मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी प्रीति

तस्वीर का शीर्षक ,

বাংলা এক্স মুভি: मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ, अब मेरी इच्छा थी कि मैं शहज़ाद का भी काम कर दूँ, मैंने उसकी ज़िप खोली, जैसे ही उसके लंड को बाहर निकालने के लिए अंदर हाथ डाला तभी हॉल की बत्तियां जल गई और मूवी खत्म हो गई.

सेक्स करना सिखाइए

वह घबराने लगी और थोड़ा पीछे खिसक कर मेरी छाती से अच्छी तरह से चिपक गई. सेक्सी वीडियो रोमांसआखिर कैसे इसे किसी सुनसान जगह पर ले जाया जाये और इसके मस्त जमींदारी चोदू लंड का रस पिया जाये और आनन्द लिया जाये क्योंकि यह शुद्ध गांव का मर्द है ऐसे तो राजी होगा नहीं…इसके बाद कैसे मैंने इस जवान मर्द को फंसाया और इसके दानवी लंड का आनन्द लिया, यह आप जानेंगे अगले भाग में… तब तक के लिए बाय बाय.

पर ये साला सेक्स इतनी मादरचोद आइटम है कि जब एक बार चस्का लग जाए, तो बस आदमी गया काम से. इनका चोपड़ा की सेक्समैंने धीरे से देखा तो एक लड़की मस्त गाउन में खड़ी फ्रिज से पानी की बोतल निकाल रही थी.

मैं एक दिन बहुत उत्तेजित थी तो मैंने अपने पति अशोक से ऑफिस से छुट्टी लेकर पूरे दिन घर ही रहने के लिए कहा ताकि मैं उनके साथ बिस्तर में मजा कर सकूँ.मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ: तब जा कर मेरी जान में जान आई और मैंने पहली बैटरी अपने कैमरा में लगाई और काम स्टार्ट कर दिया.

मैंने कस के अपनी आँखें बंद कर ली, मेरे मुँह से चीख निकली और मैंने जोर से कहा- फक मी मोर… रुको मत… मुझे चोदते रहो! और अंदर डालो! भोसड़ा बना दो इस निगोड़ी चुत का!जैसे ही मेरा क्लाइमैक्स खत्म हुआ, मैंने आँखें खोली तो रिया की बड़ी बड़ी आंखों से मेरी तरफ देखता पाया। वो तो ये भी भूल गयी की उसके अंदर भी 3-3 लंड हैं जो उसे धकापेल चोद रहे थे.मैं तो अपनी चूत चटवाते समय सिर्फ मादक सीत्कारें ही भर रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं एक बिन पानी मछली की तरह बिस्तर पर मचलती रही.

ब्लू 2009 फिल्म की रिंगटोन डाउनलोड करें - मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ

जैसे तैसे हम अलग हुए, मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे अपनी कार में बिठाया और तेजी से गाड़ी चलकर हम मेरे घर पे पहुँच गए.नहीं तो सूसू के दाग कपड़ों पर लग जाएंगे।पूजा- ठीक है मामू ये टी-शर्ट भी देखो गीली हो गई अब मॉम गुस्सा करेगी।संजय- तू एक काम कर ये टी-शर्ट भी उतार कर मुझे दे दे.

मैं सोचने लगा, यार बेचारी कितना दर्द सहती है, अपना जिस्म बेचती है, तब कहीं जा कर बेचारी को कुछ पैसे मिलते हैं. मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ उसने सरिता के कंधे पकड़े और सरिता ने लंड को मुहं से निकाला तो सरिता बोली- चलिये अब लंड से मेरी बुर को जल्दी से चोदिए क्योंकि मेरी बुर में पता नहीं क्या क्या हो रहा है.

उन्हें मेरा स्पर्श ठंडा सा लगा, तो शरमा के कहने लगीं- छोड़ो प्रकाश, कोई देख लेगा.

मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ?

जैसे उसके बदन में बिजली हो कोई, उसके अधनंगे बदन को छूते ही हम सब यारों के लंड टनाटन्न हो गए. कमरे की लाइट बंद थी लेकिन कोरिडोर की लाइट से कुछ रोशनी खिड़की के शीशे से अंदर आ रही थी यानि कि घुप्प अँधेरे वाली स्थिति नहीं थी. सोनू की मम्मी ने कुछ सोचा और झिझकते हुए मुझसे कहा- राज! यदि आपको बुरा न लगे तो आप आज हमारे घर इनके पास सो जाओ.

वैसे तो उसने मोच का नाटक किया हुआ था मगर संजय कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था, इसलिए उसने ये सब किया. थोड़ी ही देर में जब टीका और मलखान उठे तो विभूति ने उन्हें पूछा- कहा जा रहे हो?मलखान ने बताया- भैयाजी, वो क्या है न कि हमारे पास कंडोम जो हैं न! वो खत्म हो गयो हैं, और सेवा करने के लिए ना हमें इसकी जरूरत है, तो बस कंडोम लेकर घर पे अपना हथियार तेल से धारदार बनायेगे और फिर किसी महिला की प्यास को बुझायेंगे. मेरा लंड भाभी की चुत के अन्दर-बाहर हो रहा था और वो सीत्कार करे जा रही थीं.

