सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ

छवि स्रोत,माया भाभी की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ लाइट: सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ, फिर मैंने उसके पूरे जिस्म को धीरे-धीरे चाटना और चूमना शुरू कर दिया.

एडल्ट पिक्चर सेक्सी

जब हम लोग बाजार पहुंचे तो मैंने उसकी मनपसंद आइसक्रीम गुड़िया को दिलवा दी। गुड़िया आइसक्रीम को बहुत मजे से जीभ निकाल निकाल कर चूस रही थी जिसे देख कर मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वह मेरा लंड चूस रही हो।उसे आइसक्रीम खाते देख कर मुझे बहुत मजा आ रहा था. ब्लू पिक्चर वीडियो में ब्लूदोस्तो, शावर के नीचे मुठ मारने का मजा ही अलग होता है और अगर चूत मिल जाये तो सोने पे सुहागा.

मैंने विवेक को मना किया- विवेक रुक जाओ क्या कर रहे हो तुम? ये सब ग़लत कर रहे हो. देवर भाभी सेक्सकुछ तेज धक्कों के बाद विनय ने अपना सारा माल कविता के पेट पर निकाल दिया.

मैंने उसकी चूत की पत्तियों को हाथ की उंगलियों से खोला और अंदर के गुलाबी छेद पर लंड का सुपारा रखा.सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ: आशा है आप भी मेरी इस ‘सफर की डुबकी’ में डूबे होंगे!मेरी फ्री सेक्स स्टोरी पर आपके विचारों का स्वागत है और अगर रश्मि, आप भी यह स्टोरी पढ़ रही हो तो प्लीज मुझे एक बार जरूर मेल करना.

मैं आज जो कहानी आप लोगों को बताने जा रहा हूँ, वो मेरे पहले प्यार की है.अबकी चुदाई पहले से भी ताबड़ तोड़ थी, घमसान चुदाई से साली की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था, मेरा लंड उसके पानी से तर हो गया.

सेक्स वीडियो हिंदी देसी - सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ

इसका मतलब ये था कि भैया भी कोई सेक्सी सपना देख रहे थे मैं तो उनके लंड के उभार को देख कर मचल सी गई और मेरी चुत और पानी छोड़ने लगी.मैं ढीली पड़ने लगी थी, मामा जी बोले- रिशू रुक जाओ!मामा जी ने लंड निकल लिया मेरी चूत से और बोले- बगल में बैठ जाओ.

मैंने उसके लण्ड को और जोर से मसल दिया और बोला- अरे तुम चिकनी चूत को देखते रहो और आनन्द लो… घबराओ मत!वह थोड़ा रिलेक्स हुआ लेकिन मेरे द्वारा उसका लण्ड सहला देने से उसके मुँह से भी कामुकता के आनन्द की आह निकल गयी. सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ ये सुन कर प्रिया जोर-जोर से हंसने लगी और बोली- अच्छा जनाब… सब कुछ फोकट का चाहिए और नज़र मेरे ऊपर?इस बात पर राहुल भी हंसने लगा.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और लगभग 15-20 मिनट की पलंग तोड़ चुदाई करके आखिर कार अपने लंड से वीर्य की पिचकारियाँ मार मार कर उसकी चूत को भर दिया.

सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ?

अब राहुल उनकी चूत के होंठों को अपने होंठों में लेकर रसपान करने लगा. पीते-पीते वो मेरे होंठों को छू कर बोली- मेरे राज़ा आज मेरी प्यास बुझा दो. फिर मैंने खाना शुरू किया, लेकिन हाथ में चोट की वजह से खा भी नहीं पा रहा था.

मुझे इस हालत में देख पांचो मेरे से चिपक कर अपनी लंड से चोट करने लगे. आंटी मोटे लंड के कारण चिल्लाती रहीं लेकिन मैं नहीं रूका और 15 मिनट के बाद में झड़ गया. खाना खाते समय मेरी नज़रें बार-बार सुमन के मम्मों को देख रही थीं क्योंकि मैंने कभी किसी औरत को इतने करीब से नहीं देखा था.

वह उत्तेजित हो गई और चोदने का इशारा करते हुए बोली- बहुत मजा आ रहा है, चोदते रहो. फिर मैंने कार सर्विस लेन पे ली और साइड करके रोक दिया, जहां बहुत पेड़ और झाड़ियां थीं. इतना मोटा लौड़ा घुसने से रूपा का सीना और माथा पसीने से लथपथ हो गया.

वैसे उसकी मोटाई से उसको दिक्कत हो रही थी मगर स्वाद के मारे वो चूस रही थी. वो 11 इंची नकली लंड गुं गुं की आवाज निकलते हुए मेरी चुत में तहलका मचाने लगा.

