बीएफ मां बेटे की बीएफ

छवि स्रोत,भोजपुरी सेक्सी पूरा

तस्वीर का शीर्षक ,

एचडी सेक्सी फिल्म चाहिए: बीएफ मां बेटे की बीएफ, यह देख उसको हंसी आ गई, मैंने साहस करके दुबारा से उसके चेहरे को अपने हाथों में लिया और सहलाना शुरू कर दिया.

फुल सेक्सी पिक्चर का वीडियो

जिनके साथ लड़कियाँ नहीं थी वो ललचाई नजर से और लड़कियों को देख रहे थे. गुड़िया गुड़िया की सेक्सीमैंने उस घटना को मजेदार बनाने के लिए मसाले या झूठ का सहारा नहीं लिया.

पापा इस मैक्सी में मैं कैसी लग रही हूँ?गुलशन- वाह बहुत अच्छी लग रही हो मगर ये तो वो पुरानी वाली है ना?सुमन- हाँ पापा मगर ये पतली है. एक्स एन एक्स एक्स सेक्सी हिंदीअब तो बस मेरे दिमाग मैं उसका मोटा ताजा लंड लंड ही घूम रहा था, मैं इसी जुगाड़ में था कि इसका लंड अब कैसे लिया जाये.

जो दोस्त फेसबुक से जुड़े हैं वो मुझे अपनी फेसबुक आई डी ईमेल कर सकते हैं, मैं उन्हें खुद रिक्वेस्ट भेजूंगा.बीएफ मां बेटे की बीएफ: मैंने एक झटके से गिलास उठा कर अपने हलक से उतार लिया और उसके हाथ से सिगरेट लेकर दो लम्बे कश खींचे और गांड मटकाते हुए टेबल से ब्रा-पैंटी और नाइटी उठा कर वॉशरूम में वापिस आ गयी.

और उसने दराज से एक लंबा सा स्ट्रैप ऑन डिल्डो निकाला और ऊँचा करके मुझे दिखाया।उसे देखकर मेरी आँखें फटी की फटी रह गयी.कमरे में आते ही मैंने टॉयलेट के दरवाजे की खुली झिरी से उनकी नंगी जवानी को देखने की प्यास बुझाई.

सेक्सी वीडियो अच्छी लड़की का - बीएफ मां बेटे की बीएफ

आपको याद होगा जब गाँव जाने के पहले गोपाल और मोना का झगड़ा हुआ था, ये उसी दिन मोना से मिलने आई थी.ये देख कर मेरा बुरा हाल हो रहा था और इसलिए मैं वहीं पर अपनी चुत में उंगली करने लगी और अपना पानी झाड़ दिया.

मैंने हिम्मत करके दीदी की जाँघों पर हाथ रखा और मसला लेकिन कोई हरकत नहीं थी. बीएफ मां बेटे की बीएफ एक टांग शोल्डर पे रख के फिर डालो अंदर तो लगता है कि टांग की तरफ चला गया है, अंदर हड्डी में लग रहा होता है जाकर ना…वो भी अपना मजा देता है.

मैं पापा से बोली- ये क्या है?पापा बोले- अरे सुमि इसको इंग्लिश में पेनिस और हिंदी में लंड कहते हैं.

बीएफ मां बेटे की बीएफ?

वो तो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थीं, जैसे उन्हें कभी ऐसा लंड चूसने को मिला ही ना हो. जमीला- रफीक तो अभी गया कोई जरूरी काम से ऑफिस बुलाया है रात तक आएगा और देखते है मौका मिलेगा तो आएंगे. थोड़ी देर ये दूरदर्शन चलता रहा, फिर टीना ने एक पासा फेंका- यार बरखा तुम बहुत लकी हो.

वह प्यार से दोनों हाथों से रमेश को पकड़े हुए थी, वह ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह इह्ह ओह्ह ह्ह ओहह्ह चाचू आह्ह ह्ह्ह इह्ह… और ज़ोर ज़ोर से दबाओ’ बोल रही थी. शाम को मेरी मुलाकात राहुल से हुई, 35 वर्षीय राहुल शांत स्वभाव का था, उन दोनों को देखकर ही लगता था दोनों में प्यार बहुत है!ऋतु बहुत खुले विचारों वाली कमसिन महिला है. कुछ देर बाद उसने अपनी पकड़ ढीली की और मैंने उसका लंड चूसना शुरू किया.

‘सविता भाभी आप परेशान न हों, आपके पास इतना जबरदस्त हुस्न है, आप अशोक को जरूर खुश कर दोगी. जब चाचा चाची को छोड़ने गए, उस दिन दीदी और मैं बिल्कुल अकेले थे, उस दिन मैं कॉलेज से आया तो दीदी बाजार जाने के लिए तैयार होकर बैठी थीं. नेहा तो आँखें बंद करके मुँह खोल के तेज़ तेज़ साँसें ले रही और मज़े ले रही थी।थोड़ी देर बूब्स पर लौड़ा रगड़ने के बाद उसके ऊपर से उठा और फिर किस करने लगा, किस करते करते नेहा की चुत पर आ गया, उसकी पेंटी उतार कर जैसे ही चुत पर मुँह लगाया वो उछल गई ‘आह आह आअह आ.

