तेवर सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ पिक्चर बढ़िया दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ एचडी मूवी फिल्म: तेवर सेक्सी बीएफ, एक रात वर्षा मुझे बोली- दीदी, अब कब उस मजदूर से चुदवायेंगे? आठ दिन कब के हो गये हैं?मैं बोली- वर्षा, क्या तेरी चूत पहले की तरह अंदर से जल रही है?वो बोली- दीदी वैसे तो नहीं जल रही, पर जलने से पहले चुदवा लें तो ठीक रहेगा ना?मैं बोली- नहीं वर्षा, ऐसे बार बार नहीं चुदाते, और मेरा और किशोर का भी अब झगड़ा हो गया है.

जानवर जानवर वाला बीएफ

सच में बड़ा मजा आ रहा था और जब मेरा रस निकलने को हुआ तो मैंने उससे मेरा लंड मुँह में लेने को कहा तो उसने मेरा लंड से कंडोम उतार कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से लंड चूसने लगी. घोड़ा और लेडीस का सेक्सी बीएफछोटी की गांड का साइज कम जरूर लग रहा था पर चपटी हुई या बेडौल बिल्कुल नहीं थी।छोटी ने अपना दुपट्टा निकाल के किनारे रख दिया और अपने हाथों से मेरे सीने को सहलाने लगी.

मैं तो दंग रह गया क्योंकि इस तरह से लेटने की वजह से उनकी दोनों चुची कुछ ज़्यादा ही बाहर की तरफ आ गई थीं. 16 साल लड़की की चुदाई बीएफ”उसने हाँ में सर हिलाया और पलट कर चेयर को पकड़ कर अपनी दबी हुई गांड को मेरे सामने कर दिया- राहुल जरा धीरे धीरे करना, जैसे तुमने मेरी चूत में किया था.

कुछ देर उसने अपनी उंगलियों से मेरी चुदाई की तो मेरा संयम ख़त्म हुआ और मैं भरभरा कर झड़ गयी.तेवर सेक्सी बीएफ: थोड़ी ही देर में उसका रस निकल कर मेरे होंठों पे आ गया और वो ढीली पड़ गई.

मैं जाकर बोतल ले आया, जिसमें पिंकी और रोशनी की जूस का मिक्सचर भरा था.अन्दर वाला कपड़ा इतना हल्का था कि उसमें से शरीर का एक तिल भी दिख जाए.

सेक्सी बीएफ रेप वीडियो - तेवर सेक्सी बीएफ

मैं अपने कमरे में कपड़े चेंज करने चली गई। मैंने पहले अपनी कमीज़ उतारी.मैंने अपना लंड पकड़ कर चूत के छेद के निशाने पे लगाया और उसको बैठने को कहा.

वैसे मेरा यह भी प्लान था कि अगर उसकी यह जॉब लग गयी तो दूसरी चुत का परमानेन्ट जुगाड़ हो जाएगा।मैंने अपनी सेफ़ साइड के लिए मेरी बीवी को फ़ोन लगाया, तो उसने बताया कि वो ओफिस में ही थी और क़रीब 5 बजे घर आ पाएगी. तेवर सेक्सी बीएफ सुबह कॉलेज की ओर निकलते टाइम मैंने उससे कहा कि सोनी मैं आज 2 बजे तुझे कॉलेज से लेने आऊंगा, अगर तू नहीं आई तो सबके सामने से आकर तुझे ले जाऊंगा.

क्या मिल कर खुश नहीं हो?मैं- नहीं ऐसी बात नहीं है, मैं तो ऐसे ही रहती हूँ और मेरे पास कोई इतनी अच्छी ड्रेस भी नहीं थी, तो सोचा कि यही पहन लूँ.

तेवर सेक्सी बीएफ?

मैं उनकी वासना को भड़काने के लिए रोज उनकी ब्रा पैन्टी में मुठ मारकर वैसे ही रख देता था. मेनका- आह आह आअह्ह हह अतुल, ये क्या कर दिया आह आह बहुत अच्छा लग रहा है… ऐसे ही करता रह… ऐसे ही मुझे प्यार करते रहना अतुल हमेशा!मैं- मेनका, मैं अब पूरा का पूरा तुम्हारा हूँ… हमेशा ऐसे ही तुम्हें प्यार करता रहूँगा. रास्ते में रजनी ने पूछा कि तुम उस लेडीज शॉप से बाहर क्यों चले आए थे.

सलवार और पैंटी के ऊपर से ही पता चल गया कि दीदी की चूत में पानी आ गया था, सलवार और पैंटी गीली हो गई थीऔर चूत का पानी मेरे हाथ की उंगलियों में लग गया था. किसी सड़क छाप बाजारू रंडी की तरह चुदवाने का पूरा पूरा आनद मिल रहा था मुझे।कुछ ही देर में मेरे नीचे वाले के धक्के तेज हो गए, उसने फटाक से मेरा एक निप्पल अपनी दांतों में पकड़ा और वहशी बन कर चूसने लगा. फिर मैंने उसके तन से सारे कपड़े अलग कर दिए और अपने भी पूरे कपड़े उतार दिए, कुछ देर चूमा चाटी की, उसकी चूचियां चूसी, चूत में उंगली डाली तो मेरी उंगली बड़े आराम से उसकी चूत में घुस गई.

