भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स हॉट हिंदी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़की लड़का सेक्सी बीएफ: भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई, तो आप वो छोटा लड़का और मैं तो मैं हूँ ही।मैंने ये कभी ट्राई नहीं किया था इसलिए मुझे भी रोमांच आ गया और हाँ बोल कर रोल प्ले शुरु कर दिया।वो उसी पोज में चुदवाते हुए बोली- हाँ बाबू, मुझे जोर से चोदो ना।मैं बोला- हाँ भाभी, चोद रहा हूँ!और सन्जू को चोदने लगा.

व्वे एक्सएक्सएक्स

वो मेरी चुचियां चूस रहा था, मैं उसका लौड़ा सहला रही थी, तब मैंने उसे बताया कि मेरी बहन कल आएगी. सेक्स सेक्सी सेक्स वीडियोपर वो बोली- मुझे मस्त हवा का मज़ा लेने दो … और मेरे लंड भी तो मुझे ढूँढने हैं.

मैंने उसकी गांड की दरार को अपने हाथ से चौड़ी किया और अपना लंड उसकी गांड में धकेल दिया. भोजपुरी सेक्सी शायरीएक दिन वो मुझे गली में मिली और बोली- अंकल, अब आंटी और बाबू कब वापस आएंगे?मैंने कहा- अभी तो टाइम लगेगा.

भाभी जोर जोर से सिसकारियाँ लेकर चुदवाने लगी आहहह हाहहह करती हुई!भाभी बोलने लगी- अह जीजू … बहुत मजा आ रहा है … और चोदो … फाड़ दो इसे आज! आहह मजा बहुत आ रहा है!जितना ज्यादा वो बोलती, उतना ही मेरे जोश बढ़ता जाता और मैं जोर जोर से, कस कर भाभी का चूत चोदन करने लग जाता.भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई: तो मैंने पूछा कि दोबारा कब मिलोगी?उसने कहा कि किस्मत रही, तो जल्द ही मिलूंगी.

मैं उसके माँ-पापा से मिला और सीमा को अपनी दीदी के घर ले जाने के लिए कहा.मैंने कहा- भाभी! यह क्या हुआ? मुझे लगता है आपकी चूत ने पानी छोड़ दिया है.

टीचर सेक्सी बीएफ - भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई

मैंने अपनी एक उंगली उनकी बुर में घुसा दी, तो उनके शरीर ने ज़ोर का झटका लिया.दोस्तो, इस कहानी में यहीं तक!अब आपको लोगों से सवाल पूछना चाहता हूँ कि क्या मुझे अपनी बिटिया को चोदना चाहिए.

उनकी चूची पर मेरे हाथ को ऐसा लग रहा था कि मैं रूई का गोला दबा रहा हूँ. भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई मैं- तुम पीछे होकर मेरे लंड पे बैठ जाओ … मैं मेरा लंड तुम्हारी गांड के नीचे रखता हूँ.

फिर भी मैंने डरते डरते मैडम से लंच के लिए पूछा तो वो बोली- चलो ठीक है, चलते हैं.

भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई?

पहली बार किसी ने मेरी गांड चाटी थी और मुझे काफ़ी अच्छा भी लग रहा था. वह जब सब बता रही थी, तो आपको क्या बताऊं … मेरी चूत का क्या बुरा हाल हो गया था. उसने खुश होते हुए बोला कि मेरा सब कुछ तो तुम्हारा ही है, जब तुम चाहो मुझे चोद सकते हो.

जैसे ही मैंने मामा को बांहों में कसा, मामा बोले- बंध्या, तू तो चुदवाने को एकदम पागल हो रही है … तू अब चिंता नहीं करना, मैं सब इंतजाम कर दूंगा. एक दिन मेरी छुट्टी थी, तो मैं सुबह ही भाभी के घर गया, दोनों ने खूब बातें की, हँसी मज़ाक़ किया, फिर मैं चला आया. मैंने कहा- मैं कहाँ मरवाने को कह रहा हूँ? बस मेरे ऊपर चढ़ जाओ, जैसे लड़का लड़की को चोदने के लिए उसके ऊपर चढ़ता है वैसे.

भाभी भी मुझसे खुल गई और खुद अपने आप अपने बारे में बताने लगी कि किस किस ने उन पर ट्राइ मारी है. उसने मेरी बात सुनते ही मुझे छोड़ दिया और मुझे बिस्तर के सिरहाने होकर कुतिया बन जाने को कहा. बीच में उसने अपने परिवार की प्रोब्लम्स भी बताई जिससे मुझे उससे हमदर्दी भी होने लगी.

