हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ

छवि स्रोत,बीएफ वीडियो हिंदी मूवीस

तस्वीर का शीर्षक ,

भरवाड सेक्सी वीडियो: हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ, फिर मैंने कहा- मेरी रानी, तेरी चूत की चुदाई कब से नहीं हुई?तो भाभी कहने लगी- इसकी चुदाई तो कभी नहीं हुई है, बस जब उसके मन में आया तो वो मुझे पकड़ कर मेरी चूत के ऊपर ऊपर से ही दो चार झटके लगा देता है … और मुझे आग में डाल कर छोड़ देता है.

महावीर बीएफ

मेरी गाड़ी घर पर ही खड़ी देख कर नैना पूछने आयी कि मैं ऑफिस क्यों नहीं गया. सेक्सी बीएफ मोटी मोटी मोटीथोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा- चलो अब घर चलते हैं … यहां ही सोना है क्या?उसने मुझे कहा- मुझको उठने में मदद तो करो.

10 मिनट के बाद मैं उठा और अपना लंड साफ किया।मैंने उसकी बुर को भी साफ किया।मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि अपने खुराफाती दिमाग की बदौलत मैं अपनी जवान भांजी की बुर मार चुका हूं।मैं उसको नंगी लेटी हुई देखता रहा। वो थकी हुई सी लग रही थी. हिंदी बीएफ सेक्सी फुल ओपनफिर कोई भी सभ्य पुरुष ऐसी लड़की की तरफ आकर्षित कभी नहीं होगा जो इस तरह की प्रवृत्ति वाली हो.

मुझे अपनी इस खूबसूरती के लिए अब तक कोई ब्वॉयफ्रेंड बनाने लायक लौंडा नहीं मिल सका था.हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ: उसी समय ताऊ ने लंड को चूत में पेल दिया और ताई की ‘आं … धीरे …’ की आवाज निकल गई.

अभी तक ये मेरा पहला मौका था इसलिए मैं कोई जल्दबाजी और रिस्क लेना नहीं चाह रहा था.सुबह होने को थी और सब एक बिस्तर पर नंगे बदन गिर कर एक-दूसरे से लिपट कर सो गये.

सेक्सी बीएफ भेजने वाली - हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ

कुछ देर तक मैं उनकी जांघों को चूमता रहा, जिससे कभी कभी गुदगुदी के कारण कल्पना की हंसी निकल रही थी.1 मिनट तक ऐसे ही वो पड़ी रही, फिर मुझे गाली देते हुए बोली- मादरचोद भोसड़ी के … रुक क्यों गया? चोद न कुत्ते मुझे … कमर चला!उसके मुख से गाली सुन के मैं पागल से हो गया। मैंने भी उसके मुँह में अपनी उंगलियों को घुसेड़ दिया.

मैंने फ़ौरन वसुन्धरा का ऊपर वाला कन्धा (दायां) अपने ऊपर वाले (बायें) हाथ से बिस्तर पर लगा कर वसुन्धरा को सीधा किया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया. हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ धीरे धीरे मैंने उसको गले लगाए लगाए उसे गले पर अपनी गर्म सांसों को छोड़ना शुरू कर दिया.

अचानक से रानी ने ज़ोर की किलकारी मारी- ईईईई ईईईई ईईई … अईईई ईईईईई ….

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ?

नितिन अक्सर ड्रिंक्स लेता है, इसलिए मैंने भी परमिशन दे दी, मैं उस गुड न्यूज के बारे में ही सोच रही थी. उसके इस कामुक रूप को जो भी लड़का देखेगा तो उसका मन मेरी बहन को चोदने का करने लगेगा. उसने झट से अपना हाथ मुझसे छुड़ाते हुए मेरे उस किस वाली जगह को अपने होंठों से लगा कर मेरे प्यार पर अपनी मुहर लगा दी.

मैंने इधर उधर देखा, सब लोग गहरी नींद में सो रहे थे और हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को चूसने में मस्त थे. पजामी की साइड से उसकी बड़ी सी गांड देखकर मेरा लंड पेंट में ही उफान मारने लगा. उन दोनों की चुदाई लीला देख कर मेरा भी चुदाई करने का दिल करने लगा, पर चोदूँ किसे.

