बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्स वीडियो पाकिस्तान

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी सेक्सी शॉर्ट वाली: बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ, फिर अचानक से उसने मेरे सर को जकड़ लिया और अपना गर्म गर्म पानी मेरे मुँह पे निकाल दिया, जिसको मैं हल्का सा पी भी गया.

हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो वीडियो

मैं उसके मुँह में अपना लौड़ा आगे पीछे करने लगा, वो गों गों कर रही थी. एक्स एक्स बीएफ मारवाड़ीमैं अपने एक हाथ से उनकी साड़ी ऊपर करते हुए उनकी भरी हुई गदरायी गोरी पिंक पिंक जाँघों को सहलाए जा रहा था.

प्रिया ने सुमन को बोला- शरमाओ मत!उसके हाथों को मैंने हटाया और मम्मे दबाते हुए चूसना चालू कर दिए. कम उम्र वाली लड़की की बीएफउसके बाद जब भी हमें मौका मिलता, हम चुदाई करते हैं और खूब मजा लेते हैं.

लड़ाई के काफी दिन हो जाने के बाद मेरे व्हाट्सैप नम्बर पर किसी अनजान नम्बर से मैसेज आया.बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ: ऐसा लगा जैसे वो किसी अदृश्य शक्ति से बातें कर रहे हैं, फिर उन्होंने वल्लिका से कहा- पवित्र शक्तियाँ आदेश दे रही हैं कि मुझे ही यह अशुद्धि नियोग करना होगा और वो भी आज ही.

उसके बाद नीचे की भी डोरी खींच कर चोली की अलग कर दिया और खाला के उरोज आजाद कर दिए.मंजू का मुंह खुला हुआ था, वो चीखना चाहती थी लेकिन चीख नहीं पा रही थी!धीरे धीरे मंजू निढाल होने लगी और मेरी ही आँखों के सामने वो बिस्तर में गिर पड़ी.

हिंदी में बीएफ चोदा चोदी हिंदी में - बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ

मेरे हर धक्के पर मेरी बीवी मुँह से मादक आवाज निकाल कर जवाब देती थी, वो कहती थी- आह… चोदो मेरी चुत को जोर से चोदो… चोदकर चुत में से सब पानी निकाल दो… आह… मजा आ रहा है.जिस वक्त मैंने उसकी चूत पर अपना हाथ फेरा था, उस वक्त उसने भी एक पल मेरे हाथों पर ही अपना वजन रख कर अपनी चूत को मेरे हाथों से सहलवा लिया था.

मैं अपनी मामी के घर मिलने गया, मामा कहीं गए हुए थे तीन-चार दिनों के लिए, मामी हमेशा की तरह मेरे लिए चाय बना कर लाई और मेरे बगल में बैठी, उसके बाद फिर थोड़ा सा झुक कर के बैठ गई. बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ इसके बाद जब भी मुझे मौका मिलता मैं आंटी को चूमने चाटने लगा, परंतु चोदने का मौका नहीं मिल पा रहा था.

इधर ये सब जान जाने के बाद अब मुझे भी गीता में कोई इंटरेस्ट नहीं रह गया था.

बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ?

मम्मी बोलीं- क्या मिला?कमलेश सर झूठ बोले कि एक आंसर बुक में देख रहा था, वही वन्द्या ने पूछा है. बापू अपने मज़बूत हाथों से पद्मिनी के हाथों को वहां से हटा रहा था, पर पद्मिनी पूरा ज़ोर लगा कर, दोनों जांघों को एक दूसरे के ऊपर क्रॉस करके अपनी पेंटी छुपा रही थी. मैंने अपना बाहर निकाला हुआ लंड अंदर डाला स्कूटर साइड में लगाई और आंटी को साइड में ले गया और आंटी का हाथ लेगी में डाला और किस करने लगा आंटी को.

मैंने धीरे से दरवाजा खोला और ध्यान से सुना कि बेडरूम से पिंकी के चुदने की आवाजें आ रही थीं- आह. मैं घुटनों पर बैठ कर उसका एक स्तन चूस रहा था, वो मेरा सर अपने मम्मे पर दबा रही थी. मैंने नेट के ऊपर कई होटल सर्च किए और एक होटल को चुनकर उसके नंबर पर टेलीफोन किया.

इस बार पद्मिनी ने अपने बापू का लंड अपने पेट के थोड़ा नीचे चूत के नज़दीक महसूस किया. इतने राहुल ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और बहुत ही अच्छी तरह से बड़े प्यार से उनको चूसा. वो पूछने लगी- तुम कितनी बार कर सकते हो?मैं बोला- जितना तुम बर्दाश्त कर सकती हो.