मैंने घूमना चाहा तो उसने मेरे सर फ्लशटैंक में दबा कर जानवर बना गया. पहली बार मैं कोई चूत चाट रहा था, पर मुझे कोई घिन्न नहीं आ रही थी, बल्कि सच बोलूं तो मुझे भी मज़ा आ रहा था भाभी को आनंद से सर धुनते देख कर.

मेरा भी दिल करता है कोई मुझे छूए, सहलाए, प्यार करे, मगर ऐसा हो न सका.

उसका लिंग काफी टाइम से खड़ा हुआ था और वह अब और ज्यादा वेट नहीं कर सकता था.

फिर उन्होंने मेरे हाथ को पकड़ कर और ऊपर सरकाया, तो मेरे हाथ उनकी मोटी जांघों पर पड़े. बस इतना बोल कर वो कुर्सी के जैसे बैठते हुए मेरे लंड पर चढ़ गयी और मेरे गोद में ही बैठ कर हल्के हल्के से लंड को अपनी चूत के अन्दर लेने लगी. मेरी ये कहानी स्मिता (बदला हुआ नाम) जैसी उन सभी लड़कियों को समर्पित है जिन्होंने अपनी सीमा रेखा से ऊपर उठ कर कुछ करने की ठानी है!आपको मेरी यह आपबीती पसंद आई या नहीं, मुझे ईमेल करें.

उसने एकाएक मेरे चेहरे को पकड़ा और रोकते हुए कहा- सारिका जी बुरा न मानो तो एक बात कहूँ?मैंने कहा- हां कहिए?उसने अब अपने मन की बात कहनी शुरू कर दी- सारिका जी सेक्स तो सभी करते ही हैं पर कुछ अलग करने का मजा अलग ही है. फिर जब संजीव से बिल्कुल न रहा गया तो उसने मेरी गर्दन को अपने हाथों ने नीचे धकेल दिया. मैंने जरूर कुछ अच्छे कर्म किए होंगे पिछले जन्म में जो उसकी चूत के दर्शन मुझे हुए.

फिर अपने एक हाथ से अपने लंड को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसके पैर को पकड़ कर मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुंह पर रख दिया और मैं रीना के ऊपर लेटता चला गया.

इसलिए जब वह चाबी मांगता था तो मैं उसको कोई न कोई बहाना बनाकर चाबी देने से मना कर देती थी. मैं तो उनसे कभी भी इतनी संतुष्ट नहीं हो पाई हूँ जितना तुमने मुझे बिना लंड डाले ही कर दिया. मैं घबरा गयी, मैंने घबराहट में पूछा- क्या नहीं करते? क्या तुझे प्यार नहीं करते? मारते हैं क्या?मेरी बेटी ने कहा- अरे नहीं मम्मी … वो रात को पता नहीं कैसी कैसी डिमांड करते हैं.

मैंने भी अपने लंड का टोपा उनकी गांड के छेद पर रखा और धीरे धीरे अन्दर ज़ोर लगाने लगा. हमारी सांसें अभी धीरे-धीरे धीमी हो रही थी तभी अनुष्का मैडम को कोई बुलाने आ गया. इसी बीच एक दिन मेरे वाट्सअप पर सुखबीर ने एक संदेश सुप्रभात लिखा हुआ एक फोटो के साथ भेजा.

अगली बार मैं आपको बताऊंगा कि मैंने रीना को बिलासपुर में ही बुला लिया.

जैसे ही मैं अपने बेडरूम में घुसा, उस लड़की ने जो कि मेरी पत्नी है, कहा- मुझे छूना नहीं, मुझे छुओगे तो मैं आत्महत्या कर लूँगी. उसमें से एक ने दीदी को देख के बोला था कि हां यार ये जिसकी भी बीवी होगी, उसका पति क्या लकी होगा.

भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई मैं पढ़ने में बहुत अच्छा रहा हूँ और देखने में एथलेटिक बॉडी है क्यूंकि मैं जिम, स्विमिंग, ट्रैकिंग, रनिंग इत्यादि सब करता हूँ. मैं जानता था कि उनकी चूत न जाने कितने महीनों से मामा जी ने नहीं मारी है।यही मौका था मेर लिए एक अनसेटिसफाईड औरत को अपने लंड से संतुष्ट करने का। मैंने देखा कि मामीजी पूरी गर्म हो चुकी हैं तो मुझे अब जागने का नाटक करना है। मैं जोर से खांसा तो मामी चौंक गयी और अपने आपको ठीक करने लगी.

भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई उसके बाद भाभी ने मुझे शिकायत करने की धमकी दी और मैं भी अपनी मर्दानगी साबित नहीं कर पाया था. मेरी बीवी बनेगी इसलिए आगे चल के तुझे बहुत बचाना होगा क्योंकि हर कोई तुझे चोदना चाहेगा.

उसकी गांड बहुत टाइट थी और मुझे उसकी गांड में लंड डालने के बाद मुझे मज़ा आ गया.

5 साल लड़की के साथ सेक्सी वीडियो

तौलिया उनके उभारों पर तो पूरा था, पर उनकी टांगें पूरी नंगी थीं, भीगे हुए बाल उनसे टपकता पानी, एक हाथ से तौलिया को पकड़े वो मेरी ओर आ रही थीं कि तभी वो पलट गईं. उसने कोई धक्का भी नहीं मारा और ना ही अपने लंड को अंदर बाहर करने की कोई कोशिश की. मणि ने कहा- हम तीनों में से जिसके सामने बाटॅल का मुँह आएगा, बाकी दोनों उससे सवाल पूछेंगे.

देखो, चिकन के साथ दोनों चिकनी भी खिला कर आ रही हूँ, वर्ना आप ही कहने लगतीं कि मेरे पति का तो कोई ख्याल ही नहीं रखता. साथ ही वो दोनों स्तनों को दबाने लगे। विनय जीजू थोड़ा अलग होकर लेटे रहे. वो अपने पैरों को फ़ैलाने लगी, जिससे उसकी सफाचट चुत उभर कर मेरे सामने आ गयी.

यह बोल कर मैं उनकी चुत को अपनी उंगली से मसलने लगा और मैंने अपना लंड उनके हाथ में दे दिया.

मेरा एक हाथ उसके सर के पीछे था, दूसरा हाथ अपने आप ही उसकी जांघों में चला गया. फिर मेरे मोबाइल ने 5 बजे के अलार्म ने मुझे जगा दिया, जो मेरे मोबाइल में सैट था. इसके बाद मेरा अपने होम टाउन जाना हुआ, तो मैं भाभी से फोन पर बात ही नहीं कर सका.

वहां एक 34 की ब्रा भी टंगी थी, उसको ऐसे दबा रहा था, जैसे भाभी के दूध दबा रहा होऊं. फिर बोला- आज नहीं, कल एक और पिक्चर दिखला कर फिर इसको मिलवा दूँगा इसके यार से … तब तक और गर्म हो जाएगी और अपने यार से मिलते हुए रोएगी कम और खुश ज़्यादा होगी. मेरी चाची थोड़ी मोटी, पर बहुत सेक्सी हैं, उनके बड़े बड़े चूचे किसी भी आदमी का लंड खड़ा करने में पूरी तरह से सक्षम हैं.

उसने अपना गरम वीर्य मेरे अन्दर ही छोड़ दिया, उस गर्माहट से थोड़ी राहत मिली. मैं और देविका पार्टी एन्जॉय कर रहे थे, मैंने ध्यान दिया कि पार्टी में आये सारे कपल मेरी और देविका की जोड़ी से काफी जल रहे थे क्योंकि देविका मुझे अपने हाथों से खिला पिला रही थी, कभी मेरी टाई ठीक करती तो कभी मेरे बालों को संवारती.

पिछले साल मुझे ऑफिस की तरफ से ट्रेनिंग पे अहमदाबाद भेजा गया था और वो भी ट्रेनिंग पे हमारे ऑफिस के मथुरा ब्रांच से आयी थी. उसको पता था कि यदि वो मेरे ज्यादा करीब आई, तो वो खुद अपने आप पर काबू नहीं रख पाएगी. मैं और इंदु बेड पर आराम करने लगे। इंदु मेरे आंड को सहला रही थी और मैं भी इंदु के चूचों को हल्का हल्का सहला रहा था.

फिर मैंने उसे खड़ी कर दिया। उसका एक पैर सोफे पर रखा और उसको झुका कर पीछे से उसकी चूत में लंड को डाल दिया.