सबसे पहले मैंने पाण्डे जी से पूछा कि मिस्त्री की पत्नी का क्या नाम है. दोस्तो, सभी लड़कियों को मेरे खड़े लंड का नमस्कार और सभी भाइयों को लड़कियों की चूत की तरफ से नमस्कार. शायद ये उसके सामीप्य का असर था या मैं काफी दिनों से घर नहीं गया था, जिससे मेरी जिस्म की भूख जाग रही थी.

फिर 5-10 मिनट बाद जब हम भाई बहन होश में आए, तो टाइम देखा 3 बज रहे थे. मन कर रहा था कि अंजलि को अभी चोद दूँ, पर कुछ सोच कर छोड़ दिया और सो गया.

मैं उनके रसीले होंठों को आम की तरह चूस रहा था और भाभी मेरी जीभ चूस कर मज़े ले रही थीं.

मैंने उसे सीधा किया और अपना पूरा लंड निकाल कर एक रूमाल से पौंछ कर उसके मुँह में दे दिया.

उन्होंने जल्दी से अपनी चैन खोली और अपना गोरा मोटा लंड बाहर निकाल लिया. अंकल ने मेरी दोनों चॉकलेटी रंग के निप्पल्स को अपने उंगलियों में पकड़ कर हल्के से दबाया. भाभी कराह उठीं उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उन्होंने मीठे दर्द के साथ मेरे लंड को सहन कर लिया.

उसका नाम पिंकी है, वो देखने में इतनी सुंदर और सेक्सी है कि कोई भी उसे एक बार देख ले तो मुठ मारे बिना नहीं रह सकता. कमीज निकलते ही काली ब्रा में कैद दो 34 डी साइज़ के कबूतर फड़फड़ारते से दिखे, जो ब्रा की कैद से बाहर आने को बेताब थे. मैंने अगले दिन से अपनी बॉडी लैंग्वेज चेंज की और जैसे ही मुझे अंकल जी आते दिखे मैं अपने दरवाजे पर उकडूं बैठ गयी और अपने घुटनों में अपना सिर छिपा लिया जैसे मैं बहुत दुखी होऊं.

वो मुझे घोड़ी बनाकर मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था.

वो बोला- बंध्या साली तू बहुत चुदक्कड़ है … मुझे ऐसी ही बीवी चाहिए थी, पर तेरी चुत तो बहुत गहरी है … मेरा लंड पूरा घुसने के बाद भी अन्दर पूरा नहीं पहुंच पा रहा. कुछ देर बाद मैं दिलिया को उठा कर बैठ गया, दिलिया मेरी गोद में थी, मैंने ध्यान रखा कि मेरा लण्ड चूत से बाहर न निकले. यदि कोई आ जाता, तो ना ही मुझे मज़ा आता और न ही उन्हें!वो समझ गए और मुझे नीचे बिठा कर अपने लंड मेरे मुँह में देकर चुसवाने लगे.

मैंने धीरे से बहन के पास लेटकर उसके पेट पर हाथ रख दिया और धीरे से टॉप को ऊपर करते हुए उसके चूचों पर जाकर रुक गया।फिर धीरे-धीरे उसके चूचों को दबाने लगा, फिर मैंने उसकी टॉप को थोड़ा ऊपर कर दिया और हाथ को उसकी ब्रा के ऊपर रखकर दबाने लगा. मैं अपनी सहेली से बहुत कुछ सीख गयी थी क्योंकि वो कभी कभी अपने ब्वॉयफ्रेंड से मिलने के लिए जाती थी, तो मुझे भी अपने साथ ले जाती थी. प्राची ने मुझे किस करते हुए मिनी के साथ अच्छे से सेक्स करने की बात कही.

मगर यह तो संभव सी बात नहीं लग रही थी कि बगल में चुदाई चल रही हो आपको नींद आ रही हो.

