यूपी बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो कार्टून एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू सेक्सी चुदाई दिखाओ: यूपी बीएफ पिक्चर, मैंने उसकी साड़ी पेटीकोट ऊपर को खिसकाया और उसकी तड़पती फड़कती चूत में पेल दिया.

कॉलेज की लड़कियां सेक्सी

वहां उसने अपनी नंगी चूचियां दिखाकर मुझे गर्म किया और चुदाई का माहौल बनाया. ಬಾತ್ರೂಮ್ ಸೆಕ್ಸ್उसने मेरे पास आकर मुझे अपनी बांहों में कस लिया और मेरे होंठों को चूसने लगी.

मेरे साथ साथ मेरे मोहल्ले का एक लड़का, जिसका नाम शिराज था, वो भी मेरे ही कॉलेज में पढ़ रहा था. चूत मारी सेक्सीबस ये कह कर मैंने अपने मुँह से थूक लंड पर छोड़कर लंड फिर से अन्दर डालने लगा.

पर यहां तो मैंने उस कोमल दाने को ऐसे मरोड़ कर बाहर खींचा की रेशमा उस ट्रेन के कूपे में ही मूतने लगी.यूपी बीएफ पिक्चर: वैसे पापा को भी तो जरूरत है ही!पाठको, आपकी जानकारी के लिए एक बात बता दूँ कि मुझे यह इसलिए भी जरूरी लगा क्योंकि मम्मी की डैथ के बाद पापा बाहर रंडियां चोदने में अपनी सैलरी खर्च करने लगे थे.

भाभी बोलीं- नहीं, बोलो क्या हो जाएगा?उनके पति गर्म हो गए और बोले- खड़ा हो जाएगा.जब मैं स्खलन करने वाला था, मैंने अपना लंड निकाल लिया और उसके हाथ पर स्खलन कर दिया.

సెక్స్ మూవీ సెక్స్ సెక్స్ - यूपी बीएफ पिक्चर

थोड़ी देर और दबाने के बाद फकीर ने मेरी बीवी को इशारा करके बोला- बीच में हाथ लगाओ.इस पर वो बोलीं- अरे वाह … ऐसे में तो बहुत मजा आ रहा है … और जोर जोर से चोदो.

कुछ देर के बाद दोनों बाबाओं ने अदल बदल कर मुझे यानि अपनी बीवी को रात भर चोदा और हम तीनों करीब सुबह 4 बजे सो पाए. यूपी बीएफ पिक्चर लेकिन आज तुम मेरी कली का फूल बना दो, मेरा कुंवारापन दूर करके मुझे एक औरत बना दो हर्षद.

[emailprotected]सेक्स वासना की कहानी का अगला भाग:भतीजे के लंड पर दिल आ गया- 2.

यूपी बीएफ पिक्चर?

धीरे धीरे कुछ और लड़कियां हमारे ग्रुप में आ गईं और वो भी लंड, बुर, चूत, भोसड़ा की बातें करने लगीं. मेरे स्पर्श से भी वो इतनी गर्म हो रही थी कि उसकी सांसें भी जोर जोर से चल रही थीं. पतली कमर पर गोल गोल कटोरे जैसे भारी चूतड़ और चिकनी मोटी मोटी कदली जैसी जांघों को बीच पावरोटी की तरह फूली और सुनहरे रोएंदार गुलाबी बुर अपना जलवा बिखेर रही थी.

उसने कुछ बोलने, मुझसे दूर होने की कोशिश भी की शायद … पर तब तक देर हो चुकी थी. उसने तब तक मेरे अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरा लंड बाहर निकाला और मुट्ठी मारने लगा. एक बार मैंने उन्हें उनके घर में नंगी नहाती देखा तो मेरा लंड खड़ा हो गया.

उसकी लाल गुलाबी और एकदम गोरी चूत को देखकर मैं पूरे जोश में आ गया, उसकी चूत पर जीभ रख कर चाटने लगा. अपने होंठों को उसके कान के पास ले जाकर बोला- अञ्जलि, अगर आपकी परमिशन हो तो हम दोनों मिल कर गलती कर सकते हैं, ताकि एक दूसरे को सॉरी कह सकें. कमरे में घुसते ही शब्बो ने जबरदस्ती करके वीरू का पसीने से भीगा टीशर्ट निकाल दिया और उसके शरीर पर लगा पसीना पौंछने लगी.

