बंगाल सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी नंगी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी ब्लू पिक्चर चलाओ: बंगाल सेक्सी बीएफ, उन्होंने अपना पैर मेरी जाँघों पर रखा और मैंने अपनी उंगली से उनकी जाँघों को सहलाना स्टार्ट कर दिया, जिससे उनकी आग में मानो घी सा पड़ गया.

बहन भाई सेक्सी वीडियो

अब आगे…अनीता की दी हुई कसम को पूरा करने के लिए शाम को तिवारीजी विभूति जी को अपने घर ले गये, बरामदे में बैठ दोनों ने शराब का सेवन किया और तिवारी ने विभूति को पूरी तरह से नशे में टुन्न कर दिया, रात जैसे तैसे यूँ ही गुज़र गई. ब्लू पिक्चर मारवाड़ीनीतू- नहीं दीदी, सच्ची पहले पता नहीं था मगर अब तो मन को इसका स्वाद भा गया.

जब हल्का होकर आया तो सब लोग अपनी अपनी प्लेट ले चुके थे और जैसा कमीने दोस्तो में होता है, मुझे किसी ने अपनी प्लेट में खाने नहीं दिया. सेक्सी दिखाओ ना वीडियोआपको मेरी इंडियन गे सेक्स स्टोरीज कैसी लगी, अपनी प्रतिक्रियाएं मुझे इस मेल आई डी पर जरूर दें.

दोस्तो, मेरी कहानी जिसमें मैंने अपनी सगी बहन को चोदा, के छः भाग आ चुके हैं, मुझे काफी मेल आ रहे हैं, सभी ने मेरी सेक्स कहानी की तारीफ की है पर मैं आपको बता दूं कि यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है.बंगाल सेक्सी बीएफ: जब मैं कॉलेज में भर्ती हुआ, उस वक़्त मेरा लंड 9 इंच लंबा हो चुका था, और ये सब मौसी की मेहरबानी थी.

एक-दो मिनट के बाद ही उनका भी चुत रस निकल गया और चुत का सारा रस मेरे मुँह में आ गया.स्वान उसके नीचे लेटा हुआ था, और मैं उसके मुंह के नीचे!!!अगली बारी में एंड्रयू को झुक कर अपना घुटना नताशा के पीछे बने हरे रंग के खाने पर रखना पड़ा, और मुझे उसके सामने बैंगनी रंग पर.

विवाह फिल्म भोजपुरी वीडियो - बंगाल सेक्सी बीएफ

उसका सारा रस सुधीर चाट गया।अब मोना भी लंड को स्पीड से चूसने लगी और जल्दी ही सुधीर भी ढेर हो गया। इसके बाद दोनों बिस्तर पे लेटे एक-दूसरे को देख रहे थे।मोना- क्यों देवर जी.ये बात उन दिनों की है, जब मेरी मौसीजी की 25 वीं एनिवरसिरी थी और मुझे घर की डेकोरेशन में मदद के लिए बुलाया था.

वो मदहोश हो रही थी।फिर मैं 2 उंगलियां डालकर कर चोदने लगा। उसकी भी ये पहली चुदाई थी तो उसके भी आनन्द का ठिकाना नहीं था। वो अपने चूतड़ों को उछाल-उछाल कर खुद को ही चुदवा रही थी।मैं उसकी चुत का रस भी चाट रहा था। साथ ही उसकी जीभ को अपने मुँह से चूस रहा था। इसके बाद मैंने 3 उंगलियां डालकर उसकी चुत की चुदाई स्टार्ट की. बंगाल सेक्सी बीएफ मैं अंकल से थोड़ी इधर उधर की बात करके उनको कोचिंग के बारे में बताने लगा, तब उन्होंने कहा- अभी नहीं पढ़ेगी पर 4-5 दिन बाद में इसे भेज दूँगा.

चल ये पकड़ और पी जा और ये बता कि मेरा गिफ्ट क्या है?आँखों में शरारत भरी हसीं लेकर रिया ने कहा- तो इसका मतलब तेरी हां है.

बंगाल सेक्सी बीएफ?

मजा तो बड़े लण्ड से ही आता है, आपका लौड़ा तो चूत का भरता बना देता है. सारे बुरे ख्याल दिल से निकल गए और वे सो गए।दोस्तो दोपहर को इनकी शॉपिंग तो देख ली. संजय के घर के बाहर जाकर सुमन एक तरफ़ चुप गई और टीना ने नॉक किया तो संजय ने दरवाजा खोला- हाय स्वीटहार्ट आ गईं तुम.

मैं उससे छूट कर भागने लगती तो मेरा भाई मुझे पकड़ कर रोमांस करने लगता. तेज़ संसर्ग को करते हुए पाँच मिनट ही हुए थे जब माला की योनि में से रस का रिसाव होना और उसके मुंह से सिसकारियों का निकलना शुरू हो गया. मगर जाने दे यार फिर कभी देखूँगी आज तो वैसे भी सब साथ हैं।टीना- मेरी जान हाथ आया मौका वेस्ट नहीं करना चाहिए.

