फिल्म बीएफ चोदा चोदी

छवि स्रोत,बीपीएक्स बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बाजू के डिजाइन दिखाओ: फिल्म बीएफ चोदा चोदी, मैंने उसकी चूत में फिर से उंगली डालने की कोशिश की तो उसने मुझे रोक दिया.

बीएफ फिल्म दिखाओ चुदाई

अगले राउंड में हमने पोज़ बदल दिया और मैंने सारा को घोड़ी बना दिया और लंड उसकी चूत में डाल दिया. लड़की की बीएफ चुदाई वालीसोनू पहले तो झिझकी लेकिन फिर उसने सुपारे को अपने हाथ में लेकर दबाया.

मेरी माँ चारपाई पर बिल्कुल नंगी लेटी हुई थी और मेरे पिताजी माँ की चूत में उंगली कर रहे थे. बीएफ सेक्स पिक्चर बीएफ सेक्सी पिक्चरउनकी ये सब कहने में फटी ही नहीं, क्योंकि बताना होता तो पहले ही बता देतीं.

आपको तो पता ही है, जब किसी की कोई नयी नयी गर्लफ्रेंड बनती है, तो जोश अलग ही रहता है.फिल्म बीएफ चोदा चोदी: जब मैं कहूँ ‘आया …’ अपना मुँह खोल देना!” उन्होंने सिसकते हुए कहा।मुझे मम्मी और सुन्दर वाला सीन याद आ गया- मुझे पीना है क्या सर?अरे वाह … मेरी जान … तू तो बड़ी समझदार है। आया … हां … जल्दी-जल्दी कर” उनकी साँसें उखड़ी हुई थीं.

थोड़ी देर के बाद सारा का हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर आ गया और वो मुझसे लिपट भी गई.भाभी तुरन्त मेरे नीचे आईं और मैंने भाभी की चूत में अपना लंड लगा कर उनके होंठों में अपने होंठ रख कर धक्के मारने लगा.

सेक्स बीएफ सेक्सी ब्लू फिल्म - फिल्म बीएफ चोदा चोदी

ये सब जानने के लिए नए पाठक मेरी पहले प्रकाशित कहानी ‘वो बरसात की हसीन शाम.मैंने उनकी टांगों को पकड़ के बेड के कोने पर खींचा और मिसेज पाटिल के हिप्स को हवा में करके उनकी एक टांग को अपने कंधे पर रखा.

मैंने उसकी चड्डी को अपने मुंह के पास ले जाकर सूंघा तो उससे उसकी चूत के पानी की खुशबू आ रही थी. फिल्म बीएफ चोदा चोदी धीरे धीरे जब हमारी व्हाट्सप्प से बात शुरू हुई तो वो खुद मुझसे अपनी तारीफ़ कराने लगी.

मैंने कहा- तो आप ही बता दो कि क्या बात है?भाभी बोली- आप मुझे पसंद करते हो न?मैं भाभी की इस पहल पर थोड़ा घबरा सा गया मगर फिर सोचा कि इससे अच्छा मौका फिर दोबारा नहीं मिलेगा अपने दिल की बात कहने का.

फिल्म बीएफ चोदा चोदी?

ननकू और मीना की एक बेटी 18 साल की हो चुकी थी और उसकी शादी करने के जुगाड़ में थी. पर मैं आज उसको बहुत खुश करना चाहता था ताकि वो मेरी परमानेंट ग्राहक बन जाए. इतनी ही देर में विमला दूध लेकर फिर से कमरे में आ गई और मुझे हल्के से डांटने लगी.

एक के साथ तीनों या तीनों के साथ एक!सुन के तो सबको मज़ा आ रहा था पर सबकी हालत ख़राब थी क्योंकि सब के लिए यह पहली बार था. उसके जाने के बाद उस कमरे को बंद कर दिया गया क्योंकि उसमें उसका सामान रखा हुआ था. अगर आप दर्द बर्दाश्त करने के लिए तैयार हैं, तो हम शुरू करें?कल्पना- ह्म्म्म.

मैं किस करते हुए उसके होंठों को चूसने लगा, उसके गालों को काटने लगा. उससे चला नहीं जा रहा था, तो मैं उसे अपनी गोद में उठाकर बाथरूम ले गया. बस इतना सुनते ही मैंने उसके घर की बस पकड़ी और कुछ ही देर में उसके घर पहुँच गया.

