पाकिस्तानी ओपन बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो बीएफ पिक्चर ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

भोजपुरी फिल्म की सेक्सी: पाकिस्तानी ओपन बीएफ, मैं उठा और नहाकर बाहर आया, तो मम्मी पापा बाहर बैठे टीवी देख रहे थे.

बीएफ वाली सेक्सी

उसका लंड अब बड़ा होना शुरू हो गया था और मॉम की गांड में सटा हुआ था. मुसलमान की बीएफ हिंदीमौसम दोपहर बाद से ही खराब हो रहा था और आसमान में गहरे काले बादल मंडरा रहे थे.

पर शाम होते ही उनके साथ आया आनंद मुझे रह रह के याद आने लगा और मौसा जी का वो बलपूर्वक सम्भोग याद करके मेरी चूत अनचाहे ही बार बार गीली होने लगी जैसे वो फिर से वही मोटा तगड़ा लंड मांग रही हो. घोड़ा बीएफ घोड़ा बीएफउसने मेरी छाती को चूमना शुरू किया और जल्दी ही उसका मुंह मेरे निप्पलों पर आ लगा.

अम्मी की उम्र 41 साल है, लेकिन उनकी फिगर 34-32-36 को देख कर ऐसा लगता है कि अम्मी अभी 32 साल की ही हैं.पाकिस्तानी ओपन बीएफ: मैं उससे अलग हुआ और मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए, बस अंडरवियर में हो गया.

भाभी की चूचियों की बात ही कुछ अलग थी … उन्हें जितना भी दबाओ … मन ही नहीं भर रहा था.वो अपनी गुड़िया के साथ खेल रही थी और मेरे इंतज़ार में तैयार होकर बैठी थी.

हिंदी बीएफ स्टेटस - पाकिस्तानी ओपन बीएफ

दोस्तो, आज मैं आपको मेरी और मेरी प्यारी भाभी सुनयना (बदला हुआ नाम) के बीच हुई एक सच्ची घटना के बारे में बताना चाहता हूँ कि किस तरह मैंने अपनी भाभी को पटाया और उनकी चुदाई की.इस समय मैं अपने ही भाई की बीवी यानि अपनी भाभी को चोदने के बारे में सोच रहा था.

उसने बोला- तू चिंता मत कर डार्लिंग, मेरे लंड ने बहुत सील तोड़ी हैं शुरू में जब लंड अन्दर जाएगा, तो तुझे थोड़ा दर्द होगा … लेकिन कुछ भी हो जाए, तू चिल्लाना नहीं क्योंकि किसी को पता चल गया, तो न सिर्फ तेरी सिर्फ इज्जत जाएगी. पाकिस्तानी ओपन बीएफ ये कहते हुए भाभी झुक गईं और उन्होंने मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर मुँह को आगे-पीछे करने लगीं.

वो मेरे लंड पर साबुन लगाने लगी तो मैंने कहा- मुझे तुम्हारी गांड मारनी है.

पाकिस्तानी ओपन बीएफ?

छोटा ब्लाउज होने के कारण उसकी पीठ का काफी बड़ा हिस्सा दिखता रहता है और मोटी मोटी चूचियां हमेशा ब्लाउज से बाहर निकलने को हुई रहती हैं. फिर भी कोई आ गया, तो चादरों के नीचे कोई है, ये किसी को दिखाई नहीं देगा. उन्होंने मेरी ओर देखा तो मैंने पूजा भाभी की तरफ आंख से इशारा कर दिया.

फिर मैंने उसके कंधे पर हाथ रखकर अपने हाथ को उसके टॉप में अंदर डाल दिया. उससे सेक्स की शुरुआत कैसे हुई और मेरी सील कैसे खुली?हैलो फ्रेंड्स, मैं नेक्षा फिर से आपके सामने लॉकडाउन में हुए सेक्स को लेकर हाजिर हूँ. आखिरी दो दिन में मैंने उसे चंडीगढ़ से दिल्ली बुलाया और मिलने का प्रोग्राम सैट किया.

