ओपन बीएफ दिखाएं

छवि स्रोत,आंटी की सेक्सी चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

अनन्या पांडे का सेक्सी: ओपन बीएफ दिखाएं, मेरी पिछली कहानीमेरा चौथा आशिक जालिम निकलामें आपने पढ़ा, मेरे चार आशिकों ने किस तरह मेरी कामुक दुनिया बदल के रख दी।शुरू में कुछ महीनों तक, मेरा पहला आशिक मुझे ईमेल करता रहा.

एक्स एक्स एक्स जबरदस्ती

अञ्जलि ने मेरे गाल पर अपना हाथ रख कर चेहरा घुमाया और मेरे होंठों को चूसने लगी. bp hd वीडियोअंकल मुझे किस करके चले गए और मैंने अगले लंड के बारे सोचना शुरू कर दिया.

बदले में मैंने भी उसका ब्लाउज उतारा और उसे ब्रा में देख कर मेरा दिमाग एकदम पागल हो गया था. चाची ने भतीजे से चुदवायावो कमाल लग रही थी उस नाइटी में!आगे मैंने कैसे उसे चोदा, ये आप अगले भाग में पढ़िएगा.

वो बोलीं- ये क्या बोल रहा है?मैंने कहा- सच बोल रहा हूं, आपकी चूत का दीवाना हो गया हूं.ओपन बीएफ दिखाएं: मौसी ने मुझसे लंड निकालने को कहा और जैसे ही मैंने लंड निकाला, मौसी लंड चूसने लगीं.

मैंने उससे प्यार करने की कह कर उसका हाथ पकड़ा और उसे अपनी बांहों में खींच लिया.सुमैत्री ने मुझसे ओके कहा और हम लोग बाइक पर उसके घर के लिए निकल गए.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो डॉट कॉम - ओपन बीएफ दिखाएं

मैंने अपनी अकड़ में थ्रीसम का मौका खो दिया। मैंने उन्हें बढ़ावा देते हुए कहा- अगर आप किसी लड़की को चोदना चाहते हैं तो साफ साफ बात कीजिए.मौसी ‘आह हहह उईईई …’ करती रहीं लेकिन अब मैं बिना रूके उन्हें तेजी से चोदने लगा और किस करने लगा.

उसने एक हाथ मेरी गर्दन के पीछे डाल कर खींचा और अपना निप्पल मेरे मुँह में देकर बोली- आमोद, चूसो मेरी चूचियों को, काटो इन्हें. ओपन बीएफ दिखाएं चूंकि मुझे सेक्स कहानियां पढ़ना बहुत पसंद हैं तो मैंने भी सोचा कि मैं अपनी भी सेक्स कहानी आप लोगों को सुनाऊं.

मुझे समझ आ गया कि मादरचोद बहन को चुदवाकर पूरे मजे ले रहा है मां का लौड़ा.

ओपन बीएफ दिखाएं?

कुछ देर चोदने के बाद मैं रुका और उसके कान में बोला- क्या मैं तुम्हारी गांड मार सकता हूं?रूना- हां कर सकते हो … लेकिन मैंने कभी वहां से किया नहीं है. मेरी पिछली कहानीमेरा चौथा आशिक जालिम निकलामें आपने पढ़ा, मेरे चार आशिकों ने किस तरह मेरी कामुक दुनिया बदल के रख दी।शुरू में कुछ महीनों तक, मेरा पहला आशिक मुझे ईमेल करता रहा. लंड की मोटाई ज्यादा होने से हर औरत को सुख ज्यादा ही मिलता है क्योंकि मोटा लंड जब चूत में घुसता है, तो वो चूत की दीवारों को फैलाता हुआ घुसता है.

इससे पहले मैंने कैमरे को अपने फोन से कनेक्ट कर लिया ताकि वहां जाने के बाद भी मैं अपने घर के बारे में जान सकूं. मैं- ले मादरचोद गांडू, चूस भैन के लंड अपने मालिक का लौड़ा चूस बहनचोद … आज देख कैसे तेरा जीजा तेरी रंडी बहन को तेरे सामने चोदेगा कुत्ते, मुँह खोल भोसड़ी के. अब मैं उसे चोदने लगा और मेरे धक्कों के कारण उसकी बड़ी सी गांड मस्त लहरा रही थी.

