बीएफ हिंदी फिल्म मूवी

छवि स्रोत,भाई बहन का सेक्स दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

आदिवासी चूत की चुदाई: बीएफ हिंदी फिल्म मूवी, मुझे अपनी लाइफ में ऐसा अनुभव आज पहली बार हो रहा था, तो मैं और जोर से साक्षी की चूचों को अपने मुँह में अन्दर लेकर जोर से चूस काट रहा था.

बाप बेटीxxx

सोनी और रवि यदि तुम दोनों की सहमति हो तो मैं नौकरी छोड़कर यहां बसना चाहता हूँ. जीजा साली की चुदाईमाधुरी के चेहरे पर संतोषी के हाव भाव साफ़ साफ़ झलक रहे थे कि वो बहुत खुश थी.

उसको अपनी गांड चटवाने में बहुत मज़ा आ रहा था और वो कह रही थी कि आज तक मेरे हज़्बेंड ने भी कभी ऐसा नहीं किया. फुल सेक्सी बीपीमुझे इतना सुख मिल रहा था कि मैं दुआ मांग रही थी- या खुदा, ये पल कभी ख़त्म ना हों और हम इसी हालत में हमेशा लेटे रहे.

ये सुनकर मैंने बोला- अरे इस बेचारी को छोड़ो और जाकर आयेशा की गांड मारो.बीएफ हिंदी फिल्म मूवी: उधर मेरा 4 इंच मोटा लंड खड़ा हो रहा था और वो भी पैंट में अटक सा रहा था.

उनके बारे में सोचते सोचते मैंने होंठों पर लाल लिपिस्टिक लगाई, आंखों में काजल डाला, फिर नाक में छोटी नथनी पहनी, कानों के रिंग मेरी गर्दन तक हलचल मनाने लगे.थोड़ी देर में मंजू को भी मजा आने लगा और वह आह आह आह ओह ओह करने लगी.

एक्स एक्स वीडियो देसी हिंदी - बीएफ हिंदी फिल्म मूवी

मैं उसको अपनी तरफ खींचते हुए उसकी चूत चाटने लगा।वो भी मदहोश होके बोलने लगी- उम्म आह म्म्ह … हां और तेज चाटो आर्यन … और तेज … कब से भरी पड़ी थी टंकी … आज खाली कर दो इसे!मैं भी तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल कर उसके चूत के दाने के साथ खेलने लगा.बॉटम गे सेक्स कहानी एक ऐसे लड़के की है जिसका इंटरेस्ट लड़कों में होने लगा था। गे साइट पर अपनी गांड की फोटो पोस्ट करके उसने एक दोस्त बनाया और उससे पहली बार गांड मरवाई.

वो गुस्से में जोर जोर से जिन्न को गलियां देने लगे- मादरचोद ले, अपने लण्ड से आज तेरे दो टुकड़े कर दूंगा, फाड़ दूंगा तुझे रंडी!उनका लण्ड इतना बड़ा था कि मेरे गले को फाड़े दे रहा था. बीएफ हिंदी फिल्म मूवी मिष्टी की झुकी हुई नजरें प्रणय निवेदन कर रही थीं, जिसे प्रिंस की नजरें परख चुकी थीं.

मैंने उसको कसके पकड़ा और जोर का धक्का मारते हुए उसकी चूत के अन्दर लंड पेलता चला गया.

बीएफ हिंदी फिल्म मूवी?

इस बार झटका लगाने से पहले मैंने उसके मुँह पर हाथ रख लिया और लंड को पीछे को खींच कर फिर से एक बार अन्दर किया. ठोस दूध और एकदम गोल गांड, कसा हुआ देसी कट्टा … साली को देख कर ही लौड़े के नीचे दबाने का जी करे. मैं, सोनी, तापोश, नीना ने कालू के दोनों बेटों को बता दिया था कि उनके बाद फार्म उनका होगा, ऐसी वसीयत उन्होंने कर रखी है.

फिर मैंने देखा कि धीरे धीरे बापू ने काकी की टांगें फैला दी थीं और उनकी चूत पर अपना मुँह ले गए. शेखर गुर्राते हुए पूरी ताकत से धक्के मार रहा था मानो आज मुझे जमीन में ही धंसा देगा. अपनी इन भाभीजी से मेरा थोड़ा परिचय तो शादी से लौटते समय कार में ही हो गया था.