एक लड़का मुझे बेरहमी से मसलते हुये बोला- साली रंडी, सच में तेरे अंदर बहुत गर्मी है.

हम लोग जयपुर में रहते हैं, पर मेरी जब भी छुट्टियां होती हैं, मैं टाइम पास करने अपने चाचा के पास आ ही जाता हूँ.

उन्होंने गहरे गले का टॉप पहन रखा था, उसमें से उनके दोनों गोल-गोल दूध से सफ़ेद संतरे साफ दिख रहे थे. गुलशन- हाँ ऐसे ही करेंगे, चलो अब पहले तुम्हारी आँख और हाथ बाँध दूँ. जब पेशाब की धारा पूरी तरह से रुक गयी तो मामा अपना लंड को पानी से साफ कर बाथरूम से निकल गये; मैंने बाथरूम अंदर से बंद कर लिया और हाथ धोने से पहले मामा जी के सू सू से गीली हुई उंगली मुँह में ले ली और चूसने लगी, उंगली बिल्कुल नमकीन लग रही थी, मेरी सभी ख्वाहिश पूरी हो चुकी थी.

मैं एक हाथ की दो उंगलियाँ उसकी चूत के अन्दर-बाहर कर रहा था और आज मैं हरमीत की गांड भी मारना चाहता था. मेरा इतना कहना था कि उस हरामी फ़ारुख ने लंड को ऐसा घुसाया कि चुत में एक ही बार में पूरा घुसेड़ डाला. तो मैंने साफ मना कर दिया, इस पर उसने पूछा- बहन बनाने में क्या परेशानी है?मैंने हिम्मत करके उसे बोल दिया कि मैं उसे पसंद करता हूँ और उसे ‘आई लव यू.

घर के पास एक भाभी और कुछ सहेलियां रहती हैं, उनमें जो कुछ सहेलियां शादीशुदा हैं, वो और भाभी मिल कर अक्सर मेरे को चिढ़ाती रहती हैं.

उसी वक्त मैंने कक्ष की दीवार पर लगी घड़ी में शाम के सात बजने का समय देखा तो तुरंत कक्ष से बाहर निकल कर तरुण को खोजने लगी. मैंने अपने राइट हैंड से उसकी गांड पे जोर से एक चपत मारी तो उसकी गांड सुर्ख लाल हो गई. फिर पीछे से रागिनी की गांड और लंड पर थूक चिपड़ कर लंड का टोपा रागिनी की गांड के छेद पर लगा दिया.

मैंने संगीता के हाथ को तौलिया से पोंछना शुरू किया और जब हाथ के बाजू को साफ करने लगा तो सूट की बाजू पर लगा कीचड़ तौलिया से साफ नहीं हो रहा था. तो क्या हुआ कि जब शोभा अपने कपड़े उतार कर नई वाली ब्रा-पेंटी को पहन कर चैक कर रही थी, उसी वक्त उसे सविता भाभी के घर के सूनेपन के कारण कामुक विचार आने लगे और वो अपनी चूचियों से खेलते हुए सोचने लगी कि सविता भाभी कितनी रंगीन मिजाज की हैं, उन्होंने अमन नामक गैरमर्द से कैसे अपनी चुत चुदाई करवाने की बात स्वीकार कर ली थी. तब पता चला कि उनका नाम आशीष है, वो विधुर थे, उम्र 37 साल और एक बेटा है जो दादी के साथ रह कर पढ़ाई कर रहा है मुंबई में.

जॉन ने फ्लॉरा की गांड भी खोल दी थी और फ्लॉरा अब लॉलीपॉप की जगह बस जॉन का लंड ही चूसती थी.

कुछ पल बाद मैंने हिम्मत करके फिर से हाथ रख दिया और धीरे धीरे सहलाते हुए दीदी के चूचे दबाने लगा. जब बगल वाले कमरे में वो सो रही हो जिसे आप पहले कई बार चोद चुके हों तो खड़े लंड को ज्ञान की बातों से नहीं बहलाया जा सकता, उसे तो सिर्फ चूत ही चाहिये… एक बिल चाहिये घुसने के लिए.

सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ उस रंडी औरत को चुदाई के लिए इतनी बेताब बनी देख कर उसे और तड़पाने के लिए उसके मम्मे और भी बेरहमी से मसलते हुए निप्पल खींच कर उनको मस्ती से मरोड़ते हुए वो बोला- बहनचोद इतनी क्यों उतावली हो रही है कि लंड पे से मेरा पानी ले कर चूत में डाल रही है रंडी? अरे चूत में तो मेरा लौड़ा घुसेगा… तब मज़ा आएगा तुझे… वो उंगली निकाल रांड. जब वो सामान्य हुई तो उसने सोफे पर खून देखा तो मैं और वो एक दूसरे की तरफ मुस्करा दिए.

सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ अब लगा जैसे भैया को भी नहीं रहा जा रहा था, उन्होंने मुझे अपने लंड के उपर बैठा लिया और कमर पकड़ कर एक बार में ही पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया. साला खूब स्टॅमिना वाला लंड है तेरा…मैं कुछ नहीं बोला बस उसका मुँह चोदता रहा.

सुमन- अब क्या करना है पापा, क्या आप पहले मेरे बाल साफ करोगे?पापा- हाँ मेरी जान… पहले तेरे जिस्म के सारे बाल साफ करूँगा, उसके बाद तू मेरे करना… मजा आएगा.

सुदानी सेक्सी

फिर मैंने देखा कि रिया एक लड़के में कुछ ज्यादा ही इंटरेस्ट ले रही थी. फ्लॉरा नहा कर बाहर आई तो उसके जिस्म से पानी टपक रहा था, जिसे देख कर जॉय बस देखता ही रह गया. श्रुति ने अपना हाथ रख दिया तो मैंने भी उसका हाथ हल्के से पकड़ लिया.

उन्होंने मेरे हाथ पर हाथ रखा और कहा- मुझे बहुत अच्छा लगा था जब तुमने जैकेट दी. ऐसा कोई काम नहीं करेगा, जिससे बाद में उसे गिल्टी की फीलिंग हो और वो अपनी बहन से नजर भी न मिला सके. फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और दोनों पैरों के बीच में आ गया.

तीन दिन पहले सरिता द्वारा दिए गए कुछ सुझावों के अनुरूप इस रचना को पुनः संपादित करके आपके समक्ष प्रस्तुत कर रही हूँ.

सुमन ने रात के 8 बजे ही दोनों बच्चों को खाना खिलाकर उन्हें सोने को भेज दिया. रीना ने कविता को चूम कर बधाई दी और एक वादा लिया कि कविता के पति से वो भी एक बार जरूर चुदवाएगी. उसने हाथ मिलाने के लिए अपना हाथ बढ़ाया, मैंने झट से उसका नर्म और पतला हाथ अपने हाथ में ले लिया.

मैंने उसका लंड हाथ में लिया; उसका कड़ापन महसूस करके मेरे बदन में झुरझुरी फ़ैल गयी. लंड का सारा जूस मेरी गांड में निकाल देने के बाद जय हट गया और मेरे बगल में लेट गया. हमारे घर में हम तीन लोग रहते हैं, मेरे डैड, मेरी मॉम और मैं… हम लाहौर के बहुत पोपूलेटिड एरिया रंगमहल में रहते हैं.

com/koi-mil-gaya/garmiyon-ki-chhuttiyan-chudai-ka-maja/तो शायद पढ़ ही ली होगी. शहज़ाद ने सैफिना को बोला कि मैं तुम्हें गाड़ी में तुम्हारे घर छोड़ आता हूँ.

अब तो हमेशा मैं तुम्हें चोदूँगा तुम्हारी जैसी कच्ची कली को चोद कर मेरा लंड तृप्त हो गया. जिसको भी शराब पीनी होती, लड़के हमें उसकी गोद में खींचते और हमारे हाथ से शराब पीते. ”हम्म ओह्ह शनाया… मेरा भी हो जायेगा…”फिर आशीष के वो दमदार अंतिम 10-12 झटके और एक तेज हुंकार… भीगी सी फुहार, मेरी बुर के अंदर वीर्य की बरसात ने मेरे अंतर्मन तक को भिगो सा दिया.

मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा ताकि मैं आगे और भी अपनी स्टोरीज आपको भेज सकूं.

मैंने कहा- वो बेहोश करने वाली दवा की बोतल किसने दी तुझे?बेहोश करने वाली दवा…? नहीं दीदी मैं बेहोश करने वाली दवा नहीं लेता. तो मैं बोली- मुझे भी तुझसे चुदा के बहुत मजा आया।वैसे अब मैं उससे रोज चुदाई करने वाली हूँ।अगली कहानी में मैं बताऊँगी कि अपनी बेटी के साथ लेस्बियन सेक्स कैसे किया. साली भी तड़प उठी थी, वो जोर जोर से सिसकारती हुई मेरे लौड़े पे उछल कूद रही थी.

स्कर्ट से उसकी गोरी मांसल चिकनी टांगें मुझे खुला निमंत्रण दे रहीं थीं. वो बस रात भर सुमन के बारे में सोचते रहे और आख़िरकार उन्हें भी नींद ने अपने आगोश में ले लिया.

