वीडियो बीएफ नेपाली

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ भेजें वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्यूटी पार्लर कैमरा: वीडियो बीएफ नेपाली, मैंने तुरंत उठने की कोशिश की।संजू ने मेरे दोनों हाथ पकड़ कर रितेश से बोला- इसके हाथ ऊपर हैंडल से बाँध दे फिर देखते हैं साली को!रितेश ने मुझे फट से पकड़ लिया और मेरे हाथों को एक रस्सी से बाँध दिया, साले पूरा इंतजाम करके आए थे।फिर रितेश ने सामने से आकर मेरी चूत में लंड पेल दिया।‘आहह.

ઇન્ડિયન સેક્સ પિક્ચર

’ सुनते ही दिल जोरों से धड़कने लगा और मेरा मन फिर से बेचैन हो उठा। फिर मैंने अपने आपको सम्हाला और बातें की।इसके बाद उससे मेरी बातें अक्सर होने लगीं। एक दिन उसने बताया कि वो मुझे पसंद करती है. बांग्ला सेक्स वीडियो वीडियोमुझे पूरी रात को नींद नहीं आई और मैंने प्रिया की याद में रात को 3-4 बार मुठ भी मारी।अब हम दोनों रोज़ की तरह ही मिलने लगे, एक्सट्रा क्लास ख़तम करके हम दोनों बस स्टैंड तक साथ ही जाते.

तो दोस्तो, कैसे लगी ये दास्तान? मुझे जरूर बताएं।कोई भी मुझसे बात करना चाहता हो. हिंदी बीएफ कोलकातामैं तुम्हें नई चुत दिला दूंगी।इसके बाद मामी को बहुत बार चोदा और उन्होंने मुझे नई चूत भी चोदने के लिए दिलाई उसकी कहानी मैं अगली बार लिखूँगा।दोस्तो.

कोई नहीं देखेगा, वैसे तुम भी पूरे नॉटी हो!उनका इतना कहना था कि मैं और सट कर बैठ गया और उनको पकड़ लिया। भाभी को जैसे ही पकड़ा कि मेरा लंड उफान मारने लगा और मैं भी हॉट होने लगा।अब मैंने अपने दूसरे हाथ को उनकी जाँघों के ऊपर रख दिया.वीडियो बीएफ नेपाली: या तुम भी स्कर्ट-टॉप पहनती हो?’मेरा हाथ उसकी सफ़ेद सलवार के ऊपर से ही उसकी जांघों को सहला रहा था।वह थोड़ा कसमसाई ‘मैं पहनना चाहती हूँ लेकिन मध्यम परिवार से हूँ.

तो अभी ही आ जाओ।अब मुझे कुछ उम्मीद हो चली थी कि भाभी से मिलकर कुछ काम बन सकता है।मुझे उम्मीद है कि आपको कहानी में रस आ रहा होगा। प्लीज़ मुझे मेल अवश्य करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.दर्द हो रहा है।अंकल ने मम्मी की एक ना सुनी और जोर-जोर से लंड को अन्दर-बाहर करने लगे। मम्मी को दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था। मम्मी कामुक सिसकारियां भरने लगीं- उफ्फ्फ आह्ह धीरे करो.

बीएफ हिंदी फिल्म हिंदी - वीडियो बीएफ नेपाली

लेकिन बुद्धिजीवी मेरी इस सेक्सी स्टोरी से लिप्त भावना को जरूर समझेंगे।मुझे मेल करें।[emailprotected].सब जगह खूब चुदाई हुई।आप यह बताओ कि मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी। कमेंट ज़रूर कीजिएगा.

मुँह में लंड भरते हुए दो-तीन बार चूसा और झटसे वापस चली गईं।मैं मन ही मन बोल रहा था- मामी आज तो तुमने कमाल कर दिया. वीडियो बीएफ नेपाली पर मैं बचपन से ही अकेला रहा था, सो मैं अपने दोस्तों के साथ ज्यादा एड्जस्ट नहीं हो सका।जब मैंने घर पर बात की, तो पापा ने बोला- फ़िक्र की कोई बात नहीं है, उधर मेरे दोस्त का फ्लैट है.

दोस्तो, मेरा नाम अभिषेक रॉय है, मेरी उम्र 19 साल है, मैं दिखने में बहुत स्मार्ट हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है।बात उन दिनों की है.

वीडियो बीएफ नेपाली?

पर खुशी के भी थे क्योंकि उसके आँखों में कुछ पा लेने वाली चमक थी।उसकी गांड में लौड़ा आधा घुसा था और उसने मुँह में रखे रूमाल को भींचते हुए और जोर लगाया। उसकी आँखें बड़ी हो गईं. क्या खूबसूरत बला लग रही थी, उसने जीन्स और टॉप पहना हुआ था, उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया।मैंने उससे हाथ मिलाया और हम दोनों केएफसी में कुछ देर बैठे. अब खाना भी खिला दो रोमा डार्लिंग!उसके जाने के बाद भी मैं अपना लंड पकड़ कर अपने सीने पर उसकी चूचियों का और लंड पर उसकी चूत का दबाव महसूस कर रहा था। क्या दिलकश मंजर था वो.

मैं उस झिरी से अन्दर झाँकने लगा। उसने पहले अपना पजामा उतारा और मेरी तरफ बुर करके बैठ गई।अन्दर लाइट जल रही थी. कहते हुए नीचे मेरी योनि की ओर अपना हाथ बढ़ाया और अपनी दो ऊंगलियाँ मेरी योनि में डाल दी. पर वो नहीं मान रही थी।मुझे भी डर था कि कहीं बुआ यहीं ना आ जाएं।हम दोनों पूरे नंगे थे।वो चली गई और उस दिन समझ में आया कि केएलपीडी (खड़े लंड पे धोखा) का क्या अर्थ होता है.

वो बोली- ठीक है!बुधवार को सुबह पत्नी को भाभी जी के साथ जहाँ जाना था वो सुबह 9 बजे तक चली गई और मैंने दिन का अपना खाना बनाने के लिए मना कर दिया था।मैं भी घर से सुबह 9 बजे निकल गया और लैब पर पहुँच गया, लैब पर पहुँच कर मैंने मंजरी को फ़ोन किया कि मैं 10 बजे लैब से निकलूंगा और सवा दस तक पहुँच जाऊँगा. पर वो छटपटाने लगी।मैंने उसकी कोरी चूत में अपना लंड ठेलने से पहले स्कार्फ़ नीचे बिछा दिया और उसके दोनों हाथों को पकड़ लिया। फिर इसके बाद उसके मुँह पर अपने मुँह को दबाकर मैंने जोरदार धक्का लगाया, मेरा लंड उसकी चूत को चीरते हुए अन्दर चला गया।वो जोर से चीखना चाहती थी. मतलब वो जल्दी आने की बोल कर मेरे चेहरे को कस कर अपने मम्मों पर रगड़ने लगी।दोस्तो, अगले भाग में इस तमिल कामवाली की मदमस्त चुदाई की कहानी को पूरा लिखूंगा, अभी आप मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected].