मैं बोलती जा रही थी- यह क्या कर रही हो आरती?मगर वो सुनकर भी अनसुना करती जा रही थी और मम्मों के चूचुकों को अपने दांतों में भी दबा दबा कर काट रही थी और मेरी चीखें निकल रही थी. वो बोली- अच्छा तो कब आऊं अंकल?मैंने उससे कहा- जब तेरे मम्मी पापा काम पर चले जाएं, तब आना.

मैंने और कुछ जानने की कोशिश नहीं की मगर एक बात अब भी समझ नहीं आ रही थी जो मैंने उससे पूछ ली.

उधर मेरा लंड भी झड़ने को आया था, मैंने उसे बताया लेकिन वो नहीं रुकी.

मैं प्रधान जी एक स्कूल में शिक्षक हूँ, मेरे सहकर्मी शिक्षक शंकर कुमार झा जो विधुर हैं. मैंने भी उसे चाट चाट कर साफ कर दिया।अम्मी ने खाने के लिए आवाज़ दी तो मैं बैडमैन को लेकर बाहर चली गयी. मैं उठ कर बैठ गयी, तो उसने मुझे थोड़ा रुकने को कहा और भाग कर अपनी पैंट की जेब से अपना रूमाल निकाल लाया.

बात ये थी कि माला उसको घास तक नहीं डालती थी क्योंकि माला को तो पहले से ही दो दो लंड मिल रहे थे. अब मैं उसके लंड के थपेड़े खा रही थी, हर एक धक्का पहले से जोरदार लग रहा था. फिर ऐसे ही फोन करने का बहाना बनाने लगी ताकि वो समझे कि मैं किसी से फोन कर रही हूँ.

मैंने जल्दी से अपनी सलवार को बांध लिया और आराम से मुंह खोलकर लेट गई.

उसके बाद मैं धीरे-धीरे उसके चूचों को चूसने लगा और फिर उसके पेट पर किस करते हुए नीचे की तरफ आने लगा. अन्दर दादाजी सोनल के पास बैठे थे और अपने हाथों से सोनल का गाउन ऊपर उठाया हुआ था. मैं भी गांड उछाल कर उसका साथ देने लगी, उसे कसके पकड़ लिया, उसकी पीठ और उसके कूल्हों पे अपने नाख़ून से खरोंचती हुई चुदती रही.

उस बरसात की शाम में मैं और मेरे दो दोस्तों ने पायल को मना कर, बहला फुसला कर उसको खूब चोदा था और उसकी हालत खराब कर दी थी. मेरी उंगली उसकी जींस में से ही उसकी चूत में जाने का रास्ता खोजती हुई धंसने लगी. मैं क्लास खत्म होते ही जल्दी चला जाता था क्योंकि शाम की रेस का समय नहीं बचता था.

बस इतना सुनते ही मैंने उसके घर की बस पकड़ी और कुछ ही देर में उसके घर पहुँच गया.

मैंने कहा- भाभी जी! आप जब चाहें इस कमरे में आ सकती हैं, छत के ऊपर बैठ सकती हैं, इसे आप अपना ही कमरा समझो. कुछ ही देर में उन्होंने हेमा भाभी के बारे में बातें शुरू कर दी और उनकी बातों से मुझे पता लगा कि लता भाभी उनके सजने-संवरने और अदाओं से चिढ़ती थी.

फिल्म बीएफ चोदा चोदी तो मैं भी समझ गया गया कि लोहा गर्म है, तो मैंने पूरी ताकत से लौड़े को बुर में पेल दिया. मैंने सोचा कि इतनी सुंदर और सभी को आकर्षित करने वाली महिला के साथ आखिर क्या वजह हो सकती है कि रिश्ते अच्छे नहीं हैं.

फिल्म बीएफ चोदा चोदी जब वह झुक कर मुझे जूस का गिलास देने लगी तो उसके टॉप के अंदर लटक रहे उसके चूचे मुझे साफ-साफ दिखाई दे गए. मैंने उसकी चड्डी को अपने मुंह के पास ले जाकर सूंघा तो उससे उसकी चूत के पानी की खुशबू आ रही थी.

मुझे लंड लिए एक महीना हो गया था, तो मुझे थोड़ा दर्द सा हुआ जिसकी वजह से चुत ने लंड को कस लिया.