मैं उनसे छूटने के लिए जोर लगाने लगी और बोली- ये क्या कर रहे है आप पापा जी … छोड़िये ये सब गलत है. अंगिका अपनी मां पर चिल्लाने लगी।तभी मैंने उसका हाथ पकड़ते हुए कहा- जो मुग्धा को चाहिए … वो मैं उसे दे रहा हूँ.

मैंने विलास से कहा- कितने बजे बर्थ-डे सेलिब्रेट करने का है?वो बोला- सात बजे तक करेंगे.

मगर अब तक हम दोनों सामान्य बातें या हंसी मजाक वाले चुटकुले ही शेयर करते थे.

अन्तर्वासना की स्टोरी पढ़ कर लंड को हिलाया, उसका पानी निकला, फिर सोया. उस दिन मैंने उसको अन्दर जाते समय देखा था तो सच में यार राखी के क्या चूतड़ थे … उफ्फ … मेरे लंड को तो मार ही डाला था जालिम ने!पहली ही नजर में मुझको लगने लगा था कि अभी के अभी इसको पटक कर चोद दूँ. फिर मैंने देखा कि उसकी पैंटी से पानी टपक रहा है तो मैंने उसकी गांड पर एक और स्टिक मारी.

मैंने लंड का सुपारा चूत की दरार में रखकर अपने मुँह से ढेर सारा थूक लंड पर छोड़ दिया. वो एकदम से चिल्लाने लगी- उई मम्मी रे मर गई … छोड़ मुझे आंह साले मैं मर जाऊंगी … आंह छोड़ दे!मैं उसको किस करने लगा ताकि उसका दर्द कम हो जाए और आवाज भी न निकले. उस दिन के बाद से कई बार स्कूल में भी मैं और आयेशा सेक्स कर चुके हैं.

उसने दो तीन कश मार कर अपनी लिपस्टिक लगी सिगरेट मुझे दी और मैं बेड पर लेट कर उसे पीने लगा.

ये सीधी उसके पेट में गयी क्योंकि उसने मेरा लंड मुँह से बाहर निकाला ही नहीं था. मैंने उसके बूब्स को जगह जगह काटना और चूसना शुरू कर दिया।वो आह आह शी करते हुए आवाज़ें करने लगी और मेरे कपड़े भी उतारने लगी।हम दोनों ऊपर से नंगे थे. थोड़ा सा थूक अपने लौड़े के सुपारे में लगाया और चुत में एक धक्का मारा, जिससे मेरा आधा लंड भाभी के चूत में चला गया.

उसने अपने हाथ पर तेल लिया और मेरे लंड को हिलाते हुए उस पर तेल लगाने लगी. चाची मेरे चौड़े सीने को देख कर मुस्कुरा दीं और बोलीं- विक्की बड़ा मस्त सीना बना लिया है. मैंने साथियों को, जो चारों ओर से घेरे थे और उत्सुकता से गांड मराने का खेल देख रहे थे, कहा- देखो इसके चूतड़ कस्ते ढीले हो रहे हैं.

इसके बाद अब लौड़ा चुसाने वाले बाबा ने मुझे सीधा कर दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला कर वो खुद मेरे सामने आ गया.

मैं जितना अपनी जीभ को हरकत देता, वो उतना ही जोर से मेरे लंड को चूसतीं और मेरे सर को अपने पैरों से दबा लेतीं. मैं कमरे की ओर बढ़ने लगा तो मैंने देखा कि रेखा बिना कपड़ों के नंगी सोई हुयी थी.

यूपी बीएफ पिक्चर तब मैंने अपना विज़िटिंग कार्ड निकाला और उसे देते हुए कहा- लो तुम इसे रख लो … और कल संडे है, कल मेरे घर सुबह 11 बजे आ जाना. मैंने भी लंड की नोक को गांड पर घिसा और कहा- हां यार विलास … अब मैं भी नहीं रुक सकता.