पापा ने मेरी एक ना सुनी और मेरी चूचियों को मसलते हुए धीरे धीरे अपने लंड को आगे पीछे करने लगे. मैंने अपने कॉलेज की 7 लड़कियों और 1 प्रोफेसर को भी चोदा और ऐसा चोदा के वो मेरी गुलाम बन गई. फिर धीरे से मैंने हाथ उसकी जीन्स के अन्दर डालना चाहा, पर जींस टाइट होने के वजह से हाथ अन्दर नहीं जा पाया.

मेरे हाथ उसके स्तन तक पहुँचे ही थे कि उसने मुझे अपने ऊपर से हटाया और अपने कमरे में भाग गयी. इसके बाद स्मृति सात दिन हमारे घर में रही और हर रात वो उसी ऊपर वाले कमरे में मुझ से चुदाई करवाती.

मैंने ध्यान से देखा कि दीदी के स्तन दिख रहे थे और उनकी पैंटी भी कुछ दिख रही थी.

मूवी में जब किस्सिंग सीन आया तो उसने मेरी तरफ देखा और हम दोनों की नज़र एक हो गयी.

उसके मुंह से ‘ओह्ह्हह्ह… ओफ्फ फ्फ्फ… आआहह…’ की आवाजें दोबारा आने लगी. सैर करते वक्त उसकी बड़ी गांड और मस्त चूचियाँ सबका ध्यान अपनी और आकर्षित करती थी. उनके पति यानि कि मेरे भैया को लगा कि जो बच्चा भाभी के पेट में है वह उन दोनों का ही है लेकिन वो बच्चा मेरा और भाभी का था.

वो बोलीं- क्या तुम्हें पता है कि इनको छूने से औरतों को घबराहट सी होती है?मैं चुप होकर सो गया, फिर थोड़ी देर बाद वो खुद से मेरा हाथ पकड़कर अपने मम्मों पर रख कर बोलीं- क्या करना चाहते हो. मामा खुश हो गए और अपने लंड पर ढेर सारा थूक लगा कर मेरी चूत में अपना लंड रख कर चुत को सहलाने लगे. मैं भी उसके पीछे पीछे चलने लगा क्योंकि मैं अब उसे छोड़ना नहीं चाहता था.

जैसे ही उसने मेरी चड्डी उतारी, उसे मेरा खड़ा 6″ का लंड देखा, वह घबरा गई और मुझे आगे कुछ करने से मना करने लगी.

मैं स्नेहा के साथ उसका हाथ पकड़े सीढ़ियाँ उतर कर नीचे आया और हम दोनों रानी के बेडरूम में जा पहुंचे. मैंने भी खुदा की नेमत का दिल खोलकर स्वागत किया और प्राची भाभी से लिपटे रहकर ही उनके पूरे बदन पर अपने हाथ और उंगलियां फिरा डालीं. लड़के वाले ग्वालियर के हैं, अतः यहीं मैरिज हाउस से शादी कर रहे हैं।मैं- क्या उसी लड़के से तय हो गई?भाई साहब- नहीं इतनी देर आजकल कोई कहां रुकता है.

उसको इंडिया से बहुत लगाव था इसलिए वो अपने पापा से ज़िद करके इंडिया पढ़ने आ गया था. इसके जवाब में वो बोले- जी, मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी, आप जैसा चाहे वैसा भोजन बनायें, मैं खुद भी तो बनाता हूँ अपने घर में. मीना को पता था कि मोना शुरू से ही सीधी रही है, ये जल्दी मानेगी नहीं.

मैंने रूक कर उसे पूछा- तुम खाना क्यों नहीं खाओगी?वो बोली- तू मेरी वजह से भूखा रहे तो मैं कैसे खाना खा लूँ?मैं कुछ बोलता उस से पूर्व वो मुझे अपने हाथ से खाना खिलाने लगी.

लेकिन अशोक ने मुझे झिड़क दिया कि क्या बच्चों जैसी बातें कर रही हो? कोई सुबह सुबह भी सेक्स करता है क्या?अब अशोक को मैं कैसे समझाती कि सेक्स करने का कोई समय नहीं होता है. ऋतु ने कहा- ऊह्ह पूजा… मजा आ गया! कैसे इन लड़कों ने हमारी चूत चाटी और हमें मजे दिए और बिना हमसे मिले कोई बात करे कमरे से चले गए… अपनी सेवा देकर!पूजा ने हंसते हुए कहा- मैं तो डर ही गई थी… पर जब तुम्हारी चूत पर किसी की चूत का एहसास हो तो कुछ सोचने समझने की शक्ति ही नहीं रहती.

मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ ‘मादरचोद, आराम से चोद उस साली से बोल पूरे गाँव से नहीं चुद रही है, जो इतना आवाज कर रही है. रात मैं मैंने प्रिया से बात की, मेरा उससे झगड़ा हो गया तो मैंने सोचा कि अब नहीं जाना उसके यहाँ!अगले दिन मैं अपने छत पर बैठा पढ़ रहा था, मौसम बहुत ठंडा था, मेरे फोन पर किसी का फोन आया, मैंने अटेंड किया तो नेहा बोल रही थी- आज क्यों नहीं आये पढ़ने?मैं- मन नहीं था.

मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ और रही बात भाभी की, तो वो मुझे अपने टाइम पर खुद उठा लेंगी, उसके लिए रात जागकर मैं स्टेमिना क्यों कम करूं. तभी मैंने कहा- आपने ऊपर का नया फ्लोर देखा है जो बन रहा है?उसने जवाब दिया- नहीं देखा! कहाँ पर?मैं बोला- ऊपर बन रहा है.

मेरे शौहर का इलेक्ट्रॉनिक्स सामान का बिजनेस था तो हमें पैसे की कोई कमी नहीं थी.

चुदाई सेक्सी चूत

फिर मैं चला आगे…उसके घर के जैसे ही पास पहुँचा, 4 कुत्ते भागते हुए चले आ रहे थे मेरे पास, मैं फिर खड़ा हो गया, वो चारों मेरे चारों तरफ़ खड़े हो गये, मेरी फट तो रही थी और वो अपने घर के बाहर खड़ी देख रही थी. मैंने सोचा कि कुछ तो करना पड़ेगा वरना मेरी बहन मेरे सामने चुद जायेगी. ‘मुझे समझ नहीं आ रहा कि मैं आपको क्या जवाब दूँ और कैसे ये सब करूँ, माँ मुझे आपके साथ ये सब करने में बहुत झिझक हो रही है.

मेरी इस दिलचस्प सेक्स स्टोरी पर आपके कमेन्ट और मेल मुझे मिलते रहने चाहियें. नीतू को बाद में भी चोद लेना और रही बात मेरी, तो उसका बाद में देखेंगे. हमने डोसा खाया, वह पैसे देने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और खुद पेमेंट कर दी.

चाची ने मुझे लिटा दिया और अपनी साड़ी ऊपर की फिर अपनी दोनों टांगें मेरी कमर के दोनों तरफ करके मेरे ऊपर बैठ गईं और अपनी चूत मेरे खड़े लंड पर रगड़ने लगीं.

वो ये चुदाई की आवाजें सुनती रही मगर जब उसको लगा वो खुद गर्म हो रही है तो सच में वो जाकर सो गई क्योंकि उसको पता था पापा अब शाम तक फ्लॉरा को नहीं छोड़ेंगे. ‘मेरा भी चूसो, जैसे एंड्रयू का चूसा है!’ अपना मोटा लंड मेरी बीवी की चूत से बाहर निकालते हुए स्वान ने नताशा से विनती की. मैं तो तैयार होकर आया हूँ, सुकांत तुम चलो, मैं डाक्टर साहब को लेकर आता हूँ.

वैशाली बहुत ही गरम हो चुकी थी, उसने मेरी पैन्ट निकाली और मेरा लंड हाथ में लेकर जोर जोर से हिलाने लगी. काका ने उसकीचुत का भोसड़ाबना दिया था अगर अभी वो गोपाल से चुदवाती तो उसको पता लग जाता और दूसरी टेंशन साधु वाली बात की थी. बहन के लौड़े राजेश, जरा आराम से बीयर डाल ना मस्ताना पर आधी पी रही हूँ और आधी मेरे ऊपर बह रही है.

दूसरे दिन रिसेप्शन का प्रोग्राम था, सारा काम मॅनेजमेंट वालों के पास था तो मेरे लिए करने को कुछ नहीं था, बस थोड़ी बहुत अरेंज्मेंट चेक करनी थी तो मैं एक राउंड लॉन का लेकर आया और आराम करने के इरादे से घर आ गया. विकास ने भी अपना मुंह मेरी बहन की चूत में दे मारा और उसे काफी तेजी से चाटने लगा.

अब आप मुझे रोज चोदेंगे ना?संजय- हाँ मेरी जान, मैं अब तुझे कभी नाराज़ नहीं करूँगा. वो चिल्लाने लगी तो मैंने उसके नर्म नर्म होंठों पे अपने होंठ लगा दिए. ना चाहते हुए भी मेरे मुँह से निकल गया- आप मुझसे यूं चिपक कर बैठी हो तो मुझे कुछ-कुछ हो रहा है.

मैंने अब जाने की इच्छा जताई तो दीपक बोला- सर, काफी रात हो गयी है तो आज रात आप यहीं रुक जाइये, वैसे भी हमें सुबह जल्दी ही मार्केट निकलना है तो सीधे यहीं से नहा कर और नाश्ता करके निकल लेंगे.