अब हम दोनों जंगली हो चले थे सब्र किसी में भी नहीं था… मैं उसकी साड़ी उतारने लगा तो उसने मना कर दिया, उसने कहा- कोई आ भी सकता है, साड़ी नहीं खोलूंगी. ज़्यादा टेंशन मत लो, इस बात में मैं कोई सस्पेंस नहीं रखूँगी क्योंकि और कहीं कुछ ऐसा नहीं जो आपको बताऊं तो चलो इस राज को आप लोग जान ही लो कि ये क्या चक्कर है.

लंड क्या घुसा, उसके मुँह से एक चीख सी निकलने को हुई, जो मेरे हाथ से दब कर रह गई.

मिलते ही अंकल बोलने लगे कि मैं कितना बड़ा हो गया हूँ, मुझको उन्होंने बहुत पहले देखा था.

उसके जाते ही मैंने बहूरानी को बांहों में भर लिया और उठा कर बेडरूम में बेड पर लिटा दिया. !मैंने जल्द से उसके एक चूचे को अपने मुँह में भर लिया और उसे चुसकने लगा. अब सबीना टॉवल स्टैंड को पकड़ के पीछे को झूल गई जिससे जमीला सबीना की चुची भी चूसने लगी अभी किस करती कभी चुची दबाती कभी चुचियों को चूसती.

फिर मैंने उसको बोला- मेरा लंड चूस पहले!तो उसने मना किया, पर मेरा ज़ोर डालने पर उसने बोला- ठीक है. तभी पापा ने लंड बाहर निकाल लिया, मुझको लगा जैसे मेरी चुत की सबसे प्यारी चीज छीन ली गई हो. वो बात जाने दो उसके बाद होश संभालने के बाद भी तो कुछ किया होगा?फ्लॉरा- हाँ यार, पहले तो पता नहीं था मगर बाद में तो तुम जानती ही हो मज़ा आने लगता है।टीना- हाँ यार, ऐसा मज़ा आता है कि सब मज़े उसके सामने फीके होते हैं।फ्लॉरा- मज़ा तो मैंने भी बहुत किया मगर एक साल से ये सब बंद हो गया।टीना- क्यों यार क्या हुआ कि पूरा एक साल निकाल दिया.

मजा तो बड़े लण्ड से ही आता है, आपका लौड़ा तो चूत का भरता बना देता है.

मैं थोड़ा और गिड़गिड़ाया और बोला- चाची मैं, मैं… मुझे माफ कर दीजिए चाची… आप माँ को नहीं बताना. अब उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया जिससे उसके बदन की गर्मी से मैं और भी कामुक हो गया और सिसकारियाँ लेने लगा. जब सोनू को पता लगा कि मैं नंगा हूँ तो उसने मेरे ऊपर की चादर एक ओर खींचकर उतार दी और अपना टॉप ऊपर कर मेरे ऊपर चढ़ गई.

उस रात रिया ने मुझे सोने नहीं दिया, बदल बदल कर हमने अपने सारे छेदों की चुदाई रात भर की. उसने सारा चुत रस जीभ से चाट कर साफ किया और फ़ौरन वो सुमन की टांगों के बीच बैठ गया, जिसकी उम्मीद सुमन को नहीं थी. मेरी दीदी की चुदाई स्टोरी उस समय की है, जब मैं अपने चाचा के यहाँ ग्रेजुएशन करने दिल्ली गया था.

इन दोनों ने उसे हैलो किया, फिर उसके पास खड़ी हो गईं संजय बस सुमन को निहारता रहा.

फिर मैंने उसकी नाइटी उतार फेंकी और देखा कि उसने नीचे पिंक कलर का ब्रा और पैंटी का सैट पहन रखा था. उसी दौरान मेरे घर पर बहुत बड़ा हादसा हुआ, जिससे मैं पूरी तरह टूट गया था.

बीएफ मां बेटे की बीएफ पण्डित जी ने इस बार जोरदार साथ दिया और मेरे होठों का खूब रसपान किया. ’तभी मैंने टीवी की ओर देखा तो पता चला कि वो मादरचोद लड़का उस लड़की की छोटी से चुत में अपना घोड़े सा लंड घुसा रहा था.

बीएफ मां बेटे की बीएफ वो ढीली हो गई थी, मैं उसे जोर-जोर से चोदने लगा और कुछ मिनट बाद मैं उसकी चुत में झड़ने को हो गया. ‘इह्ह्ह ओह्ह्ह ह्ह्हह्ह ओह्हह्ह आआ ओ ओ ओ इ इ’ कहते हुये सरिता ने रमेश के हाथ को पकड़ लिया.