रास्ते में मैंने मेडिकल की शॉप से एक कंडोम ले लिया क्योंकि मुझे पता था कि अपनी रूममेट इस समय ऑफिस में होगी. कुछ देर बाद उसका फ़ोन आया- क्या कर रहा है?उसने पूछा, तो मैंने कहा- कुछ नहीं तेरे ही फ़ोन का इंतजार कर रहा था, कहां है तू? जल्दी आ. उस दिन मेरे बॉस दूसरे शहर में मरीज़ देखने गए थे तो सभी मरीजों की ज़िम्मेदारी मेरे और मेरे साथ के स्टाफ पर थी.

जीजू बोले- अरे लंडखोर, अभी तो तुझे इससे भी ज्यादा मजा देना है, यह तो बस शुरुआत है. मैं भी कुछ सोच ही नहीं पा रही थी, वियाग्रा सेक्स से बस आह आह ओह ओह ओह कर रही थी.

चाची बेड पर घुटनों के बल बैठी हुई थीं मैं बेड पर ही खड़ा हो गया और लंड को चाची के मुँह में डालकर ज़ोर ज़ोर से धक्के लगा कर लंड को गले तक डालने लगा.

जब भी वो अपनी चाल चलने को नीचे झुकती, तो उसके टॉप से उसके गोल स्तन साफ दिखते थे, जो उसकी हलचल पर उसके साथ ही झूलते और हिलते थे.

वो मैं अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा कि किस तरह दोस्त से उसको चुदवाया. तुमको अपनी ननद का दुःख कहां देखा जाता है?वो बोली- आप क्या चाहती हो दीदी?मैंने कहा- वो सब बाद में बताती हूँ. थोड़ी देर में मुझे बहुत अच्छा लगने लगा तो अपने दूसरे नीम्बू को मैं भी सहलाने लगी और अपने निप्पल घुमाने लगी.

फिर उन्होंने मेरे मुंह के अंदर अपनी जीभ घुसाई और ऐसे इधर उधर घुमाने लगे मानो जीभ से जिन्न को ढूंढ रहे हों. उसने हंस कर कहा- अरे जालिम काट मत, तुम्हारे अंकल पूछेंगे तो क्या बताऊंगी. लेकिन पिछले लम्बे समय से जो लड़की किसी सड़कछाप रंडी की तरह भकाभक गांड मरवा रही थी उसे चूत में लण्ड डालने से भला क्या फर्क पड़ता, तो मैं चुपचाप लेटी रही और जलालुद्दीन साहब अपना लण्ड मेरी चूत में पेलते रहे.

मैं उसको देखकर समझ चुका था कि वो उस बॉयफ्रेंड सेक्स की वजह से ज्यादा थककर आराम कर रही है।तब से मैं अपनी दीदी के बूब्स और चूत का दीवाना बन गया.

जैसे ही मेरी बीवी नीचे वाले कमरे के दरवाजे के पास पहुंची, जहां उसकी भतीजी बैठी थी. इस बात को लेकर मैं बहुत खुश थी कि मेरी बचपन से चली आ रही बीमारी जिसको कोई अंग्रेजी डॉक्टर ठीक नहीं कर पा रहा था उसको जलालुद्दीन साहब ने एक महीने से भी कम समय में ठीक कर दिया था. पर तब भी उसकी चूत इतनी ज्यादा टाइट थी कि लंड फिसल कर गांड की तरफ चला गया.

भाभी के होंठों के ऊपर जयाप्रदा जैसा तिल, सुराही सी गर्दन, रसीले होंठ, झील सी नीली आंखें और कसे हुए चूचों के बीच की दरार मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी. उसके ब्लाउज का एक बटन शायद टूटा हुआ था जिस वजह से उसके मम्मे काफी ज्यादा दिखने लगे थे. जिसे एक बार कोई लड़की देख भर ले, तो मेरा दावा है कि वो मेरे धांसू लंड से चुदे बिना अपने आपको रोक ही नहीं पाएगी.

जैसे ही मैंने उसकी पैंटी पर हाथ लगाया, उसने झटके से मेरा हाथ जींस से निकालकर बाहर कर दिया.