यूट्यूब सेक्स

वो मेरी बात से सहमत हो गई और हम दोनों का दूसरे दिन बाइक करीब 75 किलोमीटर दूर एक टूरिस्ट प्लेस पर जाने का प्लान बन गया. उसके चेहरे के भाव में सुकून था … साथ ही ना रुकने के लिए निवेदन भी था. साथ ही उसके वे आंसू, जो उसकी आंखों से निकल रहे थे, उनको मैंने पी लिया.

बस में एसी चल रहा था, तो मामी को ठंड लग रही थी, तो वो काँपने सी लगीं. तेरे भैया से चुदाने के लिए कोरी बनी रही, पर यार अभी भी उनसे चुदने के लिए एक दिन का वेट मुझसे नहीं होगा. ठीक है! चलो अब आप नीचे जाओ, इससे पहले की यह और कोई देखे मुझे हमारे कामलीला के सबूतों को मिटाना है.

मैं तुम्हारी ऐश कर दूँगा यहाँ”पर … आज का पेपर सर?” मैंने कसमसाते हुए कहा।ओह्हो … मैं कह तो रहा हूँ … तुम्हें चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं अब.

तभी मामा बोले- कौन हो तुम?वह बोला- पंडित जी का लगुआ हूं … मवेशियों को भूसा डालने आया हूं. अब आगे:चूमाचाटी के साथ ही मैं अपने हाथों से मिसेज पाटिल के कपड़े उतारने लगा. होंठ गला पेट चुत गांड सबपे मैंने अपनी जीभ फिराई और उसे गर्म करने लगा.

मैंने धीरे-धीरे भाभी के मुंह की तरफ गांड को धकेलते हुए उसके मुंह की चुदाई करनी शुरू कर दी. तो उस लड़के ने रिया के बाल पकड़ कर खींचे और जैसे ही रिया ने चिल्लाने के लिए मुँह खोला, उसने पूरा का पूरा लंड उसके मुँह में पेल दिया. जैसे ही मैंने उसकी गांड के छेद पे अपनी उंगली रखी, तो वो चौंक गयी और मेरी तरफ देखकर कर कातिल मुस्कान के साथ एक कामुक सी आहह भरी.

कुछ समय के बाद उनकी बीवी मतलब मेरी मामी पैसों और जायदाद की लालच में अपने पिता के घर चली गयी और रवि मामा लगभग 25 साल की उम्र में ही अकेले रह गए. विजय का माल निकलने वाला था कि माला ने उसके लंड से कंडोम हटा कर लंड अन्दर कर लिया और कहने लगी कि आज मेरी चूत आपके माल का नज़ारा लेना चाहती है.

फिर मैंने मैडम को किस किया और कहा- मेरा मकान मालिक चिल्लाएगा, मुझे चलना चाहिए. नवीन गैस स्टॉव के साथ में बैठकर खीरा छीलने में लगा हुआ था जिसके छिलके वहीं फर्श पर ही डाले जा रहा था. मैंने सोनू को समझाया कि भगवान ने लंड का सुपारा सॉफ्ट इसलिए बनाया है कि पहली चुदाई में या बाद की चुदाई में लड़की की चूत को कोई नुकसान न हो.

धीरे धीरे मैंने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया, चाची भी कमर उठा उठा के पूरा साथ दे रही थीं.

अपने से 11 साल छोटी भतीजी को चोदने में मेरे लंड को तो जो मजा आया था, वो कहना ही क्या. मगर मुझे ज्यादा पीने की आदत नहीं थी इसलिए दो पैग के बाद मेरा सिर घूमना शुरू गया. लेकिन अपना माल मेरी चूत में ही निकालना! वादा करो?मैंने भी वादा कर दिया.

मिसेज पाटिल मुझे सभी जगह चूमे जा रही थीं और एक वासना भरी निगाह से देख रही थीं. तभी कल्पना अपने रूम से आईं और रत्ना से पूछा- घर का सारा काम हो गया या कुछ बाकी है?रत्ना- जी दीदी, सब हो गया है.

इस बार मेरी पकड़ बहुत जोरदार थी और पहले उनके चेहरे पर फिर गर्दन पर रंग मलने लगा. मैं पूरा जोर लगा कर धक्का मारते हुए चिल्लाया- हाय सीईईई … क्या कसी है मामी तुम्हारी गांड … मजा आ गया …मामी जी- अह्ह्ह फाड़ डालो. लंड को सहलाते हुए ही मैंने अपना एक कदम आगे बढ़ाया और मैं उनके जिस्म के बिल्कुल करीब आ गया.