मैंने उसकी ओर देखा तो हमारी निगाहें मिलीं और हम न जाने क्यों मुस्कुराये. मेरी बात सुन कर वो बोला- क्या तुम चाहती हो कि मैं फिर से दुबारा उसी तरह से बीमार हो जाऊं?मैंने कहा- यह तो मैं मरते दम तक नहीं सोच सकती.

जो इस खुजली के अंत पर मिलता है। इसी के पीछे तो मरती है दुनिया।”मेरा भी सफेदा निकला है क्या?” मैं उठ कर अपनी योनि देखने लगी।नहीं.

मयूरी आते ही रजत के ऊपर चढ़कर बैठ गयी जो इस वक्त सोफे पर लेटकर मयूरी को अपनी ओर आते हुए देखकर आराम से अपने लंड को सहला रहा था.

रात को एहतियात के तौर पर उस कमरे में मयूरी और विक्रम के बीच कुछ नहीं हुआ क्यूँकि रजत वहीं पर सो रहा था. कुछ देर तक यूं ही लंड चुत का प्यार चलता रहा और फिर दोनों ने रोना शुरू कर दिया. उसके सर पर चुदास और वासना इतनी अधिक सवार थी कि वो बार बार बोल रही थी- जान आज फाड़ दो मेरी इस कमसिन चुत को.

उनकी ये बात सुन कर मेरे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि ये हो क्या रहा है. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी अंतरंग डायरी: मेरी सेक्सी बहन की वासना-2. अंकित बोला- सुन मैं अपने एक अंकल राघवेंद्र हैं, क्या उन्हें अपने साथ ले आऊं, उनसे मस्त लंड वन्द्या ने कभी देखा भी नहीं होगा और क्या तो उनका स्टाइल और स्टेमिना है चोदने का.

उसने मेरे होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया और धकापेल चालू कर दी.

अब हम घर में अकेले थे, उसने मुझे गोद में उठाया और सोफे पर जाकर बैठ गया. मैं उठ के बैठ गया तो मेरे सामने सुरेश जी का सोया हुआ काला लंड दिखाई दिया. उस दिन गर्मी ज़्यादा होने के कारण वो अपनी मैक्सी घुटने तक करके बैठी थीं.

तो लाल जी बोला- हां वन्द्या, मेरा एक दोस्त है, वह लंड बड़ा करने कैप्सूल लाया था. बाबा ने दुबारा लंड पे थूक लगाया और वल्लिका की चूत पे सैट करके एक जोरदार धक्का लगाया. मैंने अपना काम चालू रखा और गांड मारने के लिए अपने धक्के थोड़े थोड़े और तेज कर दिए.

अब मेरे लौड़े से भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने मुठ मार ली और आकर अपने बेड पर किताब खोलकर बैठ गया.

सब ठीक से चल रहा था और मोहल्ले के सभी बच्चों की तरह पद्मिनी भी स्कूल जा रही थी. वो नंगी हो कर अपनी चूत में उंगली करती और मैं उसके नाम की मुठ मारता.

बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ पर चाचा नहीं माने और मेरा हाथ पकड़ कर बोले- वन्द्या तू बैठ जा बस दो मिनट के लिए. उनके गोरे बदन पे वो काली नाइटी बहुत जंच रही थी, जैसे कोई चैस बोर्ड दिख रहा हो, काली गोरी का मैच बड़ा सेक्सी लुक दे रहा था.

बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ तुम लोग भी आओ, तो मैं बोलता भाई को!हम लोग बोले- नेकी और पूछ पूछ… सारे भाई एक दिन ही वर्जिनिटी तोड़ते हैं. फिर मैंने उसे उठाया और बेड पर ले जाकर उसकी चुत, जो एक साल से नहीं चुदी थी, उस पर अपना लंड रखा और धक्का दे दिया.

मैं जब मोबाइल में यह सब देखता हूं, तो मुझे बहुत मजा आता है और मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

इंडियन सेक्सी वीडियो फिल्म हिंदी में

तभी सुरेश जी जाग गए और मुझे देख कर कहने लगे- क्या हुआ?मैंने कहा- मुझे डर लग रहा है. दोनों की साँसें बहुत ही ज्यादा तेज़ हो चुकी थी और दोनों एक दूसरे की धड़कने को आराम से सुन और महसूस कर सकते थे… मयूरी अभी एकदम तृप्त महसूस कर रही थी. कुछ देर के बाद मैंने अपने दोस्त की बीवी को अपने ऊपर ले लिया और लंड पर बिठा कर उछलने को कहा.

