इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला

छवि स्रोत,चोरी सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

देखने वाले सेक्सी वीडियो: इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला, फिर मैं अपने कुछ दोस्तों से मिला और अपना काम खत्म करके मैं घर आ गया। फिर भाभी, मैंने और ताऊजी-ताइजी ने डिनर किया और फिर मैं ऊपर और ताऊजी-ताइजी नीचे चले गए। मैं टीवी देख रहा था, तभी भाभी का मैसेज आया कि वो बहुत बोर हो रही हैं.

बीएफ सेक्सी वीडियो में भेजें

मैंने अपना हाथ उसकी तरफ बढ़ाया, उसने भी अपना था मेरी तरफ बढ़ाया, मैंने उसकी उंगली पकड़ी और धीरे से लाकर पलंग पर बैठा दिया, हल्का सा घूंघट ओढ़ लिये हुए था, उसके जिस्म से इत्र की महक आ रही थी।मैंने उसके घूंघट को हटाया और उसकी आँख में आँख डालते हुए बोला- क्या तुम मुझसे शादी करोगी?बस इतना सुनना था कि उसके आँखों के किनारे से एक बार फिर आंसू बह चले थे. घोड़ा और लड़की वाला बीएफउसके बाद उसने मेरे होंठों पर उसके मोटे होंठ रखे, वो मेरे होंठों को चूसने लगा था.

10-15 जोरदार झटकों के बाद मैंने उसकी चूत में ही माल निकाल दिया और वो भी मेरे साथ झड़ गई. बीएफ चूत की चुदाई दिखाओउसने सफ़ेद ब्रा और नीली पेंटी पहनी थी… क्या बताऊँ क्या मस्त लग रही थी मेरी बहन बिकिनी में!अब मैंने उसकी ब्रा पेंटी भी उतार दी और उसके दूध पीने लगा और उसको चूत भी चाटी.

मुंबई से आने बाद पहली बार पुणे में मैंने सुनयना नाम की शादीशुदा भाभी को चोदा और आज तक उस भाभी की चूत चुदाई भूल नहीं पा रहा हूँ।नमस्कार दोस्तो मैं दीप पुणे से.इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला: वो चूत को साफ करने लगी जिस पर उसका वीर्य और खून लगा था और मैं उसकी चूची पीछे से दबाने लगा। फिर उसको उठाया और किस करने लगा, फिर मैंने शावर चालू किया।हम दोनों नहाने लगे और एक दूसरे के गुप्तांगों के साथ खेलने लगे जिससे हम दोनों का फिर से चुदाई का मन हुआ।मैंने उसको दीवार से सटा कर खड़ा किया, उसकी एक टांग ऊपर करके उसको चोदने लगा.

फिर उन्होंने एक सिगरेट को लाइटर से जला लिया और कश लेने लगीं।मैं उनको मस्ती से देख रहा था।अचानक सोनिया मैडम बोलीं- ऐसे क्या दिखेगा.फिर सब ठीक हो जाएगा।निशा ने मुझसे कराहते हुए कहा- ये सब तुम्हें कैसे पता?तो मैंने कहा- यार दोस्तों के साथ में ब्लूमूवी देख लिया करता था, उसी से सब मालूम हो गया।निशा फिर से बोली- तो तुम सच में गंदे हो।मैं हंसने लगा.

बीएफ का वीडियो देखना है - इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला

मैंने वो उतार दी, उसकी बिना बालों वाली बुर मेरे सामने थी, उसमें से कुछ चिपचिपा सा निकल रहा था। तभी उसने मेरा मुंह अपनी बुर पर लगा दिया.उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरे मुँह से चीख निकल गई।वो हैवानों सा मुझे चोदता रहा और मेरी चुची को दबाता रहा।फिर दस मिनट के बाद मैं झड़ गई.

क्यों है ना भाभी, मजा आ रहा है ना?’‘हां मेरे राजा हां… बहुत मजा आ रहा है… और चूत भी फट रही है… तेरा लंड बहुत मोटा तगड़ा और दमदार है. इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला कहीं मेरे शौहर को पता ना चल जाए।मेरा मतलब हल हो चुका था, भाभी मुझसे पट चुकी थीं.

कभी और किसी तरह से चोदने लगता।फिर वो बोला- रोशनी मैं तुम्हारी गांड भी मारना चाहता हूँ।’‘दर्द होगा.

इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला?

मैं 4 साल से हिंदी में चुदाई की कहानी की बेस्ट साईट अन्तर्वासना को पढ़ रहा हूँ।जवानी में सबकी गर्लफ्रेंड होती है. जब मेरे छोड़ने का वक्त आया तो वो बोली- चुत में ही छोड़ो… आज अपने लंड के पानी से नहला दो मेरी चुत को…मैं भी उसकी चुत में झड़ गया. चाची की चुदाई की यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!हाय… क्या बूब्स थे गोरे गोरे… बड़े बड़े!मैंने झट से निप्पल मुंह में ले लिए और चूसने लगा.

मेरी सारी प्लानिंग की माँ चुद गई, सोचा था कि शादी की सालगिरह पर पति से खूब चुदवा कर अन्तर्वासना पर सेक्सी कहानी भेजूंगी, पर पहली रात मेरे पति मुझे चोद कर सो गए, अगले दिन उन्हें टूअर पर जाना था. इस रगड़ का एक असर यह हुआ कि वंदु के हाथ ख़ुद ब ख़ुद अपनी चूचियों पे चले गए और वो अपनी गर्दन को बेताबी में इधर-उधार फेरते हुए अपनी चूचियों को मसलने लगी और अपने दांतों से अपने होंठों को काटते हुए सिसकारियाँ भरने लगी. और वो अब गर्म हो गई है… तुमने देखा ना कैसे अपनी चूत को मसल रही थी! अगर किसी और के साथ कुछ उल्टा सीधा किया तो प्रॉब्लम होगी.

बस फिर क्या था, मैंने अपने घुटनों को थोड़ा सही किया और वंदु की दोनों जाँघों को सहलाते हुए उसकी टांगों को उठा कर अपने कंधों पे रख लिया और फिर शुरू हुआ मेरे लंड का प्रलयंकारी प्रहार!‘आऽऽह्ह… आह्ह ह्ह… उम्म्म… ओह्ह्ह्ह… स्स्स्स्मीर…’ वंदु की तेज़ चलती सांसें और सिसकारियों का दौर शुरू हुआ. अब उसकी हिलती गांड देख कर मेरा गांड मारने का मन हो गया था… मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकल कर गांड पे लगाया लेकिन वो अन्दर कहाँ जाने वाला था. दो-तीन बार ऐसा दोहराने के बाद लंड करीब आधा से ज्यादा अन्दर चला गया था, मैं अब धीरे-धीरे अन्दर बाहर कर रहा था। इस तरह करते-करते लंड अपनी जगह बना चुका था, प्रिया को भी मजा आने लगा था, वो एक हाथ से अपनी बुर को सहलाती जाती और बीच-बीच में थूक भी अपनी बुर में लगाती जाती, शायद उसकी बुर में खुजली बढ़ रही थी.