जब उन्होंने पहली बार मेरा लंड देखा था, तो मुझे पटा कर चुदाई कराने लगी थीं. और अगर आप एक स्त्री हैं, तो आप एक स्त्री होने के नाते अपनी मेल में मेरी इस सामाजिक पहल और मेरी इस सोच को जांचकर दो शब्द जरूर भेजना.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ मैं अपनी उंगली पर थोड़ा सा थूक लगा कर उनकी चूत के दाने को मसलने लगा. उसके बाद सीमा भी अपने आफिस से आ गयी और हम दोनों से हमारे अनुभव के बारे में पूछने लगी.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ मैं भी अपना मोटा लंड पूजा की गांड में जड़ तक अन्दर बाहर करके जोर से चोद रहा था. मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको मस्त लगी? प्लीज़ मुझे मेल करना और कमेंट करना न भूलना.

मम्मी के लिए तो तुम शादी के बाद भी बच्ची ही रहोगी बेटी, हे हे हे …” सर अपनी जांघों के बीच तनाव को कम करने के लिए ‘वहाँ’ खुजाते हुए बोले- पर तुम बताया करो ना … तुम तो अब पूरी जवान हो गयी हो … लड़कों का दिल मचल जाता होगा इन्हे यूँ फड़कते देख कर … पर तुम्हारा भी क्या कुसूर है … ये उम्र ही मज़े लेने और देने की होती है.

सेक्सी वीडियो दीजिए अंग्रेजी

भाभी ने जैसे ही मेरा हाथ गले में डाला, मेरा हाथ उनके चूचों पर चला गया. दोस्तो, मैं आपका अपना दोस्त अरुण एक बार फिर से आप सभी के सामने हाजिर हूँ. शायद उनको ये सब सुनना बहुत अच्छा लगता था इसीलिए उन्होंने मुझे कभी कोई उलाहना या शिकायत नहीं की.

बोलता था- देख ले तेरी राखी मेरे लंड पर बँधी है और तेरी चूत को सलाम करके चूत में ही समाने की कोशिश कर रही है. हम दोनों कराह रहे थे ‘आआह ह ऊऊह्ह …’कुछ देर में वह फिर घूमी और अपनी पीठ मेरी ओर कर दी. माँ ने मुझसे घर की देखभाल करने के लिए कह दिया और माँ बाहर बाजार में चली गयी.

मुझे भी अपने स्थान से उतरना पड़ा और उनके जाने के बाद में फिर से ऊपर चढ़ने लगा.

साथ ही उसने धीरे-धीरे नीचे से अपने नितम्बों को उठाना भी शुरू कर दिया था. मैं बोली- आशीष क्या देख रहे हो … मैं तो अभी भी बहुत चुदासी और प्यासी तड़पती पड़ी हुई हूं. मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन इतनी उत्तेजना को मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी.

मैं अपने शौहर के साथ सही से बात नहीं करती क्योंकि उसने मुझे कभी ऐसा एहसास ही नहीं दिया. बाद में उसी ने मुझे बताया कि वो खुद भी मुझसे अपनी सील तुड़वाना चाहती थी. अब मेरी मम्मी वासना से चिल्ला रही थीं- प्लीज़ मुझे चोद दो, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

मैं स्पीड से उसे चोदता रहा और सारे रूम में फच फच फच की आवाजें गूंजती रहीं. उसने अपनी कमर नीचे की और मैंने अपनी चूतड़ थोड़े उठाए और जैसे ही सुखबीर को मेरी योनि की छेद का स्पर्श हुआ, उसने जोर से लिंग धकेल दिया.

इसके साथ साथ जो पाठक हैं उन्हें खुद ब खुद आभास हो जाता है कि कहानी सच है या झूठ. क्या पता अपने पति के साथ मेरे रिश्तों के बारे में पता चलने पे क्या महसूस करेगी, कहीं मोहल्ले में शोर न मचा दे? क्योंकि ज्यादातर औरतें अपने पति को दूसरी औरत के साथ बर्दाश्त नहीं करती हैं. अंदर पहुँचा तो देखा भाभी की बहुत ही करीबी फ्रेंड रश्मि साथ में बैठी हुई थी.

मैं- फिर आगे भी मौका मिलेगा आपको खुश करने का या नहीं?कल्पना- आज जिस तरह से तुमने किया है ना … उस हिसाब से तो आगे भी तुम्हें भी मौका मिलेगा, अगर तुमसे अच्छा कोई और मिला, तब का तब देखेंगे.