उसकी चूत से पानी छूट गया।मैंने भी अपना लंड बाहर निकाल लिया और राजवीर ने भी निकाल लिया अंजलि मुँह के बल ही बेड पर लेट गई।मैं राजवीर को बोला- अब तू कर ले, मैं कुछ रेस्ट लेता हूँ. मेरी तो खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा कि मेरी इच्छा पूरी होने जा रही है.

बीएफ हिंदी फिल्म मूवी मैंने उससे कहा- जान अपनी पत्नी की चूत नहीं पियोगे?इतना सुनते ही उसने मेरे पैर ऊपर उठा कर चौड़ा दिए और मेरी चूत पीने लगा. मैंने कहा- साले तुम लड़कों को तो यही लगता है न कि हम लड़कियां, गांड मरवाने के लिए ही पैदा हुई हैं.

बीएफ हिंदी फिल्म मूवी मैंने हंसते हुए माधुरी की चूत को थोड़ा चौड़ा किया और उसमें झटके से एक उंगली डाल दी. कुछ पांच मिनट में ही हम लोग थक गए थे क्योंकि हलासन में पीठ पर पूरा खिंचाव होता है और पेट पूरा दबा हुआ होता है.

मैंने देर न करते हुए उसकी चूचियों को एक बार चूसा और लंड का सुपारा चूत की फांकों में रख दिया.

वीडियो में सेक्सी वीडियो सेक्सी

काफी देर तक जीजू मेरे होंठ चूसते रहे तो मुझे भी अच्छा लगने लगा और मैं भी जीजू के होंठ चूसने लगी. मैकेनिक ने अपने धक्के तेज किये और जोरदार ताकत के साथ मेरी गांड में अपने गर्म गर्म वीर्य की पिचकारी छोड़ दी. मैंने साक्षी की गांड पर हाथ रखा और धीरे से उसकी गांड को अपने लंड से थोड़ा ये देखने के लिए उठाया कि मेरा लंड अभी भी खड़ा है और उसकी गांड में फंसा हुआ है.

माधुरी भी मेरे वीर्य की एक एक बून्द गटक गयी और साथ ही साथ उसकी चूत ने भी रुक रुक कर मेरे मुँह में अपने गर्म गर्म रस को छोड़ना शुरू कर दिया था. मैं तो पहले ही समझ गया था मगर मैंने निशा को गर्म सीन दिखाकर गर्म करने का सोचा था. कुछ देर किस करने के बाद मैंने अपना एक हाथ उसके पेट पर रख दिया और ऊपर को बढ़ने लगा.

जल्दी ही मैं एक बार उसके मुँह में झड़ भी गया मगर वो सब रस पी गई और लंड को चूसती रही.

फिर मैंने देखा कि एक लड़की रिया को दो लड़कों ने आगे पीछे से पकड़ लिया और उसे रंग लगाने के बहाने रगड़ने लगे. फिर मैं अपना हाथ उसकी पैंटी के ऊपर ले गया, पैंटी के ऊपर से ही उसकी बुर को दबाने लगा. उसके शरीर पर मैंने चुंबनों की झड़ी लगा दी और एक हाथ से उसकी चूचियों को मसलता रहा.

मेरी मॉम ने उसी समय एक ऐसी बात कह दी जिसे सुनकर मुझे समझ आ गया कि वो मेरे लंड से खुद ही चुदना चाहती थीं. उधर वॉशरूम से निपट कर जब मैं कमरे में पहुंचा तो वहां का नजारा ही कुछ अलग सा था, पोर्न क्लिप की आवाज़ सुनाई दे रही थीं. वो जयपुर में जॉब करते हैं और मेरी बहन को लेकर जयपुर में ही रहते हैं.

फिर मैं और डैड, मॉम को उनके बेडरूम तक ले आए और हमने उन्हें उनके बेड पर लिटा दिया. जैसे ही मैंने लाइट ऑन की तो देखा कि उन दोनों ने अपनी नाइटी अपने बदन पर जांघों तक उठा कर रखी हुई थी.

इस समय उनका सामना मेरी तरफ था और मैं उनकी गर्दन और कंधे पर किस कर रहा था. उस वक्त साक्षी भी धीरे धीरे मेरे लंड पर अपनी गांड को आगे पीछे कर रही थी. मैं चुपचाप चूचियों को चूसने लगा और चाची की चूत में अपनी उंगली से मालिश करने लगा.