यूपी बीएफ पिक्चर दोस्तो, आपने मेरी पिछली सेक्स कहानीप्राइवेट सेक्रेटरी की रसीली चूत का मजामें पढ़ा था कि मैंने अपनी पड़ोसन रेशमा को अपने ऑफिस में काम पर रख लिया था और उसे मुंबई लाते समय ट्रेन के कूपे में ही पटक पटक कर चोदा था. मैंने अपने बालों को झटकारते हुए अपना सर पीछे की तरफ किया और पीछे का नजारा देख कर मेरे पैरों के नीचे से जमीन सरक गई.

खाने के समय ही मैंने मां को बता दिया कि आज मैं दोस्त के घर जाकर पढ़ाई करूंगा.

बड़ा बीएफ

फिर मनीष ने चूत पर लंड फिट करके जैसे ही धक्का मारा, मैंने अपनी कमर हिला दी. मैंने उसे धीरे से लिटा दिया और उसकी साड़ी को पेटीकोट समेत धीरे धीरे ऊपर कर दिया. साथ ही जब लंड अन्दर नहीं जा पाता तो मैं उसके बड़े बड़े आंड चूसने लगती थी.

वो बोली- हां वो तो है, पर उसके साथ ये सब कैसे कर पाऊंगी?मैंने कहा- तुम्हें कुछ नहीं करना, तुम्हें तो जीजा को सिर्फ हरी झंडी देनी है. आते ही उसने सभी के गिलास में आइस के दो दो पीस डाल दिए और हम तीनों पीने लगे. फिर मेरा मायूस चेहरा देखकर मेरे पास आकर बोलीं- बोलो जाऊं?मैंने कहा- मैं कौन होता हूं रोकने वाला?ललिता भाभी हंसने लगीं और बोलीं- अच्छा जी.

उनके पति का 2 मिनट में ही भाभी के मुँह में पानी निकल गया और वो भाभी के बूब्स चूसने लगे.

वो गर्म होती गयी और उसकी कामुक सिसकारियां निकलने लगीं ‘आह हहह उमंह उह उम्म आह हह …’फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया. पहले हमारी बात सामान्य ही हो रही थी, पर भाभी खुद ही गहराई में उतरती चली गईं जिससे मेरे अन्दर हिम्मत आ गई थी. जैसे ही वो शब्बो की उस गीली चड्डी की तरफ आया तो उसने देखा कि शब्बो की चूत से निकलता हुआ पानी कैसे सफ़ेद रंग का दाग़ बना रहा था उस चड्डी के ऊपर!शब्बो की नाभि पर जुबान घुमाते हुए उसने शब्बो की चड्डी को नीचे खींचना चालू किया और शब्बो ने भी अपनी गांड ऊपर करते हुए अपनी इज्ज़त को अपने छोटे मालिक के सामने खुला कर दिया.

सेक्स विद फ्रेंड वाइफ की इच्छा होने लगी मेरी! मन में यही आ रहा था कि ये मिल जाए तो लाइफ बन जाए!मेरे लौड़े ने अपना कमीनापन दिखाना शुरू कर दिया और लंड खड़ा होने लगा. उनका रंग थोड़ा सा साँवला है।तो अब मैं गाँव की चुदाई की कहानी पर आता हूँ. उसने मुझको चिपका कर अपना एक हाथ आगे से मेरे अंडरवियर में डाल दिया और मेरा लंड पकड़ कर दबाने लगा.

मैंने सोनाली की चूत के आजू बाजू फैला हुआ चुतरस अपनी जुबान से चाटकर पूरा पी लिया. मैं बोला- कोई बात नहीं रांड … मैंने भी आज तक इतनी बेरहमी से गांड नहीं मारी है.

[emailprotected]सेक्स वासना की कहानी का अगला भाग:भतीजे के लंड पर दिल आ गया- 2. रेखा ने मेरे गले में अपने दोनों हाथ डालकर प्यार से कहा- क्या और कोई इंतजार कर रहा है तुम्हारा? या मां डांटेगी कि इतना लेट क्यों हो गए?मैंने कहा- ऐसी कोई बात नहीं रेखा. मैं जानता था कि दीदी मेरी वजह से ही बालकनी में स्कर्ट पहन कर खड़ी है.

मैंने उनकी तरफ खिसकते हुए कहा- आप ऐसा क्यों बोलती हो? आप तो बहुत अच्छी हो, जिसने आपको छोड़ा, किस्मत तो उसकी खराब है.