फिर मेरी माहवारी आ गई उसके बाद हमारी ट्रेनिंग भी खत्म हो गई और सब अपने अपने घर. लड़की को ऐसे ही खुले दिमाग़ की होना चाहिए ताकि बात करने का मज़ा आए।मोना- अच्छा जी ये बात है. उसके जिस्म की गर्मी, सीने से चिपके उसके मम्में टांगों में लिपटीं वो गुदाज़ चिकनी टाँगें उफ्फ… ईश्वर ने कैसी प्यारी रचना रची ये.

कुछ दिन हुये, हम सब दोस्त बैठे पेग शेग लगा रहे थे कि तभी एक दोस्त ने कहा- यार आज मौसम बड़ा अच्छा, दारू पीने का भी बहुत मज़ा आ रहा है, ऐसे में अगर साथ में एक रंडी चोदने को मिल जाए, तो मज़ा और भी दुगना चौगुना हो जाए. पापा ने मेरी हाँ सुन कर मुझे बांहों में भर लिया और बुरी तरह चूमने चाटने लगे.

मैं भी फिर से गर्म होने लगी थी, मैं बोली- मामा जल्दी से आप अपना लंड मेरी चूत में घुसा दीजिए.

अक्सर मौसी मेरे लंड की मालिश करती, और उसे खींच खींच कर और लंबा करती.

सबीना ने कंडोम का पैकेट खोला और कंडोम को मस्ताना के टोपे पर टिका कर मुँह से मस्ताना को कंडोम पहना दिया. दोस्तो, क्या बताऊँ आपको उसकी सुन्दरता के बारे में, इतनी सुंदर कि कोई भी देख ले तो उसका लंड उसे चोदने के लिए एक सेकंड में खड़ा जाये, उसने अपने फ़िगर को बहुत मेन्टेन कर रखा था, इसलिए उसका फिगर भी बहुत अच्छा दिख रहा था. मैं बड़े मनोयोग से उनकी मालिश कर रहा था और अपने लंड को उनके चूतड़ों से रगड़ रहा था.

उन्होंने मेरे गले पर हाथ रखकर मुझे अपनी ओर खींचा और मेरे होंठ चूसने लगीं. मैं एकदम अधमरी सी जोर जोर से चिल्ला रही थी लेकिन मेरी आवाज किसी को सुनाई नहीं दे रही थी. फिर मूवी तक सिर्फ नार्मल बात होती रही और जैसे ही मूवी ख़त्म हुई, हमने डिनर किया और उसके घर जाने लगे.

मामा खुश हो गए और अपने लंड पर ढेर सारा थूक लगा कर मेरी चूत में अपना लंड रख कर चुत को सहलाने लगे.

बस की लाइटें दोबारा बंद हो चुकी थीं और सब लोग सफर के आखिरी पड़ाव में झपकी लेने की मुद्रा में चले गए थे. वो खुद भी पीछे की तरफ चूतड़ों को हिला-हिला कर चुदाई में साथ दे रही थी।मैंने उसको गोद में उठा लिया और खड़ा होकर अपना लंड उसकी चुत में डाल दिया। वो मुझसे लिपटी हुई थी. उसका लौड़ा मेरे हलक तक पहुँचने लगा मैं तो सांस भी नहीं ले पा रही थी, मेरी आँखों से पानी बहने लगा.

कुछ ही पल बीते थे कि सरिता ने पीछे पलटकर मुझे देखा और मुझे अपनी गांड को घूरता पाया वह शरमा गई और बोली- आप पीछे क्यों रह गए? साथ आइए. भाभियाँ हर वो सुख दे सकती हैं जो एक गर्लफ्रेंड या लवर कभी भी नहीं दे सकती। इसी लिए कहते हैं कि अगर गर्लफ्रेंड चुदाई की शुरूआत है. टीना- अच्छा तू कहे तो अबकी बार तुझे बिना आँख बंद किए मज़ा दिलवा दूँ.

गुलाबी टोपे पर छेद बिल्कुल लाल दिख रहा था, मैं खुले छेद के अंदर जीभ घुसाने की कोशिश करने लगी, मामा जी सिसकारियाँ भरने लगे और बोलने लगे- छोड़ दे रिशू, नहीं तो तुम्हारे मुँह पर ही लंड का रस गिर जाएगा.

हां अदिति मेरे बारे में अपनी सास से जरूर पूछ लेती हर बार कि पापा जी कैसे हैं. उनकी जाँघें काँपने लगी और वो सिसकारते हुए बोली- ओह बेटे, क्या कर रहे हो? आआआः हह बेटे बहुत अच्छा कर रहे हो… ओह सही जा रहे हो… ऐसे ही अपनी जीभ मेरी चूत पर फिराते रहो और चूसो मेरी चूत को…फिर मैंने पनियाई हुई माँ की चूत के छेद में अपनी जीभ को नुकीला करके पेल दिया और तेज़ी के साथ अपनी जीभ को नचाने लगा.

बंगाल सेक्सी बीएफ मैं ये सब कुछ देख रहा था और उधर सुमित साला भोंसड़ी का मेरी दीदी के मजे लिये जा रहा था. दो शानदार मोटे, चिकने लंड केलों की तरह चूत और गांड के अन्दर-बाहर चलने लगे! मेरी नताशा ख़ुशी से मीठी-2 सिसकारियां भर रही थी.

