेरी चुत अमन का लंड खा रही थी और ऊपर में अमन के हाथों से खाना भी खा रही थी. इसका नतीजा ये निकला कि धीरे-धीरे अलीमा बलविंदर के किस में उसका साथ देने लगी.

’मंजुला’; ये भी आपके पिता जी ने ही रखा होगा शायद?” मैंने ये कहते हुए शिवांश को अपनी गोद में ले लिया. इससे वो भी मेरे लंड की ओर हाथ बढ़ाने लगीं … तो मैंने उनके पजामे के अन्दर हाथ डाल दिया. सुहागरात में बीएफ वीडियोमेरी और राहुल की जान पहचान ज्यादा पुरानी नहीं थी … बस पांच छह माह पुरानी दोस्ती थी.

वो दोनों रोहन को देख कर हंस पड़े, इससे रोहन को पता चल गया कि रजक लाल ने उसके और रजक लाल के बीच में जो हुआ वो शायद सेक्यूरिटी गार्ड को बता दिया है. इस पर भाई ने कहा- जब अकेले शुभम को ही जाना है तो इसके तीन चार जोड़ी कपड़े दे दो, मैं इसे संडे को वापस छोड़ जाऊंगा.

उसने नाक में पहनी नोज रिंग और होंठों पर लगाए लिपस्टिक से वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मास्टर के मुंह से जोर जोर की सिसकारियां बाहर आने लगी थीं- आह्ह … ओह्ह … याह्ह … चोद दूं तुझे अंकित की मां … आह्ह …. शादी से दो दिन पहले हम पहुंच गए थे क्योंकि मेंहदी का कार्यक्रम भी हमें अटेंड करना था.

मैंने उठने के बाद उसकी बहन से बोला- दीदी मैं अब आपकीगांड मारनाचाहता हूँ, क्योंकि आपकी गांड बड़ी मस्त है. दोस्तो, सूखी हुई गर्म चुत में सूखा हुआ सख्त लंड जब घुसता है, तो जो रगड़ होती है … वो बेहद दर्दनाक होती है. तुम मुझे चोद भी चुके हो तो अब ये आदर सत्कार वाली भाषा सबके सामने बोलना … अकेले में तुम मुझे सिर्फ माधवी बुलाओ.

मैंने हाल चाल पूछा- आपको मजा तो आया होगा भाभी!वो बोलीं- मजा … ये तो बहुत छोटा सा शब्द है … मेरे पास तो आज के लिए कोई शब्द ही नहीं है.

रूम तक पहुंचने से पहले ही उसने मेरी मां को पीछे से दबोच लिया और उसकी दोनों चूचियों को जोर से दबा दिया. फिर रोहन ने रजक लाल से पूछा कि अब कब वापस अपना लंड चुसवा रहे हो?रजक लाल ने हंस कर कहा- बहुत जल्द ही.

मैंने उसके होंठों का रस पीने के बाद एक बार फिर से उसके मम्मों पर अपने होंठ लगा दिए. उस ड्रेस में नीचे से मेरी गांड तो किसी चबूतरे से कम नहीं लग रही थी. मॉम गुस्से से बोलीं- तू पागल हो गया क्या … मेरे सामने दारू पी रहा है!मैं बोला- मॉम, हम सब एंजाय करने आए हैं.

अगले दिन मास्टर अपने प्रिंसिपल को लेकर मेरी माँ की चुदाई करने हमारे घर आया. जब हम दोनों खेलने के साथ बात कर रहे, तभी उन्होंने अपने बारे में बताया था कि वो दिल्ली पेपर देने आई थीं. वो जोर जोर से मेरे लंड पर मुंह चलाने लगी थी और मुझे अब दोगुना मजा आने लगा जैसे मेरा लंड मुंह में नहीं बल्कि चूत में जा रहा हो.

बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी मेरी बेटी के ससुर की पत्नी यानि उसकी सास का देहांत बहुत पहले ही हो गया था. फिर उसकी छाती पर तीन चार जगह स्टेथोस्कोप लगाया और अंगूठे से उसका निप्पल दबा दिया जिसके जवाब में वो अपने पैर के अंगूठे से मेरी टांग कुरेदने लगी.

4 साल की सेक्स

बच्चे के जन्म के बाद मेरी बेटी ने मुझे और रुकने के लिए कहा, जिसे मैंने सहर्ष मान लिया. उसके बाद उन दोनों ने मुझे अपने घर पर पार्टी और मस्ती करने के लिए आमंत्रित किया. चुत से खून भी निकल आया था, पर अब सास पर वासना फिर से हावी हो गई थी.