लेकिन कभी यह अहसास नहीं हुआ कि ऐसा भी हो सकता हैअब क्या बताऊँ … मुझे शर्म भी आ रही है यह बताते हुये … पर मेरी मम्मी को ये सब करते हुये शर्म नही आई तो मैं बोलने में क्यों शरमाऊँ! है ना?और मुझे भी तो कोई चाहिए चीजें शेयर करने वाला… तो मैंने सोचा कि अपने दोस्तों को ही क्यों ना बता दूँ. उम्मीद है कि आप सब अन्तर्वासना पर कामुकता भरी चुदाई की कहानी पढ़ कर मजा ले रहे होगे. मैंने उन्हें मसल मसल कर लाल कर दिया, जिससे उसके मम्मे तन गए और निप्पल लाल हो गए.

कोमल भाभी की नज़र मेरी पैंट पर बने टेंट पर गई और वे दोनों हंस पड़ीं.

मैं विरोध करने लगी, तो कमलेश सर ने मेरे होंठों में अपने होंठों को रख दिया और मेरे जीवन का पहला लिप किस कमलेश सर ने ले लिया. एक दिन मेरी सहेली ने मुझसे कुछ पैसे मांगे, लेकिन मेरे पास नहीं थे तो मैंने विवेक से लेकर उसे दे दिए. हर सुबह बाथरूम में मेरी गांड मारते और ऑफिस जाते वक्त लंड का पानी मुझे पिलाते.

उसने मुझे गले से लगा लिया और बोला कि मुझे आज तक सच्चा प्यार करने वाला कोई नहीं मिला. वो जानती थी कि थोड़ी ही देर में उसका छोटा भाई रजत भी उसकी चूत में चटनी कूटने वाला था, पर इस बात के लिए वो भी बहुत ज्यादा उत्साहित थी. कुछ देर तक यूं ही लंड चुत का प्यार चलता रहा और फिर दोनों ने रोना शुरू कर दिया.

फिर उसने अपने हाथ से मेरा लौड़ा अपनी चूत के छेद पे रखा और लंड पर बैठ गई. मुझे बहुत गुस्सा आया तो मैंने निशा को बोला- दीदी, उस भाई के पैर अकड़ जाएंगे.

आपने मेरी कहानीचुदक्कड़ मौसेरी बहन को चोदापसन्द की थी, तथा कुछ दोस्तो ने इस सेक्स स्टोरी को और आगे लिखने के लिए कहा, इसलिये दोस्तो अपनी पड़ोसन लड़की को मैंने किस तरह चोदा, उसकी चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ. अचानक उन्होंने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?तो मैं चौक गया पर उत्तर दिया- मैं हॉस्टल में पढ़ा था और वहाँ लड़कियां नहीं थीं, इसीलिये कोई बनी नहीं. वो भी अब अपने मम्मे मेरी पीठ पर घिस रही थी, अपने हाथों से मेरे लौड़े को सहला रही थी.

उसने लाल साड़ी पहनी हुई थी, गले में बड़ा मंगल सूत्र था और मोटी चैन पहने हुई थी.

वो तो बिल्कुल तैयार थी, ताजी ताजी नहायी हुई, उसकी गंध, होंठों पे लाईट शेड की लिपस्टिक, सफेद टी-शर्ट और प्लाझो पहन कर वो मेरा ही इंतजार कर रही थी. फिर बोली- सरताज, मुझे तुम्हारी हर बात मंजूर है, लेकिन मुझे छोड़ना मत!मैंने कहा- कब?उसने कहा- जब तुम चाहो!उसके बाद हम लोग मौके की तलाश में रहने लगे और फ़ोन पर सेक्स की बातें करने लगे. मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागयाराना-3में आपने पढ़ा कि कैसे हम दो दोस्त एक दूसरे की बीवी को लेकर बेडरूम में गए, लेकिन सिर्फ फोरप्ले के लिए, चुदाई के लिए नहीं… लेकिन उत्तेजना और कामुकता वश बात कहानी तक बढ़ गयी.

मैं अपने घर वालों को ऐसे ही चूतिया बना बना कर राम के लंड से चुदती रहती थी. रास्ते में मेडिकल स्टोर से से कॉण्डम का बड़ा पैकेट लिया और सेक्स टाईम बढ़ाने वाली गोलियां ले लीं.

इस तरह से धीरे धीरे बात को सेक्स की दिशा में घुमा दिया और कहने लगीं कि कोई बात नहीं. अब मंजू ने राज को बिस्तर पर गिरा दिया और उसके बदन पर किस करने लगी और मेरे हाथ मंजू की चुत में जा पहुँचे! मैं उसकी चुत को सहलाता जा रहा था और उसकी पीठ पर चूम रहा था. यहां मैं आपको एक बात बता दूँ कि जब कभी आपको अपनी पत्नी या गर्लफ्रेंड के साथ अकेले रहने का मौका मिले, सारे काम एकदम पूरी तरह नंगे हो कर कीजिए.

