गाना पर बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी फोटो हॉट वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

पोर्न सेक्स विडियो: गाना पर बीएफ, मैं मज़ाक में बोला- साली कुतिया … तू कितनी प्यासी है … कल रात तूने इसका सारा रस अपनी चूत में खींच लिया.

मारवाड़ी सेक्सी वीडियो ओपन राजस्थानी

कुछ देर तक वो मेरे लंड को पर हाथ फिराती रही और मैं उसकी पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत को मसलता रहा. बांग्ला सेक्सी वीडियो पिक्चरमैंने उनसे बोला कि हम इसके बाकी दो तरफ एक मोटे कपड़े से पर्दे बना देंगे, तो आड़ हो जाएगी.

फिर अमित और मैंने उसके टेबल का सारा सामान ठीक से जमा दिया।अब अमित ने पापा का भी काम कर दिया और मेरे जाने का समय भी होने लगा. कपूर के सेक्सी व्हिडिओ10 मिनट तक ऐसा करने के बाद मैंने अपना मुंह चाची की एक चूची पर लगा दिया और कपड़ों के ऊपर से चूसने लगा और दूसरी को दबाता रहा.

मैं अपनी आपा की चूत ऐसे चाटने लगा जैसे प्यासा कुत्ता अपनी जीभ से लपर लपर पानी पीता है.गाना पर बीएफ: वहां पर मैंने अपनी चाची के घर पर बहुत समय बिताया और उनकी फैमिली के साथ भी काफी घुल मिल गया था.

इतना कहने के बाद मैंने मॉम को 69 पोजीशन में किया और उनकी चूत चाटने लगा, जिससे कि वो गीली हो जाए.उनका यह रूप देख कर मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं और मैं चाबी के छेद से देखने लगा.

हिंदी में देहाती फिल्म सेक्सी - गाना पर बीएफ

मॉम की टांग को अपने हाथ में उठाकर वो जोर जोर से चूत में लंड को पेलने लगे.लेकिन मैंने जो देखा अपनी आँखों से … वही आपके सामने हूबहू पेश करने का यत्न कर रहा हूँ.

फिर भाभी ने मुझे बताया कि उनके पति को कुछ दिन के लिए बाहर जाने का प्लान बन गया है … आप आ जाओ. गाना पर बीएफ अब दोस्तो, भाभी की चुदाई किस तरह से हो पाई ये मैं इस सेक्सी भाभी स्टोरी के अगले भाग में लिखूंगा, तब तक आप मुझे मेल कीजिएगा.

जैसे ही उसने मुझे देखा, तो मुझे देख कर जैसे उसके मुँह से राल ही टपक गयी.

गाना पर बीएफ?

दोनों बुआ मेरे कमरे में अपनी चूत की झांटें साफ़ करवाने के लिए एकदम नंगी आ गई. भाभी- पत्नी बना तो लिया है … और क्या पता तुम मेरे पति होते, तो तुम सो रहे होते और मैं तुम्हारे छोटे भाई के साथ लगी होती. ये बात पिछले दिसंबर की ही है। मेरे छोटे भाई का व्रत अनुष्ठान था जिसके लिए मेरे दोनों मामा भी आये हुए थे.

धीरे धीरे करके मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया और धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा. मैं उसके होंठों को चूसे जा रहा था, वो भी बराबर मुझे चूमे जा रही थी. मगर मेरी खराब किस्मत थी कि आज ग्राउंड पर कुछ लड़के क्रिकेट खेल रहे थे तो हम दोनों ग्राउंड से निकल कर लम्बी ड्राइव पर निकल गए.

न तो मेरी चुत शांत हो पाती है और न ही मैं उनके रस से बच्चे की मां बन पा रही हूँ. इसके पांच मिनट बाद ही मेरी मम्मी की बाथरूम से निकलने की आवाज आयी तो मैं समझ गया कि मीनाक्षी को मेरे साथ कुछ करने में कोई ऐतराज नहीं है पर शायद उसे अंदाजा था कि मम्मी जी आने वाली हैं तो वो मेरे कमरे से निकल गयी. वैसे मेरा अपना मानना है कि जवान लौंडियों की चूत में 18 से 24 की उम्र में ज्यादा चुल्ल मचती है.

