बीएफ देहाती एक्स एक्स

छवि स्रोत,फिल्म ओपन सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

સેક્સ ફિલ્મ હિન્દી: बीएफ देहाती एक्स एक्स, यह सुनकर मेरी तो खुशी का कोई ठिकाना ही ना रहा क्योंकि आज मैं एक कुंवारी गांड मारने जा रहा था.

सोनभद्र सेक्सी वीडियो

विवान भैया मेरी चूत चाट रहे थे तो मैं और भी ज्यादा कामुक हो रही थी. अभिनेत्रियों की सेक्सी फिल्मअगले ही पल मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी तो उसकी सिसकारी निकल गई.

मुझे लगा कि अब तो मैं इतनी दूर जा रहा हूँ तो सब कुछ ख़त्म!किन्तु उसी समय मेरे सिलेक्शन एक बड़े सरकारी अफसर के पद पर हो गया और किस्मत ऐसी कि पोस्टिंग भी उसी के शहर में मिल गयी।अब मैं उस जिले में सरकारी आवास में रहने लगा। मेरे आवास से उसका घर लगभग साठ किलोमीटर की दूरी पर था। ऐसे ही एक साल और बीत गया. xxx.com सेक्सी पिक्चरउन्होंने बोला- बेटा यह क्या कह रही हो? क्यों मेरा बेटा खुश नहीं करता?मैंने बोला- नहीं … उससे बराबर नहीं होता.

मैंने ऊपर वाले कमरे में जाकर देखा, तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गयीं.बीएफ देहाती एक्स एक्स: मैं लाइट चालू करने के लिए अंधेरे में स्विच ढूँढ रही थी, तभी अचानक रूम की लाइट किसी ने चालू कर दी.

वो मुस्कुराते हुए बोले- फिर तो अब तुम यहां से प्रेगनेंट होकर ही जाओगी.बीस मिनट तक चोदने के बाद मैं झरने वाला था तो पूछा- पिचकारी कहाँ मारूं जानू?बुर में ही डालो राजा … मेरी बुर भी तो मज़ा ले।”लो रानी!”मैंने आखिरी धक्का मारा और झड़ने लगा.

देसी सेक्सी इंडियन गर्ल - बीएफ देहाती एक्स एक्स

मैंने पति को अपने बांहों में जकड़ लिया और वो मेरी चूत को चोदने लगे.मेरी चूत पर अपना लंड रगड़ने के बाद वो मेरी चूत को अपने जीभ से चाटने लगा.

इस बात के लिए मैंने उनसे माफ़ी भी मांगी और उनका सारा मुँह एक कपड़े से साफ कर दिया तो उन्होंने मुझे माफ़ कर दिया. बीएफ देहाती एक्स एक्स मैं- अगर चाची आ जाएंगी, तो पहले दरवाजे की घंटी बजेगी … उन्हें देख लेंगे.

मैं अपनी बीवी को आंखों के इशारों से कह रहा था कि आज रात में हम बहुत मस्ती करेंगे.

बीएफ देहाती एक्स एक्स?

उन्होंने उनके दोस्त को कॉल किया- यार मेरी एक बहू है, उसे थोड़ा चैक करना है, क्लिनिक से जाते वक्त घर होकर जाना. क्या चुदाई की … साली चूत सहला रही होगी।वह मुस्कराया।मैं चित लेटा था. ”यह तुम्हारे लिए बहुत बड़ी अपोर्चुनिटी (अवसर) है। इसे मिस नहीं करना चाहिए। अगर तुम चेंज लेने में इंटरेस्टेड हो तो वह भी हो सकता है। और अगर यहीं कंटिन्यू करना हो तो भी ठीक है। पर यह हैड ऑफिस पर डिपेंड करता है।”मैं अभी कुछ सोच ही रहा था कि अचानक मेरे कानों में आवाज सुनाई पड़ी- नमस्ते प्रेम जी.

मुझे पता नहीं क्या हो गया था कि मुझे दीदी के बूब्स कुछ ज्यादा ही आकर्षक लग रहे थे. मैंने उनके मम्मों को ज़ोर से दबा दिया और उनकी टी-शर्ट को उनके जिस्म से अलग कर दिया. अभी बोलो, तुम पानी कहां लोगी?सारिका झट से हम दोनों के पास आ गई और उसका इशारा पाते ही यशिमा भी चूत से लंड निकाल कर लंड के पास आ गई.