पर मैंने हिम्मत करके कॉल की।उस तरफ से उस भाभी ने मुझे कॉल करने से मना कर दिया और बोली- मैं जब आपको जानती ही नहीं हूँ तो मैं आपसे बात क्यूँ करूँ?इस पर मैंने कहा- आप बात तो करो. ’ की आवाजें आने लगीं और अब अंकल ने मॉम को कस कर पकड़ कर अपने ऊपर खींच लिया।कुछ देर वे दोनों ऐसे ही रहे।उसके बाद अंकल ने मॉम से कुछ गंदी बातें कीं, मॉम अंकल का लंड अपने हाथ में लेकर मसल रही थीं।कुछ टाइम बाद मॉम डॉगी की तरह झुक गईं और अंकल मॉम की गांड का छेद अपनी जीभ से चाटने लगे… शायद गांड में लंड डालने का प्रोग्राम बन रहा था। अंकल अपना लंड मॉम की गांड में पेलने लगे।वाओ.

नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैंने उससे कहा- पहली बार में थोड़ा दर्द होता है.

कहते हुए मैं अचेत हो गई।जब मुझे होश आया तो जेठानी मेरे सर के पास बैठी थी और सुबह होने वाली थी।जेठानी ने कहा- चल अब तू आराम कर, रात की बात भूल जाना, ज्यादा सोचना मत.

एक खुद के लिए और एक मेरे लिए… हम टेबल पर खाने के लिए एक साथ बैठ गये।उस दिन दीदी ने एक छोटी टी-शर्ट और हाफ पेंट पहनी थी, उसमें वो एकदम मस्त माल लग रही थी।तभी अचानक दीदी ने मुझसे कहा- राज आज एक लड़की घर पर आएगी. जहाँ मैं रहता हूँ। मेरे पास वाले फ्लैट में एक भैया-भाभी रहते हैं, उनके दो बेबी भी हैं। भाभी की फिगर की तो आप पूछो मत. मैं अमृतसर से हूँ। अन्तर्वासना पर मैंने बहुत सी कहानियाँ पढ़कर सोचा कि मैं भी अपनी कहानी लिख कर सबके सामने अपनी बात पेश करूँ।मैं पंजाबी परिवार से हूँ.

पर उसका परिवार गांव में रहता था। वो बेचारा शहर में अकेले ही झक मार रहा था। उसकी उम्र 38 की रही होगी. मैं कहाँ भाग के जा रहा हूँ।उसने कहा- साले तूने लंड को भड़का रखा है और अब कह रहा है धीरे कर. जबकि वहीं उसकी पत्नी बहुत चालाक किस्म की औरत थी। उसका चक्कर अपने ही ड्राइवर के साथ था और वो भी उसके साथ ही रहता था। इस बारे में शिल्पा भी जानती थी.

तो वो सो गई।मामा-मामी अभी भी नहीं लौटे थे। शाम को जब वो उठी तो उसने कहा- आज तक मैं ऐसे नहीं चुदी थी.

कुछ हॉट सेक्सी ड्रेस पहन कर आना।वो मुझे किस करके चली गई।घर जाकर उसने बोला- थैंक्स समीर बहुत मजा आया। मैंने गर्भनिरोधक गोली खा लीं ताकि आपका पानी चुत में लिया था तो प्रेग्नेंट ना हो जाऊँ।मैंने कहा- अगली बार और मजे दूंगा।वो बोली- मुझे तो इसी बार बड़ा मजा आया है. बेडरूम में चलें?’हम दोनों बेडरूम में आ गए।वो कुछ शर्म कर रही थी तो मैंने भूमिका की आँख में पट्टी बाँधी और उसे लेटा दिया। बिस्तर पर उसके हाथ फैलाए. अब मैं धीरे-धीरे उसके स्तन को चूसते हुए उसकी नाभि पर आया और वहाँ पर अपनी जीभ घुमाने लगा, वो सिसकारियाँ भरने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो कामातुर होकर बोली- अह.

लेकिन आपके जवाब मिलने के बाद ही लिखूँगा। हाँ एक बात और बता दूँ मैंने अन्तर्वासना की कई कहानियों में पढ़ा है कि किसी का लंड 8 इंच का होता है और किसी का दस इंच का. ’ बोलकर मुझे ज़ोर से गले लगा लिया और मेरे चेहरे पे किस कर करने लगीं।हम दोनों भी एक-दूसरे को ज़ोर-ज़ोर से किस कर रहे थे. बाद में कर दूँगी।यह कह कर मैं अपने कमरे में चली गई।रात को दीदी और जीजा जी सोने लगे, मैं पास के कमरे में लेटी हुई उनकी बातें सुनने लगी।दीदी ने कहा- यार आज मूड नहीं है.

’ की आवाजों को सुनकर मुझे जोश आ गया। मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चुत को चूसने लगा। जैसे ही मैंने अपनी जीभ को उसकी चुत में डाली तो वो ‘ऊह.

कुछ मिनट चूसने के बाद मंजरी हाँफने लगी और पलट कर मुँह मेरी ओर कर लिया और झुक कर फिर से मेरे होंठ चूसने लगी, कभी मेरे होंठ चूसती, कभी मेरी आँखों को चूमने लगती. बुरा तो नहीं मानोगी!ट्रेन अपनी रफ्तार में चल रही थी।भाभी- क्या बोलना चाहते हो बोलो.

वीडियो बीएफ नेपाली साथ ही मैं अपने एक हाथ से उनके चूतड़ को दबा रहा था।क्या मस्ती भरा अहसास था।अब मैं उनकी जाँघों को अपने होंठों से चुभला रहा था इससे मामी एकदम मस्ता गईं, वे कहने लगीं- आग लगा दी. जो मुझे मीठा दर्द भी दे रही थी।मेरी आंखें बन्द होने लगी थीं। मेरे लंड में एक अजीब सी फीलिंग्स पैदा होने लगी थी.

वीडियो बीएफ नेपाली तो बोले- हाथ अन्दर डालो।मेरा हाथ उनकी चड्डी के ऊपर चला गया।फिर जीजू बोले- चड्डी नीचे करो।मैंने जैसे ही चड्डी नीचे को की. जो इस तरह कहर ढा रही हो, या कुछ और प्लान है या कोई आ रहा है?निक्की- नहीं यार.

और मेरी बुर ने पानी छोड़ दिया।तब मुझे पता नहीं था कि बुर भी झड़ती है! पर आज पता है और उन पलों को याद करके आज भी सिहर जाती हूँ।[emailprotected].

