नंगा सेक्स बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,ब्लैक सेक्सी वीडियो एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

नहाती लड़कियां: नंगा सेक्स बीएफ वीडियो, मेरे जोर लगाने से उसके आंसू निकलने लगे और वो दबे स्वर में रो रही थी.

प्योर राजस्थानी सेक्स वीडियो

‘बड़ा मीठा हैं जीजू का लंड तो… ऐसा लगता है जैसे शहद में भिगो के अंडरवीयर में छिपा के रखता हो…’मैंने मुँह को थोड़ा और खोला और लौड़ा मेरे मुँह में मस्त पेला जा चुका था. कपुर और नारियल का तेलवो बिल्कुल मेरे सामने था। फिर उसने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मुझे चूमने लगा। कुछ पलों बाद पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैं भी उसे चूमने लगी।फिर मैंने उसे दूर कर दिया और कहा- मुझे टॉयलेट जाना है।‘तो मतलब टॉयलेट में चलें।’‘नॉट यू.

इसलिए मैं किसी नई मॉडल जैसे लग रही थी, या शायद उनसे भी सुंदर। ऐसे भी खिलते हुए फूल और खिल चुके फूल में अंतर तो होगा ही। खैर जो भी हो मैंने अब ब्रेजियर भी तीस नम्बर की पहननी शुरू कर दी थी।वैसे मैं पुरानी ब्रा 28 का ही पहनती थी पर नई वाली तीस की ली थी, जो मुझे सही आती थी।अब मैंने अपनी हरकतें तेज कर दीं। और पता नहीं कब मेरी एक उंगली चूत में घुस गई, मुझे एक तीखा दर्द हुआ. मारवाड़ी हिंदी सेक्सी वीडियोअब तो मैं भी उसको काल करने लगा ताकि वो उठाये और मैं उसका स्वागत गालियों से करूं।पर वो काल उठाती ही नहीं थी।पहले मैं ये सोच कर खुश था कि भाभी होगी मुझसे मस्ती कर रही है, पर भाभी का नाम तो तनु है और वो लोग तो मेहता लिखते हैं।अब मैं यह सोच कर परेशान था कि फिर ‘ये कौन है जो मेरे पीछे पड़ी हुई है?’ऐसे ही दो तीन दिन बीत गये।फिर एक दिन व्हाटसप पर मैसेज आया- सॉरी.

हम अब भी 69 अवस्था में थे तो मैं अपने लंड को उसके मुँह के आगे ले गया और उसको चूसने के लिए बोला.नंगा सेक्स बीएफ वीडियो: मैंने मौका देख कर आंटी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और आंटी को पूरा नंगी कर दिया.

मैं लंड को उसकी चूत की फांकों में फंसा कर पेलने ही जा रहा था कि उसे दर्द होने लगा.कुछ देर बाद वो चली गई तो मैं भी सोने चला गया, पर उतने हसीन नजारे को देख कर बार-बार वो नजारा मेरी आँखों के सामने आ रहा था.

पुरी का सेक्सी वीडियो - नंगा सेक्स बीएफ वीडियो

ठरक से सराबोर उसका चेहरा लाल हो गया था और पसीने की छोटी छोटी बूँदे उसके माथे पे छलक आई थी.यह करने में हमें बहुत आनन्द मिल रहा था।अब मैंने उसकी पेंटी उतार दी, उसकी चुत पर बाल नहीं थे, पूरी तरह साफ़ थी। मैंने अपना हाथ चूत पर घुमाया, मैंने उसके दोनों पैर अलग किये और चूत का मुँह ज्यादा से ज्यादा खोल कर चूत चाटने लगा.

पर ये कहाँ पूरी करते हैं।दुशाली की बेतकल्लुफी देख कर मेरा मन भी कुछ बेईमान सा होने लगा था।मैंने कहा- चलो आज हम आपको कुछ नया ड्रिंक बनाकर पिलाते हैं।दुशाली थोड़ा उत्तेजित हुई और उसने कहा- चलो अभी बहुत टाइम है. नंगा सेक्स बीएफ वीडियो पर मैंने कहा- माँ मुझे भी चोदना है!माँ बोली- आह अशोक, पहले आलोक को पूरा कर लेने दे, फिर तुम चोदना.

उसे पता चल गया कि मेरा माल निकलने वाला है, तभी उसने मुझे धक्का मार के पीछे किया और मेरा पूरा लंड अपने मुख में ले लिया, अपने होठों और जीभ से चूस चूस कर उसने मेरा सारा पानी निचोड़ डाला.

नंगा सेक्स बीएफ वीडियो?

कुछ देर बाद मैं रुका और मैडम से बोला- मैं एक मिनट में अभी वापस आता हूँ!मैं जल्दी से पास वाले रूम में गया और दो तकिए लेकर आ गया. घर पहुँच कर उन्होंने कहा- मैं काफी थक गई हूँ, मैं शावर लेकर आती हूँ, तुम बैठो. मैंने चूत पर लंड टिका के पेल दिया और उसकी पीठ चूमते हुए उसके कंधे पकड़ के चोदने लगा.

मैं अपने लंड को माँ की गांड के छेद में घुसेड़ने की कोशिश कर रहा था. इस समय मानसी अपने पीजी नहीं जा सकती थी तो हम दोनों ने होटल से सुबह निकलने का प्लान बनाया. उसने एक ही पल में उसके खड़े लंड को मुँह में भर लिया और मज़े से चूसने लगी.

कसम से उस दिन जो मजा आया, उसको मैं कभी नहीं भूल सकता, शानवी भी अब बेकाबू हो रही थी और अपना हाथ मेरे लंड की तरफ बढ़ा रही थी. वो बहुत खुश था।अगले दिन आकाश मेरे सामने आया तो मेरी साँसें रुक गईं।कई दिन तक तो ऐसे ही रहा वो मुझे छूता था तो मेरी साँसें रुक सी जाती थीं। वो ये बात समझ गया था इसलिए उसने मुझे टच करना बंद कर दिया था। सच में आकाश बहुत समझदार था. मैं भी पूरी गांड खोल कर बैठ रही!वो गाड़ी बड़ी तेजी आ रही थी हमारे पास आते ही गाड़ी धीरे हो गई और आगे निकल गई, कुछ दूर जाकर रुकी और वापस हमारी ओर आने लगी.