उसने भी अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पर ले जाकर मुझे कसकर अपने से गले लगा लिया और हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे. मैंने हिम्मत करते हुए अपने सारे कपड़े उतारे और सिर्फ चड्डी में होकर बाथरूम में घुस गया. इतने में मेरे चाचा जी जो गाँव में ही थोड़ी दूरी पर रहते हैं, वो आ गए.

आते ही उसने गेट खटखटाया … मैंने झट से गेट खोला और उसको रूम के अन्दर आने का इशारा किया. खैर मेरी हालत खराब हो चली थी, लेकिन तब भी मैं उनका पूरा साथ दे रही थी.

कहानी का पिछला भाग:तलाकशुदा माँ की अगन-3अगली सुबह जब मैं उठा तब मम्मी घर के काम कर रही थी और मैंने भी अपनी सामान्य दिनचर्या की और एक शॉवर लिया और कपड़े पहनकर लिविंग रूम में आ गया. पहले पहले मीना ने मना किया लेकिन बाद में वो मान गयी, एक पेग लेकर मीना बोली- अभी आती हूँ. मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसको कमरे से बाहर निकाल दिया और अपने बेड पर आकर लेट कर रोने लगी.

सेक्सी लगा दो

दो दिन के अंदर मेरी जॉब लग गई और उसके बाद मेरा उनके घर पर आना-जाना बढ़ गया.

बुर से निकले स्वादिष्ट माल को पी जा प्यारे भाई!उसकी बुर फड़फड़ा रही थी और उसकी गांड में भी कम्पन हो रहा था. बाकी के दिन तुम्हारी मर्ज़ी पर लेकिन आज तो अपनी फीस लेकर ही रहूँगा. हॉट बहू की चूत चुदाई कहानी में पढ़ें मेरे शौहर के इन्तकाल के बाद मैं अकेली हो गई। कुछ समय बाद मेरी प्यास बढ़ने लगी। तो मेरी नजर मेरे जेठजी पर गई।यह कहानी सुनें.

उसकी कसी हुई चूचियां मेरे सीने पर रगड़ रही थीं, उसके निपल्स मेरे सीने में चुभ रहे थे. मैंने अब यह बात अपनी अपनी बड़ी दीदी से बता दी कि एक लड़का है आशीष, उसने मुझसे दोस्ती की है और मुझे कुछ देने के लिए बोला है, तो क्या तुम चलोगी?उसने कहा- हां वैसे भी कोई कुछ दे, तो मना नहीं करना चाहिए. गांड में लंड बीएफवो … मैंने आज अंजलि को दे दी सर …” पिंकी ने हड़बड़ा कर कहा।ओह … हां … इसकी तो और भी बड़ी-बड़ी और मस्त हैं.

इधर मैंने अपनी रफ्तार को बढ़ा दिया और कुछ समय बाद मैंने मम्मी की चूत में ही अपना सारा वीर्य गिरा दिया. फिर रोहन और जॉन भी बेड पर आ गये और मेरे मुंह में दोनों ने फिर से एक साथ लंड डाल दिये.

जल्दी ही हम दोनों के कपड़े उतरते चले गए और हमारे नंगे जिस्म आपस में गुंथ गए. उसके निप्पल ऐसे तने थे जैसे उन दोनों कटोरियों के ऊपर दो किशमिश रखी हों. अजय ने मीना का एक एक पेग और बनाकर खुद ही उसके मुंह में गिलास लगाकर उसे पिला दी.

फिर हम थोड़ी देर एक दूसरे से चिपक कर बातें करते रहे और एक दूसरे को किस करते रहे. वो बोली- क्या कर रहे हो प्रवीण?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस किसी बात पर ध्यान लगा रहा था. जैसे ही पूरा लंड चुत के अन्दर गया, तो भाभी बोलीं- अब कुछ शांति हुई है मेरी इस साली को.

फिर पापा ने पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया और दे दनादन मेरी चूत को चोदने लगे.

इससे मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और मैंने उसकी पूरी कमर पर हाथ फेरना चालू कर दिया. थोड़ा समय बीतने के बाद निशा जोर जोर अपनी पूरी बॉडी को हिलाने लगी और एक जोर की सिसकारी लेते हुए वो भी शांत हो गई.