पंजाबी सेक्सी पिक्चर बताओ

जब उसका दर्द कम हुआ तो मैं अपने लन्ड को फिर से आगे पीछे करने लगा और बहन की चुदाई शुरू की.

मैं 2-3 मिनट तो चाची के ऊपर ही पड़ा रहा, फिर चाची ने मुझे उनके ऊपर से उठने को कहा. उसको एकदम झटका लगा देने से थोड़ा सा दर्द हुआ तो मैं उसके निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा और उसके होंठों को चूसने लगा. जैसे ही मैंने अपना लंड निकाला उस लड़की ने तेज़ी से करवट ली और मेरा लंड अपने मुंह में भर लिया और मेरे लंड को अपने होंठों से साफ़ करने लगी।मैं निढाल होकर बिस्तर पर गिर गया। मैं बहुत थक चुका था, लेकिन वो लड़की अभी भी वैसे ही चुस्ती फुर्ती दिखा रही थी, शायद यह हमारी उम्र का अंतर था।मैंने उसकी तरफ देखा… वो अपनी जीभ अपने होंठों पर फेर रही थी।बेटी… में थोड़ा आराम चाहता हूँ… मैं बहुत थक गया हूँ.

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, स्वाति ने इतनी जोर से आवाज की कि मुझे अपना हाथ उसके मुँह पर रखना पड़ा. वो चुदाई का सारा दर्द भूल गई और बहुत खुश थी कि उसकी चिंता जो कई दिनों से उसको खाए जा रही थी, अब ख़त्म हो गई. बीएफ वीडियो नंगी फोटोरास्ते में केमिस्ट से आईपिल ली और निशा को कॉल कर दिया कि होटल के बाहर आ जाओ.

अब की बार वह नीचे लेट गया और रितु उसके लंड पर बैठ गयी, जेम्स ने मेरी नंगी पत्नी के दोनों बूब्स को पकड़ लिया और रितु उसके लंड पर ऊपर नीचे होने लगी. फिर वो मुझसे अपनी टिकट दिखाते हुए पूछने लगी कि ज़रा देखो मेरा रिज़र्वेशन पक्का है कि नहीं?मैंने देखा उसका टिकट अभी कन्फर्म नहीं हुआ था.

फिर कुछ मिनट बाद हम दोनों झड़ने वाले थे तो मैंने उसकी गांड में ही सारा माल भर दिया. मैं जोर-जोर से आवाज करने लगी ‘ऊंहहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… वोहहहह…’मैं बोली- मनोहर और अन्दर लंड डाल कुत्ते भड़वे. मैंने देखा कि वो चुपचाप दूर खड़ी मुझे और मेरे फुंफकारते हुए लंड को देख रही थीं.

मैंने भी घर में बोला कि कॉलेज से सीधा दोस्त के घर जाऊंगा और कल सुबह ही आ पाऊंगा. सुबह के सात बजे थे, फिर पटना आ गया और हम लोग अपना सामान उठाकर गाड़ी से उतरे और स्टेशन से बाहर जाने लगे. ऐसी हसीन औरत उस दिन मेरे साथ उस हालत में थी, ये तो बस मेरा नसीब ही था.

मैं क्या करूं, यह बात मेरे दिलो-दिमाग से गुजर नहीं पाई है जब भी रीना दीदी को देखता हूं उनके स्वैपिंग करके दूसरे मर्द से चोदने की कल्पना पर मन अजीब सा हो जाता है और पता नहीं किस प्रकार की जलन मुझे होने लग जाती है.

मस्त पानी था उसकी चूत का… और फिर वह निढाल होकर मेरे ऊपर गिर गई, बोली- दीदी, आज तो चुदाई से ज्यादा मजा आपने लेस्बीयन सेक्स में दे दिया!और करीब 20 मिनट तक वह मेरे ऊपर लेटी रही. उस दिन भी मैंने और मामी ने खूब चुदाई करी, मेरी तो जान ही निकल जाती थी, मामी में बहुत दम था।जब उनकी बेटी वापिस आयी तो मैंने उसे समझाने की कोशिश की क्योंकि मैं उसे भी चोदना चाहता था.

फिर वो धीरे धीरे मेरी गर्दन से होकर मेरी चूची की तरफ बढ़ रहा था, मैं उसे रोकना चाहती थी. उसी वक्त मुझे उसका फूलता हुआ लंड अपनी चूत से टच करता हुआ महसूस हो रहा था, लेकिन मुझे डर भी था कि कहीं मेरा भाई ना आ जाए. मम्मों को चूसने के बाद उसने मेरी चूत में अपने एक हाथ की उंगली डाल दी और उंगली से ही मेरी चूत की चुदाई करने लगा.