उसने अपने बर्थडे वाले दिन अपनी सहेलियों के साथ जन्मदिन मनाया और शाम को 6 बजे मुझे फोन किया. मॉम उसकी बात सुनकर मुस्करायी और बोली- साहब, इस लंड को हिलाकर जल्दी खड़ा करो. बीएफ सेक्सी वीडियो फिल्म चुदाईउसने कहा कि जब मैं तुम्हें इतनी पसंद थी, तो आज तक कहा क्यों नहीं मुझे?मैंने कहा कि परसों तुम्हारा जन्मदिन है और यदि तुम मुझे मना कर देतीं … तो मैं वो दिन तुम्हारे साथ नहीं मना पाता इसलिए मैंने कुछ नहीं कहा.

एक दो से मिला भी, क्योंकि मुझे किसी भी भाभी से मिलना ज्यादा अच्छा लगता है.

मैं भी उसी लंड से अपनी चूत को पिलवाना चाहती हूं जिस लंड के पेलने के कारण मैं पैदा हुई थी. बाजी ने कहा- इमरान अब निकाल ले बाहर!मैंने कहा- बाजी दो सेकेंड में खुद ही छोटा हो जाएगा।हमने राबिया को देखा तो वो अपनी चूत को देख रही थी.

और जब कुछ देर बाद मौसम बना तो सागर बोला- अब मैं तुम्हारी गांड मारूंगा।ये बात सुन कर मेरी बहुत तेज़ फटी. एक मिनट बाद वो नीचे बैठ गया और मेरे वन पीस को उठाकर मेरी गांड में अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा. वो मुझे कसकर पकड़ रही थी और नीचे से हल्के हल्के झटके भी लगा रही थी.

प्रिंसीपल बोला- यार, ऐसे गदराये हुए जिस्म की जवानी को लूटने में बहुत मजा आता है.

उसने मेरी आँखों में देखा और मुझे एक जोरदार किस किया और बोली- थैंक यू मनोज।मैंने उसे देखा और मुस्कुरा दिया।मेरी सेक्सी कहानी आप लोगों को कैसी लगी, जरूर बताइयेगा।मेरी मेल आईडी[emailprotected]है. सामने ही मां के रूम का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था जिसके अंदर सामने बेड था. गोरी गोरी जांघों के बीच में हल्के उगे बालों के साथ उसकी सेक्सी चूत देख कर मुझसे रुका न गया.

डॉगी बीएफ सेक्सीलंड झाड़ने के बाद मैं जिया के ऊपर ही लेटा रहा ताकि चूत से मेरा पानी नहीं निकले और बच्चेदानी तक चला जाए. दो मिनट बाद फुसा ने मेरी मम्मी की चुत से अपना मुँह हटा दिया और वो उनकी लपलप करती चुत को देखने लगा.

मोटी दादी

ये सुनकर मॉम शर्मा गईंदरअसल मेरी मॉम थोड़ा कम बोलतीं हैं … इसलिए वो चुप ही रहीं. उसने मेरी पीठ पर अपनी बांहें लपेट दीं और चूमने में मेरा साथ देने लगी. पहले मैं एक हॉस्टल में रहता था, परन्तु जब कॉलेज में आया … तो खुद का कमरा किराए पर लेकर रहने लगा.

उस रास्ते में हमने दो बार गाड़ी किनारे लगा कर पेड़ की आड़ में चुदाई का खेल भी खेला. चुदाई समाप्त होने के बाद मैंने सोचा कि सब काम निपट गए अब वापिस घर चलना चाहिए. एक दिन मैं रात्रि ड्यूटी कर रूम पर वापस आया, तो भाभी सामने से बच्चे को स्कूल बस में बैठाकर मेन गेट बन्द कर वापस आ रही थीं.

पोज़ सेट करने के लिए कई बार चेहरा, बॉडी या कपड़ों को फोटोग्राफर एडजस्ट करता है. फिर वो एक बार उसके पास गयी और न जाने क्या बात की उसने कि उसके बाद मकान मालिक चुप हो गया. मैंने भी साइड से लंड उसकी चूत के छेद में डाल दिया और उसको चोदने लगा.

लौटते टाइम भी मैंने बहुत ब्रेक लगाए और दीदी के मम्मों का आनन्द उठाया. इसके पश्चात हमने वहीं के एक रेस्टोरेंट में डिनर किया और वापिस घर लौट आये.

लगभग एक महीने के बाद उसने मुझे अपने घर पर एक बार फिर से इन्वाइट किया.