पीछे से चूत चोदने वाले बाबा ने मुझे नीचे खींच कर ज़मीन में खड़ा कर दिया और मेरी एक टांग उठा कर मुझे पीठ से अपनी तरफ करके मेरी गांड में अपना लंड पेल दिया. वह मुझसे कहने लगी- साले मार मुझे किसी रंडी के जैसे मार … मेरे गाल पर चमाट मार. मैंने उसके मन को भांप लिया कि लौंडा चूत के मतलब से मस्त दिख रहा है.

मैंने कहा- तूने सोचा भी कैसे कि मैं तुझ जैसी बाजारू रांड, जो न जाने कितने लौड़ों से चूत चुदवाती है, उसकी चूत चाटूंगा? मुझे अपना मुँह प्यारा है भैन की लौड़ी. थोड़ी देर बाद अचानक से ललिता भाभी ने मुझे धक्का देकर अलग कर दिया और बोलीं- राज, ये तुम क्या कर रहे हो? ये सब ग़लत है.

हम दोनों पक्की सहेलियां थीं इसलिए एक दूसरे से हर चीज खुलकर बता देती थीं. उसके कंठ से मादक आवाज निकलने लगी- आह स् स् स्ह स्ह … ओह हर्षद प्लीज मुझे दूध बना लेने दो ना!मैंने उसके थन मसलते हुए कहा- तुम बनाओ ना दूध … मैंने कहां तुम्हारे हाथ पकड़े हैं?ये कहकर मैं अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चूचियों को भींच कर सहलाने लगा; साथ में निप्पलों को भी मींजने लगा. मैं उसके बिल्कुल बगल में बैठा हुआ था और उसे समझाते हुए पुरानी बातें भूलने के लिए कह रहा था.

मारवाड़ी भाभी का बीएफ

उसने मुझको बिस्तर पर लिटा दिया और अपनी चुत पर लगा सारा केक मेरे लंड पर लगाने लगी.

मैंने कार्ड देखकर उससे पूछा- इन दोनों नम्बर में से आपका कौन सा नंबर है? ऑर्डर किस नंबर पर करूं?उसने कहा- जो नम्बर बैक साइड में नंबर लिखा है, आप उस पर कॉल करके आर्डर कर सकते हैं. फिर जब मैंने उनके चूत के ऊपर तेल लगाया और मालिश करना शुरू किया तो वो ऐसे सिहर सी गईं, जैसे उनको करंट लगा हो. रुचि उसके जाने के बाद मेरे सोफे पर आ गई और मुझसे चिपक कर बोली- मम्मी, आपकी बहुत तारीफ करती हैं.

तकरीबन सात बजे शैली मामी के पति अमरचंद ने पूछा- कुछ लेंगे क्या?तभी मेरी तंद्रा भंग हुई. कभी दोनों भाई अपनी बहन अर्चना दीदी की हर बात में मीन मेख निकालते थे, अभी गुलाम की तरह दीदी के आदेश का अक्षरशः पालन करने लगे थे. सेक्सी मराठी व्हिडिओ दाखवाहम दोनों ने लगभग दस मिनट तक एक दूसरे को जम कर चूसा, उनके पिंक बूब्स को मैंने चूस चूस कर लाल कर दिया.

पहले वो ठीक थे लेकिन उनकी सेक्स ड्राइव दिन ब दिन कमजोर होने लगी है. ‘उम्मम्मम्म इस्स अंह अह …’ सर की जीभ कभी मेरे निप्पल पर घूम रही थी और कभी मुँह में घुस कर मुँह में घूम रही थी.

लंड चूसती हुई वो तिरछी नज़रों से मेरी तरफ़ देख रही थी, तो मुझे वो किसी पोर्न ऐक्ट्रेस की तरह लग रही थी. मेरी इस बात पर देविका ने मुझे अपने बांहों में कसकर चूमते हुए कहा- मैं सब सह लूंगी हर्षद. मैंने उसको और जलील करने के लिए उसे मेरे तलवे चाटने का इशारा किया तो उसने भी बिना कोई हिचक के मेरे पैर को अपनी जीभ से चाटना चालू कर दिया.