अमिता ने एक ब्लैक डीप नैक गाउन पहना जो उसकी गांड पर एकदम टाइट था और जिसमें से उसके क्लीवेज काफी गहराई तक दिख रहे थे. मैं हिम्मत करके खेत की तरफ बढ़ा… कल की तरह वो आज भी मेरी तरफ पीठ किए हुए था.

दो-तीन घंटे हम वहां घूमे फिरे, कुछ प्लेसेस देखे, फिर एक रेस्ट्रोरेंट में जाकर खाना खाया.

!फिर मम्मी ने देख लिया कि मैंने दीपा की पेंटी पहनी है। मम्मी को शायद सब पता चल गया था.

तो भाभी अचानक बोलीं- ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने कहा- भाभी आप बहुत सेक्सी हो।भाभी इतरा कर बोलीं- मुझे पता है।‘जितना आपको पता है आप उससे भी ज्यादा झकास माल हो।’उन्होंने आँख मारते हुए कहा- तो क्या अब इस झकास माल को देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी।इतना सुनते ही मैं भाभी पर टूट पड़ा।उन्होंने कहा- मैं तुम्हारी हूँ सैम. उसकी चूत का वो खट्टा रस चॉकलेट के स्वाद के साथ मिक्स होकर बहुत जायकेदार हो गया था. ऐसे रिश्तों को दुनिया नहीं समझ सकती। ये रिश्ते कई बार बिना नाम के इतने अपने होते हैं कि बस.

’ की आवाज आने लगी।थोड़ी देर में हम पिकनिक स्पॉट पर पहुँच चुके थे। आज कुछ अलग ही अनुभव हो रहा था. मेरा पहला मौका है।मुझे लगा साली इतनी गदराई हुई है और पहली बार चुदा रही है. मैंने उसे कहा- पहले गेट तो बंद कर दो!वो गेट बंद कर के आई तो मैंने उसे कस के पकड़ लिया और उसे किस करने लगा.

हम जल्दी से वहाँ पहुँचे। हमने देखा कि उसके पैर में फ्रॅक्चर हो गया था और वो बाइकर तो भाग गया था।अब हम डर गए.

मेरे साथ चल!मैं समझ ही गया था कि आंटी का सेक्स का मन हो रहा है, मैं भी आंटी के साथ चला गया।आंटी सीधे मुझे अपने कमरे में ले गईं। मुझे पता था कि मेरे पास ज़्यादा टाइम नहीं है. ‘हाँ आज एक बात बतानी है तुमको!’‘तो चल अपने अड्डे पर चलते हैं!’ पिंकी ने पानी की टंकियों की तरफ इशारा करते हुए कहा।‘पिंकी तुझे पता है मेरी टयूशन वाली दीदी कितनी अच्छी है? मेरी मदद भी करती है और चॉकलेट भी दी खाने को!’‘क्या मदद की?’‘दीदी ने मेरे तम्बूरे को ताकतवर बनाया!’‘ओ ये तम्बूरा क्या होता है?’ पिंकी ने हैरान होते हुए पूछा. मैंने भाभी को उठाया तो भाभी से उठा नहीं जा रहा था तो मैं उसको गोद में उठा के बाथरूम ले गया.

नताली इंतजाम देख कर मुस्कुराई, फिर मुझे आंख मार कर बनावटी तौर पर उह-आह करने लगी. मुझसे मोटा लंड भी झेल जाएगी।मैं- राहुल भैया प्लीज़ आपके लंड से मेरी चूत फट जाएगी. सिटकनी लगाई और हम पर जैसे नशा सा छा गया। हम दोनों एक-दूसरे ऐसे चूम रहे थे.

‘आऊ वो आह्ह उफ्फ्फ ये आ आआ आ आ ह ह ह बे बे बी…’ उसने मेरे लिंग की चमड़ी नीचे खिसकाई और मेरे गुलाबी लंड के टोपे पर थूक से सनी जीभ को चारों तरफ फेरा- उफ़ उफ्फ्फ आह्ह आआह्ह्ह्ह!कभी वो पूरा लंड मुँह में लेकर चूसती तो कभी लंड के टोपे को चूसती, पूरा लंड गीला सा हो गया था, उसकी लार पूरे लंड पर बह रही थी.

वो अकड़ जाती और अपनी गांड उठाने लगती।मैंने बहुत देर तक उसको पीछे से भी गर्म किया और तड़पाया और फिर सीधा लिटाकर उसकी चुची को अपने मुँह में भर के चूसने लगा।जब मैं अपनी बीवी को चोदता हूँ, तो वो थोड़ी मादक आवाजें निकालती है ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ पर इसने कोई आवाज़ नहीं निकाली, सिर्फ ‘आह. जब पहली बार देखा तो देखता ही रह गया, उसने पंजाबी सूट पहना था, और पंजाबन तो होती ही हॉट है.

इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला मैंने उसे कहा- पहले गेट तो बंद कर दो!वो गेट बंद कर के आई तो मैंने उसे कस के पकड़ लिया और उसे किस करने लगा. फिर खुद बाइक पर मुझसे चिपक गई और मेरी जाँघों पर हाथ फेरने लगी।उसके ऐसा करने से मैं बहुत गर्म हो गया.

इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला स्वीटी उठी और बाथरूम में गई, उसने अपने आप को साफ किया और पांच मिनट बाद आकर मेरी बगल में लेट गई. वो बोली- समीर, कैसा लग रहा है?मैं बोला- बहुत अच्छा!वो बोली- चल मैं तुझे और भी अच्छी चीज़ दिखाती हूँ.

अभी तो तेरी इस चुदासी चूत में बहुत रस बाक़ी है भाभी!’‘तो क्या फिर से चुदाई करेगा… उफ़… लगता है आज तो सच में चूत का भोसड़ा बना कर ही दम लेगा मेरा चोदू राजा… ठीक है मेरे चोदू राजा, बना दे भोसड़ा.