दूसरी बात मम्मा की चूत को बहुत दिनों से लंड का स्वाद नहीं मिला था तो बहुत ज्यादा सम्भावना थी कि वो मुझे चोद लेने देतीं. उसकी छाती ज्यादा मजबूत तो नहीं दिख रही थी लेकिन फिर भी अच्छी लग रही थी. इसके बाद उसने बोला- अंश, अब मुझसे रुका नहीं जाता, तुम मेरी चूत में अपना लंड डालकर मुझे चोद दो.

लेकिन उसने जानबूझ कर दर्द में होने का नाटक किया क्योंकि वो ये मौका खोना नहीं चाहती थी. मैं बेडरूम में चला गया अन्दर का नजारा बहुत ही सेक्सी और लंड खड़ा कर देने वाला था. फिर जब शाम हो गई और भाभी का कोई मैसेज नहीं आया तो मैं उनके फ़ोन आने तक तक इंतजार किया.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ मैंने झट से उसकी आवाज़ दबाने के लिए जल्दी से उसके मुँह को बंद कर दिया. मैं उनको अभी कुछ और देर चोदना चाहता था लेकिन मम्मा की चूत झड़ने से बहुत ज्यादा गीली हो गई थी जिससे मज़ा खराब हो गया.

सेक्सी बाल

मुझे भी अच्छा लगता है क्योंकि यहीं से भेद खुलता है कि औरतों को क्या पसंद है और क्या नहीं. मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और मेरे स्तन उनके कठोर चौड़े सीने से दबे हुए पिस रहे थे. एक बार मैंने उसे गर्म करके चोद दिया तो उसे चुदाई में मजा आया और वो लंड मांगने लगी.

पहले पहले मीना ने मना किया लेकिन बाद में वो मान गयी, एक पेग लेकर मीना बोली- अभी आती हूँ. वो बोलीं- बेटा तुम कहां हो?मैं बोला- मैं तो अभी अपने घर आ गया हूँ, बोलिए क्या बात है?वो बोली- कल घर आने का मन है. बिहार वाला बीएफ दिखाइएफिर धीरे धीरे उनके पेट पर चुम्बन करते हुए मैं अपनी मम्मी की चूत तक आ गया.

कमीज निकलते ही काली ब्रा में कैद दो 34 डी साइज़ के कबूतर फड़फड़ारते से दिखे, जो ब्रा की कैद से बाहर आने को बेताब थे.

आय हाय मेरी बन्नो, लगता है तुझे लण्ड की लत लग गयी है एक बार में ही. मैं आगे की तरफ आकर धर्मशाला की तरफ ये सोचते-सोचते बढ़ गया कि चलो चाची का काम आज रात को ही कर देते हैं.

खैर मेरी हालत खराब हो चली थी, लेकिन तब भी मैं उनका पूरा साथ दे रही थी. लेकिन उधर से कोई रेस्पॉन्स नहीं आया तो मैंने मम्मा को उत्तेजित करने की कोशिश जारी रखी. रानी ने अब हाथ मेरी छाती पर जमा के उछल उछल के धक्के लगाने शुरू कर दिए थे.

मैंने जोर लगा कर उसके मुंह में लंड को अंदर फंसा दिया और धक्के देने शुरू कर दिये.

उसके बाद हम लोगों ने कॉफी पी जो रश्मि ने सीमा के किचन में जा के खुद मेरे लिए स्पेशली बनाई और कहा कि अगली बार वो खुद के घर में मुझे बुलाएगी और मेरे साथ अपनी फैंटेसी को पूरा करेगी. बिना बात किये सिर्फ इशारे पर चुदाई करना और रतिक्रीड़ा करना एक अलग ही अहसास देता है. मैंने कॉफी का कप टेबल पे रखा और जाने के लिए उठ खड़ा हुआ, तो नैना भी उठ गयी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी चोदा चोदीनैना बोली- मुझे यूं ही प्यासी क्यों छोड़ के जा रहे हो?मैंने कोई जवाब नहीं दिया और अपने फ्लैट में लौट आया. मैं अपनी गांड की खुजली खत्म करने के लिए किसी अजनबी लंड को ढूँढने लगा और एक गे साइट में जाकर मैंने फिर से एक नया अकाउंट बना लिया.