अंकित बोला- तू तो बहुत बड़ी वाली हो गई वन्द्या, रंडी बन गई क्या?मैं बोली- हां तू कुछ भी समझ अंकित. मैंने भी ज्यादा देर ना करते हुए अपना लंड सोनम की चुत पर ले जाकर रगड़ने लगा. लेकिन मेरे दिमाग में ये भी सवाल आया कि इस आदमी के पैर दुखने लगेंगे तो ये इसके बाद मेरी गोद में आसानी से बैठ जाएगी.

बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ मेरी सास की चुदाई की इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागमेरी प्यारी चुदासी सासू माँ-1में आपने पढ़ा कि मैं अपनी सास के मुँह में अपना लंड डाल कर मजा ले रहा था. कल तुम किसी बहाने से सुबह दस बजे यहाँ से निकल कर आना, मैं रास्ते में मिल जाऊंगा.

ઓડીયા સેકસી વીડિયો

उसके बाद मैंने कपड़े पहनने शुरू किए और बाहर आकर उससे कहा- अरे तुम अभी नहाने नहीं गए, मैं तो सोच रही थी कि तुम अब तक नहा चुके होगे. मगर कहाँ करना है, ये मैं नहीं बता सकती क्योंकि मेरे पास कोई भी जगह नहीं है. तभी मनोहर मेरे सामने खड़े होकर अपनी शर्ट खोलने लगा और पैन्ट खोलकर नीचे उतार दिया.

वो मेरी बगल में आकर बैठ गया और मेरी तारीफ करने लगा- तू मुझे बहुत सुन्दर लगती है. जेम्स के मुकाबले मेरा लंड छोटा था पर मुझे भी तो पानी निकलना ही था, मैंने रितु को चोदना शुरू किया और उसकी दोनों टांगें अपने कंधे पर रख कर धक्के लगाने लगा. लंदन सेक्सी बीएफउसने पूछा- आप मैरिड हैं या अनमैरिड हैं?मैंने कहा- मैं अनमैरिड हूँ और मैं उसी होटल में रहना पसंद करता हूँ जहां पर मेरा यह इंतजाम हो जाता है.

इधर उत्साह के मारे मयूरी ने अपने बड़े भाई के लंड से निकले एक-एक बून्द वीर्य को चाट लिया और गले के नीचे गटक कर गयी, वो अपने बड़े भाई के इस प्यार को बिल्कुल भी जाया नहीं करना चाहती थी.

मैंने भी उन्हें जाने दिया क्योंकि कम से कम इन डेढ़ सालों में तो मुझे उनकी वजह से खुशी तो मिल पाई. इतना कहने के बाद मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी चुत पे अपना लंड सैट करके हल्का सा अन्दर डाला ही था कि वो चिल्लाने लगी और लंड निकलवाने के लिए रोने लगी.

ऊपर से वो आज इतनी प्यारी स्माइल कर रही थी कि बस मुझसे रहा ही नही गया. मैंने बहूरानी को हर रूप में देखा था, हर रूप में हर तरह से चोदा था उसे … पर ये वाला रूपरंग पहली बार ही देख रहा था. मैंने कॉलेज में दाखिला लेने के बाद कॉलेज के पास के ही मोहल्ले में एक रूम किराए पे ले लिया था.

उस दिन के बाद हर रोज़ उसकी नज़र सिर्फ मुझ पर और मेरे स्कर्ट पर रहती थी… और जब भी मैं फ्री होती तो वह मुझसे बातें करने लगता.

मैंने एक दिन भाभी के फिगर की तारीफ कर दी तो बोलीं कि लगता है विहान पढ़ाई में ध्यान नहीं है तुम्हारा?मैं जरा मुस्कुरा दिया तो फिर बोलीं कि मजाक कर रही हूँ और थैंक्स कह दिया. उस दिन आंटी लोग के बारे में एक बात समझ आई मुझे कि उनके हस्बेंड आते हैं 2-3 मिनट में पानी गिरा कर सो जाते हैं. कुछ दिनों में उनकी बहुत गहरी दोस्ती हो गयी और दोनों में मोबाइल पर मेसेज भी होने लगे.

एक्स एक्स एक्स सेक्स सेक्सी बीएफ वीडियोलेकिन उसकी आँखों में जो हल्की सी चमक आई थी वो मेरी नजरों से न छुप सकी. हाय दोस्तो, मैं कुमार, मेरी पहली कहानीबीवी की चुत की दिलखुश चुदाईआपने पढ़ी होगी.

बीपी व्हिडिओ कॉल

ये कहते हुए अनीता दीदी ने लैपटॉप पे चुदाई वाले फोल्डर को मेरे सामने ही ओपन कर दिया. वहाँ में कभी नहीं गया था क्योंकि उस वक़्त तक मेरा कोई भी मारवाड़ी दोस्त नहीं था. मैंने पूछा- क्यों?तो कहा कि मेरे घर पर अपने दोनों के बारे में सबको पता चल गया है.