आपा बोली- अरे तू चिंता मत कर, तेरे जीजू तुझे इतना एक्सपर्ट बना देंगे कि निकाह के बाद तुझे जरा भी तकलीफ नहीं होगी.

में अपने पैतृक स्थान पर गए थे इसलिए हमने सप्ताह के अंत में मनाली के दौरे की योजना बनाई और एक अच्छा थ्री स्टार होटल ऑनलाइन बुक किया।हम शनिवार दोपहर को बस से मनाली पहुंचे और होटल में चेक इन करने के बाद हम अपने कमरे में गए. चलिए खैर … अब उस दिन की बात शुरू करते हैं, जिस दिन की घटना मैं आप सभी से मॉम फ्रेंड सेक्स कहानी के रूप में साझा करने जा रहा हूं. रगड़ते रगड़ते उसने एक धक्का मेरी चूत की ओर दे दिया और मेरी चूत में दर्द होने लगा था।मुझे चुदे हुए 1 महीना हो गया था और निखिल का लण्ड भी कुछ ज्यादा मोटा था।उसके लंड का सुपारा मेरी चूत में जा फंसा और मैं दर्द में बिलबिला उठी.

थोड़ी देर बाद हारून ने मुझे अपनी गिरफ्त से छोड़ा और हम दोनों बाहर निकल आए. वहां उनकी एक गर्लफ्रेंड आई हुई थी या यूं कहें कि वो वहीं की थी, तो बेहतर रहेगा.

मैंने हैरानी से कॉल उठाई क्योंकि मुझे इसकी उम्मीद बिल्कुल भी नहीं थी. दर्द के मारे मेरी रुलाई छूट गई लेकिन उस हरामजादे पर कोई असर नहीं पड़ा. उसकी कमर के पीछे मटकते हुए उसके गोल मटोल चूतड़ तो सीने पर बिजली गिरा देते हैं.

तिरस्कर मधु के सेक्सी वीडियो

उसने धीरे से कहा- डोर ओपन ही रहने दे, मैं बाहर से लॉक करके जाता हूँ.

मेरी नजरें अपनी मामी और दोस्त की चाची के चूचों से हट ही नहीं रही थीं. एक-दो बार जब हम पास थे, उसने अपने स्तन मेरी बांहों पर रगड़े और एक बार उसके बाएं हाथ की उंगलियों ने मेरे लंड को भी सहलाया. गले में पहनने वाला हार और मंगलसूत्र मुझे सुहागन होने का अहसास दिलाने लगे.

तभी रोहित ने कुछ तेल और मेरी गांड में डाल दिया और उंगली से चोदने लगा. फिर हमने सब लड़कों को खोल दिया और उनसे कहा कि चलो अब असली काम करते हैं. औरत की ब्लू फिल्मदोस्तो, दरअसल एक बात मैंने आपसे नहीं बताई, वो ये थी कि माधुरी का जो अफेयर चल रहा था उस गांव वाले के साथ, उससे उसका झगड़ा हो गया था.

देसी आंटी की चुदाई का मजा मुझे दिया मेरे भाई की सास ने! मैं उनके साथ स्लीपर बस में था. दोपहर को मैंने और कुमकुम ने खाना खा लिया, उसके बाद मैं वापस पढ़ने बैठ गया.

उन लोगों ने ही मुझे उठाया, साफ़ किया और कपड़े पहना कर टेक्सी की पिछली सीट पर बैठा दिया. मैं जोर जोर से अंदर बाहर करता रहा, आंटी थूक लगा लगाकर उसे चूसने लगी. उसकी गोरी गोरी मांसल टांगें देख कर मेरी जीभ उन्हें चाटने के लिए लपलपाने लगी थी.

मैंने उसके बाल पकड़ कर उसके सर को लंड पर दबा दिया, जिससे मेरा लंड उसके मुँह में घुस गया. उसके बाद मैंने अपना एक हाथ उनके बूब्स पर रखा तो मैंने महसूस किया कि मम्मी ने ब्रा भी नहीं पहनी है. उन्होंने बताया कि उनकी जांघ पर इंफेक्शन हो गया है, जिस वजह से वे परेशान हैं.

फिर मैंने उनकी गांड से लंड निकाला और चीते की फुर्ती से उनकी चूत में लंड घुसा दिया.

