सेक्सी बीएफ 2 घंटे की

छवि स्रोत,हिंदी देसी सेक्सी वीडियो बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

सासु मां को चोदा: सेक्सी बीएफ 2 घंटे की, विनया मोसी का फिगर एकदम भरा हुआ और मादकता से इतना अधिक भरपूर है कि कोई भी उन्हें एक बार देखने से ही उनको चोदने का मन बना लेगा.

भोजपुरी मधु सिंह का सेक्सी वीडियो

एक दिन वो बोला- फहमी यार, मुझे तेरी बुर चाहिए, वरना मैं पागल हो जाऊंगा. कुत्ता और कुतिया का सेक्सी वीडियोइसके बाद वो अकेली रहने लगी, पर वो पढ़ी लिखी थी, तो अभी एक मल्टीनेशनल कम्पनी में जॉब करती है.

अन्तर्वासना पर मैं जो आपबीती आप लोगों के साथ शेयर करने जा रहा हूं वह एक सच्ची घटना है. सेक्सी वीडियो मानीअब मेरे दोस्त ने जब ये देखा कि जब इन पति-पत्नी को इस तरह गैर की बांहों में मस्ती करने से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है तो उसकी हिम्मत और बढ़ गई.

दुकान पर बैठे हुए वो हर औरत को घूरते रहते थे इसीलिये उनकी बीवी अलग रह रही थी उनसे.सेक्सी बीएफ 2 घंटे की: सीमा ने भी चेंज करके शबनम की वार्डरॉब से शॉर्ट्स और टी शर्ट पहन ली.

वह चिल्ला उठी- उईईईई माँ …उसने धीरे से मेरी हथेली पर हाथ मारा और एक बनावटी गुस्सा दिखाते हुए बोली- नॉटी ब्वॉय … मुझे हर्ट क्यों कर रहे हो.ये थी मेरी फर्स्ट टाइम सेक्स की कहानी … मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको पसंद आई होगी.

देवर भाभी सेक्सी कॉमेडी - सेक्सी बीएफ 2 घंटे की

वो मेरे चूचों को अपने मुंह में लेकर पीने लगे और मेरे अंदर चुदास भरने लगी.उस समय तो मैंने उसका लंड पहली बार ही देखा था लेकिन आज तो मैं ये कह सकती हूँ कि मैंने इससे भी बड़े लंड लिए हैं.

मैंने कहा- तो अपनी दीदी को दिखाएगी नहीं क्या अपनी चूत?वो बोली- तुमने गर्म ही इतनी कर दी है कि वो खुद तुम्हारे सामने आ चाह रही है. सेक्सी बीएफ 2 घंटे की इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाता, भाभी बोलीं- तुम्हें उसे चोदना है, खूब चोदो … लेकिन मुझे भी चोदते रहना प्लीज.

मेरा हाथ लगते ही मानो वो और कड़क हो गया हो।वो बोला- अपने मुँह में लो ना!मैं बोली- छी मैं नहीं लेती हूं।उसे क्या पता कि यह लंड चूसना तो मेरा शौक बन चुका है।लेकिन इस वक़्त लन्ड की जरूरत मुँह से ज्यादा चूत को थी।फिर उसने अपनी जेब से लिप गार्ड निकाला और अपने लन्ड पर ढेर सारा लगा लिया.

सेक्सी बीएफ 2 घंटे की?

वह मेरा इरादा समझ गई और उसने अपने आपको एडजस्ट करके मेरे हाथों को अपनी चुचियों तक पहुंचने की इजाज़त दे दी. लेकिन मेरी चूत की अगली चुदाई मेरे पापा ने की घर में! बाप बेटी की चुदाई स्टोरी का मजा आप भी लें. मैं बोला- हां जान खाना है … खाऊंगा … पर जरा इत्मीनान से बैठो मेरी जान.

उसने अंडरवियर पहना हुआ था और पूरा भीगा था, बोला- प्रॉमिस कोई बदमाशी नहीं करेंगे, बस तुम साथ आ जाओ. संदीप अपने लंड को पैंट से बिना निकाले ही घिसने लगा और कोमल की एक अन्य सहेली ने अपना वन पीस शार्ट ड्रेस ऊपर करके चूत में उंगली डाल ली थी. तुम्हारी चुचियों को छूना, उन्हें दबाना, उन्हें फील करना मेरे हाथों ने आज तक कभी इतनी ज्यादा खूबसूरत और सेक्सी चीज को नहीं छुआ.