मैं अन्दर आकर सोफे पर बैठ गया, वो मेरे पास आई और बोली- चाय पियोगे या पानी लोगे?मैंने कहा- कुछ नहीं. चलते-चलते मैं जानबूझ कर अपनी पीठ से उसके मम्मों को दबा रहा था और गड्डे में होकर ही गाड़ी को चला रहा था, जिसकी वजह से वो आगे-पीछे हो रही थी और मैं उसके मदमस्त मम्मों की नरमी का मज़ा ले रहा था. रीना ने उसका कुरता खींचते हुए कहा- चल नहाने चल, फिर तैयार होकर चलते हैं मस्ती करने.

तो सुमन भाभी ने कहा- यार सैम तुम्हारा बहुत बड़ा और मोटा है, मेरे मुँह में नहीं जाएगा. वो बोली- अरे आपको हिम्मत की ज़रूरत, आप चार हो, हिम्मत तो मुझे चाहिए, मैं तो अकेली हूँ.

मैं बस आ ही गई; इस पल को अच्छे से महसूस करना चाहती हूँ; लंड की धड़कन को, इस सुखद अनुभूति को अपनी यादों में बसा लेना चाहती हूँ हमेशा के लिए!’ वो मेरा माथा चूमती हुई बोली और अपनी चूत ऊपर की ओर उठा दी. जब उसकी ब्रा ओर पेंटी रह गई तो वो बोली- धीरे धीरे करना, मेरी ज्यादा चुदाई नहीं हुई है, मेरे पति का दो मिनट में ही निकल जाता है और मैं आज तक प्यासी हूँ, आज तुम मेरी प्यास बुझा कर अपनी रखैल बना लो. सुमन ने एक झूठी कहानी सुनाई मगर उसमें जो दर्द हुआ वो सच था आपको भी याद होगा कहानी पढ़ते टाइम सुमन ने चुत में उंगली की थी.

jio सेक्सी हिंदी

फिर मैंने अपना हाथ उसकी ब्रा में डाल दिया और उसके निप्पल को दबाने लगा.

थोड़ी देर मैं वहीं पर उसके निप्पल चूसते हुए लेटा रहा, फिर मैं और वो खड़े हुए. उसके बाद जब माला नीचे बैठी अपनी योनि को पानी से धो रही थी तब मैंने शावर खोल दिया और माला को खींचते हुए उसके नीचे अपने साथ नहलाने लगा. मैंने मोहन को फोन किया तो कोमल ने उठाया- हेलो, राजेश हमने तुमको कितना फोन किया? कहाँ बिजी थे?मैं- सॉरी डार्लिंग सो रहा था, तुम सुनाओ क्या कर रही हो?कोमल- कल शाम को जमीला का फोन आया था, कह रही थी कि उसकी चूत सुजा दी चोद चोद के! तो हमने प्लान किया कि चलो स्काइप पर तुम लोगों के साथ हम भी दिन में चुदाई का आनन्द ले.

गुलशन जी ने टी-शर्ट थोड़ी ऊपर की तो सुमन आगे की ओर झुक गई- पापा थोड़ा ऊपर करो ना प्लीज़. मैं भी खुश था कि आज मेरी गांड बच गई नहीं तो ये लम्बे लंड से फाड़ देता. अंतर्वसना हिंदी सेक्सी स्टोरीमेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ, जो मैं आप लोगों के सामने बताना चाहता हूँ.

पर मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने कहा- नहीं अंकल, जल्दी भेज दीजिये, अभी अभी एक नया बैच चालू हुआ है, उसमें मेरा दोस्त पढ़ने भी जाता है, ज्यादा लेट हो जायेगा तो उसका कोर्स भी छूट जायेगा. मेरी उम्र अभी 19 साल की है, मेरे घर में मेरे मम्मी-पापा और मेरा भाई रहता है.

अन्त में उसने एकदम चिल्लाकर कहा- मैं गई, उम्म्ह… अहह… हय… याह…और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. आपको बता दूँ गुलशन जी के कमरे में आने के साथ ही सुमन बाहर कान लगा के खड़ी हो गई थी. नहीं सब तेरा मजाक उड़ाएंगे समझी ना तू!पूजा भाग कर संजय के पास आई और उससे लिपट गई।पूजा- ओह मेरे प्यारे मामू.

मैं धीरे से आगे आया और बेड पर 69 की अवस्था में लेटी हुई ऋतु और पूजा के पास आकर खड़ा हो गया. मगर मैं जानता था कि जब तक ये रांड नहीं मानेगी, मैं मेरी डॉल को नहीं ले जा पाऊंगा. अपना लंड अंदर तक डाल के मुझे मजे दो… आह आह ओह ओह ओह…!जब सरिता की मस्ती रमेश को दिखी तो उसने एक और झटके के साथ लंड के बाकी के हिस्से को भी उसकी बुर में डाल दिया- उईईई माँ मर गई रे… उई उई उई ओहोहोहो ओहोह आह्ह्हह्ह आह्ह्ह्ह ओह्ह आह ओह आह्ह्ह… माँ… माँ… धीरे धीरे… बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने उसका सर पकड़ा और उसके सर को आगे पीछे करके उसका मुँह चोदने लगा.