अंजलि के दोनों बूब्स मेरे हाथ में थे।मैंने उनको ब्लाउज के ऊपर से ही प्यार से सहलाना शुरु कर दिया।अब अंजलि की साँसें फिर से तेज हो गई।सहलाने के साथ साथ मैं अब उसकी गर्दन और कान के नीचे से बाईट करने लगा. क्या एक बार समझा सकती हो?बीवी ने हां में सर हिलाया और मेरे पास वाली कुर्सी पर बैठ गयी.

रवि क्या मैं तुम्हारी गांड का मजा ले सकता हूँ, हॉस्टल के दिनों के समान मजा दोगे क्या?मैंने सोनी की तरफ देखा, सोनी बोला- मुझे कोई आपत्ति नहीं है. मैंने कुमकुम से कहा- मैंने अपने दोस्तों को बुला लिया है पर उन्हें तुम्हें चोदने के लिए कैसे कहूं?कुमकुम ने कहा- आप हॉल में जाओ … मैं सब इंतजाम कर लूंगी. मेरे कंधे, गर्दन, छाती, कमर और पेट सब अपने थूक से गीला करते हुए जीजू मेरी चूत तक आ गए.

ये सब मेरे पुराने पाठकों ने मेरी पिछली सेक्स कहानियों में पढ़ा होगा. मैंने कहा- क्यों, प्यार क्यों नहीं करते हैं?वो मानो मेरे सामने फट पड़ना चाहती थी. मैं समझ गया कि इसकी भी बुर में खुजली होने लगी है, जिसे मिटाने की बारी आ गई है.

बीएफ हिंदी फिल्म मूवी मेरे मुँह से बस ‘आआह उह जानू और जोर से चोद मुझे … साले पागल कर दे मुझे … और जोर से चोद मादरचोद …’ निकल रहा था. मेरी गांड एकदम सीलपैक है, मुझे बहुत दर्द होगा प्लीज़ धीरे धीरे करना.

सेक्सी फिल्म सन 2021 की

वो सेक्सी सेक्सी आवाजें निकालने लगी- आहआह उफ्फ्फ विक्रांत बेबी ओर तेज आह … मैं मर जाउंगी … अअह बेबी मेरी चूत में चीटियां सी रेंग रही हैं. छोड़ दीजिए मुझे!मुझे उसकी बात उचित लगी और मैंने उसे उस वक्त जाने दिया. उन्होंने रिया का ये रूप कभी देखा नहीं था तो सब चुपचाप जाकर बिस्तर पर बैठ गए.

मेरे मन में यह बात सुन कर ऐसा लगा मानो जैसे भाभी सामने खुद से चोदने का इशारा दे रही हो. जैसे ही नीचे उतरा, वो आकर मुझसे कहने लगी- तुम्हारे मोबाइल में मैंने कुछ देखा है, वो मुझे बहुत अच्छा लगा है. हिन्दी शेकशीमैं अपने एक पैर को उठाकर दूसरे पैर पर रगड़ रही थी और उनके सर को अपने सीने पर दबा रही थी.

मैं एक जवान खूबसूरत भरे बदन वाली लड़की हूँ जिसको देखकर मर्दों के ईमान डोल जाते हैं और औरतें जलन के मारे मर जाती हैं.

तो मजा लें इस अंकल पोर्न स्टोरी का!जो नए पाठक मेरी कहानी पहली बार पढ़ रहे हैं, उन्हें मैं अपने बारे में बता देती हूँ. थोड़ी देर बाद मैंने उसकी चूत में 2 उंगली डाल दीं और जोर जोर से हिलाने लगा.

इधर मायके में जैसे ही मिष्टी पहुंची, उसने पहले अपनी साड़ी चेंज करके एक काले रंग का सूट पहन लिया और अपने जीजा के आने का इंतजार करने लगी. फिर मैंने उसे कंडोम देकर उसे चढ़ाने को कहा तो उसने बड़े प्यार से मेरे लन्ड को कंडोम पहनाया और अपनी टांगें फ़ैला के लेट गई और कहने लगी- आज फाड़ दे आर्यन … मेरी चूत का भोसड़ा बना दे. भाभी ने मुझे रुकने को बोला, उन्होंने कहा- तुम्हारे भैया का इस वक्त ज्यादा काम रहता है इसलिए वह अभी नहीं आ पाए.