हिंदी सेक्सी पिक्चर डाउनलोड वीडियो

मेरे बदन पर से पसीना भी अब तक सूख गया था, पर उसकी बदबू अभी तक नहीं गयी थी. इस बार मुझे नहीं पता कि अनजाने में या जानबूझ कर आंटी ने अपना हाथ मेरे लंड से छुलवा दिया. फिर उसे ज्यादा तड़पाने का निर्णय नहीं लेते हुए मैं अपने लौड़े को उसकी चूत के ऊपर सहलाने लगा.

फिर मैंने सोचा वक्त पर ही सब छोड़ देता हूं, अभी बहुत लंबा सफर है।इस बीच कानपुर फ़ोन करके अपने एक जूनियर साथी से खाना लाने के लिए बोल दिया था. मेरी बीवी मुझसे सुबह चुदवा लेती है क्योंकि मेरी बीवी को मेरा जल्दी सुबह खड़ा हुआ लंड बहुत पसंद है. मैं- तुम्हारी दीदी मां कैसे बनी, ये पता है?वो- धत … ये भी कोई पूछता है क्या?वो शरमा गयी.

और मैं इधर सन्जू को किस करते जा रहा था।एकाएक मैंने सन्जू को नाईटी उतारने को कह कर उसकी नाईटी ऊपर से उतार दी, अब सन्जू की चूची पूरी तरह से नंगी थी और काफी आकर्षक लग रही थी, पूरी गोरी गोरी और टाईट, उसके निप्पल पूरे टाईट हो गये था।रोहित उसे कुछ देर निहारता रहा फिर उसकी एक चूची को अपने मुंह में डाल लिया. शुभी ने कहा कि बाकी सब ने भी किया है और श्वेता को भी बिना ब्रा के डांस करना पड़ेगा. उसके मुंह से कसमसाहट भरी कामुक सिसकारियाँ हल्की-हल्की बाहर आने लगीं.

बेड पर बैठ कर हम दोनों ऐसे बात करने में लगे थे जैसे हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हों और बहुत सालों से एक दूसरे को जानते हों. मैंने उसे सीधा किया और अपना पूरा लंड निकाल कर एक रूमाल से पौंछ कर उसके मुँह में दे दिया.

जब चंडीगढ़ में मैंने उसकी फुद्दी का स्वाद चखा तो बहुत दिल कर रहा था कि एक बार फिर उसकी फुद्दी में अपना लन डालूँ.

एक तो मुझे पहले ही नींद नहीं आ रही थी और अब मौसी मेरे बगल में लेटी थीं, तो नींद आने का सवाल ही नहीं था. बीएफ पिक्चर चुदाई की चुदाईश्वेता की उम्र 19 वर्ष थी और उसकी गोरी चूचियाँ 28 के साइज की थी, गांड 32 की और उसकी फ्रेंड शुभी की उम्र 18 साल थी. बीएफ 2001 केमैं चाहकर भी रोक नहीं पा रहा था, तो मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और उसका हाथ पकड़कर कहा- ऐसा मत कीजिए, मुझे कुछ हो रहा है. भाभी ने मुझे सहारा दिया और मेरे एक हाथ को अपने गले में डाल कर मुझे बेड तक लेकर आईं.

मैं माया भाभी की टांगों के बीच में घुटनों के बल आधा खड़ा होकर उसकी चूत में अपना लंड डाले नंगा खड़ा था.

हालांकि उसकी ये सैटिंग ज्यादा दिन तक नहीं चली और उन दोनों की आपस में लड़ाई हो गई. मैंने अब यह बात अपनी अपनी बड़ी दीदी से बता दी कि एक लड़का है आशीष, उसने मुझसे दोस्ती की है और मुझे कुछ देने के लिए बोला है, तो क्या तुम चलोगी?उसने कहा- हां वैसे भी कोई कुछ दे, तो मना नहीं करना चाहिए. आप उधर कुर्सी पर बैठ जाएँ और मैं लहंगा आप के पैरों में रख देता हूँ.