मैं अभी सलवार का नाड़ा खोल ही रही थी कि मेरी नज़र दरवाजे पर पड़ी, मैं देख कर शॉक हो गई कि श्याम वहाँ पर खड़ा मुझे देख रहा है. दोनों ने एक दूसरे को रगड़ रगड़ के साफ किया और बेड पे आकर एक दूसरे से चिपक कर बातें करने लगे. मैं खुद गांव का देसी छोकरा हूँ, मेरी उम्र 20 साल है, कद लंबा है, गोरा रंग है, हष्ट-पुष्ट गठीला शरीर, मोटा और सुडौल आथ इंच का लम्बा लंड.

मैंने पूछा तो भाभी ने बताया कि तेरे भैया आज रात के लिए बाहर गए हैं, वो अब कल सुबह ही आएंगे. उसका लण्ड भी एकदम कड़क हो गया। फिर उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया।मुझे मजा आ रहा था तो हम दोनों बिस्तर पर आ गए.

मैंने उसके होंठों से अपने होंठ चिपका दिए और अपनी जीभ से उसके मुँह का मुआयना किया.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह…कुछ ही देर में भाभी ने फिर से पानी छोड़ दिया और अपने शरीर एकदम ढीला कर दिया.

इतनी देर में विनोद आ गए और उन्होंने मुझसे मेरी मर्जी पूछी तो मैंने उन्हें कहा कि इतनी खूबसूरत महिला को कौन मना कर सकता है, शायद कोई बेवकूफ ही होगा. मगर अन्तर्वासना की कामुक कहानियाँ पढ़ पढ़ कर और ब्लू फ़िल्में देख देख कर काफ़ी एक्सपर्ट हो गया था। अब मैंने भी अपनी शर्म त्याग कर उनका साथ देना ही ठीक समझा क्योंकि यही एक रास्ता मेरे लिए बच गया था।मैम मेरे पास आई ओर मुझे किस करने लगी, उनके होंठ मेरे होंठ से लगते ही मेरा लंड बिल्कुल खड़ा होने लग गया।मैंने भी अब उनका साथ देना शुरू कर दिया और उनको किस करने लगा।वाह क्या होंठ थे. मेरी तो चीख ही निकल गयी और फिर रोहण ने अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया.

मैं नाटक करने लगी, मैंने रोहण से कहा- रोहण, क्या कर रहे हो?रोहण बोला- माँ, आई लव यू! मैं आपको प्यार करना चाहता हूँ, आपको चोदना चाहता हूँ. उसने भी मस्ती में अपनी बुर मेरे मुँह से लगा रखी थी और गांड उचका कर बुर का मजा ले रही थी. मैंने उसे कहा- थक गई होगी, सो जाओ अब!उसने कहा- तुम यहाँ क्या कर रहे हो?तुझे देख रहा हूँ.

अब हम दोनों फोन पर बातें करने लगे, पहले प्यार भरी बातें, फिर रोमांटिक बातें और उसके बाद सेक्स की बातें भी फोन पर होने लगी.

मैंने गुस्से में कहा- पूजा, जल्दी अपना चैलेंज पूरा करो वरना नहीं पढ़ाऊंगा. अब मुझे अपनी बेबकूफी और उसकी चालाकी पर हँसी आने लगी, यानि उसने इशारे में ही मुझसे चुदवाने की बात बोल दी थी. मैंने अपना लंड पकड़ कर चूत के छेद के निशाने पे लगाया और उसको बैठने को कहा.

हम दोनों वहां से कार में निकले, एक होटल में गए, वहां कुछ खाना खाया क्योंकि अवी की इस पार्टी में मैं भूखी रह गई थी. संजय ने मेरे होंठों को चूसते और काटते हुए चार छह धक्कों के बाद अपने गरम लावा से मेरी चुत को भर दिया. बेल बजाई तो अन्दर से किसी ने पूछा कि कौन?मैंने कहा- शालू!दरवाजा खुला तो मैंने देखा कि अन्दर एक लड़का था जिसकी उम्र 25-26 साल रही होगी.

आपकी स्टोरी पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा यहाँ तक की मेरी पेंटी 3 बार गीली भी हो गई.

वाह क्या मस्त चूत है तेरी, तुझे तो चोद कर जन्नत का नज़ारा आ जाएगा!” कह कर पुलकित ने उसकी दोनों टाँगें उठाई और अपने कंधे पे रख ली, मंजरी को थोड़ा अपनी तरफ खींचा, और अपना लंड उसने मंजरी की चूत पे रख दिया. भैया ने रोशनी की तरफ देखा और सोचा कि इसकी भी यदि चीख नहीं निकली तो मेरी मर्दानगी पर एक सवाल उठ खड़ा होगा.