मुलीची सेक्सी व्हिडीओ

ऐसा लग रहा था कि इसको पकड़ कर इसकी चुत में अभी ही अपना पूरा मुँह लगा दूँ और उसकी चुत के रस का पान करूँ।मेरा लंड तो अब तक पूरा प्यासा हो चुका था।अजीत ने अपने कपड़े उतार दिए और वो भी पूरा नंगा हो गया, उसका लंड लगभग 7. वो भी कहने लगी- मुझे भी मुंह में चाहिए।फिर हम 69 पोज़िशन में आकर मस्त एक दूसरे की सकिंग करने लगे और मजा आ रहा था।वो बोली- आज तो ज़न्नत मिल रही है, प्लीज़ करते रहो… रूको मत!मुझे और जोश आ गया, मैंने जल्दी से मैंने अपना घोड़ा निकाला और पिंक चिकनी चूत पे धीरे धीरे रगड़ने लगा. अब मेरी कर्तव्यपरायण पत्नी अपनी टांगें पूरी फैला कर डरावने-मोटे लंड को अपनी गांड में पिलवाने लगी.

कब तक मारता…मुझे भी बहुत दिनों बाद किसी का टाइट मस्त लंड नसीब हुआ था, इच्छा थी कि पेलता ही रहे! मैं भी, जब वह लंड पेल रहा था, अपनी गांड उचका उचका कर गांड बार बार ढीली टाइट करके उसका लंड मस्ती से अपनी गांड में झेल रहा था, मजा ले रहा था. तोली बहुत ही युक्तिपूर्ण आदमी निकला, उसने सोची-समझी स्कीम के अनुसार चलते हुए अपने विकराल लंड को मेरी पत्नी की गांड का खिलौना बना डाला! इस समय वो पूरा लंड बाहर निकाल कर नताशा को ऊपर की तरफ उठा देता था जिससे उसकी फ़ैल चुकी गांड से फच की आवाज के साथ हवा बाहर निकलती थी और दोनों रूसी प्रेमी हंसने लगते थे. संगीता भाभी की‌ रसीली‌ जीभ को‌ चूसने में मैं इतना मशगूल हो‌ गया कि धक्के लगाना ही‌ भूल गया, मैं बस कुछ देर के लिये ही रुका था कि‌ तड़प कर संगीता भाभी ने अपनी जीभ को‌ मुझसे छुड़वा लिया और वो खुद ही अपने हाथों व पैरों से मेरे कूल्हों पर दबाव डालकर मुझे हिलाने लगी.

एक घंटे के बाद मैंने देखा कि वो राम के साथ हंस हंस कर कैन्टीन में बात कर रही थी.

फिर मैंने उसको दीवार की ओर मुँह करने बोला और पीछे से उसको चोदने लगा। ऐसे ही कुछ देर तक हम दोनों बाथरूम में चुदाई करते रहे।इस बार मैंने अपना वीर्य उसके मुँह में दिया और वो उसको पी गई. बाद में सोच के बताती हूँ।हम दोनों गेट तक आए और उसने फिर से पूछा- तुम कहाँ जा रहे हो?तो मैंने जल्दी से उससे कहा- मेडिकल स्टोर पर जा रहा हूँ।‘ओके. 11:30 पे चाची खाना लेकर आ गई, हम दोनों कमरे में बैठ गए, मैं खाना खाने लगा, चाची मेरी तरफ देख के बोली- तेरी किस्से नाल सेटिंग ए? मतलब तेरी किसी के साथ सेटिंग है क्यामैंने कहा- नहीं चाची, मेरी इतनी किस्मत कहाँ!मैं भी पूरा निडर हो गया, बोला- चाची आप ही बताओ क्या करूँ?कुछ सोच के चाची बोली- मैं क्या बताऊँ?.

मैं यहाँ तुमसे मिलने नहीं आई हूँ। मैं यहाँ सुरभि दीदी से मिलने आई हूँ और जो कल हुआ उसे भूल जाना।यह बोलते ही वो दीदी से बात करके अपने घर चली गई।उसके जाने के बाद दीदी ने पूछा- क्या हुआ हीरो. मर गईइस बीच रीना उसकी मोटी-मोटी जांघें सहलाए जा रही थी।मैंने उसके मम्मों को दबाते हुए चुदाई शुरू कर दी. न रुकने वाली… बस कमर उठा उठा कर मेरे से ताल से ताल मिला कर चूत में लंड ले रही थी ‘आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह… म्म म्म्माआह्ह… ओह येस आशीष … ओह येस् आशीष…’आ… हआआ… हुम्म हुम्म्म्म… फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च…स्स्स्स्स स्साआ अह्ह्ह्ह… म्म्म म्म्माआआह्ह… ओह येस… ओह येस… ओह येस… ओह येस … ओह येसआआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह… अअह.

कि मुझे उसका ‘वो’ कोई गरम लोहे की रॉड लग रहा था।फिर बहाने-बहाने से मैंने ‘उसे’ दबाना शुरू कर दिया।वो तो शर्मा कर पानी होता जा रहा था पर मैं ही थी इतनी तेज. ’उनकी इस तरह की गर्म बातें सुन कर मुझे भी जोश चढ़ रहा था। मैंने उन्हें चित्त लिटाया और लंड को आंटी की चूत में पेल दिया। आंटी की आवाज निकली ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ उस रात मैंने आंटी को जी भर के कई मिनट तक चोदा। चुदाई करने के दौरान आंटी झड़ चुकी थीं।इसके बाद हम दोनों अलग हुए और वापस छत पर आ कर सो गए।मुझे आज भी वो रात याद है, उनकी वो जोश बढ़ाने वाली कामुक सीत्कारें.

हम दोनों न्यूड ही थे, उसको देखकर मेरा भी मन फिसल गया और वो भी मुझे बांहों में लेकर किस करने लगा. लेकिन थोड़ी देर में उतार दी। मैंने पैंट उतराते ही उसकी पेंटी भी उतार दी।वो ‘उहह ह्म. क्योंकि तेरे चाचा ने बच्चे तो पैदा कर दिए, पर वो ठीक तरह से मुझे शांत नहीं कर पाते हैं.

अगले दिन सनडे आया और मैं सुबह 5:40 पर जल्दी उठ गया और बाथरूम जाकर फ्रेश हो गया और अपना मोबाइल, पर्स, ए टी एम लेकर स्टेशन को निकल गया.

सुनीता ने अपने चूतड़ मेरी जांघों पे सेट करते हुए और चूत में अच्छी तरह से लौड़ा लेते हुए कहा- उन्ह राजा. तभी सोच रहा तेरे फ्लैट पर ही शिफ्ट हो जाऊँ।दिव्या ने आँखें बड़ी करके कहा- हट पागल।मैंने उसको लिफ्ट में दबाया और उसकी चुची ड्रेस के ऊपर से ही चूस ली।दिव्या- छोड़ ना यार. मैंने उसे गले लगाया और एक टाइट हग किया, उसके कड़क चूचे मेरे छाती से लग कर दब रहे थे। मुझे बहुत अच्छा फील हो रहा था। क्या बताऊँ दोस्तो, उसके बदन की खुशबू क्या कमाल की थी।जब मैंने उसे हग किया तो वो मेरे कान में कहने लगी- जी भर के प्यार करो आज तुम अपनी और मेरी आग बुझा दो.