मैंने अपने भी कपड़े उतारे, मिहिरा अब मेरे निप्पल चूस रही थी मुझे गुदगुदी हो रही थी और मज़ा भी आ रहा था. उन्होंने मेरी कमर को जोर से जकड़ लिया और दनादन मेरी गांड पर उनके धक्के पड़ने लगे।कुछ देर इसी पोजीशन में चोदने के बाद उन्होंने मुझे बिस्तर से नीचे उतार लिया और मुझे खड़ा करके मेरे पीछे आ गए. कुछ देर बाद चाची बोलीं- अब साबुन ही मलता रहेगा क्या … ले ये स्क्रब … मेरी पीठ को रगड़ कर मैल भी छुटा दे.

वो बोलीं- हरामी थोड़ी आराम से चोद ले साले मादरचोद … मैं कोई बाजारू रंडी नहीं हूं, तेरी सगी मां हूं. तो रेशमा ने मेरी तरफ देख कर जैसे मेरी इजाजत मांग ली और मैंने भी उसको मूक सहमति देकर पाटिल जी के पास जाने का इशारा कर दिया.

तब क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, मैं आपका राज शर्मामेरी पिछली कहानी थी:दोस्त ने सुहागरात में बीवी की चूत गांड दोनों मारीआज मैं लेकर आया हूं एक और पारिवारिक चुदाई की दिलचस्प सेक्स कहानी.

अगले दिन शादी थी तो तैयारियां बहुत जोरों से चल रही थीं, किसी के पास टाइम नहीं था.

मैंने भी उसे गालियां देनी शुरू कर दीं- हां साली रंडी आज तुझे जी भरके चोदूंगा … तुझे रखैल बना दूंगा साली … तेरी मां की बुर भी चोद दूंगा. उसने कहा- हां मादरचोद, चाट अपनी बाज़ी का भोसड़ा … आह देख कैसे तेरे दोस्त ने चोद-चोद कर रंडी बना दिया मुझे भोसड़ी के … साले तूने हमको कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं छोड़ा. मैं भाभी को अपनी गोद में लेकर चोदने लगा और उनकी बड़ी सी मखमली गांड को अपने हाथों में लेकर उन्हें लंड पर उछालने लगा.

मैं- पर रात को सोनी ने तो मना कर दिया था!सुची- एक दो बार करने से थोड़ा दर्द होता है, फिर तो मजा ही मजा आता है. मरता क्या न करता, मेरे पास उनकी बात मानने के अलावा कोई रास्ता नहीं था. आंटी निढाल होकर लेट गईं और मैं लंड चूत के अन्दर डाले हुए ही आंटी के ऊपर लेट गया.

उनकी बड़ी-बड़ी चूचियां 36 इंच की ही होंगी, गांड बाहर को निकली हुई थी और एकदम गोल गोल थी.

कुछ देर बाद चाची बोलीं- अब साबुन ही मलता रहेगा क्या … ले ये स्क्रब … मेरी पीठ को रगड़ कर मैल भी छुटा दे. मैंने देर न करते हुए सुनीता को पकड़ लिया और उसके ऊपर आकर उसकी चिकनी चूत पर अपना लंड टिका दिया. संयोग से उस समय बिजली नहीं आ रही थी, जिसके चलते मेरे भाई को शराब के नशे के कारण ध्यान नहीं रहा कि बिस्तर पर कौन लेटा है और वो कपड़े उतार कर मेरे पास सो गए.

घर आने लगा तो अभी मैं अपने घर की गली में घुसा ही था कि सामने से मुझे भाभी दिखाई दीं. मेरी बहन की गांड का छेद पहले ही गीला था, मैंने उसमें अपना फौलादी लंड पेल दिया. उसने बताया कि एक लड़की का जुगाड़ हुआ है जो कि अभी बिल्कुल कुंवारी है.

मैं मन में सोच रहा था कि मेरे लौड़े को आज शायद किरण की चूत मिल ही जाएगी.

पाटिल जी- आआहह देखो विराज जी, कैसे ये रंडी एक साथ दो-दो लौड़े लेकर चुद रही है मादरचोद, चुद ले रेशमा रंडी, मादरचोद तेरे नामर्द शौहर की मां का भोसड़ा. खैर … उस दिन दोनों लोग पानी में भीगते हुए सुमैत्री के घर पहुंचे और मैं सुमैत्री को ड्रॉप करके अपने घर के लिए निकलने लगा.