सुबह के करीब 10 बज रहे थे, मम्मी बोली मैं नहाने जा रही हूँ!मैंने कहा- ठीक है, नहा लो!मम्मी करीब एक डेढ़ घंटे तक नहाती थी. अब हमें जब भी मौका मिलता है, मैं उसकी हेल्प करके उसको किसी न किसी बहाने बुला लेता हूं और हचक कर उसकी बुर को पेलता हूं. मैंने अभिलाषा से पूछा- आपने उससे क्या सेवाएं देने के लिए बोला है?तो अभिलाषा ने बताया कि वह इशारा समझ गई थी.

पर कोई बात नहीं जो एंजॉयमेंट मेरा हुआ, उसके लिए इससे ज्यादा भी दर्द मुझे हो तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता है. वो कार मेरे घर के एकदम पास ही एक कॉलोनी में गयी, जहाँ बहुत से मारवाड़ी रहते हैं. आंटी जिस जोश से चुदवा रही थीं, उससे ऐसा लग रहा था कि इनके लिए तो दो-तीन लंड भी कम हैं.

और फिर क्या करती?”मेरे इस सवाल से मंजू और उत्तेजित हो गयी और बोली- फिर मैं राज से चुदवाती!उसके मुख से यह सुन कर मेरे लंड का कड़कपन बढ़ने लगा!मैं- फिर?मंजू- फिर वो मेरे जिस्म को नोचता और तुम देखते मुझे उससे चुदते हुए!उसकी बातें सुनकर मैं मस्त हो गया, जोश में मैं बिस्तर में घुटनों के बल बैठा और अपने नितम्ब को अपने पैर की एड़ी पर टिका दिये, मंजू को पीछे की तरफ से अपनी गोद में बैठा लिया. हालांकि उसके स्तनों का आकार रीना से छोटा था लगभग 33″ लेकिन उसकी पतली कमर पर यह गोल स्तन कयामत ढा रहे थे।क्या कमर थी दोस्तो, अगर आप यह कमर देखना चाहते हैं तो आप बेशक कृति सेनन की कमर देख सकते हैं.

थोड़ी देर बाद हम दोनों ने एक दूसरे को छेड़ते हुए फिर से चुदाई शुरू की.

मैंने पूछा- क्यों?तो कहा कि मेरे घर पर अपने दोनों के बारे में सबको पता चल गया है. बीएफ वीडियो एचडी डाउनलोडवो अच्छे से तैयार हुई, उसने लो-कट ब्लाउज बैकलेस पहना जिसमें आगे से उसकी चूचियां आधी से भी ज्यादा नज़र आ रही थी और पीछे से उसका पीठ पूरा ही नजर आ रहा था. सांसों के बीएफमुझे सेक्स में गालियां देना और सुनना, नंगेपन की हद तक जाना बेहद पसंद है. वो जोर जोर से सिसकारियां ले रही थीं और उनके मुँह से आवाजें निकल रहीं थीं- उँह उंह आह आह.

कुछ दिन तक तो वो मुझसे दूर दूर रहने लगी तो मैंने सोचा कि शायद मेरा देखना उसे नहीं पसंद है तो मैंने उसे घूरना कम कर दिया.

मुस्कराया- आज करके ही जाओगे!देवेश बोला- आपकी जैसी इच्छा!सुमेर फर्श पर औंधा लेट गया और देवेश उस पर चढ़ बैठा, अपने मूसल जैसे मोटे मस्त लंड पर जम कर तेल मला और सुमेर की गांड पर टिका दिया और धक्का दिया तो सुपारा अंदर घुस गया. मैंने पूछा कि बोलो क्या करना है?तो राहुल ने बोला कि तुम्हें मुझको किस करनी होगी. और वो बूब्स और चूत में हुए एक साथ हुए हमले से वो अति उत्तेजित होने लगी और मेरे बरमुडे के ऊपर से मेरा लन्ड पकड़ कर दबाने लगी, उसे कभी भी लन्ड पकड़ना और चूसना पसंद नहीं था पर उस दिन उसे दोनों चीज़ एक साथ ही करना था शायद।जूही उठी और उठ कर मुझे नीचे लेटाया, अपनी लोअर उतारी और मेरे को पूरा नंगा कर दिया.

मैंने भी उन्हें जाने दिया क्योंकि कम से कम इन डेढ़ सालों में तो मुझे उनकी वजह से खुशी तो मिल पाई. बकायदा उन्होंने मेकअप किया हुआ था, बालों का जूड़ा बांधा हुआ था, निचले हिस्से की लट पूंछ की शक्ल में जूड़े से लटक रही थी और भाभी के चलने पे इधर उधर को मटक रही थी. मैंने उसके मुँह पर से हाथ हटाया और दूध सहलाते हुए कहा- तुम बहुत सुंदर हो.