मेरे मुंह से चोदना शब्द सुन कर मुस्कुराई और बोली- चोद पाएगा?मैंने कहा- चाची आज तक किसी को चोदा तो नहीं है पर एक बार कोशिश कर के देखता हूँ. पता नहीं हमारे बदन पे कितने हाथ रेंग रहे थे, कौन कहाँ हाथ लगा रहा था ये भी ढूंढना मुश्किल था.

कुछ देर की पीड़ा के बाद मैं आगे-पीछे करते हुए उसे धकापेल चोद रहा था. उसने जब दोबारा पूछा तो मैंने हंसकर उसे बोला- शहज़ाद, तुम्हें अक्ल नहीं है, लड़की का चुप रहना भी उसकी हाँ कहने का एक अंदाज़ होता है. पर जैसे ही कविता को एहसास हुआ की रीना विनय से शादी करना चाहती है और उसकी वजह से नहीं कर रही है तो वह तुरंत ही वसंत कुञ्ज में पेइंग गेस्ट बन कर अकेली रहने लगी.

रिया ने नटखट नजरों से मेरी तरफ देखा फिर कुछ सोचकर कहा- बस एक बार, बीच पे जाकर खुले आसमान के नीचे और लहरों के ऊपर कोई बंदा मेरे बदन से खेले तो क्या कहना!मैं और रिया ठहाके मार मार कर हंस पड़ी. पूजा की टांगें एकदम गोरी चिकनी थी, उसकी चूत भी एकदम साफ़ थी, चिकनी चूत थी पूजा की. वैसे तुम्हें एक बात बता दूँ कि ये मेरा पहला सेक्स नहीं है, अलग-अलग तो सबके साथ कई बार कर चुकी हूँ। आज ग्रुप वाला पहली बार था।फ्लॉरा- ओह ये बात है.

मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ यह कहावत मेरे ऊपर एकदम फिट बैठती है, गत रात्रि इतना सब होने के बावजूद मैं उसके मुखड़े को सहलाने लगा. आप पता बता दें, मैं वहीं आता हूँ।भाई साहब- नहीं, अभी चलें। मैं कार लाया हूँ।मैं- मैं सुकांत के साथ आता हूँ, डाक्टर साहब आ ही रहे होंगे रास्ते में हैं।भाई साहब सुकांत की ओर चेहरा घुमा कर- अपने पास दो गाड़ी हैं। एक में तुम सब लोग पहुंचो।फिर मेरी ओर मुड़ कर बोले- इन सबको अपना मेकअप करना है.

फुल सेक्सी रंडी

चंदन ने एक बार फिर से अपनी जीभ अपनी सास की चूत में डाल दी और उसको चाटने और चूमने लगा. अभी मैं तीसरे फ्लोर पर था और पूरे फ्लोर पर मुझे कोई जवान मर्द नहीं मिला. मैंने उस घटना को मजेदार बनाने के लिए मसाले या झूठ का सहारा नहीं लिया.

‘क्या क्या क्या…’ करते हुए वह जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लौड़े पर रख दिया तो वो फिर हाथ हटा के जाने लगी. ये किस्सा उस स्थिति का है, जब सविता भाभी अपनी सहेली शोभा से अपने मादक जीवन की एक घटना का जिक्र कर रही थीं. सेक्सी दो सेक्सीपल भर मुझे लगा कि इस नीग्रो से चुदवा कर मैंने जिंदगी की सबसे बड़ी गलती कर दी.

मैंने भाभी की मालिश शुरू की, तभी उन्होंने हाथ पीछे करके ब्लाउज और ब्रा को खोल दिया.

ये समझ नहीं आ रहा भाई?जॉन- अब ये समझना है तो तुझे भी मेरा लंड अपनी बुर में लेना होगा. इस कहानी की नायिका मेरी पिछली कहानियों को पढ़कर ही बहुत प्रभावित हुई थी।उन्होंने मुझे कांटेक्ट किया, वे मुझसे बोली कि वे मुझसे बात करना चाहती हैं.

बस थोड़ा सा पीछे का हिस्सा फिर से देख लो ताकि आप लोगों का मजा बराबर बना रहे. मैं उन्हें गोद में उठाए हुए किस करते करते ही उनके साथ किचन में गया. बातों बातों में मेरी ने कहा- आप को मालूम है, रिसोर्ट ने रूल के मुताबिक आपका आधा बिल आपके बैंक खाते में लौटा दिया है और आपके लिए मेरे पास कुछ गिफ्ट भी भेजा है.