लेकिन मैं कहाँ रुकने वाला था। मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और अपने काम में पूरी मस्ती से लग गया।कुछ पलों के बाद वो भी बुर की चुदाई का मजा लेने लगी।मैंने उसे कई तरह से चोदा. अरे आपसे यही खड़े होकर बात करने से अच्छा है कि आप अन्दर आ जाइए।यह कहते हुए भाभी ने मेरे हाथ से बोतल ली और मुझे हॉल में सोफे पर बैठने को कहकर वो किचन में जाने लगीं।उनके घूमते ही मैं उनकी गांड को हिलते हुए देखने लगा और इतनी खतरनाक गांड देख कर मेरे होश ही उड़ गए।क्या मस्त लग रही थी उनकी गांड.

तभी मैं चाची का ब्लाउज खोल कर एक के बाद एक दोनों चूची को चूस रहा था, और वो हम्म आह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊम्म ऊम्म कर रही थी, अपने हाथ से मेरे सर को चूची पर दबा रही थी, बोले जा रही थी- आज इनका पूरा दूध पी जा!पेट से होता हुआ मैं नाभि को चाटता हुआ नीचे जा रहा था… वो हम्म ओह्ह आअह्ह्ह्ह किये जा रही थी. भाभी की चुदाई की इस कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं अपनी रशीयन पत्नी को लेकर अपने माता पिता के पास भारत आया तो घर पर मेरे बचपन का दोस्त राजू आया हुआ था, वह मेरी रशियन बीवी के बारे में सुन कर मुझसे और मेरी बीवी से मिलने के लिए आया था।पूरी कहानी यहाँ पढ़ेंमतवाला देवर राजू और भाभी की चुदाई-1राजू अगले ही दिन अपने शहर वापस चला गया. मैं अपने दोस्त के यहाँ जा रहा था लेकिन बाद में पता चला कि वो बाहर गया हुआ है तो मैं पीछे वाले गेट से अंदर आ गया.

हिंदी में सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी

भाभी बोली- खाना ख़ाकर चुपचाप मेरे कमरे में चले जाना!मैं जवाब देने में असमर्थ था, मैंने सिर्फ़ हाँ में सिर हिलाया.

दोस्तो, क्या मैं गलत कह रहा हूँ? माशूक लौंडा पटाने में बहुत मक्खन लगाना पड़ता है।सुबह हम दोनों तैयार हो रहे थे, वह शीशे के सामने बाल संवार रहा था कि मैंने पीछे से पकड़ लिया, एक चुम्बन लिया, वह बोला- अभी मन नहीं भरा तो एक बार और हो जाए?और उसने अपनी पैंट उतार दी. क्योंकि मैं छोटी थी इसलिए मतलब तो नहीं समझी पर सुधीर समझदार है, इतना तो मैं समझ गई।अब आगे से मैं सुधीर के साथ भी वक्त गुजारने लगी. ‘नालायक कितना बड़ा लंड है तेरा, रुकने का नाम ही नहीं ले रहा, चूत फड़ेगा आज मेरी!’ मैं चुदाई के नशे में कुछ भी बोल रही थी.

पायल बहुत खुश थी।थोड़ी देर बाद पायल ने उठ कर अपने कपड़े पहन लिए और नीचे अपने कमरे में चली गई।इस तरह मेरा नेहा भाभी और पायल की मस्त चुदाई का सिलसिला दो महीने तक चलता रहा।फिर पायल की शादी हो गई और भाभी प्रेग्नेंट हो गई।आपको यह बहन की और भाभी की चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी, अपने विचार अवश्य लिखें।[emailprotected]. मैं भी सेक्स, बुर की चुदाई के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानता था इसलिए कुछ नहीं कर रहा था. बीएफ वीडियो सेक्स ब्लू फिल्मफिर उसने मज़ाक में मुझे कहा- तू काश मेरा बॉयफ्रेंड होता!मैंने कहा- अब बना ले!वो ह्नास्ती और कहती- तू होता तो क्या करता?मैंने उसे बांहों में भरा और कहा- तुझे चूमता!कहती- हट साला बदमाश!मैंने कहा- हाँ रे!‘सच्ची?’ कहती.

तुम ये कब से देख रहे हो?मैंने पापा को सच बता दिया।पापा बोले- क्या तुमने अब तक किसी को चोदा है?उनके मुंह से ये सुनकर मैं चौंक गया और ‘ना’ में मुंडी हिला दी।तब पापा मुझसे बोले- मेरे साथ आओ।मैं चुपचाप मुंडी नीचे करके उनके पीछे उनके बेडरूम में आ गया। पापा एक कुर्सी पर बैठ गए और माँ पलंग पर एक चादर ओढ़े लेटी हुई थीं, शायद वो पूरी नंगी लेटी हुई थीं।माँ मुस्कुरा रही थीं. मैं बोली- मजा क्यों? क्या हुआ जो मजा आएगा?विकास- अरे रात को तो खूब मजा ले रही थी और इतना जल्दी भूल गई?मैं- क्या किया… तुम बताओ, मैं तुम्हारे मुख से सुनना चाहती हूँ।विकास- सोनी, ये सब छोड़ो, आज मैं कंडोम ले आया हूँ, कल बिना कंडोम के किया, आज से कंडोम लगा के चोदूँगा।मैं एकदम घबरा गई कि मेरी बेटी सेक्स के चक्कर में पड़ गई.

मैंने अपनी जीभ की नोक को उसकी पेंटी के ऊपर से महसूस हो रहे दरार में थोड़ा सा दबा दिया. उसने मुझे बताया कि उसके पति का बहुत बड़ा बिज़नेस है जिसकी वजह से वो ज़्यादा बिजी रहते हैं और उसे ज़्यादा टाइम नहीं दे पाते!उसकी शादी को 5 साल हो गए थे पर उसके अभी कोई बच्चा नहीं था. मेरा लंड फनफना उठा, मुझसे रहा नहीं गया, मैंने अपने पायज़ामे में से अपना लंड निकाला और और धीरे-धीरे उसे हिलाने लगा.

वो दोनों पापा के बिस्तर में लेटे हुए थे, मम्मी उसके ऊपर लेटी थी, मम्मी की साड़ी पूरी ऊपर उठी हुई थी, मम्मी ने पेंटी भी नहीं पहनी थी, उनके नंगे चूतड़ मुझे दिखाई दे रहे थे. बिना चुन्नी के काफी बार झुकते हुए उसे देखा हुआ था पर कभी उम्मीद ही नहीं थी कि उससे आगे कुछ हो पाएगा. अब उसने धीरे धीरे उसका स्पीड बढ़ाना शुरू किया, जैसे जैसे उसने स्पीड बढ़ाई, वैसे वैसे मेरा दर्द बढ़ता गया.