मैंने भाभी का अकेलापन कैसे दूर किया?दोस्तो, मेरा नाम आकाश (बदला हुआ) है. साथ में सेक्सी बीएफमेरे चेहरे को चूमने के बाद भाभी थोड़ा नीचे की तरफ आकर मेरे सीने के दोनों निप्पलों को मुँह में लेकर बारी बारी चूसने लगीं. बीएफ हिंदी mp3इधर सामने वाला लड़का मेरे दोनों मम्मों को मसलते हुए मेरे होंठों का रस पिए जा रहा था. पर क्या कर सकता था, मजबूरी में खानी पड़ी।फिर उसके बाद ध्वनि वहीं मेरे पास बैठ गई और मेरे साथ बात करने लगी। बोलते समय उसके पतले होंठ बहुत प्यारे लग रहे थे। मेरा दिल कर रहा था कि अभी चूस लूं।बात करते करते मैंने उसके होंठ पर किस कर लिया तो वो गुस्सा हो गई और जाने लगी।तब मैंने उसको पीछे से पकड़ लिया और फिर उसको आई लव यू बोला।ध्वनि- नहीं संजय, ये सब ठीक नहीं है.

जिस हसीना को चोदने के सपने मैं तीन दिनों से देख रहा था वो उस टाइम मेरे सामने मादरजात नंगी अपनी चूत खोले लेटी थी.

उसको ससुराल बहुत अच्छी मिल गई, इसलिए उसकी चिंता से मुक्त हो गई हूँ. फिर वह मेरे गाल से किस करता हुआ मेरे होठों तक आ गया और मेरे होठों को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा. मेरी सहेलियों में चुदाई को लेकर खुल कर चर्चा होती थी और उनमें से तीन लड़कियां चुद चुकी थीं.

मैं समझ गया कि अब हथौड़ा मारने का सही समय है।मैंने उसकी चूत पर अपने लंड का टोपा सेट किया और एक अच्छा सा झटका उसकी चूत में दे मारा. जितना मिस मैं हेमा चाची और उनके साथ बिताई कई सेक्स भरी रातों को करता हूँ; शायद हेमा चाची भी मुझे भी उतना ही मिस करती होंगी. ” मैंने कहा और एक बर्गर उसे पकड़ा दिया साथ में चिप्स के पैकेट खोल के रख दिए.

न्यू टीशर्ट

यूं ही चोदते हुए कई मिनट हो गये और फिर एकदम से निधि की चूत ने पानी छोड़ दिया जो मुझे अपने लंड पर गर्म गर्म द्रव के रूप में महसूस हुआ. मेरे साथ बात करके उसका आत्मविश्वास भी जाग उठा था और अब वो खुश नज़र आ रही थी. मैंने कहा- हां, अगर राजेश को तुम पटा लो तो उसकी बेटी की चुदाई का रास्ता आसान हो जायेगा.

जब घर पर कोई नहीं होता है तो हम तीनों ही एक साथ चुदाई का मजा लेते हैं.

मैंने बुआ से उनकी उदासी का कारण पूछा तो उन्होंने कहा- कुलजीत, तेरे बिना मेरा मन नहीं लगेगा.

तब मैंने मौसी से पूछा- आपकी फैमिली में कौन-कौन है?मौसी बोली- मेरा एक बेटा है अजय. मैंने मामी को पकड़ा, तो मामी मेरी पकड़ से छूटने लगीं, लेकिन मैंने उन्हें कसके पकड़ा हुआ था. लोड करने वाला बीएफजब हमने पार्क में वॉक करना शुरू किया तभी मैंने देखा कि वो बाल्कनी वाला आदमी वहां पर एक्सरसाइज कर रहा था और उसने भी हमें देख लिया था.

फिर दीदी और मॉम दोनों ने एक साथ हां कर दी और हम तीनों सेक्स पार्टनर बन गये. वो मेरे सामने कैसे चुदी उससे?हैलो फ्रेंड्स … मैं राहुल मिश्रा एक बार फिर से अपनी रांड बीवी की चुत चुदाई की हवस से भरी गन्दी चुदाई स्टोरी में आपका स्वागत करता हूँ. मैंने उसके हामी भरने से पहले ही उसकी चूची को पकड़ लिया और दबा दिया.

फिर एक जबरदस्त झटका देते ही नीरजा देवी की नजरों के सामने अंधेरा छाने लगा. मैंने मां से कहा- आज पापा के लंड से दीदी की चूत को चुदवा दो और भाभी की चूत भी चुदवा दो.

टी टी ने कहा कि वो टिकट नहीं बनाएगा और मेरे शौहर को अगले स्टेशन पर अरेस्ट करवायेगा.