इतने में मस्ताना की पिचकारियों को जमीला ने अपने मुँह में ले लिया एक दो पिचकारी जमीला के बूब्स पर गिरी जिनको बाद में सबीना ने चाट लिया.

मैंने उसे लिटा दिया और अपना लंड उसकी चुत पर टिका कर चुत में डालने लगा. ऐसी मदमाती मस्त जवानी को चोदने के ख्याल से ही मेरे लंड में तनाव भरने लगा. मुझे ये था कि अगर अभी ज़्यादा छू कर देख लिया, तो कमरे में जाकर सेक्स करने का मज़ा खत्म हो जाएगा.

आर्मी एक्स एक्स एक्समोना ने मुस्कुराते हुए कहा- गोपाल तुम ये कैसे कर सकते हो यार? तुम्हें पता है कि वो बच्ची है और तुम उसके साथ ज़बरदस्ती कर रहे थे? अरे इतनी ही पसंद आ गई थी तो पैसों का लालच देकर खरीद लेते उसको. हम फिर किस करने लगे और मैंने फिर उसे उठा लिया और बहन की पैंटी निकालने लगा.

चूत मारवाड़ी सेक्सी

ऋतु- अरे इसमें ज्यादा वक्त नहीं लगेगा… अपना लंड निकालो… जल्दी!मैंने जल्दी से अपनी पैंट नीचे उतारी और ऋतु झट से मेरे सामने घुटनों के बल बैठ गई. कैसी बातें करूँ, जिससे तुम्हें मज़ा आए।मोना- बातें तो होती रहेंगी, पहले ये बताओ तुम्हें चूसना पसंद है क्या?सुधीर- ओह क्या. एक दिन की बात है, अंकल-आंटी को कहीं बाहर जाना था तो आंटी ने मेरी मम्मी से कहा कि हम लोग बाहर जा रहे हैं, हमारे लौटने तक आप बच्चों का ध्यान रखना.

खैर, मुझे अब उसके साथ मजा आ रहा था और पूरे शौक से हम दोनों अपनी जिंदगी के मजे ले रही थी. हां जब वो बिस्तर में मेरे साथ पूरी मादरजात नंगी मेरे आगोश में होती तो उसका व्यवहार किसी मदमस्त प्यासी, चुदासी कामिनी की तरह होता था. चाची बोली- ठीक एक शर्त पर!‘शर्त? बताइए मैं सभी शर्त मानने को तैयार हूँ…’ मैं बोला.

आपने कभी किसी पे पैसे का रोब नहीं झाड़ा। मेरी जैसी अटेंडेंट को भी सहेली बनाया। आपने यहाँ जो भी किया, वो खुलकर किया, ना कि पैसे वसूलने के लिए किया। रिसोर्ट मैंनेजमेंट भी आप दोनों की कायल हो चुकी है. फिर थोड़ी देर बाद वो खड़ी हुयी और मेरा लंड अपने मुख में लेकर साफ़ कर दिया. संजय अब सुमन के निप्पलों को चूसने और काटने लगा वो सिसकने लगी थी मगर उसकी आवाज़ संजय पहचान ना जाए, इस डर से वो दबी-दबी आहें ले रही थी.

मैंने खाना बनाया और इन्होंने परीक्षा के बाद घूमने का भी कार्यक्रम तय कर लिया, कहा- शाम को बाहर चलेंगे और रात का खाना बाहर ही खायेंगे!11. अब तू अपने पापा के लिए पीछे क्यों हट रही है?सुमन- नहीं ये ग़लत होगा, वो मेरे पापा हैं मैं कैसे उनका लंड चूस सकती हूँ.

उम्मीद है मेरी ये कहानी भी आप सभी को बाकी कहनियाँ की तरह पसंद आएगी.

टीना- कमीनी अभी कोई गंदी बात सुनी भी नहीं और तुझ पे सेक्स चढ़ गया क्या?सुमन- दीदी आगे क्या हुआ बताओ ना!टीना- अच्छा अच्छा अब पॉइंट पे आती हूँ. मां बेटे की सेक्सी वीडियो हिंदी मेंजैसे ही उसकी चुत चोदने को मिलेगी, मैं आपको अपनी चुदाई की कहानी लिख दूंगा. रोमांटिक सेक्सी वीडियो हॉटमेरे हाथ मानसी के जिस्म पर हर तरफ घूम रहे थे और मैं उसके पूरे शरीर को सहला रहा था. इतना सुनते ही मेरे पूरे शरीर में मानो करंट लग गया जब पता चला के पूजा मेरे यहाँ आकर रहेगी, मेरे मन में अचानक गुदगुदी होने लगी, मैंने तुरंत अंकल से कहा- हाँ अंकल, यहाँ बहुत अच्छी कोचिंग्स हैं, उसे यही भेज दीजिये, और मैं कोई अच्छी सी कोचिंग पता करके बताता हूँ, और मैं उसे पढ़ा भी दिया करूंगा.