वो मुस्कुरा कर बोलीं- बहुत शैतान है तूमैं- शैतानियां तो करीब वालों से की जाती हैं. मैंने अपने पति का लंड सीधा अपने मुंह में ले लिया और उनको मजा देने लगी. मेरी पत्नी मेरे दोस्त का तना हुआ लंड अपने हाथ में लेकर उसकी बीवी को दिखाने लगी.

” नीलम ने चिंता जताते हुए कहा।बेटी तुम हो ही इतनी सुंदर कि तुम्हें देखकर कोई भी कण्ट्रोल खो बैठेगा. खाने के बाद उस रईस लड़के ने नौकरों को छुट्टी दे दी और हम सब हॉल में बैठ कर गप्पें मारने लगे.

मेरे पास बैठ कर बोली- अब एक बार 3 बजे दूध पिलाना है बाकी सारी रात हमारी है.

और आज जब छाया ने किंग के बारे में बताया तो मन मचल गया।मुझे माफ़ कर दे बेटा … मैं तुझे बताती भी तो क्या बताती! इस छाया ने ही मुझे पहले भी फँसाया था तेरे दोनों चाचा के साथ और आज मेरे अपने सगे बेटे के साथ क्या करवा दिया।मुझे छाया पर बहुत गुस्सा आ रहा था.

मैंने चाची की चूत पर अपना लंड सैट किया और ज़ोर के झटके से अपना 6 इंच का आधा लंड चाची की चूत में पेल दिया. ज्योति ने पहले भी अपने बाप का लंड अपनी चूत में लिया था लेकिन उसके बाप के लंड से उसको अभी भी भय लगता था क्योंकि उसका लंड था ही इतना मोटा. उसकी चुत से पानी निकलने लगा, जिसे मैं चाट चाट कर साफ ही कर रहा था कि वो बोली- राज अब रहा नहीं जाता … कुछ करो जल्दी प्लीज … तुम अपना मस्त लंड मेरी चुत में डाल दो जल्दी से … अब मुझसे और इन्तजार नहीं होता प्लीज.

उसको दर्द हो रहा था मगर मैंने उसका मुंह अपनी तरफ कर लिया और उसके होंठों को चूसने लगा. तभी मेरी नजर भाभी जी की तरफ गई, तो वो बड़ी बेचैनी से मेरी तरफ देख रही थीं. उनके दो रसीले आम देख कर मैं पागलों की तरह उन पर टूट पड़ा और उन्हें दबा दबा कर चूसने लगा.

एक बार तो मैंने उसकी आंखों में देखा और उसके बाद मैंने अपनी नजरें नीचे कर लीं.

आपने इस सेक्स कहानी के पहले भागनजर का धोखा और मौसी की चूत-1में पढ़ा कि मैंने अपनी फ्रेंड के धोखे में किसी और लड़की को अपनी बांहों में जकड़ लिया था. उनके ससुर सेजल की चुत में लंड डाल कर सेजल के ऊपर आ कर उन्हें चोदने लगे. अब जब भी वो मेरे करीब आता तो किसी न किसी बहाने से मुझे छूने की कोशिश करता था.

चाची बोलीं- संजय, तेरे चाचा की लुल्ली से मुझे मजा ही नहीं आता और उनका दो मिनट में ही पानी निकल आता है. अब मुझे समझ में आ गया था कि इसको आगे से चुदाई करवाने की बजाय पीछे से गांड को चुदवाना पसंद है. हां लेकिन मुझे जिस्म की नुमाईश करने में बड़ा मजा आता है और भाई का बस चले, तो वो हमेशा मुझे नंगी ही रखे.

तब तक भाबी ने अपना पैग उठाया और मेरी तरफ जाम उठाते हुए बोलीं- चियर्स.

सब अपने अपने मन में जानते थे कि पिछले एक महीने में में उन्होंने बिना सेक्स के कौन कौन से पार्टनर बदले हैं. फिर हम वापस जाने लगे तो सूरज अंकल ने मेरी गांड पर थपकी लगाई और आंख मार दी.