ओपन बीएफ दिखाएं जैसे ही उसके कानों में हमारी प्रेम कहानी की बात पड़ी, उसे गुस्सा आ गया. मॉम ने कहा कि आप चिंता मत करो, किसी तरह जल्दी ही इसके दोनों छेद बड़े करवाती हूं.

ओपन बीएफ दिखाएं उसके चूतड़ों पर जोर जोर से धक्के पड़ रहे थे और पूरा बिस्तर जोर जोर से हिल रहा था. मुझे अजीब सा लगा, लेकिन उसने मुझे बताया कि उसे चुत चाटना या उसका लंड कोई चूसे, उसे पसंद नहीं है.

पर मेरा हमेशा उसके घर जाना सम्भव नहीं था तो मैंने उससे कहा कि ज़रूरत पड़ने पर वो खुद मेरे ऑफिस आ जाया करे.

सनी लियोन की सेक्सी वीडियो 2020 की

भाभी ने कहा- अब रुक ही गए हैं, तो क्यों ना हम दोनों कहीं घूम कर आएं. मैंने भाभी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उनकी रसभरी चूचियों को चूसते चूसते नीचे आने लगा. मैंने कहा- आंटी, आपकी चूत बहुत मस्त है … कब से नहीं चुदवाई?वो बोलीं- अब मेरे बुड्डे से कुछ नहीं होता, बहुत दिनों बाद तेरा जवान लंड मिला है.

वो मेरे लंड की खाल को पूरा पीछे तक ले जा रही थीं, जिससे मुझे थोड़ा दर्द हो रहा था. भाभी थी ही ऐसी कि लंड से लार टपक जाए।अब मैं भाभी से मौका मिलते ही हंसी मजाक करने लगा. मैंने कुछ देर बाद उन्हें उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़कर चोदने लगा.

दोपहर एक बजे नंदा मुझे उठा कर बोली- लंच का टाइम हो गया, क्या नींद ही लेते रहोगे.

कुछ देर तक मैं धीमे धीमे झटके देता रहा, फिर ताबड़तोड़ चुदाई का खेल शुरू हो गया. मेरा लंड 7 इंच लंबा और ढाई इंच मोटा है और मेरा सुपारा काफी फूला हुआ है. मूवी में एक कम उम्र का लड़का एक बड़ी उम्र की औरत की गांड को चोद रहा था.

मैं पूरे दिन गूगल पर बस यही सर्च करता रहता था कि अपनी बहन को चुदाई के लिए कैसे मनाऊं. साबिरा के जाते ही मैं शिराज को फिर से ताकीद देने लगा कि वो आज चुपचाप अपनी बहन और मेरा कुत्ता बन के हमारी सेवा करेगा … और अगर उसने ऐसा नहीं किया, तो इसका नतीजा बहुत बुरा होगा. आंटी लंड पर मस्ती से आह आह करके अपनी गांड पटक पटक कर चुदाई का भरपूर आनन्द ले रही थीं.

उन्होंने कहा- कुछ देर इंतजार करो, कोई और भी है, जो तुमसे मिलना चाहता है. मैंने भाभी से पूछा- चूमना कैसा लगा?भाभी बोलीं- इस तरह का ये किस मैं दूसरी बार तेरे साथ कर रही हूँ.

शेखर उस अंधेरे में भी धारा को देखने की कोशिश करने लगा लेकिन चाह कर भी कुछ नज़र नहीं आया. इस पर मैंने पूछा- उसके सामने आप भी?तो वो बोले- हां बेटा अब क्या करूं … तुम्हारी आंटी अब नहीं देती हैं और ना ही उनमें वो मज़ा है. ये क्यों पूछा?मैं- वो तुम कुत्ते कुतिया की चुदाई को देख कर मुस्कुरा रही थी न … इसलिए पूछा.

जैसे ही मेरे लंड का सुपारा देविका की चूत के अन्दर गर्भाशय के मुखपर दस्तक देने लगा, तो देविका कामवासना में डूब गई.