माधुरी मेरी तरफ देख कर मुझसे बोली- नहीं उस दिन तो तुम कह रहे थे न कि मुझे तुम्हारा दूध पीना है, तुम्हारी चूचियों को पूरा खाली करना है.

जीजू थोड़ा सीरियस होते हुए बोले- देखो सकीना, कल जो तुमने देखा वो सब कुछ नहीं था, इसके अलावा भी बहुत कुछ होता है जो तुमने कल नहीं देखा. अभी तक भाभी के पांव भारी नहीं हुए थे, शायद भैया-भाभी परिवार नियोजन कर रहे थे. ‘उफ्फ’ निकल गयी उसके मुंह से!मेरा आधा लन्ड उसकी चूत में जा चुका था.

कुंवारी लड़कियों की चूतआंटी अपने घुटनों पर बैठीं और धीरे से मेरे शार्ट्स और चड्डी उतारकर अलग कर दिया. अब आगे वर्जिन सिस्टर Xxx कहानी:दोस्तो, मैं अक्सर बहुत रात तक भैया के कमरे में उसका लैपटॉप यूज़ करती थी, कभी कभी वहीं सो जाती थी, तो भैया दूसरे कमरे में चला जाता था.

सेक्सी फिल्म सेक्सी फिल्म बताइए

तब से हफ़्ते में एक या दो दिन और कभी हर रोज, मैं चाची की चूत मार लेता हूँ. पता नहीं क्यों … मगर शालू के साथ दुबारा चुदाई करने का मौका नहीं मिल पाया. इससे रिया एकदम से उछल पड़ी और बोली- मैं एक साथ चूत और गांड में लंड नहीं ले सकती.

बुआ की रसीली गांड में मेरा लंड अपनी जगह बना चुका था और आसानी से अन्दर बाहर होने लगा था. पहले मुझे लगा कि उन्हें मेरा आइडिया पसंद नहीं आएगा लेकिन वो दोनों ही झट से मान गईं. इस सभी सवालों के जवाब जानने के लिए देखिए सविता भाभी सेक्स वीडियो की 29वीं कड़ी.

उस दिन मैंने भाभी को अपने कमरे में बुलाया और उससे चुदाई की बातें करने लगी. धक्का लगते ही चाची ज़ोर से चिल्लाईं अअह ऊऊई माँ साले कमीने आज तो तू मुझे मार कर ही दम लेगा. लेकिन मैंने साक्षी की गांड को जोर से पकड़ कर रखा था क्योंकि मैं जानता था कि अगर इस बार मैं साक्षी की गांड में पूरे जोर से अपने लंड को डालूंगा तो वो ये धक्का सहन नहीं कर पाएगी और गांड आगे सरका कर लंड बाहर निकाल देगी.

जब मैं थक जाता तो अपने जिस्म का वजन उसकी गांड पर डाल कर रुक जाता जिससे मेरा लंड पूरी तरह से उसकी गांड में सीधा घुस जाता. तभी खाला बेड से उठीं और उन्होंने मेरी चड्डी को एक झटके में उतार दिया.

वह अपना पूरा लंड बाहर खींचता था और फिर फचाक से पूरा लंड अंदर ठेल देता था.

फिर सविता ने इसके लिए क्या क्या किया?क्या सविता इस काम में सफल हो पाई?शादी के बारे में आयुष का मन कैसे बदलेगी सविता? यह जानने के लिए सविता भाभी एपिसोड 35 का वीडियो देखें।. विदेशी बफमैं अपने डैड और मॉम के साथ रहता हूँ और ये कहानी भी मेरे और मेरी मॉम की बीच हुई चुदाई की कहानी है. ब्लू पिक्चर हिंदी में फुल एचडीलेकिन कुछ दिनों के बाद एक फैमिली वहां पर आई थी।वे काफी अच्छे लोग लग रहे थे. नीना मिठाई बनाने का सामान और नौकरों के बच्चों के लिए उपहार लायी थी.

फिर लिपलॉक किया और लंड चूत पर सैट करके उसके दोनों हाथों को जोर से पकड़ लिया.

किशन ने बहुत सी लड़कियां और औरतों को पटाया था, तो उसने नशे में मुझे सब बताया. मेरे लंड में दर्द होने लगा था, तो मैंने उठ कर उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया. क्या तुम्हारे पति ने तुम्हें ढंग से नहीं चोदा?उसने कहा- नहीं, मेरे पति का लंड बहुत छोटा सा है, जिससे मुझे आराम नहीं मिलता.