आंटी ने मुझे बहुत किस किये और फिर अपनी साड़ी पेटीकोट निकाल कर टांगें फैला दीं. होटल रूम सेक्स कहानी के पिछले भागचाची को होटल में लेजाकर चोदामें अब तक आपने पढ़ा था कि चाची की चुदाई का राज प्रियंका भाभी ने जान लिया था और वो भी मुझसे चुदने के लिए कहने लगी थीं.

बात शुरू हो गयी थी तो चलती बात पर मैंने पूछ लिया- वहाँ आप रहती हैं?वो बोली- नहीं वहाँ मेरा ससुराल है.

मैम ने अपने हाथ मेरी पीठ से नीचे लाते हुए मेरी टी-शर्ट उतार दी और कहने लगीं- चलो, बेडरूम में चलते हैं.

फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी गांड के नीचे डालकर उसकी कमर को उठा लिया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदने लगा. एक दिन प्रिया भाभी प्रेग्नेंट हो गयी और फिर उसके बाद हम दोनों ने सेक्स करना बंद कर दिया. इस बार मैंने अपने लंड पर थोड़ी क्रीम लगाई और उसकी गांड पर भी! और फिर से अपना लंड भाभी की गांड पर सेट किया और जोर का धक्का दिया.

मैं लेपटॉप पर ऑफिस का काम करने लगा हुआ था लेकिन सिर्फ भाभी के बारे में ही सोच रहा था। अब मुझे इंतजार था तो सिर्फ ज्योति भाभी का और मेरा लण्ड तो खड़े-खड़े लार टपका रहा था. इसलिए अम्मी ने शकील से कहा कि अब तू सो जा … सोने से पहले दूध पी ले. मैंने सर के दिए गए कपड़ों को देखा कि साड़ी के साथ ब्लाउज पेटीकोट और ब्रा पैंटी भी रखी थी.

उसके मुँह से जंगली आवाजें आना शुरू हो गई थीं और उसकी आँखें इस समय बंद थीं.

कहानी का पिछ्ला भाग:ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-3सुबह ठीक 5 बजे मेरी नींद खुल गई और मैं उठ कर बाथरूम को चल पडी़. तो भाभी ने बोला- आराम से डालना।मैंने एक ही झटके में पूरा लंड उनकी चूत में उतार दिया. मैंने देखा तो बुआ ने बच्चों के कमरे बाहर से बंद कर रखे थे और घर के मेन दरवाजे पर अन्दर से ताला लगा दिया था.

उसने भी ख़ुशी ख़ुशी मुझे पहले वो हिस्सा दिखाया, जिसमें उसका कॉमन रूम, किचन, बेटे का कमरा, गेस्ट का कमरा, डाइनिंग रूम और एक बड़ी से बालकनी थी. जिस दिन पापा गए, उसी दिन मॉम ने नाइट में अंकल को डिनर पर इन्वाइट किया था. चारू- मेरे राजा, अपने पप्पू को तो आजाद करो … आज तो इसे मैं खा ही जाऊंगी, बहुत दिनों से ललचा रखा है आपके इस पप्पू ने, आज देखती हूँ इसकी ताकत को!मैं- अवश्य मेरी जान चारू ….

एक मिनट बाद अंकल ने अपनी एक उंगली मॉम की चूत में डाल दी और उसे आगे पीछे करने लगे.

मैं उन भूरे निप्पलों को पकड़ कर उनसे खेलने लगा।मामी मदहोशी में वासना भरी आवाजें किये जा रही थी।मैं उनकी आवाज से और उत्तेजित होता जा रहा था।मैंने दोनों चूचों को अपने हाथों में भरा और एक साथ दबाने लगा. एक दिन उसका मैसेज आया कि तुम डिनर करना चाहो, तो मेरे घर आ सकते हो … लेकिन 11 बजे के बाद ही खाना मिलेगा.

गाना पर बीएफ वो बोलीं- अब नहीं बर्दाश्त होता जी … चोद दो मुझे … चोद कर फाड़ दो अपनी सोनाक्षी की चूत. फिर जैसे ही मैंने धक्का देकर अपनालंड चुत के अन्दरडाला, तो कुसुम उछल पड़ी और उसकी चीख निकल गई.