मेरे मन में भी विचार आया कि मैं भी अपनी चुदाई कहानी अन्तर्वासना पर आप सबसे शेयर करूं. मेरे आते ही उसने शिकायत की- दिन भर कहां रहे?मैंने कहा- अपनी नई दुल्हन के लिए गिफ्ट लेने गया था. मैंने दरवाजा खोला, तो आंटी बोलीं- राज मेरे रूम में आओ, तुमसे काम है.

उस समय उनके गहरे गले से आधे से अधिक झांकते चूचों की छटा कुछ और थी और इस वक्त बिना ब्रा के होलते हुए चूचों की अदा कुछ और थी. वो- इतने हैंडसम हो फिर भी नहीं किया है?मैंने कहा- कोई मिली ही नहीं.

उनकी इस बात का मतलब मुझे अब समझ में आया तो मैंने पापा के दोस्तों का नंबर भी लाइन में लगा लिया. मैंने जेब से एक हाफ निकाला और कहा- वादा भूल गई क्या?वो हंस दी और गिलास नमकीन ले आई. उन्होंने लंबे लंबे करारे करारे शॉट लगाने शुरू किए और साथ में पीछे से हाथ डालकर मेरे बूब्स को मसलना शुरू किया.

ब्लैक एंड वाइट सेक्सी

उसके गर्म गर्म पानी से मेरा चेहरा गीला हो चुका था और वो झड़ चुकी थी.

फिर मैं आरती को लेकर थोड़ी दूर एक निर्माणाधीन बिल्डिंग में आ गया जहां काफी अंधेरा था. एक बार को तो मेरा मन कर रहा था कि अगर दोनों को पकड़ लूँ, तो कभी छोड़ूंगा ही नहीं. वो बोली- मैंने सोनी और सपना को भी बता दिया कि तुम्हारा बड़ा है तो ज्यादा मजा आएगा.

मैंने कहा- बस इतना ही ना देविका … इससे तो मुझे कोई एतराज नहीं है, लो पी लो और अपनी आखिरी तमन्ना भी पूरी कर लो. सुपारे को चारों तरफ से चूमता हुआ गांड का छेद आखिरकार हार ही गया और पक्क की आवाज के साथ पूरा सुपारा रेशमा की अनचुदी गांड में पेवस्त हो गया. बीफ हिंदी विडिओजितनी तेजी से मैं उसकी गांड चोद रहा था, उतनी तेजी से ही चूत की फांकों पर उंगली रगड़ रहा था.

आपको मेरी ये देसी बड़ी बहन Xxx कहानी कैसी लगी, प्लीज़ कमेंट्स करके जरूर बताएं. उसकी फूली हुई चूचियां पाटिल जी के सीने में पूरी तरह से धंसी हुई थीं.

उसके बाद मैं घर का सारा काम करने के बाद नहाई और उसके बाद वही ड्रैस वाली साड़ी पहन कर खुद को शीशे में देखा, तो उस साड़ी में मैं एकदम कड़क माल लग रही थी. मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में लिया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को स्मूच करने लगे. मैंने तुरंत लोअर टी-शर्ट पहना, फ्रिज से बियर की 2 बोतल निकाल कर थैली में रखीं और सामने वाली बिल्डिंग में भाभी के फ्लैट पर चला गया.

बड़ी बड़ी आंखें, उभरी हुई चूचियां, बड़ी सी गांड और उसकी गोरी जांघें देखते ही मेरा लंड सलामी देने लगा. शिराज को गुस्से से गालियां देते हुए मैं बोला- अब देख क्या रहा है भोसड़ी के? चल जुबान बाहर निकाल … और चाट अपनी मालकिन की गांड कुत्ते, अच्छी साफ कर अपनी बहन की गांड मादरचोद. मनीष भी अब हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा- जीजी माफ कर दो, पता नहीं मुझे क्या हो गया था.

किरण मुस्कुराती हुई बोली- कॉफी बना कर ला रही हूं, दूध रात को पी लेना.

स्कूल टीचर को चूत देकर खुश कियाअब तक आपने पढ़ा था कि उस दिन सुबह से ही बारिश हो रही थी और मेरा भी मौसम बना हुआ था. उसका ध्यान अपनी चूत के मजे लेने में था और सिसकारियां लेने के कारण वो मदहोश थी.

