भाभी देवर का सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,देसी भाभी की चुदाई वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन इंडियन बीएफ: भाभी देवर का सेक्स बीएफ, थोड़ी देर बाद उनकी चुत में लंड की सैटिंग हो गई और भाभी को आराम मिलने लगा.

बफ वीडियो क्सक्सक्स

अंकित ने कहा- वन्द्या … मेरी बहना … मैं तेरी चूत की खुशबू से मस्त हो गया हूँ. खून निकलने वाली सेक्सी वीडियोवो मेरा लंड पकड़ कर आगे पीछे करने लगी और थोड़ी देर बाद उसने जैसे ही अपने मुँह में मेरा लंड लेकर चूसना चालू किया … मेरे मुँह से एक लम्बी ‘ऊओह …’ निकल गई.

मैंने इससे पहले कई बार हस्तमैथुन किया हुआ था … लेकिन आज तक कभी चूत नहीं मारी थी. ट्रिपल एक्स सेक्सी ऑंटीमाइक जब जब धक्का मारने के लिए लिंग को थोड़ा बाहर करता, मुनीर अपनी कमर खुद उठा देती.

धीरे धीरे मैं लंड पर दवाब बढ़ा रहा था और लंड चुत के अंदर जा रहा था।अब मैंने लंड थोड़ा बाहर खींचा और एक जोर का झटका मारा और लंड दनदनाता हुआ चुत में चला गया। अब मैंने उसकी गांड दोनों हाथों से पकड़ लिया, उसके ऊपर लेटकर उसकी चूचियों को मुँह में लेकर चूसने लगा और धीरे धीरे लंड जूही की चुत में पेलने लगा।बार बार मैं लौड़ा जूही की चुत में पेलने लगा, बार बार मैं जूही की चुत पर झटके मारने लगा.भाभी देवर का सेक्स बीएफ: मैंने एक हार्ड रबर का लंड रखा हुआ है, जो मुझे चोदता है या जिस से मैं खुद को चोदती हूँ.

जब मैं प्रिया की चूत की चुदाई कर रहा था तो मन किया कि उसकी गांड की चुदाई करूँ, पर मैंने सोच लिया था कि सब कुछ कर लूंगा तो नेक्स्ट मीटिंग में भी तो कुछ होना चाहिए, इसलिए मैंने उस दिन प्रिया की गांड नहीं मारी.पर मैं उसकी कोई बात सुने बिना, उसकी चूत में धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

हिंदी सेक्सी ब्लू वीडियो में - भाभी देवर का सेक्स बीएफ

यह मेरी पहली कहानी है इसलिए कोई गलती या चूक हो जाए तो मुझे माफ करें.तब अंकित बोला- वन्द्या तेरी चूत तो बहुत टाइट है, लालजी बोल रहा था कि तू बहुत चुदक्कड़ है.

पर मैंने पता नहीं क्यों इतना धैर्य दिखाया और अभी भी सोने का नाटक ही करती रही. भाभी देवर का सेक्स बीएफ मानसी- मतलब अब तू भी चुदाई करेगी मेरी रानी!हाँ यार लेकिन किस से? मेरा तो कोई बॉयफ़्रेंड भी नहीं है, किससे चुदूँगी?हो जाएगा सब, कल से सब लड़कों को लाइन देना शुरू कर दे.

मौसी मेरे लंड पर अपनी जुबान फिरा कर सुपारा चाटने लगीं और लंड के अगले हिस्से को अपने होंठों के अन्दर बाहर करने लगीं.

भाभी देवर का सेक्स बीएफ?

लंड का सुपारा छेद पर रगड़ने के बाद सर ने मेरे छिद्र पर अपना सुपारा टिका दिया. यह कहानी मेरी सच्ची हिंदी सेक्स कहानी है, इसमें कोई मिलावट नहीं है. कुछ पल बाद प्रिया का दर्द कुछ कम हुआ और वो अपनी गांड को हिलाकर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी और उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘ओह्ह हह … आहह … उहह हहहह …’कुछ ही देर में अब प्रिया अपनी गांड को जोर जोर से हिलाना शुरू कर दिया और मैंने भी अपनी चुदाई की स्पीड ओर तेज कर दी.

फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में रखकर फुल जोश में आकर जोरदार झटका मार दिया और लंड चिकना होने के कारण फिर से चूत में अन्दर घुसा गया. मुझे लगा कि इतना होने पर लंड आसानी से अन्दर तक चला जाएगा, पर उसकी चूत अभी भी टाइट थी. थोड़ी देर में उनका लंड दोबारा खड़ा हो गया, उसके बाद मैंने उनका लंड थोड़ी देर मुँह में लेकर चूसा ताकि ठीक से खड़ा हो जाए.