वह लंड लेने के लिए पागल हुई जा रही थी जिसका अन्दाजा मुझे उसकी बार-बार ऊपर उठती गांड से होने लगा था. अगले कई मिनट की इस दमदार चुदाई में कब रात के 10 बज गए, पता ही नहीं चला. उसके बाद दरवाजे की बेल बजी तो भाभी ने उठ कर तुरंत नाइटी पहन ली और अपने बालों को ठीक करती हुई बेडरूम से बाहर निकल गई.

मैं दौड़ के अम्मी के पास गयी और उनको बताया तो वो खुश हो कर बोली- जा अंदर बुला ला, चाय नाश्ता करा!मैंने उसे अंदर बुलाया और अब्बू को हिंट कर दिया की यह वही नेट वाला फ्रेंड है. मेरा उतरा हुआ चेहरा देखकर वो बोलीं- समझो यार, मैंने कभी नहीं किया आज तक … इसलिए मना कर रही हूँ.

चाची सुबह सुबह उठ गईं और रोज़ की तरह स्कूल के लिए तैयार होने के लिए बाथरूम में चली गईं. वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चुत को चाट रहा था … काट रहा था. मैं उसकी चूत की चुदाई का मजा ले रहा था और सीमा मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी.

सेक्सी वीडियो देहाती लुगाई

मेरी भाभी जैसी चुड़क्कड़ भाभियों के साथ आजकल मैं बहुत चैटिंग करता हूँ.

उसे खुद भी वो ब्रा और पैंटी बहुत पसंद आए, पर वो इस तरह के कपड़ों को अपने पति के सामने पहनने में शर्मा रही थी. ऐसे कुछ ही मिनट किया कि भाभी के शरीर ने ज़ोर-ज़ोर से झटके लेने शुरू किए, और उनके मुंह से आ … आह … उम्म्म … ओह्ह … अहा … माँ … ओह्ह … की आवाज़ें निकलने लगीं. मेरी चुत पर लगे पानी से चमकते बाल देख कर उसकी भी आंखों में चमक आ गयी थी.

मेरी शादी छोटी उम्र में ही हो गई थी, पर मेरा नामर्द पति मुझे सुख नहीं दे पाता है. मैं- कुछ किया भी या नहीं?वो- क्या करना था … घूमे फिरे औऱ वापस आ गए. पंजाबी लड़की की सुहागरातमैंने अपनी पैंट की जेब से कॉन्डम का एक पैकेट निकाला और उसमें से एक कॉन्डम निकाल कर अपने तने हुए लौड़े को पहनाना शुरू कर दिया.

मेरी बुआ जी एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती हैं, सोनिया भी उनके साथ ही वही जॉब करती थी. फिर वंश के लंड के लड्डुओं पर आकर मैंने एक लड्डू को अपने मुँह में भर लिया.

अब वे जल्द ही अपनी बाकी बेटियों नरगिस और आयशा की शादी कर देना चाहती हैं. फिर बोली- जो बात वहां बोल रहे थे, उसे साबित कर सकते हो?मुझे उसके इस बर्ताव से बहुत हैरानी हुई. परंतु आज जब मेरे साथ कुछ कामुक घटनाएं हुई हैं तो मैंने उसे अंतर्वासना पर लिखने के जहमत उठाई है.

वो आयी, उसने बैल बजायी तो मैंने बाथरूम से मुँह निकाल के उसे बोला कि दरवाजा खुला है. वह भी मेरी तरह स्लिम था, बहुत दुबला पतला, पर लंबा उसकी मंजी भूरी आंखें और मस्त सीना देखकर में गरम होने लगी. उस रात जब हम सोये, तो मैं अपनी नजरें दीदी के बोबों से हटा ही नहीं पा रहा था.

मैं बोला- ऐसा है तो आप अपना काम बोलो … मैं बिना रिश्वत के कर दूंगा.

अभी पहली बार ही उसे देखा है, पता नहीं क्यों मुझे दे रहा है … और तुम लोगों को नहीं भगवान जाने क्या बात है. काफी देर ये गहन चुम्बन लेने के उपरान्त मैडम ने जीभ बाहर निकाल ली और फुसफुसाकर बोलीं- राजे तेरी मर्दानगी बहुत ज़ोर मार रही है … जवानी का भरपूर जोश है ना … देखूं तेरे लंड कैसा है.