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा प्रणाम, यह मेरी पहली हिंदी सेक्स की कहानी है।मेरा नाम राहुल है.

मुझे बहुत आनन्द आने लगा, जब वो अपने मम्मे को मेरे मुंह के पास लाती तो मैं उचक कर उसके मम्मे को अपने मुंह से पकड़ने की कोशिश करता लेकिन वो मुझसे और फुर्ती से अपने मम्मे को हटा लेती लेकिन इस तरह के खेल में गलती से मेरे दांत उसके निप्पल में गड़ गये थे. उसके दो कारण थे, पहला कि वो मुझसे सीनियर थी और गुस्सैल भी… कुछ इधर उधर होता तो मेरी नौकरी खा जाती चुड़ैल… और दूसरी कि उसे देख कर लगता था कि इसके 2-4 प्रेमी जरूर होंगे आखिर इतनी सुंदर जो ठहरी.

’ निकली, तो मैं डर गया और उसे छोड़ दिया।मैंने सोमी की तरफ देखा, वो मुझे देखते हुए मुस्कुरा रही थी, मुझे लगा कि सोमी भी चुदना चाहती है।कुछ देर बाद मैं सोमी के पास गया और उससे ‘सॉरी. और अब सुधीर भी अकेला हो गया।वैसे सुधीर अच्छा लड़का था, रेशमा से पहले और किसी लड़की का नाम मैंने उसकी जिन्दगी में नहीं सुना था।एक दिन मैं गार्डन के पास एक बेंच पर अकेले उदास बैठी थी. कर दूँगा।फिर मैंने उसे बाइक पर बिठा लिया। वो दोनों तरफ टांगें करके बाइक पर बैठ गई। मैं सिर्फ़ बाइक चला रहा था, अचानक मेरी बाइक के आगे से एक कुत्ता निकला.

तब मैं रात को अपनी छोटी बहन के साथ सेक्स करने की हरकत करता रहता था. मेरी उम्र 19 साल है। मेरे घर के पास ही मेरी मौसी का लड़का कोचिंग देता है। मैंने 12 वीं करने के बाद अब बीकॉम में एडमिशन ले लिया है और अब उसी से कोचिंग लेती हूँ। मैं अपनी फ्रेंड्स के साथ ही उससे वहां पढ़ती थी। वो मेरे को काफ़ी पसंद है. फिर मैंने मेरी पूरी बांह से उनके अंगों को पुश करना स्टार्ट कर दिया.

इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला वो सब बाद में इस्तेमाल करने की सोची।फिलहाल मैं बुरी तरह थक चुका था. मैंने आवाज लगाई ‘कौन है’ और भाग कर बाथरूम में पहुँच गए हम दोनों।बाहर से ये बोले ‘मैं हूँ तरन दवाजा खोल!’मैं जो पहले डरी हुई थी, और डर गई, मेरा पूरा बदन कांप रहा था, कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या जवाब दूँ। पर रवि ने धीरे से मेरे कान में कहा कि कहो ‘मैं नहा रही हूँ.

ब्रेस्ट में दर्द होने का कारण

तेरी भूख मिटाने को।ये कह कर मैंने उसको अपने करीब लाकर कस के पकड़ लिया।दिव्या- पता है. ’ कहा और वो चली गईं।उनके जाते ही मैंने नेहा को गले लगा लिया और चूमने लगा। धीरे-धीरे मैंने नेहा को नंगी कर दिया और मैं भी नंगा हो गया। क्या मस्त माल लग रही थी।मैंने उसे सब जगह चूमा, उसके चूतड़ तो बहुत मुलायम और गोरे थे ‘नेहा भाभी तेरे तो बड़े मस्त चूतड़ हैं।’‘अच्छा मुझे भाभी बना लिया देवर जी!’‘हाँ नेहा. सुबह बात करूँगी।फिर मैं सुबह दिव्या के रूम पर गया, उसका रूम खोला क्योंकि एक चाभी मेरे पास भी थी।जैसे ही मैं अन्दर गया.

मेरा परिवार एक जॉइंट फॅमिली है इसलिए सभी लोग मेरे चाचा चाची सब साथ ही में रहते हैं. जवानी की गर्मजोशी ने दो जिस्मों को ऐसे अपनी आगोश में लिया कि दोनों ऐसे आपस में लिपटे जैसे सांप चन्दन को लिपटा होता है. अमृता बीएफमेरा घर नई मुम्बई खारघर में 3 बैडरूम का एक फ्लैट है जो 11th फ्लोर पर है.

‘बिज़नस डील होगी तो फोन पे कितना टाइम लगेगा, उसका भरोसा नहीं, मैं दिखाती हूँ बैडरूम!’ मैंने पीछे से उसे कहा तो वो पीछे देखने लगा और एक फुट के दूरी से आँखों से मेरा नाप लेने लगा.

मेरे सुपारे को चाटते चाटते ही संगीता भाभी ने उसे अब अपने नाजुक होंठों के बीच हल्का सा दबा लिया और अपने होंठों को गोल करके धीरे धीरे ऊपर नीचे किया. चलो जल्दी से नहा लो, फिर ब्रेकफास्ट करते हैं। मैंने तुम्हारे फेवरेट चीज़ सैंडविच बनाए हैं।मैं- अरे वाह भाभी.

इसलिए थोड़ा कंफ्यूज हो गया।उन्होंने कहा- अरे अभी कहाँ तैयार हुई हूँ थोड़ी 15 मिनट और रुको न. और पिंक ब्रा में से बड़े ही नज़ाकत से बाहर झाँकती हुई मुझसे शायद कह रही थीं कि आओ मुझे दबाओ और चूस डालो।मैं जैसे ही अंकिता के मम्मों को दबाने को हुआ, तभी मुझे कुछ आवाज़ सुनाई दी।हम दोनों ने देखा कि वो न्यू कपल हमारे ठीक सामने खड़ा है।हम दोनों एकदम अलर्ट हो गए और वहाँ से जाने लगे।अजीत ने मुझसे कहा- डरो नहीं यार. मैं स्वर्ग में विचर रहा था।फिर मैंने उसको पटका तो कहती- प्लीज़ आराम से.

पहले मेरी और माया की बात थोड़ी बहुत होती थी मेरी बीवी के सामने ही… मगर जब मेरी बीवी मायके गयी तब से माया मुझसे कुछ ज्यादा ही बातें करने लगी और छोटी छोटी चीजों के लिए मेरे पास आने लगी.