फिर वो बोला- वैसे मेरा नाम आदित्य है!और अपना एक हाथ मेरी तरफ बढ़ा दिया।मैंने उससे हाथ मिलाते हुए कहा- मैं सोनाली हूँ… और हाउसवाइफ हूँ।आदित्य की नज़र मेरे अधनंगे मम्मों पर ही थी… जिसे मैंने नोटिस कर लिया. हर धक्के पर मुझे पहले कलेजे में और तुरंत ही मस्तक में धमक सुनाई पड़ती.

एक ने इशारा किया उसका लंड चूसने के लिए… मैंने झुक कर उसका लंड अपने मुँह में ले लिया सिर्फ उसका टोपा ही मेरे मुंह में जा पा रहा था.

थोड़ी देर बाद चची ने अचानक मेरे लंड पर हाथ रखा और अपनी नाईटी ऊपर करके अपनी चूत में उंगली डालने लगी.

गहरी गहरी साँसें लेता हुआ मैं भी बिल्कुल मुरझाया सा पड़ा था और सुल्लू रानी मेरे ऊपर पड़ी थी. कुछ देर की जोरदार चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था। तो मैंने लंड उसकी बुर से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और मेरा माल निकल गया।हम दोनों अब थक चुके थे और वो तो उठ भी नहीं पा रही थी। हमने किसी तरह जल्दी-जल्दी कपड़े पहने और फिर मार्केट चले गए, जहाँ से मैंने उसे दर्द निवारक गोली लेकर खिला दी और घर आ गए।अब हम दोनों भाई बहन चुदाई करते हैं।दोस्तो, कैसे लगी मेरी भाई बहन की चुदाई स्टोरी. एक दिन उसका रात को 1-30 बजे मैसेज आया, मैं अपनी गर्लफ्रेंड से चैट कर रहा था.

बुर की चुदाई स्टोरी कैसी लग रही है आपको, अपने विचार मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी जारी रहेगी!. अब मुझे भी टेंशन होने लगी थी उसके बारे में सोच कर… मैं उसे देखने और उसका रिएक्शन जानने को एक तरह से तड़प रहा था. ‘बाप रे…’ मैं देख के चौंक गई कि इतना बड़ा और मोटा… सच में बहुत बड़ा था.

इस पर भी जब वो कुछ ना बोली तो मैंने धीरे-धीरे उसके पूरे मम्मे को हथेली से दबाना शुरू कर दिया।अब मैं पूरा खुल चुका था.

यह घटना तब की है जब मेरी उम्र 22 थी, मैं अपनी पढ़ाई पूरी कर चुका था और एक ऑटोपार्ट्स की दुकान में काम करता था. हम दोनों ने फ्रेश होने के बाद एक और राउंड लगाया और फिर हम एक दूसरे की बाँहों में सो गए. मैंने उसे 20 मिनट तक चोदा, तब मैडम बोली- अब बस कर, अब और नहीं कर सकती.

अगले ही पल उसका शरीर अकड़ गया और एक तेज़ धार उसने मेरे मुँह में छोड़ दी. पर अब लंड अन्दर था सो मैंने तेज धक्का दे दिया।मेरा पूरा लंड अन्दर हो गया।वह चिल्लाया- बस बस. मैंने उससे कहा- मुझे थोड़ी थकान सी लग रही है, तू किसी और को साथ ले जा ना.

रूम में अंदर घुसते ही मैंने सुनीता को अपनी बाहों में ले लिया और उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी.

वो कुछ बोली नहीं, मैंने उनके मुंह को पकड़ा और सीधा स्मूच किया, उनके पिंक लिप्स को चूसा 5 मिनट… फिर चूचों को दबाया, फिर नाईटी उतार कर चूचों को चूसा. बहुत देर तक हम दोनों एक दूसरे को किस करते रहे और फिर एक दूसरे को बाँहों में भर कर बिस्तर पर ही लेट गए.

नंगा सेक्स बीएफ वीडियो ऐसा कभी हुआ है कि आप बाहर जाओ और मैं आपके सामने ना आऊं!दोस्तो, ये है सुमन. मैंने कहा- क्यों न कल हम एक गेम खेलें और उसकी मदद से सबको मिल कर चुदाई के प्लान में शामिल करें?दीपा- कैसा खेल?मैंने कहा- तुम बस रेशमा और नीलिमा को मेरे हाँ में हाँ मिलाने को कहो कल सुबह खाना खाते वक़्त!दीपा- ठीक है मेरे चोदू राजा, तेरा तो सभी औरतों को चोदने का इरादा दिख रहा है.

नंगा सेक्स बीएफ वीडियो दोस्तो, आज मैं आपको अपने साथ घटी एक अनोखी घटना के बारे में बता रही हूँ, जिस से मेरी लाइफ में बहुत बदलाव आ गया. मैं बोला- मुझे भी तो मौका दो, मुझे क्यों छूने नहीं दे रही हो?जेसिका- इतनी बेसब्री? मुझे नहीं पता था कि तुम इतने बेसब्र हो जाओगे!मैं- बेसब्री नहीं यार, लंड को चूस रही हो, पर तुम्हारे शरीर को तो हाथ लगाने दो.

वो दुकान एक छोटे कॉम्प्लेक्स में थी और उसके साथ में एक सुनार की भी दुकान थी.

ब्लू फिल्म दिखाइए हिंदी में सेक्सी

बस फिर क्या था! हमने उनके लंड को चूसने के साथ साथ उनके पूरे कपड़े निकाल उन्हें पूरा नंगा कर दिया दोनों ने ही अपनी झांट साफ़ कर रखी थी तो हमने भी उनके लंड को सहलाने में और चूसने में मजा आ रहा था. पहले तो वह मुझे देखते ही घबरा गई, पर उसने आराम से गेट बंद किया और मेरे पास आ गई. रीना- फिर, मैं कबसे आना शुरू करूं?विक्रम- आप कल सुबह दस बजे से आ जाओ.

यश ने अब मम्मी को वहीं नीचे खेत में लिटा दिया और दोनों टाँगें खड़ी करके मेरी माँ चोदने लगा. मैं बोली- आप ये क्या कर रहे हो?मुस्कुराते हुए साहिल बोले- जान, इसे ही चुदाई कहते हैं।वो मुझे अभी समझा ही रहे थे कि मेरा जिस्म भी हिलौरें लेने लगा और मैं भी हिलने डुलने लगी. यह हिंदी पोर्न सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!आकृति उत्तेजित हो चुकी थी, वो तुरंत मेरा लोअर नीचे करके मेरे लंड को चूसने लगी, मुझे 2 ही मिनट में उसने सातवें आसमान में पंहुचा दिया और मैं उसके मुंह में झड़ गया और वो सब पी गई.