गाना पर बीएफ हम दोनों घंटे बाद टैंक से बाहर आ गए और अपने आपको पौंछ कर कपड़े पहनने लगे. मैं भी जल्दी से पूरा नंगा होकर लेट गया और वो मेरा लण्ड चूसने के लिये अपना मुंह मेरे लण्ड के पास ले आई.

फिर मैंने दो उंगलियों को अन्दर डाला, तो उसकी आंखों में दर्द का अहसास झलका, लेकिन वो उंगलियों का मजा लेती रही.

सेक्सी नंगी सीन हिंदी

अब संजय अंकल ने मुझे ब्रेक, गियर और सब चीजों के बारे में समझाया और फिर गाड़ी स्टार्ट करके मुझसे चलाने को बोला. ऊपर से पानी गिर रहा था और नीचे मेरे बहन की चुत में मेरा लंड सटासट चल रहा था. कुछ उसकी देसी गांड के छेद पर मालिश करते हुए मल दिया, जिससे उसकी गांड मुलायम हो गई.

निशा भाभी- क्यों क्या हुआ? गाड़ी क्यों रोक दी?मैं- आप जानती हो भाभी, मैंने गाड़ी क्यों रोकी. मैं अपना सर नीचे किए हुए उनकी किसी भी पल आने वाली झिड़की के लिए तैयार बैठा था. कभी होंठों पर तो कभी गालों पर, कभी उनकी चूचियों पर तो कभी गर्दन पर।वो भी अपने हाथों से मेरी पीठ को सहला कर मेरा हौसला बढ़ा रही थी.

मैंने अपने लंड को धीरे से पीछे लेकर थोड़ा नीचे कर दिया और बुआ की चुत पर सटा दिया.

उतनी देर में भाभी कपड़े पहनकर तैयार हो गई और बोली- तुम जाओ और ये स्वेटर को यहीं छोड़ दो. मैंने बोल दिया- तुम कोई डॉक्टर हो, जो तुमको पता है कि दर्द 4-5 दिन रहेगा. दो-तीन मिनट के बाद मैंने उसके होंठ से अपने होंठों को हटाया, तो वो लम्बी लम्बी सांस लेते हुए कराह रही थी.

हालांकि मेरी तरफ से इतना सब कुछ नहीं था लेकिन वो जैसे मुझ पर जान छिड़कता था. तभी सलोनी भाभी मादक सिसकारियां भरने लगीं- आंह आऊं ऊहम … चूसो जी भर भर के चूसो … अब ये तुम्हारे ही संतरे हैं. आज मैं आपके लिए मेरे साथ घटी घटना को सेक्स कहानी के रूप में सुना रहा हूं.

और वह मेरा पर्स भी नहीं दे पाई क्योंकि सारे लोग उसकी एक्टिविटी को देख रहे थे और शक कर रहे थे. पता नहीं वो सोफे पर क्यों सोयी? शायद आपा ने सोचा होगा कि बेड पर उनका भाई यानि मैं सो जाऊँगा.

माथे पर पतली सी बिंदी लगी थी और उसके गले पर एक निशान सा था जो शायद संदीप ने उसे रात में दिया था. खाना ख़त्म करने के बाद मैं खलिहान में चल गया और शाम का इंतज़ार करने लगा लेकिन समय कट ही नहीं रहा था. वह भी धीरे-धीरे बोल रही थी कि ठीक-ठाक पहुंच गए वगैरह वगैरह!मैं उससे नज़रें नहीं मिला पा रहा था.

सोते सोते ज़ोहरा आपा को पेशाब की हाजत हुयी तो वो उठ कर टॉयलेट जाकर नींद में वहीं सोफे के ऊपर सो गई.

तो मेरे लंड के सुपारे का अगला भाग उसकी गांड की छेद में चल गया।मैंने ज्योति की कमर को कसकर पकड़ लिया औऱ एक जोर का झटका दिया और आधा लन्ड उसकी गांड की छेद में चल गया।ज्योति की चीख निकल गयी और वो मुझसे बोली- भैया, निकालिये, दर्द हो रहा है. भाभी और मैं एक दूसरे के मुँह में जीभ डाल कर एक दूसरे के साथ अपना रस अदल बदल रहे थे. मैंने इसके पहले छुप छुप कर नंगी औरतों को खूब देखा था यहां तक कि अपनी मां को भी मैंने पूरी तरह नंगी देखा था.