भारत का सेक्सी फोटो

चूत पर हाथ के स्पर्श से मामी जी की आंख खुल गई और उन्होंने मेरी तरफ देखा.

हम घर में अंदर गए और पानी वगैरह पीने के बाद यहाँ वहाँ की बात करने लगे. भाभी भी मेरा साथ देने लगी और मैंने उनके गले को चूमते हुए अपने हाथों को पीछे ले जाकर उनकी गांड को दबाना शुरू कर दिया. अबकी बार उसने खुद ही अपनी चूत में लंड ले लिया और मेरे ऊपर लेट कर चूत को मेरे लंड पर धकेलने लगी.

पल भर की देर किए बिना ही मैंने अनुष्का की चूत को चोदना शुरू कर दिया. जीजा जी ने मेरा मुँह अपने मुँह से बंद कर रखा था तो मैं चीख भी नहीं सकती थी. घोड़ा की बीएफ लड़की के साथआहना ने जोर से उम्म्ह… अहह… हय… याह… किया और मुझे जोरों से जकड़ लिया.

मेरे मुँह से लंड निकाल कर आशीष मुझसे बोला कि तुम कुतिया की तरह बन जाओ. उसके बाद मैं उठ कर खड़ा हुआ और मैंने मामी जी को पलट कर दीवार पर सटा दिया और उनको पीछे से अपनी बांहों में भर कर अपने होंठों को उनकी नंगी पीठ पर टिका दिया.

अब राजन को गद्दे तकिये की चुदाई नहीं करनी पड़ती है क्योंकि अब मैं उसको अपनी चूत का मजा दे देती हूँ और उसके लिंग का मजा भी ले लेती हूँ. आख़िर वो घड़ी भी आ गई और धीरज ने अपना लंड मेरी बुर पर रखा और मेरे मुँह पर अपना मुँह रख कर और मेरे मम्मों को जोर से दबा कर एक कस कर लंड का बुर पर धक्का मारा जिससे लंड का टोपा मेरी कुंवारी बुर में घुस गया और मैं दर्द से बिलबिलाने लग गई. अब मैं वहां रुक गई, तो फिर से आशीष मेरे सामने बैठ गया और मुझे उसी तरह से एकटक देखने लगा.

खैर … उसकी बड़ी गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और उसके अड्वेंचर में मेरा वेंचर तन कर उसको चोदने के लिए मचलने लगा. पर चपड़ चपड़ की आवाज साफ सुन रही थी मैं।दीदी बुरी तरह तड़पकर लगभग चिल्लाने लगी- जल्दी चोदो मुझे … बर्दाश्त नहीं हो रहा. फिर वो मुझे चोदते चोदते मेरे ऊपर आ गए और हम दोनों लोग इसी पोजीशन में सेक्स करने लगे.

दीदी हम दोनों के बीच में सोई, क्योंकि हम दोनों भाई बहन को उससे बातें जो करनी थीं.

थोड़ी देर बाद उन्होंने अचानक मेरा एक हाथ पकड़ा और उसे एकदम दोनों जांघों के बीच रख दिया. रात को सोने से पहले मैंने ब्रा पैंटी सब निकाल के एक सामने से खुलने वाली नाइटी पहन ली, ताकि जल्दी से निकाली और पहनी जा सके.

सुधा ने ऊपर आते ही ममता के ऊपर प्यार लुटाना शुरू कर दिया जिसका सबूत उनकी चुम्मा-चाटी की आवाजें बाथरूम के अंदर तक आकर दे रही थी. साथ ही वो मेरे चूतड़ों और मक्खन सी चिकनी जांघों की तारीफ किये जा रहा था. और भी एक बात थी, भाभी ऐसे कभी मुझसे सच में चुदाई के लिए उत्सुक दिखाई नहीं देती थी, वह तभी ऐसा करती थी, जब उनकी तबीयत ख़राब हो जाती थी.

तो आपकी भी ज़िम्मेदारी बनती है कि उसकी और उसकी बीबी की इज़्ज़त का पूरा सम्मान करे. मामी जी- आह मेरे लंडधारी पतिईईई … सीईईई … ओ मेरे राजज्जा कल रात को ही तो आपने मेरी कुंवारी गांड की सील अपने विशालकाय लंड से तोड़ी है. तभी जो गाड़ी मेरे को पास करते हुए आगे निकली थी, वो गाड़ी आगे जाकर स्लो हो गई.