चूचुक के मुंह में आते ही मैंने उसका दूध पीने लगा और वह अपने हाथ को मेरे सिर के बालों में फेरने लगी तथा थोड़ी थोड़ी देर के बाद मेरा माथा भी चूम लेती.

मुझसे रहा ही नहीं जा रहा।मैंने हँसते हुए रोहन को अपने गले से लगा लिया. मगर तुम तो बहुत जल्दी आउट हो गए। अब जल्दी से इसे तैयार करो ताकि मैं भी इसे अपनी चुत में लेकर हवा में उड़ सकूँ।राजू- अरे इतनी जल्दी कैसे होगा. भाई बहन की चुदाई की यह सेक्सी स्टोरी आपको कैसी लगी, मुझे अपने जवाब मेल करना.

अब मुझे फोन दे दो।उसने कहा- हाँ खेल भी लिया और देख भी लिया।मैं समझ गया कि वो क्या कहना चाह रही थी।अब तो वो मुझसे और भी खुल गई थी। वो जब भी पलंग पर आती तो मैं उसको अपनी तरफ खींच लेता और उसको होंठों पर किस भी करता। साथ ही उसकी जाँघों पर हाथ भी फेरता था।एक दिन तो कमाल हो गया. ज़िन्दगी यूँ ही गुजर रही थी और मुझे कोई शिकायत या चाहत भी नहीं थी इससे ज्यादा क्योंकि मेरी गिनती अंकल टाइप के लोगों में होने लगी थी, हालांकि मेरी उमर उस समय कोई चवालीस पैंतालीस की ही रही होगी, दूसरी बात लड़की पटाने के लिए छिछोरों जैसी हरकतें करना मेरे स्वभाव में कभी नहीं रहा. उसके बारे में मैंने सुना था कि किसी ने उसकी गांड मारी थी, पर उन दोनों को देख लिया था। इसके बाद सब रामू से मज़े लेने लगे थे। तो मैंने सोचा क्यों ना इसको ट्राई किया जाए.

कम कड़वी लगेगी, आप आइस ले आओ।जॉन ने कहा- तब तक हम आपका ग्लास भर देते हैं।मैं आइस लेने गई तो शाकिर ने अजय और मेरे हज़्बेंड को इशारा करके मज़ाक के मूड में ग्लास में दारू भर के ऊपर से बियर रेड बुल डाल दी, जिससे उसका टेस्ट स्वीट हो जाता है।मैं आइस लेकर आई तो मेरे पति ने कहा- लो पियो. लंड को निशाने पर लगा कर बिना उसकी कुछ सुने, बस धकेलता गया। वो चीखते हुए मुझे पीछे को हटाती रही.

कल तो खत्म हो ही जाएँगे और तू जानता ही है कि पीरियड ख़त्म होने के बाद चुत में कैसी आग लगती है, उसे लंड ही बुझा सकता है. लंड का पानी अच्छे से मेरे गर्भाशय में जाने दो, मेरी गोद हरी हो जायेगी. लो पहले मैं ही अपना खोल लेता हूँ।ये करके वो पूरा नंगा हो गया। मैं उसके लंड की चुभन को महसूस कर पा रही थी।मैंने कहा- रूको.

सगे भाई ने चोदा अपनी कुंवारी बहन को… जी हाँ… मैंने चोदा अपनी बहन को… मेरा नाम राकेश है.

तभी बिजली आ गई, मैं थक गया था और नींद आ गई थी और आंटी को भी!साढ़े पांच बजे आँख खुली तो देखा कि आंटी ने नाइटी पहन ली थी, मुझे जागा देख कर बोली- कपड़े पहने ले, ख़ुशी आती होगी. बस कृपा बनी रहे।वे मेरा लंड हाथ में ही लिए थे।मैंने कहा- इसकी भी जहां जरूरत हो, यह भी सेवा करेगा. ***अन्तर्वासना के पाठको एवम् पाठिकाओ, मुझे आशा है कि अभिनव गुप्ता के जीवन में घटी उपरोक्त घटना का विवरण पढ़ कर आपको अवश्य आनन्द आया होगा.

हिसाब बराबर हो जाएगा।संजय बेड पर टेक लगा कर बैठ गया और उसने लंड सहलाते हुए पूजा से कहा- जैसे तू आइसक्रीम को चाटती और चूसती है ना. वो पूरी ताकत पूरी जोश के साथ मेरे साथ सेक्स करते हैं और उनकी इसी बात पर आज तक मैंने उनके सिवाए किसी और को मेरी लाईफ में नहीं आने दिया। मेरी सहेलियां मुझे हमेशा कहती थीं कि तुम बॉयफ्रेंड बना लो, पर मैं जब भी उनके बारे में सोचती हूँ तो मुझे ये करने का दिल नहीं मानता। सच कहूँ दीप आय एम सॉरी आज मैं बहुत सोच कर आई थी कि तुम्हें अपने साथ.

तू कब से ले रहा है इसकी?’मैंने कहा- भाई मैंने तो आज ही ली है।‘तो डर क्यों रहा है. मोना- मैं आपको सब बता दूँगी प्लीज़ आप पहले मेरे कुछ सवालों के जवाब देंगे?सुधीर- ओके. और निष्ठा बिलकुल चिपट गई कुशल से…निष्ठा उसकी बदमाशी समझ गई और उसने पीछे से एक धौल लगा दिया उसके, पर फिर चिपट गई और अपनी बाहें उसकी बाँहों के नीचे से ऊपर कर दीं.

मराठी बीपी सेक्सी भाभी

जो जो उसके जवाब हो सकते थे उन सबकी काट के भी डायलॉग सोच लिए!शुक्रवार को जब मैं राजे के घर रीना के साथ गई तो समय मिलते ही मैंने अपना इरादा राजे को बता दिया.