सेक्सी फिल्म नंगी सेक्सी वीडियो

सभी पाठकों को नमस्कार, मैं अन्तर्वासना की सेक्सी स्टोरी का नियमित पाठक हर्षित कुमार भोपाल से हूँ। दोस्तो, मैं एक बहुत शरीफ और इज्ज़तदार परिवार में रहने वाला एक स्वाभिमानी लड़का हूँ।मैं कोई प्रोफेशनल सेक्सी स्टोरी का राइटर नहीं हूँ. मेरा नाम महेश है, मुझे सभी माही बुलाते हैं। मैं पुणे में रहता हूँ। मेरी उम्र 27 साल है और मैं 5 फीट 9 इंच लंबा सांवला सा लड़का हूँ। मेरा लंड 7 इंच लंबा और 2. मेरे मन में भी अरमान जागने लगे और एक बार फिर से जीने की चाहत होने लगी.

मेरे पापा और मम्मी गाँव चले गए और आंटी से मेरा ख्याल रखने का कह गए।उन दिनों अंकल भी काफी दिनों से घर नहीं आए थे. बहुत मजा आ रहा है।तभी अंकल बोले- आगे और भी मजा आएगा मेरी जान!अब अंकल मम्मी की चुत चाटने लग गए और उन्होंने अपने कपड़े उतारना स्टार्ट किया और पूरे नंगे हो गए। अंकल का 6 इंच का लंड खड़ा हो गया था। मम्मी उनके लंड को देख कर बोलीं- मैंने कभी और किसी का इतना मोटा और लंबा लंड नहीं देखा।फिर अंकल हँसने लगे और बोले- मेरा तो खूब देख लिया न. कॉम की स्टार्टिंग में अकाउंट्स में प्राब्लम आती थी। जबकि मैं शुरू से ही पढ़ने में बहुत इंटेलिजेंट था।साथ पढ़ने के कारण उससे दोस्ती हो गई और मैं उसके घर अक्सर आने-जाने लगा था। उसने एक दिन मुझसे बोला- मुझे अकाउंट्स में प्राब्लम आ रही है.

उसकी बुर पर ऊपर से ही सुपारे को रगड़ने लगा।वो कामुकता से चिल्लाने लगी- आह्ह.

मेरे में ऐसा क्या है?मैंने बोला- आप बहुत सुंदर हो।मामी फिर से हँस पड़ीं।अब मैं उनके साथ फ्लर्ट कर रहा था और उनको भी समझ में आ रहा था।मैंने बहुत डरते हुए उनसे कहा- एक बात पूछूँ आप से?वो बोलीं- बोल न?मैंने कहा- आप गुस्सा मत होना।तो वो बोलीं- बात तो बता?मैंने कहा- आप और मामा अभी भी सेक्स करते हो या नहीं?यह सुनते ही उनका चेहरा एकदम गुस्से से लाल हो गया।मैंने जल्दी से ‘सॉरी. मैं बता दूँगी।मैंने अपना नंबर दे दिया और वह ऑफलाइन हो गई।मैंने भी उसके बारे में सोचा और मुठ मार कर सो गया।सुबह जब मैं कॉलेज से वापिस आया तो मेरे मोबाइल पर एक मिस कॉल आई। मैंने जब वापिस कॉल किया तो एक लड़की की आवाज़ थी।उससे बात करने पर पता चला कि वह रिया थी. ’ की आवाज के साथ उसने अपना माल मेरे मुँह में डाल दिया। मैंने उस माल को थूक दिया.

फिर मैंने अपना एक हाथ धीरे से उनकी मस्त चुची पर रख दिया। भाभी की चुची बहुत गर्म लग रही थी।धीरे धीरे मैं भाभी की चुची को सहलाने लगा। भाभी भी अब मस्त हो रही थीं. तो मेरा भी लंड एकदम टाइट हो गया फिर भी मैं अपने आपको कंट्रोल करके खुद को काबू में किए रहा था।लेकिन उस वक्त में कंट्रोल के बाहर हो गया. और वो लिंग को लगातार अन्दर बाहर करने लगे।अब मैंने भी उसका साथ देना शुरू कर दिया था.

देख मेरा बहुत दिनों से सपना है कि मैं तुझे नंगी देखूँ। आज मौका मिला है घर में भी कोई नहीं है। चल ना. और उसकी जुबान भी मेरे मुंह के अन्दर तक सफर कर रही थी।मैंने भी अपना एक हाथ उसके चूतड़ों से हटा कर उसकी छाती के उभार पर रख दिया, जबाव में उसने भी अपना एक हाथ नीचे ले जाते हुए मेरे लंड को पकड़ लिया।औरत के हाथ की गरमी पाते ही लंड टाईट होने लगा.

जिसे मेरा साथ अच्छा लग रहा है।कुछ दूर चलने के बाद उसने बाइक रोकने को बोला, मैंने पूछा- क्या हुआ?वो बोली- आओ यार. झाड़ू लगाती हूँ तो?मैंने सोचा कि क्या बहाना बनाऊँ… फंस जाऊंगा और तभी मैंने कहा- मैं तो तुझे देख कर बस यही सोचता हूँ कि तुम इतना सारा काम इतनी अच्छे से कैसे करती हो?जूही- ओह्हो… तो तुझे मुझे काम करते देखना इतना अच्छा लगता है?उसने मेरा हाथ पकड़ लिया।मैं- हाँ और नहीं तो क्या? देखो तुम्हारे बर्तन कितने अच्छे से चमकते हैं।जूही- बाप रे, तुझसे बातों में कोई नहीं जीत सकता. लेकिन पहले मैं आपके पूरे शरीर को एक बार नंगा देखूंगा।वो मान गईं।फिर मैं मामी के कपड़े खोलने लगा। पहले उनकी साड़ी खोली.

उसको याद करके मुठ जरूर मार लेता होगा।वो अपनी सहेली के साथ बैडमिंटन खेल रही थी.

तेरा मर्द पूरी मेहनत कर रहा है क्या?तो बोली- हाँ साला कर तो रहा है, लेकिन उनसे इतने नहीं होते. !तो मैंने आँखें खोल कर उनकी आँखों में देखा और झिझक से थोड़ा बाहर आते हुए मस्ती से उनकी गर्दन में अपनी बांहों का हार डालकर उन्हें अपनी ओर खींचा और उनके कानों में कहा कि जनाब सल्तनत तो आपको जीतनी है, हम तो मैदान में डटे रहकर अपनी सल्तनत का बचाव करेंगें। अब आप ये कैसे करते हैं आप ही जानिए।इतना सुनते ही उनके अन्दर अलग ही जोश आ गया. अगर तुम्हें कोई ऐतराज ना हो तो!मैं समझ गई कि उसका क्या कहना है, पर मैं जानबूझ कर अंजान बन रही थी।मैं बोली- क्या बोल रहे हो सर.

तू खुद देख ले।फिर मैंने ब्रा देखे बिना कहा- इसकी ब्रैस्ट 36 साइज़ की है. तो तुम भी मेरे साथ चलना!मैंने ‘हाँ’ बोला और उसे किस करके गाड़ी से उतर गई। इसके बाद मैं अपने ऑफिस में आ गई।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी सेक्स स्टोरी.