बंगाल सेक्सी बीएफ मगर राहुल मुस्करा रहा था तो मैं समझ गया कि ये इनका पहले से ही प्लान था. ज़रा सा निकल गया होगा।पूजा- नहीं मामू ज़्यादा निकाला, मेरी चड्डी पूरी खराब हो गई और पेट पे भी गीला-गीला हो गया।संजय- अरे कुछ नहीं हुआ आ इधर आ मुझे दिखा।संजय ने पास से अपनी टी-शर्ट उठाई और पूजा की टी-शर्ट को ऊपर करके उसके पेट और जाँघ से अपना वीर्य साफ किया। फिर उसकी नज़र पैंटी पे गई जो आगे से गीली हो रही थी।संजय- अरे अरे ये चड्डी तो गीली हो गई.

अभी एक महीने पहले जब मैं घर गया था तो भाईसाहब ने मेरी मारी थी। पहले तो कुछ कह नहीं पाता था अब मैं भी सिकोड़ लेता हूँ.

सेक्सी वीडियो गजब

अब मैं मामा जी के लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी थी, बीच बीच में मैं मामा जी के लंड में दाँत चुभो देती थी तो मामा जी के मुँह से आहह निकल जाती थी. उन सभी लोगों का भी धन्यवाद जिन्होंने मुझे ईमेल पर कांटेक्ट करने की कोशिश की. सुमन- वो तो ठीक है दीदी मगर क्या मैं ये सब कर पाऊंगी?टीना- ये सब नहीं.

सुमन भाभी तड़प गईं और वह जोर से चीखने लगीं, मगर मेरा मुँह उनके मुँह पर ढक्कन की तरह लगे होने से उनकी आवाज मेरे मुँह में घुट गई. अब उनको देखने का मेरा नजरिया बदल गया था और अब मैं किसी तरह भाभी को चोदना चाहता था. तभी उसने मेरे बाल खींचकर मुझे खड़ा किया। बाल खींचे जाने से मेरे मुँह से एक घुटी सी चीख निकल गई.

मैंने जाकर देखा तो ऋतु बाथरूम में गिरी हुई थी उसके पैर में मोच आई हुई थी.

तब मैंने उसके पैन्ट में बना तंबू देखा तो मैं और जोश में आ गई और धीरे-धीरे अपनी कमर को हिलाने लगी. उसने सिगरेट को ऐश ट्रे में रखा और अपने दोनों हाथ मेरे नंगे चूतड़ों पर रखकर मुझे घुमा कर इधर-उधर देखने लगा. वैसे भी गुलशन उसे बहुत प्यार करते थे, उसकी हर छोटी बड़ी ख़ुशी का ध्यान रखते थे, जो अनिता को बहुत पसंद था.

अब वह मेरे लंड पर झूल रही थी और मैं उसे दीवार से सटा कर चोद रहा था. जब से रीना की शादी हुई थी, उसके जीवन में सूनापन था, पर वो रीना को डिस्टर्ब नहीं करना चाहती थी. अब धीरे धीरे आनन्द मिलना शुरू होगा तुम्हें!कुछ मिनट तक मैं ऐसे ही उसके ऊपर लेटा रहा, फिर मैंने उसे पूछा- अब भी दर्द है क्या?तो वो बोली- अब तो दर्द काफी कम है!मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किये, पांच मिनट की हल्की चुदाई के बाद मैंने अपनी गति बढ़ानी शुरू की तो अब उसे भी मजा आने लगा, वो भी नीचे से सहयोग करने लगी.

गोपाल- मोना, तुम बहुत अच्छी हो मगर में चाहता हूँ कि तुम सच में किसी के साथ करो ताकि तुम्हारी संतुष्टि हो जाए. रमेश का लंड जैसे अब तो और भी अंदर तक आ रहा था और जब वो अपना लंड पूरा अंदर डाल के अपने शरीर का वजन उस पे देता तो सरिता को बड़ा ही मजा आता था.

संजय ने सोचा चलो इसकी इच्छा पूरी कर ही देता हूँ। बस वो दोनों काफ़ी देर तक ये कुत्ते वाला गेम खेलते रहे। फिर संजय ने पूजा को बेड पे घोड़ी बनाया और लंड उसकी चुत में पेल दिया।पूजा- आह आ मामू. ऐसे जवान मर्द बड़ी मुश्किल से मिलते हैं और वह तो किसी गांव का ठाकुर लग रहा था… उन्हें तो लड़कियाँ ही आसानी से मिल जाती हैं, फिर लड़कों की क्या जरूरत… और वह लड़के से सेक्स करना गांडूपन भी मानते है इसलिए मुझे जो मौका मिला था उसे मैं सौभाग्य मान रहा था और उसे भी पूरा मजा देना चाहता था. दर्द के मारे मैं चिल्ला रही थी मगर उसने मुझे बिल्कुल नहीं बख्शा।कुछ देर बाद उसने मेरी एक टांग उठाई और अपने कमर पे लिपटा ली और थोड़ा झुक कर उसने फिर से अपना लंड खड़े खड़े ही मेरी चुत में डाल दिया। मैंने अपने हाथ उसके गले में डाल दिए और दूसरी टांग भी उसके कमर पर लपेट दी.