मैंने सुना था कि इस उम्र में लोग अक्सर बाहर सेक्स की तलाश करने लगते हैं. इससे उनके कंगन खनकने लगे।अब मैं ज्यादा दूर नहीं था तो मैंने अपना हाथ उनके 34 साइज के बूब्स पे रख के दबाना चालू कर दिया. आज होठों का रसपान करते करते उसने कई बार मेरे होठों को काटा, जब जब वो काटती, मैं ट्रेन की स्पीड बढ़ा देता.

दीदी ने धीरे से मेरी नीचे की लोअर और पैंटी निकाल दी और मुझे पूरी नंगी कर दिया. हर्ष मेरी हालत देखकर बोला- कोई नहीं दीदी, रात को छत पर आ जाना!यह कहकर उसने अपना नंबर मुझे दिया और अब मैं रात का इंतज़ार करने लगी।हल्का-हल्का अंधेरा होने लगा था.

इसीलिए मैंने उससे बोला- तुम अपने बच्चे को उसकी नानी के पास छोड़ के दोपहर में आ जाना.

लेकिन दोस्तो अभी तक न तो आंटी के ही मन में और न ही मेरे ही मन में कुछ गलत विचार आये थे.

आर यू मेंटली प्रिपेयर्ड?( क्या सब मानसिक रूप से तैयार हो?)सब बोली- हाँ!पर पिंकी बोली- यार सेक्स नहीं, बाकी कुछ भी!इस पर सब बोलीं- हाँ यार सेक्स न हो तो अच्छा. हमारी आवाजों को सुन कर वो भी अचानक से कमरे में आ गई और उसको देख कर प्रशांत घबरा कर अलग हो गया. उनकी चुदासी आवाजें सुनकर हिना आंटी और चाची अपनी ब्रा निकाल कर ऊपर आ गईं.

मेरा हाथ उसकी चूत को सहलाने लगा और मेरे होंठ उसके चूचों पर जा धंसे. पिछली कहानी में मैंने बताया था कि मेरी और संजना की चुदाई बहुत अच्छे से हो गयी थी. जैसे वो मेरे करीब आना चाहती हो।मेरा लंड तुरंत मेरी लोअर में खड़ा होकर पूरे तनाव में आ गया.

मेरा लन्ड मेरी पैन्ट में तन गया था और उसकी साड़ी के ऊपर उसकी जांघों के बीच में टकरा रहा था.

मैंने फोन हटा कर चिहुंकते हुए कहा- जीजा, क्या कर रहे हो, चूत में उंगली घुस गई है. रात में मैंने उसे सॉरी का मैसेज किया, लेकिन उसने कोई जवाब नही दिया. आज उसके साथ चुदाई करने से पहले ही मैंने लिक्विड चॉकलेट और केक का ऑर्डर दे दिया था.

वो मुझे एक मार्केट में दिख गयी, वो अकेली ही थी शायद और कुछ समान लेने आई थी. हर दस मिनट में सीट से उठ कर कभी वाशरूम चला जाता, तो कभी कैंटीन में जाकर टहलता रहा. पांच मिनट की चूत चुसाई में भाभी ने पानी छोड़ दिया, जिसको चाट कर मैंने चूत को साफ़ कर दिया.

उसने वो गोलियां अपनी फैमिली के सभी सदस्यों को रात में दूध में मिला कर खिला दीं.

वो मेरे पास आ गया और मेरे बालों को पकड़ कर खींचते हुए बोला- लगता है दोनों जंगली बिल्लियां हैं. उन्हें देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और लगा कि अभी पकड़ कर भाभी को चोद दूँ.

बीएफ देहाती एक्स एक्स ” महेश अब नीचे होकर अपनी बहू की चूचियों को गौर से देखते हुए उसकी तारीफ कर रहा था।नीलम को ऐसे महसूस हो रहा था जैसे उसका ससुर उसके जिस्म को ऊपर से लेकर अपने होंठों से चूमता हुआ नीचे हो रहा है, नीलम की चूत से पानी बहना शुरू हो गया था। वह न चाहते हुए भी कुछ कर नहीं सकती थी. ” नीलम जो इस वक्त मज़े के सागर में तैर रही थी, अचानक उसकी चूत से लंड निकलते हुए वो तड़प उठी थी.

बीएफ देहाती एक्स एक्स उनके पति सरकारी नौकरी में किसी ऊंचे पद पर थे, तो वो अक्सर बाहर रहा करते थे. वो यहां-वहां मेरे कमरे की दीवारों पर देखने लगी और फिर बेड पर बैठ गई.

स्मायरा के पापा बोले- कोई बात नहीं … आप कहीं नहीं जाओगे, यहीं रहोगे.