फिर उसने, जो उसकी चुत में लंड डाले हुए था उसे कहा- मेरा हो गया, अब तुम जाकर मेरी सहेली को चोदो!रिया की ये बात सुनते ही मैंने उत्तेजना के मारे किलकारी भरी. शानू भी छह बजे चले जाता था, उसे शाम को अपनी गर्लफ्रेंड के साथ घूमना होता था. अब साली भी दुबारा गर्म हो चुकी थी, तो मैंने उसकी चूत पे हाथ रखकर कहा- आज इसकी बहन चुदेगी.

माझी पुची

इसी तरह करीब 5 मिनट तक बुर चाटने के बाद मैं उठा और अपना लंड उसके उसके चूत पर रख कर रगड़ने लगा.

एक दिन फ्लॉरा ने रात को अपने हाथ पे मेहँदी लगाई, आज उसका इरादा कुछ और ही था. अब फ्लॉरा मज़े से लंड को चूस रही थी और जॉन उसके मुँह को चोद रहा था. रूपा की चूत फ़ैला कर उसमें जीभ डाल कर पप्पू चूत को जीभ से चोदने लगा.

शहज़ाद जैसे ही कमीज़ उतार रहा था तो उसकी लपेटी हुई चादर खुल कर नीचे गिर गई. नहीं पापा ये नहीं हो सकता, मुझे शर्म आ रही है आप कैसी बात कर रहे हो. मां बेटे की सेक्सी बीपीउसने मुझे देखा और थोड़ा बगल में हो कर मूतने लगा लेकिन मैं उसके कातिल लंड को ही देखे जा रहा था और उसके नज़दीक पहुँच गया.

कुछ देर तो अनामिका राहुल का भार सहती रही लेकिन फिर उसने राहुल को हटने के लिए कहा. उसकी मूत की धार पतली हुई और उसने अपने 6 इंच के मोटे लटकते हुए लंड को झटकटे हुए लंड से कुछ बूँदे नीचे गिरायी… और वो कुछ बोला.

मैंने पूछा- वो क्या है?मामा जी मेरे टॉप के अंदर हाथ डाल कर मेरी चुची को मसलते हुए बोले- ये थोड़ी छोटी हैं, थोड़ा खाने पीने पर ध्यान दिया करो. पर क्या एसा नहीं हो सकता कि हम दोनों बगल बगल लेट जाएँ और तुम बारी बारी से हमारी मसाज कर दो. शाम को रामू को, सब कुछ जो रितु दीदी के साथ हुआ था, उसे बताया, वो बोला- यार मुझ से भी उसे चुदवा दो.

यश तो मेरी चूचियों को ताकता ही रह गया, वो बोला- इतना मस्त चीज मेरे सामने रही और मैं चूतिया कुछ कर ही नहीं पाया. इस पोज़िशन में आठ-दस धक्के खाने के बाद रूपा चूत से लंड निकाल कर घूम के अपनी पीठ पप्पू की तरफ कर के लंड अपनी चूत में डाल कर चुदवाने लगी. चुत पे उंगली लगा कर सुमन ने मॉंटी को बताया कि यहाँ अपना लंड घुसा दे और जोर जोर से झटके देना, जैसे अभी कमर को हिला हिला कर दे रहा था.

ये भी कोई नाम हुआ रानी?”मेरा नाम शीला है, मैं वसंत कॉलोनी में रहती हूँ.

जब मेरा रस निकलने वाला था तो मैंने रस मामी की पेंटी पर ही निकाल दिया. पप्पू की इस अदा से नीता पप्पू का सिर अपनी चूत पे दबाते हुए उत्तेजना से चिल्ला उठी- आहह हहहह पप्पू अंकल, उफ्फ्फ अहह ऐसे ही चाटो अंकल.

मैं बताना चाहूंगी की वरुण मेरा चार वर्ष आठ माह का पुत्र है जिसके लिए मैं जीवन के कई सिद्धांतों से समझौता करके अभी तक जीवित हूँ और शायद भविष्य में भी उसी के लिए जीवित रहूंगी. जब सुमन को ये अहसास हुआ उसने जल्दी से अपने आप को संभाला और कपड़े पहन कर टीना को इशारा किया कि वो जा रही है. तब जाकर टीना ने आँखें खोलीं और एक बार तो वो भी सोच में पड़ गई कि संजय ऐसा कैसे कर सकता है.

फिर मैंने कम्बल के नीचे तकिया रखकर इस प्रकार ढक दिया जैसे कोई सो रहा हो. हमारे ऑफिस में क्रिकेट मैच होना तय हुआ था, जिसमें सभी लड़के-लड़कियों को मिल कर खेलना था. ये बता कि तूने भीड़ में सामने वाले को आज के पहले कितनी लिफ्ट दी और वो कहाँ तक आया तेरे साथ?पप्पू अब चूत चोदते हुए रूपा की गांड में एक के बाद दूसरी उंगली डालते हुए अब चूत और गांड एक साथ चोदने लगा.

सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ मेरी ब्रा के अंदर का तनाव बढ़ गया था कि तभी उनके हाथों को अपनी चूचियों पे महसूस किया. तभी भाभी ने उठते हुए मेरे लंड को बाहर निकाल कर अपने मुँह में भर लिया.

बांग्ला बीएफ ओपन वीडियो

डॉली बोली- यार रवि, इतने साल हो गये हैं अब तो सोच नहीं पाती।रवि ने कहा- मेरे पास इसका इलाज है।उसने अपनी जेब से एक पेन ड्राइव निकाली और डॉली के टीवी में लगी दी. मैंने फिर भी जोर दिया तो वो मुझे उठाये उठाये ही दरवाजे के पास ले गया और अपने एक पैर से दरवाजे को भिड़ा दिया. इससे पहले मैं कुछ कहती तरुण बोला- सरिता, अगर तुम्हें मेरी बात पर विश्वास नहीं है और अभी भी अपने को पराई महसूस करती हो तो चलो अभी गाँव के मंदिर ईश्वर से आशीर्वाद लेने के लिए चलते है.

मैं अजीब निगाहों से मॉम को और उनकी चूचियों को देखने लगा था और सोच रहा था कि कभी मौका मिला तो जम कर इन रस भरी चूचियों को मसलूँगा. विवाह के दो वर्ष बाद ही मुझे जीवन की सब से बड़ी ख़ुशी तब मिली जिस दिन तरुण ने गाँव के शिशु मंदिर में वरुण को दाखिल कराया. चुदाई वीडीयोफिर मम्मे मसलते हुए पप्पू बोला- रूपा मैं तो तेरे जैसी गर्म माल के साथ ज़िंदगी भर खेलूँगा, तुझे अपनी राँड बना कर रखूंगा, तेरी जैसे गर्म चूत आज तक नहीं मिली.

इसमें मैं आपके साथ अपनी वो कहानी शेयर करूँगा, जिसमें आप सभी जानेंगे कि मैंने अपनी वाइफ को शादी से पहले कैसे चोदा.

ममता और मैंने एक-दूसरे को चुदाई के बहुत मौके दिए और आगे की कहानी में मैंने कैसे ममता को रात में रूम पर बुलाकर चोदा और कैसे उसकी मालिश करके तेल लगाकर उसकी गांड मारी. मैंने पूछा- और बाकी के 2?वो बोला- उनमें से वो छोटे वाला मालापुर का था और लम्बे वाला जो तगड़ा सा था वो नेवली खुर्द का।ये नाम सुनते ही मैं सहम-सा गया। मैंने अंजान बनते हुए कहा- नेवली खुर्द भी पास ही का गांव है क्या?वो बोला- हां, क्यों, तुझे पसंद आ गया क्या वो पहलवान?रवि ने मुझे चिढ़ाते हुए पूछा.

मैं अंदर से बहुत डरी हुई थी, मैं बोली- प्लीज यार छोड़ दो!लेकिन सब मूड में आ चुके थे, सबका लण्ड तन के रॉड बन चुका था. ममता भाभी मेरा सारा वीर्य पी चुकी थी, मेरा लंड सुकड़ कर छोटा हो गया और मैं बिस्तर पर लेट गया. वो और भी गर्म हो गई, उसने अचानक से मेरा लंड जो कि खड़ा हो चुका था उसको दबा दिया.

मैंने झट से बेड से चादर हटा दिया और उसके बाद टॉवल लेकर बाथरूम में चला गया.

पार्क बगल में ही थी थोड़ी दूर पर…मैं कपड़े पहनने लगी तो सब लड़कों ने मना कर दिया बोला- रहने दे, आज रात तू कपड़े नहीं पहनेगी, नंगी ही चल पार्क!मैं बोली- कपड़े तो उठा लेने दो!इतने में एक लड़के ने मेरे कपड़े उठा लिये. तो बोला- हाँ क्या करूँ?तो मैंने बिल्कुल बेशर्मी से उसके लंड की तरफ देखा और बोली- मगर इतनी जल्दी कैसे?तो बोलता है कि क्या करूँ मैं. मैंने बोला- क्या? पैसे?एजेंट ने बोला- नहीं तो…मैंने बोला- एक्सक्यूज मी?एजेंट ने बोला- तुम्हें कुछ लोगों के साथ सोना होगा.

किन्नर वाली सेक्सी वीडियोफिर किस करते-करते मैंने अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चुत पर रख दिया. मैंने कहा- अब क्या बाक़ी है?वो बोला- अभी मैंने ठीक से तुम्हारी गांड कहाँ मारी है.