मेरी बुर में चीटियां दौड़ने लगीं और उसमें एकदम अलग तरह की मस्ती छाने लगी. कुछ हो जाएगा तो?अब मैंने उसे समझाया कि पहली बार में खून निकलता ही है. धीरे-धीरे उसके पूरे बदन को चूमता हुआ मैं नीचे उसकी टांगों और जांघों को चूमने लगा.

नई लड़कियों का बीएफ मैं अपने घर में अपने माता पिता की एकलौती औलाद हूं इसलिए मेरे लिए किसी बात की मनाही नहीं है. और तो और मौसेरी बहनें होने के कारण शनाज़ और ज़ोहरा आपा की शक्ल और कदकाठी काफी मिलती जुलती है.

यह सुनते ही मेरे कान खड़े हो गए।अब मैं आप को मंजू के बारे में बताता हूँ. ये सुनकर वो खुश हो गया और मेरे पास आकर उसने फिर से मुझे नीचे गिरा लिया. मैंने कहा- तो और मूड बना दूँ क्या?मॉम इस पर कुछ नहीं बोलींराखी दीदी मेरे बाजू से उठकर दूसरी साइड चली गईं.

म से लड़के का नाम हिन्दू

आठ बज चुके थे और मुझे अपनी कांफ्रेंस के लिए कुछ डाटा भी रिव्यू करने थे. हम दोनों साथ में गए और मॉल में एक जगह खड़े होकर आरजू का वेट करने लगे. ऐसे ही लंड को अंदर बाहर करते हुए मैं झड़ गया।भाभी ने मेरा सारा माल निचोड़ लिया.

सबसे ज्यादा दुख तो इस बात का था कि मैं कभी अपने दिल की बात भी उसको नहीं बता पाया. अभी भी मेरे अंदर इतनी हिम्मत नहीं आ रही थी कि मैं उसके साथ कुछ छेड़खानी कर सकूं.

बाबूजी ने पूछा- कभी घुड़सवारी की है?मैंने कहा- हां एक बार कश्मीर गई थी तब की थी.

अंदर जाते ही मैंने चाची को बेड पर गिरा लिया और उसकी गांड में लंड को पेल दिया. उसको ये नहीं मालूम था कि मैं अभी जाग रही हूँ … लेकिन उसकी इस हरकत ने मेरे पूरे शरीर में एक सिहरन सी मचा दी. बाजी को अच्छा लगा और मैं लंड को अंदर घुसाने लगा तो बाजी मेरे कंधे पकड़ कर सहारा लेने के लिए खड़ी हो गई.

वहां उसने मुझे नहलाया और फिर बेड की चादर बदल दिया क्योंकि उसपे खून लग गया था।सागर ने मुझे फिर एक पैग पिलाया और मुझे लिटा कर मेरी चूत चाटने लगा।अब दारू की खुमारी और चूत चटाई ने मेरे अंदर फिर से उतेजना भर दी. बाबूजी ने डियो और तेल की शीशी अपनी साइड टेबल पर रखी और बाथरूम चले गये. मैंने अपने हाथ उसकी कमर पर रख रखे थे और अपनी टांगों को हल्के से ऊपर उठाया हुआ था ताकि मुझे दर्द कम हो.

मैंने अन्दर किचन से जाकर तेल की बोतल में से तेल निकाला और एक कप में ले आया.

बिहारी सेक्सी बीएफ मूवी: अंजलि सिसकारते हुए आह्ह … स्सस … उफ्फ … याहह … ओह्हह … कमॉन आह्ह … ओह्ह … चोदो राजा … जोर से चोदो मुझे … कह रही थी. मामी मादक सिसकारियां ले रही थीं- आह इसस्स हुंनम्म्म!फिर मैंने मामी के पेट पर किस किया, नाभि पर किस किया और मैंने मामी की साड़ी को ऊपर करके उनकी पैंटी पर चुम्मी कर दी.

मैं जल्दी से तैयार हो गया और मैं और मनजीत गाड़ी से उसके घर की तरफ चल पड़े. टी टी मेरे पास आया और मुझे बीच में खींच कर बोला- ऐसे नहीं, अगल टाईप से. मैंने थोड़ा गांड के सुराख के मुहाने पर थूक लगाया और लंड सेट करके घुसा दिया.

मैं बोली- बस कर … अब चोद दे … अपने मोटे लंड से मेरी चूत फाड़ दे … चोद मुझे जल्दी.

उसकी मैक्सी के अंदर हाथ देकर मैं उसकी पैंटी तक पहुंच गया और मेरा हाथ उसकी चूत पर जा लगा. देसी मसाला चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने फैक्ट्री की एक वर्कर को चोदा. मैंने कहा- कोचिंग के बाद घर जाओ और दो ढाई बजे तक यहां आ जाया करो, मैं गाइड कर दूंगा.