तेवर सेक्सी बीएफ फिर उसने मोना की चूत के दाने पर किस किया, जिससे मोना एकदम से चिहुंक उठी और सिसकारियां लेने लगी. अब मैं पहले धीरे धीरे चुदाई कर रहा था, जिससे उनको दर्द भी कम हो और मजा भी आता रहे.

तेवर सेक्सी बीएफ वैसे मैं भी इस स्थति में मैं क्या कर सकती थी, वो जैसा जैसा कह रहा था, वैसा वैसा कर रही थी. वो शाम को आ गई तो उसने वही ड्रेस लिया जो मेरे लिए पसंद किया था और पहन लिया.

कुछ देर बाद ही उसने फिर से मेरा सर पकड़ा और मेरे सर को अपने बुर में दबाने लगी.

सेक्सी वीडियो बीएफ जंगल का

मम्मी ने अंजलि को कहा- अंजलि बेटा, तू आ जा हमारे पास लेट जा, आराम कर ले!लेकिन अंजलि बोली- मामी, मुझे आप बड़ों की बातें सुन कर क्या मजा आयेगा, मैं भी अंकित के साथ ऊपर वाले रूम में जा रही हूँ. तभी रजनी की आवाज़ मुझे सुनाई दी- किधर गए?मैंने कहा- क्या हुआ भाबी?उसने कहा- ज़रा मुझे तौलिया दे देना, मैं लाना भूल गई. पूरा दिन यूं ही निकल गया और शाम के 7 बजे और हम सब ने लुकाछिपी खेलना शुरू कर दिया.

मैंने इधर उधर नजर घुमाई तो फोन टेबल पर पड़ा दिखा, साथ में एक पेंटिंग भी थी. अब मैंने चाची की टांगें उठा कर अपने कंधों पर रख लीं और अपना लंड चाची की चूत पे सैट करके हल्का सा धक्का लगाया ही था कि चाची की चीख निकली- उई अम्मी. लेकिन माधुरी जिद कर रही थी कि दो तीन चक्कर लगा कर सब लोग शादी में जा सकते हैं.

उसने कुछ कहा तो नहीं लेकिन अपना एक हाथ मेरे गालों पर रख कर सहलाने लगी.

फिर दो तीन दिन बाद अमित ने कॉल किया- कहाँ हो मिनी तुम्हें अपना काम याद है ना?मैं- हाँ याद है बताओ कब और कहां उनके पापा से मिलना है?अमित- हाँ वही बताने के लिए कॉल किया है. फिर मैंने पूरे दिन इस बात के बारे में सोचा पर मेरा मन नहीं मान रहा था।रात को राजीव घर आ गए, रोज की भान्ति हम दोनों ने डिनर किया और फिर हम लेट गए।मैं पूरी रात काल बॉय के बारे में सोचती रही। सुबह हो गयी पर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।फिर हम फ्रेश हुए और राजीव ऑफिस चले गए. अगले दिन मैं शीना और मम्मी रुबीना के घर गए, चूँकि भैया को कुछ काम था इसलिए वो ना जा सके.

लेकिन हमने वहां सब प्लान किया और अगले दिन की 3 दिन बाद की होटल में बुकिंग करवा ली और हमने उस कॉल बॉय को भी बता दिया।हम फिर सोने चले गए, मुझे और संजना को नींद नहीं आ रही थी कल के बारे में सोच कर!अगले दिन हम उठे, फ्रेश हुए, हमने ब्रेककफस्ट किया और हम थोड़ी देर बाद होटल आ गए, हमने होटल में चेक इन कर लिया और हम रूम में आ गए. अब मेरी उससे ऐसे ही सामान्य बातचीत कुछ पढ़ाई को लेकर और कुछ ऐसे ही इधर उधर की भी होती रही. मैं उसकी कलित को होंठों में लेकर चूसने लगा तो उसकी कामुकता का कोई पारावार नहीं रहा और साथ ही वो मेरा लंड भी तेज़ी से चूसने लगी.

फिर वो लड़का मेरी चूत पर आ गया और उसने मेरी पैंटी उतार दी, फिर मेरी नंगी चूत पर किस किया, फिर उसने मेरी चूत चाटी।इस सारे खेल में आधा घंटा बीत गया और इस दौरान मैं भी पूरे जोश में आ गयी और उसे चूमने लगी, चाटने लगी।फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू किए और उसके सारे कपड़े निकाल दिए. फिर धीरे धीरे हमारी लव स्टोरी पूरे हॉस्टल में फैल गई और 6 माह बाद उसने मुझसे बोला कि मेरा मन अब तेरे से भर गया है.

अब आगे:दुर्ग स्टेशन पर उतरने के बाद मैं अपने दोस्त कुणाल से मिलने गया तो देखा कि कुणाल आंटी और अंकल उनकी दोनों बेटियों के साथ खूब बतिया रहा है. मैंने मेरे लंड को बहन की चुत से फिर से बाहर निकाला और बहन के मुँह पर लगा दिया. मैंने उसकी पैंटी को नीची करके पैड को हटाया और वहां पे अपनी उंगली को थूक से गीला करके उसको सहलाने लगा.