बुआ ने अपना एक हाथ मेरे गले में डाल दिया और एक पैर मेरे ऊपर रखकर लेट गईं. हमारे दिलों की धक् धक् और गहरी सांसों के सिवा और कोई अनुभूति अब नहीं हो रही थी. आपा बोली- ये क्या है?सोनिया- कुछ नहीं अम्मी।आपा ने फिर एक झटके में उसकी पजामी उतार दी.

भाभी ने मेरी पैंट की चेन खोलकर अंडरवियर में हाथ दे दिया और लंड को बाहर निकालने लगी. मैं- हैलो भाभी कैसी हो आप?भाभी- अरे … विवेक हम अच्छे हैं, तुम कैसे हो? बहुत दिनों बाद कॉल किया.

मौसी ने मेरी रज़ाई और कम्बल को मेरे ऊपर डाल दिया और खुद अपनी रज़ाई में सो गयी.

मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]हिंदी में सेक्स की कहानी से आगे की कहानी:लॉकडाउन के बाद फिर चुदी आंटी.

मेरे अन्दर चुत चोदने की बहुत हवस है … लेकिन मेरा लंड खड़ा नहीं होता है. मैं भी उनकी बात से सहमत था, तो मैं भी थोड़ा अपने आपको कंट्रोल करके हॉल में जाकर बैठ गया. टेढ़ा, वक्र, धनुषाकार … पता नहीं क्या शब्द लिखना उचित होगा पर वो केले के जैसा आकर का लंड मुझे लुभा रहा था.

भाभी फिर से फाइल चैक करने लगी थीं और मैंने टीवी देखते हुए अपना एक हाथ भाभी के कंधे पर रख दिया. मेरे पापा भी काम से बाहर गये हुए थे और खाना हम लोग मौसी के यहां पर ही खाकर आ गये थे. कुछ देर बाद भाभी जी कपड़े बदल कर आईं और हम दोनों चाय पीते हुए हंसी मजाक किया.

मैं आगे बढ़ गया और लौटकर आकर बाइक रोकी, तो भाभी झट से अपनी गांड उचकाते हुए बाइक पर बैठ गईं.

तो मैं भी उनके सर को पकड़कर उनके मुँह में लंड को अन्दर-बाहर करने लगा. अब संजना पूरी मस्ती से चिल्ला रही थी- अअअह … उईईई जीजूऊऊ … आह मधु जीजू का बहुत बड़ा लंड है … मर गई यार. हम दोनों ने एक दूसरे को चूसा और जोश जोश में जल्दी ही एक दूसरे को नंगा कर लिया.

चूंकि रात भर मैं सोया नहीं था इसलिए बहुत थकान हो रही थी और आंखें लाल हो गयी थीं. राहुल को अपने मन की बात, रूचि को बताने की कहने की कभी हिम्मत ही नहीं हुई थी. सुमन- बहुत चूस लिया मैंने, अब बस चुत में घुसाओ जल्दी से … ताकि मेरी आग शांत हो सके.

कभी उसके एक दूध को ब्रा के ऊपर से किस करता और चाटता, तो कभी दूसरे दूध को मसलने लगता.

कासिब अम्मी से बोला- साली रंडी, तेरी बेटी अपने भाई का लंड चूसने से मना कर रही है … बोल इससे कि पहले ये मेरा और अब्बू का लंड चूसे, वरना हम दोनों बाप बेटा एक साथ इसकी चूत में लंड डाल कर साली रंडी की चूत का भोसड़ा बना देंगे. इस बार चुदाई लंबी चली और दस मिनट बाद दर्द के बीच मुझे भी मज़ा आने लगा.

पाकिस्तानी ओपन बीएफ जब पता चला कि जीजाजी का एक्सीडेंट हो गया है, तो खुशी ने मुझे भाभी के साथ भेज दिया. आपको प्रेम रोग हॉट लव स्टोरी के लिए क्या कहना है, प्लीज़ मेल से बताएं कि आपको इस कहानी में रस मिला या नहीं?[emailprotected]प्रेम रोग हॉट लव स्टोरी का अगला भाग:मैं तेरा तू मेरी- 2.

पाकिस्तानी ओपन बीएफ मेरे लंड के टोपे को चूसती तो कभी मेरी गोटियों को मुंह में भरकर चूसने लगती. सोनू अब क्या तुम मेरे बारे में जानना चाहते हो?मैंने हां में सर हिलाया.