सेक्सी व्हिडिओ न्यू एचडी

इधर मल्होत्रा अंकल मेरी गांड पर थप्पड़ मारने लगे थे, वे मुझसे बदला ले रहे थे कि मैंने उनको शुरू में इंकार किया था इसीलिए वे पूरे गुस्से से मेरी गांड मार रहे थे, मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था लेकिन मैं अपने पापा के लिए सब कुछ बर्दाश्त कर रही थी. पर उसने अभी ऊपर से ही हल्के धक्के मारना शुरू किया और लंड थोडा सा ही चूत के अन्दर जा रहा था. मैं पूरी जीभ डाल कर उनकी चुत को चाटने लगा और चूचियों को हाथ से मसलने लगा.

मैंने मामी जी से कहा आपके नितम्ब बहुत ही बड़े बड़े हैं, तो आप अपने हाथों से उन्हें चौड़ा कीजिए.

हमारे पैंट में तने लन्ड देख के वो हँसी, बोली- लड़को… इतने में यह हाल, पूरा देख लिया तो पैंट ना फट जाए?वो अपनी पीठ हमारी तरफ करके खड़ी हो गयी.

आज तक कई महिलाओं के साथ मेरे शारीरिक संबंध बने लेकिन उन में कोई भी ऐसी नहीं थी, जो मुझे डॉमीनेट करे. दूसरे दिन शाम को मैं अपने घर आने को निकला, तो उसने मुझे 3000 रूपये दिये. कुत्ता घोड़ा का बीएफ7 इंच का लंड बाहर निकल आया।नेहा आंटी ‘सो बिग…’ कह कर मेरा लंड जोर-जोर से हिलाने लगीं। अगले ही कुछ पलों में मेरे लंड को आंटी ने अपने मुँह में रख लिया और चूसने लगीं।यह मेरा फर्स्ट टाइम था इसलिए मैं जल्दी ही झड़ गया।उन्होंने कहा- इतनी जल्दी?तब मैंने जवाब दिया- इट्स माय फर्स्ट टाइम.

वह तो लगभग छः महीने पहले दतिया बस स्टैंड पर रामसुख के उस्ताद दादा ( मेरी पिछली कहानीगांड चुदाई के शौक का माराके पात्र) ने गलतफहमी में मेरी मार दी. पूरे बीस मिनट तक मुझे कुतिया सा समझ कर चोदा और अचानक सुरेश जी की गति बढ़ गई. तभी मैं सहलाते सहलाते अपना हाथ उसकी पेंटी के ऊपर ले गया, जहां उसकी चूत पहले से ही भट्टी के जैसी गर्म थी.

मैंने बुआ से पूछा कि उन्होंने और किस किस से करवाया है… तो बुआ ने मुझे कुछ किस्से सुनाए. वासना और प्यार से परिपूर्ण यह हिंदी सेक्स कहानी आपको कैसी लग रही है, प्लीज़ मुझे मेल करें.

मैंने कहा- उसको चाट लो, बहुत अच्छा लगेगा!वो बोली- दीदी, मैंने कभी चाटा नहीं है, क्या आप चाटती हो?मैंने कहा- हाँ, बहुत अच्छा लगता है।फिर मैं उठी और अनुप्रिया की चूत को खूब चाटने लगी.

नलिन गुस्से से पागल हो कर बोला- यह लड़की बेशर्मी की सारी सीमाएं पार कर चुकी है! मम्मी जी इससे कहो कि ये अभी मेरा घर छोड़ दे … चली जाए यहाँ से!मम्मी बोली- बहू कहीं नहीं जायेगी … यह अपनी जगह सही है. धीरे-धीरे हमारी खुलकर बातें होने लगीं और मुझे उसके साथ बातें करने में अच्छा लगने लगा. मुझे विचार आया कि साला बूढा सच में निशा की चुत में लंड घुसा कर चोद रहा था.

सेक्सी वीडियो दीजिए सेक्सी बीएफ मुझे लग रहा था कि शायद भाभी मुझे और भी ज्यादा फंसाने के मूड में हैं. मैंने कहा- ठीक है, दे दो!फिर मुझे लगा कि इस लड़की के दिल में भी मेरे लिए कुछ है अगर कोशिश कि जाए तो लडक़ी जल्दी ही पट जाएगी और मेरी सारी ख्वाहिशें पूरी हो जाएगी.