स्टॉक तो नहीं है, लेकिन मुझे मालूम है कि कोई है, जो मुझमें कुछ देखती है।वो- वाउ, कौन है वो लकी??मैं- ज़रा नजदीक को आओ. दो-चार धक्के लगाने के बाद ही उसे अपने लंड के सूखेपन का अहसास हुआ, उसने लंड बाहर निकाल लिया, और तेल उठाने चल दिया. पेट चूमते हुए भाभी की चुत पर आ गया।मैंने देखा कि भाभी की चूत मस्त बालों वाली चुत है।मैंने पूछा- भाभी आप झांटें साफ नहीं करती हो?तो बोलीं- आजकल तुम्हारे भैया को तो टाइम ही नहीं मिलता.

वीडियो मे बीएफ सेक्सजा बोल दे।यह कहते ही वो जाने लगी तो मैं डर गया। फिर मैंने अपना लास्ट और जबरदस्त वाला जाल फेंका।मैंने उससे बोला- जाने से पहले एक चीज को देख कर समझ लो. पर मुझे पता नहीं था कि चूत में लगाना कहाँ है।फिर माँ ने उसे ठीक जगह पर लगा दिया। चूत चिकनी होने के कारण एक झटके में आधे से ज़्यादा लंड अन्दर समा गया। फिर माँ ने कहा- अब आगे-पीछे हो कर झटके मारो।मैंने ऐसा ही किया। माँ ज़ोर-ज़ोर से आवाजें निकाल रही थीं ‘उउफफ्फ़.

नई सेक्सी विडियो

वो अपने मुंह से थूक निकाल कर नताली की गांड पर डाल देता और फिर उसे अपनी जीभ से चाटने लगता. वो बोली- तुम्हारे लंड में काफी दम है, तुमने मुझे आज बहुत मजे से चोदा!उसने मुझे 2000 दिये और बोली- तुम वर्जिन थे, इसलिये दे रही हूँ… और मुझे इतना मजा कभी आया भी नहीं था, आज मेरी चूत मस्त हो गई. मुझे मालूम था कि 4 बजे मामी उठ जाती हैं। इसीलिए मैंने चुत पर लंड लगा कर धीरे-धीरे घुसेड़ दिया। उसे बहुत दर्द हुआ.

तो मेरे अन्दर ही झड़ना।इतना कहते ही हम दोनों साथ में झड़ गए और मैं उसके ऊपर लेट गया और उसे किस करते हुए बोला- भाभी, आप बहुत नमकीन हो।भाभी बोली- आप भी बहुत तीखे हो।हम दोनों हंसने लगे।उस दिन मैंने चार बार भाभी की चुदाई की. मेरी प्यारी गोरी गुड़िया ने अपने दोनों हाथों से दोनों मोटे लंड पकड़ कर सहलाए और उन्हें हल्के हाथों से मसाज करने लगी. मैं- तुमको शर्म नहीं आती क्या बके जा रहे हो तुम? मुझे कॉल गर्ल समझ रहे हो क्या?मनजीत- देखिए मेडम, यह तो मेरा जॉब है, अगर आप ऐसा करेंगी तो आपका भी फ़ायदा है और मेरा भी… अगर आप नहीं करेंगी तो दूसरा कोई तो करेगा.

सारा पानी उसके पेट पर छोड़ कर उसे चुम्बन किया और उसके ऊपर निढाल होकर लेट गया. वह इक्कीस बाईस साल की भरे हुए जिस्म की गोरी लड़की झुकी हुई मज़े से चुदवा रही थी. पर अभी ना तो तुम्हारे पति हैं और ना ही हमारे। हम अपनी वासना कैसे बुझाएंगे?इतने में मैं बोल पड़ा- मैं हूँ ना मौसी, मैं चोदूँगा आप सभी को।यह सुन कर तीनों हंस पड़ीं और मुझे अपना लंड दिखाने को बोला।मैं शर्माने का नाटक कर रहा था, मैंने कहा- आप तीनों को मैं अपना लंड दिखा तो दूँ.

कि तुम मेरा भरोसा नहीं तोड़ोगे।मैंने कहा- मुश्किल से कंट्रोल किया मैंने!इस पर वो हँसने लगी और बोली- कंट्रोल करो. मेरा लंड फिसल गया, मैं समझ गया कि इसके लिए ज़ोर मारना पड़ेगा… मैंने दोबारा लंड सेट किया और उसकी कमर पकड़ कर ज़ोर लगाया… मेरा आधा लंड अंदर चला गया लेकिन उसकी ज़ोर की चीख निकल गई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… लेकिन इस बार मेरी गर्लफ्रेंड ने उसे शांत किया उसकी चूत चाट कर…उसे भी धीरे धीरे मजा आने लगा, अब हर झटके के साथ मैं लंड को और अंदर करता… करीब 5 मिनट में मेरा पूरा लंड उसकी गांड में था.

मैं समझ गया कि वो भी फ्रेंडशिप करना चाहती है।हम लोग फिर बातें करने लगे और बात करते-करते रात कब निकल गई.

मैं कॉलेज फार्म भर रहा था और वो भी मेरे पास में बैठ कर कॉलेज फार्म भर रही थी. बांग्लादेश का बीएफ फिल्मवो तड़पने लगी, जोर जोर से चिल्लाने लगी- प्लीज बसंत, धीरे आईई मैं मर गई… हहहह धीरे! बसंत धीरे! अह्ह्ह्ह! हहह!मैं उसकी चूत को चूसता रहा और उसके बूब्स को भी दबाता रहा. सेक्सी में बीएफ पिक्चरदोपहर को भाभी मेरे घर पे आई और शक्कर लेकर चली गई, लेकिन मेरी ओर बड़ी अंतरवासना भरी निगाहों से देख कर…फिर मैं हिम्मत करके उनके घर गया, उन्होंने मुझे बैठने को कहा और वो थोड़ी देर बाद जूस लेकर आई. सम्भोग के बाद साफ टॉवल से चूत ओर लंड को ठीक से साफ करना चाहिए गर्म पानी में डूबी टॉवल से, अगर वो उपलब्ध न हो तो वाशरूम में जाकर साफ पानी से धो लेना चाहिए.

कुछ पल के लिए वो रुक गई… फिर हौले हौले वो दोबारा मेरे लंड पर झूलने लगी.

इसलिए बोल रहा हूँ कि मान जाओ और तुम भी मजा लो।आंटी कुछ सोचने लगीं और बोलीं- ठीक है बस आज कर ले. !मैं उसे समझाने लगा कि दर्द के बिना मजा कैसे आएगा और मैं आराम से ही करूँगा।मैं अपने लंड पर क्रीम लगाने लगा और उसके छेद को थूक से गीला करने लगा लंड को छेद पर टिकाया और धक्का मारने लगा. जब उसने नीचे देखा तो वो चौंक पड़ी क्योंकि उसकी फुदी से खून निकल रहा था.