सेक्सी बीएफ 2 घंटे की दीदी ने अपनी कमर को ऊपर किया और साकेत भैया ने तकिया को दीदी के पेट के नीचे रख दिया. मेरा एक हाथ उसकी गांड के नीचे था और दूसरा हाथ उसकी चूत के होंठों को मसाज दे रहा था.

सेक्सी बीएफ 2 घंटे की फिर मैंने भी एक झटके में उसे नीचे लिटाया और उसके ऊपर आकर उसे हर जगह किस करने लगी. उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और वो मुझे बांस के कई झुंडों के बीच में एक टीले पर ले गई, जहां आसपास कोई नहीं था.

लेकिन मेरी चूत की अगली चुदाई मेरे पापा ने की घर में! बाप बेटी की चुदाई स्टोरी का मजा आप भी लें.

सेक्सी वीडियो फिल्म ऑनलाइन

लंड सैट होते ही शान ने एक झटका मारा और उसका मोटा लंड मेरी माँ की चुत में घुस गया. उनके ससुर ने मेरा लंड फिर से सैट करके थोड़ा चुत के अन्दर फंसा कर रख दिया. फिर ससुर ने थोड़ा थूक लगाया और धीरे धीरे अपना लंड चुत में पूरा डाल दिया.

कॉलेज में मेरे 3-4 लड़कों के साथ अफेयर थे जो रोज मुझको कॉलेज के पीछे खाली पड़े हुए रूम में ले जा कर चोद लेते थे. दोस्तो, कैसी रही मेरी चुदाई की कल्पना … अच्छी है न … इसी प्लानिंग और इरादे के साथ मैं अप्रैल के महीने में अपने नाना के भाई के छोटे बेटे यानि की दूर के मामा के घर कानपुर शादी में जा रहा हूं. वॉयलेट- यहां के लोग किसी को हेल्प नहीं करते हैं … सब अपना देखते हैं.

15 दिन में तो हम प्रेमियों की तरह बातें करने लगे और तीन हफ्ते में हम दोनों ने एक दूसरे से अपने प्यार का इज़हार कर दिया.

मैं बार-बार देख रहा था कि वह दोस्त मेरी बीवी के नंगे जिस्म को पकड़ रहा था. मैंने अपने लंड को उसकी योनि पर सेट किया और हल्का सा दबाव उसकी योनि पर बना दिया. भाभी की भरी हुई चूचियों के निप्पलों को बारी बारी से मसल और सहला रहा था.

वो बार-बार मुझे भाभी कह कर बुला रहा था तो मैंने उस पर विश्वास कर लिया. मैंने उसके चुचों को चूसते हुए उसके एक निप्पल पर हल्का सा काट दिया तो वो दर्द से उछल गयी और बोली- हाय जीजू, ऐसे मत काटो, निशान पड़ जायेगा. उसने अपने दोनों हाथों से चादर को पकड़ लिया था और वो जोरों से उस चादर को भींच रही थी.

मैंने ही उसको संभाला और इस दौरान हमारी नजरें मिलीं और हम दोनों वहीं पर स्मूच करने लगे. पहले तो मुझे लगा था कि ये सब टाइम पास करने का जरिया है … और फालतू का काम है.

मगर मैंने उसको पापा के साथ चुदाई में शामिल होने के लिए मना लिया और फिर वो मान गया. मैं उठा और कच्छा बनियान पहन कर वॉशरूम में गया और मूत कर वापिस आ गया. इसी के चलते मैंने इसे तुम्हारे बारे में बताया, तो इसके भी मन में फीलिंग उठने लगी.

मेरे पति तो आते हैं, मेरी चूत में अपना पांच इंच का छोटा पतला सा लंड डालकर पानी निकाल लेते हैं और मैं प्यासी रह जाती हूँ.

मैं उनको ऐसे देखते हुए देख कर उसी समय उनका नाम ले कर जोर जोर से मुट्ठी मारने लगा. दो दो पैग होने के बाद मैंने कहा- मेम चलो खाना खाने के बाद आप मेरे घर पर चलोगी?मेम बोलीं- नहीं … तुम आज मेरे घर चलो. 2 मिनट बाद उसके झटके तेज हो गए और वो ‘अह हह ह्म्मह हह रंडी मैं आ गया बहनचोद!’ करता हुआ झड़ गया और मेरे ऊपर ही लेट गया.