दोस्तों मैं पिछले 4-5 सालों से अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम की कहानियों को नियमित पढ़ता आ रहा हूँ.

ममता मुझसे बात कर रही थी और मेरी नज़रें उसके चूची के पहाड़ों पर टिकी थीं जिसे उसने भी पकड़ लिया और अपनी साड़ी ठीक करने लगी. वो ब्लैक ब्रा पेंटी में पूरी सेक्स की देवी लग रही थी। मैं उनकी पेंटी के ऊपर से ही उनकी चूत पर किस करने लगा, वो कामुक सिसकारियां निकाल रही थी जो मेरे जोश को और भी बढ़ा रही थी।तब मैंने उनकी ब्रा पेंटी निकाल दी और उनकी बूब्स को चूसने लगा। दोस्तो, मैं सातवें आसमान पर था. अब मर्द के सामने भी तू अपने मम्मों को खुद ही रगड़ेगी?साली बहनचोदी, ला मैं चूसता हूँ तेरे मम्मों को.

अरे एक बात बतानी रह गई कि अंजलि को अपनी गांड में उंगली डलवा कर चुदाई करवाने में बहुत मजा आता था लेकिन उसने मुझे गांड कभी नहीं मारने दी. पापा जी… अब आप ऊपर आ जाओ, थक गई मैं तो!” बहूरानी बोली और मेरे ऊपर से हट गयी.

अवी- ओके, देखो ये ड्रेस भी मुझे बहुत अच्छी लग रही है और तुम पर भी अच्छी लगेगी. पूरी नंगी होकर मम्मे मेरी तरफ तानकर बोली- सर कैसी लग रही हूँ मैं आज?आह. पर रोशनी से ये सहन नहीं हुआ, वो बोली- राहुल मैं तुम मुझसे प्यार करते हो.

लंड बुर चोदने वाली बीएफ

बहुत रात हो गई है।मैंने भी उसकी बात पर खुद के बारे में सोचा कि एक तो मैंने ग्रीन कलर का कमीज़-सलवार पहना हुआ था और मैं एकदम दुल्हन की तरह सजी हुई थी। जब मैं चलती.

दीदी मेरे पिंक टोपे को बार बार अपने मुँह में लेकर उसको अपनी लार से गीला कर रही थी. ‍ऽऽऽ… ऐसे ही… अपनी अदिति बिटिया की चूत बेदर्दी से चोदो, इस राजधानी से भी तेज तेज चोदिये… आःह! कितना मस्त लंड है आपका… पापा खोद डालो मेरी चूत… अब आप ही मालिक हो इस चूत के!” बहूरानी जी ऐसे ही वासना के नशे में बोलती चली जा रही थी. अब मैं ये सोच रही थी कि यहाँ 500 ही मिल रहे हैं और वहाँ मैं 40 हजार कमा चुकी हूँ.

मैं आज पहली बार किसी गैरमर्द के सामने इस तरह बिना दुपट्टे के खड़ी थी. मैं ये देख कर हैरान थी कि ये पहनने को अवी ने कहा है, मैंने तुरंत अवी से बात की- ये सब क्या है इसमें?अवी- पूरी ड्रेस है मेरी जान. मां बेटी का बीएफ सेक्सी हिंदी मेंफिर पता नहीं उसका कोई दोस्त था, उसने अवी से कहा कि क्या मैं भी कर लूँ, तो अवी मुझे छोड़ दिया और कहा कि बिल्कुल.

अब दीदी ने कुछ नहीं बोला तो मैंने उनका हाथ लेकर अपने लंड पर रख दिया और बोला- दीदी थोड़ा सहला दो ना, अभी भी टाइट है. और खास कर जब वो बार बार जब अपने नीचे वाले होंठ को खुद ही काट लेती थी तब तो सही में रुकना मुश्किल हो रहा था।रात को वो मेरे सामने की तरफ बीच वाली बर्थ पर सोई थी, और ट्रेन जब हिचकोले ले रही थी और उसके बोबे हिल रहे थे.

देवर जी के लंड ने सरसराते हुए योनिद्वार को फाड़ कर अन्दर तक भेद दिया. खुद से घृणा हुई, वो बेचारी मर जाती तो!मेरी किस्मत में किसी को सुधारना तो नहीं लिखा, अब मैं उसे मेरी तरह बिगाड़ूँगी नहीं, नहीं तो सचमुच वो भी मेरी तरह लंड की अधीन हो जायेगी और लंड के लिये तड़पेगी, और कभी ना कभी बेचारी बदनाम हो जायेगी, इसलिये मैं अब मैं उसे किसी भी तरह ने नहीं उकसाती. ”हम बातें कर ही रहे थे कि तभी हीरो झड़ गया और उसका वीर्य हिरोईन ने अपने मुँह में भर लिया.