रिपोर्ट भी देनी पड़ती है! और शुरुआत में फीस भी इतनी ली जाती है कि सामान्य आदमी यहाँ जाने की भी नहीं सोच सकता।मैंने दिल ही दिल में वहां का मंजर देखते हुए कहा- यार, जाना चाहिए एक बार यहाँ! तेरी खुजली तो मिट जाएगी कम से कम!रिया झट से उछलकर मेरे पास आयी और अपने हाथ से मेरे मम्मे रगड़ कर बोली- चल फिर चलती हैं दोनों! पूरी पार्टी में एक भी लड़के को कुंवारा नहीं छोड़ेंगी हम!हम दोनों खिलखिला कर हंस पड़ी.

सील तोड़ने वाली बीएफ मूवी

उनके मुख से सिसकारियों की आवाजें निकलने लगी और एक झटके से उनकी ब्रा को निकल कर उनके जिस्म से दूर फेंक दिया मैंने. मैं बोला- मैं समझा नहीं?भाभी ने मेरे हाथ पकड़ कर मुझे अपनी ओर खींचा और मुझे अपनी टांगों में फंसा लिया. तुम क्या मज़े ले रहे थे, तब क्यूँ नहीं रोका?मैंने उसे अपनी ओर खींचते हुए कहा- अब वो सब बातें छोड़ो जानू.

वो तो अपना लंड भी मुझे चूसने नहीं देता, कहता है गन्दी बात होती है!’ रानी थोड़ा तैश में आके बोली. भाभी की छातियाँ उनके सांस के साथ ऊपर नीचे हो रहीं थीं और साथ ही मेरे लण्ड में भी कसाव आना शुरू हो गया था. जब मैं और बहूरानी घर में अकेले होंगे तीसरा कोई नहीं होगा तो क्या मैं या वो अपने पर काबू रख सकेंगे?शायद नहीं.

उस वजह से मेरा तौलिया काफ़ी लूज हो गया, जिसका मुझे ख्याल ही नहीं रहा.

भाभी ज़ोर से चिल्ला पड़ीं- आआह… अह… नहींइ… बहुत दर्द हो रहा है… निकालो. ऐसे करने से रानी की आँखें नशीली हो चलीं और वो बिस्तर पर पैर फैला कर लेट गई. आप दुनिया के सबसे अच्छे पापा हो।सुमन ने गुलशन जी को इतना कस कर पकड़ा हुआ था कि उसके चूचे वो अपने सीने में धंसते हुए साफ महसूस कर रहे थे। फिर इस वक्त उन्होंने सिर्फ़ बनियान और लुंगी ही पहनी हुई थी, जिससे जवान जिस्म की गर्मी उनको पागल बना रही थी। उनका लंड तन गया था और सुमन की नाभि को चुत समझ कर उसमें घुसने की कोशिश कर रहा था।सुमन को इस बात का अहसास हुआ या नहीं.

छुट्टियों में मैं अपनी मम्मी को लेकर मेरे पापा जी के एक बहुत ही अच्छे मित्र के यहाँ पर सात साल बाद घूमने गया था जो इलाहाबाद में रहते हैं, उनका नाम देवेन्द्र है. जब उन्होंने टी-शर्ट और ऊपर की तो वो समझ गए कि सुमन ने ब्रा नहीं पहनी है. मैं इससे पहले कहीं गया नहीं था इतनी रात को तो थोड़ा फट भी रही थी लेकिन फिर सोचा कि अगर आज नहीं गया तो पता नहीं कब मौका मिलेगा.

उनकी साड़ी थोड़ा ऊपर होने से उनकी सुंदर गौरी, सुडौल पिंडलियाँ भी नंगी हो गई थी. फिर मैंने धीरे से अपने पैरों से पेटीकोट ऊपर को किया और हल्के से बार-बार टच करने लगा.

वो सिसकते हुए बोल रही थी- ओह बेटा, ऐसे ही, हाँ ऐसे ही चोदो, अपनी माँ को ओह ओह हाँ हाँ और जोर से, बस पूरा पूरा पेल के आह आह हां बेटा उईई ईईई आईई इसी तरह से ज़ोर-ज़ोर से धक्का लगाओ, इसी प्रकार से चोदो मुझे… आह… सीईईई. भाभी ने मेरी नाइट वाली टी-शर्ट और बनियान निकाल दी और मेरे सीने को सहलाने लगीं. वह बोली- मुझे घोड़े ही पसंद हैं जो खूब तेज भागें, बस भागते ही रहें!मैं समझ गया कि वह चुदाई की बात कर रही है ताबड़तोड़ चुदाई.