फिर उसने मेरे पास एक बच्चे को भेजा। मैंने पूजा की तरफ देखा तो उसने अपने कान पर हाथ लगा कर फोन करने जैसा इशारा किया। मैं समझ गया और मैंने उस बच्चे के हाथ से अपना नम्बर उसके पास भेज दिया, उसने झट से नम्बर ले लिया और अपने घर चली गई।रात को उसने मुझे कॉल की और बोली- मैं तुमसे लव करती हूँ।मैंने भी उसे ‘लव यू टू. या मम्मों दबा लो या तो चुत चाटो या फिर मुझे चोदो।मैं बोला- ठीक है मामी. उसकी चुत के रस की गर्मी से अब मैं भी झड़ने वाला था। मैं उसे तेज़ी से चोदने लगा और अपने लंड का सारा माल उसकी चुत में भर दिया।कुछ देर यूं ही पड़े रहने के बाद जब उठ कर देखा तो चादर पर खून लगा हुआ था। ये देख कर वो डर गई कि ये क्या हुआ.

नई सेक्सी क्सक्सक्स

पर अब मुझे इस तरह की क्लिप्स अच्छी लगती हैं। इन्हें देखकर मुझे कुछ होता भी है।मैंने कहा- सिर्फ़ देखना और पढ़ना ही पसंद है.

’ की आवाजें आ रही थीं। मैं लगातार उसकी चूत में झटके मार रहा था, उसके दूधों को चूस रहा था। वो अकड़ गई थी और शायद चरम पर आ गई थी। कुछ ही मिनट जमकर चुदाई के बाद मेरे लंड का पानी भी छूट गया।उसके बाद मैं उसके ऊपर ही लेट गया, काफी देर हम एक-दूसरे के ऊपर लेटे रहे।उस दिन हमने बार-बार चुदाई की, वो दिन मेरी जिंदगी का सबसे हसीन और प्यारा दिन था। उसके बाद हमारा प्यार और गहरा. ’ ही हुई कुछ देर हम सब (मैं सबा और फ्रेंड) बैठे हुए बातें करते रहे।फिर मेरा दोस्त अहसान के फोन पर किसी की कॉल आई तो वो बोला- यार मेरे सेल पर किसी की कॉल आई है. इसलिए मुझे आंटी की गोरी कमर और कभी गोरे दूधों के भी दीदार हो जाते थे। उनके मस्त दूध देख कर मैं बहुत गर्म हो जाता था और मैं रोज आंटी के नाम की मुठ मार लिया करता था।एक बार अंकल को किसी काम से हफ्ते भर के लिए बाहर जाना था और आंटी रात को अकेली रहने वाली थीं.

जैसे ही मैं खड़ा हुआ कि मेरी लुंगी खुल गई और मैं पूरा नंगा हो गया।रोशनी की नजर तो मेरे लंड से जैसे हट ही नहीं रही थी।मैंने पूछा- क्या देख रही हो. तब जाकर वो मानी।मैंने फिर दोहराया- चुदाई करना कैसे सिखाया?भावना थोड़ा शरमा कर बोली- संदीप तुम भी ना सब कुछ मत पूछा करो. इंडियन ओपन सेक्सी फिल्मइसी में रात के बारह बज गए थे।मैंने कहा- भाभी लगता है आपको नींद नहीं आ रही है!वो बोलीं- हाँ.

और मुझे डर भी लग रहा था।मैंने कहा- कोई देख लेगा!जीजू बोले- कुछ नहीं होगा. जिसे मेरा लंड झेल नहीं पाया और रोमा की बुर में ही मेरा पानी निकल गया। रोमा भी झड़ रही थी.

बस फिर क्या था, वो मेरे मोबाइल को चैक करने लगी। मुझे पता था वो पिक्स जरूर चैक करेगी तो मैंने जानबूझ कर मोबाइल में पहले से ही सेक्सी पिक्स फीड कर दी थीं।पहले तो वो नंगी फोटो देख कर चौंक गई. जहाँ उसकी कमर थी।मैं उसे बाथरूम लेकर गया और उसको कमोड पर बिठा कर उसकी टाँगें खोल कर गीले तौलिए से उसकी चुत को साफ करने लगा।उसने जब अपनी चुत देखी तो वो मेरी तरफ देख कर कहने लगी- कैसा लगा तोहफा?मैंने उसके माथे को चूमा और अपने हाथों से उसकी चुत साफ की।फिर उसने उसी तौलिए से मेरा लंड साफ किया. मगर शिखा के प्यार ने, उसकी मासूम हरकतों ने मुझे सेक्स के अलावा प्यार करना भी सिखा दिया था।तो दोस्तो, यह थी मेरी सेक्सी स्टोरी, जो मेरे दिल के बहुत ही करीब है। आपको मेरी सेक्सी स्टोरी पसंद आई या नहीं, मुझे मेल ज़रूर कीजिएगा।[emailprotected].

सरोज- तो मेरी जान जरा अपनी टाँगें फैला कर थोड़ी ऊँची कर और अपना शरीर एकदम ढीला छोड़. आप पहले बताओ कि आपने उस रात को क्या देखा?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी, मैं तो बस मज़ाक कर रहा था।पर वो नहीं मानी और मेरे साथ छेड़छाड़ करने लगीं। उन्होंने मेरी पेंट खींच दी. जिसका हम दोनों को बेसब्री से इंतजार था।हम दोनों कमरे में आ गए और फिर तो जैसे हमारी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था। हमारा सपना सच हो चुका था दोस्तो.

दोनों काम वासना में तप कर लाल हो गई थीं। माया की चूत तो इतनी गर्म थी.

पर मेरे पति को कोई फर्क ही नहीं पड़ा। जिनका लिंग मेरे लिए हमेशा मुरझाया हुआ रहता था. तो मजा आ जाएगा।फिर मैं शादी के कामों में बिजी हो गया। शादी में मैंने शगुन और बारात में काफ़ी डांस किया.

मुझको नहीं पसंद है।नेहा आँख दबाते हुए बोली- समझ गई हुज़ूर!डॉक्टर साहब ने नेहा की जांघों पर किस करना चालू कर दिया।नेहा बोली- बस चालू हो गए।वो बोले- क्यों बीवी जब इतनी हॉट ड्रेस में हो. क्यों नहीं करूँगा, अब तो तेरे लिए कुछ भी करने को तैयार हूँ मेरी रस भरी भाभी. पर शायद रब को यही मंजूर था।मैं अपने हाथ चला रहा था, वो मजे ले रही थीं। मैं मामी की कमर के बिल्कुल नीचे चूतड़ के बिल्कुल ऊपर आ गया था, वो सिहर उठीं और बड़ी धीमी आवाज में बोलीं- अरे.