उसके होंठों को चूसते चूसते मेरा हाथ उसकी चूत की ओर जाने लगा और मैंने उसकी लेगी में हाथ डाल दिया. मैंने उसका चेहरा ऊपर उठाया और उसके होंठों पे अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा. मैं उसे मना करना चाहती थी, पर उससे पहले ही संजय ने मेरे बिल्कुल करीब आकर धीरे धीरे करके मुझसे लिपटे हुए मेरे दुपट्टे को खींच लिया.

अब इस बात से मुझे डर लगने लगा कि क्या बात है, पर वो गेट कीपर के पास गया और कहा कि कोई भी मुझे पूछे तो कह देना कि बाहर गए हैं.

आपकी स्टोरी पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा यहाँ तक की मेरी पेंटी 3 बार गीली भी हो गई. मैं चाची को बाथरूम से उठा कर उनको रूम में ले गया और बेड पर लिटा दिया.

”इतना कह कर मामी ने मेरी नाईट ड्रेस ला लोअर उतार दिया और मेरी अंडरवियर के ऊपर से ही लंड पकड़ कर कस के दबाने लगीं. दोस्तो, मैं यहाँ एक सलाह देना चाहूँगा कि सुरक्षा के लिए, यौन रोगों से बचने के लिए, अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कॉंडम का इस्तेमाल ज़रूर करें. ऐसी ड्रेस पहनने को मैं सपने में भी नहीं सोचा था और अब इस तरह देख के मैंने ये निश्चय कर लिया कि मैं दूसरी ही पहन कर जाऊँगी, ये नहीं.

वो बैठने की कोशिश करने लगी पर मेरा लंड बार बार उसकी चूत से फिसल रहा था. कुछ समय बाद खेल खेल में मैं छिप गया तो एक लड़की मेरे पास आ कर छिप गई, मुझे लगा ये कविता ही होगी क्योंकि वही मेरे पास आकर छिपती थी. मैं उसकी चुत चाटते हुए बीच बीच में उसके दाने को काट भी देता जिससे वो पागलों की तरह हाथ पैर हिलाने लगती.

तेवर सेक्सी बीएफ राहुल मोना की चूत को बडे ही प्यार से चाट रहा था, ऐसा लग रहा था कि कोई थाली में फैला हुआ शहद जीभ से चाट रहा हो. उसने मना कर दिया और बोली कि मैं जिसके साथ शादी करूँगी, उसी के साथ सब कुछ करूँगी.

सेक्स बीएफ बीपी वीडियो

लेकिन अंजलि ने मुझसे पूछा- कंडोम है क्या?मैं उसके मुख से कंडोम की बात सुन कर हैरान रह गया, अब तक मैं सोच रहा था कि ये मासूम सी लड़की होगी तो कामवासना की अग्नि में जल रही थी लेकिन यह बात सुन कर मुझे लगा कि यह लड़की जरूर खाई खेली है. थोड़ी देर बाद मैं जाने लगा तो आंटी ने कोमल को अपने रूम में जाने के लिए बोल दिया तो कोमल अपने रूम में चली गई और आंटी मुझे बाहर तक छोड़ने के लिए आईं. कुछ देर बाद जब अलग हुए तो देखा कि चादर हमारे कामरस से पूरी तरह भीग चुका था और हम दोनों के चेहरे पर संतोष का भाव था.

वो अपनी आंखें मूंद कर दोनों टांगें फैला कर जैसे जन्नत का मजा देने का कह रही थीं कि जान जल्दी से आ जाओ. खैर मैंने जोया को औंधा किया, जिससे उसकी गांड का छेद मेरे सामने आ गया. सेक्सी बीएफ इंग्लिश पिक्चर बीएफमेनका- क्या मैं तुझे अच्छी लगती हूँ? बस ये बताओ?मैं- हाँ दीदी, लेकिन पापा?मेरे कुछ कहने से पहले ही दीदी खुशी से झूमने लगी जैसे उनकी कोई बरसों पुरानी दुआ भगवान ने आज सुन ली हो.

उसका शरीर इतना गर्म था कि उसका स्पर्श पाते ही मेरा लंड खड़ा हो गया और पेंट फाड़कर बाहर आने को उतावला हो उठा.

मैंने- किधर डाल दूँ?वो मेरी छाती पर मुक्का मारते हुए बोली- सताओ मत. जब मेरे ताऊजी के लड़के की शादी होने वाली थी, तब हमारा पूरा परिवार उसकी शादी के लिए उसके शहर में गए थे.