फिल्म बीएफ चोदा चोदी मुझे ये सुनकर अच्छा लगा कि उन दोनों ने रात में काफी देर तक संभोग किया, खुल के बातें की और दोनों पूरी तरह से एक दूसरे को संतुष्ट कर दिया. मैंने अब दीदी को चूमा और उसके ब्लॉउज में हाथ डाल कर उसका ब्लॉउज लगभग फाड़ कर खोल दिया.

सेक्सी पिक्चर सेक्स

एक पल बाद मैं उल्टा हो गया और मैंने फिर से भाभी को अपना लंड मुँह में दे दिया. कौशल्या- अच्छा ठीक है सर, आप पार्टी एन्जॉय कीजिये, मैं कुछ देर बाद आपको अपने एक बड़े इन्वेस्टर से मिलवाती हूँ।और कौशल्या जी वहाँ से चली गयी. उसने मेरी पैंट को नीचे कर दिया और मेरे अंडरवियर में तने हुए मेरे लौड़े को किस कर दिया.

थोड़ी देर बाद दूसरे निप्पल को मुँह में भरा व इधर के निप्पल को उंगलियों से दबाने लगा. उनका फिगर भी हेमा भाभी की ही तरह था, परन्तु उनका रंग थोड़ा ज्यादा गोरा था. एचडी बीएफ आगरामेरी ननद ने मेरे पति को देखते हुए कहा- भाभी, लगता है कि आज भैया ये भूल गए हैं कि उनकी सुहागरात है.

इसका नतीजा यह हुआ कि मेरी बुर पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और वो लंड को अपने में ले लेना चाहती थी.

वो बोली- दूद्दू चूसना चाहते हो क्या?मैं बोला- आपको कैसे पता?वो बोली- साले तेरे जैसे कई देखे हैं, पहले तो मना कर रहा था अब तुझे सब चाहिए. आपने मेरे बारे में पूछा, मेरा साहस बढ़ाया, तब मुझे लगा कि आप वो शख्स हो सकते हैं जिसको मैं अपना पहला पुरुष मान सकूं, ऐसे में जब आप ने मेरा हाथ पकड़ा तो मैं पिघल सी गई क्योंकि इतने दिनों से अंदर की छिपी भावनाएँ, ज्वालामुखी बनकर सब बाहर आ गया और जब आप पहल करने में हिचकिचा रहे थे तो मुझे आप पर प्यार सा आ गया और बस फिर हो गया.

मैं आधा होश में था और आधा सुरूर में डूबा हुआ नशे का आनंद ले रहा था. अब मैं इतना सख्त मिजाज लड़का तो हूँ नहीं कि मेरी जान, मेरी बीवी … जो इतनी सुंदर दिल और जिस्म की मालकिन है, उससे ज्यादा देर दूर रह सकूँ. उसने अपना गरम वीर्य मेरे अन्दर ही छोड़ दिया, उस गर्माहट से थोड़ी राहत मिली.

मेरे मुँह से आहें और कराहें निकली जा रही थीं- उम्म … आह्ह्ह उम्म्म … ऊऊहह … आआहह उफ्फ … आई लव यू वंश … मेरा प्यारा बेटा … मेरा बेबी म्म्मुआहह.

मेरे सिर को अपनी चूत पर कस के दबा कर मामी सिसकारियां लेने लगीं, उनकी मादक सिसकारियां सुनकर मेरा जोश और बढ़ने लगा. तू सब जानता तो है कि वो कितने कितने दिन गाँव नहीं आता, फिर भी पूछ रहा है?” मीना ने कुछ गुस्से से कहा. मैंने लंड से चूत के छेद का रास्ता खोजा, तो आंटी ने खुद से मेरा लंड पकड़ कर मेरा लंड अपनी चूत पर लगा दिया.

हिंदी बीएफ न्यूज़पर चपड़ चपड़ की आवाज साफ सुन रही थी मैं।दीदी बुरी तरह तड़पकर लगभग चिल्लाने लगी- जल्दी चोदो मुझे … बर्दाश्त नहीं हो रहा. ये थी मेरी मामी की चुदाई की सेक्स स्टोरी, अच्छी लगे तो मुझे जरूर बताना.