फिर उसको गोद में लाकर मैंने बेड पर लिटा दिया। उसके होंठों को चूमने लगा. वो बोली- अच्छा है … नहीं तो तुम्हें बुलाने का क्या फायदा, कुछ पियोगे जूस कॉफी?मैंने कहा- बस पानी. मैंने उसकी टांगों को फैलते हुए देखा तो समझ गया कि लौंडिया खुद लंड लेने की जुगत में है, बस दिखावे के लिए मना कर रही है.

मैंने कहा- अगर दो दिन बाद करोगी तो बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा और बहुत मजा आएगा. उसने बोला- प्लीज बता दो!मैं चुप रही तो उसने आगे कहा- मैं सागर से पॉलिटेक्निक कर रहा हूं. सारा खून जैसे एक जगह एकत्र होने लगा हो और तभी सलोनी जोर से चिल्लाती हुई झड़ गई- आअह … राहुल … ओह्ह्ह ऊ ऊ ऊ आ आ आ आ आ ई ईई ई रा रा रा रा हुल … उम्म … आ …मेरा तो अभी हुआ नहीं था तो मैं अभी भी उसकी चूत में लण्ड अंदर बाहर कर रहा था.

भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई मेरी मम्मी मुझे डांटने लगीं कि तू सारा दिन सोनम के यहां रहती है, ना घर में कोई काम करती और ना पढ़ाई कर रही है. अपनी गांड को उठा-उठा कर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी, कहने लगी- चोदो मुझे दीपक … बहुत दिनों से तुम्हारा लंड लेना चाह रही थी मैं.

सेक्सी वीडियो एचडी कॉलेज

इस तरह से कुछ ही दिन बीते थे कि मेरे माता पिता को एक दिन के लिए कहीं जाना था. उसने जाते समय कहा- जब भी मेरी चुदाई की इच्छा होगी, तब मैं तुम्हें बुलाऊंगी, तुम मना मत करना. जीजा जी ने मेरा मुँह अपने मुँह से बंद कर रखा था तो मैं चीख भी नहीं सकती थी.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मैं सम्भोग के लिए सेक्सी डॉल बन गई-3. बूब्स एकदम सीधे खड़े थे। मैंने अपना एक हाथ पूनम के गले से अन्दर डाल दिया और एक बूब्स को पकड़ कर ज़ोर से दबाया तो मामी तड़प उठी।मैंने अपना हाथ बाहर निकाला तो मामी बोली- बस और नहीं देखने 34 इन्च के बूब्स?तो मैंने कहा- अभी नहीं।फिर मामी बोली- तुम उस समय मेरे सामने बिल्कुल नंगे खड़े थे, तुम्हारा लन्ड बहुत लम्बा है. सेक्सी बीएफ चालू करोआपने मेरी स्टोरीदेसी भाभी ने सोते देवर का लंड चूसाको पढ़ कर जो मेल किए, उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

पहले ही रानी के मस्त बदन का भिन्न भिन्न अदाओं के साथ नज़ारा मेरी कामोत्तेजना को बेहद बढ़ा चुका था, और ऊपर से यह चूत का मादक रस चाट के मेरा दिमाग न जाने कौन से आसमान में पहुँच गया था.

तभी उसने खुद ही बता दिया कि वो संभोग पूर्व प्रायः मुख मैथुन करना चाहते थे, पर मैं ही अपनी भागीदारी नहीं दे पाती थी. फिर हम उठे और कुछ देर गंगा नदी के किनारे टहलकर वापिस आ गए। अब कुछ बातें करने से मैं और रितिका आपस में खुल चुके थे.

उसके बाद अनन्त ने दीदी के हाथों को अपने हाथों से हटा दिया और एक तरफ आकर दीदी के मुंह में अपने लंड को पेल दिया. रूम में जाते ही लड़के ने कोमल को पीछे से पकड़ कर उसकी टांगों में से हाथ डाल कर चूतड़ चौड़े करके गांड में अच्छे से उंगली पेल दी. इस जगह, परपुरुष से इतनी देर बातें करने का कोई गलत अर्थ भी निकाला जा सकता था.

अब मेरा लंड झड़ने वाला था, तो मैंने झट से माँ की गांड से अपना लंड बाहर निकाला और माँ के मुँह में डाला और उनके मुँह में ही झड़ गया.

उस दिन भी वो खुले गले का टॉप पहन के आयी थी और मेकअप भी प्यारा किया हुआ था. वे मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूची को चूसने लगे और मैं सिस्कारियां लेने लगी. जब मेरी नजर उसकी लुंगी पर पड़ी तो उसका लिंग मुझे अलग से दिखाई देने लग गया था.