शरीर इतना नाजुक कि मानो रुई की तरह दब गई मेरे शरीर के दबाव में… एक कामुक आह निकली सरिता के मुंह से, एक पल के लिए सरिता ने डर कर मेरी तरफ देखा फिर मुस्कुराई और फिर दुकान वाले से चाय लेने लगी.

मैंने भी आव देखा ना ताव, उसके सूट को पूरा उतार दिया और अब मेरे हाथ उसके दोनों चूचों को मसल रहे थे. शादी में पहुँचने पर सविता भाभी अपनी सहेली ममता से मिलीं और उसे बधाई दी. जब मेरे लंड से पानी निकलने को होगा तो मैं बता दूंगा और आप लंड को बाहर निकाल देना.

मोना समझ गई थी कि नीतू को ज़्यादा कुछ पता नहीं है, ये कोरा कागज है. मैंने घर लॉक किया और अनुराधा को बांहों में उठा कर सीधा बेडरूम में ले आया.

मैंने लंड को अपनी ओर खींचा तो उसकी चमड़ी पीछे को हो गई और लंड का सुपारा दिखने लगा. उसके बाद इधर-उधर की बातें करने के बाद संजय खाना ख़त्म करके ऊपर चला गया और रोज की तरह पूजा भी पढ़ाई के बहाने ऊपर चली गई. क्योंकि पहली बार मैं ये सब कर रहा था तो डर के मारे मेरा गला सूख रहा था.

सेक्सी हिंदी बीएफ ब्लू पिक्चर

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:एक लंड और पूरे परिवार की चुदाई-2.

हुआ यूं कि सविता भाभी एक दिन अपनी सहेली शोभा के साथ कुछ कपड़े खरीदने एक मॉल में गईं, उधर काफी देर तक कपड़े देखने के बाद उन्होंने अपनी खरीददारी पूरी की. गोपाल ने जल्दी से कपड़े पहने और मोना के पीछे वो भी गया, तब तक नीतू ने भी कपड़े पहन लिए थे. मैंने उसे लंड चूसने कहा, लेकिन बहुत मनाने के बाद उसने थोड़ा सा लंड चूसा.

अगल दिन उन्होंने फेसबुक पर बात करने की इच्छा ज़ाहिर की तो मैंने दो नये फेसबुक अकाउंट बनाकर एक उनको दे दिया और एक से मैंने लॉग इन किया. मेरे हाथ जमीला की चूचियों पर थे और जमीला ने सबीना की चूचियों को पकड़ा हुआ था. इंडिया सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियोमैं ये कहकर जाने लगा तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- प्लीज़ मत जाओ.

दोनों का फुव्वारा साथ में छूटा मगर इस बार सुमन जोश में थी तो मॉंटी का सारा रस वो गटक गई और अपनी चुत का रस अपने हाथ पे लेकर वहीं ज़मीन पे निढाल होकर बैठ गई. जल्दी ही सोनू ने मेरा सिर अपनी जांघों में जकड़ लिया और आ … आ … करके खलास हो गई.

अब यश अपने मेरे निप्पल चूसते हुए मुझे झंझोड़ रहा था, मेरे दूसरे मम्मे पे तड़ातड़ चांटे मार रहा था. पूजा ने हल्की सी मुस्कान दी और लंड पर सूसू करने लगी, जो संजय को बहुत अच्छा लग रहा था. फिर मैंने वो वीडियो देखा और अर्जुन की पूरी हरकतें एक वीडियो फ़ाइल में सेव कर लीं.

मानसी अपनी अधखुली आँखों से मुझे प्यार से देख रही थी और उसका पूरा शरीर काँप रहा था. उस दिन मेरी बहनें स्कूल चली गईं और मैं सर दर्द का बहाना बना कर स्कूल नहीं गया. वो उसे ऐसे चूस रही थी जैसे मेरा लंड हो… पूरी तरह से वो मुझे पीना चाहती थी.

मैंने उनका हाथ अपने कंधे पर रखा और उनके कमर को पकड़ कर उन्हें बेडरूम तक ले जाकर बिस्तर पर लिटा दिया.

मैं समझ गई कि मामा अब मेरी चूत में उंगली करने वाले थे, मैं बोल उठी- आपको जो करना है जल्दी करो, कभी भी मेरी चूत से सू सू निकल सकती है, मेरी चूत की चुदाई कर दीजिए. फिर अपनी लुंगी खोल कर अपना घोड़े जैसा लंड मम्मी की आँखों के आगे लहराने लगे.

उस समय मेरा डर तो काफी कम हो चुका था किन्तु मुझे बहुत आत्मग्लानि हो रही थी. तकरीबन 10 मिनट बाद वो झरने को आया तो बोला- निकी, अब मेरा छूटने वाला है. गुलशन जी मंजे हुए खिलाड़ी थे और सुमन नादान कली थी, उसको तो मज़ा आना ही था.