उस वक्त छन छन की मधुर आवाज ऐसी मस्त लगती थी जैसे चुदाई के साथ लय ताल मिला रही हो. भाभी को हाईट छोटी होने की वजह से उन्हें किस करने में दिक्कत हो रही थी. शर्ट काफी खुल गई थी जिससे मेरे काफी गहरी क्लीवेज साफ़ दिख रही थी और ब्रा न पहने होने की वजह से मेरे निप्पल्स एकदम खड़े और साफ दिख रहे थे.

जब भी मैं उसकी गांड देखता था, तो मन करता था कि अभी खोल कर लंड ठूंस दूँ. रेशमा की नंगी चूत देख कर मुझसे अपने आपको रोका नहीं गया, मैंने बाथरूम में ही लगे टब पर रेशमा को नंगी बिठाया और उसकी चिकनी चूत किसी कुत्ते की तरह चूसने लगा. पर जब भी आसिफ का मन होता था, तो मैं लड़की बन कर उससे चुदवाने चला जाता था … या कभी कभी ऐसे ही लड़की बन कर उसके साथ घूमने चला जाता था.

ओपन बीएफ दिखाएं वो दर्द और ख़ुशी से मिश्रित आवाज में मुझे अपना हाथ दिखाकर बोली- देखो खून निकला है हर्षद. मैं सोने का नाटक कर रहा था और साथ ही थोड़ी सी आंख खोल कर उनकी तरफ देख रहा था.

कैटरीना हीरोइन का सेक्सी वीडियो

शर्म से मेरी आंखें अपने आप बंद हो गई।जल्द ही मेरा ब्लाउज भी मेरे जिस्म से अलग हो गया. मेरी इस बात पर मौसी हंस दीं और हम दोनों के बीच में फिर से चुम्बन शुरू हो गए. बीस मिनट की धुंआधार चुदाई के बाद हम दोनों भी कामवासना की चरमसीमा के नजदीक पहुंच गए थे.

मैंने भाभी से पूछा- क्या आपने कभी लंड चूसा है?भाभी ने एकदम से कहा- नहीं कभी नहीं. उसके लंड चूसने के तरीके से मुझे भी मजा आने लगा था और मेरी भी हल्की हल्की सिसकारियां निकल रही थीं. काली चूत वालीफिर मैंने कूल्हों और हिप्स पर पैड लगाकर पैंटी पहनी, जिससे मैं एकदम किम किर्दिशियान जैसी फिगर वाली माल लौंडिया लगने लगी थी.

कहानी के पिछले भागमेरा लंड प्राइवेट सेक्रेटरी की कुंवारी गांड मेंमें अब तक आपने पढ़ा था कि रेशमा की गांड में मेरा लंड पूरा घुस चुका था और उसकी गांड फट चुकी थी.

मैंने नंदा के कान में कहा- काश आज सभी ब्रा और पैंटी में रह कर एन्जॉय लें तो कैसा रहेगा. मैंने आंटी को बिस्तर पर लिटा दिया और चूचियों को बारी बारी से चूसने लगा.

उन्होंने अपने फोन से किसी को कॉल किया और मुझे इंतजार करने के लिए बोला. शर्ट के ऊपर से मैंने एक फॉर्मल जैकेट डाल ली और आईने में अपना सेक्सी रूप देख कर मस्त हो गई. मिहिरा- आपने कहा था कि आप हमें मार्केट से सस्ते में लॅपटॉप दिलाओगे और अभी आप बहाने बना रहे हैं.

हम दोनों एक दूसरे को अपने सामने देखकर खुश भी थे और थोड़े टेंशन में भी.

‘आह्ह्हह साबिराआआ रंडी ईईई …’मैंने चिल्लाते हुए अपने लंड का सुपारा साबिरा की बच्चेदानी में घुसा दिया और मेरे लंड का सारा वीर्य उसकी कोख़ को भरने लगा. मैं अपने दोनों हाथ से उसकी दोनों घुंडियों को पकड़ कर मींज रहा था और उसकी गर्दन को चूम रहा था. अब मुझे पता था कि मौसी भी मुझसे चुदवाना चाहती थीं इसलिए मैंने बेफिक्र होकर उनकी चूची पर अपना हाथ रख दिया और कुछ पल बाद एक चूची को दबाने लगा.