मैंने हार्दिक से पूछा- भाई, ये सब क्या है? कोई प्रोग्राम है क्या?वो हंस कर बोला- अबे कुछ नहीं यार, वो मेरी बाजू की सोसाइटी में ही रहती है और बस में साथ में ही आती है. फिर मुझे न जाने क्या हुआ, मैंने उसके चेहरे को ठोड़ी से पकड़ा और उसके होंठों को चूमने लगा. पांच मिनट में ही मेरा काम हो गया और उन्होंने मेरा लंड चाट चाट कर साफ़ कर दिया.

सेक्सी फिल्म वीडियो सेक्सी सेक्सी फिल्म

मेरे पूछने पर उसने बताया कि वो बहुत परेशान रहती है और उसे नीचे बहुत ज्यादा बेचैनी होती है. इतने में मौसा जी ने आवाज दी- अरे रिकी घर नहीं चलना है क्या … या यहीं पर रहोगे?मैं- आया मौसा जी. दोस्त की बीवी की गांड में एस प्लग घुसाकर मैंने उसे गांड खुली की और उसे गांड मरवाने का मजा दिया.

मुझे मजे लेते देख कर अब्दुल और छोटू फटाफट अपने कपड़े उतार कर नंगे हो गए.

अब शबाना की चीखें निकल रही थीं लेकिन अपनी आवाजों को दबाने के लिए वह अपने होंठ चबा रही थी.

उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद।मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को मेरी यह नई कहानी भी पसंद आएगी।मेरी पिछली कहानी पढ़ने के बाद एक पाठिका, जिसका नाम अंजलि है, उनका मुझे मेल आया कि उनको मेरी कहानी पहुत पसंद आई।धीरे धीरे हमारी मेल पर बात होने लगी फिर हम हैंगआउट पर चैट करने लगे।उन्होंने बताया कि वो शादीशुदा 2 बच्चों की माँ है. मैंने कहा- कोई बात नहीं, आज पहली और आखिरी बार थोड़ी ही हम मिलने वाले हैं. ತಮಿಳ್ ಬಿಎಫ್वी किचन से एक प्लेट में नाश्ता लाई और खाने के बाद वह बोली- चलो अब ये वाली भूख भी मिटा दो.

इस बीच कुछ दिनों के लिए उसे अपने घर जाना पड़ा तो वो छुट्टी लेकर घर चली गयी. Xxx हिंदी भाभी कहानी के चौथे भागसेक्सी भाभी के जिस्म को छूने का मजामें अब तक आपने पढ़ा था कि माधुरी ने मेरी पैंट को चड्डी समेत नीचे खींच कर उतार दिया था. मैंने अपने भैया के शर्मीले स्वभाव को समझते हुए उससे लिपकिस के लिए कहा था.

फिर पुलकित ने अमित को रोककर नीचे लेटा दिया और आयेशा को उसके ऊपर लेटा दिया. मेरे मायके में मेरे मम्मी-पापा, दादी और एक बड़ा भाई है जो शादीशुदा है.

अगले दो दिन तक तो मेरी इतनी बुरी हालत रही कि पेशाब करते ही मेरी गुच्छी में जलन होने लगती थी.

उनकी भरी हुई चूचियों पर कड़क और ब्राउन कलर के निप्पल बड़े मस्त लग रहे थे. चाची बोलीं कि ये क्या कर रहे हो?मैंने चाची की गांड पर एक ज़ोरदार तमाचा मारा और कहा- बस मेरी जान अब तू लंड से ठुकाई का मज़ा ले. अब आगे दोस्त की बीवी की गांड की कहानी:एक महीने में तापोश का कमरा बन गया, तापोश, नीना रहने आए.

सेक्सी chahie मैं उसके बड़े चूचों को रसीले आम की तरह मुंह में भरकर चूसने लगा और दबाने लगा. उसने ऐसा कहा, तो मैं समझ गया कि लौंडिया की चूत अब लंड लंड करने लगी है.