बाद में मुझे याद आया कि मैंने शायद भाभी के होंठों को भी चूमने की कोशिश की थी. काफी देर चूत चोदने के बाद मैंने अब उसे सीधा लेटा दिया और उसकी गर्दन बिस्तर से नीचे लटका दी.

करीब तीन चार मिनट मेरे होंठों को चूसने के बाद उन्होंने मेरे टीशर्ट और बनियान को निकाल दिया।अब वो मेरे पूरे सीने को चूमने लगी. मैंने कहा- क्या आप इसे मुँह में लेना नहीं चाहोगी?आंटी ने कहा- हां … ला लंड चूस देती हूँ. इस चुदाई कहानी में मेरी अम्मी कीगैर मर्दों के साथ चुदाई की कहानीका रस भरा हुआ है.

हॉट ब्ल्यू फिल्म

दो बजे रहे थे दोपहर के, थोड़ा टाइम लग रहा था बैंक के कामों में क्योंकि बाकी बैंक के कर्मचारी लंच कर रहे थे.

इसका नतीजा ये निकला कि वो एक महीने बाद जब उसे एम सी नहीं हुई तो चैक किया. वाह … क्या मजा आ रहा था दोस्तो … भाभी की चूचियां बहुत ही रसीली थीं. उस नम्बर से फिर से कॉल आई तो मैंने बोला- अगर बोलना ही नहीं है, तो कॉल क्यों करते हो?इस पर वो बोली- मैं रिंकी हूँ.

वे गांड मटकाते हुए प्रशान्त के पास गईं और प्रशांत मम्मी की चूत के नीचे मुँह खोल कर बैठ गया. वो बार–बार अपनी पीठ उठा–उठा कर अपनी बुर को उसके मुंह में दबाने की कोशिश कर रही थी।उस लड़के का लंड अब पूरा खड़ा हो गया था। उसका लन्ड बहुत बड़ा था।फिर वो लड़की उसके लन्ड को पकड़ कर जोर जोर से चूसने लगी. इंडियन बीपी पिक्चर सेक्सी पिक्चरउसने नीचे वाला होंठ दांतों में दबा कर दूर से ही किस दिया और जल्दबाजी में बच्ची को मेरी गोद में देकर बोली- ज्यादा परेशान ना होना … मैं जल्दी से अपने घर का काम निपटा देती हूँ.

इससे अच्छा मौका मेरे लिए नहीं हो सकता था तो मैं इतना कहते ही चाची को एक किस करने लग गया. नीता अपनी नाइटी ठीक करके वापस से जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़़ कर कान में फुसफुसाया- मैंने जो कहा था वो काम कब करेगी?वो मेरे कान में फुसफुसाते हुए बोली- मैं अब जाकर शिल्पी को गर्म करूंगी और उसको किसी बहाने से बाहर भेजूंगी.

इसलिए हमेशा ही उनको साड़ी में घर में पौंछा लगाते हुए देखता रहता था और उनके नाम से मुठ मारा करता था. मैंने उसके दोनों पैर साइड में करके उसकी चूत को ध्यान से देखा और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया. और हम दोनों अपनी बातें करते हुए सो गई।सुबह उठकर हम दोनों फ्रेश हुई और नहा धोकर स्टेशन जाकर उस लड़के के उसके शहर से आने जाने की टिकेट बुक करवा दी।उसके बाद हम दोनों एक कोरियर ऑफिस गई.

जब आंटी ने देखा कि मैं उसकी चूचियों को ताड़ रहा हूं तो वो थोड़ा सा और झुक गयी. करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और थक कर लेट गए. लेकिन मुझे फर्क नही पड़ा और फिर अंकल ने पिंकी के दोनों पैरों को चौड़ा कर कर फैला दिया.

मेरी मौसी ने उसे फिर से सहलाना शुरू कर दिया लिंग के पूरी तरह से खड़े हो जाने के बाद मौसी कंडोम का पैकट निकाल कर फाड़ने लगीं.