सर्दी में भी इस वक्त रजनी जी बाल बिखरे हुए हो गए थे और उनके शरीर से पसीना निकल रहा था. फिर वो मेरे ऊपर से उतरे, देखा नीचे मेरे वाइट पेटीकोट पर बहुत खून निकला हुआ था. मेरी नंगी चूचियों पर अंकल अपना हाथ फिरा कर चूचियों के आकार और कसाव को देख रहे थे, जबकि मेरी इच्छा थी कि वे चूचियों को अब ज़ोर ज़ोर से मसलें.

इधर मेरे बदन में खून की रफ़्तार तेज हो गयी मेरी कनपटियां तपने लगीं और लंड धीरे धीरे अकड़ने लगा. एक दिन दोपहर में मैं और सरिता कैरम बोर्ड खेल रहे थे, शायद उसे पता नहीं होगा या उसने ध्यान नहीं दिया होगा क्योंकि वो बड़ी मस्तराम लड़की थी… उसकी पजामी बिल्कुल चूत के सामने से थोड़ी सी उधड़ी हुई थी.

हर धक्के के बाद अब उनकी आह निकल जाती!रेशमा पूरा मजा लेकर चुद रही थी और मुंह से ना जाने क्या-क्या आवाज निकाल रही थी- फाड़ दो मेरी चूत को राजा … भोंसड़ा बना दो इस चूत को!काफी लम्बी चुदाई के बाद मैं झड़ने को हुआ, इस बीच में दो बार झड़ गई थी, अब मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा और उनकी चूत में ही झड़ गया.

मैंने उससे कहा- सुनो मेरी एक दोस्त है, जो पूरी एक नंबर की चुदक्कड़ है, उसका नाम मालती है.

उसके मम्मे बिना ब्रा के भी एकदम तने हुए लग रहे थे और उसके एक एक कदम चलने के साथ ऊपर नीचे हो रहे थे. कुछ हसीन लम्हों की इस कामुक यात्रा में मैं अपनी प्यारी मामी के साथ मंजिल तक पहुंच चुका था. मैंने भी एक बार उनके सामने झुक कर अपने चूचे उनको दिखा दिए और हल्के से होंठ काट कर उनको हरी झंडी दे दी.

वो अभी तक यही समझ रहा था कि यह मौका फिर दुबारा नहीं मिलने वाला, तो जितना मजा लेना है, ले लो. अब जिधर दादी लेटी थी, उधर अंकित हो गया और दूसरे साइट में अंकल लोग लेटे थे, बीच में मैं हो गई. अगले दिन फिर मुझे उनकी पेंटी बाथरूम में दिखी, तो मैंने फिर से उसमें मुठ मार दी और कल के जैसे फिर मौसी कपड़े धोने चली गईं.

फिर रात में चाय देने के लिए मैं उनके कमरे में गई, तो उन्होंने मुझे पकड़ लिया और बोले- आज रात जब सब सो जाएं तो मेरी प्यास बुझाने तुझे आना ही है.

फिर मैंने उसके साथ इधर उधर की बातें करना शुरू किया और उसने भी मेरे साथ सवाल जवाब किया. मुझे इन सब बातों से बड़ा डर लगता है इसलिए मैं अच्छे ब्वॉयफ्रेंड बनाती हूँ, जो मुझे चोदें भी, मेरी चूत को भी अच्छे से ठंडा भी करें और मेरी इज्जत को भी बनाये रखें. तो पिछली कथा में बात यहां तक पहुंची थी कि बहूरानी ने मुझे कहा था कि मैं कम्मो को मार्केट ले जाऊं और उसे नया स्मार्टफोन दिलवा दूं; पैसे तो कम्मो के पास हैं.

इस दौरान मामी रोतीं, चिल्लातीं और मुझसे दया के लिए गिड़गिड़ाती रहीं. सही कहा जाए तो एक उत्तेजित मर्द के भीतर बहुत सारी ताकत एकाएक आ ही जाती है. अब समाली अंकल मेरी गांड से अपना लंड निकाल कर उठ गए और बोले- वन्द्या तू दुनिया की सबसे मस्त गांड वाली लड़की है, तेरा भाई लालजी सच बोल रहा था.

तब तक उन्होंने मेरी पैन्ट खोली और अपनी साड़ी उतार कर मुझे बेड पर धक्का देकर पटक दिया.

वह अपना एक हाथ उसके पीठ पर और दूसरा हाथ उसकी गोल गोल बड़ी बड़ी गांड पर रखते हुए बोला- अरे कोई बात नहीं दीदी… तुम रोओ मत… घर में कोई नहीं है और किसी ने नहीं देखा. इसी बीच रशीद अपना एक और पैग खत्म करके आ गया और बोला- अब मैं इस गजब माल को चोदता हूँ.