सेक्सी वीडियो इंदौर की

उसके घर वालों ने रमेश से पैसे लिए थे, जो उसको वापिस ना लौटा पाए तो बदले में उसकी शादी रमेश से कर दी. मैंने दीपक से चौंकते हुए पूछा- यह तुम क्या कह रहे हो? तुमने अपनी भाभी को चोदा है?हां यार … मैं सच कह रहा हूं!” दीपक बोला. मेरी अधपकी हुई सी गोल-गोल मस्त चूचियाँ अब कुर्सी पर बैठे हुए सर की आँखों से कुछ ही उपर थी और उनके होंठों से कुछ ही दूर.

सारा के मुँह से हल्की सी चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह अब लंड डाल दो … अब और इंतज़ार नहीं होता … प्लीज जल्दी करो ना … प्लीज आहहह …अब मैं टोपी से लगातार उसकी चूत को छेड़ रहा था और वो ज़ोर से सिसकारियाँ भर रही थी- आमिर ये तूने क्या कर दिया? अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है, जल्दी से चोद दो, मेरी चूत में आग लग रही है. आप भी अपने लंड को पकड़ कर रखिए, कहीं कहानी के बीच में ही आपका लंड आपका साथ न छोड़ दे. मैं खा थोड़ी न जाऊंगी तेरे पति को?ममता ने कहा- अरे तू बड़े जीजू से नहीं मिली? वो तो नीचे ही हैं.

मुझे अब भी यकीन नहीं था, तो उसने फोन मिलाकर अपने पति मेरे सामने उसे हां करवा दी और भविष्य में किसी भी तरह की जिम्मेवारी से मुझे मुक्त कर दिया. जवान कॉलेज गर्ल की सेक्स कहानी के पहले भागकिस्मत से मिली कॉलेज गर्ल की चूत-1में आपने पढ़ा कि कैसे मुझे एक जवान लड़की सिनेमा हॉल में मिली और अब वो मेरे होटेलरूम में मेरे साथ मेरे बेड पर थी पर चुदाई के लिए मना कर रही थी. तू कहे तो मूत क्या, तुझे मेरी गांड और इसका छेद अच्छा लगता है ना, तो इस छेद में से निकलने वाला गु भी खा ले फिर हरामी। इतनी हवस भरी है!मैं भाभी का पूरा गरम-गरम मूत पी गया और चूत और चूतड़ को लेटे-लेटे ही चाटने लगा और भाभी से कहा- साली रूपा रांड, तू है ही इतनी कामुक कि कोई भी तुझे देखकर हवसी हो जाए।मैंने उनकी गांड के छेद को काट लिया.

ये कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की है। भाभी के बारे में बताऊं तो वो एक काम की देवी है। उसके बूब्स और उठी हुई गांड जो भी देखे, देखता ही रह जाए और भगवान से प्रार्थना करे कि ये सुंदरी अभी मिल जाए और इसके चूचे चूस लूं … गांड में लण्ड डाल दूं।देखने में भाभी का रंग गोरा चिट्टा, बिलकुल चिकनी चमेली है वह. उसने पूछा- इससे पहले तुमने कभी किसी को बिकनी में देखा है क्या?मैंने कहा- बस फिल्मों में ही देखा है मैडम.

अब मेरी समझ में आ गया था कि रज़िया भाभी को चुदाई न मिलने पर उनकी तबीयत खराब हो जाती है.

इस तरह रोज मैं उसे अपने चाचा से चुदाई के लिये उकसाने लगा और हमारी बातचीत होती रही. सेक्सी बीएफ शादीशुदा वालावो उस वक्त नाईट सूट में थे और वे अपने एक हाथ में शराब का गिलास लिए हुए थे. मौसी की बीएफ बीएफमैं जो भी काम करती हूँ, तो वो सर देखने के लिए आते हैं और वो मुझे अपना काम भी समझाते हैं. घर आते हुए रास्ते में बारिश होने लगी और हम भीग गए तो मैंने मामी को कॉल करके कोमल को मेरे ही घर रुकने के लिए कह दिया.

मैंने उसको चूमते-सहलाते हुए फिर से गर्म कर दिया और कुछ ही देर में मेरा लंड भी दोबारा अपने आकार में आ गया.

उससे बात करते करते मेरी उत्तेजना बहुत हद तक कम हो चुकी थी तो मैं तैयार हो गयी. मैं घबरा गयी, मैंने घबराहट में पूछा- क्या नहीं करते? क्या तुझे प्यार नहीं करते? मारते हैं क्या?मेरी बेटी ने कहा- अरे नहीं मम्मी … वो रात को पता नहीं कैसी कैसी डिमांड करते हैं. नमस्कार, मैं आपकी अपनी सारिका कंवल फिर से आप सबके समक्ष एक नई कहानी लेकर आई हूं.