हमें जब तक फ्रेशर नहीं मिल जाता था क्लास के लड़कियों से बात करना भी मना था. बस एक बार शुरू हुए नहीं कि फिर सब जान-पहचान हो जाएगी और अतुल की टेंशन मत लो, उसको भी साथ ही लेंगे यार. फिर उन्होंने मुझे कहा कि वो आज के इस दिन को एक यादगार दिन बना कर जीना चाहती है और हमारे पहले मिलन को हमेशा याद रखना चाहती है.

बीएफ मां बेटे की बीएफ फिर हम दोनों एक साथ अपना पानी छोड़ने वाले थे तो मैंने उससे पूछा- अन्दर ही छोड़ दूँ?उसके कुछ कहने से पहले ही सारा का सारा माल उसकी चूत में ही निकल गया और मैं उसके ऊपर ही लेट गया. वो मुझे 10वीं में इंग्लिश पढ़ाया करती थीं। उन्होंने जब मुझे बुलाया तो मैं चला गया।टीचर ने पूछा- आर्यन, तुम कैसे हो?मैंने कहा- मैं ठीक हूँ मेम.

जाट वाली बीएफ

मोना की बात सुनकर गोपाल बहुत खुश हो गया था और उसने मोना को बांहों में भर लिया, उसको चूमने लगा. मैंने पापा से कहा- पापा सांप आपकी अंडरवियर में घुस गया है, इसको भी निकालो. करीब 10 मिनट उनकी चूची को शहद लगा कर चूसने के बाद अब मैं धीरे-धीरे नीचे आना चाहता था लेकिन एक बार फिर मैं उन्हें किस करना चाहता था।मैं उन्हें किस करने लगा.

मनोज आया, हमने चाय पी और निकल लिए!मैंने पूछा- भैया, कैसा रहा तुम्हारा आज का पेपर?वो बोला- अच्छा रहा भाभी!और ऐसे ही बातें करने लगे. ये सोचकर उसके निप्पल हार्ड हो गए, चुत में खुजली होने लगी मगर उसने अपने आप पर काबू रखा. सेक्सी पिक्चर दिलवालामैंने महसूस किया कि शहज़ाद का ध्यान मूवी में नहीं था और वो बैचैन भी महसूस कर रहा था और बीच-बीच में चोर निगाहों से मुझे देखने की कोशिश भी करता.

मैंने महसूस किया कि बीच-बीच में मेरे लंड का सुपारा चाची की चूत के छेद में फस जा रहा था.

वह भी जरूरत पड़ने पर मुझे जगाती थी, बहुधा मैं जाग ही जाता था, फिर भी नीलम का स्पर्श पाने के लिये सोने का नाटक करते हुए बिस्तर में पड़ा रहता था. काफी देर से लंड खड़ा होने की वजह से जल्दी ही मेरे लंड ने लावा उगल दिया.

नताशा के मुंह के ठीक नीचे मेरी पैंट की जिप होने कि वजह से मैं उसकी गर्म सांसों को अपने लिंग पर अनुभव करने लगा और उत्तेजित हो उठा. नाश्ते के बाद हम जैसे रूम में आयी तो हमें मेरी हमारी राह देखती नजर आयी. शाम आठ बजे बुआ जी मुझे खाना के लिए बुलाने आई… किन्तु मैंने खाना खाने से मना कर दिया.

वैसे भी एक बार मैं झड़ चुका था और मेरा लंड दुबारा से एकदम लोहे की तरह कड़क हो चुका था.

तभी उसने बेड स्विच से लाइट ऑन कर दी, मैंने घबरा कर अपनी आँखें बंद कर की और अपने हाथों से अपने बूब्स को ढक लिया, अपनी दोनों टांगों को एक दूसरे से क्रॉस करवा कर अपनी चूत को भी ढक लिया. मोना की बात सुनकर गोपाल बहुत खुश हो गया था और उसने मोना को बांहों में भर लिया, उसको चूमने लगा. लेकिन आदमी तो आखिर आदमी है, मैं ज्यादा देर तक संयम न रख सका और मैंने धक्के मारने शुरू कर दिए.

सेक्सी देहरादूनवैसे तुम्हारे कितने बड़े हैं?तो वो शरमा कर बोली- तुम यकीन नहीं करोगे. रिसोर्ट पे आपके ऊपर कोई भी पाबन्दी नहीं होगी। आप जैसे चाहो वैसे ये तीन दिन जी सकती हो। हमारा मसाज और स्पा 24 घंटे खुला रहेगा और आप जब चाहे ये सेवायें ले सकती हैं.