आपको कहानी के बारे में कुछ कहना है तो नीचे दी गई मेल आईडी पर मेल करें. पापा ने मेरी चूचियों को पकड़ लिया और गिरते-संभलते हुए मैं उनको कमरे की तरफ लेकर जाने लगी.

उसने मुझे किस करते हुए कहा- क्या करवाना चाहती हो?मैंने उसकी आंखों में आंखें डाल कर कहा- वही जो आग बुझाने के लिए किया जाता है. उसकी इंग्लिश बोलने का तरीका इतना मस्त था … और इतना फ़ास्ट था कि पहले तो मुझे ठीक से समझ नहीं आया. अब ज्योति कुतिया बनी हुई थी और सगा बाप पीछे कुत्ते की तरह अपनी बेटी के चूतड़ों के बीच मुँह दिए हुए उसकी चूत चाट रहा था.

देसी भाभी सेक्सी एचडी वीडियो

जब मैं वहां से गुजर रहा था तो मैंने देखा कि एक औरत अपने कमरे के बाहर झाड़ू लगा रही थी.

दरअसल ये क्रीम का कमाल था जो कि बवासीर वाले डॉक्टर मरीज की गांड में उंगली डालने से पहले लगा कर गांड में होने वाले दर्द को खत्म कर देते हैं और मरीज की गांड का सही से चैकअप हो जाता है. मैं भाभी को किस करने लगा … लेकिन वो मुझसे छूट कर वापस पीछे भाग गईं. फिर जब मुझे लगा कि वो रेडी हो गई है … तो वापस मैंने अपने लंड को बाहर खींच कर एक फाइनल धक्का दे मारा.

पर सीमा बोली- मैं ये नहीं कह रही कि हम लोग भी ऐसा करें, पर आपसी रजामंदी से सब ऐसा करते हैं तो इसमें बुरा क्या है? अगर दोस्ती पक्की है तो बाहर बात भी नहीं जाती और मस्ती भी हो जाती है. मेरे मुँह से ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’ की आवाज़ निकलना शुरू हो गयी थी. 50 साल के सेक्सी वीडियोतभी प्रीति ने कहा- दीदी आई है क्या?मैंने कहा- हाँ!तो प्रीति ने कहा- दीदी की चप्पल बाहर देखी तो मैंने सोचा कि मैं दीदी से मिल लेती हूं.

मेरी आंखें भी बन्द हो गईं और थोड़ी देर उसके मसलने के कारण लंड ने भी माल छोड़ दिया. उसका लंड दीपा ने मुंह से निकाला और अपने मम्मों पर सारा माल गिरवा दिया.

इसके पहले उसने अपनी गांड में लंड को नहीं लिया था इसलिए उसकी गांड को अभी लंड के मजे का अहसास नहीं था. अब जब भी मैं अपने घर पर पार्टी रखती थी, तो मैं उसको अपने घर जरूर बुलाती थी. हम साथ जाने लगी तो रास्ते में मैंने इकरा को सब बताया जो मैंने रात में अपनी कुंवारी बुर के साथ किया था और जो मजा मुझे मिला था.

मैंने उसकी गांड में सीधे लंड डालने की बजाय उसको दूसरे तरीके से उत्तेजित करना था. मुझे तुम इस बात के बारे में सच्चाई बताओ कि मुझसे मिलने के पहले और बाद में तुमने कितने लोगों के साथ सेक्स किया है. उसके बाद मैंने लंड को जड़ घुसाने की कोशिश की लेकिन ऐसा लगा जैसे कोई दीवार सामने आ गयी हो.

मैं अपने हाथों को थोड़ा नीचे ले गया और उसके पजामे की डोर को खोल कर, अपने हाथ को सीधा उसकी पैंटी के अन्दर चुत पर लगा दिया.

वो मुझे उठाए हुए ही बहुत ही प्यार से मेरी चुम्मी का आनन्द लेने लगा. मैंने नीरू को जमीन पे खड़ी करके झुका दिया और पीछे से उसकी चूत में लन्ड डाल कर चोदने लगा.