प्रिय पाठको एवं पाठिकाओ, आप सभी को मेरा नमस्कार!पोर्न सेक्स का यह मेरा अनुभव मेरी एक क्लास मेट के साथ का है जब उसने एक वीरान पड़ी इमारत में मुझसे अपनी चुदाई करवाई. मुझे तो चाहो मन मांगी मुराद मिल गई हो!चिराग भैया ने मेरा और अपनी पत्नी अमिता का परिचय करवाया और मुझे कहा- अपनी भाभी की मदद कर दिया करो!तो मैंने हाँ कह दिया।चिराग और भैया दोनों ऑफिस के काम के चक्कर में दिन भर व्यस्त रहते और मैं और अमिता दिन भर घर में बोर होते रहते।सुबह अमिता को सफाई करते हुए गांड देखना मेरी आदत बन गई थी. मैंने धीरे-धीरे से लंड पर ज़ोर लगाया और उनकी चुत में अपने लंड का टोपा घुसा दिया और फिर धीरे-धीरे धक्कों को तेज करता गया। फिर पूरा लंड उनकी चुत में पेल दिया, वो चिल्लाने लगीं और उनकी चीखें पूरे बाथरूम में गूंजने लगीं।पर उनके चिल्लाने में भी एक अजीब सा प्यार आ रहा था.

मैंने रजनी की टांगों को भी किस करना शुरू किया, जैसे उसकी पीठ का मर्दन किया था, उसकी टांगों को भी किस करते हुए हर जगह पे चाटा और चूमा जिससे रजनी बस पानी पानी होने के लिए तैयार थी. मैंने पूछा- आप और मौसाजी किस पोजीशन में सेक्स करती हो?वो एक बार तो शरमाई, फिर धीरे से बोली- उससे क्या फर्क पड़ता है?मैंने कहा- आप शरमाती रहिये, मैं नहीं बताऊंगा ऎसे कुछ भी!तब उन्होंने कहा कि वो तो हमेशा डॉगी स्टाइल में करते हैं. जोरदार सेक्सी फिल्ममुझसे नहीं रहा जा रहा था मगर क्या करती… मैं उंगली के अलावा कुछ नहीं कर सकती थी.

इतने में अमिता आ गई, उसने मुझे मुठ मारते हुए देख लिया, वह तुरंत वहाँ से चली गई, मेरी फटी और मैं दो दिन तक उसके घर नहीं गया. विवेक ने पूछा- ये क्यों?तो रूबी बोली- चुपचाप लेट जाओ…विवेक लेटा तो रूबी ने उसके लंड पर शहद लपेट दिया और फिर लगी उसे चूसने… रूबी इतना कस कर चूस रही थी कि उम्म्ह… अहह… हय… याह… विवेक की तो हालत ख़राब हो गई, वो चीखा- मान जाओ, वर्ना मुँह में ही धार छूट जायेगी.

मैंने अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। उसने अपने हाथ मेरे उरोजों पर रख दिए. बेड स्प्रिंग के गद्दों का था तो उछल कूद के मतलब का था… रिसोर्ट वालों को अच्छे से मालूम था कि यहाँ इन बेड्स पर कैसी कैसी कुश्ती होती हैं. मेरी पहली कहानीट्रेन में मिली भाभी को घर पर चोदाऔर दूसरीट्रेन में मिली भाभी की बेटी को चोदादोनों कहानियों को आपने बहुत प्यार दिया और बहुत सारे मेल आये.

अभी ये फुल जोश में है, लौड़ा घुसा देना चाहिए। बस यही सोच कर उसने उंगली बाहर निकाल ली और लंड पर अच्छे से थूक लगा कर उसको चुत के छेद पर सैट कर दिया।पूजा- आह जल्दी करो ना. वो कितनी भाग्यशाली हैं जिसे आपके जैसा पति मिला जो औरत के हरेक छेद को प्यार देता है. आह क्या खुशबू थी उनकी चुत की! मैंने चुत को दो उंगलियों से फैलाया और उसमें थूक कर उनकी चुत को चाटना शुरू किया। वो कामुक सिसकारियाँ लेने लगीं.

वो भी जल्दी से पूरा नंगा हो गया और मेरे ऊपर चढ़ गया। वो मुझसे छोटा था इसीलिए वो बड़े मज़े से मुझे किस कर रहा था। मैं भी उसका साथ दे रही थी.

रयान ने ऋषिका को रुआंसी देख के अपने पास कर लिया तो ऋषिका भी उसकी छाती पर सर रख कर सुबुकने लगी. माँ नहीं नहीं करती रही, उधर एक ही धक्के में आलोक पूरा लंड माँ की चूत में घुसा चुका था.

थकान बहुत हो रही थी, इसलिए मुझे खाने-पीने का भी मन नहीं था और कब नींद आ गई मुझे कुछ पता नहीं चला. चल अब सो जा, मॉम उठ जाएंगी, तो फिर तू मुझे ही कहेगा।दोनों चुपचाप अपने कमरे में चले गए और अपने अपने बिस्तर पे सो गए।आप सोच रहे होंगे कि ये मॉंटी कहाँ से आ गया, तो भाई मैंने पहले ही बता दिया था कि टीना का एक भाई है और सुमन आई, तब ये स्कूल जा चुका था। ज़्यादा सोचा मत करो यार. मैं दर्द से मर ही गई थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और मेरी आँख से आँसू निकल आये.

मैं खूब सजी-धजी थी कि कोई मुझे देखेगा और मुझे चोदना चाहेगा पर जो मुझे घूर रहे थे वो मुझे पसंद नहीं आ रहे थे. चल एक बार और तेरी मस्त ठुकाई कर देता हूँ, फिर मैं भी सो जाऊंगा।ऐसे ही बड़बड़ाते हुए काका मोना के पास गए और अपने लंड को मोना के होंठों पर फिराने लगे।मोना नींद में थी. जूसी के बिस्तर पे उसकी मौजूदगी में उसके पति से चुदना! वाह वाह!!! यह अपने आप में ही आनन्द को अनेकों गुणा बढ़ने के लिए काफी था.

नंगा सेक्स बीएफ वीडियो वो मेरे कहे मुताबिक काम कर रही थी और मैं उनके उठा-उठाकर सेक्स करने लगा. अनायास ही मैंने उसे चाट लिया जिसे देख कर माला खिल खिला कर हंस पड़ी और बोली- साहिब, मेरे दूध का स्वाद कैसा लगा? क्या आप भी पीना चाहोगे इसे?मैंने उत्तर में कहा- स्वाद तो बहुत अच्छा लगा, लेकिन ठंडा हो गया था.