बीएफ 16 साल की लौंडिया

मैंने मेनका के सौन्दर्य के बारे में सुना था कि वो स्वर्ग की सबसे सुन्दर अप्सरा थी पर आज ऐसा लग रहा था कि अगर कोई अप्सरा है जमाने में तो इससे खूबसूरत कोई नहीं हो सकती. ऐसा लग रहा था कि जैसे वे मुझे अपनी चूत में समा लेना चाह रही हों।उसके बाद उन्होंने मुझे कहा- यार … अब बर्दाश्त नहीं होता. फिर तो चुदाई का जो मजा आया वो शायद मैं शब्दों में भी ब्यान नहीं कर सकता.

मजा तो बहुत आ रहा था लेकिन मुझे चुदाई के लिए भी बेचैनी बहुत हो रही थी. सामने खड़ा रुस्लान बेतहाशा हुंकारता हुआ भक्काड़ा हो चुकी गांड में अपने लंड को पूरा बाहर निकालता हुआ अन्दर घुसेड़ने लगा था. आप सोच रहे होंगे मैं ये किस तरह कहानी बता रही हूँ तो दोस्तो इसका जवाब मैं लास्ट में आपको दूँगी.

लटकने की वजह से उसके मम्मे काफी बड़े लग रहे थे और मेरी हथेली में भी नहीं आ रहे थे. चुदाई का आलम ऐसा छाया कि मैं जो मुँह मैं आया वो बकने लगी- सीईई सीईईई आअह्ह ह्हह… आहहह आःह्ह्ह आःह्ह्ह आह्ह आह्ह्ह्ह बाहर निकालो इसे, प्लीज इसे बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है, आह्हज आईईई आह्ह्ह उह्ह्ह आह्ह्ह, प्लीज! धीरे चोदो बहुत दर्द हो रहा है, आह्ह्ह अहह आअह्ह!पता नहीं मैं कितना चिल्लाई मगर पीटर को मुझ पर बिल्कुल दया नहीं आई. लंड पर मामी के हाथ के स्पर्श से मुझमें एक अजीब सी सिहरन हुई, पर धीरे-धीरे मुझे भी मजा आने लगा.

लड़की ने बताया:देखो, मैं बेड के ऊपर झुक जाऊं, बेड पे अपने हाथ रख के ना दोनों, अपनी कमर झुका लूँ, और आप मेरी कमर को पकड़ो, और अपना वो जो है ना… मेरे फ्रंट में डालो. मेरी फैमिली में मेरे मामी-पापा और मेरे भाई के अलावा मेरी 3 चाचा और 3 चाचियां भी हैं.

गुलशन जी की बात सुनकर सुमन को बहुत दुख हुआ और वो अपनी माँ को कोसने लगी.

ऐसे ही शादी का दिन आ गया, हम सब नाचते हुए मंडप में पहुँचे तो दूल्हे के स्वागत के लिए दुल्हन की पूरी फॅमिली बाहर खड़ी थी जिसमें दुल्हन की सिस्टर भी थी जो बहुत प्यारी लग रही थी. चालू सेक्सी नंगीफिर अंकल आंटी से मैंने थोड़ी बहुत बात की और शांत हो गया, मम्मी आंटी अपनी बातें करने लगी. तीन नंबर सेक्सीवो बोली- अरे नहीं सर, मैं यहाँ मज़ा लेने नहीं, आपको मज़ा देने आई हूँ, आप का जैसे दिल करे, आप करो. मैंने भाभी के दोनों मम्मों को चाट चाट कर अपने थूक से एकदम गीला कर दिया.

इतने में ही उसने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया और बोला- चल अब खड़ा हो जा और पैन्ट खोल!इतना सुनकर मेरी तो गांड फट गई, मैंने कहा- मुँह में ही कर लो ना यार…लेकिन वो कुत्ता नहीं माना, उसको तो मेरी गांड ही पेलनी थी.

इसीलिए ले लो।फिर मैं वो पैसे लेकर चल दिया।अब तो हर दिन एक बार भाभी के घर जाता हूँ और उनको चोद कर आता हूँ। भाभी भी खुश हैं. मैं समझा नहीं तुम ठीक से बताओ वरना मैं फिर कोई ग़लती कर दूँगा।मोना- हा हा हा तुम बहुत स्वीट हो यार. मेरी ऐसी हालत देखकर वह मन ही मन मुस्कराती थी, उसके चेहरे पर नई चमक उभर आती थी.

वह मेरी चूचियों को तेजी से मसल रहा था और मेरी गांड में लंड पेले जा रहा था जिससे मैं मचलने लगा था और वह भी मदहोश हुए जा रहा था. वैसे गोआ में सब ऐसे ही पीते है क्या?फ्लॉरा- हाँ, ज़्यादातर पीते हैं, वहां की बेस्ट फैनी वर्ल्ड फेमस है. सौभाग्य से नीचे वाली महिला, नहीं, उसे महिला कहना अनुचित होगा, लड़की के टॉप का गला कुछ ज्यादा ही बड़ा था जिससे उसके अधनंगे बूब्स के दर्शन मुझे बहुत पास से बड़ी अच्छी तरह से हो रहे थे, मतलब आँखें सेंकने यानि चक्षु चोदन का पूरा पूरा इंतजाम था.