वो मेरे कान में दर्द में कराहते हुए बोली- आराम से नहीं कर सकता है क्या? इतनी जोर से दबा दी. मैंने उसकी चूचियों को मुंह में भर कर जोर से चूसना और पीना शुरू कर दिया.

फिर भी मैंने लंड पर थोड़ी सी क्रीम लगाई और दोबारा से भाभी की चूत पर लंड सेट कर दिया. लेकिन बाद में मेरे दिमाग एक बात आई कि अगर जल्दी मेरी कोई औलाद ना हुई तो मेरे सास ससुर मुझे ताने मारने लगेंगे. पर बीती रात जो गर्मागर्म मर्दाना मलाई ज़ोहरा की बच्चेदानी के अंदर गई थी … वो रस तो फ़रिश्ते का था, सबसे अलग था.

फिर मैंने धीरे लंड को बिना बाहर निकाले उसकी चुत को मथना शुरू किया और बमुश्किल आधे मिनट में उसकी कसमसाहट खत्म होने लगी और हाथों की मुट्ठियां ढीली पड़ने लगीं. जब मैंने इतने दिनों बाद जया को देखा तो मेरी आँखें खुलीं की खुलीं रह गयीं. रास्ते में एक मेडिकल शॉप दिखाई दी तो मैंने शॉप के बाहर गाडी़ रोक दी.

गाना पर बीएफ ऑफिस के अलावा हम लोग बाहर भी कॉफी वगैरह पीने के लिए चले जाया करते थे. फिर मैंने उसके अन्दर से अपना लंड निकाला और कंडोम हटा कर नीचे डाल दिया.

देसी बीएफ वीडियो हिंदी

मेरा लम्बा मोटा लंड जो कुछ देर पहले शेर की तरह दहाड़ रहा था, अब मुर्दा सा होकर, सिकुड़ कर आपा की चूत से बाहर आ गया. मगर अब भाभी उदास रहती थी और मैं जान गया था कि उसको भाई की कमी लग रही है. मैं उसके चूचों के उभार देखता हुआ बोला- मैं तुझे खूब मजे दिलाऊंगा, पक्का कह रहा हूँ.

अपने लण्ड पर कॉण्डोम चढ़ाकर अवनीत की बुर पर क्रीम चुपड़कर मैंने अवनीत की बुर में अपना लण्ड पेला तो चिल्ला पड़ी. वैसे भी इंस्पेक्टर ने मेरी चूत के अंदर अपना माल गिरा कर मेरा मूड खराब कर दिया है. मेरे साथ सेक्सी बातें करोशादी के बाद रोहित और अवनीत हनीमून पर चले गये और लौटने के बाद जब मैं उससे मिला तो उससेहनीमून की चुदाई की कहानीपूरे विस्तार से सुनी.

जैसे भी मैंने गुडबाइ बोला और नीचे तक आया, तभी भाभी का मैसेज आया- मैं एक बात कहूँ?मैंने बोला- हां जी बोलिए ना.

चूंकि पहली बार किसी औरत के मुँह में मेरा लंड गया था, तो मुझे बड़ा सुख मिल रहा था. मैंने फिर पूछा- यार क्या हुआ था … अब तेरे पेट में दर्द कैसा है?वो बोली- अभी दर्द 4-5 दिन रहेगा.

आह्ह … ओह्ह … और तेज … चोदो … आह्ह मजा आ रहा है, पेल दो लंड को।लड़की एकदम से चुदक्कड़ लग रही थी. कुछ देर वैसे धक्के मारने के बाद मैं बेड पर लेटा और वो मेरे ऊपर आ बैठी. मैंने अपने सारे जिस्म का बोझ अपने दोनों हाथों पर डाला और फिर से अपना लंड थोड़ा सा बाहर निकाल कर जोर जोर से धक्के मारने लगा.

मुझे उस रात देर तक नींद नहीं आई क्योंकि मैं शाम को ही तो सो कर उठी थी.

मैंने बहुत सारी तो नहीं, लेकिन कुल मिला कर 6 लड़कियों और औरतों के साथ सेक्स किया है. इस पर चाची जोर से हंसने लगीं और उन्होंने मुझे होंठों पर किस कर लिया. थोड़ी देर और उसी पोजीशन में चोदने के बाद मैंने उसको घोड़ी बनने को कहा.