मेरा लंड उसके गर्भाशय के मुँह पर अपने वीर्य की पिचकारियां मारने लगा. लड़की धीरे धीरे खुल सी रही थी, उसने बताया कि उसकी लव मैरेज हुई थी, मगर वो इस शादी से खुश नहीं है. थोड़ा आराम करने के बाद सीमा उठी और मेरे ऊपर आकर लेट गई और मुझसे कहने लगी- मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, तुम मेरा बहुत ख्याल रखते हो.

क्यों क्या हुआ?बाद में उसने बोला- उसमें इमरान हाशमी और मल्लिका का एक सीन है.

धीरे धीरे हम दोनों घुलने मिलने लगे; पढ़ाई के साथ साथ थोड़ी बातें भी होने लगीं. मौसी ने हंसते हुए कहा- अच्छा अब तेरा लंड तेरे बस में नहीं है, ये क्यों नहीं कहता कि मौसी की गांड फाड़ना चाहता है.

मैंने कहा- तो आप कैसे मानोगी … मूवी में देख लो?भाभी बोलीं- नहीं, आज तो मैं दूसरा वाला लाइव ही देखूंगी. उसका पति आकर बेड पर बैठा और सीमा से पूछा- ये सब क्या है?थोड़ी देर तक तो सीमा शांत रही. रुचिका जोर से चीख पड़ी- हाय मम्मी … मर गई … आंह फट गई मेरी … हाय मम्मी बचाओ.

उधर बलदेव ने मेरे चूतड़ों में ही अपना मुँह घुसा दिया और कभी वो गांड के छेद को चाटता, तो कभी मेरी लपलप करती चूत को चाटता. मिहिका बोली- मैंने पता है क्यों जा रहा है … नाराज हो गया शाम आली बात पै!मैं बोला- ना तो. मैंने उनकी चूत की फांकों को पकड़ कर अपनी पकड़ बनाई ताकि वैक्स ठीक से निकल जाए.

यूपी बीएफ पिक्चर मैं वैसे तो साईट पर सुबह के समय जाती थी, मगर एक दिन मैं शाम को वहां गई. वह बोला- अरे मुनिया अभी काहे चिचिया रही हो … अभी तो आधा डंडा ही अन्दर गया है.

सेक्सी बीएफ एचडी बीएफ एचडी बीएफ

जब देविका नहीं मानी तो मैंने अपने पैर को साड़ी के अन्दर से देविका के घुटनों तक कर दिया. मैंने कहा- जब हम लोग किसी दुकान पर सामान खरीदने जाते हैं, तो जब माल पसंद आता है तभी तो उसके दाम चुकाते हैं? या बिना देखे ही दाम देना पड़ता है?वो बोली- बिना देखे दाम क्यों देना?मैंने कहा- हां वही मैं कह रहा हूँ … मैं पहले अपनी बीवी को देखूँगा. वो अपने अंडर गारमेंट्स उठाने के लिए, बड़ी कामुक मुस्कुराहट के साथ आगे बढ़ी.

अर्चना दीदी दोतरफा मार को देर तक नहीं झेल सकीं और दूसरी बार चिहुंक चिहुंक कर झड़ चुकी थीं. ऐसा भी नहीं था कि मेरे मन में उनके लिए कभी कोई गलत ख्याल नहीं आया था. बेटी के सेक्सी वीडियोजैसे ही मैं आया, उन्होंने मुझसे कहा- यार, मैंने अपनी बीवी के जन्मदिन के बारे में किसी से नहीं कहा है कि आप भी किसी को मत बोलना.

देखते ही देखते लाल ब्रा और पैंटी में एक हसीन खूबसूरत औरत उन देहातियों के सामने आ गई थी.

धीरे धीरे मैं गांड के छेद की तरफ बढ़ा और उसकी टांगों पर बैठ कर पीछे से उसकी गांड को दबाने लगा. तकरीबन सात बजे शैली मामी के पति अमरचंद ने पूछा- कुछ लेंगे क्या?तभी मेरी तंद्रा भंग हुई.

सर मेरे नंगे मम्मों पर जीभ फेरने लगे और हाथ पीछे करके अपना एक हाथ पजामा में घुसाने लगे. मैंने मम्मी को उल्टा लिटाया और उनकी गांड में एक ही झटके में पूरा लंड घुसेड़ दिया. ताबड़तोड़ चुदाई करते करते आंटी की आंखों से आंसू बहने लगे और मैं होंठों को चूमने लगा.