सेक्सी पिक्चर 12 साल की लड़की के साथ

इधर मेरी उंगली उसकी चूत को खुजला रही थी, उधर वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चूस रही थी. अब तुम ही बताओ मैं क्या दूं?इस बात पर मैंने हंसते हुए अपना हाथ धीरे से उसके उसके चूतड़ों के बीच में घुसाते हुए गांड पर फेरते हुए बोला- ये दे दो. फिर मैंने कहा- आंटी अगर मुझे आप जैसी बीवी मिल जाए, तो मेरी तो मौज हो जाए.

वह खुद नहीं जानती थी कि उसके ससुर में क्या जादू है कि वह उसकी बातों में फँस जाती है और वह सब कर जाती है जिसकी वह कल्पना भी नहीं कर सकती. मैंने अपने मुंह से नौकर का लंड निकाल लिया और फिर बोली- मैं दर्द सह लूंगी पापा. जब भी उनमें से कोई भी प्यासी होती तो मेरे कमरे पर आकर अपनी चूत चुदवा लेती थी.

मेरी यह पहली सेक्स कहानी आपको कैसी लगी, मुझे आप मेरे मेल आईडी पर रिप्लाई देकर जरूर बताएं और यदि कहानी को लिखते समय मुझसे कोई भूल हुई हो तो माफ़ करें.

उसने मेरी चुत पर थूक लगा कर लंड फिट कर दिया … और उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे मजा आ गया था … मैं ऊपर नीचे होकर उसका साथ देने लगी. रीमा तो वाइब्रेटर के घुसते ही उछलने लगी और चीखने लगी … नीता के अलावा बाकियों ने कभी अपनी चूतों में वाइब्रेटर नहीं लिया था तो उनके लिए तो यह एक नया तजुर्बा था. मैंने पूछा- तुम ये सब भी देखते हो?वो बोला- ये सब मेरे दोस्त वगैरह भेजते रहते हैं मुझे.

मैंने अकेले ही खाया, उसने खाने से मना कर दिया।फिर हम लाइट ऑफ करके लेट गए। एक तो अनजान जगह, ऊपर से घर की टेंशन मुझे नींद ही नहीं आ रही थी और शायद उसको भी।लगभग एक घंटे बाद वो उठा और बाथरूम गया. हम लोग कुछ समझ नहीं पा रहे थे कि अब क्या किया जाये?हमारी यह उत्तेजना की चाहत मेरी बीवी के लिए शामत बन गई थी. अब देखते हैं इनके धमाल …सबसे पहली कॉटेज थी शबनम की … शबनम यानि फुलझड़ी … राजीव ने जैसे ही कॉटेज का गेट नोक किया तो गेट खुला हुआ था.

फिर वो अपने लंड को मेरे मुंह के ऊपर लाकर कहने लगा कि मेरे लंड को चूस लो एक बार. मेरे सामने उसके दो प्यारे प्यारे मध्यम आकार के चूज़े मेरी तरफ पानी चोंच निकाले देख रहे थे और जैसे मुझसे प्रेम प्रार्थना कर रहे थे.

मैं धीरे से अपने कमरे की तरफ जा ही रहा था कि एक धीमी सी मगर मीठी आवाज ने मेरे कान खड़े कर दिये. पर इसकी भी कोई गारंटी नहीं थी कि वह गाड़ी से उतरने के बाद कंप्लेट दर्ज नहीं कराएगा।अब मुझे उसे कंप्लेंट ना करने के लिए मनाना था।सॉरी नितिन … मेरी वजह से तुम अपनी इंटरव्यू को नहीं जा सके … मुझे बहुत बुरा लग रहा है. इस तरह से दो-तीन बार करने के बाद मेरी गांड में ही उसने अपना माल गिरा दिया.

फिर मैंने उससे पूछा- तुम दोनों ने कभी कुछ किया भी है क्या?एक बार तो उसने जवाब नहीं दिया लेकिन फिर वो कहने लगी- हाँ, एक बार उसने मुझे पॉर्न मूवी दिखा कर गर्म कर दिया था तो मैंने उसके साथ एक बार कर लिया था.

फिर बोली- आप कब कर रहे हो शादी?मैंने कहा- अभी तो पढ़ाई पूरी कर लूं. अब तो मेरी जान चारू भी अपने चूतड़ों को हिला कर मुझे गांड मारने के लिए आमंत्रित करने लगी. इसके बाद दोनों ही अपनी अपनी चूत को चूसने लग गए और दोनों ने ही अपनी चुत वालियों के मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया.