एक दिन मैंने फिर आगे बढ़ने को सोचा और उसे बोला- चल सरिता आज फिर कुछ नया करते हैं. दिलिया बोली- मेरा निचला होंठ चूसो!मैं निचला होंठ चूसने लगा तो मेरी दुल्हन की चूत ने मेरा लण्ड ढीला छोड़ दिया, वह ऊपर उठ गयी और लण्ड बाहर आ गया. कल जब मैं तुम्हें प्यार कर रहा था तो तुम्हें मजा नहीं आया क्या?वह बोली- हाँ, आया तो था.

व्हिडिओ ओपन सेक्सी बीपी

रंगे सियार तो मुझे सख्त नापसंद हैं, रंगे सियार से मतलब जो लोग अपने बाल, और दाढ़ी मूंछ को काली डाई से रंग करके जवान दिखने का बेहूदा प्रयास करते हैं न वो; अब सफेदी तो झलक ही जाती है चाहे आप कितना भी जतन कर लो. कान में फुसफुसाते हुए जमाई जी बोले- कौन हो तुम?मैं बोली- कल के अधूरे काम को पूरा कर लें जमाई जी? दीदी बाहर बैठी है. बातों बातों में उसने बताया कि अगले दिन मेरा जन्मदिन है, पर मैं किसके साथ मनाऊंगी … हस्बैंड तो ड्यूटी पे है.

जब मैंने देखा कि सुषी को भी मेरे लंड से इस तरह चुदाई करवाने में मजा आ रहा है तो मैंने उसकी चूत को और जोर से चोदना शुरू कर दिया.

अमर की छाती की दोनों घुंडियों को चूसते हुए ही उसने अमर के लोवर को भी नीचे कर दिया.

मैंने संगीता की चूत को तो चोद दिया था लेकिन मेरी एक हसरत अभी अधूरी ही थी. मैं ऐसे ही एक हाथ से पीठ और दूसरे हाथ से उसकी गांड सहलाता रहा और उसे शांत होने दिया. भोजपुरी सॉन्ग बीएफबोलता था- देख ले तेरी राखी मेरे लंड पर बँधी है और तेरी चूत को सलाम करके चूत में ही समाने की कोशिश कर रही है.

मैंने थैंक्यू बोलते हुए कहा- मेरे साथ भी आने वाला कोई नहीं है … मेरे लिए आपकी कंपनी अच्छी रहेगी. आज न जाने क्या बात हो गई थी कि मेरे पति का लंड मेरी चुत के चिथड़े उड़ा रहा था. मेरी मौसी की दो लड़कियाँ हैं, बड़ी की शादी हो चुकी है और छोटी अभी B.

मैंने इधर एक दूसरी कंपनी ज्वाइन कर ली और इस कंपनी ने मुझे वहीं एक सोसाइटी में रहने की लिए फ्लैट दे दिया. कपिल- आज तू मुझको जब तक गन्दी-गन्दी गालियाँ न बकने लगेगी तब तक तेरी बुर को चचोरता रहूँगा साली.

उस समय ठंड के दिन थे, इसलिए खिड़कियाँ भी बंद थीं और वो रात का सफ़र था.

चुदाई की मदभरी ध्वनियाँ वातावरण को अनेकों गुणा कामुक बनाये जा रही थी. वह लगातार मेरे लंड को चूसती ही जा रही थी, शायद उसका मूड भी दोबारा बन गया था. हां और किसी की बात नहीं जानता, लेकिन आपको तो पक्का प्रेग्नेंट कर दूँगा.

भाभी की सेक्सी सेक्सी बीएफ मम्मी बार बार अपने पल्लू को ऐसे सही कर रही थीं कि वो जल्द ही फिर गिर जाए. फिर उसने मुझसे पूछा- क्या आप हॉस्पिटल में एडमिट हैं?मैंने कहा- नहीं.

अब अपनी मम्मा सौम्या को फिर से पीछे से अपनी बांहों में भरकर मैं उनकी चूत पर लंड और उनकी सुराहीदार गर्दन पर अपने होंठ रगड़ने लगा. तुम्हें तो कोई काम नहीं है ना?मैं बोला- नहीं यार, मैं तो यहाँ अकेला ही रहता हूँ. अमर अपनी स्पीड में तो था ही … उसने कुछ और तेज झटके दिए तो पिंकी झड़ने लगी.