फ्लॉरा जैसी सेक्स बम्ब सामने हो तो लंड सलामी ना दे, ये हो ही नहीं सकता था.

कुछ देर बाद अशोक ने नाश्ता करते हुए कहा कि आज रात को डिनर पर मेरा एक दोस्त आएगा, तुम कुछ अच्छा सा बना कर तैयारी रखना. हो जाओगे ठंडे और सोचो फ्लॉरा नंगी तुम्हारे सामने होगी तो मुठ मारने का मज़ा डबल हो जाएगा।अजय- उफ़ बस कर टीना. फिर मुझे ऊपर से किस करते हुए नीचे लंड राजा तक आ गई और मेरे लंड को चूसने लगी.

जब रीना को विनय से प्यार हुआ, तो उसे कविता का ख्याल आया कि बिना उसके कविता कैसे रहेगी. अब तो मेरी और फट गई, मैं बदहवास हो गया, क्योंकि ऎसी बेइज्जती से तो मरना बेहतर है, मैं आत्महत्या का विचार मन में लाने लगा और ऐसे ही सोने के बहाने लेटा रहा. उसके घर में घुसते ही मैंने उसको पीछे से पकड़ लिया और उसके गले पर किस करने लगा.

हिंदी सेक्सी डीजे

तभी फ्लॉरा आगे झुकी और अतुल के कान में बोली- जीजू, आपका गन्ना बहुत गर्म हो गया है. यह सोच कर मैं वहीं आकर खड़ा हो गया जहां से उसे मेरा लौड़ा मसलना दिखाई दे. मगर क्या करती जो था वही था।टीना- तब तो तू आज बहुत ज़्यादा एंजाय करेगी यार.

रात मैं मैंने प्रिया से बात की, मेरा उससे झगड़ा हो गया तो मैंने सोचा कि अब नहीं जाना उसके यहाँ!अगले दिन मैं अपने छत पर बैठा पढ़ रहा था, मौसम बहुत ठंडा था, मेरे फोन पर किसी का फोन आया, मैंने अटेंड किया तो नेहा बोल रही थी- आज क्यों नहीं आये पढ़ने?मैं- मन नहीं था.

मैंने लंड को अपनी ओर खींचा तो उसकी चमड़ी पीछे को हो गई और लंड का सुपारा दिखने लगा.

फिर मैंने उसकी गाल पे पप्पी करते हुए कहा- चल, आग लगाती हैं आज इस गोवा में!और हम होटल से बाहर आयी. मैं भी बाथरूम की दीवार का सहारा लेकर बैठ गया और सबीना के बूब्स चूसने लगा. छूत में से पानी निकलता हुआदस मिनट की चुदाई के बाद मैंने उसे खड़ा किया और दीवार के साथ लगा कर खड़ा कर दिया.

मैंने थोड़ी देर बाद सविता को फ़ोन किया- हैलो जानू सो गई क्या?‘अभी नहीं. जब से रीना की शादी हुई थी, उसके जीवन में सूनापन था, पर वो रीना को डिस्टर्ब नहीं करना चाहती थी. हमने नाश्ता किया और सविता मनोज से अलविदा कह कर वापिस आ गये फिर मिलने का कह कर!रात को मेघा और मनोज के बीच क्या हुआ, वो अगली कहानी!मेरी पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करें![emailprotected].

मैं सोनू की बेचैनी समझ गया और उसके घुटनों को थोड़ा मोड़कर उसकी चूत पर लण्ड लगाकर पोजीशन ली. थोड़े से विश्राम के पश्चात् मेरी सुन्दर पत्नि को फिर से सोफे से कमर टिकाए रुस्लान के लंड को अपनी अब तक बुरी तरह पिट चुकी गांड के अन्दर लेते हुए उकड़ूं बैठना था, जिसे उसने बखूबी अंजाम दिया और पीछे से आए चंगेज़ के लंड को पीछे की तरफ नीचे झुकता हुए अपने भक्काड़ा हो चुके मुंह में ले लिया.

हमने चाय पी और ये बोले- यार चलो, अंदर आराम से लेट कर बात करते हैं!हम तीनों आराम से बैडरूम में जाकर बिस्तर में लेट गए.

रिया ठहाके मार के हंस पड़ी मगर तभी यकायक उसकी हंसी कही बिखर गयी, चेहरे पर कड़वापन छा गया. मैं कोने वाली कुर्सी पकड़ कर बैठ गया और अपने नम्बर का इंतजार करने लगा. चूंकि मैं पढ़ने में काफ़ी अच्छा हूँ इसलिए मैं 11वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स को टयूशन भी पढ़ाता हूँ.

पिक्चर डाउनलोड करने वाला कहाँ जा रहे हो?मैं शरमाते हुए उनके पास गया तो वो बोलीं- आओ तुम भी यहीं लेट जाओ न. जीजाजी ने बच्चे की मालिश के लिए रखी तेल की कटोरी से दीदी की गांड के छेद पर तेल डाला और फिर अपना लंड गांड की मुहाने पर रखकर ज़ोर लगाने लगे.