वो कुछ नहीं बोली और मैं उसे गले पर चूमने लगा और उसके मम्मों को दबाने लगा.

स्वाति की शादी भी 20 साल की उम्र में हो गई थी और वो पटना के एक बैंक में काम करती है. गुलशन- फ्लॉरा डियर, मैं जान गया कि सेक्स की तलब हम दोनों को बराबर लगी है अगर तुम्हें ऐतराज न हो तो मैं अपना अजगर तुम्हारे बिल में घुसा सकता हूँ, इससे हम दोनों की प्यास मिट जाएगी. उसने धीरे से अपनी जीभ निकाल कर सुपारे पर घुमाई और गुलशन जी फ़ौरन हरकत में आ गए.

मैंने इसी बीच कमर को जोर से दबा कर उनके ऊपर चढ़ गया, मेरा लंड जड़ तक फिसलते हुए घुस गया. हम उसके पास गयी और पूछा- हाय, आय ऍम निकिता एन्ड शी इज रिया, तो क्या कह थे तुम?उसने बड़ी गर्मजोशी से हमसे हाथ मिलाया और कहा- राजीव! मैं आप दोनों का एक रात का रेट जानना चाहता था.

मगर राहुल रुका नहीं और लंड बाहर खींच कर उसने दोबारा एक जोर का झटका मारा तो पूरा लंड अंदर तक घुसा दिया. मोना ने गोपाल को यकीन दिलाया कि वो उससे गुस्सा नहीं है, उसको जो करना है. एक सांस में दारू का गिलास खत्म किया और उसे कहा- हम लोग गलत जगह आयी हैं.

लड़की से बात करने वाला नंबर

हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और चुपचाप हम दोनों ही वहाँ से चले गए और फिर कभी उस जवान जमींदार से मुलाकात नहीं हुई.

तब मेरा बेटा मेरे लोवर के छेद के अन्दर मेरी गुलाबी चुत को देखे जा रहा था. बस इसे ही देखते-देखते मजा ले रहा था।तभी वहां सामने से एक औरत गुजर रही थी. फिर सुमन ने भी आगे कुछ नहीं कहा, बस वैसे ही खड़ी अपने मम्मों को दबवाती रही.

अबकी बार दीदी ने मेरे ओवर पर पानी डाला तो मैंने उन पर पूरी बाल्टी ही डाल दी. वो रोने लगी, अपने होंठ मुझसे छुड़वा कर बोली- प्लीज विक्रम, मुझे छोड़ मुझे नहीं करना यह सब…मैं मर जाऊँगी. औरत की चुदाई कीमज़ा लेने में तेरा क्या जाता है?सुमन- मगर जोश में उन्होंने आँख खोल दीं या फिर मेरी चुत में लंड घुसा दिया तो?टीना- मैं किस लिए हूँ ऐसा कुछ नहीं होगा.

लगभग दस मिनट तक धीरे धीरे धक्के मारने के बाद जब मैंने तेज़ धक्के लगाने शुरू किये तब माला भी अपने कूल्हे ऊपर उठा कर मेरा साथ देने लगी. गुलशन जी आगे कुछ बोल पाते तभी बीच में हेमा ने उन्हें टोक दिया- आपको कुछ और नहीं सूझता क्या.

मैंने रूबी की पानी छोड़ चुकी चूत में पूरा लंड एक ही बार में घुसेड़ दिया. मैंने उसका न्योता स्वीकार किया और अपने दोनों हाथों से उसके नितम्बों को पकड़ कर उसे नीचे खींच कर उसकी योनि पर अपना मुंह गाड़ दिया. मैं तो यही चाहता था कि चाची सो जाएं और हुआ भी वही, जैसा मैं सोच रहा था.

कोई ऐसी सजावट इत्यादि नहीं दिखी जो वहाँ रहने वालों की रसिकता का परिचय देती. कितनी प्यारी योनि है तुम्हारी किसी कुंवारी बालिका की तरह मासूम सी!’‘आपके लिये ही चिकनी की है अंकल जी. भूख लगने लगी है।टीना की चालाकी संजय समझ गया कि फ्लॉरा सबके सामने बोलने से हिचकिचा रही है, उसने मौके की नजाकत को समझा और सबको किसी ना किसी काम में लगा दिया ताकि टीना और फ्लॉरा को अकेले बात करने का मौका मिल जाए।जब सब इधर-उधर हो गए तो फ्लॉरा ने टीना को ‘सॉरी.

ऋतु गपागप लंड चूस रही थी, मैं समझ गया कि अगर ज्यादा देर इसने चूसा तो मेरा माल झड़ जाएगा जो मैं नहीं चाहता था.

जब चाचा चाची को छोड़ने गए, उस दिन दीदी और मैं बिल्कुल अकेले थे, उस दिन मैं कॉलेज से आया तो दीदी बाजार जाने के लिए तैयार होकर बैठी थीं. उं कामुक और हसीं यादों को अपने दिल में समाए हम वापिस हिन्दुस्तान आ गयी.