बच्चा होने के बाद कुछ दिनों तक सोनिया ने चुदाई में खूब मजे लिये और मैंने भी.

पड़ोसन आंटी की चुदाई

अब बस इसको जो करना है, करने दूं … तब पता लगेगा ये आज क्या खेल खेलता है. फिर उसने अपने हाथों से मेरी फ्रेंची को नीचे खींचा और मेरा लंड उछल कर बाहर आ गया. उस समय इकबाल सिंह और धीरज की बुरी नजर मुझे साफ़ दिखाई दे रही थी, लेकिन मेरे पति को तो जैसे कुछ ध्यान ही नहीं था.

मैंने भाभी से चलने के लिए हां कर दी और अपने घर पर फ़ोन कर दिया कि मेरे एक दोस्त की शादी है, मैं वहां 3 दिन के लिए जा रहा हूँ. उन्होंने पहले मेरे पैरों पर साबुन लगाया, फिर वो मेरी जांघों के अन्दर वाले हिस्से पर साबुन लगाने लगीं. मेरे पति से नजरें बचा कर मैंने एक बार फिर से समधी जी को अपने मम्मों की झलक दिखा दी थी.

सबसे बात करने के बाद सिमरन ने ये कहते हुए फ़ोन रखा कि आप लोग जब घर पहुंच जाएं, तो इसी नम्बर पर कॉल करें.

मगर सार्थक ने मेरी चिकनी जांघ को आने मर्दाना हाथों से पकड़ कर बड़ी आसानी से खोल दिया. मीनू सीधी लेट गई और सुरेश उसके कड़क मम्मों को धीरे धीरे सहलाने लगा. उन्हें देख कर मेरा मन करता था कि अभी लौड़ा निकाल कर उन्हें साइड में ले जाकर ठोक दूं.

उस दिन फिर भाभी ने चुदवाने के बाद सोनिया के सामने ही अपनी चूत की सफाई की और बोली- आह्ह … रोज़ लंड मिल जाता है, बहुत मजा आता है मुझे तो, पता नहीं सोनिया, तू कैसे रह जाती है बिना लंड लिये? तुझे भी तो सब सुनाई देता होगा अंदर?सोनिया बोली- हां भाभी, सुनाई तो सब कुछ देता है लेकिन क्या करूं. कुछ देर बाद राज ने मेरी अम्मी की गर्म चूत पर अपने लंड का सुपारा रख कर एकदम से अन्दर कर दिया. मगर उसको कोई हल समझ नहीं आया- चल अभी जाने दे, वक़्त आने पर खुद पता चल जाएगा.

उसने मेरी कमर के नीचे एक तकिया रखा जिससे मेरी गांड उसके लन्ड की पोजीशन पर आ गयी. फिर उन्होंने कहा- तुम तो यार बड़े मजे से सेक्स कर रहे हो, आज तक किसी ने मेरी इस प्रकार चुदाई की ही नहीं.

[emailprotected]देसी इंडियन सेक्स की कहानी का अगला भाग:भतीजे की बीवी की चुदाई का मौक़ा- 2. वो मेरी ओर देखते हुए कामुक आवाजें निकाल रही थीं, जिसकी आवाज़ कमरे से बाहर जा रही थी लेकिन इस समय सुनने वाला कोई नहीं था. मुझे तुम बहुत पसंद हो और मैं तुमसे किस लिए मिलने आई हूँ, ये तुम्हें सब मालूम है.

तो दोस्तो, ये थी मेरे जीवन की सबसे हसीन चुदाई, जो हर मर्द और औरत चाहती है.

फिर मैंने उसको कैसे पटाया और हमें चुदाई का मौका कैसे मिला?सभी पाठकों को मेरा नमस्कार!मेरा नाम हर्ष है और मैं 25 साल का हूं. गीता- माफ़ कर दो मुखिया जी, बस कुछ दिन और रुक जाओ, उसके बाद आपको कोई शिकायत नहीं होगी. हम तीनों पैर फैलाये हुए पड़े थे और पीठ बेड के सिरहाने की ओर दीवार से लगी हुई थी.