मैं उन्हें अपनी बाइक पर ले जाता था, तो मुझसे काफी चिपक कर बैठती थीं. मैंने पूरी त्वचा पीछे खींच दी और ऐसा लगा जैसे लंड के अंदर से आनंद रूप में जैसे कुछ बाहर निकल कर फटने वाला है.

मेरे पति भी बहुत ही चोदू किस्म के इन्सान हैं और वो मेरी चूत को जमकर चोदते हैं. … तेरा अंकल पहले ऐसा ही मर्द था … पर अब तो वो शराब के नशे में नामर्द हो गया. अब मैं ध्यान रखूंगा कि आगे से मैं भी अपने आप पर कंट्रोल रखूं ताकि आप भी अपने रास्ते से भटकें नहीं.

सेक्सी रोमास

आखिर दर्द तो उसको वैसे भी होता … लेकिन बिना मतलब के कोशिश करने का कोई फायदा नहीं था.

दिलावर ने चूत चाटते हुए कहा- जान अब उसका घर है, तुम भी कौन सा पहली बार चुद रही हो. उसके बड़े गुलाबी सुपारे को देख कर मेरे मुँह में पानी आ रहा था। पर मैं अपना उतावलापन उन्हें नहीं दिखाने वाली थी, मैंने सिर्फ उसके लंड पर हल्का सा किस किया।ऐसे नहीं भाभीजी … ठीक से चूसो!” अमित अपना लंड मेरे मुँह में घुसाने की कोशिश करने लगा. दिलावर बोला- गीता रानी, रात को मंजू के साथ तैयार रहना, उसके पास फ़ोन है.

”हा हा हा … सॉरी जस्ट किडिंग (मजाक कर रही थी), वैसे तेरे जैसी मस्त माल पर अच्छी अच्छी लड़कियों का भी मन फिसल जाए, इसमें उस बिचारी की क्या गलती है. मैं उससे ताकतवर था और उसके लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसा आनंद दे रहा था. नया सेक्सी वीडियो नंगाउनकी चुदाई की खास बात ये है कि वो सिर्फ अपने मजे का ख्याल ही नहीं रखते बल्कि मुझे भी पूरी तरह से संतुष्ट करने की कोशिश करते हैं.

लेकिन जब वो मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूची को चूस रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. वो बोली- हां सच्ची … मेरी मम्मी को भी अंकल ऐसे ही 7-8 मिनट तक करते हैं.

आठ बजने वाले थे, मैंने फोन किया तो डॉली ने कहा- गेट खुला है, अन्दर चले आइये. यह मेरी पहली गांड की चुदाई सेक्स स्टोरी है, जो मैं आज आप सभी के साथ साझा कर रहा हूँ. ” अपने ससुर की गर्म साँसों को फिर से अपनी चूत पर महसूस करके नीलम ने सिसकारते हुए कहा।बेटी तुम्हें मेरी कसम, इन्कार मत करो.

रात को विनय ने एक बार फिर से मेरी चुदाई की और फिर हम अपने कपड़े पहन कर सो गये. आप को बता दूं कि अपनी सच्चाई को सभी के समक्ष प्रस्तुत करने और अपनी अंतरंग बातों और दृश्यों को लिखकर सबके सामने रखने का सबसे प्रभावी माध्यम अगर कोई है तो वह है अन्तर्वासना. घर ढूँढने में मेरे पिताजी के सहकर्मी की बीवी ने हमारी सहायता की और उनके बाजू वाली बिल्डिंग में ही हमें एक घर मिल गया.

उस वीडियो में एक 8 इंच के लंड वाला आदमी मेरी उम्र की ही जवान लड़की की चूत को बुरी तरीके से चोद रहा था.

जब डॉक्टर मेरी बीबी की चूत को भरपूर चूस चुका तो बोला- बोला हो गई क्लीन तो!लेकिन मेरी वाइफ की चूत सुलग चुकी थी, वो बोली- ऐसे कैसे पता कि क्लीन हुई या नहीं?यह कहते हुए उसने अपनी चूत में उसके चेहरे को भींच लिया. उसने कहा- देखती हूँ कि सच कहती है या यूँ ही मेरा दिल रखने के लिए कह रही है.

उसमें हमने एक बाइक को खाई में फेंक दिया और घरवालों को लगा कि हम भी खाई में गिर कर ऊपर पहुंच गये. मैंने कहा- कौन सा प्रोग्राम?वो बोले- जिस प्रोग्राम के लिए तुम कमरा ले रहे हो मैडम. मैंने उनको बेड पर चित लिटा कर मिशनरी पोजीशन में किया और उनके ऊपर आकर एक धक्का दे मारा.