भाभी देवर का सेक्स बीएफ मुझे कुछ याद नहीं, पर शायद ये हुआ भी हो क्योंकि ये व्यक्ति मुझे देखा देखा सा लग रहा था. अन्दर बिस्तर पर चाची पूरी नंगी चित लेटी हुई थीं और चाचा उनकी चूचियों पर टूटे पड़े थे.

भाभी देवर का सेक्स बीएफ अब उनकी बारी थी मेरे से खेलने की … मैं तो उनके लंड चूसने के तरीके से पहले ही परिचित था, बहुत मस्त लंड चूसती हैं. उन्होंने मुझे वहां बेड पर लिटा दिया और बोले- मेरी एक फैंटेसी है और ये फैंटसी मैं तुम्हारे साथ पूरा करना चाहता हूँ.

अगले दिन मैंने फिर से वॉशरूम में जाकर मौसी की ब्रा पैंटी स्मेल की और मुठ मारी.

एचडी बीएफ हिंदी में सेक्सी बीएफ

मनीषा मेरी बांहों से निकलने के लिए अपना पूरा ज़ोर लगा रही थी, पर मेरी मजबूत बांहों ने उसे इस तरह पकड़ रखा था कि छूटना तो दूर, वो हिल भी नहीं पा रही थी. क्लास ओवर हो गई, उसके बाद मैंने उनसे अपना मोबाइल लेने की बहुत रिक्वेस्ट की. मैंने उसकी पैंटी को उतारना शुरू किया तो उसने भी सहयोग करते हुए अपने कूल्हे ऊपर की ओर उठा दिए.

अभी अच्छा मौका था जब अपनी बड़ी बहन को चोद सकता था पर मयूरी के अचानक से बदले ऐसे व्यवहार से वो परेशान था. मेरी चुत के छेद को उनके लंड का सुपारा जाने कैसा गर्मागर्म सा लगा, उस फीलिंग को शब्द में बता नहीं सकती. तो मैंने उसे किस किया और बोला- अब चलें या आज रात यहीं रुकने का प्लान है?वह बोली- नहीं, जल्दी चलो वरना तुम मेरी हालत फिर से खराब कर दोगे!तो मैं हँस दिया और हम वहां से घर के लिए निकल पड़े.

फिर हम मॉल गए, उधर हमने 3-4 सैट फैंसी अंडरगारमेंट लिए, मेकअप का सामान वगैरह सब ले लिया.

तब मैं वापिस लौटा और उनके बेडरूम में आ गया, वहां वो अकेली बैठीं कुछ सोच रहीं थीं. मैंने उसके चुचे जैसे ही छुए मानो मेरे जिस्म में 11000 किलोवाल्ट का करेंट दौड़ गया. मेरे मन की बात मामी ने पहले ही शुरू कर दीं और पूछा- रौनक, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने जवाब ‘नहीं.

तभी अन्दर से उसकी माँ की आवाज़ आयी कि अब तक टॉयलेट में क्या कर रही है. अब मैं कमोड पर बैठ गया और अपनी दोनों टाँगें बंद करके और स्नेहा को लंड पर बैठने को कहा. तुरन्त नहाने की वजह से मयूरी के शरीर पर अभी भी पानी की बूंदें थी और ये सब रजत को और भी मदहोश कर रहा था.

इसी दौरान मेरा लंड कड़क होकर भाभी की गांड में घुसने को बेताब होने लगा. मैं समझ गयी कि वो दोनों मेरे जन्मदिन का सरप्राइज प्लान कर रहे हैं, तो मैं ऐसे ही नंगी सो गई।फिर अचानक किसी ने जोर से मेरे चूतड़ों पर थप्पड़ मारा तो मैं अचानक से उठी तो देखा कमरे में बहुत अंधेरा था।तभी साहिल ने मेरे सामने केक रखा जिसमें मोमबत्ती भी जल रही थी उस वक़्त भी हम तीनों नंगे ही थे। आयेशा और साहिल मेरे आगे खड़े थे.

पायल के मुँह से हल्की सी आवाज निकली उम्म… अह… और उसने अपनी गांड भी आगे की ओर खिसका ली. मैंने कहा- आंटी मजा लेना है तो थोड़ा सहन करो यार…ये कहते ही मैंने एक जोर का झटका दे मारा और पूरा लंड एक ही बार में अन्दर चला गया. तो फिर से प्रिया की मदमस्त आवाजें निकलने लगीं- आआआह ओह आआह … और जोर जोर से चोदो.