आप बताइए, आप केसन बा?’ लटके लेते हुए मुस्कराहट के साथ अंगूरी भाबी ने पूछा. तो मैं अपने लिए प्लेट लेने चला गया, मैं प्लेट ले रहा था तो वहाँ दुल्हन की बहन भी प्लेट लेने आई तो मैंने उन्हें प्लेट उठा के दी और उस हादसे के लिए माफी माँगी तो उन्होंने भी इट्स ओके कहा और कहा- अगली बार ध्यान से, आज तुम्हारे मस्ती में मुझे चोट लग सकती थी. और तू अपनी कामवाली को तो जानती ही है कितनी मक्कार है काम करने में, उसके सिर पर खड़े होकर काम करवाओ तभी करती है; अगर मैं तेरे पास आ गई तो समझ लो घर का क्या हाल करेगी वो और सबसे बड़ी बात तू तो जानती हीहै मेरे घुटने का दर्द; स्टेशन की भीड़ भाड़ में पुल चढ़ना उतरना मेरे बस का अब नहीं रह गया.

तो मैंने कहा- फिर मैं दूध कैसे पीऊंगा?बोली- सिर्फ़ ऊंचा करके कर लो. करीब 5 मिनट ऊपर नीचे-होने के बाद मेरा लंड गीली चुत की वजह से स्लिप करके बाहर निकल गया।मैं- भाभी आप लेट जाओ. थोड़ी देर में मैं कमरे के अन्दर आई और आइने के सामने खड़ी हो गई और अपने मम्मों को देखा.

बंगाल सेक्सी बीएफ भाभी के मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं और वो बोलने लगीं- अब मत तड़पा रे. उसने पीछे से पकड़ कर मुझे उठा लिया और बगल में रखी टेबल पर बिठा कर मेरी नाईट ड्रेस का पजामा निकाल दिया.

छोटे बच्चे का डांस

मित्रो, आप मुझे मेरी भाई बहन का सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें. उसी रात मैं होले से ऋतु के कमरे मैं घुस गया और उसकी रजाई में जाकर लेट गया. जब तक पूरा माल नहीं झाड़ा मैंने उसका चेहरा नहीं छोड़ा, और जब उसका चेहरा छोड़ा तो मैंने देखा, उसका मुँह लाल हो रखा था, आँखों से आँसू टपक रहे थे.

उसने अपना लंड ठीक किया पैन्ट के ऊपर से ही और मेघा की चूत जो पेंटी पहने होने के कारण छुपी हुई थी, नहीं तो शर्ट तो ऊपर हो गई थी. गोवा के तो क्या कहने… शायद ऊपर वाले ने गोवा को बनाते हुए शराब और सेक्स के रस में घोलकर इस जगह को बनाया होगा. चुदाई चुदाई सेक्स वीडियोइस कल्पना में चुदाई के दृश्य इतने कामुक तरह से चित्रित किए गए हैं कि आपका मन चुदाई के लिए एकदम से भड़क उठेगा.

पर ज्यादा ना कुछ नहीं हुआ फिर दूसरे दिन सुबह उसको कॉलेज जाना था, तो वो सुबह चली गई, और हम लोगों को भी वापस घर आना था, हमारी ट्रेन थी दोपहर की, हम लोग भी उसी दिन अंकल के यहाँ से वापस आ गए.

सुमन ये बिल्कुल नहीं चाहती थी कि अपने पापा के सामने वो चुत को रगड़े या कुछ ऐसी हरकत करे, जिससे उसके पापा उसे गंदी लड़की समझें. लेकिन रात को कभी मैं उनके कमरे में तो कभी वो मेरे कमरे में आ जाती थीं.

अन्तर्वासना चुदाई स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे दोस्तो, मेरा नाम अरुण है और मैं 21 साल का हूँ. एक बारगी तो वह सकपकाया मगर जल्दी ही उसके हाथ मेरे मम्मों पे चले गए. सासू माँ की नशीली आँखें अपने जमाई के चेहरे को बड़ी कामुकता भरी प्यास से निहार रही थीं, उनका ध्यान चूत से सटे जमाई के लंड पर लगा था.

उन्होंने मेरी तरफ देखा और बोली- सॉरी राज, मैं बहुत थक गई थी, इसलिए नींद में पता ही नहीं चला, आपको बुरा लगा होगा.

क्या तुम्हें मेरी चुत की गर्मी महसूस नहीं हो रही?फ्लॉरा के खुले शब्दों को सुनकर अतुल एकदम से घबरा गया और उसकी बातों से उसका लंड और अकड़ने लगा. सुई जिस रंग पर जाकर रूकती है, उस खिलाड़ी को एक विशेष चटाई, जिस पर एक विशेष क्रम में अलग-2 रंग के खाने बने होते हैं, सुई के रुकने वाले रंग के खाने पर पहले अपने पैर, फिर हाथ, घुटने, कोहनी और अंततः सिर, या शरीर का कोई दूसरा अंग टिकाना होता है! खेल में जो सुई की शर्त को पूरा नहीं कर पाता, उसकी हार हो जाती है. सुमन- हाँ दीदी, सच में मॉंटी और संजय के साथ करने में बहुत फ़र्क है.