उउउइईई माँआ … मर गई आज मैं … सर की उंगली मेरी गांड के अन्दर जाने से मुझे इतना ज्यादा दर्द हो रहा था कि क्या बताऊं. मैंने धीरे से से उसको सीधा सुलाने की कोशिश की, तो वो किसी मासूम बच्चे के जैसे मुझसे और जोर से चिपक कर सोने लगी. मैंने उसकी पैंटी को निकाल कर नीचे खींच दिया और अपनी मुंह उसकी चूत पर रख दिया.

बीएफ देहाती एक्स एक्स मुझे आप सभी के बहुत सारे ईमेल मिले और इन सभी ईमेल में सबका एक ही सवाल था कि ‘मेल एस्कॉर्ट कैसे बना जाए. तभी जैसे आंटी ने मेरा दर्द समझा और मेरी जींस का बटन खोल कर मेरी जींस और चड्डी को उतार दिया.

राजस्थान की सेक्सी एचडी

फिर मैंने उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया और कहा- और आप बड़ी हो तो क्या हुआ, मेरी दोस्त भी तो हो. कई बार ऐसा होता है कि हम जान नहीं पाते हैं कि लड़कियों के मन में क्या चल रहा होता है. भाभी आँखें बंद करके मजे ले रही थी और हर झटके से उनकी बस आहें निकल रही थी और वो कराह रही थी।इस पोजीशन में करते करते मैं थक गया तो मैंने भाभी को उठाकर नीचे खड़ा कर दिया और खड़े खड़े उनको बेड पर कोहनियों के बल झुका दिया। उनकी चुत के मुंह पर लण्ड को सेट करके धीरे धीरे अंदर पहुंचा दिया और चुत ने भी अपना मुँह खोल के लण्ड को पूरा निगल लिया.

नित्या ने दुःखी होकर पूछा- क्यों? मैं तुम्हें अच्छी नहीं लगती?मैं- नहीं ऐसी कोई बात नहीं है. अब मैं एक हाथ से स्वरा की चूची दबा रहा था और दूसरा हाथ धीरे धीरे उसकी पैंटी के ऊपर पहुंच चुका था. देहाती सेक्सी आंटी वीडियो” अमित बोला।जिस तरह मैं अमित को साथ दे रही थी और युवराज को गांड को सहलाने से नहीं रोका था तो उन्होंने मेरी सहमति पूछना जरूरी नहीं समझा।उन दोनों ने मुझे छोड़ दिया तभी मुझे खुल कर सांस लेने का मौका मिल गया.

बल्कि ये तो मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी कि मैं तुम्हें खुश कर सकूँ.

तभी उन्होंने एक लम्बी सांस ली और मेरे हाथ को अपने हाथों से भींच लिया. मैंने उसके होंठों को चूसते हुए उसके चूचों को एक हाथ से ही छेड़ना, दबाना शुरू कर दिया.

तब वो थोड़ा सा चुप हो गए, फिर बोले- तूने आज मुझे बहुत मज़ा दिया है, तो मैं तुझे निराश कैसे कर सकता हूँ. वो बोली- संचित तो रात को सोना ही नहीं चाहता था, वो तो मैंने यह कह कर सुला दिया कि सो जाओ वर्ना दिन में थकान रहेगी. (हाँ … और जोर से चीख कुतिया!)उसे चोदते वक़्त लड़की की चीखें और जल्लाद बना देती थीं.

सर ने पूछा- आशना, क्या तुम्हें ऐसा पसंद है?मैंने भी हां में जवाब दिया तो सर ने धीरे से अपना लंड मेरी चुत के अन्दर पेल दिया.

जैसे कि मैंने बताया था कि कैसे विशाल सर ने मेरी मस्त रसीली कुंवारी चूत को फाड़ कर मुझेकच्ची कलीसे फूल बना दिया था. मैंने दुल्हन बनी अनीता को साले की शादी में भी देखा था लेकिन उस वक्त उसके शरीर के बारे में कुछ खास पता नहीं लग पाया था. क्या हुआ नीलम … क्या अब मैं इतना गिर गया कि तुम मुझे अपने क़रीब भी आने नहीं देती?” समीर ने गुस्से और गम से अपनी पत्नी को देखते हुए कहा।हाँ तुम मुझे नहीं छू सकते क्योंकि मुझे भी तुम्हारी तरह किसी और से ज्यादा लगाव हो गया है.