वो तो ज़बरदस्ती तेरी चुत में लंड घुसा देगा और तब ज़्यादा दर्द होगा. भाभी की इस बात पर इस बार मैंने आगे से आकर उसकी गांड पकड़ कर बोला- हां हूँ न आपके लिए भाभी जान. योगी हैरानी से देखता रहा कि उसकी शर्मीली जीएफ अचानक ही गर्म रंडी की तरह बाँहों में बाँहें डाल कर बस चूमे जा रही थी.

सबसे सेक्सी फिल्में

ऊपर देखा तो मिक्स कॉटन की शर्ट पहन रखी है जिसकी आस्तीन चढ़ी हुई है, उसके हाथ मोटे और मजबूत थे. चाची ने उठने की कोशिश की पर मैंने उन्हें कस के पकड़ लिया और दोबारा कमर को झटका दे दिया. धीरे धीरे मैं उसके और नज़दीक आ गया, अब मैंने अपना हाथ उसकी छाती पर रख दिया और उसकी बालों भारी मर्दाना छाती को सहलाने लगा.

अगले दिन सुबह जब मैं 8 बजे उठा और सुसू करने गया, तब पहले जैसा दीदी आ गईं. दो लोहा-लाट जवान लंड दो गुलाबी छेदों के अन्दर खूब फंस-फंस कर अन्दर-बाहर आ-जा रहे थे! इतने फंस-फंस कर कि फिल्म डायरेक्टर को भी झड़ने का खतरा महसूस होने लगा और उसने इशारे से लड़कों को ब्रेक लेने का हुक्म दे दिया, जिसे लड़कों ने खुशी के साथ स्वीकार कर लिया.

मुझे लगा कि कोई डॉक्टर आकर मेरा फिजिकल एक्जामिनेशन करेगा, तो मैंने हामी भर दी.

सुमन ने उनका पूरा वीर्य गटक लिया और लास्ट बूँद भी जीभ से छत कर साफ कर दी. डोर लॉक करते ही रीना ने टॉप निकाल फेंका और ब्रा भी हवा में उछाल दी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:बिजनेस बचाने के लिए अफ्रीकन लंड से चुद गयी-2.

फिर मैंने सोचा कि अगर मुझे चुदाई की भूख मिटाने के लिए लंड ही चाहिए तो फिर वो मेरे बेटे का ही लंड क्यों नहीं हो सकता. उसकी योनि से गरम रक्त निकल कर मेरे लंड से होता हुआ जांघों पर बह रहा था. नीतू काफ़ी देर नाटक करती रही, फिर वो मान गई और गोपाल को दूर रहने का बोल कर वो धीरे-धीरे नंगी होने लगी.

उस दिन के बाद हम रोज़ ही फ़ोन पर बातें करने लगे और अगली बार कहाँ मिला जाए, ये प्लान बनाने लगे.

मराठी सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ: मामा झट से मेरे ऊपर से नीचे उतार गये और एक ही झटके अपने सारे कपड़े उतार दिए, मामा का विशाल काला लंड तन कर खड़ा था, लंड का अगला हिस्सा गुलाबी दिख रहा था मानो कोई चॉकलेट हो, मन तो कर रहा था कि उसको मुँह में लेकर चूसने लगूं. मेरे डैड गवर्नमेंट जॉब में सिविल इंजीनियर थे और माँ घर पे ही रहती थीं.

आज तो तुम क़यामत लग रही हो, क्या आज तेरा किसी को मारने का इरादा है, जो ये हुस्न की बिजलियां गिरा रही हो. टीना ने जब गौर किया और संजय को टोका तो संजय झेंप गया और उसने जल्दी से बात घुमा दी. मैंने पूछा- कौन से मेहमान?तो उन्होंने कहा- आप का, आप भी खास हो!मैंने उन्हे थैंक्स कहा साथ में उनकी तारीफ भी कर दी कि वो आज बहुत प्यारी लग रही हैं.

मैंने स्मृति को पिछली रात के लिए सॉरी बोला और दुख जताना शुरू किया तो वो मेरे मुखड़े को फूल की भाँति अपने हाथों में लेते हुये बोली- तू बहुत अच्छा है.

उधर टीना और बरखा भी समझ गई थीं कि अब लोहा गर्म है तो हथौड़ा मार देना चाहिए. विभूति तो क्या, सभी उन पर दिल हार जायें, ऐसी उनकी कामुक अदायें जलवे बिखेरे हुए थी. लूडो बोर्ड को हमने सेंटर टेबल पर रखा और खेलने को तैयार हो गए!लेडीज फर्स्ट… पहली बारी आई नताशा की!नताशा ने पहिया घुमाया और जाकर रुका लाल रंग के गोले पर.