उसने कहा- सर, मेरा अंग्रेजी में कम्पटीशन है और 10 दिन बाद परीक्षा है.

दोस्तो, ये बहन की चुदाई की कहानी आप लोगों को कैसी लगी, मुझे ज़रूर ईमेल कीजिएगा. फ़क माय एस डार्लिंग हस्बैंड!क्रमशः[emailprotected]कहानी का अगला भाग: अतिथि-3. मैं उठा कर ला रहा था तभी मेरी वासना इतनी प्रबल हो गई, मन किया कि पूजा को भी चोद दूँ.

जब सुबह वो आई तो मैं नाईट ड्रेस में सोया हुआ था और सुबह सुबह पेशाब नहीं करने की वजह से मेरा लंड तना हुआ था। पता नहीं उसने देखा होगा या नहीं … पर उस दिन के बाद वो मेरे नजदीक रहने लगी, मुझसे बात करने लगी थी और मेरी हर बात का ख्याल रखने लगी थी।फिर एक दिन कुछ काम से मेरे चाचा को राजस्थान गांव में जाना पड़ा, तो घर में मैं अकेला ही था क्योंकि चाचीजी ओर उनके बच्चे गांव में ही रहते थे. माइक और मुनीर अंग्रेज़ी में ही बातें करते थे, मैं बस अनुवाद कर रही हूँ, हालांकि दोनों टूटी फूटी हिंदी भी बोलते थे.

वो मेरी चूत चाटने के बाद अपना लंड मुझे चूसने के लिए बोला और मैं अपने भाई का लंड चूसने लगी. जबकि एक्सप्रेस ट्रेन मुझे 12-30 तक पहुँचाती, इसलिए मैंने इसी ट्रेन से जाना सही समझा. मैंने जल्दी से एक केटरर से 50 बाराती और 5 10 अपनी तरफ के मिला कर 60 लोगों की व्यवस्था करवा दी.

बीएफ खुल्लम खुल्लम

उसके बाद मैंने भाभी की टाँगें चौड़ी करके चूत पर अपनी जीभ रख दी और चूत की फांकों को बिल्कुल संतरे की तरह चूसने लगा.

मैं बिना वक्त गंवाए, उनकी पेंटी पर अपना लंड रगड़ने लगा और फिर मुठ मार के बाहर निकल आया. यह कहानी मेरी सच्ची हिंदी सेक्स कहानी है, इसमें कोई मिलावट नहीं है. उसने शीतल को कहा- आज रात पैकिंग कर लो, कल सुबह की ट्रेन से हम निकलेंगे.

हालांकि अब तक मैं समझ चुका था कि मनीषा भी अपनी चुत चटवाने का मजा लेने लगी है. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को जॉर्डन का प्यार भरा नमस्कार।मेरी कहानी के पिछले भागअनजानी दुनिया में अपने-3में आपने पढ़ा कि मैं दिव्या की मां कामिनी की कामवासना को संतुष्ट कर चुका था और हम दोनों साथ साथ लेटे बातें कर रहे थे. એચડી સેક્સ વીડિયોमेरी एक पुरानी आदत है, आदत क्या कुछ यूं कहें कि मुझे पैदल चलने का शौक है.

दोस्तो यह थी मेरी वाईफ से सेक्स की सच्ची चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, कमेंट्स करके मुझे ज़रूर बताइएगा. बस मौसी तो खड़े खड़े ही मेरे लंड को मसलने लगीं, जो कि पहले से खड़ा था.

अन्दर वाले रूम में दो बेड एकदम चिपक कर लगे हुए थे, एक थोड़ा छोटा और एक बहुत बड़ा बेड था. उसकी सलवार का नाड़ा तो खुला ही पड़ा था सो मैंने सलवार उतारने का उपक्रम किया तो कम्मो ने तुरंत अपनी कमर उठा दी और उसका सफ़ेद चूड़ीदार मैंने निकाल कर फिर उसे अच्छे से तह करके बगल में रख दिया; आखिर उसे अभी इसे ही तो पहन कर शादी में जाना था. मैं जोर की आवाज के साथ उनके मुंह में झड़ गया और वे घुटने के बल बैठ कर सारा पानी पी गई.

और इधर मैंने भी अपनी ब्रा को ऊपर करके अपने नंगे संतरों के दर्शन उसे कराये, वो उन्हें मुँह में लेकर चूसने लगा, मैं उसके सिर की अपने छाती में दबाने लगी. मैंने एक लड़की से पूछा कि इस तरह की छानबीन किस तरह से करनी होती है?वो लड़की शादीशुदा थी, मगर उसका जवाब सुन कर मैं हैरान हो गई. फिर उसके मन में कुछ ख्याल आया और उसने अपनी ब्रा और पैंटी भी निकाल दी और पास में पड़ा एक तौलिया लपेट लिया.