एक दिन ऐसे ही उससे बातें करते करते उसने मुझसे पूछा- आपका वो छोटा सा है, तो आपको बुरा नहीं लगता?मैं इस बात पर उसको कुछ बोल नहीं पाया और बस ऐसे ही जवाब दे दिया कि इसमें बुरा लगना जैसा क्या है. उनके होंठों की गर्मी ने तो लंड में अलग ही किस्म की खलबली मचा दी थी. मैं थोड़ा रुका रहा, फिर भाभी ने इशारा किया … तो मैं अब धीरे-धीरे उसकी बुर में अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा.

जेठजी अपना हाथ मेरे कंधे से हटाकर मेरी बांह को पकड़ लिया और मुझे स्टूल से उठाने का प्रयास करने लगे. उसके बाद के दो तीन दिनों तक व्यवस्था को ठीक करने और समीक्षा चर्चा, हंसी मजाक और खर्च का हिसाब करने में निकल गया. उन्होंने लंड का पूरा पानी गटक लिया और बहुत अच्छे से लंड चाट कर साफ कर दिया.

सेक्सी बीएफ 2 घंटे की उसकी चूत टाइट थी, परन्तु गीली थी, अन्दर डालने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. दोस्तो, आपकी मुस्कान पेश है अपनी चुदाई कहानीसफर में मिला नया लंड-1का अगला भाग लेकर। उम्मीद करती हूँ कि आपको कहानी पसंद आ रही होगी।इस कहानी में मैंने कोई छेड़छाड़ नहीं की है; कहानी बिल्कुल सत्य घटना पर ही है।मैंने और हेमन्त ने होटल में एक रूम ले लिया और रूम में चले गये।मैंने अपने बैग से अपना एक गाउन लिया और बाथरूम चली गयी.

सेक्सी वीडियो ससुर बहु की

’उसकी चुदास देख कर मैंने कुछ ही पलों में सबा को चोदने लायक नंगी किया. अब तो हम दोनों जॉब की वजह से अलग हो गए हैं, लेकिन छुट्टियों में हम दोनों किसी न किसी जगह घूमने जाते हैं और गांड चुदाई का मज़ा लेते हैं. उसने दोबारा दीपा का सर अपनी गोदी में रख लिया और धीरे धीरे उसकी गर्दन की और कन्धों की मालिश करने लगा.

नीता हाथ से उसका लंड पकड़ के सहला रही थी, प्रिन्स ने अपना लंड उसके मुख में डालने की कोशिश की लेकिन नीता ने ऐसा करने को मना कर दिया. उसी समय उसने एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड के अन्दर घुसा दिया. सेक्सी वीडियो गांव सेवो बोली- ये भी बता दो कि पैसे कितने लोगे?मैंने कहा- मुझे पैसों की कोई जरूरत नहीं है.

तुम्हारे लिंग को तो वह रोज ही लेती है, उसको तुम्हारा मुझसे छोटा लिंग लेने में क्या परेशानी हो सकती है! बात तो मुकाबले की तब होगी जब वह मेरे साइज के लिंग को झेल कर दिखा दे कि वह कितनी देर तक मेरे जितने बड़े लिंग को बर्दाश्त कर सकती है.

अब मेरे यानि विरत की मॉम निशा के शब्दों में:मैं कमरे के बाहर खड़ी थी. कुछ देर आराम करने के बाद हमने अपने कपड़े ठीक किए और चलने के लिए जैसे ही तैयार हुए, तो मैंने देखा कि सबा ठीक से चल भी नहीं पा रही है.

फिर मूवी खत्म हुई और हम पार्किंग में आते हुए एक कोल्ड ड्रिंक लेकर गाड़ी में बैठ गये. मैंने उसकी जांघों पर हाथ फेरते हुए उसकी स्कर्ट उतार दी और उसके चूतड़ों को चूसने और चाटने लगा. मैं उत्तरप्रदेश के एक गांव का रहने वाला हूँ और नजदीकी शहर गोरखपुर में रह कर पढ़ाई करता हूँ.

कुछ देर ऐसे ही मेरी चुदाई करने के बाद सर बोले- मेघा जान … एक काम करो तकिया लेकर उलटी हो जाओ!हाँ सर!”मैं उलटी हो गई और सर ने पीछे से मेरी चूत में लंड डालकरचोदना शुरू कर दिया.