सेक्सी वीडियो सेक्सी हॉट वीडियोपहले पहले मुझे बहुत शर्म सी आती, पर धीरे धीरे मेरी शर्म गायब होने लगी. एक बार मैंने उसके फोन में पोर्न क्लिप देख लिया तो …मेरा नाम तान्या है और मैं पुणे से हूं.

भारतीय सेक्सी वीडियो प्ले

फिर मैंने उनका ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया और उनके उरोजों पर टूट पड़ा. शुरू से ही जवान लंड को चूसने का, सहलाने का, उससे चुदवाने का शौक लगा हुआ था. अब मैं उन्हें चुप कराने लगा, जिससे मैं उनसे कुछ ज्यादा ही चिपक गया.

कल्पना मेरे हर धक्के पर जोर से बोलती- आह मेरे राजा … और तेज … आज फाड़ दो मेरी चूत को … ताकि वहां मैं सुकून से रह सकूं. थोड़ी देर बाद सर मेरे सामने देखते हुए बोले- आशना अब तो तुम्हें शर्म नहीं आ रही है ना?यह सुन कर मैं और भी शर्मा गयी. तभी आंटी बोलीं- क्या हुआ वरुण … कुछ भी छुपाने की जरूरत नहीं है … होता है और अब चलो.

हमने थोड़ी देर बातें की और कुछ देर के बाद उसने अपने फोन में टाइम पास करना शुरू कर दिया. कुछ ही पलों बाद मेरा लंड फ्रंटियर मेल की तरह आंटी की चूत का बजा बजाने में लग गया. मैंने उनके मम्मों को ज़ोर से दबा दिया और उनकी टी-शर्ट को उनके जिस्म से अलग कर दिया.

मुझे बड़ा दर्द हो रहा था, पर इस दर्द के बाद मुझे मालूम था कि मेरी चूत को जो ख़ुशी मिलने वाली है, वो इस दर्द से दस गुना अधिक थी. मेरी उम्र जवान हो चुकी थी, इसलिए मेरी सेक्स की लालसा भी शुरू हो गई थी, लेकिन कोई लड़की पट नहीं पा रही थी.

दोस्तो, जिसके सामने नंगी लड़की पड़ी हो और चुदाई करने की बात खुल्लम खुला कर रही हो, तो एक जवान मर्द क्या करेगा? वो तो उसे चोदेगा ही, फिर चाहे बहन या बेटी ही क्यों न हो.

मैं नीचे से अपने खड़े हुए लंड को उसकी जांघों से सटाने की कोशिश कर रहा था. पार्टनर सेक्सी वीडियोयह बात उस समय की है जब मेरी बीवी ने कहा कि मेरी भाभी को शहर से बुला कर ले आओ। अभी उसके स्कूल की छुट्टियां भी हैं चल रही हैं और वो इस बहाने हमारे यहां पर आकर कुछ दिन घूम जायेगी।मेरी बीवी ने कहा कि उसने अपनी माँ से बात कर रखी है इस बारे में. सेक्सी फिल्म 4:00 वालीमेरी बीवी की चूत अब अपना चिकना पानी छोड़ रही थी और लंड को निगलने के लिए खुल चुकी थी, खिल चुकी थी. जब मैंने उनका लंड अपने मुँह में लिया, तो उसमें से जो खुशबू आ रही थी, वो बड़ी मारू थी.

मैं अपना चेहरा उसकी दोनों पैरों के बीच चूत की जगह ले आया और उसकी जांघों को चूमते हुए नई ताजा चूत की खुशबू लेने लगा.

मैं प्रीति को लगातार किस कर रहा था, जिससे उसकी गर्दन पर लव बाइट आ गए थे. दोस्तो, वो समय जन्नत का नज़ारा था, मेरे को भी लग रहा था कि मेरा माल जल्दी निकल जाए. तभी पंकज की आवाज आई- अरे तुम लोग तो शुरू हो गए … मेरा इन्तजार भी नहीं किया.

” महेश ने अपनी बहू की चूत के पास ज़ोर से अपनी साँसें खींचते हुए कहा।नीलम को भी अपने ससुर की साँसें अपनी चूत से टकराती हुई महसूस हो रही थी। उसका पूरा जिस्म कांप रहा था और उसकी चूत से ढ़ेर सारा पानी निकल रहा था।आह्ह्ह हल्के भूरे बाल तुम्हारी चूत को और ख़ूबसूरत बना रहे हैं, ओह्ह्हह बेटी, तुम्हारी चूत से तो पानी निकल रहा है … हाय रे किस्मत मैं अपनी बहू के क़ीमती रस को चख भी नहीं सकता. पापा अपने काम पर चले जाते थे और माँ भी पड़ोस में अपनी सहेलियों के साथ बतियाने चली जाया करती थी. इस पर वो उदास होकर अपनी सारी व्यथा मुझे बताने लगी, कहने लगी- सच कहूं तो उन्होंने कभी मेरी परवाह की ही नहीं.