पंजाबी सेक्सी जंगल

मैंने स्वाति को अपनी यह दुविधा बताई तो स्वाति ने अपनी एक नाइटी लाकर मुझे दे दी और मुझे वह पहनने के लिए कहा।स्वाति की नाइटी केवल घुटनों तक ही थी और आर्मलेस थी… उस नाइटी को कमर पर बांधने के लिए एक रिबन लगी हुई थी. मैं उसके करीब आकर उसके मम्में और कमर को गौर से देखता, ख्यालों ख्यालों में एकदम से निचोड़ सा देता था. उसने इस बात को नोटिस किया और हंस के बोली ‘भूखा साला…’बस इसी बात ने मेरे अंदर आग लगा दी.

राजू ने किसी सधे हुए अनुभवी चोदू सी पारंगता से अपना लंड गोरी मेम की गांड में कुरेदते हुए मेरे लंड की बगल में टिका कर मेरे धक्कों को स्थिर करते हुए अन्दर पेल दिया. दूर-दूर तक कोई गांव या पंचर की दुकान नजदीक नहीं दिख रही थी।अब मैं और विकास पैदल बाईक को खींचते-खींचते करीब दो किलोमीटर चले होंगे कि रात हो चुकी थी. राजस्थान सेक्स वीडियो फिल्मआप याद तो कुछ रहता नहीं आपको और मुझे मेल में अजीबोगरीब सवाल करते रहते हो। चलो अब टीना की माँ से सुबह मिल लेना अभी मोना की हालत देख लो।रात होते होते काका ने सारा बंदोबस्त कर लिया था, वो आज मोना की गांड का भुरता बनाने के मूड में थे। रोज की तरह भाई साहब खेतों पर चले गए और उनकी पत्नी जी सो गईं.

उसका गोरा बदन अब तक मेरे चुम्मों से लाल हो चुका था और ये निशान उसके मखमली जिस्म से महीने भर भी कहीं नहीं जाने वाले थे.

टीना और सुमन समझ गईं कि मॉंटी अब फँस गया है, वो किसी को कुछ नहीं बताएगा. मेरी भाभी बहुत ही सेक्सी टाइप की हैं, और उन्हें हंसने खेलने की आदत है, भैया जॉब करते हैं और मम्मी पापा घर पे हैं, हम सब साथ ही रहते हैं.

30 की ट्रेन से जयपुर के लिए निकल गया, 10 बजे जयपुर पहुँच गया, 11 बजे उस के दिए एड्रेस के अनुसार उसके घर के नजदीक पहुँच गया. फिर उसने जो बताया, लीजिये आप कहानी पढ़िये और आप भी जान जाएंगे कि ये सारा माजरा क्या है. मैंने बड़े प्यार से उनके हाथों को उनके मम्मों से हटाया और भाभी को अपने सीने से लगा लिया।इसके बाद भाभी के पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया.

मैंने नहीं देखा प्राइवेट पार्ट कैसा होता है?तो मैंने कहा- आंटी क्यों झूठ बोल रही हो.

वो कुछ नहीं बोलती।मैं उसको शॉपिंग के लिए पैसे भी देने लगा, नीलू को सब तरह से हेल्प करने लगा, नीलू भी कभी-कभी ख़ुशी से मुझे गले लगा लेती थी।ऐसा ही एक साल तक चला।मैं जल्दबाज़ी नहीं चाहता था अन्यथा नीलू नाराज़ हो सकती थी।एक दिन माँ, भगत के मंदिर से शाम को घर वापस आईं. तो वो मुझसे बोलीं- चुत में ही पानी छोड़ दिया।मैं हैरान होकर खड़ा हुआ तो देखा कि कन्डोम फट कर लंड के ऊपर चढ़ गया था और मेरा लंड पर भाभी की चुत का पानी लगा हुआ था। भाभी की चुत से मेरे लंड का पानी निकल रहा था।वो उठीं और उन्होंने अपनी सलवार उठा कर उससे अपनी चुत अन्दर तक साफ की और मेरे लंड को भी साफ़ करके भाभी बाथरूम में नहाने चली गईं।मैं अपने कपड़े पहन कर घर आ गया। उसके बाद भाभी को जब भी मौका मिलता है. आज तेरी बुर का पूरा भूत उतार दूँगा!काफी देर की चुदाई के बाद मैं उसकी बुर में ही झड़ गया.

नॉन वेज इन हिंदीए में एडमिशन लिया था लेकिन अभी उसकी क्लासेज शुरू नहीं हुई थी, वो जालंधर की थी और यहाँ पढ़ाई के लिए आई थी।फिर उन्होंने मेरा परिचय पूछा तो मैंने अपने परिचय में यह बताया कि मैं ग्रेजुएट हूँ और नौकरी ढूंढ रहा हूँ और इसी सिलसिले में चंडीगढ़ आया था पर यहाँ मुझे कोई और जानता नहीं। बातों बातों में जब मैंने यह बताया कि मैंने पंजाब पुलिस में ए. अब तक आपने इस हिंदी सेक्स स्टोरी में पढ़ा कि अंजलि ने मुझसे चुदने के लिए अपने सगे भाई को इस्तेमाल किया और अब उसी मामले को लेकर मेरी संदीप और आंटी के संग बातचीत चल रही थी। संदीप और आंटी बियर पीते हुए बात कर रहे थे, मैं दूर हो गया था।अब आगे.

सेक्सी पाकिस्तान वीडियो

तो उसी वक़्त तुम हमारे ग्रुप से बाहर हो जाओगी। उसके बाद ये सब मिलकर क्या करेंगे. तभी रोहन ने मेरी चूत पर हाथ रख कर दबाते हुए कहा- कविता, एक बात कहूँ?मैंने लरकते हुए स्वर में कहा- हाँ बोलो ना जान?तो उसने कहा- आज तुम्हारी योनि का उदघाटन करने का बहुत मन है।मैंने थोड़ा चौंकते हुए कहा- मन तो मेरा भी है रोहन, पर मैं चूत में लिंग डलवा के बिन ब्याही माँ बनने की बदनामी से डरती हूँ।तो रोहन ने कहा- तुम चिंता मत करो. तभी अचानक मेरी नजर उस परदे पर पर रही परछाई पर पड़ी, जैसे कोई कपड़े उतार रहा हो.