ऐसे चूतड़ तो नंगी फिल्मों में काम करने वाली रंडियों के भी शायद न हों. मेरी इस हरकत पर मेरी पत्नी मुझे गुस्से से मारने के लिए पानी में ही मेरी तरफ दौड़ी. इस तरह हम फिर एक बार इस बात को बेपर्दा होने से बचा लेंगे कि कौन किसके साथ था.

जानवरों के साथ सेक्सी फिल्मकुछ देर बाद उस लड़के ने मुझसे धीरे से पूछा- क्या आपका कुछ मन कर रहा है?मैं कुछ नहीं बोला. कभी वो काफी देर तक लंड को पूरा जड़ तक मुंह में घुसाये रखती, तो कभी सिर्फ टोपे को मुंह में लिये लिये चूसती, और कभी वो टट्टे सहला सहला के नीचे से ऊपर तक लंड चाटती.

मुझे चॉकलेट दो

खेत में रात के वक्त मवेशी घुस जाते हैं और सारी फसल को खराब कर देते हैं. दीपा वाशरूम से फ्रेश होकर रसोई में गयी तो पीछे से हँसता हुआ मनोज आया और दीपा को इशारे से बाहर बुलाया और होंठों पर उंगली रख कर चुप रहने का इशारा किया. मैंने उसको बोला- अमन?और जैसे ही वो मेरी आँखों पर से हाथ हटा कर मेरे सामने आया तो मुझे झटका लगा.

वैसे तो काफी थका हुआ था लेकिन अमृता के साथ हॉल में हुई कामुक हरकतों को याद करके एक बार फिर से लंड को हल्का किया और फिर सो गया. फिर मैं अपने एक हाथ के अंगूठे से उनकी सलवार के ऊपर से ही उनकी चूत रगड़ने भी लगूंगा. उसने मेरा पूरा पानी पहले तो अपने मुँह में ले लिया, लेकिन बाद में उसने सारा लंड रस बाहर थूक दिया.

उन्होंने धीरे से अपने पैरों को हिलाते हुए नीचे से अपनी पैंट और अंडरवियर दोनों को ही निकाल दिया था. चाहे मैं शौच करने जाऊं या पेशाब करने, चाहे नहाने जाऊं या सोने, सुरेंद्र जीजा मेरे पीछे पड़े रहते थे. श्वेता दीदी- ऐसे तो वो घर पर ही बोल रहे थे … पर मैं उनसे बोल दूंगी.

कह कर मधुर हंसने लगी।मुझे कुछ समझ नहीं आया। पता नहीं मधुर क्या बताना चाह रही है।फिर पता है सानिया ने क्या बोला?”क्या?”वह बोली- दीदी … आप मुझे भी अपने पास यही रख लो। मैं रोज घर का सारा काम भी कर दूँगी और रात को आपके पैर भी दबा दिया करुँगी. उम्म्ह… अहह… हय… याह… क्या मस्त लंड चुसाई कर रही थी … मुझे तो उसने मस्त कर दिया था.

मैंने उससे बात की, तो मालूम हुआ कि वो श्रीनगर की रहने वाली थी, पर दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रही थी.

अब आगे:बॉस को देखते हुए मैंने अपने बेडरूम में जाकर एक मिनी टॉप और छोटी सी स्कर्ट पहन ली. सेक्सी वीडियो स्कूल गर्ल सेक्सीहम दोनों बस का इंतजार कर ही रही थी कि अचानक से मेरे बॉस की कार हम दोनों के पास आकर रुकी. सेक्सी फुल ओपन हिंदी मेंचाची बोलीं- संजय बहुत ही गयी चुसाई … अब थोड़ी चुदाई भी करो … मैं तुम्हारे लंड से चुदना चाहती हूँ. मेरी पिछली सेक्सी कहानीपड़ोस की मस्त प्यासी भाभी की चुदाईको बहुत से लोगों ने पसंद किया और फिर मुझे मेल भी किए.

फिर किसी कारण से उनके पति यानि कि मेरे भाई साहब की नौकरी छूट गयी और वो लोग वापस अपने गांव में आ गये.

उसकी छटपटाहट को देखते हुए मैंने वहीं पर लंड को रोक दिया और उसको किस करने लगा. ” ज्योति को आज तक ये बात समझ नहीं आई थी कि मर्द लोगों को औरत की गांड चाटने में क्या मज़ा आता है. कई बार गलती से रात को जब चूचों पर हाथ चला जाता था तो मैं उनको अपने हाथों से ही दबाने लगती थी.