जिन चीजों को सिर्फ पॉर्न फिल्मों में होते हुए देखा था, आज वो चीजें मेरे सामने, मेरे बदन पर हो रही थीं.

तारा बिस्तर पर गिरते गिरते पूरी तरह से झड़ गयी, पर माइक हार मानने वाला नहीं था. मुझे पढ़ाई के लिए पैसों की बहुत जरूरत रहती थी, तो मैं कॉलेज में एडमिशन लेते ही एक मसाज पार्लर में जॉब करने पहुंच गया.

अच्छा उठो तो सही वर्ना चाय ठंडी हो जायेगी; कहो तो यहीं ला दूं?” वो बोलीं. मामी को इसका अहसास होते ही उन्होंने लंड को सहलाना बंद कर दिया और अपने दोनों हाथों से मेरे सर के बालों को सहलाते हुए अपने होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया. मेरे हाथ उसके सीने की गोलाइयों से रगड़ खाते हुए ऊपर चले गये और उसका कुर्ता उतार लिया और उसे तह करके वहीं साइड में रख दिया.

मयूरी अपना फैसला सुनाती हुई बोली- तो एक बात मेरी भी सुन लो… अगर तुम लोग एक साथ नहीं आओगे तो मेरे शरीर को हाथ लगाने के बारे में भी मत सोचना… अगर मैं अपनी चूत तुम्हें दूंगी तो एक साथ … नहीं तो मैं अपना कोई और इंतज़ाम कर लूंगी. वह बोली- अब क्या करोगे?मैंने कहा- अब तो खेल शुरू होगा!मैंने अपनी पैन्ट की जेब से कंडोम का पैकेट निकाला और एक कन्डोम पहन लिया, फिर से उसके ऊपर आ गया. मेरी बात पर उसने मुझे अपनी ओर खींचा, मेरे होंठों पे किस करने लगी और पागलों के तरह काटने लगी.

भाभी देवर का सेक्स बीएफ अपने हाथों से आंटी के आमों को मसलते हुए मैं अपनी गांड को गोल गोल घुमाता रहा. आपको मेरी दीदी की चुत चुदाई की हिंदी सेक्स कहानी कैसी लगी, जरूर बताइएगा.

बोलो बीएफ दिखाइए

कहाँ हो तुम?मैं- जी 17 सेक्टर की मार्किट में हूँ।साक्षी- ओह मैं भी वहीं आ रही हूँ. वो खुद भी गर्म सांसें जोर जोर से लेते हुए मुझे चूम रही थी, मैं उसके चुम्बनों का जवाब देते हुए लगातार चूमे जा रहा था. वो बोलीं- फिर कहां है मन आपका?मैं कुछ बोलता, इससे पहले वो बाथरूम में जाकर कपड़े धोने लगीं.

इतनी सॉफ्ट इतनी मुलायम चूत थी कि मेरा पप्पू पेंट में उछाल मारने लगा. तब बोली- दीदी अगर कहीं टीवी खराब हो गया तो मेरे पास तो इतने पैसे भी नहीं हैं कि इसको ठीक करवा सकूँ. મરાઠી સેકસી વીડિયોउसने उसी समय अपने मन में ठान लिया कि अपनी गांड की सील तो मैं इसी लंड से खुलवाऊँगी, थोड़ा पतला होने से ये आराम से कम दर्द में उसकी गांड का दरवाजा खोल सकता था.

मेरी हालत बहुत नाजुक स्थिति में पहुंच गई, मैं अब बर्दाश्त कर पाने की स्थिति में नहीं बची थी।तभी वह एक हाथ नीचे लाकर मेरी नाभि से कमल पर हाथ चलाता हुआ नीचे की तरफ लाया और अपनी हथेली मेरी चूत में रख दी और अपनी हथेली से हल्के हल्के चूत के बालों को सहलाने लगा.

चाची झट से चित लेट गईं और अपने दोनों पैर खोल के आसमान की तरफ उठा लिए. मैंने नोटिस किया कि मनीषा मेरे ट्राउजर के अन्दर झांकने की कोशिश कर रही है.

सेक्सी भाभी ने टाँगें फैला दीं और बेड पर अधलेटी होकर बोलीं कि मैं आने वाली हूँ. फिर सुबह सुबह किसी के दरवाजा ठोकने की आवाज से उठा, तो देखा 10 बज रहे थे. वो डोर के छेद के पास ही अपनी टांग उठा कर अपनी उंगली अपने चुत में डाल रही थी और कामुक सिसकारियां निकाल रही थी.