बीएफ बीएफ पिक्चर हिंदी

बात तब की है, जब मैं पुणे में मैं एक कंपनी में जॉब करता था। इस टूरिंग जॉब के कारण मुझे काफी टाइम भी खाली मिल जाता था। मैं करीब 5:30 बजे शाम तक मेरे घर पहुँच जाता था। मैंने एक अपार्टमेंट में ग्राउंड फ्लोर पर एक फ्लैट रेंट पर लिया था। ये अपार्टमेन्ट एक नई बनी बिल्डिंग था, जिसमें मैं ही पहला निवासी था।थोड़े ही दिन बाद एक कपल उधर रहने आ गया. लेकिन इस बार बोलीं- तू अभी भी बच्चा है क्या? गेट तो बंद कर लिया कर. जब अगले दिन 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स टयूशन पढ़ने आ रहे थे, तब मैं उस नई लड़की का इंतजार कर रहा था.

मुझसे कई बार अपनी चूत चुदवाने के बाद भी वो मेरे साथ बिल्कुल नार्मल बिहेव कर रही थी जैसे कि हम दोनों के बीच कुछ ऐसा वैसा हुआ ही न हो या वो मुझसे चुदवाने के पहले किया करती थी.

उस दौरान वो मुझे कई बार देख कर नज़रें हटाती रहीं, पर मुझे कुछ होश ही नहीं था.

इस वक्त मैंने जानबूझ कर अपने लोवर के अन्दर पतली स्ट्रीप वाली चड्डी पहनी थी और लोवर को नीचे से फाड़ दिया था. खाना खाने के बाद जो करना है, कीजिएगा और आपके लिए एक सरप्राइज़ भी है. जोशीला सेक्सी वीडियो… आह और चूसो उम्म्ह… अहह… हय… याह… आउ आऊ… आऊ…’ अपनी गांड उठा उठा कर चूत को मेरे मुँह पर दबाने लगी, मैं भी उसकी चूत में दो उंगली डाल के आगे पीछे करते हुए चूत को जोर-जोर से चाटने लगा.

लेकिन मेरा तौलिया निकल गया तो तेरी जाँघों के टच से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने चुत को पहले एक-दो बार ब्लू-फिल्म में तो देखा था, साक्षात पहली बार देखने का मौका था और मैं ये मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहता था. मेरे चूतड़ों को काफी मसलने के बाद वह अपना हाथ मेरे लोवर में आगे की तरफ ले आया जहाँ पर उसके हाथ में मेरा लंड आ गया.

रिसेप्शन के प्रोग्राम के लिए सब दुल्हन के घर ही रुके हुए थे और वहीं से तैयार होकर लॉन में जाने वाले थे, उसके पति के बारे में पूछा तो बोली- आज उनका सवेरे से ही प्रोग्राम चालू है, उसका कुछ समान घर पे छूट गया था जिसे लेने वो यहाँ आई है. पहले तो वे रोहित के सामने कुछ भी नहीं कहना चाहती थीं लेकिन जब रोहित ने उन्हें अपनी दोस्ती का वास्ता दिया तो सविता भाभी ने रोहित के सामने अपनी भड़ास निकालने शुरू कर दी कि आज मैंने अशोक को किस तरह से रिझाने का सोचा था.

उसके झूलते मम्मे देख कर मेरा मन कर रहा था कि राज न होता तो इसे ऐसे ही पकड़ लेता.

रात के करीब 2 बजे का टाइम था और मेरे साथी सो चुके थे लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. संगीता घुटनों के बल बैठ कर कुछ देर तक अपने चेहरे के सामने चन्दन के लंड को पकड़ कर आगे-पीछे करती रहीं. मैंने अपनी पहली सेक्स कहानी लिख कर सोचा था कि कोई भाभी या चुदक्कड़ माल मुझे चोदने के लिए सम्पर्क करेगी.

सेक्सी लड़का लड़की का फोटो अगली बार राहुल और पापा से एक साथ चुदने का प्रोग्राम बन जाएया तो आप सभी को अपनी चुत की चुदाई की कहनी जरूर सुनाऊंगी. 2 मिनट तक उसने चूसा, फिर मुझसे रहा नहीं गया तो मैं उसके सर को पकड़कर अपने लंड को धीरे धीरे उसके मुँह में धकेलने लगा और कुछ देर के बाद मेरा माल उसके मुँह के अंदर निकलने लगा और उसने भी बड़े मज़े से सारा माल पी लिया.