मेरा उसके घर पर आना जाना था, तो रवि की वाइफ मतलब मेरी भाभी से भी मेरी अच्छी दोस्ती हो गई. कुछ देर मेरा मुख चोदन करने के बाद मेरी चूचियों को चूसा और बोला कि चल तेरी चुत को भी चूसने का मजा देता हूँ. इसके बाद तो जैसे कुदरत हम पर मेहरबान हो गयी थी, उस टाइम एक महीना हम दोनों एक दूसरे के साथ रहे और फिर थोड़े दिनों बाद राखी पर भी उन्होंने मुझे एक दिन के लिए रहने को बुला लिया था.

हिंदी सेक्सी फोटो ओपन

’मैंने कहा- रेखा जी जो बातचीत करनी है वह रेस्टोरेंट में नहीं हो सकती… उसके लिए तो कमरा ही चाहिए… रेस्टोरेंट में करनी होती तो वहीं कर लेते न… यहाँ क्यों आपको आनेकी तकलीफ देता. दूसरे हाथ से वो मेरे लौड़े को इतनी जोर से मसल रही थी कि मैं कराह उठता. वे बेचारे क्या जानें कि जो मज़ा ये देहाती हुस्न देगा उसका मज़ा, उसकी लज्जत उसका जायका ही अलग होगा.

कुछ देर बाद उसकी चूत में उंगली डालने की कोशिश की, तो देखा वहां से खून निकल रहा है. डॉक्टर को मैंने कह दिया था कि उससे 1000 रूपए फीस के माँगना, वो नहीं दे पाएगी.

मैंने जब टिकट लिया था तो वेटिंग में थी लेकिन मेरा टिकट कंफर्म हो गया, मैं अपनी सीट पर जाकर बैठ गया.

पूरा बेड हिल रहा था चू चू की आवाज़ के साथ… उसका मखमली जिस्म मेरे जिस्म से चिपका था, हम दोनों पसीने के सने चिपके पड़े थे, थप थप की आवाज़ पूरे रूम में गूँज रही थी. करीब एक घण्टे बातें करने के बाद वो फिर से कॉफी बनाने जाने लगीं, तो मैंने उन्हें रोक लिया, मैंने कहा कि इस बार कॉफ़ी में बनाऊंगा. मैं भी कुछ देर बाद अपने रूम में चला गया और जा कर मैंने आंटी के नाम की मुठ मार ली.

बस 5-6 मिनट तक चूसने के बाद वो बोलीं- हनी अब रहा नहीं जा रहा, फक मी बेबी. मैं अपने दोस्तों और सेक्सी भाभी और सभी जवान हॉट लड़कियों को धन्यवाद करता हूं कि वो सब मेरी स्टोरी पढ़ कर मेल करते हैं. ये एक ऐसा माध्यम है जिसमें हम अपनी आपबीती आप सबके आगे प्रस्तुत भी कर देते हैं और हमें किसी भी प्रकार का परिचय किसी को नहीं देना पड़ता है.

मेरे लंड से पिचकारी की भांति मेरे सफेद माल की धार बह निकली और सामने की दीवार को वीर्य ने सराबोर कर दिया.

बिहार का देहाती सेक्सी बीएफ: मेरे धक्कों से और उनकी गांड उछलने से हमारे बदन की घर्षण से ठप ठप की आवाज़ और हमारी सीत्कारों की आवाज गूंज रही थी ‘आहह आहह श इस्स यस्स. उसने मुझे फिर से आई लव यू बोला और किस करके बाद में बात करते हैं, कहकर फोन कट कर दिया.

मैंने पूछा- और बच्चे?तो भाभी बोलीं- वो सो गए हैं और सुबह से पहले नहीं उठने वाले हैं. तो तुम चले जाओगे क्या डिलीवरी लेने अपनी आंटी के साथ? क्योंकि तुम्हारी आंटी को चलाना नहीं आती है. उसकी बात सुनकर मैं चुप रहा तो वो फिर से बोला- उनको बोल दे, मुझे टाईम लगेगा, वो वहीं पे रूके.

मैं सामने लगे बड़े शीशे में राज और मंजू ओर खुद को पूरा नग्न देख पा रहा था.

मेरी ग्रुप सेक्स कहानी के प्रथम अंशकिरायेदार ने दोस्तों से मिल कर मुझे चोद डाला-1में आपने पढ़ा कि मेरे पति ने घर में एक जवान लड़का किरायेदार रख लिया क्योंकि वो अक्सर घर नहीं रहते थे. मेरी सेक्स स्टोरी के पिछले भागबीवी को गैर मर्द के नीचे देखने की चाहत-2में आपने पढ़ा कि मैं संजू अपनी बीवी मंजू को गैर मर्द राज से चुदवाने ऋषिकेश ले गया था. मैंने खूब सारी वैसलीन रचना की चुत में लगा दी और थोड़ी अपने लंड में लगा ली.