सेक्सी फोटो सेक्सी पिक्चर वीडियो

मेरी इस कहानी में चार लोग है, निखिल उम्र 20 साल, मीरा उम्र 38 साल, रितेश उम्र 40 साल और रीमा उम्र 21 साल. नीतू तुम्हारी जांघों के बीच में हाथ रखा था, तब मुझे महसूस हुआ था, इसलिए पूछ रहा हूँ, तुम्हारी पैंटी गीली हो गई है क्या?”अंकल की बेशर्मी की हद हो गई थी. दूसरी तरफ अगर मैंने बिना कंडोम के किया तो हो सकता था कि वह पेट से हो जाए और फिर एक मुसीबत और आ खड़ी हो.

दोस्तो, अगर गर्लफ्रेंड पोर्न कहानी पढ़ने के बाद आप पानी गिराते हो, तो प्लीज मुझे कमेंट्स और मेल करके अपना एक्सपीरियंस जरूर बताना. मैंने उसे अपनी बांहों उठा लिया तो रिया ने हंसते हुए कहा- चांस मार रहे हो क्या?मुझे गुस्सा आ गया.

आज मैं आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अपनी प्यारी बीवी की गांड को चोदा.

वो लगातार बोले जा रही थी- सर एक दो मूवी और साइन करवा दो, पूरी जिन्दगी आपकी रंडी बन कर रहूंगी. उसके साथ मेरी सेटिंग कैसे हुई?नमस्कार दोस्तो, मैं देवराज शर्मा राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के एक छोटे से ग्राम से हूं. मैंने फिर से चूत में उंगली डाली और खुद भी उसकी चूत की रबड़ी को चख लिया.

ऐसे ही कुछ मिनट गांड मारने के बाद उनके धक्के अप्रत्याशित रूप से तेज हो गए. मैं कहा- तो?नफीसा- आप अपने दोस्त को कुछ मत पूछना, हक़ीकत जो भी है, वो मैं तुमको मिल कर बताऊंगी. मैंने अपने टिफिन से कटोरा निकाल कर पकड़ाते हुए बोला- वाशरूम में जाओ और इसमें दूध निकाल लो और मेरे नाम से अपनी चूत में उंगली कर लीजिए और अपनी पैंटी में मलाई दे दीजिए.

उसने ‘धत्त’ कहते हुए फोन लिए और हेलो करते हुए एक कोने में जा कर बात करने लगी.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाओ: कुछ देर तक इसी पोज में चोदने के बाद पूजा को घुमाकर उसकी गांड के नीछे दोनों तकिये रख दिये और पूजा ने दोनों पैर अपने दोनों तरफ कर लिये. मैंने उसको वापस अपनी तरफ खींच लिया और उसको फिर से अपने नीचे लेटा लिया.

ऐसी लड़की पत्नी के रूप में किसी भाग्य वाले को ही मिलेगी जो कि इतनी आगे बढ़ कर भी अपने यौवन को भंग होने से बचा ले।उसके बाद मैंने रीनल से माफी मांगने की काफी कोशिशें कीं किंतु रीनल ने मुझे कभी भाव नहीं दिया. तभी मेरी सहेली रिम्पी ने मुझे फ़ोन किया कि मैं उसको कुछ देर के बाद होटल में लेने आ जाऊं. क्योंकि घर में कोई नहीं था तो मैं सोचने लगी अगर इतना करके चुदने से बच सकती हूं तो कोई बुराई नहीं है आखिर इतना तो जीजा साली के बीच में चलता ही है और किसी को पता भी नहीं चलेगा, मैं कुछ मजा भी ले लूंगी.

जब उस स्टॉप से बस चलने को हुई, तो मैंने देखा कि एक लेडी मेरी सीट पर बैठ गयी है.

उधर मेरा दोस्त सुमेर और गुलाबो की बहन पारो दूर से हमारी चुदाई देख रहे थे. फिर मैंने भी एक हाथ से उसकी जीन्स का हुक खोलकर उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया. मैंने पूछा- कैसी अधूरी इच्छा?तो नम्रता बोली- जो मैं चाहती थी, वो मैंने अपने पति से बोला, लेकिन वो माने नहीं.