कुशल बोला- हाय… काश हम फूल होते…उसका मतलब समझकर निष्ठा ने हंसते हुए उसे भी किस कर लिया और किचन में भाग गई क्योंकि उसे मालूम था कि अब अगर वो रुकी रही तो तबला बज जायेगा. परन्तु वो मज़े से सिसकारियाँ निकाल रही थी- उई आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उई आह. !’मैंने भी लंड चुत पर रखकर धक्का मार दिया।फ़च करता हुए मेरा लंड उसकी सील तोड़ता अन्दर चला गया।‘आह मर गई.

मेरा मतलब आभा के नाखूनों से है।उसने उत्तेजना में आकर अपने नाखून मेरे कमर में गड़ाये और अपने पैरों को मेरे दोनों तरफ करके अपनी चूत मेरे मुंह से टिका दिया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… और मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया. मुझे डर लगने लगा।मैंने उसके लण्ड को अपने हाथों में लेकर कुछ देर तक ऊपर-नीचे किया. वो दर्द से चिल्ला पड़ी, मैंने परवाह ना करते हुए लंड थोड़ा पीछे निकाला और एक और झटके के साथ पूरा घुसा दिया.

‘आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह… म्म म्म्माआआह्ह…’मेरे लंड को कोई रोक रहा था… मैंने लंड को थोड़ा बाहर खींचा और एक जोरदार झटका दिया, मेरा लंड सारी दीवारों को तोड़ता हुआ अंजलि की कुवारी बुर में समां गया, मुझे लंड में जलन सी हुई कुछ बहता हुआ सा लगा. मैंने ना तो किसी से कहा है और न ही मैं बुरा मानता हूँ।’दीदी ने बताना शुरू किया- सुनील मुझे काफ़ी दिनों से चाहता है.

लगता है तेरी चुत में बड़ी आग लगी है।इतना कहकर गोपाल एक निप्पल को मुँह में भर के चूसने लगा और एक हाथ से चुत को दबाने लगा।मोना- आह आईईइ.

वो मेरे लिए पानी लेकर आईं। मैंने पानी पिया और इधर-उधर की बातें होने लगी।भाभी मुझसे पूछने लगीं- तुम किसी को प्यार करते हो?तो मैंने ‘हाँ’ कहा. प्रेम भरी कहानीइसके बाद मैं अपने घर चला आया।दोस्तो, मैं यह कहानी लिखना तो नहीं चाहता था, पर कुछ दिन पहले मैंने डॉ. मारवाड़ी ओरिजिनल सेक्समैं सोचने लगा कि अब क्या करूँ, फिर सोचा कमला को एक बार ठीक से देख तो लूँ।मैंने मोबाईल निकाला और उसके उजाले को पास बैठी कमला के चेहरे के सामने ले गया।वाह. ये पता नहीं था।इतना कहकर आंटी किचन में चली गईं। फिर मैं भी कपड़े पहन कर किचन में आ गया। हम दोनों हंसने लगे और बिरयानी खाने बैठ गए।आंटी ने जैसे ही बिरयानी चखी वैसे ही बोल उठीं- अरे दीप, क्या मस्त टेस्ट है.

तो उन्होंने बुआ को बहुत सहारा दिया। वो मध्यप्रदेश के कटनी शहर में रहती हैं, उनकी उम्र 45 के करीब है।दो साल पहले जब बुआ हमारे घर पर आईं, तो मुझे बहुत ख़ुशी हुई क्योंकि मुझे मेरी बुआ बहुत अच्छी लगती थीं। मैं उनको बहुत प्यार करता था.

अब मैंने अपनी बीवी के ओंठ चूमने शुरू किये और उसकी एक चूची दबाने लगा, उसकी चूचियाँ काफी कड़क हुई थी… शायद उसको दोपहर से ही चुदास लगी थी. वो तुरन्त पट लेट गई और अपने कूल्हे चौड़े कर दिए, मैं अपनी जीभ से गांड के आस-पास के हिस्से को गीला करने लगा कि सुहाना बोली- सक्षम, अन्दर छेद में भी अपनी जीभ चलाओ!उसके हुकुम का पालन करते हुए मैं उसके छेद के अन्दर भी अपनी जीभ चलाने लगा, जब सुहाना मेरे कार्य से सन्तुष्ट हो गई तो उसने मुझे पट लेटने के लिये कहा और वो भी बिन्दास मेरी गांड चाटने लगी, उसके गांड चाटने की अदा से मुझे भी सुरसुराहट सी लगने लगी. वातावरण दोबारा मस्त बन पड़ गया, तो नताशा ने थोड़े गुमसुम राजू के लंड को हाथ में पकड़ कर सहलाते हुए कहा- माय डिअर अंकल माइक टाइसन.

अगर कोई मेरी कहानी पर अपने विचार भेजना चाहे तो मेरा मेल आईडी है।[emailprotected]. मेरे पति ने मुझसे पूछा- अब तबीयत ठीक हो गई?मैंने उनसे कहा- बात बाद में… पहले जो कर रहे हो, वो करो!वो मेरे मोम्मे चूसने लगे, मैं भी चुदाई के नशे में थी पर जो मजा कल आ रहाँ था, वैसा मजा नहीं आ रहा था. और कहानी भी अपने नाम के मुताबिक नहीं चल रही है तो दोस्तों सब्र करो.

सेक्सी वीडियो पोर्न वीडियो हिंदी

किसी छोटे होटल में चलेंगे। कुछ एक्स्ट्रा पैसे देंगे तो मिलेगा।’‘हम्म काफ़ी जानते हो. तो दोस्तो, उस दिन शादी की पार्टी से स्नेहा के जाने के बाद मेरी थोड़ी थोड़ी फट भी रही थी कि अगर स्नेहा ने मेरी शिकायत कर दी और उसने वो क्लिप अपने घर पर या मेरे घर आकर मेरी वाइफ को दिखा दी तो…उस बात की कल्पना करके ही मुझे पसीने आने लगे थे. फिर नहीं होगा।मैंने फिर से जोर से एक धक्का दे मारा और इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया, वो दर्द से तड़फ उठी, वो बोली- प्लीज़ निकाल लो.

’उसके दर्द को देखकर मैंने लंड को बाहर निकालना चाहा तो उसने टांगों से मेरी कमर पकड़ ली और धक्का देने लगी। मैंने भी बदले में झटके मारने शुरू किए।‘आह उफ़ आह फाड़ दो जानू आज बना लो अपना मुझे.