मेरा नाम रोहित है, मैं 21 साल का हूँ और अभी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ। मैं अपने घर में सबसे छोटा हूँ।यह मेरे साथ घटी हुई एक सच्ची सेक्स स्टोरी है।वैसे तो मुझे शुरू से ही सेक्स की बड़ी चुल्ल थी। मैं जब भी कोई ब्लू-फ़िल्म देखता. अभी नहीं बाद में करेंगे।मैंने ‘ओके’ कहा।अब आंटी टॉप और जीन्स पहनने लगीं।हम लोग बाहर चले गए. मेरी तो किस्मत खुल गई!ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरी पहले से गीली हो चुकी योनि में अपनी एक उंगली डाल दी।मैं इस हमले के लिए तैयार नहीं थी, मैं चिहुंक उठी, लेकिन फिर अगले हमले का इंतजार करने लगी। कुछ देर पहले सल्तनत की रक्षा करने वाली.

वीडियो बीएफ नेपाली तब ऐसा लगा जैसे किसी ने तलवार से मेरे जिस्म को काट दिया हो… मैं बेसुध सी होने लगी… मैं बस यही सोच रही थी कि अगर क्रीम ना लगी होती तो मेरा क्या होता और मैं यह सोच ही रही थी कि तभी तीसरा धक्का लगा और मैं सच में बेहोश हो गई।जब रेशमा ने मेरे मुंह में पानी डाला तब होश आया. उम्म्ह… अहह… हय… याह… पर उसने मुझे नहीं छोड़ा और मेरी चुत में धक्के देता रहा।चूंकि मैं पहले से ही अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुद चुकी हूँ.

निकलने वाली सेक्सी

फिर बोला- आपके साथ कैसे?हालांकि मैं अन्दर से खुश था कि मामी की चुदाई करने को मिल रही है. पर मौका नहीं मिला।एक दिन वो अवसर मिल ही गया जिसका मुझे इन्तजार था। उस दिन दीदी का स्कूल में प्रमोशन हुआ था. मैं कहने लगा- भाभी ये लंड आपके लिए तैयार है!आशा भाभी मेरे तरफ आईं और मुझे किस करने लगीं.

रंग गोरा है और हाइट 5 फुट 8 इंच है। मेरे लंड का साइज आपको बाद में पता चल जाएगा।जो किस्सा मैं आपको सुनाने जा रहा हूँ, वो आज से ठीक एक साल पहले की है। उस वक्त मैं 12वीं क्लास में था। तब मेरी एक हॉट गर्लफ्रेंड हुआ करती थी, जिसका नाम रश्मि था। वो बहुत सेक्सी थी. सलवार के ऊपर से ही क्या गदर नर्म थी।मामी की गांड पर मैं अपने हाथ को फेरता हुआ एकदम से उनकी गांड की दरार में ले जाता और तुरत ही हटा भी लेता। मैंने ऐसा 2 या 3 मर्तबा किया। जब उधर से कोई विरोध नहीं हुआ तो मैं अपना हाथ गांड के पीछे से ही मामी की चुत की तरफ ले गया।मामी ने टाँग मारी और फोल्डिंग पर मुझसे दूर हो गईं।मैं डर गया. सनी लियोन के बीएफ वीडियोइधर मैं आपको बता दूँ कि इससे पहले मैंने कभी किसी से चुदाई नहीं थी और खुद ही अपनी चूत में मुश्किल से दो उंगलियां डाल पाती थी.

क्योंकि सर आगे बैठे थे।नितिन फिर और आगे बढ़ने लगा, उसने मेरी जांघों पर हाथ रख दिया, मैं उसका हाथ हटाने लगी.

एकदम फोरलेन सड़क हो गई।मैंने भी हँसते हुए अपना काम जारी रखा और पूरा मजा लेकर भाभी की धकापेल चुदाई करता रहा।अब आँचल भाभी को भी मजा आने लगा था और वो भी अब गांड हिला-हिला कर मेरा साथ दे रही थी, ‘आअह्ह्ह. चूत ऐसे चाटते हैं। अब तुझे मेरी चूत ऐसे ही चाटनी है।माया की छाती से खींचकर उसने मुझे अपनी नंगी छाती से चिपका कर मेरे गले को चूमते हुए दाँतों से मेरे कंधे और गले को काटा.

मैं कुछ नहीं जानती।मैंने देखा वो एक लूज़ ट्रैकसूट वाला पजामा और टी-शर्ट पहने हुई थी।आज मुझे टी-शर्ट के अन्दर रोमा की चूचियां कुछ ज़्यादा ही बड़ी लग रही थीं. देख क्या रहे हो?मैंने कहा- रवीना जी, आपके पैर काफी अच्छे हैं।रवीना ने ‘थैंक्स. रोहित भैया मुझसे मेरी माँ की जवानी के बारे में बात करने लगे थे, जिससे मेरी कामुकता बढ़ती ही जा रही थी।अब आगे.

मैं मज़े और डर दोनों के सातवें आसमान पर था।मैं उनके गोल-गोल मम्मों को ज़ोर-ज़ोर से रगड़ रहा था.

मैं उसका मुरझाया हुआ लंड मुँह में लेकर चूस रही थी, वो मेरे सर को सहला रहा था और बालों में हाथ फेर रहा था. उसके नाखून मेरी पीठ में गड़ गए। कुछ मिनट तो मैं वैसे ही पड़ा रहा, उसके बाद कोमल मुझे किस करने लगी तो मैं समझ गया कि अब ये नॉर्मल हो गई है।फिर मैं धीरे-धीरे घस्से मारने लगा। कुछ धक्कों के बाद मैंने अपनी रफ़्तार तेज कर दी। करीब दस मिनट तक चुत में घस्से मारता रहा।अब मैंने उससे कहा- मेरे लौड़े की सवारी करोगी?उसने हामी भरी तो मैंने उसे लंड पर बिठा लिया। वो इस तरह से ऊपर-नीचे होने लगी. फिर अगले दिन वही हुआ, मैं बाथरूम में गया, उसने नॉक किया और बोली- भैया मेरे कपड़े रह गये हैं, मैं आकर ले लूँ?मैं- आ जाओ!रमणी ने कपड़े उठाए लेकिन मैंने अबकी बार कुछ नहीं किया.

बीएफ सेक्स वीडियो हिंदी मेंथोड़ी देर बाद मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गई उअर खुद ही साहिल के लंड पर बैठ गई, साहिल ने लंड सीधा पकड़ा और मैं धीरे धीरे उस पर बैठ गई, उसका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया और मैं उस पर कूदने लगी, अपनी चूत चुदाई करवाने लगी. हाथ लगते ही वो थोड़ी सी उछल गई… और उसके मुख से आअहह निकल गया…मैं उसकी पूरी चुची और चूत पर हाथ फिराने लगा.

मराठी सेक्सी वीडियो गर्ल्स

और मुझसे लौंडे पट गए थे। मैंने उनकी खूब मारी भी, पर मेरे ये साथी जाने क्यों. तुम तो मेरी ब्रा को ऐसा चूस रहे थे जैसे किसी औरत के निप्पल चूस रहे हो।यह सब सुनकर मैं शर्मा गया, तभी मौसी बोलीं- अरे तुम तो शर्मा गए. हम दोनों एक दूसरे को पाकर बहुत खुश थे और फिर वंदना के आने के बाद हमारी खुशियाँ दुगनी हो गई थीं.