वो और जोर से आवाज निकाल रही थी।थोड़ी देर बाद दीदी ने मुझसे पूछा- सेक्स करोगे मेरे साथ?ये सुनकर तो मुझे और पसीना आने लगा, मैं चुप रहा।दीदी ने अपना लोवर उतार दिया और मुझे भी उतारने को कहा.

जैसे ही शब्बो ने उसका लौड़ा मसला, वीरू ने खुद ही अपनी कमर उठाकर अपने शॉर्ट्स उसकी अंडरवियर समेत नीचे खींच डाले और अपना जवान लौड़ा शब्बो के लिए पेश किया।शब्बो को अपनी ओर खींचकर के वीरू ने उसको अपने ऊपर लिटाया और शब्बो के होंठ अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिए. ताबड़तोड़ चुदाई करते करते आंटी की आंखों से आंसू बहने लगे और मैं होंठों को चूमने लगा. मिहिका बोली- देख राज जी (जी मतलब दिल) … तो मेरा भी कर है, पर मनै डर भी लाग रया है … जब त मैं बिन बोले उठ आई.

सेक्सी हसबैंड वाइफयह मेरी पहली सेक्स कहानी है देसी भाभी की चूत चुदाई की … मुझे उम्मीद है कि आप लोग इसे पसंद करेंगे. मैंने झट से उसकी लैगिंग्स नीचे की, पैंटी नीचे सरकाई और चूत को मुँह में भर लिया.

बीएफ इंग्लिश बीएफ हिंदी बीएफ

कुछ दिनों बाद गर्मी की छुट्टी आयी तो मेरी पत्नी बच्चों को लेकर मायके निकल गयी. मैंने फिर से अञ्जलि के कान के पास धीमी आवाज में, गर्म सांसें मारते हुए कहा- आप और मैं आपस में मिलकर एक दूसरे के बदन पर प्रेम मोहर लगा सकते हैं. मैं बड़ा अचम्भित हुआ और उससे पूछा कि क्या हुआ?तो उसने मुझे रुकने का इशारा किया.

नीता ने मेरे गाल को चूमकर और लंड को रगड़ते हुए कहा- अरे यार मैं तो मजाक कर रही थी. वो अपने घुटनों के बल बैठकर मेरा लंड अपने हाथ में पकड़कर बोली- अब मुझे तुम्हारे इस अमृत को पीना है हर्षद. वह खुद हम दोनों को बिस्तर पर ले गयी और मेरा हाथ पकड़ कर अपने पति के लंड पर रख कर बोली- लो रूपा, अब तुम खुद मेरे पति का लंड खोल कर पकड़ लो.

शब्बो तो कब से उसके जवान जिस्म को वीरू के सामने नंगा करना चाह रही थी तो उसने भी वीरू की मदद करते हुए अपनी सलवार का नाड़ा खोल दिया।खुद ही ब्रा को अपने जिस्म से अलग करते हुए अपने 40 के साइज के फूले हुए गुब्बारे वीरू के सामने पेश कर दिए. बलदेव हांफने लगा पर दूसरे वाले ने मेरी चूत में लंड घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटके देने लगा. दूसरी तरफ ज्योति चाची अपनी चूत को मम्मी के मुँह के सामने रखी और बोलीं- स्वाति दीदी, चाटो न इसे … आंह चाटो.

मैं सोफे पर बैठ गया तो उसने पानी की बोतल देकर कहा- लो पानी पी लो हर्षद. ये हार्ड वैक्स इसी काम के लिए आता है, इसको गर्म अवस्था में लगाया जाता है.

ऐसा भी नहीं था कि मेरे मन में उनके लिए कभी कोई गलत ख्याल नहीं आया था.

लॉकडॉउन के कारण मैंने नोएडा छोड़कर दिल्ली आने का फैसला कर लिया था पर कॉलेज के एग्जाम्स की वजह से मुझे वापस नोएडा जाना पड़ा. एक औरत के साथमैं भी शान्ति से उसकी तरफ से होने वाली किसी प्रतिक्रिया का इन्तजार करने लगा. सेक्सी इंग्लिश में ब्लू पिक्चरथोड़ी देर चोदने के बाद मैंने उसे अलग किया और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया. उसकी चूत देखने से ऐसा लग ही नहीं रहा था कि वो किसी भारत की लड़की की चूत है.