ब्लू पिक्चर की सेक्सी वीडियोहालांकि मेरा लंड किसी अफ्रीकन की तरह लम्बा तो नहीं, मगर सात इंच का है. मैं अपने दोस्त की कुँवारी बहन की चुदाई एक बार खेतों में कर चुका था.

एक्स एक्स एक्स इमेज फोटो

आज सुबह ज़ोहरा सेवादार को बता चुकी थी कि पिछली रात को ऊपर वाला ज़ोहरा को सपने में आया और ज़ोहरा की गोद भरने की बात कही. उसने अपने खड़े लंड को दीदी के बड़े बड़े चुचों के बीच के रख कर दीदी को इशारा किया, तो दीदी हंस दीं. हमारी नजरें जैसे ही मिली तो एक ऐसा झटका लगा कि क्या बताऊं!हमारी नजरों ही नजरों में बातें हुई और मैं जाकर उसी के पास बैठ गया।थोड़ी देर में वहां जाकर चुपचाप बैठा रहा क्योंकि मैं किसी दूसरे गांव में आया हुआ था तो थोड़ा डर भी लगता है.

चारू प्यार से मुस्करायी और बोली- सच्ची मेरे राजा? तुमने तो मुझे निशब्द कर दिया. छेद दिखने पर मैंने अपना लंड का सुपारा उसपर रखा और हल्का सा प्रेशर दिया, तो लंड छिटक गया. मैं भी तगड़े जिस्म का हूं क्योंकि मैं काफी समय से जिम करता आ रहा हूं.

मैंने उसके दोनों पैर साइड में करके उसकी चूत को ध्यान से देखा और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया. तो मेरे प्यारे दोस्तो और भाभियो, रिश्तों में चुदाई की मेरी यह सच्ची सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करना।[emailprotected]. धीरे धीरे अमित मेरे गले की ओर बढ़ने लगा और मेरे निप्पल पे हाथों से सहलाना चालू किया.

मैंने धीरे से मामी की चूचियों को छुआ तो मेरे बदन में करंट दौड़ गया. मैं आज उस घटना के आगे की सेक्स कहानी आपको बता रहा हूँ कि मेरे साथ क्या हुआ.

तो मैंने लाये हुए दोनों चॉकलेट के पैकेट उसके हाथों में दिए और उसको गोद में उठाकर उसके कमरे में ले आया।बाहर जाकर उसकी मम्मी के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और पीहू के रूम में आया। चॉकलेट के दोनों पैकेट पिघल गए थे।पीहू ने कहा- भइया, ये तो पिघल गए हैं.

उसने सूट के नीचे गुलाबी कलर की ब्रा पहनी थी और सलवार के नीचे गुलाबी कलर की पैंटी पहनी थी. लॉकडाउन सेक्सीमैंने बहुत सारी तो नहीं, लेकिन कुल मिला कर 6 लड़कियों और औरतों के साथ सेक्स किया है. मस्तराम हिंदी सेक्सी स्टोरीमेरी जीभ मामी की चूत के अंदर तक जाकर उनकी चूत के रस को बाहर खींच कर ला रही थी और मैं उस रस को पी जाता था. चारू के मुख से मस्ती भरी आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … सीसी … आह्ह … ऊऊऊ … ओह्ह … अनुराग … आह्ह … हाय … बस चूमते रहो मुझे … आह्ह … ऐसे ही चूमते रहो।अचानक उसने मेरे सिर को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर ऊपर उठाया और मेरे चेहरे पर जहां-तहां उसके होंठ लगे वो बेतहाशा चुम्बनों की बारिश करने लगी.

उस रात को भी उसके साथ रात भर चुत चुदाई का मजा लिया और अगले दिन सुबह हम दोनों वापिस आ गए.

फिर मैंने उसको धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किए, तो थोड़ी देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. वो मस्ती में मेरे लंड को चूस रही थी और मैंने दो मिनट लंड चुसवाया और एक बार फिर से उसकी गांड में लंड को पेल दिया. अंकल ने यहां भी मेरी मदद की और अपने हाथ से उसकी चूत के छेद को को थोड़ा सा खोल दिया जिससे मेरा छोटा सा लंड उसकी चूत में समा गया.