सेक्सी बीएफ बाप बेटी कीचाची ने हाथ बाहर किया और हल्का सा अपना मम्मा दिखाते हुए तौलिया और ब्रा पेंटी मेरे हाथ से ले ली. क्या मस्त चूचियां थीं उसकी … और मस्त गुलाबी निप्पल एकदम हार्ड हो गए थे.

लड़का लड़की चोदने वाला सेक्सी वीडियो

”उनकी बातें सुनकर मेरी मन में लड्डू फूट रहा था, चेहरे के नीचे मतलब क्या था अंकल का?तुम कल आ रही हो, सुनकर मेरा बहुत बड़ा टेंशन खत्म हो गया, मैंने जानबूझ कर वहां पर हाथ नहीं रखा, गलती से चला गया. इसी स्थिति में वो धीरे धीरे नीचे हो रही थीं, उनका बांया हाथ मेरे लिंग पर आ गया और दूसरा हाथ मेरी टांगों के बीच से निकलकर मेरे अखरोटों से खेलने लगा था. और फिर कुछ करते नहीं!मैं समझ गयी कि शायद दामाद जी को कोई कमजोरी है और मेरी बेटी को ठीक से चोद नहीं रहे हैं.

फिर एक दिन देखा कि दुकान पर वो आदमी नहीं था, उसकी जगह पर एक 38-40 साल की हष्ट-पुष्ट महिला बैठी थी. तुम समझ रही हो या नहीं? तलाशी तो तुम्हें देनी ही पड़ेगी अगर तुम यू. मगर बहुत इंतजार करने के बाद भी जब उन्होंने पलट कर नहीं देखा तो मुझे यकीन हो गया कि पहली रात के मेरे अरमान अब अधूरे ही रह जाएंगे.

मैंने उससे कहा- अगर मैं प्रीति को आपके लिए खोल दूँ तो?उसने झट से उत्तर दिया- यदि ऐसा हुआ तो मैं आपका हमेशा आभारी रहूंगा, मुझे केवल संभोग नहीं … बल्कि उससे भी बढ़कर चाहिए. जब उन्होंने मेरे बारे में पूछा तो कहने लगे कि कमरा बहुत छोटा है और थोड़ी सी ही जगह है. मामी बोली- मेहमान जी! आपने ऊषा को कहाँ-कहाँ छुआ था?विपिन बोले- कितनी बार तो माफी मांग चुका हूँ मामी.

उसने आंख खोली तो मैंने उसके होंठों में अपने होंठ लगा कर उसे किस किया. मैं अपने ही सोच में डूबा हुआ था कि रमेश ने मेरी तरफ देख कर पूछा- अरे छोटे मालिक, कहां खो गए?मैं कुछ कहता कि रूपा वहां आ गई.

साड़ी निकालने के बाद मैंने उसकी ब्लाउज़ के डोरे खोल दिये और उसे निकाल दिया.

अगले दिन शाम को मैं पति के साथ बाजार गयी थी, मुझे खुद के लिए कुछ कपड़े लेने थे. बिहारी एक्स एक्स एक्स एक्समोनिका ने मस्ती में अपनी आंखें बंद कर लीं और और उसकी आहें निकलने लगीं. ಬಿಎಫ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಫೋಟೋमैंने ये सब मम्मी को बताया, तो मम्मी बोलीं- ठीक है, रह आना … कोई दिक्कत नहीं. अब मैं धीरे धीरे मेरी जीभ को उसकी चुत के अन्दर घुसाने लगी, सोनल भी अपनी कमर को हरकत में लाते हुए मेरी जीभ को अपनी चुत के अन्दर लेने लगी.

और फिर कुछ करते नहीं!मैं समझ गयी कि शायद दामाद जी को कोई कमजोरी है और मेरी बेटी को ठीक से चोद नहीं रहे हैं.

मैं मीना के चुप पड़े होने का कारण उसकी शर्मिंदगी मान रहा था, किंतु वो तो हैंगओवर से परेशान थी. मेरी मुलाक़ात उन दोनों से हुई, बातें हुई, और अच्छी पहचान बन गई क्योंकि मैं भी मज़ाक और जोक्स का माहिर था, तो हमारी खूब जमने लगी. ” पिंकी ने मायूस होकर कहा।ऐसा कर … तू जा, मैं थोड़ी देर बाद आऊँगी”.