शाम को ऑफिस से पहले मैं घर आया, मुझे रेडी होकर बॉस के घर पार्टी में जाना था.

शादी के समय मेरे पति अपना खुद का एक बिजनेस चलाते थे लेकिन उसमें लगातार नुकसान होने के कारण उन्होंने उसे बंद कर दिया और शादी के 9 महीनों बाद ही वो सूरत में जाकर नौकरी करने लगे. गाँव की चूत चुदाई की स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने दोस्त की साली को उसके घर छोड़ने गया तो वहां हम दोनों अकेले थे. लेखक की पिछली कहानी थी:सास के सामने ससुरजी का मोटा लन्ड लियानमस्कार, मेरा नाम गोपाल है.

रेशमा ने हल्के से मुस्कुराया और खुद पलट कर मेरे सामने झुक कर कुतिया बन गयी. मैंने अञ्जलि के कान के नजदीक पहुंच धीरे से कहा- अगर आप साथ दोगी तो एक घंटे बाद हम दोनों एक दूसरे को …उसने सवाल भरी नजर से मुझे देखा. खाना बनाने के बाद मैंने नजरें नीचे किए हुए देवर और ससुर को खाना दिया और खाना खाने के बाद अपने कमरे में आ गई.

बीएफ सेक्सी ब्लू ब्लू

बस यहीं से शुरू होती है उस मस्त भाभी की चूत की मलाई खाने की शुरूवात. उसकी समझ में आ गया कि लौंडा मस्त हो गया है; वो गांड उठा कर अपनी चूत में मेरी उंगली घुसवाने लगी. कालू अंकल अपनी आंखें बंद करके कहने लगा- आह सुम्मी चूसो और अच्छे से चूसो.

यह Xxx मामी चुदाई कहानी 3 साल पुरानी उस समय की है जब मेरी ननद कुछ दिनों के लिए मेरे घर आई थी.

मेरे गाल, होंठ, मेरे अंडरआर्म्स, मेरी चूचियां, नाभि, पूरी गोरी देह को उसने मानो चाट खाया था.

लंड सरसरता हुआ पूरा अन्दर घुस गया तो मेरे मुँह से निकला- उई मां फट गयी मेरी बुर … साले भोसड़ी वाले ने फाड़ डाला … तेरी बिटिया की बुर … मम्मी … आह रे अब मैं मुँह दिखाने के काबिल नहीं रही. मां बोली- आप ये क्या कर रहे हैं?पापा को मां के आने का पता ही नहीं चला. सेक्सी वीडियो गांव की नंगीज्यादातर बार मैं हवाई जहाज से ही जाती हूँ, पर कभी कभी ट्रेन से भी चली जाती हूँ.

अगले दिन मेरे शौहर ने मुझे हमल रोकने की दवा लाकर दी क्योंकि वो नहीं चाहते थे कि मेरे पेट में किसी गैर मर्द का बच्चा आये. सरिता भाभी ने अपने मां, पिताजी और बड़ी बहन सोनाली से मेरी पहचान करवा दी. मैंने समझ गया कि मैडम का पति का लंड किसी काम का नहीं है और चुदाई में बेकार का कबाड़ी किस्म का है.

भाभी खुद भी मुझसे मस्ती कर रही थीं- क्यों लाला जी, अन्दर क्या क्या देखा था?मुझे भाभी लाला जी कहती थीं. मेरी तनिक भी उठने की इच्छा नहीं हो रही थी लेकिन अर्चना दीदी की हरकतों से मेरी नींद जाती रही.

मेरी तो गांड ही फट गई पर मैंने उसको कुछ नहीं बताया, बस उसको वहीं उतार कर वापस आ गया.

उस दिन वो मुझे अपनी चूची भी नहीं दिखा रही थी, जो वो हमेशा मेरे लिए खुली रखती थी. दो तीन बार मैंने लंड पेलने की कोशिश की, पर हर बार नाकामयाबी ही हाथ लगी. मैंने शॉवर चालू किया और अञ्जलि को अपनी तरफ खींच कर उसके होंठों को अपने होंठों में दबोच कर चूसने लगा.