पूरे विधि विधान के हिसाब से मूहर्त निकाला, जो कि एक हफ्ते के बाद का था. मैंने उससे कहा कि तुम मुझे यहीं उतार दो, मैं तुमको 7 बजे के करीब फोन करूँगा. वैसे मैंने राहुल का लंड रस काफी बार पिया था, सो मुझे ज्यादा प्रॉब्लम नहीं हुई.

हिंदी सेक्सी खेत में

रोहन- रियली?सोनिया- हम्मम्म … इसलिए जब भी मैं तुम्हें चंपू बुलाऊं, तो समझ जाया करो … मैं तुम्हें चिढ़ा नहीं रही हूं, बल्कि तुम्हारी मासूमियत के प्रति अपनी पसंद जाहिर कर रही हूँ. मैं इतना तेजी से भाभी की चुदाई कर रहा था कि उनसे पूछने से पहले ही मेरा माल छूट गया. उसके बाद मेरी साली ने बोतल को लिया और फिर से मेरे लंड पर स्प्रे कर दिया.

कहानी के पिछले भाग में मैंने बताया कि दोनों सेठों ने अपने मूसल लंड से मुझे चोदने के लिए तैयारी कर ली थी.

वहां बहुत सारे बांस के पेड़ों के झुंड थे, जो एक दूसरे से थोड़ा दूर दूर थे.

भूख जोर की लगी थी, सभी ने भरपेट नाश्ता किया और अपने अपने कमरों में फ्रेश होने चले गए. एक दूसरे के बदन को कपड़े से पोंछ दिया और फिर कपड़े पहने और कार में बैठ गये. अद्भुत सेक्सी वीडियोजब पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो बोली- अब धीरे धीरे इसको बाहर निकालो और दोबारा से ऐसे ही ट्राई करो.

मैं उसकी गांड मारता रहा और धक्के पर धक्के लगाए जा रहा था और वह रोये जा रही थी. दीदी श्वेता दीदी का हाथ पकड़ते हुए बोली- श्वेता … पता नहीं क्यों मुझे बहुत डर लग रहा है. अगर तेरे अंदर इतनी ही गर्मी हो रही है तो मैं तुझे किसी कोठे पर बिठा देती हूं.

मैं अपने बेडरूम में जाकर सेक्स की किताबें पढ़ने लगा और लंड को हिलाने लगा. सोनिया- हाय तो मेरी चूत में उंगली डालकर रब करो ना … मेरा दाने और दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाओ जानू.

दोस्तो, जैसा कि आपने कहानी के पिछले भागउत्तेजना की चाहत बन गयी शामत-1में पढ़ा कि हम दोनों मर्दों (मुझे और मेरे डॉक्टर दोस्त) को एक दूसरे की बीवियों के बदन के साथ मजे लेने का मन कर रहा था.

हालांकि मैं उसे बचपन से जानती हूं, लेकिन इस बार उसका बर्ताव कुछ बदला बदला सा था. जब पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो बोली- अब धीरे धीरे इसको बाहर निकालो और दोबारा से ऐसे ही ट्राई करो. कम से कम आधा घंटे तक ऐसे ही पड़े रहने के बाद हमने फिर से चुदाई करनी शुरू कर दी.

दलाल सेक्सी जब मोसी ने मुझे अपने करीब करते हुए मुझे चूमा, तो मुझे उनके मम्मों के निप्पलों चुभने लगे. मैं उनके दोनों निप्पलों को बारी बारी मुँह में ले कर अपने होंठों से रब करने लगा, जिससे चाची और भी तिलमिला उठीं.

उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, तो उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर लगा कर सीधा ही खुद को नीचे धक्का देने लग गयी, जिससे मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया. कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे दी गई मेल आई-डी का प्रयोग कर सकते हैं. जब उन्हें लग गया कि मैं खाली हो गया तो उन्होंने अपने हाथ को मेरे लंड पर दबा के बचा रस निकालने को नीचे से ऊपर की तरफ ले गयी.