देसी क्सक्सक्समुझे भी उनका छूना अच्छा लगता था इसलिए मैंने उन्हें कभी नहीं रोका था. वजन में वो बेहद हल्की सी थी, पता नहीं वो मेरे शरीर का वजन कैसे झेलने वाली थी.

हिंदी वाली पिक्चर सेक्सी

दोस्तो, इसके बाद भी हम जब भी अकेले में होते हैं, तो एक दूसरे साथ चुदाई कर लेते हैं. मैंने आगे बढ़ना शुरू किया और उसकी गर्दन पर किस करते हुए उसकी चूचियों को मसलता रहा. मेरी शादी के 3 साल हो गए हैं लेकिन अभी तक मुझे बच्चों का सुख नसीब नहीं हुआ, जिसके चलते मुझे सास व ननद से बहुत ताने मिलते थे.

मेरे मुँह से ‘अह्ह … ह्ह … ह्ह्ह … धीरे … मर गई …’ की चीख निकल गयी. अब मैंने आंटी के पैरों को मोड़कर चोदना शुरू कर दिया, इससे आंटी दर्द से ‘आहहह उईई …’ करके चिल्लाने लगीं. वो बोलने लगीं- अब बस करो … जल्दी से लंड डाल दो … और मत तड़पाओ … प्लीज लंड डाल दो.

करीब आधा घंटा तक दोनों का कोई पता नहीं चला, फिर अचानक से दोनों बाथरूम से निकलते हुए दिखाई दिए. इस बार आंटी बहुत मज़े लेकर लंड की चुसाई कर रही थीं और उनकी बड़ी बड़ी चूचियां आगे पीछे होकर झूल रही थीं. करीब 5 मिनट तक चूसने के बाद वो मादक आवाजें निकालती हुई कहने लगीं- अब मेरी चूत फाड़ दो.

अब अगले दिन मैंने एक साइबर कैफे पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवा लिया जिसके एक महीने बाद लिस्ट में मेरा नाम आ गया और मैं अकेले ही वहां एडमिशन लेने गयी. उसके 34 इंच के चूंचे खुली हवा में थिरक रहे थे, पेट पर चर्बी चढ़ी हुई थी पर गांड का आकार मानो उसके बदन को और निखार रहा था.

चाचा के लंड का वीर्य पीने के बाद मैं खड़ा हुआ तो मैंने देखा कि चाचा जागे तो नहीं थे मगर बंद आंखों से हंस रहे थे.

उसने मुझे अपने ऊपर समेट कर अपनी बांहों में मुझे कस लिया और अपने दोनों पैरों को मेरी गांड पर डालकर कस लिया … ताकि लंड का पूरा दबाव चूत पर रहे. संभोग व्हिडिओधारा के चिकने बदन को देखकर और आने वाले रोमांचक पलों के बारे में सोच कर शेखर का लंड पूरे शवाब पर आ चुका था. सेक्सी सेक्सी ब्लू फिल्म वीडियो मेंदोस्तो, मेरा नाम प्रशांत शुक्ला है और मैं बिहार के दरभंगा जिले के एक छोटे से गांव का निवासी हूं. पर उससे आगे बढ़ने की मैंने कभी कोशिश ही नहीं की क्योंकि हम रोज़ रोज़ तो मिलते नहीं थे.

वो विस्मय से मरी तरफ देखने लगी- इस बात का क्या मतलब हुआ डार्लिंग?मैंने कहा- कोई ख़ास बात नहीं है जान.

मैंने अपने पुराने वाले कपड़े पहने और ध्यान से देखा कि कहीं कोई सबूत न बचा हो कि मैंने कल यहां पर क्या किया. गर्दन नीचे की तरफ झुकने के कारण उसकी गांड और ऊपर की तरफ उठ गयी और गांड का भूरा छेद मुझे आसानी से दिखने लगा. उसका दूध सा गोरा बदन देख कर ऐसा लगता है, मानो किसी फिरंगी ने मेरी मॉम को चोद कर उसे पैदा किया हो.

फिर मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया और टांगों को फैलाकर अपनी जीभ से उसकी चूत की फांकों को खोलकर उसमें अन्दर बाहर करने लगा. फिर यदि उसे कुछ पता चल भी गया तो मैं अपनी गलती कह कर तुम्हें सेफ कर दूंगी. कुछ ही देर में किरण की लार ने पाटिल जी का लौड़ा पूरी तरह से गीला कर दिया.