आशीष- वैसे तो जब तू मटक कर चलती है, तो तेरी निकली हुई गांड बहुत हिलती है. मेरी साँस बंद हो गई, पर मैं बदस्तूर उनकी बुर को ज़ोर-ज़ोर से चाटता, चूसता रहा. मैंने फिर से उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया और उनको जोर से मसलने लगा.

कॉल रिकॉर्डिंग सेक्सी

तो मामा बोले- ठीक है थोड़ा-थोड़ा देखता हूं, पर अभी पूरी चुदाई नहीं हो सकती है. तभी वंश को सुसु लग गई, तो मैं झट से नीचे बैठ गई और उसने कमोड से खड़े होकर मेरे ऊपर मूतना चालू कर दिया. वो बहुत ही फूली हुई थी और बहुत नरम थी मानो जैसे स्पंज और भट्टी की तरह तप रही थी.

मुझे कुछ दिनों बाद पता लगा कि आरती ने कुछ और लड़कियाँ भी पाली हुई हैं जिनको वो चुदवाती है अपने यारों से! उनको क्या देती है और जिनके पास भेजती है उनसे क्या लेती है, ना मैंने कभी जानने की कोशिश की और ना ही उसने बताया.

चुदाई के आखिरी दौर में मेरी भाभी अन्दर आ गयी और चुदाई के बाद बैडमैन का लंड चूसने लगी.

मैंने उनकी साड़ी को अलग किया, फिर उनके मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही प्रेस करने लगा. एक तरफ भाभी दीवार से सटी हुई थी और दूसरी तरफ से मैं उनकी चूत को अपने मोटे लण्ड से चोद रहा था, फ़च-फ़च … की आवाजें आने लगी थी. हीरो हीरोइन बीएफमेरी दीदी विनय के चूतड़ों को पकड़ कर उसके लंड को अपने मुंह की तरफ धकेल रही थी.

उसे तुरन्त ही नींद आ गई क्योंकि दिन भर पैदल चलने की वजह से सभी लोग थक चुके थे. मैंने भी झट से चाची के ऊपर छलांग मारी और लंड डालने लगा कि तभी चाची ने मेरा लंड पकड़ लिया और बोलीं- मेरे राजा इतनी जल्दी भी क्या है, पहले कंडोम तो पहन ले. कुसुम दीदी बुरी तरह तड़पने लगी। तब मैं नहीं समझ पाई थी कि अनन्त क्या कर रहा है.

मैं क्लास खत्म होते ही जल्दी चला जाता था क्योंकि शाम की रेस का समय नहीं बचता था. कपडे हाथ में लेकर अपने कमरे में जाने लगी तो मुझसे चला भी नी जा रहा था.

मेरी हाइट पांच फिट तीन इंच की थी, पर उस समय वजन मात्र पैंतीस किलो था.

दरअसल यह इशारा था प्रशांत को बिल्कुल करीब बुलाने का, जिससे वह चूत में अपना लंड डाल दे. उसने कहा -शिट…उसके बिना बाजू वाले ब्लाऊज़ में उसके बूब्स मेरे सामने ही थे. यहहह यसस!काफी देर की चुदाई के बाद मैंने झटके से भाभीजी को अपने लंड के नीचे कर लिया और भाभी की दोनों टांगें उठा कर उनको धकापेल चोदने लगा.

लड़की का बीएफ दिखाएं उसके अपार्टमेंट में घुसते ही उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया, सीधे मेरे स्तनों को दबाने लगा, चूमते हुए हम उसके सोफे पर पहुँच गए. इतना कह के वो मेरे लंड से खेलने लगी और मैं उसके सीने की गोलाइयों से.

उस दिन हमलोग पुरे दिन में 10 बार सेक्स किया किचन में, बाथरूम में, सोकर, बैठ के … घोड़ी बना के. कुछ देर बाद आदिल फिर से आगे आया और प्रेम ने मुझे पेलना शुरू कर दिया. जी करता था कि बस सारा जीवन इस मदमस्त कर देने वाली उंगली को चूसते चूसते ही बिता दूँ.