सेक्सी वीडियो शिल्पा शेट्टी का

जब सरोज भाभी भी झड़ का खत्म हो गईं, तो मैं उनके ऊपर आ गया और पूरे जोश में गाँव की भाभी को चोदने लगा. इस तरह से लगातार 20 से 25 मिनट तक चाची की चुदाई के बाद जब मेरा होने को हुआ, तो मैंने कहा- जान मेरा होने वाला है … कहां निकालूं?चाची ने कहा- बाबू प्लीज मेरे मुँह में डालना … मैं तुम्हारा रस पीना चाहती हूँ. आप कल्पना करो कि मेरी 6 फिट की चाची और वो भी इतनी मस्त गांड और चूचों वाली चाची … उस समय कैसी लगती होगी.

फिर मैं उठा और अपना लंड देखकर उनको दिखाते हुए बोला कि इसका क्या होगा?वो आंखों में रंडियों जैसी चमक लाते हुए बोलीं- ला इसे … मैं अभी इसे ढीला करती हूँ … पूरा सबक सिखा दूंगी. उनका लंड नीचे से कमाल दिखा रहा था और वो ऊपर अपने हाथ और मुँह से मुझे मजा दे रहे थे.

ऐसा लग रहा था मानो एक मशीन के दो छेदों में दो पिस्टन एक साथ अन्दर बाहर हो रहे हों.

तब साकेत भैया ने अपने पैर फैला कर बीच में दीदी को बिठा लिया और दीदी का सर को पकड़ कर अपने लंड के तरफ झुकाया. पर ये तय था कि उन लोगों की दोस्ती में एक नए अध्याय की शुरुआत होने वाली थी. तुम दोनों ही अपनी चूत की बहुत सफाई रखती हो जो मुझे बहुत पसंद है।यह सुन कर वो मुझे चूमने लगी उसकी जीभ मेरी जीभ से खेलने लगी।वन्दना- जीजू आप तो चूत को चाटते भी बहुत अच्छा हो, मन करता है कि आपसे सारा दिन बस चूत ही चटवाती रहूं।मैं- क्या तुम दोबारा मुझसे सेक्स करना चाहोगी?वन्दना- जीजू, वो औरत पागल ही होगी जो एक बार आपका लन्ड ले कर दोबारा न ले.

जैसे ही उसकी वासना की चिंगारी सुलगती है वह निहायत ही बेशर्म बन जाती है. एक दिन सासू बोलीं- ऐसा रहा तो मुझे पोता कैसे देखने को मिलेगा?उन्होंने फोन पर पति से कहा- इसको मैं दिल्ली भेज रही हूं. एक दो बार धक्का देने के साथ ही मेरे लंड ने वीर्य उसके मुंह में छोड़ दिया.

अगर नाराज होने के कारण यह सब होने वाला है, तो भला जॉली क्यों ना नाराज रहे.

सेक्सी बीएफ 2 घंटे की: पापा ने मेरी चूत की चुदाई शुरू कर दी थी और भाई मेरे मुंह को चोदने लगा था. मैंने दाएं हाथ से लोवर को सरका कर और नीचे कर दिया ताकि चूत को और अच्छे से मसल और रगड़ सकूं.

न सभी सेक्सी भाभियों और आंटियों को भी, जो सेक्सी साड़ी में मस्त माल लगती हैं. लेकिन मैंने मन में सोच लिया कि वो लड़का ही मेरे बदन के साथ खेल रहा है. क्या बक रही है?”इशिता कुछ नहीं बोल रही थी, अभी भी उसकी आंखें मेरे मोटे और बड़े चूचों पर ही टिकी थीं.

मैंने नीरू के फ़ोन पर मैसेज किया कि वो थोड़ी देर के लिए मार्किट जाकर आये.

वही हुआ भी, विनय बॉस के लिए दारू लेकर आ गया और उसने हम दोनों को चुदाई करते हुए देख लिया. अब जब भी वो मेरे करीब आता तो किसी न किसी बहाने से मुझे छूने की कोशिश करता था. 30 बजे थे। मेरा मन फिर से मचल गया मैंने निक्कू को थोड़ा और कन्वेंस किया। वो थोड़ा मान ही नहीं रही थी तो मैंने उसे मनाने के लिए उसे कहा कि रात को तुम्हें सर्दी लग रही थी तो मैंने वो सब कुछ किया जो तुम्हारे लिए जरूरी था.