సెక్స్ బి ఎఫ్ ఫిలిం

इसलिए पाटिल जी ने अपना लौड़ा रेशमा की चूत से बाहर निकला और सीधा किरण में मुँह में घुसा दिया. क्योंकि लाइट नहीं थी और सुमैत्री ने एमर्जेन्सी लाइट चालू की हुई थी. दोस्तो, उम्मीद करता हूं कि मेरी जिंदगी की ये दास्तान आप सभी को पसंद आई होगी.

मेरी सेक्रेटरी की चूत मेरा साथी मार रहा था, मुझे उसकी गांड का छेद दिख रहा था.

एक लड़की की गांड में पहली बार लंड पेला तो उसको बहुत दर्द हुआ, वो चीख पड़ी.

ये सुनकर मेरी बहन हंसने लगी और बोली- तू चूतिया है … पहले उसकी भाभी के सामने अपनी गर्लफ्रेंड को चोदना था और फिर भाभी से उसे धमकी दिलवाना था. आंटी अपने भूरे बाल और पूरी पसीने में भीगी इतनी प्यारी लग रही थीं कि मुझसे रहा नहीं गया. सेक्सी bf सेक्सी bfआगे बढ़ते हुए उसने अपना दूसरा हाथ मेरी स्कर्ट में डाल दिया जिससे मेरी चूत की गर्माहट पाकर मजा आ गया.

मैंने भी उसके सामने अपनी शर्ट के सारे बटन खोल दिए और अपनी शर्ट जैसे ही खोली, मेरे बड़े और गीले दूध छलक कर बाहर आ गए. मगर सुमैत्री की चीख निकल गई और वो अपनी पोजीशन से हट कर बेड पर गिर गई. मैंने सही मौका देख कर शिराज से कहा- सुन गांडू, देख साले तेरी बहन के बोबे दर्द दे रहे है, चल अच्छे से मसल मसल कर मालिश कर दे.

फिर मम्मी ने कुछ खाने के लिए पूछा, पर हम दोनों ने मना कर दिया और दोनों सोने चले गए. साबिरा की चीख रोकने के लिए मैंने उसके होंठ भी अपने मुँह में पूरे दबा दिए थे.

फिर अपने ससुर को खाना देकर मैं अपने और मनीष के लिए रोटियां सेंकने लगी.

पाटिल साहब- अरे बिल्कुल विराज जी, मैं कौन सा भाग रहा हूँ, बस ध्यान रहे इसके बाद आपका सारा बिज़नेस मेरे हाथ में है और मैं कुछ लिए बिना कुछ देता भी नहीं. मैंने उसका सर जोर से अपनी चूत में दबा लिया और वो और जोर चूत चाटने लगा. मैंने उससे पूछा- जल्दी बोल रस कहां लेगी?उसने कहा- चल मेरे मुँह में लंड डाल दे, मैं चूस लेती हूँ.

क्सक्सक्स+वीडियोस कनिका भाभी दिखने में मोटी हैं लेकिन बहुत गोरी होने की वज़ह से और सुंदर मुखड़ा होने की वज़ह से एक नंबर की माल लगती हैं. लड़कियां मेरी तरफ आकर्षित तो होती हैं लेकिन मुझे किसी से दिल लगाने में दिलचस्पी नहीं है.

नंदा बोली- मैं कुकर में रख आती हूँ, सीटी आएगी, तब गैस बंद कर देंगे. इस अवस्था में एक बात और राहत देती है जब आप अपनी पार्टनर की चूचियों को अपने हाथों से मसलें या फिर उसे मुँह में लेकर चुभलाए तो चूत या गांड में हो रहे दर्द में थोड़ी राहत मिलती है, लेकिन यहाँ तो शेखर मजबूर ठाऊर वैसा कुछ करके धारा को राहत भी नहीं दे सकता था. ऐसा मैं हर बार करती थी मगर आज तक मैंने अपनी उंगली को अन्दर नहीं किया था.