उस दिन के बाद से चाची की चुदाई का दौर शुरू हो गया और हमने बहुत मस्ती की. पिछले भागगांव की चुत चुदाई की दुनिया- 4में अब तक आपने जाना था कि रात को सोते समय नंगी सुमन को एक साये ने चोद दिया था.

वो चीखी लेकिन मेरे होंठ उसके होंठों पर कसे होने के कारण उसकी आवाज नीचे दब गयी. मधु के दूध बहुत ही बड़े बड़े थे वो तो ब्रा की वजह से टाइट दिखते थे, लेकिन मैं मधु के मम्मों को दबा दबा कर बड़ा करता जा रहा था. मेरे हर अंग को अच्छे से चूसो जान, आज मेरे अन्दर की सारी आग को बुझा दो जानू … आह मेरे बड़े बड़े चूचों को चूस कर खा जाओ.

नोट सेक्सी वीडियो

मैंने नीचे से गांड हिलाकर एक जोर का धक्का उसकी चूत में मारा तो आधा लंड उसकी गीली और गर्म चूत में घुस गया.

अरी सुलक्खी तू खड़ी क्या है, जा जल्दी से चाय नाश्ते का बंदोबस्त कर साहेब के लिए. मुझे हल्का दर्द तो हुआ लेकिन नशे में ज्यादा कुछ पता नहीं चल रहा था. उसने हैरानी से पूछा- तुमने मेरी चूची कब देख ली कमीने?मैं- जब आप पौंछा लगाती हो तो मैं वही देखता रहता हूं.

अब आगे की सेक्स विद रोमांस स्टोरी:फिर राहुल ने मेरी टांगों को प्यार से सहलाना शुरू कर दिया था. जब उससे कंट्रोल नहीं हुआ तो वो जोर से बोली- चोद ना मादरचोद! चुदास लगी है … चोद कर ठंडा कर मुझे … घुसा दे अपना लंड!मुझे तो यकीन ही नहीं हुआ भाबी की बात पर! वो एकदम से रंडियों वाली भाषा पर उतर आयी. नेपाली बीएफ वीडियो एचडीमैंने देखा कि धीरज सीधा लेट गया था और वो मुझे उंगली के इशारे से मुझेब बुला रहा था.

ये मेरा पहला अनुभव है और मैंने इससे पहले कभी कोई सेक्स कहानी लिखी ही नहीं है, तो हो सकता है कि मैं इसे ज्यादा चटपटी और मसालेदार नहीं बना सकूं. मेरे वे भाई लोग, जिन्होंने इस तरह से अपनी गांड चटवाई होगी, वो ही इस सुख का अंदाजा लगा सकते हैं.

अशोक ने भी मेरा उपकार समझते हुए जल्दी ही निकिता की चुत दिलवाने का वादा किया. मैं उसके होंठों को चूसे जा रहा था और चूचियों को बेदर्दी से मसल रहा था. उसके जाने के बाद हमने बीयर की बोतलें खोल लीं और दोनों बीयर पीने लगे.

तो दोस्तो, मेरी मौसी की चुदाई की ये गर्म कहानी कैसी लगी? आशा करता हूं कि सभी लौड़े पानी छोड़ चुके होंगे और चूतों ने भी उंगलियों से चुदवाकर अपना मुंह लाल कर लिया होगा. भाभी की नजर मेरे लन्ड से हट ही नहीं पा रही थी।इधर मेरे लंड में भी उत्तेजना के मारे झटके लगने लगे. उस दिन पहली बार मैं किसी को चोद रहा था और मेरे आनंद का कोई छोर नहीं था.

हालांकि मैं अपनी पसंद की बात कहूँ, तो मुझे थोड़ी सांवली लड़की ज्यादा हॉट लगती है.

फिर वह सोफे पर बैठ गया और माँ को बोला- आंटी, पहले तुम एक बट प्लग लेकर आओ, तुम्हारी गांड में डालना है. उस दिन मैंने उसको रात में 11 बजे कॉल किया और कहा कि मुझे उससे कुछ जरूरी काम है.