तब तक मामी पीछे पलटी तो आगे से उनके चूचों की गहराई और उनके काले निप्पल उस पीले ब्लाउज में साफ दिख रहे थे. जहां मेरे घर वाले मेरे लिए लड़का देखेंगे, मैं वहीं शादी करूंगी।अब हम दोनों की बहुत बातें हुआ करती थी। मैं उनसे फोन में भी बात कर लेती थी और मुझे जब भी बैंक से संबंधित कोई काम होता तो मैं बैंक में चली जाती और उस वक्त मुझे अमित जी मिल जाया करते थे। वे मेरा काम करवा देते थे. प्रिन्सिपल ने उससे मेरी पहचान कराई और मैंने उनको भी सब बातें बता दीं.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ

उसके टाइट चूचे हवा में लहरा रहे थे और उन पर चेरी की तरह दिखते उसके निप्पल एकदम टाइट हो चुके थे. इस तरह से भाभी को जवाब दे देता था और वो मुझसे इसके आगे भी कुछ न कुछ पूछने लगती थीं. अब वो बोली- राज फ़ाड़ दे मेरी … आहह आहह आहह ऊईई ऊईई आहह … आज राखी तेरी है आहह आहह!मैं तेज तेज झटके मारने लगा।तभी उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

उसके बाद मैं और वैशाली अक्सर फोन पर सेक्स की बातें कररने लगे लेकिन अभी तक वैशाली ने चुदाई के लिए नहीं बुलाया था.

मामी भी अपनी चूत को बार बार मेरे अंडरवियर पर सटा रही थी।लगभग दस मिनट तक हम दोनों चूमा चाटी करते रहे.

जब मैं कभी उन आंटी के घर की तरफ गया, तो वो घर की खिड़की से मुझे देख कर मुस्कुरा देती थीं. कुछ समय बाद हम दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए बहुत ही ज्यादा बेताब हो गए थे. हिंदी सेक्स व्हिडिओ सेक्सी व्हिडिओइसी के साथ वो मेरे चेहरे के समक्ष बांहें डालकर गाल से गाल सटाकर लेट गई।पाठकों से अनुरोध है कि कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी के विषय में अपनी राय-विचार व प्रतिक्रिया अवश्य दें.

ननदोई ने दीदी की चूत पर लंड को रख दिया और चूत पर लंड को रखकर रगड़ने लगे. उसने भी मेरे लंड के रस की एक बूंद खराब नहीं होने दी और वो मेरे सारे रस को पी गई. क़रीब 2 साल बाद फूफा जी बीमार रहने लगे इस वजह से फूफा कम आते थे लेकिन उनका बेटा शकील आता रहता था और मैं उनकी सारी बात रिकॉर्ड से सुनता था.

मैंने उसके दोनों पैर साइड में करके उसकी चूत को ध्यान से देखा और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया. ये बात तो खुलकर कर रही हैं, पर आज तक किसी और से नहीं चुदीं, तो मेरे लंड से कैसे चुदेंगी.

भाभी इस समय कुछ ज्यादा ही पागल हो रही थीं और बहुत जोर जोर से कामुक सिसकारियां भर रही थीं.

टीना- लव यू मीत … मुझे हरियाणवी चुदाई का ऐसा सुख देने के लिए शुक्रिया. अब सिसकारी लेने की बारी मेरी थी, क्योंकि जिस तरह से वो मेरा लंड चूस रही थी, कोई भी नहीं कह सकता था कि ये लड़की पहली बार लंड चूस रही है. पिता जी का लिंग अन्दर घुसते ही एक बार फिर से कमरा फुच फुच की आवाज़ों से गूंज उठा.

जयपुरिया सेक्सी वीडियो तेरे बदन पर कहां कहां क्या निशान हैं वो तो मैं अच्छी तरह से देख चुका ही हूं. ज़ोहरा कुछ समझ पाती, उससे पहले मेरा लंड ज़ोहरा आपा की चूत को फाड़ कर 3 इंच तक अंदर घुस चुका था.