ઇન્ડિયન બ્લુ ફિલ્મअचानक मम्मी ने मुँह खोल कर जीजाजी का हथौड़ा अपने होंठों से दबा लिया और जंगली बिल्ली की तरह चूसने लगी. वाह क्या जबरदस्त चूचियां थीं… एकदम मस्त… लाल और गोल… अभी तक किसी ने उसकी चूचियों पर हाथ तक नहीं लगाया था.

सेक्सी वीडियो आदिवासी

मामा अपने लंड को पकड़ कर नीचे लेट गए और बोले- मेरे लंड पर चूत रख कर बैठ जाओ. मोना- मगर आज तो गोपाल के दादा जी की मौत हो गई है, अब कुछ दिनों के लिए गाँव जाना पड़ेगा. क्योंकि उस कमरे में हम पहली बार मिले थे … तो भाभी के पहुंचते ही मैंने अपना पैंट खोल दिया और लंड बाहर निकाल दिया.

मम्मी परेशान… अंत में उन्होंने अपनी पूरी साड़ी खोली और धीरे से खिड़की के अंदर फेंक दिया. दोनों चुपचाप थे मगर ये चुप्पी ज़्यादा देर नहीं रही क्योंकि टीना ने सुमन को जो टिप्स दी थी, उसमें इससे बहुत ज्यदा था. यह सुनकर वो लड़का कामुक सिसकारियाँ लेता हुआ मेरे निप्पल को मसलने लगा, कभी मेरे होठों को अपनी पैंट में खड़े लंड पर फिरा देता और कभी लंड मेरे हाथ से रगड़वाने लगता.

उन दोनों को भी चूत चूसवाने में बड़ा मजा आ रहा था, दोनों अब साथ में बैठी थी तो एक दूसरे को भी किस कर रही थी. उसकी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ मैंने उसके दोनों चूतड़ों को पकड़ा और स्पीड से चोदने लगा. हां जब वो बिस्तर में मेरे साथ पूरी मादरजात नंगी मेरे आगोश में होती तो उसका व्यवहार किसी मदमस्त प्यासी, चुदासी कामिनी की तरह होता था.

तुझे कैसे पता? और ये मर्द जात वाली क्या बात है मेरे लंड को उसी ने खड़ा किया था।टीना- यार इससे भी एक साल छोटी थी मेरी फ्रेंड. वो बोलीं- क्या तुम अपना लंड डाल अन्दर सकते हो?मैंने कहा- अगर आप कहो तो जरूर डाल दूँगा.

फिर धीरे-धीरे उसको भी सेक्स चढ़ने लगा, उसने मेरे लंड को हाथ में लिया और खेलने लगी.

उन्होंने अपने हाथों से मेरे सिर को धकेलते हुए हटा दिया और मुझे लगभग बिस्तर पर पटकते हुए मेरे ऊपर चढ़ गईं फिर मेरे पाजामा के नाड़े को तेज़ी के साथ खोल दिया और खींचते हुए बाहर निकाल दिया. क्सक्सक्स १५अब तक जो लड़के चुपचाप लड़कियों का लाइव शो देख रहे थे, अब ये सब उनके बर्दाश्त के बाहर हो चुका था और अपने तने हुए लंड लेकर उन्होंने जो लड़की मिली उसे दबोच लिया।इस तरह से एक बार फिर से चोदा-चोदी दौर शुरू हुआ. वीडियोbef saxमैंने संजना को फोन करके अकेले में मिलने को कहा और बताया कि बड़ी मुश्किल से कमरा मिला है, नहीं तो ये मौका भी हाथ से जा सकता है. मेरे और उसके जिस्म की डील डौल में बहत फर्क था, मेरे सामने तो वो आधी ही थी, मगर फिर भी मेरे जिस्म के वज़न को बर्दाश्त कर रही थी.

फेरों का समय आया जिसमें ज़्यादा वक़्त तो लग ही जाता है, मेरे कुछ दोस्त खाना खाने चले गये और मैं पुजारी को किसी सामान की ज़रूरत ना पड़े इसलिए वहीं रुक गया, दोनो फॅमिली के मेंबर भी फेरे वाले मंडप को घेरे हुए बैठे थे तो मैं भी सबके पीछे कुर्सी लेकर बैठ गया, पंडित को जब भी किसी चीज़ की ज़रूरत पड़ती, मैं उसे लाकर दे देता.

मैं कुर्सी पर बैठ कर फिल्म देखने लगा और चाची आकर बिस्तर पर लेट कर फिल्म देखने लगीं. रीना फ्रिज का डोर खोल कर बोली- चिल्ड बियर लेगी या जूस?कविता बोली- इस समय जूस. मुझे महसूस हो रहा था कि ऋतु मेरी कामुकता के जाल में फंस गयी है, आज इसका भोग लगेगा.