मैं भी फिर से गर्म होने लगी थी, मैं बोली- मामा जल्दी से आप अपना लंड मेरी चूत में घुसा दीजिए. मैंने उसके गले में हाथ डाल उसे अपनी ओर खींचा उसका गाल चूमते हुए उससे हल्की फुल्की बातें करने लगा जैसे घर में कौन कौन है, एजुकेशन क्या है. उसने अच्छे से अपनी चूत की झांटें साफ़ कर रखी थी।मैं और गर्म हो गया और उसकी सफाचट चिकनी चूत देख कर… मैंने उसकी चुत को दो मिनट तक चूसा। वो मेरा सिर पकड़ कर बोल रही थी- आह विजय.

सेक्सी बीएफ हिंदी इंग्लिश वीडियो

भाभियाँ हर वो सुख दे सकती हैं जो एक गर्लफ्रेंड या लवर कभी भी नहीं दे सकती। इसी लिए कहते हैं कि अगर गर्लफ्रेंड चुदाई की शुरूआत है. तभी मैंने देखा कि मेरी बहन उठ गई है, और पूजा को आवाज दे रही है, मैं तुरंत अपने बिस्तर पर आकर लेट गया. जब मैं अन्दर पहुँचा तो एक हट्टे कट्टे आदमी ने मुझे सीट ऑफर की और मेरे पास आकर बोला कि मुझे कुछ परीक्षा देनी होगी, अगर तुम उसमे सेलेक्ट हो गये तो एक बी-ग्रेड मूवी है, उसमे तुमको एक हीरो का मौका मिलेगा.

मैंने धीरे से उसकी चुत पर हाथ रखा तो पता चला कि चुत बहुत ज्यादा पानी छोड़ रही थी, जिससे उसकी पैंटी पहले से ही गीली हो चुकी थी. पर मेरा लंड झड़ने का नाम नहीं ले रहा था क्योंकि थोड़ी देर पहले ही मैंने मुठ मारी थी, पर ये बात चाची को नहीं पता थी.

पापा के लंड का हर झटका मुझको मजा दे रहा था, मैं सिसकारियां ले रही थी.

रात को आपका दिमाग़ घूम गया और अपने मेरी चुत में लंड घुसा दिया तो?पापा- अरे मैं तेरा पापा हूँ कोई जल्लाद नहीं और तुम्हें मुझपे इतना भी भरोसा नहीं है क्या? ऐसी हरकत मैं क्यों करूँगा?सुमन- सॉरी पापा ग़लती हो गई अच्छा ठीक है हम ऐसे ही सोएंगे. कुछ सिरफिरे लोग किसी लड़की से चिढ़ कर उसका नंबर इस तरह शहर के नाम के साथ लिख देते हैं फिर लोग उन्हें कॉलगर्ल समझ कर फोन करते हैं. अति उत्तेजना के कारण मेरे लंड से माल निकल गया।टीचर ने मुझे आँखों से आश्वस्त किया। फिर मैंने कुछ नहीं किया, मैंने एक और होंठों पर किस की और उनके चूचे को दबाया, अब मेरा लंड खड़ा होने लगा था। मैं दुबारा लंड फुद्दी में डालने लगा। टीचर की फुद्दी टाइट थी.

सारे मरीज और उनके रिश्तेदार सो चुके थे और लगभग सभी रूम्स के गेट बन्द थे. ऋतु ने बताया कि उसके पति राहुल काम के सिलसिले अकसर बाहर रहते हैं इसीलिए उन्होंने किरायेदार रखा है. चाची तब तक मेरा लंड हिलाती रहीं, जब तक कि लंड बिल्कुल पुच्चू सा नहीं हो गया.

इसलिए अब तक जितने भी लोगों से दोस्ती की है और जिनसे रिलेशन बने, वो हमेशा मेरी रिस्पेक्ट करते है और मैं उनकी.

बीएफ मां बेटे की बीएफ: रात को कौन आम चूसता है यार?मोना- अरे इसमें डबल मीनिंग क्या है? और तुम क्या मेरी चुत चूसना चाहते हो? हा हा हा हा. हम 69 की पोज़िशन में आ गये, वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी चूत.

यहाँ पे मुझे समझ में आया कि आपकी तकदीर वापिस मौका देती है, आपको उसे समझना है. आधे मिनट के किस में उसने तो मेरा सारा बदन नाप दिया।फिर हमें अकेले छोड़ वो चले गए. अब वो शादीशुदा है, उसका पति मुंबई में जॉब करता है, वो अपने ससुराल ही रहती है.

फिर उसने मुझे बिठाया और मेरे मेरे गाउन की बेल्ट खोल कर उसे उतार दिया.

ऋतु- ठीक है फिर… गुड नाईट…और उसने झुक कर मेरे लंड को चूम लिया और बाहर निकल गई. मैंने उसका सर पकड़ा और उसके सर को आगे पीछे करके उसका मुँह चोदने लगा. पापा ने मेरी एक ना सुनी और मेरी चूचियों को मसलते हुए धीरे धीरे अपने लंड को आगे पीछे करने लगे.