सोनिया के साथ मेरा ये पहली बार था इसलिए 15 मिनट की चुदाई में मेरा माल निकलने को हो गया. क्या काम है?तब इकबाल सिंह बोला- जब वो आए, तो बोलना इकबाल सिंह आया था. जवान लड़की के वो मोटे-मोटे मांसल चूतड़ उसके भीगे कपड़े से ढके होने के बावजूद भी स्पष्ट दिख रहे थे.

इसी लिए उसके सोने का इन्तजार करना पड़ता है ताकि आराम से हम मजा कर सकें. उसके बाद से जिगोलोगिरी में मैं बहुत आगे बढ़ गया और मैंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. मैंने सर से कहा- अब और न तड़पाओ, जल्दी से आ जाओ बस!पहले तो मैंने खूब शर्माने का नाटक किया जबकि मन तो कर रहा था कि सर को अपनी नंगी जवानी दिखा कर उन्हें जल्दी से जल्दी चोदने के लिए तड़पा दूँ.

पाकिस्तानी ओपन बीएफ कालू- ये दोनों बाप बेटे बाहर क्यों आए हैं … काम नहीं कर रहे क्या?मुखिया- वही पुराना रोना है इनका … हिसाब कर दो हमारा. मैंने जोर से एक आखिरी धक्का मारा और पूरा का पूरा लंड अपनी भांजी की चूत में घुसा दिया.

योनि के अंदर

मैं सोफ़ा पर पैर पसारे हुए बैठा था और वो मेरे ऊपर चुदाई की पोजीशन में बैठी थी. मैसेज मिलते ही वो पूछने लगे- किसके पास ऐसे मैसेज कर रही हो?पहले तो मैं बहाने बनाकर बात को टालने की कोशिश करने लगी. रुक्मणी- ओह्ह … कुणाल, यह क्या कर रहे हो तुम?मैं- भाभी, आपने ही तो बोला था कि पैन्टी मत खोलना.

नमस्कार दोस्तो, मैं आपका दोस्त राज शर्मा, हिंदी सेक्सी कहानी पढ़ने वाले सभी पाठको को मेरा प्यार भरा नमस्कार। मुझे आशा है कि मेरा ये प्रयास आपको पसंद आयेगा. फिर पैसे भी मिलने लगे तो मैंने अपनी सहेलियों को इसका मजा दिलवाना शुरू कर दिया है. उड़ीसा की बीएफमैंने करीब जाकर उससे पूछा- क्या हुआ मैम?आप तो जानते है कि मैं होटेलियर हूँ.

जब मैं अंडरवियर बदलकर गमछी लपेटने लगा तो वह मेरी ओर तेजी से आने लगी। उसे देखा तो मालूम हुआ कि उसकी नजर तो मेरी गमछी से ढके लंड के उभार पर ही थी.

मैंने दोबारा अपना लंड उसकी चिकनी टाइट चूत, जो पहले से ही गीली थी, पर लगाया और मेरे लंड का आगे का सुपारा थोड़ा सा उसके अंदर चला गया।वो एकदम से कसमसा गई. एक दिन खाना खाते हुए मजाक में मैंने कह दिया कि दीदी इतनी सेवा तो शायद मेरी बीवी भी नहीं करेगी.

ये दोनों बातें कर ही रहे थे, तभी मीता पीछे के दरवाजे से चुपके से अन्दर आ गई … क्योंकि सुरेश ने उसको बता दिया था कि वो दरवाजा खुला रखेगा. आदिल ने अपने हाथ में रंग लिया और मेरी चूचियों पर रगड़ने लगा।इतने में ही मुझे लगा कि मेरी जांघ पर कुछ चल रहा है. फिर बुआ मुझसे अन्दर रूम में जाने को बोलीं, तो मैं उठ कर रूम में चल गया.

फिर कैसी उलझन … वो बता सकता है कि कौन लेकर गया और लड़की कौन थी? गांव का लड़का तो सारी लड़कियों को जानता ही होगा.

वो जैसे जैसे मेरी चूत को चाट रही थी, ठीक वैसे ही मैंने उसकी गांड पर अपने दोनों हाथों से दबाव बना दिया. मैं उसकी चूत को रगड़ते हुए कहा- हां मेरी जान … आज तेरा पति बनकर तेरी चुदाई करूंगा. मैंने अपना हाथ भाभी की चुत पर रख दिया और साड़ी के ऊपर से ही उनकी चुत को सहलाने लगा.