ताकि मैं अपनी फुद्दी ठरकी मर्दों को दिखा सकूँ।मेरे पति के दोस्तों में केवल उनकी ही शादी हुई है, बाकी सब कुंवारे हैं इसलिए सभी मुझे ठरकी निगाहों से घूरते रहते हैं।मैं भी उन्हें कभी कभी उकसाती रहती हूँ।यह बात तब की है. आपका ये राजा तैयार है।बस आंटी मुझसे लिपट गईं।कुछ देर चूमाचाटी के बाद हम दोनों अलग हुए और खाना आदि खाने के बाद आंटी ने मुझसे कहा कि कुछ देर मुझे कमरे में अलग छोड़ दो मुझे कुछ काम है।मैं छत पर घूमने चला गया. पर सच्ची है। मैं शहर से दूर फॉर्म हाउस में रहता हूँ, मेरी फैमिली में छह लोग हैं।मैं सबसे छोटा हूँ, मेरी दो सिस्टर और एक भाई है दोनों सिस्टर बड़ी हैं। मैं जब छोटा था, तब से मैं मेरी बड़ी दीदी को देखता था।मैं जब स्कूल में था.

और मैंने मामी अपने बांहों में ले लिया, पर मामी मुझसे छोड़ने को कह रही थीं। मुझसे रहा नहीं गया और मैं मामी को चुम्बन करने लगा।कुछ ही देर में मामी भी गर्म हो गई थीं। मैंने किचन में ही मामी की साड़ी को उतारना शुरू कर दिया और हम एक-दूसरे को चुम्बन करने लगे।अब मैं उनके ब्लाउज के बटन खोलने लगा. उम्म्ह… अहह… हय… याह… इमरान चूत को चाटते ही रहोगे क्या?मैं सीधा हुआ और उसकी दोनों टाँगों को उठा कर अपने कंधों पर रख लिया, उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर रख लिया।हम दोनों की आँखों में चुदास भरा इशारा हुआ और मैंने एक झटका मारा तो मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत में घुसता चला गया।वो दर्द से तड़पने लगी- आअहह. इसलिए वो ऐसे ही मेरे पास नहीं आएंगी, मेरे घर में रहते हुए वो अकेली कमरे में भी नहीं जाएंगी।तभी मेरे दिमाग में एक तरकीब आई, मैंने रेखा भाभी को कुछ भी नहीं कहा और चुपचाप पानी की बाल्टी भरकर सीधा लैटरीन में घुस गया.

अब बस जरूरत थी तो इतनी कि वंदना अपने हाथ उठाये और मैं उसके बदन से उसका टॉप उतार फेंकूं!वंदना भी अपने जोश की चरम सीमा पर थी और जल्दी से जल्दी प्रेम के सागर में गोते लगाना चाहती थी, उसने हमारी स्थिति को भांपते हुए धीरे से अपनी बाहों को मेरे गले से अलग करते हुए अपने होंठों को भी मेरे होंठों की गिरफ्त से अलग किया और अपनी आँखें बंद रखते हुए अपनी दोनों बाहें ऊपर उठा दीं. जो नीचे खिसका हुआ था। कैलाश भाई साहब उसे नंगा ही गोद में बिठाए थे।मुझे देख कर लड़का चौंका, पर कैलाश उससे बोला- बैठा रह यार.

मैं उसके स्कूल के प्रोजेक्ट में उसकी हेल्प कर रहा था। उसके प्रोजेक्ट का टॉपिक सेक्शुअल लाइफ पर था.

’मैं लंड और जोर से चूसने लगा। अब मेरा लंड खड़ा हो गया था, मैंने कहा- चल गांड मारने दे।तो उसने मना कर दिया और कहा- मैं तुम्हारा लंड चूस दूँगा, पर आज गांड मत मार. स्कूल बीएफ वीडियोउम्म्ह… अहह… हय… याह… मगर बस इतनी थी कि वो और मैं ही सुन सकें।जब मैंने उसकी चूचियों पर किस किया. भोजपुरी भोजपुरी बीएफतो पहले उन्होंने मना किया, लेकिन मेरे कहने के बाद उन्होंने लंड चूसा।हाय. नहीं तो मैं तुम्हारे भैया और पापा को बोल दूँगी।भाभी कुछ ज़्यादा ही नखरे कर रही थीं।तभी मैंने कहा- अभी जो आप अपनी चुत में उंगली पेल रही थीं.

मेरी चुत तुम्हारे मोटे लंड की प्यासी है।मैंने भाभी को बिस्तर पर चित्त लिटा कर बांहों में भर लिया और उनके होंठों को चूमने और चूसने लगा। वो भी पूरा साथ देने लगीं और मुझे चूमने लगीं।मैं अपनी जीभ को उनके मुँह में डाल कर चूस रहा था और भाभी की चुची को भी मसल रहा था।भाभी की साँसें तेज़ हो रही थीं.

मुझे तो बहुत मजा आया।फिर मैंने उसे बताया कि मेरी स्टोरी पढ़ कर एक लड़की का मैसेज आया है। उसको मेरी सेक्स स्टोरी बहुत पसंद आई है. दोनों में इतना प्यार भी हो गया? एक-दूसरे को बचाने के लिए आगे आ रहे हो। सालों आने दो भैया को।वो हम दोनों को ब्लैकमेल करते हुए मेरे पास आई, मेरा कान पकड़ कर बोली- साले. जिसकी वजह से उसका जोश और दोगुना हो गया।उसने झट से मेरी पेंटी भी फाड़ दी और मेरी फुद्दी में उंगली करने लगा।मैं कराहते हुए बोली- यह क्या कर रहे हो.

मैंने कहा- इशारा तो करो तुम्हारी भी किस्मत बना देंगे।अब दोस्तो, मुझे लगने लगा कि काव्या भी चुदने के लिए मचल रही है।इसकी चूत चोदने की कथा अगले भाग में लिखूँगा। आप मुझे प्यारे मेल करके बताते रहिएगा कि कहानी कैसी लग रही है।मुझे मेल जरूर करें।[emailprotected]कॉलेज गर्ल की चूत की चुदाई की कहानी जारी रहेगी।. और कुछ ही देर की लंड चुसाई में मैंने अपने लंड का पूरा माल छोड़ दिया। माल छूटने के बाद भी मेरा मन और लंड रुकने का नाम नहीं ले रहा था।हर्षा भाभी संग मेरी पहली चुदाई होने जा रही थी।आप सभी को ये कहानी कैसी लग रही है. और इसी के साथ उससे भी कह दिया कि आज अपन दोनों साथ में खाना खाएंगे।तो उसने तुरन्त मैसेज का जबाव दिया- ओके जी.