मैंने भी कुछ कहना ठीक नहीं समझा और उसकी बुर पर अपनी उंगली घुमाता रहा. अब उसकी स्पीड थोड़ी कम हुई, उसने पूरा लौड़ा बाहर खींच के झट से अंदर डालना शुरू किया।जैसे तैसे मैंने कहा- पीटर, चलो बेड पे चलते हैं. अपनी पत्नी की पहली रात ही मैंने चीखें निकलवा दी, क्योंकि मेरे पास 12 साल का चुदाई का तजुरबा था और मुझे पता था औरत कहाँ से और कैसे गरम होती और कैसे तड़पती है.

डॉग और गर्ल का सेक्स वीडियो

सच बता उसके पजामे में क्या फील किया?सुमन- अब आपसे कुछ छिपा तो है नहीं दीदी… शुरू में तो अजीब लगा मगर बाद में उसका लंड पकड़ने में अच्छा लगा।टीना- गुड… ये हुई ना बात तो यार पजामा खिसका कर आराम से दबा देती… थोड़ा चूस भी लेती तो ज़्यादा मज़ा आता।सुमन- क्या दीदी आप भी ना. कभी जय मेरी गांड में लंड पेल देता तो फिर राहुल मेरे मुँह में लंड डाल कर रखता. क्रीम वहां पहले से रखी थी।मैंने एक टॉवेल ली और भाई साहब से कहा- मैं जल्दी से नहा कर आता हूँ। भाई साहब- ऐसी सर्दी में.

इधर सुमन अपने पापा को गरम करने के लिए हर मौके का इस्तेमाल करने की सोच चुकी थी.

उसकी फुद्दी पर बाल बहुत थे, सारे बाल उसकी फुद्दी के पानी से गीले हो गये थे.

क्यों मेरी जिंदगी बर्बाद की आपने?गुलशन- वो नाटक तेरी माँ को दिखाने के लिए था ताकि उसको शक ना हो मगर मैं करता भी क्या? तुम्हारी माँ शुरू से ऐसी ही थी. टीना- सब तो ठीक है मगर तू अब तक तेरे पापा को रिझाने में कामयाब नहीं हुई. सेक्स का सेक्सवैसे तो अब तक मिली सारी महिलाओं में भाभी जी ही सबसे ज्यादा खूबसूरत और कामुक थीं, पर व्यवहार में रूखापन होने की वजह से मुझे वो खास पसंद नहीं आ रही थीं.

मैंने रूबी की पानी छोड़ चुकी चूत में पूरा लंड एक ही बार में घुसेड़ दिया. मैं समझ गई कि मैं झड़ सी गई हूँ, मेरी चूत की गर्म पानी निकल चुका है. एक साल के बाद उसे मैं दोस्तों के साथ ग्रुप में घूमने चलने के लिए मना पाया.

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे मुझे लगा कि चाची चुदवाने को राजी है पर जब मैंने लंड बाहर निकला तो चाची मुझे धमकाने लगी. वह प्यार से दोनों हाथों से रमेश को पकड़े हुए थी, वह ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह इह्ह ओह्ह ह्ह ओहह्ह चाचू आह्ह ह्ह्ह इह्ह… और ज़ोर ज़ोर से दबाओ’ बोल रही थी.

इसी दौरान मेरी मुलाकात उस हसीना से हुई, जिसे देखने के बाद मेरा मुँह खुला का खुला रह गया.

सुमन- पापा हम एक खेल खेलते हैं जिसमें एक पुतला बन जाएगा और दूसरा उसके जिस्म से छेड़खानी करेगा, लेकिन उसको हिलना नहीं है. आआ स्स्स्स स्स्स्स… समीर आआआअ धीरे… काटो मत आआआ स्सस्सस्स… इतनी जल्दी क्यों मचा रहे हो, यार मनोज कभी भी आ सकता है… आआआअ आआअ चूत पे लगाओ लंड… आआआअ धीरे चोदो… उम्म्मम्म आआआ स्सस्सस्स आआआअ!”आआआ आआआ स्स्स्सस्स्स्स चूसो मेरा लंड!”आआह टेस्टी है… मैं सारा पानी पी जाऊँगी. मेरी ये सेक्स स्टोरी एकदम सच्ची है, जो आप लोगों को एकदम अपने करीब लगेगी.

सेक्सिक्स पापा जी, तो फिर पिंकी के मुंडन का निमंत्रण दे दें पूरे मोहल्ले में. मैंने मानो उसके दिल की बात कह दी हो, वह जल्दी से बिस्तर पर बैठी और बोली- आ जा तो कर ले किस.

इतनी सी बात के लिए मरना चाहती है?मोना- तुझे ये इतनी सी बात लगती है? मेरी लाइफ बर्बाद हो रही है. सही ना?मैंने उसके होंठ चूमे और कहा- तू कहे और निकी ना करे… ऐसे कैसे हो सकता है मेरी बन्नो! चलेंगी हम दोनों थाईलैंड चलेंगी। अब तू जल्दी से ये बता कि मेरे गिफ्ट क्या हैं?इतना सुनते ही रिया मुझसे लिपट गयी और जोश में उसने मेरे चहरे पे चुम्मियों की झड़ी लगा दी, फिर मुझे गले लगाकर उसने कहा- मुझे मालूम था कि तू मना नहीं करेगी इसलिए मैंने आज सुबह ही लीला की बुकिंग कर दी थी. फिर वो वॉशरूम गई और हाथ-मुँह धोकर फ्रेश हो गई और कमरे में आकर उसने एक पतली सी नाइटी पहन ली और बाहर आ गई.