बीएफ वीडियो सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ

जब मैं ऊपर गया तो मैंने देखा कि मेरी सीट पे जो लड़की मेरे बगल में बैठी थी, वो बैठी हुई है और उसकी सीट खाली थी. हस्बैंड का पूछा तो उसने बताया- उसका पहुँचने के बाद लैंडलाइन से फ़ोन आता है, वह अपनी सीट पर बैठा है और वहां से हिल नहीं सकता. टीना और फ्लॉरा अब 69 के पोज़ में आ गईं और दोनों एक-दूसरे की चुत को कुरेदने लगीं.

मैंने शर्माते हुए कहा- धत, क्या कोई मर्द किसी पराई स्त्री से ऐसे बात करता है?तरुण ने तुरंत कहा- यह तो मुझे आज पता चला है की स्त्री एक मर्द के साथ दो बार सम्भोग करने के बाद भी अपने आप को पराई ही समझती है. उस रूम में एक बेड और एक चारपाई थी और बेड पर मैं और चाची और एक मेरी बुआ का लड़का था, जिसकी उम्र लगभग 4 साल है. और चाची हमारे पास आकर हमें गुड नाईट बोली और मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर मसल दिया और बोली- काफी मजा आया… कल मिलते हैं।सब के जाने के बाद हम तीनों अपने बेड पर नंगे रजाई में बैठे हंस रहे थे।ऋतु- मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा है कि हमने अपने मम्मी पापा के साथ भी चुदाई की.

मैंने अब देर न करते हुए गीत को अपने नीचे कर दिया और गीत की नाईटी उतार दी, उसके नीचे उसने ब्रा पहनी ही नहीं थी तो उसके दोनों मम्मे नंगे हो गये. अब वो मेरे पीछे था और बोला- जानू कोई क्रीम है तेरे पास?मैंने कहा- है… मेरे बैग में से निकाल ले. तो चलो ये भी जान लो आप मगर आज नहीं अगले पार्ट में पूरा खुलासा करूँगी.

फिर मैंने उसके दोनों हाथ पकड़कर अपनी तरफ खींचा और अपनी बाँहों में भर लिया. थोड़ी देर बाद मॉम बाथरूम में कपड़े धोने लगीं, इतने में मॉम ने मुझे आवाज़ लगाई.

मैंने उससे कहा- क्या तू जानती है कि बच्चे कैसे पैदा होते हैं?हर बच्चे की तरह उसे भी बकवास बातें बताई गई थीं.

मैं- आआहाआह… जोर से… स्पीड से…अनुराधा- आअहह…आअहह… उम्म्म्म… मेरा निकल रहा है. सेक्सी ब्लू पिक्चर की वीडियोसाथियो, आपसे एक इल्तिजा है कि आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं इंडियन सेक्स स्टोरीज की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें. हिंदी में सेक्सी पिक्चर ब्लूमैं तुरंत झुक कर झाड़ियों की आड़ में होते हुए पहले लहंगा पहना और जब चोली पहन कर उसकी डोरी बाँधने लगी तो पाया कि पहले दिन की तरह वह उलझी हुई थी. थोड़ी देर तक सुमन अपने आपसे बात करती रही, फिर जब वो नाइटी पहन कर बाहर आई तो गुलशन जी तो बस उसको देखते ही रह गए.

अगर उन्हें वो ब्लू फिल्म वीडियोज पसन्द आई तो तुम्हें उन्हें भी खुश करना होगा.

जहां मेरी योनि में कामोन्माद होने में पन्द्रह से बीस मिनट लगते थे वहां उस समय सिर्फ सात-आठ मिनट में ही खिंचावट की एक तेज़ लहर के साथ मेरी योनि में से रस का स्खलन हो गया. अगर सबको रिश्ता पसंद है तो अगले हफ्ते ही कोई रस्म कर देंगे और अगले महीने शादी. खाना खा कर मैं खेतों की रखवाली करती रही और तरुण ट्रेक्टर से हवेली में बंधा समान के साथ कुछ और सामान भी ले आया.

मुझे लगा शायद मेरी सूसू हो जाएगी, मैंने उससे रुकने को कहा पर वो फिर भी नहीं रुका. गुलशन- चल अब तू लेट जा, मैं तुझे सुला देता हूँ और वो तुझे चींटी ने किधर काटा था, वो भी देखता हूँ. उसके आते ही मैंने उसके गाल चूम कर उसका स्वागत किया और थोड़ी देर हम गपशप करती बैठ गयी.