ननकू के नौकरी छोड़ गाँव में रहने की बात सुन मीना परेशान हो गयी क्योंकि अब उसे चिन्टू से मिल कर अपनी कामवासना शांत करने का अवसर नहीं मिल सकता था. वो आयी, उसने बैल बजायी तो मैंने बाथरूम से मुँह निकाल के उसे बोला कि दरवाजा खुला है. सुबह तक उसकी हालत इतनी खराब हो गई थी कि वो सही से चल नहीं पा रही थी.

सेक्सी हॉट पंजाबी

रिश्तों में चुदाई की मेरी कहानी के पहले भागमामी की जवानी को लूटा-1में अब तक आपने पढ़ा कि मैं मामी के साथ शादी में जाने वाला था और इसी वजह से मामी मेरे साथ बाजार शॉपिंग करने गई थीं. मैं उनके मुँह से चादर निकाल कर उनको किस करने लगा … और उनकी कमर में हाथ चलाने लगा. ये अलग बात थी कि उसको महीने में एक दो बार ही लंड का मजा मिल पाता था.

अब मेरा भी होने को था, तो लंड को चुत से बाहर निकाल कर कंडोम आगे को कर उनके मुँह के सामने कर दिया.

मामी जी जोर से चिल्लाई- अअअ अआआ आआआ … मरी … मेरे … रा…जाआआआ…मैं थोड़ा रुक गया, पर मामी बोली- चालू रखो!फिर मैंने धक्के लगाना चालू किया और कुछ धक्के मारने के बाद उनको भी मजा आने लगा और वो भी अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चूत मरवा रही थी और कह रही थी- ऊऊ श्श्श्श्श श्श्श्ह्स म्म्म म्म्म … और डालो … और डालो और डालो राहुल! मेरी फुद्दी को फाड़ दो … मेरी फुद्दी को फाड़ दो.

कहते हैं कि लोग जिस प्रवृति के होते हैं, उन्हें उन्हीं के जैसे लोग मिलते हैं या दोस्ती होती है. तो तुमने कहा था कि मैंने कब मना किया तुम्हें, इसका मतलब क्या निकालूं, क्या मेरा चान्स है?मैं मुस्कुराने लगी तो वो और बैचन हो गया और बोला- प्लीज बोलो न कुछ तो?मैं बोली- हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता।उसने बोला- चलो मैं ट्राई कर लेता हूँ. बढ़िया वाली चुदाईमैं बोली- सच बोल रही हूं आशीष मुझे तुम्हारे अलावा किसी ने नहीं छुआ.

मैंने फिर भी जाते जाते उसे ये सोच कर अपना ईमेल एड्रेस दे दिया कि कभी तो बात होगी. उनकी खड़ी सॉलिड चुचियों की, उनके गोल गोरे चूतड़ों की, उनकी गांड की, उनकी गुदाज बगलों की, उनकी नशीली आंखों की, उनकी गर्दन की और उनकी चूत की तारीफ की. उसके बाद अनुष्का ने खुद ही अपनी बिकनी खोल दी और उसके दूध जैसे चूचे मेरे सामने खुलकर आ गये.

कोमल ने हिना को ये बताया, तो उस लड़के ने जल्दी जल्दी दोनों को चोद कर खुश कर दिया. जिस बिल्डिंग में हम लोग रहते थे, उस बिल्डिंग में काफी आंटियां भाभियाँ रहती थीं.

उसने पूछा- कहां जा रहा है?मैंने नवीन को पकड़ लिया और वहीं उसको गले से लगा लिया.

उसके मुंह में जब मेरा लंड जा रहा था तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था. … सॉरी नीतू, गलती से वहां पर चला गया, तुम उठ जाओ अब, आज का कोर्स पूरा हो गया. मेरी इस हरकत पर वह कामुक होकर अह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह ह्ह्ह्ह हाह्हाह अहहः ऊउम्म जैसी आवाज़ें करने लगी.

बीएफ वीडियो अंग्रेज वाला मैं धीरे धीरे से अपने लंड को अन्दर बाहर करते हुए कहने लगा- तो क्या हुआ पहली बार थोड़ी ही ले रही हो मेरी जान … कल रात से ही तीसरी बार गांड में घुसवा रही हो मामी जी … ह्हम्म फिर भी आपकी गांड थोड़ी अभी भी कसी हुई ही लग रही है. अगले दिन सुबह जब मैं यूनिवर्सिटी जाने लगा तो मुझे नीचे भाभी दिखाई दी.