अपनी ममेरी बहन की कामुकता देख कर कुछ देर तो मुझे समझ नहीं आया कि करूं तो क्या?पहले तो सोचा कि जब लड़की खुद ही चूदाई के लिए आ रही है तो मैं क्यों पीछे हटूं?मैंने मुड़ कर उसको किस करना शुरू कर दिया और वो बहुत मज़े से मेरा साथ देने लगी. ‘अब कुछ खाने की व्यवस्था है भी या नहीं?’‘क्यों नहीं राजकुमारी साहिबा! किचन में सब कुछ रखा है!’मैं किचन से दो कप कॉफी बना कर लाई और दोनों एक साथ बैठकर कॉफी पीने लगे. मालिक समझ गया कि इसका काम होने वाला है, उससे जितना भी ज़ोर लगा उस स्पीड से अपने हिलने की स्पीड बढ़ा दी.

छोटी बच्ची के साथ

लेकिन मुझे मालूम नहीं था कि बड़े होकर हम बहुत बड़े गेम्स भी खेलेंगे। वो बहुत आकर्षक है. पूरे कमरे में फछ फछ की आवाज़ आ रही थी… और वो क्या गांड उठा उठा कर चुद रही थी… अब तो हम दोनों चुदाई के टॉप मजे पर थे… यह देख कर अब मेरी गर्लफ्रेंड को भी गांड मरवानी थी. मेरा नामर्द पति 3 साल में मेरे सील भी नहीं तोड़ पाया।उसने पीछे हाथ करके मेरे दूध दबाए और कहा- अब तुम कभी प्यासी नहीं रहोगी।वो मुझे घर छोड़ कर चला गया।हम दोनों अभी भी सेक्स करते हैं, उसने मुझे कभी चुदाई के लिए नहीं तरसाया, जब भी मैंने चुदाई की चाह की, उसने मेरी चूत की चुदाई की.

बैड पर बैठ कर भाबी बोलीं- अब क्या बताऊँ… कुछ बताने लायक हो तो कुछ न!तो मैं बोला- फिर भी?भाबी बोली- तेरे भैया वैसे तो अच्छे हैं लेकिन एक काम में पूरी तरह से कमजोर हैं.

‘हां, ऐसे ही बोलने का, लंड को लंड बोलने में ही ज्यादा मजा आता है!’ ऐसे बोल कर वो मेरे मुख में धक्के देने लगा, उसके विशाल लंड के धक्कों से मेरी सांस फूलने लगी, तो मैंने उसका लंड बाहर निकाल लिया, तो वो अपने लंड को मेरे गाल पर मारने लगा.

‘आह… आह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह गॉड आह… प्लीज़ ऐसा मत करो!’ सनी ने आधे मन से कहा क्योंकि मजा तो उसे भी आने ही लगा था।राहुल ने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और जीभ से ही उसकी चुदाई करने लगा।क्या चूत थी …गुदगुदी और रसीली।‘आह… आह. मैंने अपने आप को एडजेस्ट किया और लंड को चूत के मुहाने पर रख कर एक बेहराम शॉट लगाया…कोमल… ओह्ह आई ई ई मर गई…असे दिसते आहे… थोडे मंद घालावे. बीएफ 2019 के बीएफया फिर अंजलि इसकी सगी बहन नहीं होगी।दोस्तो, इस बार मैं कुछ और सोच रहा था और शायद मामला कुछ और था, वो क्या मामला था ये सब आपको मेरी इस आंटी सेक्स की कहानी में आगे जानने को मिलेगा।मुझे लिखते रहिएगा। कहानी जारी है।[emailprotected].

30 बजे रात को मैं अपने घर आ गया।मेरे घर के सामने एक कार खड़ी थी। मैं दरवाजे के पास गया. मैं चुपचाप अपने कमरे में आ गया, सोचा कि आज तो गया… ये क्या हो गया मेरे से!मैं डर गया था. आपकी मासूम सी पत्नी किसी अंजान की गोद में नंगी बैठकर उसके लंड को अन्दर तक ले, यह सुख रिश्तों को और भी मज़बूत करता है.

तो मैंने कहा- किस काम में?वो बोली- बेवकूफ… सेक्स करने में!तो मैंने कहा- यही हाल यहाँ है… गर्लफ्रेंड बन नहीं रही और बनाना हमको आता नहीं!वो बोली- चल मैं सिखाऊँ!मैंने कहा- आप?तो भाबी बोलीं- इसमें हर्ज क्या है, मेरी भी हेल्प हो जाएगी और तुम्हारी भी!फिर क्या था… हमारी डील पक्की हुई और बात किसिंग से शुरू होते होते लंबी दनादन चुदाई तक चलती रही. अन्तर्वासना पर मेरी बहुत सी सेक्सी कहानी है रूचि चुची के नाम से… आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

वैसे ही वो मेरे ऊपर पैर रख के मुझसे चिपक गई। उसकी उभरी हुई छातियां और मेरा चौड़ा सीना एकदम से चिपक गए।मैंने धीरे से अपनी आँखों को खोला तो देखा कि उसके होंठ बिल्कुल मेरे नजदीक हैं, मैंने उसके होंठों से अपने होंठों को मिला कर किस कर लिया।उसने बिना प्रतिरोध के अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। मैं उसके होंठों को अपने अधरों से दबाते हुए उसकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार कर रहा था.

उनकी चुदाई की कहानी मैं बाद में लिखूंगा, अभी यह कहानी है एक देसी चूत की चुदाई की, मेरी एक फ़ोन फ्रेंड की. और ऐसे ही बड़बड़ाते हुए वो अकड़ने लगी, उसने अपने नाखून मेरी जांघों पर गड़ा दिये और थोड़ी ही देर बाद उसकी गति और उसका जोश थमने लगा। जैसे समुद्र की लहर खलबल खलबल करते हुए आती है और लौटते वक्त शांत रहती है, उसी तरह आभा की गतिविधियां भी शांत होने लगी और वह हमारे बगल में लेट गई. भाभी ने मुझे हटाया और कहा- अभी घर का काम करना है, उसके बाद प्यार करेंगे.

नंगी एचडी बीएफ ‘अरे मेमसाब क्या शरमा रही हो!’ उसने मेरा हाथ छोड़ दिया और अपने हाथ से अपना लिंग हिलाया और फिर छोड़ दिया. मैंने उसको गले लगाते हुए उसका नर्म-गुलाबी गाल चूम लिया और कहा- हम तीनों कब से तुम्हारा इंतजार कर रहे हैं.