उसके बाद जब सब सो जाते तो पापा मुझे कभी छत पर तो कभी किचन में चोदने लगे।जब मैं अपनी ससुराल आई तो कुछ दिन बाद मेरा महीना नहीं आया।मैंने अपनी सास को बताया तो वो बहुत खुश हुई और मुझे गले लगाकर बोली- बहू खुशखबरी है।घर मैं सब बहुत खुश थे. उसका तो मुझे छोड़ने का मन कर ही नहीं रहा था पर मैंने वहां से निकलना ही उचित समझा. मैं इतने दिन तक जलालुद्दीन के साथ रहते रहते यह भूल ही गई थी कि एक दिन मुझे लौट कर भी जाना होगा.

नवीन सेक्सी मराठी व्हिडिओ

चुदाई के बाद हम दोनों अलग हो गए और एक दूसरे की ‌तरफ देख कर मुस्कराने लगे. कुछ मिनट उससे लंड चुसवाने के बाद मैंने उसे लिटा दिया और पूछा- रेडी हो?वो बोली- हां. उसने कहा- तुमने बताया नहीं, आज मैं कैसी लग रही हूँ?मैंने कहा- तुम तो हमेशा से सुन्दर लगती हो.

उसने किया भी वैसा ही!उसके हाथों की पकड़ मेरी चूचियों पर पहले से दोगुनी हो गयी और मैं जैसे मदहोशी की तरफ चलने लगी. मैंने उससे कहा कि यदि तुम्हारा जवाब हां में है, तो वही ड्रेस जो शादी वाली रात पहनी थी, उसी ड्रेस में मुझे फला जगह पर मिलना.

तभी रोहित ने कुछ तेल और मेरी गांड में डाल दिया और उंगली से चोदने लगा.

यह काम एक फील्ड वर्क वाला काम है, मुझे कस्टमर के घर जाकर काम करना होता है. कमरे में जीजू पलंग पर लेटे हुए थे, आपा कमरे में आई तो जीजू ने उठ कर आपा को अपनी बाँहों में कस लिया और चूमने लगे. मुझे बहुत मजा आ रहा था उन्हें जोर से चूमने में!हम अलग अलग पोजीशन में एक दूसरे को चूमने लगे।इसके बाद मैं उनके पूरे शरीर को चूमने लगा.

वो मुझे पसंद करने लगी थी और मैं तो उसकी जवानी का रस चूसने के लिए व्याकुल था ही. मैंने भी उससे कहा- हां क्योंकि मेरी बीवी है ही इतनी कमाल की कि आज मुझे उसके साथ पोर्न मूवी में दिखने वाले सारे आसान करने हैं और उसको इन आसनों के जैसे ही चोदना है. मैं उसकी इस हरकत से गनगना उठा और मैंने उससे कहा- रुको, कहां जा रही हो?वो बोली- मैं घर जा रही हूँ.

हमने जैसे ही आगे से शॉल डाली, मेरा हाथ जल्दबाज़ी में आंटी के मम्मों पर टच हो गया, जिसे मैंने जल्दी से हटा लिया.

बीएफ हिंदी फिल्म मूवी: फिर मैंने मॉम की साड़ी को निकालना शुरू किया और धीरे धीरे मैंने उनकी साड़ी उतार कर दूर फैंक दी. उधर नीचे से वो मेरे लंड की सवारी कर रही थी, मैं भी नीचे से मेरी कमर हिला कर उसकी चूत में अपना लंड और अन्दर डालने में सहयोग कर रहा था.

फिर मैंने उन्हें झुकाया और नीचे होते हुए उनकी नाभि पर जीभ फेरने लगा. ज़्यादा ठुकाई के कारण चाची की चाल भी बिगड़ गई थी और अगले दो दिन तक चाची से चला भी नहीं गया था. थोड़ी देर बाद मैंने अपनी स्पीड तेज़ कर दी और ज़ोर ज़ोर से गांड की ठुकाई करने लगा.

मैं आपको इधर एक बात बताऊं कि इस धर्म की औरतें बहुत गर्म होती हैं, इनकी गर्मी हर कोई शांत नहीं कर सकता है.

आज आपको ऐसी Xxx गाँव पोर्न स्टोरी सुनने जा रहा हूँ, जिसे सुनते ही आप अपने लंड को सहलाने पर मजबूर हो जाएंगे. आपको मेरी Xxx गाँव पोर्न स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मेल और कमेंट्स से बताएं. साथ ही अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल कर ज़ोर ज़ोर से अन्दर बाहर करते हुए तेज़ी से चाटने लगा.