एक्स एक्स एक्स दिखाना

इसके बाद मैंने टीचर की फुद्दी को लिक करना चालू कर दिया, वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं. मोटा भी खूब है और मेरा लंड किसी भी चुत को देख कर सलामी मारने लगता है. आज मैं उत्तराखंड के डौसनी गाँव में रहने वाली उसी सरिता के द्वारा वर्णित उसके जीवन में कड़वे सच एवं अनुभव का सम्पादित विवरण आपके समक्ष प्रस्तुत कर रही हूँ.

मैं अन्तर्वासना का बहुत पहले से ही पाठक हूँ, बहुत पहले से सोचा था कि मैं भी अपने साथ हुई घटनाओं को आप लोगों के साथ शेयर करूँ, लेकिन अभी यहाँ अकेले हूँ और समय भी है, तो मैं पहली बार यह लिख रहा हूँ.

दोस्तो, मैं आपकी नई दोस्त, प्रीति शर्मा; एक ऐसी दोस्त, जिसकी चूत में हर वक़्त आग लगी रहती है। ये समझ लो कि बस जब मुझे महीना आता है, उन 5 दिनों में ही मजबूरी होती है, तो मैं अपनी चूत में कुछ नहीं डालती, वरना मुझे रोज़ अपनी चूत में लंड चाहिए। मेरे तन में कामुकता कूट कूट कर भरी थी.

जैसे ही कमरे पर पहुँचा तो वो बोली- इसलिए मैंने एक्सेप्ट नहीं की थी. पिछले भाग में आपने पढ़ा कि टीना ने अपनी पहली चुदाई की कहानी में बताया कि उसकी चुत की सील उसके पापा के दोस्त ने कैसे तोड़ी थी. चूत की चुदाई देहातीफिर भी मैंने वहां से निकलने के लिए उनको बोला तो उन्होंने मना कर दिया.

मैंने नेहा के सामने ही सोनिया के होंठों को अपने होंठों में लिया और सोनिया भी गर्म सी हो गई. मैं जब उठी तो उसकी तरफ देख कर मैंने कटीली सी हंसी बिखेरी और बोली- कितने ठरकी हो तुम?वो बोला- नहीं मेमसाब, माफ़ करना. मै थोड़ा भारी हूँ या यूँ कहूँ कि भरा पूरा हूँ। मेरे सेक्सी बदन को देखकर लड़कियाँ मुझे पसंद करती हैं। और मैं बी ए के सेकंड ईयर में पढ़ता हूँ.

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी चाची को पकड़कर पीछे से उनकी चूत में लंड डाल दूं. मैंने फटाक से उसके बाल पकड़े और अपने होटों को उसके होटों से मिला दिया.

लगभग 20 मिनट के बाद उसने एक जोरदार धक्का मेरी चुत में मारकर अपने लंड से पिचकारी छोड़ दिया.

”दोस्तो, ये वाक्य चुदाई के वक़्त निकलते है, इनसे जोश बढ़ता है चुदाई के दौरान!मैंने 10 मिनट धक्के लगाए और पसीने में भीग गया।फिर मैंने अपनी बहन को घोड़ी बनाया, तब देखा कि मेरे लंड पे खून लगा था। मैंने सोचा जाने दो अब तो दुकान खुल चुकी है।मैंने उसके बालों को लगाम की तरह पकड़ा, उसकी घोड़ी पे सवार हो गया मैं… मैंने लंड एक धक्के में चूत में उतार दिया. फिर ट्रेन में बिठाकर मैं घर आया और उसका बॉक्स खोला तो उसके अन्दर एक चिट्टी भी थी और उसमें लिखा था- शायद राहुल अपने अंकल का बिजनेस संभाल लेगा इसलिए अब मैं कभी यहाँ वापिस नहीं आऊंगी… पर तुम हमेशा मेरे दिल में रहोगे और ये गिफ्ट हमेशा अपने पास रखना. नीता की चूत को अपने लंड का एहसास देने के लिए पप्पू कुछ वक्त वैसे ही रहा और फिर अपनी कमर पीछे कर के, नीता को कस कर पकड़ कर पूरे ज़ोर से लंड चूत में घुसा दिया.

हरियाणा देसी सेक्सी वीडियो एक दिन वो दोनों बेशरम हमारे सामने ही एक दूसरे को चूमने लगे तो पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैंने भी सपना के लाल-लाल होटों पर अपने होंट रख दिए और वो भी मेरा साथ देने लगी. अब मैं लेट गया आंटी मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगीं और करीब दस मिनट के बाद मेरा लंड फिर खड़ा हो गया.

मैंने कोल्ड ड्रिंक की कहा था पर उसने तो दारू की बात समझ ली और कहा- यहाँ सब लोग देखेंगे, आपके घर ही चलते हैं. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उन्होंने एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसना शुरू किया. उसके ऐसा करने से उसकी छाती से रीना के मम्मों की और उसके लंड से रीना की चूत पर जबरदस्त मालिश होने लगी.