एंड्रयू की बगल में आधे लेटे स्वान ने हंसी का कारण जानना चाहा तो एंड्रयू ने उत्तर दिया- मेरा छोटा भाई भाभीजी की चूत के अन्दर अभी-2 घुसे चूत के क़ानूनी मालिक का स्वागत कर रहा है!अब क्योंकि स्वान तो इस नए तरीके की चुदाई में शामिल नहीं था, इसलिए उसे भी इसकी इच्छा होने लगी और मैंने अपनी सज्जनता का परिचय देते हुए उसे अपना स्थान सौंपा और खुद हमारी प्रेमिका के स्वर्णिम मुख की ओर आ गया.

? हम लेट हो जाएंगे दीदी।टीना- अरे तू फिर ‘ना’ बोली? चल तू जाने दे, तुझसे कुछ नहीं होगा। अब संजय को मैं साफ-साफ मना कर देती हूँ ओके।सुमन- सॉरी दीदी. कुशल की बारे में रयान ने निष्ठा और अपने पेरेंट्स को बोल दिया कि वो अच्छा आदमी है. पाकिस्तानी नाटकमुझे करीब सुबह के समय नींद लगी।अब मैं डेली रात में छत में जाकर ये सब देखने लगा और मुठ मार कर सो जाता था।एक दिन घर की बेल बजी.

जल्दी किस बात की है?फिर मैंने एक और धक्का लगा दिया, अब मेरा लंड उनकी चुत में आराम से आ-जा रहा था, भाभी को भी बहुत मज़ा आ रहा था. तो वो डर के उठीं और जल्दी से गाउन पहन कर खड़ी हो गईं और सॉरी कहने लगीं।मुझे उन पर तरस आया, मैंने उनकी आँखों से आंसू पोंछे और कहा- मैं तुम्हारे हालात को समझ सकता हूँ।भाभी ने मुझे जोर से गले लगाया और कहा- प्लीज़ दीप मैं बहुत दिनों से भूखी हूँ. चल एक बार और तेरी मस्त ठुकाई कर देता हूँ, फिर मैं भी सो जाऊंगा।ऐसे ही बड़बड़ाते हुए काका मोना के पास गए और अपने लंड को मोना के होंठों पर फिराने लगे।मोना नींद में थी.

अपनी आदत के अनुसार मैं निप्पल को उमेठने लगा तो उसने भी मुझे छेड़ते हुए मेरे होंठ पर हल्का सा काट लिया. मैंने अपनी जीभ उनके पावरोटी जैसी चूत पर लगा दी और वो शराब को धीरे-धीरे से अपनी चूत पर गिराने लगी.

माँ की मस्ती अब चरम पर थी, उनकी आवाजें कमरे में गूंज रही थी- ऊऊऊह्ह्ह… आआह्ह्ह… अब मजा आ रहा है, और चोद… ज़ोर से चोद… फ़ाड दे इस हसीन चूत और गांड को!फिर आलोक ने मुझे रुकने के लिए बोला, मैं माँ की चूत में लंड पूरा डाल कर रुक गया, आलोक ने अपना लंड निकाल कर मेरी माँ की चूत के मुँह पर रगड़ा, उसके लंड की रगड़ मुझे महसूस हो रही थी.

मैं उसको जोर-जोर से चोद रहा था और वो अहह… हम्मम्म… ओयोयोयोय… करके चिल्ला रही थी और बोल रही थी- चोद मुझे साले… चोद मदरचोद… मैं रांड हूँ… चोद अहह अहह…मुझे मज़ा तो आ रहा था, लेकिन मेरा लंड दुखने लगा था फिर भी मैं अभी भी उसे बेकाबू होकर उसे चोद रहा था. देवो न जानयति, कुतो मनुष्य:अर्थात औरत के चरित्र और मर्द के भाग्य को देवता भी नहीं समझ पाते हैं तो मनुष्य की क्या बिसात है कि वो इस गूढ़ विषय को समझ सके।चलिए अब आपको काका और मोना की सेक्स स्टोरी अगले पार्ट में लिखूंगी, मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।. मैंने उसे बड़े गौर से देखा क्योंकि इतने नजदीक से देखने का मौका पहले कभी नहीं मिला था.

ముస్లిం సెక్స్ मैं समझ गया कि रास्ता साफ़ है, मैंने उनके चूतड़ को चूमना और चाटना शुरू किया. तभी उन्होंने मुझे गोदी उठाया और बेड पर ला कर पटक दिया और मेरी चूत में अपना लंड पेलते हुए बोले- मेरी जान, सुबह सुबह सुहाग दिन मनाना भी अच्छा लग रहा है, अब तुम्हारी चूत का भोसड़ा बनाने जा रहा हूँ!इतना कहकर जोर-जोर से धक्का मारे जा रहे थे, मुझे समझ में नहीं आ रहा था, लेकिन उनकी बातें मेरे कानों में पड़ रही थी.

मैंने सुनीता को किस करना जारी रखा और उसकी चूत के आस पास और पेट पे, नाभि पे और मम्मों के आस पास और गर्दन पर अपनी गर्म साँस छोड़ी और किस भी की जिससे वो और गर्म हो गई. उसके बदन में एकदम से हलचल सी मच गई- हाय… राजे… हाय… अब और न तड़पाओ…उसने मुंह भींच के बड़ी मुश्किल से आवाज़ निकाली और फिर एक गहरी सीत्कार भरी. क्यों राजेश, सही कह रही हूँ ना?मैं बोला- जब उसने बता ही दिया है तुमको तो सही कहा है, मुझे जमीला ने बुलाया है, कह रही थी बहुत मन हो रहा है योगिराज से चुदवाने का!अब मैंने मोहन को कोल्ड क्रीम लाने को कहा और कोमल को थोड़ा ऊपर उठने को कहा और योगिराज निकाल लिया.

एचडी सेक्सी व्हिडिओ एचडी सेक्सी व्हिडिओ

ये तो बहुत ही अच्छी बात है।मैं मन ही मन में खुश होने लगा, मैंने पूछा- अगर तुम रात मेरे घर आने लगोगी तो तू अपने भाई और बहन को क्या बोलेगी?वो बोली- ओ हैलो. नमस्ते।मैंने उस लड़के को देखा और चलने लगा।भाईसाहब जोर से हँसे, बोले- इसे सुकांत आपके पास लाएगा।ये कह कर वे मुस्कराए. उसके बाद दोनों ने जगह बदली और दोनों के जगह बदलने तक दोनों की गांड को राहत मिली.