जैसे ही मैंने उनकी गर्दन को चूमा, भाभी की चुदासी सी सिसकारियां निकलने लगीं और वो अपनी चूत उठाकर पटकने लगीं.

एक हसीं देसी भाभी की इस सेक्स स्टोरी में आपने जाना कि उसने मेरे लंड को चूस चूस कर लाल कर दिया और मेरे बहुत कहने के बाद ही उसने अपने मुँह से मेरा लंड निकाला था. देखो किसी दिन अगर किसी लड़के ने उसके साथ कुछ कर दिया तो मुँह भी देखने लायक नहीं रहोगे. और मैं एक तेज आवाज के साथ उसकी चूत में झड़ गया, उसके ऊपर निढाल होकर गिर गया.

सेक्स एक्सएक्सएक्स हिंदीतभी उसने अपनी गांड मेरे तरफ की, तो मुझे उसकी गांड का आकार साफ नजर आ रहा था. देर नहीं करनी है कि स्किन जल जाये।”अब मैं कौन सा एक्सपर्ट हूँ?”नहीं हो तो हो जाओ.

जिओटीवी के बीएफ

मैंने बड़े प्यार से पैंटी उतारी और उसकी सील पैक चुत देखकर मेरा लंड फटने को हो गया. मैंने उसे सीधा बेड पर लिटा लिया और उसकी मोटी और गुदाज जांघों पर बैठ कर उसके मम्मों को भींचने लगा. उसका लंड चिकनाई की वजह से झट से लगभग आधा मयूरी की गांड में चला गया.

उसने मेरे सुपारे को पहले तो होंठों से चूमा‌ और‌ फिर अपनी जुबान को बाहर निकालकर हल्का सा सुपारे को छूकर देखा. तारा और मैं बातें करते हुए दरवाजे तक पहुंचे, दरवाजा खटखटाया तो मेरी दिल की धड़कन दोगुनी हो गयी. वो बोली- अब कान पर क्यों कर रहे हो?लेकिन मैं उसकी बात को न सुनते हुए उसे लगातार किस करे जा रहा था.

मेरा भाई जल्दी जल्दी मुझे चोदने लगा और उसके बाद कुछ देर की जबरदस्त चुदाई के बाद मैं और मेरा भाई साथ में झड़ गए. मेरा भाई मुझे किस किया तो मैं उसकी तरफ देखने लगी लेकिन मेरी आँखों में कोई विरोध नहीं था. हम करीब 5:00 बजे उठे तो सरिता ने कहा- अच्छा, अब मैं अपने घर जा रही हूं.

उधर ही छत पर एक लकड़ियां वगैरह रखने की एक जगह सी बनी थी, जिसे पड़ोसी बाथरूम की तरह यूज़ करते थे. और उसी समय पापा मेरी गर्दन को पकड़ते हुए मुझे किस करने लगे। शुरू शुरू में मैं उन्हें दूर धकेलने का प्रयास करने लगी पर उनकी ताकत के सामने मेरा टिकाव नहीं लगा। पहले नीचे के फिर ऊपर के होंठों को चूसते हुए एक जबरदस्त किस देकर वे पीछे हटे।कैसा लगा?”यह सही नहीं है… मैं आपकी बेटी हूँ… हम यह गलत कर रहे हैं.

दसवीं की परीक्षा के बाद कविता ने स्कूल छोड़ दिया और वो किसी दूसरे संस्थान में पढ़ने लगी.

उन्होंने देर ना करते हुए मेरे अंडरवियर को भी उतार दिया और मुझसे कहने लगीं कि अरे भैया जी ये आपका लंड है या हथौड़ा. एक्स एक्स एक्स एचडी ब्लूप्रिया की चुत को सहलाते हुए मैंने अपनी बीच वाली उंगली को चुत की दोनों फांकों के बीच घुसा दिया और फिर चुत की दरार को ऊपर से सहलाते हुए नीचे उसके प्रवेशद्वार पर ले आया … जो कि मुझे सुलगता हुआ सा महसूस हो रहा था. ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो दिखाइएफिर थोड़ी देर तक ऐसे ही मूरत की तरह खड़ा रहने के बाद मयूरी के रोने से उसकी तन्द्रा टूटी. अभी थोड़ी देर ही आराम किया था दोनों ने कि उनको किसी के अपने कमरे की तरफ आने की आवाज़ सुनाई दी.

बीच बीच में मुझसे पूछ रहे थे कि मुझे कैसा लग रहा है, तो मैं बस हां में अपना सिर हिला देता.