वो एकदम से गुस्सा हो गई थी और उसने चुदाई करते वक्त ही मेरे लंड को अपनी चूत से निकाल दिया था. मैं इस बार उसके एक दोस्त से कैसे चुदी और उसके बाद मेरे तीन ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे कैसे पेला, साथ ही मैं अपने सगे चाचा से कैसे चुद गई … ये सब मैं आपको अगली सेक्स कहानी में लिखूंगी. आप जानते ही हैं कि जब कोई लड़की सूट डालकर कमर पर हाथ रखे और सवालात वाली निगाहों से देखे तो उस दृश्य की आप कल्पना कर सकते हैं।मेरा तो ये सब देखते ही खड़ा हो गया था।थोड़ा संभालते हुए उससे कहा- बहुत अच्छी लग रही है इसमें.

सुन्दर भाभी

मैंने झुंझला कर अपनी बहन की चुत कि फांकों में लंड का सुपारा फंसाया. इस बार मैंने थोड़ी और हिम्मत करके अपना हाथ उसके ड्रेस के ऊपर साइड से अन्दर ले जाने की कोशिश करने लगा. लंड के अन्दर की नसें जोर से फूलने लगी थीं मेरे जिस्म में खून तेजी से दौड़ने लगा था.

मैंने मामी के होंठों का रस पीना जारी रखा और वो भी मेरा साथ देती रही. उसके बाद मैंने उसके मम्मों और होंठों को किस करके उसको दुबारा से गर्म कर दिया.

हमने एक लम्बा स्मूच किया और फिर अलग हो गये।वो बोली- तेरा स्टेमिना तो बहुत अच्छा है.

कुछ देर तक पैंटी के अंदर ही चूत को सहलाने के बाद वो सिसकारने लगी थी. मैंने वो पर्ची को जेब में रख लिया और फिर वो लड़की वहां से उस आदमी के साथ निकल गयी. टीना- मीत, अब और बर्दाश्त नहीं होता … जल्दी से डाल दो मेरी चुत में अपना हब्शी लंड और शांत कर दो इसे प्लीज़ … ये मुझे बहुत तंग करती है.

उन्होंने एक झटके से मेरी पैंन्टी में हाथ डाला और मेरी चूत को छूने लगी. वो मम्मी की आधी नंगी पीठ पर हाथ रखकर सहलाने लगा।अब सागर को मम्मी ने उठा दिया और खुद भी उठ गयी. तो आज टाइम निकाल कर आप लोगों के सामने अपनी आपबीती सुनाने जा रहा हूं.

उसके बाद मेरे साथ क्या हुआ?शराब और शवाब का नशा कई बार जिन्दगी के सबसे अटूट रिश्तों पर भी कहर बन कर टूट पड़ता है.

गाना पर बीएफ: बहुत बार चुत चुदाई के बाद आखिर सेक्सी आंटी गांड मरवाने को भी राजी हो गईं. इतना बोल कर मम्मी सागर के गले लग गयी और सागर ने भी उनके अपने से चिपका लिया.

मैंने कहा- आप जवानी में भी ऐसे ही थे क्या?वो बोला- जवानी… जवानी की क्या बात करेगी गुड़िया रानी, जवानी में तो मैंने तेरी मां की चूत की प्यास भी बहुत बार बुझाई है. शकील ने आंटी के बारे में पूछा- मामीजान, यह कौन थी?अम्मी ने कहा- वह मेरी बहन जैसी सहेली है, बड़ी दुखी है. निशा भाभी- इतनी जल्दी! क्यों क्या हुआ किसी गर्लफ्रेंड से बात करनी है क्या?मैं- नहीं भाभी, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

अमिता मौसी भी अपनी मोटी गान्ड उछाल उछाल के उसका लौड़ा ले रही थी।यह दख मुझसे रहा नहीं गया और मैंने मुठ मार ली और कम्बल वहीं छोड़ घर को आ गया.

फिर मैम मुझसे मेरे बारे में पूछने लगीं- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं. आंटी ने मुझे बहुत किस किये और फिर अपनी साड़ी पेटीकोट निकाल कर टांगें फैला दीं. जब से हमने एक दूसरे को ‘आई लव यू’ बोला था, उसके बाद से हम कॉलेज में इतने व्यस्त रहते थे कि एक दूसरे से मिलना हो ही नहीं पाता था.