कैसे हो कुणाल?कुणाल ने घर के अन्दर दाखिल होते हुए ही आंटी के होंठों पर गहरा चुम्मा ले लिया और उसने गाना गाया- आपने बुलाया और हम चले आए…आंटी बोलीं- अभी अभी तुम्हें ही याद कर रही थी मैं!उनकी बड़ी लड़की कौमुदी आ गई और बोली- मम्मी, तुमने अड्रेस दिया लेकिन फोन नंबर क्यों नहीं लिया था. खैर, अमित सर ने कहा है कल से पूरे हफ्ते आपको बिना ब्रा पेंटी के ही ऑफिस आना है. कि मैं सबकी प्यास बुझाऊँ… इच्छा पूरी करूँ।मधु बोली- तो अपना काम बना लो.

सीमा को भी इस खेल में मजा आ रहा था तो उसने मुझे बुर में उंगली करने से नहीं रोका.

मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया. अब मुझे अपनी बीवी पर बहुत हँसी के साथ दया भी आने लगी और अपनी स्थिति पर दुःख होने लगा. नताशा ने जरा भी नाराज हुए बिना हँसते हुए उसकी इस प्रक्रिया को अपने चूतड़ ऊपर की ओर उभारते हुए अपना पूरा समर्थन दिया और अपने गांड के छेद को काफी खोल दिया.

हिंदी में बीएफ पिक्चर देखने वालीकैसे हो कुणाल?कुणाल ने घर के अन्दर दाखिल होते हुए ही आंटी के होंठों पर गहरा चुम्मा ले लिया और उसने गाना गाया- आपने बुलाया और हम चले आए…आंटी बोलीं- अभी अभी तुम्हें ही याद कर रही थी मैं!उनकी बड़ी लड़की कौमुदी आ गई और बोली- मम्मी, तुमने अड्रेस दिया लेकिन फोन नंबर क्यों नहीं लिया था. बहू रानी आगे बोली- यह आपकी चहेती हो गई है, बिगड़ गई है, पूरी की पूरी ढीठ हो गई है, हद कर दी इसने तो बेशर्मी की!तो फिर आ जा मेरी रानी… कुछ नया करते हैं अब इसके साथ!” मैंने कहा- बोलो बहूरानी… क्या ख्याल है?अब और क्या नया होना बाकी रह गया पापा जी… सब कुछ हर तरीके से तो कर चुके आप मेरे साथ.

पंजाबी एक्स बीएफ

देखा आज तुम्हारा ढक्कन पति खुद तुमको मेरे पास चोदने के लिए छोड़ कर गया या नहीं!वो बोली- ये ठीक नहीं किया यार. पता है आप नाराज हो मुझसे क्योंकि मैं देर से आई!” बहूरानी बोलीं और मेरे ऊपर से थोड़ा उठ कर मेरे लंड को अपनी चूत के छेद से सटा कर जोर दे के नीचे बैठने लगीं. मेरी गर्मी के आगे वो टिक नहीं पाया और उसने मेरी चुत अपने पानी से भर दी.

बहन ने मेरा लंड अपनी चुत में घुसा लिया और धीरे-धीरे अन्दर बाहर करने लगीं. कई भारतीय पुरुष अपनी पत्नी को शादी के बाद जब हनीमून पर ले जाते हैं तो उनकी फैंटसी रहती है कि वह अपनी पत्नी को किसी गठीले बदन के नीग्रो के साथ बिस्तर पर शेयर करें. मैंने कहा- जो देखने के लिए होता है, मैं वही देख रहा था, उसमें बुरा क्या था?तब भाभी बोलीं- अच्छा तो तुम्हारी मम्मी को बोलना पड़ेगा.

इसके बाद मैं फिर से उठा और कोल्ड ड्रिंक फिर से भाभी की नाभि में भर कर बर्फ के दो टुकड़े उठा लिए. तो दीदी ने मुझे सोफे पर बिठा कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं. मेन लाइन से लूप लाइन पर जाती ट्रेन फिर वापिस मेन लाइन पर आती हुई… पटरियों की खटर पटर सच में एक मीठा उन्माद भरा संगीत सुनाने लगी.

विक्की ने बोतल गोलू को पकड़ा दी, पर पिंकी ने अपनी टांगें खुद ही फैला दीं. दीदी मुझे अजीब नज़रों से देख रही थी, तभी मैंने दीदी को उठाया और अपने साथ सोफे पर ले गया और वहाँ बैठ कर अपने जूते और पैन्ट भी निकाल कर नंगा हो गया.

वे सुदंर थीं, हँसमुख थीं उनकी 30-32 साल की थी, पर उम्र से कम दिखती थी.

कह रहा है पेट में कुछ दर्द सा है और बुखार जैसा लग रहा है, तो मैंने भी उसे छुट्टी के लिए कह दी और कहा है कि दवाई ले लेना. बीएफ मूवी नंगी फोटोअबकी बार दीदी कुछ नहीं बोली और लंड चूसती रही, मैं बड़े प्यार से हाथ को पीठ पर घुमा रहा था. शिल्पा शेट्टी सेक्सी वीडियो बीएफउन्होंने मुझे हटाया और अपनी टाँगें फैला कर किसी भूखी कुतिया की तरह मुझे देखने लगीं. मैं बोल पड़ा कि आप मुझे चोदने दो बदले में मैं आपको पैसे भी दे दूंगा.