मिथिला में

मैंने अपने एक हाथ से देविका की चूत की फांकों को दोनों तरफ फैला दिया और दूसरे हाथ से अपना लंड पकड़ कर लंड का सुपारा उसकी फांकों में सैट कर दिया. मैं बाथरूम में नंगा नहाने लगा और मैंने चाची को याद करने लंड सहलाना शुरू कर दिया. तभी भाभी बोली- मैंने आज सुबह से कुछ नहीं खाया, तुम खा लो, फिर मैं भी खा लेती हूं.

एक रात को बात करते करते कब हमारी बात सेक्स चैट में बदल गई, मुझे पता भी नहीं चला. तुम्हारी इतनी चिकनी, गुलाबी और कसी हुई चूत देखकर मैं अपने लंड पर काबू नहीं कर सकता.

अञ्जलि बोली- ओह बेदर्दी चूत खोद दे … आहह बेदर्दी चूत चोद कमीने … उफ़्फ़ आहहह!वो मादक आवाज करती हुई अपनी चूत पर अपनी उंगलियों से रगड़ती हुई मालिश करने लगी.

तो उन्होंने मुझसे कहा– मैं तुम्हें पीछे से करना चाहता हूं।मैं– मतलब?अमित जी– मतलब तुम्हारी चूतड़ को चोदना चाहता हूं।मैं– नहीं नहीं … मैंने कभी वहां नहीं किया और आपका इतना बड़ा है कि मैं झेल नहीं पाऊंगी।अनिल जी– ऐसा कुछ नहीं होगा. हमारे घर के पास ऑटो रुकी तो मैं उसको एक किस देकर उतरी और उसने फिर से मेरी गांड मसली. आप सबको थोड़ा अजीब लगेगा कि MCA किया हुआ बंदा किराने की दुकान पर क्यों?इसके पीछे भी एक वजह है और वो वजह ये है कि मेरी ये दुकान करीब बहुत साल पुरानी है.

धीरे धीरे उसने अपने होंठ मेरी ओर बढ़ा दिए और हम एक दूसरे को धीरे धीरे चूमने लगे. उसके हाथ मेरे पूरे शरीर पर घूम रहे थे और उसकी जीभ मेरी पीठ से होते हुए मेरे चूतड़ों पर घूम रही थी जिससे मेरी टांगें खुद ब खुद फैलती जा रही थीं. थोड़ी देर बाद मैंने उनको अपनी गोद में उठाया और दीवार से लगा कर उन्हें फिर से चोदने लगा.

आसिफ बोला- साली रंडी … अभी तो आधा लंड भी अन्दर नहीं गया, भैन की लौड़ी अभी से ‘सी …’ निकल गयी तेरी.

ओपन बीएफ दिखाएं: मैंने भाभी की साड़ी खोल दी और वो हंसती हुई ब्लाउज पेटीकोट में चली गईं. उसके जाने के बाद मेरा मन पढ़ाई में लग ही नहीं रहा था, बस दिमाग में एक ही सवाल चल रहा था कि कल कैसे इस लड़की से बात की जाए?मैं अपने घर पर भी आया, तो भी उसी के बारे में सोचता रहा और उससे बात करने का, पता नहीं क्या क्या प्लान बनाता रहा.

ये कहते हुए मैंने अपने दोनों हाथ उसके दोनों मम्मों पर रख दिए और उनको दबा दिया. अगले दिन सुबह से ही मेरा ध्यान बार बार घड़ी पर ही जा रहा था, दिमाग में बस यही चल रहा था कि कितनी जल्दी ढाई बजे का समय हो … और मुझे उस हसीना का फिर से दीदार करने का मौका मिले. तभी मैंने अपना लंड भाभी के चूत के छेद पर ले जाकर अड़ा दिया और भाभी के ऊपर झुक कर उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा.

फिर मेरे भाई ने मुझे चोदकर अपने लौड़े का सारा माल मेरी चूत में टपका दिया और मेरे ऊपर ही ढेर हो गए.

फोन पर ही हमारी बातें शुरू हुई और धीरे-धीरे मोहब्बत की बातें होने लगी. वो बोलने लगीं- अब बस करो … जल्दी से लंड डाल दो … और मत तड़पाओ … प्लीज लंड डाल दो. अचानक से मेरे आते ही चाची बड़ी खुश हुईं और उन्होंने बड़ी आत्मीयता से मेरा स्वागत किया.