अपना लंड बाहर निकालो।लेकिन मैं फिर उसके मम्मों को दबाने लगा और उसे किस करता रहा। इसके साथ ही मैं अपने लंड को थोड़ा अन्दर-बाहर करने लगा।वो ‘उईईईई मर गई. लेकिन तेरे में है क्या है जो लोग तुझे गर्लफ्रेंड बनाने की बात करते हैं?मैं- अब वो तो लोगों को ही पूछना पड़ेगा!और मैंने एक शरारती सी स्माइल दी।मैंने देखा रमीज़ बड़े गौर से बातें सुने जा रहा था और मज़े लिए जा रहा था। मैं मुस्कुराया और पूछा- रमीज़, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है या तुम भी बड़े भैया जैसे हो?रमीज़ अभी कुछ बोलता.

पर हम दोनों की गांड अभी तक कुंवारी थी, और उंगली से चोदने पर ही दर्द होने लगता था.

वही देखा है मैंने आपके बारे में कई लोगों से सुना था आप गाँव की लड़कियों और औरतों के साथ गलत करते हो. सुबह नौ बजे आँख खुली तब आंटी के पास गया और बोला- मेरी ट्यूशन?आंटी ने कहा- अभी देती हूँ, पहले फ्रेश हो जा, नाश्ता कर ले कुछ! देसी घी का हलवा बनाया है, वो खा ले!मैंने फटाफट सब कुछ किया और आंटी मुझे अपने कमरे मे ले गई, बोली- मेन गेट बन्द करके आ जा!मैंने वैसा ही किया और जब मैं आंटी के कमरे मे गया तो आंटी नंगी होकर लेटी थी. उसने फटाफट एक गाउन डाला और किचन में चली गई… डोर पर नॉक हुई तो उसने दरवाजा खोला.

उसकी यह बात सुन कर मैं बहुत खुश हो गया था। अब मेरी और कोमल की बहुत बातें होने लगीं। मैंने उसका फ़ोन नंबर ले लिया अब मेरे उससे एसएमएस से चैटिंग और फ़ोन पर बातें होने लगीं।मैंने एक दिन उससे सेक्स के बारे पूछा कि तुमने कभी सेक्स किया है?वो बोली- नहीं. फ्रेंड्स, यह मेरा पहले गे सेक्स की स्टोरी है। मेरा नाम आयुष है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 20 साल है, मैं दिखने में साधारण हूँ, कद भी ठीक है। मेरा लंड 6. इसलिए पूछ रहा हूँ।तो वो हंस कर बोली- लाइन मार रहे हो?मैंने कहा- मेरा नाम अमर है आपसे बात करके अच्छा लगा।उसने अपना नाम यासमीन बताया।फिर मैंने पूछा- अगर आप को ऐतराज़ ना हो तो मैं आपको फोन कर लिया करूँ?तो उसने कहा- क्या करोगे बात करके?मैंने कहा- आपसे दोस्ती करना चाहता हूँ।उसने कहा- मैं शादीशुदा हूँ।मैंने कहा- कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता.

लेकिन इसके बारे में किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए।मैं भैया की बात सुनने के बाद मान गया.

नंगा सेक्स बीएफ वीडियो: मैं भी देखूँ कि तेरा लंड कितना बड़ा है।यह सुनकर मेरा लंड खड़ा होने लगा और मामला हाथों से बाहर आने लगा। उन्होंने मेरे हाथों को पकड़ा और साइड में कर दिया।अब उनके सामने मेरा लंड था, वो मेरे लंड को देख कर बोलीं- अभी से इतना बड़ा कर लिया तूने?मैंने कहा- किया क्या. कुछ मिनट तक हमने जबरदस्त फ्रेंच स्टाइल में चुम्बन किया, फिर उसने मेरी कमीज उतारी और मैंने उसका टॉप.

टीना की बात सुनकर सुमन खुश हो गई और टीना से चिपक गई।टीना- अरे क्या हुआ इतनी खुश क्यों है?सुमन- वो दीदी, कब से मेरे दिमाग़ में ये चल रहा था कि इतने गंदे टास्क के बारे में संजय जी को पता होगा तो वो मुझे किस नज़र से देखते होंगे इसलिए मुझे उनसे मिलते समय बड़ी शर्म आती थी।टीना- अच्छा ये बात है. हम लोग आराम आराम से ड्रिंक एन्जॉय करते हैं।अब हम दोनों माहौल को एंजाय करने के लिए बैठ गए। दुशाली ने रोशनी कम कर दी और धीमा संगीत लगा दिया।हम दोनों सोफे पर साथ बैठ गए थे… प्रोग्राम शुरू हो गया. वरना ऐसे ही पेल दूँगा।तो भाभी ने शरमाते हुए मेरे लंड पर कंडोम रख कर पहनाया। कंडोम खोलते ही चॉकलेट की खुशबू फ़ैल गई।कंडोम पहनाने के बाद सोनू भाभी ने कहा- मक़बूल आज सोनू को हमेशा के लिए अपना बना लो।भाभी के ये कहते ही मैंने उनकी जांघें ऊपर की ओर उठाईं और लंड का सुपारा चूत के छेद पर रख कर एक जोरदार धक्का मार दिया।भाभी के मुँह से ‘आअहह.

उसकी शरम खत्म गई थी। उसने भी मेरा लंड बरमूडा के ऊपर से ही पकड़ लिया और वो भी मेरे लंड को सहलाने लगी। बाद में मैं उसकी बुर सहलाने लगा और उसकी ब्रा और पेंटी मैंने निकाल दी।नीनू ने भी आज मेरा लंड बरमूडा के अन्दर हाथ डाल कर पकड़ लिया था और सहलाने लगी थी।मैं नीचे को होकर नीनू की बुर को सक करने लगा तो वो बोली- भैया.

मैं सबको गेम खिला रहा था तब मिताली बोली- ऐसी क्या बोरिंग गेम खेल रहे हो, चलो तम्बोला खेलते हैंतो मैंने कहा तम्बोला की टिकेट्स और टोकन नहीं हैं. यह सेक्स कहानी है चार दोस्तों की… उनकी जवानी में किये मजों की…साहिल, रजत, कृष्णा और वासुदेव यानि मैं… सभी की शादियाँ हो चुकी हैं और हर कोई अपने में व्यस्त है. वैसे तो टीना भी उससे मिलना चाहती थी क्योंकि आज उसके नहीं आने का कारण उसको पता था कि हो ना हो.