सिमरन- कुदरत ने ही यह मुसीबत मेरे गले बांध दी है? तेरे क्या बॉयफ्रेंड की कृपा से हैं इतने बड़े?दीपिका- मेरे केस में दोनों… एक था हरामी साला 2-2 घंटे चूसता रहता था।सिमरन- तो ब्रेकअप कर लेती।दीपिका- ब्रेकअप कर तो लेती पर ऐसी ज़ोरदार चुदाई करता था कि… बोलने के बाद उसे एहसास हुआ कि वो कुछ ज्यादा ही फ्रेंडली हो गयी है.

हमने कुछ 5 मिनट तक स्मूच किया, फिर हम अलग हो कर एक मिनट के लिए बैठ कर एक दूसरे की आँखों में देखने लगे. यह कहानी है 19-20 साल की एक लड़की मंजरी की जिसके घर में उसकी माँ माधुरी, नानी और एक भाई माणिक हैं. आप सब लोग जानते है कि मारवाड़ी भाबियां एकदम मस्त और स्लिम, बन ठन कर अपनी पारम्परिक ड्रेस में रहती हैं.

उसने एक बार फिर मेरे को गले लगाया जोरदार चूमा और फिर बोला- वाह दोस्त वाह मजा बांध दिया. उस वजह से मेरी पीठ उस नंगी जमीं से रगड़ खाकर छिल गयी मगर जिस तरीके से वो मुझे चोद रहा था इस तरह का छीलना मेरे लिए मायने नहीं रखता था. उसने मेरे कपड़े निकालने शुरू कर दिये और थोड़ी ही देर में हम दोनों नंगे हो गए.

मारी दुल्हन बीएफ

आपको बुरा तो नहीं लगा?भाभी ने भी हंस कर मुझे रेस्पॉन्स दिया और खुल कर बात करने लगीं. दीदी ने भी अपने एक हाथ को मेरे सर पर रख कर मेरे सर को बूब पर दबा लिया और दूसरे हाथ से खाली पड़े बूब को मसलने और सहलाने लगी ‘आहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउउहह!’ करते हुए सिसकारियाँ लेने लगी. मेरा बहुत मन कर रहा था कि मैं भाभी को नहाते हुए देखूं, लेकिन मन मसोस कर रह गया.

मैंने एक पल की भी देर नहीं की और अपना मूसल लंड दीदी की चूत में पेल दिया.

मैंने हथेली का एक कप सा बनाया जिस में मेरी उंगलियाँ नीचे की ओर थी और उससे प्रिया की योनि को पूरा ढाँप लिया.

उसकी ड्रेस उसकी बॉडी से थोड़ी सी फिट थी और उस फिटिंग ड्रेस में वो क़यामत लग रही थी. मैं अब कैसे बताऊं?तब वो मेरे से चिपक गईं और कहने लगीं- बताओ वरना तुम्हारी मम्मी को बता दूँगी. बीएफ ओपन हिंदी वीडियोउधर वो आईटम उसी भाव में मस्ती से गांड उठा उठा कर फसल की कटाई कर रही थी.

अब कभी भाभी अपने दोनों पैर हवा में उठा लेतीं, तो कभी पैर नीचे करके चूतड़ उठा उठा कर लंड को निगल रही थीं. मुझे लड़कों में बहुत पहले से ही इंटरेस्ट है लेकिन इस घटना से पहले मैंने किसी से भी गांड नहीं मराई थी. कुछ देर बाद मैंने उसको अपने ऊपर ले लिया और अब मैं नीचे और वो मेरे ऊपर थी.

तभी कमल ने एक नई ड्रेस मुझे गिफ्ट की और कहा- तुम पहली बार मेरे घर आई हो, इसलिए मैं तुम्हें कुछ दे रहा हूँ. कि तभी एकदम कविता मेरे पास आई और मुझे चुपके से एक लैटर मेरे हाथ में दिया और फिर हँसती हुई चली गयी.

एक दिन सैटिंग बन गई, जब उनके घर का रिनोवेशन हो रहा था, उनके घर का सामान सैट होना था, मतलब कुछ सामान ऐसा भी था जो काफी भारी था, तो उनको सैट करने के लिए उन्होंने मुझे बुलाया.

मैंने कहा- क्या आप जानती हैं कि हम क्यों मिले हैं?तो उसने कहा- जी हां. तभी वह चिल्लाई- मैं झड़ने वाली हूँ!मैं बोला- हां झड़ जा… पर मेरा बाकी है. अंजू- हाँ दीदी, हो सकता पहली बार देखा हो इसलिए… वैसे यहाँ के लड़के बहुत ख़राब हैं.

सेक्स मूवी बीएफ एचडी थोड़ी देर बाद गेट को किसी ने बजाया तो मेरे रूम पार्ट्नर ने दरवाज़ा खोला. भाभी ने अपना पेटीकोट उठाकर अपनी चुचियों पर ढक लिया और कहने लगीं- कोई बात नहीं, मैं जानती हूँ कि तूने जानबूझ कर नहीं किया है.