हिंदी सेक्स वीडियो मारवाड़ी

ऋतु- वैसे एक बात बताऊँ… मुझे काफी उत्तेजना हो रही थी कि कल तुम मुझे छेद से वो सब करते हुए देख रहे हो… काफी मजा आ रहा था. अब प्रेम सविता भाभी से कहने लगा कि आप मुझे अपने स्तनों का आकार ठीक से दिखाओ तो मैं आपको कुछ बता सकूँ. उसके वो शब्द कि ‘अभी तो तू मेरा लंड बड़े मजे से चूस रहा था और अब कह रहा है कि तू रवि के अलावा किसी के बारे में सोचता भी नहीं…’मैं सोचने पर मजबूर था कि क्या मैं रवि से सच में प्यार करता हूँ या यह सिर्फ उसके मजबूत सेक्सी जिस्म और उसके लंड की तरफ मेरा आकर्षण ही है.

तू तो यह बता कि मेरे गिफ्ट क्या हैं?रिया ने मुझे ठेंगा दिखाया और कहा- मैडम को थाईलैंड जाने की इच्छा तो है मगर फालतू जिद पे अड़ी है। मेरी जान, एक बार वहां के बीच पे नंगा बदन लेकर घूमेगी तो पूरे पैसे वसूल! यहाँ दिल्ली में नंगी घूमेगी तो कुत्ते भी नोच खाएंगे तुझे। रहा सवाल गिफ्ट का, तो वो जब तू हां कहेगी तभी मिलेगा।मैंने मुँह फेर लिया और चुपचाप वाइन के घूंट लेती रही. दोस्तो, मैं आपका दोस्त राज एक बार फिर हाजिर हूँ एक सत्य घटना को लेकर!मैं उत्तराखंड देहरादून का रहने वाला हूँ! यहाँ से पढ़ाई पूरी कर मैं जाब के लिए दिल्ली चला गया.

वहां देखा तो जमींन पर एक कमरे के फर्श पर एक गद्दा बिछा था, जिस पर शायद दिन में मकान मालिक आराम करता था.

उसके चूचे मेरे हाथों में समा नहीं पा रहे थे और मैं महसूस कर रहा था कि अब तक उसके निप्पल तन कर खड़े हो चुके थे. सोनू अपनी कमर उठाने लगी और मिन्नतें करने लगी- प्लीज चोद दो, वरना आज मैं मर जाऊँगी. मैंने होटल पहुंच कर क्लाइंट को फ़ोन किया और उसे बता दिया- सर, मैं होटल आ गयी हूँ और रूम में आ रही हूँ.

सुनो जी, आपके लाड़ले को कंपनी वाले दस दिन की ट्रेनिंग पर बंगलौर भेज रहे हैं. मैंने सुमन भाभी को किस किया और उनके एक चूचे को मुँह में भर कर चूसने लगा. उसको इंडिया से बहुत लगाव था इसलिए वो अपने पापा से ज़िद करके इंडिया पढ़ने आ गया था.

मैं उसको सांत्वना देते हुए बोला- किसी भी हाल में अपनी दोस्ती यूँ ही बनी रहेगी जैसी है, पर शायद मैं ही कुछ ज्यादा उम्मीद लगा बैठा.

बंगाल सेक्सी बीएफ: लेकिन मैंने शादी के बाद एकदम साफ़-सुथरी जिन्दगी बिताने की सोची, मैं अपने पति अशोक को धोखा नहीं देना चाहती थी. ऋतु- अरे इसमें ज्यादा वक्त नहीं लगेगा… अपना लंड निकालो… जल्दी!मैंने जल्दी से अपनी पैंट नीचे उतारी और ऋतु झट से मेरे सामने घुटनों के बल बैठ गई.

वो शुरू हो गई और मोना के निपल्स जो सेक्स की आग में जलकर तन गए थे, उन्हें किसी छोटे बच्चे की तरह चूसने लगी. फ्लॉरा की बात सुनते ही गुलशन जी ने झट से लौड़ा चुत से निकाल लिया और फ्लॉरा भी बिजली की तेज़ी से पलटी और लंड को मुँह में भर लिया. चाची एकदम से उठ कर बैठ गईं और एक हाथ मेरे मुँह पे लगा लिया और दूसरे से मेरा लौड़ा पकड़ लिया.

मैंने धीरे धीरे ऊपर नीचे करते हुए उनके लिंग का अपनी योनि में मर्दन किया.

भाभी गांड मटकाते हुए किचन में गईं और अचानक मुझे उनके गिरने की आवाज़ आई. दोपहर को स्मृति मेरे पास आई और मेरे कूल्हे पर पैर मार कर बोली- कब तक सोयेगा? चल उठ, नहा कर कुछ खा पी ले. कुछ 10 सेकंड के लिए हम एक दूसरे को घूरते रहे और फिर एक टेढ़ी सी मुस्कान लिए समझ गए.