अंग्रेजों की बीएफ दिखाइएकुछ देर बाद मौसा जी ने मुझे बिस्तर पर लिटा लिया और मेरी जांघें खोलकर मेरी चूत में जीभ घुसा कर चाटने लगे. उस दिन मॉम ने एक लाल रंग की साड़ी पहनी थी जो काफी हद तक पारदर्शी थी और बारिश में भीगने के बाद तो और भी ज्यादा पारदर्शी हो गयी थी.

अफगानिस्तान की सेक्सी वीडियो

उन्होंने पहले मेरे पैरों पर साबुन लगाया, फिर वो मेरी जांघों के अन्दर वाले हिस्से पर साबुन लगाने लगीं. आखिर थे तो मर्द ही न … कब तक मेरी कामुक अदाओं, मेरे काम कटाक्षों को अनदेखा करते. भाभी के मम्मे हाथ में पकड़ पर उनकी चुत में धक्के लगाने लगा और जोर जोर से चोदने लगा.

इस पर राहुल ने मोमबत्ती बाहर निकाली और अपने लौड़े को हाथ से पकड़ कर छुरी की तरह चलाते हुए मेरी फुद्दी लाइन पर केक को बीच कट किया. वैसे भी अब तो हम दोस्त ही हैं ना भाभी जी!भाभी ने भी मुस्कुराकर हां में जवाब दिया और अपना फोन नंबर मुझे दे दिया. वो कभी इधर करवट लेती, कभी उधर … फिर ऐसे ही पता नहीं कब उसकी आंख लग गई और वो सो गई.

मुझे चोदने के बाद मौसा जी का फोन अक्सर आता रहता और कई बार वो किसी न किसी बहाने से हमारे घर भी आ के दो तीन दिन रुक जाते और मौका देख हम चुदाई के अपने अरमान पूरे कर लेते. उनको मैंने पीछे से पकड़ने की कोशिश की लेकिन इस बार वो मेरी पकड़ से निकल गयी. मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा हुआ था इसलिए मैं अब अपने लंड को भी उसके बदन से छुआने की कोशिश कर रहा था और धीरे धीरे उसकी जांघों के करीब सरक रहा था.

आज पहली बार मीता की चुत से रस बाहर निकला था, जो बस ऐसे निकलता चला गया, जैसे बरसों से रुका हुआ हो. मैं- हां पापा, अभी मेरा फोन बंद होने को है … तो मैं काम खत्म करके घर ही आ जाऊंगा.

मैंने उनकी ब्रा को निकाल कर दूर फेंक दिया और उनके बड़े बड़े मम्मों को खूब चूसा.

उसके पिता को दिल की बिमारी थी और मैं नहीं चाहता था कि उसके पिता को मेरी वजह से कोई परेशानी हो. एचडी में बीएफ भेजोजिसका अंजाम आप जानते ही हो, उसका रस भी बांध को तोड़कर बाहर निकल आया था. बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी एचडीअगर मजा नहीं आया हो तो फिर जरूर दें क्योंकि उसी से कहानी बेहतर होगी. मगर मुझे उससे प्यार हो गया और …दोस्तो, मैं जीत इस भाग में आपको जवान लड़की की देसी चूत की इंडियन चुदाई बताऊंगा.

शादी में मैं किस किस के सवालों का जवाब देती फिरुंगी कि मैं अकेली क्यों आई.

उसने अचानक से आवाज दी- सुनिये?मैं पलटकर बोला- जी भाबी जी!वो बोली- आज मेरा सामान कुछ ज्यादा ही हो गया है. उसके बाद भाभी ने सोनिया की गांड चुदवाने में भी मेरी हेल्प की क्योंकि भाभी की गांड चुदाई तो अब हो ही नहीं पाती थी. मैंने उनके फन उठाते हुए लौड़े को देखते हुए कहा- हां उन्होंने तो बुझा ली, पर मेरे अन्दर आग लगा दी है.