राजस्थान देसी सेक्सी वीडियो मारवाड़ी

खाना खाते हुए उसने मुझसे कहा- आज रात सोना मत … मैं आपको मिस कॉल दूंगी, आप बाहर जो नहर के पास खेत है, वहां आ जाना. थोड़ा नारियल तेल मैंने मेरे लंड पर लगा कर उनकी गांड में डालने की कोशिश की. अब राहुल तो कुछ बोल ही नहीं पा रहा था, वो चुपचाप पंकज के साथ बेड पर बैठ गया.

पंकज ने पूछा- ये क्या कर रही हो?तो सारिका हंस कर बोली- तुम्हारे पास तो मैं हूँ आग बुझाने को … पर राहुल की आग कौन बुझाएगा? इसीलिए आग पर पानी छिड़क कर उसे बढ़ने से रोक रही हूँ.

उसका परिणाम ये हुआ कि क्लास में भी मैं अब बार-बार घड़ी की तरफ देखता रहता था.

एक बार ऐसा हुआ कि जब मैं मेरी बीवी को सेक्स के लिए मना रहा था, तब मेरी सास हमारी बातें सुन रही थीं. रीना ने टांगें खोल दीं और उसकी चुत लंड का अन्दर आने के लिए स्वागत करने लगी थी. ब्लू फिल्म सेक्सी वाला दिखाइएमुकुल राय उसकी गान्ड नीचे पलंग पर कर देता है, दरार को फिर से अलग करता हुआ अपनी जीभ उसके सूराख पर लगाता है और पूरी दरार की लंबाई चाट जाता है.

घर बहुत अच्छा था और मेरे पिताजी काम के सिलसिले में कभी कभार बाहर जाते थे. मेरे नंगे चूतड़ देखते ही पति ने एक बार उनको हाथ से दबा दिया और फिर मेरी गांड को किस करने लगे. ” नीलम ने अपने ससुर से कहा और अपनी साड़ी को अपने जिस्म से अलग करती हुई उतारने लगी। नीलम कपड़े उतारते हुए अपने ससुर की तरफ नहीं देख रही थी क्योंकि उसे शर्म आ रही थी।नीलम ने साड़ी उतारने के बाद अपने ब्लाउज और पेटीकोट को भी खोल दिया। इधर अपनी बहू को सिर्फ एक छोटी सी पेंटी और ब्रा में देख कर महेश का बुरा हाल हो चला था.

अपनी बात बनती देख मैंने कहा- ना अंकल को पता चलेगा … और ना ही किसी और को … क्योंकि ये बात हम दोनों ही किसी को नहीं बताएंगे. इसलिए कुछ देर पहले वो इतने गुस्से में थी और अब वो मुझसे खुद ही माफी मांग रही थी.

वो सुमन से कहने लगा- दीदी, ये सब क्या हो रहा है?सुमन बोली- तुम भी आ जाओ.

बेडरूम में ले जाकर मैंने उन्हें धक्का देकर बेड पे गिरा दिया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया. मैंने कहा- ड्राइवर की कोई जरूरत नहीं है, मैं खुद अपने काम से जोधपुर जा रहा हूँ. उन दिनों मैं स्कूल वाली मेम को चोदता था, तो अनु की फीलिंग लेकर ही चुदाई का मजा लेता था.

नौकरानी और सेठ का सेक्सी वीडियो पहले चाची 36 साइज़ के मम्मों वाली, फिर दूसरी हिना आंटी 38 वाली, फिर तीसरी मेरी परवीन आंटी 40 साइज़ के मम्मों वाली. वह अपनी जाँघों के बीच एक ज्वालामुखी को महसूस कर सकती थी जो उसे एक नम गर्म अहसास दे रही थी.

फिर मैंने उसको एक दर्द की दवाई दी, उससे माफी मांगी और उसे मना लिया. रिस्क उठाकर कड़ी मेहनत करके जो लंड पटा लिया जाए, उससे जो अमृत मिले, उसी में असल मजा आता है. हां वो एक बार चोद कर घर वापिस आ सकता था मगर आख़िर लंड को जब चूत की खुश्बू मिल जाती है, तो उससे भी नहीं रहा जाता.