सेक्सी मलयालम सेक्सी मलयालम उस दिन के बाद से मैं अब रोज उनको कपड़े सूखने डालते समय देखने आ जाता था. अब आगे स्कूल मास्टर सेक्स कहानी:फिर सर ने 69 में आकर मेरे मुँह में लंड दे दिया, मैं मजे से लंड चूसने लगी.

भाभी को बहुत गुस्सा आया और बोलीं- मुझे नहीं रहना आपके साथ, मैं चली जाऊंगी. मेरे बेड के सामने ही खिड़की थी और मेरा बेड उस खिड़की वाली दीवार पर टिका था. मैंने अपने आगे पीछे के छेद एक साथ भरवाना चाहती हूँ लंड से!यह कहानी सुनें.

सेक्सी बीएफ और सेक्सी

भाभी मुझे देख कर खुश हो गईं और बोलीं- अच्छा हुआ जो तुम आ गए, मैं बहुत घबरा रही थी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:दोस्त की बहन के साथ बितायी एक रात- 2. कुछ पल बाद उसने अपने दोनों हाथों से मेरे सर को अपनी चूत पर दबा लिया और तब तक दबाए रखा, जब पानी नहीं छूट गया.

[emailprotected]सेक्स वासना की कहानी का अगला भाग:भतीजे के लंड पर दिल आ गया- 2. वो मेरे हाथ पकड़ कर अपने बेडरूम में ले गई और वहां जाकर उसने अपनी ब्रा उतार कर मुझे अपने बड़े बड़े चूचों के दीदार करवा दिए.

वो जरा शर्माई मगर मैंने एक-एक करके उसके सारे कपड़े निकाल कर उसे नंगी कर दिया.

एक तो भाभी मेरे ऊपर चढ़ी हुई मुझे चूमे जा रही थीं और दूसरे मैं नीचे दबा होने के कारण कुछ कर भी नहीं पा रहा था. वो जोश में आकर बोला- पहले मेरा लंड मुँह में लेकर चूस, फिर चोदता हूं. मैं उस समय खुद पर कन्ट्रोल नहीं कर पाया और अपना सारा वीर्य उसके चूतड़ों पर उगल दिया.

फिर मैंने रोहण से फोन से पूछा, तो उसने आधी बात बताई कि मेरे भाई को स्कूल से निकाल दिया गया है. पतली कमर के बीच गहरी नाभि के नीचे गोल कदली जैसी खूबसूरत गोरी-चिकनी जांघें संगमरमर की मस्त लग रही थीं. फिर मुखिया जी ने माँ को अपनी जाँघों से उठाया और माँ की साड़ी को खोलने लगे.

भैया ने हल और खेत की बात पूछी, तो मैंने एग्जाम की बात कह कर बात टाल दी.

यूपी बीएफ पिक्चर: कुछ मिनट की धुंआधार चुदाई के बाद हम दोनों ही चरम सीमा पर पहुंच गए थे. अगले कुछ पलों में हम दोनों 69 में आ गए और मैं उसका लंड चाटने लगी और वो मेरी चूत चाटने लगा.

‘आअह साली रंडी क्या मस्त भोसड़ा है तेरा कुतिया, आज से तेरे चूत का असली मालिक हूँ मैं रंडी, उस चूतिये को चोदने दिया तो मां चोद दूंगा तेरी …’ये सब बोलते हुए मैंने उसके कान को हल्के से काट दिया. तो उस रात मुझको लगा कि जैसे सारी रात मैं उसके साथ नहीं, तुम्हारे साथ थी. वो खुद जोर जोर से गांड उठा कर उंगली करवाने लगीं और उसी में उन्होंने अपनी पेशाब की धार तक बहा दी.

बातों बातों में पता चला कि घूंघट में बड़े भाई साहब की पत्नी हमारी मामी की बहन हैं तो वह शर्मा कर उठकर जाने लगीं.

मेरे साथ साथ मेरे मोहल्ले का एक लड़का, जिसका नाम शिराज था, वो भी मेरे ही कॉलेज में पढ़ रहा था. आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया की आपने मेरी पिछली सेक्स कहानीपड़ोस वाली आंटी ने चुदाई के लिए बुलायाबहुत पसंद की … और मुझे ढेर सारा प्यार दिया. उसके अन्दर की लाल रंग की ब्रा साफ साफ दिख रही थी क्योंकि उसने सफेद रंग की पतली सी टी-शर्ट पहनी हुई थी.