और चूंकि भाभी के पति उनको वो संतुष्टि नहीं दे सकते थे, जो अभी मैंने सुहाना को दी थी।थोड़ी देर मैं भाभी अपने कपड़े पहनने के लिए खड़ी हुईं. तभी मेरा वीर्य निकल गया, उसने उसे थूक दिया और अपनी सलवार उतार कर फ़ेंक दी. जब मेरे छोड़ने का वक्त आया तो वो बोली- चुत में ही छोड़ो… आज अपने लंड के पानी से नहला दो मेरी चुत को…मैं भी उसकी चुत में झड़ गया.

सेक्सी सेक्सी सेक्सी हिंदी में सेक्सी

जब उसने अपनी बुर साफ कर ली तो उसने मेरा लौड़ा भी साफ किया और एक चुम्मा लेकर कहाँ- मेरे राजा, ऐसे ही मुझे चोदते रहना।मैंने भी फिर से प्रतिभा का पूरा बदन चूमा।इतने में ही वो दोबारा गर्म हो गई और मेरे लौड़े को चूसने लगी. मैं आपका मन बहलाने के लिए आपसे सारी रात बातें करूँगी।मैं भी बोला- कैसी बातें करोगी भाभी?भाभी थोड़ा हँस कर बोलीं- जैसी बातें करने का आपका मन होगा. वहाँ दुल्हन के पास कुछ लड़कियाँ थीं। आंटी दुल्हन के पास गईं और उससे कुछ कहा। शायद उनकी बात पर ही सब हंसने लगी थीं और दुल्हन का चेहरा लाल हो गया। फिर हम दोनों ने अपना-अपना गिफ्ट दिया और बाहर आ गए।बाहर आकर मैंने आंटी से पूछा- आपने उससे क्या कहा था.

‘साली छिनाल, नौटंकी करती है, चूत ने देख कितना पानी छोड़ा है!’ उसने अपनी उंगलियों को सूंघ लिया. हम सवेरे सवेरे सिलीगुड़ी स्टेशन पहुंच गए, वहां से फिर एक कार में दार्जिलिंग की वादियों में जाने लगे, ठण्ड भी काफी हो रही थी, तभी पीछे की सीट पे मुझे मस्ती सी सूझी, मैंने रीना का सर अपने कंधे पे रख लिया उसने मुझे कुछ नहीं कहा और एक कातिल सी मुस्कान दी.

मैं तुरंत उसके घर पहुंचा, बोला- क्या हुआ? आज अचानक बुलाया?वह बोली- मेरे शौहर कुछ दिन के लिए बाहर गये हैं, बीस दिन बाद लौटेंगे.

अब उसने मेरे होंठों पर एक किस कर दिया! मैंने शर्म से अपनी आँखें नीचे झुका ली. मैं अपनी प्यारी बहन को प्यार से कर रहा था ना कि उस तरह जिस तरह से सपनों में करता था। मैंने उसकी चुची को हाथ में भर लिया और उनमें हवा भरने लगा।मेरे हर धक्के पर माही प्यार में सिसकार उठती और उसकी चूत में लंड को और अंदर तक ले लेती. वहाँ बहुत सारी लड़कियाँ थी, कुछ सुंदर थी तो कुछ साधारण सी दिखने वाली…मैंने एक लड़की को दूर से पसंद किया और उसके पास जाकर उसका रेट पूछा.

उसके बाद उन्होंने कुछ ऐसा बताया जिस को सुन कर मैं चौंक गया, बोली- उसमें क्या है जो मुझ में नहीं?मैंने कहा- इस बात का क्या मतलब है?वो बोली- मैं तुम्हें पसंद करती हूं जबसे तुम्हें देखा है… पर मुझे पसन्द नहीं कि तुम किरण से बात करो!फिर मधु बोली- यहाँ कोई आ जायेगा, चलो मेरे कमरे में… वहां बात करते हैं. ‘जंगली बिल्ली’ यही नाम देना चाहूंगा कोमल को… उसका अंदाज़ बहुत आक्रामक था, वो मेरे जिस्म को चूम रही थी, चूस रही थी, काट रही थी, मेरे जिस्म में लव बाईट बनते जा रहे थे और मैं सिसकारी भर रहा था. फिर धीरे धीरे मैंने उनकी ब्रा भी उतार दी और उनके बूब्स चूसने लगा, फिर उन्होंने भी मेरी बनियान उतार दी। अब हम दोनों आधे नंगे हो चुके थे।इस तरह ही कुछ देर तक एक दूसरे के अंगों से खेलते रहे, फिर मैंने उनकी सलवार का नाड़ा खींच दिया और सलवार उतार दी.

हम डिनर करके सो गये और अगले दिन, हुआ यूँ कि घर के लोग कहीं बाहर जा रहे थे.

इंग्लिश बीएफ वीडियो देखने वाला: अन्तर्वासना पर मेरी बहुत सी सेक्सी कहानी है रूचि चुची के नाम से… आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं. मुझे जल्दी है, मैं बस माँ को गाड़ी में बिठाने आया था, वह गाँव जा रही हैं। नीलम ने भी साथ आने की जिद की तो इसको भी साथ ले आया।मैंने पूछा- हैलो नीलम कैसी हो?उसका उत्तर मिला- ठीक हूँ।मैंने अपने भाई से कहा- तुम तो कॉलेज जा रहे हो ना.

तो मुझे बताना। हम तीनों साथ में चुदाई करेंगे।ये सेक्स स्टोरी नहीं है. अमिता पूरी तरह से नशे में मदहोश थी, वह खुद को सम्हाल नहीं पा रही थी. वो किस करते-करते नीचे आई और झट से मेरे लंड को अपने मुख में लेकर चूसने लगी.

मैंने मामी की आँखों में देखा तो मुझे उनकी आँखों में प्यार लेने की इच्छा दिखाई दे रही थी.

उसे छोड़ दो, लेकिन मैं लगा रहा। थोड़ी ही देर मैं भाभी चूत ने फैला दी और चुसाई का मज़ा लेने लगीं।भाभी अपने मुँह से ‘आआहह. साली दर्द से चिल्लाने को हुई।मैंने तुरंत उसके होंठों पर होंठ रख दिए और एक जोरदार धक्का दे मारा। इस धक्के में मेरा आधा लंड उसकी चूत के अन्दर घुसता चला गया। वो छटपटाने लगी और मुझे धकेलने लगी, तो मैं रुक गया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं उसको चूमने और सहलाने लगा। उसको बहुत दर्द हो रहा था।वो बोली- अमित. क्या मस्त चूसती है तू, क्या बोलती है तू इसको?’ वो अपना लिंग हिलाते हुए बोला.