उसके बाद उसने खुद ही उठकर अपनी नाइटी को पीछे से खोल दिया और निकालकर एक तरफ रख दिया. मैं अपने उसी साइट पर फिर से व्यस्त हो गयी और फिर इसी बीच मेरी गुजरात की सहेली, जिसका वर्णन मैंने अपनी पिछली कहानी में किया था, उससे दोबारा बात शुरू हो गयी. मैंने उसे जमीन की नर्म घास पर लिटाया और कंडोम का पैकेट को खोल कर कंडोम लंड पहनने लगा.

सुहागरात की चुदाई वीडियो सेक्सी वीडियो

मैंने कहा- तुम खुद ही उतार लोउसने कहा- ठीक है, मैं ही उतार देती हूँ. अब तो मैं उनके मस्त कड़क लंड की कल्पनाएं भी करने लगा था और अंदाज़ा लगाता कि रवि मामा का लंड कितना लम्बा और मोटा होगा. मैं- अरे मामी जी आप इतने जल्दी क्यों उठ गईं, थोड़ी देर ओर आराम कर थोड़ी लेतीं.

दीदी की सासू बोल रही थी- एक बात बताऊं बेटे … घर की बात घर में ही रहनी चाहिये, चौराहे में लाने का कोई मतलब नहीं होता है. मैं भी पूरी जोर आजमाइश के साथ अपने वर्षों पुराने सपनों को हकीकत में तब्दील करने में जुटा था.

खैर झटकों के एक लम्बे सिलसिले के बाद मैंने उससे बोला कि मैं झड़ने वाला हूँ.

तो आपकी भी ज़िम्मेदारी बनती है कि उसकी और उसकी बीबी की इज़्ज़त का पूरा सम्मान करे. इतनी गजब खुशबू आ रही थी उनके शरीर से … वो मुझे मदहोश करती जा रही थीं. प्रेम बोला- वाह बृजेश, क्या गांडू लाया है, सिर्फ निकुंज के लिए ही? हमें चुदाई नहीं करने देगा क्या?आदिल भी बोला- मुझे भी तो अपने लंड की प्यास बुझानी है.

अनुष्का की स्माइल को देखकर तो अच्छे अच्छों के लंड मचल जाते हैं मैं तो फिर भी एक ड्राइवर था. मैंने कुछ देर प्रीति की चूत में ही लंड को डालकर रखा और उसके साथ लेटा रहा. फिर उसने एकदम से लंड को बाहर से रगड़ते हुए चूत में एक झटका देते हुए अंदर कर दिया.

कभी कभी 2 उंगलियों में उसकी निप्पल को भी ले कर मसलता और कभी बहुत ज़ोर से खींचता, उसके निप्पल तने हुए थे.

भोजपुरी बीएफ सेक्स चुदाई: उसकी काली नशीली आंखें, गुलाबी पतले पतले होंठ मुझे उसकी तरफ मोहित किये जा रहे थे. इन दोनों को लगातार चोदने के बाद भी उनकी चुत में अभी भी मेरे लंड घुसने से दर्द होता है.

मैं तैयार हुआ, स्कूटर बाहर निकाला और हेमा भाभी को पीछे बैठाकर मार्केट की ओर निकल गया। बाहर जाते हुए लता भाभी ने हमें देख लिया था और उनके चेहरे से लगा कि वह जलकर खाक हो गई थी. अब तक की इस कहानी के पहले भागशादी में प्यासी भाभी की चुदाई का मौक़ा-1में आपके जाना कि मैं अपनी बॉस के साथ उनकी सहेली के भाई की शादी में आया हुआ था. उन्होंने मेरे कन्धों पर हाथ रख के दबाया तो मैं उनको लिपटाए लिपटाए दीवान पर आ गया.

अब मैं भाभी का गाउन खोलने लगा, तो वो बोलीं- अमित कपड़े मत खोलो, जो करना हो ऊपर ऊपर से कर लो.

आपने रोमांटिक अंदाज़ से चुदाई शुरू की और मेरी फुद्दी पूरी बजा के रख दी. उनकी नज़रें मेरे चेहरे पर टिकी हुई थी, और मैं शर्म से उनसे आँखें नहीं मिला पा रहा था. जब आधा लंड चूत में घुस गया तो मैंने हल्का सा धक्का दिया और पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.