मैंने एक बार पहले धीरे से उसकी ब्रा के ऊपर से ही चूची को पकड़ लिया. मैं अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चूत में उसे घुस जाने का न्यौता देने लगी. समीक्षा ने कहा- जीजू आपने कभी बताया ही नहीं कि आप लोगों ने बच्चा कब प्लान कर लिया.

कोई भी सेक्स

गांव की कई लड़कियों की नज़र इन दोनों पर टिकी रहती हैं कि काश ऐसे मर्द से उनकी शादी हो जाए. कुछ देर में दिलकश की चूत अपना रज छोड़ देगी तो कासिब का लंड दिलकश की चूत में अपना रास्ता अपने आप बना लेगा. मेरा दावा है कि इस सेक्स कहानी को पढ़ने के बाद किसी भी लड़की या भाभी को चुदवाने की खुजली होने लगेगी.

खिड़की से आती रोशनी में उसके गोरे बदन को मैं कामुकता से निहार रहा था.

अभी 2 मिनट भी नहीं हुए थे कि वो बोला- चल मुड़ जा, आज तेरी गांड मारनी है.

उसकी चूत से कामरस निकल रहा था जिसका स्वाद मुझे उसकी चूत को और जोर से काटने के मजबूर कर रहा था. इस तरह मैं अपने पति के साथ खुश रहने की खूब कोशिश करती, जो है जैसा है जितना है उसी में संतुष्ट रहने का प्रयास करती. इंडियन बीएफ सेक्सी एचडीमैं लगभग रोज ही सबके सो जाने के बाद रात को वॉटरकूलर वाले रूम में उसका लंड चूसता और हम किस करते.

अब मैंने उसकी चूत पर लंड के टोपे को सेट किया और उसके ऊपर लेटकर उसके होंठों से अपने होंठों को सटा दिया. मैंने उसके होंठों पर उंगली रख कर कहा- श्श्श्श… बाहर आवाज चली जायेगी. मैंने अपनी सास की चूचियां दबा दीं और कहा- अभी जब अन्दर लोगी मम्मी जी, तब मालूम पड़ेगा कि मेरे लंड की ताकत क्या है.

उस चुदासी लेडी की चूत में धक्के मारते हुए मैं उसकी चूचियों को जोर जोर से भींच रहा था. नंगे लंड के देखकर उसके मुंह से जोर की स्स्स … करके एक सिसकारी निकली और उसने मेरे लंड को हाथ में भरकर उसकी चमड़ी को जोर जोर से आगे पीछे करना शुरू कर दिया.

अब नीचे से मेरी चूत में मेरे पति का लंड था और पीछे मेरी गांड में सर का लंड घुसा हुआ था.

थोड़ी देर में मेरा लंड कड़ा हो गया और मैंने उससे कहा कि तू अब जल्दी से अपनी दीदी की कमी पूरी कर दे बस. उनको मैं अपनी बाइक पर बिठा कर बाजार ले जाने लगा, ऐसे ही चार दिन बीत गए. उन्होंने अपना बायां हाथ अपने पल्लू के अन्दर डाल कर मेरे हाथ को पकड़ लिया और अपनी चूची को कस-कस कर दबाने लगीं.

बीएफ बीएफ पिक्चर दिखाएं मैंने नताशा को जोर से भींच लिया और कुत्ते की तरह उसकी चूत को फाड़ने लगा. वो पागल हो गयी और मेरे सिर को दबाते हुए सिसकारी लेकर बोली- आह्ह … जय … ये क्या हो रहा है मुझे … आह्ह … ऊफ्फ … कुछ कर जल्दी … मेरी चूत में कुछ बड़ा सा डाल … आह्हह … मुझे चोद दे भाई.

कालू ने इशारे से पूछा कि वो लड़की कौन थी?अमित- वो लड़की गांव की ही थी … मगर उसकी शक्ल नहीं देख पाया. अब जाओ मन लगा के काम करो, मुझे और भी बहुत काम करने हैंदोनों बाप बेटे ख़ुशी ख़ुशी जाने लगे, तभी कालू ने पासा फेंका. मैंने सोचा इसी बहाने मुखिया जी के सारे मजदूर भी मुझे देखकर अपनी आंख सेंक लेंगे.