ब्लू सेक्सी पिक्चर पूरी

बस थोड़ा सा मलाल ये रह गया था कि मैं उसकी चूत में वीर्य को नहीं निकाल सका. ऋतु के जवाब के बारे में सुनकर अनिल ऋतु की तारीफ करते हुए कहने लगा कि वाह … तुम्हारी वाइफ तो बहुत ही समझदार है आकाश। लेकिन इतनी मॉडर्न लड़की इतनी समझदार कैसे हो सकती है. चोद दूं क्या इसको?वो बोली- हां जल्दी …मैंने उसकी चूत में धक्का लगाया और वो उचक कर मुझसे लिपट गई.

चूंकि हमारे पास टाइम कम ही था इसलिए हम सब कुछ जल्दी-जल्दी में कर रहे थे. मेरे लंड को देख कर वो बोला- यार मोंटू तेरा लंड तो बहुत बड़ा है … यकीन नहीं होता तू अभी इतना छोटा है और तेरा लंड 7 इंच का हो गया.

मेरी पिछली कहानी थीदेसी भाभी का प्यार और सेक्समैं पहले कुछ अपने बारे में बता दूं, मैं 5 फुट 11इंच का 29 साल का युवक हूँ और रोहतक में ही एक प्राईवेट नौकरी करता हूँ.

मैंने देखा कि अनिल ने अपने मोबाइल में कुछ डिजाइन दिखाने के बहाने ऋतु को अपने पास बैठने के लिए कहा तो ऋतु उसके पास आकर बैठ गई. मैंने किसी तरह शर्ट के नीचे उसको ढका और किचन में बर्तन रखने के लिए चला गया. हम सबने ख़ुशी खुशी साथ में खाना खाया और फिर मेरी पत्नी दवाइयां खाकर आराम से सो गई.

मैं भी उसकी पीठ पर पेट के बल लेट गया और मैंने अपने हाथों से उसके नितंबों को सहलाना शुरू कर दिया था. मैंने ना में सर हिलाया, तो मॉम ने कहा कर लो बेटा, जो करना है, लेकिन आज भर ही बस … ये सब रोज रोज नहीं होगा. मैं कसरत करता हूं … हल्की कसरत, सुबह दौड़ना, कुछ योगासन! इसलिए छरहरे बदन का हूं.

मैंने आंटी को बेड पर लिटा दिया और मैं उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा.

बीएफ देहाती एक्स एक्स: मैं उन्हें चूसने लगा, तो भाभी ने रुकने का इशारा करके मुझे पास सोफ़े पे बिठाया और ख़ुद नीचे बैठके मेरा लंड चूसने लगीं. ”जो मदद तुमने की है वही काफी है … अब और मदद नहीं चाहिए!”उसकी बातों से मुझे लग रहा था कि शायद वह गाड़ी से उतरने के बाद मेरी कंप्लेट कर सकता है। मुझे किसी भी कीमत पर उसे यह करने से रोकना था।तभी वह गली आयी जिस गली में मैं और मेरा बॉयफ्रेंड मस्ती करने आते थे, मैंने और मेरी सहेलियों ने इसी गली में जिंदगी के मजे लिए हुए थे। उस गली के पास आते ही मेरी पुरानी यादें ताजा हो गई.

एक-एक टुकड़ा उठाते हुए मैं उसके कोमल गोरे बदन से अपनी आंखें सेक रहा था. ये मेरी पहली कहानी है, तो कहानी से पहले थोड़ा अपने बारे में बता देना चाहता हूँ. मेरे हर धक्के के बाद उनकी आह आहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआअह्ह … ह्हह … ऊऊऊ … ऊईई … ईईइ … मर गई माँ.

मैंने एक हाथ उनकी चुत पे और दूसरा हाथ उनकी चुचियों पे रख दिया और उनके मोटे मोटे मम्मे दबाने लगा.

वो मेरी चूत का मलीदा बना देख कर बोली- साली हब्शी औरत … बड़े लंड का इतना लालच है कि अपनी चुत का क्या हाल करवा लिया है … ये भी होश नहीं रखा. मैंने सारिका की चूत को लंड के निशाने पर लिया और उसके मम्मे पकड़ कर लंड ठोक दिया. अब तुझे चुदने में मुझे चोदने में दुगना मजा आएगा।अब रुकना मेरी सहनशक्ति से बाहर था। मैंने रॉकी को खींच के बेड पर पटक दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गई। रॉकी का लण्ड अपने हाथ से ही अपनी चूत में सेट करके पूरा अंदर ले लिया.