सेक्स कॅण्डल

कैसा था वह गांव का पहलवान?आप अपनी प्रतिक्रियाएं मुझे इस मेल आई डी पर अवश्य भेजें जो मुझे नयी कहानियों के लिये प्रेरित करती रहे!आपका लव[emailprotected]कहानी का अगला भागगे सेक्स स्टोरी: दूध वाला राजकुमार-2. मैंने शहज़ाद को सलाह दी कि वो जल्दी से इंदौर में ड्यूटी ज्वाइन करके छुट्टी ले ले. मैं फिर से आंटी को किस करने लगा और कब हमारे कपड़े हमारे जिस्म से अलग हो गए, पता ही नहीं चला.

मेरे प्यारे साथियो, आप कुंवारी कॉलेज गर्ल की बुर चुदाई की कहानी पर अपने कमेंट्स करें![emailprotected]कहानी जारी है. कहानी का पिछला भाग:एक लंड और पूरे परिवार की चुदाई-1अब तक आपने पढ़ा कि चूत चुदाई के चक्कर में मुझे एक दल्ला मिला, वो अपनी बीवी चुदवाने मुझे अपने घर ले गया.

काकू की स्पीड बढ़ती ही जा रही थी, धक्के पर धक्के… और एक झटके से उसने रीना की चूत से अपना लंड निकला और सारा माल उसके मम्मों पर खाली कर दिया.

यही उथल पुथल दिमाग में चलती रही; इन ख्यालों से बचने का कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा था. मैंने कोल्ड ड्रिंक की कहा था पर उसने तो दारू की बात समझ ली और कहा- यहाँ सब लोग देखेंगे, आपके घर ही चलते हैं. पूरी चूदाई के दौरान उसने आह ओह उहहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह के अलावा कुछ नहीं बोला था.

ब्यूटी कहने लगी- आज मुझे तुम्हारा लंड चाहिए, रात को जब नाना सो जाएंगे तो तुम मेरे कमरे में आ जाना. वो दर्द को भूल कर बस मजा लेने लगी थी और ना जाने क्या क्या बोले जा रही थी. वो बोला- जब लड़के का लंड पहली बार लड़की की चुत में घुसता है तब खून निकलता है.

मैं मन ही मन सोच रही थी कि यह मेरे साथ क्या हो रहा है, हमेशा सड़क पर ही मेरी चुदाई क्यों होती है.

सुहागरात बीएफ सुहागरात बीएफ: तभी मेरे कान में रितु दीदी की आवाज़ सुनाई दी- विजय!मैं उनके पास गया उनसे पूछा- क्या आपने मुझे बुलाया है?वो बोलीं- क्या तुम इस समय खाली हो. मैंने पूछा- इतनी रात को अकेली?तो वह बोली- यार, घर में अकेली बोर हो रही थी, तो बस गाड़ी लेकर निकल पड़ी, अब यूं ही घूम रही हूँ.

फिर जब सब उठ कर चले गए तो उसने मुझे जबरदस्ती उठा कर कहा- आप मेरे भाई हैं, आपको मेरे साथ ऐसा करने में शर्म नहीं आती क्या?उसने मुझे बहुत गाली दीं. ”रितु दीदी ने पूछा कि बिना लड़की के तुम लोगों को क्या मज़ा आता होगा?मैंने कहा कि हम लोग बिना लड़की के भी खूब मज़ा लेते हैं. लेकिन आपने कमर के ऊपर कपड़े पहने थे इसलिए मुझे आपका ऊपर का भाग नहीं दिखा.

जब किसी छोटे से छेद में कोई मोटी सी चीज़ डाली जाएगी तो उस छेद का क्या हाल होगा ये आप समझ सकते हो.

लेकिन कभी कभी नहाने के बाद तरुण जब तौलिया बाँध कर जांघिये को उतारता या पहनता तब मुझे उसका वह सुन्दर एवं आकर्षक नग्न लिंग दिख जाता तब मेरा मन उसे पाने के लिए विचलित हो उठता. मैं भी झड़ने वाला था तो जोर जोर से 10-15 झटके मारने के बाद मोनिका की चूत में ही झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया. वहां खड़े लड़कों ने मुझे शांत देखा तो सुरेश को बोले- यार तूने तो कमाल कर दिया, साली को 2 मिनट में शांत कर दिया, ऐसा क्या किया?सुरेश बोला- तुम लोग सिर्फ आम खाने से मतलब रखो!और फिर सब मेरे टूट पड़े, मेरी पैंटी पहले कौन निकाले इसी जल्दी में मेरी पैंटी को सबने मिल कर एक झटके में फाड़ दी.