न्यू सेक्सी फोटो

उससे सेक्स की शुरुआत कैसे हुई और मेरी सील कैसे खुली?हैलो फ्रेंड्स, मैं नेक्षा फिर से आपके सामने लॉकडाउन में हुए सेक्स को लेकर हाजिर हूँ. साला ये भूत आख़िर चाहता क्या है?मुखिया- मैं कैसे रोक सकता हूँ साहेब, आप ही कोई जुगाड़ लगाओ. उन्होंने भी मेरी पीठ से हाथ फेरते हुए मेरा निक्कर नीचे सरका दिया और अपनी टांगें को और चौड़ा लिया.

अम्मी समझ गई थीं, वो बोलीं- थोड़ा अन्दर बाहर कर, तेरा दर्द खत्म हो जाएगा. मुनिया- नहीं भाबी, वो बहुत बड़े हैं और उनके लंड पर नसें उभरी हुई दिखती हैं.

मैंने कहा- लस्सी की क्या जरूरत है?वो बोली- आज हमारी इतनी लस्सी निकलेगी, तो हमको इसकी जरूरत पड़ेगी.

मैं: क्या बात है? आज तो बहुत सेक्सी लग रही हो!नताशा: सच में?पीछे से मैंने नताशा को बांहों में जकड़ लिया और उसकी गर्दन को चूमते हुए कहा- आज तो खाने से बहुत ही मस्त खुशबू आ रही है. नीचे से मैंने अपनी फेवरेट ब्रा और पैंटी पहनी थी जिसमें मैं किसी ब्लू फिल्म की हिरोइन से कम नहीं लगती थी. वो लड़की ये मीता ही है ना!रवि- आप बहुत समझदार हो साहब … हां मीता ही मेरी पसंद है.

झड़ने के बाद लगभग पांच मिनट तक मैं उनके ऊपर ही लेटा रहा। फिर उठकर उनके बगल में ही लेट गया. कभी कभी तो लगता है कि मैंने मेरे मां-पापा की बात ना मान कर बहुत बड़ी गलती कर दी. मैंने हांफते हुए पूछा- वीर्य कहां निकालना है?उसने कुछ जवाब नहीं दिया बस केवल जोर जोर से मुझे चूमते हुए चुदती रही.

अब मेरा जब ज्यादा चोदने का मन करता है तो मैं बाहर भी चूत मारकर आ जाता हूं.

पाकिस्तानी ओपन बीएफ: पर मैं उसे यह कह कर मना करके रोक देता था कि मैंने पहले कभी गांड नहीं मरवाई, तुम्हारा लंड मोटा है. भाभी- आंह बेबी … बहुत गर्म लंड है … आंह आप एक ही बार में पूरा लंड पेल दो मेरी प्यासी चूत में … आह बातों से कितना मस्त चोद रहे हो जान.

काफी देर बाद समधी जी बोले- आह जान … बताओ लंड का पानी कहां डालूं?मैंने कहा- आह मेरी जान अपना बीज मेरी चुत में डाल दो. मेरा मन कर रहा था कि सर अगर मेरे मुंह में एक बार झड़ जायें तो मैं उनका सारा माल पी लूं. आज अपनी सेक्सी भाभी की चूत का मजा मैं लेकर ही रहूंगा, बाद में चाहे कुछ भी हो जाये.

मुझे मेरी वाइफ बहुत पसंद आ गयी थी और वो भी मुझे बहुत पसंद करने लगी थी.

मेरा लंड काफी देर खड़ा हुआ था लेकिन अब अपनी सेक्सी बीवी को ब्रा और पैंटी में देख कर मेरे लंड में जोर जोर के झटके लगने लगे थे. फिर हम दोनों ने अपने अपने कपड़े जल्दी से पहन लिए और पहनकर बेड पर लेट गए।मौके की नज़ाकत को देखते हुए मैं आपा से बोला- आपा, आप सोनिया को बुलाकर उसे समझा दो, नहीं तो वो किसी से बाहर इस बारे में बोल देगी. मेरे लंड में तनाव के कारण दर्द होने लगा था और मैं अब भाभी की चूत में लंड घुसाने के लिए एक पल का भी इंतजार नहीं कर सकता था.