सेक्सी वीडियो फुल एचडी हिंदी वीडियो

मैं आम तौर पर योनि चाटता नहीं हूँ पर यदि योनि में स्मेल ना हो तब ही ओरल सेक्स कर पाता हूँ।अब हम दोनों एक दूसरे के यौनांगों को बड़े प्यार और शिद्दत से चूस रहे थे. तो मामी की चीख निकल गई।मैं उनके होंठ को चूसने लगा। जब वो शान्त हो गईं तो मैंने अबकी बार में पूरा लंड ठेल दिया और इस बार वो भी कसमसा कर अपनी चीख को दबा गईं। अब कमरे में मेरी और उनकी मादक सिसकारियाँ ही निकल रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वो मस्त हो कर मुझसे कह रही थीं- चोदो मेरे रोहित राजा. प्लीज़।मेरी गर्लफ्रेंड समझ गई और मुस्कुराते हुए मान गई।फिर मैं वापिस उस बुड्ढे के पास आया, उसने मुझे पैसे दिए और मेरी गर्लफ्रेंड के पास जाकर उसे पकड़ लिया।ड्राईवर बोला- अब एक घंटे तक तू मेरी है और मैं अच्छी तरह से तुझे मज़े दूँगा.

क्या फीलिंग्स थी यारों!मैं उन्हें बेतहाशा पूरे बदन को चूमे जा रहा था। मेरी जीभ से किसी कुत्ते की तरह लार टपक रही थी। उनके पूरे बदन को मैंने अपने थूक से सान दिया था।वो मादक तरीके से मोन कर रही थीं- आह.

विकास को बुर चूसना बहुत पसन्द है।अब वो दिन आ गया। जब शिवानी की चुदाई उसके भाई से होनी थी।विकास ने मुझसे कहा- अगर मैं सीधा इसके सामने आ गया.

तभी उसने मेरे बूब्स के पास हाथ रखा, गर्दन के पास आकर मेरी गर्दन पर किस कर लिया. उस वक्त मैंने हॉस्टल छोड़ कर किराए पर एक रूम ले लिया था। मेरे कमरे के सामने वाले घर में एक आंटी रहती थीं. बफ पिक्चर हिंदी वीडियोतो मैं समझ गया कि ये झड़ गई है।अब मैं भी अपनी सारी ताकत के साथ उसको चोदने लगा। मैंने उससे कहा- नीलू तूने आज मेरी इच्छा पूरी कर दी।उसने पूछा- कैसे?मैंने बताया- तुम्हारे ऑफिस में आने के पहले कदम से ही मैं तुम्हारे मम्मे दबाने और चोदने की फिराक में था.

कभी कुछ बोलती हो कभी कुछ?इतने में वो मेरे करीब आकर बैठ गई और बोली- मुझे तुम्हें कुछ बताना है।मैंने बोला- जो भी है जल्दी बोलो। मुझे और भी काम है।उसके बाद उसने अपनी स्टोरी सुनाई, कहने लगी- मेरा एक बॉयफ्रेंड है. ’ करने लगीं।मैंने जोर का धक्का मारा तो मामी ने आँखें खोलीं और मस्ती से चिल्लाईं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहाहह. बुर पूरी तरह गीली होकर फूल गई थी। मैंने अपना लंड हाथ में लेकर उसके छेद पर लगाया और धीरे से अन्दर करने का प्रयास किया। लेकिन लंड इतनी जल्दी अन्दर जाने वाला नहीं था.

मैं 28 साल का हट्टा-कट्टा और एकदम गोरा चिट्टा युवक हूँ।मैं आप लोगों के लिए मेरी एक नई और सच्ची सेक्स कहानी लेकर आया हूँ, यह घटना यही साल भर पहले की है।जवानी की शुरूआत में ही मुझे मेरी भाभी ने अच्छा ख़ासा ज्ञान और अनुभव दे दिया था. पर मेरी तुलना में बहुत अच्छा था।बड़े धूमधाम से हमारी शादी हुई, सुहागरात के बारे में मैंने सुना तो था कि पति-पत्नी के शारीरिक सम्बन्ध बनते हैं पर मुझे इसका कोई अनुभव नहीं था। मैं बिस्तर में बैठी डर रही थी कि आज रात क्या होगा, मन में भय था पर खुशी भी थी… क्योंकि आज मेरे जीवन की शुरूआत होनी थी।कहते हैं न.

’ करके मुझसे लिपट गईं।भाभी के हाथ मेरी पीठ पर और दोनों पैर मेरी कमर पर कस गए। भाभी ने एक और लम्बी ‘आह.

’ वो बस यही कहे जा रही थी। कुछ देर बाद मेरा वीर्यपात हुआ और मैं उसकी योनि में ही झड़ गया।जैसे ही मैंने लिंग बाहर निकाला, वो बोली- उंगली डाल दो।मैंने उंगली डाली और अन्दर-बाहर करने लगा. केवल आधा इंच गाजर ही बाहर दिख रही है, ज्यादा हिलोगी तो वो भी अन्दर घुस जाएगी, फिर आपरेशन के अलावा कोई चारा नहीं रहेगा।मुझे उनकी बात सही लगी. वो अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और उसकी चूत से दही जैसे टेस्ट का पानी निकल रहा था।इतनी देर में मेरा जेट विमान उड़ान के लिए वापस तैयार हो चुका था, मैंने अपने होंठ चूत से हटा उसके होंठों पर रख दिए पर जब लंड लैंड करने वाला हो तो और कहीं कहाँ ध्यान रहता है, मैंने बिना देर किए अपनी लंड को उसकी चूत के ऊपर रगड़ना शुरू किया।उसके हालात ऐसे थे.

डॉक्टर नर्स बीपी क्योंकि यह मेरा पहला अनुभव था।वह एक पेशेवर रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी और लंड चुसाई का पूरा आनन्द ले रही थी। इसी बीच मैं कुछ ही देर में झड़ गया. कुछ मिनट बाद मुझे लगा भाभी का हो गया है क्योंकि भाभी की चुत से गरम पानी निकलने लगा व ‘पच.

साहिल ने पूछा- जिम चलोगी?मैंने कहा- यहीं कसरत कर लो मेरे ऊपर!तो वो मुझे फिर बैडरूम में ले गया और नंगी कर के फिर से चोद दिया. प्लीज़ करने दो ना!मामी टांगें फैलाते हुए बोलीं- तू ही देरी कर रहा है. भाभी के चेहरे पर चमक आती जा रही थी।भाभी का पूरा ब्लाउज उतार कर मैंने उनकी ब्रा का हुक भी खोल दिया। अब भाभी मेरे सामने अपने 34 डी साइज़ के स्तन खोलकर खड़ी थीं और हँस कर मुझे देख रही थीं।भाभी कह रही थीं- छोटू ये सब कहाँ से सीखा?मैंने मुस्कुरा कर कहा- सब आप लोगों को करते देख कर सीख लिया।अब मैंने भाभी की चूचियों को चुसकने लगा और वो मस्ती से ‘अह… उफ़.