मैं खुद इतनी देर से बहुत गर्म हो गया था तो मैंने सोचा कि एक बार चुसवा कर ही झड़ जाता हूँ. मैंने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था, इसलिए मेरा लंड बहुत जल्दी झड़ने वाला हो उठा था. मेरी सिसकारियां बढ़ती ही जा रही थी और मैं उसके बालों में अपने हाथ फिराने लगी और उसके बालों को नोचने लगी.

पहले तो उसने अपनी जबान से उसके लंड को चाटा फिर उस प्यार से मूसल जैसे लंड को अपने मुँह में ले लिया और अपना मुँह आगे-पीछे करने लगी, जैसे वो अपना मुँह अपने छोटे भाई के लंड से चुदवा रही हो. ऐसा काफी दिनों तक चलता रहा वे मुझे रोज रात को दवा पिलाते और मेरे बदन को चूमते सहलाते. प्रिया जोर से चीख पड़ी- आआहह … मर गई …प्रिया की चूत में मेरा आधा लंड चला गया था.

सेक्स बीएफ वीडियो चोदने वाला

इसके बाद मैं नहा कर चाय पी कर बाल्कनी में खड़ा था, तभी सब्ज़ी वाला आया. बस इतना ही बोला कि जैसे तुम चाहो, मैं नहीं चाहता कि तुम यह समझो कि पिताजी नहीं हैं, तो मैं तुम पर अपना कोई दबाव डाल रहा हूँ. अब अशोक ने मयूरी की चूचियों को और जोर से पकड़ा और थोड़ी देर दबाने के बाद उसने अपने होंठों को मयूरी के होंठों से अलग कर उसकी चूचियों पर रख दिया.

मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?मामी बोलीं कि मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दो.

पल्लवी ने सख्त विरोध करते हुए करवट बदल ली। मैं उसे मनाने के लिये उसकी पीठ से चिपक गया और उसके निप्पल को दबाने लगा। अब मैंने पल्लवी को गर्दन के नीचे से अपने हाथ डाले और उसकी मम्मे को सहलाते हुए निप्पल को मसल रहा था.

उसे पता था कि मैं अब आगे क्या करने वाला हूँ … इसलिये वो पहले ही समझ गयी थी. उसका घर मेरे घर से थोड़ी ही दूर पर है इसलिए उसकी मम्मी भी हमारे घर आती रहती हैं. સેક્સ સ્ટોરીअपने निजी जीवन को लोगों पर जाहिर करना, वैसे भी अपने सेक्स पार्टनर की इज्जत उछालने जैसा है.

वो भी चुदाई कर रहे है इसीलिए किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता…अशोक- अभी?मयूरी- हाँ. और हां भाई साब, आप भी कष्ट कर लेना एक नज़र सब देख लेना अदिति के साथ जा के!” अदिति के अंकल ऐसे मुझसे कहते हुए चाबियों का एक गुच्छा अदिति के हाथ में थमा कर चले गये. कम्मो ये तेरी चूत के बाल ऐसे ऊबड़ खाबड़ से छोटे बड़े कैसे हैं?” मैंने चूत को सहलाते हुए पूछा.

उसकी बातों से मुझे लगा कि मेरी दाल नहीं गलेगी, क्योंकि वो काफी स्ट्रेट लग रहा था. आखिर आज जो अनोखा प्यार शीतल ने अपने बेटों पर बरसाया था, उसका असर तो था ही, साथ ही साथ मयूरी ने भी इनको अपनी माँ की चुदाई के लिए उकसाया हुआ था.

नेहा पर मेरा दिल आ गया था और मैं हर समय उसके बारे में सोचता रहता था.

अब अशोक ने मयूरी की चूचियों को और जोर से पकड़ा और थोड़ी देर दबाने के बाद उसने अपने होंठों को मयूरी के होंठों से अलग कर उसकी चूचियों पर रख दिया. ये देखते ही मेरी आँख मारे खुशी के चमक उठीं, मेरे दिल धड़कन तेज हो गईं. वो बोलीं- फिर कहां है मन आपका?मैं कुछ बोलता, इससे पहले वो बाथरूम में जाकर कपड़े धोने लगीं.

सेक्सी वीडियो बता भाभी- तो क्या देवरानी की चूत ढीली कर दी है?मैंने कहा- मुझे पता नहीं भाभी. उस रात को सोते समय भी मैंने डर के मारे मौसी को टच नहीं किया, लेकिन तभी मेरा ध्यान स्नेहा की तरफ गया.