शाम को वापिसी में और घर आ कर भी मैं कुछ अजीब सा खालीपन महसूस कर रहा था. अब मुझे समझ पड़ता है, उसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं, दीदी तुम मेरी मदद करो मैं कभी तुम्हारा उपकार नहीं भूलूंगी. और मैं शोर्ट ब्लैक नाइटी वो भी ट्रांसपेरेंट पहन कर वाशरूम से बाहर आयी.

बीएफ हिंदीxxxx

मैं बता नहीं सकता कि मुझे कैसा लग रहा था, मैं मानो सपना देख रहा था. फिर हमने शाम को डिनर किया और मोना के साथ संभोग भी किया और दोनों सो गए. मैंने उसका मुँह चोदने की अपनी स्पीड बढ़ा दी, इधर उसकी चूत में से नमकीन पानी आने लगा.

मैंने उनसे उनके बारे में पूछना स्टार्ट किया- भाभी, आपके पास इस तरह आकर बात करने आया हूँ. मेरी भी हालत कुछ इसी तरह की थी कि जब ममता काम करके चली जाती तब सोचता चलो कल उससे बात करूँगा, पर जब आती तब हिम्मत ही नहीं होती.

उसने कामिनी के पेट के नीचे हाथ डाल कर उसे पलटा दिया और पीछे से अपना लंड मेरी बीवी की चूत में पेल दिया.

मैं उसे फिर से किस करने लगा और एक हाथ उसके मोटे मोटे मम्मों को दबाने लगा, आज उसने मुझे नहीं रोका. तभी अचानक बिना बताए भाभी के पापा उठे, अपना तौलिया उठाया और ड्राइवर सीट वाले गेट से बाहर निकल गये।मैं बोली- क्या हुआ?तो राजेंद्र अंकल बोले- पता नहीं यार, चलो मैं तो हूँ मेरी आरती डार्लिंग!और वो बूब्स को चूसने लगे. एक दिन 4-5 सीनियर ताश के पत्ते खेल रहे थे और मैं वहीं पर खड़ा था, तभी उसने मुझे अपने पास बैठने को बोला और कहा- देख.

फिर उस दिन जान बूझ कर नखरा कर रहे थे, कर रहे थे कि नहीं? बाद में तो लंड की ठोकरों से ढीली हो ही जाती है. एक दिन सुबह जब मैं बरामदे में कपड़े धो रही थी, तो मुझे महसूस हुआ कि कोई ऊपर के कमरे की बाल्कनी में है, जो संजय के कमरे की थी. वो अपनी साड़ी उतार कर नंगी खड़ी हो गई, क्या मस्त दिख रही थी मेरी जानू.

तभी कमल ने यकायक अपने लंड को मेरी चूत से निकाल लिया और मैं झट से आगे की तरफ होकर बैठ गई.

तेवर सेक्सी बीएफ: वो मेरी बीवी के कोमल और तने हुए स्तनों को दबाकर उसको और गर्म कर रहा था. मैंने भी धन्यवाद बोला और फिर हम वापस उसके अपार्टमेंट में आ गए।अब कर भी कुछ नहीं सकते थे। एक ही बिस्तर पर हम दोनों दूर दूर बैठ गए और बातें करने लगे। हम दोनों बहुत थके हुए थे.

वैसे तो चुदाई की तड़प सुबह से ही लग रही थी, पर क्या करती! कुछ देर और इन्तजार करना था।जैसे ही हम दोनों बाहर आईं तो उन तीनों की नजर हम पर गई और बहुत देर तक हमे ऐसे ही घूरते रहे फिर हमने ही उन्हें होश दिलाया क्योंकि अब हमारी चुदाई की तड़प बढ़ती जा रही थी. मैंने उसकी नाक खींचते हुए कहा- हां बाबा दूंगी बताओ तो?अवी- मुझे दो चीज चाहिए बस. अब तो मैंने पक्का सोच लिया था कि आज इस सीमा की अनचुदी बुर को चोद कर ही छोडूंगा।उस दिन वो बहुत ही सुन्दर नीले रंग का सलवार सूट पहन कर आयी थी, मैंने सोच लिया था आज तो ये पूरा सूट उतार के सीमा को नंगी ही कर दूंगा।हम लोग एक दूसरे को देख रहे थे, मैंने उसे प्यार से अपने गले लगा लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चुम्बन करने लगा.

अतः मैंने वहीं सोने का निश्चय किया और दो गद्दे और तकिया लेकर ऊपर कोठरी में चला गया.

मुझे भरोसा था कि वो जरूर आएगा, मेरे लिए नहीं तो तेरे लिए जरूर आएगा. इतने में मुझे लगा कि शायद दीदी जाग गई हैं और सोने का नाटक कर रही हैं. मैंने उससे कहा कि एक बार अपनी मम्मी को फोन करके पता तो करो कि वो कब तक आएंगी.