पंजाबी के सेक्सी फोटो

मुझे खुशी है आपने मुझ पर भरोसा करके मुझे अपनी तकलीफ बताई।मैंने उसे स्तन सुडौल करने वाली एक क्रीम बताई और उसे लगाने के उपाय बताए।तभी वैभव चिल्लाने लगा और मैंने फोन रख दिया।मैं इन दिनों खुश था, लेकिन मेरे रूम पार्टनर का व्यवहार अब अजीब रहने लगा था। हम सारे काम बांट कर किया करते थे. बाइक पर मुझसे चिपक कर बैठती और रास्ते भर मज़े करती। पर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ तो मैं भी अब सावधान हो गया कि मेरी जल्दबाज़ी में कहीं बनती बात बिगड़ ना जाए।रोमा दो घंटे बाद स्कूल से बाहर आई. मगर कुछ करने कि मुझमें हिम्मत नहीं थी। मैं पिछली रात को ठीक से नहीं सोया था इसलिए पता नहीं कब मुझे नींद आ गई और सुबह भी मैं देर तक सोता रहा।सुबह जब रेखा भाभी कमरे की सफाई करने के लिए आईं तो उन्होंने ही मुझे जगाया। मैं उठा.

क्योंकि शादी में जाने के लिए कोई और नहीं है।मैं तैयार हो गया और शाम को अपनी बाइक पर चाची के घर पहुँच गया। कुछ देर बाद मैं चाची को लेकर निकल पड़ा और कुछ देर बाद हम पहुँच गए।वहाँ पहुँचने पर चाची की बेस्ट फ्रेंड ने हमारा वेलकम किया। उनके साथ एक आंटी और थीं. फिर वो अपनी बेटी को अपनी बीवी के पास छोड़ कर आए और मेरे ऊपर टूट पड़े। जीजू धीरे-धीरे मेरी बुर में अपना लंड डालने लगे। मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन मैं बोली- रुकना मत.

साली हूँ समझा, मुझे दीदी कहा तो तेरा चोदन कर भाईचोद बन जाऊँगी। इतना छोटा है.

फिर दूसरे दिन दोपहर को मेरे कमरे के दरवाजे पर दस्तक हुई, मैंने देखा तो हर्षा भाभी थी।मेरे रूम खोलते ही वह अन्दर आई, दरवाजा बंद करके बोली- जितनी जल्दी हो सके. अब मुझे सेक्स का नॉलेज हो चुका था। मैं सोचने लगा कि वो कैसे पटेगी मेरे साथ चुदने के लिए!!खैर हम सब गाँव पहुँच गए, मैं प्रीति को ढूँढ रहा था. उसने मेरा मुंह पकड़ कर अपनी चूत पर टिकाया और दबाने लगी, मैं उसकी चूत चाटने लगा.

आहह!अब नेहा ने अपनी टाँगें बिल्कुल फैला दीं, डॉक्टर सचिन की जीभ चूत में और अन्दर जाने लगी। उन्होंने नेहा की गांड के नीचे तकिया लगा दिया. उसकी साँसें तेज हो गई थीं।अब रोमा अपनी बुर को मेरे लंड पे दबा कर धीरे-धीरे अपनी गांड आगे-पीछे करने लगी थी। मेरे लंड का आधा सुपारा रोमा की बुर में कपड़े सहित घुसा हुआ था।रोमा के मुँह से सिसकारी फूटने लगी थी-आह. उसने मेरी पीठ पर अपने पूरे नाख़ून गड़ा दिए और अपना पानी छोड़ने लगी।मै अभी शांत नहीं हुआ था। मैंने उसके दोनों पाँव हवा में ऊपर किए और उसकी बुर पर पूरा बल देकर हल्के-हल्के से चोदने लगा, बुर का रस मुझे बड़ा मजा दे रहा था। मैं धीरे से लंड अन्दर डालता और निकालता.

और मैं शांत हो गया।ये किसी लड़की को बिना चोदे मेरा पहला स्खलन था।इसके कुछ दिन बाद मेरी बहन का एग्जाम था शहर में.

वीडियो बीएफ नेपाली: डॉक्टर साहब अन्दर गए और बोले- आज यार तुम कमाल कर रही हो।वो बोली- जान टेंशन मत लो।डॉक्टर साहब ड्रेस रूम के बाहर आ गए. पर मुझे विश्वास है कि वो एक दिन मेरा लंड जरूर चूसेंगी और वो सब मैं आपके सामने जरूर लिख कर पेश करूँगा।मैं तो खुद को बहुत नसीब वाला मानता हूँ कि मुझे एक ऐसी अप्सरा की चुत और एक बार गांड मारने का मौका मिला, जिसने पति के अलावा किसी को चुत नहीं दी हो। हालांकि गांड तो मैं बस एक बार ही मार पाया.

उससे मुझे अच्छा नहीं लग रहा है।भाभी बोलीं- कितनी हिम्मत करके मैंने आपको फ़ोन किया. मैंने तुरंत कहा- तूने तो सात इंच बताया था, ये लिंग तो आठ इंच का दिखता है?रेशमा ने लिंग मुंह से निकाला और कहा- अब आठ हो या सात… मुझे नहीं पता, मैंने कोई टेप ले कर नहीं नापा था, हाँ लेकिन इतना जरूर है कि ये तगड़ा और सुंदर लिंग जब तेरे अंदर घुसेगा ना तो हजार गुना ज्यादा मजा आयेगा!उसकी इस बात से मैं शरमा गई और मेरा ध्यान लिंग पर केन्द्रित हो गया. मैं रात को केबल पर प्रसारित होने वाली ब्लू-फिल्म को देखने लगा जिसे मॉम ने भी पीछे से देखा और बस हम दोनों साथ में सेक्सी ब्लू फिल्म का मजा लेने लगे। इसके बाद मेरा मां के साथ सेक्स का खेल शुरू हो गया।अब आगे.

और हमारे गरम जिस्मों को रगड़ने में मजा भी बहुत आ रहा था।इस बार मेरी चुदाई लंबे समय तक चली। इस बार की चुदाई के दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी। कई मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मैं झड़ गया।उस रात उसकी मैंने बार-बार चुदाई की.

पर किसको बताऊँ और क्या करूँ?मैंने पूछा- अगर तुम चाहो तो मैं कुछ मदद कर सकता हूँ. सिर्फ मैं ही जान सकता हूँ। मैं कल आने वाले मजे के बारे में सोच रहा था।सुबह होते ही मैंने उसे मैसेज किया कि मैंने घर पर कह दिया है कि मैं फ्रेण्ड की शादी में जा रहा हूँ. मैंने आज तक किसी के सामने कपड़े नहीं उतारे हैं और वैसे भी उसके बाद मेरा मन करने लगेगा।मैं- मन करने लगेगा.