थोड़ी देर बाद मौसी ने उनके हाथ पैर ढीले छोड़ दिए मैं चूत में उंगली करता रहा. मेरी यह बात सुनकर उसने मुझे सहारा दिए रखा और जब मैंने कमजोरी का सा दिखावा जारी रखा, तो उसने मुझे गोद में उठा कर कहा- चलो मैं तुम्हें वहाँ पेड़ के नीचे लिटा दूं. अचानक माइक ने अपना हाथ बिस्तर से हटा कर तारा को नीचे से हाथ डाल उसके कंधों को ऐसे पकड़ लिया, जैसे वो कहीं भाग न जाए.

बीएफ बढ़िया हिंदी में

फिर मैंने उसे देखते हुए कहा कि बोलो स्वाति तुम्हें क्या हुआ है? तुम क्यों अकेला महसूस कर रही हो?वो अपनी प्रॉब्लम बताते बताते रोने लगी तो मैंने उसे अपना कंधा दे दिया. ही ही ही हीमाइक- हाँ सही कहा, वरना मैं हमेशा मुनीर के साथ उसको झाड़ने के प्रयास में थक के चूर हो जाता हूं. मुझे आंटी ने अंदर आने को कहा, मैं अंदर दाखिल हुआ तो आंटी ने गेट ढालते हुए दोबारा आवाज़ लगाई- अरे कित बड़ रया है… यो छोरा गेट प खड़ा। सुणता नी तन्नै?गौतम अंदर से आवाज़ लगाता हुआ बोला- आया माँ…2 मिनट बाद वो अंदर के कमरे से बाहर निकल कर आया.

ये कहानी वहीं से शुरू होती है … जहां सेमाइक, मुनीर और शालिनी की कहानीखत्म हुई थी. मैंने उससे पूछा- क्या बाकी के लैटर्स नहीं लेना है?वो हंस दी और बोली- अब मुझे कोई डर नहीं है.

जब मैंने गुलदस्ता दिया, उन्होंने जानबूझ कर मेरे हाथ को भी छू लिया था.

मैं बोली- यार उनकी चुदाई देखकर मेरी चूत से पानी निकाल रही थी रात को. जिन चीजों को सिर्फ पॉर्न फिल्मों में होते हुए देखा था, आज वो चीजें मेरे सामने, मेरे बदन पर हो रही थीं. मैंने जिन तीन चूत वालियों के साथ सेक्स किया है, वो सब आज भी मेरी दीवानी हैं.

अब मैं गांव कम ही जा पाता हूँ तो चाची से मुलाकात ज्यादा नहीं हो पाती, लेकिन जब भी होती है, तो अच्छे तरीके से होती है. मैं आवाज देता हुआ जरा अन्दर को गया तो महसूस हुआ कि उनके बेडरूम से कुछ आवाज आ रही थी. गांड में तेल लगाने के कारण मेरा लंड पच पच की आवाज के साथ अन्दर बाहर हो रहा था.

कल शाम को या कल रात भर यहीं रह जाना … सोमवार को यहीं से ही आफिस चले जाना.

भाभी देवर का सेक्स बीएफ: क्या करूँ?भाभी ने अपनी कमर पर मालिश करने को बोला और भाभी खटिया पर उल्टा लेट गईं. मैंने होश गंवाते हुए पास की टेबल पर रखी क्रीम की डिब्बी उठाई और अपने लंड पर क्रीम लगाकर उसकी चूत के मुँह पर सुपारा फिराना चालू किया.

यह बात उन दिनों की है, जब मैं इंजिनियरिंग के फाइनल इयर में था और सेमेस्टर लीव के लिए चेन्नई से वापस अपने घर आ रहा था. क़रीब दस मिनट बाद वो थोड़ी शांत हुई, तो मैंने उसको सहलाते हुए धीरे धीरे लंड को आगे पीछे करने लगा. मैंने उसकी जुबान मेरे होंठों से खींच कर अपने मुँह में ले ली और उसकी जुबान को चूसना शुरू कर दिया.

दोस्तो, मैं विराट शर्मा भोपाल से, मेरी पिछली कहानीप्यार में पागल कॉलेज गर्ल पहली चूत चुदाईतथाननदोई जी ने कर दी मेरी चूत चुदाई और मैं गर्भवती हो गईको आप सभी ने बहुत पसंद किया.

मैं तो जे देख री थी की आप कैसे लट्टू हुए जा रहे हो उसे देख देख के!” कम्मो ने मुझे उलाहना सा दिया. मामी ने मुझे बोला कि अब से रोज तुम्हीं मुझे चोदोगे और अगर ऐसा नहीं किया तो मैं तुम्हारे मामा को बता दूँगी कि रोहन मेरा वीडियो बना रहा था. उसने अपने भाव छुपाते हुए बात को बदलने के मन से मयूरी को तुरंत ही पलट जाने को कहा.