लैंड वाला

मैं भाभी के पेट के ऊपर से होता हुआ उनकी चूचियों के बीच में अपने लण्ड को ले गया और लंड को दोनों चूचियों के बीच में दबाकर, उनकी चूचियों को चोदने लगा. उसने मुझसे कहा- क्या फिर से मेरी चूत मारनी है?तो मैंने हां कहा और उसे डॉगी बना कर फिर से चुदाई करने लगा. मैं अब्बा हज़ूर के पास से आ रहा हूँ, कश्मीर वाली नूरी फूफी (मेरी खाला) और तुम्हारे अब्बा भी उनके पास बैठे हैं और सारा वाले मामले के बाद नूरी फूफी (मेरी खाला) कह रही हैं कि सुबह सारा और ज़रीना से मिल कर आयी थी, दोनों बहुत खुश और संतुष्ट हैं.

मैं पूरा जोर लगा कर धक्का मारते हुए चिल्लाया- हाय सीईईई … क्या कसी है मामी तुम्हारी गांड … मजा आ गया …मामी जी- अह्ह्ह फाड़ डालो. मणि आने लगा तो संजय ने कोमल को अपने ऊपर ले लिया और नीचे से उसकी चूत में लंड पेलने लगा.

मेरे मुंह से निकल गया- उस दिन रात को जब आपको देखा तो मैं आपको देखता ही रह गया था.

अब हमारी स्थिति ऐसी थी कि उसके स्तन मेरे चेहरे पर थे और हाथ मेरे ऊपर था. सोनल ने अब उसका हाथ मेरी जांघों से मेरी चुत की तरफ बढ़ा, तभी उत्तेजना की वजह से मेरी कमर उछल गयी. उसने कहा- ठीक है जी, मैं तो इन दीदी का गुलाम हूँ, जो दीदी कहेंगी मैं वो ही करूँगा.

मैं बात समझ नहीं पा रही थी कि आखिर क्यों वो मुझे ऐसे देखता था और न ही मेरी हिम्मत होती थी कि उससे कोई सवाल पूछूं. मैंने नीचे मुंह ले जाकर उसकी कच्छी को गीली जगह से सूंघा तो उसकी खुशबू मुझे मदहोश करने लगी. मैंने पहले उसकी चुत में मूली डालनी चालू की तो वह चिल्लाने लगी और मूली के लिए मना करने लगी.

अब वो खुद बोल रही थी कि आउच्च … च … च च और तेज … और तेज फाड़ दो मेरी चूत को … मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ … आह चोदो मुझे … आज जी भरके चोदो!कुछ देर की चुदाई के बाद वो अकड़ने लगी और उसने मुझे अपनी बांहों में जोर से जकड़ लिया और वो झड़ गयी.

फिल्म बीएफ चोदा चोदी: दिन भर ब्रा से घिरे मेरे पसीने से सने स्तन पर हो रही हाथ की मालिश, मेरी जांघों के बीच खलबली पैदा करती और अपने आप ही अपनी जांघें एक दूसरे पर घिसने लगतीं. उन्होंने मेरी पैंट को खोलकर ज़मीन पर गिरा दिया, मेरे अंडरवियर को खींच कर उतार दिया और मेरे लंड को मुंह में भर लिया.

सासू माँ- तू अपने तरह से तैयारी कर, मैं अपने तरह से तैयारी करती हूं. उसने कॉन्डम को मेरे हाथ से ले लिया और बोली कि मैं अपने हाथों से इसको पहनाऊंगी. उन्होंने बिना किसी डर के मेरी पैन्ट पूरी उतार दी, मेरा लौड़ा कुछ देर हाथ से हिलाया और फिर चूसने लग गयी.

मैंने कहा कि देख तुम्हें गांड मराने में इतना मजा आया कि तुम्हारा वीर्य बाहर निकल आया.

मुझे उनकी योजना बहुत अच्छी लगी कि कुछ भी है, घर और परिवार के लिए इतना सोचते तो हैं. घर आकर मैंने प्रीति को फ़ोन कर पूछा कि कुछ हुआ या नहीं?प्रीति पहले तो शरमाई सी बातें करने लगी, फिर जब मैं बेशर्म की तरह बातें करने लगी, तो खुल कर उसने बताया कि रात दोनों ने काफी देर संभोग किया. भाभी ने गरमाते हुए मुझे अपने ऊपर आने को कहा, तो मैं उनके ऊपर चढ़ गया.